#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
रॉकेट हमेशा पश्चिम से पूर्व की ओर ही क्यों छोड़ा जाता है?Rocket Humesha Pachim Se Purv Ki Or Hi Kyo Choda Jata Hai
Deven  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deven जी का जवाब
Valuepreneur Adventurer Life Explorer Dreamer
2:08

#जीवन शैली

Deven  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deven जी का जवाब
Valuepreneur Adventurer Life Explorer Dreamer
1:33
क्या कोरोनावायरस हमारी जिंदगी का हिस्सा बन जाएगा अंजाबित भविष्य में खत्म हो जाए मैं डिस्ट्रिक्ट की बात करता हूं अपने हम लोग अभी कुछ डिसाइड थे में नाम लेता हूं टाइफाइड ट्यूबरक्लोसिस मलेरिया डेंगू थेरियामल कॉमन कोल्ड इन सभी देश है जिसमें आप देखिए यह रिजल्ट बहुत पहले आए थे और अभी भी है पोलियो यह रिश्ते भी आया था लेकिन अभी दिखता नहीं है इस इस पोलियो का वायरस तो नहीं है ऐसी बात नहीं दिखता नहीं है कारण क्या है क्योंकि उसकी दवाई निकल और इतने दिनों से सरकार सबकुछ पुलिस ने दोनों पिला रही है बच्चों को तकलीफ की वजह से बच्चों को पोलियो नहीं होने से बहुत सारी भी कोई भी बीमारी जो है जब आती है तो वापस नहीं जा सकती है उसके ऊपर दवाई आती है दवाई आने से इंसान इम्यून हो जाता है उस इस तरीके से कोरोनावायरस के साथ हो कि आया है अभी सबको होगा एक एक बार एक बहुत सारे लोगों को हो जाएगा कुछ लोग ऐसा करते करते करते एक ऐसा आएगा कि हमें किसी को उसका इन काउंटर भी अगर होता है तो हमें कुछ होगा नहीं क्योंकि सबके बॉडी में उसको मारने की क्षमता बन जाए तो ए नेचुरल प्रोसेस है और यह सी प्रोसेस के वजह से कोई भी जो बीमारी होती है वह बीमारी और का हम लोग मुकाबला कर पाते हैं
Kya koronaavaayaras hamaaree jindagee ka hissa ban jaega anjaabit bhavishy mein khatm ho jae main distrikt kee baat karata hoon apane ham log abhee kuchh disaid the mein naam leta hoon taiphaid tyoobaraklosis maleriya dengoo theriyaamal koman kold in sabhee desh hai jisamen aap dekhie yah rijalt bahut pahale aae the aur abhee bhee hai poliyo yah rishte bhee aaya tha lekin abhee dikhata nahin hai is is poliyo ka vaayaras to nahin hai aisee baat nahin dikhata nahin hai kaaran kya hai kyonki usakee davaee nikal aur itane dinon se sarakaar sabakuchh pulis ne donon pila rahee hai bachchon ko takaleeph kee vajah se bachchon ko poliyo nahin hone se bahut saaree bhee koee bhee beemaaree jo hai jab aatee hai to vaapas nahin ja sakatee hai usake oopar davaee aatee hai davaee aane se insaan imyoon ho jaata hai us is tareeke se koronaavaayaras ke saath ho ki aaya hai abhee sabako hoga ek ek baar ek bahut saare logon ko ho jaega kuchh log aisa karate karate karate ek aisa aaega ki hamen kisee ko usaka in kauntar bhee agar hota hai to hamen kuchh hoga nahin kyonki sabake bodee mein usako maarane kee kshamata ban jae to e nechural proses hai aur yah see proses ke vajah se koee bhee jo beemaaree hotee hai vah beemaaree aur ka ham log mukaabala kar paate hain

#जीवन शैली

Deven  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deven जी का जवाब
Valuepreneur Adventurer Life Explorer Dreamer
4:39
आपके विचार से खुद को नियंत्रित करके क्या अपने दुखों से छुटकारा पाया जा सकता है देखे self-control अगर आ जाए इंसल्ट मास्टर जी अगर हो जाए तो दुख ही नहीं आने आप जो चाहे वह कर सकते हो क्योंकि सिर्फ मास्टर जी जब करते हो आप तो आप आपके विचार आपका माइंड इनको ऊपर शॉपिंग करने करना सीख जाते हो और इनको एक प्रॉपर ट्रेनिंग देना सीख जाते हो और कोई भी जो आपके लाइफ में कोई भी दुख जो पेन जो भी चीज है तो वो क्यू है उसके रूट कॉलेज में आप जाते हो जैसे कि अगर बाहर के एनवायरनमेंट में किसी इंसान की वजह से मुझे बुरा फील हो रहा है या कुछ पेनफुल हो रहा है तो उसमें आप एक फोन करना सीख जाते हो कि मैं ठीक तरीके से आप का ब्रेन ऋतिक ऑन करें और अगर मान लो कि आपको आपके खुद के ही कुछ कारणों की वजह से है या कुछ प्रॉब्लम है तो वह तो अपने आप लिख जाता है क्योंकि इसकी चौड़ी होती है किसी भी प्रॉब्लम की जोड़ी होती है कि हम लोग आने सोचते कुछ और हमारे हाथ से होता जवाब सिर्फ मात्र ही ले लोगे तो सिर्फ मास्टरी के बाद अपने आप ही आप डिसिप्लिन में ढल जाओगे डिसिप्लिन से अच्छे हैबिट्स में अच्छे थॉट्स में ढल जाओगे और अपने आप ही आपके पूरे दिन के ऊपर आपका कंट्रोल फ्लो होगा और वह भी करते समय आपको कुछ बहुत ज्यादा जोर नहीं लगाना पड़ेगा अपने आप होते जाएगा तो इसलिए खुद के ऊपर नियंत्रण करना एक सबसे बेहतरीन रास्ता है आपके सभी दुखों से या कभी प्रॉब्लम से छुटकारा पाना और लेकिन अब खुद के ऊपर नियंत्रण कैसे किया जाए तो खुद के ऊपर नियंत्रण अगर करना है तो सबसे पहले हमें यह देखना होगा कि हम लोगों का टाइम कहां व्यस्त हो जाए दिन बारे में और उसके अंदर हमारे थॉट की प्रोसेस कैसी है यह समझना पड़ेगा क्योंकि हमें जब नहीं होगा तब तक हम नहीं समझ पाएगा उस चीज को तो उसके लिए एक एक तो उसके गहराई में जाकर समझे या तो फिर सिंपल सी है अपना एक सबको समझ में आता है कि अपना एड्रेस लोग कैसे होना चाहिए कि सुबह कितने बजे उठना है दिन भर कैसे काम करना है कौन से काम प्रायोरिटी काम है कौन से काम जो है जो नॉन प्रायोरिटी काम है तो इस तरीके से हमें यह देखना है कि कैसे कौनसे-कौनसे ऐसे एरिया के लाइफ के अपने जिसको प्रायोरिटी चाहिए फेल हो गया पैसा हो गया है मिली हो गया तो यह चेक करना यह लाइन करने की क्या इनके रिलेटेड काम हमारे जीवन की प्रायोरिटी के लिस्ट में है क्या दिल्ली कितना काम हम उसके ऊपर कर रहे हैं और इसके अलावा जब टाइम बसता है आपके पास तो बाकी की जाती है अगर आपके प्राइवेट ही पता चल गई थी उसके बाद आप इसको किस फोन से कर अगर आप किसी भी चीज को करना चाहते हो जैसे खेलते बनाना चाहते हो तो नौकरी नहीं यार झीनी लगाइए हेल्थ बढ़ाना चाहते हो तो आपके पास बहुत सारे रास्ते तो सबसे बेहतरीन तरीका है सुबह 5:00 बजे उठी है पांच 5:30 बजे उठी है 120 से 25 मिनट का वॉक कीजिए या घर में एक्सरसाइज कीजिए सूर्य नमस्कार कीजिए मेडिटेशन कि वह होने के बाद में अगर आप चाहते हो कि कुछ अच्छे बुक्स पढ़नी है या फिर कोई अच्छा चीज अपने खुद के बारे में विचार करना है कुछ का कुछ लिखना है उसे बेहतरीन समय ही नहीं है सुबह 5:00 से 7:00 के बीच और उसके बाद में उसके बाद में आप चाहते हो अगर आप चाहते हो कि उसके बाद मैं प्रायोरिटी मेरे काम निपटा दो जो काम में बहुत समय लगता है जो आपको पसंद नहीं है लेकिन आप तो करना जरूरी है तो उसके लिए भी सबसे अच्छा समय शुभ होता तुझे फोन नहीं आता कॉल नहीं होते हैं और उस समय आप 10:00 से 11:00 तक आपकी मैक्सिमम काम निपट चु तो यह पार्टी काम कौन से है वह बराबर टाइट करके उसको करना फिर फैमिली के साथ टाइम देना फैमिली के साथ टाइम की अलग अलग तरीका क्या दे सकते हो इतना तो सोचना है फैमिली के साथ बच्चों के साथ जो कि बहुत अधिक है पता नहीं क्या जाकर बैठ गए यह सीखना पड़ेगा इसको प्रैक्टिस प्रैक्टिस प्रैक्टिस बाबा अपने आप ही काफी चीजों से छुटकारा पा लोगे
Aapake vichaar se khud ko niyantrit karake kya apane dukhon se chhutakaara paaya ja sakata hai dekhe sailf-chontrol agar aa jae insalt maastar jee agar ho jae to dukh hee nahin aane aap jo chaahe vah kar sakate ho kyonki sirph maastar jee jab karate ho aap to aap aapake vichaar aapaka maind inako oopar shoping karane karana seekh jaate ho aur inako ek propar trening dena seekh jaate ho aur koee bhee jo aapake laiph mein koee bhee dukh jo pen jo bhee cheej hai to vo kyoo hai usake root kolej mein aap jaate ho jaise ki agar baahar ke enavaayaranament mein kisee insaan kee vajah se mujhe bura pheel ho raha hai ya kuchh penaphul ho raha hai to usamen aap ek phon karana seekh jaate ho ki main theek tareeke se aap ka bren rtik on karen aur agar maan lo ki aapako aapake khud ke hee kuchh kaaranon kee vajah se hai ya kuchh problam hai to vah to apane aap likh jaata hai kyonki isakee chaudee hotee hai kisee bhee problam kee jodee hotee hai ki ham log aane sochate kuchh aur hamaare haath se hota javaab sirph maatr hee le loge to sirph maastaree ke baad apane aap hee aap disiplin mein dhal jaoge disiplin se achchhe haibits mein achchhe thots mein dhal jaoge aur apane aap hee aapake poore din ke oopar aapaka kantrol phlo hoga aur vah bhee karate samay aapako kuchh bahut jyaada jor nahin lagaana padega apane aap hote jaega to isalie khud ke oopar niyantran karana ek sabase behatareen raasta hai aapake sabhee dukhon se ya kabhee problam se chhutakaara paana aur lekin ab khud ke oopar niyantran kaise kiya jae to khud ke oopar niyantran agar karana hai to sabase pahale hamen yah dekhana hoga ki ham logon ka taim kahaan vyast ho jae din baare mein aur usake andar hamaare thot kee proses kaisee hai yah samajhana padega kyonki hamen jab nahin hoga tab tak ham nahin samajh paega us cheej ko to usake lie ek ek to usake gaharaee mein jaakar samajhe ya to phir simpal see hai apana ek sabako samajh mein aata hai ki apana edres log kaise hona chaahie ki subah kitane baje uthana hai din bhar kaise kaam karana hai kaun se kaam praayoritee kaam hai kaun se kaam jo hai jo non praayoritee kaam hai to is tareeke se hamen yah dekhana hai ki kaise kaunase-kaunase aise eriya ke laiph ke apane jisako praayoritee chaahie phel ho gaya paisa ho gaya hai milee ho gaya to yah chek karana yah lain karane kee kya inake rileted kaam hamaare jeevan kee praayoritee ke list mein hai kya dillee kitana kaam ham usake oopar kar rahe hain aur isake alaava jab taim basata hai aapake paas to baakee kee jaatee hai agar aapake praivet hee pata chal gaee thee usake baad aap isako kis phon se kar agar aap kisee bhee cheej ko karana chaahate ho jaise khelate banaana chaahate ho to naukaree nahin yaar jheenee lagaie helth badhaana chaahate ho to aapake paas bahut saare raaste to sabase behatareen tareeka hai subah 5:00 baje uthee hai paanch 5:30 baje uthee hai 120 se 25 minat ka vok keejie ya ghar mein eksarasaij keejie soory namaskaar keejie mediteshan ki vah hone ke baad mein agar aap chaahate ho ki kuchh achchhe buks padhanee hai ya phir koee achchha cheej apane khud ke baare mein vichaar karana hai kuchh ka kuchh likhana hai use behatareen samay hee nahin hai subah 5:00 se 7:00 ke beech aur usake baad mein usake baad mein aap chaahate ho agar aap chaahate ho ki usake baad main praayoritee mere kaam nipata do jo kaam mein bahut samay lagata hai jo aapako pasand nahin hai lekin aap to karana jarooree hai to usake lie bhee sabase achchha samay shubh hota tujhe phon nahin aata kol nahin hote hain aur us samay aap 10:00 se 11:00 tak aapakee maiksimam kaam nipat chu to yah paartee kaam kaun se hai vah baraabar tait karake usako karana phir phaimilee ke saath taim dena phaimilee ke saath taim kee alag alag tareeka kya de sakate ho itana to sochana hai phaimilee ke saath bachchon ke saath jo ki bahut adhik hai pata nahin kya jaakar baith gae yah seekhana padega isako praiktis praiktis praiktis baaba apane aap hee kaaphee cheejon se chhutakaara pa loge

#जीवन शैली

bolkar speaker
क्या हम सिर्फ फल खाकर भी जिंदा रह सकते हैं?Kya Hum Sirf Phal Khakar Bhe Zinda Reh Sakte Hain
Deven  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deven जी का जवाब
Valuepreneur Adventurer Life Explorer Dreamer
2:06
क्या हम सिर्फ फल खाकर भी जिंदा रह सकते हैं क्या जी हां क्योंकि जितनी भी चीज आप अभी हम खाते हैं वह सब चीजें बहुत सारी चीजों का तो ओरिजिन ही अभी हुआ है लेकिन हमारे पूर्वजों के समय में वह फल खाकर ही जिंदा रहते थे ऐसी चीज है जिसके अंदर में नाचुली सभी विटामिन नेचुरल रूप से पाए जाते हैं उसमें फाइबर पाए जाते हैं सभी टाइप के विटामिन पाए जाते हैं शुगर पाई जाती है हमें लगता क्या है हमें जिंदगी जीने के लिए प्रोटींस लगते हैं हमें जिंदगी जीने के लिए कार्बोहाइड्रेट लगते हैं 5 बरस लगते हैं पैसे देने प्रोटींस वही बात और हमें उस कल आप देखोगे तो उसके अंदर ड्राई फ्रूट्स ले कि नॉर्मल सभी सूट चाहते हैं इन हरपुर के अकाउंटेंट के अंदर में हर टाइप कर टाइप की सीट अवेलेबल मात्रा में इसके अंदर कार्बोहाइड्रेट समिति के विटामिन से एसेंशियल फैटी एसिड्स अमीनो एसिड से ना जाने सब कुछ और अलग अलग स्वाद भी अगर हमें और सभी टाइप की पोस्ट अगर हम लोग इन वॉल करते तो हमें क्या-क्या चीज मिल सकती है हमें प्रोटीन प्रॉपर मिलेगा क्योंकि मैंने फिर मिलेगा तो प्रोटीन बनेगा हमें ऐसे ही सोसाइटी हमेशा मिलेंगे इसलिए बदाम खाने के लिए बोलते हैं सुबह उठके या काजू बदाम इन चीजों को लंबे समय तक एनर्जी देते हैं शुगर मिलेगी हमें जोक इन so2 करोगे जो शुगर समेकन सिस्टम दिन में काम करने के लिए लगती है भाई बस मिलेंगे जो हमारे पचन संस्था को प्रॉपर रखती है और कॉलेज से वालों को बढ़ने नहीं देते और खास करके सब खाओगे तो कॉलिंग नहीं खाओगे तो कोलेस्ट्रॉल बढ़ने का सवाल ही नहीं पैदा होता है उसके उसके अलावा आपको इसके अंदर में बहुत सारी डिटेल तो वैरायटी मिलेगी क्योंकि बहुत सारे फ्रूट्स है कि जिसके अंदर अलग-अलग टाइप की तेज होती है और मिठास होती है तो यह अलग-अलग आपको मिलेगी इस फ्रूट खा कर अब सिर्फ रोड के ऊपर अब तक जिंदा रह सकते हैं
Kya ham sirph phal khaakar bhee jinda rah sakate hain kya jee haan kyonki jitanee bhee cheej aap abhee ham khaate hain vah sab cheejen bahut saaree cheejon ka to orijin hee abhee hua hai lekin hamaare poorvajon ke samay mein vah phal khaakar hee jinda rahate the aisee cheej hai jisake andar mein naachulee sabhee vitaamin nechural roop se pae jaate hain usamen phaibar pae jaate hain sabhee taip ke vitaamin pae jaate hain shugar paee jaatee hai hamen lagata kya hai hamen jindagee jeene ke lie proteens lagate hain hamen jindagee jeene ke lie kaarbohaidret lagate hain 5 baras lagate hain paise dene proteens vahee baat aur hamen us kal aap dekhoge to usake andar draee phroots le ki normal sabhee soot chaahate hain in harapur ke akauntent ke andar mein har taip kar taip kee seet avelebal maatra mein isake andar kaarbohaidret samiti ke vitaamin se esenshiyal phaitee esids ameeno esid se na jaane sab kuchh aur alag alag svaad bhee agar hamen aur sabhee taip kee post agar ham log in vol karate to hamen kya-kya cheej mil sakatee hai hamen proteen propar milega kyonki mainne phir milega to proteen banega hamen aise hee sosaitee hamesha milenge isalie badaam khaane ke lie bolate hain subah uthake ya kaajoo badaam in cheejon ko lambe samay tak enarjee dete hain shugar milegee hamen jok in so2 karoge jo shugar samekan sistam din mein kaam karane ke lie lagatee hai bhaee bas milenge jo hamaare pachan sanstha ko propar rakhatee hai aur kolej se vaalon ko badhane nahin dete aur khaas karake sab khaoge to koling nahin khaoge to kolestrol badhane ka savaal hee nahin paida hota hai usake usake alaava aapako isake andar mein bahut saaree ditel to vairaayatee milegee kyonki bahut saare phroots hai ki jisake andar alag-alag taip kee tej hotee hai aur mithaas hotee hai to yah alag-alag aapako milegee is phroot kha kar ab sirph rod ke oopar ab tak jinda rah sakate hain

