#जीवन शैली

bolkar speaker

आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?

Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
Saurabh Rai Bolkar App
Top Speaker,Level 88
सुनिए Saurabh जी का जवाब
Software Engineer
2:17

और जवाब सुनें

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
charu seth Bolkar App
Top Speaker,Level 88
सुनिए charu जी का जवाब
Poetess
2:04

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
Ankit Awasthi Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Ankit जी का जवाब
Inter
0:46

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
sameer Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए sameer जी का जवाब
Unknown
0:06

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
MD AASHIQ ALAM Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए MD जी का जवाब
Unknown
0:20

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
tikrndra Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए tikrndra जी का जवाब
Unknown
0:21

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
Avinash Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Avinash जी का जवाब
University
0:32

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
selim Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए selim जी का जवाब
Unknown
0:06

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
Vaibhav Gaming Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Vaibhav जी का जवाब
Unknown
0:10

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
Vikash  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Vikash जी का जवाब
Unknown
0:05

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
kapil Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए kapil जी का जवाब
Unknown
0:11

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
krishan kant  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए krishan जी का जवाब
Agra
0:16

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
ikka Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए ikka जी का जवाब
DIBRUGARH University
0:06

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
Tech By Javed Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Tech जी का जवाब
Unknown
0:58

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
villain Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए villain जी का जवाब
Unknown
0:34

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
dev Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए dev जी का जवाब
KU
0:09

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
Shivendra rai Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Shivendra जी का जवाब
Unknown
1:18

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
Majid Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Majid जी का जवाब
Unknown
0:02

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
manoj Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए manoj जी का जवाब
Unknown
0:09

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
davera kanti Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए davera जी का जवाब
Unknown
0:06

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
Shaukeen khan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Shaukeen जी का जवाब
Graduation (University of Rajasthan jaipur)
0:35

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
mahipal  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए mahipal जी का जवाब
Unknown
0:18

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
Prem chandra Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Prem जी का जवाब
Unknown
0:07

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
MULARAM  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए MULARAM जी का जवाब
Unknown
0:14

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
shivdeep Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए shivdeep जी का जवाब
Unknown
0:13

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
sahoo

     Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए sahoo जी का जवाब
Unknown
0:09

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
ankit Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए ankit जी का जवाब
Bank of india
0:34

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
Amar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Amar जी का जवाब
B.Tech
0:36

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
Rakesh Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 77
सुनिए Rakesh जी का जवाब
👨‍🏫 Teacher.
1:39

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
Debashis Kumar maharana Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Debashis जी का जवाब
Unknown
0:05

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
Ashish kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ashish जी का जवाब
Unknown
0:10

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
dhiraj Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए dhiraj जी का जवाब
Unknown
0:22

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
Rahim Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rahim जी का जवाब
Unknown
0:06

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
harikeshharikesh85n@gmail.com  Bolkar App
Top Speaker,Level 77
सुनिए harikeshharikesh85n@gmail.com जी का जवाब
द्वारिका प्रसाद इंटर कालेज बेनिपुर
4:42

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
jk jdk Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए jk जी का जवाब
Unknown
0:35

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
deepak jangid Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए deepak जी का जवाब
Unknown
0:36

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
Arup sarkar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Arup जी का जवाब
HS passed
0:25

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
pintu  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए pintu जी का जवाब
No
0:15

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
Shivangi Pathak Bolkar App
Top Speaker,Level 77
सुनिए Shivangi जी का जवाब
BTech ECE from Jaypee Institute of Information Technology
2:09

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
Sanjay Paul Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Sanjay जी का जवाब
Unknown
0:05

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
Kumar Suresh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Kumar जी का जवाब
Unknown
0:37

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
yesh Bolkar App
Top Speaker,Level 77
सुनिए yesh जी का जवाब
I have completed my D.Ed in 2017 from Dr Shakuntala Mishra National rehabilitation University Lucknow up and right now I am pursuing my graduation from the same University
3:30

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
mo aslam Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए mo जी का जवाब
Ansarul uloom dhusva
0:20

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
Tech Earn Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Tech जी का जवाब
Unknown
0:08

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
Ramesh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ramesh जी का जवाब
Unknown
0:03

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
Ayush Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ayush जी का जवाब
Unknown
0:10

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
कन्हाई चौधरी Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए कन्हाई जी का जवाब
Unknown
0:10

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
KAUSHAL KUMAR SINGH Bolkar App
Top Speaker,Level 77
सुनिए KAUSHAL जी का जवाब
Post Graduation from Delhi University
1:40

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
Rangan Banerjee Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए Rangan जी का जवाब
Higher secondary
0:22

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
Ashok Khanna Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ashok जी का जवाब
High school
0:06

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
Ramesh Chandra Damor  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ramesh जी का जवाब
9pash
0:29

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
pooja Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए pooja जी का जवाब
Pmc
0:03

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
Ramchandar Prajapat  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ramchandar जी का जवाब
Unknown
0:05

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
prahlad Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए prahlad जी का जवाब
Unknown
0:12

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
रामसिहं Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए रामसिहं जी का जवाब
B.sc ll eyars and ADCA
2:58

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
jaswinder Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए jaswinder जी का जवाब
Unknown
0:04

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
abhishek Kumar jha Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए abhishek जी का जवाब
Unknown
0:04

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
Deepak Saw Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deepak जी का जवाब
Unknown
0:05

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
piyush Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए piyush जी का जवाब
Unknown
0:31

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
Jitendra Kumar Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Jitendra जी का जवाब
Reva University
0:19

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
Shagufa Zareen Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Shagufa जी का जवाब
Victoria Institution College Bachelor of Science
1:19

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
mamta Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए mamta जी का जवाब
Delhi University
0:56

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
aja Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए aja जी का जवाब
Unknown
0:25

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
Kapil thakur  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Kapil जी का जवाब
Unknown
2:30

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
Pritam.raj  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Pritam.raj जी का जवाब
Unknown
0:02

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
Vipin Jaiswal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Vipin जी का जवाब
Unknown
0:10

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
Manu kushwah Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Manu जी का जवाब
Jiwaji university
0:41

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
kamini Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए kamini जी का जवाब
G.g.i.c inter college 2009
0:45

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
Jitendra Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Jitendra जी का जवाब
Unknown
0:42

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
Suraj sawant Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Suraj जी का जवाब
Unknown
0:03

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
I Am Suman Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए I जी का जवाब
University of kolkata
0:57

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
Amit Ahirwar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Amit जी का जवाब
Unknown
0:10

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
bhoma ram Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए bhoma जी का जवाब
Jodhpur
0:40

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
aadil Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए aadil जी का जवाब
Unknown
0:16

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
Manohar kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Manohar जी का जवाब
Unknown
0:24

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
Aditya Dangayach  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Aditya जी का जवाब
Student
1:41
प्रश्न करता जानना चाहते हैं कि आपको यह का एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं यही आपके जीवन का लक्ष्य है देखिए जीवन में लक्ष्य का चुनाव करना काफी मुश्किल होता है कई बार पूरी जिंदगी लग जाती है फिर भी हम नहीं सुनाओ कर पाते कि आप हमारे जीवन का क्या लक्ष्य है तो दीवान का चुनाव करने के लिए हमें क्लब और कई सारी चीजें एक साथ ट्राई करके देख नहीं होती है तब हमें पता चलता कि हमें किस चीज में वास्तव में इंटरेस्ट आ रहा है और अगर सत्य कहूं तो आप किसी भी चीज को अगर अपने दिल से करोगे तो उसमें आपको इंटरेस्ट जरूर मिलेगा और अगर मैं अपनी बात करूं तो मुझे इंटरेस्ट आया था अपने कॉलेज में प्रोग्रामिंग में हनी कि मैं कॉलेज में पहले तो पढ़ाई नहीं कर पाया था स्टार्टिंग में कुछ सालों में मैं काफी कोशिश कर रहा था प्रोग्रामिंग करने की लेकिन उस वक्त प्रोग्रामिंग ढंग से नहीं कर पाता था प्रोग्रामिंग और साथ ही साथ अपने एकेडमिक में काफी कमजोर हो चुका था लेकिन जब मैंने दिल लगाकर और काफी सीरियस होकर प्रोग्रामिंग प्रोग्रामिंग की प्रैक्टिस करी तो मुझे चला कि प्रोग्रामिंग मैली काफी आसान हो रही है सूटेबल यानी कि मैं जिसे प्रोग्रामिंग कर सकता हूं तो कहने का अर्थ है कि कि मुझे अब जाकर एहसास हुआ फाइनल ईयर में कि आप जो भी काट कर रहे हैं यही आपके जीवन का लक्ष्य है कि मेरे जीवन का लक्ष्य प्रोग्रामिंग है यानी कि मैं प्रोग्रामिंग में ही अपना जीवन जीवन बिताना चाहता हूं और यह मुझे तब पता चला जब मैंने दिल से और सीरियस होकर प्रोग्रामिंग पढ़ना स्टार्ट किया अगर आप किसी भी चीज को दिल से पढ़ोगे तो गारंटी है कि आपको उसमें इंटरेस्ट आ जाएगा और वही आपके जीवन का लक्ष्य बन जाएगा कहां से करता हूं आपको मेरा जवाब पसंद आया होगा इसी प्रकार मुझसे और सवालों के जवाब पाने के लिए मुझे सब्सक्राइब करें धन्यवाद
Prashn karata jaanana chaahate hain ki aapako yah ka ehasaas hua ki aap jo bhee aaj kar rahe hain yahee aapake jeevan ka lakshy hai dekhie jeevan mein lakshy ka chunaav karana kaaphee mushkil hota hai kaee baar pooree jindagee lag jaatee hai phir bhee ham nahin sunao kar paate ki aap hamaare jeevan ka kya lakshy hai to deevaan ka chunaav karane ke lie hamen klab aur kaee saaree cheejen ek saath traee karake dekh nahin hotee hai tab hamen pata chalata ki hamen kis cheej mein vaastav mein intarest aa raha hai aur agar saty kahoon to aap kisee bhee cheej ko agar apane dil se karoge to usamen aapako intarest jaroor milega aur agar main apanee baat karoon to mujhe intarest aaya tha apane kolej mein prograaming mein hanee ki main kolej mein pahale to padhaee nahin kar paaya tha staarting mein kuchh saalon mein main kaaphee koshish kar raha tha prograaming karane kee lekin us vakt prograaming dhang se nahin kar paata tha prograaming aur saath hee saath apane ekedamik mein kaaphee kamajor ho chuka tha lekin jab mainne dil lagaakar aur kaaphee seeriyas hokar prograaming prograaming kee praiktis karee to mujhe chala ki prograaming mailee kaaphee aasaan ho rahee hai sootebal yaanee ki main jise prograaming kar sakata hoon to kahane ka arth hai ki ki mujhe ab jaakar ehasaas hua phainal eeyar mein ki aap jo bhee kaat kar rahe hain yahee aapake jeevan ka lakshy hai ki mere jeevan ka lakshy prograaming hai yaanee ki main prograaming mein hee apana jeevan jeevan bitaana chaahata hoon aur yah mujhe tab pata chala jab mainne dil se aur seeriyas hokar prograaming padhana staart kiya agar aap kisee bhee cheej ko dil se padhoge to gaarantee hai ki aapako usamen intarest aa jaega aur vahee aapake jeevan ka lakshy ban jaega kahaan se karata hoon aapako mera javaab pasand aaya hoga isee prakaar mujhase aur savaalon ke javaab paane ke lie mujhe sabsakraib karen dhanyavaad

