#undefined

 Neeraj Kumar  Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए जी का जवाब
Unknown
0:50
दोस्तों मैंने सवाल है कि सरकार ने कुछ सरकारी बैंकों को प्राइवेट क्यों किया इसके पीछे क्या तर्क हो सकता है तो सरकार जो भी बैंक है वह आने वाले समय में एक या दो बैंक कोई सरकारी रखना चाहती हो बाकी सभी को प्राइवेट कर देगी और जिससे रुपए लोगे वह वह बहुत मजबूत होंगे लेकिन जो गारमेंट जॉब होगी वह बैंक में जो 90 के दशक में एक लगा दी थी वैकेंसी अब बोल दो तीन हजार ही रह जाएगी क्योंकि अब बैंक भी एक या दो रहेंगे तो वैकेंसी उस हिसाब से निकलेगी उसमें नुकसान से जॉब बालों स्टूडेंट को है और आम जनता को व्यक्ति दो मिनिमम बैलेंस होता है प्राइवेट बैंक का बोध 10 हजार के करीब रखना पड़ता है पर आजकल इसके बाद न पैसा नहीं होता मेंटेन नहीं कर पाते हैं तो यह सबसे बड़ा नुकसान होने वाला है आम जनता को
Doston mainne savaal hai ki sarakaar ne kuchh sarakaaree bainkon ko praivet kyon kiya isake peechhe kya tark ho sakata hai to sarakaar jo bhee baink hai vah aane vaale samay mein ek ya do baink koee sarakaaree rakhana chaahatee ho baakee sabhee ko praivet kar degee aur jisase rupe loge vah vah bahut majaboot honge lekin jo gaarament job hogee vah baink mein jo 90 ke dashak mein ek laga dee thee vaikensee ab bol do teen hajaar hee rah jaegee kyonki ab baink bhee ek ya do rahenge to vaikensee us hisaab se nikalegee usamen nukasaan se job baalon stoodent ko hai aur aam janata ko vyakti do minimam bailens hota hai praivet baink ka bodh 10 hajaar ke kareeb rakhana padata hai par aajakal isake baad na paisa nahin hota menten nahin kar paate hain to yah sabase bada nukasaan hone vaala hai aam janata ko

और जवाब सुनें

Ganga Asati Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ganga जी का जवाब
Unknown
0:24
यह की सरकार में कुछ सरकारी बैंकों को प्राइवेट क्यों किया उसके पीछे क्या तर्क हो सकता है इसके पीछे तर्क है कि सरकारी बैंक जितनी ज्यादा होगा सरकार की प्रमुख कारण भी होगा क्योंकि वे जानते हैं कि 3 रन की स्थिति ज्यादा चल नहीं रहे थे रियल प्राइवेट हिंदी मतलब भी किसी को अपनी बाइक बेच रहे हैं उस पर कुछ प्रॉफिट होगा इसी तरह के हिसाब से सरकारी बैंकों को प्राइवेट
Yah kee sarakaar mein kuchh sarakaaree bainkon ko praivet kyon kiya usake peechhe kya tark ho sakata hai isake peechhe tark hai ki sarakaaree baink jitanee jyaada hoga sarakaar kee pramukh kaaran bhee hoga kyonki ve jaanate hain ki 3 ran kee sthiti jyaada chal nahin rahe the riyal praivet hindee matalab bhee kisee ko apanee baik bech rahe hain us par kuchh prophit hoga isee tarah ke hisaab se sarakaaree bainkon ko praivet

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:36
सरकार दोस्तों काफी सारे बैंकों को प्राइवेट कर रही है क्योंकि वहां पर ज्यादा पैसा सरकार नहीं लगाना चाहती है और बैंक को प्राइवेट कर देगी जिससे कि वह अपने दूसरे प्रोजेक्ट पर ज्यादा ध्यान दे सकती है और उसमें ज्यादा पैसा लगा सकती है जिससे कि हम लोगों का बहुत ही ज्यादा फायदा होगा पर बैंक में तो जॉब करते हैं उनकी सैलरी वगैरह कम हो जाएगी और मैं सरकारी नौकरी अब नहीं रहेगी वह प्राइवेट ट्रैक्टर चला जाएगा तो उससे काफी सारी इंटरव्यू को दिक्कत हो सकती है तो दोस्तों अगर आपको जानकारी अच्छी लगी हो तो लाइक कर दीजिएगा धन्यवाद
Sarakaar doston kaaphee saare bainkon ko praivet kar rahee hai kyonki vahaan par jyaada paisa sarakaar nahin lagaana chaahatee hai aur baink ko praivet kar degee jisase ki vah apane doosare projekt par jyaada dhyaan de sakatee hai aur usamen jyaada paisa laga sakatee hai jisase ki ham logon ka bahut hee jyaada phaayada hoga par baink mein to job karate hain unakee sailaree vagairah kam ho jaegee aur main sarakaaree naukaree ab nahin rahegee vah praivet traiktar chala jaega to usase kaaphee saaree intaravyoo ko dikkat ho sakatee hai to doston agar aapako jaanakaaree achchhee lagee ho to laik kar deejiega dhanyavaad