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
हाइड्रोजन गैस बनाने की उपविधि क्या है?Hydrogen Gas Bnane Ki Upvidhi Kya Hai
Deven  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deven जी का जवाब
Valuepreneur Adventurer Life Explorer Dreamer
4:56
हाइड्रोजन गैस बनाने की विधि क्या है हाइड्रोजन एक बहुत ही अच्छा चुड़ैल का स्वरूप माना जाता है हाइड्रोजन जनरल आपके आसपास देखने वाले काफी चीजों में होता है जैसे पानी का फार्मूला S2 है तो उसने भी हाइड्रोजन है मीठे ब्यूटेन आप देख रहे आसपास में तो ph4 मेथेन ब्यूटेन प्रोपेन इसमें सब में कार्बन हाइड्रोजन की चैन है तो है दुश्मन बनना काफी मुश्किल है लेकिन इस हाइड्रोजन को हम लोग जब फीवर फॉर में यूज करते हैं h2 S2 के फॉर्म में लेकिन प्रॉब्लम यह है कि इसके प्रोडक्शन इसके प्रोडक्शन में काफी थक जाता है इस हाइड्रोजन बम बनाते कहते हैं तो जनरल इस हाइड्रोजन को बनाने के लिए अलग अलग टाइप के तरीके होते हैं एक तरीका है कि जिस में हम लोग क्या करते हैं कि जो क्योंकि हाइड्रोजन है किस में पानी में है या फिर ऑल में बायोमास जितने भी कार बंद हो रहे रोशन के कंपाउंड उसके अंदर है अगर हम लोग इस टाइप के किसी भी बायोमास को उधर लेते हैं और उस बायोमास को हाई प्रेशर बेजती मोर ऑक्सीजन से हम लोग हाई प्रेशर टीम हाई प्रेशर टीम जी उसका टेंपरेचर ज्यादा होता है उसका बायोमास तो अगर उनसे और ऑक्सीजन से अगर प्रेशर है इस गैसीफायर में अगर रखते हैं उससे पूछ बायोमास्टर ज्ञात इफिकेशन होता है टेंपरेचर खुद गैसीफिकेशन में जो भी गैस बनती है कंप्लीट उसको सिंथेसिस गैस बोला जाता है सिंथेसिस गैस क्यों बनती है यह बायोमास से बनने वाले क्या कोई भी कॉल हो गया चार खोलोगे उसको अब जो भी यह बंदरी है सिंथेसिस क्या सोचता मिक्सर होता है उसके अंदर हाइड्रोजन होता है कार्बन मोनोऑक्साइड होता है और कुछ अमाउंट एंड कार्बन डाइऑक्साइड होता है तो जनरल यह हाई टेंपरेचर्स टीम यह गैसीफिकेशन से इस टाइप के अलग-अलग कंपाउंड बनाती है अब यह जब कंपाउंड बनाते हैं तो इसमें से बाय प्रोडक्ट जो मेजॉरिटी जो तैयार होता है वह तैयार होता है और स्त्री हम लोग नेचुरल गैस से या किसी बायोमास थे हाइड्रोजन बना सकते हैं तो इस इस भेजो प्रोसेस को गैसीफिकेशन ए नेचुरल गैस फॉर्मिंग प्रोसेस बोलते हमें हम इसको यह चम्मच का प्रोडक्शन जो भेजे यूनाइटेड से होता है ना हो सकती है पानी में अगर कर दें हम तो पानी में हाइड्रोजन और ऑक्सीजन ही को हम लोग अगर पानी में लगाए तो उसमें से हाइड्रोजन निकलेगा एक मोड़ तो एक मोड़ पर निकलेगा तो यह भी ऐसे भी हर रोज एंड क्रिएट होता है लेकिन प्रॉब्लम क्या है कि इसमें जो इलेक्ट्रिसिटी इसमें प्रोवाइड करनी पड़ेगी वह कहां से उत्पन्न करता है और मैं 1616 या फिर विल पावर इलेक्ट्रिसिटी बंद रही है और उससे मैं अगर पानी के पानी के पानी को डिलीट कर रहा हूं इलेक्ट्रोलिसिस करो तब तो एक रिन्यूएबल सोर्स ऑफ हाइड्रोजन जो कि काफी पुअर माना जाएगा लेकिन अगर इसमें में कोई कोयला या ऐसे इलेक्ट्रिसिटी यूज कर रहा हूं तो या फिर न्यू प्लेयर यूज कर रहा हूं तो भी हो रिन्यूएबल टेक माना जाएगा क्योंकि न्यू प्लेयर थोड़ी होता है लेकिन अगर मैं कोयला यूज कर रहा हूं रोटी इलेक्ट्रिसिटी से हाइड्रोजन बना रहा हूं तो मुझे महंगा भी पड़ेगा और वह भी नहीं कह रहा है गम यह उसकी निंदा रिन्यूएबल लिक्विड रिफॉर्मिंग भी में तो रोते हैं जिसके अंदर हम लोग इतना उसको यूज कर लेते हैं उसे पास करेंगे हम लोग तो वहां पर भी यह आपका है दो जन वहां पर भी बन जाएगा फिर फर्मेंटेशन प्रोसेस फर्मेंटेशन में भी बायोमास को अगर हम लोग घमंड करते हैं बहुत सारे बायोमास को तो सारी चीजें बनेगी वह फर्मेंट होकर वहां से भी ऑक्सीजन और हाइड्रोजन अब बन पाएगा डेवलपमेंट के अंदर में अभी भी प्रोसेस में है अभी कुछ नेचुरल चीजें भी होती है जैसे कि समुंदर के अंदर में गिर गई है या कुछ माइक्रो ऑर्गेनिक जमस लाइट को यूज करते हैं प्रेजेंस ऑफ सनलाइट और वॉटर पॉल्यूशन एसे बाय प्रोडक्ट निकालते हैं सर लेट का यूज़ करते वहां पर पानी है उनके पास में और वहां पर और ऑक्सीजन और हाइड्रोजन ऐसे बायप्रोडक्ट निकालते हैं यह फोटो बायोलॉजी के लिए निकलने वाला वॉटर स्प्लिटिंग है लेकिन इतनी किया माइक्रोब्स ने किया कि नहीं किया फोटो का यूज करके dard-e-disco लॉजिकल वॉटर स्प्लिटिंग फोटोइलेक्ट्रोकेमिकल भी हो सकती है तो इस तरीके की काफी चीज है जिसके अंदर में यह प्रोसेसेस सार्वजनिक पर होता है हाइड्रोजन बनाना महंगा पड़ता है
Haidrojan gais banaane kee vidhi kya hai haidrojan ek bahut hee achchha chudail ka svaroop maana jaata hai haidrojan janaral aapake aasapaas dekhane vaale kaaphee cheejon mein hota hai jaise paanee ka phaarmoola s2 hai to usane bhee haidrojan hai meethe byooten aap dekh rahe aasapaas mein to ph4 methen byooten propen isamen sab mein kaarban haidrojan kee chain hai to hai dushman banana kaaphee mushkil hai lekin is haidrojan ko ham log jab pheevar phor mein yooj karate hain h2 s2 ke phorm mein lekin problam yah hai ki isake prodakshan isake prodakshan mein kaaphee thak jaata hai is haidrojan bam banaate kahate hain to janaral is haidrojan ko banaane ke lie alag alag taip ke tareeke hote hain ek tareeka hai ki jis mein ham log kya karate hain ki jo kyonki haidrojan hai kis mein paanee mein hai ya phir ol mein baayomaas jitane bhee kaar band ho rahe roshan ke kampaund usake andar hai agar ham log is taip ke kisee bhee baayomaas ko udhar lete hain aur us baayomaas ko haee preshar bejatee mor okseejan se ham log haee preshar teem haee preshar teem jee usaka temparechar jyaada hota hai usaka baayomaas to agar unase aur okseejan se agar preshar hai is gaiseephaayar mein agar rakhate hain usase poochh baayomaastar gyaat iphikeshan hota hai temparechar khud gaiseephikeshan mein jo bhee gais banatee hai kampleet usako sinthesis gais bola jaata hai sinthesis gais kyon banatee hai yah baayomaas se banane vaale kya koee bhee kol ho gaya chaar khologe usako ab jo bhee yah bandaree hai sinthesis kya sochata miksar hota hai usake andar haidrojan hota hai kaarban monooksaid hota hai aur kuchh amaunt end kaarban daioksaid hota hai to janaral yah haee temparechars teem yah gaiseephikeshan se is taip ke alag-alag kampaund banaatee hai ab yah jab kampaund banaate hain to isamen se baay prodakt jo mejoritee jo taiyaar hota hai vah taiyaar hota hai aur stree ham log nechural gais se ya kisee baayomaas the haidrojan bana sakate hain to is is bhejo proses ko gaiseephikeshan e nechural gais phorming proses bolate hamen ham isako yah chammach ka prodakshan jo bheje yoonaited se hota hai na ho sakatee hai paanee mein agar kar den ham to paanee mein haidrojan aur okseejan hee ko ham log agar paanee mein lagae to usamen se haidrojan nikalega ek mod to ek mod par nikalega to yah bhee aise bhee har roj end kriet hota hai lekin problam kya hai ki isamen jo ilektrisitee isamen provaid karanee padegee vah kahaan se utpann karata hai aur main 1616 ya phir vil paavar ilektrisitee band rahee hai aur usase main agar paanee ke paanee ke paanee ko dileet kar raha hoon ilektrolisis karo tab to ek rinyooebal sors oph haidrojan jo ki kaaphee puar maana jaega lekin agar isamen mein koee koyala ya aise ilektrisitee yooj kar raha hoon to ya phir nyoo pleyar yooj kar raha hoon to bhee ho rinyooebal tek maana jaega kyonki nyoo pleyar thodee hota hai lekin agar main koyala yooj kar raha hoon rotee ilektrisitee se haidrojan bana raha hoon to mujhe mahanga bhee padega aur vah bhee nahin kah raha hai gam yah usakee ninda rinyooebal likvid riphorming bhee mein to rote hain jisake andar ham log itana usako yooj kar lete hain use paas karenge ham log to vahaan par bhee yah aapaka hai do jan vahaan par bhee ban jaega phir pharmenteshan proses pharmenteshan mein bhee baayomaas ko agar ham log ghamand karate hain bahut saare baayomaas ko to saaree cheejen banegee vah pharment hokar vahaan se bhee okseejan aur haidrojan ab ban paega devalapament ke andar mein abhee bhee proses mein hai abhee kuchh nechural cheejen bhee hotee hai jaise ki samundar ke andar mein gir gaee hai ya kuchh maikro orgenik jamas lait ko yooj karate hain prejens oph sanalait aur votar polyooshan ese baay prodakt nikaalate hain sar let ka yooz karate vahaan par paanee hai unake paas mein aur vahaan par aur okseejan aur haidrojan aise baayaprodakt nikaalate hain yah photo baayolojee ke lie nikalane vaala votar spliting hai lekin itanee kiya maikrobs ne kiya ki nahin kiya photo ka yooj karake dard-ai-discho lojikal votar spliting photoilektrokemikal bhee ho sakatee hai to is tareeke kee kaaphee cheej hai jisake andar mein yah proseses saarvajanik par hota hai haidrojan banaana mahanga padata hai

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
LPG सिलेंडर के दाम इतना क्यों बढ़ रहा है?Lpg Cylinder Ke Daam Itna Kyun Badh Raha Hai
Deven  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deven जी का जवाब
Valuepreneur Adventurer Life Explorer Dreamer
4:58
एलपीजी सिलेंडर के दाम कितने क्यों बढ़ रहा है अब हम इसके साहिल के अंदर चलते हैं इसके पीछे का एक्चुअल क्या रीजन है उसे जनवरी 2014 में इसके दाम बढ़े थे उसके बाद में यह सब्सिडी रेट पर चल रहा है 14 पॉइंट 1 किलो का यह सिलेंडर होता है अभी इसके दाम जो है 144 से लेकर डेड सो रुपए के आसपास मेट्रो सिटीज में पड़ चुके हैं यह दाम इसके पहले 2019 में भी कुछ सकती ₹10 से गवर्नमेंट ने बढ़ाए थे अब होता क्या है कि यह प्राइस डिसाइड कैसे होता है क्या होता है कि एक कंपनी है कंपनी का नाम है सऊदी अरामको सऊदी अरामको एक गैस बनाती है उसका नाम है प्रोपेन हमें पास जो हमारे पास जो एलपीजी आती है लेकिन फाइट पेट्रोलियम गैस सिलेंडर होता है इसके अंदर में प्रोटीन प्लस ब्यूटेन इन दोनों का मिश्रण होता है यह ज्ञात हम कुकिंग में जो घर में सिलेंडर उसका है उसके अंदर यह गैस हम यहां पैदा नहीं करते हैं यह गैस सऊदी अरामको कंपनी है यह वहां से यहां पर अब सऊदी व्यास बनाती कहते हैं यह सऊदी यह गैस बनाती है ऑयल से क्रूड ऑयल से तो ऑयल के प्राइस एस के ऊपर इनके गैस के प्रोडक्शन का कॉस्ट डिपेंड होता है अब यहां से निकलता है गैस और यह कई देशों को देता है जो भी कई देशों को देता है तो वह अपने देश तक उस ज्ञान को अपने देश तक पहुंचने के लिए उसने उनको खर्चा आता है जैसे फ्रेट का खर्चा हो गया उसके बाद में बोर्डिंग प्राइस ओसियन फ्रेश होते हैं कस्टम ड्यूटी एयरपोर्ट ड्यूटी लग जाती उनको किसी भी देश में यूआईटीपी जो होता है यह सऊदी अरामको से ही क्यों लिया जाता है क्योंकि सऊदी अरामको के जो एलपीजी के प्राइस को बेंच मार्क पकड़ा जाता है देश पूरे वर्ल्ड के अंदर में किसी ना किसी चीज को बेंचमार्क लेना पड़ेगा इनको इतना खर्चा आता है तो वह बेंच मार्क पकड़ा जाता है उसके प्राइस क्वालिटी के साथ में जोड़ा जाता है अब यह कैसे निकला जाता है कि आप इंडिया के अंदर में यह प्रोपेन कितने रुपए में पहुंचा दे सब खर्चा जोड़कर कितने रुपए में इंडिया में यह ₹2 तक पहुंच गया है इंडिया में प्रोपेन आपके जब आप कहां पहुंचा है उसके बाद क्या होता है को पेमेंट जब करते हम तेरे पेमेंट ग्रुप में नहीं करते हम तो उन्होंने करते मान लो कि मुझे एक $1 का गैस पड़ गया $1 के मुकाबले रुपए की कीमत चल रही है ₹65 अगर एक एग्जांपल है पैसा है तो मुझे क्या करना पड़ेगा ₹65 बैंक को देने पड़ेंगे बैंक मुझे $1 देगा उसे डॉलर सऊदी अरामको कंपनी को दूंगा और वह दे देगी राम को मुझे यह ला कर देगी और उसके लिए मैं सिम गया इस किले को $1 मुझे कर देना बैंक मुझे बोलेगी अभी मुझे ₹72 दीजिए क्योंकि अभी डॉलर एक्सचेंज रेट बढ़ चुका है हम उनको ₹72 दूंगा $1 महीना हो गया है और मैं $1 खरीद के उनको दूंगा क्योंकि इंटरनेशनल ट्रांजैक्शन डॉलर होते नहीं होते और मुझे तो देंगे रेट भी बढ़ गया क्योंकि अभी डॉलर की कीमत ₹72 रेट बढ़ गया अपने आप होने के वजह से उनके प्रोटीन बनाने में उनको फर्क पड़ा क्वेश्चन के ब्रेक में फर्क पड़ा कस्टम ड्यूटी बहुत सारी चीजों को लेकर उसके फर्क पड़ता है और इसके अंदर जो प्रोपेन की प्राइस है अभी जनवरी के अंदर में एक सिम कंपनी ने प्रोपेन के उपाय से 565 बार और 565 और मैट्रिक पहन कर दी थी दिसंबर में ₹440 का $440 मैट्रिक संतति इसका मतलब प्राइस ऑलरेडी वहां से बढ़ चुकी है तो यह इनक्रीस प्राइस जॉब हुई इनकी तो इन्होंने जीएचएस अपने को प्राइस में पड़ी आई पी पी के थ्रू इंपोर्ट पैरट प्राइस के थ्रू व जब हमारे पास में आई तो हमने डॉलर महंगा होने की वजह से वह भी महंगा खरीदा तो हमारे पास आते आते ज्ञात हो कि मैं गवर्नमेंट को ज्ञात कितनी महंगी पड़े लेकिन गवर्नमेंट इतना महंगा अगर करके भेजें तो एक सिलेंडर की कीमत बहुत ज्यादा बढ़ जाती है इसलिए गवर्नमेंट ने सब्सिडी देती है हमने देखा होगा कि हमारे जो कि मैं उसके अंदर सब्सिडी हम लोग पैसे भी लेते हैं अरे हम लोग जब गैस सिलेंडर खरीदते हैं हम जो भी पेमेंट करते हैं उसकी सब्सिडी हमारे अकाउंट में वापस आती है अगर गैस महीना हो जाएगा तो गवर्नमेंट सब्सिडी बढ़ा देता है जो उनके साथ में यह होता है कि वह सब्सिडी बढ़ा देती है गवर्नमेंट कुल मिलाकर यह मैंने जो होता है ज्ञात के प्राइस तो रिश्ते
Elapeejee silendar ke daam kitane kyon badh raha hai ab ham isake saahil ke andar chalate hain isake peechhe ka ekchual kya reejan hai use janavaree 2014 mein isake daam badhe the usake baad mein yah sabsidee ret par chal raha hai 14 point 1 kilo ka yah silendar hota hai abhee isake daam jo hai 144 se lekar ded so rupe ke aasapaas metro siteej mein pad chuke hain yah daam isake pahale 2019 mein bhee kuchh sakatee ₹10 se gavarnament ne badhae the ab hota kya hai ki yah prais disaid kaise hota hai kya hota hai ki ek kampanee hai kampanee ka naam hai saoodee araamako saoodee araamako ek gais banaatee hai usaka naam hai propen hamen paas jo hamaare paas jo elapeejee aatee hai lekin phait petroliyam gais silendar hota hai isake andar mein proteen plas byooten in donon ka mishran hota hai yah gyaat ham kuking mein jo ghar mein silendar usaka hai usake andar yah gais ham yahaan paida nahin karate hain yah gais saoodee araamako kampanee hai yah vahaan se yahaan par ab saoodee vyaas banaatee kahate hain yah saoodee yah gais banaatee hai oyal se krood oyal se to oyal ke prais es ke oopar inake gais ke prodakshan ka kost dipend hota hai ab yahaan se nikalata hai gais aur yah kaee deshon ko deta hai jo bhee kaee deshon ko deta hai to vah apane desh tak us gyaan ko apane desh tak pahunchane ke lie usane unako kharcha aata hai jaise phret ka kharcha ho gaya usake baad mein bording prais osiyan phresh hote hain kastam dyootee eyaraport dyootee lag jaatee unako kisee bhee desh mein yooaeeteepee jo hota hai yah saoodee araamako se hee kyon liya jaata hai kyonki saoodee araamako ke jo elapeejee ke prais ko bench maark pakada jaata hai desh poore varld ke andar mein kisee na kisee cheej ko benchamaark lena padega inako itana kharcha aata hai to vah bench maark pakada jaata hai usake prais kvaalitee ke saath mein joda jaata hai ab yah kaise nikala jaata hai ki aap indiya ke andar mein yah propen kitane rupe mein pahuncha de sab kharcha jodakar kitane rupe mein indiya mein yah ₹2 tak pahunch gaya hai indiya mein propen aapake jab aap kahaan pahuncha hai usake baad kya hota hai ko pement jab karate ham tere pement grup mein nahin karate ham to unhonne karate maan lo ki mujhe ek $1 ka gais pad gaya $1 ke mukaabale rupe kee keemat chal rahee hai ₹65 agar ek egjaampal hai paisa hai to mujhe kya karana padega ₹65 baink ko dene padenge baink mujhe $1 dega use dolar saoodee araamako kampanee ko doonga aur vah de degee raam ko mujhe yah la kar degee aur usake lie main sim gaya is kile ko $1 mujhe kar dena baink mujhe bolegee abhee mujhe ₹72 deejie kyonki abhee dolar eksachenj ret badh chuka hai ham unako ₹72 doonga $1 maheena ho gaya hai aur main $1 khareed ke unako doonga kyonki intaraneshanal traanjaikshan dolar hote nahin hote aur mujhe to denge ret bhee badh gaya kyonki abhee dolar kee keemat ₹72 ret badh gaya apane aap hone ke vajah se unake proteen banaane mein unako phark pada kveshchan ke brek mein phark pada kastam dyootee bahut saaree cheejon ko lekar usake phark padata hai aur isake andar jo propen kee prais hai abhee janavaree ke andar mein ek sim kampanee ne propen ke upaay se 565 baar aur 565 aur maitrik pahan kar dee thee disambar mein ₹440 ka $440 maitrik santati isaka matalab prais olaredee vahaan se badh chukee hai to yah inakrees prais job huee inakee to inhonne jeeeches apane ko prais mein padee aaee pee pee ke throo import pairat prais ke throo va jab hamaare paas mein aaee to hamane dolar mahanga hone kee vajah se vah bhee mahanga khareeda to hamaare paas aate aate gyaat ho ki main gavarnament ko gyaat kitanee mahangee pade lekin gavarnament itana mahanga agar karake bhejen to ek silendar kee keemat bahut jyaada badh jaatee hai isalie gavarnament ne sabsidee detee hai hamane dekha hoga ki hamaare jo ki main usake andar sabsidee ham log paise bhee lete hain are ham log jab gais silendar khareedate hain ham jo bhee pement karate hain usakee sabsidee hamaare akaunt mein vaapas aatee hai agar gais maheena ho jaega to gavarnament sabsidee badha deta hai jo unake saath mein yah hota hai ki vah sabsidee badha detee hai gavarnament kul milaakar yah mainne jo hota hai gyaat ke prais to rishte

#जीवन शैली

bolkar speaker
कौन सी चीज मनुष्य के लिए किसी खजाने से कम नहीं है?Kaun See Cheej Manushy Ke Lie Kisee Khajaane Se Kam Nahin Hai
Deven  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deven जी का जवाब
Valuepreneur Adventurer Life Explorer Dreamer
1:35
कौन सी चीज मनुष्य के लिए किसी खजाने से कम नहीं है मनुष्य के आचरण है वह किसी खजाने से कम नहीं है मनुष्य के पास जो प्रेम मिला हुसैन में मनुष्य के प्रजातियां एक नेता ही सालों से 1 होते हुए जो आज प्रजाति मनुष्य की है उसके पास जो ट्रेन है यह सबसे अद्भुत चीज इस दुनिया के अंदर नहीं जब बाकि जानवरों को इतना प्रेम मिला हुआ है और किसी भी स्थिति को नहीं मिला वह एड्रेस तो यह उसी के ऊपर को तो उसके वजह से अगर इसका सही तरीके से अपन माइनिंग करेंगे उसके कोल्डमाइन गोल्डमाइन है अपना मस्जिद चुके हमारे ब्रेन के अंदर नियोकॉर्टेक्स समय मिला हुए न्यू कॉटेज से ऐसा देश है जो कि ब्रेन का आगे का हिस्सा होता है इसका काम होता है कि यह अंदर में कितने भी इंफॉर्मेशन को अलग अलग टाइप के इंफॉर्मेशन को इकट्ठा करके उन्हें नया बना सकता है और इसके हिसाब से हम देखते हैं कि इतनी सारी चीजें दुनिया में बन रही है अभी आप देखते हो कि हम टेक्नोलॉजिकल सर देखिए कौन से लेवल पर जा चुका है जो 10 साल पहले था आजकल के अंदर बहुत ज्यादा ही हो चुका है प्रियंका ही तो कमाल है हर एक आदमी के लिए गोल्ड माइनिंग इसका अगर आप सही तरीके से यूज करोगे तो यह आपको कहां से कहां पहुंच आएगा अगर इस तरह सही तरीके से इस्तेमाल नहीं हुआ तो यह आपका गेम फ्री काम करें
Kaun see cheej manushy ke lie kisee khajaane se kam nahin hai manushy ke aacharan hai vah kisee khajaane se kam nahin hai manushy ke paas jo prem mila husain mein manushy ke prajaatiyaan ek neta hee saalon se 1 hote hue jo aaj prajaati manushy kee hai usake paas jo tren hai yah sabase adbhut cheej is duniya ke andar nahin jab baaki jaanavaron ko itana prem mila hua hai aur kisee bhee sthiti ko nahin mila vah edres to yah usee ke oopar ko to usake vajah se agar isaka sahee tareeke se apan maining karenge usake koldamain goldamain hai apana masjid chuke hamaare bren ke andar niyokorteks samay mila hue nyoo kotej se aisa desh hai jo ki bren ka aage ka hissa hota hai isaka kaam hota hai ki yah andar mein kitane bhee imphormeshan ko alag alag taip ke imphormeshan ko ikattha karake unhen naya bana sakata hai aur isake hisaab se ham dekhate hain ki itanee saaree cheejen duniya mein ban rahee hai abhee aap dekhate ho ki ham teknolojikal sar dekhie kaun se leval par ja chuka hai jo 10 saal pahale tha aajakal ke andar bahut jyaada hee ho chuka hai priyanka hee to kamaal hai har ek aadamee ke lie gold maining isaka agar aap sahee tareeke se yooj karoge to yah aapako kahaan se kahaan pahunch aaega agar is tarah sahee tareeke se istemaal nahin hua to yah aapaka gem phree kaam karen

