#undefined

bolkar speaker

मराठी लोग अपना सरनेम कैसे चुनते हैं?

Marathi Log Apna Surname Kaise Chunte Hain
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
7:00
मराठी लोग अपना सरनेम कैसे चुनते हैं महाराष्ट्र में भारत भर में फैले हुए मराठी लोगों के सामने नहीं और उसकी उत्पत्ति एक बहुत बड़ा टॉपिक है लेकिन कुछ बातें क्यों महत्वपूर्ण है इसमें नंबर एक की मराठी में सरनेम होते हैं उनसे जुड़े हुए होते हैं जो कुल होते हैं अलग-अलग पूर्वजों में कोई एक एचडी याकूब का चिन्ह इसके हुए थे उसमें जिसे 4 लोगों को कहते हैं 96 को होती है उसकी लिस्ट उम्र में 90 शिक्षक न्यूज़ देसी पव्वा रूठे हो चौहान शिंदे हो मैंने बोला उसमें लिस्ट में है और दूसरी बात यह है कि ब्राह्मण और बनिया छोड़कर हर एक जाति में यह जो कुल ने महिला सर ने भेजा है वह दिखाई देते हैं पवार सुरमे भरी बंजारा दलित आदिवासी में भी इसका पावर पावर हो गया है और बाकी सब छोटी मोटी जाती है जो है उन्हें इस समय आता है और उस इंटरेस्टिंग बात यह है कि जिन का सरनेम एक है जिसे पवार है जो सभी जाति में है उनका विधिवत खंडो का नाम का नाम के टिकट पर है तो मेरा भी कुलदैवत वही है और शरद पवार साहब का भी वही है और जो अन्य जातियों में लोग हो गए होते हैं और नाम कि तुम कभी कुलदेवी जेजुरीचा खंडोबा होता है और यह बहुत पुराना पुराना है कई ठिकानों पर कई राज्यों में डायरेक्ट जाति जाति के नाम से समझा जाता था पहचाना जाता था डायरेक्ट डायरेक्ट जाती उसके नाम से जुड़ी हुई थी लेकिन मराठी में जाती हुई केवल जाति के जाति नाम की पिक्चर है कि नहीं उड़ता है ऋषि पवार द्वारा निर्मित प्राचीन काल में सम्राट शहरात नाम की नाम का पुल जो था उससे उत्पन्न हुआ है और इसी तरीके से अपनी जातियों की उत्पत्ति की पर कुछ सोशल हुआ है तो सरनेम है वह ऐसे ही एंड रिकॉर्ड भी लगाए जाते हैं पहले व्यक्ति का नाम उसके बाप का नाम उसके बाद यह कॉल करने में लगाया जाता है उसका क्या क्या होता है मराठी में सरनेम बन जाता है यह बात निश्चित है इसमें भी कुछ गलत है जो आप पर सोसायटी अप्पर अप्पर माने जाते हैं और कुछ निचले माने जाते हैं वैसे 960 माने जाते हैं और 9211 माने जाते हैं इनमें शादी में भी विभूतिपुर सबकास्ट सुबह लेकिन अभी अभी ऐसे रिपोर्ट पर सही हो तब प्रसंग में शौचालय होने लगी है और कष्ट के बीचो बीच बहुत कम आने पर शादी होने लगे हैं उसको विकास की माने तो नहीं होती है बाद में मिल जाती धन्यवाद
Maraathee log apana saranem kaise chunate hain mahaaraashtr mein bhaarat bhar mein phaile hue maraathee logon ke saamane nahin aur usakee utpatti ek bahut bada topik hai lekin kuchh baaten kyon mahatvapoorn hai isamen nambar ek kee maraathee mein saranem hote hain unase jude hue hote hain jo kul hote hain alag-alag poorvajon mein koee ek echadee yaakoob ka chinh isake hue the usamen jise 4 logon ko kahate hain 96 ko hotee hai usakee list umr mein 90 shikshak nyooz desee pavva roothe ho chauhaan shinde ho mainne bola usamen list mein hai aur doosaree baat yah hai ki braahman aur baniya chhodakar har ek jaati mein yah jo kul ne mahila sar ne bheja hai vah dikhaee dete hain pavaar surame bharee banjaara dalit aadivaasee mein bhee isaka paavar paavar ho gaya hai aur baakee sab chhotee motee jaatee hai jo hai unhen is samay aata hai aur us intaresting baat yah hai ki jin ka saranem ek hai jise pavaar hai jo sabhee jaati mein hai unaka vidhivat khando ka naam ka naam ke tikat par hai to mera bhee kuladaivat vahee hai aur sharad pavaar saahab ka bhee vahee hai aur jo any jaatiyon mein log ho gae hote hain aur naam ki tum kabhee kuladevee jejureecha khandoba hota hai aur yah bahut puraana puraana hai kaee thikaanon par kaee raajyon mein daayarekt jaati jaati ke naam se samajha jaata tha pahachaana jaata tha daayarekt daayarekt jaatee usake naam se judee huee thee lekin maraathee mein jaatee huee keval jaati ke jaati naam kee pikchar hai ki nahin udata hai rshi pavaar dvaara nirmit praacheen kaal mein samraat shaharaat naam kee naam ka pul jo tha usase utpann hua hai aur isee tareeke se apanee jaatiyon kee utpatti kee par kuchh soshal hua hai to saranem hai vah aise hee end rikord bhee lagae jaate hain pahale vyakti ka naam usake baap ka naam usake baad yah kol karane mein lagaaya jaata hai usaka kya kya hota hai maraathee mein saranem ban jaata hai yah baat nishchit hai isamen bhee kuchh galat hai jo aap par sosaayatee appar appar maane jaate hain aur kuchh nichale maane jaate hain vaise 960 maane jaate hain aur 9211 maane jaate hain inamen shaadee mein bhee vibhootipur sabakaast subah lekin abhee abhee aise riport par sahee ho tab prasang mein shauchaalay hone lagee hai aur kasht ke beecho beech bahut kam aane par shaadee hone lage hain usako vikaas kee maane to nahin hotee hai baad mein mil jaatee dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
मराठी लोग अपना सरनेम कैसे चुनते हैं?Marathi Log Apna Surname Kaise Chunte Hain
Navnit Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Navnit जी का जवाब
QUALITY ENGINEER
0:36
बिल्कुल वैसे ही चुनते जैसे हम लोग सुनते हैं हिंदू में क्या होता है उसके बिना उदास यादव इस तरह से बंगाली लोग के भी होते हैं मजूमदार और मित्रा मित्र बहुत सारे होते हैं कि 83 मराठी लोग में भी अलग-अलग तरह के टैटू होते हैं तो हर एक स्टेट का हर एक जगह काफी होता है
Bilkul vaise hee chunate jaise ham log sunate hain hindoo mein kya hota hai usake bina udaas yaadav is tarah se bangaalee log ke bhee hote hain majoomadaar aur mitra mitr bahut saare hote hain ki 83 maraathee log mein bhee alag-alag tarah ke taitoo hote hain to har ek stet ka har ek jagah kaaphee hota hai

