#undefined

bolkar speaker
अगर आदमी का निषेचन जानवर कराया जाए तो क्या होगा?Agar Aadmi Ka Nishechan Janvar Karaya Jaye To Kya Hoga
ᴊᴀt raj me Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए ᴊᴀt जी का जवाब
𝓝𝓾𝓻𝓼𝓲𝓷𝓰 𝓼𝓪𝓯𝓮 𝓶𝓮 𝔀𝓸𝓻𝓴𝓲𝓷𝓰
1:17
अगर आदमी करने से शहजानपुर में करना चाहे तो स्त्रियों में हम मान सकते हैं कि यदि अगर आदमी का निषेचन जानवरों में कराए जाएंगे तो में फर्टिलाइजेशन और जो टेस्टिस होते हैं उनका बशर्ते कि या नहीं होगी क्योंकि हमारे जनन अंगों की जो लंबाई और क्रियाशीलता होती वह दोनों की जबकि जानवरों की जानवरों की लंबाई और क्रियाशीलता अधिक होने के कारण वह उनमें अंडे का निषेचन होता है जबकि मनुष्य का निशान जानवरों में कराए चाहे तो उनकी क्रियाशीलता कब होगी और वह अंडे का फर्टिलाइजेशन नहीं होगा और अधिक समय तक उन में होने वाले स्टैचूओं वैलिड होता वह भी नहीं रहेगा और आदमियों का निष्कासन जानवरों में सबसे स्कूल आ होने को है प्राचीन समय से नहीं आज की पार्टी लिया जी और बीवीआरटी के माध्यम से मनुष्य के अंडे ओए जानवरों को निश्चित कर सकते हैं जबकि जानवर और मनुष्य से उत्पन्न होने वाले तो संतान होगी वह दोनों से अफसर और मिलते जुलते होंगी इसीलिए जौनपुर में फर्टिलाइजेशन कराना मॉडल डाइजर से कराना
Agar aadamee karane se shahajaanapur mein karana chaahe to striyon mein ham maan sakate hain ki yadi agar aadamee ka nishechan jaanavaron mein karae jaenge to mein phartilaijeshan aur jo testis hote hain unaka basharte ki ya nahin hogee kyonki hamaare janan angon kee jo lambaee aur kriyaasheelata hotee vah donon kee jabaki jaanavaron kee jaanavaron kee lambaee aur kriyaasheelata adhik hone ke kaaran vah unamen ande ka nishechan hota hai jabaki manushy ka nishaan jaanavaron mein karae chaahe to unakee kriyaasheelata kab hogee aur vah ande ka phartilaijeshan nahin hoga aur adhik samay tak un mein hone vaale staichooon vailid hota vah bhee nahin rahega aur aadamiyon ka nishkaasan jaanavaron mein sabase skool aa hone ko hai praacheen samay se nahin aaj kee paartee liya jee aur beeveeaaratee ke maadhyam se manushy ke ande oe jaanavaron ko nishchit kar sakate hain jabaki jaanavar aur manushy se utpann hone vaale to santaan hogee vah donon se aphasar aur milate julate hongee iseelie jaunapur mein phartilaijeshan karaana modal daijar se karaana

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
एक पिता अपने बेटे के लिए क्या कर सकता है?Ek Pita Apne Bete Ke Lie Kya Kar Sakta Hai
ᴊᴀt raj me Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए ᴊᴀt जी का जवाब
𝓝𝓾𝓻𝓼𝓲𝓷𝓰 𝓼𝓪𝓯𝓮 𝓶𝓮 𝔀𝓸𝓻𝓴𝓲𝓷𝓰
1:31
एक पिता होने के नाते अपने बेटे की हर समय हर चीज की आपूर्ति करता है वह बेटा चाहता है कि मेरा बेटा ऐसे स्कूलों का में भिगोकर हमेशा मेरा नाम रोशन करें शाश्वत हमारे समाज का भी नाम रोशन करें पिता हमेशा बेटे से अपनी आशाएं और उम्मीद लगाए हुए बैठा रहता है और हमेशा हर पल अपने किसी भी कार्य को करने से पहले अपने बेटे के भविष्य के बारे में सोचता रहता है कि मैं ऐसा कार्य करो कि मेरे बेटे की जिंदगी में सफल हो जाए और पिता अपने पिता होने के नाते बेटे की हर शिक्षा को हर समस्याओं के साथ आधार आवश्यकताओं की पूर्ति करता है और वह चाहता है कि नेता संस्कृति और हमारे शुद्ध विचारों के साथ एक बड़े अधिकारी बने चाहे कुछ भी अधिकारी गवर्नमेंट जॉब करके मेरा नाम रोशन करें सामान्य आदमी में प्रतिष्ठा अनुशासन वे अपने हमेशा बेटे को सद्गुण और सद्विचार देता है और आपने ऐसे गुरु को देता है जो समाज में सबसे अलग और सभ्यता कोशिश करती है वह प्राचीन उनको मनाने के लिए कहता है और हमेशा वह आपसे सच्चे कार्यकर्ताओं ने पहना रुपी जीवन देता है जिसे वह अक्षय सरकार आगे अपने भविष्य को लेकर है और अपनी वीडियो को संभाल सके उसे वह अपने पिता होने के नाते अपने पुत्र को देना
Ek pita hone ke naate apane bete kee har samay har cheej kee aapoorti karata hai vah beta chaahata hai ki mera beta aise skoolon ka mein bhigokar hamesha mera naam roshan karen shaashvat hamaare samaaj ka bhee naam roshan karen pita hamesha bete se apanee aashaen aur ummeed lagae hue baitha rahata hai aur hamesha har pal apane kisee bhee kaary ko karane se pahale apane bete ke bhavishy ke baare mein sochata rahata hai ki main aisa kaary karo ki mere bete kee jindagee mein saphal ho jae aur pita apane pita hone ke naate bete kee har shiksha ko har samasyaon ke saath aadhaar aavashyakataon kee poorti karata hai aur vah chaahata hai ki neta sanskrti aur hamaare shuddh vichaaron ke saath ek bade adhikaaree bane chaahe kuchh bhee adhikaaree gavarnament job karake mera naam roshan karen saamaany aadamee mein pratishtha anushaasan ve apane hamesha bete ko sadgun aur sadvichaar deta hai aur aapane aise guru ko deta hai jo samaaj mein sabase alag aur sabhyata koshish karatee hai vah praacheen unako manaane ke lie kahata hai aur hamesha vah aapase sachche kaaryakartaon ne pahana rupee jeevan deta hai jise vah akshay sarakaar aage apane bhavishy ko lekar hai aur apanee veediyo ko sambhaal sake use vah apane pita hone ke naate apane putr ko dena

#जीवन शैली

bolkar speaker
भारतीय अपना अधिकांश समय कहाँ बर्बाद करते हैं?Bhartiya Apna Adhikansh Samay Kahan Barbaad Karte Hain
ᴊᴀt raj me Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए ᴊᴀt जी का जवाब
𝓝𝓾𝓻𝓼𝓲𝓷𝓰 𝓼𝓪𝓯𝓮 𝓶𝓮 𝔀𝓸𝓻𝓴𝓲𝓷𝓰
0:50
भारतीय अपना अधिकांश समय को बर्बाद करते हैं क्योंकि आजकल के जमाने में सब लोग अपने वह डिजिटल लाइफ के साथ-साथ कुछ ऐसे लोग भी होते हैं जो अब ऐसा मोबाइल पर अपना समय खर्च करते हैं वह बीमारी में सफारी जीवन को नहीं थे वे अपने मोबाइल के प्रति सजग रहते हैं जबकि और अन्य लोग होते हैं जो अधिक गांवों में बने चाहे तो जो एक दूसरे की बातों की कटक कृष्ण हरे ना और फालतू और बेरोजगारी के साथ किसी भी कार्य को करने के इच्छुक नहीं रहते हैं और वह हमेशा अपने आलस और दूसरों की बुराई और अन्य जो हमारे जीवन के लिए आवश्यक भी नहीं हूं उन कार्यों में करने के लिए अधिक समय को बर्बाद करते हैं और ना ही को बर्बाद करके एक दिन वह हमेशा है कचरा बीनने वाले हो जा
Bhaarateey apana adhikaansh samay ko barbaad karate hain kyonki aajakal ke jamaane mein sab log apane vah dijital laiph ke saath-saath kuchh aise log bhee hote hain jo ab aisa mobail par apana samay kharch karate hain vah beemaaree mein saphaaree jeevan ko nahin the ve apane mobail ke prati sajag rahate hain jabaki aur any log hote hain jo adhik gaanvon mein bane chaahe to jo ek doosare kee baaton kee katak krshn hare na aur phaalatoo aur berojagaaree ke saath kisee bhee kaary ko karane ke ichchhuk nahin rahate hain aur vah hamesha apane aalas aur doosaron kee buraee aur any jo hamaare jeevan ke lie aavashyak bhee nahin hoon un kaaryon mein karane ke lie adhik samay ko barbaad karate hain aur na hee ko barbaad karake ek din vah hamesha hai kachara beenane vaale ho ja

#जीवन शैली

bolkar speaker
क्या जीवन में आई आर्थिक तंगी के चलते पति को पत्नी का साथ छोड़ देना चाहिए?Kya Jeevan Mein Aai Arthik Tangi Ke Chalte Pati Ko Patni Ka Sath Chod Dena Chaiye
ᴊᴀt raj me Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए ᴊᴀt जी का जवाब
𝓝𝓾𝓻𝓼𝓲𝓷𝓰 𝓼𝓪𝓯𝓮 𝓶𝓮 𝔀𝓸𝓻𝓴𝓲𝓷𝓰
0:56
जून में आई हुई आर्थिक तंगी के चलते पति पत्नी का साथ छोड़ देना यह गलत है क्योंकि जब वो ही किसी भी व्यक्ति दूसरे के साथ में चाय था और उन शब्दों में भी साथ निभाया लेकिन जब कोई ऐसी कोई तन की आरती विद्याधर उस समय पति और पत्नी है दूसरे से अलग हो जाते हैं तो वह हमारे संसार और हमारे सामाजिक और हमारी संस्कृति और सब बताओ के अनुसार वह गलत बोला जाता है क्योंकि व्यक्ति को अपनी संस्कृति व सभ्यता और किसी भी आर्थिक तंगी में जीवन के साथी व्यक्ति को से अलग नहीं होना चाहिए क्योंकि वह हमेशा अपने प्रेरणादायक और महान होता है क्योंकि वह हर पल आपने कि वे कार्य के प्रति हमें मार्गदर्शन देते हैं और हमारे हर बात को समझ कर आगे बढ़ाने की हमें कोशिश करते हैं इसीलिए पत्नियों की दोनों आपस में कभी भी आर्थिक तंगी में यह दूसरे को नहीं छोड़ना चाहिए
Joon mein aaee huee aarthik tangee ke chalate pati patnee ka saath chhod dena yah galat hai kyonki jab vo hee kisee bhee vyakti doosare ke saath mein chaay tha aur un shabdon mein bhee saath nibhaaya lekin jab koee aisee koee tan kee aaratee vidyaadhar us samay pati aur patnee hai doosare se alag ho jaate hain to vah hamaare sansaar aur hamaare saamaajik aur hamaaree sanskrti aur sab batao ke anusaar vah galat bola jaata hai kyonki vyakti ko apanee sanskrti va sabhyata aur kisee bhee aarthik tangee mein jeevan ke saathee vyakti ko se alag nahin hona chaahie kyonki vah hamesha apane preranaadaayak aur mahaan hota hai kyonki vah har pal aapane ki ve kaary ke prati hamen maargadarshan dete hain aur hamaare har baat ko samajh kar aage badhaane kee hamen koshish karate hain iseelie patniyon kee donon aapas mein kabhee bhee aarthik tangee mein yah doosare ko nahin chhodana chaahie