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
Author Yogendra Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Author जी का जवाब
लेखक
2:55
हेलो दोस्तों मेरा नाम है योगेंद्र सिंह और सवाल पूछा गया था कि आपको यह कब एहसास हुआ कि जो भी आज आप कर रहे हैं वह आपके जीवन का लक्ष्य तय किए जो भी हम कर रहे हो हमारी जीवन का लक्ष्य था आप हो सकता यह कहना चाहते हो क्या घर में लेट हो तो मुझे कैसे पता चले कि यही लक्ष्य था और इस विषय में राम आना थोड़ा अलग है कि पैसे कमाने के लिए किया गया कोई भी काम में जीवन का लक्ष्य तो बन नहीं सकता अगर किसी ने ऐसा बनाया है कि मेरी जिंदगी का मकसद यही है कि मैं एक पर्टिकुलर तरीके से पैसा कमाओ तो मुझे लगता है यह लव से बहुत ही छोटा लक्ष्य है जिंदगी चीज के लिए नहीं मिली कि आप उसे पैसा कमाने में ही गुजार दें लेकिन हां अगर फिर भी आप ऐसा कैरियर चाहते हैं जहां पर इंसान को सुकून मिले तो आपको यह चीज ढूंढ ही चाहिए कि आपको क्या काम करने में सुकून मिलता है जिस काम को करने में सुकून शांति मिलती है मैंने वह काम चुना है और इस चीज में इंसान को फिर फर्क नहीं पड़ता कि पैसा कितना आता है कितना नहीं आता है या सिर्फ पैसा ही सब कुछ नहीं होता इस चीज में लेकिन जिंदगी से लगते हो मुझे लगता है कि कुछ और है वह कुछ बढ़कर है इससे ज्यादा अलग है सिर्फ पैसे कमाने के लिए किसी भी काम को करना वह तो जिंदगी का लक्ष्य नहीं हो सकता वह से गुजारा करना है और दुनिया से पैसे के मुकाबले और भी चीजों पर चलती है जिनमें हम प्यार है दोस्ती है फैमिली है यह सब चीजें कभी इंवॉल्व करते हैं लेकिन हां आप जिंदगी में पैदा हुए कुछ काम करा पैसे कमाए और मर गई क्या लगता है कि यह कोई जिंदगी का लक्ष्य होगा नहीं यह तो कोई भी लक्ष्य नहीं होगा हिस्ट्री में हम देखे हैं ऐसे ऐसे लोग ना जाने कितने अमीर है लेकिन उन्हें कोई जानता भी नहीं है लेकिन हम आजादी की ओर देखे तो वो रियालिटी दिखाता है कि जो कुछ भी दिख रहा है यह सब माया है कोशिश करने से चीजें सही है गलत नहीं हो जाती और हम इंडिया में रहते हैं तो यहां का गरम स्पेशल देखें तो यही क्यों हर जगह पर स्पीच राइटिंग में देखे तो यही है कि गॉड नॉलेज सबसे बड़ी मानी गई है कि भाई लक्ष्य मुझे लगता है वही सबसे बड़ा लक्ष्य है क्योंकि और सारी चीजें जो इंसान कर लेता लेकिन भगवान को जानना है इस दुनिया की रियलिटी को जाने की एक्शन में क्या है वह बड़ा लक्ष्य है तो मेरे लिए कोई खास ऐसा लक्ष्य नहीं है लक्ष्य कुछ और है बाकी सभी के लिए हो सकता है मैं उनसे डिसएग्री नहीं करता लेकिन सबकी अपनी अलग सोच होती है धन्यवाद
Helo doston mera naam hai yogendr sinh aur savaal poochha gaya tha ki aapako yah kab ehasaas hua ki jo bhee aaj aap kar rahe hain vah aapake jeevan ka lakshy tay kie jo bhee ham kar rahe ho hamaaree jeevan ka lakshy tha aap ho sakata yah kahana chaahate ho kya ghar mein let ho to mujhe kaise pata chale ki yahee lakshy tha aur is vishay mein raam aana thoda alag hai ki paise kamaane ke lie kiya gaya koee bhee kaam mein jeevan ka lakshy to ban nahin sakata agar kisee ne aisa banaaya hai ki meree jindagee ka makasad yahee hai ki main ek partikular tareeke se paisa kamao to mujhe lagata hai yah lav se bahut hee chhota lakshy hai jindagee cheej ke lie nahin milee ki aap use paisa kamaane mein hee gujaar den lekin haan agar phir bhee aap aisa kairiyar chaahate hain jahaan par insaan ko sukoon mile to aapako yah cheej dhoondh hee chaahie ki aapako kya kaam karane mein sukoon milata hai jis kaam ko karane mein sukoon shaanti milatee hai mainne vah kaam chuna hai aur is cheej mein insaan ko phir phark nahin padata ki paisa kitana aata hai kitana nahin aata hai ya sirph paisa hee sab kuchh nahin hota is cheej mein lekin jindagee se lagate ho mujhe lagata hai ki kuchh aur hai vah kuchh badhakar hai isase jyaada alag hai sirph paise kamaane ke lie kisee bhee kaam ko karana vah to jindagee ka lakshy nahin ho sakata vah se gujaara karana hai aur duniya se paise ke mukaabale aur bhee cheejon par chalatee hai jinamen ham pyaar hai dostee hai phaimilee hai yah sab cheejen kabhee involv karate hain lekin haan aap jindagee mein paida hue kuchh kaam kara paise kamae aur mar gaee kya lagata hai ki yah koee jindagee ka lakshy hoga nahin yah to koee bhee lakshy nahin hoga histree mein ham dekhe hain aise aise log na jaane kitane ameer hai lekin unhen koee jaanata bhee nahin hai lekin ham aajaadee kee or dekhe to vo riyaalitee dikhaata hai ki jo kuchh bhee dikh raha hai yah sab maaya hai koshish karane se cheejen sahee hai galat nahin ho jaatee aur ham indiya mein rahate hain to yahaan ka garam speshal dekhen to yahee kyon har jagah par speech raiting mein dekhe to yahee hai ki god nolej sabase badee maanee gaee hai ki bhaee lakshy mujhe lagata hai vahee sabase bada lakshy hai kyonki aur saaree cheejen jo insaan kar leta lekin bhagavaan ko jaanana hai is duniya kee riyalitee ko jaane kee ekshan mein kya hai vah bada lakshy hai to mere lie koee khaas aisa lakshy nahin hai lakshy kuchh aur hai baakee sabhee ke lie ho sakata hai main unase disegree nahin karata lekin sabakee apanee alag soch hotee hai dhanyavaad

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
Laxmi devi sant Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Laxmi जी का जवाब
Life coach
2:58
प्रश्न है आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं यही आपके जीवन का लक्ष्य था जी हां दोस्तों वैसे तो मैं बचपन से ही फीलिंग करती थी अर्थात पीली लुगडी निधि मोटिवेट कर दी थी कि अंदर से वह एकदम स्ट्रांग हो जाए मैं लोगों को अंदर से बहुत प्रेम करती थी और मैंने अपनी लाइफ में बचपन से बहुत सारी ऐसी प्रॉब्लम को पेश किया और जब मैंने यह शरीफ तो हम कोशिश किया तो मैंने बहुत एक्सपीरियंस गेम कर लिया आपने मैं सिर्फ एहसास होता था कि कुछ ना कुछ ऐसी पॉलिसी अधूरी हूं मुझे कुछ ऐसा चाहिए जो किसी के पास ना हो और वह क्योंकि होता भी है तो कैसे होता है लोग ज्यादा एक्सप्लेन निकला और मुझे यह चीज समझ में नहीं आती थी और जैसे कि आप बताइए कि संदीप महेश्वरी सर बहुत अच्छे से मोटिवेट करते बहुत अच्छे से गाइड कर दी थी मुझे इनके दिमाग से बातें करते कहां चली डाउनलोडिंग होती कहां से है मैं इसके पीछे भागती थी उनकी चीजें जो जो बता देते बहुत अच्छा है कि जो चीजें बताई जाती थी मुझे थोड़ी लाइफ की लड़की अर्थात जो हम जिंदगी में उसने मैनेज करने के लिए लेकिन मैं चाहती थी कि ऐसी चीज हो जो मैं अंदर से मैनेज करो जैसे वह बात करते हैं मन की अंदर की बात करते तो मैं वही चाहती थी कि यह जो चीज है मैनेज करो अब मैं इस चीज के पीछे पड़ी पड़ी रहती थी इसलिए फिर झटका लगा जो मेरी इज्जत से मुझे बात मुझे समझ में आया कि नहीं सर हमारी मोटिवेशनल स्पीकर संदीप महेश्वरी सर कहां से अपनी लाइफ में चुटकी बजाकर क्वेश्चन के आंसर ढूंढ ली थी और उसे वैसे ही आंसर मुझे मिलना शुरू करें और मैंने अपनी इसमें अपनी हर एक प्लेटफार्म में ऑनलाइन प्लेटफॉर्म वहां यह सारी चीजें शेयर करनी शुरू कर खुद ब खुद नॉलेज मिलना शुरू हो गया मुझे तब समझ में आएगी तू मेरा मुंह लक्ष्मण बचपन का मैं किसी एक ऐसे ज्ञान के लिए भटक रही थी जो मुझे मिल जाएगा और मेरी इंजन में मुझे वह ज्ञान दे दिया उन्होंने बता दिया कि वह मुझे समझ में आया मशहूर एंड फुल हमेशा पानी की तरह नदी की तरह बहती है वह कभी भी नहीं रुकती अगर वह कई जगह पानी ठंडा हो जाता है इसलिए स्कूल को हमेशा बैठे रहना चाहिए गोविंदा और उस दिन से मेरी लाइफ में ओनली सामने आ गया इतनी सारी चीजें इतनी सारी नॉलेज आती जाती आती जाती है और मुझे शेयर करना अच्छा लगता है और मैं बहुत सारी प्लेटफार्म शेयर कर रही थी और जिसे अभी भी कर रही हूं तो यही मेरी
Prashn hai aapako yah kab ehasaas hua ki aap jo bhee aaj kar rahe hain yahee aapake jeevan ka lakshy tha jee haan doston vaise to main bachapan se hee pheeling karatee thee arthaat peelee lugadee nidhi motivet kar dee thee ki andar se vah ekadam straang ho jae main logon ko andar se bahut prem karatee thee aur mainne apanee laiph mein bachapan se bahut saaree aisee problam ko pesh kiya aur jab mainne yah shareeph to ham koshish kiya to mainne bahut eksapeeriyans gem kar liya aapane main sirph ehasaas hota tha ki kuchh na kuchh aisee polisee adhooree hoon mujhe kuchh aisa chaahie jo kisee ke paas na ho aur vah kyonki hota bhee hai to kaise hota hai log jyaada eksaplen nikala aur mujhe yah cheej samajh mein nahin aatee thee aur jaise ki aap bataie ki sandeep maheshvaree sar bahut achchhe se motivet karate bahut achchhe se gaid kar dee thee mujhe inake dimaag se baaten karate kahaan chalee daunaloding hotee kahaan se hai main isake peechhe bhaagatee thee unakee cheejen jo jo bata dete bahut achchha hai ki jo cheejen bataee jaatee thee mujhe thodee laiph kee ladakee arthaat jo ham jindagee mein usane mainej karane ke lie lekin main chaahatee thee ki aisee cheej ho jo main andar se mainej karo jaise vah baat karate hain man kee andar kee baat karate to main vahee chaahatee thee ki yah jo cheej hai mainej karo ab main is cheej ke peechhe padee padee rahatee thee isalie phir jhataka laga jo meree ijjat se mujhe baat mujhe samajh mein aaya ki nahin sar hamaaree motiveshanal speekar sandeep maheshvaree sar kahaan se apanee laiph mein chutakee bajaakar kveshchan ke aansar dhoondh lee thee aur use vaise hee aansar mujhe milana shuroo karen aur mainne apanee isamen apanee har ek pletaphaarm mein onalain pletaphorm vahaan yah saaree cheejen sheyar karanee shuroo kar khud ba khud nolej milana shuroo ho gaya mujhe tab samajh mein aaegee too mera munh lakshman bachapan ka main kisee ek aise gyaan ke lie bhatak rahee thee jo mujhe mil jaega aur meree injan mein mujhe vah gyaan de diya unhonne bata diya ki vah mujhe samajh mein aaya mashahoor end phul hamesha paanee kee tarah nadee kee tarah bahatee hai vah kabhee bhee nahin rukatee agar vah kaee jagah paanee thanda ho jaata hai isalie skool ko hamesha baithe rahana chaahie govinda aur us din se meree laiph mein onalee saamane aa gaya itanee saaree cheejen itanee saaree nolej aatee jaatee aatee jaatee hai aur mujhe sheyar karana achchha lagata hai aur main bahut saaree pletaphaarm sheyar kar rahee thee aur jise abhee bhee kar rahee hoon to yahee meree

