#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker

ओम बन्ना (बुलेट बाबा) कौन है?

Om Banna Bullet Baba Kaun Hai
Dr. Shivam Sharma Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dr. जी का जवाब
Professor
2:00
ओम बन्ना बुलेट बाबा कौन है 3 मिनट का समय मेरे हिसाब से कम हो सकता है फिर भी मैं सच्ची में बताने की कोशिश करूंगा राजस्थान के जोधपुर जिले में ओम बन्ना का बुलेट बाबा कहते हैं उनका मंदिर है एक्सट्रीम इनकी कहानी शुरु कहां से ओम बन्ना उस इलाके की रात राजा थे या उसकी बेटी से कुछ भी कर लीजिए तो एक बार अपनी बुलेट तरफ जा रहे थे तो उनका एक्सीडेंट रास्ते में हो गया एक पेड़ के पास तो वह एक्सीडेंट हो गया सुबह जब पुलिस को पता चला तो पुलिस आई देखा और बुलेट को भी ले गई और बाकी राजा थे तो उनकी बॉडी वगैरह तो राज महल में चली गई तो उसके बाद तो चलो वहीं स्टेशन में पड़ी हुई थी तो क्या वह अपने आप से बुलेट वहां से आकर गायब होकर वापस सुल्तान के आगे जहां पर उनका एक्सीडेंट हुआ था तो शायद पुलिस वालों को लगा कि कोई ऐसी किसी ने चोरी से वहां पर पहुंचा दिए थे बुलेट को वापस को थाने में लेकर आए तो वापस वैसे ही पहुंच गया था तीन-चार बार हुआ कभी सोचा भी नहीं ऊपर उपाय वापस बुलेट उसी स्थान पर चली गई यहां पर ओम बन्ना जी का उस मिनट पर एक्सीडेंट हुआ था उसके बाद क्या किया उन्होंने उनको लगा कि यार कुछ ना कुछ इसमें है उसके आसपास के लोगों ने पुलिस वालों की मदद से वहां पर शाम बनवाकर उसकी उम्र लगभग 8 चबूतरा बनवा कर वहां पर बुलेट को रख दिया और उसकी पूजा अर्चना करने के क्या लाभ है जो फिलहाल की स्थिति है बहुत बड़ा मेला लगता है वह है बिल्कुल न्यू कंडीशन में कोई उसकी सर्विस नहीं करा था जब उसका तबीयत का टाइम आता है अपने आप सभी सुखी आ जाती है बिल्कुल न्यू कंडीशन में है और बहुत से जो भी निकलता है उसका संता करना सर झुकाना जरूरी होता है
Om banna bulet baaba kaun hai 3 minat ka samay mere hisaab se kam ho sakata hai phir bhee main sachchee mein bataane kee koshish karoonga raajasthaan ke jodhapur jile mein om banna ka bulet baaba kahate hain unaka mandir hai eksatreem inakee kahaanee shuru kahaan se om banna us ilaake kee raat raaja the ya usakee betee se kuchh bhee kar leejie to ek baar apanee bulet taraph ja rahe the to unaka ekseedent raaste mein ho gaya ek ped ke paas to vah ekseedent ho gaya subah jab pulis ko pata chala to pulis aaee dekha aur bulet ko bhee le gaee aur baakee raaja the to unakee bodee vagairah to raaj mahal mein chalee gaee to usake baad to chalo vaheen steshan mein padee huee thee to kya vah apane aap se bulet vahaan se aakar gaayab hokar vaapas sultaan ke aage jahaan par unaka ekseedent hua tha to shaayad pulis vaalon ko laga ki koee aisee kisee ne choree se vahaan par pahuncha die the bulet ko vaapas ko thaane mein lekar aae to vaapas vaise hee pahunch gaya tha teen-chaar baar hua kabhee socha bhee nahin oopar upaay vaapas bulet usee sthaan par chalee gaee yahaan par om banna jee ka us minat par ekseedent hua tha usake baad kya kiya unhonne unako laga ki yaar kuchh na kuchh isamen hai usake aasapaas ke logon ne pulis vaalon kee madad se vahaan par shaam banavaakar usakee umr lagabhag 8 chabootara banava kar vahaan par bulet ko rakh diya aur usakee pooja archana karane ke kya laabh hai jo philahaal kee sthiti hai bahut bada mela lagata hai vah hai bilkul nyoo kandeeshan mein koee usakee sarvis nahin kara tha jab usaka tabeeyat ka taim aata hai apane aap sabhee sukhee aa jaatee hai bilkul nyoo kandeeshan mein hai aur bahut se jo bhee nikalata hai usaka santa karana sar jhukaana jarooree hota hai

