#undefined

Priyal dawar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Priyal जी का जवाब
Future Doctor
1:25
यह प्रश्न पूछा गया है हमें हिंदी सिनेमा में अच्छे गाने क्यों नहीं मिल रहे जो हमें पहले के दशक में मिलते थे तो देखिए आजकल की जो सिंगर्स म्यूजिशियन और मेल एड्रेस वगैरा जो भी है वह ऐसे गाने बनाने की कोशिश करते हैं जिनसे कि उन्हें ज्यादा से ज्यादा व्यूज मिल सके और वह लोग एक साथ बहुत सारे गाने बनाते रहते हैं जिससे क्या होता है कि उनके म्यूजिक की क्वालिटी और उनकी गानों की क्वालिटी कम होती जा रही है देखे पहले के जमाने के जो गाने होते थे फोन में मीनिंग होता था उनका कुछ ना कुछ मतलब निकलता था वह हमें प्रेरणा देने का काम करते थे और सुनने में भी बहुत अच्छे होते थे वहीं आजकल के जमाने के गाने जो है वह बहुत ही ज्यादा लाउड म्यूजिक के ऊपर होते हैं और उनमें ज्यादातर कानों में कोई प्रेरणा नहीं होती है और पहले के जमाने के गानों में म्यूजिक इंस्ट्रूमेंट का और काफी अच्छी तरीके से यूज किया जाता था वही आजकल इलेक्ट्रॉनिक डिवाइसेज से गाने रिकॉर्ड किए जाते हैं और म्यूजिक भी इलेक्ट्रॉनिक ही मेहंदी डालने जा रहा है तो उससे क्या हो रहा है कि म्यूजिक की क्वालिटी कम होती जा रही है और मिली जो सबसे बुरी चीज मुझसे लगती है वह है गानों के रीमेक आजकल नए गाने बिल्कुल बन्ना कम हो चुके हैं वही पुराने गानों का रीमिक्स ज्यादा से ज्यादा बना जा रहा है जिससे कि हमें नए गाने नहीं मिल पा रहे हैं और इसी कारण से हमें अच्छे गाने नहीं पा रहे हैं
Yah prashn poochha gaya hai hamen hindee sinema mein achchhe gaane kyon nahin mil rahe jo hamen pahale ke dashak mein milate the to dekhie aajakal kee jo singars myoojishiyan aur mel edres vagaira jo bhee hai vah aise gaane banaane kee koshish karate hain jinase ki unhen jyaada se jyaada vyooj mil sake aur vah log ek saath bahut saare gaane banaate rahate hain jisase kya hota hai ki unake myoojik kee kvaalitee aur unakee gaanon kee kvaalitee kam hotee ja rahee hai dekhe pahale ke jamaane ke jo gaane hote the phon mein meening hota tha unaka kuchh na kuchh matalab nikalata tha vah hamen prerana dene ka kaam karate the aur sunane mein bhee bahut achchhe hote the vaheen aajakal ke jamaane ke gaane jo hai vah bahut hee jyaada laud myoojik ke oopar hote hain aur unamen jyaadaatar kaanon mein koee prerana nahin hotee hai aur pahale ke jamaane ke gaanon mein myoojik instrooment ka aur kaaphee achchhee tareeke se yooj kiya jaata tha vahee aajakal ilektronik divaisej se gaane rikord kie jaate hain aur myoojik bhee ilektronik hee mehandee daalane ja raha hai to usase kya ho raha hai ki myoojik kee kvaalitee kam hotee ja rahee hai aur milee jo sabase buree cheej mujhase lagatee hai vah hai gaanon ke reemek aajakal nae gaane bilkul banna kam ho chuke hain vahee puraane gaanon ka reemiks jyaada se jyaada bana ja raha hai jisase ki hamen nae gaane nahin mil pa rahe hain aur isee kaaran se hamen achchhe gaane nahin pa rahe hain

और जवाब सुनें

Mohitrajput Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Mohitrajput जी का जवाब
Unknown
0:33
तुमने कहा है कि हमें हिंदी फिल्मों में अच्छे गाने क्यों नहीं मिल रहे हैं जो पहले दशक में मिलते थे तो मैडम एक बात यह ध्यान रखो कि यह दशक पहले जैसा नहीं है यहां पहले गाड़ी नहीं थी पर यहां गाड़ी है पहले साइकिल आई थी आज हां साइकिल है यहां बाहों में गाने सुनने पुराने दशक के गाने अच्छे लगते हैं तो तुम सुन सकती हो बहुत होंगे गाने अभी भी पर अब पहले जैसा कुछ नहीं रहा मेरे साथ
Tumane kaha hai ki hamen hindee philmon mein achchhe gaane kyon nahin mil rahe hain jo pahale dashak mein milate the to maidam ek baat yah dhyaan rakho ki yah dashak pahale jaisa nahin hai yahaan pahale gaadee nahin thee par yahaan gaadee hai pahale saikil aaee thee aaj haan saikil hai yahaan baahon mein gaane sunane puraane dashak ke gaane achchhe lagate hain to tum sun sakatee ho bahut honge gaane abhee bhee par ab pahale jaisa kuchh nahin raha mere saath

