#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker
9 अंको की ऐसी संख्या बताओ जो 1 से 100 तक की गिनती में 60 से अधिक संख्याओं से पूरी पूरी कट कट जाए?9 anko kee aisee sankhya batao jo 1 se 100 tak kee ginatee mein 60 se adhik sankhyaon se pooree pooree kat kat jae
Rajesh Kumar Naveriya  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Rajesh जी का जवाब
Ast. Teacher
0:34

#जीवन शैली

bolkar speaker
किसी व्यक्ति की अच्छाई और बुराई के बारे में कैसे पता लगाए?Kisi Vyakti Ki Achai Aur Burai Ke Bare Mein Kaise Pata Lagaye
Rajesh Kumar Naveriya  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Rajesh जी का जवाब
Ast. Teacher
2:27
तू किसी भी बरस की अच्छाई और बुराई का पता हम कैसे लगते हैं कि बुरा जो देखन मैं चला बुरा न मिलिया कोय जो दिल खोजा आपना मुझसे बुरा न कोई तो यदि व्यक्ति किसी दूसरे की बुराई और अच्छाई होता है तो वह तो सबसे महान वैज्ञानिक माना जाता है क्योंकि उसके समान बड़ा तो कोई है ही नहीं है कि दूसरे की बुराई खोजने में लगा है हां यदि खोजना है तो अच्छाइयां जरूर खींचना चाहिए अपने पड़ोस में देखना चाहिए देखना चाहिए घर में देखना चाहिए कि इस आदमी का यदि नाम है पैसा है किस कारण है इसका क्या स्टाइल है अच्छाइयों को कह रहे हैं और छोटा भी हो रहा है उनकी बुराई है उस पर ध्यान नहीं देना चाहिए क्योंकि देखते-देखते कुरकुरे बन जाते हैं तो हमें बुराइयों की तरफ बिल्कुल किसी का ध्यान देना चाहिए हमें खुद की पढ़ाई में देखना चाहिए कि क्या क्या बुराई है जो मांगे नहीं उठ पा रहे हैं दूसरा अधिक क्यों होता है तो उसमें हमें कमियां अवश्य में कुछ ज्ञान लेना चाहिए उसी पर बनाना चाहिए उसमें जो चाहिए उसको अगर करना चाहिए हमें दूसरे को अपना गुरु बनाना चाहिए ना की खोजबीन बड़ के दूध के पिक्चर है जैसे आदमी जो है वह भगवान मूर्ख हो जाते हैं दुश्मन खिलते रहते हैं और अपने अवगुणों को छुपाए रखते हैं और दूसरों को परेशान करते रहते हैं जैसे आज नहीं तुम उसको क्योंकि वहां को कहां करना चाहिए जो चाहिए वह हमें भी बुराई है तो कैसे दूर हो या हमारी दवाइयां क्या-क्या चाहिए आता है तो बिन पानी बिन साधना निर्मल करे सुभाय तो हमें अभी निंदक नियरे राखिए आंगन कुटी छवाय बिन पानी में साधना अब तो निंदा करने वाले कोई मत हो जाना चाहिए हमें बुराइयां अच्छाइयां खोजने से कुछ नहीं होने वाला है ठीक है अच्छा ही है खोजो खोजो की निंदा करने वाले कोई मित्र बनाया यदि ज्ञान रखते हैं तो हम अपना दिल साफ रख पाते हैं अपनी दवाइयों पर बात है थैंक यू
Too kisee bhee baras kee achchhaee aur buraee ka pata ham kaise lagate hain ki bura jo dekhan main chala bura na miliya koy jo dil khoja aapana mujhase bura na koee to yadi vyakti kisee doosare kee buraee aur achchhaee hota hai to vah to sabase mahaan vaigyaanik maana jaata hai kyonki usake samaan bada to koee hai hee nahin hai ki doosare kee buraee khojane mein laga hai haan yadi khojana hai to achchhaiyaan jaroor kheenchana chaahie apane pados mein dekhana chaahie dekhana chaahie ghar mein dekhana chaahie ki is aadamee ka yadi naam hai paisa hai kis kaaran hai isaka kya stail hai achchhaiyon ko kah rahe hain aur chhota bhee ho raha hai unakee buraee hai us par dhyaan nahin dena chaahie kyonki dekhate-dekhate kurakure ban jaate hain to hamen buraiyon kee taraph bilkul kisee ka dhyaan dena chaahie hamen khud kee padhaee mein dekhana chaahie ki kya kya buraee hai jo maange nahin uth pa rahe hain doosara adhik kyon hota hai to usamen hamen kamiyaan avashy mein kuchh gyaan lena chaahie usee par banaana chaahie usamen jo chaahie usako agar karana chaahie hamen doosare ko apana guru banaana chaahie na kee khojabeen bad ke doodh ke pikchar hai jaise aadamee jo hai vah bhagavaan moorkh ho jaate hain dushman khilate rahate hain aur apane avagunon ko chhupae rakhate hain aur doosaron ko pareshaan karate rahate hain jaise aaj nahin tum usako kyonki vahaan ko kahaan karana chaahie jo chaahie vah hamen bhee buraee hai to kaise door ho ya hamaaree davaiyaan kya-kya chaahie aata hai to bin paanee bin saadhana nirmal kare subhaay to hamen abhee nindak niyare raakhie aangan kutee chhavaay bin paanee mein saadhana ab to ninda karane vaale koee mat ho jaana chaahie hamen buraiyaan achchhaiyaan khojane se kuchh nahin hone vaala hai theek hai achchha hee hai khojo khojo kee ninda karane vaale koee mitr banaaya yadi gyaan rakhate hain to ham apana dil saaph rakh paate hain apanee davaiyon par baat hai thaink yoo

#जीवन शैली

Rajesh Kumar Naveriya  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Rajesh जी का जवाब
Ast. Teacher
2:01
कुछ लोग द्विवेदी त्रिवेदी चतुर्वेदी के चोरी में पंच भी आ जाता है ऐसा इसलिए है कि लोग दुनिया को मूर्ख बनाने के लिए जान दे दी है दो वेद का ज्ञान है वह त्रिवेदी हमें तो 3 दिन का गाना चलाओ और बंसी हैं बताते हैं घमंड करते हैं परंतु यूपी दी है वेदों का ज्ञान है यह देखने में आया है कि वही महान मुल्क होते हैं वहां का घमंड करते हैं उसका अर्थ लगाते हैं सही ज्ञान तो वही है कि वेद का ज्ञान हो या ना हो परंतु मनुष्य का ज्ञान तो होना चाहिए मानवता तो होना चाहिए विमानों का नहीं है समाज में जो हर नहीं है गलत हेलो हां कौन हां मैडम जी दीजिए ज़ी टीवी लॉन्च नहीं नहीं नहीं मैडम लोन की जरूरत ही नहीं पड़ती ना हमको जी मैडम आया सामान को चलाए जाएंगे थैंक यू मैडम तो भांड के लिए ही आदमी ऐसा करते हैं हमें ऐसा नहीं करना चाहिए थैंक यू धन्यवाद
Kuchh log dvivedee trivedee chaturvedee ke choree mein panch bhee aa jaata hai aisa isalie hai ki log duniya ko moorkh banaane ke lie jaan de dee hai do ved ka gyaan hai vah trivedee hamen to 3 din ka gaana chalao aur bansee hain bataate hain ghamand karate hain parantu yoopee dee hai vedon ka gyaan hai yah dekhane mein aaya hai ki vahee mahaan mulk hote hain vahaan ka ghamand karate hain usaka arth lagaate hain sahee gyaan to vahee hai ki ved ka gyaan ho ya na ho parantu manushy ka gyaan to hona chaahie maanavata to hona chaahie vimaanon ka nahin hai samaaj mein jo har nahin hai galat helo haan kaun haan maidam jee deejie zee teevee lonch nahin nahin nahin maidam lon kee jaroorat hee nahin padatee na hamako jee maidam aaya saamaan ko chalae jaenge thaink yoo maidam to bhaand ke lie hee aadamee aisa karate hain hamen aisa nahin karana chaahie thaink yoo dhanyavaad

#जीवन शैली

bolkar speaker
क्या बहू को बहू की तरह रखना चाहिए या बेटी की तरह आपके क्या विचार है?Kya Bahu Ko Bahu Ki Tarah Rakhna Chahiye Ya Beti Ki Tarah Aapke Kya Vichaar Hai
Rajesh Kumar Naveriya  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Rajesh जी का जवाब
Ast. Teacher
2:37
है क्या बहू को बहू की तरह रखना चाहिए या बेटी की तरह आपके क्या विचार हैं तो बहु बहु बनके ही रहना चाहिए बेटी की तरह नहीं हो सकती हो क्योंकि उन्हें अपने मायके का ध्यान रखना है तब से भी उनके मां-बाप भाई-बहन होते हैं आज सफर की तो वह कदर ही नहीं करते हैं तो बेटी होती है बहू बहू होती है और हम अपने फोन पर विश्वास करते हैं कि हमने इस प्रकार से कथाएं और अध्ययन किया है कि मैंने भी अपनी बहू को बहुत पढ़ाया लिखाया है बहू को भी लेकर आया है गरीब घर की होती है तो हमने उल्टा पैसा देकर शादी की है जबकि मैं 10 20 लाख की भी बिना सकता था पर गुड नाइट मैंने बहू को शादी की है निर्मल एमएनके और बच्चे के लिए कपड़े नहीं खरीदे पांचों बहू है कि पढ़ाया लिखाया रियली ऐड कराया बस तू उसको कभी नहीं कार्य अच्छे लगते हैं वह अपने मां-बाप के लिए जोड़ रही है बाबू आती है जो लड़की को और बेकार की बात से अलग कर देती है वहां से अलग कर देती है जो मैंने एक से कर देखना है कितनी लड़कियां हैं वह अपने पति को अपने बस में करना चाहती हैं उनके मां-बाप की सीट से यही होती है इसलिए बहू को बहू की तरह ही समझना चाहिए और बेटी को बेटी तो बेटी है भालू पुराने घर में दुखी है तो क्या हम उसको मदद नहीं करेंगे तो लड़की है लड़की के में ध्यान रखना पड़ता है लड़की कहीं भी रहें और हमारे घर का ध्यान रखता है मां-बाप का ध्यान रहता है क्योंकि जहां तक कंफर्म है व्हाट इज माय बेटी ही मां-बाप का ध्यान रखती है पानी देती है लड़का तो अधूरा छोड़ कर भाग जाता है अपने बच्चों को पढ़ने के समय में खोया रहता है तो निस्वार्थ प्रेम करती है बेटी बेटी दोनों का संभालती है एक तो पिता का भी और दूसरा बंगाली बेटियां बेटियां हैं बहुओं कभी नहीं हो सकती तुम किधर
Hai kya bahoo ko bahoo kee tarah rakhana chaahie ya betee kee tarah aapake kya vichaar hain to bahu bahu banake hee rahana chaahie betee kee tarah nahin ho sakatee ho kyonki unhen apane maayake ka dhyaan rakhana hai tab se bhee unake maan-baap bhaee-bahan hote hain aaj saphar kee to vah kadar hee nahin karate hain to betee hotee hai bahoo bahoo hotee hai aur ham apane phon par vishvaas karate hain ki hamane is prakaar se kathaen aur adhyayan kiya hai ki mainne bhee apanee bahoo ko bahut padhaaya likhaaya hai bahoo ko bhee lekar aaya hai gareeb ghar kee hotee hai to hamane ulta paisa dekar shaadee kee hai jabaki main 10 20 laakh kee bhee bina sakata tha par gud nait mainne bahoo ko shaadee kee hai nirmal emenake aur bachche ke lie kapade nahin khareede paanchon bahoo hai ki padhaaya likhaaya riyalee aid karaaya bas too usako kabhee nahin kaary achchhe lagate hain vah apane maan-baap ke lie jod rahee hai baaboo aatee hai jo ladakee ko aur bekaar kee baat se alag kar detee hai vahaan se alag kar detee hai jo mainne ek se kar dekhana hai kitanee ladakiyaan hain vah apane pati ko apane bas mein karana chaahatee hain unake maan-baap kee seet se yahee hotee hai isalie bahoo ko bahoo kee tarah hee samajhana chaahie aur betee ko betee to betee hai bhaaloo puraane ghar mein dukhee hai to kya ham usako madad nahin karenge to ladakee hai ladakee ke mein dhyaan rakhana padata hai ladakee kaheen bhee rahen aur hamaare ghar ka dhyaan rakhata hai maan-baap ka dhyaan rahata hai kyonki jahaan tak kampharm hai vhaat ij maay betee hee maan-baap ka dhyaan rakhatee hai paanee detee hai ladaka to adhoora chhod kar bhaag jaata hai apane bachchon ko padhane ke samay mein khoya rahata hai to nisvaarth prem karatee hai betee betee donon ka sambhaalatee hai ek to pita ka bhee aur doosara bangaalee betiyaan betiyaan hain bahuon kabhee nahin ho sakatee tum kidhar

