#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker

क्या घर में मंदिर बनाना उचित होता है?

Kya Ghar Me Mandir Banana Uchit Hota Hai
Nikita Upreti Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikita जी का जवाब
Miss Bareilly,2018 , अनुभवों की कायल हूँ।
2:08
नमस्कार आप ने सवाल पूछा है क्या घर में मंदिर बनाना उचित होता है जी हां बिल्कुल उचित होता है अगर आपका मन है पूजा करने का और आपको बार-बार रोज-रोज बाहर जाना पड़ता है किसी मंदिर में पूजा करने तो सबसे अच्छा ही है कि आप अपने घर में मंदिर या फिर पूजा घर बनवा ले कुछ चीजों का ध्यान रखना होता है जो मैं आपको जवाब में बताने वाली हूं देखिए अगर आप अपना मंदिर स्थापित करने वाले हैं तो उसे उतरी पूर्व दिशा में स्थापित करें यानी कि नॉर्थ ईस्टर्न डायरेक्शन में उसको स्थापित करें इससे क्या होता है ना कि हमसे पूजा करते हैं तो हमारा मुख भी पूर्व की ओर होना चाहिए तो शक बापू से उतरी पूर्व दिशा में रखेंगे तो पहली बात तो जब आप पूजा करेंगे तो आपको मुख पूर्व की ओर रहेगा जो की सर्वोत्तम माना जाता है इसके अलावा उत्तरी पूर्व दिशा में स्थान कौन बनता है और शास्त्रों के अनुसार जब भगवान हमारे घर में आगमन करते हैं ना या कहीं भी आगमन करते हैं तो वह ईशान कोण से ही आते हैं तो अगर आप उसे पूर्व दिशा में रखते हैं तो भगवान के आने में कोई भी दिक्कत नहीं रहती है इसके अलावा आप कभी भी अपना मंदिर दक्षिण या फिर दक्षिण पश्चिम में ना रहे ना रखें क्योंकि रखिए जब उत्तर दिशा से भगवान हैं ना तो वह दक्षिण पश्चिम की ओर से जाते हैं आपके घर से तो अगर आप दक्षिण पश्चिम की ओर रखेंगे तो आएंगे ही नहीं क्योंकि वह तो उनकी जाने की दिशा हो गई और दक्षिण में भी आपको मंदिर नहीं रखना है अपना ठीक है इसके अलावा क्या है क्या आपकी वॉशरूम जो है वह आस-पास नहीं होना चाहिए मंदिर के अगर आप मंदिर स्थापित करें तो कोशिश करेंगे आसपास वॉशरूम ना हो इस बार भी से न्यू नीचे की ओर चला पीछे वाली दीवार के जस्ट बगल में वॉशरूम है कि वे नगर आफ फ्लैट में रह रहे हैं और आपके ऊपर भी एक फ्लैट है तो कोशिश करेगी जस्ट ऊपर वह कोई वॉशरूम ना बना हुआ हो मतलब थोड़ा भगवान के कार्य में हमें साफ सफाई का ध्यान रखना ही पड़ता है तो वह आप अपने अनुसार अपने विवेक का इस्तेमाल करते हुए उस चीज का ध्यान रखें कि आप पासवर्ड नहीं हो और मंदिर हमारा उतरी पूर्व दिशा में ही हो ताकि हमें भी पूजा में कोई विघ्न ना और भगवान को भी आने में कोई कष्ट ना हो तो यही रहेगा मेरा जवाब जवाब सुनने के लिए शुक्रिया
Namaskaar aap ne savaal poochha hai kya ghar mein mandir banaana uchit hota hai jee haan bilkul uchit hota hai agar aapaka man hai pooja karane ka aur aapako baar-baar roj-roj baahar jaana padata hai kisee mandir mein pooja karane to sabase achchha hee hai ki aap apane ghar mein mandir ya phir pooja ghar banava le kuchh cheejon ka dhyaan rakhana hota hai jo main aapako javaab mein bataane vaalee hoon dekhie agar aap apana mandir sthaapit karane vaale hain to use utaree poorv disha mein sthaapit karen yaanee ki north eestarn daayarekshan mein usako sthaapit karen isase kya hota hai na ki hamase pooja karate hain to hamaara mukh bhee poorv kee or hona chaahie to shak baapoo se utaree poorv disha mein rakhenge to pahalee baat to jab aap pooja karenge to aapako mukh poorv kee or rahega jo kee sarvottam maana jaata hai isake alaava uttaree poorv disha mein sthaan kaun banata hai aur shaastron ke anusaar jab bhagavaan hamaare ghar mein aagaman karate hain na ya kaheen bhee aagaman karate hain to vah eeshaan kon se hee aate hain to agar aap use