#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker

भारत का प्रथम विश्व युद्ध कब हुआ था?

Bharat Ka Pratham Vishv Yuddh Kab Hua Tha
Devendra kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Devendra जी का जवाब
Gsss nimbaniyo ki Dhane
0:05

और जवाब सुनें

bolkar speaker
भारत का प्रथम विश्व युद्ध कब हुआ था?Bharat Ka Pratham Vishv Yuddh Kab Hua Tha
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
2:43
सवाल ये है कि भारत का प्रथम विश्व युद्ध कब हुआ था प्रथम विश्वयुद्ध साल 1914 में 28 जुलाई को हुआ था जब ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ जंग का ऐलान कर दिया 28 जुलाई 1914 से 1919 तक चले इस प्रथम विश्व युद्ध को पूरे 104 साल हो चुके हैं 1914 से 1919 के मध्य यूरोप एशिया और अफ्रीका तीन महाद्वीपों के जल थल और आकाश में प्रथम विश्व युद्ध लड़ा गया प्रथम विश्व युद्ध लगभग 52 महीने तक चला और उस समय की पीढ़ी के लिए यह जीवन की दृष्टि बदल देने वाला अनुभव था करीब आधी दुनिया हिंसा की चपेट में चली गई और इस बार इस दौरान अनुमानित 1 करोड लोगों की जान चली गई जिससे दुगने घायल हो गए प्रथम विश्व युद्ध को द ग्रेट वार के नाम से भी जाना जाता है ऐसा इसलिए कहा जाता है कि इस तरह की युद्ध की किसी ने कल्पना भी नहीं की थी यह महायुद्ध यूरोप एशिया और अफ्रीका तीन महाद्वीपों और समुद्र धरती और आकाश में लड़ा गया युद्ध में 33 देशों ने प्रथम विश्व युद्ध में भाग लिया युद्ध का तात्कालिक कारण ऑस्ट्रेलिया के राजकुमार फर्नांडिस ने की हत्या था जो 14 में ऑस्ट्रिया के राजकुमार पंडित की हत्या कर दी गई जिसके बाद 28 जुलाई को सर्बिया के विरुद्ध युद्ध की घोषणा कर दी गई जब यह युद्ध आरंभ हुआ उस समय भारत औपनिवेशिक शासन के अधीन था यह भारतीय सिपाही संपूर्ण विश्व में अलग-अलग लड़ाई में लड़े युद्ध आरंभ होने से पहले जर्मनों ने पूरी कोशिश की कि भारत में ब्रिटेन के विरुद्ध आंदोलन शुरू किया जा सके बहुत से लोगों का विचार था कि यदि ब्रिटेन युद्ध में लग गया तो भारत के क्रांतिकारी इस अवसर का लाभ उठाकर देश ने अंग्रेजों को उखाड़ फेंकने में तक सफल हो जाएंगे मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक कुल 800000 भारतीय सैनिक इस युद्ध में लड़ा जिसमें को 47786 सैनिक मारे गए और 65000 जख्मी हो गए इस युद्ध के कारण भारत की अर्थव्यवस्था लगभग दिवालिया हो गई थी भारत के बड़े नेताओं द्वारा इस युद्ध में ब्रिटेन को समर्थन में ब्रिटिश चिंतकों में भी चौंका दिया था भारत के नेताओं को आशा थी कि युद्ध में ब्रिटेन के समर्थन से खुश होकर अंग्रेज भारत का को इनाम के रूप में स्वतंत्रता दे देंगे या कम से कम स्वशासन का अधिकार दे देंगे किंतु ऐसा कुछ भी नहीं हुआ 28 जून 1919 को जर्मनी के सामने फ्रांस इटली ब्रिटेन और सहयोगी थे दोनों पक्षों के बीच वर्क लेटर संधि पर दस्तखत हुए और युद्ध का अधिकारिक अंत हुआ
Savaal ye hai ki bhaarat ka pratham vishv yuddh kab hua tha pratham vishvayuddh saal 1914 mein 28 julaee ko hua tha jab ostreliya ke khilaaph jang ka ailaan kar diya 28 julaee 1914 se 1919 tak chale is pratham vishv yuddh ko poore 104 saal ho chuke hain 1914 se 1919 ke madhy yoorop eshiya aur aphreeka teen mahaadveepon ke jal thal aur aakaash mein pratham vishv yuddh lada gaya pratham vishv yuddh lagabhag 52 maheene tak chala aur us samay kee peedhee ke lie yah jeevan kee drshti badal dene vaala anubhav tha kareeb aadhee duniya hinsa kee chapet mein chalee gaee aur is baar is dauraan anumaanit 1 karod logon kee jaan chalee gaee jisase dugane ghaayal ho gae pratham vishv yuddh ko da gret vaar ke naam se bhee jaana jaata hai aisa isalie kaha jaata hai ki is tarah kee yuddh kee kisee ne kalpana bhee nahin kee thee yah mahaayuddh yoorop eshiya aur aphreeka teen mahaadveepon aur samudr dharatee aur aakaash mein lada gaya yuddh mein 33 deshon ne pratham vishv yuddh mein bhaag liya yuddh ka taatkaalik kaaran ostreliya ke raajakumaar pharnaandis ne kee hatya tha jo 14 mein ostriya ke raajakumaar pandit kee hatya kar dee gaee jisake baad 28 julaee ko sarbiya ke viruddh yuddh kee ghoshana kar dee gaee jab yah yuddh aarambh hua us samay bhaarat aupaniveshik shaasan ke adheen tha yah bhaarateey sipaahee sampoorn vishv mein alag-alag ladaee mein lade yuddh aarambh hone se pahale jarmanon ne pooree koshish kee ki bhaarat mein briten ke viruddh aandolan shuroo kiya ja sake bahut se logon ka vichaar tha ki yadi briten yuddh mein lag gaya to bhaarat ke kraantikaaree is avasar ka laabh uthaakar desh ne angrejon ko ukhaad phenkane mein tak saphal ho jaenge meediya riport ke mutaabik kul 800000 bhaarateey sainik is yuddh mein lada jisamen ko 47786 sainik maare gae aur 65000 jakhmee ho gae is yuddh ke kaaran bhaarat kee arthavyavastha lagabhag divaaliya ho gaee thee bhaarat ke bade netaon dvaara is yuddh mein briten ko samarthan mein british chintakon mein bhee chaunka diya tha bhaarat ke netaon ko aasha thee ki yuddh mein briten ke samarthan se khush hokar angrej bhaarat ka ko inaam ke roop mein svatantrata de denge ya kam se kam svashaasan ka adhikaar de denge kintu aisa kuchh bhee nahin hua 28 joon 1919 ko jarmanee ke saamane phraans italee briten aur sahayogee the donon pakshon ke beech vark letar sandhi par dastakhat hue aur yuddh ka adhikaarik ant hua

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • प्रथम विश्व युद्ध और भारत, प्रथम विश्व युद्ध का भारत पर प्रभाव, कैसे प्रथम विश्व युद्ध के भारत में राष्ट्रीय आंदोलन के विकास में मदद की
URL copied to clipboard