#जीवन शैली

bolkar speaker
दुनिया का सबसे अमीर आदमी कौन है ?Duniya Ka Sabse Ameer Aadmi Kaun Hai
Rajesh Kumar Naveriya  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Rajesh जी का जवाब
Ast. Teacher
1:27
दुनिया का सबसे अमीर आदमी कौन है दुनिया का सबसे अमीर आदमी वही है जो दुनिया के लिए कुछ होता हो तो कुत्ते भोंकते हैं पैसे से हमें नहीं कहलाते हैं पैसे वाले तो कुत्ते होते हैं जो गरीबों का चीज चीज के अपने घर में भर लेते हैं वह काहे के अभी काहे के आने का है क्या नींद आ गई तो जैसे हमारे प्रधानमंत्री हैं दूसरों का भला करते हैं गए वह को जिनके पास कुछ नहीं है भुक्कड़ है और दूसरों के लिए साधन जोड़ रहे हैं दूसरों के लिए सुख सजना देख रहे हैं वही आदमी सबसे बड़ा अमीर है जो दिल से अमीर हो हम लोग उसी को जिसका दिल आदमी रहता है और बाकी तो घृणा के पात्र होते हैं पैसा होना कोई अमीर नहीं है ठीक है दर्द दिलों को जोड़ लेते हैं एक में भी जोड़ लेते हैं वो किसी के खून से खींचा हुआ पैसा भी बोलते हैं या किसी भी परिवार को नष्ट कर दिया जाता है तो वह लोग क्या है वह तो बड़ा के पात्र हैं सबसे बड़ा अमीर हुई है जिसका जो दूसरों की सेवा का कलाकार का हो तो हम तो उसी को सबसे बड़ा भी मांगते हैं थैंक यू धन्यवाद अभी बनने के लिए
Duniya ka sabase ameer aadamee kaun hai duniya ka sabase ameer aadamee vahee hai jo duniya ke lie kuchh hota ho to kutte bhonkate hain paise se hamen nahin kahalaate hain paise vaale to kutte hote hain jo gareebon ka cheej cheej ke apane ghar mein bhar lete hain vah kaahe ke abhee kaahe ke aane ka hai kya neend aa gaee to jaise hamaare pradhaanamantree hain doosaron ka bhala karate hain gae vah ko jinake paas kuchh nahin hai bhukkad hai aur doosaron ke lie saadhan jod rahe hain doosaron ke lie sukh sajana dekh rahe hain vahee aadamee sabase bada ameer hai jo dil se ameer ho ham log usee ko jisaka dil aadamee rahata hai aur baakee to ghrna ke paatr hote hain paisa hona koee ameer nahin hai theek hai dard dilon ko jod lete hain ek mein bhee jod lete hain vo kisee ke khoon se kheencha hua paisa bhee bolate hain ya kisee bhee parivaar ko nasht kar diya jaata hai to vah log kya hai vah to bada ke paatr hain sabase bada ameer huee hai jisaka jo doosaron kee seva ka kalaakaar ka ho to ham to usee ko sabase bada bhee maangate hain thaink yoo dhanyavaad abhee banane ke lie

#जीवन शैली

bolkar speaker
भारत में किस तरह के लोगों से घृणा की जाती है ?Bhaarat Mein Kis Tarah Ke Logon Se Ghrna Kee Jaatee Hai
Rajesh Kumar Naveriya  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Rajesh जी का जवाब
Ast. Teacher
3:14
भारत में किस तरह के लोगों से गणना की जाती है भारत में जो भारत को उन्नति की ओर ले जाए भारत के साथ गद्दारी करें और भारत में जाति धर्म के नाम पर नफरत फैलाए तो इसी प्रकार के लोगों से भारत में गणना की जाती है बाकी हम हिंदू लोग तो क्या हिंदू क्या मुसलमान दोनों का जलवा एक यहां तुझे को अलग-अलग पर वहां का जलवा एक ही है तो हम कहते हैं हिंदू मुस्लिम सिख इसाई आपस में है भाई भाई हम तो यहां आपस में प्रेम क्योंकि रामायण केवल प्रेम पियारा जान लीजिए जब हमारा तो भगवान कहते हैं कि प्रेम करो प्रेम ढाई अक्षर से बना रहे भगवान नाम ढाई अक्षर से बना है क्या किया भोजाराम हो जय विष्णु हो तो ढाई अक्षर नाम का भ्रम हो गणेश भाई अच्छा से ही भगवान इसीलिए भगवान को कोई दिमाग पाया है क्योंकि वह 2:30 जो है वह आधे का जो अंतर है वह कभी पूरा नहीं होता तो यही कहा है कि लोग करें तो जो हमसे नफरत करें हमारे देश से नफरत करें हमारे समाज से नफरत कर रहे हैं तीनों भाग एक बात हो जाती है या शिक्षा हो प्रिया दत्त जी रो ब्यावलो साफ सफाई से रह रहे हैं तो यह सब यहां के पात्र बन जाते हैं परंतु हमें घड़ा ऐसे लोगों से भी करना चाहिए कि कोई व्रत दे तो हमला करने लग रहा है कोई गरीब है या कोई विकलांग है तो ऐसे लोगों पर हमें दया करनी चाहिए क्योंकि यह लोग ही तो भगवान के आशिक सेवा का सेवा करना भगवान की सेवा करना कहलाता है बच्चों को भगवान की तरह बताया गया है कि बद्नावालु भगवान किसी भी रूप में आ जाते हैं हम लोग तो कुत्ते को भी भगवान मानते हैं क्योंकि गैरों का इलाके शंकर जी के घर में ठीक है हम लोग बैलों की पूजा का ध्यान अंधी है क्योंकि बड़ा सूअर की पूजा करते हैं कि भगवान ने अवतार लिया करो घर में तो मजहब नहीं सिखाता आपस में बैर रखना तो हम लोग भी है हैं हिंदुस्ता हमारा हमारा हिंदुस्तान हमारा प्यार है यूं प्यार करे भाई जान मुझे प्यार करे जननी मां से बढ़कर कोई मासूम नहीं है मेरा सुखदेव को तो बोलते हैं यही हमारा देश है हमारी सूचना गई तक है और नफरत करना ए लोगों के लिए महापात्र सेट करना
Bhaarat mein kis tarah ke logon se ganana kee jaatee hai bhaarat mein jo bhaarat ko unnati kee or le jae bhaarat ke saath gaddaaree karen aur bhaarat mein jaati dharm ke naam par napharat phailae to isee prakaar ke logon se bhaarat mein ganana kee jaatee hai baakee ham hindoo log to kya hindoo kya musalamaan donon ka jalava ek yahaan tujhe ko alag-alag par vahaan ka jalava ek hee hai to ham kahate hain hindoo muslim sikh isaee aapas mein hai bhaee bhaee ham to yahaan aapas mein prem kyonki raamaayan keval prem piyaara jaan leejie jab hamaara to bhagavaan kahate hain ki prem karo prem dhaee akshar se bana rahe bhagavaan naam dhaee akshar se bana hai kya kiya bhojaaraam ho jay vishnu ho to dhaee akshar naam ka bhram ho ganesh bhaee achchha se hee bhagavaan iseelie bhagavaan ko koee dimaag paaya hai kyonki vah 2:30 jo hai vah aadhe ka jo antar hai vah kabhee poora nahin hota to yahee kaha hai ki log karen to jo hamase napharat karen hamaare desh se napharat karen hamaare samaaj se napharat kar rahe hain teenon bhaag ek baat ho jaatee hai ya shiksha ho priya datt jee ro byaavalo saaph saphaee se rah rahe hain to yah sab yahaan ke paatr ban jaate hain parantu hamen ghada aise logon se bhee karana chaahie ki koee vrat de to hamala karane lag raha hai koee gareeb hai ya koee vikalaang hai to aise logon par hamen daya karanee chaahie kyonki yah log hee to bhagavaan ke aashik seva ka seva karana bhagavaan kee seva karana kahalaata hai bachchon ko bhagavaan kee tarah bataaya gaya hai ki badnaavaalu bhagavaan kisee bhee roop mein aa jaate hain ham log to kutte ko bhee bhagavaan maanate hain kyonki gairon ka ilaake shankar jee ke ghar mein theek hai ham log bailon kee pooja ka dhyaan andhee hai kyonki bada sooar kee pooja karate hain ki bhagavaan ne avataar liya karo ghar mein to majahab nahin sikhaata aapas mein bair rakhana to ham log bhee hai hain hindusta hamaara hamaara hindustaan hamaara pyaar hai yoon pyaar kare bhaee jaan mujhe pyaar kare jananee maan se badhakar koee maasoom nahin hai mera sukhadev ko to bolate hain yahee hamaara desh hai hamaaree soochana gaee tak hai aur napharat karana e logon ke lie mahaapaatr set karana

#जीवन शैली

bolkar speaker
कहा था कि संसार में हर किसी को अपने ज्ञान का घमंड है परंतु किसी को भी अपने घमंड का ज्ञान नहीं है ?Kaha Tha Ki Sansaar Mein Har Kisee Ko Apane Gyaan Ka Ghamand Hai Parantu Kisee Ko Bhee Apane Ghamand Ka Gyaan Nahin Hai
Rajesh Kumar Naveriya  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Rajesh जी का जवाब
Ast. Teacher
4:50
कहां है कि संसार में हर किसी को ज्ञान का घमंड होता है किसी को अपने मन को या नहीं करना चाहिए तो सेंड करने लगते हैं उन्हीं को तुलसीदास जी ने मूर्ति कहा है कि हृदय न चेत जो घूम रहे हैं और किसी की नहीं सुनते हैं तो रुको हम कहते हैं क्योंकि ज्ञान का भंडार तू है अतुल भंडार है भगवान ने जो गीता में लिखा है उससे भी आगे बढ़कर फिर अष्टावक्र ने बनाया है गीता में अष्टावक्र गीता कहलाती है ज्ञान का कभी अंत नहीं होता है और जो हम खुद से समझते हैं अपना अनुभव करते हैं हम उसी को कहते हैं जो सेवर मोड़ नहीं करना क्योंकि उसकी कोई सीमा नहीं है या से आकाश है आकाश अनंत है अनंत आकाश को भी यही बता पाया है कि सूरज चंदा तारे नक्षत्र कि आखिर इस ब्रह्मांड का अंत कहां है ऐसे इसका अंत नहीं है उसका ध्यान का भी अंत नहीं है तो अपने अनुभव के अनुसार हम सत्य सत्य कुमार लेते हैं परंतु उसकी कोई सीमा नहीं है प्रकाश का भाई है यह अनंत है इसी को हम अनंत यार सुन सकते हैं जो हम उसका अंत नहीं ढूंढ पाते हैं चाय मानस की ओर चले जाओ चक्रेश की ओर चले आओ तो आगे पीछे चलता रहता है परंतु म्यान जो है ज्ञान का कोई घमंड नहीं करना चाहिए क्योंकि एक से गया नहीं संसार में पड़े रहते हैं मुझे घमंड करने लगते हैं उठ जाते हैं दो ऊपर किसी की नहीं मानते हैं और अपने घमंड में ही उनका पतन हो जाता है तो सबसे अपना ग्रुप का व्यक्ति है उसे अपने बुराइयां पैदा कर लेते हैं तो भगवान ने हमें जो माध्यम बनाया है तो हम तो यह कैद कार्यकर्ता के रूप में संसार में आए हैं और जो हमें खुद दायित्व सौंपा गया है हमें उसी का निर्वहन करना चाहिए या नहीं समझना चाहिए कि हम पिता हैं यहां हम घर के मुखिया हैं यहां पर का संचालन करते हैं अरे माध्यम है माध्यम की तरह रहो हुआ है पानी पिलाता है वृक्ष एक फल देते हैं पर घमंड नहीं करते हैं तरुवर फल नहिं खात है सरवर पियत न पान और कैसे दाताराम तो ऐसे भगवान हैं जो शेयर नहीं करना चाहते हैं दूसरों को खिलाते हैं घातक ज्ञान भी दूसरों को दिया जाता है बांटा जाता है प्रधान ने किया जाता है एक आशा बिच्छू का मंत्र आता है तो घमंड करने लग जाओ क्योंकि यदि तो किसी को नहीं दोगी तो उसका लॉक हो जाता है और वह फिर आगे उसकी कोई लगदा नहीं होती है यहां से पैसे वसूले लगते हैं किसी भी दवा से तो फिर वह दवा हुआ यहां से चली जाती है तो आप किसी का भला नहीं कर पाते हैं तो इससे हमारा मान सम्मान बढ़ता है लोक आश्रम में से एक ही छोड़ देते हैं तो फिर हमारा मान सम्मान चौहान में घटने लगता है तो यही मूर्खता होती है तो कहते हैं मुंह ढक कर देना चाहिए जो गुरु मिले भगवान महावीर को प्राय तो उसके कोई पढ़ा नहीं सकता है तो यह अभियान का कारण उनका का रावण की सोने की लंका थी क्या चार मुक्ती ब्रह्मा जी ने चार वेद पड़ा है चारों मुखर्जी पड़ा है फर्ज बनता है उसका पतन हुआ है उसके वंश का पतन हुआ है ऐसा पता नहीं जिसको करना है तो वह अपनी प्रतिज्ञा नहीं समझा मैं तो एक छोटा सा छोटा सा गया हूं भगवान ने हमको कुछ बुद्धि नहीं दिया भगवान से यही मानते हैं कि थोड़ा बहुत ज्यादा में होना चाहिए और हमें गाना नहीं होना चाहिए उसका तो भगवान ने हमें जितना भी दिया है आंख नाक कान किया जाए एक हाथ लगा दिया जाए तो तुम उसको लाखों रुपया करोड़ों में नहीं पी सकते हो तो ज्ञान नहीं है कि जो है इसके बाद कुछ करें मैं तो यह आनंद चाहे करता हूं कि बिना किसी
Kahaan hai ki sansaar mein har kisee ko gyaan ka ghamand hota hai kisee ko apane man ko ya nahin karana chaahie to send karane lagate hain unheen ko tulaseedaas jee ne moorti kaha hai ki hrday na chet jo ghoom rahe hain aur kisee kee nahin sunate hain to ruko ham kahate hain kyonki gyaan ka bhandaar too hai atul bhandaar hai bhagavaan ne jo geeta mein likha hai usase bhee aage badhakar phir ashtaavakr ne banaaya hai geeta mein ashtaavakr geeta kahalaatee hai gyaan ka kabhee ant nahin hota hai aur jo ham khud se samajhate hain apana anubhav karate hain ham usee ko kahate hain jo sevar mod nahin karana kyonki usakee koee seema nahin hai ya se aakaash hai aakaash anant hai anant aakaash ko bhee yahee bata paaya hai ki sooraj chanda taare nakshatr ki aakhir is brahmaand ka ant kahaan hai aise isaka ant nahin hai usaka dhyaan ka bhee ant nahin hai to apane anubhav ke anusaar ham saty saty kumaar lete hain parantu usakee koee seema nahin hai prakaash ka bhaee hai yah anant hai isee ko ham anant yaar sun sakate hain jo ham usaka ant nahin dhoondh paate hain chaay maanas kee or chale jao chakresh kee or chale aao to aage peechhe chalata rahata hai parantu myaan jo hai gyaan ka koee ghamand nahin karana chaahie kyonki ek se gaya nahin sansaar mein pade rahate hain mujhe ghamand karane lagate hain uth jaate hain do oopar kisee kee nahin maanate hain aur apane ghamand mein hee unaka patan ho jaata hai to sabase apana grup ka vyakti hai use apane buraiyaan paida kar lete hain to bhagavaan ne hamen jo maadhyam banaaya hai to ham to yah kaid kaaryakarta ke roop mein sansaar mein aae hain aur jo hamen khud daayitv saumpa gaya hai hamen usee ka nirvahan karana chaahie ya nahin samajhana chaahie ki ham pita hain yahaan ham ghar ke mukhiya hain yahaan par ka sanchaalan karate hain are maadhyam hai maadhyam kee tarah raho hua hai paanee pilaata hai vrksh ek phal dete hain par ghamand nahin karate hain taruvar phal nahin khaat hai saravar piyat na paan aur kaise daataaraam to aise bhagavaan hain jo sheyar nahin karana chaahate hain doosaron ko khilaate hain ghaatak gyaan bhee doosaron ko diya jaata hai baanta jaata hai pradhaan ne kiya jaata hai ek aasha bichchhoo ka mantr aata hai to ghamand karane lag jao kyonki yadi to kisee ko nahin dogee to usaka lok ho jaata hai aur vah phir aage usakee koee lagada nahin hotee hai yahaan se paise vasoole lagate hain kisee bhee dava se to phir vah dava hua yahaan se chalee jaatee hai to aap kisee ka bhala nahin kar paate hain to isase hamaara maan sammaan badhata hai lok aashram mein se ek hee chhod dete hain to phir hamaara maan sammaan chauhaan mein ghatane lagata hai to yahee moorkhata hotee hai to kahate hain munh dhak kar dena chaahie jo guru mile bhagavaan mahaaveer ko praay to usake koee padha nahin sakata hai to yah abhiyaan ka kaaran unaka ka raavan kee sone kee lanka thee kya chaar muktee brahma jee ne chaar ved pada hai chaaron mukharjee pada hai pharj banata hai usaka patan hua hai usake vansh ka patan hua hai aisa pata nahin jisako karana hai to vah apanee pratigya nahin samajha main to ek chhota sa chhota sa gaya hoon bhagavaan ne hamako kuchh buddhi nahin diya bhagavaan se yahee maanate hain ki thoda bahut jyaada mein hona chaahie aur hamen gaana nahin hona chaahie usaka to bhagavaan ne hamen jitana bhee diya hai aankh naak kaan kiya jae ek haath laga diya jae to tum usako laakhon rupaya karodon mein nahin pee sakate ho to gyaan nahin hai ki jo hai isake baad kuchh karen main to yah aanand chaahe karata hoon ki bina kisee