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
Dr Shahin fidai Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr जी का जवाब
Educational Counseling & Psychotherapy
3:15
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं यही आपकी जीवन का लक्ष्य था और माफ कीजिएगा बहुत साल पहले एक सज्जन मुझे मिले थे और उन सज्जन ने मुझे कहा था कि आप जो भी कार्य करते हो तो सबसे पहला सवाल अपने आप से यह पूछो कि यह कार्य जो आप कर रहे हो यह आपके जीवन में महत्वपूर्ण है और अगर है तो फिर उस कार्य को कंटिन्यू करवा नगर यह महत्वपूर्ण नहीं है तो फिर उसे एक कट करो और अगर आप नहीं चाहते हो कि क्या महत्वपूर्ण है तो फिर एक लक्ष्य बनाओ एक बनाओ कि आप अपने आप को 5 साल के बाद किस दिशा में देखना चाहते हो और यह क्या परिवर्तन आप अपनी निजी जिंदगी में लाना चाहते हो और इस तरह से ऐसे कुछ सवाल जो आपके रोंगटे खड़े कर दे जो आपकी अच्छी लाइफ पर पिक के बारे में हो तो यह सभी चीजें बहुत जरूरी है और तब जब मैंने इस पर बहुत ज्यादा जोर दिया ऊंचा तब यह रियल आइज हुआ कि हमारे अंदर बिल्कुल प्लानिंग नहीं होती है कि हम किस तरह से आगे बढ़े क्या करें वह बहुत जरूरी है जीवन में लक्ष्य होना और उसी लक्ष्य की ओर हमारी कदम बढ़े और उसी लक्ष्य और दिशा की ओर हम हर एक कदम ले आगे बढ़े थोड़ा-थोड़ा करते रहे कि जिससे हम अपने मंजिल के करीब पहुंचे कुछ चीजें हैं जो बहुत जरूरी है और जैसे ही रियल आइज हुआ तो अपना पेटिस बनाने लगे गोल बनाने लगे फिर हमने यह भी सोचा कि जिस सज्जन ने हमारी आंखें खुली है और हमें दिशा दी है तो क्यों ना हम अपना यूट्यूब चैनल खोल कर और इस बोलकर और वह कल के माध्यम से हम भी लोगों को यह दिशा दिखाएं यह लक्ष्य दिखाएं तो कहीं ना कहीं यह एक तरह का जो अस्तव्यस्त है वह हमारे अंदर यह मोटे भाई और इसी तरह से हमने अपना खुद का यूट्यूब चैनल खोला है जो साईं चौक के नाम से है जिसका लिंक हमने अपने प्रोफाइल पर भी रखा है ताकि हम चाहते हैं कि हर एक लोग और हर एक सदस्य को यह पता चले कि किस तरह से अपने गोल बनाना है किस तरह से उसे पाना है और किस तरह से आगे परिश्रम करना है तो जरूर देखिएगा आप अपने गोल्ड बनाइए बहुत क्लियर रही है कि आपको अपना हर एक वक्त जो है वह किस तरह से पेंट करना है क्योंकि आपका हर एक व्यक्ति बहुत घर एक टाइम आपका इंपॉर्टेंट है क्योंकि हम इस दुनिया में सिर्फ कुछ ही समय के लिए आए हैं तो हमारे पास समय बहुत कम है और दुनिया की खूबसूरती है यह ईश्वर की खूबसूरती के हम में से किसी को नहीं पता है कि हम इस दुनिया से कब जाने वाले हैं तो यह बहुत जरूरी है कि हमारे पास जो भी थोड़ा वक्त मिला है हम उसे अपने यूटिलाइज करे फुल प्रिपेयर करें और उसे हर एक मोमेंट कंप्लेन करें ताकि हम हर पल हर वक्त खुश रहे खुशी सुखी और समृद्धि के साथ अपना जीवन तो जाइए मेरे चैनल पर मेरे वीडियो को देखिए उसे लाइक कीजिए शेयर कीजिए सब्सक्राइब कीजिए और अपने जीवन को और अपनी दुनिया को खूबसूरत बनाई है धन्यवाद प्रश्न पूछने के लिए आपका जीवन शुभ हो
Aapako yah kab ehasaas hua ki aap jo bhee aaj kar rahe hain yahee aapakee jeevan ka lakshy tha aur maaph keejiega bahut saal pahale ek sajjan mujhe mile the aur un sajjan ne mujhe kaha tha ki aap jo bhee kaary karate ho to sabase pahala savaal apane aap se yah poochho ki yah kaary jo aap kar rahe ho yah aapake jeevan mein mahatvapoorn hai aur agar hai to phir us kaary ko kantinyoo karava nagar yah mahatvapoorn nahin hai to phir use ek kat karo aur agar aap nahin chaahate ho ki kya mahatvapoorn hai to phir ek lakshy banao ek banao ki aap apane aap ko 5 saal ke baad kis disha mein dekhana chaahate ho aur yah kya parivartan aap apanee nijee jindagee mein laana chaahate ho aur is tarah se aise kuchh savaal jo aapake rongate khade kar de jo aapakee achchhee laiph par pik ke baare mein ho to yah sabhee cheejen bahut jarooree hai aur tab jab mainne is par bahut jyaada jor diya ooncha tab yah riyal aaij hua ki hamaare andar bilkul plaaning nahin hotee hai ki ham kis tarah se aage badhe kya karen vah bahut jarooree hai jeevan mein lakshy hona aur usee lakshy kee or hamaaree kadam badhe aur usee lakshy aur disha kee or ham har ek kadam le aage badhe thoda-thoda karate rahe ki jisase ham apane manjil ke kareeb pahunche kuchh cheejen hain jo bahut jarooree hai aur jaise hee riyal aaij hua to apana petis banaane lage gol banaane lage phir hamane yah bhee socha ki jis sajjan ne hamaaree aankhen khulee hai aur hamen disha dee hai to kyon na ham apana yootyoob chainal khol kar aur is bolakar aur vah kal ke maadhyam se ham bhee logon ko yah disha dikhaen yah lakshy dikhaen to kaheen na kaheen yah ek tarah ka jo astavyast hai vah hamaare andar yah mote bhaee aur isee tarah se hamane apana khud ka yootyoob chainal khola hai jo saeen chauk ke naam se hai jisaka link hamane apane prophail par bhee rakha hai taaki ham chaahate hain ki har ek log aur har ek sadasy ko yah pata chale ki kis tarah se apane gol banaana hai kis tarah se use paana hai aur kis tarah se aage parishram karana hai to jaroor dekhiega aap apane gold banaie bahut kliyar rahee hai ki aapako apana har ek vakt jo hai vah kis tarah se pent karana hai kyonki aapaka har ek vyakti bahut ghar ek taim aapaka importent hai kyonki ham is duniya mein sirph kuchh hee samay ke lie aae hain to hamaare paas samay bahut kam hai aur duniya kee khoobasooratee hai yah eeshvar kee khoobasooratee ke ham mein se kisee ko nahin pata hai ki ham is duniya se kab jaane vaale hain to yah bahut jarooree hai ki hamaare paas jo bhee thoda vakt mila hai ham use apane yootilaij kare phul pripeyar karen aur use har ek moment kamplen karen taaki ham har pal har vakt khush rahe khushee sukhee aur samrddhi ke saath apana jeevan to jaie mere chainal par mere veediyo ko dekhie use laik keejie sheyar keejie sabsakraib keejie aur apane jeevan ko aur apanee duniya ko khoobasoorat banaee hai dhanyavaad prashn poochhane ke lie aapaka jeevan shubh ho

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
Mohitrajput Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Mohitrajput जी का जवाब
Unknown
0:34
तुमने पूछा है कि आज जो भी करनी है वही जीवन का लक्ष्य पता नहीं कि मेरा लक्ष्य है ढूंढ रहा हूं सुनता ही रहता है मेरे हाथ लग जाता है उसी को कर देता हूं मुझे नहीं पता कि मुझे क्या चीज अच्छी लगती है क्या चीज मुझे खुशी मिलती है पर मैं जरूर कोशिश करूंगा बस
Tumane poochha hai ki aaj jo bhee karanee hai vahee jeevan ka lakshy pata nahin ki mera lakshy hai dhoondh raha hoon sunata hee rahata hai mere haath lag jaata hai usee ko kar deta hoon mujhe nahin pata ki mujhe kya cheej achchhee lagatee hai kya cheej mujhe khushee milatee hai par main jaroor koshish karoonga bas