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
कभी-कभी बेवजह बुरा क्यों लगता है?Kabhi Kabhi Bevajah Bura Kyo Lagta Hai
Deven  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deven जी का जवाब
Valuepreneur Adventurer Life Explorer Dreamer
2:52
कभी-कभी बेबे जो बुरा क्यों लगता है हमारे मस्तिष्क के अंदर में जो भी हमारा मन है उसकी करैक्टेरिस्टिक चमन थी कि वह बार-बार चंचलता से यहां वहां घूमते रहता है ब्रेन के अंदर में कई सारे थोड़ा हमारे लाइफ टाइम है हम लोगों ने ऐप जोड़कर के अंदर रखे हुए ब्रेन के अंदर में हम लोग लेते हैं ब्रेन में सबकॉन्शियस में जाकर वापस छुप जाते हैं हमें पता नहीं रहता है कि वहां पर अब ऐसे ही जब हम लोग खाली बैठे होते हैं तो विचारों की पहल शुरू हो जाती है ट्रेन के अंदर में कितने अनगिनत दिनांक से सोते हैं 3 हफ्ते पहले कनेक्शन शब्द न्यूरॉन की अलग अलग टाइप के मेमोरी के लिए बने हुए तो यह आपका मन कहां से कौन सी चीज कहां पर क्यों कनेक्ट कर देगा उसका कोई रीज़न नहीं है अगर आप एक मालिका देख रहे हो या कोई सीरीज देख रहे हो उसके अंदर में कोई रिंकू इवेंट है आपका ब्रेन उसी गेट खुले हुए खुद की लाइफ जोड़ लेगा औरतों को बुरा लगना शुरू हो जाएगा अभी फ्रेश फील होगा इस तरीके से कई बार ऐसा होता है कि ऐसे पॉइंट को अपना मन में अब रेल कनेक्ट कर देता है जिसके अंदर हमें अच्छा नहीं लगता है तो जभी भी ऐसी फीलिंग है तो इतना समझ लेना कि टेंपरेरी हो रिमाइंडर सेट कर तो ऐसा फीलिंग आती है तो रोक देना खुद को और खुद को तुरंत एक इंफॉर्मेशन दे देंगे अपने ब्रेन को की टो ब्रेन के ऊपर हाथ लगती है उसको स्टॉक की ऐसी चीज है जब चल रही होती लॉजिक चल रहे होते तो आपका लेफ्ट ब्रेन एक्टिव होता है लेफ्ट ब्रेन के ऊपर हाथ रख कर बोलो टॉप एंड थिंकिंग गुड बहुत ही तो अपने आप क्या होता है कि यह एक ऐसा बोलने से हमने एक नया थॉट लेकर आए जितने पुराने छोड़ के ट्रेलर को रोका जाएगा तब तक आप मुझे समझ में आना चाहिए कि मुझे बुरा लगता है बिना कार बुरा लग रहा है बिना कारण से जस्ट नाउ जस्ट स्टॉप ब्रेन को स्टार्ट करो आप ऐसा बोलोगे ना तो एक नया छोड़कर ट्रेल आएगा और उस दिल को तोड़ देगा अपने आप ही क्योंकि वह भी तो के लिए एक बुरा लगने वाली ट्रेन उसको कैसे रोकना है उसको रोक देना है और हो सकता है कि कई बार अपने आपको आपको 2 दिन दिन दिन तक बेमतलब के फ्रस्ट्रेटेड और बुरा लगे लगने दो कोई दिक्कत नहीं है ऐसे समय पर वहां से अपने आप को कट करो उसमें बार-बार दिमाग जाएगा लेकिन वही प्रेक्टिस करो कि भाड़ प्यार से निकालना है फिर से अपने को अपनी दिनचर्या में लगाना है फिर से उसने जाएगा फिर से निकालने रखना आप दो-तीन दिन प्रैक्टिस करोगे अपने आप आप उस रेल के निकल जाओ तो यही चीज होती है जो आप को रोकती है डिप्रेशन में जाने से
Kabhee-kabhee bebe jo bura kyon lagata hai hamaare mastishk ke andar mein jo bhee hamaara man hai usakee karaikteristik chaman thee ki vah baar-baar chanchalata se yahaan vahaan ghoomate rahata hai bren ke andar mein kaee saare thoda hamaare laiph taim hai ham logon ne aip jodakar ke andar rakhe hue bren ke andar mein ham log lete hain bren mein sabakonshiyas mein jaakar vaapas chhup jaate hain hamen pata nahin rahata hai ki vahaan par ab aise hee jab ham log khaalee baithe hote hain to vichaaron kee pahal shuroo ho jaatee hai tren ke andar mein kitane anaginat dinaank se sote hain 3 haphte pahale kanekshan shabd nyooron kee alag alag taip ke memoree ke lie bane hue to yah aapaka man kahaan se kaun see cheej kahaan par kyon kanekt kar dega usaka koee reezan nahin hai agar aap ek maalika dekh rahe ho ya koee seereej dekh rahe ho usake andar mein koee rinkoo ivent hai aapaka bren usee get khule hue khud kee laiph jod lega auraton ko bura lagana shuroo ho jaega abhee phresh pheel hoga is tareeke se kaee baar aisa hota hai ki aise point ko apana man mein ab rel kanekt kar deta hai jisake andar hamen achchha nahin lagata hai to jabhee bhee aisee pheeling hai to itana samajh lena ki tempareree ho rimaindar set kar to aisa pheeling aatee hai to rok dena khud ko aur khud ko turant ek imphormeshan de denge apane bren ko kee to bren ke oopar haath lagatee hai usako stok kee aisee cheej hai jab chal rahee hotee lojik chal rahe hote to aapaka lepht bren ektiv hota hai lepht bren ke oopar haath rakh kar bolo top end thinking gud bahut hee to apane aap kya hota hai ki yah ek aisa bolane se hamane ek naya thot lekar aae jitane puraane chhod ke trelar ko roka jaega tab tak aap mujhe samajh mein aana chaahie ki mujhe bura lagata hai bina kaar bura lag raha hai bina kaaran se jast nau jast stop bren ko staart karo aap aisa bologe na to ek naya chhodakar trel aaega aur us dil ko tod dega apane aap hee kyonki vah bhee to ke lie ek bura lagane vaalee tren usako kaise rokana hai usako rok dena hai aur ho sakata hai ki kaee baar apane aapako aapako 2 din din din tak bematalab ke phrastreted aur bura lage lagane do koee dikkat nahin hai aise samay par vahaan se apane aap ko kat karo usamen baar-baar dimaag jaega lekin vahee prektis karo ki bhaad pyaar se nikaalana hai phir se apane ko apanee dinacharya mein lagaana hai phir se usane jaega phir se nikaalane rakhana aap do-teen din praiktis karoge apane aap aap us rel ke nikal jao to yahee cheej hotee hai jo aap ko rokatee hai dipreshan mein jaane se

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
मनुष्य की एकाग्रता का मूल आधार किसे माना जाना चाहिए?Manushya Ki Ekagrata Ka Mool Aadhar Kise Mana Jana Chahiye
Deven  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deven जी का जवाब
Valuepreneur Adventurer Life Explorer Dreamer
4:38
मनुष्य की एकाग्रता का मूल आधार किसे माना जाना चाहिए एकाग्रता खो कर हम किसी चीज पर अगर फोकस करते हैं तो किस चीज को फोकस करते हैं अगर हम किसी चीज में काम कर रहे हैं अगर मैं अभी आपसे बात कर रहा हूं इस फोन पर में आंसर दे रहा हूं इसका मतलब यह है कि मेरा पूरा ध्यान इस सवाल के जवाब को देने में लगा हुआ है तो जो मेरा ध्यान या लगा हुआ है इसका मतलब मेरा प्रिय वहां काम कर रहा है मेरा ब्रेन बाकी चीजों के बारे में नहीं सोच रहे हो खाली है सोच रहे हैं कि इस जवाब का मैं पूरे दिन ज्यादा से ज्यादा अच्छे तरीके से जवाब में कैसे बेस्ट कैंसर में कल से देखो तो यहां मेरा बरेली स्थित है और यह ब्रेन कंसिस्टेंटली एक ही जगह पर कोशिश कर रहा है कि पूरे नॉलेज को इकट्ठा करके मैं आपको एक समाधान कारक आंसर देता हूं ऐसा ही हर काम में हो जब आप गाड़ी चला रहे हो या फिर आप कोई भी काम कर रहे हो तो वह होते आपके ब्रेन की पूरी शक्तियां एक जगह पर आकर वहां पर पूरा उसी बारे में सोचना शुरु कर देती है इसे बोलते हैं और अगर यह फोकस नहीं है आपके पास में तो अब एक विरुद्ध कैरेक्टर शिक्षा अपने मन की वह है चंचल तुमने हमारा मन एक जगह से दूसरे जगह पलक झपकते ही भटक जाता है और यह कैरेक्टरिस्टिक चाहिए ऐसा नहीं है किसी बाप के साथ हो रहा है या खुशी लोगों के साथ हो रही सब के साथ होता है लेकिन हमारा प्रयास जो होता है वह होता है इसको एक जगह फोकस करना वह कैसे करते हैं इसके लिए सिंपल सी बात है कि हम लो अगर किसी काम को कर रहे हो तो हमारा मन भटक जाता है उसको सिंपली वहां से उठाकर फिर से हा लेकर आना है फिर से काम करते रहना है फिर से बीच में आपको पता चलेगा कि यह भटक गया फिर से लेकर आना है फिर से चला पता चलेगा यह भटक या फिर से एक जगह पर लेकर आना है यह आदत हमें कंटिन्यू लगानी पड़ती है विदाउट इनिकवर्ल्ड विदाउट इनविटेशन और प्यार से तो क्या होता है कि जब आप उस काम को कर रहे हो आपका मस्तिष्क वहां पर आपका ब्रेन कॉन्शसनेस पूरा उस काम के आसपास इर्द-गिर्द लगा हुआ है आप काम करते जा रहे हो करते जा रहे हो भटक गया भटक गया आपने फिर से वहां पर लाया फिर से आपका मैं आपका कौन से स्थान पर है फिर से भटक गया पिलाया तो ऐसे करते करते हमारे ब्रेन को यह आदत पड़ जाती है कि किसी काम को करते समय वह खाली फोकस करें वहीं पर रहे भटके नहीं और यह हैबिट फॉरमेशन का पार्ट है हम जब मेडिटेशन करते हैं तो हम यही कोशिश करते हैं कि किसी न किसी तरीके से हम एक व्हाट्सएप टेक्स्ट किस तरीके से कौन सन सेट करें कोई हमें दिक्कत कर रहा है तो उसकी आवाज सुनकर उसके ऊपर किस तरीके से कौन सेट करें स्टेशन एक पाठ है उसको एक आदत दिलाने के लिए उस पर एक शिक्षा देने के लिए ब्रेन को लेकिन सिर्फ मेडिटेशन से कुछ नहीं होगा क्योंकि मेडिटेशन आफ थे ब्रेन को शांत जरूर करेगा लेकिन मेडिटेशन 10 मिनट करोगे आप 20 मिनट करोगे एक घंटा करोगे लेकिन बाकी के टाइम क्या करोगे आप तो लाइफ के अंदर में यह कोशिश करनी है कि जो भी मैं काम करूंगा उस काम के अंदर में मैं फोन करूंगा जीवन में पेड़ क्यों ना बना रहा हूं और जब हम फोकस कर दे किसी चीज को तो हर बार हम लोग थोड़ा सा जॉइपुल ने तो उसमें लेकर आया कि मैं मैंने फॉर एग्जांपल हैंडराइटिंग समय कुछ लिखता हूं एक पेज आज मैंने इस तरह की हर रेट निकाल कर देखिए कल कुछ और और नए टाइप के हंड्रेड निकाल कर देखी मैंने लिखते समय नहीं तुमको जब हम हमारे काम में लेकर आते हमेशा तो ब्रेन को काफी से जो पसंद आती है और वहीं पर टिका हुआ होता है तो यह मुख्य आधार होता है फोकस करने का और जैसे इस फोकस को आप बार-बार बार-बार जगह पर लाने की कोशिश करते हो तो आप को ध्यान में आएगा कि जिस काम को शुरू में आप दो घंटा 3 घंटा 4 घंटा में खत्म कर रहे थे या कुछ दिनों में खत्म कर रहे थे यह फोकस बढ़ते बढ़ते बढ़ते सेम का 1 घंटे 10 घंटे में खत्म होने लग रहा है इससे क्या पड़ता है विल पावर क्योंकि एक प्रोजेक्ट हाथ में लिया प्रोजेक्ट कंप्लीट हुआ तो उससे एक शक्ति बढ़ती है जिस व्यक्ति को बिल पर बोला जाते हैं विल पावर लिफ्टिंग एंड मसल्स ऑफ योर ब्रेन ओ मां सरस्वती आपके ब्रेन की क्योंकि सब के पास बहुत अच्छा दिमाग है सब के पास बहुत अच्छी बॉडी है सब कुछ है बस प्रॉब्लम यह है कि यह मसल्स कमजोर होती बिल्कुल करना सीख ले चांदी बॉडी रखे अच्छे विचार अच्छे लोगों के साथ उसके लिए कोई भी चीज़ नामुमकिन नहीं
Manushy kee ekaagrata ka mool aadhaar kise maana jaana chaahie ekaagrata kho kar ham kisee cheej par agar phokas karate hain to kis cheej ko phokas karate hain agar ham kisee cheej mein kaam kar rahe hain agar main abhee aapase baat kar raha hoon is phon par mein aansar de raha hoon isaka matalab yah hai ki mera poora dhyaan is savaal ke javaab ko dene mein laga hua hai to jo mera dhyaan ya laga hua hai isaka matalab mera priy vahaan kaam kar raha hai mera bren baakee cheejon ke baare mein nahin soch rahe ho khaalee hai soch rahe hain ki is javaab ka main poore din jyaada se jyaada achchhe tareeke se javaab mein kaise best kainsar mein kal se dekho to yahaan mera barelee sthit hai aur yah bren kansistentalee ek hee jagah par koshish kar raha hai ki poore nolej ko ikattha karake main aapako ek samaadhaan kaarak aansar deta hoon aisa hee har kaam mein ho jab aap gaadee chala rahe ho ya phir aap koee bhee kaam kar rahe ho to vah hote aapake bren kee pooree shaktiyaan ek jagah par aakar vahaan par poora usee baare mein sochana shuru kar detee hai ise bolate hain aur agar yah phokas nahin hai aapake paas mein to ab ek viruddh kairektar shiksha apane man kee vah hai chanchal tumane hamaara man ek jagah se doosare jagah palak jhapakate hee bhatak jaata hai aur yah kairektaristik chaahie aisa nahin hai kisee baap ke saath ho raha hai ya khushee logon ke saath ho rahee sab ke saath hota hai lekin hamaara prayaas jo hota hai vah hota hai isako ek jagah phokas karana vah kaise karate hain isake lie simpal see baat hai ki ham lo agar kisee kaam ko kar rahe ho to hamaara man bhatak jaata hai usako simpalee vahaan se uthaakar phir se ha lekar aana hai phir se kaam karate rahana hai phir se beech mein aapako pata chalega ki yah bhatak gaya phir se lekar aana hai phir se chala pata chalega yah bhatak ya phir se ek jagah par lekar aana hai yah aadat hamen kantinyoo lagaanee padatee hai vidaut inikavarld vidaut inaviteshan aur pyaar se to kya hota hai ki jab aap us kaam ko kar rahe ho aapaka mastishk vahaan par aapaka bren konshasanes poora us kaam ke aasapaas ird-gird laga hua hai aap kaam karate ja rahe ho karate ja rahe ho bhatak gaya bhatak gaya aapane phir se vahaan par laaya phir se aapaka main aapaka kaun se sthaan par hai phir se bhatak gaya pilaaya to aise karate karate hamaare bren ko yah aadat pad jaatee hai ki kisee kaam ko karate samay vah khaalee phokas karen vaheen par rahe bhatake nahin aur yah haibit phorameshan ka paart hai ham jab mediteshan karate hain to ham yahee koshish karate hain ki kisee na kisee tareeke se ham ek vhaatsep tekst kis tareeke se kaun san set karen koee hamen dikkat kar raha hai to usakee aavaaj sunakar usake oopar kis tareeke se kaun set karen steshan ek paath hai usako ek aadat dilaane ke lie us par ek shiksha dene ke lie bren ko lekin sirph mediteshan se kuchh nahin hoga kyonki mediteshan aaph the bren ko shaant jaroor karega lekin mediteshan 10 minat karoge aap 20 minat karoge ek ghanta karoge lekin baakee ke taim kya karoge aap to laiph ke andar mein yah koshish karanee hai ki jo bhee main kaam karoonga us kaam ke andar mein main phon karoonga jeevan mein ped kyon na bana raha hoon aur jab ham phokas kar de kisee cheej ko to har baar ham log thoda sa joipul ne to usamen lekar aaya ki main mainne phor egjaampal haindaraiting samay kuchh likhata hoon ek pej aaj mainne is tarah kee har ret nikaal kar dekhie kal kuchh aur aur nae taip ke handred nikaal kar dekhee mainne likhate samay nahin tumako jab ham hamaare kaam mein lekar aate hamesha to bren ko kaaphee se jo pasand aatee hai aur vaheen par tika hua hota hai to yah mukhy aadhaar hota hai phokas karane ka aur jaise is phokas ko aap baar-baar baar-baar jagah par laane kee koshish karate ho to aap ko dhyaan mein aaega ki jis kaam ko shuroo mein aap do ghanta 3 ghanta 4 ghanta mein khatm kar rahe the ya kuchh dinon mein khatm kar rahe the yah phokas badhate badhate badhate sem ka 1 ghante 10 ghante mein khatm hone lag raha hai isase kya padata hai vil paavar kyonki ek projekt haath mein liya projekt kampleet hua to usase ek shakti badhatee hai jis vyakti ko bil par bola jaate hain vil paavar liphting end masals oph yor bren o maan sarasvatee aapake bren kee kyonki sab ke paas bahut achchha dimaag hai sab ke paas bahut achchhee bodee hai sab kuchh hai bas problam yah hai ki yah masals kamajor hotee bilkul karana seekh le chaandee bodee rakhe achchhe vichaar achchhe logon ke saath usake lie koee bhee cheez naamumakin nahin

#धर्म और ज्योतिषी

Deven  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deven जी का जवाब
Valuepreneur Adventurer Life Explorer Dreamer
4:32
क्या आप इस कथन के पक्ष में और विपक्ष में तर्क दे सकते हैं कि हम अपने आने वाले कल के चक्कर में अपने वर्तमान को खो देते हैं जी बिल्कुल अपने आने वाले कल के चक्कर में वर्तमान को खो देना इसका मतलब क्या है इसका मतलब यह है कि हम लोग हमारे ड्रिंक के हमारे सपनों की दुनिया में तैरते रहते हैं कि जिसके लिए प्रयास कभी नहीं किया जाता है सिर्फ सपने देखे जाते हैं तो आज अगर मैं सपना देख रहा हूं तो मैं वर्तमान में फ्यूचर का सपना देख रहा हूं जो कि स्वाभाविक है क्योंकि वह हमारे ब्रेन का लक्षण है करैक्टेरिस्टिक से हमारे मन की करैक्टेरिस्टिक्स है कि हम लोग एक हॉट फुल दुनिया में हमेशा चले जाते हो अपने आप ही चले जाते हो हम लोग कुछ भी थोड़ी ट्रेन में हमेशा रहते तो वर्तमान में रहकर अगर ऐसे टोटके परेल में अपन होते हैं तो हमारे वर्तमान का समय व्यतीत होता है तो इसको बोलते हैं वर्तमान में निकल के चक्कर में आज बर्बाद कर अरे हम टाइम बर्बाद कर रहे हैं और कल जो चीज देख रहे हैं उसके ऊपर कोई प्रयास नहीं किया जा रहा है अभी हो गया इसके पक्ष में अब इसका पक्ष में मैं बताता हूं इसी चीज को अगर ध्यान में लेते हैं कि मुझे फ्यूचर में क्या करना है अगर मुझे अगर मैं इसको स्ट्रक्चर देता हूं मेरे थिंकिंग को क्योंकि देखो सोचकर बिना तो फ्यूचर में कुछ नहीं होगा अगर मैं सोचता हूं कि आज सुबह उठो और मैं आज आज का अपना खाना बनाने के लिए मुझे जितनी सामग्री चाहिए उसके लिए मैं काम करूं आज पूरा खरीद कर लेकर आओ आज खाना बनाओ फिर से कल सुबह उठ हुई कोई भी एनिमल किसी भी चीज को स्टोर नहीं करता है उनको जब भूख लगती है तब शिकार करते हैं या फिर अपनी मतलब जीते थे उनके लाइफ में काफी लिमिटेड गोल्फ होते हैं उनके लाइफ में उनको कोई एंबीशंस नहीं होते उनको खाली हमारे दिन तो तुम उनकी जिंदगी एक अच्छे से प्रोटेक्टेड तरीके से भरपेट खाना खाकर अपने प्रोजेनी को आगे ले जा कर विनती है कि मैं बात करूं तो इंसान में क्या होता है कि इंसान को दिमाग जो मिला है इससे यह उसका ही मुख्य प्रमाण है कि तू इंसान के पास ही इतना दिमाग और बाकी लोगों के पास नहीं है उसका कारण है कि इंसान को या किसी ना किसी कार्य के लिए भेजा गया है और इंसान जो चाहे वह कर सकता है अनलिमिटेड पावर इंसान के पास में उसके सोचने की शक्ति मिलती करने की शक्ति में इतनी हिंसा ने एक डोमिनोस पिज़्ज़ा पृथ्वी के ऊपर में तो हम लोग अगर किसी भी चीज का प्लान करते अभी देखो कि पूरी दुनिया में कितनी सारी चीजें बन रही है रोड बन रहा है या फिर से मेट्रो बन रही है तो कहीं पर बहुत हाईटेक लॉजिकली कॉल कीजिए बन रही है प्लीज ओके तो आज सोचा जा रहा है प्लान किया जा रहा है अगर आप ऐसा कुछ कर रहे हो तो आज जब ऐसा कुछ सोच रहे हो उसके लिए एक रोडमैप बना रहे हो और उस रोड मैप के फिर ऊपर चलने का या प्रतिबद्ध बनाते हो खुद को और कमिटमेंट करते हो तब तो फिर आज के चने कल के चक्कर में आज बर्बाद नहीं आज आपने प्लान किया प्राण को अपने सामने रखा इस प्लान के थ्रू अपने एक रास्ता बनाया जिससे आपके गोल को अचीवमेंट हो सकता है उसे आपको पता चला कि अगले 1 साल में मुझे क्या करना है अगले 1 साल में क्या करना उससे आपको यह पता चला कि मैं 6 महीने में क्या करूंगा फिर 6 महीने में मैं क्या करूंगा आपको पता चला कि मुझे 3 महीने में क्या करना पड़ेगा कि 3 महीने में मैं क्या करूंगा उससे मुझे पता चलेगा कि मुझे हफ्ते में एक दिन मुझे महीने में क्या करना पड़ेगा फिर हफ्ते में क्या करना पड़ेगा तब जाके मैं हफ्ता बाय हफ्ता हफ्ता हफ्ता 1 महीना 3 महीना 6 महीना 1 साल का समय व्यतीत कर लूंगा और यह चीजें अपने गोल के मुताबिक करूंगा और मैं फ्यूचर में यह पा लूंगा और ऐसा ही होता है ऐसा ही होता है इसके लिए काफी चीजें होती है कि जो हम लोग जुड़ा कर लाते हैं जिसमें एक सोच होती है आप का प्रॉपर उस तरीके से कंसिस्टेंसी कैसे रखनी है तो वही काम कैसे करने कंटीन्यूअसली अगर अपन इस तरीके से अगर अपन कर रहे हैं तो यह चीजें हो गई क्या आपने हमारा आज हमने सही टाइम पर निकल अच्छा बनाने के लिए आज अपनी बेटी थी क्या आज बर्बाद नहीं किया अगर यह कनेक्शन नहीं हो पाता है कि कल के बारे में सोच रहे हो आज लेकिन आज से कल तक जाने का रास्ता कहां है रास्ता ही नहीं है सिर्फ सोचते ही रह रहे हो और उस सोच में खुश हो जा रहे हो और उसी सोच के अंदर में डूबे पड़े हो तो इसका मतलब है आपका आज तो बर्बाद हो गया और कल अपने फिर से बर्बाद करना है क्योंकि आप का तो रास्ता ही नहीं है पोस्ट
Kya aap is kathan ke paksh mein aur vipaksh mein tark de sakate hain ki ham apane aane vaale kal ke chakkar mein apane vartamaan ko kho dete hain jee bilkul apane aane vaale kal ke chakkar mein vartamaan ko kho dena isaka matalab kya hai isaka matalab yah hai ki ham log hamaare drink ke hamaare sapanon kee duniya mein tairate rahate hain ki jisake lie prayaas kabhee nahin kiya jaata hai sirph sapane dekhe jaate hain to aaj agar main sapana dekh raha hoon to main vartamaan mein phyoochar ka sapana dekh raha hoon jo ki svaabhaavik hai kyonki vah hamaare bren ka lakshan hai karaikteristik se hamaare man kee karaikteristiks hai ki ham log ek hot phul duniya mein hamesha chale jaate ho apane aap hee chale jaate ho ham log kuchh bhee thodee tren mein hamesha rahate to vartamaan mein rahakar agar aise totake parel mein apan hote hain to hamaare vartamaan ka samay vyateet hota hai to isako bolate hain vartamaan mein nikal ke chakkar mein aaj barbaad kar are ham taim barbaad kar rahe hain aur kal jo cheej dekh rahe hain usake oopar koee prayaas nahin kiya ja raha hai abhee ho gaya isake paksh mein ab isaka paksh mein main bataata hoon isee cheej ko agar dhyaan mein lete hain ki mujhe phyoochar mein kya karana hai agar mujhe agar main isako strakchar deta hoon mere thinking ko kyonki dekho sochakar bina to phyoochar mein kuchh nahin hoga agar main sochata hoon ki aaj subah utho aur main aaj aaj ka apana khaana banaane ke lie mujhe jitanee saamagree chaahie usake lie main kaam karoon aaj poora khareed kar lekar aao aaj khaana banao phir se kal subah uth huee koee bhee enimal kisee bhee cheej ko stor nahin karata hai unako jab bhookh lagatee hai tab shikaar karate hain ya phir apanee matalab jeete the unake laiph mein kaaphee limited golph hote hain unake laiph mein unako koee embeeshans nahin hote unako khaalee hamaare din to tum unakee jindagee ek achchhe se protekted tareeke se bharapet khaana khaakar apane projenee ko aage le ja kar vinatee hai ki main baat karoon to insaan mein kya hota hai ki insaan ko dimaag jo mila hai isase yah usaka hee mukhy pramaan hai ki too insaan ke paas hee itana dimaag aur baakee logon ke paas nahin hai usaka kaaran hai ki insaan ko ya kisee na kisee kaary ke lie bheja gaya hai aur insaan jo chaahe vah kar sakata hai analimited paavar insaan ke paas mein usake sochane kee shakti milatee karane kee shakti mein itanee hinsa ne ek dominos pizza prthvee ke oopar mein to ham log agar kisee bhee cheej ka plaan karate abhee dekho ki pooree duniya mein kitanee saaree cheejen ban rahee hai rod ban raha hai ya phir se metro ban rahee hai to kaheen par bahut haeetek lojikalee kol keejie ban rahee hai pleej oke to aaj socha ja raha hai plaan kiya ja raha hai agar aap aisa kuchh kar rahe ho to aaj jab aisa kuchh soch rahe ho usake lie ek rodamaip bana rahe ho aur us rod maip ke phir oopar chalane ka ya pratibaddh banaate ho khud ko aur kamitament karate ho tab to phir aaj ke chane kal ke chakkar mein aaj barbaad nahin aaj aapane plaan kiya praan ko apane saamane rakha is plaan ke throo apane ek raasta banaaya jisase aapake gol ko acheevament ho sakata hai use aapako pata chala ki agale 1 saal mein mujhe kya karana hai agale 1 saal mein kya karana usase aapako yah pata chala ki main 6 maheene mein kya karoonga phir 6 maheene mein main kya karoonga aapako pata chala ki mujhe 3 maheene mein kya karana padega ki 3 maheene mein main kya karoonga usase mujhe pata chalega ki mujhe haphte mein ek din mujhe maheene mein kya karana padega phir haphte mein kya karana padega tab jaake main haphta baay haphta haphta haphta 1 maheena 3 maheena 6 maheena 1 saal ka samay vyateet kar loonga aur yah cheejen apane gol ke mutaabik karoonga aur main phyoochar mein yah pa loonga aur aisa hee hota hai aisa hee hota hai isake lie kaaphee cheejen hotee hai ki jo ham log juda kar laate hain jisamen ek soch hotee hai aap ka propar us tareeke se kansistensee kaise rakhanee hai to vahee kaam kaise karane kanteenyooasalee agar apan is tareeke se agar apan kar rahe hain to yah cheejen ho gaee kya aapane hamaara aaj hamane sahee taim par nikal achchha banaane ke lie aaj apanee betee thee kya aaj barbaad nahin kiya agar yah kanekshan nahin ho paata hai ki kal ke baare mein soch rahe ho aaj lekin aaj se kal tak jaane ka raasta kahaan hai raasta hee nahin hai sirph sochate hee rah rahe ho aur us soch mein khush ho ja rahe ho aur usee soch ke andar mein doobe pade ho to isaka matalab hai aapaka aaj to barbaad ho gaya aur kal apane phir se barbaad karana hai kyonki aap ka to raasta hee nahin hai post

