#undefined

bolkar speaker
क्या आप हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए उपचार बता सकते हैं?Kya Aap Haddiyo Ko Majbut Banane Ke Lie Upchar Bata Sakte Hain
Dinesh Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dinesh जी का जवाब
Ji
2:28
सवाल पूछा है कि क्या आप हड्डियों को मजबूत बनाने का उपचार बता सकते हैं तो सवाल करते ने बहुत अच्छा प्रश्न किया है और इस जवाब के साथ बहुत सारे ऐसे लोग जो कैल्शियम की कमी महसूस करते हैं हड्डियों की जो ढीलापन होता है उसको अगर हम उस से जूझ रहे हैं तो इससे उन सब को मदद मिल सकती है तो जितनी भी हड्डियां है आपके शरीर में 306 होती हैं नॉर्मल ही तो तो अगर उन सब को मजबूत बनाने का सिर्फ अगर एक ही उपचार में आपको बता दूं फिर एक तो वह आप आंख मूंद करके उस पर भरोसा कर लीजिए क्योंकि उसके अलावा आप जो भी उपचार करेंगे वह उसका 10% भी नहीं होगा तो जो एक उपचार यह है कि आप पान मसाला की दुकान होती है जो पर जहां पर पान मिलता है वहां पर चुना नाम की चीज मिलती है सफेद रंग का चुनाव होता है छोटी सी पूरी आती है ₹2 की शायद तारीख छोटे से डूब मिलेगा आपको तो उस चूने को आपको किसी भी जल पदार्थ में मिलाकर एक गेहूं के दाने जितना हर रोज सुबह गेहूं के दाने जितना चुना देकर उसको किसी भी जल पदार्थ में डाल हो छाछ और रही हो पानी हो किसी भी चीज में मिलाकर उसको आप सुबह सुबह सुबह 12:00 बजे से पहले आप खा सकते हैं और उस चूने के हर रोज सेवन करने से आपकी 3 महीने के अंदर ही अंदर सारी हड्डियां मजबूत होने लगेंगी उनमें से कटकर आने की आवाज कम हो जाएगी बहुत ही मजबूत हो जाएंगी और आपको खुद खुद महसूस हो जाएगा कि 3 महीने के अंदर उस चूने के सेवन से आपकी सारी हड्डियां हंड्रेड परसेंट मजबूत हो गई है इसलिए आप किसी अन्य कैल्शियम की दवाई और डॉक्टर के पास ना जाकर मेरा यह एक उपाय हंड्रेड परसेंट अच्छे तरीके से आप उस को आजमा कर देख उम्मीद करता हूं आपकी हेल्प अच्छी रह जाएगी और बहुत ही जल्दी आपकी रिकवरी हो जाएगी जो भी हड्डियों के रिलेटेड आपकी समस्या है अगर मेरा जवाब पसंद आया हो तो अपने अगले सवाल के साथ जरूर मुझसे जुड़ जाएगा धन्यवाद
Savaal poochha hai ki kya aap haddiyon ko majaboot banaane ka upachaar bata sakate hain to savaal karate ne bahut achchha prashn kiya hai aur is javaab ke saath bahut saare aise log jo kailshiyam kee kamee mahasoos karate hain haddiyon kee jo dheelaapan hota hai usako agar ham us se joojh rahe hain to isase un sab ko madad mil sakatee hai to jitanee bhee haddiyaan hai aapake shareer mein 306 hotee hain normal hee to to agar un sab ko majaboot banaane ka sirph agar ek hee upachaar mein aapako bata doon phir ek to vah aap aankh moond karake us par bharosa kar leejie kyonki usake alaava aap jo bhee upachaar karenge vah usaka 10% bhee nahin hoga to jo ek upachaar yah hai ki aap paan masaala kee dukaan hotee hai jo par jahaan par paan milata hai vahaan par chuna naam kee cheej milatee hai saphed rang ka chunaav hota hai chhotee see pooree aatee hai ₹2 kee shaayad taareekh chhote se doob milega aapako to us choone ko aapako kisee bhee jal padaarth mein milaakar ek gehoon ke daane jitana har roj subah gehoon ke daane jitana chuna dekar usako kisee bhee jal padaarth mein daal ho chhaachh aur rahee ho paanee ho kisee bhee cheej mein milaakar usako aap subah subah subah 12:00 baje se pahale aap kha sakate hain aur us choone ke har roj sevan karane se aapakee 3 maheene ke andar hee andar saaree haddiyaan majaboot hone lagengee unamen se katakar aane kee aavaaj kam ho jaegee bahut hee majaboot ho jaengee aur aapako khud khud mahasoos ho jaega ki 3 maheene ke andar us choone ke sevan se aapakee saaree haddiyaan handred parasent majaboot ho gaee hai isalie aap kisee any kailshiyam kee davaee aur doktar ke paas na jaakar mera yah ek upaay handred parasent achchhe tareeke se aap us ko aajama kar dekh ummeed karata hoon aapakee help achchhee rah jaegee aur bahut hee jaldee aapakee rikavaree ho jaegee jo bhee haddiyon ke rileted aapakee samasya hai agar mera javaab pasand aaya ho to apane agale savaal ke saath jaroor mujhase jud jaega dhanyavaad

#undefined

bolkar speaker
अकाल मृत्यु से बचाव हेतु कौन-कौन से उपाय करने चाहिए?Akaal Mritiyu Se Bachaav Hetu Kaun Kaun Se Upaay Karne Chahiye
Dinesh Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dinesh जी का जवाब
Ji
1:42
सवाल पूछा गया है कि अकाल मृत्यु से बचाव हेतु कौन-कौन से उपाय करने चाहिए तो सवाल करता है बहुत खूब प्रश्न किया है परंतु कौन-कौन से उपाय मतलब बहुत सारे उपाय होंगे परंतु यहां पर हमारे वेदों में हमारे शास्त्रों में सिर्फ और सिर्फ एक ही उपाय बताया गया है जिसको करने से अकाल मृत्यु से बचाव हो सकता है और वह सिर्फ एक ही ऐसा है जो हमें बचा सकता है वह यह है हरे कृष्णा हरे कृष्णा कृष्णा कृष्णा हरे हरे हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे इस मंत्र का लगातार जाप करना इसी से ही अकाल मृत्यु से बचा सकता है और कोई भी अन्य उपाय किस को काटने के लिए से बचाव करने के लिए सक्षम हो ही नहीं सकता सिर्फ एक ही उपाय है इस धरती पर इस कलयुग में इस पूरे वर्ल्ड में इस पूरे ब्रह्मांड में सिर्फ एक ही उपाय है जो इस कार्य को करने से अकाल मृत्यु से बचाव हो सकता है उम्मीद करता हूं यह जवाब आपको पसंद आया होगा और संतुष्टि दे दी होगी अगर हां तो अपने अगले सभा के साथ जरूर जुड़िए गा अगर नहीं तो अपने शास्त्रों में जरूर देख लीजिएगा इसका सही जवाब यही रहेगा यही मिलेगा और अपने संतो से भी आपको यही मिलेगा उम्मीद करता हूं आप हमसे जरूर जल्द जरूर जल्दी जुड़ेंगे किसी अन्य किसी रोमांटिक कृष्ण के साथ धन्यवाद
Savaal poochha gaya hai ki akaal mrtyu se bachaav hetu kaun-kaun se upaay karane chaahie to savaal karata hai bahut khoob prashn kiya hai parantu kaun-kaun se upaay matalab bahut saare upaay honge parantu yahaan par hamaare vedon mein hamaare shaastron mein sirph aur sirph ek hee upaay bataaya gaya hai jisako karane se akaal mrtyu se bachaav ho sakata hai aur vah sirph ek hee aisa hai jo hamen bacha sakata hai vah yah hai hare krshna hare krshna krshna krshna hare hare hare raam hare raam raam raam hare hare is mantr ka lagaataar jaap karana isee se hee akaal mrtyu se bacha sakata hai aur koee bhee any upaay kis ko kaatane ke lie se bachaav karane ke lie saksham ho hee nahin sakata sirph ek hee upaay hai is dharatee par is kalayug mein is poore varld mein is poore brahmaand mein sirph ek hee upaay hai jo is kaary ko karane se akaal mrtyu se bachaav ho sakata hai ummeed karata hoon yah javaab aapako pasand aaya hoga aur santushti de dee hogee agar haan to apane agale sabha ke saath jaroor judie ga agar nahin to apane shaastron mein jaroor dekh leejiega isaka sahee javaab yahee rahega yahee milega aur apane santo se bhee aapako yahee milega ummeed karata hoon aap hamase jaroor jald jaroor jaldee judenge kisee any kisee romaantik krshn ke saath dhanyavaad

#धर्म और ज्योतिषी

Dinesh Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dinesh जी का जवाब
Ji
1:53
सवाल पूछा गया है जब किसी की मृत्यु होती है तब ऐसा क्यों कहते हैं कि वह परलोक वारसी हो गए तो सवाल करता ने बहुत खूब प्रश्न किया है तो उसके जवाब में मैं आपको बता देता हूं कि हमारा जो यूनिवर्स है हमारा जो यूनिवर्स है जिसमें हम रहते हैं जो यह ब्रह्मांड है उस ब्रह्मांड में 14 लोग अलग-अलग हैं सबसे ऊपर वाला है जो उसको सत्य लोग कहा जाता है फिर नीचे तब्बू लोग है उसे अमरलोक आता है स्वर्ग लोक आता है वह लोग आता है फिर बीच में हमारा भी लोग देश अमृत यू मरते लोग भी कहा जाता है उसके नीचे और चाहते हैं आजकल है वेतन में सुतल है काला तिल है महाकाल है रसातल है फिर नीचे लास्ट में आता है पाताल इस तरीके से 14 लोग हैं अलग-अलग इस पूरे ब्रह्मांड में और इस 14 लोगों में जब भी इंसान धरती मरता है तो उस धरती तो मरने के बाद वह किसी न किसी लोक में जाएगा और अन्य लोग किसी भी लोक में जाए वह पढ़ लो कि हुआ हमारे लोक में तो नहीं रहा ना इसीलिए अन्य लोक में जाना ही पर लोगों को लोग वासी होना कहा गया है तो यह एक पूरा सिस्टम है जो भगवान द्वारा बनाया गया है जो लोग हैं एक ब्रह्मांड है उसके अंदर 14 लोग हैं उसके साथ जब भी कोई मरता है तो कौन से लोक में जाना है यह हमें नहीं पता उनके कर्म डिसाइड करते हैं परंतु जब कोई मरता है तो वह धरती को छोड़कर किसी अन्य लोग नहीं जाएगा यह बिल्कुल है और अगर मेरा ही जवाब आपको पसंद आया हो तो अपने सवाल के साथ जरूर जुड़ जाएगा धन्यवाद
Savaal poochha gaya hai jab kisee kee mrtyu hotee hai tab aisa kyon kahate hain ki vah paralok vaarasee ho gae to savaal karata ne bahut khoob prashn kiya hai to usake javaab mein main aapako bata deta hoon ki hamaara jo yoonivars hai hamaara jo yoonivars hai jisamen ham rahate hain jo yah brahmaand hai us brahmaand mein 14 log alag-alag hain sabase oopar vaala hai jo usako saty log kaha jaata hai phir neeche tabboo log hai use amaralok aata hai svarg lok aata hai vah log aata hai phir beech mein hamaara bhee log desh amrt yoo marate log bhee kaha jaata hai usake neeche aur chaahate hain aajakal hai vetan mein sutal hai kaala til hai mahaakaal hai rasaatal hai phir neeche laast mein aata hai paataal is tareeke se 14 log hain alag-alag is poore brahmaand mein aur is 14 logon mein jab bhee insaan dharatee marata hai to us dharatee to marane ke baad vah kisee na kisee lok mein jaega aur any log kisee bhee lok mein jae vah padh lo ki hua hamaare lok mein to nahin raha na iseelie any lok mein jaana hee par logon ko log vaasee hona kaha gaya hai to yah ek poora sistam hai jo bhagavaan dvaara banaaya gaya hai jo log hain ek brahmaand hai usake andar 14 log hain usake saath jab bhee koee marata hai to kaun se lok mein jaana hai yah hamen nahin pata unake karm disaid karate hain parantu jab koee marata hai to vah dharatee ko chhodakar kisee any log nahin jaega yah bilkul hai aur agar mera hee javaab aapako pasand aaya ho to apane savaal ke saath jaroor jud jaega dhanyavaad

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
क्या पूजा करने के लिए भी कोई नियम होते हैं?Kya Pooja Karne Ke Lie Bhe Koi Niyam Hote Hain
Dinesh Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dinesh जी का जवाब
Ji
2:05
सवाल पूछा गया है कि क्या पूजा करने के लिए भी कोई नियम होते हैं या नहीं तो बहुत ही अच्छा प्रश्न है और इसके जवाब में मैं आपको बता दूं की पूजा करने के लिए जो नियम होते हैं जो आपने सुने होंगे वह सेकेंडरी हैं मतलब इतने ज्यादा प्राइमरी नहीं होते हैं परंतु जो 2 नियम सबसे मेन है पूजा करने के लिए तो वह 2 नियम में आपको बता देता हूं बाकी जो जितने भी गेम है वह सब बाद में आते हैं तो जो 2 नियम है वह पहला यह है कि आपको अगर आप पूजा कर रहे हैं आप जिस तरीके से पूजा कर रहे हैं उसमें आप लगे रहे हर रोज एक भी दिन मिस ना हो भले तूफान हो आंधी हो बारिश हो या सर्दी हो ठंडी हो या फूल पूर्ण रूप से गर्मी तो उसमें आप लगे रहें यह सबसे बड़ा नियम है और दूसरा नियम यह है कि आपकी श्रद्धा होनी चाहिए बिना श्रद्धा कि आप पूजा नहीं कर सकते इसलिए आप लगे रहे और श्रद्धा से लगे रहे यह दो नियम सबसे मेन है बाकी जितने भी नियम होते हैं जो आपने सुने होंगे या इस तरीके से हाथ घुमा रहा है इस तरीके से घंटी बजानी है वह सब की सब सेकेंडरी हैं और जैसे ही आप को पूजा करते हैं शुरुआत करते हैं लगे रहते हैं तो वह अपने आप चेंज होता रहेगा यकीन मानिए कि अगर आप लगे रहेंगे अगर आप श्रद्धा से लगे रहेंगे तो बाकी जो नियम है वह अपने आप ठीक हो जाएंगे अपने आप ही आपको उसको अलग से ठीक करने की जरूरत नहीं पड़ेगी उम्मीद करता हूं मेरा जवाब आपको पसंद आया होगा अगर हां अगर मेरा ही जवाब आपको संतुष्टि दे दो अपने अगले सवाल के साथ मुझसे जरूर जुड़ेगा धन्यवाद
Savaal poochha gaya hai ki kya pooja karane ke lie bhee koee niyam hote hain ya nahin to bahut hee achchha prashn hai aur isake javaab mein main aapako bata doon kee pooja karane ke lie jo niyam hote hain jo aapane sune honge vah sekendaree hain matalab itane jyaada praimaree nahin hote hain parantu jo 2 niyam sabase men hai pooja karane ke lie to vah 2 niyam mein aapako bata deta hoon baakee jo jitane bhee gem hai vah sab baad mein aate hain to jo 2 niyam hai vah pahala yah hai ki aapako agar aap pooja kar rahe hain aap jis tareeke se pooja kar rahe hain usamen aap lage rahe har roj ek bhee din mis na ho bhale toophaan ho aandhee ho baarish ho ya sardee ho thandee ho ya phool poorn roop se garmee to usamen aap lage rahen yah sabase bada niyam hai aur doosara niyam yah hai ki aapakee shraddha honee chaahie bina shraddha ki aap pooja nahin kar sakate isalie aap lage rahe aur shraddha se lage rahe yah do niyam sabase men hai baakee jitane bhee niyam hote hain jo aapane sune honge ya is tareeke se haath ghuma raha hai is tareeke se ghantee bajaanee hai vah sab kee sab sekendaree hain aur jaise hee aap ko pooja karate hain shuruaat karate hain lage rahate hain to vah apane aap chenj hota rahega yakeen maanie ki agar aap lage rahenge agar aap shraddha se lage rahenge to baakee jo niyam hai vah apane aap theek ho jaenge apane aap hee aapako usako alag se theek karane kee jaroorat nahin padegee ummeed karata hoon mera javaab aapako pasand aaya hoga agar haan agar mera hee javaab aapako santushti de do apane agale savaal ke saath mujhase jaroor judega dhanyavaad

