#undefined

bolkar speaker

लोहड़ी त्योहार के बारे में कुछ रोचक तथ्य क्या हैं?

Lohdi Tyohar Ke Baare Mein Kuch Rochak Tathy Kya Hain
Priyal dawar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Priyal जी का जवाब
Future Doctor
1:33
बहुत ही अच्छा प्रश्न है आज लोहरी त्यौहार वाले दिन यानी 13 जनवरी को गिलहरी के बारे में कुछ रोचक तत्व क्या है तो हम में से ज्यादातर लोग जानते हैं कि यह हिंदू धर्म के लोगों का त्योहार है और यह सबसे ज्यादा पंजाब में बनाया जाता है पर क्या हम जानते हैं कि क्यों बनाया जाता है तो आज के दिन पंजाब में लोहड़ी माता की पूजा की जाती और इसे बड़े ही हर्षोल्लास के साथ लोग बनाते हैं इस में भाग लेते हैं खूब नाच गाना करते हैं कितना किया जाता है और खाने के खूब सारे पकवान बनाए जाते हैं जिसमें के गुड़ से बनी चीजें जैसे गजक तिल के लड्डू और मूंगफली से बनी चीजें शामिल होती है पर जो चीजें हम नहीं चाहते हैं वह यह है कि यह मेहंदी इसलिए बनाया जाता है क्योंकि इस समय तक गेहूं की कटाई हो चुकी होती है और लोगों का ऐसा मानना है कि किसानों का नया वर्ष किसी से टाइम से स्टार्ट होता है और ऐसा कहा जाता यह साल का सबसे छोटा दिन होता है और सबसे लंबी रात कही जाती है और आज ही के टाइम से ठंड के मौसम खत्म होता है और बसंत ऋतु प्रारंभ होती है और गर्मी थोड़ी-थोड़ी आने लगती है और इसको लहरी को मां की भी कहा जाता है क्योंकि आज ही गए आज ही के दिन से माघ मास की का प्रारंभ होता है तो इसे मांगी कहा जाता है तो इसी तरह की कुछ लहरी के बारे में कुछ रोचक तत्व हमें पता चले धन्यवाद
Bahut hee achchha prashn hai aaj loharee tyauhaar vaale din yaanee 13 janavaree ko gilaharee ke baare mein kuchh rochak tatv kya hai to ham mein se jyaadaatar log jaanate hain ki yah hindoo dharm ke logon ka tyohaar hai aur yah sabase jyaada panjaab mein banaaya jaata hai par kya ham jaanate hain ki kyon banaaya jaata hai to aaj ke din panjaab mein lohadee maata kee pooja kee jaatee aur ise bade hee harshollaas ke saath log banaate hain is mein bhaag lete hain khoob naach gaana karate hain kitana kiya jaata hai aur khaane ke khoob saare pakavaan banae jaate hain jisamen ke gud se banee cheejen jaise gajak til ke laddoo aur moongaphalee se banee cheejen shaamil hotee hai par jo cheejen ham nahin chaahate hain vah yah hai ki yah mehandee isalie banaaya jaata hai kyonki is samay tak gehoon kee kataee ho chukee hotee hai aur logon ka aisa maanana hai ki kisaanon ka naya varsh kisee se taim se staart hota hai aur aisa kaha jaata yah saal ka sabase chhota din hota hai aur sabase lambee raat kahee jaatee hai aur aaj hee ke taim se thand ke mausam khatm hota hai aur basant rtu praarambh hotee hai aur garmee thodee-thodee aane lagatee hai aur isako laharee ko maan kee bhee kaha jaata hai kyonki aaj hee gae aaj hee ke din se maagh maas kee ka praarambh hota hai to ise maangee kaha jaata hai to isee tarah kee kuchh laharee ke baare mein kuchh rochak tatv hamen pata chale dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
लोहड़ी त्योहार के बारे में कुछ रोचक तथ्य क्या हैं?Lohdi Tyohar Ke Baare Mein Kuch Rochak Tathy Kya Hain
Ashok Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए Ashok जी का जवाब
कृषक👳💦
4:00
