#undefined

bolkar speaker

निबंध और लेख के बीच अंतर स्पष्ट करें?

Nibandh Aur Lekh Ke Beech Antar Spasht Kare
डा संदीप कुमार शर्मा Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए डा जी का जवाब
स्वतंत्र लेखन, निर्माता,निर्देशक
2:08

और जवाब सुनें

bolkar speaker
निबंध और लेख के बीच अंतर स्पष्ट करें?Nibandh Aur Lekh Ke Beech Antar Spasht Kare
डा. इन्दु प्रकाश सिंह  Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए डा. जी का जवाब
शिक्षण-कार्य, कालेज शिक्षा में प्राचार्य हूँ
3:40
क्रेप परी इस साहित्यिक प्रश्न को पूछने के लिए आपको बहुत-बहुत धन्यवाद मित्र आपने पूछा निबंध और लेख के बीच अंतर स्पष्ट करें तो निबंध जो है होली के विचारों के संग्रह हैं निबंध को अंग्रेजी में ऐसे कहा जाता है समझे आपने इसमें विचारों को तर्कसंगत ढंग से प्रस्तुत किया जाता है और लेट को आर्टिकल कहा जाता है यह अपने जिसमें हैं पराया परिचयात्मक संदर्भ होते हैं तो निबंध जो होता है वह विचार प्रधान ज्यादा होता है उसमें वैचारिक संदर्भों को ज्यादा प्रभावी ढंग से स्थापित किया जाता है तर्क दिए जाते हैं प्रमाण दिए जाते हैं अपनी बात को स्थापित करने की चेष्टा की जाती है और लेट में जो दिया जाता वह परिचयात्मक होता है उसमें विवरण भी हो सकता है वर्णन भी हो सकता भावना सट्टा विचार भी हो सकता है तो निबंध से इसका आंसर इस मामले में ज्यादा है कि निबंध विचार प्रधान होते हैं और निबंध में प्राया है जो लेखक होता है वह अपने विचार को स्थापित करता है बलपूर्वक स्थापित करता तर्क देकर स्थापित करता है लेख में अपने विचारों के बजाय बहुत से विचारों का संकलन किया जाता है और परिचयात्मक स्वरूप में उसे प्रस्तुत किया जाता है कि हालात दोनों निबंध की विधाएं हैं और अब हिंदी में बच्चों से एग्जाम में निबंध पूछा जाता है लेकिन वास्तव में लेख लिखते हैं निबंध तो बड़े-बड़े आलोचकों समालोचन की लेखन शैली होती है और इस दृष्टि से हिंदी साहित्य में निबंध के लेखक के रूप में प्रताप नारायण मिश्र और बकरी बालकृष्ण भट्ट दो का नाम सबसे पहले यह जाता है जिन्होंने हिंदी निबंध में प्रभावी लेखन शुरू किया आचार्य शुक्ल ने अंग्रेजी के विद्वान स्टील और एडिशन समकक्ष मानते हैं उसके बाद स्वयं आचार्य रामचंद्र शुक्ल ने हिंदी निबंध को उसके उत्कर्ष पर स्थापित किया उनकी किताब का नाम है चिंतामणि चिंतामणि में उन्होंने भाग 1 भाग 2 भाग 3 में अपने विचारों को बहुत ही प्रभावशाली ढंग से प्रस्तुत किया है उसके बाद निबंध के खेत में फिर लिखो की एक पूरी जमात मिलती है इसमें हजारी प्रसाद द्विवेदी रामविलास शर्मा अपना आसमा कुबेरनाथ राय दुलारी बाजपेई कितने नाम लिए जा सकते हैं लेकिन इसको हिंदी साहित्य में निबंध को 19वीं सदी 18 सो 68 के बाद शुरुआत भारतेंदु से मांगी तो भारतेंदु के समय से ही हिंदी निबंध लेखन की परंपरा का आरंभ होता है कालांतर में दो भागों में बटी यह को आलोचना का गया और दूसरे को ललित निबंध का गया लेख के बारे में ऐसा कोई व्यवस्थित है अभी अपने लेखन नहीं हुआ है
Krep paree is saahityik prashn ko poochhane ke lie aapako bahut-bahut dhanyavaad mitr aapane poochha nibandh aur lekh ke beech antar spasht karen to nibandh jo hai holee ke vichaaron ke sangrah hain nibandh ko angrejee mein aise kaha jaata hai samajhe aapane isamen vichaaron ko tarkasangat dhang se prastut kiya jaata hai aur let ko aartikal kaha jaata hai yah apane jisamen hain paraaya parichayaatmak sandarbh hote hain to nibandh jo hota hai vah vichaar pradhaan jyaada hota hai usamen vaichaarik sandarbhon ko jyaada prabhaavee dhang se sthaapit kiya jaata hai tark die jaate hain pramaan die jaate hain apanee baat ko sthaapit karane kee cheshta kee jaatee hai aur let mein jo diya jaata vah parichayaatmak hota hai usamen vivaran bhee ho sakata hai varnan bhee ho sakata bhaavana satta vichaar bhee ho sakata hai to nibandh se isaka aansar is maamale mein jyaada hai ki nibandh vichaar pradhaan hote hain aur nibandh mein praaya hai jo lekhak hota hai vah apane vichaar ko sthaapit karata hai balapoorvak sthaapit karata tark dekar sthaapit karata hai lekh mein apane vichaaron ke bajaay bahut se vichaaron ka sankalan kiya jaata hai aur parichayaatmak svaroop mein use prastut kiya jaata hai ki haalaat donon nibandh kee vidhaen hain aur ab hindee mein bachchon se egjaam mein nibandh poochha jaata hai lekin vaastav mein lekh likhate hain nibandh to bade-bade aalochakon samaalochan kee lekhan shailee hotee hai aur is drshti se hindee saahity mein nibandh ke lekhak ke roop mein prataap naaraayan mishr aur bakaree baalakrshn bhatt do ka naam sabase pahale yah jaata hai jinhonne hindee nibandh mein prabhaavee lekhan shuroo kiya aachaary shukl ne angrejee ke vidvaan steel aur edishan samakaksh maanate hain usake baad svayan aachaary raamachandr shukl ne hindee nibandh ko usake utkarsh par sthaapit kiya unakee kitaab ka naam hai chintaamani chintaamani mein unhonne bhaag 1 bhaag 2 bhaag 3 mein apane vichaaron ko bahut hee prabhaavashaalee dhang se prastut kiya hai usake baad nibandh ke khet mein phir likho kee ek pooree jamaat milatee hai isamen hajaaree prasaad dvivedee raamavilaas sharma apana aasama kuberanaath raay dulaaree baajapeee kitane naam lie ja sakate hain lekin isako hindee saahity mein nibandh ko 19veen sadee 18 so 68 ke baad shuruaat bhaaratendu se maangee to bhaaratendu ke samay se hee hindee nibandh lekhan kee parampara ka aarambh hota hai kaalaantar mein do bhaagon mein batee yah ko aalochana ka gaya aur doosare ko lalit nibandh ka gaya lekh ke baare mein aisa koee vyavasthit hai abhee apane lekhan nahin hua hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • निबंध और लिख के बीच का संबंध, लेख के प्रकार, लेख क्या है
URL copied to clipboard