#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker

कीबोर्ड के बटन एबीसीडी से शुरू क्यों नहीं होते हैं?

Keyboard Ke Button Abcd Se Shuru Kyun Nahi Hote Hai
Sreenivas Tutorials Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Sreenivas जी का जवाब
Self employed, Computer teacher
2:08
आज के मशीनी युग में इंसान अपना काफी समय मशीनों के साथ में व्यतीत करते हैं तो मशीनों के साथ में काम करते वक्त एक व्यक्ति को कई बातों का ध्यान रखना पड़ता है इसके लिए एक अलग सा विज्ञानिक जैसे हमें अंग्रेजी में एरदोनॉमिक्स कहते हैं तब उन्होंने यह बताता है कि किसी मशीन के साथ में काम करते वक्त आपको किन बातों का ध्यान रखना है उदाहरण के तौर पर जब आप कंप्यूटर में काम करते हुए एल्बम मिर्जापुर यह बताता है कि आप कंप्यूटर से या मॉनिटर से कितनी दूरी पर बैठे आप के बैठने की व्यवस्था कैसी होनी चाहिए आप किस तरह की कुर्सी का इस्तेमाल करेंगे आपको बाजार में ऐसे ही कई अवश्य मिल जाएंगे जिसका लिखा होता है यह दोनों में अकेली फिट है यानी आपके शरीर पर जाइए कम से कम प्रभाव डालेगा तो कीबोर्ड भी अंकल के जो कीबोर्ड है वह ई डब्ल्यू ई आर टी वाई से स्टार्ट होता है यानी कोटि कीबोर्ड चलाते हैं इसे एचडीएफसी स्टार्ट होते थे तो इनकी बोर्ड के ज्योतिष का अरेंजमेंट इस तरीके से किया गया है कि आपकी उंगलियों पर यहां तो कर कम से कम असर डालते हुए आपकी जो टाइपिंग की स्पीड है वो काफी जहां काफी तेजी से बढ़ा सकें और साथ ही साथ आपकी उंगलियों पर किसी भी तरह के दबाव न पड़े तो यह काफी रिसर्च के बाद में जो है कीबोर्ड के जो गीत है उनको अरेंज किया गया है ताकि आपको भविष्य में किसी भी तरह की परेशानी उठानी ना पड़े शायद आपको पता ना हो अगर आप कीबोर्ड में जहां साड़ी कंप्यूटर में जब आप काम करते वक्त आपको बैठे हो क्या तरीका सही ना तो भविष्य में हो सकता है कि आप कमर दर्द या फिर आंखों की कई तरह की बीमारियों का सामना करना पड़ सकता है धन्यवाद
Aaj ke masheenee yug mein insaan apana kaaphee samay masheenon ke saath mein vyateet karate hain to masheenon ke saath mein kaam karate vakt ek vyakti ko kaee baaton ka dhyaan rakhana padata hai isake lie ek alag sa vigyaanik jaise hamen angrejee mein eradonomiks kahate hain tab unhonne yah bataata hai ki kisee masheen ke saath mein kaam karate vakt aapako kin baaton ka dhyaan rakhana hai udaaharan ke taur par jab aap kampyootar mein kaam karate hue elbam mirjaapur yah bataata hai ki aap kampyootar se ya monitar se kitanee dooree par baithe aap ke baithane kee vyavastha kaisee honee chaahie aap kis tarah kee kursee ka istemaal karenge aapako baajaar mein aise hee kaee avashy mil jaenge jisaka likha hota hai yah donon mein akelee phit hai yaanee aapake shareer par jaie kam se kam prabhaav daalega to keebord bhee ankal ke jo keebord hai vah ee dablyoo ee aar tee vaee se staart hota hai yaanee koti keebord chalaate hain ise echadeeephasee staart hote the to inakee bord ke jyotish ka arenjament is tareeke se kiya gaya hai ki aapakee ungaliyon par yahaan to kar kam se kam asar daalate hue aapakee jo taiping kee speed hai vo kaaphee jahaan kaaphee tejee se badha saken aur saath hee saath aapakee ungaliyon par kisee bhee tarah ke dabaav na pade to yah kaaphee risarch ke baad mein jo hai keebord ke jo geet hai unako arenj kiya gaya hai taaki aapako bhavishy mein kisee bhee tarah kee pareshaanee uthaanee na pade shaayad aapako pata na ho agar aap keebord mein jahaan sari kampyootar mein jab aap kaam karate vakt aapako baithe ho kya tareeka sahee na to bhavishy mein ho sakata hai ki aap kamar dard ya phir aankhon kee kaee tarah kee beemaariyon ka saamana karana pad sakata hai dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
कीबोर्ड के बटन एबीसीडी से शुरू क्यों नहीं होते हैं?Keyboard Ke Button Abcd Se Shuru Kyun Nahi Hote Hai
Nitish Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Nitish जी का जवाब
Student
1:10
क्वेश्चन है कि कीबोर्ड के बटन एबीसीडी से शुरू क्यों नहीं होते तो आप हम से सुनिए जो सबसे पहला कीबोर्ड थे वही एबीसीडी ही है और उसमें लिया होता कि बी सी डी सभी को आज है और जल्द लोग लर्न कर लेते थे एबीसीडीईएफ कहां है जिससे 10 12 दिन के अंदर वह फुल स्पीड से प्यार करने लग गया था ज्यादा स्पीड से चार्ज करने से सीवर जाम होने लगता था पानी खराब ज्यादा होने लगे थे जिससे कि टूट जाते थे इसी के चलते की बड़ी मशीन से नहीं बल्कि क्यों जाओगे या फिर वाई से शुरू हुआ एबीसीडी से पदाधिकारी चूड़ावती मायने बदल दिया गया और जिसको आज हैं वह आज भी फुल स्पीड से तो नहीं पढ़े स्पीड में टाइप कर लेते हैं और एबीसीडी में होता तो फुल स्पीड में सभी टाइप कर लेते हैं इसीलिए बदलकर कीबोर्ड को एबीसीडी से नहीं बल्कि ओ डब्ल्यू ई आर टी वाय में कर दिया गया है धन्यवाद
Kveshchan hai ki keebord ke batan ebeeseedee se shuroo kyon nahin hote to aap ham se sunie jo sabase pahala keebord the vahee ebeeseedee hee hai aur usamen liya hota ki bee see dee sabhee ko aaj hai aur jald log larn kar lete the ebeeseedeeeeeph kahaan hai jisase 10 12 din ke andar vah phul speed se pyaar karane lag gaya tha jyaada speed se chaarj karane se seevar jaam hone lagata tha paanee kharaab jyaada hone lage the jisase ki toot jaate the isee ke chalate kee badee masheen se nahin balki kyon jaoge ya phir vaee se shuroo hua ebeeseedee se padaadhikaaree choodaavatee maayane badal diya gaya aur jisako aaj hain vah aaj bhee phul speed se to nahin padhe speed mein taip kar lete hain aur ebeeseedee mein hota to phul speed mein sabhee taip kar lete hain iseelie badalakar keebord ko ebeeseedee se nahin balki o dablyoo ee aar tee vaay mein kar diya gaya hai dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • कीबोर्ड के बटन एबीसीडी से शुरू क्यों नहीं होते हैं कीबोर्ड के बटन
URL copied to clipboard