#undefined

bolkar speaker

ज्योतिष के अनुसार सिंह राशि वालों को कौन सा धागा पहनना चाहिए?

Jyotish Ke Anusar Singh Rashi Walo Ko Kon Sa Dhaga Pehnna Chahiye
Deepak Perwani7017127373 Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Deepak जी का जवाब
Job
3:10
भ्रष्ट है ज्योतिष के अनुसार सिंह राशि वालों को कौन सा धागा पहनना चाहिए और दोस्त देखिए ज्योतिष के अनुसार इसे कहते हैं कि कोई भी रख लो हो जाए धागा हो जाए फिर वह कोई ताबीज और जो है लगने की स्थिति को देखना चाहिए पंचमेश और नवमेश की स्थिति को देखने के बाद ही देवेंद्र सिंह क्योंकि कोई भी रख चंद्र राशि से नहीं धारण करना चाहिए और लग्न राशि सहित भावना करना चाहिए उसके बाद जिस ग्रह का प्रथम पहले उसकी डिग्री देखनी चाहिए उसकी प्लेसमेंट कहां हो रही है किस भाव में है वह कहीं शत्रु राशि का तो नहीं है यदि वे शत्रु राशि पीड़ित है क्या उस पर किसी पाप ग्रह की दृष्टि है तो कोई भी रत्न धारण नहीं करना चाहिए क्योंकि ऐसे समय पर रत्न धारण किया जाए तो उल्टा जो है प्रभाव हो जाता है अब सवाल ये कि सिंह राशि वालों को वैसे धारा कौन सा पहना चाहिए अगर अब राशि के अनुसार अपना धागा पहनना चाहते हैं तो आपको जो है किसी सूर्य देव मंदिर यह पंडित के पास जाकर रविवार वाले दिन अपने दाहिने हाथ में जो है लाल कलर का धागा पहनना चाहिए या फिर वह अब गले में भी धारण कर सकते हैं लाल कलर का धागा पहनना चाहिए क्योंकि सूर्य का जो कलर है वह लाल रंग का मांगा जाता है इसीलिए लाल रंग का धागा शुभ रहता है सिंह राशि वालों के लिए और अगर आपका सूर्य पीड़ित है आपकी राशि का स्वामी जो सूर्य है वह पीड़ित अच्छी तरीके से तो आपको जो है घर की पूर्व दिशा में मंदिर बनवा कर उस मंदिर में लाल कलर का कपड़ा बिछाना चाहिए और घर की छाप सकते हैं पूरब दिशा में सिर रखकर सोना चाहिए और सुबह जो है लाल कलर का बल्ब जलाना चाहिए वह बल्लभ 24 घंटे करना चाहिए और जो है सुबह उठकर आपको जो है रोज दिल्ली जो है जल देना सूर्य को और सूर्य नमस्कार करना चाहिए इससे जो है आपकी कुंडली में उप शिवम की राशि के स्वामी ऐश्वर्या उसके नकारात्मक प्रभाव दूर होंगे अगर आपका भाग्य काम नहीं कर रहा आपका कोई काम नहीं हो रहा है संतान से संबंधित कष्ट है तो आपकी राशि के हिसाब से आपके जो पंचमेश बनते हैं वह गुरु बनते हैं एक पीला धागा की साथ में बांधना चाहिए या हल्दी की गांठ साथ में जो है बांधनी चाहिए या बृहस्पतिवार वाले दिन पीली चीजों का दान करना चाहिए इससे आपके भाग्य प्रबल होगा और जो है बिजनेस में आने वाली रुकावटें आपकी दूर होंगी तो संतान नहीं हो रही है तो संतान में पीछे होने के चांसेस होंगे पूरे पूरे और हर रविवार वाले दिन आपको जो है भैरव बाबा के मंदिर में जरूर जाना चाहिए एक जो है जिला से या फिर यहां से एक पार्ट है जो है भैरव बाबा का को चढ़ाना चाहिए क्योंकि इससे बताया जाता है कि भैरव बाबा अग्नि अग्नि तत्व के देवता है जो कि उत्तेजना पैदा करते हैं मनुष्य शरीर में अगर यह आप एक बार करते हैं तो आपका जो एक भेजो जो अच्छा लगेगा जय माता दी जय हिंदुस्तान
