#undefined

bolkar speaker
मैदा गेहूं से बनता है इसके बावजूद भी वह नुकसानदायक क्यों होता है?Maida Gehun Se Banta Hai Uske Bawajood Bhi Nuksandayak Kyun Hota Hai
neera Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए neera जी का जवाब
Unknown
1:41
है कि मैदा किससे बनता है इसके बावजूद भी यह नुकसानदायक होता है तो इसका कारण यह है कि जब गेहूं से मैदा बनाया जाता है तो सबसे पहले उसकी ऊपरी परत जैसे ब्रांड कहते हैं उसे निकाल लिया जाता है और इसी ऊपरी परत में सबसे ज्यादा प्रोटीन रेशी एवं पोषक तत्व होते हैं तो उसके निकालने की बात जो अंदर का सफेद हिस्सा बचता है उसे पीसा जाता है तो जो मोटे कारण होते हैं उनसे सूची बनाई जाती है और उसे और अधिक वहीं इसके जब इसको बिल्कुल महीन पीस पीस लिया जाता है मोटे कणों को तो उसे मैदा बनता है तो मैं दे में जो पोषक तत्व होते हैं वह बिल्कुल ना के बराबर होते हैं जो प्रोटीन एवं पोषक तत्व ज्ञानी ऋषि विटामिंस मिनरल्स यह सब बिल्कुल कम होते हैं तो यह सेहत के लिए नुकसानदायक होता इसके अलावा जो गेहूं होती है वह हल्का पीलापन हो रहती है तो मैं तो जो है वह सफेद है उसको सफेद करने के लिए रसायनों का जैसे क्लोरीन इत्यादि का इस्तेमाल किया जाता है तो यह रसायन भी हमारे सेहत के लिए अच्छे नहीं होते यानी कि नुकसानदायक होते हैं तो तू जो मैदा है वह गेहूं के मुकाबले हमारे लिए सेहत को हमारी सेहत को नुकसान करता है इसलिए हमें मेहंदी का इस्तेमाल कम से कम करना चाहिए धन्यवाद
Hai ki maida kisase banata hai isake baavajood bhee yah nukasaanadaayak hota hai to isaka kaaran yah hai ki jab gehoon se maida banaaya jaata hai to sabase pahale usakee ooparee parat jaise braand kahate hain use nikaal liya jaata hai aur isee ooparee parat mein sabase jyaada proteen reshee evan poshak tatv hote hain to usake nikaalane kee baat jo andar ka saphed hissa bachata hai use peesa jaata hai to jo mote kaaran hote hain unase soochee banaee jaatee hai aur use aur adhik vaheen isake jab isako bilkul maheen pees pees liya jaata hai mote kanon ko to use maida banata hai to main de mein jo poshak tatv hote hain vah bilkul na ke baraabar hote hain jo proteen evan poshak tatv gyaanee rshi vitaamins minarals yah sab bilkul kam hote hain to yah sehat ke lie nukasaanadaayak hota isake alaava jo gehoon hotee hai vah halka peelaapan ho rahatee hai to main to jo hai vah saphed hai usako saphed karane ke lie rasaayanon ka jaise kloreen ityaadi ka istemaal kiya jaata hai to yah rasaayan bhee hamaare sehat ke lie achchhe nahin hote yaanee ki nukasaanadaayak hote hain to too jo maida hai vah gehoon ke mukaabale hamaare lie sehat ko hamaaree sehat ko nukasaan karata hai isalie hamen mehandee ka istemaal kam se kam karana chaahie dhanyavaad

