#undefined

Nav kishor Aggarwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Nav जी का जवाब
Service
1:11
नमस्कार आपका प्रश्न है कि सर्दियों में पैरों की उंगलियों में सूजन कम करने का आयुर्वेदिक इलाज क्या है लेकिन सर्दियों में क्या होता है कि हमारे शरीर के बहुत सारे अंग होते हैं वह सूजने शुरू हो जाते हैं कारण होता कि हमारे अंदर जो खून दौड़ता हमारी नसों में जो खून दौड़ता है वह जम जाता है ज्यादा सर्दी की वजह से वह खून जमने लग जाता है जिसकी वजह से उनकी जो रोटेशन होती है खून की जो रफ्तार होती है वह धीमी पड़ जाती है या फोन कहीं रुक जाता है और फिर वह खून जो है धीरे-धीरे नसों में जमने लगता है और जब वह दिन आने लग जाता है तो वहां पर हो सबके अंदर सूजन आ जाती है पाठ के अंदर सूजन आ जाएगी और फिर आपको दर्द होगा फिर आपको और कोई प्रॉब्लम होगी तो सर्दियों में सूजन कम करने के लिए सबसे बढ़िया उपाय तो आप गर्म पानी से स्नान करें और पैरों में सूजन यदि आ रही है उंगलियों में सूजन आ रही है तो आप हल्के गुनगुने पानी में फिटकरी उठा लीजिए थोड़ा सा नमक डाल दीजिए और उस पानी में काफी देर तक पैर दबा के रखी है पैरों की हल्के हल्के सिकाई कीजिए उससे फिर क्या होगा सूजन नहीं आएगी खून की रोटेशन ठीक हो जाएगी और फिर कभी भी आपको कोई प्रॉब्लम है सोच नहीं होगी धन्यवाद
Namaskaar aapaka prashn hai ki sardiyon mein pairon kee ungaliyon mein soojan kam karane ka aayurvedik ilaaj kya hai lekin sardiyon mein kya hota hai ki hamaare shareer ke bahut saare ang hote hain vah soojane shuroo ho jaate hain kaaran hota ki hamaare andar jo khoon daudata hamaaree nason mein jo khoon daudata hai vah jam jaata hai jyaada sardee kee vajah se vah khoon jamane lag jaata hai jisakee vajah se unakee jo roteshan hotee hai khoon kee jo raphtaar hotee hai vah dheemee pad jaatee hai ya phon kaheen ruk jaata hai aur phir vah khoon jo hai dheere-dheere nason mein jamane lagata hai aur jab vah din aane lag jaata hai to vahaan par ho sabake andar soojan aa jaatee hai paath ke andar soojan aa jaegee aur phir aapako dard hoga phir aapako aur koee problam hogee to sardiyon mein soojan kam karane ke lie sabase badhiya upaay to aap garm paanee se snaan karen aur pairon mein soojan yadi aa rahee hai ungaliyon mein soojan aa rahee hai to aap halke gunagune paanee mein phitakaree utha leejie thoda sa namak daal deejie aur us paanee mein kaaphee der tak pair daba ke rakhee hai pairon kee halke halke sikaee keejie usase phir kya hoga soojan nahin aaegee khoon kee roteshan theek ho jaegee aur phir kabhee bhee aapako koee problam hai soch nahin hogee dhanyavaad

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
दौड़ते समय कौन-कौन सी बातों का ख्याल रखना चाहिए?Daudte Samay Kaun Kaun Si Baaton Ka Khyaal Rakhna Chaiye
Nav kishor Aggarwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Nav जी का जवाब
Service
1:47
प्रकार आपका प्रश्न है कि दौड़ते समय कौन-कौन सी बातों का ख्याल रखना चाहिए दौड़ने एक अच्छा व्यायाम है पैदल चलना और दौड़ में तो सबसे बढ़िया एक्सरसाइज मानी जाती है और यदि हम सुबह के समय थोड़ी सी दौड़ लगाए थोड़ी मॉर्निंग वॉक कर ले तो हमारे शरीर की एक तरह से कसरत हो जाती है और हमारे मन का हमारे दिमाग का तनाव भी दूर हो जाता है और ताजी हवा फ्लैश आवाज होती है वह हमारे अंदर आ जाती है और काफी फायदा है दौड़ने और पैदल चलने का लेकिन दौड़ते और पैदल चलते समय कुछ बातों का ख्याल भी रखना चाहिए एक तो दौड़ते समय ना ज्यादा तेज गति से नहीं तोड़ना चाहिए हल्की-हल्की वह करें हल के कदमों से दौड़े और अगर आपकी सांस फूलने लगी है दौड़ते समय तो कुछ देर बैठ जाए क्योंकि सांस फूलने से हो सकता है कि आपको हर्ट अटैक आ सकता है या कोई और अन्य प्रॉब्लम आपके साथ खड़ी हो सकती है तो इसलिए दौड़ते समय ज्यादा तेज ना थोड़े और ज्यादा लंबी दूरी की दौड़ ना तोड़े जब तक कि आप अभ्यास ना हो जाए दौड़ने का यह सब चीजें ध्यान रखिए और दौड़ते समय अपने साथ कोई मिनरल वाटर या कोई लिक्विड जरूर अपने साथ रखें जैसे जूस हो गया या कोई एनर्जी ड्रिंक हो गया यह सब आप अपने साथ जरूर रखी है जिससे कि आपको दौड़ते समय जैसे प्यास लगती है या कुछ आपको कमजोरी महसूस होती है तो उसका आप थोड़ा सा आप एनर्जी ड्रिंक ले लेंगे या कोई पानी ले लेंगे कुछ ऐसा लिक्विड ले लेंगे उस से क्या होगा आपका जो सांसे हैं वह नियंत्रित हो जाएंगे आपको दौड़ते समय कोई कमजोरी महसूस नहीं होगी थकान नहीं होगी और बहुत हार के कदमों से थोड़ी बहुत लाइट कपड़े पहनी है और उसके अलावा जूते भी बहुत लाइट पहनी है जिससे कि दौड़ने में आसानी हो धन्यवाद
Prakaar aapaka prashn hai ki daudate samay kaun-kaun see baaton ka khyaal rakhana chaahie daudane ek achchha vyaayaam hai paidal chalana aur daud mein to sabase badhiya eksarasaij maanee jaatee hai aur yadi ham subah ke samay thodee see daud lagae thodee morning vok kar le to hamaare shareer kee ek tarah se kasarat ho jaatee hai aur hamaare man ka hamaare dimaag ka tanaav bhee door ho jaata hai aur taajee hava phlaish aavaaj hotee hai vah hamaare andar aa jaatee hai aur kaaphee phaayada hai daudane aur paidal chalane ka lekin daudate aur paidal chalate samay kuchh baaton ka khyaal bhee rakhana chaahie ek to daudate samay na jyaada tej gati se nahin todana chaahie halkee-halkee vah karen hal ke kadamon se daude aur agar aapakee saans phoolane lagee hai daudate samay to kuchh der baith jae kyonki saans phoolane se ho sakata hai ki aapako hart ataik aa sakata hai ya koee aur any problam aapake saath khadee ho sakatee hai to isalie daudate samay jyaada tej na thode aur jyaada lambee dooree kee daud na tode jab tak ki aap abhyaas na ho jae daudane ka yah sab cheejen dhyaan rakhie aur daudate samay apane saath koee minaral vaatar ya koee likvid jaroor apane saath rakhen jaise joos ho gaya ya koee enarjee drink ho gaya yah sab aap apane saath jaroor rakhee hai jisase ki aapako daudate samay jaise pyaas lagatee hai ya kuchh aapako kamajoree mahasoos hotee hai to usaka aap thoda sa aap enarjee drink le lenge ya koee paanee le lenge kuchh aisa likvid le lenge us se kya hoga aapaka jo saanse hain vah niyantrit ho jaenge aapako daudate samay koee kamajoree mahasoos nahin hogee thakaan nahin hogee aur bahut haar ke kadamon se thodee bahut lait kapade pahanee hai aur usake alaava joote bhee bahut lait pahanee hai jisase ki daudane mein aasaanee ho dhanyavaad