#जीवन शैली

bolkar speaker
ऐसी कौन सी चीज है जो गर्मियों में पिघल जाती है और सर्दियों में जम जाती है ?Aisee Kaun See Cheej Hai Jo Garmiyon Mein Pighal Jaatee Hai Aur Sardiyon Mein Jam Jaatee Hai
Rajesh Kumar Naveriya  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Rajesh जी का जवाब
Ast. Teacher
0:24
कृष्ण जी की ऐसी कौन सी चीज है जो गाई जाती है पानी है पानी के अंदर गलती से पानी आ जाता है तो यह तो परिवर्तन के का होता है और थैंक यू धन्यवाद
Krshn jee kee aisee kaun see cheej hai jo gaee jaatee hai paanee hai paanee ke andar galatee se paanee aa jaata hai to yah to parivartan ke ka hota hai aur thaink yoo dhanyavaad

#जीवन शैली

bolkar speaker
लाइफ क्या है?Life Kya Hai
Rajesh Kumar Naveriya  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Rajesh जी का जवाब
Ast. Teacher
0:44
लाइफ क्या है लाइफ में आने जीवन होता है लाइफ अंग्रेजी शब्द है और अपनी अपना जीवन कोई अच्छी तरह से जीता है किसी की उंगली पढ़ी लिखी है किसी की अनपढ़ है तो यह सब ज्ञान अज्ञान से लाइव के चाल चलन होता है तो हमें अपना जीवन जो है चित्र जीना चाहिए तो फिर से हमारी लाइफ क्या है उन्हें हम किस तरह से जी रहे हैं बच्चों को पढ़ाया लखारा है कि नहीं तो लाइफ जीने के लिए में कुल में योग वरना अति आवश्यक है थैंक यू धन्यवाद और परिवार भी सुरक्षित रहेगा
Laiph kya hai laiph mein aane jeevan hota hai laiph angrejee shabd hai aur apanee apana jeevan koee achchhee tarah se jeeta hai kisee kee ungalee padhee likhee hai kisee kee anapadh hai to yah sab gyaan agyaan se laiv ke chaal chalan hota hai to hamen apana jeevan jo hai chitr jeena chaahie to phir se hamaaree laiph kya hai unhen ham kis tarah se jee rahe hain bachchon ko padhaaya lakhaara hai ki nahin to laiph jeene ke lie mein kul mein yog varana ati aavashyak hai thaink yoo dhanyavaad aur parivaar bhee surakshit rahega

#जीवन शैली

bolkar speaker
मकसद किसे कहते हैं ?Makasad Kise Kahate Hain
Rajesh Kumar Naveriya  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Rajesh जी का जवाब
Ast. Teacher
0:12
मकसद किसे कहते हैं मच्छर सप्लाई राधा जो हमारा सोच से ज्यादा है ए चलन है यही मकसद कहलाता है एक्सीडेंट
Makasad kise kahate hain machchhar saplaee raadha jo hamaara soch se jyaada hai e chalan hai yahee makasad kahalaata hai ekseedent

#जीवन शैली

bolkar speaker
मै हरी मेरे बच्चे काले मुझे छोड मेरे बच्चे खाले ?mai haree mere bachche kaale mujhe chhod mere bachche khaale
Rajesh Kumar Naveriya  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Rajesh जी का जवाब
Ast. Teacher
0:32
मैं हरी मेरे बच्चे काले मुझे छोड़ मेरे बच्चे खाले तो यह जो उसने हैं यह इलायची का है तो ऐसे बहुत से प्रश्न आए हैं जो पहेलियां कहलाते हैं तो इसमें काली अर्जुन ने इसमें जो है इलायची जो है उसके भी जो है काले हैं और लड़कियां भी होती है बहुत अच्छी लगती है थैंक यू धन्यवाद
Main haree mere bachche kaale mujhe chhod mere bachche khaale to yah jo usane hain yah ilaayachee ka hai to aise bahut se prashn aae hain jo paheliyaan kahalaate hain to isamen kaalee arjun ne isamen jo hai ilaayachee jo hai usake bhee jo hai kaale hain aur ladakiyaan bhee hotee hai bahut achchhee lagatee hai thaink yoo dhanyavaad

#जीवन शैली

bolkar speaker
स्त्री अगर शूद्र है तो जिस बच्चे को वो जन्म देती है वह क्या है ?Stree Agar Shoodr Hai To Jis Bachche Ko Vo Janm Detee Hai vah Kya Hai
Rajesh Kumar Naveriya  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Rajesh जी का जवाब
Ast. Teacher
2:32
आज ही आया है कि अगर स्त्री सूत्र है तो बच्चे को जन्म देने क्यों बच्चे क्या होंगे तुझे कोई जाति नहीं होती है तो गंगा की तरफ अभी तो कन्या को हम बचपन से ही पूजा मानते हैं उसी से फिर भी करना होता है और उसकी शादी हो जाती है तो वह किसके घर में भी चली जाती है वह उसी उसी की हो जाती है जो बच्चे जन्म लेते हैं वह अपने पिता की ही बचत कहलाते हैं जैसे चंद मामा का लड़का बहुत हुआ था वह अपनी पत्नी तारा से हुआ था तो उन्हें बस पति का गोत्र नहीं मिला था उन्हें परनवा कर दो तो दिया गया था फिर कुबूल हो तो अपने पिता का ही गोत्र बच्ची का माना जाता है और उसका बच्चा कहलाता है तो पीता ही जाति से बना हुआ है स्त्री जाति से बनी हुई नहीं है जहां तक मेरा मानना है कि इस दुनिया पवित्र होती हैं पहले जो हमने भी शास्त्रों में पड़ा है वह भी जो साधु संत होते थे वहीं 3344 साधना करते थे और गंधर्व सकती है तो जिस ट्यूशन थाने से पुलिस की औलाद उत्तम उनको लास्ट करना थी इस शिकायत से रावण भी ब्राह्मण कुल का माना जाता है भारी वर्षा के कारण माना जाता है तो बच्चे सूत्र ने अधिसूचित अपने पिता के ही खोल के मारे जाएंगे अब पिता भले ही उस स्कूल की स्त्री हो और सुरेश का पता हो तो बच्चे भी शुद्ध हो जाता है ऐसा देखने में आया है क्योंकि लड़का जो है अपने मां के को नहीं लेता है बच्ची अपने पिता के घूम लेते हैं उसी का इंतजार आगे अपने बस्ते जमा करते हैं उसी का फोन माना जाता है तो बस कहना है कि बच्चे मां के कुल के नहीं हैं अपने पिता के फूल की कला के संगीत
Aaj hee aaya hai ki agar stree sootr hai to bachche ko janm dene kyon bachche kya honge tujhe koee jaati nahin hotee hai to ganga kee taraph abhee to kanya ko ham bachapan se hee pooja maanate hain usee se phir bhee karana hota hai aur usakee shaadee ho jaatee hai to vah kisake ghar mein bhee chalee jaatee hai vah usee usee kee ho jaatee hai jo bachche janm lete hain vah apane pita kee hee bachat kahalaate hain jaise chand maama ka ladaka bahut hua tha vah apanee patnee taara se hua tha to unhen bas pati ka gotr nahin mila tha unhen paranava kar do to diya gaya tha phir kubool ho to apane pita ka hee gotr bachchee ka maana jaata hai aur usaka bachcha kahalaata hai to peeta hee jaati se bana hua hai stree jaati se banee huee nahin hai jahaan tak mera maanana hai ki is duniya pavitr hotee hain pahale jo hamane bhee shaastron mein pada hai vah bhee jo saadhu sant hote the vaheen 3344 saadhana karate the aur gandharv sakatee hai to jis tyooshan thaane se pulis kee aulaad uttam unako laast karana thee is shikaayat se raavan bhee braahman kul ka maana jaata hai bhaaree varsha ke kaaran maana jaata hai to bachche sootr ne adhisoochit apane pita ke hee khol ke maare jaenge ab pita bhale hee us skool kee stree ho aur suresh ka pata ho to bachche bhee shuddh ho jaata hai aisa dekhane mein aaya hai kyonki ladaka jo hai apane maan ke ko nahin leta hai bachchee apane pita ke ghoom lete hain usee ka intajaar aage apane baste jama karate hain usee ka phon maana jaata hai to bas kahana hai ki bachche maan ke kul ke nahin hain apane pita ke phool kee kala ke sangeet

#जीवन शैली

bolkar speaker
सच्चा मित्र कौन होता है ?Sachha Mitra Kaun Hota Hai
Rajesh Kumar Naveriya  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Rajesh जी का जवाब
Ast. Teacher
3:29
अच्छा मित्र कौन है सच्चा मित्र है हमारा ज्ञानी है सच्चा मित्र हमारा अनुभव है सच्चा मित्र मारा पुस्तकें हैं तो सच्चा मित्र जो है साथी भी होते हैं परंतु जो हमें जीवन में ऐसी भगवान राम ने कहा है कि जे न मित्र दुख होहिं दुखारी करो कथा तिवारी जी शुभाशीष युवाओं ने कहा या तो वह मित्रों सकता है या जो आजकल है तू पढ़ाई है विद्या है उन्हें हमारी मित्र किताबें हैं यदि हम इन्हीं का स्वागत है आगे बढ़ते हैं सच्चे मित्र हमारे माता-पिता है गुरु हैं तो यदि हम से प्रेम करते हैं तो हमारी और सफलता की ओर बढ़ता है और जिनके पास होती है तो वह तो कोई काम धंधा कर नहीं पाते हैं चले जाते हैं सच्चा मित्र बनने के लिए परस्पर सुहागपुर में रखना चाहिए समझ से काम लेना चाहिए हमारे पास विश्वास होना चाहिए आत्मबल होना चाहिए सच्चा मित्र जो है हमारा लगाने और यदि हम किसी से भी लगा लेना किसी से बना लें तो हमारी सच्ची मित्र पर जाती है सच्चा मित्र जो हमें आगे उन्नति की ओर ले जाए कोई हमारे सच्चे मित्र है ऐसा नहीं कि वह हमें पतन की ओर धकेल रहे हो तो हां दुश्मन है यदि हमारे माता-पिता बच्चों को नहीं पढ़ाते हैं तो वह भी एक शत्रु के समान होते हैं तो सच्चा मित्र वही है जो हमारे पीछे से कहता है कि बेटा आगे बढ़ो हम तुम्हारे पीछे हैं तुम्हें डरने नहीं है तो मित्र वही है जो हमें अच्छी शिक्षा दें गुरु हमारा हो रूकी और ले जाए भूखी गोवा में अंधकार होता है तो उसके गोपी और ना ले जाए के रूप ही हो बुआ के प्रकाश की ओर ले जाए वही तो हमारे सच्चे मित्र होगा तो गुरु हमारे सच्चे मित्र होते हैं जो हमें पुस्तकों से ज्ञान हो उसका व्यापक अध्ययन कर आए तो अभ्यासी गुरु है अभ्यास करना चाहिए थैंक यू धन्यवाद हमें सच्चा मित्र बनने के लिए बहुत कुछ सोच समझकर कदम उठाना चाहिए हमें ऐसे मित्र नहीं लिखना चाहिए कि जो हमारे को पतन की ओर अकेले और कैसा आने पर वह हमारे मित्र बाद में पैसा चला जाने पर रोमांटिक आठवें या हमारे दुश्मन हमसे हमें आगे बढ़ने के लिए जो जो सहायता देते हैं वही हमारी सच्ची मित्र हैं थैंक यू धन्यवाद
Achchha mitr kaun hai sachcha mitr hai hamaara gyaanee hai sachcha mitr hamaara anubhav hai sachcha mitr maara pustaken hain to sachcha mitr jo hai saathee bhee hote hain parantu jo hamen jeevan mein aisee bhagavaan raam ne kaha hai ki je na mitr dukh hohin dukhaaree karo katha tivaaree jee shubhaasheesh yuvaon ne kaha ya to vah mitron sakata hai ya jo aajakal hai too padhaee hai vidya hai unhen hamaaree mitr kitaaben hain yadi ham inheen ka svaagat hai aage badhate hain sachche mitr hamaare maata-pita hai guru hain to yadi ham se prem karate hain to hamaaree aur saphalata kee or badhata hai aur jinake paas hotee hai to vah to koee kaam dhandha kar nahin paate hain chale jaate hain sachcha mitr banane ke lie paraspar suhaagapur mein rakhana chaahie samajh se kaam lena chaahie hamaare paas vishvaas hona chaahie aatmabal hona chaahie sachcha mitr jo hai hamaara lagaane aur yadi ham kisee se bhee laga lena kisee se bana len to hamaaree sachchee mitr par jaatee hai sachcha mitr jo hamen aage unnati kee or le jae koee hamaare sachche mitr hai aisa nahin ki vah hamen patan kee or dhakel rahe ho to haan dushman hai yadi hamaare maata-pita bachchon ko nahin padhaate hain to vah bhee ek shatru ke samaan hote hain to sachcha mitr vahee hai jo hamaare peechhe se kahata hai ki beta aage badho ham tumhaare peechhe hain tumhen darane nahin hai to mitr vahee hai jo hamen achchhee shiksha den guru hamaara ho rookee aur le jae bhookhee gova mein andhakaar hota hai to usake gopee aur na le jae ke roop hee ho bua ke prakaash kee or le jae vahee to hamaare sachche mitr hoga to guru hamaare sachche mitr hote hain jo hamen pustakon se gyaan ho usaka vyaapak adhyayan kar aae to abhyaasee guru hai abhyaas karana chaahie thaink yoo dhanyavaad hamen sachcha mitr banane ke lie bahut kuchh soch samajhakar kadam uthaana chaahie hamen aise mitr nahin likhana chaahie ki jo hamaare ko patan kee or akele aur kaisa aane par vah hamaare mitr baad mein paisa chala jaane par romaantik aathaven ya hamaare dushman hamase hamen aage badhane ke lie jo jo sahaayata dete hain vahee hamaaree sachchee mitr hain thaink yoo dhanyavaad

