#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker

प्रलय के चार प्रकार कौन से हैं?

Pralay Ke Chaar Prakar Kaun Se Hai
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
3:18
सवाल ये है कि प्रलय के चार प्रकार कौन से हैं प्रलय के चार प्रकार हैं पहला किसी भी धरती पर से जीवन का समाप्त हो जाना दूसरा धरती का नष्ट होकर भक्तों बन जाना तीसरा सूर्य सहित ग्रह नक्षत्रों का नष्ट होकर वशीभूत हो जाना और चौथा धमाका ब्रह्म में लीन हो जाना अर्थात परिभाषा भी नहीं रहे हो नेशन अवस्था में हो जाना हिंदू शास्त्रों में मूल रूप से प्रलय के चार प्रकार हैं नित्य नैमित्तिक दोहे पाठ और प्राकृतिक अन्य पौराणिक गणना के अनुसार यह क्रम है नृत्य आत्यंतिक और प्राकृतिक प्रक्रिया प्रलय अनित्य प्रलयम वेदांत के अनुसार जीवो की मृत्यु होने रहने वाली मृत्यु को नित्य प्रलय कहते हैं जो जन्म लेते हैं उनकी प्रतिदिन की मृत्यु अर्थात प्रतिपल सृष्टि में जन्म और मृत्यु का चक्कर चलता रहता है आत्यंतिक प्रलय अत्यंत उपयोगी जनों के ज्ञान के द्वारा ब्रह्म में लीन हो जाने को कहते हैं अर्थात मोक्ष प्राप्त कर उत्पत्ति और प्रलय चक्र से बाहर निकल जाना ही आत्यंतिक प्रलय है ना नृत्य कला वेदांत के अनुसार प्रत्येक कल्प के अंत में होने वाला तीनों लोगों का चाहिए या पूर्ण विनाश हो जाना नाम रितिक सलाई कहलाता है पुराणों के अनुसार जब ब्रह्मा का 1 दिन समाप्त हो जाता है तब विश्व का नाश हो जाता है एक कल्प को ब्रह्मा का 1 दिन माना जाता है इसी प्रलय में धरती या अन्य ग्रहों से जीवन नष्ट हो जाता है नैतिक प्रलय काल के दौरान कल्प के अंत में आकाश से सूर्य की आग बरसती है इनकी भयंकर तपन से संपूर्ण जल राशि सूख जाती है समस्त जगत जलकर नष्ट हो जाता है इसके बाद और संवत अपना नाम काम एक अन्य लोगों के साथ सौ सौ वर्षो तक बरसता है वायु अत्यंत तेज गति से 100 वर्ष तक चलती है उसके बाद धीरे-धीरे सब कुछ शांत होने लगता है तब फिर से जीवन की शुरू होती है प्राकृत पल-पल ब्रह्मांड के सभी भूखंड या ब्रह्मांड को का मिट जाना नष्ट हो जाना याद स्वरूप हो जाना प्राकृत प्रलय कहलाता है वेदांत के अनुसार प्राकृतिक अवस्था प्रलय का वह उग्र रूप जिसमें तीनों लोगों सहित महत्व अर्थात प्रकृति के पहले और मूल्य कार तक का विनाश हो जाता है प्रकृति भी ब्रह्म में लीन हो जाती है अर्थात संपूर्ण ब्रह्मांड 0 अवस्था में हो जाता है ना जल होता है ना वायु ना अग्नि और ना ही आकाश शर्मा को सिर्फ अंधकार है जाता है पुराणों के अनुसार प्राकृतिक प्रलय ब्रह्मा के 100 वर्ष बीत जाने पर अर्थात ब्रह्मा की आयु पूर्ण होते ही जब जल में सब जल में लाए हो जाता है कुछ भी शेष नहीं रहता जीवो का आधार देने वाली है धरती भी प्रकाश जल राशि में डूबकर जल रूप हो जाती है उस समय जल अग्नि में अग्नि वायु में आकाश में और आकाश महत्व में प्रविष्ट हो जाता है नेतृत्व प्रकृति में प्रकृति पोले पुरुष विलीन हो जाती है उक्त चारों में से नामक एवं प्राकृतिक महाप्रलय ब्रह्मांड से संबंधित होते हैं तथा शेष दो पहले दे धारियों से संबंधित होते हैं
Savaal ye hai ki pralay ke chaar prakaar kaun se hain pralay ke chaar prakaar hain pahala kisee bhee dharatee par se jeevan ka samaapt ho jaana doosara dharatee ka nasht hokar bhakton ban jaana teesara soory sahit grah nakshatron ka nasht hokar vasheebhoot ho jaana aur chautha dhamaaka brahm mein leen ho jaana arthaat paribhaasha bhee nahin rahe ho neshan avastha mein ho jaana hindoo shaastron mein mool roop se pralay ke chaar prakaar hain nity naimittik dohe paath aur praakrtik any pauraanik ganana ke anusaar yah kram hai nrty aatyantik aur praakrtik prakriya pralay anity pralayam vedaant ke anusaar jeevo kee mrtyu hone rahane vaalee mrtyu ko nity pralay kahate hain jo janm lete hain unakee pratidin kee mrtyu arthaat pratipal srshti mein janm aur mrtyu ka chakkar chalata rahata hai aatyantik pralay atyant upayogee janon ke gyaan ke dvaara brahm mein leen ho jaane ko kahate hain arthaat moksh praapt kar utpatti aur pralay chakr se baahar nikal jaana hee aatyantik pralay hai na nrty kala vedaant ke anusaar pratyek kalp ke ant mein hone vaala teenon logon ka chaahie ya poorn vinaash ho jaana naam ritik salaee kahalaata hai puraanon ke anusaar jab brahma ka 1 din samaapt ho jaata hai tab vishv ka naash ho jaata hai ek kalp ko brahma ka 1 din maana jaata hai isee pralay mein dharatee ya any grahon se jeevan nasht ho jaata hai naitik pralay kaal ke dauraan kalp ke ant mein aakaash se soory kee aag barasatee hai inakee bhayankar tapan se sampoorn jal raashi sookh jaatee hai samast jagat jalakar nasht ho jaata hai isake baad aur sanvat apana naam kaam ek any logon ke saath sau sau varsho tak barasata hai vaayu atyant tej gati se 100 varsh tak chalatee hai usake baad dheere-dheere sab kuchh shaant hone lagata hai tab phir se jeevan kee shuroo hotee hai praakrt pal-pal brahmaand ke sabhee bhookhand ya brahmaand ko ka mit jaana nasht ho jaana yaad svaroop ho jaana praakrt pralay kahalaata hai vedaant ke anusaar praakrtik avastha pralay ka vah ugr roop jisamen teenon logon sahit mahatv arthaat prakrti ke pahale aur mooly kaar tak ka vinaash ho jaata hai prakrti bhee brahm mein leen ho jaatee hai arthaat sampoorn brahmaand 0 avastha mein ho jaata hai na jal hota hai na vaayu na agni aur na hee aakaash sharma ko sirph andhakaar hai jaata hai puraanon ke anusaar praakrtik pralay brahma ke 100 varsh beet jaane par arthaat brahma kee aayu poorn hote hee jab jal mein sab jal mein lae ho jaata hai kuchh bhee shesh nahin rahata jeevo ka aadhaar dene vaalee hai dharatee bhee prakaash jal raashi mein doobakar jal roop ho jaatee hai us samay jal agni mein agni vaayu mein aakaash mein aur aakaash mahatv mein pravisht ho jaata hai netrtv prakrti mein prakrti pole purush vileen ho jaatee hai ukt chaaron mein se naamak evan praakrtik mahaapralay brahmaand se sambandhit hote hain tatha shesh do pahale de dhaariyon se sambandhit hote hain