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
विश्वास बार-बार टूटने पर क्या करें?Vishvas Bar Bar Tutne Par Kya Karein
Nav kishor Aggarwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Nav जी का जवाब
Service
1:13
नमस्कार आपका प्रश्न है कि विश्वास बार-बार टूटने पर क्या करें लेकिन विश्वास एक बहुत रचनात्मक चीज है विश्वास जल्दी से करना नहीं चाहिए और अगर हो जाए तो फिर उसे टूटना नहीं चाहिए विश्वास टूटने का बार-बार कारण भी होता है कोई ना कोई तो कोशिश कीजिए कि आप जल्दी से किसी पर विश्वास कीजिए मैं जब तक आप को उसके ऊपर पूरा पूरा भरोसा ना हो जाए आप उस व्यक्ति को आजमाना ले परखना लें जब तक आपको अपने मन की तसल्ली ना हो जाए जब तक आप किसी पर विश्वास करो यह मत तो यह विश्वास फिर बार-बार नहीं टूटेगा हम लोगों की जिंदगी में कई बार ऐसे मौके आते हैं कि हम किसी के ऊपर विश्वास करते हैं या हमें किसी चीज का विश्वास होता है और अचानक से हमें पता लगता कि हमारा विश्वास टूट गया तो हमें बड़ा दुख पहुंचता है हमारे मन को ठेस पहुंचती है हमारा दिल दुखी हो जाता है तो ऐसा नहीं होना चाहिए कि विश्वास टूटे तो इसका सबसे बढ़िया कारण है क्या आप अपने पहले अपने आप को सेटिस्फाई कर ले अच्छी तरह से तसल्ली कर ले तभी विश्वास कीजिए नहीं तो विश्वास करने से कोई फायदा नहीं वह तो बार-बार टूटेगा टूटेगा धन्यवाद
Namaskaar aapaka prashn hai ki vishvaas baar-baar tootane par kya karen lekin vishvaas ek bahut rachanaatmak cheej hai vishvaas jaldee se karana nahin chaahie aur agar ho jae to phir use tootana nahin chaahie vishvaas tootane ka baar-baar kaaran bhee hota hai koee na koee to koshish keejie ki aap jaldee se kisee par vishvaas keejie main jab tak aap ko usake oopar poora poora bharosa na ho jae aap us vyakti ko aajamaana le parakhana len jab tak aapako apane man kee tasallee na ho jae jab tak aap kisee par vishvaas karo yah mat to yah vishvaas phir baar-baar nahin tootega ham logon kee jindagee mein kaee baar aise mauke aate hain ki ham kisee ke oopar vishvaas karate hain ya hamen kisee cheej ka vishvaas hota hai aur achaanak se hamen pata lagata ki hamaara vishvaas toot gaya to hamen bada dukh pahunchata hai hamaare man ko thes pahunchatee hai hamaara dil dukhee ho jaata hai to aisa nahin hona chaahie ki vishvaas toote to isaka sabase badhiya kaaran hai kya aap apane pahale apane aap ko setisphaee kar le achchhee tarah se tasallee kar le tabhee vishvaas keejie nahin to vishvaas karane se koee phaayada nahin vah to baar-baar tootega tootega dhanyavaad

#टेक्नोलॉजी

Nav kishor Aggarwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Nav जी का जवाब
Service
1:34
नमस्कार आप ने प्रश्न किया कि क्या सॉफ्टवेयर इंजीनियर के रूप में बार-बार नौकरी बदलने से कैरियर को नुकसान पहुंचता है जी हां बिल्कुल कैरियर को नुकसान आपके पहुंचेगा और सॉफ्टवेयर इंजीनियर की क्यों बहुत सारी नौकरियां आजकल ऐसी है कि अगर आप बार-बार नौकरी चेंज करेंगे तो आपके कैरियर को खराब होने से कोई नहीं बचा सकता आपके कैरियर को जरूर नुकसान हो जाएगा क्योंकि देखिए कोई भी आप फील्ड ले लीजिए कोई भी आप नौकरी ले लीजिए इन लोगों को आपस में एक दूसरे को जरूर जानते हैं माली जी आप सॉफ्टवेयर इंजीनियर है तो सॉफ्टवेयर इंजीनियर में आपने कंपनी से नौकरी छोड़ी दूसरी कंपनी में गए तो ऐसा नहीं है कि वह जिस कंपनी में आप ने नौकरी ज्वाइन किया वह पुरानी कंपनी को नहीं जानता वह या नहीं पता होगा सब आपस में एक दूसरे को जानते और कभी ना कभी कोई ना कोई बात ऐसी निकल के आती की पता लग जाता है कि आप उस कंपनी में नौकरी कर रहे थे और आपने वहां से नौकरी क्यों छोड़ी अगर उसका वाजिब कारण है तब तो कोई बात नहीं अगर उन्होंने कुछ कह दिया आपके बारे में गलत तो फिर जिस कंपनी में आप ने नौकरी ज्वाइन किया वहां आपके ऊपर कोई ना कोई दाग लग सकता है आपको कोई ना कोई प्रॉब्लम आएगी और इसके बाद फिर आप वहां से नौकरी छोड़ देंगे फिर किसी और कंपनी में जाएंगे तो आप अपनी मार्केट खराब कर रहे हैं आपस में तालमेल बनाकर रखी है कोशिश कीजिए कि एक नौकरी में लंबे समय तक टिके और जब आपको जरूरत पड़े और कोई वाजिब कारण हो तभी आप अपनी कंपनी से नौकरी छोड़ने तथा कोई दूसरी जॉब तलाश है जल्दी-जल्दी बिना किसी कारण के नौकरी छोड़ ना आजकल समझदारी नहीं है धन्यवाद
Namaskaar aap ne prashn kiya ki kya sophtaveyar injeeniyar ke roop mein baar-baar naukaree badalane se kairiyar ko nukasaan pahunchata hai jee haan bilkul kairiyar ko nukasaan aapake pahunchega aur sophtaveyar injeeniyar kee kyon bahut saaree naukariyaan aajakal aisee hai ki agar aap baar-baar naukaree chenj karenge to aapake kairiyar ko kharaab hone se koee nahin bacha sakata aapake kairiyar ko jaroor nukasaan ho jaega kyonki dekhie koee bhee aap pheeld le leejie koee bhee aap naukaree le leejie in logon ko aapas mein ek doosare ko jaroor jaanate hain maalee jee aap sophtaveyar injeeniyar hai to sophtaveyar injeeniyar mein aapane kampanee se naukaree chhodee doosaree kampanee mein gae to aisa nahin hai ki vah jis kampanee mein aap ne naukaree jvain kiya vah puraanee kampanee ko nahin jaanata vah ya nahin pata hoga sab aapas mein ek doosare ko jaanate aur kabhee na kabhee koee na koee baat aisee nikal ke aatee kee pata lag jaata hai ki aap us kampanee mein naukaree kar rahe the aur aapane vahaan se naukaree kyon chhodee agar usaka vaajib kaaran hai tab to koee baat nahin agar unhonne kuchh kah diya aapake baare mein galat to phir jis kampanee mein aap ne naukaree jvain kiya vahaan aapake oopar koee na koee daag lag sakata hai aapako koee na koee problam aaegee aur isake baad phir aap vahaan se naukaree chhod denge phir kisee aur kampanee mein jaenge to aap apanee maarket kharaab kar rahe hain aapas mein taalamel banaakar rakhee hai koshish keejie ki ek naukaree mein lambe samay tak tike aur jab aapako jaroorat pade aur koee vaajib kaaran ho tabhee aap apanee kampanee se naukaree chhodane tatha koee doosaree job talaash hai jaldee-jaldee bina kisee kaaran ke naukaree chhod na aajakal samajhadaaree nahin hai dhanyavaad