#जीवन शैली

bolkar speaker
वास्तव में जीवन के अंत में क्या मायने रखता है?Vastav Mein Jeevan Ke Ant Mein Kya Mayne Rakhta Hai
ᴊᴀt raj me Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए ᴊᴀt जी का जवाब
𝓝𝓾𝓻𝓼𝓲𝓷𝓰 𝓼𝓪𝓯𝓮 𝓶𝓮 𝔀𝓸𝓻𝓴𝓲𝓷𝓰
1:40
वास्तु में जीवन के अंत में क्या मायने रखत यदि हम जीवन के प्राइमरी और अपनी युवावस्था में जो अपने कार्य और बुढ़ापे की अक्सर हम मरते हैं तो हमेशा अपने जो कार्य सर किए हैं और उनका नाम बाप के उनका भुगतान हम हैं हमारे अंतिम समय में करते हैं उनका फल बोलते हैं लेकिन व्यक्ति को हमेशा सदाचार और सतवंती और बहनों को सहनशीलता और मदरसा में पैसा पुण्य जैसे कार्य करना व्यक्ति को एक वास्तविक जीवन होता है जब यह कार्य करते हैं तो हमारे अंतिम समय में हमारा जीवन एक साक्षात भगवान बूटी और सम सरल और सर्वाधिक मीणा बीमारियों से होते हुए भी अपना बॉक्स पा सकते हैं जबकि हम युवावस्था और आप अपनी योग्यता हूं मैं हम अपने अच्छे कार्य नहीं कर बुरे कार्य करते हैं तो हमारे अंतिम सीमा अनेकों बीमारियों और डॉग से लंबे समय ग्रसित लेकर हमारी मृत्यु किसी कारण से भी नहीं होती है और हम अपना दर्द दो उद्देश्य से नहीं मानते हैं जबकि प्रति व्यक्ति को हमेशा ऐसा नहीं करना चाहिए क्योंकि हम 10 तारीख के उनके साथ साथ हमेशा पाप कर्म नहीं करना चाहिए हमें पूर्ण हो सदाचार और सद्बुद्धि और शुभ विचारों से रहना चाहिए हमें तो सारी गतिविधियों में ज्यादातर भाग नहीं लेने की और हम नहीं लेना चाहिए हमें भगवान की सद्बुद्धि हो शिव भक्ति में हमेशा हरलीन देना चाहिए और हमेशा अच्छे कर्म करना चाहिए जिससे जीवन के अच्छे लोग हमेशा एक साथ मिल सके
Vaastu mein jeevan ke ant mein kya maayane rakhat yadi ham jeevan ke praimaree aur apanee yuvaavastha mein jo apane kaary aur budhaape kee aksar ham marate hain to hamesha apane jo kaary sar kie hain aur unaka naam baap ke unaka bhugataan ham hain hamaare antim samay mein karate hain unaka phal bolate hain lekin vyakti ko hamesha sadaachaar aur satavantee aur bahanon ko sahanasheelata aur madarasa mein paisa puny jaise kaary karana vyakti ko ek vaastavik jeevan hota hai jab yah kaary karate hain to hamaare antim samay mein hamaara jeevan ek saakshaat bhagavaan bootee aur sam saral aur sarvaadhik meena beemaariyon se hote hue bhee apana boks pa sakate hain jabaki ham yuvaavastha aur aap apanee yogyata hoon main ham apane achchhe kaary nahin kar bure kaary karate hain to hamaare antim seema anekon beemaariyon aur dog se lambe samay grasit lekar hamaaree mrtyu kisee kaaran se bhee nahin hotee hai aur ham apana dard do uddeshy se nahin maanate hain jabaki prati vyakti ko hamesha aisa nahin karana chaahie kyonki ham 10 taareekh ke unake saath saath hamesha paap karm nahin karana chaahie hamen poorn ho sadaachaar aur sadbuddhi aur shubh vichaaron se rahana chaahie hamen to saaree gatividhiyon mein jyaadaatar bhaag nahin lene kee aur ham nahin lena chaahie hamen bhagavaan kee sadbuddhi ho shiv bhakti mein hamesha haraleen dena chaahie aur hamesha achchhe karm karana chaahie jisase jeevan ke achchhe log hamesha ek saath mil sake

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
हनुमान चालीसा प्रतिदिन पढ़ने और सुनने से क्या लाभ होता है?Hanuman Chalisha Pratidin Padhne Aur Sunne Se Kya Labh Hota Hai
ᴊᴀt raj me Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए ᴊᴀt जी का जवाब
𝓝𝓾𝓻𝓼𝓲𝓷𝓰 𝓼𝓪𝓯𝓮 𝓶𝓮 𝔀𝓸𝓻𝓴𝓲𝓷𝓰
1:22
हनुमान चालीसा प्रतिदिन पढ़ने और सुनने से हमारे गाने को लाभ होते जैसे मान सकते हैं हनुमान चालीसा का पाठ 1 दिन पूजा-पाठ और हमारे नित्य प्रति किलो में सम्मिलित करते हैं तो हमारे जितने भी कार्य तो रुके हुए उन सभी कार्यों को हनुमान जी हमारे कार्यों को पूर्ण करते हुए और हमारी जितनी भी आशा है हर मनोकामनाएं पूर्ण हो जाती लेकिन प्रतिदिन हनुमान चालीसा सुनने से हमारी जितनी भी कोई विचार नहीं है तो सोच है उनका नाश होता है और हम अच्छे अक्षरों और अच्छा ज्ञान और हमेशा संसारी जीवन से छोड़कर हमेशा भक्ति पर में रस और हमेशा आदर जीवन को जीने की एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हमारे जो आदर्श और मर्यादा पुरुषोत्तम राम जीते उनके सद्गुणों औसत विचारों के द्वारा हमारे सांसारिक और हमारे समाज में नहीं ऐसे आई एम ओ में पैदा करें जिसे हमें हमारे जीवन में चोपारण एक और परंपराएं संस्कृति और सभ्यता का अनुसरण कर हमेशा एक मर्यादा और महान पुरुष और सेवा नायक बनकर हम हमेशा अपने जीवन को रोशन के साथ-साथ हमारे अपने परिवार का और अपने समाज के प्रति * हमेशा आदर मान कर रहे
Hanumaan chaaleesa pratidin padhane aur sunane se hamaare gaane ko laabh hote jaise maan sakate hain hanumaan chaaleesa ka paath 1 din pooja-paath aur hamaare nity prati kilo mein sammilit karate hain to hamaare jitane bhee kaary to ruke hue un sabhee kaaryon ko hanumaan jee hamaare kaaryon ko poorn karate hue aur hamaaree jitanee bhee aasha hai har manokaamanaen poorn ho jaatee lekin pratidin hanumaan chaaleesa sunane se hamaaree jitanee bhee koee vichaar nahin hai to soch hai unaka naash hota hai aur ham achchhe aksharon aur achchha gyaan aur hamesha sansaaree jeevan se chhodakar hamesha bhakti par mein ras aur hamesha aadar jeevan ko jeene kee ek mahatvapoorn bhoomika nibhaate hamaare jo aadarsh aur maryaada purushottam raam jeete unake sadgunon ausat vichaaron ke dvaara hamaare saansaarik aur hamaare samaaj mein nahin aise aaee em o mein paida karen jise hamen hamaare jeevan mein chopaaran ek aur paramparaen sanskrti aur sabhyata ka anusaran kar hamesha ek maryaada aur mahaan purush aur seva naayak banakar ham hamesha apane jeevan ko roshan ke saath-saath hamaare apane parivaar ka aur apane samaaj ke prati * hamesha aadar maan kar rahe

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
नीलगाय को खेत में आने से कैसे रोके?Neelgaay Ko Khet Mein Ane Se Kaise Roke
ᴊᴀt raj me Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए ᴊᴀt जी का जवाब
𝓝𝓾𝓻𝓼𝓲𝓷𝓰 𝓼𝓪𝓯𝓮 𝓶𝓮 𝔀𝓸𝓻𝓴𝓲𝓷𝓰
0:33
यदि किसी भी नीलगाय को खेत में आने से हम कैसे हो सके क्योंकि हमारा आधुनिक और मॉडर्न टॉयज असम में आज विभिन्न प्रकार के लोगों ने कैसी बैटरी आती है जिसकी यूज करने से हमारे जो विभिन्न प्रकार के जानवर होते हैं हमारे खेतों को पर लोगों को लटकाने से बचाने के लिए स्वेटर का यूज किया जाता है जिसके ऊपर नीलगाय को भी रोका जा सकता है और चारों और ऐसी तारबंदी अमाउटर की जाए जिसके अंदर इतनी ऊंचाई होती से नील गाय खेत में अचानक उसके भी नहीं आ सकती
Yadi kisee bhee neelagaay ko khet mein aane se ham kaise ho sake kyonki hamaara aadhunik aur modarn toyaj asam mein aaj vibhinn prakaar ke logon ne kaisee baitaree aatee hai jisakee yooj karane se hamaare jo vibhinn prakaar ke jaanavar hote hain hamaare kheton ko par logon ko latakaane se bachaane ke lie svetar ka yooj kiya jaata hai jisake oopar neelagaay ko bhee roka ja sakata hai aur chaaron aur aisee taarabandee amautar kee jae jisake andar itanee oonchaee hotee se neel gaay khet mein achaanak usake bhee nahin aa sakatee

#जीवन शैली

bolkar speaker
घर में चप्पल पहनने की बात अधिकांश लोगों को स्वीकार क्यों नहीं होती?Ghar Mein Chappal Pehnne Ki Bat Adhikansh Logon Ko Svikar Kyun Nahin Hoti
ᴊᴀt raj me Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए ᴊᴀt जी का जवाब
𝓝𝓾𝓻𝓼𝓲𝓷𝓰 𝓼𝓪𝓯𝓮 𝓶𝓮 𝔀𝓸𝓻𝓴𝓲𝓷𝓰
1:00
पैर में चप्पल पहनने की बात अधिकांश लोगों को स्वीकार क्यों नहीं कह सकती क्योंकि हम मान सकते हैं कि घर में हम विभिन्न प्रकार के देवी देवता और हमारी सभ्यता व संस्कृति के अनुसार घर में चप्पल पहना 1so की ओर है माना जाता है क्योंकि हमारे घर में देवी देवताओं की पूजा की जाती है पूजा अर्चना के साथ-साथ जिस स्थान पर विशिष्ट चालू बार हमारी भगवान विराजमान देते हैं उन स्थानों पर यदि हम अपने बाप से कहीं भी ऐसी गंदी स्थानों से चप्पल को पैर के अंदर चले जाते हैं तो वह हमारे पूजनीय जनों का अपमान के चेतन इसीलिए दूर में चप्पल पहनना अधिकांश लोग गलत मानते हैं क्योंकि हर स्थान पर चप्पल योजनाएं क्यों जाता है क्योंकि हमारे जो विशिष्ट अन्य देवता होते हैं जो हमारे अंदर सयम देवता वह पानी हवा सभी देवताओं के समान माना जाता है उनके यदि हम सम्मान नहीं करते हैं तो वह हमारे नींद नहीं माना जाता वह अशोक जी हमारा ज्योतिषी लिया करो मैं चंबल न्यूज़ चैनल
Pair mein chappal pahanane kee baat adhikaansh logon ko sveekaar kyon nahin kah sakatee kyonki ham maan sakate hain ki ghar mein ham vibhinn prakaar ke devee devata aur hamaaree sabhyata va sanskrti ke anusaar ghar mein chappal pahana 1so kee or hai maana jaata hai kyonki hamaare ghar mein devee devataon kee pooja kee jaatee hai pooja archana ke saath-saath jis sthaan par vishisht chaaloo baar hamaaree bhagavaan viraajamaan dete hain un sthaanon par yadi ham apane baap se kaheen bhee aisee gandee sthaanon se chappal ko pair ke andar chale jaate hain to vah hamaare poojaneey janon ka apamaan ke chetan iseelie door mein chappal pahanana adhikaansh log galat maanate hain kyonki har sthaan par chappal yojanaen kyon jaata hai kyonki hamaare jo vishisht any devata hote hain jo hamaare andar sayam devata vah paanee hava sabhee devataon ke samaan maana jaata hai unake yadi ham sammaan nahin karate hain to vah hamaare neend nahin maana jaata vah ashok jee hamaara jyotishee liya karo main chambal nyooz chainal

