#undefined

Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
3:58
यह मिट्टी मथुरा का बुक रीडर है जिसे जो खा लेता है इंसान तो भी पछताता है और नहीं खा पाता है वह भी पछताता है खाने वाला तो यह समझता है किस के स्वास्थ्य में वंचित रह गया और कितना स्वादिष्ट होगा इसलिए बताता रहता है और तू खा लेता है उसकी खराबी और उसके दुर्गुणों से भी परिचित हो जाता है इसलिए वह खा करके पछताता है सही के यह हालत में भी है नहीं बच्चों में आजकल देख रहा हूं मैं इन गंदी पिक्चर रोने इन गंदे टीवी के वातावरण में आज पढ़ाई लिखाई कोतीगोंड बना दिया है और यह इश्क बाजी आज आपको चारों तरफ दिखाई दे रही है यहां तक कि लड़कों का पढ़ने में लड़कियों का पढ़ने में दिमाग कम इश्कबाजी में ज्यादा लंबे हुए इसके दुष्परिणाम भी आप यदा-कदा टीवी पर अखबारों में मैगजीन सुनें देवीपाटन उसका मेन कारण यह है कि इन गंदी पिक्चर रोने इंडियन कल्चर को समाप्त करने का विचार के साथ में ही वेस्टर्न कल्चर को यह लादे जा रहे हैं इसलिए आप यह देख रहे हो कि यह वातावरण बना हुआ है यह नई पीढ़ी के लिए बहुत घातक है तुम देख लेना एक दिन वह आने वाला है कि हमारी नई प्रिया इस के बाजू में अपना बहन सब कुछ खो देंगी जो उनके पूर्वजों ने उनके लिए विशेष मेहनत करके अर्जित किया था जो भारत विश्व गुरु होने का सपना देख उसको यह नई पीढ़ी समझ नहीं पा रही है और नई पीढ़ी इश्क बाजी में रमी हुई है उसी का दुष्परिणाम दिख रहे हो कि लड़के लड़कियां माता-पिता गाढ़ी कमाई को भी इस राज्य में फूट रहे हैं गंदे को कर्मों में बस रहे हैं शराब बस जैसे सलामत रहे हैं और उसी का दुष्परिणाम देख रहे हो कि यह बच्चे घर पर पढ़ने की क्या करते जाते हैं लड़के लड़कियां और बीयर बारों में शराब दोनों में विभिन्न एक शादी में शामिल होकर के जो रास्ता इनको उनके माता-पिता ने चाहा था कि यह पढ़ लिख कर के अपना जीवन बनाएंगे खैरियत बनाएंगे अपने सपने पूर्ण करेंगे माता-पिता का नाम रोशन करेंगे देश के सुयोग्य नागरिक बनेंगे वह रास्ता टक्कर की और इस प्रकार के कुकर्म गामी रास्ते पर जा रहे हैं यह बड़ा दुर्भाग्य का विषय है यह इश्क का रोग सबसे भयंकर लाइलाज रोग यह रोग एक बार लग गया तो समझ लीजिए कि फिर उसका कोई इलाज नहीं है तो पीछे मां बाप को भी रोना पड़ता है और पीछे औलाद भी रोती है क्योंकि लेकिन जब तक वह वक्त निकल चुका होता है का वर्षा जब कृषि सुखाने वह स्थिति बन जाती है वही सिटी इसमें भी आती है अब जो सफल हो जाते हैं वह 10:05 पर 5:00 पर्सेंट में ही रहते हैं बाकी अधिकतर इसके जो रिजल्ट्स हैं वह पिक्चर जो नब्बे परसेंट में बिजली की रहते हैं और उसके दुष्परिणाम उनके माता-पिता कोरोनावायरस भी भगत ने होते हैं
Yah mittee mathura ka buk reedar hai jise jo kha leta hai insaan to bhee pachhataata hai aur nahin kha paata hai vah bhee pachhataata hai khaane vaala to yah samajhata hai kis ke svaasthy mein vanchit rah gaya aur kitana svaadisht hoga isalie bataata rahata hai aur too kha leta hai usakee kharaabee aur usake durgunon se bhee parichit ho jaata hai isalie vah kha karake pachhataata hai sahee ke yah haalat mein bhee hai nahin bachchon mein aajakal dekh raha hoon main in gandee pikchar rone in gande teevee ke vaataavaran mein aaj padhaee likhaee koteegond bana diya hai aur yah ishk baajee aaj aapako chaaron taraph dikhaee de rahee hai yahaan tak ki ladakon ka padhane mein ladakiyon ka padhane mein dimaag kam ishkabaajee mein jyaada lambe hue isake dushparinaam bhee aap yada-kada teevee par akhabaaron mein maigajeen sunen deveepaatan usaka men kaaran yah hai ki in gandee pikchar rone indiyan kalchar ko samaapt karane ka vichaar ke saath mein hee vestarn kalchar ko yah laade ja rahe hain isalie aap yah dekh rahe ho ki yah vaataavaran bana hua hai yah naee peedhee ke lie bahut ghaatak hai tum dekh lena ek din vah aane vaala hai ki hamaaree naee priya is ke baajoo mein apana bahan sab kuchh kho dengee jo unake poorvajon ne unake lie vishesh mehanat karake arjit kiya tha jo bhaarat vishv guru hone ka sapana dekh usako yah naee peedhee samajh nahin pa rahee hai aur naee peedhee ishk baajee mein ramee huee hai usee ka dushparinaam dikh rahe ho ki ladake ladakiyaan maata-pita gaadhee kamaee ko bhee is raajy mein phoot rahe hain gande ko karmon mein bas rahe hain sharaab bas jaise salaamat rahe hain aur usee ka dushparinaam dekh rahe ho ki yah bachche ghar par padhane kee kya karate jaate hain ladake ladakiyaan aur beeyar baaron mein sharaab donon mein vibhinn ek shaadee mein shaamil hokar ke jo raasta inako unake maata-pita ne chaaha tha ki yah padh likh kar ke apana jeevan banaenge khairiyat banaenge apane sapane poorn karenge maata-pita ka naam roshan karenge desh ke suyogy naagarik banenge vah raasta takkar kee aur is prakaar ke kukarm gaamee raaste par ja rahe hain yah bada durbhaagy ka vishay hai yah ishk ka rog sabase bhayankar lailaaj rog yah rog ek baar lag gaya to samajh leejie ki phir usaka koee ilaaj nahin hai to peechhe maan baap ko bhee rona padata hai aur peechhe aulaad bhee rotee hai kyonki lekin jab tak vah vakt nikal chuka hota hai ka varsha jab krshi sukhaane vah sthiti ban jaatee hai vahee sitee isamen bhee aatee hai ab jo saphal ho jaate hain vah 10:05 par 5:00 parsent mein hee rahate hain baakee adhikatar isake jo rijalts hain vah pikchar jo nabbe parasent mein bijalee kee rahate hain aur usake dushparinaam unake maata-pita koronaavaayaras bhee bhagat ne hote hain

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

URL copied to clipboard