#जीवन शैली

bolkar speaker
मनुष्य सम्मान और पहचान का भूखा क्यों होता है?Manusya Samman Aur Pehchan Ka Bukha Kyun Hota Hai
Nav kishor Aggarwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Nav जी का जवाब
Service
1:25
विस्तार आपका प्रश्न है कि मनुष्य सम्मान और पहचान का भूखा क्यों होता है कृपया अपने अपने प्रश्न में 1 वर्ड गलत यूज कर दिया वह का सम्मान और पहचान कोई खाना नहीं है या कोई ऐसी चीज़ नहीं है लालच नहीं है कि हम उसके भूखे होंगे या कोई भी आदमी उसका भूखा होगा यह भूखे की जगह आपको वर्ड यूज़ करने की ख्वाहिश इच्छा मनुष्य के सम्मान और पहचान की हर किसी को होती है इच्छा होती है हर कोई मनुष्य हर कोई इंसान चाहता है कि उसकी कोई पहचान बने समाज में उसका सम्मान हो यह हर कोई चाहता है तो इसे हम एक तरह से इच्छा है या ख्वाहिश शब्द कह सकते हैं वह का नहीं कर सकते और दूसरी बात यह कि आपने पूछा है कि क्यों भूखा होता है हर व्यक्ति चाहता है कि उसका परिवार और वह खुद कुछ ऐसे कर्म करे या कुछ ऐसा काम करें जिसकी वजह से उसका समाज में अपने देश में सम्मान हो हर कोई व्यक्ति चाहता है आप भी चाहते हैं मैं भी चाहता हूं और पहचान और सम्मान दोनों एक दूसरे का पर्यायवाची शब्द है अगर आप का सम्मान होगा तो आपके पहचान अपने आप बढ़ जाएगी और अगर आपकी पहचान होगी तो सम्मान अपने आप बढ़ जाएगा तो हर कोई इंसान चाहता है और यह दोनों शब्द एक ही है धन्यवाद
Vistaar aapaka prashn hai ki manushy sammaan aur pahachaan ka bhookha kyon hota hai krpaya apane apane prashn mein 1 vard galat yooj kar diya vah ka sammaan aur pahachaan koee khaana nahin hai ya koee aisee cheez nahin hai laalach nahin hai ki ham usake bhookhe honge ya koee bhee aadamee usaka bhookha hoga yah bhookhe kee jagah aapako vard yooz karane kee khvaahish ichchha manushy ke sammaan aur pahachaan kee har kisee ko hotee hai ichchha hotee hai har koee manushy har koee insaan chaahata hai ki usakee koee pahachaan bane samaaj mein usaka sammaan ho yah har koee chaahata hai to ise ham ek tarah se ichchha hai ya khvaahish shabd kah sakate hain vah ka nahin kar sakate aur doosaree baat yah ki aapane poochha hai ki kyon bhookha hota hai har vyakti chaahata hai ki usaka parivaar aur vah khud kuchh aise karm kare ya kuchh aisa kaam karen jisakee vajah se usaka samaaj mein apane desh mein sammaan ho har koee vyakti chaahata hai aap bhee chaahate hain main bhee chaahata hoon aur pahachaan aur sammaan donon ek doosare ka paryaayavaachee shabd hai agar aap ka sammaan hoga to aapake pahachaan apane aap badh jaegee aur agar aapakee pahachaan hogee to sammaan apane aap badh jaega to har koee insaan chaahata hai aur yah donon shabd ek hee hai dhanyavaad

#टेक्नोलॉजी

Nav kishor Aggarwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Nav जी का जवाब
Service
1:28
नमस्कार आपका प्रश्न है कि क्या भविष्य में ऐसा कोई आविष्कार होगा जिसके प्रयोग से मनुष्य और दूसरे हो सकेगा लेकिन आविष्कार तो हो भी सकता है और नहीं भी हो सकता और आज तकरीबन 100 साल पहले 200 साल पहले किसी ने सोचा था कि आजकल जो ही आविष्कार है जो यह गाड़ियां चल रही है मोबाइल चला रहे हैं हम लोग और बिना तार का कोई हमारा कोई ऐसा वह नहीं है कनेक्शन नहीं है कुछ नहीं है लेकिन फिर भी हम हाथ में एक छोटा सा यंत्र लेकर कई कई हजार मील की दूरी पर बात कर लेते तो यह किसी ने आज से 200 साल पहले 300 साल पहले सोचा भी नहीं था कल्पना भी नहीं की थी तो यह ऐसा संभव है कि भविष्य में ऐसा कोई आविष्कार हो सकता है कि जिसके प्रयोग से मनुष्य और दूसरे होगा एक फिल्म भी आई थी सब्जेक्ट के ऊपर मिस्टर इंडिया जिसमें अनिल कपूर जी ने कैसी घड़ी पहनी थी जिसको बटन दबाने से हुआ दूसरे इन व्हिच हो जाते थे तो हो सकता है शायद साइंटिस्ट लगे हुए हैं सारे साइन सब लगे हुए हैं इस काम में क्या पता क्या आगे क्या हुआ यह तो आने वाले 100 साल बाद 200 साल बाद पता चलेगा कि उस पर क्या-क्या टेक्नोलॉजी आएगी और क्या-क्या यंत्र उस वक्त उपलब्ध होंगे और विज्ञान कहां से कहां पहुंचेगा यह सब अभी हम लोग नहीं कह सकते हैं धन्यवाद
Namaskaar aapaka prashn hai ki kya bhavishy mein aisa koee aavishkaar hoga jisake prayog se manushy aur doosare ho sakega lekin aavishkaar to ho bhee sakata hai aur nahin bhee ho sakata aur aaj takareeban 100 saal pahale 200 saal pahale kisee ne socha tha ki aajakal jo hee aavishkaar hai jo yah gaadiyaan chal rahee hai mobail chala rahe hain ham log aur bina taar ka koee hamaara koee aisa vah nahin hai kanekshan nahin hai kuchh nahin hai lekin phir bhee ham haath mein ek chhota sa yantr lekar kaee kaee hajaar meel kee dooree par baat kar lete to yah kisee ne aaj se 200 saal pahale 300 saal pahale socha bhee nahin tha kalpana bhee nahin kee thee to yah aisa sambhav hai ki bhavishy mein aisa koee aavishkaar ho sakata hai ki jisake prayog se manushy aur doosare hoga ek philm bhee aaee thee sabjekt ke oopar mistar indiya jisamen anil kapoor jee ne kaisee ghadee pahanee thee jisako batan dabaane se hua doosare in vhich ho jaate the to ho sakata hai shaayad saintist lage hue hain saare sain sab lage hue hain is kaam mein kya pata kya aage kya hua yah to aane vaale 100 saal baad 200 saal baad pata chalega ki us par kya-kya teknolojee aaegee aur kya-kya yantr us vakt upalabdh honge aur vigyaan kahaan se kahaan pahunchega yah sab abhee ham log nahin kah sakate hain dhanyavaad