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
pushpanjali patel Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए pushpanjali जी का जवाब
Student with micro finance bank employee
2:49
तारा का सवाल है आपदा के समय हर बार हम देखते हैं कि कुछ लोग सरकार द्वारा दी जा रही मदद को माफिया की तरह लूट लेते हैं कुछ विदाई देते ही क्यों हैं हमारी क्या मजबूरी होती है जहां तक मैं बात करूं सरकार सरकार तो ऐसा नहीं है कि हर जगह जाकर के किसी की मदद करेगी क्योंकि सरकार अपने जो भी मदद करना चाहती हो किसी की मदद कर सकती है तू कमेंट है अच्छे लोगों को ही जानकारी समझ कर देती है लेकिन हर जगह अगर ऐसा होता है तो सरकार को शायद इस बात का अंदाजा नहीं होता है कि ऐसा भी यहां पर हो सकता है जैसे कि अगर वह आपने पुलिस फोर्स को या फिर अपने आर्मी को कुछ सहायता करने के लिए किसी के देती है और हर सुख सुविधा देती है उन्हें दे देती है ताकि वह लोगों की मदद करें तो अगर वहां पर भी अगर कुछ लोग लूटते हैं या फिर माफिया की तरह लूट लेते हैं इसमें मुझे नहीं लगता कि और सरकार के सिर को गलती अभी ज्यादा उन्हें रिस्पांसिबल हम कह सकते हैं कि कि सरकार हर जगह हर जगह अपने लोगों द्वारा ही किसी की मदद कर सकती है तो सरकार 1 लोगों को भेज दी है और उनकी कोई मजबूरी नहीं होती है अगर वह हर कानून को सख्त बनाए और इस प्रकार से बनाए तो वहां पर सरकार को इस कानून को सख्त बनाना चाहिए कि जो भी हम लोगों को करना चाहते क्या वह मदद उन तक पहुंच रही है इस बात का सरकार को विशेष तरीके से ध्यान देना चाहिए तभी लोगों की अच्छी तरीके से मदद हो पाएगी उनका जवाब चाहिए दूसरों को दिखा चोखी धनी
Taara ka savaal hai aapada ke samay har baar ham dekhate hain ki kuchh log sarakaar dvaara dee ja rahee madad ko maaphiya kee tarah loot lete hain kuchh vidaee dete hee kyon hain hamaaree kya majabooree hotee hai jahaan tak main baat karoon sarakaar sarakaar to aisa nahin hai ki har jagah jaakar ke kisee kee madad karegee kyonki sarakaar apane jo bhee madad karana chaahatee ho kisee kee madad kar sakatee hai too kament hai achchhe logon ko hee jaanakaaree samajh kar detee hai lekin har jagah agar aisa hota hai to sarakaar ko shaayad is baat ka andaaja nahin hota hai ki aisa bhee yahaan par ho sakata hai jaise ki agar vah aapane pulis phors ko ya phir apane aarmee ko kuchh sahaayata karane ke lie kisee ke detee hai aur har sukh suvidha detee hai unhen de detee hai taaki vah logon kee madad karen to agar vahaan par bhee agar kuchh log lootate hain ya phir maaphiya kee tarah loot lete hain isamen mujhe nahin lagata ki aur sarakaar ke sir ko galatee abhee jyaada unhen rispaansibal ham kah sakate hain ki ki sarakaar har jagah har jagah apane logon dvaara hee kisee kee madad kar sakatee hai to sarakaar 1 logon ko bhej dee hai aur unakee koee majabooree nahin hotee hai agar vah har kaanoon ko sakht banae aur is prakaar se banae to vahaan par sarakaar ko is kaanoon ko sakht banaana chaahie ki jo bhee ham logon ko karana chaahate kya vah madad un tak pahunch rahee hai is baat ka sarakaar ko vishesh tareeke se dhyaan dena chaahie tabhee logon kee achchhee tareeke se madad ho paegee unaka javaab chaahie doosaron ko dikha chokhee dhanee

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
kavita Panyam Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए kavita जी का जवाब
Multiple Award Winning Counseling Psychologist
2:58
सवाल है आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं यही आपके जीवन का लक्ष्य था और अच्छा सवाल है आपका और उसका जवाब में जरूर देना चाहूंगी कि बचपन से मुझे हमेशा लगता था कि लोगों का जो पर्सनालिटी है वह अलग क्यों है कुछ लोग हमेशा खुश रहते हैं कुछ लोग दुखी रहते हैं कुछ लोगों को गुस्सा आता है कुछ लोग short-tempered है कुछ लोग बना वटी है यह सब क्यों है दुनिया में इतना क्यों लोग अलग है और क्यों इतना डिस्कंफर्ट है झगड़ा है वाया पीपल शो डिफरेंट तू जैसे ही मैं आई एम द लेवल ऑफ ग्रेजुएशन तो तब मुझे पता चला कि सरकार इस नाम का एक सब्जेक्ट होता है हमारे टाइम पर स्कूल पर यह ऑफर नहीं करते थे जैसे कि आज कर रहे हैं ओनली इन राजू एंड पोस्ट ग्रेजुएशन ऑफ वर्ड बनेगा जो एक्शन से कॉलेज में किया फिर मैंने काउंसलिंग से कॉलेज में पोस्ट ग्रेजुएशन किया लेकिन उसके बाद भी मैं उतना उसमें नहीं थी लेकिन उस वक्त एक ऐसी घटना मेरे लाइफ में जो मेरे जो इकलौते शिवलिंग थे मेरे भाई मुझे श्यामसुंदर जो एक शहीद है इंडियन आर्मी ऑफिसर थे उन्होंने अपनी छोटी जिंदगी में 27 इयर्स के थे वह उन्हीं लोगों के लिए इतना काम किया लोगों को फाइनेंशली हेल्प किया आप लोगों को फितरत के लिए जो है प्ले कोर्समेट को या फिर अपने पहले ऑफिसर्स को से अनजान लोगों की मदद की चाहे वह पेरेंट्स होली हो या फिर खुद जाकर सेवा करना या फिर किसी और तरह का हेल्प करना पर सपोर्ट जो होता है जिसको हम कहते हैं अनकंडीशनल सपोर्ट कोई आगरा तो बोलता है कि मुझे यह प्रॉब्लम है हॉस्पिटल ले जाओ या फिर मुझे यह करो फिर मेरे लिए मुझे यह प्रॉब्लम है मेरे घर में जाकर बताओ तोही गुड मैक्स और कि उनके जो गांव में जो उनके माता-पिता है उन तक खबर पहुंच जाएगा उन तक पैसे पहुंच जाए किसी जवान के घर में अगर शादी है उसको लीव नहीं मिला है तो ही गुड नाइट ओके कोई ना कोई वहां पर जाएं और शादी पर रिप्रेजेंट करें पैसे भेजे तो मेरे भाई जो है यह सब काम करते थे और जब वह शहीद हो गए मेंटिनेस तब मैंने मैं अपने तब फाइनल ईयर मैथ इन द पोस्ट ग्रेजुएशन उसके बाद उसके दो-तीन साल बाद मुझे लगा कि उनका यह जो अच्छा काम है मुझे आगे लेकर जाना चाहिए और वैसे भी मैं उसे फील्ड में हूं सर कॉलेज ई काउंसलिंग जो है लोग लोगों की सहायता के लिए होता है टो हेल्प पीपल तो मैंने यह दोनों जो मेरा जो एजुकेशन है और मेरे भाई का जो गुड वर्क है जो उनका अच्छा काम है उसको जोड़कर मेरे जीवन का लक्ष्य बनाया और तब से लेकर आज तक मुझे लगा है कि बचपन से मुझे यही फील्ड पसंद था लेकिन इस फील्ड में अगर मैंने कंप्लीट लेकर कदम रखा तो डेफिनेटली से मेरे भाई का बहुत बड़ा हाथ है कि उनके जितना बड़ा दिल जो अनकंडीशनल लव सपोर्ट था सबके लिए अनजान लोगों के लिए जो मदद करते जब रात के 12:00 बजे एनी टाइम तो वह एक रीजन है जिसके लिए मैं यहां पर हूं और अंधेरी हैप्पी कि मेरा लाइफ पप्पी है लोगों की मदद कर पा रही हूं मैं अच्छा काम कर रही हूं और
Savaal hai aapako yah kab ehasaas hua ki aap jo bhee aaj kar rahe hain yahee aapake jeevan ka lakshy tha aur achchha savaal hai aapaka aur usaka javaab mein jaroor dena chaahoongee ki bachapan se mujhe hamesha lagata tha ki logon ka jo parsanaalitee hai vah alag kyon hai kuchh log hamesha khush rahate hain kuchh log dukhee rahate hain kuchh logon ko gussa aata hai kuchh log short-taimpairaid hai kuchh log bana vatee hai yah sab kyon hai duniya mein itana kyon log alag hai aur kyon itana diskamphart hai jhagada hai vaaya peepal sho dipharent too jaise hee main aaee em da leval oph grejueshan to tab mujhe pata chala ki sarakaar is naam ka ek sabjekt hota hai hamaare taim par skool par yah ophar nahin karate the jaise ki aaj kar rahe hain onalee in raajoo end post grejueshan oph vard banega jo ekshan se kolej mein kiya phir mainne kaunsaling se kolej mein post grejueshan kiya lekin usake baad bhee main utana usamen nahin thee lekin us vakt ek aisee ghatana mere laiph mein jo mere jo ikalaute shivaling the mere bhaee mujhe shyaamasundar jo ek shaheed hai indiyan aarmee ophisar the unhonne apanee chhotee jindagee mein 27 iyars ke the vah unheen logon ke lie itana kaam kiya logon ko phainenshalee help kiya aap logon ko phitarat ke lie jo hai ple korsamet ko ya phir apane pahale ophisars ko se anajaan logon kee madad kee chaahe vah perents holee ho ya phir khud jaakar seva karana ya phir kisee aur tarah ka help karana par saport jo hota hai jisako ham kahate hain anakandeeshanal saport koee aagara to bolata hai ki mujhe yah problam hai hospital le jao ya phir mujhe yah karo phir mere lie mujhe yah problam hai mere ghar mein jaakar batao tohee gud maiks aur ki unake jo gaanv mein jo unake maata-pita hai un tak khabar pahunch jaega un tak paise pahunch jae kisee javaan ke ghar mein agar shaadee hai usako leev nahin mila hai to hee gud nait oke koee na koee vahaan par jaen aur shaadee par riprejent karen paise bheje to mere bhaee jo hai yah sab kaam karate the aur jab vah shaheed ho gae mentines tab mainne main apane tab phainal eeyar maith in da post grejueshan usake baad usake do-teen saal baad mujhe laga ki unaka yah jo achchha kaam hai mujhe aage lekar jaana chaahie aur vaise bhee main use pheeld mein hoon sar kolej ee kaunsaling jo hai log logon kee sahaayata ke lie hota hai to help peepal to mainne yah donon jo mera jo ejukeshan hai aur mere bhaee ka jo gud vark hai jo unaka achchha kaam hai usako jodakar mere jeevan ka lakshy banaaya aur tab se lekar aaj tak mujhe laga hai ki bachapan se mujhe yahee pheeld pasand tha lekin is pheeld mein agar mainne kampleet lekar kadam rakha to dephinetalee se mere bhaee ka bahut bada haath hai ki unake jitana bada dil jo anakandeeshanal lav saport tha sabake lie anajaan logon ke lie jo madad karate jab raat ke 12:00 baje enee taim to vah ek reejan hai jisake lie main yahaan par hoon aur andheree haippee ki mera laiph pappee hai logon kee madad kar pa rahee hoon main achchha kaam kar rahee hoon aur