MANISH BHARGAVA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए MANISH जी का जवाब
Author
1:35
नमस्कार आपका स्वागत है सरकार ने कुछ सरकारी बैंकों को प्राइवेट क्यों किया इसके पीछे क्या तर्क हो सकता है किसी भी सरकारी संस्था को प्राइवेट करने के पीछे यह तर्क हैं वह कॉमन से यही है सबसे पहला तो सरकार अपना बोझ कम करना चाहती है अपना खर्चा घटाना चाहती है कई ऐसी संस्थाएं सरकार को आवश्यक रूप से पैसे देने पड़ते हैं चाहे वे एंप्लॉई के नाम पर हो घर के नाम पर हो कि सरकार चाहती है ना कम किया था दूसरा उन्हें बेचेंगे तो सरकार को पैसा भी मिलेगा तो सरकार के माना जिस प्रकार की बीमारी हो जाती है इस बीमारी को हटा दिया सही कर दिया जाए कई बार कभी कभी कोई बीमारी ज्यादा फैल जाती तो कभी शरीर के उस हिस्से को काटना भी पड़ता है तो बिल्कुल उसी स्थिति के तहत सरकार इस प्रकार के निर्णय लिया गया निर्णय राजनीति से भी प्रेरित रहे थे कहीं भी गलत भी हो सकते कभी सही भी हो सकते पर सबसे पहला जो कारण है वह यही है सरकार अपना बोझ कम करना चाहती है दूसरा दो कारण है वह बस सर्विस आप खुद ही एचडीएफसी बैंक और एसबीआई बैंक की सर्विस का अंतर देखना है आपको पता चल जाएगा बताने की जरूरत नहीं है तो यही तो कारण है जिनको लेकर सरकार आगे बढ़ती है दूसरा सरकारी कंपटीशन के क्षेत्र में कंपटीशन पैदा करना चाहती है वह चाहती है कि बैंक आज के मार्केट के सबसे आगे बढ़ने की सरकारी बैंकों में चाहे कर्मचारी हूं एक संस्था पूरी उसका काम करने का तरीका बिल्कुल अलग है वहीं प्राइवेट का पूरी तरह से लागू होता है इन सब चीजों कारण सरकार कई बार कई चीजों को प्राइवेट करती है धन्यवाद
Namaskaar aapaka svaagat hai sarakaar ne kuchh sarakaaree bainkon ko praivet kyon kiya isake peechhe kya tark ho sakata hai kisee bhee sarakaaree sanstha ko praivet karane ke peechhe yah tark hain vah koman se yahee hai sabase pahala to sarakaar apana bojh kam karana chaahatee hai apana kharcha ghataana chaahatee hai kaee aisee sansthaen sarakaar ko aavashyak roop se paise dene padate hain chaahe ve emploee ke naam par ho ghar ke naam par ho ki sarakaar chaahatee hai na kam kiya tha doosara unhen bechenge to sarakaar ko paisa bhee milega to sarakaar ke maana jis prakaar kee beemaaree ho jaatee hai is beemaaree ko hata diya sahee kar diya jae kaee baar kabhee kabhee koee beemaaree jyaada phail jaatee to kabhee shareer ke us hisse ko kaatana bhee padata hai to bilkul usee sthiti ke tahat sarakaar is prakaar ke nirnay liya gaya nirnay raajaneeti se bhee prerit rahe the kaheen bhee galat bhee ho sakate kabhee sahee bhee ho sakate par sabase pahala jo kaaran hai vah yahee hai sarakaar apana bojh kam karana chaahatee hai doosara do kaaran hai vah bas sarvis aap khud hee echadeeephasee baink aur esabeeaee baink kee sarvis ka antar dekhana hai aapako pata chal jaega bataane kee jaroorat nahin hai to yahee to kaaran hai jinako lekar sarakaar aage badhatee hai doosara sarakaaree kampateeshan ke kshetr mein kampateeshan paida karana chaahatee hai vah chaahatee hai ki baink aaj ke maarket ke sabase aage badhane kee sarakaaree bainkon mein chaahe karmachaaree hoon ek sanstha pooree usaka kaam karane ka tareeka bilkul alag hai vaheen praivet ka pooree tarah se laagoo hota hai in sab cheejon kaaran sarakaar kaee baar kaee cheejon ko praivet karatee hai dhanyavaad