#जीवन शैली

bolkar speaker
मन की चंचलता को नियंत्रण करने का सबसे सार्थक तरीका क्या है?Man Ki Chanchalata Ko Niyantran Karne Ka Sabse Saarthak Tareeka Kya Hai
neera Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए neera जी का जवाब
Unknown
2:12
नमस्कार सवाल है कि मन की चंचलता को नियंत्रित करने का सबसे सार्थक तरीका क्या है तो इसका उत्तर हमारे धार्मिक ग्रंथ गीता जी में बहुत ही अच्छे से दिया गया है जिसमें एक श्लोक के द्वारा श्री कृष्ण द्वारा अर्जुन जी को कहा जाता है एसेंशियल महाबाहो मनो ईदूनी कर्म चलम अभ्यास सीन तू कौन थे भरा गेंद रहते अर्थात श्री कृष्ण जी अर्जुन जी को कहते हैं हे अर्जुन हे महाबाहु इसमें कोई संशय कोई शक नहीं है कि हमारा मन बहुत ही चंचल है और इसे वश में करना नियंत्रण में करना बहुत मुश्किल है किंतु अभ्यास एवं वैराग्य के द्वारा इसे नियंत्रण में या वश में किया जा सकता है तो यह अभ्यास किया है कि अभी योग एवं ध्यान यदि हम नियमित रूप से अपने दिनचर्या में योग एवं ध्यान को सम्मिलित करते हैं तो मन की चंचलता को कम किया जा सकता है मन को नियंत्रण में किया जा सकता है और यह तैराकी क्या है मेरा की है जो यह इंद्रिय सुख हैं संसार की वस्तुएं हैं इनसे अपने ध्यान को हटाना एवं स्वयं के अंदर अपने ध्यान को स्थापित करना इसे ही वैराग्य कहा जाता है यदि हम दिन में कुछ पल के लिए ही सही अपने इंद्रिय सुख या इंद्रियों की वस्तुओं से अपने ध्यान को हटाने चाहे वह हमारी कोई प्रिय भोजन है या प्रिय कोई संगीत है यह कोई भी दूसरा इंडिया सुख है यदि हम अपने ध्यान को उस से हटाकर स्वयं में स्थापित कर ले तो अपने मन को अपने मन को नियंत्रण में कर पाएंगे मन की चंचलता को कम कर पाएंगे तो तीन चीजें ध्यान योग एवं वैराग्य से हम अपने मन की चंचलता को नियंत्रण में कर सकते हैं धन्यवाद
Namaskaar savaal hai ki man kee chanchalata ko niyantrit karane ka sabase saarthak tareeka kya hai to isaka uttar hamaare dhaarmik granth geeta jee mein bahut hee achchhe se diya gaya hai jisamen ek shlok ke dvaara shree krshn dvaara arjun jee ko kaha jaata hai esenshiyal mahaabaaho mano eedoonee karm chalam abhyaas seen too kaun the bhara gend rahate arthaat shree krshn jee arjun jee ko kahate hain he arjun he mahaabaahu isamen koee sanshay koee shak nahin hai ki hamaara man bahut hee chanchal hai aur ise vash mein karana niyantran mein karana bahut mushkil hai kintu abhyaas evan vairaagy ke dvaara ise niyantran mein ya vash mein kiya ja sakata hai to yah abhyaas kiya hai ki abhee yog evan dhyaan yadi ham niyamit roop se apane dinacharya mein yog evan dhyaan ko sammilit karate hain to man kee chanchalata ko kam kiya ja sakata hai man ko niyantran mein kiya ja sakata hai aur yah tairaakee kya hai mera kee hai jo yah indriy sukh hain sansaar kee vastuen hain inase apane dhyaan ko hataana evan svayan ke andar apane dhyaan ko sthaapit karana ise hee vairaagy kaha jaata hai yadi ham din mein kuchh pal ke lie hee sahee apane indriy sukh ya indriyon kee vastuon se apane dhyaan ko hataane chaahe vah hamaaree koee priy bhojan hai ya priy koee sangeet hai yah koee bhee doosara indiya sukh hai yadi ham apane dhyaan ko us se hataakar svayan mein sthaapit kar le to apane man ko apane man ko niyantran mein kar paenge man kee chanchalata ko kam kar paenge to teen cheejen dhyaan yog evan vairaagy se ham apane man kee chanchalata ko niyantran mein kar sakate hain dhanyavaad