#धर्म और ज्योतिषी

ᴊᴀt raj me Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए ᴊᴀt जी का जवाब
𝓝𝓾𝓻𝓼𝓲𝓷𝓰 𝓼𝓪𝓯𝓮 𝓶𝓮 𝔀𝓸𝓻𝓴𝓲𝓷𝓰
1:25
भूत विज्ञान और अध्यात्म विज्ञान में मुख्य अभियंता एवं आध्यात्मिक जो हमारे प्राचीन समय से योगी विशिष्ट जो तपस्वी मुनि है वह हर दिन जो अपनी अंतरात्मा के द्वारा आत्मा को परमात्मा से जुड़ने के लिए बढ़ती दोनों को श्रेष्ठ कार्य को करते हैं और अपने ध्यान को भरना तलाशने के लिए प्रतिदिन वह एक ही स्थान पर बैठकर बिना पानी पिए हुए महीनों पर बैठे रहते हैं और वह अपनी तपस्या करते हैं उसे आध्यात्मिक ज्ञान होता है जबकि पोती ज्ञान हमारी सरकार की विभिन्न प्रकार के साइंटिस्ट और विभिन्न प्रकार के समाज में होने वाली गतिविधियों और निर्यात में जो है वह हो वह गलत इन दोनों में से श्रेष्ठ माना जाए तो हमारा आध्यात्मिक ज्ञान सरस्वता है क्योंकि आध्यात्मिक हम अपने अंतरात्मा के द्वारा लगाया वह जो ज्ञान होता है वह अध्यात्मिक होता है अध्यात्मिक ज्ञान के मनुष्य अपने जीवन को सफल बना कर आत्मा को परमात्मा से जोड़ने का काम करता है और मनुष्य का जीवन हमेशा आत्मा में आत्मा को परमात्मा में जोड़ने के लिए हर पल ही चुप रहना चाहिए और इसी प्रकार मनुष्य के आधार नी के द्वारा मुक्त हो जाती है जबकि पति के द्वारा सांसारिक विभिन्न गतिविधियों में डूबकर हुआ अंधकार की ओर चला जाता है इसीलिए आध्यात्मिक मनाना
Bhoot vigyaan aur adhyaatm vigyaan mein mukhy abhiyanta evan aadhyaatmik jo hamaare praacheen samay se yogee vishisht jo tapasvee muni hai vah har din jo apanee antaraatma ke dvaara aatma ko paramaatma se judane ke lie badhatee donon ko shreshth kaary ko karate hain aur apane dhyaan ko bharana talaashane ke lie pratidin vah ek hee sthaan par baithakar bina paanee pie hue maheenon par baithe rahate hain aur vah apanee tapasya karate hain use aadhyaatmik gyaan hota hai jabaki potee gyaan hamaaree sarakaar kee vibhinn prakaar ke saintist aur vibhinn prakaar ke samaaj mein hone vaalee gatividhiyon aur niryaat mein jo hai vah ho vah galat in donon mein se shreshth maana jae to hamaara aadhyaatmik gyaan sarasvata hai kyonki aadhyaatmik ham apane antaraatma ke dvaara lagaaya vah jo gyaan hota hai vah adhyaatmik hota hai adhyaatmik gyaan ke manushy apane jeevan ko saphal bana kar aatma ko paramaatma se jodane ka kaam karata hai aur manushy ka jeevan hamesha aatma mein aatma ko paramaatma mein jodane ke lie har pal hee chup rahana chaahie aur isee prakaar manushy ke aadhaar nee ke dvaara mukt ho jaatee hai jabaki pati ke dvaara saansaarik vibhinn gatividhiyon mein doobakar hua andhakaar kee or chala jaata hai iseelie aadhyaatmik manaana

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
कौनसा वृक्ष रात को भी ऑक्सीजन छोड़ता है?Kaunsa Vriksh Raat Ko Bhe Oxygen Chodta Hai
ᴊᴀt raj me Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए ᴊᴀt जी का जवाब
𝓝𝓾𝓻𝓼𝓲𝓷𝓰 𝓼𝓪𝓯𝓮 𝓶𝓮 𝔀𝓸𝓻𝓴𝓲𝓷𝓰
0:51
हमारा ट्यूशन है कि ऐसा कौन सा वृक्ष है जो रात में उसी दिन कुछ नॉर्मल है और हमारी जो वैज्ञानिकों की रिश्वत के तहत माने जाएं तो यह हमारे दैनिक जीवन में काम आने वाले वर्षों में से एक है जो रात में कार्बन एक उम्मीद करता है और ऑक्सीजन छोड़ता है वह कहते यह बरस पीपल का वृक्ष होता है जो ऑक्सीजन कार्बन डाई को ग्रहण करता था साथ में जो विभिन्न प्रकार के पौधे होते हैं वो रात में कार्बन डाई को छोड़ते हैं और ऑक्सीजन को ग्रहण करते जबकि पीपल का पौधा ऐसा है जो विपरीत पर गिरे करता है जो रात में कार्बन डाई कुछ कार्बन डाई को ग्रहण करता है और ऑक्सीजन छोड़ता है यह हमारे जीवन में एक ऐसा वृक्ष है जो हमेशा ऑक्सीजन को रिप्लाई करता रहता है
Hamaara tyooshan hai ki aisa kaun sa vrksh hai jo raat mein usee din kuchh normal hai aur hamaaree jo vaigyaanikon kee rishvat ke tahat maane jaen to yah hamaare dainik jeevan mein kaam aane vaale varshon mein se ek hai jo raat mein kaarban ek ummeed karata hai aur okseejan chhodata hai vah kahate yah baras peepal ka vrksh hota hai jo okseejan kaarban daee ko grahan karata tha saath mein jo vibhinn prakaar ke paudhe hote hain vo raat mein kaarban daee ko chhodate hain aur okseejan ko grahan karate jabaki peepal ka paudha aisa hai jo vipareet par gire karata hai jo raat mein kaarban daee kuchh kaarban daee ko grahan karata hai aur okseejan chhodata hai yah hamaare jeevan mein ek aisa vrksh hai jo hamesha okseejan ko riplaee karata rahata hai

#धर्म और ज्योतिषी

ᴊᴀt raj me Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए ᴊᴀt जी का जवाब
𝓝𝓾𝓻𝓼𝓲𝓷𝓰 𝓼𝓪𝓯𝓮 𝓶𝓮 𝔀𝓸𝓻𝓴𝓲𝓷𝓰
1:05
सुबह दिन से जलने पर एड़ियों का दर्द होता है तो इनको थोड़ा ठीक है ठीक हो जाता है इसका मुख्य कारण है कि जब हम रात भर सोते हैं तो हमारे नर्वस सिस्टम के साथ-साथ हमारी जो मांसपेशियां होती हैं वह हमेशा जेलता ओशन कुर्ता के कारण वह एसपी रहती है जब हम सुबह उठते हैं चलते फिरते हैं तो हमारी मांसपेशियों के नर्वस सिस्टम गीत स्वतंत्र इकाई होती है उन्हें अचानक रक्त का सर्कुलर ज्यादा मातरम हो जाता है तो हमारी एड़ियों में दर्द हो जाता है और उस दर्द को कम करने के लिए हम थोड़ी देर जब हमारी ऑडियो में अचानक दर्द स्टार्ट हो जाता है तो हम उसी स्थान पर बैठकर हमारी ऑडियो को एक हाथ में पकड़ कर दूसरे हाथ से ऑडियो में मालिश करें तो वहां की तंत्रिका तंत्र में अक्सर कोलन एक्स आई और अनुचित समय में हो सके उन्हीं के लिए मालिश करें तो वह सर्कुलेट बराबर हो जाएगा और उस थोड़ा दर्द कम हो जाएगा ऐसा करने से हमारे नर्वस सिस्टम के रख अष्टम होता वह भी मजबूत होगा और हमारे रेडियो का दर्द है वह भी नहीं होगा
Subah din se jalane par ediyon ka dard hota hai to inako thoda theek hai theek ho jaata hai isaka mukhy kaaran hai ki jab ham raat bhar sote hain to hamaare narvas sistam ke saath-saath hamaaree jo maansapeshiyaan hotee hain vah hamesha jelata oshan kurta ke kaaran vah esapee rahatee hai jab ham subah uthate hain chalate phirate hain to hamaaree maansapeshiyon ke narvas sistam geet svatantr ikaee hotee hai unhen achaanak rakt ka sarkular jyaada maataram ho jaata hai to hamaaree ediyon mein dard ho jaata hai aur us dard ko kam karane ke lie ham thodee der jab hamaaree odiyo mein achaanak dard staart ho jaata hai to ham usee sthaan par baithakar hamaaree odiyo ko ek haath mein pakad kar doosare haath se odiyo mein maalish karen to vahaan kee tantrika tantr mein aksar kolan eks aaee aur anuchit samay mein ho sake unheen ke lie maalish karen to vah sarkulet baraabar ho jaega aur us thoda dard kam ho jaega aisa karane se hamaare narvas sistam ke rakh ashtam hota vah bhee majaboot hoga aur hamaare rediyo ka dard hai vah bhee nahin hoga

