#undefined

bolkar speaker

"यह दुनिया एक रंगमंच है" आप इस पंक्ति को कैसे वास्तविकता प्रदान करेंगे?

Yah Duniya Ek Rangamanch Hai Aap Is Pankti Ko Kaise Vaastavikata Pradaan Karenge
kritika tripathi Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए kritika जी का जवाब
Student
0:55

और जवाब सुनें

bolkar speaker
"यह दुनिया एक रंगमंच है" आप इस पंक्ति को कैसे वास्तविकता प्रदान करेंगे?Yah Duniya Ek Rangamanch Hai Aap Is Pankti Ko Kaise Vaastavikata Pradaan Karenge
Sreeja Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Sreeja जी का जवाब
Unknown
1:32

bolkar speaker
"यह दुनिया एक रंगमंच है" आप इस पंक्ति को कैसे वास्तविकता प्रदान करेंगे?Yah Duniya Ek Rangamanch Hai Aap Is Pankti Ko Kaise Vaastavikata Pradaan Karenge
डा. इन्दु प्रकाश सिंह  Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए डा. जी का जवाब
शिक्षण-कार्य, कालेज शिक्षा में प्राचार्य हूँ
2:55
यह दुनिया एक रमन एक रंगमंच है आप इस पंक्ति को कैसे वास्तविकता प्रदान करेंगे देखें मित्र भारत की परंपरा से चलेंगे तो भारत में कहा गया कि ऋषि मुनि ने सबसे पहले पेट की रचना थी और वेद ऋग्वेद ऋग्वेद यजुर्वेद सामवेद और बाद में इनके सब के सहयोग से आकर वेद लिखा गया वेदों की संरचना के साथ ही देश में जाति प्रथा वर्ण व्यवस्था स्थापित हुई और शूद्र वर्ग जो बनाया गया धीरे-धीरे उसका शोषण किया गया और वह नमस्ते में पहुंच गई उसे धर्म के अधिकार छीन लिए थे तो कहां जाता है कुछ के विद्रोह को बचाने के लिए भरत मर नामक एक व्यक्ति ने 150 ईसा पूर्व में नाट्य शास्त्र की रचना की और नाटक को पांचवें देश में ऋग्वेद से प्रार्थना यजुर्वेद से रंगमंच जिसे आप करें बैठक व्यवस्था ली और सामवेद से गीत लिया गया तथा शंकर पार्वती से ले लिया गया है पांचवा वेद रूप में बड़ी-बड़ी आत्माओं आत्माओं का स्वरूप धारण करें उनके द्वारा किए गए कर्मों की प्रस्तुति दी जाए उनके संघर्ष को दिखाया जाता था जनता बड़ी मनोयोग से सुनती थी धीरे-धीरे पूरे लोकप्रिय हुआ भारत में गुजरात से लेकर आसमान तक उसके बाद कहा जाने लगा यह दुनिया एक मंच है वास्तव में रंगमंच है जैसे नाटक के किरदार आते हैं अपनी अपनी प्रस्तुतियां देते हैं जितनी देर तक उनकी प्रस्तुति होती है और इसके बाद प्रस्तुति समाप्त होते ही उनका किरदार जो विलुप्त हो जाता है तो हम भी इस दुनिया में आते हैं अपनी भूमिका का निर्वाह करते हैं बेटे के बेटी के रूप में माता के रूप में पिता के रूप में भाई के रूप में बहन के रूप में अधिकारी के रूप में कर्मचारी के रूप में अच्छे ग्रुप में पूरे ग्रुप में सब धर्मी के रूप में भी गर्मी के रूप में और जिस दिन हमारी भूमिका खत्म होती है हम इस रंगमंच से पीछे की तरफ चले जाते हैं और हमारी सुंदर समाप्त हो जाती तो यह कथन अक्षर से सत्य है कि दुनिया वास्तव में एक रंगमंच है सभी अपनी अपनी भूमिका का निर्वाह कर रहे हैं जिस दिन पूरा हो जाएगा उस दिन का पटाक्षेप हो जाएगा नए-नए पात्रा आते रहेंगे और अपना अभिनय प्रस्तुत करते रहेंगे

bolkar speaker
"यह दुनिया एक रंगमंच है" आप इस पंक्ति को कैसे वास्तविकता प्रदान करेंगे?Yah Duniya Ek Rangamanch Hai Aap Is Pankti Ko Kaise Vaastavikata Pradaan Karenge
pushpanjali patel Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए pushpanjali जी का जवाब
Student with micro finance bank employee
2:02

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

    URL copied to clipboard