#जीवन शैली

neera Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए neera जी का जवाब
Unknown
2:00
कार्बन डाइऑक्साइड को प्राथमिक तौर पर ग्रीन हाउस गैस कहा जाता है तो पहले हमें यह जानना होगा कि ग्रीन हाउस गैस क्या होती इन हाउस कैसे होती हैं जो हमारे वायुमंडल में उपस्थित कैसे हैं जैसे कार्बन डाइऑक्साइड मिथेन पास यह सूरज की जो गर्मी है उसको अवशोषित कर लेती हैं और पृथ्वी के वातावरण से बाहर जाने से रोकती हैं जिससे हमारे पृथ्वी पर एक तापमान बना रहता है और पृथ्वी अधिक ठंडी नहीं होती और मैं पृथ्वी को गर्म करने में सहायक होती है तो ग्रीनहाउस गैसेस पृथ्वी में जो ऊष्मा है उसको बनाए रखती हैं लता ग्रीन हाउस गैस गैस इस पृथ्वी में जो जीवन है उसके लिए अति आवश्यक है क्योंकि इनके अभाव में पृथ्वी बहुत अधिक ठंडी हो जाएगी लेकिन यदि वह बहुत ज्यादा बढ़ जाए तो उससे पृथ्वी में ऊष्मा बढ़ जाएगी और तापमान बढ़ जाएगा और जो ध्रुवों पर बर्फ है मैं पिघल जाएगी और महासागरों का में जो उनका लेवल है वह पानी का लेवल बढ़ जाएगा और जो तटीय इलाके हैं वह डूब जाएंगे तो कार्बन डाइऑक्साइड भी एक ग्रीनहाउस गैस है जो की उस्मा को सूर्य की ऊष्मा को अवशोषित करती है इसलिए और क्योंकि वह उसका जो मात्रा है मैं पृथ्वी पर बहुत ज्यादा है इसलिए वह प्राथमिक तौर पर एक ग्रीन हाउस गैस कहलाती है धन्यवाद
Kaarban daioksaid ko praathamik taur par green haus gais kaha jaata hai to pahale hamen yah jaanana hoga ki green haus gais kya hotee in haus kaise hotee hain jo hamaare vaayumandal mein upasthit kaise hain jaise kaarban daioksaid mithen paas yah sooraj kee jo garmee hai usako avashoshit kar letee hain aur prthvee ke vaataavaran se baahar jaane se rokatee hain jisase hamaare prthvee par ek taapamaan bana rahata hai aur prthvee adhik thandee nahin hotee aur main prthvee ko garm karane mein sahaayak hotee hai to greenahaus gaises prthvee mein jo ooshma hai usako banae rakhatee hain lata green haus gais gais is prthvee mein jo jeevan hai usake lie ati aavashyak hai kyonki inake abhaav mein prthvee bahut adhik thandee ho jaegee lekin yadi vah bahut jyaada badh jae to usase prthvee mein ooshma badh jaegee aur taapamaan badh jaega aur jo dhruvon par barph hai main pighal jaegee aur mahaasaagaron ka mein jo unaka leval hai vah paanee ka leval badh jaega aur jo tateey ilaake hain vah doob jaenge to kaarban daioksaid bhee ek greenahaus gais hai jo kee usma ko soory kee ooshma ko avashoshit karatee hai isalie aur kyonki vah usaka jo maatra hai main prthvee par bahut jyaada hai isalie vah praathamik taur par ek green haus gais kahalaatee hai dhanyavaad

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
प्रकाश में सात रंग होते हुए भी वह सफेद क्यों दिखाई देता है?Prakash Mei Sath Rang Hote Hue Bhe Vah Safed Kyun Dikhayi Deta Hai
neera Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए neera जी का जवाब
Unknown
1:07
हमें पता है कि प्रकाश में 7 रंग होते हैं क्योंकि जब भी प्रकाश को किसी प्रिज्म से गुजारा जाता है तो वह साथ इंद्रधनुषी रंगों में विभक्त हो जाता है तो सवाल यह है कि प्रकाश ने सात रंग होते हुए भी वह सफेद क्यों दिखाई देता है ऐसा इसलिए है क्योंकि जब यहां सात रंग की किरणें एक साथ हमारे दृष्टि पटल पर पड़ती हैं तो हमें सफेद रंग होने का आभास होता है जबकि सफेद रंग का अपना कोई तरंग धैर्य नहीं है इसलिए हमें सफेद रंग होने का केबल आभास होता है जब यह सात रंग आपस में मिलकर हमारे दृष्टि पटल पर एक साथ पढ़ते हैं अतः यह कहा जा सकता है कि सफेद रंग का अपना कोई भी अस्तित्व नहीं है क्योंकि उसकी कोई तरंग दादरे नहीं हो और सफेद रंग इन सात रंगों के मिश्रण से बनता है धन्यवाद
Hamen pata hai ki prakaash mein 7 rang hote hain kyonki jab bhee prakaash ko kisee prijm se gujaara jaata hai to vah saath indradhanushee rangon mein vibhakt ho jaata hai to savaal yah hai ki prakaash ne saat rang hote hue bhee vah saphed kyon dikhaee deta hai aisa isalie hai kyonki jab yahaan saat rang kee kiranen ek saath hamaare drshti patal par padatee hain to hamen saphed rang hone ka aabhaas hota hai jabaki saphed rang ka apana koee tarang dhairy nahin hai isalie hamen saphed rang hone ka kebal aabhaas hota hai jab yah saat rang aapas mein milakar hamaare drshti patal par ek saath padhate hain atah yah kaha ja sakata hai ki saphed rang ka apana koee bhee astitv nahin hai kyonki usakee koee tarang daadare nahin ho aur saphed rang in saat rangon ke mishran se banata hai dhanyavaad