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
भारत के अनाज उगाने वाले किसान मुसीबत से जूझ रहे हैं ऐसा क्यों?Bharat Ke Anaj Ugane Vale Kisan Musibat Se Jujh Rahe Hain Aisa Kyun
ᴊᴀt raj me Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए ᴊᴀt जी का जवाब
𝓝𝓾𝓻𝓼𝓲𝓷𝓰 𝓼𝓪𝓯𝓮 𝓶𝓮 𝔀𝓸𝓻𝓴𝓲𝓷𝓰
1:07
भारत के अनाज उगाने वाले किसान मुसीबत से ढूंढ रहे हैं ऐसा क्यों क्योंकि हमारी स्टेट गवर्नमेंट के पीएम जाते हैं कि वह किसानों के हित की लड़ाई लड़ रहे हैं लेकिन किसानों और उनके नेताओं में आपसी संबंधों के कारण कुछ ऐसे बिल पास किए गए हैं जो किसानों किसानों को 5:00 पर्सेंट उसमें लाभचंद पर्सेंट उनमें बहुत से कपड़े और स्टेट गवर्नमेंट को उनका फायदा होने के कारण वह किसानों अपने हक की लड़ाई का लड़ रहे हैं और इसीलिए किसानों को हर पल मुसीबत का सामना करना पड़ रही है फिर भी किसानों के प्रति से सरकार अभी ध्यान नहीं दे रही है वह कभी याद कर रही है कभी कलकारी बैठक वह हमेशा बैठक ऊपर बैठ कर रही है लेकिन वह प्रतिष्ठा से बैठक कर किसानों की बातों का नहीं कर रहे आज के बाद भी किसान जो अनाज उगाने वह सड़कों पर हो रहे तो कल अनाज की कमी होगी तो उनका जमादार भी देश के देश के हर नागरिक पर संकट आ जाएगा और इसके जमादार भारत के पीएम नरेंद्र मोदी माने जाएंगे
Bhaarat ke anaaj ugaane vaale kisaan museebat se dhoondh rahe hain aisa kyon kyonki hamaaree stet gavarnament ke peeem jaate hain ki vah kisaanon ke hit kee ladaee lad rahe hain lekin kisaanon aur unake netaon mein aapasee sambandhon ke kaaran kuchh aise bil paas kie gae hain jo kisaanon kisaanon ko 5:00 parsent usamen laabhachand parsent unamen bahut se kapade aur stet gavarnament ko unaka phaayada hone ke kaaran vah kisaanon apane hak kee ladaee ka lad rahe hain aur iseelie kisaanon ko har pal museebat ka saamana karana pad rahee hai phir bhee kisaanon ke prati se sarakaar abhee dhyaan nahin de rahee hai vah kabhee yaad kar rahee hai kabhee kalakaaree baithak vah hamesha baithak oopar baith kar rahee hai lekin vah pratishtha se baithak kar kisaanon kee baaton ka nahin kar rahe aaj ke baad bhee kisaan jo anaaj ugaane vah sadakon par ho rahe to kal anaaj kee kamee hogee to unaka jamaadaar bhee desh ke desh ke har naagarik par sankat aa jaega aur isake jamaadaar bhaarat ke peeem narendr modee maane jaenge

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
कौन-से स्थान पर रावण की पूजा होती है?Kaun Se Sthan Par Ravan Ki Pooja Hoti Hai
ᴊᴀt raj me Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए ᴊᴀt जी का जवाब
𝓝𝓾𝓻𝓼𝓲𝓷𝓰 𝓼𝓪𝓯𝓮 𝓶𝓮 𝔀𝓸𝓻𝓴𝓲𝓷𝓰
0:55
रावण की पूजा भारत में राजस्थान गवर्नमेंट स्टेट के डिस्ट्रिक्ट जोधपुर के मंडोर में की जाती क्योंकि यह प्राचीन और हमारी संस्कृति में रावण यार राजस्थान के एक समय में यहां वीजा हुआ करते थे क्योंकि रावण यहां की रावण की पत्नी मंदोदरी या जोधपुर के ब्राह्मणों की लड़की थी और यह मंदोदरी या होने के कारण विजयदशमी के दिशा स्थान पर सभी लोग राहुल को जलाते हैं लेकिन या जोधपुर के मंडोर में रावण की पूजा की जाती है जो हमारी संस्कृति और सभ्यता के अनुसार क्योंकि रावण सभी लोग मानते हैं बुराइयों रन था लेकिन या जोधपुर के मंडोर में रावण की पूजा की जाती हमारे संस्कृति और सभ्यता एक परंपरा अधिक होने के कारण यह पूजा अर्चना की जाती है रावण की प्रतिदिन
Raavan kee pooja bhaarat mein raajasthaan gavarnament stet ke distrikt jodhapur ke mandor mein kee jaatee kyonki yah praacheen aur hamaaree sanskrti mein raavan yaar raajasthaan ke ek samay mein yahaan veeja hua karate the kyonki raavan yahaan kee raavan kee patnee mandodaree ya jodhapur ke braahmanon kee ladakee thee aur yah mandodaree ya hone ke kaaran vijayadashamee ke disha sthaan par sabhee log raahul ko jalaate hain lekin ya jodhapur ke mandor mein raavan kee pooja kee jaatee hai jo hamaaree sanskrti aur sabhyata ke anusaar kyonki raavan sabhee log maanate hain buraiyon ran tha lekin ya jodhapur ke mandor mein raavan kee pooja kee jaatee hamaare sanskrti aur sabhyata ek parampara adhik hone ke kaaran yah pooja archana kee jaatee hai raavan kee pratidin

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
रानीखेत बीमारी क्या है एवं यह किसके द्वारा फैलती है?Ranikhet Bimari Kya Hai Evam Yah Kiske Dvara Failti Hai
ᴊᴀt raj me Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए ᴊᴀt जी का जवाब
𝓝𝓾𝓻𝓼𝓲𝓷𝓰 𝓼𝓪𝓯𝓮 𝓶𝓮 𝔀𝓸𝓻𝓴𝓲𝓷𝓰
0:55
रानीखेत नाम की बीमारी है और क्यों मैं एक फैलने वाली संक्रामक बीमारी होती है इससे पहले से सभी प्रकार की जॉब पर जाती है उर्दू में हूं मैं से शुरू कर दी है जिसमें अधिक मात्रा में संक्रमण पहले से उनकी मृत्यु भी हो जाती है यह सामान्य हमारे जो दैनिक ज्यादातर जो खाने वाले मूर्खों यूज करते हैं उनमें यह ज्यादातर पाई जाती है और इस बीमारी के कारण उनकी जो मांसपेशियों ऑडियो में अचानक का सरकुलेशन रुक जाता है वह और यह बीमारी होने पर उन्हें जल्द ही मर जाते हैं यदि कोई इस बीमारी से ग्रसित व्यक्ति मुर्गी को खा लेता है तो उससे वह मनुष्य के शरीर में बी आर सी बीमारी का सामना करना पड़ सकता है और विभिन्न बीमारियों से ग्रसित एक अचानक मृत्यु भी हो सकती इसका मुख्य कारण
Raaneekhet naam kee beemaaree hai aur kyon main ek phailane vaalee sankraamak beemaaree hotee hai isase pahale se sabhee prakaar kee job par jaatee hai urdoo mein hoon main se shuroo kar dee hai jisamen adhik maatra mein sankraman pahale se unakee mrtyu bhee ho jaatee hai yah saamaany hamaare jo dainik jyaadaatar jo khaane vaale moorkhon yooj karate hain unamen yah jyaadaatar paee jaatee hai aur is beemaaree ke kaaran unakee jo maansapeshiyon odiyo mein achaanak ka sarakuleshan ruk jaata hai vah aur yah beemaaree hone par unhen jald hee mar jaate hain yadi koee is beemaaree se grasit vyakti murgee ko kha leta hai to usase vah manushy ke shareer mein bee aar see beemaaree ka saamana karana pad sakata hai aur vibhinn beemaariyon se grasit ek achaanak mrtyu bhee ho sakatee isaka mukhy kaaran

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
कुछ दवाओं को डॉक्टर खाली पेट लेने के लिए क्यों कहते हैं?Kuch Davaon Ko Doctor Khali Pet Lene Ke Lie Kyun Kehte Hain
ᴊᴀt raj me Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए ᴊᴀt जी का जवाब
𝓝𝓾𝓻𝓼𝓲𝓷𝓰 𝓼𝓪𝓯𝓮 𝓶𝓮 𝔀𝓸𝓻𝓴𝓲𝓷𝓰
0:50
कुछ दवाइयां डॉक्टर खाली पेट लेने के लिए क्यों कहते हैं इसका मुख्य कारण है कि हमारे जितनी भी नर्वस सिस्टम के साथ-साथ हमारी रगों में जो ज्यादा कब मात्र ज्यादा मात्रा में कब और शैलेश माह का आवर्धन होता है जो हमारे कुछ जैसी होती है होती है जो हिस्ट्री नामक उसके होती है वह हमारे शरीर की जितनी भी तंत्रिका तंत्र में जमे हुए शैलेश मा के कफ को कम करती है और वह हमारे जो जितने भी नर्वस सिस्टम की गतिविधि है उनको बढ़ाने का कार्य करती और हमारे साथ में जो जितने भी अनेकों समस्याओं के व्यक्ति हैं उनको नाश करने में भूखे पेट करती है और जब हम भोजन करते हैं तो हमारे साथ में कुछ ऐसे व्यक्ति हैं चले जाते हैं जो हमारे लिए हानिकारक कम होते हैं जबकि वह चुप के लिए ज्यादा नुकसानदायक तो है इसीलिए उन्होंने को डॉक्टर पहले लेने के लिए कहता है
Kuchh davaiyaan doktar khaalee pet lene ke lie kyon kahate hain isaka mukhy kaaran hai ki hamaare jitanee bhee narvas sistam ke saath-saath hamaaree ragon mein jo jyaada kab maatr jyaada maatra mein kab aur shailesh maah ka aavardhan hota hai jo hamaare kuchh jaisee hotee hai hotee hai jo histree naamak usake hotee hai vah hamaare shareer kee jitanee bhee tantrika tantr mein jame hue shailesh ma ke kaph ko kam karatee hai aur vah hamaare jo jitane bhee narvas sistam kee gatividhi hai unako badhaane ka kaary karatee aur hamaare saath mein jo jitane bhee anekon samasyaon ke vyakti hain unako naash karane mein bhookhe pet karatee hai aur jab ham bhojan karate hain to hamaare saath mein kuchh aise vyakti hain chale jaate hain jo hamaare lie haanikaarak kam hote hain jabaki vah chup ke lie jyaada nukasaanadaayak to hai iseelie unhonne ko doktar pahale lene ke lie kahata hai

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
आयुर्वेदिक औषधि आंवला जूस के लाभ क्या है?Ayurvedic Aushadhi Anvla Juice Ke Labh Kya Hai
ᴊᴀt raj me Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए ᴊᴀt जी का जवाब
𝓝𝓾𝓻𝓼𝓲𝓷𝓰 𝓼𝓪𝓯𝓮 𝓶𝓮 𝔀𝓸𝓻𝓴𝓲𝓷𝓰
0:49
हिंदी में आंवला के जूस का लाभ है कि हमारे जितने भी आंखों से संबंधित हो गए हमारे गैस्ट्रिक और हमारी पाचन तंत्र से संबंधित जो समस्याएं उनके समाधान के लिए आंवले के जूस का प्रतिदिन हम सुबह वालों को धोखा आंवले के जूस बनाने की विधि है कि औरों को धोखे 10 दिन तक धूप में सुखा है फिर इनको इतना मिक्सी मिक्सी में डालकर ऐसा एक चूर्ण बना है जो ऐसा हो फिर उस चूर्ण में से कपट छल करके उस पानी को निकाल के अलग रखें 4 दिन से जमे हुए कचरे को अलग कर ले फिर उसको कम पर सेट करें और फिर अपनी आंखों पर और आपने तो जितनी भी समस्याओं के समाधान के लिए आंवला एक अति महत्वपूर्ण माना जाता है वह हमारी गैस्ट्रिक हो रहा को के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाई
Hindee mein aanvala ke joos ka laabh hai ki hamaare jitane bhee aankhon se sambandhit ho gae hamaare gaistrik aur hamaaree paachan tantr se sambandhit jo samasyaen unake samaadhaan ke lie aanvale ke joos ka pratidin ham subah vaalon ko dhokha aanvale ke joos banaane kee vidhi hai ki auron ko dhokhe 10 din tak dhoop mein sukha hai phir inako itana miksee miksee mein daalakar aisa ek choorn bana hai jo aisa ho phir us choorn mein se kapat chhal karake us paanee ko nikaal ke alag rakhen 4 din se jame hue kachare ko alag kar le phir usako kam par set karen aur phir apanee aankhon par aur aapane to jitanee bhee samasyaon ke samaadhaan ke lie aanvala ek ati mahatvapoorn maana jaata hai vah hamaaree gaistrik ho raha ko ke lie mahatvapoorn bhoomika nibhaee

