#undefined

Naayank Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Naayank जी का जवाब
College
1:40
केवल पाकिस्तान ने ही नहीं बल्कि अलग-अलग इस्लामिक देश है जहां पर एमजी मुसलमानों को मुसलमान नहीं मानते क्यों तो एमबी मुसलमानों के बारे में जानना में मुसलमान की स्पष्ट मान्यता है कि मुहम्मद साहब अल्लाह के आखरी पैगंबर थे उनके बाद ना कोई हुआ है और ना कौन हो सकता है नाम की पुण्यतिथि विश्वास पर टिकी है इस्लाम कबूलियत का जो कलमा है वह भी है यह कि अल्लाह के अलावा कोई माबूद नहीं और मोहम्मद अल्लाह के रसूल है लेकिन अहम या मुसलमान मिर्जा गुलाम अहमद को भी नबी का दर्जा तिथि टकराव की शुरुआत होती है और गैर हिंदू या मुस्लिम उलेमा है उनका कहना है कि अगर कोई हजरत मोहम्मद के बाद किसी और के नमूने को स्वीकार ता है तो वह उस कलमा को ही खारिज कर रहा है इसको पढ़कर कोई भी शाम को स्वीकारते हैं अब इनको लेकर पाकिस्तान पहले भी कई बार विवाद हो चुका है अब्दुस्सलाम पाकिस्तान के पहले और अकेले वैज्ञानिक जिन्होंने फिजिक्स के लिए नोबेल पुरस्कार दिया गया था और बहन जी और समुदाय से थे बाद में उनके नाम पर ही वहां की कायदे आजम यूनिवर्सिटी की फिजिक्स डिपार्टमेंट का नाम रखा गया बाद के दिनों में इसको लेकर कि वहां का आशीर्वाद है आप अभी हाल में एक विवाद वेबसाइट को प्रतिबंध करने को लेकर उठाए जो उनकी नुमाइंदगी कर रही थी और उस वेबसाइट को बंद करने को कहा गया एक आदेश दिया गया उसको लेकर भी पाकिस्तान सरकार का कहना है कि उसके सेट किए थे कंटेंट का प्रचार-प्रसार हो रहा है जिसका इस्लाम में कोई जगह नहीं है
Keval paakistaan ne hee nahin balki alag-alag islaamik desh hai jahaan par emajee musalamaanon ko musalamaan nahin maanate kyon to emabee musalamaanon ke baare mein jaanana mein musalamaan kee spasht maanyata hai ki muhammad saahab allaah ke aakharee paigambar the unake baad na koee hua hai aur na kaun ho sakata hai naam kee punyatithi vishvaas par tikee hai islaam kabooliyat ka jo kalama hai vah bhee hai yah ki allaah ke alaava koee maabood nahin aur mohammad allaah ke rasool hai lekin aham ya musalamaan mirja gulaam ahamad ko bhee nabee ka darja tithi takaraav kee shuruaat hotee hai aur gair hindoo ya muslim ulema hai unaka kahana hai ki agar koee hajarat mohammad ke baad kisee aur ke namoone ko sveekaar ta hai to vah us kalama ko hee khaarij kar raha hai isako padhakar koee bhee shaam ko sveekaarate hain ab inako lekar paakistaan pahale bhee kaee baar vivaad ho chuka hai abdussalaam paakistaan ke pahale aur akele vaigyaanik jinhonne phijiks ke lie nobel puraskaar diya gaya tha aur bahan jee aur samudaay se the baad mein unake naam par hee vahaan kee kaayade aajam yoonivarsitee kee phijiks dipaartament ka naam rakha gaya baad ke dinon mein isako lekar ki vahaan ka aasheervaad hai aap abhee haal mein ek vivaad vebasait ko pratibandh karane ko lekar uthae jo unakee numaindagee kar rahee thee aur us vebasait ko band karane ko kaha gaya ek aadesh diya gaya usako lekar bhee paakistaan sarakaar ka kahana hai ki usake set kie the kantent ka prachaar-prasaar ho raha hai jisaka islaam mein koee jagah nahin hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • अहमदिया मुसलमानों को पाकिस्तान में मुसलमान क्यों नहीं माना जाता है अहमदिया मुसलमानों मुसलमान क्यों नहीं माना जाता है
URL copied to clipboard