और जवाब सुनें

bolkar speaker
प्रलय के चार प्रकार कौन से हैं?Pralay Ke Chaar Prakar Kaun Se Hai
Ganga Asati Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ganga जी का जवाब
Unknown
0:37
कितने कौन से तो पहले हमें से जेल फैल वायु अग्नि इन चार प्रकार से आते हैं फिर से देखेंगे जो सुनामी आती है बारात की है ढंग से देख ले तो वह कम पड़ता है चलोगे चलोगे भाई उसे देखेंगे तो अर्थक्वेक की का एक तरीका होता है वह वाला वह आता है और रागिनी अपनी जंगलों में देखा हुआ कैसे जंगल लाल कुआं बन जाती लाल फूल खिला देते हैं कि आपके घर में आग लग जाए तो खत्म हो ही जाता है
Kitane kaun se to pahale hamen se jel phail vaayu agni in chaar prakaar se aate hain phir se dekhenge jo sunaamee aatee hai baaraat kee hai dhang se dekh le to vah kam padata hai chaloge chaloge bhaee use dekhenge to arthakvek kee ka ek tareeka hota hai vah vaala vah aata hai aur raaginee apanee jangalon mein dekha hua kaise jangal laal kuaan ban jaatee laal phool khila dete hain ki aapake ghar mein aag lag jae to khatm ho hee jaata hai