फुल का लैपटॉप स्पीकर सौरभ राय जी द्वारा सवाल पूछा गया है लोहरी त्यौहार के बारे में कुछ रोचक तथ्य क्या है देखी तोहार एक और नाम अनेक भारत के अलग-अलग प्रांतों में मकर सक्रांति के दिन या आसपास द्वारा मनाया जाते हैं जो कि मकर सक्रांति के दूसरे रूप हैं उन्हीं में से एक है लोहड़ी पंजाब और हरियाणा में लोहड़ी का त्यौहार धूमधाम से मनाया जाता है लोहड़ी को पहले सीलोन कहा जाता था यह शब्द तिल तथा रोड़ी यानी कि गुड़ की रोड़ी शब्दों के मेल से बना है जो समय के साथ बदल कर लो घड़ी के रूप में प्रसिद्ध हो गया मकर सक्रांति के दिन भी तिल गुड़ खाने और बांटने का महत्व पंजाब के कई इलाकों में से लोहिया लो अभी कहा जाता है वर्ष की शबरी प्योर में पतझड़ सावन और बसंत में कई तरह के छोटे बड़े त्यौहार मनाए जाते हैं इनमें से एक प्रमुख त्योहार लोहड़ी है जो बसंत के आगमन के साथ 13 जनवरी महीने की आखिरी रात को मनाया जाता है इसके अगले दिन माघ महीने की सक्रांति को माघी के रूप में मनाया जाता है लोहड़ी की संध्या को लोग लकड़ी जलाकर अग्नि के चारों ओर चक्कर काटते हुए नाचते गाते हैं और आग में रेवड़ी मूंगफली के मक्की के दाने की आरती देते हैं अग्नि की परिक्रमा करते और आग के चारों ओर बैठकर लोग आंख सकते हैं इस दौरान रेवड़ी खेल गजत मक्का आदि खाने का आनंद लेते लोहड़ी के दिन विशेष पकवान बनते हैं जिसमें गजक रेवड़ी मूंगफली तिल गुड़ के लड्डू मक्का की रोटी और सरसों का साग प्रमुख होते से कुछ दिन पहले से छोटे बच्चे लोहड़ी के गीत गाकर लोहड़ी हेतु लकड़ियां में मेरे बढ़िया मुंह आदि इकट्ठा करने लग जाते नववधू बहन बेटी और बच्चों का उत्सव है यह और पंजाबियों के लिए लोहड़ी उत्सव खास महत्व रखता है जिस घर में नई शादी हुई हो या बच्चा हुआ हो उन्हें विशेष तौर पर बधाई दी जाती है पराया घर में नववधू या बच्चे की पहली लोहड़ी बहुत विशेष होती है इस दिन बड़े प्रेम से बहन और बेटियों को घर बुलाया जाता है कहा जाता है कि संत कबीर की पत्नी लुई की याद में यह पर्व मनाया जाता है यह मानता भी है कि सुंदरी एवं मुंद्री नाम की लड़कियों को राजा से बचाकर एक दुल्ला भट्टी नामक डाकू ने किसी अच्छे लड़कों से उनकी शादी करवा दी थी बैसाखी त्योहार की तरह लोहड़ी का संबंध भी पंजाब के गांव फसल और मौसम से इस दिन से मूली और गन्ने की फसल बोई जाती है इससे पहले रवि की फसल काटकर घर में रख ली जाती है खेतों में सरसों के फूल लहराते दिखाई देते हैं पौराणिक मान्यता के अनुसार सती के त्याग के रूप में यह त्यौहार मनाया जाता है कथा अनुसार जब प्रजापति दक्ष त्यागी की आग में कूदकर शिप की पत्नी साथी ने आत्मदाह कर लिया था उसी दिन की याद में यह पर्व मनाया जाता है आधुनिकता के चलते लोहड़ी मनाने का तरीका बदल गया है अब लोहड़ी में पारंपरिक पहनावे और पकवानों की जगह आधुनिक पहनावे और पकवानों को शामिल कर लिया गया है लोग भी आप इस उत्सव में कमी भाग लेते ईरान में भी नववर्ष का त्यौहार इसी तरह मनाते हैं आग जलाकर मेरे अर्पित किए जाते हैं मसलन पंजाब हरियाणा और दिल्ली में मनाई जाने वाली लोडी और ईरान का चार समय सूरी बिल्कुल एक जैसे त्योहार है इसे ईरानी पार्टियों या प्राचीन ईरान का उत्सव मानते हैं निवास