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
क्या मोटरसाइकिल की टंकी फुल करवाने का कोई नुकसान है?Kya Motorcycle Kee Tanki Full Karvane Ka Koi Nuksaan Hai
Dinesh Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dinesh जी का जवाब
Ji
2:04
सवाल पूछा गया है कि क्या मोटरसाइकिल की टंकी फुल करवाने का कोई नुकसान है या नहीं तो इसका जवाब में सवाल करता खुद दो रूप में देना चाहूंगा एक रूप व्यंग्यात्मक रहेगा और एक नॉर्मल तो जो व्यंग्यात्मक आंसर है इसका वह यह है जो हमने कानों से सुना हुआ है कि जो इंसान हमेशा पेट्रोल की टंकी फुल रखता है उसके पेट्रोल की चोरी हो जाती है तो यह तो रहा व्यंग्यात्मक आंसर जो ने बहुत ही मजाक मजाक में लोगों के सुना हुआ है परंतु जो नॉर्मल आंसर है दूसरा वह यह है कि भारत में 2 वर्षों से धूप का जो तापमान है हमारे प्रकृति में जो धूप आती है उसका जो तापमान है वह गर्मियों में बहुत ज्यादा बढ़ जाता है और उस बढ़ने के कारण ऐसी हमें कहानी और ऐसे उपाय भी सुनने को मिली इससे टंकी फट जाती है या धूप की गर्मी जो है वह पेट्रोल पंप पर बहुत ज्यादा तरीके से पहुंचती है और पेट्रोल की टंकी ऐसी होनी चाहिए जहां पर बिल्कुल भी गर्मी नहीं जानी चाहिए जहां पर आज का दिन का भी नहीं जाना चाहिए तो जब धूप की तापमान ज्यादा रहेगी तो सीधी सी बात है वह पेट्रोल या पेट्रोल की टंकी के लिए मोटरसाइकिल की टंकी के लिए अच्छा नहीं है क्योंकि मोटरसाइकिल की जो टंकी है वह तो बिल्कुल सबसे ऊपर होती है एक्टिवा की तरह बढ़ती हुई नहीं होती है तो इसलिए मोटरसाइकिल की टंकी आपको थोड़ा सा कम भरवाए ताकि जो खतरे के जो चांसेस हैं थोड़ा अगर मोहित 1% भी चांस है वह आप उसको डाल दें क्योंकि धूप उसके टंकी के ऊपर ही पड़ती है और वहां पर गर्मी नहीं जानी चाहिए यह मेरा भी मानना है तो उम्मीद करता हूं मेरा यह जवाब आपको पसंद आया होगा अगर हां तो अपने अगले इसी रोमांचक कृष्ण के साथ मुझसे जरूर जुड़ेगा धन्यवाद
Savaal poochha gaya hai ki kya motarasaikil kee tankee phul karavaane ka koee nukasaan hai ya nahin to isaka javaab mein savaal karata khud do roop mein dena chaahoonga ek roop vyangyaatmak rahega aur ek normal to jo vyangyaatmak aansar hai isaka vah yah hai jo hamane kaanon se suna hua hai ki jo insaan hamesha petrol kee tankee phul rakhata hai usake petrol kee choree ho jaatee hai to yah to raha vyangyaatmak aansar jo ne bahut hee majaak majaak mein logon ke suna hua hai parantu jo normal aansar hai doosara vah yah hai ki bhaarat mein 2 varshon se dhoop ka jo taapamaan hai hamaare prakrti mein jo dhoop aatee hai usaka jo taapamaan hai vah garmiyon mein bahut jyaada badh jaata hai aur us badhane ke kaaran aisee hamen kahaanee aur aise upaay bhee sunane ko milee isase tankee phat jaatee hai ya dhoop kee garmee jo hai vah petrol pamp par bahut jyaada tareeke se pahunchatee hai aur petrol kee tankee aisee honee chaahie jahaan par bilkul bhee garmee nahin jaanee chaahie jahaan par aaj ka din ka bhee nahin jaana chaahie to jab dhoop kee taapamaan jyaada rahegee to seedhee see baat hai vah petrol ya petrol kee tankee ke lie motarasaikil kee tankee ke lie achchha nahin hai kyonki motarasaikil kee jo tankee hai vah to bilkul sabase oopar hotee hai ektiva kee tarah badhatee huee nahin hotee hai to isalie motarasaikil kee tankee aapako thoda sa kam bharavae taaki jo khatare ke jo chaanses hain thoda agar mohit 1% bhee chaans hai vah aap usako daal den kyonki dhoop usake tankee ke oopar hee padatee hai aur vahaan par garmee nahin jaanee chaahie yah mera bhee maanana hai to ummeed karata hoon mera yah javaab aapako pasand aaya hoga agar haan to apane agale isee romaanchak krshn ke saath mujhase jaroor judega dhanyavaad

#पढ़ाई लिखाई

Dinesh Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dinesh जी का जवाब
Ji
2:27
सवाल पूछा गया है एक सफल व्यक्ति बनने के लिए विद्यार्थी को क्या करना चाहिए और क्या नहीं करना चाहिए तो सवाल करता कुछ जवाब देने से पहले बता दें कि सफल होना इसमें भी दो नजरी होते हैं एक तो सफल वह होता है जो की बहुत ही अच्छी कमाई कर रहा हो टनाटन वाली अरे दूसरा सफल इंसान वह होता है जो सबके दिल भी जीते रहो और एक नॉर्मल लाइफ जी रहा हो तो मैं फिलहाल पैसों के ऊपर ध्यान ना दे कर एक अच्छे कैरियर वाले चीजों को ना ध्यान देकर वह आपके विषय है आपके आपको किस चीज में इंटरेस्ट है आपका कैरियर उसी दिन में बन जाएगा परंतु जो दूसरी कैटेगरी है मैं उसके लिए मैं दो-तीन टिप्स बता देता हूं आपको कि क्या करना चाहिए और क्या नहीं करना चाहिए तू झुक कर क्या चीज है कि बाकी लोग तो यही बोलेंगे कि चलो पढ़ाई में ध्यान दो परंतु सबसे मेन इंपॉर्टेंट बात की है कि आप अपने बड़ों से अपने जो पूर्वज हमने जो मां-बाप हैं आपने जो बड़े भाई बहन हैं घर में परिवार में चाचा चाची और जो भी हैं दादा-दादी उन सब के आशीर्वाद देना शुरू कर दें आप खुद न मांगे तो आगे बढ़ते जाएंगे क्योंकि जो आगे बढ़ता है वह हमेशा झुका हुआ होता है नमा हुआ होता है इसलिए आप उन सब के आशीर्वाद लेना शुरू कर दीजिए उनकी दुआएं लेना शुरू कर दीजिए उनकी मदद करना शुरू कर दीजिए यहां तक की सड़क पर अगर आपकी इच्छा अनुसार आपकी शक्ति अनुसार सड़क पर गाय कुत्ते या कोई भी गरीब मिले तो अपनी शक्ति अनुसार उनकी मदद कीजिए और उनका साथ दीजिए दूसरी बात जो नहीं करनी है अपनी वाणी को विश्राम दें और अपनी वाणी से किसी का भी दुख ना हो इंसान हो यह जरूर ध्यान रखें हमारे शब्द से किसी का भी दिल ना दुखे खास करके मां-बाप का उम्मीद करता हूं पसंद आया होगा मेरा ही जवाब धन्यवाद
Savaal poochha gaya hai ek saphal vyakti banane ke lie vidyaarthee ko kya karana chaahie aur kya nahin karana chaahie to savaal karata kuchh javaab dene se pahale bata den ki saphal hona isamen bhee do najaree hote hain ek to saphal vah hota hai jo kee bahut hee achchhee kamaee kar raha ho tanaatan vaalee are doosara saphal insaan vah hota hai jo sabake dil bhee jeete raho aur ek normal laiph jee raha ho to main philahaal paison ke oopar dhyaan na de kar ek achchhe kairiyar vaale cheejon ko na dhyaan dekar vah aapake vishay hai aapake aapako kis cheej mein intarest hai aapaka kairiyar usee din mein ban jaega parantu jo doosaree kaitegaree hai main usake lie main do-teen tips bata deta hoon aapako ki kya karana chaahie aur kya nahin karana chaahie too jhuk kar kya cheej hai ki baakee log to yahee bolenge ki chalo padhaee mein dhyaan do parantu sabase men importent baat kee hai ki aap apane badon se apane jo poorvaj hamane jo maan-baap hain aapane jo bade bhaee bahan hain ghar mein parivaar mein chaacha chaachee aur jo bhee hain daada-daadee un sab ke aasheervaad dena shuroo kar den aap khud na maange to aage badhate jaenge kyonki jo aage badhata hai vah hamesha jhuka hua hota hai nama hua hota hai isalie aap un sab ke aasheervaad lena shuroo kar deejie unakee duaen lena shuroo kar deejie unakee madad karana shuroo kar deejie yahaan tak kee sadak par agar aapakee ichchha anusaar aapakee shakti anusaar sadak par gaay kutte ya koee bhee gareeb mile to apanee shakti anusaar unakee madad keejie aur unaka saath deejie doosaree baat jo nahin karanee hai apanee vaanee ko vishraam den aur apanee vaanee se kisee ka bhee dukh na ho insaan ho yah jaroor dhyaan rakhen hamaare shabd se kisee ka bhee dil na dukhe khaas karake maan-baap ka ummeed karata hoon pasand aaya hoga mera hee javaab dhanyavaad

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
क्या शास्त्रों के अनुसार गुरु को त्याग सकते हैं?Kya Shaastron Ke Anusaar Guru Ko Tyaag Sakte Hain
Dinesh Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dinesh जी का जवाब
Ji
2:28
सवाल पूछा गया है क्या शास्त्रों के अनुसार गुरु को त्याग सकते हैं या नहीं बहुत ही अच्छा प्रश्न है और इस सवाल का जवाब देने से पहले मैं सवाल करता को बता देता हूं कि हमारे संस्कृत में हमारे वेदों में छह अलग-अलग तरीके के गुरु बताए गए हैं जिसमें अध्यापक आता है आचार्य आता है उपाध्याय आता है दृष्टा आता है पंडित आता है गुरु आता है तो उन सब के अलग-अलग क्वालिटी सोते हैं अब जो आप स्कूल में आप जिसको बोलते हैं जो जो स्कूल में पढ़ा रहे हैं फिलहाल आज के टाइम में उसको हम लोग अध्यापक बोलते हैं उसी तरीके से अलग-अलग स्किल अगर हमारे अंदर कोई स्किल ट्रेनिंग देने के होते जैसे हमें कराटे सीखना है या कुछ और कोई स्किल सीखना है जोड़ो जोड़ो सीखना है तो हमें जो गुरु मिलता है उसको हम लोग आचार्य बोलते हैं इसी तरीके से दृष्टा उपाध्याय और पंडित इस तरीके से और भी लोग होते हैं जो आज की तारीख में उन सबको हम लोग गुरु ही बोलते हैं क्योंकि हमें और कोई ज्यादा बड पता नहीं है या हमें और ज्यादा क्वालिटीज पता नहीं है कि किस कौन सी क्वालिटी वाले इंसान को गुरु कहते हैं तो गुरु वह है जो हमें आत्मज्ञान प्राप्त करवाएं जो हमें अंधेरे से उजाले की तरफ ले आए जो हमें भक्ति करना सिखा दें और जो इंसान हमें धर्म सिखा दें जो हमारे अंदर इंटेलिजेंस पैदा कर दे उसको हम लोग गुरु कहते हैं तो अगर ऐसे गुरु आपको मिल चुके हैं तो किसी का जोर नहीं है कि आप उनको देख कर सकते हैं नहीं कर सकते हैं पर ऐसे गुरु को त्यागना मूर्खता होगी और अगर ऐसे गुरु आपको मिल चुके हैं जो आपको आत्मज्ञान दे रहे हैं या फिर आपको भक्ति मार्ग में अच्छे से लेकर जा रहे हैं उनके अंदर किसी भी तरीके का कपट नहीं है तो ऐसे को जागना सही बात नहीं परंतु अगर वह गुरु है ही नहीं और वह किसी और श्रेणी में आते हैं उपाध्याय या फिर पंडित में या किसी और श्रेणी में आते हैं तो अपुन को त्याग कर सकते हैं उम्मीद करता हूं अगले सवाल के साथ आप जरूर जुड़ेंगे धन्यवाद
Savaal poochha gaya hai kya shaastron ke anusaar guru ko tyaag sakate hain ya nahin bahut hee achchha prashn hai aur is savaal ka javaab dene se pahale main savaal karata ko bata deta hoon ki hamaare sanskrt mein hamaare vedon mein chhah alag-alag tareeke ke guru batae gae hain jisamen adhyaapak aata hai aachaary aata hai upaadhyaay aata hai drshta aata hai pandit aata hai guru aata hai to un sab ke alag-alag kvaalitee sote hain ab jo aap skool mein aap jisako bolate hain jo jo skool mein padha rahe hain philahaal aaj ke taim mein usako ham log adhyaapak bolate hain usee tareeke se alag-alag skil agar hamaare andar koee skil trening dene ke hote jaise hamen karaate seekhana hai ya kuchh aur koee skil seekhana hai jodo jodo seekhana hai to hamen jo guru milata hai usako ham log aachaary bolate hain isee tareeke se drshta upaadhyaay aur pandit is tareeke se aur bhee log hote hain jo aaj kee taareekh mein un sabako ham log guru hee bolate hain kyonki hamen aur koee jyaada bad pata nahin hai ya hamen aur jyaada kvaaliteej pata nahin hai ki kis kaun see kvaalitee vaale insaan ko guru kahate hain to guru vah hai jo hamen aatmagyaan praapt karavaen jo hamen andhere se ujaale kee taraph le aae jo hamen bhakti karana sikha den aur jo insaan hamen dharm sikha den jo hamaare andar intelijens paida kar de usako ham log guru kahate hain to agar aise guru aapako mil chuke hain to kisee ka jor nahin hai ki aap unako dekh kar sakate hain nahin kar sakate hain par aise guru ko tyaagana moorkhata hogee aur agar aise guru aapako mil chuke hain jo aapako aatmagyaan de rahe hain ya phir aapako bhakti maarg mein achchhe se lekar ja rahe hain unake andar kisee bhee tareeke ka kapat nahin hai to aise ko jaagana sahee baat nahin parantu agar vah guru hai hee nahin aur vah kisee aur shrenee mein aate hain upaadhyaay ya phir pandit mein ya kisee aur shrenee mein aate hain to apun ko tyaag kar sakate hain ummeed karata hoon agale savaal ke saath aap jaroor judenge dhanyavaad

