#undefined

bolkar speaker

किन बातों पर विचार करना वास्तव में कठिन है और क्यों?

Kin Baaton Par Vichaar Karna Vaastav Mein Kathin Hai Aur Kyun
Ekta Sahni Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ekta जी का जवाब
Unknown
2:37
आपका प्रश्न बैंक इन बातों पर विचार करना वासना में कठिन है और क्यों इसी के लिए आजकल तो मुद्दे हैं जिन पर विचार करना कठिन है सबसे पहला तो आजकल बच्चे जो हैं या बड़े भी हो गए कुछ ऐसे लोग यह मिथलेश वाले लोग कि हम कौन सा धर्म चुने और क्यों चुने रीति रिवाज मानें तो क्यों माने ऐसे करें तो क्यों करने को क्यों होली बुक स्कूल चाहिए गीता रामायण महाभारता यह बाइबल या कोई भी ऐसी बुक है वह वेद हमारी चार वेद है उन सबको वह सिर्फ एक कहानी कितने लेते हैं ढेर सारी करते नहीं है अधूरा ज्ञान हमेशा खतरनाक होता है तो उनके लिए तो यही मेरी राय होगी कि पहले आप अपना ज्ञान पूरा करें उसके बाद आप इस बारे में सोचे क्योंकि वह हर बात को लॉजिक के साथ दूसरा सबसे बड़ा मुद्दा यह है कि हमारे बच्चे आगे फ्यूचर में क्या ने क्या बने क्या करें यह पेड़ से सोचते हैं ज्ञान पर खुश होते हैं और बच्चे भी क्योंकि बहुत मुश्किल कंपटीशन का टाइम है बाकी क्या बनना चाहते हैं और कितना कंपटीशन है कितनी परसेंटेज है उनके इस में आने की तो यह सब देखते नहीं वाकई यह बहुत ही टर्न ओन है कोई इंजीनियर की इंजीनियरिंग में जाना चाहता है कोई मेडिकल में जाना चाहता है कोई आगे अकाउंटेंसी में जाना चाहता है कोई डिफेंस में जाना चाहता कोई सिविल सर्विस में जाना चाहता है कोई सिनेमैटोग्राफी भी जाना चाहता है कोई स्पेस में जाना चाहता है कोई बंद साइंटिस्ट बनना चाहता है तो यह सब बहुत से हैं इसकी क्वेश्चन और क्यों उसके पीछे अब वह लॉजिक भी ढूंढते हैं कि अरे इसमें जाएंगे बहुत वॉलिटी बहुत को इस तरह से और क्यों टेस्टी होना चाहिए आपका आपके स्वरुचि होनी चाहिए तो इन सबको सोचना और इसके लिए तो प्रॉपर काउंसलर भी पहले हमारे टाइम में कांग्रेस नहीं होते थे अब तो जगह-जगह पर काउंसलेट्स होते हैं जहां पर पेरेंट्स चार किस तरह का कि हम अपने बच्चों को आगे क्या दिलवाए जिससे कि उसका आगे एक फ्यूचर सुनिश्चित हो जाए ऐसे ही कई जगह से पूछते हैं अच्छे अच्छे लोगों को आगे बढ़े चला लेते हैं ऐसा नहीं होता था लेकिन यह जरूरी हो गया है और लेने में कोई हर्ज भी नहीं है मैं तो यही बोलूंगी अच्छे से सलाह करे विचार विमर्श करें कठिन है और क्यों और कठिन दोनों का ही आपको जवाब मिल जाता है लेकिन कुछ भी जल्दबाजी में मत करें जो अच्छा लगे तो लाइक करें थैंक यू
Aapaka prashn baink in baaton par vichaar karana vaasana mein kathin hai aur kyon isee ke lie aajakal to mudde hain jin par vichaar karana kathin hai sabase pahala to aajakal bachche jo hain ya bade bhee ho gae kuchh aise log yah mithalesh vaale log ki ham kaun sa dharm chune aur kyon chune reeti rivaaj maanen to kyon maane aise karen to kyon karane ko kyon holee buk skool chaahie geeta raamaayan mahaabhaarata yah baibal ya koee bhee aisee buk hai vah ved hamaaree chaar ved hai un sabako vah sirph ek kahaanee kitane lete hain dher saaree karate nahin hai adhoora gyaan hamesha khataranaak hota hai to unake lie to yahee meree raay hogee ki pahale aap apana gyaan poora karen usake baad aap is baare mein soche kyonki vah har baat ko lojik ke saath doosara sabase bada mudda yah hai ki hamaare bachche aage phyoochar mein kya ne kya bane kya karen yah ped se sochate hain gyaan par khush hote hain aur bachche bhee kyonki bahut mushkil kampateeshan ka taim hai baakee kya banana chaahate hain aur kitana kampateeshan hai kitanee parasentej hai unake is mein aane kee to yah sab dekhate nahin vaakee yah bahut hee tarn on hai koee injeeniyar kee injeeniyaring mein jaana chaahata hai koee medikal mein jaana chaahata hai koee aage akauntensee mein jaana chaahata hai koee diphens mein jaana chaahata koee sivil sarvis mein jaana chaahata hai koee sinemaitograaphee bhee jaana chaahata hai koee spes mein jaana chaahata hai koee band saintist banana chaahata hai to yah sab bahut se hain isakee kveshchan aur kyon usake peechhe ab vah lojik bhee dhoondhate hain ki are isamen jaenge bahut volitee bahut ko is tarah se aur kyon testee hona chaahie aapaka aapake svaruchi honee chaahie to in sabako sochana aur isake lie to propar kaunsalar bhee pahale hamaare taim mein kaangres nahin hote the ab to jagah-jagah par kaunsalets hote hain jahaan par perents chaar kis tarah ka ki ham apane bachchon ko aage kya dilavae jisase ki usaka aage ek phyoochar sunishchit ho jae aise hee kaee jagah se poochhate hain achchhe achchhe logon ko aage badhe chala lete hain aisa nahin hota tha lekin yah jarooree ho gaya hai aur lene mein koee harj bhee nahin hai main to yahee boloongee achchhe se salaah kare vichaar vimarsh karen kathin hai aur kyon aur kathin donon ka hee aapako javaab mil jaata hai lekin kuchh bhee jaldabaajee mein mat karen jo achchha lage to laik karen thaink yoo

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • किन बातों पर विचार करना वास्तव में कठिन है और क्यों किन बातों पर विचार करना वास्तव में कठिन है
URL copied to clipboard