Phul ka laipatop speekar saurabh raay jee dvaara savaal poochha gaya hai loharee tyauhaar ke baare mein kuchh rochak tathy kya hai dekhee tohaar ek aur naam anek bhaarat ke alag-alag praanton mein makar sakraanti ke din ya aasapaas dvaara manaaya jaate hain jo ki makar sakraanti ke doosare roop hain unheen mein se ek hai lohadee panjaab aur hariyaana mein lohadee ka tyauhaar dhoomadhaam se manaaya jaata hai lohadee ko pahale seelon kaha jaata tha yah shabd til tatha rodee yaanee ki gud kee rodee shabdon ke mel se bana hai jo samay ke saath badal kar lo ghadee ke roop mein prasiddh ho gaya makar sakraanti ke din bhee til gud khaane aur baantane ka mahatv panjaab ke kaee ilaakon mein se lohiya lo abhee kaha jaata hai varsh kee shabaree pyor mein patajhad saavan aur basant mein kaee tarah ke chhote bade tyauhaar manae jaate hain inamen se ek pramukh tyohaar lohadee hai jo basant ke aagaman ke saath 13 janavaree maheene kee aakhiree raat ko manaaya jaata hai isake agale din maagh maheene kee sakraanti ko maaghee ke roop mein manaaya jaata hai lohadee kee sandhya ko log lakadee jalaakar agni ke chaaron or chakkar kaatate hue naachate gaate hain aur aag mein revadee moongaphalee ke makkee ke daane kee aaratee dete hain agni kee parikrama karate aur aag ke chaaron or baithakar log aankh sakate hain is dauraan revadee khel gajat makka aadi khaane ka aanand lete lohadee ke din vishesh pakavaan banate hain jisamen gajak revadee moongaphalee til gud ke laddoo makka kee rotee aur sarason ka saag pramukh hote se kuchh din pahale se chhote bachche lohadee ke geet gaakar lohadee hetu lakadiyaan mein mere badhiya munh aadi ikattha karane lag jaate navavadhoo bahan betee aur bachchon ka utsav hai yah aur panjaabiyon ke lie lohadee utsav khaas mahatv rakhata hai jis ghar mein naee shaadee huee ho ya bachcha hua ho unhen vishesh taur par badhaee dee jaatee hai paraaya ghar mein navavadhoo ya bachche kee pahalee lohadee bahut vishesh hotee hai is din bade prem se bahan aur betiyon ko ghar bulaaya jaata hai kaha jaata hai ki sant kabeer kee patnee luee kee yaad mein yah parv manaaya jaata hai yah maanata bhee hai ki sundaree evan mundree naam kee ladakiyon ko raaja se bachaakar ek dulla bhattee naamak daakoo ne kisee achchhe ladakon se unakee shaadee karava dee thee baisaakhee tyohaar kee tarah lohadee ka sambandh bhee panjaab ke gaanv phasal aur mausam se is din se moolee aur ganne kee phasal boee jaatee hai isase pahale ravi kee phasal kaatakar ghar mein rakh lee jaatee hai kheton mein sarason ke phool laharaate dikhaee dete hain pauraanik maanyata ke anusaar satee ke tyaag ke roop mein yah tyauhaar manaaya jaata hai katha anusaar jab prajaapati daksh tyaagee kee aag mein koodakar ship kee patnee saathee ne aatmadaah kar liya tha usee din kee yaad mein yah parv manaaya jaata hai aadhunikata ke chalate lohadee manaane ka tareeka badal gaya hai ab lohadee mein paaramparik pahanaave aur pakavaanon kee jagah aadhunik pahanaave aur pakavaanon ko shaamil kar liya gaya hai log bhee aap is utsav mein kamee bhaag lete eeraan mein bhee navavarsh ka tyauhaar isee tarah manaate hain aag jalaakar mere arpit kie jaate hain masalan panjaab hariyaana aur dillee mein manaee jaane vaalee lodee aur eeraan ka chaar samay sooree bilkul ek jaise tyohaar hai ise eeraanee paartiyon ya praacheen eeraan ka utsav maanate hain nivaas

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • लोहड़ी के रोचक तथ्य क्या है, लोहड़ी के बारे में रोचक तथ्य क्या है
URL copied to clipboard