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
DINESH SHEKHAWAT Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए DINESH जी का जवाब
Privet sector
2:58
आशिमा चौहान जी ने बहुत ही अच्छा सवाल किया है कि आपको ही है कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं यह आपके जीवन का लक्ष्य था जो मेरा लोंग टर्म का जो लक्ष्य है उसका एक पार्ट है जो मैं आज कर रहा हूं और मेरा जो मध्यम दर्जे का जो लक्ष्य है वह 2 साल का है और जो भी मतलब मैं आज कर रहा हूं उसका मतलब बात कीजिए कि एहसास होने की तो मेरे को समथिंग 4 साल हो गए हैं कि जब मेरे को यह एहसास हो गया था कि हां मुझे क्या करना चाहिए और मेरा जो जीवन का जो लॉन्ग टर्म का जो लक्ष्य है वह क्या होना चाहिए और उसके लिए किस तरीके से मुझे काम करना है और क्या मेरी एबिलिटी है और क्या मैं कर सकता हूं और किस भी मैं कर सकता हूं इस सब का जो एहसास है वह मुझे 4 साल पहले ही हो चुका था हां जो मतलब टाइम के अनुसार जो अपडेट है वो टाइम के अनुसार क्लियर होता जा रहा है और टाइम के अनुसार ही उसमें अपडेट किया जा रहा है कि किस तरीके से जल्दी प्रोग्रेस हो सकती है तो उसके लिए क्या क्या मतलब चीजें रिक्वायरमेंट होगी क्या नहीं होगी तो मतलब जो भी चीजें हैं उसको टाइम के अनुसार टाइम टू टाइम पर अपडेट हो रहा है और किया जा रहा है उसमें और टाइम के अनुसार ही मतलब क्लिक क्लियर भी हो रहा है कि हां मुझे इस तरीके से जल्दी पूरे सो सकती है और क्या मुझे करना चाहिए जिससे जल्दी मैं अपने लक्ष्य को प्राप्त कर सकूं तो ऐसा नहीं है कि मतलब टारगेट बना लिया और सुमित के पीछे मतलब एक ही तरीके से उसके पीछे लगना है मतलब टाइम के अनुसार जो भी अपडेट होना चाहिए वह सब मतलब की जिनकी जारी है मेरे अकॉर्डिंग जो होनी चाहिए और मतलब कोई भी चीज है जल्दी लक्ष्य को प्राप्त हो सके मेरा उसके जो भी चीजें रिक्वायरमेंट होगी उसमें मतलब जो भी टाइम के अनुसार अपडेट होना है उसके लिए प्लानिंग की जा रही है तो जो भी मतलब किया जा रहा है वह सिचुएशन के कोडिंग अपडेट टाइम टू टाइम किया जा रहा है धन्यवाद
Aashima chauhaan jee ne bahut hee achchha savaal kiya hai ki aapako hee hai kab ehasaas hua ki aap jo bhee aaj kar rahe hain yah aapake jeevan ka lakshy tha jo mera long tarm ka jo lakshy hai usaka ek paart hai jo main aaj kar raha hoon aur mera jo madhyam darje ka jo lakshy hai vah 2 saal ka hai aur jo bhee matalab main aaj kar raha hoon usaka matalab baat keejie ki ehasaas hone kee to mere ko samathing 4 saal ho gae hain ki jab mere ko yah ehasaas ho gaya tha ki haan mujhe kya karana chaahie aur mera jo jeevan ka jo long tarm ka jo lakshy hai vah kya hona chaahie aur usake lie kis tareeke se mujhe kaam karana hai aur kya meree ebilitee hai aur kya main kar sakata hoon aur kis bhee main kar sakata hoon is sab ka jo ehasaas hai vah mujhe 4 saal pahale hee ho chuka tha haan jo matalab taim ke anusaar jo apadet hai vo taim ke anusaar kliyar hota ja raha hai aur taim ke anusaar hee usamen apadet kiya ja raha hai ki kis tareeke se jaldee progres ho sakatee hai to usake lie kya kya matalab cheejen rikvaayarament hogee kya nahin hogee to matalab jo bhee cheejen hain usako taim ke anusaar taim too taim par apadet ho raha hai aur kiya ja raha hai usamen aur taim ke anusaar hee matalab klik kliyar bhee ho raha hai ki haan mujhe is tareeke se jaldee poore so sakatee hai aur kya mujhe karana chaahie jisase jaldee main apane lakshy ko praapt kar sakoon to aisa nahin hai ki matalab taaraget bana liya aur sumit ke peechhe matalab ek hee tareeke se usake peechhe lagana hai matalab taim ke anusaar jo bhee apadet hona chaahie vah sab matalab kee jinakee jaaree hai mere akording jo honee chaahie aur matalab koee bhee cheej hai jaldee lakshy ko praapt ho sake mera usake jo bhee cheejen rikvaayarament hogee usamen matalab jo bhee taim ke anusaar apadet hona hai usake lie plaaning kee ja rahee hai to jo bhee matalab kiya ja raha hai vah sichueshan ke koding apadet taim too taim kiya ja raha hai dhanyavaad

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
Sandeep chhipa Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Sandeep जी का जवाब
social worker (MSW)
6:59
यह कब एहसास हुआ कि आप आज जो भी कर रहे हैं यही आपके जीवन का लक्ष्य था जी बिल्कुल नहीं एहसास अभी तक हुआ नहीं उम्मीद सबसे शक्तिशाली भाव है अपने दिल में हमेशा इसे साथ लेकर चलोगे तो कभी अकेले नहीं चलोगे सफलता और असफलता दोनों जीवन का हिस्सा है दोनों स्थाई नहीं है उसी प्रकार जीवन का लक्ष्य भी नहीं है मेरा नाम संदीप छिपा युवा समाजसेवी जिला दौसा राजस्थान जो कि जयपुर के पास स्थित है मेरा जन्म 8 अगस्त 1994 को हुआ शुरू से ही सरकारी विद्यालय का सफर तय किया आज तक सरकारी विद्यालय में पढ़ता रहा हूं पूरी पढ़ाई हो गई है सरकारी विद्यालय का ही सपोर्ट रहा सरकारी विद्यालय से मुझे बहुत कुछ सीखने को मिला सरकारी विद्यालय की शुरुआत छोटी स्कूल से हुई मेरी जहां पर मैंने पांचवी कक्षा तक की स्कूल थी वह वहीं पर मैंने बचपन रेस की प्रतियोगिता भी जीती कक्षा चार में उसके बाद कक्षा आठ में जिला स्तर पर पीटी प्रोग्राम करते थे वहीं पर मुझे कई नाम भी मिले कई मोमेंटो भी मिले इसके बाद कक्षा 11 में मुझे मेरे पास पॉलिटिकल साइंस और सोशलॉजी और भूगोल विषय था इस विषय पर मैंने कार्य किया और पढ़ाई की आगे के लिए और मेरे प्रतियोगिता चित्रकला प्रतियोगिता में 2010 में मुझे प्रथम स्थान हासिल भी हुआ वह गौरव की बात थी उस समय मेरा नाम प्रतियोगिताओं में शुमार था और आज भी सोमवार है मैंने अब तक कम से कम 30 प्रतियोगिताओं में हिस्सा लिया है वहीं से मैंने 20 से 25 प्रमाण पत्र भी जुटाए हैं प्रमाण पत्र में मुझे अपने नाम के साथ पश्चिम और कई प्रकार के इनाम व मोमेंटो मिले हैं जो हमारे क्षेत्र के लिए और मेरे लिए गौरव का नामदेव छिपा समाज का प्रतिनिधि प्रतिनिधित्व करता हूं दौसा जिले का उपाध्यक्ष पद पर कार्यरत हूं उसके अलावा अंतरराष्ट्रीय मानव मानव अधिकार संगठन में मुझे दौसा जिले का महामंत्री पद का प्राप्ति हुई है पिछले दिनों में इसके अलावा मुझे अनेक सामाजिक कार्य कर रहा हूं मेला महिला सुरक्षा संगठन के साथ हो चाय से वह अन्य संस्थान हो सभी संस्थाओं के साथ मिलकर में करता हूं समय-समय पर उनको भी में समय दे पाता हूं मेरे पास अनेक दूरदराज से सामाजिक वर्करों के फोन आते हैं संदीप जी क्या आप हमारे साथ कार्य करोगे जी हां मैं उनके साथ बिल्कुल हां बर्ताव के साथ कार्य पर सहमति विजेता देता हूं समय मिलता है तो उनसे मिल भी लेता हूं उसके अलावा मेरा कई राजनीतिक हस्तियों से भी मिलनसार है मिलन है एमएलए एमपी हो चाय हमारे सीएम साहब में सबसे सीधा मिलने की कोशिश करता हूं और भारत सरकार के कई मंत्रियों से मैंने अपनी मांग भी बनवाई है बहुत खुशी की बात है मैंने सर को झुकाया है और मेरी अपनी खुद की विजय हुई है और कई बैंक को सस्पेंड भी करवाया है मेरी बोलकर की जर्नी बहुत शानदार रही है बोलकर ऐप के माध्यम से मुझे कई लोगों का सपोर्ट में मिला है कई लोग जैसे विकास सिंह राजपूत अजय सिंह पवार भावेश जी राकेश जी सौरव जी बहुत ही अच्छे सर बहुत ही अच्छे मित्र भी है इसके अलावा बोलकर समय समय पर सभी को ध्यान देता है मैंने बोल कर या पर कई मांग पर सहमति भी बोलकर ने प्रदान किया है बहुत खुशी की बात है मैंने अभी तक बोलकर परग 1920 मांगे मानी से मेरी अभी तक 10 से 11 मांगे भी पूरी हो चुकी है बहुत-बहुत धन्यवाद बोल कर टीम आने वाले समय में बोलकर है पर आपको बहुत कुछ बदलाव देखने को मिलेंगे फिर भी मैं आशा करता हूं कि मेरी कंपनी में अभी मैं जयपुर में कार्यरत हूं जो पिंक सिटी भारत का पेरिस में में कार्य करता हूं जो हमारे घर से लगभग 65 किलोमीटर दूर स्थित है हम सुबह ट्रेन से जयपुर आते हैं उसके बाद शाम को ट्रेन से वापस चले जाते हैं 65 किलोमीटर की यात्रा मेरी आने के 65 किलोमीटर के जाने की यात्रा होती है और सोचो कितनी मेहनत होती होगी 2 घंटे आने के 2 घंटे जाने के रखते हैं और 8 घंटे की नौकरी होती है मैं राजेश भारत की सबसे बड़ी विश्व की सबसे बड़ी कंपनी पांचवें नंबर की एलजी कंपनी में इस वीडियो के जरिए में कार्य कर रहा हूं c&f के थ्रू कार्य करता हूं बाबू के पद पर कार्यरत हूं वहीं से मुझे ₹18000 की प्राप्ति भी होती है पीएफ और ईएसआई समेत प्राइवेट लिमिटेड कंपनियों की हर सुविधा मिलती है इसके अलावा वह हमारी एलजी कंपनी बहुत बड़ी प्रोडक्शन कंपनी है बहुत ही बड़ी इसमें फ्रीज टीवी स्पीकर बहुत बड़ा बहुत बड़ा मुझे इस कार्य की करते हुए गौरवान्वित महसूस होता है फिर भी मैं आपको बताऊं जीवन के अभी 32 लक्ष्य बाकी है 32 लक्षण कौन से हैं मैं उस समय बताऊंगा जब 32 लक्ष्य पर में विजय हासिल कर लूंगा यानी 32 लक्ष्यों को में सफलतापूर्वक हासिल कर लूंगा उस 32 लक्ष्य को बताऊंगा कि मेरे 32 लक्ष्य कौन से थे इसीलिए 32 लक्ष्य को में लेकर चलता हूं मेरा मैं लक्ष्मी मैनन है सामाजिक वर्क सामाजिक वर्क करते हुए मुझे कॉलेज में एनएसएस ज्वाइन करी एनएसएस के माध्यम से मुझे बहुत कुछ सीखने को मिला राष्ट्रीय सेवा योजना में मुझे वहीं से भी मिल गई प्रतियोगिता जीती है और कई प्रतियोगिताओं के नाम भी मिली है राष्ट्रीय सेवा योजना भारत सरकार कार्यक्रम है सामाजिक कार्य की शुरुआत करें इतनी छोटी जिंदगी में आप मानो या ना मानो जिंदगी जनसेवा के लिए समर्पित है जन सेवा ही जीवन का सबसे प्रमुख लक्ष्य है गरीब की सेवा गणेश की सेवा है नर सेवा नारायण सेवा है इसी को मानकर में गरीबों की बहुत बढ़-चढ़कर सेवा करता हूं हमेशा तत्पर रहता हूं कौन किस की सेवा करनी है सुबह से लेकर शाम तक शाम से लेकर किसी के साथ खड़ा हूं कोई मुझे मेरे को अच्छे अच्छे लोगों की प्राप्ति हो चुकी है अच्छे मेरे दोस्त भी है सोशल वर्कर भी है कई मंत्री भी है कोई अच्छे लोग मेरे जानकार है बहुत खुशी की बात है जिससे एक बार मिले तो उसको मैं फैन बनाए बिना नहीं रहता हूं यह मेरी सबसे बड़ी खास बात है और वह भी भी है यह मेरा जीवन मुझे सुकून मिलता है आनंद मिलता है ऐश्वर्या मिलता है इसीलिए घबराए ना परेशान ना हो अथवा ना हो जो होगा वह करेगा आप अपने जीवन का परम लक्ष्य रखें जय हिंद जय
)]}' [['wrb.fr','MkEWBc',null,