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
जब भगवान की भक्ति करके थक जाए और कोई हल नहीं निकले तो क्या करना चाहिए?Jab Bhagwan Kee Bhakti Karke Thak Jaye Aur Koi Hal Nahi Nikle To Kya Karna Chaiye
Dinesh Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dinesh जी का जवाब
Ji
2:19
सवाल पूछा गया है कि जब भगवान की भक्ति करके थक जाए और कोई हल नहीं निकले तो क्या करना चाहिए तो इसका जवाब मैंने सिर्फ अपनी बुद्धि के तरफ से ही दे सकता हूं और आशा करता हूं कि इससे किसी के भी दिल को ठेस ना पहुंचे तो सवाल करते को बता दें कि यदि आप थक गए हैं तो शायद वह भक्ति नहीं वह सेवा हो सकती है और जब भी इंसान पति करता है तो उसके अंदर यह भाव जरूर उठता है कि अभी तो मैंने कुछ किया ही नहीं अभी तो मैं लायक ही नहीं हूं भगवान के दर्शन को प्राप्त करने के लिए तू जब भी भक्ति स्तर पर पहुंच जाएगी कि आप अपने आप को नीचा समझने बैठ जाएंगे आपको लगे कि मैंने कुछ किया ही नहीं है मैं बहुत की अदम हूं बहुत ही पापी हूं तू वस्त्र आने में बहुत समय लगने वाला है यह समय लगेगा तो अभी जब आप थक गए हैं तो शायद पर वह पति नहीं वह सेवा है और सेवा जो तन से की जाती है इसलिए इंसान थक जाता है और शरीर से भी और थोड़ा थोड़ा मन से भी तो इसके आगे आपको क्या करना है और कैसे करना है यह आपके गुरु जन आपके आपका जो राह दिखाने वाले हैं वह ज्यादा अच्छे से बता सकते हैं डिटेल में परंतु मेरा यह तक आप अपने पर्सनली मत लीजिएगा दादा तरीके से आपको दिल दुखाने के लिए मैंने नहीं कहा है परंतु जो हमने संतो से सुना है मैं वही कह रहा हूं की बत्ती जब भी बढ़ती है तब इंसान नीचा हो जाता है यह सोचने लगता है कि मैंने बहुत ज्यादा पाठ किया अभी तो मैं बिल्कुल भी लायक नहीं हूं किसी फल को पाने के लिए उम्मीद करता हूं मेरा ही जवाब आपको संतुष्टि देगा अगर हां तो अपने अगले सवाल के साथ मुझसे जरूर जुड़ जाएगा धन्यवाद
Savaal poochha gaya hai ki jab bhagavaan kee bhakti karake thak jae aur koee hal nahin nikale to kya karana chaahie to isaka javaab mainne sirph apanee buddhi ke taraph se hee de sakata hoon aur aasha karata hoon ki isase kisee ke bhee dil ko thes na pahunche to savaal karate ko bata den ki yadi aap thak gae hain to shaayad vah bhakti nahin vah seva ho sakatee hai aur jab bhee insaan pati karata hai to usake andar yah bhaav jaroor uthata hai ki abhee to mainne kuchh kiya hee nahin abhee to main laayak hee nahin hoon bhagavaan ke darshan ko praapt karane ke lie too jab bhee bhakti star par pahunch jaegee ki aap apane aap ko neecha samajhane baith jaenge aapako lage ki mainne kuchh kiya hee nahin hai main bahut kee adam hoon bahut hee paapee hoon too vastr aane mein bahut samay lagane vaala hai yah samay lagega to abhee jab aap thak gae hain to shaayad par vah pati nahin vah seva hai aur seva jo tan se kee jaatee hai isalie insaan thak jaata hai aur shareer se bhee aur thoda thoda man se bhee to isake aage aapako kya karana hai aur kaise karana hai yah aapake guru jan aapake aapaka jo raah dikhaane vaale hain vah jyaada achchhe se bata sakate hain ditel mein parantu mera yah tak aap apane parsanalee mat leejiega daada tareeke se aapako dil dukhaane ke lie mainne nahin kaha hai parantu jo hamane santo se suna hai main vahee kah raha hoon kee battee jab bhee badhatee hai tab insaan neecha ho jaata hai yah sochane lagata hai ki mainne bahut jyaada paath kiya abhee to main bilkul bhee laayak nahin hoon kisee phal ko paane ke lie ummeed karata hoon mera hee javaab aapako santushti dega agar haan to apane agale savaal ke saath mujhase jaroor jud jaega dhanyavaad

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
वायरलेस को आम लोग क्यों इस्तेमाल नहीं करते हैं?Wireless Ko Aam Log Kyun Istemal Nahin Karte Hain
Dinesh Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dinesh जी का जवाब
Ji
2:01
सवाल पूछा गया है कि वायलेंस को आप लोग क्यों इस्तेमाल नहीं करते हैं बहुत ही अच्छा प्रश्न है और आपको बता दे मुझे ऐसा लग रहा है कि यह सवाल खास आपने मेरे लिए ही पूछा है क्योंकि मैं भी वाले इस्तेमाल नहीं करता हूं बस एक वायरलेस फोन है मेरे पास मोबाइल फोन उसके अलावा जितने भी वायरलेस उपकरण होते हैं जैसे कि ईयर फोन है या फिर अभी आए बाय लैपटॉप्स निकले हैं जो कान में से फिट कर देते हैं उससे हम लोग सुन सकते हैं तो हम लोग इसलिए यूज नहीं करते क्योंकि मेरा सबसे बड़ा दिक्कत यह है कि मैं फोन ज्यादा यूज करता हूं मेरे काम में भी तो सबसे बड़ी दिक्कत है चार्जिंग करना जी हां चार्जिंग जब मैं करता हूं दिन में दो बार करना पड़ता है मुझे तब भी मेरे पास बहुत सारे कॉल आते हैं बहुत सारे मैसेज आते हैं काम के रिलेटेड तो मुझे इतनी दिक्कत रहती है कि सबसे पहले तो मैं फोन चार्ज कर लूं उसके बाद मैं एयर फोर्स रिचार्ज करने बैठ जाऊं तो यह चार्जिंग करने की बिक्री सबसे मेन है यही कारण है कि हम लोग वायरलेस उपकरण इस्तेमाल नहीं करते हैं और जैसे ही मैं नॉर्मल वाली यह कोशिश करता हूं तो मेरा काम भी बन जाता है मेरा बिग जो दिक्कत है उसको बार-बार चार्ज करने की वह दिक्कत भी नहीं रहेगी इसलिए ईयर फोन बहुत ही ज्यादा ही ही ऑप्शन है जो मैं कभी कबार यूज करता हूं परंतु वह बहुत ही आसान है और उससे मोबाइल की जो बैटरी है वह भी ज्यादा खाएगी नहीं तो विद करता हूं यह तो दिक्कत है चार्जिंग करने की यही एक रीजन है कि हम लोग वाले यूज नहीं कर रहे हैं आपको सही लगा होगा संतुष्ट पी रही होगी और अगर हां तो अपने अगले साल के साथ मुझसे जरूर जुड़ेगा और आपका मुझे खास इंतजार रहेगा इस जवाब में आप क्या सोच रहे हैं धन्यवाद
Savaal poochha gaya hai ki vaayalens ko aap log kyon istemaal nahin karate hain bahut hee achchha prashn hai aur aapako bata de mujhe aisa lag raha hai ki yah savaal khaas aapane mere lie hee poochha hai kyonki main bhee vaale istemaal nahin karata hoon bas ek vaayarales phon hai mere paas mobail phon usake alaava jitane bhee vaayarales upakaran hote hain jaise ki eeyar phon hai ya phir abhee aae baay laipatops nikale hain jo kaan mein se phit kar dete hain usase ham log sun sakate hain to ham log isalie yooj nahin karate kyonki mera sabase bada dikkat yah hai ki main phon jyaada yooj karata hoon mere kaam mein bhee to sabase badee dikkat hai chaarjing karana jee haan chaarjing jab main karata hoon din mein do baar karana padata hai mujhe tab bhee mere paas bahut saare kol aate hain bahut saare maisej aate hain kaam ke rileted to mujhe itanee dikkat rahatee hai ki sabase pahale to main phon chaarj kar loon usake baad main eyar phors richaarj karane baith jaoon to yah chaarjing karane kee bikree sabase men hai yahee kaaran hai ki ham log vaayarales upakaran istemaal nahin karate hain aur jaise hee main normal vaalee yah koshish karata hoon to mera kaam bhee ban jaata hai mera big jo dikkat hai usako baar-baar chaarj karane kee vah dikkat bhee nahin rahegee isalie eeyar phon bahut hee jyaada hee hee opshan hai jo main kabhee kabaar yooj karata hoon parantu vah bahut hee aasaan hai aur usase mobail kee jo baitaree hai vah bhee jyaada khaegee nahin to vid karata hoon yah to dikkat hai chaarjing karane kee yahee ek reejan hai ki ham log vaale yooj nahin kar rahe hain aapako sahee laga hoga santusht pee rahee hogee aur agar haan to apane agale saal ke saath mujhase jaroor judega aur aapaka mujhe khaas intajaar rahega is javaab mein aap kya soch rahe hain dhanyavaad

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
कौन से फल स्वादिष्ट होते हैं पर खाने में कठिनाइयां मेहनत करनी पड़ती है?Kaun Se Fal Svadisht Hote Hain Par Khane Mein Kathinaiya Mehnat Karne Padti Hai
Dinesh Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dinesh जी का जवाब
Ji
2:06
सवाल पूछा गया है कि कौन से फल स्वादिष्ट होते हैं पर खाने में कठिनाइयां होती है या मेहनत करनी पड़ती है तो सवाल करता को बता दें ऐसे बहुत सारे फल है दुनिया में परंतु भारत में ड्राई फ्रूट्स में सबसे पहले तो मैं आपको अखरोट बताऊंगा जिसको निकालने में बहुत मेहनत लगती है दांत तो कभी-कभी इंसान के दांत भी टूट जाते हैं उसको तोड़ने में तो ड्राई फ्रूट के मामले में तो अखरोट है ऐसी एक चीज इसको खोलने में और निकालने में मेहनत लगती है और वह खाने में स्वादिष्ट भी होता है और उसमें बहुत सारे न्यूट्रिशन वैल्यू भी रहता है जहां की झीले फ्रूट की बात करें तो मेरा जवाब रहेगा कि बेलफल एक ऐसी चीज है बेल फल बहुत ही कड़क रहता है उसको तोड़ने के लिए हथोड़ा चाहिए होता है और हथोड़ा तोड़ने के उसको ने थोड़े से तोड़ने के बाद भी उसके अंदर का जमाल होता है उसको साफ करके उसमें अच्छे से पानी पानी डालकर फिर उसका जूस बनाया जाता है मौसम भी भी एक ऐसी चीज है जो जिसकी जो खाल होती है वह अच्छे से निकाली नहीं जा सकती परंतु वह खाने में और उसके जो इन न्यूट्रिशन वैल्यू होती है उसमें बहुत ज्यादा अच्छे होते हैं जो बेल फल मैंने आपको पहले बताया उसके अंदर वह एक पेट दर्द के लिए या पेट की प्रॉब्लम के लिए भी रामबाण इलाज है और वह बहुत ही मीठा और बहुत ही अच्छा स्वादिष्ट होता है तो जभी भी आप ऋषिकेश हरिद्वार जाएं तो वहां पर आपको यह फल बेल फल का जूस बाहर मिलेगा और यह फल जो है बहुत ही कम जगह पर उत्पाद होता है उत्पादन होता है इसका और उत्तराखंड और ठंडी वाली जगहों पर इसका उत्पादन ज्यादा रहता है तो जब भी आप वहां पर जाएं तो जरूर उसको पेश करें और उम्मीद करता हूं मेरे इस जवाब जो अखरोट है बेल फल है मौसम भी है इन तीनों जवाब से आपको संतुष्टि में अगर हां तो अपने अगले सवाल के साथ मुझसे जरूर जुड़ेगा धन्यवाद
Savaal poochha gaya hai ki kaun se phal svaadisht hote hain par khaane mein kathinaiyaan hotee hai ya mehanat karanee padatee hai to savaal karata ko bata den aise bahut saare phal hai duniya mein parantu bhaarat mein draee phroots mein sabase pahale to main aapako akharot bataoonga jisako nikaalane mein bahut mehanat lagatee hai daant to kabhee-kabhee insaan ke daant bhee toot jaate hain usako todane mein to draee phroot ke maamale mein to akharot hai aisee ek cheej isako kholane mein aur nikaalane mein mehanat lagatee hai aur vah khaane mein svaadisht bhee hota hai aur usamen bahut saare nyootrishan vailyoo bhee rahata hai jahaan kee jheele phroot kee baat karen to mera javaab rahega ki belaphal ek aisee cheej hai bel phal bahut hee kadak rahata hai usako todane ke lie hathoda chaahie hota hai aur hathoda todane ke usako ne thode se todane ke baad bhee usake andar ka jamaal hota hai usako saaph karake usamen achchhe se paanee paanee daalakar phir usaka joos banaaya jaata hai mausam bhee bhee ek aisee cheej hai jo jisakee jo khaal hotee hai vah achchhe se nikaalee nahin ja sakatee parantu vah khaane mein aur usake jo in nyootrishan vailyoo hotee hai usamen bahut jyaada achchhe hote hain jo bel phal mainne aapako pahale bataaya usake andar vah ek pet dard ke lie ya pet kee problam ke lie bhee raamabaan ilaaj hai aur vah bahut hee meetha aur bahut hee achchha svaadisht hota hai to jabhee bhee aap rshikesh haridvaar jaen to vahaan par aapako yah phal bel phal ka joos baahar milega aur yah phal jo hai bahut hee kam jagah par utpaad hota hai utpaadan hota hai isaka aur uttaraakhand aur thandee vaalee jagahon par isaka utpaadan jyaada rahata hai to jab bhee aap vahaan par jaen to jaroor usako pesh karen aur ummeed karata hoon mere is javaab jo akharot hai bel phal hai mausam bhee hai in teenon javaab se aapako santushti mein agar haan to apane agale savaal ke saath mujhase jaroor judega dhanyavaad

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
सर्दी के मौसम में खाना खाने के बाद हमें ठंड क्यो लगती है?Sardi Ke Mausam Mein Khana Khane Ke Baad Humein Thand Kyun Lagti Hai
Dinesh Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dinesh जी का जवाब
Ji
1:48
सवाल पूछा गया है कि सर्दी के मौसम में खाना खाने के बाद हमें ठंड क्यों लगती है बहुत ही खूब प्रश्न है और उम्मीद करता हूं मेरा जो तर्क है वह आप को संतुष्ट कर देगा तो सवाल करता को बता दें कि हमारे शरीर में जलन होती है जठन नाम की चीज होती है जो अग्नि पैदा करती है उसको जट रागनी भी बोला जाता है और वह हमारे शरीर को पूर्ण रूप से गर्म करती रहती है और उसी गर्मी के वजह से हमें ताकत मिलती है या ठंड नहीं लगती है अंदर की गर्मी हो रही है और जैसे हम खाना खाते हैं तो उस अग्नि वह जो अग्नि होती है वह हमारे शरीर को गर्म ना करके वह खाना जो हमने खाया हुआ है उसको जलाने में उसको पकाने में उसको जो प्रोसेस रहता है कि खाना खाते हैं उसका विटामिंस विटामिन से अलग हो जाता है उसको फिर अमल जो गंदे निकलता है उसको बनाने में क्या प्रोसेस को शुरू कर देता है खाना के ऊपर वह अग्नि चली जाती है पूरी की पूरी वह हमारे शरीर को गर्म नहीं करती है इसीलिए जब भी हम खाना खाते हैं तो वह अग्नि हमारे शरीर को गर्म ना करके वह खाने को पचाने का काम करती है इसीलिए हमें ठंड लगती है क्योंकि बाहर की जो ठंडी होती है वह तो है ही है पर अंदर से जो गर्मी है वह टॉप हो चुकी है देना अंदर से उम्मीद करता हूं मेरा एक जवाब आपको संतुष्टि कर दिया होगा और आपको समझ में आ गया होगा कि जट रागनी हमारे शरीर में क्या क्या काम करती है अगर मेरा यह जवाब से आप खुश है तो अपने अगले सवाल के साथ मुझसे जरूर जुड़ जाएगा धन्यवाद
Savaal poochha gaya hai ki sardee ke mausam mein khaana khaane ke baad hamen thand kyon lagatee hai bahut hee khoob prashn hai aur ummeed karata hoon mera jo tark hai vah aap ko santusht kar dega to savaal karata ko bata den ki hamaare shareer mein jalan hotee hai jathan naam kee cheej hotee hai jo agni paida karatee hai usako jat raaganee bhee bola jaata hai aur vah hamaare shareer ko poorn roop se garm karatee rahatee hai aur usee garmee ke vajah se hamen taakat milatee hai ya thand nahin lagatee hai andar kee garmee ho rahee hai aur jaise ham khaana khaate hain to us agni vah jo agni hotee hai vah hamaare shareer ko garm na karake vah khaana jo hamane khaaya hua hai usako jalaane mein usako pakaane mein usako jo proses rahata hai ki khaana khaate hain usaka vitaamins vitaamin se alag ho jaata hai usako phir amal jo gande nikalata hai usako banaane mein kya proses ko shuroo kar deta hai khaana ke oopar vah agni chalee jaatee hai pooree kee pooree vah hamaare shareer ko garm nahin karatee hai iseelie jab bhee ham khaana khaate hain to vah agni hamaare shareer ko garm na karake vah khaane ko pachaane ka kaam karatee hai iseelie hamen thand lagatee hai kyonki baahar kee jo thandee hotee hai vah to hai hee hai par andar se jo garmee hai vah top ho chukee hai dena andar se ummeed karata hoon mera ek javaab aapako santushti kar diya hoga aur aapako samajh mein aa gaya hoga ki jat raaganee hamaare shareer mein kya kya kaam karatee hai agar mera yah javaab se aap khush hai to apane agale savaal ke saath mujhase jaroor jud jaega dhanyavaad