और जवाब सुनें

bolkar speaker
ओम बन्ना (बुलेट बाबा) कौन है?Om Banna Bullet Baba Kaun Hai
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
3:57
नमस्कार दोस्तों आपका प्रश्न है ओम बन्ना या नहीं बुलेट बाबा कौन है दोस्तों आइए patrika.com के एक पोस्ट के अनुसार हम जानते हैं दोस्तों पाली रोहट के बीच बंडा गांव के पास स्थित है ओम बन्ना का ओम बन्ना देवल दोस्तों एक ऐसा स्थान है जहां एक बाइक यानी की बुलेट की पूजा होती है यहां बने ओम बन्ना देवल पर पाली जोधपुर मार्ग पर जाने वाला कोई वाहन चालक मत्था टेकना नहीं भूलता है दोस्तों आज यह स्थान ओम बन्ना देओल के साथ बुलेट वाले बन्ना के नाम से भी जाना जाता है अब तो लोग घर में मांगलिक कार्य होने पर यहां दुख लगा दे या निजात देने जाते ने भी आते हैं कई मन्नत मांगने तो कई मन्नत पूरी होने का बताकर यहां वर्ष में एक दो बार नहीं बल्कि कई बार आने की बात भी होती है देखी जाती है पाली और जोधपुर के साथ आसपास निवास करने वाले तो अवश्य ही ओम बन्ना देओल के दरबार में धोक लगाने पहुंचते हैं दोस्तों ओम बन्ना का जो हादसा हुआ था जो कारण है वह इस प्रकार से हैं चोटिला गांव के रहने वाले ओम बन्ना का देवलोक गमन 1988 में देवल वाले स्थान पर ही होगे एक पेड़ से बाइक टकराने के कारण हुआ था उनके पुत्र महान पराक्रम सिंह का कहना है कि उनके पिता जीवन काल में समाज सेवा के लिए समर्पित है हमेशा लोगों की सहायता करते थे उनके देवलोक गमन के बाद उनकी बाइक पुलिस थाने में अपने आप स्टार्ट हो गई थी उन्होंने निधन के 2 दिन बाद ही दो-तीन दिन बाद ही अपनी मां को सपने में आकर देवलोक गमन स्थल पर देवल बनाने को कहा था इसके बाद यहां देओल की स्थापना की गई जो आज लोगों की आस्था का केंद्र है दोस्तों ओम बन्ना देवल पर सुबह 7:00 बजे आरती की जाती है इसके बाद शाम को भी 7:00 बजे आरती की जाती है इसमें बड़ी संख्या में श्रद्धालु आते हैं आरती व पूजन यूं तो ओम बन्ना के परिजन ही करते हैं कई बार उनके नहीं पहुंचने पर एक ब्राह्मण की ओर से आरती की जाती है आरती करते समय घंटे घड़ियाल के साथ ही डोलवली भी बताए जाते हैं यहां बैठे ढोल वाले ओम बन्ना के भजन गाते हैं और यहां धूप दीप दीप करने के लिए भी गांव के कुछ लोग आते हैं तो तो हर कामना पूरी करते हैं बुलेट वाले बाबा ओम बन्ना देओल पुराने वाले अधिकांश श्रद्धालु मन्नत मांगने यहां मन्नत पूरी होने पर यहां पर आते हैं सूरज नागौर क्षेत्र मध्य प्रदेश से आए श्रद्धालुओं से बात करने पर उन्होंने ओम बन्ना देवल आने के बाद उनकी इच्छा पूरी होने की बात कही तो कई लोग अपने मित्रों में विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में ओम बन्ना के बारे में पढ़कर देवल पर माथा टेकने की बात सामने आई है ऐसा लोग कहते हैं अतीत के दौरान ओम बन्ना देओल पर आने वाले श्रद्धालुओं से बातचीत में एक ही बात सामने आई कि ओम बन्ना उनकी इच्छा पूरी करते हैं तो एक श्रद्धालु ने बाइक अपने आप देओल पर आने की बात कही लेकिन इसके बाद नकार दिया हालांकि यह की विनंती हर कोई बताता है कि ओम बन्ना के देवलोक गमन के बाद उनकी बाइक अपने आप पुलिस स्टेशन से देवल पर आई थी एक बुजुर्ग से बात करने पर उनका कहना था कि ओम बन्ना ने उनको उम्मीद से ज्यादा दिया है इसी कारण वह परिवार के साथ यहां आते हैं ओम बन्ना के देवलोक गमन होने के समय केरला थाना हुआ करता था जबकि रोहट में पुलिस चौकी थी वहां का स्टाफ 30 वर्ष में बदल चुका है इसके बावजूद वहां कुछ लोगों को ओम बन्ना के संबंध में एक विनंती का पता है लेकिन उस समय मौजूद नहीं होने के कारण भी स्पष्ट नहीं बताते हैं