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
Yogi Nath Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Yogi जी का जवाब
Unknown
2:10
हेलो लिसन जब हम कोई काम करते हैं और उस काम को करते वक्त हमें ऐसा लगता है कि टाइम का पता नहीं चलता और ना ही हमें कोई थकान किसी प्रकार की कोई चीज की परेशानी नहीं महसूस होती है तो समझ लीजिए वही काम आपके जीवन का लक्ष्य होता है और जब मैं वीडियो एडिटिंग करता हूं और वीडियो से रिलेटेड कोई काम करता हूं मीडिया लाइन से रिलेटेड तो मुझे बिल्कुल भी इस चीज का एहसास नहीं होता लगता ही नहीं कि मैं कोई काम कर रहा हूं काम जैसा नहीं लगता है बिल्कुल ऐसा लगता है जैसे कि मैं कोई गेम खेल रहा हूं या कोई जिस तरह से हम गेम खेलते हैं अपने आपको रिलैक्स करते हैं तो जब भी हमको करते वक्त आपको अगर रिलैक्स फील होता है तो वही आपका जीवन का लक्ष्य है क्योंकि जीवन का लक्ष्य आनंद है जीवन का अर्थ ही आनंद है हर चीज करना जिससे आपको खुशी मिलती है आनंद मिलता है वही आपके जीवन का लक्ष्य है जीवन को कुछ और चीज के आवश्यकता नहीं थी खुशियां ही जीवन का लक्ष्य मिला और खुश रहने के लिए पहली बात तो किसी चीज की आवश्यकता नहीं है आपको तो मैं खुश रह सकते हैं ना किसी सक्सेस की जरूरत है ना किसी के पैसे की जरूरत है ना किसी और की तबीयत आंखों से खुश रह सकते हैं और आप खुश ही दुखी भी आते हैं और बाहर की चीजों को दुखी नहीं करती आप से सोचिए जब आप खुश होते हैं कोई काम करते हैं आपको खुशी महसूस होती है तो आपका दिन अच्छा जाता है चाहे कोई कुछ भी कहे आप के बारे में कितनी भी बुराई करें आपको कोई फर्क नहीं पड़ता आप कभी भी उस से हताश और निराश नहीं होते तो क्या के अंदर कि जो खुशी है वह आपके अंदर से आ रही होती है और उसे बाहर किस ओर से खराब ढूढेंगे की यार मुझे यह चीज मिल जाएगी यही चीज हासिल हो जाएगी तो मुझे खुशी होगी तो यकीनन अगर आप उस चीज को पापी लेकर तो भी आपको खुशी महसूस नहीं होगी क्योंकि आपको लगेगा कहीं ना कहीं कुछ तो कमी है वह कहीं जो कमी है वह कहीं और नहीं है बाहर कहीं नहीं है सिर्फ आपके आई होप सो दैट यह पोस्ट आपके लिए काफी है खोलो और अच्छा लगा तो लाइक करें कमेंट के माध्यम से आप जरूर बताएं कि कैसा लगा आपको यह पोस्ट
Helo lisan jab ham koee kaam karate hain aur us kaam ko karate vakt hamen aisa lagata hai ki taim ka pata nahin chalata aur na hee hamen koee thakaan kisee prakaar kee koee cheej kee pareshaanee nahin mahasoos hotee hai to samajh leejie vahee kaam aapake jeevan ka lakshy hota hai aur jab main veediyo editing karata hoon aur veediyo se rileted koee kaam karata hoon meediya lain se rileted to mujhe bilkul bhee is cheej ka ehasaas nahin hota lagata hee nahin ki main koee kaam kar raha hoon kaam jaisa nahin lagata hai bilkul aisa lagata hai jaise ki main koee gem khel raha hoon ya koee jis tarah se ham gem khelate hain apane aapako rilaiks karate hain to jab bhee hamako karate vakt aapako agar rilaiks pheel hota hai to vahee aapaka jeevan ka lakshy hai kyonki jeevan ka lakshy aanand hai jeevan ka arth hee aanand hai har cheej karana jisase aapako khushee milatee hai aanand milata hai vahee aapake jeevan ka lakshy hai jeevan ko kuchh aur cheej ke aavashyakata nahin thee khushiyaan hee jeevan ka lakshy mila aur khush rahane ke lie pahalee baat to kisee cheej kee aavashyakata nahin hai aapako to main khush rah sakate hain na kisee sakses kee jaroorat hai na kisee ke paise kee jaroorat hai na kisee aur kee tabeeyat aankhon se khush rah sakate hain aur aap khush hee dukhee bhee aate hain aur baahar kee cheejon ko dukhee nahin karatee aap se sochie jab aap khush hote hain koee kaam karate hain aapako khushee mahasoos hotee hai to aapaka din achchha jaata hai chaahe koee kuchh bhee kahe aap ke baare mein kitanee bhee buraee karen aapako koee phark nahin padata aap kabhee bhee us se hataash aur niraash nahin hote to kya ke andar ki jo khushee hai vah aapake andar se aa rahee hotee hai aur use baahar kis or se kharaab dhoodhenge kee yaar mujhe yah cheej mil jaegee yahee cheej haasil ho jaegee to mujhe khushee hogee to yakeenan agar aap us cheej ko paapee lekar to bhee aapako khushee mahasoos nahin hogee kyonki aapako lagega kaheen na kaheen kuchh to kamee hai vah kaheen jo kamee hai vah kaheen aur nahin hai baahar kaheen nahin hai sirph aapake aaee hop so dait yah post aapake lie kaaphee hai kholo aur achchha laga to laik karen kament ke maadhyam se aap jaroor bataen ki kaisa laga aapako yah post

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
mahendra meena Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए mahendra जी का जवाब
Unknown
1:06
आप सवाल है आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं यही आपके जीवन का लक्ष्य था तो हमारे जीवन का लक्ष्य तो कोई हो सकता है ऐसा क्यों अच्छा कार्यक्रम जारी कोविड-19 तू इस कार्य को करते हैं और हमारा शौक बन जाता है और हम उसे अच्छा से अच्छा करने लगते हैं तब हमें एहसास होता है कि जो हम कर रहे हैं यही हमारा जीवन का लक्ष्य इसलिए इस काम को ज्ञापन करोगे तभी आपको एहसास होगा और तभी आप उसे अच्छा कर पाएंगे और आपको लगेगा कि आप जो कर रहे हैं वही हमारी जीवन का लक्ष्य है थैंक यू
Aap savaal hai aapako yah kab ehasaas hua ki aap jo bhee aaj kar rahe hain yahee aapake jeevan ka lakshy tha to hamaare jeevan ka lakshy to koee ho sakata hai aisa kyon achchha kaaryakram jaaree kovid-19 too is kaary ko karate hain aur hamaara shauk ban jaata hai aur ham use achchha se achchha karane lagate hain tab hamen ehasaas hota hai ki jo ham kar rahe hain yahee hamaara jeevan ka lakshy isalie is kaam ko gyaapan karoge tabhee aapako ehasaas hoga aur tabhee aap use achchha kar paenge aur aapako lagega ki aap jo kar rahe hain vahee hamaaree jeevan ka lakshy hai thaink yoo