#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker
वह कौन सी दौलत है जिसे कोई चुरा नहीं सकता बल्कि बांटने से बढ़ती है?Vah Kaun Si Daulat Hai Jise Koi Chura Nahi Sakta Balki Bantne Se Badhti Hai
Dinesh Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dinesh जी का जवाब
Ji
1:26
सवाल पूछा गया है वह कौन सी दौलत है जिसे कोई चुरा नहीं सकता बल्कि बांटने से बढ़ती है तो बहुत ही मुहावरे की एक प्रश्न है यह जनरल नॉलेज वाला नहीं है इसका जो आंसर रहेगा वह मुहावरे टाइप करता है और इस व्यंग्यात्मक प्रश्न का सही उत्तर है ज्ञान जी हां जो आपका ज्ञान रहेगा जिस भी फील्ड में जिस भी क्षेत्र में आपका जो भी ज्ञान है जो भी एक्सपीरियंस है तो वह एक्सपीरियंस है और वह ज्ञान जो अपनी नॉलेज जो आपने पाया है उस नॉलेज को कोई भी चुरा नहीं सकता वह आपके दिमाग के अंदर फिट है और वह बिल्कुल आंतरिक होता है और इसे कोई भी इंसान चुरा नहीं सकता कोई जोर से नहीं सकता जबकि अगर आपकी से बांट देंगे तो आपका भी इसका रीजन होता रहेगा और आपको भी इसके अंदर नई-नई चीजें सीखने को मिलती हैं खुद से ही इसलिए अगर कभी भी आपसे कोई भी पूछ ले कि ऐसी कौन सी दौलत है जो चुरा नहीं सकते बल्कि बांटने से बढ़ती है तो उसका सही जवाब होगा ज्ञान ज्ञान नॉलेज एक्सपीरियंस इन सब चीजों के रूप में ही यह इसका आंसर सही रहे सही रहेगा और अगर मेरा यह जवाब आपको सही लगा और संतुष्टि रही हो तो अपने अगले सवाल के साथ मुझसे जरूर जुड़े धन्यवाद
Savaal poochha gaya hai vah kaun see daulat hai jise koee chura nahin sakata balki baantane se badhatee hai to bahut hee muhaavare kee ek prashn hai yah janaral nolej vaala nahin hai isaka jo aansar rahega vah muhaavare taip karata hai aur is vyangyaatmak prashn ka sahee uttar hai gyaan jee haan jo aapaka gyaan rahega jis bhee pheeld mein jis bhee kshetr mein aapaka jo bhee gyaan hai jo bhee eksapeeriyans hai to vah eksapeeriyans hai aur vah gyaan jo apanee nolej jo aapane paaya hai us nolej ko koee bhee chura nahin sakata vah aapake dimaag ke andar phit hai aur vah bilkul aantarik hota hai aur ise koee bhee insaan chura nahin sakata koee jor se nahin sakata jabaki agar aapakee se baant denge to aapaka bhee isaka reejan hota rahega aur aapako bhee isake andar naee-naee cheejen seekhane ko milatee hain khud se hee isalie agar kabhee bhee aapase koee bhee poochh le ki aisee kaun see daulat hai jo chura nahin sakate balki baantane se badhatee hai to usaka sahee javaab hoga gyaan gyaan nolej eksapeeriyans in sab cheejon ke roop mein hee yah isaka aansar sahee rahe sahee rahega aur agar mera yah javaab aapako sahee laga aur santushti rahee ho to apane agale savaal ke saath mujhase jaroor jude dhanyavaad

#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker
ऐसी कौन सी मछली है जो जमीन पर भी रह सकती है?Aisi Kaun Si Machali Hai Jo Zameen Par Bhe Reh Sakti Hai
Dinesh Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dinesh जी का जवाब
Ji
0:58
सवाल पूछा गया है कि ऐसी कौन सी मछली है जो जमीन पर भी रह सकती है बहुत ही अच्छा और चंदन वाले पहला प्रश्न है तो इसका जवाब यह है कि क्रोकोडाइल जो जानवर में गिना जाता है वह मछली में ही एक्चुअली में माना गया है और भगवान श्रीकृष्ण भी भगवा गीत भगवत गीता में कहते हैं कि मैं मछलियों में मगरमच्छों इसलिए क्रोकोडाइल इसका सही आंसर है जो मगरमच्छ होता है वह पानी में भी रह सकता है और जमीन पर भी रह सकता है इसलिए क्रोकोडाइल इसका सही जवाब है और अगली बार आपको कोई भी ऐसा सवाल जनरल नॉलेज में पूछ लिया जाए तो आप इसका जवाब क्रोकोडाइल में ही जरूर दीजिएगा उम्मीद करता हूं मेरा यह उत्तर आपको दोनों तरफ से ठीक लगा होगा और संतुष्टि भी होगी अगर हां तो अपने अगले सवाल के साथ मतभेद जरूर जोड़ी आएगा धन्यवाद
Savaal poochha gaya hai ki aisee kaun see machhalee hai jo jameen par bhee rah sakatee hai bahut hee achchha aur chandan vaale pahala prashn hai to isaka javaab yah hai ki krokodail jo jaanavar mein gina jaata hai vah machhalee mein hee ekchualee mein maana gaya hai aur bhagavaan shreekrshn bhee bhagava geet bhagavat geeta mein kahate hain ki main machhaliyon mein magaramachchhon isalie krokodail isaka sahee aansar hai jo magaramachchh hota hai vah paanee mein bhee rah sakata hai aur jameen par bhee rah sakata hai isalie krokodail isaka sahee javaab hai aur agalee baar aapako koee bhee aisa savaal janaral nolej mein poochh liya jae to aap isaka javaab krokodail mein hee jaroor deejiega ummeed karata hoon mera yah uttar aapako donon taraph se theek laga hoga aur santushti bhee hogee agar haan to apane agale savaal ke saath matabhed jaroor jodee aaega dhanyavaad

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
क्या हम अपने प्यार को भूल सकते हैं?Kya Hum Apne Pyar Ko Bhul Sakte Hai
Dinesh Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dinesh जी का जवाब
Ji
2:09
सवाल पूछा गया है कि क्या हम अपने प्यार को भूल सकते हैं तो वह बहुत ही खूब प्रश्न है और सवाल करता को बता दें कि जब इंसान पहली बार जिंदगी में पहली बार प्यार करता है उसको पहली बार अपने से अच्छा कोई इंसान मिलता है जिसके लिए वह अपनी पूरी जिंदगी बिता इच्छा निछावर कर सकता है या फिर उसकी खुशी के लिए वह किसी भी हद के लिए जा सकता है तो उस इंसान को उस बंदे को या उस बंदी को भूल पाना नामुमकिन है जी हां आपकी जिंदगी आगे बढ़ जाएगी शादी हो जाएगी जॉब बिजनेस बच्चे मर जाएंगे बनाना है घर भी आ जाएगा परंतु वह इंसान आपको कभी भी आपके जेहन से बाहर नहीं जाएगा और यह पता लगे कि आपकी बिजी लाइफ में वह कुछ पल के लिए हट जाए परंतु जब भी आप अपनी जिंदगी को पीछे मुड़ कर देखेंगे या फिर जिंदगी में अपने क्या-क्या किया आपने कैसे कैसे हैं चाचा यादगार पल रहे आपके तुम यादगार पलों में उस इंसान का कहना आपके जिंदगी में जरूर आएगा क्योंकि एक रूटीन लाइफ में आप जो भी कर रहे हैं वह चीज कभी भी याद नहीं रहेगी परंतु जब भी आपकी जिंदगी में कुछ अलग होगा जिसके लिए आप बहुत ही अलर्ट रहे या बिल्कुल ही दंग रह गए तो वह चीजें हमेशा याद करती हैं और आपने जब पहली बार जिंदगी में प्यार किया होगा किसी से वह चीज तो बिल्कुल ही नहीं है और आपकी जिंदगी में सबसे अलग थी तो वह चीज कभी भी आप भूल नहीं पाएंगे उम्मीद करता हूं आपके इस सवाल जवाब से आप संतुष्ट हुए होंगे अगर हां तो अपने अगले सवाल के साथ मुझसे जरूर जुड़िए गा धन्यवाद
Savaal poochha gaya hai ki kya ham apane pyaar ko bhool sakate hain to vah bahut hee khoob prashn hai aur savaal karata ko bata den ki jab insaan pahalee baar jindagee mein pahalee baar pyaar karata hai usako pahalee baar apane se achchha koee insaan milata hai jisake lie vah apanee pooree jindagee bita ichchha nichhaavar kar sakata hai ya phir usakee khushee ke lie vah kisee bhee had ke lie ja sakata hai to us insaan ko us bande ko ya us bandee ko bhool paana naamumakin hai jee haan aapakee jindagee aage badh jaegee shaadee ho jaegee job bijanes bachche mar jaenge banaana hai ghar bhee aa jaega parantu vah insaan aapako kabhee bhee aapake jehan se baahar nahin jaega aur yah pata lage ki aapakee bijee laiph mein vah kuchh pal ke lie hat jae parantu jab bhee aap apanee jindagee ko peechhe mud kar dekhenge ya phir jindagee mein apane kya-kya kiya aapane kaise kaise hain chaacha yaadagaar pal rahe aapake tum yaadagaar palon mein us insaan ka kahana aapake jindagee mein jaroor aaega kyonki ek rooteen laiph mein aap jo bhee kar rahe hain vah cheej kabhee bhee yaad nahin rahegee parantu jab bhee aapakee jindagee mein kuchh alag hoga jisake lie aap bahut hee alart rahe ya bilkul hee dang rah gae to vah cheejen hamesha yaad karatee hain aur aapane jab pahalee baar jindagee mein pyaar kiya hoga kisee se vah cheej to bilkul hee nahin hai aur aapakee jindagee mein sabase alag thee to vah cheej kabhee bhee aap bhool nahin paenge ummeed karata hoon aapake is savaal javaab se aap santusht hue honge agar haan to apane agale savaal ke saath mujhase jaroor judie ga dhanyavaad

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
आपको तो अच्छे भारत में क्या पसंद नहीं है?Aapko To Ache Bharat Mein Kya Pasand Nahi Hai
Dinesh Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dinesh जी का जवाब
Ji
1:57
सवाल पूछा गया है आपको तो अच्छे भारत में क्या पसंद नहीं है वैसे जो चीज़ अपनी होती है जो चीज हमारी खुद की होती है उसमें ना पसंद की चीज भले ही हो भी तो भी वह अच्छी सी लगती है तो भारत सर्वश्रेष्ठ है हमारे हिसाब से परंतु अगर कुछ ऐसी चीज आप पर्सनली पूछ ले तो मैं अपने मत अनुसार यह कहूंगा कि यहां पर लॉ एंड ऑर्डर का जो सिस्टम है वह थोड़ा सा अभिलाषा है अच्छा नहीं है ढीला है बस तो यह चीज है कि अगर लॉयन ऑर्डर बिल्कुल सही तरीके से अपना लिया जाए कोर्ट में इतने सारे कैसे हैं पेंडिंग है और कानून जो है वह सही जगह पर सही तरीके से काम नहीं कर रहा है और अब किसी को सजा देनी है किसी को बेल करनी है किसी को तो फिर यह सब जो चीजें होती हैं और पैसे की ट्राफिक पुलिस है तो उन सब चीजों के रिगार्डिंग में जलन और जितने भी कानून हैं जितने भी उसके आर्डर हैं वह सब जो चीज है वह थोड़ी सी कम अच्छे से लागू हुई है या फिर उसका जो इस फोन से उतना अच्छा नहीं है तो अगर यह ठीक हो जाए तो मैं समझता हूं यहां पर ना कचरा रहेगा ना कभी ना कभी कोई कानून तोड़ेगा ना कभी कोई सिग्नल तोड़ेगा तो यह लॉयन ऑर्डर अगर एक ठीक हो जाएगा तो मैं समझता हूं भारत में एक नए युग की शुरुआत हो जाएगी और भारत भी सबसे श्रेष्ठ उत्सव बन जाएगा जब लॉयन ऑर्डर ठीक हो जाएगा उम्मीद करता हूं इस जवाब के साथ आप संतुष्ट रहे होंगे अगर हां तो अपने अगले सवाल के साथ मुझसे जरूर जोड़ लीजिएगा धन्यवाद
Savaal poochha gaya hai aapako to achchhe bhaarat mein kya pasand nahin hai vaise jo cheez apanee hotee hai jo cheej hamaaree khud kee hotee hai usamen na pasand kee cheej bhale hee ho bhee to bhee vah achchhee see lagatee hai to bhaarat sarvashreshth hai hamaare hisaab se parantu agar kuchh aisee cheej aap parsanalee poochh le to main apane mat anusaar yah kahoonga ki yahaan par lo end ordar ka jo sistam hai vah thoda sa abhilaasha hai achchha nahin hai dheela hai bas to yah cheej hai ki agar loyan ordar bilkul sahee tareeke se apana liya jae kort mein itane saare kaise hain pending hai aur kaanoon jo hai vah sahee jagah par sahee tareeke se kaam nahin kar raha hai aur ab kisee ko saja denee hai kisee ko bel karanee hai kisee ko to phir yah sab jo cheejen hotee hain aur paise kee traaphik pulis hai to un sab cheejon ke rigaarding mein jalan aur jitane bhee kaanoon hain jitane bhee usake aardar hain vah sab jo cheej hai vah thodee see kam achchhe se laagoo huee hai ya phir usaka jo is phon se utana achchha nahin hai to agar yah theek ho jae to main samajhata hoon yahaan par na kachara rahega na kabhee na kabhee koee kaanoon todega na kabhee koee signal todega to yah loyan ordar agar ek theek ho jaega to main samajhata hoon bhaarat mein ek nae yug kee shuruaat ho jaegee aur bhaarat bhee sabase shreshth utsav ban jaega jab loyan ordar theek ho jaega ummeed karata hoon is javaab ke saath aap santusht rahe honge agar haan to apane agale savaal ke saath mujhase jaroor jod leejiega dhanyavaad

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
आप किसी को रिलेशनशिप के लिए सबसे अच्छी सलाह क्या दे सकते हैं?Aap Kisi Ko Relationship Ke Lie Sabse Achi Salaah Kya De Sakte Hain
Dinesh Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dinesh जी का जवाब
Ji
2:15
सवाल पूछा गया है कि आप किसी को रिलेशनशिप के लिए सबसे अच्छी सलाह क्या दे सकते हैं तो इसके हजारों जवाब हो सकते हैं और सबके सोच के अनुसार वह अपना जवाब नहीं याद कर सकता है परंतु अगर आप मुझसे उससे पूछ रहे हैं तो मैं अपनी बुद्धि के अनुसार आपको छोटी सी सलाह दे सकता हूं उसके लिए कि जब भी कोई इंसान रिलेशन रिलेशनशिप में होता है तो उसको हमेशा यही डर लगता रहता है कहीं ना कहीं कि यह रिलेशनशिप या यह जो रिलेशन है वह बहुत लंबे समय तक रहे यह इतनी होप तो होती है कि रिलेशन जब जुड़ गया है तो यह लोंग लास्टिंग रहेगा ज्यादा सालों तक हमेशा मरते दम तक रहे तो आप उनको अच्छी चलाइए दे सकते हैं कि जब भी कभी भी कुछ रिलेशन में कुछ ऊंच-नीच आ जाए या थोड़ी सी खटास आ जाए तब अपने गुस्से को कंट्रोल करके अपनी वाणी को कंट्रोल करके आप उस समय चुप हो जाएगा किसी पर्टिकुलर जगह पर अकेले अकेले चले जाएं कुछ दिनों के लिए ताकि उस रिश्ते में मिठास लाने के लिए थोड़ा सा समय मिल जाएगा और जो भी खटास रही होगी वह वक्त के साथ अपने आप ही निकल जाएगी तो मैं समझता हूं कि हर एक इंसान को अपने रिलेशनशिप में आए अपने रिश्तो पर आई खटास को मिटाने के लिए थोड़ा मौन रहना चाहिए या फिर कहीं दूर अकेले भाग जाना चाहिए कुछ समय के लिए ताकि वह खटास जो है वह अपना जब आई हुई है अपने आप चली भी जाए और जो रिश्ता है वह पहले की तरह अपनी मिठास बरकरार बनाए रखें उम्मीद करता हूं मेरा यह जवाब कुछ लोगों को संतुष्टि देगा अगर हां तो अगले साल के साथ मतभेद जरूर जुड़े धन्यवाद
Savaal poochha gaya hai ki aap kisee ko rileshanaship ke lie sabase achchhee salaah kya de sakate hain to isake hajaaron javaab ho sakate hain aur sabake soch ke anusaar vah apana javaab nahin yaad kar sakata hai parantu agar aap mujhase usase poochh rahe hain to main apanee buddhi ke anusaar aapako chhotee see salaah de sakata hoon usake lie ki jab bhee koee insaan rileshan rileshanaship mein hota hai to usako hamesha yahee dar lagata rahata hai kaheen na kaheen ki yah rileshanaship ya yah jo rileshan hai vah bahut lambe samay tak rahe yah itanee hop to hotee hai ki rileshan jab jud gaya hai to yah long laasting rahega jyaada saalon tak hamesha marate dam tak rahe to aap unako achchhee chalaie de sakate hain ki jab bhee kabhee bhee kuchh rileshan mein kuchh oonch-neech aa jae ya thodee see khataas aa jae tab apane gusse ko kantrol karake apanee vaanee ko kantrol karake aap us samay chup ho jaega kisee partikular jagah par akele akele chale jaen kuchh dinon ke lie taaki us rishte mein mithaas laane ke lie thoda sa samay mil jaega aur jo bhee khataas rahee hogee vah vakt ke saath apane aap hee nikal jaegee to main samajhata hoon ki har ek insaan ko apane rileshanaship mein aae apane rishto par aaee khataas ko mitaane ke lie thoda maun rahana chaahie ya phir kaheen door akele bhaag jaana chaahie kuchh samay ke lie taaki vah khataas jo hai vah apana jab aaee huee hai apane aap chalee bhee jae aur jo rishta hai vah pahale kee tarah apanee mithaas barakaraar banae rakhen ummeed karata hoon mera yah javaab kuchh logon ko santushti dega agar haan to agale saal ke saath matabhed jaroor jude dhanyavaad