DR.OM PRAKASH SHARMA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए DR.OM जी का जवाब
Principal, RSRD COLLEGE OF COMMERCE AND ARTS
2:31
सरकार ने कुछ सरकारी बैंकों को प्राइवेट क्यों किया इसके पीछे क्या तर्क हो सकता है इसके पीछे सरकार की नाकामी है सरकार ने नोटबंदी करके बैंकों का खजाना खाली कर दिया कुछ उद्योग पक्षियों को सरकार ने बैंकों से सरकार बनते ही नोट चलाएं उनको रहने देना है और वह दिन इतनी मात्रा में थे कि वह वीडियो में रानी को आदरणीय मोदी जी ने 2014 में ही स्टेट बैंक से एक लाख करोड़ का लोन सेंशन कराया था क्योंकि उनके आस्ट्रेलिया में उनके उद्योग लगाने की बात थी लेकिन वह सफल नहीं रहा तत्पश्चात इसी तरह से बहुत जो जो पशुओं को बैंक को नहीं बांधी है लेकिन वह जो पैसा वापस नहीं आ गया एमपी हो या और उद्योगपति उस पैसे को हजम कर देना बैंक की वित्तीय स्थिति या कमजोर हो गई उन कमजोरियों पिंकी स्थितियों के मद्देनजर सरकार को अपनी नाकामी छिपाने पड़ी इसलिए सरकार ने क्या करें सशक्त बैंकों को कमजोर बैंकों में भी नहीं सकती है और उनको क्या वह सिंडीकेट बैंक को चाहे वह ओरिएंटल बैंक को चाय अन्य बैंकों और उन बैंकों को उन्होंने प्राइवेट करके क्या करना चाह पहले बैंकों का मर्डर किया फिर कुछ बैंकों को प्राइवेट की सेटिंग कर दिया कुछ बैंकों को खत्म करने की स्थिति में कर दिया जिससे कि यह सरकार की नाकामी का चंपा जो है सदैव के लिए मिट जाए बैंक कर्मचारी या अधिकारी इस विषय में कोई निर्णय भी नहीं लिख सकते क्योंकि यह सारे कारनामे गवर्नमेंट ने जो है वह लॉकडाउन कीपैड में करोड़ों की आर्मी की है और प्राइवेट हमेशा अच्छी सरकारी प्राइवेट को गवर्नमेंट सेक्टर में लेती हैं लेकिन इस वर्तमान सरकार ने गवर्नमेंट की लाभकारी संस्थाओं को हानि में दिखाकर प्राइवेट करने में कोताही नहीं बरती
Sarakaar ne kuchh sarakaaree bainkon ko praivet kyon kiya isake peechhe kya tark ho sakata hai isake peechhe sarakaar kee naakaamee hai sarakaar ne notabandee karake bainkon ka khajaana khaalee kar diya kuchh udyog pakshiyon ko sarakaar ne bainkon se sarakaar banate hee not chalaen unako rahane dena hai aur vah din itanee maatra mein the ki vah veediyo mein raanee ko aadaraneey modee jee ne 2014 mein hee stet baink se ek laakh karod ka lon senshan karaaya tha kyonki unake aastreliya mein unake udyog lagaane kee baat thee lekin vah saphal nahin raha tatpashchaat isee tarah se bahut jo jo pashuon ko baink ko nahin baandhee hai lekin vah jo paisa vaapas nahin aa gaya emapee ho ya aur udyogapati us paise ko hajam kar dena baink kee vitteey sthiti ya kamajor ho gaee un kamajoriyon pinkee sthitiyon ke maddenajar sarakaar ko apanee naakaamee chhipaane padee isalie sarakaar ne kya karen sashakt bainkon ko kamajor bainkon mein bhee nahin sakatee hai aur unako kya vah sindeeket baink ko chaahe vah oriental baink ko chaay any bainkon aur un bainkon ko unhonne praivet karake kya karana chaah pahale bainkon ka mardar kiya phir kuchh bainkon ko praivet kee seting kar diya kuchh bainkon ko khatm karane kee sthiti mein kar diya jisase ki yah sarakaar kee naakaamee ka champa jo hai sadaiv ke lie mit jae baink karmachaaree ya adhikaaree is vishay mein koee nirnay bhee nahin likh sakate kyonki yah saare kaaranaame gavarnament ne jo hai vah lokadaun keepaid mein karodon kee aarmee kee hai aur praivet hamesha achchhee sarakaaree praivet ko gavarnament sektar mein letee hain lekin is vartamaan sarakaar ne gavarnament kee laabhakaaree sansthaon ko haani mein dikhaakar praivet karane mein kotaahee nahin baratee

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • सरकारी बैंक और प्राइवेट बैंक में क्या फर्क है, सरकार बैंको को प्राइवेट क्यों कर रही है, बैंको के प्राइवेट होने के क्या नुकसान होंगे
  • निजीकरण के कारण और प्रभाव, बैंकों का निजीकरण, सरकार ने बैंकों का निजीकरण क्यों किया है
URL copied to clipboard