#जीवन शैली

Nav kishor Aggarwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Nav जी का जवाब
Service
1:09
सर आपका सवाल है कि जाते ही अपना परिचय देना या बाद में दोनों में से क्या तरीका बेहतर है अपना काम किसी ऑफिस में करवाने का आप किसी भी ऑफिस में काम करवाने जाते हैं तो सबसे पहले आपको अपना परिचय भी देना पड़ेगा क्योंकि जिसके पास आप गए हैं जिस बाबू के पास जिस कलर के पास आप गए हैं तो आपको नहीं जानता उसे आप की पृष्ठभूमि आपकी पारिवारिक भूमि कुछ भी नहीं पता आप कहां से हैं आपका क्या नाम है आप किस काम के सिलसिले में वहां आए तो सबसे पहले तो आप किसी से भी मिलते हैं सबसे पहले आप अपना नाम बताइए और आप कहां से हैं यह बताइए उसके बाद आप उनसे से कह सकते हैं कि मैं इस काम से यहां आया हूं क्या आप मेरी इस काम में मदद कर सकते हैं आप मेरा यह काम कर सकते हैं अगर वह करेगा तो ठीक है नहीं करेगा तो मैं आपको सलूशन बताएगा कि आप यह काम यहां से नहीं वहां से करवा सकते हैं कोई भी उपाय बता सकता है लेकिन जरूरत है सबसे पहले आप अपना परिचय देने की क्योंकि हम लोग जब दो अनजान व्यक्ति आपस में मिलते हैं तो सबसे पहले अपना एक दूसरे को नाम बताते हैं ताकि वह आगे हम जारी रखते हैं वह हम एक दूसरे को नाम से ही पुकार करके अपनी बातचीत को जारी रखते हैं धन्यवाद
Sar aapaka savaal hai ki jaate hee apana parichay dena ya baad mein donon mein se kya tareeka behatar hai apana kaam kisee ophis mein karavaane ka aap kisee bhee ophis mein kaam karavaane jaate hain to sabase pahale aapako apana parichay bhee dena padega kyonki jisake paas aap gae hain jis baaboo ke paas jis kalar ke paas aap gae hain to aapako nahin jaanata use aap kee prshthabhoomi aapakee paarivaarik bhoomi kuchh bhee nahin pata aap kahaan se hain aapaka kya naam hai aap kis kaam ke silasile mein vahaan aae to sabase pahale to aap kisee se bhee milate hain sabase pahale aap apana naam bataie aur aap kahaan se hain yah bataie usake baad aap unase se kah sakate hain ki main is kaam se yahaan aaya hoon kya aap meree is kaam mein madad kar sakate hain aap mera yah kaam kar sakate hain agar vah karega to theek hai nahin karega to main aapako salooshan bataega ki aap yah kaam yahaan se nahin vahaan se karava sakate hain koee bhee upaay bata sakata hai lekin jaroorat hai sabase pahale aap apana parichay dene kee kyonki ham log jab do anajaan vyakti aapas mein milate hain to sabase pahale apana ek doosare ko naam bataate hain taaki vah aage ham jaaree rakhate hain vah ham ek doosare ko naam se hee pukaar karake apanee baatacheet ko jaaree rakhate hain dhanyavaad

#जीवन शैली

bolkar speaker
कौन-कौन से अपराध में जमानत नहीं होती?Kaun Kaun Se Apraadh Mein Jamanat Nahin Hoti
Nav kishor Aggarwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Nav जी का जवाब
Service
1:22
प्रकार आपका सवाल है कि कौन-कौन से अपराध में जमानत नहीं होती लेकिन इंडियन पैनल कोर्ट में आईपीसी में करीबन 572 धाराएं 572 जो इंडियन पैनल कोर्ट की जो धाराएं हैं वह 572 है तो इसमें क्या होता है कि काफी सारे अपराध ऐसे हैं जिस में जमानत नहीं हो सकती और टाइम तो बिल्कुल भी नहीं होती जिस वक्त मुलजिम को पकड़ा जाता है उससे बिल्कुल भी जमानत नहीं हो पाती है तो वैसे तो मैं सारे अपराधियों के बारे में नहीं जानता यह तो कोई लॉ स्टूडेंट या जॉब करते हैं या एडवोकेट है वही बता पाएंगे आपको लेकिन फिर भी कुछ अपराध ऐसे हैं जैसे मर्डर है मर्डर में जमानत नहीं होगी जल्दी से ड्रेस के केस में बिल्कुल भी जमानत नहीं होती है और रक्त के ही एक ऐसा केस होता है जिसमें की जमानत होने के कोई चांस नहीं होते अगर होती भी है तो बहुत लंबे टाइम के बाद बहुत लंबे प्रोसीजर के बाद जाकर जमानत होगी और इसके बाबा रेप केस में जमानत नहीं होती है जल्दी से इसके अलावा किडनैपिंग हो गई डकैती हो गई चोरी हो गई चोरी में तो खैर हो जाती है लेकिन डकैती में जमानत नहीं होती है जल्दी से जमानत बिल्कुल अवेलेबल नहीं है तो यह कुछ कैसी है जिस में जमानत जल्दी से नहीं मिल पाती है या नहीं मिल पाती उम्मीद करता हूं जानकारी अच्छी लगेगी धन्यवाद
Prakaar aapaka savaal hai ki kaun-kaun se aparaadh mein jamaanat nahin hotee lekin indiyan painal kort mein aaeepeesee mein kareeban 572 dhaaraen 572 jo indiyan painal kort kee jo dhaaraen hain vah 572 hai to isamen kya hota hai ki kaaphee saare aparaadh aise hain jis mein jamaanat nahin ho sakatee aur taim to bilkul bhee nahin hotee jis vakt mulajim ko pakada jaata hai usase bilkul bhee jamaanat nahin ho paatee hai to vaise to main saare aparaadhiyon ke baare mein nahin jaanata yah to koee lo stoodent ya job karate hain ya edavoket hai vahee bata paenge aapako lekin phir bhee kuchh aparaadh aise hain jaise mardar hai mardar mein jamaanat nahin hogee jaldee se dres ke kes mein bilkul bhee jamaanat nahin hotee hai aur rakt ke hee ek aisa kes hota hai jisamen kee jamaanat hone ke koee chaans nahin hote agar hotee bhee hai to bahut lambe taim ke baad bahut lambe proseejar ke baad jaakar jamaanat hogee aur isake baaba rep kes mein jamaanat nahin hotee hai jaldee se isake alaava kidanaiping ho gaee dakaitee ho gaee choree ho gaee choree mein to khair ho jaatee hai lekin dakaitee mein jamaanat nahin hotee hai jaldee se jamaanat bilkul avelebal nahin hai to yah kuchh kaisee hai jis mein jamaanat jaldee se nahin mil paatee hai ya nahin mil paatee ummeed karata hoon jaanakaaree achchhee lagegee dhanyavaad