#रिश्ते और संबंध

Dinesh Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dinesh जी का जवाब
Ji
1:54
सवाल पूछा गया है कि सूरत कैसी भी हो मन सुंदर है क्या इस वाक्य को तारीफ माना जाना चाहिए या नहीं तो सवाल करता को बता दें कि दुनिया में दो तरीके के रिश्ते होते हैं एक वह जो शुरुआत में अच्छे से अच्छे तरीके से निभाए जाते हैं परंतु आगे चलकर वह ठीक तरीके से नहीं निभाया जाते हैं और दूसरे वो जो पहले कुछ अच्छे ना भी हो पर थोड़ी जानने के बाद थोड़ा और समय देने के बाद वह ज्यादा अच्छे लगने लगते हैं वह ज्यादा इंपॉर्टेंट लगने लगते हैं अपने आपको तो अगर कोई यह कह रहा है कि आपका मन सुंदर है भले सूरत कैसी भी है तो इसका मतलब आप दूसरी कैटेगरी के लोग हो जिसके साथ भले ही शुरुआत में इंसान कम जुड़ना पसंद करेगा परंतु वह लोंग लास्टिंग रहेगा और आपके साथ जुड़कर सामने वाला इंसान अपने आप को लकी समझेगा तो यह आप उनकी तारीफ के समय तारीफ के रूप में ही आप उसको ले ले यह मेरा मानना है और अगर आपको कोई बदसूरत डायरेक्टली कह रहा है तो बेशक वह आपकी निंदा कर रहा है परंतु अगर कोई यह कह रहा है कि आपका मन बहुत सुंदर है तो वह आप को मोटिवेट करने की इच्छा सही कह रहा है कि आप अपने रूप को ज्यादा ध्यान ना दें आपका मन बहुत साफ है और इससे आप अपनी फैमिली अपनी दुनिया को भी जीत सकते हैं और अगर मेरा यह जवाब आप को संतुष्ट कर दे तो अपने अगले सवाल के साथ मुझसे जरूर जुड़े हैं उम्मीद करता हूं आप किसी तरीके से मोटिवेट रहेंगे खुश रहेंगे धन्यवाद
Savaal poochha gaya hai ki soorat kaisee bhee ho man sundar hai kya is vaaky ko taareeph maana jaana chaahie ya nahin to savaal karata ko bata den ki duniya mein do tareeke ke rishte hote hain ek vah jo shuruaat mein achchhe se achchhe tareeke se nibhae jaate hain parantu aage chalakar vah theek tareeke se nahin nibhaaya jaate hain aur doosare vo jo pahale kuchh achchhe na bhee ho par thodee jaanane ke baad thoda aur samay dene ke baad vah jyaada achchhe lagane lagate hain vah jyaada importent lagane lagate hain apane aapako to agar koee yah kah raha hai ki aapaka man sundar hai bhale soorat kaisee bhee hai to isaka matalab aap doosaree kaitegaree ke log ho jisake saath bhale hee shuruaat mein insaan kam judana pasand karega parantu vah long laasting rahega aur aapake saath judakar saamane vaala insaan apane aap ko lakee samajhega to yah aap unakee taareeph ke samay taareeph ke roop mein hee aap usako le le yah mera maanana hai aur agar aapako koee badasoorat daayarektalee kah raha hai to beshak vah aapakee ninda kar raha hai parantu agar koee yah kah raha hai ki aapaka man bahut sundar hai to vah aap ko motivet karane kee ichchha sahee kah raha hai ki aap apane roop ko jyaada dhyaan na den aapaka man bahut saaph hai aur isase aap apanee phaimilee apanee duniya ko bhee jeet sakate hain aur agar mera yah javaab aap ko santusht kar de to apane agale savaal ke saath mujhase jaroor jude hain ummeed karata hoon aap kisee tareeke se motivet rahenge khush rahenge dhanyavaad

#जीवन शैली

bolkar speaker
आप जरूरत से ज्यादा चालाक लोगों के साथ कैसे पेश आते हैं?Aap Jarurat Se Jyada Chalaak Logon Ke Sath Kaise Pesh Aate Hai
Dinesh Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dinesh जी का जवाब
Ji
1:55
सवाल पूछा गया है कि आप जरूरत से ज्यादा चालाक लोगों से कैसे पेश आते हैं यह हर किसी के पर्सनल व्यूज होंगे इसके जवाब के ऊपर और सवाल करता को बता दें कि अगर आप मेरा खुद का एक्सपीरियंस पूछना चाहते हैं तो जितने भी मुझे चालाक लोग मिले हैं उनके साथ हमेशा नम्रता से पेश आएं उनको ज्यादा मानदेय लें कि हां भाई आप बहुत ही ऊपर है और हम बहुत ही नीचे हैं और हमारे तो दिमाग में हमारे दिमाग की शान है कि नहीं कुछ कैपेसिटी ही नहीं है कि हम आपके जितना सोच सके हैं उसी तरीके से हम लोग उनको व्यवहार करते हैं यह हमारी सोच होती है हम उनको बोलना नहीं है कि आप बहुत ज्यादा चालाक हैं आप बहुत ज्यादा तेज हैं हम बहुत ज्यादा बेवकूफ हैं परंतु हमारे व्यवहार में हमेशा यह रहता है कि हां भाई आप बहुत ही ऊंचे हैं आप अपनी ऊंचाई को हमेशा टॉप पर यहां तो फिर दूसरा चीज यह हो सकता है कि अगर हम वह हमारे बहुत ही ज्यादा करीब है तो उस चालाक लोगों को हम मोटिवेशनल स्टोरीज बता सकते हैं जिसमें यह पता चल सके कि घमंड जो होता है वह हमेशा उसका नाश हो जाता है जैसे कि शिशुपाल का हुआ अर्जुन का हुआ ऐसी ऐसी जो चोरी होती है वह उनको सुना दी जाती है परंतु जब विच व्यवहार का जब बाद आता है तब हमेशा उनको ज्यादा मान देना चाहिए ताकि ताकि वह लोग कभी भी ज्यादा बढ़ कि नहीं और नॉर्मल जो संतुलन है वह बना रहे उम्मीद करता हूं इस सवाल के साथ इस जवाब के साथ आप संतुष्ट रहे होंगे अगर हां तो अगले सवाल के साथ व्हाट्सएप जरूर जुड़ जाएगा धन्यवाद
Savaal poochha gaya hai ki aap jaroorat se jyaada chaalaak logon se kaise pesh aate hain yah har kisee ke parsanal vyooj honge isake javaab ke oopar aur savaal karata ko bata den ki agar aap mera khud ka eksapeeriyans poochhana chaahate hain to jitane bhee mujhe chaalaak log mile hain unake saath hamesha namrata se pesh aaen unako jyaada maanadey len ki haan bhaee aap bahut hee oopar hai aur ham bahut hee neeche hain aur hamaare to dimaag mein hamaare dimaag kee shaan hai ki nahin kuchh kaipesitee hee nahin hai ki ham aapake jitana soch sake hain usee tareeke se ham log unako vyavahaar karate hain yah hamaaree soch hotee hai ham unako bolana nahin hai ki aap bahut jyaada chaalaak hain aap bahut jyaada tej hain ham bahut jyaada bevakooph hain parantu hamaare vyavahaar mein hamesha yah rahata hai ki haan bhaee aap bahut hee oonche hain aap apanee oonchaee ko hamesha top par yahaan to phir doosara cheej yah ho sakata hai ki agar ham vah hamaare bahut hee jyaada kareeb hai to us chaalaak logon ko ham motiveshanal storeej bata sakate hain jisamen yah pata chal sake ki ghamand jo hota hai vah hamesha usaka naash ho jaata hai jaise ki shishupaal ka hua arjun ka hua aisee aisee jo choree hotee hai vah unako suna dee jaatee hai parantu jab vich vyavahaar ka jab baad aata hai tab hamesha unako jyaada maan dena chaahie taaki taaki vah log kabhee bhee jyaada badh ki nahin aur normal jo santulan hai vah bana rahe ummeed karata hoon is savaal ke saath is javaab ke saath aap santusht rahe honge agar haan to agale savaal ke saath vhaatsep jaroor jud jaega dhanyavaad

#जीवन शैली

bolkar speaker
सबकॉन्शियस माइंड में किसी भी चीज को एकदम गहराई तक कैसे पहुंचा दे सकते हैं?Subconcious Mind Mein Kisi Bhe Cheej Ko Ekdam Gehrayi Tak Kaise Paucha De Sakte Hain
Dinesh Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dinesh जी का जवाब
Ji
2:16
कुछ आ गया है किस सबकॉन्शियस माइंड में किसी भी चीज को एकदम गहराई तक कैसे पहुंचा दे सकते हैं तो सबकॉन्शियस माइंड अभी खुलता है जब इंसान किसी भी चीज को लेकर बहुत ज्यादा अलर्ट रहता है जी हां बहुत ज्यादा अलर्ट होता है या बहुत ज्यादा शौक होता है तभी वह चीज सबकॉन्शियस माइंड की गहराई तक पहुंचती है अगर आप कोई भी काम रूटीन में कर रहे हैं कोई भी चीज हो आपका जॉब हो आपका बिजनेस हो आपका रूटीन का काम हो खाना बनाना हो तो वह रूटीन जो होता है वह कभी भी सबकॉन्शियस माइंड में नहीं जाएगा परंतु आपने समझ लो एक एग्जांपल के तौर पर आप आज ऑफिस गए काम करने गए और वहां पर बिल्कुल नॉर्मल सा चल रहा है अचानक से आपको बहुत ज्यादा तारीफ मिल गई एक जगह पर बहुत ज्यादा तारीफ मिल गई और वह आपने कभी सोची भी नहीं थी या फिर बहुत ज्यादा अपमान हो गया जो आपने कभी जिंदगी में नहीं सोचा था कि ऐसा मानने मेरा हो सकता है तो एक शौक है और एक ऐसी चीज है जो कभी आपने सोच नहीं थी बिल्कुल अलर्ट नेस हो जाती है कि ऐसी चीज भी कभी हो सकती है क्या कि मेरी तारीफ हो रही है तो कुछ ऐसे जो शॉप होते हैं कुछ ऐसे जो अलर्ट होते हैं जो अलर्ट और शॉप होते हैं जो बिल्कुल ही नॉर्मल लाइफ से बिल्कुल ही हटके होते हैं तो वह चीज हमेशा सबकॉन्शियस माइंड की गहराई तक पहुंचा दी जा सकती है परंतु रूटीन लाइफ में कुछ भी चीज हमें आज हमारे सबकॉन्शियस माइंड में नहीं जाती है वह आती है और वह से सीधा चली जाती है इसलिए अगर कुछ अलग चीज हो रही है आपकी लाइफ में और सबकॉन्शियस माइंड में जरूर जाएगी जरूर से हो जाएगी और वक्त आने पर वह कभी ना कभी याद आ जाती है कि हमारे साथ ऐसा हुआ था हमारे साथ बिल्कुल वैसा वह चीज हमेशा याद रह जाती है या फिर कभी कभी याद आ जा सकती है उम्मीद करता हूं इस सवाल के साथ इस जवाब के साथ आप संतुष्ट रहे होंगे अगले साल के साथ मुझसे जरूर जुड़ जाएगा धन्यवाद
Kuchh aa gaya hai kis sabakonshiyas maind mein kisee bhee cheej ko ekadam gaharaee tak kaise pahuncha de sakate hain to sabakonshiyas maind abhee khulata hai jab insaan kisee bhee cheej ko lekar bahut jyaada alart rahata hai jee haan bahut jyaada alart hota hai ya bahut jyaada shauk hota hai tabhee vah cheej sabakonshiyas maind kee gaharaee tak pahunchatee hai agar aap koee bhee kaam rooteen mein kar rahe hain koee bhee cheej ho aapaka job ho aapaka bijanes ho aapaka rooteen ka kaam ho khaana banaana ho to vah rooteen jo hota hai vah kabhee bhee sabakonshiyas maind mein nahin jaega parantu aapane samajh lo ek egjaampal ke taur par aap aaj ophis gae kaam karane gae aur vahaan par bilkul normal sa chal raha hai achaanak se aapako bahut jyaada taareeph mil gaee ek jagah par bahut jyaada taareeph mil gaee aur vah aapane kabhee sochee bhee nahin thee ya phir bahut jyaada apamaan ho gaya jo aapane kabhee jindagee mein nahin socha tha ki aisa maanane mera ho sakata hai to ek shauk hai aur ek aisee cheej hai jo kabhee aapane soch nahin thee bilkul alart nes ho jaatee hai ki aisee cheej bhee kabhee ho sakatee hai kya ki meree taareeph ho rahee hai to kuchh aise jo shop hote hain kuchh aise jo alart hote hain jo alart aur shop hote hain jo bilkul hee normal laiph se bilkul hee hatake hote hain to vah cheej hamesha sabakonshiyas maind kee gaharaee tak pahuncha dee ja sakatee hai parantu rooteen laiph mein kuchh bhee cheej hamen aaj hamaare sabakonshiyas maind mein nahin jaatee hai vah aatee hai aur vah se seedha chalee jaatee hai isalie agar kuchh alag cheej ho rahee hai aapakee laiph mein aur sabakonshiyas maind mein jaroor jaegee jaroor se ho jaegee aur vakt aane par vah kabhee na kabhee yaad aa jaatee hai ki hamaare saath aisa hua tha hamaare saath bilkul vaisa vah cheej hamesha yaad rah jaatee hai ya phir kabhee kabhee yaad aa ja sakatee hai ummeed karata hoon is savaal ke saath is javaab ke saath aap santusht rahe honge agale saal ke saath mujhase jaroor jud jaega dhanyavaad