#जीवन शैली

bolkar speaker
हमारे देश में बेरोजगारी क्यों बढ़ रही है और किस कारण बढ़ रही है? Hamaare Desh Mein Berojagaaree Kyon Badh Rahee Hai Aur Kis Kaaran Badh Rahee Hai
Rajesh Kumar Naveriya  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Rajesh जी का जवाब
Ast. Teacher
4:54
हमारे देश में बेरोजगारी बढ़ रही है क्यों क्योंकि आजकल योग है आदमी की योग है मशीनों का योग है और जब मशीनें काम करने लगती है तो बहुत से लोगों को काफी दक्षिण जाता है मशीनों से ही आजकल हर कार्य छोटे से बड़ा बड़ा तक होने लगा है जबकि हमारे महात्मा गांधी जी ने कहा था कि चरखा चलाओ कहां से कपड़ा बनाओ विदेशी वस्तुओं का बहिष्कार किया था विदेशी चीजों का है परंतु आजकल ऐसा नहीं है आजकल देश में भी मशीनों द्वारा है ही कार्य कर रहा है बेरोजगारी बढ़ने का कारण मैं खुद अशिक्षा है यदि मनुष्य श्याम में विवेक या धन की कमी पूर्ति कर ले और अपना रोजगार चयन करने लग जाए तो फिर विरोध जारी रहेगी कैसे रोजगार खुद ढूंढा जाता है अब आदमी चाहता है कि गवर्नमेंट रोजगार दे गवर्नमेंट के पास काम ही कितना बचा है गवर्नमेंट का काम तो मशीनें करते हैं और उनकी जो कर्मचारी तो कर्मचारियों की भरपाई के लिए आजकल मशीनों का सहारा लिया जाता है जिससे हंसी ने हजारों लाखों कर्मचारियों का काम फकीरे करके दिखा देते हैं उसको चलाने वाला एक कर्मचारी है यह जानकार है इसलिए उधारी बढ़ रही है क्योंकि आदमी अपना रोजगार शिवानी ढूंढ पा रहा है सरकार को मदद देने के लिए तैयार है पर तू उस मदद से लोगों का रोजगार नहीं खुल पाता है आजकल प्रदूषण की मार इतनी बढ़ गई है कि जैसे गवर्नमेंट ने कह दिया कि 15 साल वाले पुराने वाहन नष्ट कर दिया जान भी कहता है तो लाख दो लाख रुपए हर वर्ष उसमें व्यवस्था है तो भगवान चलता है तो उसकी पूर्ति कैसे की जाए तो आदमी दो पैसा कमाने के लिए आगे बढ़ता है तो उसका तीन पैसे का नुकसान होता है तो इसी कारण यह वीरु जाई जो है बढ़ती जा रही है लोग लोग श्रम रोजगार नहीं करना चाहते हो पुरानी परंपरा के अनुसार एक आदमी को मारा है 10 आदमी खा रहे हैं तो वहीं परंपरा से चल रही है इसी कारण बेरोजगारी बढ़ी है जो लोग कार्य कर रहे हैं या स्वविवेक सिकाई कर रहे हैं उनका नाम उन्नति बराबर हो रही हो ऐसा नहीं कर रहे हैं सिर्फ सरकार की ओर निकाय सरकार उनको फ्री का चाहिए इसलिए पतन की ओर जा रहे हैं क्योंकि रोजगार तक के लिए संभव नहीं है उसके लिए हमें अनुभव क्योंकि जहां अनुभव होता है प्रैक्टिकल ज्ञान की विशेष योग्यता जो है वह फेल हो जाती है अनुज है होना आवश्यक है और अनुभव यदि नहीं है तो वह रोजगार ओपन करते हैं उसमें भी है घाटा दिखाई देता है इसलिए दो बार टूट जाते हैं दोनों के लिए है उसमें तन मन धन से ही करना पड़ता है और यही हमारी प्रारंभिक शिक्षा में जोड़ दें कि हम कौन-कौन से कार्य करना चाहिए कैसे करना चाहिए और ऊर्जा के साथ स्वास्थ्य अधिकारी करें तो फिर बेरोजगारी रहेगी नहीं जब बचपन से बच्चे कार्य करेंगे किसी ना किसी कार्य में संलग्न रहेगी तो ऐसा नहीं होगा बंधु हमारे यहां क्या है सरकार कहती है कि बच्चों से काम मत कराओ और बच्चों को 20 साल 25 साल ऐसी फ्री रहने दो और की शादी हो जाती है वहां से बजाना जाता है जब बच्चों के तो बेरोजगारी से रह जाते हैं और कोई काम धंधा नहीं उनको देखता है तो यही सही बढ़ने का कारण बचपन से ही लोगों को स्क्राइ में पेश करने चाहिए ताकि बेरोजगारी नवाड़ा थैंक यू धन्यवाद
Hamaare desh mein berojagaaree badh rahee hai kyon kyonki aajakal yog hai aadamee kee yog hai masheenon ka yog hai aur jab masheenen kaam karane lagatee hai to bahut se logon ko kaaphee dakshin jaata hai masheenon se hee aajakal har kaary chhote se bada bada tak hone laga hai jabaki hamaare mahaatma gaandhee jee ne kaha tha ki charakha chalao kahaan se kapada banao videshee vastuon ka bahishkaar kiya tha videshee cheejon ka hai parantu aajakal aisa nahin hai aajakal desh mein bhee masheenon dvaara hai hee kaary kar raha hai berojagaaree badhane ka kaaran main khud ashiksha hai yadi manushy shyaam mein vivek ya dhan kee kamee poorti kar le aur apana rojagaar chayan karane lag jae to phir virodh jaaree rahegee kaise rojagaar khud dhoondha jaata hai ab aadamee chaahata hai ki gavarnament rojagaar de gavarnament ke paas kaam hee kitana bacha hai gavarnament ka kaam to masheenen karate hain aur unakee jo karmachaaree to karmachaariyon kee bharapaee ke lie aajakal masheenon ka sahaara liya jaata hai jisase hansee ne hajaaron laakhon karmachaariyon ka kaam phakeere karake dikha dete hain usako chalaane vaala ek karmachaaree hai yah jaanakaar hai isalie udhaaree badh rahee hai kyonki aadamee apana rojagaar shivaanee dhoondh pa raha hai sarakaar ko madad dene ke lie taiyaar hai par too us madad se logon ka rojagaar nahin khul paata hai aajakal pradooshan kee maar itanee badh gaee hai ki jaise gavarnament ne kah diya ki 15 saal vaale puraane vaahan nasht kar diya jaan bhee kahata hai to laakh do laakh rupe har varsh usamen vyavastha hai to bhagavaan chalata hai to usakee poorti kaise kee jae to aadamee do paisa kamaane ke lie aage badhata hai to usaka teen paise ka nukasaan hota hai to isee kaaran yah veeru jaee jo hai badhatee ja rahee hai log log shram rojagaar nahin karana chaahate ho puraanee parampara ke anusaar ek aadamee ko maara hai 10 aadamee kha rahe hain to vaheen parampara se chal rahee hai isee kaaran berojagaaree badhee hai jo log kaary kar rahe hain ya svavivek sikaee kar rahe hain unaka naam unnati baraabar ho rahee ho aisa nahin kar rahe hain sirph sarakaar kee or nikaay sarakaar unako phree ka chaahie isalie patan kee or ja rahe hain kyonki rojagaar tak ke lie sambhav nahin hai usake lie hamen anubhav kyonki jahaan anubhav hota hai praiktikal gyaan kee vishesh yogyata jo hai vah phel ho jaatee hai anuj hai hona aavashyak hai aur anubhav yadi nahin hai to vah rojagaar opan karate hain usamen bhee hai ghaata dikhaee deta hai isalie do baar toot jaate hain donon ke lie hai usamen tan man dhan se hee karana padata hai aur yahee hamaaree praarambhik shiksha mein jod den ki ham kaun-kaun se kaary karana chaahie kaise karana chaahie aur oorja ke saath svaasthy adhikaaree karen to phir berojagaaree rahegee nahin jab bachapan se bachche kaary karenge kisee na kisee kaary mein sanlagn rahegee to aisa nahin hoga bandhu hamaare yahaan kya hai sarakaar kahatee hai ki bachchon se kaam mat karao aur bachchon ko 20 saal 25 saal aisee phree rahane do aur kee shaadee ho jaatee hai vahaan se bajaana jaata hai jab bachchon ke to berojagaaree se rah jaate hain aur koee kaam dhandha nahin unako dekhata hai to yahee sahee badhane ka kaaran bachapan se hee logon ko skrai mein pesh karane chaahie taaki berojagaaree navaada thaink yoo dhanyavaad

#धर्म और ज्योतिषी

Rajesh Kumar Naveriya  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Rajesh जी का जवाब
Ast. Teacher
2:58
तुलसी जो है हिंदू के घर में पाया जाता है ऐसा वो है तुलसी विष्णुप्रिया भी कही जाती है क्योंकि विष्णु जालंधर पत्नी होने के कारण तेजी के साथ भगवान विष्णु ने खेल किया था खबर नहीं हुआ था इसलिए तुलसी भगवान की साली भी है और खुशी के साथ छल किया था तो उसी लिए बाबू इंसान है भगवान को श्राप दिया था कि काले हो जाओ तो ठाकुर बाबा भगवान का भागना पड़ गया तो तुलसा की बुराई मांगना पड़ता है क्योंकि मित्रता थी वह पति वेतन आई थी और जब तक पहुंचाकर पतिव्रत बहाना नहीं होता तो उसके पति का बाद भी नहीं हो सकता था तभी भगवान विष्णु को छल करना पड़ा तो अलग-अलग कथाएं तुलसा जी दिन और रात दोनों में आज की हिंदी तिथि रोगों में काम ही आती है तुलसी पत्ती जो है चाय के रूप में भी एमपी सकते हैं बुखार कोई कम करती है सर्दी जुकाम में भी कम आती है तुलसा में बहुत ही और भी गुण है इसलिए तो सहारा में पाई जाती है और ऑक्सीजन देने के कारण त्वचा के महत्व और बढ़ जाती है पैसे दो ही वृक्ष है सुनने में आए हैं कि तुलसा और पीपल है दिन-रात अखियन देती है और दोनों की अत्याधिक पूजा भी की जाती है और माना जाता है जिन्हें हम सब सो गए जूते हैं नहीं तो उसमें भी कई बीमारियां सही में आ जाती हैं जो तुलसा है वह चर्म रोग के लिए भी काम आती है शरीर में भी दाग हो जाते हैं तो उसका पानी लगाए थे तुलसा काले दाग भी खत्म हो जाते हैं तो शक्ल बहुत पवित्र माना गया है और विष्णु प्रिया जो है इसका बिना दोस्त आगे तो हम पूजा ही भी नहीं कर सकते हैं तो वैज्ञानिक दृष्टिकोण से तू अवस्थी पौधा है तो कहीं भी लगाया जा सकता है कोई बड़ा नहीं है छोटा है और उसके बीच जो हैं वह भी बहुत कीमती होते हैं दिल भी निकाला जाता है तो विष्णु प्रिया तुलसा को हाय गाना लगाना चाहिए
Tulasee jo hai hindoo ke ghar mein paaya jaata hai aisa vo hai tulasee vishnupriya bhee kahee jaatee hai kyonki vishnu jaalandhar patnee hone ke kaaran tejee ke saath bhagavaan vishnu ne khel kiya tha khabar nahin hua tha isalie tulasee bhagavaan kee saalee bhee hai aur khushee ke saath chhal kiya tha to usee lie baaboo insaan hai bhagavaan ko shraap diya tha ki kaale ho jao to thaakur baaba bhagavaan ka bhaagana pad gaya to tulasa kee buraee maangana padata hai kyonki mitrata thee vah pati vetan aaee thee aur jab tak pahunchaakar pativrat bahaana nahin hota to usake pati ka baad bhee nahin ho sakata tha tabhee bhagavaan vishnu ko chhal karana pada to alag-alag kathaen tulasa jee din aur raat donon mein aaj kee hindee tithi rogon mein kaam hee aatee hai tulasee pattee jo hai chaay ke roop mein bhee emapee sakate hain bukhaar koee kam karatee hai sardee jukaam mein bhee kam aatee hai tulasa mein bahut hee aur bhee gun hai isalie to sahaara mein paee jaatee hai aur okseejan dene ke kaaran tvacha ke mahatv aur badh jaatee hai paise do hee vrksh hai sunane mein aae hain ki tulasa aur peepal hai din-raat akhiyan detee hai aur donon kee atyaadhik pooja bhee kee jaatee hai aur maana jaata hai jinhen ham sab so gae joote hain nahin to usamen bhee kaee beemaariyaan sahee mein aa jaatee hain jo tulasa hai vah charm rog ke lie bhee kaam aatee hai shareer mein bhee daag ho jaate hain to usaka paanee lagae the tulasa kaale daag bhee khatm ho jaate hain to shakl bahut pavitr maana gaya hai aur vishnu priya jo hai isaka bina dost aage to ham pooja hee bhee nahin kar sakate hain to vaigyaanik drshtikon se too avasthee paudha hai to kaheen bhee lagaaya ja sakata hai koee bada nahin hai chhota hai aur usake beech jo hain vah bhee bahut keematee hote hain dil bhee nikaala jaata hai to vishnu priya tulasa ko haay gaana lagaana chaahie