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
काली जींस पर कौन सा शर्ट अच्छा लगता है?Kali Jeans Par Kon Sa Shirt Acha Lagta Hai
Nav kishor Aggarwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Nav जी का जवाब
Service
1:10
नमस्कार आप का सवाल है कि काली जींस और कौन सा शर्ट अच्छा लगता है लेकिन कोई भी ड्रेस यदि हम पहनते हैं तो सबसे पहले हमें ड्रेस सेंस की समझ होना बहुत जरूरी है और हमें अपने शरीर की फिटिंग भी देखने कि हम पर पहुंचे कपड़े सूट करेंगे टाइट कपड़े सूट करेंगे या डीलर कपड़े सूट करेंगे यह सब चीजें बहुत जरूरी है इसके अलावा कलर मैचिंग भी बहुत जरूरी होती है और क्या होता है कि देखी कलर मैचिंग करते समय खासकर कपड़ों में अगर आप डार्क कलर की पेंट पहन रहे हो तो उसके साथ लाइट कलर के शर्ट पहनेंगे तो वह अच्छा लगेगा या फिर अगर आप डार्क कलर की शर्ट पहनी है उसके साथ आप लाइट कलर की पेंट पहन सकते हैं एक कलर मैचिंग है अब आपने पूछा है कि काली पेंट पर कौन सा शर्ट अच्छा लगेगा तो काला रंग चौथा अवतार कलर है तो काले रंग के ऊपर आपको लाइट कलर पहनना चाहिए जैसे पिंक कलर ओके गुलाबी कलर या फिर आपको मजेंटा कलर भी अच्छा लग सकता है या फिर आप उसके साथ बाइट तो खैर मैचिंग होती होती है उसके अलावा आप येलो कलर भी पहन सकते हैं वाइट के साथ और ब्लैक केस आपको ज्यादातर जो कलर सूट करेंगे वह पिंक और येलो कलर बहुत सूट करता है बहुत अच्छा लगता है पहनावा भी और देखने में भी बड़ा अच्छा लगता है धन्यवाद
Namaskaar aap ka savaal hai ki kaalee jeens aur kaun sa shart achchha lagata hai lekin koee bhee dres yadi ham pahanate hain to sabase pahale hamen dres sens kee samajh hona bahut jarooree hai aur hamen apane shareer kee phiting bhee dekhane ki ham par pahunche kapade soot karenge tait kapade soot karenge ya deelar kapade soot karenge yah sab cheejen bahut jarooree hai isake alaava kalar maiching bhee bahut jarooree hotee hai aur kya hota hai ki dekhee kalar maiching karate samay khaasakar kapadon mein agar aap daark kalar kee pent pahan rahe ho to usake saath lait kalar ke shart pahanenge to vah achchha lagega ya phir agar aap daark kalar kee shart pahanee hai usake saath aap lait kalar kee pent pahan sakate hain ek kalar maiching hai ab aapane poochha hai ki kaalee pent par kaun sa shart achchha lagega to kaala rang chautha avataar kalar hai to kaale rang ke oopar aapako lait kalar pahanana chaahie jaise pink kalar oke gulaabee kalar ya phir aapako majenta kalar bhee achchha lag sakata hai ya phir aap usake saath bait to khair maiching hotee hotee hai usake alaava aap yelo kalar bhee pahan sakate hain vait ke saath aur blaik kes aapako jyaadaatar jo kalar soot karenge vah pink aur yelo kalar bahut soot karata hai bahut achchha lagata hai pahanaava bhee aur dekhane mein bhee bada achchha lagata hai dhanyavaad

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
क्या माता-पिता को शर्म आती है जब बच्चे किसी अवसर पर गलत पोशाक पहनते हैं?Kya Mata Pita Ko Sharam Ati Hai Jab Bache Kisi Avsar Par Galat Poshak Pehnte Hain
Nav kishor Aggarwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Nav जी का जवाब
Service
1:13
नमस्कार आपका सवाल है कि क्या माता-पिता को शर्म आती है जब बच्चे किसी अवसर पर गलत पोशाक पहनते हैं जी हां बिल्कुल सही बात है माता-पिता को बहुत शर्म महसूस होती है लेकिन कई बार उनकी मजबूरी होती है कि वह बच्चे को कुछ कह नहीं पाते कारण बच्चा उनकी बात को नहीं सुनता बड़े बच्चे तो मैंने आज कल देखे हैं लड़के लड़कियां वह जो दिल करता है वही पहनते हैं जो दिल करता है वही खाते हैं मां-बाप की बिल्कुल भी नहीं सुनते और इसी वजह से क्या होता है कि मां बाप को भी बहुत शर्म आती है क्योंकि उन्हें पता है कि बच्चों को तो खैर जो किसी ने कुछ कहना है तो कहेगा लेकिन सबसे पहले वह मां-बाप का नाम उठा लेगा कि तुम्हारे मां बाप ने तुम्हें यही संस्कार दिए हैं तुम्हारे मां बाप ने तुम्हें यही सब सिखाया है उसमें क्या होता है कि मां-बाप की बदनामी होती है हालांकि मां-बाप कैसे कोई कसूर नहीं है मां-बाप तो शुरु से उसको कोशिश करते हैं समझाएं ढंग से रहे उसके भले के लिए समझाते हैं लेकिन आजकल बच्चे मानते नहीं हैं आजकल के जो मॉडर्न जेनरेशन है वह तो बिल्कुल ही जो पुराने जमाने के जो व्यक्ति हैं जो अपने मां-बाप है उनको तो वह बिल बेवकूफ समझते हैं वह तो छुट्टी जवाब देते हैं आपको तो कुछ पता ही नहीं आपको तो कुछ आता ही नहीं आपने किया क्या तो इन सब बातों से जो है मां-बाप का दिल दुखता है और बहुत शर्म महसूस करते हैं धन्यवाद
Namaskaar aapaka savaal hai ki kya maata-pita ko sharm aatee hai jab bachche kisee avasar par galat poshaak pahanate hain jee haan bilkul sahee baat hai maata-pita ko bahut sharm mahasoos hotee hai lekin kaee baar unakee majabooree hotee hai ki vah bachche ko kuchh kah nahin paate kaaran bachcha unakee baat ko nahin sunata bade bachche to mainne aaj kal dekhe hain ladake ladakiyaan vah jo dil karata hai vahee pahanate hain jo dil karata hai vahee khaate hain maan-baap kee bilkul bhee nahin sunate aur isee vajah se kya hota hai ki maan baap ko bhee bahut sharm aatee hai kyonki unhen pata hai ki bachchon ko to khair jo kisee ne kuchh kahana hai to kahega lekin sabase pahale vah maan-baap ka naam utha lega ki tumhaare maan baap ne tumhen yahee sanskaar die hain tumhaare maan baap ne tumhen yahee sab sikhaaya hai usamen kya hota hai ki maan-baap kee badanaamee hotee hai haalaanki maan-baap kaise koee kasoor nahin hai maan-baap to shuru se usako koshish karate hain samajhaen dhang se rahe usake bhale ke lie samajhaate hain lekin aajakal bachche maanate nahin hain aajakal ke jo modarn jenareshan hai vah to bilkul hee jo puraane jamaane ke jo vyakti hain jo apane maan-baap hai unako to vah bil bevakooph samajhate hain vah to chhuttee javaab dete hain aapako to kuchh pata hee nahin aapako to kuchh aata hee nahin aapane kiya kya to in sab baaton se jo hai maan-baap ka dil dukhata hai aur bahut sharm mahasoos karate hain dhanyavaad