#जीवन शैली

bolkar speaker
क्या किसी की निंदा करने से मन को सुकून मिलता है?Kya Kisi Ki Ninda Karne Se Man Ko Sukoon Milta Hai
Dinesh Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dinesh जी का जवाब
Ji
2:04
सवाल पूछा गया है कि क्या किसी की निंदा करने से मन को सुकून मिलता है या नहीं बहुत ही खूब प्रश्न है और सवाल करता को बता दें कि निंदा जो है वह तो सबसे पहले तो एक बुराई है वह पूरी दुनिया जानती है कि निंदा की बुराई होती है और इंसान अगर किसी भी चीज किसी भी चीज का ध्यान करें अब ध्यान पैसा वाला ध्यान नहीं कि हम लोग हाथ पांव जंप करके योगासन में बैठकर पद्मासन में बैठ जाएं और उसका ध्यान करें पैसा वाला ध्यान नहीं परंतु हमारा मन किसी भी चीज को चर्चा में ले आ रहा है या किसी के बारे में सोच रहा है तो हमारा मन वैसा ही हो जाएगा तो अगर हम बुराई के बारे में ज्यादा सोचते हैं आधा चर्चा करते हैं या उसकी कल हमने उसका स्वभाव ऐसा हो गया कि हमने उसकी निंदा कर ली तो हमने ना तो कभी उससे तो उसको सामने वाले को तो फायदा नहीं होगा कुछ भी ना ही उसको कुछ नुकसान है परंतु उसका ध्यान करके हमने अपना जो मन है वह ज्यादा बिगाड़ दिया यह नॉर्मल सी बात है इसमें कोई बड़ा साइंस नहीं है कि सामने वाला जैसा हम लोग सोचेंगे वैसा हम लोग बन जाएंगे तो अगर बुराई के बारे में सोचते हैं या चर्चा कर रहे हैं तो सीधी सी बातें बुरी आदतें या बुरी चीजें बुरे सोच हमारे दिमाग में आना शुरू हो जाएगा इसलिए जितना हो सके धंधा से बच्चे और अपनी जिंदगी को एक अच्छी चीजों के लिए अच्छे अच्छे गुण जो होते हैं सामने वालों के इंसान के अंदर निंदा को दूर करके अच्छे गुणों के बारे में ज्यादा चर्चा करें तो आपका खुद का मन भी शुद्ध होना शुरू हो जाएगा उम्मीद करता हूं इस छोटे से जवाब के साथ आप संतुष्ट रहे होंगे अगर हां तो अपने अगले सवाल के साथ मुझसे जरूर जुड़ जाएगा धन्यवाद
Savaal poochha gaya hai ki kya kisee kee ninda karane se man ko sukoon milata hai ya nahin bahut hee khoob prashn hai aur savaal karata ko bata den ki ninda jo hai vah to sabase pahale to ek buraee hai vah pooree duniya jaanatee hai ki ninda kee buraee hotee hai aur insaan agar kisee bhee cheej kisee bhee cheej ka dhyaan karen ab dhyaan paisa vaala dhyaan nahin ki ham log haath paanv jamp karake yogaasan mein baithakar padmaasan mein baith jaen aur usaka dhyaan karen paisa vaala dhyaan nahin parantu hamaara man kisee bhee cheej ko charcha mein le aa raha hai ya kisee ke baare mein soch raha hai to hamaara man vaisa hee ho jaega to agar ham buraee ke baare mein jyaada sochate hain aadha charcha karate hain ya usakee kal hamane usaka svabhaav aisa ho gaya ki hamane usakee ninda kar lee to hamane na to kabhee usase to usako saamane vaale ko to phaayada nahin hoga kuchh bhee na hee usako kuchh nukasaan hai parantu usaka dhyaan karake hamane apana jo man hai vah jyaada bigaad diya yah normal see baat hai isamen koee bada sains nahin hai ki saamane vaala jaisa ham log sochenge vaisa ham log ban jaenge to agar buraee ke baare mein sochate hain ya charcha kar rahe hain to seedhee see baaten buree aadaten ya buree cheejen bure soch hamaare dimaag mein aana shuroo ho jaega isalie jitana ho sake dhandha se bachche aur apanee jindagee ko ek achchhee cheejon ke lie achchhe achchhe gun jo hote hain saamane vaalon ke insaan ke andar ninda ko door karake achchhe gunon ke baare mein jyaada charcha karen to aapaka khud ka man bhee shuddh hona shuroo ho jaega ummeed karata hoon is chhote se javaab ke saath aap santusht rahe honge agar haan to apane agale savaal ke saath mujhase jaroor jud jaega dhanyavaad

#जीवन शैली

bolkar speaker
हम अपने जीवन से किसी को हमेशा के लिए कैसे निकाल सकते हैं?Ham Apane Jeevan Se Kisee Ko Hamesha Ke Lie Kaise Nikaal Sakate Hain
Dinesh Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dinesh जी का जवाब
Ji
2:25
सवाल पूछा गया है कि हम अपने जीवन से किसी को हमेशा के लिए कैसे निकाल सकते हैं थोड़ा सा बड़ा सवाल है परंतु इस चीज को मैंने खुद ने आजमाया हुआ है और अपने एक्सपीरियंस के साथ में आपको जरूर सही रास्ता दिखा दूंगा कि जिससे सामने वाले इंसान को आप अपनी जिंदगी से अच्छी तरीके से तो जभी भी ऐसा कोई इंसान है जो आप बिल्कुल भी पसंद नहीं करते यार जिससे आप चिढ़ गए हो जिसको आप अपनी लाइफ में रखना ही नहीं चाहते तो उस इंसान की किसी भी एक्शन पर किसी भी मूवमेंट पर आप इसको इग्नोर कर दें या अनदेखा कर दें जी हां इग्नोर करना जो है वह सबसे बड़ा हथियार है एक इंसान को अपनी जिंदगी से निकालने के लिए अगर आप उसकी तारीफ करेंगे या हंसी मजाक करेंगे तो आपको पसंद आने लगेगा दिल में रहेगा और अगर आप उसकी बुराई कर रहे हैं नफरत कर रहे हैं या झगड़ा कर रहे हैं तो वह आपके दिमाग में भी बैठा रहेगा परंतु अगर आप उस को अनदेखा कर रहे हैं और अपने काम में व्यस्त हो जाते हैं अब उसकी किसी भी मूवमेंट पर ध्यान नहीं दे रहे हैं तो यह चीज उसके सामने वाले के सेल्फ रिस्पेक्ट पर अटैक करता है और जब भी ज्यादा बार प्रहार होगा वह जब भी आपको मनाएगा बोखला जाएगा आपको मनाएगा थोड़ा गुस्सा करेगा आप उसको भी अनदेखा कर देंगे तो उस उस अटैक के बाद वह सेल्फ रिस्पेक्ट प्रजापत टाइप होता है तो इंसान कभी भी सहन नहीं कर पाता और वह वापस अपने जिंदगी में चला जाएगा और हमेशा आपकी जिंदगी से निकाल दिया क्योंकि वह हमेशा यह सोचता रहता है कि मैं इतना भी काबिल नहीं हूं कि वह मुझे जवाब दे पाए इसलिए अभी भी वह कुछ भी सवाल कर रहे हैं आप उस को अनदेखा कर तो सामने वाला इंसान आपकी जिंदगी से बहुत ही जल्द निकल जाएगा उम्मीद करता हूं आपने सही उद्देश्य के लिए और गलत लोगों को ही सिर्फ अपनी जिंदगी से निकालने के लिए यह सवाल पूछा है अगर मेरा यह जवाब आप को संतुष्ट कर दे तो अपने अगले सभा के साथ जरूर जुड़ जाएगा धन्यवाद
Savaal poochha gaya hai ki ham apane jeevan se kisee ko hamesha ke lie kaise nikaal sakate hain thoda sa bada savaal hai parantu is cheej ko mainne khud ne aajamaaya hua hai aur apane eksapeeriyans ke saath mein aapako jaroor sahee raasta dikha doonga ki jisase saamane vaale insaan ko aap apanee jindagee se achchhee tareeke se to jabhee bhee aisa koee insaan hai jo aap bilkul bhee pasand nahin karate yaar jisase aap chidh gae ho jisako aap apanee laiph mein rakhana hee nahin chaahate to us insaan kee kisee bhee ekshan par kisee bhee moovament par aap isako ignor kar den ya anadekha kar den jee haan ignor karana jo hai vah sabase bada hathiyaar hai ek insaan ko apanee jindagee se nikaalane ke lie agar aap usakee taareeph karenge ya hansee majaak karenge to aapako pasand aane lagega dil mein rahega aur agar aap usakee buraee kar rahe hain napharat kar rahe hain ya jhagada kar rahe hain to vah aapake dimaag mein bhee baitha rahega parantu agar aap us ko anadekha kar rahe hain aur apane kaam mein vyast ho jaate hain ab usakee kisee bhee moovament par dhyaan nahin de rahe hain to yah cheej usake saamane vaale ke selph rispekt par ataik karata hai aur jab bhee jyaada baar prahaar hoga vah jab bhee aapako manaega bokhala jaega aapako manaega thoda gussa karega aap usako bhee anadekha kar denge to us us ataik ke baad vah selph rispekt prajaapat taip hota hai to insaan kabhee bhee sahan nahin kar paata aur vah vaapas apane jindagee mein chala jaega aur hamesha aapakee jindagee se nikaal diya kyonki vah hamesha yah sochata rahata hai ki main itana bhee kaabil nahin hoon ki vah mujhe javaab de pae isalie abhee bhee vah kuchh bhee savaal kar rahe hain aap us ko anadekha kar to saamane vaala insaan aapakee jindagee se bahut hee jald nikal jaega ummeed karata hoon aapane sahee uddeshy ke lie aur galat logon ko hee sirph apanee jindagee se nikaalane ke lie yah savaal poochha hai agar mera yah javaab aap ko santusht kar de to apane agale sabha ke saath jaroor jud jaega dhanyavaad

#जीवन शैली

bolkar speaker
जब मन में बहुत कुछ करने की इच्छा हो लेकिन समय और साधन समिति हो तो क्या करना चाहिए?Jab Man Me Bahut Kuch Karne Ki Iccha Ho Kintu Samaye Aur Saadhan Simit Ho To Kya Karna Chayia
Dinesh Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dinesh जी का जवाब
Ji
2:26
सवाल पूछा गया है जब मन में बहुत कुछ करने की इच्छा हो तो किंतु समय और साधन सीमित हो तो क्या करना चाहिए तो बहुत ही अच्छा प्रश्न है उम्मीद करता हूं इस जवाब के साथ बहुत लोगों को रास्ता मिल जाएगा तो सवाल करता तो बता दें कि जब भी मन में बहुत कुछ करने की इच्छा आ जाए और हमारे पास साधन आप दोनों की कमी हो जाए तो सबसे पहले यह करें कि आप उसकी जड़ को पकड़ लो कि स्टार्ट कहां से करना है क्योंकि हमेशा लक्ष्य जब भी हम लोग चाहते हैं तो सबसे पहले एक एक ही पॉइंट पर देखा जाता है ना कि पूरे गोले पर तो पूरा जो गोला होता है वह तो बहुत ही अति सुंदर होता है परंतु जब लक्ष्य सकते हैं तो एक ही पॉइंट पर हमारी नजर होती है स्टार्टिंग प्वाइंट हमारी तो चैटिंग कहां से करनी है उस पर अपना ध्यान जो है वह ज्यादा केंद्रित करना चाहिए क्योंकि मैं आपको एक छोटा सा एक एग्जांपल दे देता हूं कि अगर कोई इंसान सोचे कि मैं को एक बहुत बड़ा हॉस्पिटल खोलना है डॉक्टर बनना है और मैं बहुत ज्यादा स्टाफ रखूंगा इतने सारे मशीन ले लूंगा ऑपरेशन करवा लूंगा इतने सारे उसके और ब्रांच इसको लूंगा तू सबसे पहले यह सब चीजें तभी होगी जब वह डॉक्टर बनेगा और डॉक्टर बनने के लिए क्या करना है उसको एमबीबीएस करने एमडी करना है उसमें स्पेशलाइजेशन करना है तो इस तरीके से जो भी करना है जो स्टार्टिंग ऑफ द ट्रैप है उसके ऊपर ज्यादा ध्यान केंद्रित होगा तभी वह डॉक्टर बन जाएगा फिर बड़ी हॉस्पिटल कौन है वह सब बात की बात है वह तभी होगा जब यह सब चीजें पॉसिबल हो जाएंगे पहला तब जो है वह क्लियर हो जाएगा और जैसे ही पहला स्टेप क्लियर होता है तो दूसरा स्टेप अपने आप सामने आ जाता है यह हमेशा देखा गया है और यह बिल्कुल इसलिए जब भी कोई अच्छा आज है बहुत कुछ करने की अपने पहले टाइप की हो हमेशा ध्यान दें और उस टाइप के साथ आपका दूसरा शब्द हंड्रेड परसेंट क्लियर हो जाएगा ऐसा मेरा अनुभव कहता है अगर यह जवाब संतुष्ट कर दे तो अगले सवाल के साथ जरूर जुड़ जाएगा धन्यवाद
Savaal poochha gaya hai jab man mein bahut kuchh karane kee ichchha ho to kintu samay aur saadhan seemit ho to kya karana chaahie to bahut hee achchha prashn hai ummeed karata hoon is javaab ke saath bahut logon ko raasta mil jaega to savaal karata to bata den ki jab bhee man mein bahut kuchh karane kee ichchha aa jae aur hamaare paas saadhan aap donon kee kamee ho jae to sabase pahale yah karen ki aap usakee jad ko pakad lo ki staart kahaan se karana hai kyonki hamesha lakshy jab bhee ham log chaahate hain to sabase pahale ek ek hee point par dekha jaata hai na ki poore gole par to poora jo gola hota hai vah to bahut hee ati sundar hota hai parantu jab lakshy sakate hain to ek hee point par hamaaree najar hotee hai staarting pvaint hamaaree to chaiting kahaan se karanee hai us par apana dhyaan jo hai vah jyaada kendrit karana chaahie kyonki main aapako ek chhota sa ek egjaampal de deta hoon ki agar koee insaan soche ki main ko ek bahut bada hospital kholana hai doktar banana hai aur main bahut jyaada staaph rakhoonga itane saare masheen le loonga opareshan karava loonga itane saare usake aur braanch isako loonga too sabase pahale yah sab cheejen tabhee hogee jab vah doktar banega aur doktar banane ke lie kya karana hai usako emabeebeees karane emadee karana hai usamen speshalaijeshan karana hai to is tareeke se jo bhee karana hai jo staarting oph da traip hai usake oopar jyaada dhyaan kendrit hoga tabhee vah doktar ban jaega phir badee hospital kaun hai vah sab baat kee baat hai vah tabhee hoga jab yah sab cheejen posibal ho jaenge pahala tab jo hai vah kliyar ho jaega aur jaise hee pahala step kliyar hota hai to doosara step apane aap saamane aa jaata hai yah hamesha dekha gaya hai aur yah bilkul isalie jab bhee koee achchha aaj hai bahut kuchh karane kee apane pahale taip kee ho hamesha dhyaan den aur us taip ke saath aapaka doosara shabd handred parasent kliyar ho jaega aisa mera anubhav kahata hai agar yah javaab santusht kar de to agale savaal ke saath jaroor jud jaega dhanyavaad

#जीवन शैली

bolkar speaker
क्या खूबसूरती तन में होती है या मन में?Kya Khubsurti Tan Mein Hoti Hai Ya Man Mein
Dinesh Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dinesh जी का जवाब
Ji
1:23
सवाल पूछा गया है कि क्या खूबसूरती तन में होती है या मन में बहुत ही खूब प्रश्न किया गया है तो सवाल करता को बता दें कि खूबसूरती जो महत्व की होती है वह हमेशा मन की होती है परंतु खूबसूरती तन में भी हो सकती है यह भी किसी को नकारा नहीं इस बात को नकारा नहीं जा सकता क्योंकि अगर आप इंसान की पहचान उसका मन देख कर कर रहे हैं तो आपकी मन की आंखें बहुत ही खूबसूरत हैं जो बहुत ही ज्यादा महत्व की होती है परंतु अगर आप किसी इंसान की पहचान या इंसान के साथ जब तक जोड़ रहे हैं तो वह सिर्फ बाहरी सुंदरता को देखकर ही सिर्फ आप उसे जोड़ रहे हैं तो इससे आपकी आंखें जो है बाहर क्या कर वहीं से सुंदर है मन की आंखें नहीं इसलिए खूबसूरत दिखना तन का भी होता है और मन का भी होता है महत्व यह होता है कि आप किस आंखों से उसको देख रहे हो या किस-किस को ज्यादा महत्व दे रहे हो मन की आंखों को या तन की आंखों को उम्मीद करता हूं कि मेरे सवाल के साथ इस छोटे से जवाब के साथ आप संतुष्ट रहे होंगे अगर हां तो अपने अगले सवाल के साथ मुझसे भी जरूर जुड़िए गा धन्यवाद
Savaal poochha gaya hai ki kya khoobasooratee tan mein hotee hai ya man mein bahut hee khoob prashn kiya gaya hai to savaal karata ko bata den ki khoobasooratee jo mahatv kee hotee hai vah hamesha man kee hotee hai parantu khoobasooratee tan mein bhee ho sakatee hai yah bhee kisee ko nakaara nahin is baat ko nakaara nahin ja sakata kyonki agar aap insaan kee pahachaan usaka man dekh kar kar rahe hain to aapakee man kee aankhen bahut hee khoobasoorat hain jo bahut hee jyaada mahatv kee hotee hai parantu agar aap kisee insaan kee pahachaan ya insaan ke saath jab tak jod rahe hain to vah sirph baaharee sundarata ko dekhakar hee sirph aap use jod rahe hain to isase aapakee aankhen jo hai baahar kya kar vaheen se sundar hai man kee aankhen nahin isalie khoobasoorat dikhana tan ka bhee hota hai aur man ka bhee hota hai mahatv yah hota hai ki aap kis aankhon se usako dekh rahe ho ya kis-kis ko jyaada mahatv de rahe ho man kee aankhon ko ya tan kee aankhon ko ummeed karata hoon ki mere savaal ke saath is chhote se javaab ke saath aap santusht rahe honge agar haan to apane agale savaal ke saath mujhase bhee jaroor judie ga dhanyavaad