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
गाड़ी के नंबर से पूरी जानकारी कैसे पता करें?Gadhi Ke Number Se Puri Jankari Kaise Pata Kare
ᴊᴀt raj me Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए ᴊᴀt जी का जवाब
𝓝𝓾𝓻𝓼𝓲𝓷𝓰 𝓼𝓪𝓯𝓮 𝓶𝓮 𝔀𝓸𝓻𝓴𝓲𝓷𝓰
0:35
गाड़ी के नंबर की पूरी जानकारी कैसे बदलें आजकल हमारे डिजिटल युग में विभिन्न प्रकार के जो एक होते हैं उन के माध्यम से जो वह कल नंबर वेरीफाई एक ऐप आता है जो प्ले स्टोर या है एप्पल स्टोर दोनों पर्पल बस उस के माध्यम से हम अपने गाड़ी के जिस किसी स्टेट की उस स्टेट के हम गाड़ी के नंबर डालने फिर उन पर पूरी संपूर्ण जानकारी मिल जाएगी की गाड़ी की इंश्योरेंस आरटीओ में रजिस्टर्ड सब कुछ जानकारी मिल जाएगी आप धन्यवाद
Gaadee ke nambar kee pooree jaanakaaree kaise badalen aajakal hamaare dijital yug mein vibhinn prakaar ke jo ek hote hain un ke maadhyam se jo vah kal nambar vereephaee ek aip aata hai jo ple stor ya hai eppal stor donon parpal bas us ke maadhyam se ham apane gaadee ke jis kisee stet kee us stet ke ham gaadee ke nambar daalane phir un par pooree sampoorn jaanakaaree mil jaegee kee gaadee kee inshyorens aarateeo mein rajistard sab kuchh jaanakaaree mil jaegee aap dhanyavaad

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
अगर महिलाओं को पीरियड्स नहीं होंगे तो क्या होगा?Agar Mahilao Ko Periods Nahin Honge To Kya Hoga
ᴊᴀt raj me Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए ᴊᴀt जी का जवाब
𝓝𝓾𝓻𝓼𝓲𝓷𝓰 𝓼𝓪𝓯𝓮 𝓶𝓮 𝔀𝓸𝓻𝓴𝓲𝓷𝓰
1:24
अगर महिलाओं में पीरियड इन नहीं होती तो क्या होगा इसका मुख्य कारण है जो कि महिलाओं में होने वाले उपस्थित हार्मोन एस्ट्रोजन और एस्ट्रोजन हार्मोन होते हैं वह सक्रिय अवस्था में नहीं आने की वजह से महिलाओं में संतान उत्पन्न करने की समस्या में आ जाती है क्योंकि पर्यटन कालीन जो हमारे यूट्रस और व्यस्त होते हैं उनमें एक फ्लूड होता है जो हमारे शरीर के रक्त का ब्लडिंग सर्कुलर ट्रेक प्रिडिकल टाइम होता है जो हमारे शरीर के नर्वस सिस्टम के साथ में जो डेवलपमेंट ही हल होते हैं सेल डिविजन के विभाजन के कारण जो हमारे नर्वयसली जो टेक्नोलॉजी और सेक्सी वाली जो रॉन्ग सोते हैं उनके द्वारा जो एक प्लेट निकलता है उन जो निश्चित समय अवधि के अनुसार पेट दर्द दिल तो हमारे महिलाओं में होने वाले ग्रुप कालीन अवस्था में सक्रिय तरह दी जब कोई महिलाओं में पीरियड इन आता है उस समय कोई महिला अपने सेक्सुअल एब्यूज लेट कर दी यह तो उनमें है संतान होने की संभावना चरित्र कम रहती है क्योंकि ब्रिटेन के सामने जो हमारी यूट्रस के द्वारा घनफल एडीजी जो अपशिष्ट पदार्थ होते हैं उनको बाहर निकाला जाता है और ब्रेड नहीं होता है तो महिलाओं की आदत यूट्रस को विभिन्न बीमारियों के साथ संगठित करके वह लंबे टाइम के समय बंद हो जाता है इसीलिए ज्यादातर महिलाओं में बांझपन की समस्या थी
Agar mahilaon mein peeriyad in nahin hotee to kya hoga isaka mukhy kaaran hai jo ki mahilaon mein hone vaale upasthit haarmon estrojan aur estrojan haarmon hote hain vah sakriy avastha mein nahin aane kee vajah se mahilaon mein santaan utpann karane kee samasya mein aa jaatee hai kyonki paryatan kaaleen jo hamaare yootras aur vyast hote hain unamen ek phlood hota hai jo hamaare shareer ke rakt ka blading sarkular trek pridikal taim hota hai jo hamaare shareer ke narvas sistam ke saath mein jo devalapament hee hal hote hain sel divijan ke vibhaajan ke kaaran jo hamaare narvayasalee jo teknolojee aur seksee vaalee jo rong sote hain unake dvaara jo ek plet nikalata hai un jo nishchit samay avadhi ke anusaar pet dard dil to hamaare mahilaon mein hone vaale grup kaaleen avastha mein sakriy tarah dee jab koee mahilaon mein peeriyad in aata hai us samay koee mahila apane seksual ebyooj let kar dee yah to unamen hai santaan hone kee sambhaavana charitr kam rahatee hai kyonki briten ke saamane jo hamaaree yootras ke dvaara ghanaphal edeejee jo apashisht padaarth hote hain unako baahar nikaala jaata hai aur bred nahin hota hai to mahilaon kee aadat yootras ko vibhinn beemaariyon ke saath sangathit karake vah lambe taim ke samay band ho jaata hai iseelie jyaadaatar mahilaon mein baanjhapan kee samasya thee

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
इंसान के लिए शादी करना जरूरी है जरूरी है तो क्यों?Insaan Ke Lie Shadi Karna Jaruri Hai Jaruri Hai To Kyun
ᴊᴀt raj me Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए ᴊᴀt जी का जवाब
𝓝𝓾𝓻𝓼𝓲𝓷𝓰 𝓼𝓪𝓯𝓮 𝓶𝓮 𝔀𝓸𝓻𝓴𝓲𝓷𝓰
1:09
शाम के लिए शादी करने एक जरूरी है तो इसका क्वेश्चन का उत्तर है कि इंसान को शादी करना एक जरूरी है क्योंकि हमारे आंसुओं से अलवर कार और एक बात से वाटर सेव के नेट पूर्ण भूमिका निभाते क्योंकि जब दो लोग आपस में मिलकर किसी कार्य को सरलता से कर सकते हैं जबकि एक व्यक्ति अपने कार्य को सरलता और सहजता से नहीं करता क्योंकि पैसा को लेकर अकेलापन महसूस के साथ मूवी में अनेकों समस्याओं का समाधान होता है जबकि दुबे के साथ में मिलकर किसी की कहानियों को सरलता कुरान कर सकते हैं इसीलिए शादी कर एक महत्वपूर्ण बिंदु है वह हमारे साथ में सामाजिक और संस्कृति और सभ्यता के अनुसार हमारे प्रति व्यक्ति को शादी करने का कार्य को माना जाता है कि समाज में हर व्यक्ति की अपनी एक प्रश्न लेटी होती है जो शादी करते हैं उनकी फैमिली के साथ अपनी संतान की पीढ़ी दर पीढ़ी और अपने संस्था में सभी डिटेल काका जी भी करते हैं महत्वपूर्ण भूमिका शादी में नहीं भर नहीं होती है इंसान की लव शादी करना एक जरूरी है उनके मित्र
Shaam ke lie shaadee karane ek jarooree hai to isaka kveshchan ka uttar hai ki insaan ko shaadee karana ek jarooree hai kyonki hamaare aansuon se alavar kaar aur ek baat se vaatar sev ke net poorn bhoomika nibhaate kyonki jab do log aapas mein milakar kisee kaary ko saralata se kar sakate hain jabaki ek vyakti apane kaary ko saralata aur sahajata se nahin karata kyonki paisa ko lekar akelaapan mahasoos ke saath moovee mein anekon samasyaon ka samaadhaan hota hai jabaki dube ke saath mein milakar kisee kee kahaaniyon ko saralata kuraan kar sakate hain iseelie shaadee kar ek mahatvapoorn bindu hai vah hamaare saath mein saamaajik aur sanskrti aur sabhyata ke anusaar hamaare prati vyakti ko shaadee karane ka kaary ko maana jaata hai ki samaaj mein har vyakti kee apanee ek prashn letee hotee hai jo shaadee karate hain unakee phaimilee ke saath apanee santaan kee peedhee dar peedhee aur apane sanstha mein sabhee ditel kaaka jee bhee karate hain mahatvapoorn bhoomika shaadee mein nahin bhar nahin hotee hai insaan kee lav shaadee karana ek jarooree hai unake mitr

#जीवन शैली

bolkar speaker
जीवन में लक्ष्य कितना जरूरी होता है?Jeevan Mein Lakshya Kitna Jaruri Hota Hai
ᴊᴀt raj me Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए ᴊᴀt जी का जवाब
𝓝𝓾𝓻𝓼𝓲𝓷𝓰 𝓼𝓪𝓯𝓮 𝓶𝓮 𝔀𝓸𝓻𝓴𝓲𝓷𝓰
0:52
जो गलत से कितना दर्द होता है क्योंकि हर हम किसी भी कार्य को आरंभ करते हैं तो एक लक्ष्य और हम एक निर्धारित अवस्था के अनुसार कार्य को प्रारंभ करते हैं जैसे हम किसी भी मालूम मत बना रहे तो हम उसकी पहली पर है रूप रूपरेखा तैयार करेंगे फिर उसकी विभिन्न प्रकार की गतिविधियों साबित करेंगे हमारा लक्ष्य है कि हम उस में किस प्रकार की मैट्रियल को यूज करेंगे और हमारे क्रियाविधि के द्वारा हमारा कैसा मजबूत रहेगा इसी प्रकार हम लक्ष्य के तहत किसी भी को सफलता है या बड़ी कामयाबी को हासिल करने के लिए लक्ष्मी जरूरी होता है कि मैं कितने घंटे कार्य करके अपने लक्ष्य के प्रति अपनी मेहनत रंग ला कर्म एक्सेस ब्लू बन सकता हूं लक्ष्य जीवन में होना एक अति महत्वपूर्ण बिंदु
Jo galat se kitana dard hota hai kyonki har ham kisee bhee kaary ko aarambh karate hain to ek lakshy aur ham ek nirdhaarit avastha ke anusaar kaary ko praarambh karate hain jaise ham kisee bhee maaloom mat bana rahe to ham usakee pahalee par hai roop rooparekha taiyaar karenge phir usakee vibhinn prakaar kee gatividhiyon saabit karenge hamaara lakshy hai ki ham us mein kis prakaar kee maitriyal ko yooj karenge aur hamaare kriyaavidhi ke dvaara hamaara kaisa majaboot rahega isee prakaar ham lakshy ke tahat kisee bhee ko saphalata hai ya badee kaamayaabee ko haasil karane ke lie lakshmee jarooree hota hai ki main kitane ghante kaary karake apane lakshy ke prati apanee mehanat rang la karm ekses bloo ban sakata hoon lakshy jeevan mein hona ek ati mahatvapoorn bindu