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
उभरे हुए दाने वाले चप्पल पहनने के क्या फायदे हैं?Ubhre Hue Daane Vale Chappal Pehnne Ke Kya Fayde Hain
Rajesh Kumar Naveriya  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Rajesh जी का जवाब
Ast. Teacher
2:26
गिरे हुए राय राय चप्पल पहने से मिला तो हमारा जो ब्लड प्रेशर है कृपया वह आई लव यू होता है उसमें भी हमें राहत मिलती है दूसरा मोबाइल 5a हैं क्योंकि थोड़ा खुदरा पन होता है हमारी मसले नस्ल को फायदा करता है हमारी ट्रैक्टर बढ़ाता है चप्पल पहनने से हमारा प्यार भी निकलता जल्दी और एमपी के चली बातें हैं तो दान का चप्पल पहने थे बहुत से फायदे हैं नुकसान तो कुछ नहीं है उसमें क्योंकि पांव के नीचे तलवे होते हैं उसमें रे खुदा पर हो या हरीनाथ पहले ध्यान चलते हैं तो हमारे पैरों में जो भी दर्द हो वह भी कम होता है तो लाएगा चप्पल जूते हैं शक्ति भी आते हैं कोई अंतर नहीं है कीमत में कोई अंतर नहीं है तो घर में अंदर पहनने के लिए दादा चप्पल होना चाहिए बाहर तो हम कुछ भी पहन के जा सकते हैं ड्यूटी में चप्पल की दुकान से शोक के मंत्रियों द्वारा चप्पल उठा हूं घर में पहनने के लिए होते हैं हमारे मसाला फायदा होते हुए नाराज चप्पल होते हैं हरिता देखा है मेरे खुदा होता है तो उनके लिए लोगों के लिए बहुत अच्छे हैं भाई को जगाने के लिए भी और घर में भी खिलाना तो उसके लिए भी दादा चप्पल होना चाहिए क्योंकि धन्यवाद
Gire hue raay raay chappal pahane se mila to hamaara jo blad preshar hai krpaya vah aaee lav yoo hota hai usamen bhee hamen raahat milatee hai doosara mobail 5a hain kyonki thoda khudara pan hota hai hamaaree masale nasl ko phaayada karata hai hamaaree traiktar badhaata hai chappal pahanane se hamaara pyaar bhee nikalata jaldee aur emapee ke chalee baaten hain to daan ka chappal pahane the bahut se phaayade hain nukasaan to kuchh nahin hai usamen kyonki paanv ke neeche talave hote hain usamen re khuda par ho ya hareenaath pahale dhyaan chalate hain to hamaare pairon mein jo bhee dard ho vah bhee kam hota hai to laega chappal joote hain shakti bhee aate hain koee antar nahin hai keemat mein koee antar nahin hai to ghar mein andar pahanane ke lie daada chappal hona chaahie baahar to ham kuchh bhee pahan ke ja sakate hain dyootee mein chappal kee dukaan se shok ke mantriyon dvaara chappal utha hoon ghar mein pahanane ke lie hote hain hamaare masaala phaayada hote hue naaraaj chappal hote hain harita dekha hai mere khuda hota hai to unake lie logon ke lie bahut achchhe hain bhaee ko jagaane ke lie bhee aur ghar mein bhee khilaana to usake lie bhee daada chappal hona chaahie kyonki dhanyavaad

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
क्या अहंकार की सीमा होती है?Kya Ahankaar Ki Seema Hoti Hai
Rajesh Kumar Naveriya  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Rajesh जी का जवाब
Ast. Teacher
3:00
क्या हंकार की सीमा होती है तो उनका कितना होना चाहिए होती तो नहीं है हम तो होना चाहिए क्योंकि आकार ही हमारा समूल नाश करने की एक लड़का है अहंकार अधिक बढ़ जाता है तो हमारा समुंदर जाता है ऐसा चाणक्य नहीं बताया है और रावण का भी हमने रावण में हाथ देखा है कि सोने की लंका थी परंतु मिट्टी मिल गई तू हमका की सीमा बहुत आवश्यक है तुम्हारी सब करते हैं पर तू उसे दूसरा वनडे के रूप में दिखाते हैं क्योंकि वह गाड़ी को विवाद का कारण बन जाता है क्योंकि भगवान को जानकारी नहीं है भगवान जी अहंकार को खा जाते हैं तो यही कारण है कि यह नहीं कहता है वैसे काम में नहीं करना चाहिए उनका होता है हम उनके नाश की जड़ होता है अहंकार किस बात का हम क्या लेकर आए थे क्या लेते जाना है यह सब सोचते हुए भगवान ने हमें माध्यम बनाया है कि परिवार वाले का चाय वह मुखिया के रूप में हो जब पत्नी के रूप में हो क्या पुत्री पुत्री के रूप में हो किस बात का इमान है भाई जी हम इतना रोल ठीक से अदा नहीं कर पाएंगे तो फिर हमें नाटक में पात्र भी ठीक नहीं समझा जाएगा यही हमारे जीवन में होता है कि हमें इंकार की एक सीमा में बम की तलवार चाहिए यह बात अलग है कि यहां स्वाभिमान से जीना स्वयं होना चाहिए हम भगवान ने गीता में कहा कि जो है मैं इसका मतलब ऐसा नहीं है कि दूसरों के वारंट हो गए हैं और घमंड दिखा रहा है ऐसे तो कभी आदमी हो पाते हैं और रहते हैं कि कांडा की सीमा में चलना चाहिए रूपा का होना चाहिए कि हम दूसरे का कितना भला कर रहा है वह हम हैं यार कितना दान कर रहे हैं ऐसा अहंकार जो भगवान को समर्पित हो जो अच्छी चीज है क्योंकि उसकी भी एक सीमा होती है कि भगवान के लिए तारीख की जाए उसमें
Kya hankaar kee seema hotee hai to unaka kitana hona chaahie hotee to nahin hai ham to hona chaahie kyonki aakaar hee hamaara samool naash karane kee ek ladaka hai ahankaar adhik badh jaata hai to hamaara samundar jaata hai aisa chaanaky nahin bataaya hai aur raavan ka bhee hamane raavan mein haath dekha hai ki sone kee lanka thee parantu mittee mil gaee too hamaka kee seema bahut aavashyak hai tumhaaree sab karate hain par too use doosara vanade ke roop mein dikhaate hain kyonki vah gaadee ko vivaad ka kaaran ban jaata hai kyonki bhagavaan ko jaanakaaree nahin hai bhagavaan jee ahankaar ko kha jaate hain to yahee kaaran hai ki yah nahin kahata hai vaise kaam mein nahin karana chaahie unaka hota hai ham unake naash kee jad hota hai ahankaar kis baat ka ham kya lekar aae the kya lete jaana hai yah sab sochate hue bhagavaan ne hamen maadhyam banaaya hai ki parivaar vaale ka chaay vah mukhiya ke roop mein ho jab patnee ke roop mein ho kya putree putree ke roop mein ho kis baat ka imaan hai bhaee jee ham itana rol theek se ada nahin kar paenge to phir hamen naatak mein paatr bhee theek nahin samajha jaega yahee hamaare jeevan mein hota hai ki hamen inkaar kee ek seema mein bam kee talavaar chaahie yah baat alag hai ki yahaan svaabhimaan se jeena svayan hona chaahie ham bhagavaan ne geeta mein kaha ki jo hai main isaka matalab aisa nahin hai ki doosaron ke vaarant ho gae hain aur ghamand dikha raha hai aise to kabhee aadamee ho paate hain aur rahate hain ki kaanda kee seema mein chalana chaahie roopa ka hona chaahie ki ham doosare ka kitana bhala kar raha hai vah ham hain yaar kitana daan kar rahe hain aisa ahankaar jo bhagavaan ko samarpit ho jo achchhee cheej hai kyonki usakee bhee ek seema hotee hai ki bhagavaan ke lie taareekh kee jae usamen

#जीवन शैली

bolkar speaker
हमारा मन फालतू की चीजों में ना भटके इसके लिए हमें क्या करना चाहिए?Hamara Man Faltu Ki Chijon Mein Na Bhatke Iske Lie Humein Kya Karna Chaiye
Rajesh Kumar Naveriya  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Rajesh जी का जवाब
Ast. Teacher
4:55
हमारा मन फालतू चीजों में ना भटके इसके लिए हमें क्या करना चाहिए क्या है जो लोग दूसरों की चीजों को देखते हैं तो सामान ला लायक होता है कि हम भी ऐसी चीजें खरीदी है ना तुम्हारा मन नहीं लड़की का लालच पैदा नहीं होगी क्योंकि हर आदमी को अपने में कुछ कमी महसूस होती है और दूसरी की चीजें अच्छी लगती है तो ऐसा सवाल रहता है जितना भगवान ने हमको दिया है उतना उसने क्या गलत ना ही कर बताना चाहिए ऐसा कहा गया है दूसरी चीजों से पटना स्वागत है यह ठीक नहीं है क्योंकि मन भटकने से हमारे आगे चुगाई रुक जाते हैं और हम भी फालतू में चिंता पैदा करते हैं क्योंकि इतनी हमारी कमाई के साधन होंगे हम उतना ही कुछ कर सकते हैं जो हम करते हैं हमें उसी में संतुष्ट रहना चाहिए हर मनुष्य अपने अपने तरीके से जीता अपना में सब तरीके से सामान खरीदा है अपन कुछ अच्छा लगता है उसके लिए भटकना क्या है बताना लालच है और लालच खराब होती है लालच बुरी बला होती है जो तू पैदा करती है और दुखी जीवन कभी तरक्की नहीं कर सकता तो हमें आगे बढ़ने के लिए आवश्यकता से अधिक है जीजा भी खरीदना ठीक नहीं है हमें जरूर काम की चीजें हैं उसी को खरीदना चाहिए जो सजावटी चीजें हैं घर में उसी को देना चाहिए और हमें व्यवस्था सामान की जहां की रूचि है वहीं रखना चाहिए यहां वहां सामान बड़ा करने से हमारे चीजों में हमारे घर में अच्छा महसूस नहीं होता है यदि हम व्यवस्था कब से जमा कर रखे हैं तो हमें वह रखते रखते हैं जिनका सावन पिक्चर में वह नहाने का सामान लाने मांगो तो इसका से वस्तु कला वास्तु शास्त्र के अनुसार यदि हम वास्ता रखते हैं जैसे दुकान है तो दुकानों में नहाने का सामान एक तरफ होता है तेल का सामान्य ट्रक बताएं खाने का सामान कब होता है मसाले का सामान उत्तर रखते हैं ताकि हमें चाहिए जल्दी व्यवस्थित होते हैं तो जल्दी प्राप्त हो जाते हैं क्योंकि हम लड़कों पर आउट करते हैं तो फिर हमारा मन भटकता नहीं है और हम फालतू चीजों को घर में ना रखें नहीं तो उसी को यहां से वहां बार-बार टालमटोल करते रहते हैं इससे हमारा दिमाग रिश्ते नहीं रहता है तो दिमाग को स्थिर रखने के लिए यह फालतू चीजें घर में नहीं होना चाहिए और चीजों को वस्त्र रखना अति आवश्यक है दूसरे की चीजों को देखकर लालाजी मिलना चाहिए नहीं तो फालतू कबाड़खाना घर में रखने से क्या फायदा कुछ लोग रास्ते का भी सामान उठाकर नहीं करना चाहिए की आवश्यकता नहीं है खाने की चीजें हैं उनको भी कलाकृति के द्वारा तेरी बनता है तो सजाना चाहिए ताकि कोई फालतू नहीं हमारी जान नाराज है और हमारा घर भी अच्छा लगने लगेगा धन्यवाद
Hamaara man phaalatoo cheejon mein na bhatake isake lie hamen kya karana chaahie kya hai jo log doosaron kee cheejon ko dekhate hain to saamaan la laayak hota hai ki ham bhee aisee cheejen khareedee hai na tumhaara man nahin ladakee ka laalach paida nahin hogee kyonki har aadamee ko apane mein kuchh kamee mahasoos hotee hai aur doosaree kee cheejen achchhee lagatee hai to aisa savaal rahata hai jitana bhagavaan ne hamako diya hai utana usane kya galat na hee kar bataana chaahie aisa kaha gaya hai doosaree cheejon se patana svaagat hai yah theek nahin hai kyonki man bhatakane se hamaare aage chugaee ruk jaate hain aur ham bhee phaalatoo mein chinta paida karate hain kyonki itanee hamaaree kamaee ke saadhan honge ham utana hee kuchh kar sakate hain jo ham karate hain hamen usee mein santusht rahana chaahie har manushy apane apane tareeke se jeeta apana mein sab tareeke se saamaan khareeda hai apan kuchh achchha lagata hai usake lie bhatakana kya hai bataana laalach hai aur laalach kharaab hotee hai laalach buree bala hotee hai jo too paida karatee hai aur dukhee jeevan kabhee tarakkee nahin kar sakata to hamen aage badhane ke lie aavashyakata se adhik hai jeeja bhee khareedana theek nahin hai hamen jaroor kaam kee cheejen hain usee ko khareedana chaahie jo sajaavatee cheejen hain ghar mein usee ko dena chaahie aur hamen vyavastha saamaan kee jahaan kee roochi hai vaheen rakhana chaahie yahaan vahaan saamaan bada karane se hamaare cheejon mein hamaare ghar mein achchha mahasoos nahin hota hai yadi ham vyavastha kab se jama kar rakhe hain to hamen vah rakhate rakhate hain jinaka saavan pikchar mein vah nahaane ka saamaan laane maango to isaka se vastu kala vaastu shaastr ke anusaar yadi ham vaasta rakhate hain jaise dukaan hai to dukaanon mein nahaane ka saamaan ek taraph hota hai tel ka saamaany trak bataen khaane ka saamaan kab hota hai masaale ka saamaan uttar rakhate hain taaki hamen chaahie jaldee vyavasthit hote hain to jaldee praapt ho jaate hain kyonki ham ladakon par aaut karate hain to phir hamaara man bhatakata nahin hai aur ham phaalatoo cheejon ko ghar mein na rakhen nahin to usee ko yahaan se vahaan baar-baar taalamatol karate rahate hain isase hamaara dimaag rishte nahin rahata hai to dimaag ko sthir rakhane ke lie yah phaalatoo cheejen ghar mein nahin hona chaahie aur cheejon ko vastr rakhana ati aavashyak hai doosare kee cheejon ko dekhakar laalaajee milana chaahie nahin to phaalatoo kabaadakhaana ghar mein rakhane se kya phaayada kuchh log raaste ka bhee saamaan uthaakar nahin karana chaahie kee aavashyakata nahin hai khaane kee cheejen hain unako bhee kalaakrti ke dvaara teree banata hai to sajaana chaahie taaki koee phaalatoo nahin hamaaree jaan naaraaj hai aur hamaara ghar bhee achchha lagane lagega dhanyavaad