Aditya Dangayach  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Aditya जी का जवाब
Student
2:58
जानना चाहते हैं कि हमें हिंदी सीबीएसई के पास अच्छे गाने क्यों नहीं मिल रहे हैं जो हमें पहले के दशक में मिला करते थे तो देखिए इसका सबसे बड़ा कारण है कि पहले दशक और अभी के दशक म्यूजिक कैसे बनता है हमें उसकी प्रक्रिया को समझना पड़ेगा के दशक में म्यूजिक बजा म्यूजिक बजा के म्यूजिक तेज आवाज करना पड़ता था और उसके बाद बताता था तो इतने घंटे तक राज करने के बाद आदमी की आवाज काफी अच्छी मतलब सिंगर की आवाज बहुत ज्यादा अच्छी हो जाती और वो काफी अच्छी निकल कर आती है इसकी गाने में उसकी आवाज बहुत अच्छी लगती है उसमें म्यूजिक प्ले लिस्ट में से दिया होता है इसलिए और सुनने में काफी अच्छा लगता था और इसलिए पहले की तरह से वह काफी अच्छे हुआ करते थे आज के दशक में क्या क्या मतलब है कि आज के डांस वगैरह होता है तो उनका नंबर आपने ऑप्शन किया होगा क्योंकि माना में काफी ज्यादा पेट सुनाई देती है और लोग काफी नाश्ता तो कर सकते हैं क्या आजकल जो म्यूजिक म्यूजिक कंप्यूटर से बनाया जाता है और उसी माइक में आवाज नहीं आती हमारी आवाज को कंप्यूटर से सिंगरौली जाने की यानी कि जैसे कंप्यूटर से हमने म्यूजिक बनाया है वैसे ही आवाज हमारी लगनी चाहिए तो उसके लिए क्या किया जाता है कि आवाज को कंप्यूटराइज किया जाता है कि कंप्यूटर से उसको डिलीट किया जाता है इसका और कहते हैं कि ऑटो वाले गाने हम गाने फिल्म के सारे गाने सुनाओ ऐसा लगता है कि काफी पतली आवाज मतलब आ रही हूं जब की कहानी सुनने में अजीब लगती हो और क्यों नहीं होती है इसलिए जो कंप्यूटर के गाने हैं वह हमें इसलिए अच्छे नहीं लगते तो क्यों एक पल की आवाज उनकी नियुक्ति को काफी ज्यादा पाऊंगा कम कर दें कि काफी ज्यादा तेज आवाज होती है जिससे कि हम आप जैसे कि आजकल हिंदी सिनेमा के गाने इसलिए नहीं बना रखी वह गाने कंप्यूटर से बनते हैं और शादी सागर की आवाज निकालो और सवालों के जवाब पाने के लिए मुझे सब्सक्राइब करें धन्यवाद
Jaanana chaahate hain ki hamen hindee seebeeesee ke paas achchhe gaane kyon nahin mil rahe hain jo hamen pahale ke dashak mein mila karate the to dekhie isaka sabase bada kaaran hai ki pahale dashak aur abhee ke dashak myoojik kaise banata hai hamen usakee prakriya ko samajhana padega ke dashak mein myoojik baja myoojik baja ke myoojik tej aavaaj karana padata tha aur usake baad bataata tha to itane ghante tak raaj karane ke baad aadamee kee aavaaj kaaphee achchhee matalab singar kee aavaaj bahut jyaada achchhee ho jaatee aur vo kaaphee achchhee nikal kar aatee hai isakee gaane mein usakee aavaaj bahut achchhee lagatee hai usamen myoojik ple list mein se diya hota hai isalie aur sunane mein kaaphee achchha lagata tha aur isalie pahale kee tarah se vah kaaphee achchhe hua karate the aaj ke dashak mein kya kya matalab hai ki aaj ke daans vagairah hota hai to unaka nambar aapane opshan kiya hoga kyonki maana mein kaaphee jyaada pet sunaee detee hai aur log kaaphee naashta to kar sakate hain kya aajakal jo myoojik myoojik kampyootar se banaaya jaata hai aur usee maik mein aavaaj nahin aatee hamaaree aavaaj ko kampyootar se singaraulee jaane kee yaanee ki jaise kampyootar se hamane myoojik banaaya hai vaise hee aavaaj hamaaree laganee chaahie to usake lie kya kiya jaata hai ki aavaaj ko kampyootaraij kiya jaata hai ki kampyootar se usako dileet kiya jaata hai isaka aur kahate hain ki oto vaale gaane ham gaane philm ke saare gaane sunao aisa lagata hai ki kaaphee patalee aavaaj matalab aa rahee hoon jab kee kahaanee sunane mein ajeeb lagatee ho aur kyon nahin hotee hai isalie jo kampyootar ke gaane hain vah hamen isalie achchhe nahin lagate to kyon ek pal kee aavaaj unakee niyukti ko kaaphee jyaada paoonga kam kar den ki kaaphee jyaada tej aavaaj hotee hai jisase ki ham aap jaise ki aajakal hindee sinema ke gaane isalie nahin bana rakhee vah gaane kampyootar se banate hain aur shaadee saagar kee aavaaj nikaalo aur savaalon ke javaab paane ke lie mujhe sabsakraib karen dhanyavaad

Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
2:10
यह भी एक मार्केट है मार्केट में आप देखते हो कि जनता जो सामान को अधिक खरीद ती है व्यापारी वर्ग अधिकतर उसी सामान को हिला कर के मार्केट में भेजते हैं ठीक इसी प्रकार यह जो गाने वाले ही गायक हैं या जो म्यूजिशियन है यह उसी प्रकार गाते बजाते हैं जो मार्केट में चल रहा होता है जब जिसको जनता अधिक पसंद कर रही होती है क्योंकि आज की जो नई पीढ़ी है वह पाठ म्यूजिक को दे म्यूजिक को या दिलेर मेहंदी के पंजाबी गानों को ऐसी चीजों को पसंद कर रही है इसलिए यह चीजें हम मार्केट में बिकती हैं और चलती हैं जबकि उन पुराने गाने जो सदाबहार गाने थे जो लता मंगेशकर या मुकेश जी क्या किशोर कुमार साहब आशा भोंसले या पुराने गानों गायकों के द्वारा गाए जाते थे उनकी आज डिमांड नहीं उनको समझने वाले नहीं है क्योंकि वह सुर ताल और लय में बंदे को तेज थी उन्हें अच्छी होती थी ना वैसे गीतकार रहे हैं ना वैसे गायक रही है उन्नाव वैसे भी सेन रहे हैं आज की झोपड़ी है वह तुमको पसंद नहीं करती है पर परिणाम स्वरुप 2000 की बाद में ऐसे गाने देखने को नहीं मिल रहे हैं कोल्डप्ले को यह पुराने गाने पुराने गाने ही पसंद आते हैं क्योंकि वे गायकी के बारे में जानते हैं
Yah bhee ek maarket hai maarket mein aap dekhate ho ki janata jo saamaan ko adhik khareed tee hai vyaapaaree varg adhikatar usee saamaan ko hila kar ke maarket mein bhejate hain theek isee prakaar yah jo gaane vaale hee gaayak hain ya jo myoojishiyan hai yah usee prakaar gaate bajaate hain jo maarket mein chal raha hota hai jab jisako janata adhik pasand kar rahee hotee hai kyonki aaj kee jo naee peedhee hai vah paath myoojik ko de myoojik ko ya diler mehandee ke panjaabee gaanon ko aisee cheejon ko pasand kar rahee hai isalie yah cheejen ham maarket mein bikatee hain aur chalatee hain jabaki un puraane gaane jo sadaabahaar gaane the jo lata mangeshakar ya mukesh jee kya kishor kumaar saahab aasha bhonsale ya puraane gaanon gaayakon ke dvaara gae jaate the unakee aaj dimaand nahin unako samajhane vaale nahin hai kyonki vah sur taal aur lay mein bande ko tej thee unhen achchhee hotee thee na vaise geetakaar rahe hain na vaise gaayak rahee hai unnaav vaise bhee sen rahe hain aaj kee jhopadee hai vah tumako pasand nahin karatee hai par parinaam svarup 2000 kee baad mein aise gaane dekhane ko nahin mil rahe hain koldaple ko yah puraane gaane puraane gaane hee pasand aate hain kyonki ve gaayakee ke baare mein jaanate hain

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • हमें हिंदी सिनेमा से अच्छे गाने क्यों नहीं मिल रहे हैं जो हमें पहले के दशक में मिलते थे हिंदी सिनेमा से अच्छे गाने क्यों नहीं मिल रहे हैं
URL copied to clipboard