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
शादी के बाद भाइयों में विवाद का सबसे बड़ा कारण क्या होता है?Shadiyo Ke Bad Bhaiyon Mein Vivad Ka Sabse Bda Karan Kya Hota Hai
Nav kishor Aggarwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Nav जी का जवाब
Service
1:27
नमस्कार आपका प्रश्न है कि शादी के बाद भाइयों में विवाद का सबसे बड़ा कारण क्या होता है शादी के बाद का सबसे बड़ा कारण होता है प्रॉपर्टी और व्यवसाय जो उनका खानदानी बिजनेस है और जो उनकी खानदानी प्रॉपर्टी है उसको लेकर के उनमें आपस में झगड़े शुरू हो जाते हैं और इसके अलावा बहू हमें भी झगड़ा शुरू हो जाते हैं कि मैं पूरे खानदान के कपड़े क्यों सब लोगों के खाना क्यों बनाऊं या फिर आपस में और भी तरह के झगड़े शुरू हो जाते हैं फिर वह क्या होता है वह अपने पतियों को भड़काना सिम तोड़ देती है कि देखो जी ऐसा तुम्हारा भाई तो इतना पैसा कमाता है तुम उसको इतना मिलता यार तुम्हें इतना पैसा मिलता नहीं है जबकि मेहनत तुम भी बराबर करते हो तो इस तरह की बातें जब उठने लगती है तो आपस में झगड़े उत्पन्न हो जाते हैं और उस स्वभाविक बात है क्या आपस में कलेश शुरू हो जाता है तो इसका उपचार भी यही है कि आपस में मेल मिलाप से रहे सुहाग तेरे प्यार से रहे और किसी भी बात को लेकर के भड़के नहीं और ना ही किसी के बहकावे में आएं जो कुछ भी है सामने बैठ कर बात करें आपस में बातचीत करने से सारे झगड़े मसले समझ जाते हैं प्यार से रहे किसी से लड़ाई झगड़ा ना करें परिवार एक मुट्ठी के समान होता है जब तक परिवार साथ रहेगा मिलकर रहेगा कोई उसका कुछ बिगाड़ नहीं सकता जिस दिन वह परिवार अलग होना शुरू हो जाता है उसके साथ दुश्मन खड़े होते हैं और वह मौके का फायदा उठाते हैं इसलिए हमेशा परिवार में जीना चाहिए धन्यवाद
Namaskaar aapaka prashn hai ki shaadee ke baad bhaiyon mein vivaad ka sabase bada kaaran kya hota hai shaadee ke baad ka sabase bada kaaran hota hai propartee aur vyavasaay jo unaka khaanadaanee bijanes hai aur jo unakee khaanadaanee propartee hai usako lekar ke unamen aapas mein jhagade shuroo ho jaate hain aur isake alaava bahoo hamen bhee jhagada shuroo ho jaate hain ki main poore khaanadaan ke kapade kyon sab logon ke khaana kyon banaoon ya phir aapas mein aur bhee tarah ke jhagade shuroo ho jaate hain phir vah kya hota hai vah apane patiyon ko bhadakaana sim tod detee hai ki dekho jee aisa tumhaara bhaee to itana paisa kamaata hai tum usako itana milata yaar tumhen itana paisa milata nahin hai jabaki mehanat tum bhee baraabar karate ho to is tarah kee baaten jab uthane lagatee hai to aapas mein jhagade utpann ho jaate hain aur us svabhaavik baat hai kya aapas mein kalesh shuroo ho jaata hai to isaka upachaar bhee yahee hai ki aapas mein mel milaap se rahe suhaag tere pyaar se rahe aur kisee bhee baat ko lekar ke bhadake nahin aur na hee kisee ke bahakaave mein aaen jo kuchh bhee hai saamane baith kar baat karen aapas mein baatacheet karane se saare jhagade masale samajh jaate hain pyaar se rahe kisee se ladaee jhagada na karen parivaar ek mutthee ke samaan hota hai jab tak parivaar saath rahega milakar rahega koee usaka kuchh bigaad nahin sakata jis din vah parivaar alag hona shuroo ho jaata hai usake saath dushman khade hote hain aur vah mauke ka phaayada uthaate hain isalie hamesha parivaar mein jeena chaahie dhanyavaad