bolkar speaker
प्रलय के चार प्रकार कौन से हैं?Pralay Ke Chaar Prakar Kaun Se Hai
DR.OM PRAKASH SHARMA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए DR.OM जी का जवाब
Principal, RSRD COLLEGE OF COMMERCE AND ARTS
0:47
घर पर कौन थे सारे के सारे प्ले के प्रकार इन ए भौजी के टाइम तूफानों जाए भोपाल वह भूकंप याहू ज्वालामुखी अकबर प्राकृतिक करने के अलावा हमारी भी अपने है बेरोजगारी में पढ़ने की जनसंख्या 9 गुना विवरण है और किसी नाशिक राजा भैया सरकार का जनता के प्रति प्रकोप और जनता के प्रति अत्याचार भी करने
Ghar par kaun the saare ke saare ple ke prakaar in e bhaujee ke taim toophaanon jae bhopaal vah bhookamp yaahoo jvaalaamukhee akabar praakrtik karane ke alaava hamaaree bhee apane hai berojagaaree mein padhane kee janasankhya 9 guna vivaran hai aur kisee naashik raaja bhaiya sarakaar ka janata ke prati prakop aur janata ke prati atyaachaar bhee karane

bolkar speaker
प्रलय के चार प्रकार कौन से हैं?Pralay Ke Chaar Prakar Kaun Se Hai
satish kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए satish जी का जवाब
Student
1:45
हाय फ्रेंड क्वेश्चन पूछा गया कि प्रलय के चार प्रकार कौन-कौन होते हैं तो कूर्म पुराण के अनुसार अगर देखा जाए तो प्रह्लाद होता है और चार प्रकार का होता है नित्य नैमित्तिक प्राकृत और अत्यंतिक लोक में सुपर आवर 6 हुआ करता है पंडित पर ले कल्प के अंत में तीनों लोगों का जो छाया होता है वह नैमित्तिक पर लगाया जाता है या इसे हम ग्राम प्रहरी कर सकते हैं इसके अलावा ग्राम रंजीत ठीक करने की बात करें तो जिसमें प्रकृति के महा तिथि विशेष तक विलीन हो जाते हैं यानी कि पूरी तरह से प्रकृति लिस्ट हो जाती है उस समय प्राकृतिक पर लेना ना जाता है और अंत में पछताए अत्यंतिक पर ले
Haay phrend kveshchan poochha gaya ki pralay ke chaar prakaar kaun-kaun hote hain to koorm puraan ke anusaar agar dekha jae to prahlaad hota hai aur chaar prakaar ka hota hai nity naimittik praakrt aur atyantik lok mein supar aavar 6 hua karata hai pandit par le kalp ke ant mein teenon logon ka jo chhaaya hota hai vah naimittik par lagaaya jaata hai ya ise ham graam praharee kar sakate hain isake alaava graam ranjeet theek karane kee baat karen to jisamen prakrti ke maha tithi vishesh tak vileen ho jaate hain yaanee ki pooree tarah se prakrti list ho jaatee hai us samay praakrtik par lena na jaata hai aur ant mein pachhatae atyantik par le

bolkar speaker
प्रलय के चार प्रकार कौन से हैं?Pralay Ke Chaar Prakar Kaun Se Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:33
एक साथ है आपका आपका देश में पहले कि चाहते तो फ्रेंडशिप करना पुराण के अनुसार पहले चार प्रकार का होता है नित्य नैमित्तिक प्राकृत और अत्यंत 1 बराबर 6:00 हुआ है वह नित्य पीला होता है हिंदू धर्म के अनुसार प्रकार के होते हैं नित्य नैमित्तिक को प्राकृतिक और अत्यंत धन्यवाद

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • प्रलय के प्रकार, प्रलय के चार प्रकार, प्रलय प्रकार
  • प्रलय के चार प्रकार,कुर्म पुराण के अनुसार प्रलय चार प्रकार का होता है,प्रलय के चार प्रकार कौन से हैं
URL copied to clipboard