Namaskaar doston aapaka prashn hai om banna ya nahin bulet baaba kaun hai doston aaie patrik.chom ke ek post ke anusaar ham jaanate hain doston paalee rohat ke beech banda gaanv ke paas sthit hai om banna ka om banna deval doston ek aisa sthaan hai jahaan ek baik yaanee kee bulet kee pooja hotee hai yahaan bane om banna deval par paalee jodhapur maarg par jaane vaala koee vaahan chaalak mattha tekana nahin bhoolata hai doston aaj yah sthaan om banna deol ke saath bulet vaale banna ke naam se bhee jaana jaata hai ab to log ghar mein maangalik kaary hone par yahaan dukh laga de ya nijaat dene jaate ne bhee aate hain kaee mannat maangane to kaee mannat pooree hone ka bataakar yahaan varsh mein ek do baar nahin balki kaee baar aane kee baat bhee hotee hai dekhee jaatee hai paalee aur jodhapur ke saath aasapaas nivaas karane vaale to avashy hee om banna deol ke darabaar mein dhok lagaane pahunchate hain doston om banna ka jo haadasa hua tha jo kaaran hai vah is prakaar se hain chotila gaanv ke rahane vaale om banna ka devalok gaman 1988 mein deval vaale sthaan par hee hoge ek ped se baik takaraane ke kaaran hua tha unake putr mahaan paraakram sinh ka kahana hai ki unake pita jeevan kaal mein samaaj seva ke lie samarpit hai hamesha logon kee sahaayata karate the unake devalok gaman ke baad unakee baik pulis thaane mein apane aap staart ho gaee thee unhonne nidhan ke 2 din baad hee do-teen din baad hee apanee maan ko sapane mein aakar devalok gaman sthal par deval banaane ko kaha tha isake baad yahaan deol kee sthaapana kee gaee jo aaj logon kee aastha ka kendr hai doston om banna deval par subah 7:00 baje aaratee kee jaatee hai isake baad shaam ko bhee 7:00 baje aaratee kee jaatee hai isamen badee sankhya mein shraddhaalu aate hain aaratee va poojan yoon to om banna ke parijan hee karate hain kaee baar unake nahin pahunchane par ek braahman kee or se aaratee kee jaatee hai aaratee karate samay ghante ghadiyaal ke saath hee dolavalee bhee batae jaate hain yahaan baithe dhol vaale om banna ke bhajan gaate hain aur yahaan dhoop deep deep karane ke lie bhee gaanv ke kuchh log aate hain to to har kaamana pooree karate hain bulet vaale baaba om banna deol puraane vaale adhikaansh shraddhaalu mannat maangane yahaan mannat pooree hone par yahaan par aate hain sooraj naagaur kshetr madhy pradesh se aae shraddhaaluon se baat karane par unhonne om banna deval aane ke baad unakee ichchha pooree hone kee baat kahee to kaee log apane mitron mein vibhinn patr-patrikaon mein om banna ke baare mein padhakar deval par maatha tekane kee baat saamane aaee hai aisa log kahate hain ateet ke dauraan om banna deol par aane vaale shraddhaaluon se baatacheet mein ek hee baat saamane aaee ki om banna unakee ichchha pooree karate hain to ek shraddhaalu ne baik apane aap deol par aane kee baat kahee lekin isake baad nakaar diya haalaanki yah kee vinantee har koee bataata hai ki om banna ke devalok gaman ke baad unakee baik apane aap pulis steshan se deval par aaee thee ek bujurg se baat karane par unaka kahana tha ki om banna ne unako ummeed se jyaada diya hai isee kaaran vah parivaar ke saath yahaan aate hain om banna ke devalok gaman hone ke samay kerala thaana hua karata tha jabaki rohat mein pulis chaukee thee vahaan ka staaph 30 varsh mein badal chuka hai isake baavajood vahaan kuchh logon ko om banna ke sambandh mein ek vinantee ka pata hai lekin us samay maujood nahin hone ke kaaran bhee spasht nahin bataate hain