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
क्या पनीर को अंग्रेजी में चीज कहना ठीक है?Kya Paneer Ko Angreji Mein Cheese Kehna Theek Hai
neera Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए neera जी का जवाब
Unknown
0:18

#धर्म और ज्योतिषी

neera Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए neera जी का जवाब
Unknown
0:56
नेत्रदान महादान माना जाता है क्योंकि जो व्यक्ति नेत्रदान करते हैं वह एक नेत्रहीन व्यक्ति को दोबारा दृष्टि प्रदान करके इस खूबसूरत दुनिया को देखने का एक नया मौका प्रदान करते हैं तो नेत्रदान जब होता है तो डॉक्टर एस के लिए पूरी आंख काटकर नहीं लगाते बल्कि इसकी वजह जो नेत्र की एक बार झिल्ली या परत होती है जिसे कॉर्निया कहते हैं उसे निकालकर मित्र हिंदी में ट्रांसफर कर देते हैं तो नेत्र दान के लिए पूरी आंख काटकर लगाने की आवश्यकता नहीं होती बल्कि सिर्फ कॉर्निया का ट्रांसप्लांटेशन होता है जो की आंख की एक बाहरी परत है धन्यवाद
Netradaan mahaadaan maana jaata hai kyonki jo vyakti netradaan karate hain vah ek netraheen vyakti ko dobaara drshti pradaan karake is khoobasoorat duniya ko dekhane ka ek naya mauka pradaan karate hain to netradaan jab hota hai to doktar es ke lie pooree aankh kaatakar nahin lagaate balki isakee vajah jo netr kee ek baar jhillee ya parat hotee hai jise korniya kahate hain use nikaalakar mitr hindee mein traansaphar kar dete hain to netr daan ke lie pooree aankh kaatakar lagaane kee aavashyakata nahin hotee balki sirph korniya ka traansaplaanteshan hota hai jo kee aankh kee ek baaharee parat hai dhanyavaad

#जीवन शैली

neera Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए neera जी का जवाब
Unknown
1:07

#जीवन शैली

bolkar speaker
किसी इंसान को कैसे परखे?Kisi Insaan Ko Kaise Parkhe
neera Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए neera जी का जवाब
Unknown
0:38

#जीवन शैली

bolkar speaker
क्या इस दुनिया में धन या पैसे से सब कुछ खरीदा जा सकता है?Kya Is Duniya Mein Dhan Ya Paise Se Sab Kuch Khareeda Ja Sakta Hai
neera Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए neera जी का जवाब
Unknown
0:51
सवाल यह है कि दुनिया में धनिया पैसों से सब कुछ खरीदा जा सकता है तो यह सर्व विदित है कि व्यक्ति की रोजमर्रा की जिंदगी के लिए धनिया पैसे की बहुत आवश्यकता होती है किंतु दुनिया में बहुत सारी ऐसी चीजें हैं जिन्हें धनिया पैसे से नहीं खरीदा जा सकता जिस में सबसे पहला दो व्यक्ति के मानसिक शांति और सुकून है दूसरा उसका स्वास्थ्य है यदि स्वास्थ्य खराब है तो कई बार धन का उपयोग करके भी उसको सही नहीं किया जा सकता इस तरह से हम कह सकते हैं कि धन से इस दुनिया में सब कुछ खरीदा नहीं जा सकता
URL copied to clipboard