#जीवन शैली

bolkar speaker
याददाश्त बढ़ाने के लिए कौन-सी दवा सबसे बेहतर है?Yaadasht Badhane Ke Lie Kaun Si Dava Sabse Behtar Hai
ᴊᴀt raj me Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए ᴊᴀt जी का जवाब
𝓝𝓾𝓻𝓼𝓲𝓷𝓰 𝓼𝓪𝓯𝓮 𝓶𝓮 𝔀𝓸𝓻𝓴𝓲𝓷𝓰
0:51
यादाश्त को बढ़ाने के लिए कौन सी दवा सबसे बेहतर मत जाती मेरा अनुसार आयुर्वेद में सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण पोस्ट क्यों मैसेज शंखपुष्पी होते हैं जो हमारे नर्वस सिस्टम की मेडल ऑब्लिगेटेड और पीयूष ग्रंथि और ठेले मा सभी को सक्रियता मिलाकर हमारे बस की है प्रिंट नामक हार्मोन होता है उनको सक्रियता मिलाकर हमारे यादाश्त को धीमे धीमे बढ़ाने का कार्य करती है शंखपुष्पी संतोष भी कंपनी दिन एक महीना यूज करें तो हमारे मांसपेशियों के साथ सा नर्वस सिस्टम भी मजबूत होगा और हमारी याद भी बढ़ेगी और इसी के साथ-साथ और अन्य को प्रेडेट आते हैं जो मेडिसिन वाले उनका भी हम जेवन अपने डॉक्टर के अनुसार कर सकते हैं जबकि शंखपुष्पी हम प्रति व्यक्ति बिना डॉक्टर की सलाह से भी का सच
Yaadaasht ko badhaane ke lie kaun see dava sabase behatar mat jaatee mera anusaar aayurved mein sabase jyaada mahatvapoorn post kyon maisej shankhapushpee hote hain jo hamaare narvas sistam kee medal obligeted aur peeyoosh granthi aur thele ma sabhee ko sakriyata milaakar hamaare bas kee hai print naamak haarmon hota hai unako sakriyata milaakar hamaare yaadaasht ko dheeme dheeme badhaane ka kaary karatee hai shankhapushpee santosh bhee kampanee din ek maheena yooj karen to hamaare maansapeshiyon ke saath sa narvas sistam bhee majaboot hoga aur hamaaree yaad bhee badhegee aur isee ke saath-saath aur any ko predet aate hain jo medisin vaale unaka bhee ham jevan apane doktar ke anusaar kar sakate hain jabaki shankhapushpee ham prati vyakti bina doktar kee salaah se bhee ka sach

#जीवन शैली

bolkar speaker
खून में शुगर लेवल बढ़ने के लक्षण क्या होते हैं?Khoon Mein Sugar Level Badhne Ke Lakshan Kya Hote Hain
ᴊᴀt raj me Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए ᴊᴀt जी का जवाब
𝓝𝓾𝓻𝓼𝓲𝓷𝓰 𝓼𝓪𝓯𝓮 𝓶𝓮 𝔀𝓸𝓻𝓴𝓲𝓷𝓰
1:29
यदि किसी के ब्लड में शुगर लेवल बढ़ने के लक्षण होता है कि अचानक उसे जी की घबराहट होना और उसकी छाती में दर्द होना साथ-साथ उसको खाना पीना भी अच्छा नहीं लगेगा साथ-साथ उसे ऐसे ही बढ़ती क्रिएटिव गिरे होगी जिसके कारण उसे है हर चीज कार्य करने में उसे अचानक थकावट महसूस होगी ज्यादातर हमारा बीपी लेवल बढ़ने या लो होने पर उसे थकावट भी महसूस होती है जिसके कारण किसी भी कार्य को करने के लिए वह कोशिश करता है फिर भी उस गाड़ी को नहीं होता किसी के लिए बीपी बीपी के साथ साथ हमारा शुगर लेवल बढ़ जाता है इसीलिए प्रति व्यक्ति को उस लेवल को धीरे धीरे कम करने के लिए आयुर्वेद मतानुसार हम ऐसे चार एक्टिविटी चीजों का बताता हूं जो प्रतिदिन सेवन करें तो समस्या लगभग 2 महीने के अनुसार शुगर लेवल को धीमा किया जा सकता है जैसे हम अजवाइन को हमले m50 करा साथ में हम भी रानी को 50 ग्राम 77 धनिया को ले 25 ग्राम साथ में ले मिश्री को सौ ग्राम को साथ में ले हम हिंदू नामक इन सभी का मिश्रण करके हम प्रतिदिन सेवन करें तो हमारी जो शुगर लेवल है उसको धीमा किया जाता है ताकि इनके जो जितने भी तत्व बताएं इनको एक्रेटिव मात्रा में मिलाकर मिक्स पार्टी ने सुबह लगभग आधा स्कूल यूज करें तो हमारे शुगर लेवल को धीमा
Yadi kisee ke blad mein shugar leval badhane ke lakshan hota hai ki achaanak use jee kee ghabaraahat hona aur usakee chhaatee mein dard hona saath-saath usako khaana peena bhee achchha nahin lagega saath-saath use aise hee badhatee krietiv gire hogee jisake kaaran use hai har cheej kaary karane mein use achaanak thakaavat mahasoos hogee jyaadaatar hamaara beepee leval badhane ya lo hone par use thakaavat bhee mahasoos hotee hai jisake kaaran kisee bhee kaary ko karane ke lie vah koshish karata hai phir bhee us gaadee ko nahin hota kisee ke lie beepee beepee ke saath saath hamaara shugar leval badh jaata hai iseelie prati vyakti ko us leval ko dheere dheere kam karane ke lie aayurved mataanusaar ham aise chaar ektivitee cheejon ka bataata hoon jo pratidin sevan karen to samasya lagabhag 2 maheene ke anusaar shugar leval ko dheema kiya ja sakata hai jaise ham ajavain ko hamale m50 kara saath mein ham bhee raanee ko 50 graam 77 dhaniya ko le 25 graam saath mein le mishree ko sau graam ko saath mein le ham hindoo naamak in sabhee ka mishran karake ham pratidin sevan karen to hamaaree jo shugar leval hai usako dheema kiya jaata hai taaki inake jo jitane bhee tatv bataen inako ekretiv maatra mein milaakar miks paartee ne subah lagabhag aadha skool yooj karen to hamaare shugar leval ko dheema

#जीवन शैली

bolkar speaker
आने वाले समय में फिटनेस कोच की जरूरत नहीं होगी?Aane Vale Samay Mein Fitness Coach Ki Jarurat Nahi Hogi
ᴊᴀt raj me Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए ᴊᴀt जी का जवाब
𝓝𝓾𝓻𝓼𝓲𝓷𝓰 𝓼𝓪𝓯𝓮 𝓶𝓮 𝔀𝓸𝓻𝓴𝓲𝓷𝓰
1:09
आने वाले समय में फिटनेस कोच की जरूरत नहीं होगी क्योंकि आजकल सभी सोशल मीडिया और सोशल वर्कर के माध्यम से सभी लोग अपने घर बैठे हैं उसके बारे में संपूर्ण जानकारी प्राप्त कर लेते हैं और फिटनेस कोच की मुख्यतः सामान्य जरूरत तो हम इतना जो सोशल मीडिया पर देखते हैं उसे हम 40% करते हैं जबकि किसी व्यक्ति को ग्रुप करते हैं तो हमारे जो ज्यादातर समझ आता है जबकि सोशल मीडिया की पटना हमारे काफी समय के लिए साइड इफेक्ट भी हो सकते हैं इसीलिए हमें समय के अनुसार वर्ष की भी जरूरत रखनी चाहिए जिससे हमें साइड इफेक्ट भी बताएं लेकिन जो मीडिया के माध्यम से साइड इफेक्ट बताते हैं उसे क्या पता आपको किस बीमारी में वह फिटनेस काम करें या नहीं करें आप किसी बीमारी से जूझ रहे हो आप ऐसा साइज़ेरिया कुछ भी करते हो और आप उस फिटनेस के चला ले रहे हो जो आप यूट्यूब पर देख ले फिर उस फिटनेस से कैसे पता चले कि आप किस बीमारी से ग्रसित हो और आप वह एक्सरसाइज करें जिसके कारण आपको नुकसान भी हो सकता इसीलिए बिजनेस की जरूरत होगी मेरी आशा
Aane vaale samay mein phitanes koch kee jaroorat nahin hogee kyonki aajakal sabhee soshal meediya aur soshal varkar ke maadhyam se sabhee log apane ghar baithe hain usake baare mein sampoorn jaanakaaree praapt kar lete hain aur phitanes koch kee mukhyatah saamaany jaroorat to ham itana jo soshal meediya par dekhate hain use ham 40% karate hain jabaki kisee vyakti ko grup karate hain to hamaare jo jyaadaatar samajh aata hai jabaki soshal meediya kee patana hamaare kaaphee samay ke lie said iphekt bhee ho sakate hain iseelie hamen samay ke anusaar varsh kee bhee jaroorat rakhanee chaahie jisase hamen said iphekt bhee bataen lekin jo meediya ke maadhyam se said iphekt bataate hain use kya pata aapako kis beemaaree mein vah phitanes kaam karen ya nahin karen aap kisee beemaaree se joojh rahe ho aap aisa saizeriya kuchh bhee karate ho aur aap us phitanes ke chala le rahe ho jo aap yootyoob par dekh le phir us phitanes se kaise pata chale ki aap kis beemaaree se grasit ho aur aap vah eksarasaij karen jisake kaaran aapako nukasaan bhee ho sakata iseelie bijanes kee jaroorat hogee meree aasha