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
अशोक वशिष्ठ  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए अशोक जी का जवाब
कहानी लेखक, समीक्षक, अनुवादक, रिटायर्ड प्रिंसीपल
4:59
नमस्कार मैं अशोक वशिष्ठ आप मुझसे यह प्रश्न हर्ष कुशवाहा जी ने पूछा है मुझे खेद है कि मैं बहुत दिनों के बाद उत्तर दीपाराम क्योंकि मैं पिछले कई महीनों से पटल पर सक्रिय नहीं प्रश्न कि आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं यही आपके जीवन का लक्ष्य देखिए आप संभवत यही प्रश्न मेरे पास जो आया है मेरे पास नहीं आना चाहिए था लेकिन आया है तो मैं उसका उत्तर दूंगा मैं इस समय रिटायर्ड पर्सन हूं और मैं जिस पेशे से रिटायर हुआ हूं वह शिक्षक का पेशा मैं एक शिक्षक रहा हूं प्रिंसिपल होकर रिटायर हुआ हूं और रिटायर होकर भी 860 साल हो चुके हैं मुझे मैं आ शिक्षक रहा लेकिन मैं आपको बड़ी ईमानदारी से यह बताना चाहूंगा कि मैं वाकई में शिक्षक बनना नहीं चाहता था जिन परिस्थितियों में पला बढ़ा था या शिक्षा मेरी हुई थी उस समय जीवन मरण का प्रश्न था रोजी रोटी का प्रश्न था कुछ ऐसा करना ही था जिससे गुजारा हो परिवार चले भाइयों में बड़ा होने के नाते जिम्मेदारी थी बी ए करने के बाद मन में विचार आया कि क्या किया जा सकता है तो लगा कि शिक्षक बनकर अगर जीवन यापन किया जाए तो सबसे अच्छा पैसा हो सकता क्योंकि शिक्षकों का समाज में सम्मान है वेतन बहुत कम हुआ करता था मेरे चाचा जी मुंबई में शिक्षक अमित मलिक पोस्टकार्ड उनको गांव से दिखा में उत्तर प्रदेश पश्चिम उत्तर प्रदेश के गांव का रहने वाला मूल रूप से और उनको मैंने अपनी इच्छा जताई कि मैंने b.a. पास किया है मैं आपको मुझे अगर B.Ed में एडमिशन मुंबई में दिलवा दें तो मैं शिक्षक बन सकता हूं गुजारा हो जाएगा अच्छी तरह से और यह मेरा सौभाग्य था मैं तो इसे सौभाग्य कहूंगा आज कि उनका सकारात्मक उत्तर आया और मैं मुंबई में B.Ed करने आ गया और यहीं पर फिर भी ऐड करने के बाद में शिक्षक हो गया और मैं सही बता रहा हूं कि यह 11 का जीवन क्रम जिसको कहते हैं कभी-कभी कि आपको जिधर वक्त वह आकर ले जाए और उसमें चले जाएं और फिर अगर आप उस पर ढल जाए फिर मैं जब एक बार शिक्षक हुआ तो मुझे लगा कि जो भी काम करो वह दिल से करो उसके योग्य अपने आप को बनाइए ठीक है शिक्षा के रूप में मैं बन चुका था b.a. B.Ed हो गए m.a. B.Ed टीचर होते होते में m.a. B.Ed था तो अब मुझे लगने लगा कि अब मैं इस पेशे के योग्य बन वाकई में विशेष संयोग यह था कि मैं इंग्लिश टीचर था बाद में पॉलिटिकल साइंस का लेक्चरर हुआ फिर मैं अपने आप को उसके योग्य बनाया योग्य इसको कहते हैं कि 1 शिक्षक में जो गुण होने चाहिए कक्षा पता होना चाहिए शिक्षक एक अच्छा अध्ययन करने वाला होना चाहिए शिक्षक एक अच्छा रिटर्न होना चाहिए यदि अपनी बात को संप्रेषित कर सके विद्यार्थियों तक समाज तक पेरेंट्स तक अपनी बात पहुंचा सके और मैंने अपने आप को उस कसौटी पर धीरे धीरे धीरे धीरे कसना शुरू कर दिया और मैं फिर के साथ कह सकता हूं कि मैं एक सफल शिक्षक बना न केवल कि मैं कॉलेज में जूनियर कॉलेज जिसको इंटर कॉलेज कहा जाता है उसमें लेक्चरर हुआ और यहां पर उसी कॉलेज में में प्रिंसिपल को रिटायर हुआ आज मैं एक रिटायर्ड प्रिंसिपल हूं लेकिन जो सम्मान शिक्षक होने पर मिला तो संतुष्टि मिली आज भी संतुष्टि देती है मेरे हजारों पूर्व विद्यार्थी पूरी दुनिया में फैले हुए हैं मेरे संपर्क में हैं संयुक्त में उन पूर्व विद्यार्थियों के एक संगठन का मुंबई में रजिस्टर्ड संगठन है उसका मैं अध्यक्ष हूं चेयरमैन हूं और लगातार विद्यार्थियों के साथ संपर्क में हूं बहुत सारी विद्यार्थी आज भी मुझसे गाइडेंस लेते हैं तो पता है मैं वाकई में बनना नहीं चाहता था लेकिन जब बना तो अपने आप को उस में ऐसा डाला कि मैं ऐसा लग रहा है कि मैं शिक्षक होने के लिए पैदा हुआ था और आज तक मेरे से प्रेरणा पाकर न जाने कितने विद्यार्थियों को मैंने शिक्षक लेक्चरर और प्रोफेसर आज तक बनने के लिए प्रेरित किया है आप उसमें अपने आप को उठा लिए अपने लाइक उसको बनाइए और अपने अपने को उसके योग्य बना दीजिए ताकि आपको कोई पश्चाताप ना रहे और आप आनंद ले सके मैंने आनंद लिया जीवन में
Namaskaar main ashok vashishth aap mujhase yah prashn harsh kushavaaha jee ne poochha hai mujhe khed hai ki main bahut dinon ke baad uttar deepaaraam kyonki main pichhale kaee maheenon se patal par sakriy nahin prashn ki aapako yah kab ehasaas hua ki aap jo bhee aaj kar rahe hain yahee aapake jeevan ka lakshy dekhie aap sambhavat yahee prashn mere paas jo aaya hai mere paas nahin aana chaahie tha lekin aaya hai to main usaka uttar doonga main is samay ritaayard parsan hoon aur main jis peshe se ritaayar hua hoon vah shikshak ka pesha main ek shikshak raha hoon prinsipal hokar ritaayar hua hoon aur ritaayar hokar bhee 860 saal ho chuke hain mujhe main aa shikshak raha lekin main aapako badee eemaanadaaree se yah bataana chaahoonga ki main vaakee mein shikshak banana nahin chaahata tha jin paristhitiyon mein pala badha tha ya shiksha meree huee thee us samay jeevan maran ka prashn tha rojee rotee ka prashn tha kuchh aisa karana hee tha jisase gujaara ho parivaar chale bhaiyon mein bada hone ke naate jimmedaaree thee bee e karane ke baad man mein vichaar aaya ki kya kiya ja sakata hai to laga ki shikshak banakar agar jeevan yaapan kiya jae to sabase achchha paisa ho sakata kyonki shikshakon ka samaaj mein sammaan hai vetan bahut kam hua karata tha mere chaacha jee mumbee mein shikshak amit malik postakaard unako gaanv se dikha mein uttar pradesh pashchim uttar pradesh ke gaanv ka rahane vaala mool roop se aur unako mainne apanee ichchha jataee ki mainne b.a. paas kiya hai main aapako mujhe agar b.aid mein edamishan mumbee mein dilava den to main shikshak ban sakata hoon gujaara ho jaega achchhee tarah se aur yah mera saubhaagy tha main to ise saubhaagy kahoonga aaj ki unaka sakaaraatmak uttar aaya aur main mumbee mein b.aid karane aa gaya aur yaheen par phir bhee aid karane ke baad mein shikshak ho gaya aur main sahee bata raha hoon ki yah 11 ka jeevan kram jisako kahate hain kabhee-kabhee ki aapako jidhar vakt vah aakar le jae aur usamen chale jaen aur phir agar aap us par dhal jae phir main jab ek baar shikshak hua to mujhe laga ki jo bhee kaam karo vah dil se karo usake yogy apane aap ko banaie theek hai shiksha ke roop mein main ban chuka tha b.a. b.aid ho gae m.a. b.aid teechar hote hote mein m.a. b.aid tha to ab mujhe lagane laga ki ab main is peshe ke yogy ban vaakee mein vishesh sanyog yah tha ki main inglish teechar tha baad mein politikal sains ka lekcharar hua phir main apane aap ko usake yogy banaaya yogy isako kahate hain ki 1 shikshak mein jo gun hone chaahie kaksha pata hona chaahie shikshak ek achchha adhyayan karane vaala hona chaahie shikshak ek achchha ritarn hona chaahie yadi apanee baat ko sampreshit kar sake vidyaarthiyon tak samaaj tak perents tak apanee baat pahuncha sake aur mainne apane aap ko us kasautee par dheere dheere dheere dheere kasana shuroo kar diya aur main phir ke saath kah sakata hoon ki main ek saphal shikshak bana na keval ki main kolej mein jooniyar kolej jisako intar kolej kaha jaata hai usamen lekcharar hua aur yahaan par usee kolej mein mein prinsipal ko ritaayar hua aaj main ek ritaayard prinsipal hoon lekin jo sammaan shikshak hone par mila to santushti milee aaj bhee santushti detee hai mere hajaaron poorv vidyaarthee pooree duniya mein phaile hue hain mere sampark mein hain sanyukt mein un poorv vidyaarthiyon ke ek sangathan ka mumbee mein rajistard sangathan hai usaka main adhyaksh hoon cheyaramain hoon aur lagaataar vidyaarthiyon ke saath sampark mein hoon bahut saaree vidyaarthee aaj bhee mujhase gaidens lete hain to pata hai main vaakee mein banana nahin chaahata tha lekin jab bana to apane aap ko us mein aisa daala ki main aisa lag raha hai ki main shikshak hone ke lie paida hua tha aur aaj tak mere se prerana paakar na jaane kitane vidyaarthiyon ko mainne shikshak lekcharar aur prophesar aaj tak banane ke lie prerit kiya hai aap usamen apane aap ko utha lie apane laik usako banaie aur apane apane ko usake yogy bana deejie taaki aapako koee pashchaataap na rahe aur aap aanand le sake mainne aanand liya jeevan mein