bolkar speaker
ओम बन्ना (बुलेट बाबा) कौन है?Om Banna Bullet Baba Kaun Hai
Ramvriksh Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Ramvriksh जी का जवाब
CivilEngineer
2:16
मित्रों नमस्कार इंदौर का परिवार के समस्त लोगों को प्यार भरा नमस्कार मित्रों की ओम बन्ना बुलेट बाबा कौन है बुलेट बाबा राजस्थान के जोधपुर कितने देर आ जाते हैं और भूल सकते थे और जमाने में भी बुलेट मोटरसाइकिल और उनका जा रहे थे तो बुलेट से जा रहे थे तो उनका एक्सीडेंट एक पेड़ के पास हो गया और रात भर वैसे पड़े रहे हो इसके बाद जैसा मेरे पुलिस वाले आए रात में हुआ था सवेरे पुलिस वाले आए तो उनकी बुलेट को ले रहे हो उनको जो शरीर से राजमहल मत लो जोधपुर भिजवा दिया तो उनकी जो बुलेट ले गए थे पुलिस वाले तो ऐसा माना जाता है वह बुलेट अपने आप चल करके उसी स्थान पर पहुंची यहां बाबा का बाबा का एक्सीडेंट हुआ था फिर तो पुलिस वाले तलाशने लगे की बुलेट भेजना थाने से तो सोचा कि कोई चोर और रात में सोए में लेकर चला गया होगा मजाक किया और फिर गए तो उसी स्थान पर पाया फिर ले आए तब उसको लाने के बाद जो है वह फिर कई बार ऐसे हुआ तीन चार बार थक गए 2 मिनट में पहुंच गए हमें छोड़ दिया छोड़ दिया तो अब स्थिति वर्तमान में यह मित्रों की वहां पर मेला लगता है और बुलेट खड़ी रहती है मंदिर मंदिर बन गया है उसी के अंदर है आज भी और एकदम आज भी नई कंडीशन में तो यह चमत्कार है चमत्कारी कृपया इस तरह के हैं धरती हमारी वीरों से खाली नहीं है तो विरोध बाबा भाई है थे के चमत्कार की बात आंखों से आज भी जोधपुर में देखी जा सकती है
Mitron namaskaar indaur ka parivaar ke samast logon ko pyaar bhara namaskaar mitron kee om banna bulet baaba kaun hai bulet baaba raajasthaan ke jodhapur kitane der aa jaate hain aur bhool sakate the aur jamaane mein bhee bulet motarasaikil aur unaka ja rahe the to bulet se ja rahe the to unaka ekseedent ek ped ke paas ho gaya aur raat bhar vaise pade rahe ho isake baad jaisa mere pulis vaale aae raat mein hua tha savere pulis vaale aae to unakee bulet ko le rahe ho unako jo shareer se raajamahal mat lo jodhapur bhijava diya to unakee jo bulet le gae the pulis vaale to aisa maana jaata hai vah bulet apane aap chal karake usee sthaan par pahunchee yahaan baaba ka baaba ka ekseedent hua tha phir to pulis vaale talaashane lage kee bulet bhejana thaane se to socha ki koee chor aur raat mein soe mein lekar chala gaya hoga majaak kiya aur phir gae to usee sthaan par paaya phir le aae tab usako laane ke baad jo hai vah phir kaee baar aise hua teen chaar baar thak gae 2 minat mein pahunch gae hamen chhod diya chhod diya to ab sthiti vartamaan mein yah mitron kee vahaan par mela lagata hai aur bulet khadee rahatee hai mandir mandir ban gaya hai usee ke andar hai aaj bhee aur ekadam aaj bhee naee kandeeshan mein to yah chamatkaar hai chamatkaaree krpaya is tarah ke hain dharatee hamaaree veeron se khaalee nahin hai to virodh baaba bhaee hai the ke chamatkaar kee baat aankhon se aaj bhee jodhapur mein dekhee ja sakatee hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • ओम बन्ना (बुलेट बाबा) कौन है ओम बन्ना कौन है
URL copied to clipboard