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
माइटोकांड्रिया का मुख्य कार्य क्या है?Mitochondria Ka Mukhya Karye Kya Hai
Deven  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deven जी का जवाब
Valuepreneur Adventurer Life Explorer Dreamer
1:53
माइटोकांड्रिया का मुख्य कार्य क्या है माइटोकॉन्ड्रिया को नेचुरल पावर हाउस बोला जाता है यह तेल का पैर होते जैसे ही जैसे एक तेल होती है हर एक पल को जीवित रहने के लिए एनर्जी की जरूरत हम जो भी चीज खाते हैं तो उसका वजन होकर उसमें से ग्लूकोस जो है ब्लड के थ्रू हर तेल के पास पहुंचता है बस सेल्स का जो आउटरिंग कवर होता है उनका जो आउटर रिंग ले होती है सिर्फ किस खेल में मरे तो सेल मेंब्रेन के अंदर में गेट होते हुए इसमें से यह ग्लूकोज और ऐसे ही पौष्टिक विटामिन इन सब चीजों का एपिसोड किया जाता है चेंज करना लेकिन अपने आप में यह एनर्जी दायक नहीं होते इनका कन्फ्यूजन हमें एनर्जी में कन्वर्ट करना पड़ता है तो जब इसका कन्वर्जन एनर्जी में होता है तो एनर्जी को बोलते हैं एटीपी एडिनोसिन त्रिफास्फेट जिसके अंदर में इलेक्ट्रॉन के फॉर्म में एनर्जी स्टोर्ड होती है जब भी हम कोई काम करते हैं तो केटीपी खर्च होता है हमारा तो यह डीपी का जो मनी फैक्ट्री माइटोकॉन्ड्रिया के अंदर चलता है माइटोकॉन्ड्रिया अपने आप में एक अगर मैं तो कौन से भी अपने आप में एक बहुत कॉन्प्लेक्स है जिसके अंदर में यह साइकिल बनी हुई है जो केमिकल साइकिल रिक्वायरमेंट होती है एक रेप यह सब साइकिल माइटोकॉन्ड्रिया के अंदर में चलती है जिसमें आप वहां पर आपकी बॉडी आपकी सेल 11 सेल्यूलर लेवल पर यदि पिच को बनाती है और उस सेल्स को ऊर्जा देती है तो हमें ऐसी हमें भी अगर बिलियन सेल से तोहर सेल के अंदर यह माइटोकॉन्ड्रिया होती है जो कि एनर्जी क्रिएट कर रही होती है मुख्य कारण कार्य है माइटोकॉन्ड्रिया का चैनल सीक्रेट करना लिविंग बिंग
Maitokaandriya ka mukhy kaary kya hai maitokondriya ko nechural paavar haus bola jaata hai yah tel ka pair hote jaise hee jaise ek tel hotee hai har ek pal ko jeevit rahane ke lie enarjee kee jaroorat ham jo bhee cheej khaate hain to usaka vajan hokar usamen se glookos jo hai blad ke throo har tel ke paas pahunchata hai bas sels ka jo aautaring kavar hota hai unaka jo aautar ring le hotee hai sirph kis khel mein mare to sel membren ke andar mein get hote hue isamen se yah glookoj aur aise hee paushtik vitaamin in sab cheejon ka episod kiya jaata hai chenj karana lekin apane aap mein yah enarjee daayak nahin hote inaka kanphyoojan hamen enarjee mein kanvart karana padata hai to jab isaka kanvarjan enarjee mein hota hai to enarjee ko bolate hain eteepee edinosin triphaasphet jisake andar mein ilektron ke phorm mein enarjee stord hotee hai jab bhee ham koee kaam karate hain to keteepee kharch hota hai hamaara to yah deepee ka jo manee phaiktree maitokondriya ke andar chalata hai maitokondriya apane aap mein ek agar main to kaun se bhee apane aap mein ek bahut konpleks hai jisake andar mein yah saikil banee huee hai jo kemikal saikil rikvaayarament hotee hai ek rep yah sab saikil maitokondriya ke andar mein chalatee hai jisamen aap vahaan par aapakee bodee aapakee sel 11 selyoolar leval par yadi pich ko banaatee hai aur us sels ko oorja detee hai to hamen aisee hamen bhee agar biliyan sel se tohar sel ke andar yah maitokondriya hotee hai jo ki enarjee kriet kar rahee hotee hai mukhy kaaran kaary hai maitokondriya ka chainal seekret karana living bing

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
स्वयं को लंबे समय तक जवान और फिट रखने के लिए क्या करना चाहिए?Swyam Ko Lambe Samay Tak Javaan Aur Fit Rakhne Ke Liye Kya Karna Chaahiye
Deven  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deven जी का जवाब
Valuepreneur Adventurer Life Explorer Dreamer
4:35

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
स्वास्थ्य दिनचर्या के कुछ गोल्डन रूल्स क्या है?Swasthya Dincharya Ke Kuch Golden Rules Kya Hai
Deven  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deven जी का जवाब
Valuepreneur Adventurer Life Explorer Dreamer
2:35
स्वास्थ दिनचर्या के कुछ गोल्डन दूरी क्या है बहुत सारे नियम है लेकिन बहुत ही पौष्टिक नियम में बताता हूं बस उसको फॉलो करते रहिए सबसे पहला है सोना का हिंदी होनी चाहिए 6 छात्रों की संख्या कितनी होनी चाहिए जिसके अंदर में डीप डीप स्लीप जो होती है घर ही नहीं वह भी 3834 घंटे की होनी चाहिए आपको सुबह जल्दी होती है आप सुबह जल्दी उठना आपकी सोच कर पाते हो ही प्रकृति की फ्रीक्वेंसी के साथ ऑफिस रन से मैच बोले थे ना कि आपके लाइफ के पोस्ट पर कोई भी एनिमल को देखिए कभी भी सूरज गुप्ता समय सोया हुआ नहीं मिलेगा फिर बाद आपको मेडिटेशन का एक हाइब्रिड लगा देना मेडिटेशन किसी भी चलूंगा एंपलीफायर करती है विदेशों से अपने फ्रेंड की अपेक्षा तथा कर्मचारियों का क्या 1st लेवल और कौन सरपंच जीता रहे हो गलतियां कम कर आता है तो कई सारे फायदे हैं लेकिन मैं एक छोटा सा मैदा बता रहा हूं कि आप एक ही मोबाइल के साथ अपने आप ही बन जाएंगे फिर उसके बाद से कि आप को एकदम मिनिमम पैदल चलने से कुछ और सुबह का नाश्ता सुबह का नाश्ता पेट भर के और अच्छा लिख ले यह चीज सुबह जब आप लोग आप हमें हम हमारे बॉडी को लोड करते हैं बहुत अच्छे नाश्ते के साथ में तो उनके घर जी हमारे पास अवेलेबल होती है दिन भर काम करने के लिए तो यह खुद इंपॉर्टेंट इतना कुछ दिखाइए इंडियन पधार करने पड़ते हैं उस पर कॉल कीजिए फाइबर्स पर कॉल कीजिए गोल्डन रूल्स है इसको ऑफ सिंपल है लेकिन करना उसने कठिन नहीं तो इस बार आजमाए इसका करके हमें आप जैसे मेरे पास को भेजूं किसे और स्कूल करके देखिए अब करके देखना आपको कम से कम से इसे साथ में ऐसा नहीं कि 3 महीने करोगे बाद में बंद कर दोगे नहीं आपको उतार-चढ़ाव कुछ भी है लाइफ में सिर्फ अपने करके देखिए और फिर आप मुझे बताइए क्या-क्या जितने भी फेक मिलाते लाइफ के अंदर क्या प्रोडक्टिविटी बड़ी है पॉजिटिविटी पड़ी है क्या पहले तुम क्यों करते हो और बहुत सारी चीजें कर पैसा कमाना खरियार उड़ीसा बहुत अच्छे करो
Svaasth dinacharya ke kuchh goldan dooree kya hai bahut saare niyam hai lekin bahut hee paushtik niyam mein bataata hoon bas usako pholo karate rahie sabase pahala hai sona ka hindee honee chaahie 6 chhaatron kee sankhya kitanee honee chaahie jisake andar mein deep deep sleep jo hotee hai ghar hee nahin vah bhee 3834 ghante kee honee chaahie aapako subah jaldee hotee hai aap subah jaldee uthana aapakee soch kar paate ho hee prakrti kee phreekvensee ke saath ophis ran se maich bole the na ki aapake laiph ke post par koee bhee enimal ko dekhie kabhee bhee sooraj gupta samay soya hua nahin milega phir baad aapako mediteshan ka ek haibrid laga dena mediteshan kisee bhee chaloonga empaleephaayar karatee hai videshon se apane phrend kee apeksha tatha karmachaariyon ka kya 1st leval aur kaun sarapanch jeeta rahe ho galatiyaan kam kar aata hai to kaee saare phaayade hain lekin main ek chhota sa maida bata raha hoon ki aap ek hee mobail ke saath apane aap hee ban jaenge phir usake baad se ki aap ko ekadam minimam paidal chalane se kuchh aur subah ka naashta subah ka naashta pet bhar ke aur achchha likh le yah cheej subah jab aap log aap hamen ham hamaare bodee ko lod karate hain bahut achchhe naashte ke saath mein to unake ghar jee hamaare paas avelebal hotee hai din bhar kaam karane ke lie to yah khud importent itana kuchh dikhaie indiyan padhaar karane padate hain us par kol keejie phaibars par kol keejie goldan rools hai isako oph simpal hai lekin karana usane kathin nahin to is baar aajamae isaka karake hamen aap jaise mere paas ko bhejoon kise aur skool karake dekhie ab karake dekhana aapako kam se kam se ise saath mein aisa nahin ki 3 maheene karoge baad mein band kar doge nahin aapako utaar-chadhaav kuchh bhee hai laiph mein sirph apane karake dekhie aur phir aap mujhe bataie kya-kya jitane bhee phek milaate laiph ke andar kya prodaktivitee badee hai pojitivitee padee hai kya pahale tum kyon karate ho aur bahut saaree cheejen kar paisa kamaana khariyaar udeesa bahut achchhe karo

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
विज्ञान लोगों को इतना आकर्षित क्यों करती है?Vigyan Logon Ko Itna Aakarshit Kyun Karti Hai
Deven  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deven जी का जवाब
Valuepreneur Adventurer Life Explorer Dreamer
4:18
विज्ञान लोगों को इतना आकर्षित क्यों करता है हर चीज विज्ञान हमारे आसपास हर चीज विद्यालय और हम स्थिति विज्ञान के दायरे में तब लेकर आए थे जब हमें समझ जाती है और हमें नहीं समझते तो हम लोग बोलते हैं कि हम उनके समझने से पहले तो आप इतने इतने सालों से अभी तक देखिए हर चीज वैज्ञानिक खोज निकाली सबसे पहले मैंने यह बोला जाता था कि सूरज हमारे गोल हमारे ऊपर घूमर सूरज पृथ्वी के अराउंड लेकिन जब विज्ञान के वजह से हम पता चला तब पता चला कि सूरज नहीं घूम रहे हमारी दोस्ती घूम रही है सुरेंद्र यादव अपने विज्ञान विज्ञान पुस्तक राशनलाइजेशन होता है या नहीं पता चलता है तो हम लोग हमें पता चल तुम कभी भी हम लोग एक और भाई नहीं बनाते हैं डेकोरेटेड नहीं बनाते हो कि उसको ही होते हैं विज्ञान विज्ञान हंड्रेड परसेंट एक्सप्लेनेशन दिया होता कि यह एक के वजह से यह होता है अभी विज्ञान तो केवल तक पहुंचा हुआ है जहां पर हम आप हमारे डीएनए को जानने लगेंगे डीएनए के गानों की प्ले कर दो से अधिक तो डीएनए डालने के लिए कैसे होते हैं अपने सुमन बिग एनिमल कारपेट हाउस कलर कोडिंग हुई रहती है कि इंसान कैसे रहे हो तक हम लोग जान चुके हैं इस आदमी को अंदर कौन सी बीमारियां में आ सकती है यदि कौन सांसद कौन है जिस आदमी को किस तरीके तक खाना खाना चाहिए पूरी जिंदगी में था क्योंकि मारना पड़े और ना जाने कितने लेवल पर एक आई जा चुका है एनर्जी के लेवल पर 16 सीट दिल के लेबल में हैंडबॉल से जबलपुर तक हम लोग देखेंगे उसके परिसर चल रहा है इस जहां में होगा कि हम खाली हमारे सपने में देखने से जमीन प्राइवेट गार्ड की नौकरी ड्राइवर भी बन चुकी अनु रियालिटी हो चुके जिसके बारे में कई सालों से चल रही है अभी लैब में अनुष्का एक्सिल प्रैक्टिकली लोग उस को चला रहे हैं और ड्राइवर लेकर उसके वजह से उसके अंदर इतनी क्षमता है कि वह खुद लर्निंग करती है में चलते-चलते उसको समझ में आया देखे रोड कैसे है रोड के अंदर कितने बने वह हर एक चीज कैलकुलेट कर सकती है ड्राइवर पैक कर के कितने घंटे है रोड पर क्या क्या प्रॉब्लम है कार के अंदर में क्या-क्या आर्मी इस तरीके के रोड को चलने के लिए किस तरीके के चौक तक चाहिए किस तरीके के टाइगर चाहिए यह सारे की इंफॉर्मेशन उसके अंदर में मोटा और एक तारे से जब इंफॉर्मेशन नोट डाउन करते तो ऐसे अगर 500 1000 कार्ड चलती है तो सभी कार अपना इंफॉर्मेशन पेंटिंग नोट डाउन करते हैं तो तुम तो रोबोट रोबोट रोबोट कार रियल टेस्ट में कितने चेंज करना आपकी कार और अच्छी मिले तो यह विज्ञान की आकर्षित करेंगे विज्ञान सब चीजों का हाल हमारा बॉडी हमारा माइंड हमारे ऊपर हम जिस तरीके से कर लेते हैं हमारी लाइफ तो ऊपर जो हम संभाल लेते हम जो बोलते हैं वह करते हैं उतना पैसा कमाते हैं उतना चीज हम लोग उसका सेटिंग शो करते हो जी बॉडी हर एक चीज के पीछे भी के हर एक चीज के प्रमोशन आप क्या कहते हो कैसे किस तरीके से आपके शमशेर सिंह के साथ कंप्लेंट लेकिन हर एक चीज मूवी के हर एक चीज में बिके
Vigyaan logon ko itana aakarshit kyon karata hai har cheej vigyaan hamaare aasapaas har cheej vidyaalay aur ham sthiti vigyaan ke daayare mein tab lekar aae the jab hamen samajh jaatee hai aur hamen nahin samajhate to ham log bolate hain ki ham unake samajhane se pahale to aap itane itane saalon se abhee tak dekhie har cheej vaigyaanik khoj nikaalee sabase pahale mainne yah bola jaata tha ki sooraj hamaare gol hamaare oopar ghoomar sooraj prthvee ke araund lekin jab vigyaan ke vajah se ham pata chala tab pata chala ki sooraj nahin ghoom rahe hamaaree dostee ghoom rahee hai surendr yaadav apane vigyaan vigyaan pustak raashanalaijeshan hota hai ya nahin pata chalata hai to ham log hamen pata chal tum kabhee bhee ham log ek aur bhaee nahin banaate hain dekoreted nahin banaate ho ki usako hee hote hain vigyaan vigyaan handred parasent eksapleneshan diya hota ki yah ek ke vajah se yah hota hai abhee vigyaan to keval tak pahuncha hua hai jahaan par ham aap hamaare deeene ko jaanane lagenge deeene ke gaanon kee ple kar do se adhik to deeene daalane ke lie kaise hote hain apane suman big enimal kaarapet haus kalar koding huee rahatee hai ki insaan kaise rahe ho tak ham log jaan chuke hain is aadamee ko andar kaun see beemaariyaan mein aa sakatee hai yadi kaun saansad kaun hai jis aadamee ko kis tareeke tak khaana khaana chaahie pooree jindagee mein tha kyonki maarana pade aur na jaane kitane leval par ek aaee ja chuka hai enarjee ke leval par 16 seet dil ke lebal mein haindabol se jabalapur tak ham log dekhenge usake parisar chal raha hai is jahaan mein hoga ki ham khaalee hamaare sapane mein dekhane se jameen praivet gaard kee naukaree draivar bhee ban chukee anu riyaalitee ho chuke jisake baare mein kaee saalon se chal rahee hai abhee laib mein anushka eksil praiktikalee log us ko chala rahe hain aur draivar lekar usake vajah se usake andar itanee kshamata hai ki vah khud larning karatee hai mein chalate-chalate usako samajh mein aaya dekhe rod kaise hai rod ke andar kitane bane vah har ek cheej kailakulet kar sakatee hai draivar paik kar ke kitane ghante hai rod par kya kya problam hai kaar ke andar mein kya-kya aarmee is tareeke ke rod ko chalane ke lie kis tareeke ke chauk tak chaahie kis tareeke ke taigar chaahie yah saare kee imphormeshan usake andar mein mota aur ek taare se jab imphormeshan not daun karate to aise agar 500 1000 kaard chalatee hai to sabhee kaar apana imphormeshan penting not daun karate hain to tum to robot robot robot kaar riyal test mein kitane chenj karana aapakee kaar aur achchhee mile to yah vigyaan kee aakarshit karenge vigyaan sab cheejon ka haal hamaara bodee hamaara maind hamaare oopar ham jis tareeke se kar lete hain hamaaree laiph to oopar jo ham sambhaal lete ham jo bolate hain vah karate hain utana paisa kamaate hain utana cheej ham log usaka seting sho karate ho jee bodee har ek cheej ke peechhe bhee ke har ek cheej ke pramoshan aap kya kahate ho kaise kis tareeke se aapake shamasher sinh ke saath kamplent lekin har ek cheej moovee ke har ek cheej mein bike