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
Divya Singh  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Divya जी का जवाब
Mentor teacher at DoE, Delhi
4:58
नमस्कार प्रश्न है आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं यही आपके जीवन का लक्ष्य था जी बिल्कुल मुझे इस बात का एहसास हुआ है कि मैं जो कर रही हूं साथ में शिक्षा से जुड़ी हुई हूं और शिक्षा में योगदान यह मुझे लगता है कि मेरा लक्ष्य है जिसमें मैं लगातार प्रयासरत हूं और अलग-अलग तरीकों से मुझे बहुत ही कम उम्र में हो गया था थोड़ा सा कंफ्यूजन था शुरू शुरू में यानी कि जब हम खुद पढ़ रहे थे और साथ में पढ़ा भी रहे थे कक्षा 12 के बाद यानी बारहवीं कक्षा के बाद मैंने ट्यूशन पढ़ाने शुरू की थी तो कहीं ना कहीं महसूस तो होता था कि अच्छा लगता था पढ़ाना और सामने वाला मेरी बात को समझ पाता था तो एहसास था लेकिन तुम रहती हो क्योंकि उसमें आप पूरी तरह से कॉन्फिडेंट नहीं होते कि आप जिस राह पर है वह सही है या गलत है फिर धीरे-धीरे अवसर ऐसे मिलेगी इसी क्षेत्र में काम करने का मौका मिला मेरा कार्य क्षेत्र की एक ही हो गया और मैं सही राह पर हूं यही मेरे जीवन का लक्ष्य है इसका एहसास होता गया जब सामने जो विद्यार्थी होते थे उनकी आंखों में मेरे प्रति विश्वास मेरे प्रति आदर मेरे प्रति मेरे साथियों का भी मुझ पर विश्वास प्रेरणा स्रोत होना किसी के लिए मैं प्रेरणा स्रोत हो सकती हूं ऐसी भी स्थितियां बनी तो ऐसे में लगने लगा कि शायद मेरी उपयोगिता यही है और जब उपयोगिता समझ में आने लगती है कि हम इस जीवन में क्यों हैं हमारी क्या उपयोगिता है हम किस प्रकार से समाज के काम आ रहे हैं मानव के काम आ रहे हैं और केवल मान नहीं क्योंकि हम सह अस्तित्व में रहते हैं प्रकृति के साथ भी जुड़े होते हैं तुम मेरी शिक्षा में योगदान से जो भी मानव मुझसे जुड़े हैं विद्यार्थी के रूप में साथियों के रूप में परिवार के रूप में यदि वह कहीं ना कहीं प्रकृति के साथ सह अस्तित्व भी के प्रति सामंजस्य बिठाने में भी कहीं ना कहीं उनको मैं उसके लिए वेयर कर पाती हूं जागरुक कर पाती हूं तो शिक्षा ही इसका एक माध्यम होता है यह सब चीजें मिलाजुला कर देखें तो मुझे लगता है कि यही मेरा लक्ष्य है और जैसा कि मैंने कहा इसके साथ मुझे जब भी मेरा कार्यक्षेत्र बना यानी कि जब मैं जॉब मारा जॉब में आई एजुकेशन डिपार्टमेंट में और जैसे-जैसे मुझे अपने आसपास के लोगों की नजर में अपने प्रत्येक विश्वास और 11 और सम्मान का भाव देखने लगा तो मुझे लगा कि मैं जो कर रही हूं अच्छा है दूसरी ओर से देखे तो मुझे अच्छा लगता अब अच्छा लगना यानी मानव सुख धर्मी है हर एक को सुख चाहिए रास्ते और तरीके सब अलग-अलग ढूंढ ही लेते हैं लेकिन वो सुख भी मुझे इस कार्य को करने में मिला और अभी भी मिलता है हर समय में जब भी मैं शिक्षा संबंधी किसी भी कार्य में लीन होती हूं तो मुझे सुख की प्राप्ति होती है एक संतुष्टि की प्राप्ति होती है तो यह मुझे आरंभ से ही रहा जैसे ही मैंने इसमें क्षेत्र में कदम रखा कक्षा अपने अंदर स्कूलिंग के बाद जब मैंने यह ट्रेनिंग प्रोग्राम सही तभी से लगने लगा था कि मैं सही राह पर हूं क्योंकि मुझे खुशी मिलती थी असली बात तो यह है कि सामने वाले की आंखों में विश्वास देखना अपने प्रति प्रशंसा दिखना अपने को एक प्रेरणा स्रोत के लिए दूसरों के रूप में महसूस कर पाना यह सब जो है कल के कारण है या कारक है उस खुशी मुझे मिलती है उस सुख के जो मुझे मिलता है तो मैं भी मानव हूं और मैं जब सुख महसूस करती हूं और हमेशा ही निरंतरता भी मैं महसूस कर रही हूं कि एक निरंतर भाव है वो क्योंकि सुखी होना तो हमारे पास कभी हम सुखी होते हैं कभी दुखी होते हैं कुछ चीजों से लेकिन यह एक ऐसा काम जिसमें में निरंतर खुशी महसूस करती हूं चाहे मैं थकी हूं चाय मैप्स दुख में हूं चाय परेशानी में हूं चाहे मैं बहुत ज्यादा खुशियों के पल पल उन पलों में हूं लेकिन शिक्षा से संबंधित चर्चा करना उसमें शामिल होना कार्य को करने कि मुझे अवसर मिलना उसमें में हमेशा सुख महसूस करती हो निरंतरता के साथ महसूस करती हूं तो जहां निरंतरता यानी निरंतर जो आप किसी चीज में खुश महसूस करते हैं हर हाल में आप कुछ महसूस करना वही जीवन का लक्ष्य प्रतीत होता है तो यही मेरा जवाब है धन्यवाद
Namaskaar prashn hai aapako yah kab ehasaas hua ki aap jo bhee aaj kar rahe hain yahee aapake jeevan ka lakshy tha jee bilkul mujhe is baat ka ehasaas hua hai ki main jo kar rahee hoon saath mein shiksha se judee huee hoon aur shiksha mein yogadaan yah mujhe lagata hai ki mera lakshy hai jisamen main lagaataar prayaasarat hoon aur alag-alag tareekon se mujhe bahut hee kam umr mein ho gaya tha thoda sa kamphyoojan tha shuroo shuroo mein yaanee ki jab ham khud padh rahe the aur saath mein padha bhee rahe the kaksha 12 ke baad yaanee baarahaveen kaksha ke baad mainne tyooshan padhaane shuroo kee thee to kaheen na kaheen mahasoos to hota tha ki achchha lagata tha padhaana aur saamane vaala meree baat ko samajh paata tha to ehasaas tha lekin tum rahatee ho kyonki usamen aap pooree tarah se konphident nahin hote ki aap jis raah par hai vah sahee hai ya galat hai phir dheere-dheere avasar aise milegee isee kshetr mein kaam karane ka mauka mila mera kaary kshetr kee ek hee ho gaya aur main sahee raah par hoon yahee mere jeevan ka lakshy hai isaka ehasaas hota gaya jab saamane jo vidyaarthee hote the unakee aankhon mein mere prati vishvaas mere prati aadar mere prati mere saathiyon ka bhee mujh par vishvaas prerana srot hona kisee ke lie main prerana srot ho sakatee hoon aisee bhee sthitiyaan banee to aise mein lagane laga ki shaayad meree upayogita yahee hai aur jab upayogita samajh mein aane lagatee hai ki ham is jeevan mein kyon hain hamaaree kya upayogita hai ham kis prakaar se samaaj ke kaam aa rahe hain maanav ke kaam aa rahe hain aur keval maan nahin kyonki ham sah astitv mein rahate hain prakrti ke saath bhee jude hote hain tum meree shiksha mein yogadaan se jo bhee maanav mujhase jude hain vidyaarthee ke roop mein saathiyon ke roop mein parivaar ke roop mein yadi vah kaheen na kaheen prakrti ke saath sah astitv bhee ke prati saamanjasy bithaane mein bhee kaheen na kaheen unako main usake lie veyar kar paatee hoon jaagaruk kar paatee hoon to shiksha hee isaka ek maadhyam hota hai yah sab cheejen milaajula kar dekhen to mujhe lagata hai ki yahee mera lakshy hai aur jaisa ki mainne kaha isake saath mujhe jab bhee mera kaaryakshetr bana yaanee ki jab main job maara job mein aaee ejukeshan dipaartament mein aur jaise-jaise mujhe apane aasapaas ke logon kee najar mein apane pratyek vishvaas aur 11 aur sammaan ka bhaav dekhane laga to mujhe laga ki main jo kar rahee hoon achchha hai doosaree or se dekhe to mujhe achchha lagata ab achchha lagana yaanee maanav sukh dharmee hai har ek ko sukh chaahie raaste aur tareeke sab alag-alag dhoondh hee lete hain lekin vo sukh bhee mujhe is kaary ko karane mein mila aur abhee bhee milata hai har samay mein jab bhee main shiksha sambandhee kisee bhee kaary mein leen hotee hoon to mujhe sukh kee praapti hotee hai ek santushti kee praapti hotee hai to yah mujhe aarambh se hee raha jaise hee mainne isamen kshetr mein kadam rakha kaksha apane andar skooling ke baad jab mainne yah trening prograam sahee tabhee se lagane laga tha ki main sahee raah par hoon kyonki mujhe khushee milatee thee asalee baat to yah hai ki saamane vaale kee aankhon mein vishvaas dekhana apane prati prashansa dikhana apane ko ek prerana srot ke lie doosaron ke roop mein mahasoos kar paana yah sab jo hai kal ke kaaran hai ya kaarak hai us khushee mujhe milatee hai us sukh ke jo mujhe milata hai to main bhee maanav hoon aur main jab sukh mahasoos karatee hoon aur hamesha hee nirantarata bhee main mahasoos kar rahee hoon ki ek nirantar bhaav hai vo kyonki sukhee hona to hamaare paas kabhee ham sukhee hote hain kabhee dukhee hote hain kuchh cheejon se lekin yah ek aisa kaam jisamen mein nirantar khushee mahasoos karatee hoon chaahe main thakee hoon chaay maips dukh mein hoon chaay pareshaanee mein hoon chaahe main bahut jyaada khushiyon ke pal pal un palon mein hoon lekin shiksha se sambandhit charcha karana usamen shaamil hona kaary ko karane ki mujhe avasar milana usamen mein hamesha sukh mahasoos karatee ho nirantarata ke saath mahasoos karatee hoon to jahaan nirantarata yaanee nirantar jo aap kisee cheej mein khush mahasoos karate hain har haal mein aap kuchh mahasoos karana vahee jeevan ka lakshy prateet hota hai to yahee mera javaab hai dhanyavaad

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
Soumya Sharma Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Soumya जी का जवाब
Unknown
1:22
आज का कमाल है आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं यही आपके जीवन का लक्ष्य था तो अभी तो मुझे ऐसा हुआ नहीं है कि जो मैं आज कर रही हूं वही मेरी जीवन का लक्ष्य है या नहीं लेकिन अगर हम बात करें आम लोगों की तो जब तक इंसान अपना लक्ष्य पानी रहता तब तक वह संघर्ष करता रहता है तो अभी मैंने अपना लक्ष्य नहीं पाया तो मैं भी उसी के लिए संघर्ष कर रही हूं और जब तक मैं उसको पानी देती या फिर वह मुझे नहीं मिल जाता तब तक मैं चलती रहूंगी क्योंकि अल्लाह क्या कह सकते हैं कि जिंदगी क्या है जिंदगी खराब चल रही है धूप जिंदगी है जिंदगी का नाम ही नाम ही है चलते रहना लेकिन अगर आप रुक जाते हैं तो वह इस तरीके की मौत हुई थी अगर आप अपने लक्ष्य को पाने के लिए नहीं चल रहे हैं नींद प्रतिदिन मेहनत नहीं कर रहे हैं नहीं लगे हुए हैं तो कोई फायदा नहीं है आप एक जगह बैठ जाएंगे तो समझ लीजिए कि आपकी वही हाल है वही मौत है तो हार ना होने दे भले छोटे-छोटे कदमों से अपने लक्ष्य को पाने का प्रयास करें लेकिन चलते हैं तो आगे बढ़ते रहिए मैंने तो अपना लक्ष्य भी नहीं पाया है कोशिश कर रही हूं और मुझे बोलना बहुत पसंद है इसीलिए अभी जो मैं उत्तर दे रही हूं वह तो यही लक्ष्य में रखिए उत्तर सबको पता चल जाए धन्यवाद

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

    URL copied to clipboard