#जीवन शैली

bolkar speaker
कुछ लोग दांत खोदने के लिए लकड़ी का प्रयोग करते हैं क्या यह सही है?Kuch Log Daat Khodne Ke Liye Lakdi Ka Prayog Karte Hai Kya Yah Sahi Hai
Rajesh Kumar Naveriya  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Rajesh जी का जवाब
Ast. Teacher
2:28
कुछ लोग दान करने के लिए रखे जाते हो कहते हैं तो यह सही तो नहीं है उनके लकड़ी से नाक में आने का डर रहता है वह लकड़ी में मांस मटन खाने से खून भी आने का डर रहता है ना कहीं कोई विकल्प नहीं है बंधु लोग अपने मन को सांत्वना देने के लिए अमल में लाने के लिए जब दर्द होता है तो या फिर का ही सहारा लेते हैं ताकि उसने खुद आदम का कम हो तो सही तो नहीं है हमें डॉक्टर को दिखाना चाहिए घंटा के उपाय बताते हैं यह दावा करते हैं उससे यह माई जहां दाल जल्दी ठीक होता है लकड़ी से दातों का दर्द और भी बढ़ता जाता है लकड़ी से खुलने से दर्द कम नहीं होता बल्कि वह आता है मैं यहां तक है उंगली से ही पुरुष करना चाहिए क्योंकि पुरुष करने से भी दांतों के मसूड़ों में घास होती है तो अगर मांगली संबोधित करते हैं तो हमारे दांत मसूड़े जाना अच्छे रहते हैं रफी चेक करने में हमें कहीं भी टूटा सकती है तो यह सही नहीं है अब क्या दांत जब दर्द होते हैं तो लोगों को ऐसे ही उसको शांत करने के लिए लकड़ी का सहारा लेना पड़ता है जो सही नहीं तो इसके लिए दंत डंठल डॉक्टर को दिखाना आवश्यक है और सोमवार को मंदिर वीडियो
Kuchh log daan karane ke lie rakhe jaate ho kahate hain to yah sahee to nahin hai unake lakadee se naak mein aane ka dar rahata hai vah lakadee mein maans matan khaane se khoon bhee aane ka dar rahata hai na kaheen koee vikalp nahin hai bandhu log apane man ko saantvana dene ke lie amal mein laane ke lie jab dard hota hai to ya phir ka hee sahaara lete hain taaki usane khud aadam ka kam ho to sahee to nahin hai hamen doktar ko dikhaana chaahie ghanta ke upaay bataate hain yah daava karate hain usase yah maee jahaan daal jaldee theek hota hai lakadee se daaton ka dard aur bhee badhata jaata hai lakadee se khulane se dard kam nahin hota balki vah aata hai main yahaan tak hai ungalee se hee purush karana chaahie kyonki purush karane se bhee daanton ke masoodon mein ghaas hotee hai to agar maangalee sambodhit karate hain to hamaare daant masoode jaana achchhe rahate hain raphee chek karane mein hamen kaheen bhee toota sakatee hai to yah sahee nahin hai ab kya daant jab dard hote hain to logon ko aise hee usako shaant karane ke lie lakadee ka sahaara lena padata hai jo sahee nahin to isake lie dant danthal doktar ko dikhaana aavashyak hai aur somavaar ko mandir veediyo

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
माता पिता अपने बच्चों को इतनी चिंता क्यों करते हैं?Mata Pita Apne Bachco Ko Itni Chinta Kyun Karte Hain
Rajesh Kumar Naveriya  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Rajesh जी का जवाब
Ast. Teacher
3:19
माता-पिता अपने बच्चों की चिंता क्यों करते हैं माता-पिता जो होते हैं ऐसा तो ब्राह्मण शक्ति है ममता की मूर्ति है और मां उसको घर में व्यक्ति है कस्टमर होती है नमाज किसी कारण हो जो खून से सना हुआ है खून से बना हुआ है तो उसका ध्यान तो रखना ही पड़ता है चिंता इसलिए कि जिसको अपन शरण में लेते हैं आज ओपन शरणागत है भगवान ने कहा है कि शरणागत चाहिए नहीं तो जो भी अपने सामने रहता है उसको कभी डरना नहीं चाहिए बच्चे पूछना होते हैं उनका भरम ही ध्यान रखना पड़ता है उनका में कितनी जान के बच्चों का बच्चे चना कहलाते हैं तन्हा धनिया एक आज उनके लिए तो सही से अलग नहीं है एक रूप है जैसे वृक्ष के फल होते रहो सबसे अधिक वृक्ष पैदा हो जाते हैं तो वह भी हैं वह भी नहीं है आंखे है तो उसी का स्वाद भाई है भाई मुन्ना भाई साहब ने तो यह मोह माया है जो भगवान ने बनाई हुई है जिसमें हम बंधे हुए हैं फिर कहां से बच्चे हसन सही से अलग नहीं होते हैं चिंता करना हमारा काम होता है वह कितनी भी शादी करते हैं उनको माफ करते जाते हैं उनके आंसू भी माता-पिता पर देखी नहीं जाती यदि थोड़ा सा भी बच्चे होते तो बात पर लग जाते हैं और उनकी इच्छा पूरी करते हैं जो वह कर रहे हैं बच्चे सब करना पड़ता है तो बच्चे जो होते हैं मन के सच्चे होते हैं मां बाप ने अपना जीवन उनके साथ काटा है वह सुना कल का साथ होता है तो इसलिए अपनी जान जनता बच्चियों की होती है माता-पिता जो हैं एक माध्यम है हिसार के द्वारा बनाया गया था जो बंधन है उन्हें के द्वारा बांधा गया परिवार का समाज का परिवार का अपने बच्चों का ध्यान रखना तो मेरी ममता मोदी का ही लोग कितना भी कष्ट हुए हैं परंतु अपने बच्चों के लिए करता ही रहता है दिन भर भले वह पक्षी हां पक्षी भी अपने बच्चों के गाना लगाते हैं तो पशु पक्षी समय हम तो होती है ईश्वर का युक्त का है अपने अपने भाई से सबको लगाओ है थैंक यू धन्यवाद
Maata-pita apane bachchon kee chinta kyon karate hain maata-pita jo hote hain aisa to braahman shakti hai mamata kee moorti hai aur maan usako ghar mein vyakti hai kastamar hotee hai namaaj kisee kaaran ho jo khoon se sana hua hai khoon se bana hua hai to usaka dhyaan to rakhana hee padata hai chinta isalie ki jisako apan sharan mein lete hain aaj opan sharanaagat hai bhagavaan ne kaha hai ki sharanaagat chaahie nahin to jo bhee apane saamane rahata hai usako kabhee darana nahin chaahie bachche poochhana hote hain unaka bharam hee dhyaan rakhana padata hai unaka mein kitanee jaan ke bachchon ka bachche chana kahalaate hain tanha dhaniya ek aaj unake lie to sahee se alag nahin hai ek roop hai jaise vrksh ke phal hote raho sabase adhik vrksh paida ho jaate hain to vah bhee hain vah bhee nahin hai aankhe hai to usee ka svaad bhaee hai bhaee munna bhaee saahab ne to yah moh maaya hai jo bhagavaan ne banaee huee hai jisamen ham bandhe hue hain phir kahaan se bachche hasan sahee se alag nahin hote hain chinta karana hamaara kaam hota hai vah kitanee bhee shaadee karate hain unako maaph karate jaate hain unake aansoo bhee maata-pita par dekhee nahin jaatee yadi thoda sa bhee bachche hote to baat par lag jaate hain aur unakee ichchha pooree karate hain jo vah kar rahe hain bachche sab karana padata hai to bachche jo hote hain man ke sachche hote hain maan baap ne apana jeevan unake saath kaata hai vah suna kal ka saath hota hai to isalie apanee jaan janata bachchiyon kee hotee hai maata-pita jo hain ek maadhyam hai hisaar ke dvaara banaaya gaya tha jo bandhan hai unhen ke dvaara baandha gaya parivaar ka samaaj ka parivaar ka apane bachchon ka dhyaan rakhana to meree mamata modee ka hee log kitana bhee kasht hue hain parantu apane bachchon ke lie karata hee rahata hai din bhar bhale vah pakshee haan pakshee bhee apane bachchon ke gaana lagaate hain to pashu pakshee samay ham to hotee hai eeshvar ka yukt ka hai apane apane bhaee se sabako lagao hai thaink yoo dhanyavaad

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
क्या पुरुषों की तुलना में महिलाएं अधिक गपशप करती हैं?Kya Purushon Ki Tulna Mein Mahilaen Adhik Gapshap Karti Hain
Rajesh Kumar Naveriya  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Rajesh जी का जवाब
Ast. Teacher
4:58
शिवा सही है कि पुरुषों की तुलना में महिलाएं हैं काम ही नहीं है खाना बनाया खाया पिया और महिलाएं कैसे हो उसका नाम है औरत औरत में क्यों नहीं होता है औरत जो है ना वैसे ही बना है ना रानी ना रात को हम जय कहते हैं झुंझुनू जमीन 7938 जोरू और जमीन के पास करने के लिए उनको अधिक बाई चौराहा जिसको बोलते हैं भाई जो हमारे यहां तो भाईचारा होती रहती है यार जवाब आज जहां कोई बात नहीं सुनी तो दूसरों को सुना दे उनके पेट में कैसे हैं कि एक बार करण ने श्राप दिया था जो पति को अपनी मां की औरतों के पेट में कोई भी बात सुनो बचें क्योंकि अर्जुन ने श्राप दिया था के लिए क्योंकि मैं कान्हा के भाई होने की खबर छुपाई थी इससे आगे से तो यह अकेले ब्लॉक करना ही थी जोकड़ मारा गया तो हां अर्जुन ने देख लिया था कि हमारी मां यहां क्यों रो रही है तो पूछा था तो जब बताया कि यह तुम्हारा बड़ा भाई है कारण है और इसकी उत्पत्ति आंचल दीजिए तो हां श्राप दे दिया गया था तो उनके पेट में कोई बात नहीं पड़ती है जो भी हुआ तो सुनाई जाती है वह दूसरे से अपना सुना ले तब तक खाना नहीं खाए हैं तो एक भी नहीं होता कामयाब हो बुद्धि किताबें भी मान सकते हैं क्योंकि दोस्तों के पास भी नहीं है कि वह सब क्या कर रहे हैं आपस में बातचीत कर रहे हैं क्योंकि पूरा घर संचालन तो पुरुष को ही करना है और लोगों को काम है इसे कहते हैं ग्रहणी या गृह मंत्री होते वह तो घर का संचालन ही देखना है बाकी गाना कहां से खाना क्या है यह सब काम तो पुरुष को ही करना पड़ेगी जो भी आय के साधन है वह पुलिस के हाथ में है इसी को तो जो रखा है उसी को बता देना है ऐसा तो है नहीं चाहिए कुछ और करने के लिए तो दूसरों की निंदा या मूर्खता की बातें करेंगे जो भी मूड तो बनाना है पुरुषों को ही है तो उस पर आ कर खाते हैं कोई औरत को भगवान ने कई जगह वादा है 5 से लेकर प्रशासन तू औरत बनी नहीं है यह केवल नहीं रही है तो ठीक नहीं है काम भी कम करना है ठीक है डबल पेट होता है खाना लेकर बुद्धि भी नहीं है उनका जीवन पुरुषों से अधिक होता है यही बात सत्य है क्योंकि पुरुष से इतनी मेहनत कर लेता है जीवन में खुशियां होती जाती है और वह कल भी पता है पर तू बहुत हो उतना काम नहीं करना पड़ता तो बीच में नहीं होती है बिन सब आते हैं कि पुरुषों की तुलना में महिलाएं थे क्या सब करते हैं उनका समय खाली पेट भरना और अपने बच्चों को खिलाना था जो खेला था जिसके बाद में जब सपने सुहाने का गानों को क्या है इसके लिए कहीं भी बाहर खाना खाना पड़ता है ना होते होते हैं पंच महिलाओं को घर में तो घर के बाहर से में जो खाना बनाना है सब अपने मन का है और घर पर ध्यान नहीं देते हैं किसी का से महिलाएं नदी के जल में हानि होती हैं देश के ऊपर के लिए थैंक यू धन्यवाद
Shiva sahee hai ki purushon kee tulana mein mahilaen hain kaam hee nahin hai khaana banaaya khaaya piya aur mahilaen kaise ho usaka naam hai aurat aurat mein kyon nahin hota hai aurat jo hai na vaise hee bana hai na raanee na raat ko ham jay kahate hain jhunjhunoo jameen 7938 joroo aur jameen ke paas karane ke lie unako adhik baee chauraaha jisako bolate hain bhaee jo hamaare yahaan to bhaeechaara hotee rahatee hai yaar javaab aaj jahaan koee baat nahin sunee to doosaron ko suna de unake pet mein kaise hain ki ek baar karan ne shraap diya tha jo pati ko apanee maan kee auraton ke pet mein koee bhee baat suno bachen kyonki arjun ne shraap diya tha ke lie kyonki main kaanha ke bhaee hone kee khabar chhupaee thee isase aage se to yah akele blok karana hee thee jokad maara gaya to haan arjun ne dekh liya tha ki hamaaree maan yahaan kyon ro rahee hai to poochha tha to jab bataaya ki yah tumhaara bada bhaee hai kaaran hai aur isakee utpatti aanchal deejie to haan shraap de diya gaya tha to unake pet mein koee baat nahin padatee hai jo bhee hua to sunaee jaatee hai vah doosare se apana suna le tab tak khaana nahin khae hain to ek bhee nahin hota kaamayaab ho buddhi kitaaben bhee maan sakate hain kyonki doston ke paas bhee nahin hai ki vah sab kya kar rahe hain aapas mein baatacheet kar rahe hain kyonki poora ghar sanchaalan to purush ko hee karana hai aur logon ko kaam hai ise kahate hain grahanee ya grh mantree hote vah to ghar ka sanchaalan hee dekhana hai baakee gaana kahaan se khaana kya hai yah sab kaam to purush ko hee karana padegee jo bhee aay ke saadhan hai vah pulis ke haath mein hai isee ko to jo rakha hai usee ko bata dena hai aisa to hai nahin chaahie kuchh aur karane ke lie to doosaron kee ninda ya moorkhata kee baaten karenge jo bhee mood to banaana hai purushon ko hee hai to us par aa kar khaate hain koee aurat ko bhagavaan ne kaee jagah vaada hai 5 se lekar prashaasan too aurat banee nahin hai yah keval nahin rahee hai to theek nahin hai kaam bhee kam karana hai theek hai dabal pet hota hai khaana lekar buddhi bhee nahin hai unaka jeevan purushon se adhik hota hai yahee baat saty hai kyonki purush se itanee mehanat kar leta hai jeevan mein khushiyaan hotee jaatee hai aur vah kal bhee pata hai par too bahut ho utana kaam nahin karana padata to beech mein nahin hotee hai bin sab aate hain ki purushon kee tulana mein mahilaen the kya sab karate hain unaka samay khaalee pet bharana aur apane bachchon ko khilaana tha jo khela tha jisake baad mein jab sapane suhaane ka gaanon ko kya hai isake lie kaheen bhee baahar khaana khaana padata hai na hote hote hain panch mahilaon ko ghar mein to ghar ke baahar se mein jo khaana banaana hai sab apane man ka hai aur ghar par dhyaan nahin dete hain kisee ka se mahilaen nadee ke jal mein haani hotee hain desh ke oopar ke lie thaink yoo dhanyavaad