bolkar speaker
मराठी लोग अपना सरनेम कैसे चुनते हैं?Marathi Log Apna Surname Kaise Chunte Hain
DR.OM PRAKASH SHARMA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए DR.OM जी का जवाब
Principal, RSRD COLLEGE OF COMMERCE AND ARTS
0:56
मराठी लोग अपना सरनेम कैसे चुनते हैं देखिए मराठी लोगों के जो चेन्नई में वह वंश से चले आते थे वह गावस्कर हूं वो तेंदुलकर हूं वह जो है उनके अपनी परंपराओं की अपनी संस्कार है और इसी आधार पर वह दादा परदादा पिता इन सब चीजों से जोड़ कर उन नामों को लिखते हैं जैसे कि तमिलनाडु में भी देखा गया है वहां दो तीन पीढ़ी के नाम क्यों होता है इंसान के नाम से जुड़े होते हैं इसी तरह से मराठी में सरनेम की जो परंपरा है वह उनकी अपनी परंपरा है और उस परंपरा का नियम व उनके बचत के रूप में जो चला आ रहा है उसी को लेकर वह जोड़ दें
Maraathee log apana saranem kaise chunate hain dekhie maraathee logon ke jo chennee mein vah vansh se chale aate the vah gaavaskar hoon vo tendulakar hoon vah jo hai unake apanee paramparaon kee apanee sanskaar hai aur isee aadhaar par vah daada paradaada pita in sab cheejon se jod kar un naamon ko likhate hain jaise ki tamilanaadu mein bhee dekha gaya hai vahaan do teen peedhee ke naam kyon hota hai insaan ke naam se jude hote hain isee tarah se maraathee mein saranem kee jo parampara hai vah unakee apanee parampara hai aur us parampara ka niyam va unake bachat ke roop mein jo chala aa raha hai usee ko lekar vah jod den

bolkar speaker
मराठी लोग अपना सरनेम कैसे चुनते हैं?Marathi Log Apna Surname Kaise Chunte Hain
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:54
हेलो दोस्तों हेलो बारिश कपड़े मराठी लोग अपना कैसे बनता कुछ नहीं होता तो आपके दादा-दादी की दावेदारी कर आओगे तो उनके भी लाया जाए तो मराठी में भी यही होता है अपने मन से कोई सुनने लगे तो मान लीजिए हम मिश्रा है तो वह दूसरा हम लोग ऐसे नहीं कि हम लोगों को मार कर ले कुमारी कर दे ऐसा नहीं लगता है शादी के बाद भी ले सकते हैं कि आपको विश्वास है दूसरी क्लास में चले जाएं लेकिन शादी के पहले टेंशन होता है हमारी वीडियो को लाइक करें धन्यवाद
Helo doston helo baarish kapade maraathee log apana kaise banata kuchh nahin hota to aapake daada-daadee kee daavedaaree kar aaoge to unake bhee laaya jae to maraathee mein bhee yahee hota hai apane man se koee sunane lage to maan leejie ham mishra hai to vah doosara ham log aise nahin ki ham logon ko maar kar le kumaaree kar de aisa nahin lagata hai shaadee ke baad bhee le sakate hain ki aapako vishvaas hai doosaree klaas mein chale jaen lekin shaadee ke pahale tenshan hota hai hamaaree veediyo ko laik karen dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • मराठी लोग अपना सरनेम कैसे चुनते हैं
  • मराठी जाति के बारे में बताएं, मराठों से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य, मराठों का सरनेम क्या होता है
URL copied to clipboard