Bhrasht hai jyotish ke anusaar sinh raashi vaalon ko kaun sa dhaaga pahanana chaahie aur dost dekhie jyotish ke anusaar ise kahate hain ki koee bhee rakh lo ho jae dhaaga ho jae phir vah koee taabeej aur jo hai lagane kee sthiti ko dekhana chaahie panchamesh aur navamesh kee sthiti ko dekhane ke baad hee devendr sinh kyonki koee bhee rakh chandr raashi se nahin dhaaran karana chaahie aur lagn raashi sahit bhaavana karana chaahie usake baad jis grah ka pratham pahale usakee digree dekhanee chaahie usakee plesament kahaan ho rahee hai kis bhaav mein hai vah kaheen shatru raashi ka to nahin hai yadi ve shatru raashi peedit hai kya us par kisee paap grah kee drshti hai to koee bhee ratn dhaaran nahin karana chaahie kyonki aise samay par ratn dhaaran kiya jae to ulta jo hai prabhaav ho jaata hai ab savaal ye ki sinh raashi vaalon ko vaise dhaara kaun sa pahana chaahie agar ab raashi ke anusaar apana dhaaga pahanana chaahate hain to aapako jo hai kisee soory dev mandir yah pandit ke paas jaakar ravivaar vaale din apane daahine haath mein jo hai laal kalar ka dhaaga pahanana chaahie ya phir vah ab gale mein bhee dhaaran kar sakate hain laal kalar ka dhaaga pahanana chaahie kyonki soory ka jo kalar hai vah laal rang ka maanga jaata hai iseelie laal rang ka dhaaga shubh rahata hai sinh raashi vaalon ke lie aur agar aapaka soory peedit hai aapakee raashi ka svaamee jo soory hai vah peedit achchhee tareeke se to aapako jo hai ghar kee poorv disha mein mandir banava kar us mandir mein laal kalar ka kapada bichhaana chaahie aur ghar kee chhaap sakate hain poorab disha mein sir rakhakar sona chaahie aur subah jo hai laal kalar ka balb jalaana chaahie vah ballabh 24 ghante karana chaahie aur jo hai subah uthakar aapako jo hai roj dillee jo hai jal dena soory ko aur soory namaskaar karana chaahie isase jo hai aapakee kundalee mein up shivam kee raashi ke svaamee aishvarya usake nakaaraatmak prabhaav door honge agar aapaka bhaagy kaam nahin kar raha aapaka koee kaam nahin ho raha hai santaan se sambandhit kasht hai to aapakee raashi ke hisaab se aapake jo panchamesh banate hain vah guru banate hain ek peela dhaaga kee saath mein baandhana chaahie ya haldee kee gaanth saath mein jo hai baandhanee chaahie ya brhaspativaar vaale din peelee cheejon ka daan karana chaahie isase aapake bhaagy prabal hoga aur jo hai bijanes mein aane vaalee rukaavaten aapakee door hongee to santaan nahin ho rahee hai to santaan mein peechhe hone ke chaanses honge poore poore aur har ravivaar vaale din aapako jo hai bhairav baaba ke mandir mein jaroor jaana chaahie ek jo hai jila se ya phir yahaan se ek paart hai jo hai bhairav baaba ka ko chadhaana chaahie kyonki isase bataaya jaata hai ki bhairav baaba agni agni tatv ke devata hai jo ki uttejana paida karate hain manushy shareer mein agar yah aap ek baar karate hain to aapaka jo ek bhejo jo achchha lagega jay maata dee jay hindustaan

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • सिंह राशि वालों को कौन सा धागा पहनना चाहिए, सिंह राशि, सिंह राशि के दोष
  • सिंह राशि वालों को कौन सा धागा पहनना चाहिए, सिंह राशि, सिंह राशि के दोष
  • सिंह राशि वालों को कौन सा धागा पहनना चाहिए, सिंह राशि, सिंह राशि के दोष
URL copied to clipboard