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
यदि जीवन में खुश रहना है तो शादी नहीं करनी चाहिए क्या?Yadi Jeevan Mein Khush Rehna Hai To Shaadi Nahi Karni Chahiye Kya
Rajesh Kumar Naveriya  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Rajesh जी का जवाब
Ast. Teacher
2:02
यदि जीवन में खुश रहना है तो शादी नहीं करनी चाहिए क्या नहीं ऐसा नहीं है खुश रहने के लिए शादी बहुत आवश्यक है क्योंकि जीवन उसी को कहते हैं जो दूसरों के लिए किया जाए अपना जीवन ज्योति लेते हैं और कितने पोस्ट हैं पैसा ही सब कुछ नहीं है पैसा एक मात्र साधन है वह सावधान पत्नी होते हैं बच्चे होते हैं परिवार के लोग होते हैं जो हमारे जीवन में खुशियां भरते हैं तो मिलाजुला जी परिवार होता है उसी में होती हैं अकेला हमने देखा है कि यदि हमारी नौकरी अकेले में जाना पड़ जाए नौकरी देता तो वहां भी कितना ही अच्छा खाओ पर तू वो हजम नहीं होता है क्यों क्योंकि अनेक प्रकार की चिंता लगी रहती हैं कि वही कह रहे हैं क्या करेंगे किसके लिए जी रहे हो जीना उसी का नाम है जो दूसरों के लिए जिया जाए उसके लिए खुशियां बांटे और दूसरों के लिए कुछ किया यार नहीं तो साधु महात्मा लोग हैं अकेले साधुओं के लिए छल कपट झूठ बोलना यह सब करते हैं अपना जीवन यापन करते हैं तो ऐसा जीवन किस काम का साधु महात्मा देखा होगा तो एक उनका जीवन नीरस होता है वह किसके लिए जी रहा है किसके लिए जा रहा है समाज के लिए तो समाज में रहना बहुत जरूरी है जितना अपना परिवार को सुख शांति हरियाणा बोर्ड का
Yadi jeevan mein khush rahana hai to shaadee nahin karanee chaahie kya nahin aisa nahin hai khush rahane ke lie shaadee bahut aavashyak hai kyonki jeevan usee ko kahate hain jo doosaron ke lie kiya jae apana jeevan jyoti lete hain aur kitane post hain paisa hee sab kuchh nahin hai paisa ek maatr saadhan hai vah saavadhaan patnee hote hain bachche hote hain parivaar ke log hote hain jo hamaare jeevan mein khushiyaan bharate hain to milaajula jee parivaar hota hai usee mein hotee hain akela hamane dekha hai ki yadi hamaaree naukaree akele mein jaana pad jae naukaree deta to vahaan bhee kitana hee achchha khao par too vo hajam nahin hota hai kyon kyonki anek prakaar kee chinta lagee rahatee hain ki vahee kah rahe hain kya karenge kisake lie jee rahe ho jeena usee ka naam hai jo doosaron ke lie jiya jae usake lie khushiyaan baante aur doosaron ke lie kuchh kiya yaar nahin to saadhu mahaatma log hain akele saadhuon ke lie chhal kapat jhooth bolana yah sab karate hain apana jeevan yaapan karate hain to aisa jeevan kis kaam ka saadhu mahaatma dekha hoga to ek unaka jeevan neeras hota hai vah kisake lie jee raha hai kisake lie ja raha hai samaaj ke lie to samaaj mein rahana bahut jarooree hai jitana apana parivaar ko sukh shaanti hariyaana bord ka

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
एकमात्र संतान होने के क्या लाभ और हानियां है?Ekamatr Santan Hone Ke Laabh Aur Haaniyaan
Rajesh Kumar Naveriya  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Rajesh जी का जवाब
Ast. Teacher
4:32
एकनाथ संतान होने से क्या लाभ क्या हानियां हैं 100001 सुल्तान वाले से बात तो यह है कि मैं किसी के साथ दिशा पाटनी करना पड़ता है हम उसका ध्यान अच्छे से रख सकते हैं उसे अच्छी शिक्षा दे सकते हैं और उसका ध्यान रखते हैं कृपया आप से साधन उपलब्ध करा सकते हैं वह चाहते हैं कि एक आंख खराब होती है वही तो पूछ लेना मैं तो अकेली संतान जो होती है वह कुछ भी नुकसान करता रहा है कोई भी गलती करता है और उसके बचाव में लगा रहता है और कोई संतान विरार का कारण बन जाती है तो अकेले होने का फायदा बच्चे उठाते हैं और प्यार होने से बिगड़ जाते हैं दो संतान कैटरीना दो ही बच्चे सबसे अच्छी कम से कम 2 बच्चे होना आवश्यक है आंख खराब होती है कभी फूट जाए तो फिर अंधे हो जाएंगे और दो आंखें हैं अभी 1 फुट भी आती है तो एग्जाम काम चला सकते हैं दो हाथ में एक टूट भी जाता है तो हम कल दिला सकते हैं इसीलिए कहा है कि श्री सद्दाम मैं हानियां बहुत है लाभ क्या है लग रही है कि किसी के बंटवारे नहीं करना ध्यान रखना और उसके परिवार को अच्छी तरह से भरण-पोषण करवाना और जाया का बंटवारा नहीं होना कष्ट का कारण बन जाती है हम सोचते हैं कि कहीं बच्चा बीच में निकला है वह किसी का बच्चा खत्म हो या तो फिर उसका पर आगे नाथ न पीछे पड़ा मैं तो अकेला पड़ जाता है और अपना जीवन पूरे दुख में कस्टमर भी ठीक कर देता है फिर हानि है तो कम से कम संतान दो बच्चे होना चाहिए और हानियां हैं क्योंकि यदि अधिक बच्चे होते हैं तो फिर भी एक कष्ट का काढ़ा गरीबी बढ़ती है और अकेली संतान में घर में वैभव आता है इज्जत बढ़ती है तरक्की होती है वहां पर आगे बढ़ते हैं तो तेरी संतान में बहुत से लोग हैं परंतु हानियां भी जोड़ना बताएंगे हो सकते हैं तो मेरा ही है कि संतान घोड़ा वाली नहीं देना है तो कम से कम 2 बच्चे हो और यदि संतान के कष्टों में जीना है तो अकेली संतान में फिर अपन को बहुत तरह के सुविचार के कदम उठाएं पाते हैं दोस्ती हानियां भी एक नहीं पड़ते हैं और ओशो ध्यान रखना पड़ता है कोई बकरी का बच्चा है तो सब का लाडा लाडी है और यदि यदि कोई रोग हो जाए कोई नानी बाई आए तो फिर जीवन और भ्रष्टाचार भी होता है जो जिसको बाहर नहीं उठाना तो तो अकेला भी जीवन छुपा सकता है परंतु यहां नहीं हैं सब तभी है जब घर के आंगन में हरा भरा हुआ बच्चे खेलते हो तो घर तभी परिवार तभी अच्छा लगता है हमारे घर में नन्हे-मुन्ने दो हम दो हमारे दो उसके पास एक ही है वह सब कुछ सही है थैंक यू धन्यवाद
Ekanaath santaan hone se kya laabh kya haaniyaan hain 100001 sultaan vaale se baat to yah hai ki main kisee ke saath disha paatanee karana padata hai ham usaka dhyaan achchhe se rakh sakate hain use achchhee shiksha de sakate hain aur usaka dhyaan rakhate hain krpaya aap se saadhan upalabdh kara sakate hain vah chaahate hain ki ek aankh kharaab hotee hai vahee to poochh lena main to akelee santaan jo hotee hai vah kuchh bhee nukasaan karata raha hai koee bhee galatee karata hai aur usake bachaav mein laga rahata hai aur koee santaan viraar ka kaaran ban jaatee hai to akele hone ka phaayada bachche uthaate hain aur pyaar hone se bigad jaate hain do santaan kaitareena do hee bachche sabase achchhee kam se kam 2 bachche hona aavashyak hai aankh kharaab hotee hai kabhee phoot jae to phir andhe ho jaenge aur do aankhen hain abhee 1 phut bhee aatee hai to egjaam kaam chala sakate hain do haath mein ek toot bhee jaata hai to ham kal dila sakate hain iseelie kaha hai ki shree saddaam main haaniyaan bahut hai laabh kya hai lag rahee hai ki kisee ke bantavaare nahin karana dhyaan rakhana aur usake parivaar ko achchhee tarah se bharan-poshan karavaana aur jaaya ka bantavaara nahin hona kasht ka kaaran ban jaatee hai ham sochate hain ki kaheen bachcha beech mein nikala hai vah kisee ka bachcha khatm ho ya to phir usaka par aage naath na peechhe pada main to akela pad jaata hai aur apana jeevan poore dukh mein kastamar bhee theek kar deta hai phir haani hai to kam se kam santaan do bachche hona chaahie aur haaniyaan hain kyonki yadi adhik bachche hote hain to phir bhee ek kasht ka kaadha gareebee badhatee hai aur akelee santaan mein ghar mein vaibhav aata hai ijjat badhatee hai tarakkee hotee hai vahaan par aage badhate hain to teree santaan mein bahut se log hain parantu haaniyaan bhee jodana bataenge ho sakate hain to mera hee hai ki santaan ghoda vaalee nahin dena hai to kam se kam 2 bachche ho aur yadi santaan ke kashton mein jeena hai to akelee santaan mein phir apan ko bahut tarah ke suvichaar ke kadam uthaen paate hain dostee haaniyaan bhee ek nahin padate hain aur osho dhyaan rakhana padata hai koee bakaree ka bachcha hai to sab ka laada laadee hai aur yadi yadi koee rog ho jae koee naanee baee aae to phir jeevan aur bhrashtaachaar bhee hota hai jo jisako baahar nahin uthaana to to akela bhee jeevan chhupa sakata hai parantu yahaan nahin hain sab tabhee hai jab ghar ke aangan mein hara bhara hua bachche khelate ho to ghar tabhee parivaar tabhee achchha lagata hai hamaare ghar mein nanhe-munne do ham do hamaare do usake paas ek hee hai vah sab kuchh sahee hai thaink yoo dhanyavaad