poorv disha mein rakhate hain to bhagavaan ke aane mein koee bhee dikkat nahin rahatee hai isake alaava aap kabhee bhee apana mandir dakshin ya phir dakshin pashchim mein na rahe na rakhen kyonki rakhie jab uttar disha se bhagavaan hain na to vah dakshin pashchim kee or se jaate hain aapake ghar se to agar aap dakshin pashchim kee or rakhenge to aaenge hee nahin kyonki vah to unakee jaane kee disha ho gaee aur dakshin mein bhee aapako mandir nahin rakhana hai apana theek hai isake alaava kya hai kya aapakee vosharoom jo hai vah aas-paas nahin hona chaahie mandir ke agar aap mandir sthaapit karen to koshish karenge aasapaas vosharoom na ho is baar bhee se nyoo neeche kee or chala peechhe vaalee deevaar ke jast bagal mein vosharoom hai ki ve nagar aaph phlait mein rah rahe hain aur aapake oopar bhee ek phlait hai to koshish karegee jast oopar vah koee vosharoom na bana hua ho matalab thoda bhagavaan ke kaary mein hamen saaph saphaee ka dhyaan rakhana hee padata hai to vah aap apane anusaar apane vivek ka istemaal karate hue us cheej ka dhyaan rakhen ki aap paasavard nahin ho aur mandir hamaara utaree poorv disha mein hee ho taaki hamen bhee pooja mein koee vighn na aur bhagavaan ko bhee aane mein koee kasht na ho to yahee rahega mera javaab javaab sunane ke lie shukriya

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्या घर में मंदिर बनाना उचित होता है?Kya Ghar Me Mandir Banana Uchit Hota Hai
J.P. Y👌g i Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए J.P. जी का जवाब
Unknown
3:10
किशन है क्या घर में मंदिर बनाना दशहरे मंदिर कभी बनाया नहीं जाता इसका यथार्थ सत्य है कि जिसके हृदय में हो चुके हैं कोई मजाक कर रही है अर्थात सरदार विश्वास के कारण उसके अंदर प्रबलता पड़ रही है और जो भावनात्मक उसका अनुक्रम है वह अंतिम चरण में ही सृजन होता है और जब मन का मंदिर सदन दर्शन हो जाता है तो वह किसी भी घर के कोने में या कहीं पर भी ऐसा सामान यूज करता है कि जिसमें मैं शांति केंद्र के रूप में स्थापित किया जाता है और बहुत कम ही होता है कि अगर घर में मंदिर की भी हो गई है तो यह बहुत ही श्रेष्ठ का संस्कार का सृजन करता है तो यही बात है कि मंदिर बना कोई खास विशेषता नहीं है लेकिन उससे पूर्व उसके अंदर का जादू पीला होना बहुत जरूरी होता है और यह संस्कार की सत्यनिष्ठा पर निश्चित रूप से सुनाओ घर में एक घंटा लगता है कि अपने भावनात्मक ऊर्जा का केंद्र कहां पर है क्योंकि चीज से हटकर के अंदर शेट्टी की भावनाओं को प्रेरित करता है और यह निश्चित होना ही चाहिए और एक समय और एक अस्पताल विनती करते हैं कि उसमें कोई प्रपोज नहीं रहना चाहती हैं तीनों साथ में अपने आप को टहल कर दो और व्यक्तिगत क्यों ऐसा हो सकता है और वह इसके प्रभु जी आप कुछ भी बनती है विकास के संदर्भ में एक और निर्णय जनता जागृत होती है यार बस समाज को और मीनाक्षी नदी में अपने आप को इस व्यवस्था का पान कराकर वाहिनी ग्रुप से औरों को भी लाभ पहुंचाता है और एक साथ का धन्यवाद मैं जेपीयू बोल कर एक स्कीम
