#धर्म और ज्योतिषी

Ganga Asati Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ganga जी का जवाब
Unknown
0:27
की धार्मिक मान्यता के अनुसार मृत्तिका सपिंदीकरण क्यों किया जाता है यदि वृद्धा ने जो सपने की तरह किया जाता है तो वह अपनी जगह से उसके आए बाहर निकल जाता है बस घर में नहीं भटकता रहता उस को शांति मिल जाती है तो सपिंदीकरण करना जरूरी है उसे उस पर बहुत शांति मिलती है उसको भोजन मिलता है सभी डिजाइन चला गया फिर भी ज्यादा कर दो
Kee dhaarmik maanyata ke anusaar mrttika sapindeekaran kyon kiya jaata hai yadi vrddha ne jo sapane kee tarah kiya jaata hai to vah apanee jagah se usake aae baahar nikal jaata hai bas ghar mein nahin bhatakata rahata us ko shaanti mil jaatee hai to sapindeekaran karana jarooree hai use us par bahut shaanti milatee hai usako bhojan milata hai sabhee dijain chala gaya phir bhee jyaada kar do

और जवाब सुनें

KamalKishorAwasthi Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए KamalKishorAwasthi जी का जवाब
Unknown
1:56
सवाल ही धार्मिक मान्यता अनुसार मृतक प्राणी का सब पिंडी करण क्यों किया जाता है धार्मिक ग्रंथों में मृत्यु के बाद आत्मा की स्थिति का बड़ा सुंदर और वैज्ञानिक विवेचन भी मिलता है मृत्यु के बाद दशगात्र और 16 प्रकार जब तक मृत व्यक्ति की प्रेत संज्ञा रहती है पुराण के अनुसार वास्तु स्वस्थ शरीर आत्मा भौतिक शरीर छोड़ने पर धारण करती है प्रेत होती है प्रिय के अतिरेक की अवस्था यानी प्रेत है क्योंकि आत्मा जो सूट शरीर धारण करती है तब भी उसके अंदर मुंह माया भूख और प्यास का अतिरेक होता है सब पिंडन के बाद मित्रों में सम्मिलित हो जाता है तत्पश्चात पित्र श्राद्ध कर्म आरंभ होते हैं अतुल कृष्ण प्रतिपदा से लेकर अब तक ब्रह्मांड की ऊर्जा तथा उच्च ऊर्जा के साथ पृथ्वी पर व्याप्त रहते हैं इसलिए हिंदू धर्म शास्त्रों का उद्धार करने के लिए पुत्र की अनिवार्यता मानी गई है जन्मदाता माता पिता को मृत्यु उपरांत लोग विस्मृत न कर दी इसलिए उनका श्राद्ध करने का विशेष विधान भी बताया गया है भाद्रपद पूर्णिमा से अतुल कृष्ण पक्ष अमावस्या तक के 16 दिनों को पितृपक्ष कहते हैं जिसमें हम अपने पूर्वजों की सेवा भी करते हैं धन्यवाद
Savaal hee dhaarmik maanyata anusaar mrtak praanee ka sab pindee karan kyon kiya jaata hai dhaarmik granthon mein mrtyu ke baad aatma kee sthiti ka bada sundar aur vaigyaanik vivechan bhee milata hai mrtyu ke baad dashagaatr aur 16 prakaar jab tak mrt vyakti kee pret sangya rahatee hai puraan ke anusaar vaastu svasth shareer aatma bhautik shareer chhodane par dhaaran karatee hai pret hotee hai priy ke atirek kee avastha yaanee pret hai kyonki aatma jo soot shareer dhaaran karatee hai tab bhee usake andar munh maaya bhookh aur pyaas ka atirek hota hai sab pindan ke baad mitron mein sammilit ho jaata hai tatpashchaat pitr shraaddh karm aarambh hote hain atul krshn pratipada se lekar ab tak brahmaand kee oorja tatha uchch oorja ke saath prthvee par vyaapt rahate hain isalie hindoo dharm shaastron ka uddhaar karane ke lie putr kee anivaaryata maanee gaee hai janmadaata maata pita ko mrtyu uparaant log vismrt na kar dee isalie unaka shraaddh karane ka vishesh vidhaan bhee bataaya gaya hai bhaadrapad poornima se atul krshn paksh amaavasya tak ke 16 dinon ko pitrpaksh kahate hain jisamen ham apane poorvajon kee seva bhee karate hain dhanyavaad

DR.OM PRAKASH SHARMA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए DR.OM जी का जवाब
Principal, RSRD COLLEGE OF COMMERCE AND ARTS
0:49
कहानी धार्मिक मान्यता अनुसार मुख्य प्राणी का पंजीकरण क्यों किया जाता है हिंदू धर्म की मान्यता है कि अगर जिस व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है उसका पिंडदान नहीं किया जाता दोस्त को मुक्ति नहीं मिलती है उसकी आत्मा भटकती रहती है इसलिए पुत्रों के द्वारा क्या जो उनके उत्तराधिकारी के द्वारा उच्च माध्यमिक शिक्षा प्रदान किया जाता है और यह उनकी आत्मा से मुक्ति के लिए ताकि वह संयुक्त छोड़ चुके लेते हैं उनकी आत्मा कहीं बिछड़ना करें हर चीज से मुक्त हो जाए इसलिए उनका सिद्धांत क्या था
Kahaanee dhaarmik maanyata anusaar mukhy praanee ka panjeekaran kyon kiya jaata hai hindoo dharm kee maanyata hai ki agar jis vyakti kee mrtyu ho jaatee hai usaka pindadaan nahin kiya jaata dost ko mukti nahin milatee hai usakee aatma bhatakatee rahatee hai isalie putron ke dvaara kya jo unake uttaraadhikaaree ke dvaara uchch maadhyamik shiksha pradaan kiya jaata hai aur yah unakee aatma se mukti ke lie taaki vah sanyukt chhod chuke lete hain unakee aatma kaheen bichhadana karen har cheej se mukt ho jae isalie unaka siddhaant kya tha

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • Dharmik Prashnottari,मृतक प्राणी का सापिण्डीकरण,धार्मिक मान्यता
URL copied to clipboard