#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker

सरस्वती पूजा का क्या महत्व है?

Saraswati Pooja Ka Kya Mahatv Hai
Rakesh Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 77
सुनिए Rakesh जी का जवाब
👨‍🏫 Teacher.
1:32
हमारे जीवन में सरस्वती पूजा का काफी महत्व है हम सभी जानते हैं कि भगवती सरस्वती की साधना से अज्ञानता और अंधकार दूर हो जाता है और विद्या का देवी इन को कहा जाता है 30 पुलिस सरसों फूली और रवि की सभी जवान फसलें खेती में अठखेलियां करने लगती है आम की डालियों पर बच्ची बच्ची मंझरिया अपनी हाजिरी दर्ज कराने लगती है आखिर ऋतुराज है बसंत यानी जी को बसंत पंचमी भी कहते हैं जो ब्रह्मा जी की शान से जन्मा है वह यही रात आधी रात रे कृष्ण की कुंज बिहारी बनाता है आखिर यह भगवान को बहुत प्रिय नहीं होता है तो बहुत इसमें एक कहानी भी बनी हुई है और इसके बसंत पंचमी के नाम से भी आम लोग जानते हैं तो यह काफी महत्व हो जाता है और हमारे लिए काफी यह मोह लगता है एलोकमत के माघ मास जाड़े का बुढ़ापा है और आधा मां की कमर का काम है तो हम लोग कहते हैं कि धीरे-धीरे जब बसंत पंचमी जब हम मनाते हैं यानी सरस्वती पूजा मनाते हैं तो उसके बाद जो है होली की खुशबू जो है आने लगती है तो कहीं ना कहीं से जो है बसंत पंचमी या बसंत का आगमन हो जाता है और मौसम सुहावना हो जाता है तो इस वजह से सस्वती पूजा काफी महत्व हो जाता है
Hamaare jeevan mein sarasvatee pooja ka kaaphee mahatv hai ham sabhee jaanate hain ki bhagavatee sarasvatee kee saadhana se agyaanata aur andhakaar door ho jaata hai aur vidya ka devee in ko kaha jaata hai 30 pulis sarason phoolee aur ravi kee sabhee javaan phasalen khetee mein athakheliyaan karane lagatee hai aam kee daaliyon par bachchee bachchee manjhariya apanee haajiree darj karaane lagatee hai aakhir rturaaj hai basant yaanee jee ko basant panchamee bhee kahate hain jo brahma jee kee shaan se janma hai vah yahee raat aadhee raat re krshn kee kunj bihaaree banaata hai aakhir yah bhagavaan ko bahut priy nahin hota hai to bahut isamen ek kahaanee bhee banee huee hai aur isake basant panchamee ke naam se bhee aam log jaanate hain to yah kaaphee mahatv ho jaata hai aur hamaare lie kaaphee yah moh lagata hai elokamat ke maagh maas jaade ka budhaapa hai aur aadha maan kee kamar ka kaam hai to ham log kahate hain ki dheere-dheere jab basant panchamee jab ham manaate hain yaanee sarasvatee pooja manaate hain to usake baad jo hai holee kee khushaboo jo hai aane lagatee hai to kaheen na kaheen se jo hai basant panchamee ya basant ka aagaman ho jaata hai aur mausam suhaavana ho jaata hai to is vajah se sasvatee pooja kaaphee mahatv ho jaata hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • सरस्वती पूजा का महत्व, सरस्वती पूजा पर निबंध हिंदी, सरस्वती पूजा विधि
URL copied to clipboard