#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker

ऐसा कौन सा देश है जहां घी जलाया जाता है और मूत्र को पिया जाता है और दूध को बाया जाता है?

Aisa Kaun Sa Desh Hai Jahaan Gee Jalaaya Jaata Hai Aur Mut Ko Piya Jaata Hai Aur Doodh Ko Baaya Jaata Hai
DR.OM PRAKASH SHARMA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए DR.OM जी का जवाब
Principal, RSRD COLLEGE OF COMMERCE AND ARTS
1:05

और जवाब सुनें

bolkar speaker
ऐसा कौन सा देश है जहां घी जलाया जाता है और मूत्र को पिया जाता है और दूध को बाया जाता है?Aisa Kaun Sa Desh Hai Jahaan Gee Jalaaya Jaata Hai Aur Mut Ko Piya Jaata Hai Aur Doodh Ko Baaya Jaata Hai
Ashok Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए Ashok जी का जवाब
कृषक👳💦
3:08

bolkar speaker
ऐसा कौन सा देश है जहां घी जलाया जाता है और मूत्र को पिया जाता है और दूध को बाया जाता है?Aisa Kaun Sa Desh Hai Jahaan Gee Jalaaya Jaata Hai Aur Mut Ko Piya Jaata Hai Aur Doodh Ko Baaya Jaata Hai
Ramvriksh Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Ramvriksh जी का जवाब
CivilEngineer
2:02

bolkar speaker
ऐसा कौन सा देश है जहां घी जलाया जाता है और मूत्र को पिया जाता है और दूध को बाया जाता है?Aisa Kaun Sa Desh Hai Jahaan Gee Jalaaya Jaata Hai Aur Mut Ko Piya Jaata Hai Aur Doodh Ko Baaya Jaata Hai
Abdul_Ahad  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Abdul_Ahad जी का जवाब
Unknown
2:39
देखिए हमारे भारत में आ चुकी आपका जो सवाल है वह बहुत ही अप्रिय सा महसूस हो रहा है लेकिन सच्चाई भी है क्योंकि हमारे भारत के अंदर ऐसे बहुत से समुदाय धर्म जाति और पंथ निवास करते हैं और बहुत ही एकता के साथ में यहां पर निवास कर रहे हैं लेकिन इसके अलावा सभी जगहों पर सभी धर्मों के अंदर अपनी अपने नियम कानून कायदे होते हैं और उन्हीं के अनुसार यह सब चीजें की जाती है पहली चीज देंगे यहां पर कि भाई गाय का मूत्र किया जाता है और दूध को बहाया जाता है और उसी को जलाया जाएगा तो दी को जलाया जाता है तो यहां पर हम कहेंगे कि यह जो अपने आसपास का जो वातावरण है उसको साफ करने के लिए उसको खुशबू से महक आने के लिए इस्तेमाल करते हैं लेकिन मूत्र को किया जाता है यह चीज अभी अभी जो है उजागर हुई है जब से कुछ लोग क्या बोले हम जिन्हें और स्वास्थ्य का नॉलेज नहीं है वह लोग इस तरह के कार्य करते हैं मूत्र को पीते हैं जबकि वह बहुत ही धंधा कार्य है लेकिन वह पीते हैं और यह जो है और सेहत के लिए नहीं बल्कि यह है कि आप इसको भूत पलीत तुषार से जुड़े लिया हम उसको बोले कि जो और जादू टोने होते हैं उसके अंतर्गत इसका इस्तेमाल किया जाता है और वही लोग हो घर लोग इसको पीते हैं और दूध को बाहर जाता है क्योंकि धर्म की मान्यता है तो उसके अंदर भी हम इसको बुरा नहीं कह सकती है के शिवलिंग जो है उसके ऊपर इसको बाहर जाता है तो यह जो देश है इसको हम जो कार्य कार्य को हम धर्म के अनुसार जोड़कर बताते हैं और इसके अंदर एक ही चीज बनती है वह है मुझको पीना बाकी जो दोस्ती से हैं वह तो सही है और वह जो दूसरी चीज भी है वह भी सिर्फ होकर लोग करते हैं या फिर जो कुछ लोग होते हैं और हिंदू धर्म के अंदर से जो उच्च क्वालिटी के जो लोग होते हैं जैसे भैया पंडित लोग हम से कह सकते हैं वो लोग इसका इस्तेमाल करते करते हैं आपके
Dekhie hamaare bhaarat mein aa chukee aapaka jo savaal hai vah bahut hee apriy sa mahasoos ho raha hai lekin sachchaee bhee hai kyonki hamaare bhaarat ke andar aise bahut se samudaay dharm jaati aur panth nivaas karate hain aur bahut hee ekata ke saath mein yahaan par nivaas kar rahe hain lekin isake alaava sabhee jagahon par sabhee dharmon ke andar apanee apane niyam kaanoon kaayade hote hain aur unheen ke anusaar yah sab cheejen kee jaatee hai pahalee cheej denge yahaan par ki bhaee gaay ka mootr kiya jaata hai aur doodh ko bahaaya jaata hai aur usee ko jalaaya jaega to dee ko jalaaya jaata hai to yahaan par ham kahenge ki yah jo apane aasapaas ka jo vaataavaran hai usako saaph karane ke lie usako khushaboo se mahak aane ke lie istemaal karate hain lekin mootr ko kiya jaata hai yah cheej abhee abhee jo hai ujaagar huee hai jab se kuchh log kya bole ham jinhen aur svaasthy ka nolej nahin hai vah log is tarah ke kaary karate hain mootr ko peete hain jabaki vah bahut hee dhandha kaary hai lekin vah peete hain aur yah jo hai aur sehat ke lie nahin balki yah hai ki aap isako bhoot paleet tushaar se jude liya ham usako bole ki jo aur jaadoo tone hote hain usake antargat isaka istemaal kiya jaata hai aur vahee log ho ghar log isako peete hain aur doodh ko baahar jaata hai kyonki dharm kee maanyata hai to usake andar bhee ham isako bura nahin kah sakatee hai ke shivaling jo hai usake oopar isako baahar jaata hai to yah jo desh hai isako ham jo kaary kaary ko ham dharm ke anusaar jodakar bataate hain aur isake andar ek hee cheej banatee hai vah hai mujhako peena baakee jo dostee se hain vah to sahee hai aur vah jo doosaree cheej bhee hai vah bhee sirph hokar log karate hain ya phir jo kuchh log hote hain aur hindoo dharm ke andar se jo uchch kvaalitee ke jo log hote hain jaise bhaiya pandit log ham se kah sakate hain vo log isaka istemaal karate karate hain aapake

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

    URL copied to clipboard