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
विकास कभी न समाप्त होने वाली प्रक्रिया है या विचार किससे संबंधित है?Vikaas Kabhee Na Samaapt Hone Vaalee Prakriya Hai Ya Vichaar Kisase Sambandhit Hai
Deven  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deven जी का जवाब
Valuepreneur Adventurer Life Explorer Dreamer
3:56
विकास कभी न समाप्त होने वाली प्रक्रिया है यह विचार किस से संबंधित है यह बात सही है कि विकास कभी नहीं समाप्त होने वाली प्रक्रिया है यह विद रिस्पेक्ट तू सुमन बीन अप्लाइड है यह व्यक्ति तृप्ति अप्लाई डेट विद रिस्पेक्ट हमारे पॉलिटिकल किस दिन खेला फ्लाइट है हमारे टेक्नोलॉजिकल एयरप्लेन है हमारे देश के लिए प्लेन है पूरे वर्ल्ड के लिए अप्लाई दे क्योंकि आप देखोगे एक सिंपल सा एग्जांपल आपको मैं देता हूं कोई भी ऐसी टेक्नोलॉजी आप देख लो जो 10 साल पहले बहुत अच्छी थी और अभी अभी अच्छी नहीं है अभी अब ऐसी कभी टेक्नोलॉजी नहीं है या से एक भी जगह ने हमारे सुमन दिन के आचरण में 14 साल पहले थी और आज वहीं इस संबंध में हर चीज है भीषण बंदरी के चाहे वह मोबाइल खो जाए तो गाड़ी को रेलवे हो या फिर हमारे खुद का एग्जाम खरीद के तरीके हो हर चीज विकास की तरफ जाती है आस पास लिखवा मोड बंद रहे बिल्डिंग बन रही है सरकारी नहीं नीचे से लेकर आती है गूगल में ड्राइवर लेस कार लेकर आए हैं विकास की प्रक्रिया में हमेशा पूरी सोचती होगी और सोचते के हिसाब से मैं देखा बताओ तो कि वह लोकेशन देख विकास की प्रक्रिया है जैसे हम मानव है तो हमें आदिमानव के फोटो में देखे हैं उन्हें क्लिक करते थे उसमें रिकॉर्ड होते होते होते होते कल शाम होते होते हम अभी एक लेवल पर पहुंचे और ना जाने आगे यह प्रक्रिया घंटे में शुरू से जो राज्य स्तरीय मंदिर भारत जय हो युवा ऑल एनिमल्स बाल विकास लिए आवेदन प्रक्रिया है जो शहीद होते रहते हैं इसलिए बोला जाता है कि विकास अधिकारी से राइट कर लो अपने देश का तो छोड़ो लेकिन पर्सनल डेवलपमेंट या पर्सनल विकास के लिए प्रयास करते रहो ताकि आप ही सोचती के परीक्षण के साथ अपने आपको मैं उस से क्या होगा कि आप जीते जी अपने आप अगर इतनी जितने भी साले आज भी रहे उसी के उतनी जीवन के अंदर में आप बहुत फास्ट प्रगति कर लो मैं पैसा कमाने की बात हो जाए मेंटल पीस हो चाहे वह दोस्तों के साथ खेलना कुछ भी लेकिन उसको लाने के लिए कुछ चीजें हैं अलग से क्यों क्या होता है कि हमारे अंदर में जो कि बुरे भी नेगेटिव चीज है यह सब इंपैडीमेंट्स जाति विकास को हमेशा रोकते हैं और अपने आप ही हम ही खुद उसके रिस्पांसिबल होते हैं कि हमारे अंदर इसी से अपने आप आना शुरू हो जाता है किंतु क्रोध आ गया हमें डर है हमारे लेती है यह भावनाएं तो हमारी इंसान के अंदर है लेकिन इसको टेक्टफुली कम करना पड़ता है और अच्छे भावनाओं में एंट्री करनी होती है अच्छी भावना क्या होती है कि थैंकफूल कभी कभी कभी हम लोगों ने सोचा है कि हम लोग यहां पर है तो क्यों है मैंने हमें यहां पर खाना क्यों मिलना चाहिए हमारे वार्ड को थैंक्स बोलना चाहिए मदर फक्र होना चाहिए क्योंकि उनकी भावना होती है और उसके बदले में जल्दी शामिल हो जाओगे और उधर ही ख्वाब बाकी चीजें कर पाओगे क्योंकि आपको लाइफ में करियर बनाने प्रोग्रेशन बनाना बहुत ही सहज और सरल होने लगे कि आपके आपके साथ और इसको विश्वास कीजिए कि होता है उसके ऊपर काम करना बॉडी और माइंड के ऊपर काम करना चाहते हैं पूरा खेल माइंड करें और इस्माइल को इस तरीके से काबू में करना है या किसी चीज को इंटरनल जानना है उसको पर कनेक्शन काम करते रहना पड़ता है
Vikaas kabhee na samaapt hone vaalee prakriya hai yah vichaar kis se sambandhit hai yah baat sahee hai ki vikaas kabhee nahin samaapt hone vaalee prakriya hai yah vid rispekt too suman been aplaid hai yah vyakti trpti aplaee det vid rispekt hamaare politikal kis din khela phlait hai hamaare teknolojikal eyaraplen hai hamaare desh ke lie plen hai poore varld ke lie aplaee de kyonki aap dekhoge ek simpal sa egjaampal aapako main deta hoon koee bhee aisee teknolojee aap dekh lo jo 10 saal pahale bahut achchhee thee aur abhee abhee achchhee nahin hai abhee ab aisee kabhee teknolojee nahin hai ya se ek bhee jagah ne hamaare suman din ke aacharan mein 14 saal pahale thee aur aaj vaheen is sambandh mein har cheej hai bheeshan bandaree ke chaahe vah mobail kho jae to gaadee ko relave ho ya phir hamaare khud ka egjaam khareed ke tareeke ho har cheej vikaas kee taraph jaatee hai aas paas likhava mod band rahe bilding ban rahee hai sarakaaree nahin neeche se lekar aatee hai googal mein draivar les kaar lekar aae hain vikaas kee prakriya mein hamesha pooree sochatee hogee aur sochate ke hisaab se main dekha batao to ki vah lokeshan dekh vikaas kee prakriya hai jaise ham maanav hai to hamen aadimaanav ke photo mein dekhe hain unhen klik karate the usamen rikord hote hote hote hote kal shaam hote hote ham abhee ek leval par pahunche aur na jaane aage yah prakriya ghante mein shuroo se jo raajy stareey mandir bhaarat jay ho yuva ol enimals baal vikaas lie aavedan prakriya hai jo shaheed hote rahate hain isalie bola jaata hai ki vikaas adhikaaree se rait kar lo apane desh ka to chhodo lekin parsanal devalapament ya parsanal vikaas ke lie prayaas karate raho taaki aap hee sochatee ke pareekshan ke saath apane aapako main us se kya hoga ki aap jeete jee apane aap agar itanee jitane bhee saale aaj bhee rahe usee ke utanee jeevan ke andar mein aap bahut phaast pragati kar lo main paisa kamaane kee baat ho jae mental pees ho chaahe vah doston ke saath khelana kuchh bhee lekin usako laane ke lie kuchh cheejen hain alag se kyon kya hota hai ki hamaare andar mein jo ki bure bhee negetiv cheej hai yah sab impaideements jaati vikaas ko hamesha rokate hain aur apane aap hee ham hee khud usake rispaansibal hote hain ki hamaare andar isee se apane aap aana shuroo ho jaata hai kintu krodh aa gaya hamen dar hai hamaare letee hai yah bhaavanaen to hamaaree insaan ke andar hai lekin isako tektaphulee kam karana padata hai aur achchhe bhaavanaon mein entree karanee hotee hai achchhee bhaavana kya hotee hai ki thainkaphool kabhee kabhee kabhee ham logon ne socha hai ki ham log yahaan par hai to kyon hai mainne hamen yahaan par khaana kyon milana chaahie hamaare vaard ko thainks bolana chaahie madar phakr hona chaahie kyonki unakee bhaavana hotee hai aur usake badale mein jaldee shaamil ho jaoge aur udhar hee khvaab baakee cheejen kar paoge kyonki aapako laiph mein kariyar banaane progreshan banaana bahut hee sahaj aur saral hone lage ki aapake aapake saath aur isako vishvaas keejie ki hota hai usake oopar kaam karana bodee aur maind ke oopar kaam karana chaahate hain poora khel maind karen aur ismail ko is tareeke se kaaboo mein karana hai ya kisee cheej ko intaranal jaanana hai usako par kanekshan kaam karate rahana padata hai

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
क्या होगा अगर सूरज थोड़ा नीचे आ जाए क्या इससे पृथ्वी जल जाएगी?Kya Hoga Agar Suraj Thoda Niche Aa Jaye Kya Isse Prithvi Jal Jaegi
Deven  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deven जी का जवाब
Valuepreneur Adventurer Life Explorer Dreamer
4:49
क्या होगा अगर थोड़ा सूरज नीचे आ जाए कैसे हो फिर चल जाएगी और ऐसे लोगों को मन में आते बहुत ही अच्छा क्वेश्चन पूछा तो देखिए सबसे पहले जो ग्राफी क्या बोलती है सूरज और पृथ्वी के ऊपर जो भी एनर्जी पृथ्वी के ऊपर ही नहीं कंप्लेंट जो भी अर्जेंट चाहिए 16 सीसी में कितना डिग्री गर्मी के दिनों में खुद के खुद के ऊपर भी घूमती है और सूरज के कारण भी घूमते घूमते रहती है तो उसमें रिपीट करके अभी हमारी पृथ्वी गोल है ऊपर नॉर्थ है नीचे साउथ नॉर्थ और साउथ अफ्रीका ऊपर का स्पेलिंग ओपन का एग्जाम में सूरज की तरह होती हल्का तो गर्मी पड़ना शुरू हो जाता था और आपने देखा होगा कि राजस्थान में ऐसे कई सारी जगह पर जहां टेंपरेचर तो फिर इतनी दूर चला जाता है छोड़ो एरिया होता है इस मामले को लेकर आज सूरज करो कल का मोदी का गोला उसने पीछे की तरफ मोड़ दिया और तो और जो नीचे साउथ के देने पड़ रही है यह इनका हैंडल बढ़ेगा तो सिंगल नहीं पड़ रही है तिरुपति करे तो उसे इग्नोर करती हो कितनी गर्मी है बिल्कुल उल्टा होता है उसका जो साइड है उसी के रिकॉर्डिंग जो कि हमारे अंडमान निकोबार के आसपास भेजा उसको मिल कर देते तो क्या होता साउथ एरिया सुरेश की तरफ निकल जाएगा साल का सफर का नॉर्थ एरिया थोड़ा सा दूर जाने के वजह से हम लोग कितनी ठंड देख लेते हैं हमारे भारत में बोलो या फिर मौत होली पूरे बड़ी तो क्या हो रहा है सूरज की किरने जो डायरेक्ट पढ़ रहे हो अभी उसका एंगल पड़ी तो जो पहले एक सूरज की किरण अगर एक छोटे से एरिया में पढ़ रही थी वह लड़की दे रही थी अभी वही किरण बहुत बड़े एरिया में पड़ रही है एनर्जी डिलीट हो गई बाप को छोड़ सकते अगर इस नंबर पर देते हैं वर्णन में सूखा पड़ सकता है जब ठंडा पड़ सकता है और यह किस कारण होता है बारिश का या यहां पर मौसम का तो अगर थोड़ा सा भी छेड़छाड़ अगर सुबह नीचे आ जाए तो क्या मैं ही श्रेष्ठ ही खत्म हो जाए क्योंकि प्रकृति ने बनाई हुई है इससे बढ़िया तो इसको समझना ग्राम समझोगे तो आपको समझ में आएगा कि यह पूरा एनर्जी का खेल है जिसकी जो कि कंट्रोल अपना ऐसा नहीं है कि कोई चीज सूरज जो है गर्मी यह हमारे पृथ्वी के ऊपर देता है और उसके बाद यह जो अभी देखो अभी जो समय चल रहा है अभी 5 महीने तक के प्रभारी मंत्री माल चालू हो जाएगा अभी क्या हो रहा है धीरे-धीरे संक्रांत के बाद पर क्या होता है धीरे-धीरे हम नाराज अब बुद्धि का नॉर्थ पोले हुआ सूरज के दर्द हो रहा है धीरे-धीरे आप देखोगे आगे आगे तक उसका नीचे कब खोला गया तो अपने आप देखोगे आप तो अगले जन्म में गर्मी का मौसम होगा पूरे वर्ल्ड नॉर्थ पोल ने भारत में तो हो गई और यह धीरे-धीरे कम
Kya hoga agar thoda sooraj neeche aa jae kaise ho phir chal jaegee aur aise logon ko man mein aate bahut hee achchha kveshchan poochha to dekhie sabase pahale jo graaphee kya bolatee hai sooraj aur prthvee ke oopar jo bhee enarjee prthvee ke oopar hee nahin kamplent jo bhee arjent chaahie 16 seesee mein kitana digree garmee ke dinon mein khud ke khud ke oopar bhee ghoomatee hai aur sooraj ke kaaran bhee ghoomate ghoomate rahatee hai to usamen ripeet karake abhee hamaaree prthvee gol hai oopar north hai neeche sauth north aur sauth aphreeka oopar ka speling opan ka egjaam mein sooraj kee tarah hotee halka to garmee padana shuroo ho jaata tha aur aapane dekha hoga ki raajasthaan mein aise kaee saaree jagah par jahaan temparechar to phir itanee door chala jaata hai chhodo eriya hota hai is maamale ko lekar aaj sooraj karo kal ka modee ka gola usane peechhe kee taraph mod diya aur to aur jo neeche sauth ke dene pad rahee hai yah inaka haindal badhega to singal nahin pad rahee hai tirupati kare to use ignor karatee ho kitanee garmee hai bilkul ulta hota hai usaka jo said hai usee ke rikording jo ki hamaare andamaan nikobaar ke aasapaas bheja usako mil kar dete to kya hota sauth eriya suresh kee taraph nikal jaega saal ka saphar ka north eriya thoda sa door jaane ke vajah se ham log kitanee thand dekh lete hain hamaare bhaarat mein bolo ya phir maut holee poore badee to kya ho raha hai sooraj kee kirane jo daayarekt padh rahe ho abhee usaka engal padee to jo pahale ek sooraj kee kiran agar ek chhote se eriya mein padh rahee thee vah ladakee de rahee thee abhee vahee kiran bahut bade eriya mein pad rahee hai enarjee dileet ho gaee baap ko chhod sakate agar is nambar par dete hain varnan mein sookha pad sakata hai jab thanda pad sakata hai aur yah kis kaaran hota hai baarish ka ya yahaan par mausam ka to agar thoda sa bhee chhedachhaad agar subah neeche aa jae to kya main hee shreshth hee khatm ho jae kyonki prakrti ne banaee huee hai isase badhiya to isako samajhana graam samajhoge to aapako samajh mein aaega ki yah poora enarjee ka khel hai jisakee jo ki kantrol apana aisa nahin hai ki koee cheej sooraj jo hai garmee yah hamaare prthvee ke oopar deta hai aur usake baad yah jo abhee dekho abhee jo samay chal raha hai abhee 5 maheene tak ke prabhaaree mantree maal chaaloo ho jaega abhee kya ho raha hai dheere-dheere sankraant ke baad par kya hota hai dheere-dheere ham naaraaj ab buddhi ka north pole hua sooraj ke dard ho raha hai dheere-dheere aap dekhoge aage aage tak usaka neeche kab khola gaya to apane aap dekhoge aap to agale janm mein garmee ka mausam hoga poore varld north pol ne bhaarat mein to ho gaee aur yah dheere-dheere kam

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
डिप्रेशन होने से क्या नुकसान है इससे बचने के क्या उपाय हैं?Depression Hone Se Kya Nuksan Hai Isse Bachne Ke Liye Kya Upay Hain
Deven  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deven जी का जवाब
Valuepreneur Adventurer Life Explorer Dreamer
4:56
डिप्रेशन होने से क्या नुकसान है इससे बचने के क्या उपाय है और देखें डिप्रेशन एक ऐसी बीमारी की तो लाइन सेलपेज बीमारी है इसके अंदर में आपको बॉडी के अंदर कुछ भी नहीं हुआ है मैंने आपसे सही सलामत हाथ पैर सब कुछ सही सलामत है आपको लेकिन खाली मानसिक रूप से आपके एक अलग विचार के ठाठ में थॉट थॉट प्रोसेस में आप जा चुके अब सिंपल से मैं बात बताता हूं कि अवसर आपके माइंड में जो विचार चल रहे हैं वह विचार पहले महीने में आता है और उसके बाद हमारा भी है बीयर होते हम लोग कृति करते हैं तो आप किसी भी चीज में आप अभी भी आप जो भी कर रहे हो आप अगर आंसर सुन रहे हो तो आपको आपने पढ़ा होगा यह क्वेश्चन आप को लगाओ कि इसका आंसर सुनना चाहिए और आपने फिरे बिहेवियर क्या क्या आप सुन रहे हो तो हमेशा किसी भी कृति जो इंसान की या किसी भी एनिमल के किसी की भी प्रत्याशी चलते पहले दिमाग में आता है उसे सिर्फ योगी दिमाग के अंदर में जो इस तरीके के आएगी जो तुम्हारी लाइफ की खतरा है हमें लाइफ लाइफ आगे जाने के लिए जो चीजें चाहिए वह नहीं है लेकिन उल्टी चीज है तो क्या होता है कि वह साइकिल से फंसते चले जाते हो तो धीरे-धीरे धीरे-धीरे आपको एक डर सा महसूस होने लगता है और आपको एक नींद आने काफी नींद बढ़ जाती है आप अकेलेपन अकेलेपन में चले जाते हो और आपको किसी चीज में रस नहीं होता है तो ऐसे एक साइकिल चौथे थॉट प्रोसेस की याद को धीरे धीरे धीरे धीरे आपके जीवन को नीचे लेकर जाते हैं क्योंकि आप सोते रहना अगर मुझे डिप्रेसिंग लाइन है तो मैं सोफे रहूंगा यह मेरा भी है कि मुझे मुझे बोर होगा मुझे बहुत ज्यादा खाने की इच्छा हो किसी से बात करने की इच्छा नहीं होगी यह जमीन के अंदर ऐसा कुछ चल रहा है जो आपके लिए पोषक नहीं तभी तो डिप्रेशन से बचने के तरीके यह है सबसे पहले तरीका यह है कि नियमित एक्सरसाइज की आदत लगा निमित्त एक जैसे होते बॉडी के अंदर मेडिकल सिस्टम इंटीग्रेशन होता है स्ट्रेस हार्मोन डिस्ट्रिक्ट यह आपके बॉडी को इसलिए जरूरी इंसान के बॉडी को क्या कोई भी घूम रहा है उसके लाइफ में उसको खाना छुपाने के लिए उसको घूमना जरूरी है उसको खाना ढूंढना पड़ता है तो उसने हमेशा उस प्रवीण इंग्लिश में रहता है और उसके बॉडी के इज्जत होती रहती है और उसके थ्रू ही आगे अपने आप अपना खाना हो गया तो उनके रहते इंसान के इसमें ऐसा नहीं है इंसान को खाना अपने आप मिलने लग जाए तो इंसान अपने लाइफ इजी कंफर्ट बनाओ फिर ऐसे समय इंसान अपने जो आजूबाजू के लोग हैं या फिर सोशल मीडिया वहां से ऐसी थॉट प्रोसेस ले लेता क्योंकि उसके लिस्ट में डाल देते हैं जो कि एक्सरसाइज के उल्टा भी है मेरे पर जाकर सेट हो जाए
Dipreshan hone se kya nukasaan hai isase bachane ke kya upaay hai aur dekhen dipreshan ek aisee beemaaree kee to lain selapej beemaaree hai isake andar mein aapako bodee ke andar kuchh bhee nahin hua hai mainne aapase sahee salaamat haath pair sab kuchh sahee salaamat hai aapako lekin khaalee maanasik roop se aapake ek alag vichaar ke thaath mein thot thot proses mein aap ja chuke ab simpal se main baat bataata hoon ki avasar aapake maind mein jo vichaar chal rahe hain vah vichaar pahale maheene mein aata hai aur usake baad hamaara bhee hai beeyar hote ham log krti karate hain to aap kisee bhee cheej mein aap abhee bhee aap jo bhee kar rahe ho aap agar aansar sun rahe ho to aapako aapane padha hoga yah kveshchan aap ko lagao ki isaka aansar sunana chaahie aur aapane phire biheviyar kya kya aap sun rahe ho to hamesha kisee bhee krti jo insaan kee ya kisee bhee enimal ke kisee kee bhee pratyaashee chalate pahale dimaag mein aata hai use sirph yogee dimaag ke andar mein jo is tareeke ke aaegee jo tumhaaree laiph kee khatara hai hamen laiph laiph aage jaane ke lie jo cheejen chaahie vah nahin hai lekin ultee cheej hai to kya hota hai ki vah saikil se phansate chale jaate ho to dheere-dheere dheere-dheere aapako ek dar sa mahasoos hone lagata hai aur aapako ek neend aane kaaphee neend badh jaatee hai aap akelepan akelepan mein chale jaate ho aur aapako kisee cheej mein ras nahin hota hai to aise ek saikil chauthe thot proses kee yaad ko dheere dheere dheere dheere aapake jeevan ko neeche lekar jaate hain kyonki aap sote rahana agar mujhe dipresing lain hai to main sophe rahoonga yah mera bhee hai ki mujhe mujhe bor hoga mujhe bahut jyaada khaane kee ichchha ho kisee se baat karane kee ichchha nahin hogee yah jameen ke andar aisa kuchh chal raha hai jo aapake lie poshak nahin tabhee to dipreshan se bachane ke tareeke yah hai sabase pahale tareeka yah hai ki niyamit eksarasaij kee aadat laga nimitt ek jaise hote bodee ke andar medikal sistam inteegreshan hota hai stres haarmon distrikt yah aapake bodee ko isalie jarooree insaan ke bodee ko kya koee bhee ghoom raha hai usake laiph mein usako khaana chhupaane ke lie usako ghoomana jarooree hai usako khaana dhoondhana padata hai to usane hamesha us praveen inglish mein rahata hai aur usake bodee ke ijjat hotee rahatee hai aur usake throo hee aage apane aap apana khaana ho gaya to unake rahate insaan ke isamen aisa nahin hai insaan ko khaana apane aap milane lag jae to insaan apane laiph ijee kamphart banao phir aise samay insaan apane jo aajoobaajoo ke log hain ya phir soshal meediya vahaan se aisee thot proses le leta kyonki usake list mein daal dete hain jo ki eksarasaij ke ulta bhee hai mere par jaakar set ho jae

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
क्या अंडे में फाइबर की मात्रा ज्यादा होती है?Kya Ande Mein Fibre Kee Maatra Jyada Hoti Hai
Deven  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deven जी का जवाब
Valuepreneur Adventurer Life Explorer Dreamer
0:44
नेमी फाइबर की मात्रा ज्यादा होती है जी नहीं बिल्कुल नहीं जीरो जीरो ग्राम फाइबर होता है अंडे के अंदर फाइबर बिल्कुल नहीं होता है वह प्रोटीन उसमें जो है मैक्स प्रोटीन होता है फाइबर जो होते फ्रूट्स वेजिटेबल जो नई चर्चा हुई चीज है उसमें सबसे ज्यादा फाइबर सोते हैं और अंडे के अंदर में उसके अलावा आपका जो यह क्या होता है जो येलो कलर का अंदर का उसमें विटामिन आपको विटामिन ए विटामिन डी की मात्रा वहां पर मिलती है और वैसे अंडा एक काफी पोषक आहार पांडे के बेस पर काम नहीं चल सकता क्योंकि फाइबर स्टॉप इंपॉर्टेंट होते आपके पचनशक्ती को बरकरार रखने के लिए
Nemee phaibar kee maatra jyaada hotee hai jee nahin bilkul nahin jeero jeero graam phaibar hota hai ande ke andar phaibar bilkul nahin hota hai vah proteen usamen jo hai maiks proteen hota hai phaibar jo hote phroots vejitebal jo naee charcha huee cheej hai usamen sabase jyaada phaibar sote hain aur ande ke andar mein usake alaava aapaka jo yah kya hota hai jo yelo kalar ka andar ka usamen vitaamin aapako vitaamin e vitaamin dee kee maatra vahaan par milatee hai aur vaise anda ek kaaphee poshak aahaar paande ke bes par kaam nahin chal sakata kyonki phaibar stop importent hote aapake pachanashaktee ko barakaraar rakhane ke lie

