#जीवन शैली

bolkar speaker

क्या आप भी मानते हैं कि इंसान इंसानियत भूल चुका है?

Kya Aap Bhee Maanate Hain Ki Insaan Insaaniyat Bhool Chuka Hai
Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
0:58

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्या आप भी मानते हैं कि इंसान इंसानियत भूल चुका है?Kya Aap Bhee Maanate Hain Ki Insaan Insaaniyat Bhool Chuka Hai
Sonali Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Sonali जी का जवाब
जिंदगी को खुलकर जीना...😊
2:04

bolkar speaker
क्या आप भी मानते हैं कि इंसान इंसानियत भूल चुका है?Kya Aap Bhee Maanate Hain Ki Insaan Insaaniyat Bhool Chuka Hai
Anand Dubey Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Anand जी का जवाब
Real state
0:09

bolkar speaker
क्या आप भी मानते हैं कि इंसान इंसानियत भूल चुका है?Kya Aap Bhee Maanate Hain Ki Insaan Insaaniyat Bhool Chuka Hai
Prashant Tiwari  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Prashant जी का जवाब
Teaching job cac at present in Mp
0:35

bolkar speaker
क्या आप भी मानते हैं कि इंसान इंसानियत भूल चुका है?Kya Aap Bhee Maanate Hain Ki Insaan Insaaniyat Bhool Chuka Hai
Dr. Rosy Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Dr. जी का जवाब
Motivational speaker/Health and Beauty Guidance
2:18

bolkar speaker
क्या आप भी मानते हैं कि इंसान इंसानियत भूल चुका है?Kya Aap Bhee Maanate Hain Ki Insaan Insaaniyat Bhool Chuka Hai
Er Shahrukh Choudhary Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Er जी का जवाब
3D Designer Construction & Consultant
1:53

bolkar speaker
क्या आप भी मानते हैं कि इंसान इंसानियत भूल चुका है?Kya Aap Bhee Maanate Hain Ki Insaan Insaaniyat Bhool Chuka Hai
Farhan Ghani Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Farhan जी का जवाब
Businessmen
2:24

bolkar speaker
क्या आप भी मानते हैं कि इंसान इंसानियत भूल चुका है?Kya Aap Bhee Maanate Hain Ki Insaan Insaaniyat Bhool Chuka Hai
अमित सिंह बघेल Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए अमित जी का जवाब
सामाजिक कार्यकर्ता, मोटिवेशनल स्पीकर 
3:55

bolkar speaker
क्या आप भी मानते हैं कि इंसान इंसानियत भूल चुका है?Kya Aap Bhee Maanate Hain Ki Insaan Insaaniyat Bhool Chuka Hai
Om Prakash Jha Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Om जी का जवाब
छात्र
2:16

bolkar speaker
क्या आप भी मानते हैं कि इंसान इंसानियत भूल चुका है?Kya Aap Bhee Maanate Hain Ki Insaan Insaaniyat Bhool Chuka Hai
भारत बनेगा स्वर्ग नमामि गंगे Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए भारत जी का जवाब
रेस्टोरेंट में मुनीम के पद पर कार्यरत
2:29

bolkar speaker
क्या आप भी मानते हैं कि इंसान इंसानियत भूल चुका है?Kya Aap Bhee Maanate Hain Ki Insaan Insaaniyat Bhool Chuka Hai
vikas Singh Rajput Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए vikas जी का जवाब
Unknown
4:49

bolkar speaker
क्या आप भी मानते हैं कि इंसान इंसानियत भूल चुका है?Kya Aap Bhee Maanate Hain Ki Insaan Insaaniyat Bhool Chuka Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:36

bolkar speaker
क्या आप भी मानते हैं कि इंसान इंसानियत भूल चुका है?Kya Aap Bhee Maanate Hain Ki Insaan Insaaniyat Bhool Chuka Hai
Abhishek Shukla ji Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Abhishek जी का जवाब
Motivational speaker
1:15

bolkar speaker
क्या आप भी मानते हैं कि इंसान इंसानियत भूल चुका है?Kya Aap Bhee Maanate Hain Ki Insaan Insaaniyat Bhool Chuka Hai
Sanjeev Gupta Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Sanjeev जी का जवाब
Unknown
4:45

bolkar speaker
क्या आप भी मानते हैं कि इंसान इंसानियत भूल चुका है?Kya Aap Bhee Maanate Hain Ki Insaan Insaaniyat Bhool Chuka Hai
Dilip Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dilip जी का जवाब
Unknown
0:26

bolkar speaker
क्या आप भी मानते हैं कि इंसान इंसानियत भूल चुका है?Kya Aap Bhee Maanate Hain Ki Insaan Insaaniyat Bhool Chuka Hai
Ajay sinh Pawar  Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Ajay जी का जवाब
Entrepreneur
2:53