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
ऐसे कौन कौन से व्यवसाय हैं जिनमें कभी मंदी नहीं आती और हर मौसम चलते हैं?Aise Kaun Kaun Se Vyavsaay Hain Jinme Kabhi Mandi Nahin Aati Aur Har Mausam Chalte Hain
Nav kishor Aggarwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Nav जी का जवाब
Service
1:10
नमस्कार आपका सवाल है कि ऐसे कौन कौन से व्यवसाय हैं जिनमें कभी भी मंडी नहीं आती और हर मौसम में वह चलते हैं लेकिन ऐसे वेबसाइट गिने-चुने ही है एक तो सबसे पहले आप ले सकते हैं खानपान का काम रेस्टोरेंट कहां है या खाने पीने का कोई भी काम आप ले लीजिए इसमें कभी भी मन भी नहीं आती यह हर मौसम में चलते ही रहते हैं यह हमेशा प्रॉफिट देने वाले व्यवसाय है इसके अलावा आपको ले सकते हैं परचून की दुकान राशन की दुकान जैसे गेहूं चीनी चावल तेल घी मसाले यह सब चीजें सदाबहार है 24 घंटे 365 दिन इन सब चीजों की आवश्यकता रहती है और यह व्यवसाय कभी फेल नहीं होता है इसके अलावा तीसरा काम है दवाइयों का मेडिसन एका आजकल हर किसी व्यक्ति की जरूरत है दवाइयां हर कोई व्यक्ति खरीदता है चाहे वह महंगी खरीदे से सस्ती फिर जैसा छोटी कर दे सब बड़ी खरीदे लेकिन दवाइयां जरूर खरीद था तो दवाइयों का काम भी बहुत अच्छा अभी भी नहीं पढ़ते और इनमें सालों साल तक हर टाइम मतलब प्रॉफिट बना ही रहता है और कभी भी इनमें मंडी नहीं आती धन्यवाद
Namaskaar aapaka savaal hai ki aise kaun kaun se vyavasaay hain jinamen kabhee bhee mandee nahin aatee aur har mausam mein vah chalate hain lekin aise vebasait gine-chune hee hai ek to sabase pahale aap le sakate hain khaanapaan ka kaam restorent kahaan hai ya khaane peene ka koee bhee kaam aap le leejie isamen kabhee bhee man bhee nahin aatee yah har mausam mein chalate hee rahate hain yah hamesha prophit dene vaale vyavasaay hai isake alaava aapako le sakate hain parachoon kee dukaan raashan kee dukaan jaise gehoon cheenee chaaval tel ghee masaale yah sab cheejen sadaabahaar hai 24 ghante 365 din in sab cheejon kee aavashyakata rahatee hai aur yah vyavasaay kabhee phel nahin hota hai isake alaava teesara kaam hai davaiyon ka medisan eka aajakal har kisee vyakti kee jaroorat hai davaiyaan har koee vyakti khareedata hai chaahe vah mahangee khareede se sastee phir jaisa chhotee kar de sab badee khareede lekin davaiyaan jaroor khareed tha to davaiyon ka kaam bhee bahut achchha abhee bhee nahin padhate aur inamen saalon saal tak har taim matalab prophit bana hee rahata hai aur kabhee bhee inamen mandee nahin aatee dhanyavaad

#जीवन शैली

bolkar speaker
बुरे वक्त में किन चीजों को तुरंत दूर कर देना चाहिए?Bure Wakt Mein Kin Cheezon Ko Turant Dur Kar Dena Chahiye
Nav kishor Aggarwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Nav जी का जवाब
Service
1:14
नमस्कार आपका प्रश्न है कि बुरे वक्त में किन चीजों को तुरंत दूर कर देना चाहिए लेकिन बुरा वक्त हर इंसान की जिंदगी में आता है भगवान की जिंदगी में भी आया था और बुरे वक्त को काटना बड़ा मुश्किल होता है लेकिन काटना पड़ता है और बुरे वक्त में हमें किन चीजों को तुरंत दूर कर देना चाहिए बुरे वक्त में हमें सबसे पहले अपने शौक जो हमारे आते हैं उनको दूर कर देना चाहिए जो हमारी बुरी आदतें हैं जैसे हम कोई नशा करते हैं वह दर्शन करते हैं या फिर हम किसी तरह का शौक करते हैं वह हमें तुरंत दूर कर देना उसके अलावा बुरे व्यक्ति जो आपको चापलूसी करते हैं आपके साथ मिठी मिठी बाते करते हैं आपसे अपना काम निकलवाना चाहते हैं उन लोगों को तुरंत दूर कर दीजिए वह आपको गलत सलाह देंगे हमेशा ऐसे लोगों के साथ रही है बुरे वक्त में जो आपको सही सलाह दें कड़वा जरूर बोलेंगे जरूर लेकिन जो कुछ भी कहेंगे वह आप के भले के लिए कहेंगे इसलिए हमेशा बुरे वक्त में आप अच्छे लोगों के साथ रहेंगे लोगों को दूर कर दीजिए बुरी आदत को दूर कर दीजिए और बुरे जो भी आपके आसपास नेगेटिव पॉइंट है उन सब को आप दूर कर दीजिए भगवान करे अच्छा वक्त जल्दी आएगा और अच्छा बताता ही है धन्यवाद
Namaskaar aapaka prashn hai ki bure vakt mein kin cheejon ko turant door kar dena chaahie lekin bura vakt har insaan kee jindagee mein aata hai bhagavaan kee jindagee mein bhee aaya tha aur bure vakt ko kaatana bada mushkil hota hai lekin kaatana padata hai aur bure vakt mein hamen kin cheejon ko turant door kar dena chaahie bure vakt mein hamen sabase pahale apane shauk jo hamaare aate hain unako door kar dena chaahie jo hamaaree buree aadaten hain jaise ham koee nasha karate hain vah darshan karate hain ya phir ham kisee tarah ka shauk karate hain vah hamen turant door kar dena usake alaava bure vyakti jo aapako chaapaloosee karate hain aapake saath mithee mithee baate karate hain aapase apana kaam nikalavaana chaahate hain un logon ko turant door kar deejie vah aapako galat salaah denge hamesha aise logon ke saath rahee hai bure vakt mein jo aapako sahee salaah den kadava jaroor bolenge jaroor lekin jo kuchh bhee kahenge vah aap ke bhale ke lie kahenge isalie hamesha bure vakt mein aap achchhe logon ke saath rahenge logon ko door kar deejie buree aadat ko door kar deejie aur bure jo bhee aapake aasapaas negetiv point hai un sab ko aap door kar deejie bhagavaan kare achchha vakt jaldee aaega aur achchha bataata hee hai dhanyavaad