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
आपकी नजर में धर्म क्या है?Apki Nazar Mein Dharm Kya Hain
Dinesh Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dinesh जी का जवाब
Ji
1:23
सवाल पूछा गया है कि आपकी नजर में धर्म क्या है तो बहुत ही खूब और गुड़ प्रश्न किया गया है और इसके हर इंसान के नजर में इसका अपना ही एक इसका आंसर होगा परंतु अब तक जो हमने धर्म के बारे में जाना है वह यह है कि इंसान जो भी अपनी जमीन से जुड़ा हुआ है अपने संस्कार और अपने अच्छे अच्छे गुणों के साथ जो जुड़ा हुआ है वह इंसान वही धर्म है मतलब धार्मिक वही है इंसान जो इंसान दूसरों को सुख पहुंचाने के लिए या दूसरों की मदद करने के लिए खुद भी परेशानी में चला जाए तो वह इंसान धार्मिक है और धर्म वह है जो उसको बिल्कुल ही कठोर ना बनाएं जो उसको धावक बनाएं जो उसको जमीन से जुड़कर रखें वह धर्म उम्मीद करता हूं इस छोटे से जवाब के साथ एक बड़ा सा संदेश आपको पहुंच चुका होगा और अगर आपको मेरे इस जवाब से संतुष्ट मिली हो तो अपने अगले सवाल के साथ मुझसे जरूर जुड़े धन्यवाद
Savaal poochha gaya hai ki aapakee najar mein dharm kya hai to bahut hee khoob aur gud prashn kiya gaya hai aur isake har insaan ke najar mein isaka apana hee ek isaka aansar hoga parantu ab tak jo hamane dharm ke baare mein jaana hai vah yah hai ki insaan jo bhee apanee jameen se juda hua hai apane sanskaar aur apane achchhe achchhe gunon ke saath jo juda hua hai vah insaan vahee dharm hai matalab dhaarmik vahee hai insaan jo insaan doosaron ko sukh pahunchaane ke lie ya doosaron kee madad karane ke lie khud bhee pareshaanee mein chala jae to vah insaan dhaarmik hai aur dharm vah hai jo usako bilkul hee kathor na banaen jo usako dhaavak banaen jo usako jameen se judakar rakhen vah dharm ummeed karata hoon is chhote se javaab ke saath ek bada sa sandesh aapako pahunch chuka hoga aur agar aapako mere is javaab se santusht milee ho to apane agale savaal ke saath mujhase jaroor jude dhanyavaad

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
क्या धैर्य रखने से व्यक्ति के सपने पूरे हो जाते हैं?Kya Dherya Rakhne Se Vyakti Ke Sapne Pure Ho Jate Hai
Dinesh Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dinesh जी का जवाब
Ji
2:15
सवाल पूछा गया है कि क्या धैर्य रखने से व्यक्ति के सपने पूरे हो जाते हैं या नहीं बहुत ही खूब प्रश्न कहा गया है और उम्मीद करता हूं इस जवाब के साथ बहुत लोगों को रास्ता मिलेगा तो नेपाल करता को बता दें कि धैर्य रखना और फैशन होकर उस चीज पर वर्क करना यह दो दोनों चीजें जरूरी हो जाती है किसी एक पार्टी कूलर काम को करने के लिए और अगर हमें सपने पूरे करने हैं तो हमें अपनी सीमा रेखा जानने होगी हमें अपनी लिमिट तय करनी होगी कि हम इससे ज्यादा आगे नहीं बढ़ पाएंगे किसी भी पार्टिकुलर चीज को करने में और उसके बाद हम लोग धैर्य रखेंगे तू अगर हमने बहुत ज्यादा धीरे रख लिया तो ऐसा ना हो कि हम लोग गति से भी पीछे हम लोग बैठ गए और हम लोग चुप करके बैठ गए हमें कुछ करना था इधर उधर दौड़ना था पर हम दौड़े नहीं तो उसके वजह से अपने रुक सकते हैं सफलता शायद ना मिले या देर से मिले तू कहां पर हमें चलना है कहां पर हमें दौड़ना है कहां पर हमें सब्र करना है इन सब की जो लिमिट होती है वह एक इंसान को तह करनी होती है खुद से परंतु ज्यादातर देखा गया है कि जब इंसान पागल हो जाता है किसी चीज के लिए तो उसके लिए जब वह हर रोज दिन रात दौड़ता है तो उसको वह चीज मिल जाती है यह अनुभव की बात है परंतु धैर्य कहां पर रखना है यह उसकी खुद की लिमिट तय करेगा या उसके सपने का जो पूर्वी विभाग होता है या फिर आगे आने वाला जो वक्त होता है उसमें उसका सपना किस तरीके का है वह डिसाइड करेगा कि उसमें सीमा कहां रखना है कहां धैर्य रखना है और कहां मांगना है उम्मीद करता हूं इस सवाल के साथ आप संतुष्ट रहे होंगे अगर हां तो अपने अगले सवाल के साथ विस्तार पूर्वक अपने सपने की चर्चा जरूर कीजिएगा मेरे साथ धन्यवाद
Savaal poochha gaya hai ki kya dhairy rakhane se vyakti ke sapane poore ho jaate hain ya nahin bahut hee khoob prashn kaha gaya hai aur ummeed karata hoon is javaab ke saath bahut logon ko raasta milega to nepaal karata ko bata den ki dhairy rakhana aur phaishan hokar us cheej par vark karana yah do donon cheejen jarooree ho jaatee hai kisee ek paartee koolar kaam ko karane ke lie aur agar hamen sapane poore karane hain to hamen apanee seema rekha jaanane hogee hamen apanee limit tay karanee hogee ki ham isase jyaada aage nahin badh paenge kisee bhee paartikular cheej ko karane mein aur usake baad ham log dhairy rakhenge too agar hamane bahut jyaada dheere rakh liya to aisa na ho ki ham log gati se bhee peechhe ham log baith gae aur ham log chup karake baith gae hamen kuchh karana tha idhar udhar daudana tha par ham daude nahin to usake vajah se apane ruk sakate hain saphalata shaayad na mile ya der se mile too kahaan par hamen chalana hai kahaan par hamen daudana hai kahaan par hamen sabr karana hai in sab kee jo limit hotee hai vah ek insaan ko tah karanee hotee hai khud se parantu jyaadaatar dekha gaya hai ki jab insaan paagal ho jaata hai kisee cheej ke lie to usake lie jab vah har roj din raat daudata hai to usako vah cheej mil jaatee hai yah anubhav kee baat hai parantu dhairy kahaan par rakhana hai yah usakee khud kee limit tay karega ya usake sapane ka jo poorvee vibhaag hota hai ya phir aage aane vaala jo vakt hota hai usamen usaka sapana kis tareeke ka hai vah disaid karega ki usamen seema kahaan rakhana hai kahaan dhairy rakhana hai aur kahaan maangana hai ummeed karata hoon is savaal ke saath aap santusht rahe honge agar haan to apane agale savaal ke saath vistaar poorvak apane sapane kee charcha jaroor keejiega mere saath dhanyavaad

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
क्या मुफ्त में दिया गया परामर्श अपनी महत्वता को देता है?Kya Muft Mein Diya Gaya Paramarsh Apni Mehtvata Ko Deta Hai
Dinesh Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dinesh जी का जवाब
Ji
2:05
सवाल पूछा गया है कि क्या मुफ्त में दिया गया परामर्श अपनी महत्वता को देता है या नहीं तो सवाल करता को बता दें कि जो ब्राह्मण से जो सलाह होती है वह सिर्फ उसी को दी जाती है जो इसकी मांग करता है या जो बहुत बहुत बहुत ज्यादा दुखी है उनको परामर्श दिया जा सकता है परंतु एक अभिमानी व्यक्ति या एक गुस्सैल व्यक्ति जो होता है या जो इंसान बिल्कुल भी अपनी ही ठोस जमाता है अपने आप को सही मानता है वैसे व्यक्ति को बरामद देना छात्र मूर्खता हो जाएगी क्योंकि अगर आप परामर्श देंगे भी तो वह आपको दो जली कटी सुना देगा यह हमेशा देखता है और यह भी देखा जा सकता है इसलिए परामर्श जो है वह आप हो ना ही बे वहां पर चुप मोहन ही रहे तो ज्यादा बेहतर रहेगा एक जनरल बात है कि कोई भी इंसान जिस को ज्यादा नीड होती है वह हमेशा अपने अच्छे लोगों से परामर्श जरूर लेगा तो यह उसके समझदारी का एक ग्रुप है कि अगर वह इंसान समझदार है तो कोई भी एक्शन बड़ा एक्शन लेने से पहले वह दूसरों की परामर्श जरूर लेगा और उन पैसों को नहीं कर रहा है तो आप अपना परामर्श देकर उनको ज्यादा बॉक्स जा मत दीजिएगा तो परामर्श वहीं पर दीजिएगा जहां पर मांग की जाए उसकी और यहां तो बहुत ज्यादा दुखी हो तब आप पर हम आज दे सकते हैं क्योंकि उसको जब वह दुखी होता है सामने वाला तो उनको एक सहायता की एक अच्छे आईडिया की बहुत ज्यादा जरूरत होती है उम्मीद करता हूं कि इस आईडिया के साथ इस मेरे इस परामर्श के साथ मेरे इस जवाब के साथ आप संतुष्ट रहते होंगे तो आप के अगले सवाल के साथ मैं आपका इंतजार करूंगा धन्यवाद
Savaal poochha gaya hai ki kya mupht mein diya gaya paraamarsh apanee mahatvata ko deta hai ya nahin to savaal karata ko bata den ki jo braahman se jo salaah hotee hai vah sirph usee ko dee jaatee hai jo isakee maang karata hai ya jo bahut bahut bahut jyaada dukhee hai unako paraamarsh diya ja sakata hai parantu ek abhimaanee vyakti ya ek gussail vyakti jo hota hai ya jo insaan bilkul bhee apanee hee thos jamaata hai apane aap ko sahee maanata hai vaise vyakti ko baraamad dena chhaatr moorkhata ho jaegee kyonki agar aap paraamarsh denge bhee to vah aapako do jalee katee suna dega yah hamesha dekhata hai aur yah bhee dekha ja sakata hai isalie paraamarsh jo hai vah aap ho na hee be vahaan par chup mohan hee rahe to jyaada behatar rahega ek janaral baat hai ki koee bhee insaan jis ko jyaada need hotee hai vah hamesha apane achchhe logon se paraamarsh jaroor lega to yah usake samajhadaaree ka ek grup hai ki agar vah insaan samajhadaar hai to koee bhee ekshan bada ekshan lene se pahale vah doosaron kee paraamarsh jaroor lega aur un paison ko nahin kar raha hai to aap apana paraamarsh dekar unako jyaada boks ja mat deejiega to paraamarsh vaheen par deejiega jahaan par maang kee jae usakee aur yahaan to bahut jyaada dukhee ho tab aap par ham aaj de sakate hain kyonki usako jab vah dukhee hota hai saamane vaala to unako ek sahaayata kee ek achchhe aaeediya kee bahut jyaada jaroorat hotee hai ummeed karata hoon ki is aaeediya ke saath is mere is paraamarsh ke saath mere is javaab ke saath aap santusht rahate honge to aap ke agale savaal ke saath main aapaka intajaar karoonga dhanyavaad

#जीवन शैली

bolkar speaker
ऐसा क्या है जो इंसान की समझ से परे है?Aisa Kya Hai Jo Insaan Ki Samajh Se Pare Hai
Dinesh Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dinesh जी का जवाब
Ji
2:16
सवाल पूछा गया है कि ऐसा क्या है जो इंसान की समझ से बिल्कुल पड़े हैं बहुत ही अच्छा प्रश्न है और सवाल करता को बता दें कि इसके जो जवाब होते हैं वह बहुत अनगिनत हो सकते हैं बहुत ही अनगिनत हो सकते हैं किसी भी क्षेत्र में अगर पूर्ण रूप से उसकी सोच लिया उसकी समझ मिल जाए तो वह भी एक तरीके से हमारी समझ से परे हो सकता है परंतु इसके जो जवाब है मैं आपको दो रूप में अच्छे से ढंग से दे दूंगा तो उम्मीद करता हूं उन दो जवाब के साथ आपको संतुष्टि मिल जाएगी जो पहला रहेगा जवाब दो यह है कि अगर इंसान नॉर्मल आम जिंदगी में किसी एक इंसान को किसी दूसरे इंसान को समझ ले पूर्ण रूप से तो यह उसकी समझ कर बिल्कुल पर है क्योंकि इंसान की जो सोच है वह हमेशा बदलता रहता है वक्त हमेशा बदलता है तो इंसान की सोच भी उसी तरीके से बदलती रहती है तो अगर वह सोचता है कि मैं अपने पत्नी को वह अपने पति को या अपने बच्चों को समझ गया हूं तो यह चीज बिल्कुल ही नहीं हो सकती तो इंसान को समझ पाना इंसान की समझ से परे है तो पहला जवाब तो यह है और जो दूसरा जवाब है वह बिल्कुल ही साइंटिफिक है कि हमारी जो गैलेक्सी है जो हमारे प्लैनेट्स है उनके अंदर उनका सब कुछ रंग रूप जानना उनके बारे में पूर्ण रूप से जान लेना यह इंसान की समझ से बिल्कुल पर है क्योंकि यह हमारी पहुंच से बिल्कुल ही बाहर है आपने देखा होगा कि साइंस में भी शायद से मंगल है चांद पर जा पाए हैं परंतु बाकी जो बाकी जो 1110 11 प्लैनेट्स है तो वह उनके उनकी समझ तो उनके पास बिल्कुल भी नहीं होगी और यह वह भी सिर्फ एक ही मिल्की वे जो गैलेक्सी है उसके अंदर ही से आते हैं 11 मिनट बाकी जो है गैलेक्सी सन यह हजारों करोड़ों गैलेक्सी से उनके बारे में जान पाना इंसान की समझ से बिल्कुल ही पर है तो उम्मीद करता हूं दोनों सवाल के जो जवाब है उससे आपको संतुष्टि मिल गई होगी अगर हां तो अपने अगले सवाल के साथ मुझसे जरूर जुड़ जाएगा धन्यवाद
Savaal poochha gaya hai ki aisa kya hai jo insaan kee samajh se bilkul pade hain bahut hee achchha prashn hai aur savaal karata ko bata den ki isake jo javaab hote hain vah bahut anaginat ho sakate hain bahut hee anaginat ho sakate hain kisee bhee kshetr mein agar poorn roop se usakee soch liya usakee samajh mil jae to vah bhee ek tareeke se hamaaree samajh se pare ho sakata hai parantu isake jo javaab hai main aapako do roop mein achchhe se dhang se de doonga to ummeed karata hoon un do javaab ke saath aapako santushti mil jaegee jo pahala rahega javaab do yah hai ki agar insaan normal aam jindagee mein kisee ek insaan ko kisee doosare insaan ko samajh le poorn roop se to yah usakee samajh kar bilkul par hai kyonki insaan kee jo soch hai vah hamesha badalata rahata hai vakt hamesha badalata hai to insaan kee soch bhee usee tareeke se badalatee rahatee hai to agar vah sochata hai ki main apane patnee ko vah apane pati ko ya apane bachchon ko samajh gaya hoon to yah cheej bilkul hee nahin ho sakatee to insaan ko samajh paana insaan kee samajh se pare hai to pahala javaab to yah hai aur jo doosara javaab hai vah bilkul hee saintiphik hai ki hamaaree jo gaileksee hai jo hamaare plainets hai unake andar unaka sab kuchh rang roop jaanana unake baare mein poorn roop se jaan lena yah insaan kee samajh se bilkul par hai kyonki yah hamaaree pahunch se bilkul hee baahar hai aapane dekha hoga ki sains mein bhee shaayad se mangal hai chaand par ja pae hain parantu baakee jo baakee jo 1110 11 plainets hai to vah unake unakee samajh to unake paas bilkul bhee nahin hogee aur yah vah bhee sirph ek hee milkee ve jo gaileksee hai usake andar hee se aate hain 11 minat baakee jo hai gaileksee san yah hajaaron karodon gaileksee se unake baare mein jaan paana insaan kee samajh se bilkul hee par hai to ummeed karata hoon donon savaal ke jo javaab hai usase aapako santushti mil gaee hogee agar haan to apane agale savaal ke saath mujhase jaroor jud jaega dhanyavaad