#मनोरंजन

bolkar speaker
इतिहास में अब तक का सबसे ज्यादा विध्वंसक हथियार कौन सा माना जाता है?Itihaas Mein Ab Tak Ka Sabse Jyada Vidhvansak Hathiyaar Kaun Sa Mana Jata Hai
Deven  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deven जी का जवाब
Valuepreneur Adventurer Life Explorer Dreamer
4:59
इतिहास में अब तक का सबसे ज्यादा विध्वंस हथियार कौन सा माना जाता है और हम जब इतिहास में पूरे पाठ से लेकर अभी तक अगर देखे पुरे बाल के हिस्ट्री के अंदर में तो यह लड़ाईया अब से नहीं हो रही है काफी इसकी हिस्ट्री काफी काफी साल पुराने कई हजारों साल पूरा होने पर होती थी जिसमें लोग तलवार और वाले या तो दारू खुला यह सब यूज़ करते हुए और लड़ाई होती मुगल काल में भी ऐसी लड़ाई होती थी लोकेशन स्पेसिफिक जानू लोकेशन में हो रही है उस लोकेशन में जाकर लड़ाई करना पड़ेगा क्या हो गया इंसानों के बीच का कम्युनिकेशंस बढ़ने लगते टेक्नोलॉजी में भी बहुत ज्यादा उन्नति उसके बाद धीरे-धीरे ऐसे कुछ भी पंच बनने लगे कि सोमवार से सेक्शन का काम करने लगे जैसे बहुत बड़ी मिसाइल बनाई थी वह बहुत बड़े रिया को ऑन कर सकता है टॉप जेसीसी टर्न ऑफ मास डिस्ट्रक्शन डब्ल्यूएमडी जिसको बोलते अनूप अनुभव जो नियम या जो रेडियोएक्टिव मैटेरियल से जो काम बनता है क्या यह सबसे खतरनाक के फिर बम फटने से जो डिस्ट्रक्शन होता है वह तो पता ही है लेकिन इसके अंदर से जो शक्ति ऊर्जा निकल रही है आपके सीधा डीएनए के ऊपर प्रभावित करती आपके डीएनए के अंदर म्यूटेशंस लेकर आती है और इस तरीके से पुराने कई सालों तक इसकी फैक्टरी जनरेशन को कहती है जापान जापान के ऊपर जो हमला हुआ था हिरोशिमा नागासाकी तो यह हमला हुआ तो इसके अंदर अनुपम गिरेबान रिस्पेक्ट यू अपने अपने भाई और उसके अलावा इसके चक्की पर उनके चंद्रेश अंसते कई दिनों तक देखें तो यह है सुमन एक्ट इंसान क्या लेवल तक जा सकता है उसका एक एग्जांपल वापस ऐड हो गया लेकिन अब उसके बाद जब जब सभी नेशन साथ में आए और उन लोगों ने फिर प्रीति किया सब मिलकर खेल नहीं हम लोग नो फर्स्ट उस पॉलिसी बनाएंगे सब लेकिन फर्स्ट उसको ही नहीं करेगा क्योंकि सबको मालूम है सब के पास के पास होते थे अभी सब के पास है सबको मालूम है कि अगर किसी ने यूज किया तो सब ने अगर यूज करना शुरू किया तो खत्म हो जाए तो एक हो गया अभी उससे भी आगे बढ़ते हैं बायोलॉजिकल मोरफ़ोलॉजिकल वार फेयर की एक सिंपल सा एग्जांपल अभी देखते अपनी फोटो ना कोई ट्रेन है या नहीं पता लेकिन आज आप देखो हो कि एक वायरस एंड वायरस बनाना कोई बड़ी बात नहीं है अन्य वायरस बनाया जा सकता है यहां तक लोगों के पास साइंस और साइंटिफिक इक्विपमेंट सब कुछ अब यह चीज आप देखिए कि यहां पर बिना किसी अन्य कहीं जाने की जरूरत नहीं है कोई एक लोकेशन पर जाकर करने की जरूरत नहीं है अपने आप इस वायरस ने सबके फैलता गया फैलता क्या पूरे वर्ल्ड में फैला दो अपने आप इकोनॉमिक्स कर दी उस इकोनामी की धज्जियां उड़ा इसमें क्या होता है कि आप लोग सभी नेशंस का पूरा कंसंट्रेशन अभी कोविड-19 पर आने बाकी चीजों में जो ह्यूमन डेवलपमेंट में सब का काम होना चाहिए और उस तरीके से एक बहुत अच्छा ब्यूटीफुल औरत बनना चाहिए इसके इसके लिए प्रयास होने चाहिए सभी प्रयास का हो रहे सबके को व्हाट्सएप रचने की उसकी वैक्सीन बनाने के लिए तो यह चीजें बायोलॉजिकल वार फेयर की भी अपन देना नहीं कर सकते केमिकल वार फेयर के बेटे ना ही नहीं कर सकते और अभी तो हम लोग ऐसे युग में जी रहे हैं कि जहां पर सब कुछ डिजिटल है सब कुछ कनेक्टेड है आप और मैं भी कनेक्ट मैं कनेक्टेड हूं मेरे से आप भी कनेक्टेड सब कुछ कनेक्टेड इसकी लैंग्वेज कोई समझता है और उसका अगर महसूस करना चाहता है तो बिल्कुल कर सकता है आपका आपकी जान नहीं ले बिना जान लिए भी पूरे सिस्टम को खर्ची बनाया जा सकता है इतना वल्नरेबल इंसान अभी भी है तो इसलिए मैं समझता हूं कि सृष्टि और यूनिवर्स का रिस्पेक्ट करें ऊपर वाले ने सब कुछ सब बनाया हुआ है तो हमें जितना इंपॉर्टेंट से उतना ही पोर्टल सभी जीवो का प्राणी मात्र का इस पृथ्वी पर है और इनके साथ कोआर्डिनेशन में और उस दिन भी ना कुछ नहीं हमें आगे बढ़ना पड़ेगा नहीं तो हम लोग कितने शतक है और कितने कितने माइन्यूट है यह मेक कोविड-19 दिया और शायद हम ठीक नहीं लेते तो बार बार मिलते रहेंगे खड़े होते रहेंगे तो मैंने सुमन इंसान कभी भी हार नहीं मानता है लेकिन अच्छी लाइफ अभय हमारे पास बहुत कम साल में रहते हैं जीने के लिए उसको बहुत बेहतरीन अच्छे तरीके से जीना ही पी लो सब की होनी चाहिए
Itihaas mein ab tak ka sabase jyaada vidhvans hathiyaar kaun sa maana jaata hai aur ham jab itihaas mein poore paath se lekar abhee tak agar dekhe pure baal ke histree ke andar mein to yah ladaeeya ab se nahin ho rahee hai kaaphee isakee histree kaaphee kaaphee saal puraane kaee hajaaron saal poora hone par hotee thee jisamen log talavaar aur vaale ya to daaroo khula yah sab yooz karate hue aur ladaee hotee mugal kaal mein bhee aisee ladaee hotee thee lokeshan spesiphik jaanoo lokeshan mein ho rahee hai us lokeshan mein jaakar ladaee karana padega kya ho gaya insaanon ke beech ka kamyunikeshans badhane lagate teknolojee mein bhee bahut jyaada unnati usake baad dheere-dheere aise kuchh bhee panch banane lage ki somavaar se sekshan ka kaam karane lage jaise bahut badee misail banaee thee vah bahut bade riya ko on kar sakata hai top jeseesee tarn oph maas distrakshan dablyooemadee jisako bolate anoop anubhav jo niyam ya jo rediyoektiv maiteriyal se jo kaam banata hai kya yah sabase khataranaak ke phir bam phatane se jo distrakshan hota hai vah to pata hee hai lekin isake andar se jo shakti oorja nikal rahee hai aapake seedha deeene ke oopar prabhaavit karatee aapake deeene ke andar myooteshans lekar aatee hai aur is tareeke se puraane kaee saalon tak isakee phaiktaree janareshan ko kahatee hai jaapaan jaapaan ke oopar jo hamala hua tha hiroshima naagaasaakee to yah hamala hua to isake andar anupam girebaan rispekt yoo apane apane bhaee aur usake alaava isake chakkee par unake chandresh ansate kaee dinon tak dekhen to yah hai suman ekt insaan kya leval tak ja sakata hai usaka ek egjaampal vaapas aid ho gaya lekin ab usake baad jab jab sabhee neshan saath mein aae aur un logon ne phir preeti kiya sab milakar khel nahin ham log no pharst us polisee banaenge sab lekin pharst usako hee nahin karega kyonki sabako maaloom hai sab ke paas ke paas hote the abhee sab ke paas hai sabako maaloom hai ki agar kisee ne yooj kiya to sab ne agar yooj karana shuroo kiya to khatm ho jae to ek ho gaya abhee usase bhee aage badhate hain baayolojikal morafolojikal vaar pheyar kee ek simpal sa egjaampal abhee dekhate apanee photo na koee tren hai ya nahin pata lekin aaj aap dekho ho ki ek vaayaras end vaayaras banaana koee badee baat nahin hai any vaayaras banaaya ja sakata hai yahaan tak logon ke paas sains aur saintiphik ikvipament sab kuchh ab yah cheej aap dekhie ki yahaan par bina kisee any kaheen jaane kee jaroorat nahin hai koee ek lokeshan par jaakar karane kee jaroorat nahin hai apane aap is vaayaras ne sabake phailata gaya phailata kya poore varld mein phaila do apane aap ikonomiks kar dee us ikonaamee kee dhajjiyaan uda isamen kya hota hai ki aap log sabhee neshans ka poora kansantreshan abhee kovid-19 par aane baakee cheejon mein jo hyooman devalapament mein sab ka kaam hona chaahie aur us tareeke se ek bahut achchha byooteephul aurat banana chaahie isake isake lie prayaas hone chaahie sabhee prayaas ka ho rahe sabake ko vhaatsep rachane kee usakee vaikseen banaane ke lie to yah cheejen baayolojikal vaar pheyar kee bhee apan dena nahin kar sakate kemikal vaar pheyar ke bete na hee nahin kar sakate aur abhee to ham log aise yug mein jee rahe hain ki jahaan par sab kuchh dijital hai sab kuchh kanekted hai aap aur main bhee kanekt main kanekted hoon mere se aap bhee kanekted sab kuchh kanekted isakee laingvej koee samajhata hai aur usaka agar mahasoos karana chaahata hai to bilkul kar sakata hai aapaka aapakee jaan nahin le bina jaan lie bhee poore sistam ko kharchee banaaya ja sakata hai itana valnarebal insaan abhee bhee hai to isalie main samajhata hoon ki srshti aur yoonivars ka rispekt karen oopar vaale ne sab kuchh sab banaaya hua hai to hamen jitana importent se utana hee portal sabhee jeevo ka praanee maatr ka is prthvee par hai aur inake saath koaardineshan mein aur us din bhee na kuchh nahin hamen aage badhana padega nahin to ham log kitane shatak hai aur kitane kitane mainyoot hai yah mek kovid-19 diya aur shaayad ham theek nahin lete to baar baar milate rahenge khade hote rahenge to mainne suman insaan kabhee bhee haar nahin maanata hai lekin achchhee laiph abhay hamaare paas bahut kam saal mein rahate hain jeene ke lie usako bahut behatareen achchhe tareeke se jeena hee pee lo sab kee honee chaahie

#जीवन शैली

Deven  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deven जी का जवाब
Valuepreneur Adventurer Life Explorer Dreamer
4:57
भारतीय संस्कृति की सबसे बड़ी विडंबना क्या है जिससे अधिक लोग नहीं जानते हैं यह मेरा पर्सनल ओपिनियन है मैं यहां रखना चाहूंगा देखिए भारतीय संस्कृति एक काफी विच संस्कृति मानी जाती है इसलिए रिच मानी जाती है क्योंकि हमारे पास हमारे पुरातन काल से लेकर अभी तक हमारे पास में बहुत रीच तरीके से नॉलेज है जिसमें अभी योगा हो गया आयुर्वेदा हो गया जो कि भारत भारत भारत में दिया है पूरे वर्ल्ड उसके अलावा हमारे पास कल्चर देखे कितने सारे हैं क्योंकि हमारे पास इतने सारे कल्चर से छोटे-छोटे इन सब कल चोरों के अंदर भी एक अपना अपना ज्ञान छुपा हुआ है तो वह भी एक ज्ञान तो है हमने वालों को दिया हुआ है या फिर लोग आकर कुछ हमारा ज्ञान लेने की कोशिश करते हमारे जीवन शैली को लेने की कोशिश कर भारतीय संस्कृति के अंदर में बहुत सारे त्यौहार हम लोग क्यों मनाते हैं आप देखना उसका डायरेक्ट कनेक्शन जो हमारे आजू-बाजू नेचुरल लाइफ एनिमल प्लांट्स इन के रिस्पेक्ट को लेकर चीन का एक इनके प्रत्येक ग्रिटीट्यूड दिखाने के हिसाब से हमारे जो त्यौहार है वह बनेंगे और संस्कृति बन रही थी तो आज अबे पढ़ रही थी तो शुरू में जो रविदास थे तो 4 वेदास ऋग्वेद सामवेद यजुर्वेद अथर्ववेद में यह बेकालताल पहला दूसरा तीसरा चौथा जत्था संस्कृति आप अगर पढ़ोगे तो बड़ी सरल थी मैंने वहां पर सभी टाइप की चीजें होती थी धन्य वो व्यापार भी होता था कि बीते लेबर अभी थे राजा लोग भी थे लेकिन अगर उनकी संस्कृति देखोगे तो बड़ी सरल थी उनके उठकर जो पूजा करने का तरीका काफी सरल था वह नेचर व्हाट्सएप करते थे वहां पर काफी चीजें ऐसी थी की वहां पर व्यापार भी होता था आप बहुत अच्छी चीजें भी हो लोग बनाते थे और वहां से जब आगे चलते गया तो धीरे-धीरे इसके अंदर में इंप्योरिटीज आते हैं हमें यह तक नहीं पता अभी के अभी पढ़ते भी है वह चीज है इसमें कितनी प्योरिटी है क्योंकि बहुत सारी चीजें अपन देखेंगे अभी तो जो भी हमारे त्यौहार है या उसका जो पैसे कैसे छोड़ कर हम लोग काफी शोभा जी और दिखावा पर इसमें अपन उलझ गए और अभी तो ऐसा हो गया है कि एक सिंपल सा एग्जांपल अगर मैं बताऊं तो अभी गणेश गणेश उत्सव जो होता है महाराष्ट्र के अंदर है पूरे देश में होता है यह श्री तिलक इन्होंने शुरू किया तिलक जी ने शुरू किया बाल गंगाधर तिलक और उन्हें जब शुरू किया था तो उनकी भावना इसके पीछे पड़ी सरल और बड़ी अच्छी भावना थे कि कम्युनिटी के अंदर के लोग इकट्ठा हो और साथ में मिलकर एक श्रद्धा भावना के उसे पूजा करें और एक साथ कल्चर का या फिर सबको यह बात सबको एक टाइम ऐसा मिलेगा जिसमें लोग कल सुरीली एक माइक से घुल मिल सके कंपटीशन में कन्वर्ट हो गया है कंपटीशन एरिया में बैठता भी है हर एरिया में इसमें बहुत सारा पैसा भी खर्च होता है और इसमें लोगों का जो सब आ गए कहीं जगह पर है बहुत अच्छा है कई जगह पर लोग आसपास नहीं है इसमें खाली पैसों से उलाढाल हो रही है और उसके पीछे में बहुत सारी ऐसी चीजें हो रही है कि जो चीज नहीं होनी चाहिए छोड़कर बहुत बहुत बार हम लोग अंदर श्रद्धा के अंदर डूब गए हमें उसका बेसिक सिंह नहीं पता कि हम क्यों कर रही है तो यह चीज है हम दुखते चाहे वह करते जा रहे हैं जिसके पीछे कोई लॉजिक नहीं बताई कोई साइंस नहीं होता है और वहां पर श्रद्धा होती जरूर हमारी लेकिन कई बार हम उसके शिकार भी हो जाते हैं उस अंदर श्रद्धा के और अनफॉर्चूनेटली कुछ ऐसे लोग हैं जो लोग सोसाइटी के अंदर में इसके ऊपर रोटी भी सीख लेते हैं वही करते हो तो यह भारतीय संस्कृति के अंदर में इससे बड़ी विडंबना लायक है और अभी आप देखो जो मेल फीमेल इक्वलिटी कि मैं बात करूंगा जो इक्वलिटी सूबेदार हुआ करती थी वह क्वालिटी हमने खुद ही थी अभी तो ठीक है अभी तो एक मॉडर्न जब सरकार आती है जब पिछले कुछ सालों से हम इक्वलिटी की बात कर रहे हैं तो फीमेल्स को विशेष दर्जा तेरे मेल्स के देते इसमें लेकिन दीपक माइंडसेट अभी भी है हमारे सोसायटी बहुत पहले नहीं था लेकिन बीच में हम लोग एक एमएनसी रिंपी और हो क्या और यह अभी भी चलता है और अभी भी परिवार लेंट है यह गांव कितने गांव के दूरदराज लेकिन धीरे-धीरे सभी युवा पीढ़ी आ जाएगी और चीजों को लॉजिकली समझेगी साइंस का ज्यादा संभाल लेगी और सीवर श्रद्धा करेगी यूनिवर्स नेचर के ऊपर तो मुझे लगता है यह मैडम बता भी निकल जाए एयरपोर्ट
Bhaarateey sanskrti kee sabase badee vidambana kya hai jisase adhik log nahin jaanate hain yah mera parsanal opiniyan hai main yahaan rakhana chaahoonga dekhie bhaarateey sanskrti ek kaaphee vich sanskrti maanee jaatee hai isalie rich maanee jaatee hai kyonki hamaare paas hamaare puraatan kaal se lekar abhee tak hamaare paas mein bahut reech tareeke se nolej hai jisamen abhee yoga ho gaya aayurveda ho gaya jo ki bhaarat bhaarat bhaarat mein diya hai poore varld usake alaava hamaare paas kalchar dekhe kitane saare hain kyonki hamaare paas itane saare kalchar se chhote-chhote in sab kal choron ke andar bhee ek apana apana gyaan chhupa hua hai to vah bhee ek gyaan to hai hamane vaalon ko diya hua hai ya phir log aakar kuchh hamaara gyaan lene kee koshish karate hamaare jeevan shailee ko lene kee koshish kar bhaarateey sanskrti ke andar mein bahut saare tyauhaar ham log kyon manaate hain aap dekhana usaka daayarekt kanekshan jo hamaare aajoo-baajoo nechural laiph enimal plaants in ke rispekt ko lekar cheen ka ek inake pratyek griteetyood dikhaane ke hisaab se hamaare jo tyauhaar hai vah banenge aur sanskrti ban rahee thee to aaj abe padh rahee thee to shuroo mein jo ravidaas the to 4 vedaas rgved saamaved yajurved atharvaved mein yah bekaalataal pahala doosara teesara chautha jattha sanskrti aap agar padhoge to badee saral thee mainne vahaan par sabhee taip kee cheejen hotee thee dhany vo vyaapaar bhee hota tha ki beete lebar abhee the raaja log bhee the lekin agar unakee sanskrti dekhoge to badee saral thee unake uthakar jo pooja karane ka tareeka kaaphee saral tha vah nechar vhaatsep karate the vahaan par kaaphee cheejen aisee thee kee vahaan par vyaapaar bhee hota tha aap bahut achchhee cheejen bhee ho log banaate the aur vahaan se jab aage chalate gaya to dheere-dheere isake andar mein impyoriteej aate hain hamen yah tak nahin pata abhee ke abhee padhate bhee hai vah cheej hai isamen kitanee pyoritee hai kyonki bahut saaree cheejen apan dekhenge abhee to jo bhee hamaare tyauhaar hai ya usaka jo paise kaise chhod kar ham log kaaphee shobha jee aur dikhaava par isamen apan ulajh gae aur abhee to aisa ho gaya hai ki ek simpal sa egjaampal agar main bataoon to abhee ganesh ganesh utsav jo hota hai mahaaraashtr ke andar hai poore desh mein hota hai yah shree tilak inhonne shuroo kiya tilak jee ne shuroo kiya baal gangaadhar tilak aur unhen jab shuroo kiya tha to unakee bhaavana isake peechhe padee saral aur badee achchhee bhaavana the ki kamyunitee ke andar ke log ikattha ho aur saath mein milakar ek shraddha bhaavana ke use pooja karen aur ek saath kalchar ka ya phir sabako yah baat sabako ek taim aisa milega jisamen log kal sureelee ek maik se ghul mil sake kampateeshan mein kanvart ho gaya hai kampateeshan eriya mein baithata bhee hai har eriya mein isamen bahut saara paisa bhee kharch hota hai aur isamen logon ka jo sab aa gae kaheen jagah par hai bahut achchha hai kaee jagah par log aasapaas nahin hai isamen khaalee paison se ulaadhaal ho rahee hai aur usake peechhe mein bahut saaree aisee cheejen ho rahee hai ki jo cheej nahin honee chaahie chhodakar bahut bahut baar ham log andar shraddha ke andar doob gae hamen usaka besik sinh nahin pata ki ham kyon kar rahee hai to yah cheej hai ham dukhate chaahe vah karate ja rahe hain jisake peechhe koee lojik nahin bataee koee sains nahin hota hai aur vahaan par shraddha hotee jaroor hamaaree lekin kaee baar ham usake shikaar bhee ho jaate hain us andar shraddha ke aur anaphorchoonetalee kuchh aise log hain jo log sosaitee ke andar mein isake oopar rotee bhee seekh lete hain vahee karate ho to yah bhaarateey sanskrti ke andar mein isase badee vidambana laayak hai aur abhee aap dekho jo mel pheemel ikvalitee ki main baat karoonga jo ikvalitee soobedaar hua karatee thee vah kvaalitee hamane khud hee thee abhee to theek hai abhee to ek modarn jab sarakaar aatee hai jab pichhale kuchh saalon se ham ikvalitee kee baat kar rahe hain to pheemels ko vishesh darja tere mels ke dete isamen lekin deepak maindaset abhee bhee hai hamaare sosaayatee bahut pahale nahin tha lekin beech mein ham log ek emenasee rimpee aur ho kya aur yah abhee bhee chalata hai aur abhee bhee parivaar lent hai yah gaanv kitane gaanv ke dooradaraaj lekin dheere-dheere sabhee yuva peedhee aa jaegee aur cheejon ko lojikalee samajhegee sains ka jyaada sambhaal legee aur seevar shraddha karegee yoonivars nechar ke oopar to mujhe lagata hai yah maidam bata bhee nikal jae eyaraport

#जीवन शैली

bolkar speaker
ज्यादातर सुसाइड शहरों में ही क्यों होते हैं?Jyadatar Sucide Shehron Mein He Kyun Hote Hain
Deven  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deven जी का जवाब
Valuepreneur Adventurer Life Explorer Dreamer
4:51
ज्यादा तो सुसाइड शहरों में ही क्यों होते हैं देखें सुसाइड जब होता है तो चोर रीजन आफ ध्यान में लोगे तो सोचा आज उपस्थिति जो है बातें कर लेती है एक तरीके के विचारों में फसलों के डिग्रेडिंग विचार है जो कि निगेटिव विचार है और जो विचारों के साथ घूमते घूमते घूमते घूमते जाती है कि आपके जान आपकी खुद की जान लेने के लिए आप और पर हो जाए तो उसे घेरकर बैठ होता है जहां पर आपका सोशल इंटरेक्शन सबसे ज्यादा होगा गांव में गांव के बल पर क्या होता है अभी आप देखे कि शहरों में फ्लैट से सीने इंडिविजुअलिस्टिक जहां पर एक घर में अगर कोई रह रहा है तो दूसरे बाजू वाले घर में पता नहीं होता तो इसी तरीके से यह जो फ्लाइट सेटिंग का कल्चर या फिर इसके अंदर क्या होता है हमारा जो सोशल मीडिया तो आपसे बात नहीं करेगा आप तो मेरे में इंटरेस्ट करोगे लेकिन वहां पर आप एक्सप्रेशन ऑफ इमोशन खुलकर नहीं कर सकते हो गांव के लेवल पर आपको एक ऐसी कोशिश तो अपने आप मिल जाती है कि कुछ भी काम ज्यादा हो गया तो तुरंत गांव में पता चलता है लोग अब तो पूछते भी तरीके से हो तो आप इंसान बनते हो हमें इमोशनल हो रहा है और उसकी हालत भी गांव में इस तरीके से पॉजिटिव होते हैं ताकि एनएफएस हवा है अनेक पूरा हेल्दी एनवायरमेंट वहां पर होता है तो अगर अपन शहरों के हित में देखेंगे तो शहरों में काम करने वाले लोग उनके काम के तरीके भी अलग है तू गांव में ऑफिस का काम नहीं चलता है गांव गांव में जो भी मैक्सिमम काम चलता है वह चलता है खेती-बाड़ी लिमिटेड डिजिटल आते खुद की जगह में रहते हो आप ऑफिस में जाते हो इतना भी नहीं तो आप ले रहे हो अपने तुझे हर आदमी के साथ में उतार-चढ़ाव ऐसे टाइम आएंगे सबके साथ में चलते रहता है और आप के रहते हो मां बाप रहते हैं वह आपको देखते हैं आप के आजू-बाजू वाले लोग आपको देखते हैं अगर आप चाहे डिफरेंस देखते हो तो आपको पूछ सकते तो पूछते हैं क्या हुआ है खाना सही नहीं खा रहे हैं या फिर भी अपने ही अपने रूम पानी निकला कि नहीं माना जाता है कि व्हाट्सएप करने के लिए कोई चीज नहीं होती है आपके सामने आपका सोशल और अपनी छोटी साइकिल चला रखी है इसमें तेल डालने वाले आग आग उगलने वाले ज्यादा है क्योंकि अगर आपसे बात नहीं कर रहा है या फिर आप किसी को ऐसा सपोर्ट सिस्टम आपके पास समय नहीं अवेलेबल है तो क्या होता है हमारा माइंड 1 पॉइंट से दूसरा इवन प्वाइंट पकड़ता है दूसरा तीसरा चौथा पांचवा पकड़ने चला जाता हूं चलती है और काफी बिजी हो कहीं ऐसा होता है इंसान यह कर लेता है तो सेट कर ले अच्छे दोस्त हमेशा लाइफ में अच्छे किताबें पढ़ो और सोशल मीडिया में कंजक्शन से दूर हो चुके सोशल मीडिया में मैसेज हमें जाने अनजाने में मिक्स करके जाती है तो तब से मन करता है आपके साथ में आगे झुकता है उसको नहीं पता
Jyaada to susaid shaharon mein hee kyon hote hain dekhen susaid jab hota hai to chor reejan aaph dhyaan mein loge to socha aaj upasthiti jo hai baaten kar letee hai ek tareeke ke vichaaron mein phasalon ke digreding vichaar hai jo ki nigetiv vichaar hai aur jo vichaaron ke saath ghoomate ghoomate ghoomate ghoomate jaatee hai ki aapake jaan aapakee khud kee jaan lene ke lie aap aur par ho jae to use gherakar baith hota hai jahaan par aapaka soshal intarekshan sabase jyaada hoga gaanv mein gaanv ke bal par kya hota hai abhee aap dekhe ki shaharon mein phlait se seene indivijualistik jahaan par ek ghar mein agar koee rah raha hai to doosare baajoo vaale ghar mein pata nahin hota to isee tareeke se yah jo phlait seting ka kalchar ya phir isake andar kya hota hai hamaara jo soshal meediya to aapase baat nahin karega aap to mere mein intarest karoge lekin vahaan par aap eksapreshan oph imoshan khulakar nahin kar sakate ho gaanv ke leval par aapako ek aisee koshish to apane aap mil jaatee hai ki kuchh bhee kaam jyaada ho gaya to turant gaanv mein pata chalata hai log ab to poochhate bhee tareeke se ho to aap insaan banate ho hamen imoshanal ho raha hai aur usakee haalat bhee gaanv mein is tareeke se pojitiv hote hain taaki enephes hava hai anek poora heldee enavaayarament vahaan par hota hai to agar apan shaharon ke hit mein dekhenge to shaharon mein kaam karane vaale log unake kaam ke tareeke bhee alag hai too gaanv mein ophis ka kaam nahin chalata hai gaanv gaanv mein jo bhee maiksimam kaam chalata hai vah chalata hai khetee-baadee limited dijital aate khud kee jagah mein rahate ho aap ophis mein jaate ho itana bhee nahin to aap le rahe ho apane tujhe har aadamee ke saath mein utaar-chadhaav aise taim aaenge sabake saath mein chalate rahata hai aur aap ke rahate ho maan baap rahate hain vah aapako dekhate hain aap ke aajoo-baajoo vaale log aapako dekhate hain agar aap chaahe dipharens dekhate ho to aapako poochh sakate to poochhate hain kya hua hai khaana sahee nahin kha rahe hain ya phir bhee apane hee apane room paanee nikala ki nahin maana jaata hai ki vhaatsep karane ke lie koee cheej nahin hotee hai aapake saamane aapaka soshal aur apanee chhotee saikil chala rakhee hai isamen tel daalane vaale aag aag ugalane vaale jyaada hai kyonki agar aapase baat nahin kar raha hai ya phir aap kisee ko aisa saport sistam aapake paas samay nahin avelebal hai to kya hota hai hamaara maind 1 point se doosara ivan pvaint pakadata hai doosara teesara chautha paanchava pakadane chala jaata hoon chalatee hai aur kaaphee bijee ho kaheen aisa hota hai insaan yah kar leta hai to set kar le achchhe dost hamesha laiph mein achchhe kitaaben padho aur soshal meediya mein kanjakshan se door ho chuke soshal meediya mein maisej hamen jaane anajaane mein miks karake jaatee hai to tab se man karata hai aapake saath mein aage jhukata hai usako nahin pata