#जीवन शैली

bolkar speaker
ज्यादा एक्सरसाइज करने के साइड इफेक्ट क्या है?Jyada Excercise Karne Ke Side Effect Kya Hai
ᴊᴀt raj me Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए ᴊᴀt जी का जवाब
𝓝𝓾𝓻𝓼𝓲𝓷𝓰 𝓼𝓪𝓯𝓮 𝓶𝓮 𝔀𝓸𝓻𝓴𝓲𝓷𝓰
1:18
ज्यादा एक्सरसाइज करने से साइड इफेक्ट मुझे पर हम मान सकते हैं कि साइड इफेक्ट तो हमारे जो हम लेवल और अपने शरीर की फिटनेस किया सबसे करें तो वह ज्यादा हमारे लेशन हानिकारक नहीं होता जब हम किसी भी कार्य को हम हमारी कैपेसिटी के अनुसार से ज्यादा कर देते हैं तो हमारे जो हो वह आरंभ होता है वर्मा के दो अर्थ होते हैं उन में खिंचाव आने के कारण हमारे मांसपेशियों में दर्द होता है और जिसके कारण रखा सर्कुलेट बढ़ जाता है जिसके कारण हमारे हाथ भारत को ज्यादा पंपिंग ब्लड का दादा पंपिंग करना पड़ता है इसीलिए हम एक्स गाय के साथ साथ में हार्ट का भी संतुलन खो बैठे हैं और हमारी जो मांसपेशियों में जमीनी फैट होती है उनका सर पुलिस एक स्थान पर फिसल जाता है जिसके कारण हमारी मांसपेशियों की विधि में फटने का ज्यादा संभावना रहती हैं और ज्यादातर हमारी जो संकोच होते हैं वह मांसपेशियों में होते हैं मांसपेशियों में जो जमी भी फिट होती है ऐसी ऐसी ट्रेन फैटी एसिड नामक एक दो वर्षा होती हैं वह हमारी मांसपेशियों में जमीन होती है जिसके कारण वह नर्वस सिस्टम को प्रभावित कर देती है जिसके कारण व्यक्ति में कमजोरी आ जाती है जिसके कारण धीरे-धीरे शरीर में अनेकों बीमारियों का सामना करना पड़ता
Jyaada eksarasaij karane se said iphekt mujhe par ham maan sakate hain ki said iphekt to hamaare jo ham leval aur apane shareer kee phitanes kiya sabase karen to vah jyaada hamaare leshan haanikaarak nahin hota jab ham kisee bhee kaary ko ham hamaaree kaipesitee ke anusaar se jyaada kar dete hain to hamaare jo ho vah aarambh hota hai varma ke do arth hote hain un mein khinchaav aane ke kaaran hamaare maansapeshiyon mein dard hota hai aur jisake kaaran rakha sarkulet badh jaata hai jisake kaaran hamaare haath bhaarat ko jyaada pamping blad ka daada pamping karana padata hai iseelie ham eks gaay ke saath saath mein haart ka bhee santulan kho baithe hain aur hamaaree jo maansapeshiyon mein jameenee phait hotee hai unaka sar pulis ek sthaan par phisal jaata hai jisake kaaran hamaaree maansapeshiyon kee vidhi mein phatane ka jyaada sambhaavana rahatee hain aur jyaadaatar hamaaree jo sankoch hote hain vah maansapeshiyon mein hote hain maansapeshiyon mein jo jamee bhee phit hotee hai aisee aisee tren phaitee esid naamak ek do varsha hotee hain vah hamaaree maansapeshiyon mein jameen hotee hai jisake kaaran vah narvas sistam ko prabhaavit kar detee hai jisake kaaran vyakti mein kamajoree aa jaatee hai jisake kaaran dheere-dheere shareer mein anekon beemaariyon ka saamana karana padata

#जीवन शैली

bolkar speaker
कैसे पता करें कि सीने में होने वाला दर्द गैस का है या हार्ट अटैक का?Kaise Pata Kare Ki Seene Mein Hone Vala Dard Gas Ka Hai Ya Heart Attack Ka
ᴊᴀt raj me Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए ᴊᴀt जी का जवाब
𝓝𝓾𝓻𝓼𝓲𝓷𝓰 𝓼𝓪𝓯𝓮 𝓶𝓮 𝔀𝓸𝓻𝓴𝓲𝓷𝓰
1:30
हमारा ट्यूशन है कि कैसे पता करेंगे कि सीने में होने वाला दर्द गैस का है या हार्टअटैक का है यह हम नॉर्मल ही और सेंट्रलाइजेशन मान सकते हैं कि यदि सीने में दर्द होता है यदि किसी भी व्यक्ति के चलते में अचानक दर्द होता है तो वह ऐसे होता है जैसे सोहन और सब जीना हराम करने वाली दर्द होता है तो वह हार्ड अटैक आता यदि हमारे सीने में दर्द हो रहा है तो गैस काम कैसे मान सकते हैं जैसे हम गैस का का मुख्य लक्षण होता है कि हम सांस लेने के साथ-साथ हमारे जो जी बस लाने कि वह बिक्री होती है और हमारा पेट अचानक हो जाता है और हमें बारिशा महसूस होता है जबकि हार्ड अटैक आता है तो हमारे सीने में होने वाले धार में अचानक ऐसे होगा जैसे हम किसी भी इंजेक्शन हमारी छातियों क्रिएटिव किए जाते हैं वैसे महसूस होगा लेकिन हार्ड अटैक में सबसे ज्यादा मैन होता है कि हमारे कॉलेज तो उनके साथ साथ हमारा बीपी लेवल एकदम अचानक लो हो जाता है या हार इतना तेज होता है कि हमारी जो पास होती है वह लगभग 180 से ऊपर अब हो जाती है तो हमारे हाथ की जो ओए आरती और बहन होती हैं उनमें अचानक संकोच सा महसूस होता है जिसके कारण हमें जी मत लाने के साथ-साथ घबराहट हो जाती है और बेचैनी के साथ हमें चक्कर भी आ जाते हैं जबकि गैस को है जो सीने में दर्द होता है गैस वाला उसमें हमें कोई भी घबराहट ज्यादा नहीं महसूस होती है और अगले चक्कर नहीं आते हैं मुख्यता यह लक्षण है
Hamaara tyooshan hai ki kaise pata karenge ki seene mein hone vaala dard gais ka hai ya haartataik ka hai yah ham normal hee aur sentralaijeshan maan sakate hain ki yadi seene mein dard hota hai yadi kisee bhee vyakti ke chalate mein achaanak dard hota hai to vah aise hota hai jaise sohan aur sab jeena haraam karane vaalee dard hota hai to vah haard ataik aata yadi hamaare seene mein dard ho raha hai to gais kaam kaise maan sakate hain jaise ham gais ka ka mukhy lakshan hota hai ki ham saans lene ke saath-saath hamaare jo jee bas laane ki vah bikree hotee hai aur hamaara pet achaanak ho jaata hai aur hamen baarisha mahasoos hota hai jabaki haard ataik aata hai to hamaare seene mein hone vaale dhaar mein achaanak aise hoga jaise ham kisee bhee injekshan hamaaree chhaatiyon krietiv kie jaate hain vaise mahasoos hoga lekin haard ataik mein sabase jyaada main hota hai ki hamaare kolej to unake saath saath hamaara beepee leval ekadam achaanak lo ho jaata hai ya haar itana tej hota hai ki hamaaree jo paas hotee hai vah lagabhag 180 se oopar ab ho jaatee hai to hamaare haath kee jo oe aaratee aur bahan hotee hain unamen achaanak sankoch sa mahasoos hota hai jisake kaaran hamen jee mat laane ke saath-saath ghabaraahat ho jaatee hai aur bechainee ke saath hamen chakkar bhee aa jaate hain jabaki gais ko hai jo seene mein dard hota hai gais vaala usamen hamen koee bhee ghabaraahat jyaada nahin mahasoos hotee hai aur agale chakkar nahin aate hain mukhyata yah lakshan hai

#मनोरंजन

ᴊᴀt raj me Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए ᴊᴀt जी का जवाब
𝓝𝓾𝓻𝓼𝓲𝓷𝓰 𝓼𝓪𝓯𝓮 𝓶𝓮 𝔀𝓸𝓻𝓴𝓲𝓷𝓰
0:54
दक्षिणी भारत में फिल्मों के बॉलीवुड से बेहतर जो समझौता बॉलीवुड पिछड़ा राय बॉलीवुड क्यों भेज रहा है इसका मुख्य कारण है कि हमारी फिल्मों में ज्यादातर डायलॉग और एसएससी इन क्रिएटिव नहीं किए जाते हैं जो साउथ में किया जाता वह किया था साउथ की फिल्मों में इतने सिंह के रेट इन किए जाते हैं जो सभी फैंस के लिए क्रेडिट और ऐसे सीन ओं को क्रिएटिव किया जाता है जो आदमी शहर के रोंगटे खड़े कर दें और सबसे हंसी दार मजाक पटना के वाले होते हैं और बॉलीवुड में तीन कमी ऐसे एक्टिव होते हैं जिसके कारण लोगों में पर हंसी मजाक के मूड में नहीं रहते और जो साउथ की फिल्म होते हैं वह ज्यादातर तीनों में ऐसी क्रिएटिव संस्कृति सबके सामने लाई जाती है जबकि बॉलीवुड में ऐसे मॉर्डनाइजेशन ज्यादा ही दिखाई देता है जिसके कारण लोग पर बहुत कम होते हैं
Dakshinee bhaarat mein philmon ke boleevud se behatar jo samajhauta boleevud pichhada raay boleevud kyon bhej raha hai isaka mukhy kaaran hai ki hamaaree philmon mein jyaadaatar daayalog aur esesasee in krietiv nahin kie jaate hain jo sauth mein kiya jaata vah kiya tha sauth kee philmon mein itane sinh ke ret in kie jaate hain jo sabhee phains ke lie kredit aur aise seen on ko krietiv kiya jaata hai jo aadamee shahar ke rongate khade kar den aur sabase hansee daar majaak patana ke vaale hote hain aur boleevud mein teen kamee aise ektiv hote hain jisake kaaran logon mein par hansee majaak ke mood mein nahin rahate aur jo sauth kee philm hote hain vah jyaadaatar teenon mein aisee krietiv sanskrti sabake saamane laee jaatee hai jabaki boleevud mein aise mordanaijeshan jyaada hee dikhaee deta hai jisake kaaran log par bahut kam hote hain

#मनोरंजन

bolkar speaker
भारत का सबसे लंबा चलने वाला सीरियल कौन सा है?Bharat Ka Sabse Lamba Chalne Vala Serial Kaun Sa Hai
ᴊᴀt raj me Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए ᴊᴀt जी का जवाब
𝓝𝓾𝓻𝓼𝓲𝓷𝓰 𝓼𝓪𝓯𝓮 𝓶𝓮 𝔀𝓸𝓻𝓴𝓲𝓷𝓰
0:54
भारत का सबसे लंबा चलने वाला सीरियल कौन सा है इसका जवाब है कि मेरा तो मानना वह सबसे ज्यादा है कि तारक मेहता उल्टा चश्मा जो बात के पॉपुलर सभी एप्प हो के लिए पसंदीदा और सभी पसंद इसकी बहुत ही सस्ते मानना नूतन इसके बाद में आता है हमारा सास और बहू कार्यक्रम वाला सीरियल सबसे ज्यादा टॉप चलता है और टीवी जगत में मान ले तो सबसे स्टार प्लस जो है उस पर सबसे ज्यादा ही सीरियस लो जल्द चले जाते हैं उसके बाद में आता है सोनी पल बेबी सबसे ज्यादा जो सीरियल होते हैं उन्हीं के चला जाता है फिर ज्यादातर सीरियल जो मुख्य है वह 6796 जिसके ज्यादा सबसे ज्यादा यूज जो सबसे ज्यादा स्टारों की अपनी प्रशंसा और जुहू सबसे महत्वपूर्ण भूमिका वाले होते हैं उन्हें ही पसंद किया था
Bhaarat ka sabase lamba chalane vaala seeriyal kaun sa hai isaka javaab hai ki mera to maanana vah sabase jyaada hai ki taarak mehata ulta chashma jo baat ke popular sabhee epp ho ke lie pasandeeda aur sabhee pasand isakee bahut hee saste maanana nootan isake baad mein aata hai hamaara saas aur bahoo kaaryakram vaala seeriyal sabase jyaada top chalata hai aur teevee jagat mein maan le to sabase staar plas jo hai us par sabase jyaada hee seeriyas lo jald chale jaate hain usake baad mein aata hai sonee pal bebee sabase jyaada jo seeriyal hote hain unheen ke chala jaata hai phir jyaadaatar seeriyal jo mukhy hai vah 6796 jisake jyaada sabase jyaada yooj jo sabase jyaada staaron kee apanee prashansa aur juhoo sabase mahatvapoorn bhoomika vaale hote hain unhen hee pasand kiya tha