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
मौसम और जलवायु में से किस में तेजी से परिवर्तन होता है?Mausam Aur Jalavayu Mei Se Kis Mei Teji Se Parivartan Hota Hai
Dinesh Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dinesh जी का जवाब
Ji
2:00
सवाल पूछा गया है कि मौसम और जलवायु में से किस में तेजी से परिवर्तन होता है तो बहुत ही अच्छा प्रश्न है और सवाल करना को बता दें कि जो मौसम यह चाहे गर्मी हो चाहे ठंडी का मौसम है बारिश का मौसम हो पतझड़ हो कोई भी मौसमों को बिल्कुल ही पिक दी रहते हैं वह 1 साल में चारों मौसम बदल लेंगे और अपने टाइम पर वह आप आ जाते हैं वह टाइम की थोड़ी सी गड़बड़ी हो जाती है कभी 1520 दिन ऊपर नीचे हो सकता है उनका और ठंड ठंडी कभी ज्यादा पड़ गई गर्मी कभी ज्यादा पड़ गई पर वो आएगी जरूर इसलिए मौसम में ज्यादा परिवर्तन नहीं दिखता है परंतु जो जलवायु है वायु प्रकृति का एक ऐसा ग्रुप है जो पूर्ण रुप से स्वतंत्र है तो आपने बहुत बार खुद की लाइफ में भी नोटिस कर लिया होगा कि आज पानी कुछ अलग सा दिख रहा है आज जो वायु है वह बिल्कुल ही ज्यादा देश बहरी है या ज्यादा ठंडी होगी यह गाना गरम हो गई है अचानक से गर्मी में इतनी गर्म हवा अचानक से गर्मी में इतनी ठंडी हवा तो यह सब चीज है जो अरे भाई जो है वह बिल्कुल ही पूर्ण रुप से स्वतंत्र है वह अपने मनमाना कभी भी कहीं पर भी अपना रूप दिखा सकती है अच्छा सा आया भयंकर वाला कभी वावाजोडु आ गया कभी तूफान आ गया बिल्कुल ही 9 सीजन में मतलब उसका कोई टाइम फिक्स नहीं होता कि वह गर्मी नहीं बाबा जोड़ो आएगा या तूफान आएगा या फिर ठंडी में ही तूफान आएगा तो कभी-कभी ठंडी में भी तूफान देखने को मिल जाता है तो जलवायु जो है वह पूर्ण रुप से स्वतंत्र भाग है एक प्रकृति का इसलिए जो जलवायु रहेगा वही सबसे ज्यादा परिवर्तन होता है मिट करता हूं मेरे जवाब से आपको संतुष्टि रह गई होगी और अगर हां तो अपने अगले सवाल के साथ मैं आपका इंतजार करूंगा धन्यवाद
Savaal poochha gaya hai ki mausam aur jalavaayu mein se kis mein tejee se parivartan hota hai to bahut hee achchha prashn hai aur savaal karana ko bata den ki jo mausam yah chaahe garmee ho chaahe thandee ka mausam hai baarish ka mausam ho patajhad ho koee bhee mausamon ko bilkul hee pik dee rahate hain vah 1 saal mein chaaron mausam badal lenge aur apane taim par vah aap aa jaate hain vah taim kee thodee see gadabadee ho jaatee hai kabhee 1520 din oopar neeche ho sakata hai unaka aur thand thandee kabhee jyaada pad gaee garmee kabhee jyaada pad gaee par vo aaegee jaroor isalie mausam mein jyaada parivartan nahin dikhata hai parantu jo jalavaayu hai vaayu prakrti ka ek aisa grup hai jo poorn rup se svatantr hai to aapane bahut baar khud kee laiph mein bhee notis kar liya hoga ki aaj paanee kuchh alag sa dikh raha hai aaj jo vaayu hai vah bilkul hee jyaada desh baharee hai ya jyaada thandee hogee yah gaana garam ho gaee hai achaanak se garmee mein itanee garm hava achaanak se garmee mein itanee thandee hava to yah sab cheej hai jo are bhaee jo hai vah bilkul hee poorn rup se svatantr hai vah apane manamaana kabhee bhee kaheen par bhee apana roop dikha sakatee hai achchha sa aaya bhayankar vaala kabhee vaavaajodu aa gaya kabhee toophaan aa gaya bilkul hee 9 seejan mein matalab usaka koee taim phiks nahin hota ki vah garmee nahin baaba jodo aaega ya toophaan aaega ya phir thandee mein hee toophaan aaega to kabhee-kabhee thandee mein bhee toophaan dekhane ko mil jaata hai to jalavaayu jo hai vah poorn rup se svatantr bhaag hai ek prakrti ka isalie jo jalavaayu rahega vahee sabase jyaada parivartan hota hai mit karata hoon mere javaab se aapako santushti rah gaee hogee aur agar haan to apane agale savaal ke saath main aapaka intajaar karoonga dhanyavaad

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
क्या उच्च पद पर बैठे व्यक्ति भी चरित्रहीन हो है?Kya Uchch Pad Par Baithe Wyakti Bhi Charitrahin Ho Sakte Hain
Dinesh Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dinesh जी का जवाब
Ji
2:14
सवाल पूछा गया है कि क्या उच्च पद पर बैठे व्यक्ति भी चरित्रहीन हो सकते हैं या नहीं तो सवाल करता को बता दें कि आज के जमाने में यहां पर पद भी रिश्वत से ही मिलती है तो अगर जिसके पास पैसा होगा तो वह अपनी पद भी रिश्वत से ही पा सकता है इसीलिए और यहां तक की पद तो बहुत दूर की बात है यहां पर एजुकेशन भी ऐसा कहीं कहीं पर देखा जा सकता है जहां पर स्कूल के प्रिंसिपल सोते हैं जो यूनिवर्सिटी के लोग होते हैं वह इतने बिकाऊ होते हैं कि मार्क्स भी अच्छे से दे देते हैं पैसे लेकर तू मांस अच्छे मिल जाएंगे उसके बाद पद अच्छा मिल जाएगा रिश्वत देने से ही तो सीधी सी बातें कोई भी चरित्रहीन व्यक्ति जिसके पास पैसा है तो वह भी अपने पैसों के दम पर उच्च पद प्राप्त कर सकता है तो उसके लिए कोई भी ऐसा सिस्टम नहीं बनाया गया है सरकारी दो या फिर प्राइवेट मेरी कोई ऐसा सिस्टम नहीं है कि हम मिस के दो-तीन महीने इसको देखेंगे इसको यूज़ करके इसका कैसा है आचार विचार उसके बाद उसको रखेंगे तो ऐसा कोई भी सिस्टम किसी भी कंपनी में या किसी भी सरकारी पद पदों पर ऐसा कोई भी सिस्टम है नहीं और ना ही उनके ऊपर कोई निगरानी रखने वाला है कि चलो भाई वह किस तरीके से काम करता है तो उनके ऊपर सीसीटीवी कैमरा हो या ऑडियो हो कि जो भी वह काम कर रहा है उसका कुछ सब कुछ रिकॉर्डिंग हो जाए सब कुछ भी नहीं है इसलिए इस सिस्टम में थोड़ी गड़बड़ है इसलिए आपके सवाल का तो जवाब है उस पद पर रहता ही व्यक्ति हो सकते हैं तो बिल्कुल हो सकते हैं हंड्रेड पर्सन ऐसे बहुत से नेताओं की भी अपने पोस्टिंग देखी होगी जो उच्च पद पर है वह बहुत ही गंदे भाषण यार भड़काऊ भाषण देते रहते हैं आजकल तो वह सब बहुत ही ज्यादा चर्चे में है न्यूज़ में है देख देखने को मिल सकता मिस करता हूं मेरा जवाब आपको पसंद आया होगा और किसी के दिल को ठेस ना बची हो अगर हां तो मैं उससे दिल से क्षमा मांगता हूं अगले सवाल के साथ मुझसे जरूर जोड़िए गा धन्यवाद
Savaal poochha gaya hai ki kya uchch pad par baithe vyakti bhee charitraheen ho sakate hain ya nahin to savaal karata ko bata den ki aaj ke jamaane mein yahaan par pad bhee rishvat se hee milatee hai to agar jisake paas paisa hoga to vah apanee pad bhee rishvat se hee pa sakata hai iseelie aur yahaan tak kee pad to bahut door kee baat hai yahaan par ejukeshan bhee aisa kaheen kaheen par dekha ja sakata hai jahaan par skool ke prinsipal sote hain jo yoonivarsitee ke log hote hain vah itane bikaoo hote hain ki maarks bhee achchhe se de dete hain paise lekar too maans achchhe mil jaenge usake baad pad achchha mil jaega rishvat dene se hee to seedhee see baaten koee bhee charitraheen vyakti jisake paas paisa hai to vah bhee apane paison ke dam par uchch pad praapt kar sakata hai to usake lie koee bhee aisa sistam nahin banaaya gaya hai sarakaaree do ya phir praivet meree koee aisa sistam nahin hai ki ham mis ke do-teen maheene isako dekhenge isako yooz karake isaka kaisa hai aachaar vichaar usake baad usako rakhenge to aisa koee bhee sistam kisee bhee kampanee mein ya kisee bhee sarakaaree pad padon par aisa koee bhee sistam hai nahin aur na hee unake oopar koee nigaraanee rakhane vaala hai ki chalo bhaee vah kis tareeke se kaam karata hai to unake oopar seeseeteevee kaimara ho ya odiyo ho ki jo bhee vah kaam kar raha hai usaka kuchh sab kuchh rikording ho jae sab kuchh bhee nahin hai isalie is sistam mein thodee gadabad hai isalie aapake savaal ka to javaab hai us pad par rahata hee vyakti ho sakate hain to bilkul ho sakate hain handred parsan aise bahut se netaon kee bhee apane posting dekhee hogee jo uchch pad par hai vah bahut hee gande bhaashan yaar bhadakaoo bhaashan dete rahate hain aajakal to vah sab bahut hee jyaada charche mein hai nyooz mein hai dekh dekhane ko mil sakata mis karata hoon mera javaab aapako pasand aaya hoga aur kisee ke dil ko thes na bachee ho agar haan to main usase dil se kshama maangata hoon agale savaal ke saath mujhase jaroor jodie ga dhanyavaad

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
Q के साथ सदैव U आता है?Q Ke Saath Sadev U Ata Hai
Dinesh Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dinesh जी का जवाब
Ji
2:19
सवाल पूछा गया है कि क्यों के साथ सदैव यूं ही आता है ऐसा क्यों तो बहुत ही खूब प्रश्न किया गया है और अंग्रेजी लेटेस्ट में जो क्यों एक लेटर आता है उसके साथ वर्ष बहुत ही कम बने हुए हैं जी हां बहुत ही कम ऐसे बर्ड्स बने हैं जो क्योंकि साथ साथ होते हैं नॉर्मल ही हम लोग सिया की का यूज करते हैं वर्ड्स में परंतु को जो क्यों वर्ड है वह हमेशा रॉयल ने इसके लिए स्टार्ट होता है और उपयोग क्या होता है और इसलिए उसके साथ उस लेटर के साथ बर्ड्स बहुत ही कम है परंतु हमेशा उसके साथ जियो आए ऐसा संभव नहीं है बहुत वह ऐसा लेटर है जिसके साथ वह वक्त हमेशा होते हैं वह पक्की बात है जैसे कि एआईओयू टॉप डिक्शनरी में देखेंगे तो क्यों के साथ कुछ ऐसे से बर्ड्स भी हैं जिनके साथ यह भी आता है आईबी आता है यूं ही आता तू फॉर गर्ल्स के साथ ही वह यूज होगा हमेशा परंतु और किसी तरीके से यह वर्ड इसके साथ व्हाट्सएप बंद नहीं सकते हैं क्योंकि यह कैसा लेटर है जो बहुत ही शांत रहता है और बच्चे कुछ-कुछ वर्ड के साथ ही यह उपयोग होता है वर्णमाला में सारे वर्ष ऐसे ही हो कि बहुत ही अच्छी तरीके से यूज हो यह जरूरी नहीं है जैसे कि हिंदी में भी जो होता है क्षत्रिय वाला तो वह भी इतना ज्यादा यूज़ नहीं होता होगा यह होता है ज्ञानी के लिए ही रात भर यूज़ होता है तो फिर यज्ञ के लिए यूज होता है तो कुछ-कुछ वर्ड से कुछ-कुछ लेटेस्ट ऐसे होते हैं जो बहुत ही प्रॉपर 12 चीजों के लिए ही यूज की होते हैं पर उनके साथ वर्ड जरूर है पर वह यूज़ में नहीं होते हमारे इसलिए क्योंकि साथ जो सदैव यू आता है वह इसलिए क्योंकि हमने शुरुआत से ही सिर्फ कुलीन वर्ग सुना हुआ है एबीसीडी के मात्र दो चला रहा है उसमें क्योंकि साथ हमेशा क्यों कोई नहीं आता है क्योंकि और जो बाकी वर्ड है वह अपने दादा नॉर्मल लाइफ नॉर्मल रूटीन लाइफ है हम लोग यूज़ नहीं करते हैं उम्मीद करता हूं मेरा यह जवाब आपको पसंद आया होगा अगर हां तो अगले सवाल के साथ जरुर जुड़े धन्यवाद
Savaal poochha gaya hai ki kyon ke saath sadaiv yoon hee aata hai aisa kyon to bahut hee khoob prashn kiya gaya hai aur angrejee letest mein jo kyon ek letar aata hai usake saath varsh bahut hee kam bane hue hain jee haan bahut hee kam aise bards bane hain jo kyonki saath saath hote hain normal hee ham log siya kee ka yooj karate hain vards mein parantu ko jo kyon vard hai vah hamesha royal ne isake lie staart hota hai aur upayog kya hota hai aur isalie usake saath us letar ke saath bards bahut hee kam hai parantu hamesha usake saath jiyo aae aisa sambhav nahin hai bahut vah aisa letar hai jisake saath vah vakt hamesha hote hain vah pakkee baat hai jaise ki eaeeoyoo top dikshanaree mein dekhenge to kyon ke saath kuchh aise se bards bhee hain jinake saath yah bhee aata hai aaeebee aata hai yoon hee aata too phor garls ke saath hee vah yooj hoga hamesha parantu aur kisee tareeke se yah vard isake saath vhaatsep band nahin sakate hain kyonki yah kaisa letar hai jo bahut hee shaant rahata hai aur bachche kuchh-kuchh vard ke saath hee yah upayog hota hai varnamaala mein saare varsh aise hee ho ki bahut hee achchhee tareeke se yooj ho yah jarooree nahin hai jaise ki hindee mein bhee jo hota hai kshatriy vaala to vah bhee itana jyaada yooz nahin hota hoga yah hota hai gyaanee ke lie hee raat bhar yooz hota hai to phir yagy ke lie yooj hota hai to kuchh-kuchh vard se kuchh-kuchh letest aise hote hain jo bahut hee propar 12 cheejon ke lie hee yooj kee hote hain par unake saath vard jaroor hai par vah yooz mein nahin hote hamaare isalie kyonki saath jo sadaiv yoo aata hai vah isalie kyonki hamane shuruaat se hee sirph kuleen varg suna hua hai ebeeseedee ke maatr do chala raha hai usamen kyonki saath hamesha kyon koee nahin aata hai kyonki aur jo baakee vard hai vah apane daada normal laiph normal rooteen laiph hai ham log yooz nahin karate hain ummeed karata hoon mera yah javaab aapako pasand aaya hoga agar haan to agale savaal ke saath jarur jude dhanyavaad
URL copied to clipboard