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
किसी स्त्री या पुरुष में डिप्रेशन के लक्षण कैसे पता कर सकते हैं?Kisi Stree Ya Purush Me Depression Ke Lakshan Kaise Pata Kar Sakte Hai
Deven  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deven जी का जवाब
Valuepreneur Adventurer Life Explorer Dreamer
1:59
किसी स्त्री या पुरुष में डिप्रेशन के लक्षण कैसे पता कर सकते हैं लेकिन प्रेस इंसान होता है एक तो उसका वेट बढ़ने लग जाएगा थोड़ा चेहरे पर बैलेंस आ जाएगा चेहरे पर और आप देखोगे कि उसके इंटरेक्शन बहुत ही कम हो गया है बाकी लोगों के साथ में है नहीं फोन पर बात होती है या फिर और किसी भी लोगों के साथ में बहुत कम मिलता है और कितनी फंक्शन सोशल फंक्शन में बहुत कम हो जाता है वही क्या-क्या डालता है अगर आप उसको ऐसी जगह ले कर जाने की कोशिश करोगे तो वह अपने आप में ही एक अपने विचारों की ट्रेन में वह इंसान हमेशा रहता है और उसके साथ-साथ बहुत ज्यादा नींद लेना काफी देर तक नींद लेते हैं तो ऐसा लगता है जिसके अंदर अशोक 10th में पता चल सकता है कि मैं डिप्रेशन में ही नहीं और अगर मान लो कि यह लखन काफी दिन तक यह चल रहा है अगर इस तरीके का बिहेवियर इंसान अनप्रॉडक्टिव हो जाता है तो आप डॉक्टर को दिखाइए उसको ब्रेन वाले डॉक्टर को दिखाइए वहां से पता चल जाता है में केमिकल की केमिकल भी टेस्ट होती है और अगर ज्यादा ही कोई डिप्रेशन में है तो उनको मेडिकेशंस करके तुरंत ही ऊपर लाया जाता है उस लेवल से बाहर निकाला जाता है कोशिश यही रहेगी ना चाहिए हमारी कि हम लोग डिप्रेशन किसी भी परिस्थिति में कुछ भी परिस्थितियों आर्मी में अगर उस टाइप का हमारा माइंड का फ्रेमवर्क कुछ देर के लिए बंद भी जाए तो सो जाओ सो जाओ या फिर अपने दिनचर्या को अपने एक डिफाइन तरीके से चला कि मैं सुबह 1:00 बजे उठ के यह करूंगा यह करूंगा यह करोगे तो यह जो तेल डिप्रेशन वाली निकल जाती है कुछ दिनों में निकल जाती लेकिन क्या है आप अगर एक बार उसके थॉट प्रोसेस में चले गए गुजरे तो यह भी आपको नीचे लेकर जाती आप यह सोचते हो जाती क्या आप एक खाई में जा कर चले जाते
Kisee stree ya purush mein dipreshan ke lakshan kaise pata kar sakate hain lekin pres insaan hota hai ek to usaka vet badhane lag jaega thoda chehare par bailens aa jaega chehare par aur aap dekhoge ki usake intarekshan bahut hee kam ho gaya hai baakee logon ke saath mein hai nahin phon par baat hotee hai ya phir aur kisee bhee logon ke saath mein bahut kam milata hai aur kitanee phankshan soshal phankshan mein bahut kam ho jaata hai vahee kya-kya daalata hai agar aap usako aisee jagah le kar jaane kee koshish karoge to vah apane aap mein hee ek apane vichaaron kee tren mein vah insaan hamesha rahata hai aur usake saath-saath bahut jyaada neend lena kaaphee der tak neend lete hain to aisa lagata hai jisake andar ashok 10th mein pata chal sakata hai ki main dipreshan mein hee nahin aur agar maan lo ki yah lakhan kaaphee din tak yah chal raha hai agar is tareeke ka biheviyar insaan anaprodaktiv ho jaata hai to aap doktar ko dikhaie usako bren vaale doktar ko dikhaie vahaan se pata chal jaata hai mein kemikal kee kemikal bhee test hotee hai aur agar jyaada hee koee dipreshan mein hai to unako medikeshans karake turant hee oopar laaya jaata hai us leval se baahar nikaala jaata hai koshish yahee rahegee na chaahie hamaaree ki ham log dipreshan kisee bhee paristhiti mein kuchh bhee paristhitiyon aarmee mein agar us taip ka hamaara maind ka phremavark kuchh der ke lie band bhee jae to so jao so jao ya phir apane dinacharya ko apane ek diphain tareeke se chala ki main subah 1:00 baje uth ke yah karoonga yah karoonga yah karoge to yah jo tel dipreshan vaalee nikal jaatee hai kuchh dinon mein nikal jaatee lekin kya hai aap agar ek baar usake thot proses mein chale gae gujare to yah bhee aapako neeche lekar jaatee aap yah sochate ho jaatee kya aap ek khaee mein ja kar chale jaate

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
तनाव कम करने के लिए हम क्या क्या कर सकते हैं?Tanaav Kam Karne Ke Liye Hum Kya Kya Kar Sakte Hai
Deven  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deven जी का जवाब
Valuepreneur Adventurer Life Explorer Dreamer
4:17
तनाव कम करने के लिए हम क्या क्या कर सकते हैं सबसे बलम देखते कितना नाम होता है कि वह ट्रेन कब आता है जब दोनों अपॉजिट टाइप के बीच 4 एकड़ जमीन के अंदर में और उसके माइंड डिटेल भी नहीं पहुंच पाता है या तो फिर काफी प्रेशर रेस कंडीशन में हम लोग काम करते हैं तब जाके तनाव क्रिएट होता है महीने के अंदर बहुत बारे में डिटेल से रहते हम लोग कि यदि पर ले या ना ले हाथ डाले नहीं डाले इसको क्या बोलूं क्या नहीं बोलूं वैसे काफी चीजें माइंड के अंदर कल से सनसनी चलती रहती है तनाव कम करने के लिए सबसे बेहतरीन उपाय क्या है इस के इस सबसे पहले आप क्या कीजिए कि स्मृति एक्सरसाइज करो कि साइंटिफिकली 1500 के बॉडी में बॉडी क्वायरिंग उचित लगता है और इस तरीके के केमिकल खुशी खरीद करता है जो अपने आप में एंटीक प्रेस निकलते हैं थैंक यू फील होता है में केमिकल के वजह से माइंड के अंदर कुछ न कुछ केमिकल सीक्रेट होता है जब हम लोग 30 तारीख का अलग टाइप की भी चार्ज करने में होता है तो उसके अगेंस्ट में काम कर उसे जाकर काम करना है रोजमर्रा की जिंदगी में यह होगा नरेश आएगा आपको काम करते रहेंगे अलग अलग टाइप के पीछे रहेंगे अब उसको हम बैठ कर नेट कम रखना है और उस उससे भी बेहतरीन प्रोडक्ट बोलेंगे तो सबसे पहला कहानियां के एक्सरसाइज करनी है तो वह एक ऐसे केमिकल को रिलीज करता है बॉडी में एक्सरसाइज नॉर्मल से 90 मिनट सब फालतू वाकिंग करते हो वह भी चलेगा उसके वजह से एक्स्प्रेस का लेवल कम होता है चेक कर हमेशा मेडिटेशन की प्रैक्टिस कीजिए मेडिटेशन कीजिए नहीं कीजिए सुबह कीजिए शाम को किसी कभी भी कीजिए 15 से 20 मिनट का मेडिटेशन की मेडिटेशन करने चाहिए मोबाइल के अंदर की जो वे उस होती है अल्फा बीटा थीटा 3 टाइप की भी हद होती है इसके अंदर में फ्लोरेंस होती है हमारी तो हम लोग धीरे-धीरे स्लो है उसकी प्रेक्टिस करते रहेंगे तो कितना भी तनाव होने के बाद भी माइंड शांत रहता है और अच्छी रिजल्ट ले पाता है यह दो चीज हो गई इसका यह के डिस्ट्रिक्ट को लेकर सोचेंगे क्योंकि हमारे थॉट प्रोसेस की वजह से ही उत्पन्न होता है तो बेफिक्र होकर काम करें जैसे कि जैसे कि पागल जैसे फॉर एग्जांपल अपने मला इसमें से रखना प्रपोज क्लियर 2934 चीज है कि जो क्लेम क्राइम करने लाइन के अंदर में उसी से हमारे मन में अगर फिर से मिली हो गया पैसा चाहिए हमेशा दिमाग की शांति सिनेमा हॉल चाहिए हमेशा करती और उसके एलाइनमेंट शॉप के अलग-अलग बीआईबीएस होंगे तो आपको क्लियर कट होता है मेल मैसेजेस को नहीं करना है किसको नहीं बोलना है यह यह मिशन बस लगाना प्रपोज किया है मैंने मैं जी रहा हूं तो किसकी लाइफ जी लूंगा तक चली जाती है कितने तारीख की है तो इस तरीके से उन चीजों को डिफाइन करें खाने की चीज फिल्म जी ही रहे कौन सी कौन सी चीज है कि जिसको जिसको प्राइवेट में फिर उसके बाद में हमारी सोच जो है उसके अंदर एनरिक बने निशांत लेकिन हमें लोगों से बाकी लोगों की तुलना नहीं करनी कंपैरिजन नहीं करना है तो कंपैरिजन करोगे तो भी आप कल आऊंगा कंपैरिजन बिना किए बिना आपके ऊपर काम कर ले अपना मेडिटेशन अपना काम और किस तरीके से आप खुद से बेहतर हो सके तो कल से उसको काम करते रहना कंसिस्ट और कंसिस्टेंसी चाहिए क्योंकि जहां पहुंचने आपको 5 6 7 8 9 10 मैंने की संस्कृत में चाहिए आपको रिजल्ट देखना शुरू हो जाएगा उक्त ऐसे छोटे-छोटे रिजल्ट आप को देखेंगे तो बिल्कुल हॉस्पिटल अपने आप दोनों को लेकर विल पावर और कॉन्फिडेंस जो है यह मंगल के दिन अपने आप ही आपका जो तनाव वाला क्षेत्र है यह विचार है वह अपने आप सब साइड होते हैं
Tanaav kam karane ke lie ham kya kya kar sakate hain sabase balam dekhate kitana naam hota hai ki vah tren kab aata hai jab donon apojit taip ke beech 4 ekad jameen ke andar mein aur usake maind ditel bhee nahin pahunch paata hai ya to phir kaaphee preshar res kandeeshan mein ham log kaam karate hain tab jaake tanaav kriet hota hai maheene ke andar bahut baare mein ditel se rahate ham log ki yadi par le ya na le haath daale nahin daale isako kya boloon kya nahin boloon vaise kaaphee cheejen maind ke andar kal se sanasanee chalatee rahatee hai tanaav kam karane ke lie sabase behatareen upaay kya hai is ke is sabase pahale aap kya keejie ki smrti eksarasaij karo ki saintiphikalee 1500 ke bodee mein bodee kvaayaring uchit lagata hai aur is tareeke ke kemikal khushee khareed karata hai jo apane aap mein enteek pres nikalate hain thaink yoo pheel hota hai mein kemikal ke vajah se maind ke andar kuchh na kuchh kemikal seekret hota hai jab ham log 30 taareekh ka alag taip kee bhee chaarj karane mein hota hai to usake agenst mein kaam kar use jaakar kaam karana hai rojamarra kee jindagee mein yah hoga naresh aaega aapako kaam karate rahenge alag alag taip ke peechhe rahenge ab usako ham baith kar net kam rakhana hai aur us usase bhee behatareen prodakt bolenge to sabase pahala kahaaniyaan ke eksarasaij karanee hai to vah ek aise kemikal ko rileej karata hai bodee mein eksarasaij normal se 90 minat sab phaalatoo vaaking karate ho vah bhee chalega usake vajah se ekspres ka leval kam hota hai chek kar hamesha mediteshan kee praiktis keejie mediteshan keejie nahin keejie subah keejie shaam ko kisee kabhee bhee keejie 15 se 20 minat ka mediteshan kee mediteshan karane chaahie mobail ke andar kee jo ve us hotee hai alpha beeta theeta 3 taip kee bhee had hotee hai isake andar mein phlorens hotee hai hamaaree to ham log dheere-dheere slo hai usakee prektis karate rahenge to kitana bhee tanaav hone ke baad bhee maind shaant rahata hai aur achchhee rijalt le paata hai yah do cheej ho gaee isaka yah ke distrikt ko lekar sochenge kyonki hamaare thot proses kee vajah se hee utpann hota hai to bephikr hokar kaam karen jaise ki jaise ki paagal jaise phor egjaampal apane mala isamen se rakhana prapoj kliyar 2934 cheej hai ki jo klem kraim karane lain ke andar mein usee se hamaare man mein agar phir se milee ho gaya paisa chaahie hamesha dimaag kee shaanti sinema hol chaahie hamesha karatee aur usake elainament shop ke alag-alag beeaeebeees honge to aapako kliyar kat hota hai mel maisejes ko nahin karana hai kisako nahin bolana hai yah yah mishan bas lagaana prapoj kiya hai mainne main jee raha hoon to kisakee laiph jee loonga tak chalee jaatee hai kitane taareekh kee hai to is tareeke se un cheejon ko diphain karen khaane kee cheej philm jee hee rahe kaun see kaun see cheej hai ki jisako jisako praivet mein phir usake baad mein hamaaree soch jo hai usake andar enarik bane nishaant lekin hamen logon se baakee logon kee tulana nahin karanee kampairijan nahin karana hai to kampairijan karoge to bhee aap kal aaoonga kampairijan bina kie bina aapake oopar kaam kar le apana mediteshan apana kaam aur kis tareeke se aap khud se behatar ho sake to kal se usako kaam karate rahana kansist aur kansistensee chaahie kyonki jahaan pahunchane aapako 5 6 7 8 9 10 mainne kee sanskrt mein chaahie aapako rijalt dekhana shuroo ho jaega ukt aise chhote-chhote rijalt aap ko dekhenge to bilkul hospital apane aap donon ko lekar vil paavar aur konphidens jo hai yah mangal ke din apane aap hee aapaka jo tanaav vaala kshetr hai yah vichaar hai vah apane aap sab said hote hain

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
अच्छे स्वास्थ्य के लिए मुझे रोज पानी में क्या मिलाकर पीना चाहिए?Ache Swasthya Ke Liye Mujhe Roj Paani Me Kya Milakar Peena Chahiye
Deven  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deven जी का जवाब
Valuepreneur Adventurer Life Explorer Dreamer
1:17
अच्छे स्वास्थ्य के लिए मुझे रोज पानी में क्या मिलाकर पीना चाहिए और देखें अब पानी अपने आप में स्वास्थ्यवर्धक है इसलिए पानी में कुछ एक्सेस मिलाने की जरूरत नहीं है पानी को जब तुम फर्स्ट टाइम ऑफ मॉर्निंग पीते हो तो उसको बहुत ठंडा नहीं पीना है गुनगुना चाहिए वह बना रहेगा तो काफी असरदार होता है क्योंकि पानी चाहे जो टेंपरेचर और हमारे ब्लड के टेंपरेचर गुनगुना कहते हैं तो वह पानी हमारे पेट में जाता है खाली होता है पेट सुबह और वहां से डिफ्यूज होता है हमारे ब्लड के अंदर हमारे बाकी तेरे अंदर में तो रात भर ऐसे जैसे रात को हम सोए हैं जब से लेकर सुबह तक जब तक होते हैं उतने देर तक पूरी चंद्र किसी ने का पानी नहीं जाता है उस समय तक रेल काम करते रहती है अरे मेटाबॉलिक रेट पानी का रहते हैं पेट में फंसते बराबर तो हमें प्लस साइड इफेक्ट मिलता है बॉडी से तो पहले डेढ़ घंटे में 1 घंटे में हमने 1 लीटर पानी खत्म कर लेना चाहिए अगर आपको कुछ मिलाना है आप इसके अंदर आमला पाउडर मिला सकते हो आमला पाउडर पर रोज पीजिए रिक्वेस्ट भेजने को एक अम्रुतावनी आंवले का पाउडर या आंवले का जूस
Achchhe svaasthy ke lie mujhe roj paanee mein kya milaakar peena chaahie aur dekhen ab paanee apane aap mein svaasthyavardhak hai isalie paanee mein kuchh ekses milaane kee jaroorat nahin hai paanee ko jab tum pharst taim oph morning peete ho to usako bahut thanda nahin peena hai gunaguna chaahie vah bana rahega to kaaphee asaradaar hota hai kyonki paanee chaahe jo temparechar aur hamaare blad ke temparechar gunaguna kahate hain to vah paanee hamaare pet mein jaata hai khaalee hota hai pet subah aur vahaan se diphyooj hota hai hamaare blad ke andar hamaare baakee tere andar mein to raat bhar aise jaise raat ko ham soe hain jab se lekar subah tak jab tak hote hain utane der tak pooree chandr kisee ne ka paanee nahin jaata hai us samay tak rel kaam karate rahatee hai are metaabolik ret paanee ka rahate hain pet mein phansate baraabar to hamen plas said iphekt milata hai bodee se to pahale dedh ghante mein 1 ghante mein hamane 1 leetar paanee khatm kar lena chaahie agar aapako kuchh milaana hai aap isake andar aamala paudar mila sakate ho aamala paudar par roj peejie rikvest bhejane ko ek amrutaavanee aanvale ka paudar ya aanvale ka joos

#जीवन शैली

Deven  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deven जी का जवाब
Valuepreneur Adventurer Life Explorer Dreamer
4:51
किस प्रकार एक मनुष्य परिस्थितियों को बदल दिया परिस्थितियां मनुष्य को बदल सकती है लेकिन अकेले में नहीं करती जब ह्यूमन बिंग साथ पैदा होते हैं उनके आसपास होते हैं उनका एक बार भी एनुअल मीट आदि उपस्थित थे हमारा कंट्रोल नहीं होता है और यह जो इफेक्ट होता है जो ह्यूमन लाइफ बनती है यह शिव मंत्र इफेक्ट उनके परिस्थितियों पर उस परिस्थिति का एक ही मन में ये दोनों का मिश्रण होता है एक सिंपल सा एग्जांपल देता अभी कोविड-19 लेना कल मैं आपकी सिचुएशन अच्छी बनी है कि कोई एक महामारी चल तो यह परिस्थिति में सुमन लाइफ इंपैक्ट हुई है और सुमन लाइट्स ने परिस्थिति को भी इंपैक्ट किया है आने पर टूटी वहां से जैसे वैक्सिंग फ्रेश होना या सोशल डिस्टेंसिंग मांगता हूं तो यह ह्यूमन अकेले नहीं जी सकता उसने इनको हमेशा इंवॉल्वमेंट साथी जीवन जीना पड़ता क्योंकि हमारा हम अविभाज्य घटक है इस यूनिवर्सल अब एक परिचित क्या होता है कि एक मनुष्य के अंदर में जब अर्जित परिस्थितियों में रह रहे उपस्थित है बहुत बार ऐसा होता है कि अगर मनुष्य अवेयरनेस को जानकारी नहीं होती के किस तरीके से बाहरी परिस्थिति उसके माइंड के अंदर कर ली तो धीरे-धीरे क्या होता है या सरकंडी में चलते रहते तो क्या यह इंटरेक्शन आपका कंटिन्यू चल रहा है उस परिस्थिति में उन लोगों के साथ हो फिर भी हमें उस माहौल में आप पढ़ रहे हो पढ़ रहे हो पढ़ रहे हो तो देदे क्या होता है कि आप इस बात पर गौर करना आप जैसे अच्छे लोगों के साथ रहते हो मैंने जो भी सोच आपके घर वालों की होगी आपके दोस्तों के होगी उसे अपने आप और किसी और यह खुद तो पर गांव करना या फिर अपने आसपास के लोगों पर कॉल कर उनकी सोच के ऊपर कॉल करना ही क्यों होता है क्योंकि आप चाहो या ना चाहो तो भी आप जब प्रेम हंड्रेड परसेंट वर्किंग मॉडल ऑफ 714 बीपी पिक्चर दो तभी तो आप जाते हो तो आप बहुत सारी चीजों को कंट्रोल नहीं करते आप क्या कौन क्या कर रहा है आप क्या टीवी देख लो आप फेसबुक पर क्या देख लो कंट्रोल नहीं करते और हमारे प्रेम को क्या होता है कि ऐसे नए चीजों से बुरा लगा होता है यूट्यूब में उसको पढ़ना अच्छा लगता है नहीं हम पढ़ते हैं बहुत ऐसी न्यूज़ हम पढ़ते क्राइम को लेकर बड़ा अच्छा लगता है सब पढ़ने में प्रेम को पढ़ते भी रहते हैं लोगों से सुनते रहते हैं पिक्चर और ज्यादा तो तुम करते क्या हो रहा है जाने अनजाने में परिस्थितियों के छोटे-छोटे घटक है जो आपके ऊपर अभी प्रभाव डालता के प्रेम और वैसे ही उल्टा प्रतिबल लेकिन होता है क्या है कि मनुष्य उतना अगर ही नहीं होता है उसकी लाइफ में क्यों क्यों पूरे जग भर में क्यूट है से तीन परसेंट लोग इससे स्कूलों का चोर बाकी के लोग नहीं होगा इसका कारण यह है कि बहुत सारे लोग का रास्ता उनके जीवन में वह सुबह उठते हैं काम पर जाते हैं शाम को खाना खाते हो सोते हैं और लगभग यही चलता मैं कल एलपीजी दौड़ते एकदम से कुछ संकट आ जाता है अब घबरा जाते थोड़ा बहुत उच्च विचार करते हैं या नहीं भी करते लेकिन मनुष्य की लाइफ के स्तर पर है जिस से भी ऊपर उठना है और यह उठना ही चाहिए क्योंकि तभी तो उसका मीनिंग है कि ना पहने जल्दी कहां जाएगा खुद पर काम करना आप मेडिटेशन कर और कुछ अच्छा ट्रीन लहरपुर खुद के ऊपर पंकिस्तान काम करना तो उससे क्या होता 1st लेवल बढ़ जाएगा जड़ से साफ क्या भेजने फिल्म लेवल बढ़ती जाएगी आप पर ही कोई नफरत करना शुरू करो आपको फर्क नहीं पड़ता है कि बाहर में क्या हो रहा है आपके हिसाब से आप की चीजें करते हो और आप आओ वेयर रहते हो ऐसे लोगों के बारे में ऐसी परिस्थिति के बारे में जो आकर को धड़क रही है और नेगेटिव एनर्जी आपके अंदर डालनी है अपने आप आगे रहने से क्या होता है वह चीज में आएगी आप जैसा फोर व्हीलर चला रहे हो आप अकेले हो कि कोई आकर खुद धड़कन तो उस हिसाब से आप लेफ्ट राइट करते रहना चाहिए अगर लाइफ में होना है अगर उसको तिलक से ही रख लो गणपति सुपरहिट