bolkar speaker
क्या आप भी मानते हैं कि इंसान इंसानियत भूल चुका है?Kya Aap Bhee Maanate Hain Ki Insaan Insaaniyat Bhool Chuka Hai
Mansha Dhawan Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Mansha जी का जवाब
Unknown
2:14
हां मुझे यह कहने में बिल्कुल संकोच नहीं कि इंसान अपनी इंसानियत भूलता ही जा रहा है और आगे बढ़ने की आड़ में इंसानियत को पीछे छोड़ रहा है मैं बता दूं कि इंसान जो है वह धर्म की आड़ में अपने अंदर जो पढ़ रहे वह निंदा साथ में नफरत और और अविश्वास उन्माद और तो और यह जो जातिवादी भेदभाव है इसके कारण इसके कारण वह अभिमान को प्राथमिकता दे रहा है और इंसानियत को नकार ताजा रहा है और तो और जिससे उसके भीतर की मानवता धीरे-धीरे दम तोड़ रही है हम और हम और हम सब लोग इंसानियत के साथ जन्मे थे पर इंसान द्वारा बनाए जाते धर्म आदि के भेदभाव को हमारी सोचने और और तो और कुछ राजनेताओं द्वारा रचित प्रपंच ने इसको खत्म कर दिया है और इसके चलते इन जो इंसान है वह किसी दूसरे इंसान की ना तो मजबूरी समझता है और ना ही उसकी मदद करता है मैं आपको बता दूं कि इंसान प्यार करना भूलता जा रहा है और अपने दया की भावना को तो बस एक ही चुका है आज इंसान अपने फायदे के लिए अपने करीब वालों तक को बैठ सकता है वह अपनी समृद्धि के वह अपनी समृद्धि के किसी किसी की भी जान दे सकता है या उसको दाव पर लगा सकता है एक शब्द में कहूं तो इंसान खुदगर्ज बनता जा रहा है या फिर उसमें हवा नियत पर रही है इंसानियत वह इंसानियत तो क्या वह जो पेड़ पौधे और जानवरों तक को नहीं बख्शा शायद यह शमा तो लुप्त होती जा रही है आप फिर भी कहूंगी कि मैं यह मानती हूं कि कौन है मैं ही सही कहीं धूल में लिपटी हुई या फिर शायद कहीं छुपी हुई इंसानियत हर किसी में है या हर किसी में ना यह हर किसी में ना सही तो ऐसे कुछ लोग तो है जो अभी भी इंसानियत में मानते तो है वह शायद दिखा नहीं पाते
Haan mujhe yah kahane mein bilkul sankoch nahin ki insaan apanee insaaniyat bhoolata hee ja raha hai aur aage badhane kee aad mein insaaniyat ko peechhe chhod raha hai main bata doon ki insaan jo hai vah dharm kee aad mein apane andar jo padh rahe vah ninda saath mein napharat aur aur avishvaas unmaad aur to aur yah jo jaativaadee bhedabhaav hai isake kaaran isake kaaran vah abhimaan ko praathamikata de raha hai aur insaaniyat ko nakaar taaja raha hai aur to aur jisase usake bheetar kee maanavata dheere-dheere dam tod rahee hai ham aur ham aur ham sab log insaaniyat ke saath janme the par insaan dvaara banae jaate dharm aadi ke bhedabhaav ko hamaaree sochane aur aur to aur kuchh raajanetaon dvaara rachit prapanch ne isako khatm kar diya hai aur isake chalate in jo insaan hai vah kisee doosare insaan kee na to majabooree samajhata hai aur na hee usakee madad karata hai main aapako bata doon ki insaan pyaar karana bhoolata ja raha hai aur apane daya kee bhaavana ko to bas ek hee chuka hai aaj insaan apane phaayade ke lie apane kareeb vaalon tak ko baith sakata hai vah apanee samrddhi ke vah apanee samrddhi ke kisee kisee kee bhee jaan de sakata hai ya usako daav par laga sakata hai ek shabd mein kahoon to insaan khudagarj banata ja raha hai ya phir usamen hava niyat par rahee hai insaaniyat vah insaaniyat to kya vah jo ped paudhe aur jaanavaron tak ko nahin bakhsha shaayad yah shama to lupt hotee ja rahee hai aap phir bhee kahoongee ki main yah maanatee hoon ki kaun hai main hee sahee kaheen dhool mein lipatee huee ya phir shaayad kaheen chhupee huee insaaniyat har kisee mein hai ya har kisee mein na yah har kisee mein na sahee to aise kuchh log to hai jo abhee bhee insaaniyat mein maanate to hai vah shaayad dikha nahin paate

bolkar speaker
क्या आप भी मानते हैं कि इंसान इंसानियत भूल चुका है?Kya Aap Bhee Maanate Hain Ki Insaan Insaaniyat Bhool Chuka Hai
Sandhya maurya Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Sandhya जी का जवाब
Student
2:16

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

    URL copied to clipboard