#undefined

bolkar speaker

बाज़ार में अनेक प्रकार की मजदूरी दरें क्यों प्रचलित होती हैं ?

Bajar Mein Anek Prakar Ki Majduri Dare Kyun Prachalit Hoti Hain
pushpanjali patel Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए pushpanjali जी का जवाब
Student with micro finance bank employee
1:22

और जवाब सुनें

bolkar speaker
बाज़ार में अनेक प्रकार की मजदूरी दरें क्यों प्रचलित होती हैं ?Bajar Mein Anek Prakar Ki Majduri Dare Kyun Prachalit Hoti Hain
sweety anand Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए sweety जी का जवाब
Unknown
0:56

bolkar speaker
बाज़ार में अनेक प्रकार की मजदूरी दरें क्यों प्रचलित होती हैं ?Bajar Mein Anek Prakar Ki Majduri Dare Kyun Prachalit Hoti Hain
nav kishor aggarwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए nav जी का जवाब
Service
1:43
सर आपका सवाल है कि बाजार में अनेक प्रकार की मजदूरी दरें क्यों प्रचलित होती हैं अच्छा सवाल है दोस्त आपका लिखिए बाजार में जो मजदूरी दर में प्रचलित होती है वह अलग अलग लोगों द्वारा निर्धारित की जाती है जैसे कि ड्राइवर की मजदूरी रोज की ₹400 ₹500 ₹300 ऐसे है अब वह तो मालिक के द्वारा जो मालिक नौकरी देता है वह निर्धारित करता है और अगर किसी को अच्छा लगता है कोई सोचता है क्या मेरा को परखा जाएगा मतलब मेरे को अच्छा अभी तो ठीक लगेगा तो नौकरी करने को तैयार होता है और कोई नौकरी ढूंढने की कोशिश करता है तो यह सब चीज है जो है मजदूरी दरों का झोपड़ा क्या अंतर है यह सब बाजार के द्वारा ही निर्धारित किया जाता है लेकिन आपका सवाल बहुत अच्छा लगा और इस बारे में मैं अपनी राय देना चाहूंगा भारत सरकार को कि देखिए जैसे कि आपने वन इंडिया वन राशन कार्ड बनाया काफी सारी चीजें आपने ऐसी की है कि एक राशन कार्ड हो गया या एक आधार कार्ड हो गया वह हर जगह मान्य उसी प्रकार पूरे भारत में भी एक कानून बनना चाहिए कि एक ही मजबूरी बराबर की सबको मिलनी चाहिए चाहे वह कोई भी राज्य कोई भी स्टेट हो कोई भी दिलाओ मजदूरी सब की समान होनी चाहिए हां योग्यता अनुसार में जो भी होनी चाहिए लेकिन मजबूरी समान होनी चाहिए अगर दिल्ली में ड्राइवर को ₹400 प्रतिदिन मिल रहा है तो वही वेतन मुंबई में बेंगलुरु में बिहार में मध्यप्रदेश में या जितने भी भारत के राज्य और उन्हें सम्मान मिलना चाहिए नहीं है कि मुंबई में ड्राइवर को 300 मिल रहे हैं ड्राइवर को 500 मिल रहे हैं और दिल्ली में 400 मंत्रालय भारत सरकार को इस विषय में ध्यान देने और काम करने की जरूरत है धन्यवाद

bolkar speaker
बाज़ार में अनेक प्रकार की मजदूरी दरें क्यों प्रचलित होती हैं ?Bajar Mein Anek Prakar Ki Majduri Dare Kyun Prachalit Hoti Hain
Bhanu Prakash jha  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Bhanu जी का जवाब
Students
0:30

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • बाज़ार में अनेक प्रकार की मजदूरी बाज़ार की मजदूरी
URL copied to clipboard