#जीवन शैली

bolkar speaker
मानसिक को स्वस्थ रखना हमारी प्राथमिकता क्यों होनी चाहिए?Maanasik Ko Svasth Rakhana Hamaaree Praathamikata Kyon Honee Chaahie
Deven  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deven जी का जवाब
Valuepreneur Adventurer Life Explorer Dreamer
3:06
मानसिक को स्वस्थ रखना हमारी प्राथमिकता क्या होनी चाहिए मैं समझता हूं कि मानसिक स्वास्थ्य की बात कर रहे हैं देखिए हमारी लाइफ के अंदर में जो भी चीज डाल रही है जो भी चीज हम समझ रहे हैं कर रहे हैं यार जो भी हमारे आज की अवस्था है क्यों है जो व्यवस्था है तो वह है हमारे स्टेम सेल के बजे ब्रेन हमारा विवेक तक लाइफ में ब्रेन यह एक मनुष्य जाति के पास बहुत ही इंटेलिजेंट ऑर्गेनिक बाकी जातियों के पास जितने इंटेलिजेंट नहीं है अगर है अभी तो उसने रिसर्च चल रही है या फिर वह लोग इतना एडवांस नहीं कर सकते हैं जितना ही निकाल ने किया है और ब्रेन आपकी लाइफ को चलाता है ब्रेन के बाकी सपोर्टिंग ऑर्गन सोते हैं बाकी के कैंसर जैसे ब्रेन के पास इंफॉर्मेशन कहां से पहुंचते जो हम देखते हैं जो सुनते हैं जो मेल करते हैं सच के रास्ते से फीलिंग चाहिए जो 5 दिन भी है कितने ट्रेन के पास इंफॉर्मेशन पहुंचती है और उससे इंफॉर्मेशन लेकर अपना अनुमान निकलता है हर आदमी का ब्रेन अपना अलग-अलग अनुमान निकलता है किसी भी रिलेशन को लेकर अगर अज्ञान है ज्यादा पढ़ा लिखा नहीं है भाई दलों के साथ रहता है कि वह भी ज्यादा पढ़े-लिखे नहीं है और बहुत अंधश्रद्धा या फिर ऐसी चीजों में उलझे हुए हैं कि जहां पर आयन की कमी है तो ऐसे समय उस आदमी का प्रेम की उसी टाइप का अनुमान निकालता है और एक अनुमान और वैसे डिसीजन क्लास के काफी प्रभाव पड़ता है इसलिए मानसिक स्वास्थ्य को सेल्फी रखना बहुत जरूरी है और मानसिक स्वास्थ्य रखना बोले तो क्या होता है बॉडी का स्वास्थ्य रखते हैं जो सही करके तो मानसिक स्वास्थ्य विचारों से बना जाता है जिसको न्यूरल पैटर्न क्रिएशन बाप बोला जाता है कि कोई भी आदत नवरंग पैटर्न में क्रिएट होती हमारे फ्रेंड के अंदर उस पार्टी प्लॉट किसी भी विचार कि कभी दिल की जो आदत बनती है यह उस कंट्री में सोच के हिसाब से बनती है तो यह यह पर स्थापित करना बहुत जरूरी है कुछ चीजें आवश्यक है पहली बात है एक एक दोस्त है कि वह अपने आप अपने मानसिक स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है दूसरा हेड मेडिटेशन कि आपने ब्रेन के अंदर में भारतीय मॉडल देखना है अब तो बाकी फ्रेंड लोग को शांत करता है यह दो चीजों के अलावा अच्छी किताबें पढ़ना अच्छे लोगों के साथ रहना अच्छा नहीं क्या होता है अच्छा है नहीं किताब अगर पढ़ोगे तो आपको एक लेखक एक परफेक्ट टू लाइफ का जो है आपको समझा कर बताता है उसके अंदर जो आप अपनी चित्र नहीं कर सकते बुक्स आप समझ पाते यह सब चीजों से आपकी हो रही पेटर्न चेंज होते पर सेक्शन चेंज होता और अखिलेश की क्वालिटी सुधर

#जीवन शैली

bolkar speaker
क्या ज्यादा पानी पीने से शरीर को कोई नुकसान होता है?Kya Jyada Pani Pine Se Sharir Ko Koi Nuksan Hota Hai
Deven  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deven जी का जवाब
Valuepreneur Adventurer Life Explorer Dreamer
1:06
क्या ज्यादा पानी पीने से शरीर को क्या नुकसान होता है जी नहीं पानी की मात्रा हमारे शरीर में 304 लीटर की डेली बेसिस पर जाना ही चाहिए हम जितना पानी पीते हैं तो पानी से हमारा जो इंटरनेट पॉपुलर सॉन्ग होता है क्योंकि आपने को तीरथ बॉडी के अंदर जबलपुर परसेंट फॉर क्वार्टरली होता है तो इस वाटर को रिप्लाई 14 तक तुम तो जो है पानी के थ्रू प्लस आउट होते हैं कंटिन्यू पानी पीने से हम लोग जो हम खाते हैं तो वह भी रेगुलेशन है बहुत ज्यादा हम खाते नहीं है और औरत पानी पीते रहना चाहिए तुम मॉर्निंग में उठते बराबर हो तब के पहले 2 घंटे के अंदर धीरे-धीरे करके आपको 1 लीटर पानी खत्म करना चाहिए फिर 10 दिन भर में कुल मिलाकर आपने 4 लीटर के आसपास पानी पी लेना चाहिए यह रिक्वेस्ट आपको हमेशा खुश को भी जाने अनजाने में आपकी बहुत सारे लोग होते बचोगे अगर इतना पानी आपकी रहे हो

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
झूठे प्रेम का आखिरी पड़ाव क्या है जो कि ज्यादातर लड़के करते हैं?Jhute Prem Ka Akhri Padaav Kya Hai Jo Ki Jyadatar Ladke Kerate Hai
Deven  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deven जी का जवाब
Valuepreneur Adventurer Life Explorer Dreamer
1:50
छोटे प्रेम का आखिरी पड़ाव क्या है जो कि ज्यादातर लड़के करते हैं लेकिन पार्टी छोड़ दी गिरिप्रेमी कमजोर होती है कि इनमें कभी सफल नहीं होता है आपको मजा आ सकता है उस टाइम में जवाब चाहिए प्रियंका को शुरू है लेकिन एंड जो होता है इसका इनमें आपस में आई एम ओ एम रिक्वेस्ट करते हो और आपकी लाइफ कि वह एनर्जी भेज होती है जो कि इनके हमारे लिमिटेड होती है वैसे वैसे तो वहां पर कुछ इमोशनल पोयम्स अटैच हो जाते हैं अगर लड़के ने बताया होगा तो लड़की की मौसम कोई ज्यादा अटैच हो जाएगी लड़के को फर्क नहीं पड़ेगा या लड़की ने फंसा है होगा तो लड़के के इमोशनल पॉइंट पर टाइप हो जाएगा मैं समझता हूं कि हम ही अधिकार नहीं है कि किसी की इमोशनल पॉइंट अटैच करके उनकी वह एनर्जी वह इमेज करें क्योंकि उनको सा टाइम भी गया उनको खड़े भी होना लाइफ में और फिर से आगे बढ़ना है तो इमोशनल हो जाता है निकल रहे थे समझे कि यह किस तरीके से आगे बढ़ने बढ़ाना ए रिलेशनशिप अखिलेश झूठ की बुनियाद पर खड़ी करी थी ले रखे चीज है और फिर आगे बढ़े और बोल दो कि आप एक दोस्त की तरह रहे और फिर आगे बढ़ चुकी अगर आप प्यार के झूठे वादों कसमों में पड़ जाते हो चाहे प्रेशर से हो इंटेंशन अनइंटेंशनल तो उसके बाद में उसके बाद में यह होता है कि जरूर होता है कि आपको उसके बाद दिक्कत होती है जब आप उस में रिटर्न आ जाता है या क्वेश्चन आफ कंप्यूटेशन कहा जाता है तू कितनी अच्छी चीजें क्लियर होगी पार्टनर के साथ कितना आगे पढ़ने में आसानी होगी चाहे आप आगे लाइफ में कंबाइन रहना चाहते नहीं रहना चाहता लेकिन चीजें क्लियर रहोगे तो आगे बढ़ने में ज्यादा आसानी होगी
Chhote prem ka aakhiree padaav kya hai jo ki jyaadaatar ladake karate hain lekin paartee chhod dee giripremee kamajor hotee hai ki inamen kabhee saphal nahin hota hai aapako maja aa sakata hai us taim mein javaab chaahie priyanka ko shuroo hai lekin end jo hota hai isaka inamen aapas mein aaee em o em rikvest karate ho aur aapakee laiph ki vah enarjee bhej hotee hai jo ki inake hamaare limited hotee hai vaise vaise to vahaan par kuchh imoshanal poyams ataich ho jaate hain agar ladake ne bataaya hoga to ladakee kee mausam koee jyaada ataich ho jaegee ladake ko phark nahin padega ya ladakee ne phansa hai hoga to ladake ke imoshanal point par taip ho jaega main samajhata hoon ki ham hee adhikaar nahin hai ki kisee kee imoshanal point ataich karake unakee vah enarjee vah imej karen kyonki unako sa taim bhee gaya unako khade bhee hona laiph mein aur phir se aage badhana hai to imoshanal ho jaata hai nikal rahe the samajhe ki yah kis tareeke se aage badhane badhaana e rileshanaship akhilesh jhooth kee buniyaad par khadee karee thee le rakhe cheej hai aur phir aage badhe aur bol do ki aap ek dost kee tarah rahe aur phir aage badh chukee agar aap pyaar ke jhoothe vaadon kasamon mein pad jaate ho chaahe preshar se ho intenshan anintenshanal to usake baad mein usake baad mein yah hota hai ki jaroor hota hai ki aapako usake baad dikkat hotee hai jab aap us mein ritarn aa jaata hai ya kveshchan aaph kampyooteshan kaha jaata hai too kitanee achchhee cheejen kliyar hogee paartanar ke saath kitana aage padhane mein aasaanee hogee chaahe aap aage laiph mein kambain rahana chaahate nahin rahana chaahata lekin cheejen kliyar rahoge to aage badhane mein jyaada aasaanee hogee

#जीवन शैली

bolkar speaker
क्या डर के कारण सब कुछ खोना सही है?Kya Dar Ke Karan Sab Kuch Khona Sahi Hai
Deven  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deven जी का जवाब
Valuepreneur Adventurer Life Explorer Dreamer
2:51
क्या डर के कारण सब कुछ खोना यही है दोस्तों लाइक कीजिए सब्सक्राइब कीजिए गा डर के कारण सब कुछ खोना कैसे चाहिए हो सकता है क्योंकि डर ही जब तू ही नहीं है तो डर के कारण सब कुछ हो जाए तो ऐसी चीजें तो ऐसी चीज होगी कि जो चीज पता है कि है ही नहीं और उस वजह से हमने जो कुछ है वह भी छोड़ दिया तो इसके वजह से डर के कारण सब कुछ होना सही नहीं है क्योंकि हम जो बोलते डर तो इसके अगर पेड़ भी चलते की है क्या धड़के है दरअसल इज्जत नहीं करता है यह तो हमें फील होता है अगर अगर हेलो की हाल है आज के आगे चल रही है और आप के अंदर नहीं जाना चाहते और आप और आपको कोई धकेलने की कोशिश कर रहा है उससे मगर आप को डर लगता है तो वह दरवाजे में क्योंकि वहां पर फिजिकली आ गए हो जो आपको जला देगी इलेक्ट्रिक करंट है अगर कहीं पर और इलेक्ट्रिक करंट में लगातार किंग हो रहा पर आप खड़े हो रखा हाथ लग सकता है आपको डर लग रहा है तो या फिर एक खाली रास्ते पर जो कि एक एक सुनसान सी जगह हो जहां पर ऑलरेडी कुछ ऐसी घटनाएं हुई वह चोरी किया लूटपाट की और ऐसे रोड से अगर रात को आप पैदल चल रहे हो तो डर लग सकता है वाजिब है क्योंकि प्रोटेक्टेड नहीं है लेकिन अगर मैं घर बैठे बैठे सोच लो कि मेरा बिजनेस में यह कामयाब होगा क्या मैं यह रिलेशनशिप में कामयाब रहेंगे कि नहीं रहेंगे या अब मुझे इसमें मार्स मिलेंगे नहीं मिलेंगे यह दिल नहीं है क्योंकि इसके अंदर दोस्त खाली पिक्चर बनी हुई है और उस पिक्चर को आप डर रहे हो समझ रहे हो दोनों दोनों कंपैरिजन ध्यान में रखिए कि पहला जो डर है फिर मेरे सामने आ जाए तो मुझे डरना चाहिए को किसी ने मेरे मुझे धोखा हो सकता है लेकिन बाकी चीजों में अपने डरने से डरने की जरूरत नहीं आपको क्या डर आ रहा है आपको डराने आपका हाल है और आपका आपकी जो काम करने की करतूत वन बनने की क्षमता है वह काम होने की वजह से आपको आपके ऊपर डाउट आ रहा है कि आप उसको कंप्लीट कर पाओगे या नहीं कर पाऊंगी लेकिन हाल ही में अगर किसी भी चीज को कंपटीशन पर लेकर जाना है सीधी सीधी प्रोसेस उसके लिए वह प्रोसेस फॉलो करना है ग्रुप प्रोसेस फॉलो करने में हिम्मत जुटा नहीं होती है और करना पड़ता है अगले स्टेट लेने पड़ते हैं क्योंकि यह डर होता है आंसर ट्रिनिटी के कारण हां बैठा होता है कि धीरे-धीरे बढ़ता है तो नेट पैक लेने के लिए यह रोकता है मैं क्या हमें इसकी और हमेशा ध्यान रखने की जगह जो है वह पिक्चर के रूप में है और ऑफ फ्यूचर के टाइम में भी नहीं करता तो उसको हमेशा माइंड में रखो कि अगर ऐसा कुछ डर लगे तो तुरंत दिया बता दो मैं इनको की एग्जिट नहीं करता यह ही नहीं सकते प्लीज कभी नहीं तेरे बाप के प्लान होने चाहिए तभी यह सिर्फ लेनी है
Kya dar ke kaaran sab kuchh khona yahee hai doston laik keejie sabsakraib keejie ga dar ke kaaran sab kuchh khona kaise chaahie ho sakata hai kyonki dar hee jab too hee nahin hai to dar ke kaaran sab kuchh ho jae to aisee cheejen to aisee cheej hogee ki jo cheej pata hai ki hai hee nahin aur us vajah se hamane jo kuchh hai vah bhee chhod diya to isake vajah se dar ke kaaran sab kuchh hona sahee nahin hai kyonki ham jo bolate dar to isake agar ped bhee chalate kee hai kya dhadake hai darasal ijjat nahin karata hai yah to hamen pheel hota hai agar agar helo kee haal hai aaj ke aage chal rahee hai aur aap ke andar nahin jaana chaahate aur aap aur aapako koee dhakelane kee koshish kar raha hai usase magar aap ko dar lagata hai to vah daravaaje mein kyonki vahaan par phijikalee aa gae ho jo aapako jala degee ilektrik karant hai agar kaheen par aur ilektrik karant mein lagaataar king ho raha par aap khade ho rakha haath lag sakata hai aapako dar lag raha hai to ya phir ek khaalee raaste par jo ki ek ek sunasaan see jagah ho jahaan par olaredee kuchh aisee ghatanaen huee vah choree kiya lootapaat kee aur aise rod se agar raat ko aap paidal chal rahe ho to dar lag sakata hai vaajib hai kyonki protekted nahin hai lekin agar main ghar baithe baithe soch lo ki mera bijanes mein yah kaamayaab hoga kya main yah rileshanaship mein kaamayaab rahenge ki nahin rahenge ya ab mujhe isamen maars milenge nahin milenge yah dil nahin hai kyonki isake andar dost khaalee pikchar banee huee hai aur us pikchar ko aap dar rahe ho samajh rahe ho donon donon kampairijan dhyaan mein rakhie ki pahala jo dar hai phir mere saamane aa jae to mujhe darana chaahie ko kisee ne mere mujhe dhokha ho sakata hai lekin baakee cheejon mein apane darane se darane kee jaroorat nahin aapako kya dar aa raha hai aapako daraane aapaka haal hai aur aapaka aapakee jo kaam karane kee karatoot van banane kee kshamata hai vah kaam hone kee vajah se aapako aapake oopar daut aa raha hai ki aap usako kampleet kar paoge ya nahin kar paoongee lekin haal hee mein agar kisee bhee cheej ko kampateeshan par lekar jaana hai seedhee seedhee proses usake lie vah proses pholo karana hai grup proses pholo karane mein himmat juta nahin hotee hai aur karana padata hai agale stet lene padate hain kyonki yah dar hota hai aansar trinitee ke kaaran haan baitha hota hai ki dheere-dheere badhata hai to net paik lene ke lie yah rokata hai main kya hamen isakee aur hamesha dhyaan rakhane kee jagah jo hai vah pikchar ke roop mein hai aur oph phyoochar ke taim mein bhee nahin karata to usako hamesha maind mein rakho ki agar aisa kuchh dar lage to turant diya bata do main inako kee egjit nahin karata yah hee nahin sakate pleej kabhee nahin tere baap ke plaan hone chaahie tabhee yah sirph lenee hai

#जीवन शैली

bolkar speaker
हम अपने मन की जिज्ञासा को कैसे शांत करें?Hum Apne Man Ki Jigaysa Ko Kese Shaant Kare
Deven  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deven जी का जवाब
Valuepreneur Adventurer Life Explorer Dreamer
1:33
हम अपने मन की जिज्ञासा को कैसे शांत करें जिज्ञासा को शांत क्यों करना है अगर हमारा मन है तो ऑफिस से अगर नहीं इसलिए हमारी करैक्टेरिस्टिक से और हमें नई नई चीजें पता करने के लिए मनी अचूक होता है हमारा हमेशा उस को जानने के लिए इच्छुक होता है मैं बोलूंगा अगर कोई चीज अगर आपके ऑनलाइन में है ने उस पता है आपको यह चीज मुझे जानना है पहचान जानने से मुझे यह फायदा होगा या फिर ऐसे ही मुझे डर क्यों रही थी कि यह चीज क्या होती है तो उस जिज्ञासा को खत्म करें उसको उसमें इंक्वायरी करो उसको खत्म कर हो सकता है कभी बार ऐसी जगह से आ जाती है जिसका हमारी लाइफ से कोई संबंध नहीं लेकिन ऐसा लगता है कि यह कैसे होगा सिर्फ हमें वहां एक जगह बैठने की जिज्ञासा एक चीज है और अट्रैक्शन एक चीज है जो जिज्ञासा को आप अगर कॉल कर लोगे मन शांत हो जाएगा अट्रैक्शन होगा यहां तो हम इंसान से वहां पर इमोशन को काम कर रहेगा जगह माइंड काम करते जहां पर कॉग्निशन है अट्रैक्शन में इमोशन काम कर देगा कॉग्निशन नहीं है एनी वहां पर गलत निर्णय हो सकता है ट्रक हो सकता है पांचवी तक तो उस जिज्ञासा को कंप्लीट करने के चक्कर में ऐसे कई बार आता है न्यूज़ पेपर में आता है या कहीं पर इसमें लॉटरी लगेगी इतनी इतने पैसों का तू जिज्ञासा नहीं है क्वार्टर एक्शन है वह इमोशनली ड्रिवन होती है क्योंकि हमें पता होता कि यहां ऐसे ऐसे करने से शायद पैसे मिल जाए लेकिन जिज्ञासा आप हमेशा शांत कर सकते हो मन की जिज्ञासा शांत करने के लाभ ही गूगल ही काफी है
Ham apane man kee jigyaasa ko kaise shaant karen jigyaasa ko shaant kyon karana hai agar hamaara man hai to ophis se agar nahin isalie hamaaree karaikteristik se aur hamen naee naee cheejen pata karane ke lie manee achook hota hai hamaara hamesha us ko jaanane ke lie ichchhuk hota hai main boloonga agar koee cheej agar aapake onalain mein hai ne us pata hai aapako yah cheej mujhe jaanana hai pahachaan jaanane se mujhe yah phaayada hoga ya phir aise hee mujhe dar kyon rahee thee ki yah cheej kya hotee hai to us jigyaasa ko khatm karen usako usamen inkvaayaree karo usako khatm kar ho sakata hai kabhee baar aisee jagah se aa jaatee hai jisaka hamaaree laiph se koee sambandh nahin lekin aisa lagata hai ki yah kaise hoga sirph hamen vahaan ek jagah baithane kee jigyaasa ek cheej hai aur atraikshan ek cheej hai jo jigyaasa ko aap agar kol kar loge man shaant ho jaega atraikshan hoga yahaan to ham insaan se vahaan par imoshan ko kaam kar rahega jagah maind kaam karate jahaan par kognishan hai atraikshan mein imoshan kaam kar dega kognishan nahin hai enee vahaan par galat nirnay ho sakata hai trak ho sakata hai paanchavee tak to us jigyaasa ko kampleet karane ke chakkar mein aise kaee baar aata hai nyooz pepar mein aata hai ya kaheen par isamen lotaree lagegee itanee itane paison ka too jigyaasa nahin hai kvaartar ekshan hai vah imoshanalee drivan hotee hai kyonki hamen pata hota ki yahaan aise aise karane se shaayad paise mil jae lekin jigyaasa aap hamesha shaant kar sakate ho man kee jigyaasa shaant karane ke laabh hee googal hee kaaphee hai
URL copied to clipboard