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
जिस से हम सबसे ज्यादा प्यार करते है वो हमारी कदर क्यों नहीं करते ?Jis Se Hum Subse Jyada Pyar Karte Hai Wo Humari Kadar Kyo Nahi Karate
Rajesh Kumar Naveriya  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Rajesh जी का जवाब
Ast. Teacher
4:51
जिसे हम सबसे ज्यादा प्यार करते हैं वह हमारी कदर क्यों नहीं करते ग़दर विश्व रिकॉर्ड करके ऐसे बच्चे होते हैं स्वभाव से जिसे सबसे ज्यादा चाहते हैं उसी से ज्यादा बातें करते हैं झगड़ा करते हैं कि बच्चों की एक आदत होती है उसी की कम कथाकार जो भी यह सब नौटंकी है और यह लाल भी कह रहा था है यदि नाती अपने बब्बा को रात में मारता है बोलता है तो तू जो हंस कृषि पागल तू कदर करना भूल जाते हैं रुसल बाड़े में हैं और गुण के साथ-साथ अवगुण भी है गुणवती कहते हैं नाती सुहाती होता है परंतु लार में नाती हाथी तो बन जाता है इसी पर सवाल ही होता है ना अभी मैं तो गांव में ही बच्चे भी करते हैं अपने से बड़ों की तरफ है बीवी के कम करने लगते हैं तो ज्यादा प्यार भी नहीं करना चाहिए ताकि ताकि बच्चों में बाढ़ हो प्यार सुनाई करें जितना उसके लिए अच्छा हो बिहार का काम ना बने कदर करना नहीं तो बड़े लोग कैसे होते हैं कि ज्यादा मन में भवनों को चढ़ा देना तो भूमि के पति व ससुर की कदर करना कम कर देती हैं तो ज्यादा बोलना भी कदर कम करवाता है जीवित बोलना चाहिए फ्री में बातें करना चाहिए सीमा भी अपनी कदर का सबसे बड़ा कहां है तू अपनी इज्जत को बरकरार रखने के लिए अधिक बात है अधिक काम सभी कार है अपनों से दवा करवाने के लिए उन्हें उनका ध्यान रखना चाहिए इन बातों को ध्यान में रखने के लिए की कोई इज्जत कम ना कर दे और कलर करवाने के लिए हमें सबसे पहले आप अपनाना चाहिए अवगुणों को छोड़ना चाहिए यदि हम लोगों ने अपनी कला करवाना चाहते हैं तो फिर हमारी कोई कदर नहीं करता है तो अपनी इज्जत बचाने के लिए कम बोलना सबसे सम्मान को सम्मान देना आवश्यक है तो अपनों के लिए उधार होना बहुत जरूरी है यदि नहीं करेंगे तो वह की नफरत में बदल जाएगी जब नफरत में बदल जाएगी तो फिर धीरे-धीरे लोग हमारी कदर नहीं करेंगे और वह नफरत थी गुस्से में परिवर्तित हो जाएगी हिंदुस्तान को का काम बन जाएगा जो कलर में बदल जाता है तो गार्ड खराब होता है आते भी सुधार के चलो निर्णय नहीं सुधारी तो फिर किसी दिन वो चलाना बदल जाएगी हमारी अवस्थाएं होती हैं वैसे ही हमें अपना बर्ताव भी बदलना पड़ता है घमंड को छोड़ना पड़ता है घमंडी कला का कारण है या कला काम करवाता है सबकी इज्जत होना चाहिए उसका सम्मान करना चाहिए और हम बड़े हैं तो दूसरों को चाहिए कि हम सीख नहीं दे सकते हैं तो जीत दूसरों से घृणा करना चाहिए अपने आपको सभी घमंडी तौर पर नहीं तोड़ना चाहिए थैंक यू धन्यवाद
Jise ham sabase jyaada pyaar karate hain vah hamaaree kadar kyon nahin karate gadar vishv rikord karake aise bachche hote hain svabhaav se jise sabase jyaada chaahate hain usee se jyaada baaten karate hain jhagada karate hain ki bachchon kee ek aadat hotee hai usee kee kam kathaakaar jo bhee yah sab nautankee hai aur yah laal bhee kah raha tha hai yadi naatee apane babba ko raat mein maarata hai bolata hai to too jo hans krshi paagal too kadar karana bhool jaate hain rusal baade mein hain aur gun ke saath-saath avagun bhee hai gunavatee kahate hain naatee suhaatee hota hai parantu laar mein naatee haathee to ban jaata hai isee par savaal hee hota hai na abhee main to gaanv mein hee bachche bhee karate hain apane se badon kee taraph hai beevee ke kam karane lagate hain to jyaada pyaar bhee nahin karana chaahie taaki taaki bachchon mein baadh ho pyaar sunaee karen jitana usake lie achchha ho bihaar ka kaam na bane kadar karana nahin to bade log kaise hote hain ki jyaada man mein bhavanon ko chadha dena to bhoomi ke pati va sasur kee kadar karana kam kar detee hain to jyaada bolana bhee kadar kam karavaata hai jeevit bolana chaahie phree mein baaten karana chaahie seema bhee apanee kadar ka sabase bada kahaan hai too apanee ijjat ko barakaraar rakhane ke lie adhik baat hai adhik kaam sabhee kaar hai apanon se dava karavaane ke lie unhen unaka dhyaan rakhana chaahie in baaton ko dhyaan mein rakhane ke lie kee koee ijjat kam na kar de aur kalar karavaane ke lie hamen sabase pahale aap apanaana chaahie avagunon ko chhodana chaahie yadi ham logon ne apanee kala karavaana chaahate hain to phir hamaaree koee kadar nahin karata hai to apanee ijjat bachaane ke lie kam bolana sabase sammaan ko sammaan dena aavashyak hai to apanon ke lie udhaar hona bahut jarooree hai yadi nahin karenge to vah kee napharat mein badal jaegee jab napharat mein badal jaegee to phir dheere-dheere log hamaaree kadar nahin karenge aur vah napharat thee gusse mein parivartit ho jaegee hindustaan ko ka kaam ban jaega jo kalar mein badal jaata hai to gaard kharaab hota hai aate bhee sudhaar ke chalo nirnay nahin sudhaaree to phir kisee din vo chalaana badal jaegee hamaaree avasthaen hotee hain vaise hee hamen apana bartaav bhee badalana padata hai ghamand ko chhodana padata hai ghamandee kala ka kaaran hai ya kala kaam karavaata hai sabakee ijjat hona chaahie usaka sammaan karana chaahie aur ham bade hain to doosaron ko chaahie ki ham seekh nahin de sakate hain to jeet doosaron se ghrna karana chaahie apane aapako sabhee ghamandee taur par nahin todana chaahie thaink yoo dhanyavaad

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
हम अपने मतभेदों के कारण एक दूसरे से नफरत क्यों करते हैं?Hum Apne Matbhedon Ke Kaaran Ek Dusre Se Nafrat Kyu Karte Hai
Rajesh Kumar Naveriya  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Rajesh जी का जवाब
Ast. Teacher
2:40
अपने मतभेदों के कारण दूसरे से नफरत क्यों करते हैं नफरत है इसलिए करते हैं कि हमारे मान सम्मान पर कोई आंच आती है तो हम उसको साहनी का पाते हैं और जो कहते हैं क्रोध अचार का मुरब्बा है तो जो प्यार होता है धीरे-धीरे टूर में परिवर्तित हो जाता है और उसमें पैर के कारण मजबूत होने लगते हैं मतभेद होते हैं स्वाभिमान के मतभेद होते हैं मन ना मिलने के कारण एक दूसरे के मन में मिलते नहीं है हाथी वे अपनी रक्षा करता है जैसे जी का लांच हो जाए ना जिसे कहते हैं नीम ना मीठी हुए खाओ गर्दिश में तो अपने परिवार को भी छोड़ना नहीं चाहता है यह बदलता नहीं है रिश्ते मजबूत बढ़ते जाते हैं दूसरों का सम्मान करना छोड़ दें तो मत भेज दे वरना तो हो जाए हमारे लिए जरूरी है कि हम आपस में एक साथ बैठकर सहमति से दोस्ती से रीवा जला पाते हैं तो मतभेद को दूर होते हैं परंतु जब कोई तुम्हारी बात सुनाई नहीं चाहता है किसी मतभेद बातें ही आते हैं और यह सब नासमझी चाहिए या कम पढ़े लिखे लोगों में होता है जो पढ़े लिखे लोग होते हैं वह इसका नैना जानते हैं बंटू बिहार में में गांव में जो कम पढ़े लिखे लोग हैं या रूढ़ीवादी हैं तो उनमें निवेश भरता जाता है वह भी अपनी हटके का स्कूल छोड़ना नहीं चाहते हैं तुम मतभेद बना स्वागत है वैसे हम आप की विचारधारा से ही दूर कर सकते हैं हमें एक दूसरों के स्वाभिमान का ध्यान रखना चाहिए आत्मसम्मान को किसी के पास नहीं है ताकि मतभेद हो सकते हैं थैंक यू धन्यवाद
Apane matabhedon ke kaaran doosare se napharat kyon karate hain napharat hai isalie karate hain ki hamaare maan sammaan par koee aanch aatee hai to ham usako saahanee ka paate hain aur jo kahate hain krodh achaar ka murabba hai to jo pyaar hota hai dheere-dheere toor mein parivartit ho jaata hai aur usamen pair ke kaaran majaboot hone lagate hain matabhed hote hain svaabhimaan ke matabhed hote hain man na milane ke kaaran ek doosare ke man mein milate nahin hai haathee ve apanee raksha karata hai jaise jee ka laanch ho jae na jise kahate hain neem na meethee hue khao gardish mein to apane parivaar ko bhee chhodana nahin chaahata hai yah badalata nahin hai rishte majaboot badhate jaate hain doosaron ka sammaan karana chhod den to mat bhej de varana to ho jae hamaare lie jarooree hai ki ham aapas mein ek saath baithakar sahamati se dostee se reeva jala paate hain to matabhed ko door hote hain parantu jab koee tumhaaree baat sunaee nahin chaahata hai kisee matabhed baaten hee aate hain aur yah sab naasamajhee chaahie ya kam padhe likhe logon mein hota hai jo padhe likhe log hote hain vah isaka naina jaanate hain bantoo bihaar mein mein gaanv mein jo kam padhe likhe log hain ya roodheevaadee hain to unamen nivesh bharata jaata hai vah bhee apanee hatake ka skool chhodana nahin chaahate hain tum matabhed bana svaagat hai vaise ham aap kee vichaaradhaara se hee door kar sakate hain hamen ek doosaron ke svaabhimaan ka dhyaan rakhana chaahie aatmasammaan ko kisee ke paas nahin hai taaki matabhed ho sakate hain thaink yoo dhanyavaad

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है?Ijjat Dene Or Ijjat Karne Me Kya Antar Hai
Rajesh Kumar Naveriya  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Rajesh जी का जवाब
Ast. Teacher
2:26
इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है तो इज्जत हम नए लोगों को देते हैं जो हमारे यहां मेहमान बन के आते हैं अपने से बड़ों को अपन को इज्जत देना पड़ती है इज्जत देने से ही जीत हमें मिलती है और इज्जत करना जहां तक है अपने मां-बाप अपने से बड़ों की इज्जत की जाती है जो हमारे रिश्तेदार होते हैं या मनन होते हैं तो हम भी जरूर करना चाहिए तो अब इसमें अपना तो होता है यह पहले से अपने होते हैं उनको हम इज्जत देते हैं इज्जत इज्जत करते हैं और इज्जत है जो देना है तो अपन किसी को उधार देंगे दूसरी मांग भी सकते हैं तो इज्जत देना और लेना है तो हमें इज्जत मतलब सम्मान सम्मान तो सभी लोगों का आवश्यक है छोटे लोग हैं तो यदि हम उनकी भी इज्जत करते हैं तो वह हमको भी सम्मान देते हैं छोटों की भी अब इज्जत करते हैं ऐसा नहीं है की चोटों की जितनी की जाती है बड़ों की तो करना ही पड़ती है पर दूसरों को अनुभव के लिए उन से लगाव के लिए हमें जल देना पड़ती है यदि हमसे गलत तरीके से बात करेगी तो वह भी हमें गलत तरीके से ही उत्तर देंगे आपसे दूर भागेंगे तो छोटों को इज्जत देने से उन्हें यह पता चलता है कि फला व्यक्ति के स्वभाव का है निस का नेचर कैसा है अच्छा है बुरा है बाद में वह कहते हैं कि यह भाई अच्छा नहीं है कि दारू खराब है चाचा खराब है तो हमें दूसरों की इज्जत रिस्पेक्ट जरूरी है और रिस्पेक्ट मां-बाप बड़ों की करना अति आवश्यक है करना चाहिए थैंक यू धन्यवाद
Ijjat dene aur ijjat karane mein kya antar hai to ijjat ham nae logon ko dete hain jo hamaare yahaan mehamaan ban ke aate hain apane se badon ko apan ko ijjat dena padatee hai ijjat dene se hee jeet hamen milatee hai aur ijjat karana jahaan tak hai apane maan-baap apane se badon kee ijjat kee jaatee hai jo hamaare rishtedaar hote hain ya manan hote hain to ham bhee jaroor karana chaahie to ab isamen apana to hota hai yah pahale se apane hote hain unako ham ijjat dete hain ijjat ijjat karate hain aur ijjat hai jo dena hai to apan kisee ko udhaar denge doosaree maang bhee sakate hain to ijjat dena aur lena hai to hamen ijjat matalab sammaan sammaan to sabhee logon ka aavashyak hai chhote log hain to yadi ham unakee bhee ijjat karate hain to vah hamako bhee sammaan dete hain chhoton kee bhee ab ijjat karate hain aisa nahin hai kee choton kee jitanee kee jaatee hai badon kee to karana hee padatee hai par doosaron ko anubhav ke lie un se lagaav ke lie hamen jal dena padatee hai yadi hamase galat tareeke se baat karegee to vah bhee hamen galat tareeke se hee uttar denge aapase door bhaagenge to chhoton ko ijjat dene se unhen yah pata chalata hai ki phala vyakti ke svabhaav ka hai nis ka nechar kaisa hai achchha hai bura hai baad mein vah kahate hain ki yah bhaee achchha nahin hai ki daaroo kharaab hai chaacha kharaab hai to hamen doosaron kee ijjat rispekt jarooree hai aur rispekt maan-baap badon kee karana ati aavashyak hai karana chaahie thaink yoo dhanyavaad

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
पृथ्वी सोना कैसे विकसित करती है?Prtihvi Sona Kaise Viksit Karti Hai
Rajesh Kumar Naveriya  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Rajesh जी का जवाब
Ast. Teacher
1:54

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
समाज के कड़वे नियम क्या है?Samaaj Ke Kadve Niyam Kya Hai
Rajesh Kumar Naveriya  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Rajesh जी का जवाब
Ast. Teacher
3:00

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
सबसे पुराना और प्राचीनतम में क्या अंतर है?Sabse Purana Aur Praacheentam Mein Kya Antar Hai
Rajesh Kumar Naveriya  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Rajesh जी का जवाब
Ast. Teacher
1:08

#धर्म और ज्योतिषी

Rajesh Kumar Naveriya  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Rajesh जी का जवाब
Ast. Teacher
1:48
URL copied to clipboard