Kishan hai kya ghar mein mandir banaana dashahare mandir kabhee banaaya nahin jaata isaka yathaarth saty hai ki jisake hrday mein ho chuke hain koee majaak kar rahee hai arthaat saradaar vishvaas ke kaaran usake andar prabalata pad rahee hai aur jo bhaavanaatmak usaka anukram hai vah antim charan mein hee srjan hota hai aur jab man ka mandir sadan darshan ho jaata hai to vah kisee bhee ghar ke kone mein ya kaheen par bhee aisa saamaan yooj karata hai ki jisamen main shaanti kendr ke roop mein sthaapit kiya jaata hai aur bahut kam hee hota hai ki agar ghar mein mandir kee bhee ho gaee hai to yah bahut hee shreshth ka sanskaar ka srjan karata hai to yahee baat hai ki mandir bana koee khaas visheshata nahin hai lekin usase poorv usake andar ka jaadoo peela hona bahut jarooree hota hai aur yah sanskaar kee satyanishtha par nishchit roop se sunao ghar mein ek ghanta lagata hai ki apane bhaavanaatmak oorja ka kendr kahaan par hai kyonki cheej se hatakar ke andar shettee kee bhaavanaon ko prerit karata hai aur yah nishchit hona hee chaahie aur ek samay aur ek aspataal vinatee karate hain ki usamen koee prapoj nahin rahana chaahatee hain teenon saath mein apane aap ko tahal kar do aur vyaktigat kyon aisa ho sakata hai aur vah isake prabhu jee aap kuchh bhee banatee hai vikaas ke sandarbh mein ek aur nirnay janata jaagrt hotee hai yaar bas samaaj ko aur meenaakshee nadee mein apane aap ko is vyavastha ka paan karaakar vaahinee grup se auron ko bhee laabh pahunchaata hai aur ek saath ka dhanyavaad main jepeeyoo bol kar ek skeem

bolkar speaker
क्या घर में मंदिर बनाना उचित होता है?Kya Ghar Me Mandir Banana Uchit Hota Hai
nav kishor aggarwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए nav जी का जवाब
Service
0:55
नमस्कार आपका सवाल है कि क्या घर में मंदिर बनाना उचित होता है जी हां मंदिर उचित होता है क्योंकि काफी लोगों ने मंदिर बनवा रखे अपने घरों में हम अपने घर में एक कोने में छोटा सा मंदिर जरूर वह आते हैं जब भी हम अपने काम पर जाते हैं अपना घर से बाहर जाते तो भगवान के आगे हाथ जोड़कर निकलते हैं क्योंकि हर वक्त तो हमारे पास मंदिर जाने का समय होता नहीं आ पॉसिबल नहीं होता इसलिए अपने घर के मंदिर में हमेशा हाथ जोड़कर प्रार्थना कर दिया जब भी समय मिलता पूजा करते हैं मंदिर बनाना उचित होता है इसके अलावा मंदिर ऐसी दिशा में बनाना चाहिए जैसे कि वास्तु के हिसाब से ठीक रहे या फिर आप किसी पंडित से आप सलाह मशवरा कर सकते हैं और उसके अलावा आप मंदिर को अच्छे तरीके से बनवाएं और उन्हीं भगवान का बनाएं जिन्हें आप ज्यादा मानते हो उनको जो आपके पूज्य दे वो आपके कुलदेवता हूं इन सब चीजों की आप स्थापना करें आपका जीवन सुखी और सफल रहेगा धन्यवाद
Namaskaar aapaka savaal hai ki kya ghar mein mandir banaana uchit hota hai jee haan mandir uchit hota hai kyonki kaaphee logon ne mandir banava rakhe apane gharon mein ham apane ghar mein ek kone mein chhota sa mandir jaroor vah aate hain jab bhee ham apane kaam par jaate hain apana ghar se baahar jaate to bhagavaan ke aage haath jodakar nikalate hain kyonki har vakt to hamaare paas mandir jaane ka samay hota nahin aa posibal nahin hota isalie apane ghar ke mandir mein hamesha haath jodakar praarthana kar diya jab bhee samay milata pooja karate hain mandir banaana uchit hota hai isake alaava mandir aisee disha mein banaana chaahie jaise ki vaastu ke hisaab se theek rahe ya phir aap kisee pandit se aap salaah mashavara kar sakate hain aur usake alaava aap mandir ko achchhe tareeke se banavaen aur unheen bhagavaan ka banaen jinhen aap jyaada maanate ho unako jo aapake poojy de vo aapake kuladevata hoon in sab cheejon kee aap sthaapana karen aapaka jeevan sukhee aur saphal rahega dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • घर में मंदिर किस दिशा में बनाए, घर में मंदिर की स्थापना
URL copied to clipboard