#मनोरंजन

bolkar speaker
राधेश्याम फिल्म किस कलाकार द्वारा बनाई जा रही है?Radheshyam Film Kis Kalakar Dvara Banayi Ja Rahi Hai
ᴊᴀt raj me Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए ᴊᴀt जी का जवाब
𝓝𝓾𝓻𝓼𝓲𝓷𝓰 𝓼𝓪𝓯𝓮 𝓶𝓮 𝔀𝓸𝓻𝓴𝓲𝓷𝓰
0:48
राधेश्याम फिल्म किस कलाकार के द्वारा बनाई जा रही इसका अर्थ है कि हमारे सिनेमा जगत के सबसे बड़े सुपरस्टार को तेलुगु फिल्म तेलुगु फिल्मों के सबसे बड़े बाहुबली प्रभास के द्वारा बनाई जा रही है राधेश्याम फिल्म का सबसे मुख्य किरदार श्याम का निभा रहे हैं प्रभास और राधा का निबारिया पूजा गांधी इन दोनों के द्वारा एक सुपरस्टार फिल्म को कितने 2021 की नई साल के तोहफे पर इन्होंने अपने इंस्टाग्राम पर तस्वीर को शेयर करते हुए फैसलों के लिए लिखा कि नए साल पर में एक नई जिंदगी की शुरुआत के साथ में एक श्याम राधे श्याम नाम से एक फिल्म को जोर लेकर आ रहा हूं सभी के लिए जो मेरे फ्रेंड है उनके लिए धन्यवाद
Raadheshyaam philm kis kalaakaar ke dvaara banaee ja rahee isaka arth hai ki hamaare sinema jagat ke sabase bade suparastaar ko telugu philm telugu philmon ke sabase bade baahubalee prabhaas ke dvaara banaee ja rahee hai raadheshyaam philm ka sabase mukhy kiradaar shyaam ka nibha rahe hain prabhaas aur raadha ka nibaariya pooja gaandhee in donon ke dvaara ek suparastaar philm ko kitane 2021 kee naee saal ke tohaphe par inhonne apane instaagraam par tasveer ko sheyar karate hue phaisalon ke lie likha ki nae saal par mein ek naee jindagee kee shuruaat ke saath mein ek shyaam raadhe shyaam naam se ek philm ko jor lekar aa raha hoon sabhee ke lie jo mere phrend hai unake lie dhanyavaad

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
बुढ़ापे में लोग भगवान का नाम ज्यादा क्यों लेने लगते हैं?Budhape Mein Log Bhagwan Ka Naam Jyada Kyun Lene Lagte Hain
ᴊᴀt raj me Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए ᴊᴀt जी का जवाब
𝓝𝓾𝓻𝓼𝓲𝓷𝓰 𝓼𝓪𝓯𝓮 𝓶𝓮 𝔀𝓸𝓻𝓴𝓲𝓷𝓰
1:20
बुढ़ापे में लोग भगवान का नाम ज्यादा क्यों लेना लगते हैं क्योंकि इसका मुख्य कारण मान सकते हैं कि उनकी अवस्था के अनुसार वह यंग अवस्था बाल अवस्था और विभिन्न प्रकार की मारी शारीरिक चार होता वह देख उनमें तीन अवस्था में व्यक्ति अपने कार्य के प्रति लगन और प्रतिष्ठित है लेकिन बुढ़ापे में उनसे किसी भी कार्य में अपना महत्वपूर्ण भूमिका नहीं निभाने के कारण वह चाहते हैं कि हम भगवान का नाम ले और बुढ़ापे में जो भी हमने पाप और कुकर्म की है उनकी मुक्ति पाने के लिए हम लोग भगवान का नाम जपे जिससे हमारे जो कुकर्म किया उनका नाश होकर हम सद सद आता और सद्भावना होते हम मुख की ओर प्राप्ति हो और हम पर आत्मा से हमारी आत्मा का लगाओ पर आत्मा परमात्मा की ओर बढ़े इसीलिए प्रति व्यक्ति चाहता है कि मैं बुढापे में अच्छे से अच्छे कर्म करो और भगवान का नाम हर दिन और प्रतिष्ठा के साथ में लूट और मेरी मुक्त का मार्ग मुक्ति का मार्ग देखिए जो भगवान के नाम ले और हमेशा उनकी पूजा-अर्चना करें और हमेशा अपने सद्गुणों सब विचारों के द्वारा हमारे जो प्राचीन भगवान स्टोर उनको पूजा जानकारी पूजा करें तो हमारे जितने भी कुकर्म की है उनका नाश हो जाता है
Budhaape mein log bhagavaan ka naam jyaada kyon lena lagate hain kyonki isaka mukhy kaaran maan sakate hain ki unakee avastha ke anusaar vah yang avastha baal avastha aur vibhinn prakaar kee maaree shaareerik chaar hota vah dekh unamen teen avastha mein vyakti apane kaary ke prati lagan aur pratishthit hai lekin budhaape mein unase kisee bhee kaary mein apana mahatvapoorn bhoomika nahin nibhaane ke kaaran vah chaahate hain ki ham bhagavaan ka naam le aur budhaape mein jo bhee hamane paap aur kukarm kee hai unakee mukti paane ke lie ham log bhagavaan ka naam jape jisase hamaare jo kukarm kiya unaka naash hokar ham sad sad aata aur sadbhaavana hote ham mukh kee or praapti ho aur ham par aatma se hamaaree aatma ka lagao par aatma paramaatma kee or badhe iseelie prati vyakti chaahata hai ki main budhaape mein achchhe se achchhe karm karo aur bhagavaan ka naam har din aur pratishtha ke saath mein loot aur meree mukt ka maarg mukti ka maarg dekhie jo bhagavaan ke naam le aur hamesha unakee pooja-archana karen aur hamesha apane sadgunon sab vichaaron ke dvaara hamaare jo praacheen bhagavaan stor unako pooja jaanakaaree pooja karen to hamaare jitane bhee kukarm kee hai unaka naash ho jaata hai

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
क्या घरों में पूजा होना चाहिए?Kya Gharo Mein Pooja Hona Chaiye
ᴊᴀt raj me Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए ᴊᴀt जी का जवाब
𝓝𝓾𝓻𝓼𝓲𝓷𝓰 𝓼𝓪𝓯𝓮 𝓶𝓮 𝔀𝓸𝓻𝓴𝓲𝓷𝓰
2:15
हमारे घरों में पूजा पाठ हवन होना चाहिए जिससे हमारे घर में विभिन्न प्रकार के बाहरी आक्रमणों जैसे भूत पिशाच संकट होते हैं उनका निवारण हम किसी भी देवता को एक साक्षी मानकर उनके प्रति दिष्ट पूजा करते हैं तो हमारे जो नित्यक्रम होते हैं उनके साथ-साथ हमारी बुद्धि भी सही रहती और हम अच्छे से अच्छे कार्य को शांति और निष्ठा के साथ में उस कार्य को सफल करते हैं वह हमें आस्था और विश्वास का भी प्रतीत महसूस होता है लेकिन जो व्यक्ति अपने घरों में पूजा पाठ नहीं करते हैं उनके प्रति हमेशा विश्वास और आदि कर्मों के में हमेशा सक्रिय नहीं देते वह हमेशा धार्मिक अनुष्ठानों में अपना भाग नहीं लेते हैं और वह धार्मिक अनुष्ठान के प्रति गलत और व्यापारी विभिन्न प्रकार के ऐसी भावना व्यक्त करते हैं इसीलिए घरों में पूजा करने से हमारे विभिन्न प्रकार के धार्मिक और कार्तिक होते हैं कार्यक्रम 19 से भाग लेने से हमारी संस्कृति और सभ्यता ओं के साथ-साथ हमारे प्राचीन जो लोग संस्कृति के साथ-साथ हमारे देवी देवताओं की पूजन की परंपरा करते आ रहे हैं उनको निभाकर हम अच्छे कर्मों के साथ में भेज सकते हैं और आने वाली हर पीढ़ी के साथ साथ हम हमारे पूजनीय जनों जो हमारे पूजनीय उनको हम पूजा पाठ करके हमारी जो आत्मा है उन्हें संतुष्टि कर सकते हैं आत्मा में जो विभिन्न पर आत्मा और परमात्मा दोनों का मिलन हो जाता है जिससे व्यक्ति सतगुरु के प्राप्त करके हमेशा वक्त के मार्ग पर अग्रसर होता है और ज्यादातर हमारी मंदिरों के साथ-साथ और हमारे घरों में जो पूजा पाठ कर जाते हैं उसे हमारे मोक्ष की ओर अग्रसर होता है और भगवान के प्रति उनकी लगन और भावनाएं हमेशा बनी रहती है जो व्यक्ति भगवान के प्रति पूजा और कुछ भी नहीं करते हैं उनमें हमेशा ईर्ष्या और विभिन्न प्रकार के ऐसे होते हैं जो हमारे समाज नींद नहीं माने जाते हैं पूजा करने से हमारे सकारात्मक विचारों की सक्रियता होगी जिसके कारण हम एक सेटिस्फाई और विभिन्न प्रकार के सोशल वर्कर की तरह हम एक समाज में प्रतिष्ठा वन बने रहेंगे
Hamaare gharon mein pooja paath havan hona chaahie jisase hamaare ghar mein vibhinn prakaar ke baaharee aakramanon jaise bhoot pishaach sankat hote hain unaka nivaaran ham kisee bhee devata ko ek saakshee maanakar unake prati disht pooja karate hain to hamaare jo nityakram hote hain unake saath-saath hamaaree buddhi bhee sahee rahatee aur ham achchhe se achchhe kaary ko shaanti aur nishtha ke saath mein us kaary ko saphal karate hain vah hamen aastha aur vishvaas ka bhee prateet mahasoos hota hai lekin jo vyakti apane gharon mein pooja paath nahin karate hain unake prati hamesha vishvaas aur aadi karmon ke mein hamesha sakriy nahin dete vah hamesha dhaarmik anushthaanon mein apana bhaag nahin lete hain aur vah dhaarmik anushthaan ke prati galat aur vyaapaaree vibhinn prakaar ke aisee bhaavana vyakt karate hain iseelie gharon mein pooja karane se hamaare vibhinn prakaar ke dhaarmik aur kaartik hote hain kaaryakram 19 se bhaag lene se hamaaree sanskrti aur sabhyata on ke saath-saath hamaare praacheen jo log sanskrti ke saath-saath hamaare devee devataon kee poojan kee parampara karate aa rahe hain unako nibhaakar ham achchhe karmon ke saath mein bhej sakate hain aur aane vaalee har peedhee ke saath saath ham hamaare poojaneey janon jo hamaare poojaneey unako ham pooja paath karake hamaaree jo aatma hai unhen santushti kar sakate hain aatma mein jo vibhinn par aatma aur paramaatma donon ka milan ho jaata hai jisase vyakti sataguru ke praapt karake hamesha vakt ke maarg par agrasar hota hai aur jyaadaatar hamaaree mandiron ke saath-saath aur hamaare gharon mein jo pooja paath kar jaate hain use hamaare moksh kee or agrasar hota hai aur bhagavaan ke prati unakee lagan aur bhaavanaen hamesha banee rahatee hai jo vyakti bhagavaan ke prati pooja aur kuchh bhee nahin karate hain unamen hamesha eershya aur vibhinn prakaar ke aise hote hain jo hamaare samaaj neend nahin maane jaate hain pooja karane se hamaare sakaaraatmak vichaaron kee sakriyata hogee jisake kaaran ham ek setisphaee aur vibhinn prakaar ke soshal varkar kee tarah ham ek samaaj mein pratishtha van bane rahenge
URL copied to clipboard