#जीवन शैली

bolkar speaker
जब मन में किसी बात का बहुत डर हो तब क्या करें ?Jab Man Me Kisi Baat Ka Bahut Dar Ho Tab Kya Karen
Nav kishor Aggarwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Nav जी का जवाब
Service
1:16
नमस्कार आपका प्रश्न है कि जब मन में बहुत डर हो तो किसी बात का तो क्या करें मन में हमें बहुत सारे डर महसूस होते हैं लगते हैं कई बार हमें ऐसी चीजों का भी लगता है जैसे कोई चीज वास्तव में है ही नहीं हमें डर लगता है कि आज हम कोई व्यवसाय करने जा रहे हैं या कोई नौकरी करने जा रहे हैं साक्षात्कार देने जा रहे इंटरव्यू देने का है पता नहीं वहां पर होंगे पास होंगे या हमारा बिज़नेस चलेगा या नहीं चलेगा तो मन में बहुत सारी आशंकाएं बहुत सारे डरते हैं और उस डर और उसे आशंका को दूर करने का सिर्फ एक ही उपाय है कि आप अपने अंदर विश्वास जगह अपने अंदर विश्वास रखें और डरे नहीं बिल्कुल भी घबराए नहीं जो होना है वह हो जाएगा जो हमारी किस्मत में लिखा है वह तो होगा ही होगा उसे कोई रोक नहीं सकता चाहे हम कितना ही अच्छा कर ले कितना भी बुरा कर ले लेकिन जो कुछ होगा वह हो नहीं है निफ्टी ने विधान में जो लिख दिया है भाग्य में किस्मत में चोली इंडिया फोटो हो गई उसमें ना आप कोई रोक सकते हैं ना कोई दूसरा अन्य व्यक्ति हो सकता है इसलिए डर और भय बिल्कुल दूर भगा दीजिए आत्मविश्वास से अपने काम कीजिए जीवन जीए और बेधड़क हो जी बेधड़क हो जाइए धन्यवाद
Namaskaar aapaka prashn hai ki jab man mein bahut dar ho to kisee baat ka to kya karen man mein hamen bahut saare dar mahasoos hote hain lagate hain kaee baar hamen aisee cheejon ka bhee lagata hai jaise koee cheej vaastav mein hai hee nahin hamen dar lagata hai ki aaj ham koee vyavasaay karane ja rahe hain ya koee naukaree karane ja rahe hain saakshaatkaar dene ja rahe intaravyoo dene ka hai pata nahin vahaan par honge paas honge ya hamaara bizanes chalega ya nahin chalega to man mein bahut saaree aashankaen bahut saare darate hain aur us dar aur use aashanka ko door karane ka sirph ek hee upaay hai ki aap apane andar vishvaas jagah apane andar vishvaas rakhen aur dare nahin bilkul bhee ghabarae nahin jo hona hai vah ho jaega jo hamaaree kismat mein likha hai vah to hoga hee hoga use koee rok nahin sakata chaahe ham kitana hee achchha kar le kitana bhee bura kar le lekin jo kuchh hoga vah ho nahin hai niphtee ne vidhaan mein jo likh diya hai bhaagy mein kismat mein cholee indiya photo ho gaee usamen na aap koee rok sakate hain na koee doosara any vyakti ho sakata hai isalie dar aur bhay bilkul door bhaga deejie aatmavishvaas se apane kaam keejie jeevan jeee aur bedhadak ho jee bedhadak ho jaie dhanyavaad

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
हम झूठी बातों को सच जल्दी क्यों मान लेते हैं?Hum Jhuthi Baaton Ko Sach Jaldi Kyun Man Lete Hain
Nav kishor Aggarwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Nav जी का जवाब
Service
1:08
नमस्कार आपका प्रश्न है कि हम झूठी बातों को सच जल्दी क्यों मान लेते हैं लेकिन झूठ बोलना आजकल एक फैशन बन गया और आजकल हर व्यक्ति कहीं ना कहीं किसी न किसी रूप में किसी न किसी जगह पर झूठ बोलता ही है चाहे वह भले के लिए बोल रहा हूं चाय बुरे के लिए बोल रहा हूं लेकिन आजकल झूठ बोलना तो एक फितरत है लोगों की हम लोग भी बोलने सभी लोग बोलते हैं तो झूठ बोलना कोई बड़ा कारण नहीं है लेकिन हां यह है कि कुछ लोग ऐसे होते हैं जो भी झूठ को इतनी सफाई से बोलते हैं झूठ को इतने कॉन्फिडेंस कॉन्फिडेंस नहीं बोलते हैं मतलब बहुत ही आत्मविश्वास है झूठ बोलते हैं कि हमें उनकी बात का विश्वास करना ही पड़ जाता है या फिर हमें किसी व्यक्ति के ऊपर जरूरत से ज्यादा विश्वास होता है तो हम उसके झूठ बात को भी सच मान लेते हैं हमें पता है कि वह बेटे झूठ बोल रहा है लेकिन उसके ऊपर विश्वास ही इतना होता है या उसके ऊपर हमें भरोसा इतना ज्यादा होता है कि हम उसके झूठ को भी सच यह आजकल एक फैशन है इसमें कोई बड़ी बात नहीं है उम्मीद करता हूं जवाब अच्छा लगेगा धन्यवाद
Namaskaar aapaka prashn hai ki ham jhoothee baaton ko sach jaldee kyon maan lete hain lekin jhooth bolana aajakal ek phaishan ban gaya aur aajakal har vyakti kaheen na kaheen kisee na kisee roop mein kisee na kisee jagah par jhooth bolata hee hai chaahe vah bhale ke lie bol raha hoon chaay bure ke lie bol raha hoon lekin aajakal jhooth bolana to ek phitarat hai logon kee ham log bhee bolane sabhee log bolate hain to jhooth bolana koee bada kaaran nahin hai lekin haan yah hai ki kuchh log aise hote hain jo bhee jhooth ko itanee saphaee se bolate hain jhooth ko itane konphidens konphidens nahin bolate hain matalab bahut hee aatmavishvaas hai jhooth bolate hain ki hamen unakee baat ka vishvaas karana hee pad jaata hai ya phir hamen kisee vyakti ke oopar jaroorat se jyaada vishvaas hota hai to ham usake jhooth baat ko bhee sach maan lete hain hamen pata hai ki vah bete jhooth bol raha hai lekin usake oopar vishvaas hee itana hota hai ya usake oopar hamen bharosa itana jyaada hota hai ki ham usake jhooth ko bhee sach yah aajakal ek phaishan hai isamen koee badee baat nahin hai ummeed karata hoon javaab achchha lagega dhanyavaad

#जीवन शैली

bolkar speaker
हर इंसान को किस के सामने अपनी हार स्वीकार करनी पड़ती है?Har Insaan Ko Kis Ke Samne Apni Haar Svekaar Karni Padti Hai
Nav kishor Aggarwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Nav जी का जवाब
Service
0:53
नमस्कार आपका प्रश्न है कि हर इंसान को किस के सामने अपनी हार स्वीकार करनी पड़ती है लेकिन अगर हार ऐसे व्यक्ति के सामने स्वीकार करें जो वाक्य में सम्मानीय हैं पूजनीय हैं और अगर उसके सामने हार स्वीकार करने से हमारी कोई बेज्जती नहीं होती हमारे आत्मसम्मान को ठेस नहीं पहुंचती है तो हमें निश्चित रूप से हार स्वीकार कर लेनी चाहिए और हार जो शिकार करनी पड़ती है या करनी चाहिए वह है हमारे मां-बाप हमारे परिवार हमारी पत्नी और उसके सबसे ऊपर जो होते हैं वह हमारे प्रभु हमारे ईश्वर जिस धर्म को हम मांगते हैं जिस देवता को मानते उनके सामने यदि हम हार स्वीकार करते हैं तो हमें कोई गुलामी नहीं होती हमें कोई पश्चाताप नहीं होता और हम हार खुशी-खुशी स्वीकार करते हैं धन्यवाद
Namaskaar aapaka prashn hai ki har insaan ko kis ke saamane apanee haar sveekaar karanee padatee hai lekin agar haar aise vyakti ke saamane sveekaar karen jo vaaky mein sammaaneey hain poojaneey hain aur agar usake saamane haar sveekaar karane se hamaaree koee bejjatee nahin hotee hamaare aatmasammaan ko thes nahin pahunchatee hai to hamen nishchit roop se haar sveekaar kar lenee chaahie aur haar jo shikaar karanee padatee hai ya karanee chaahie vah hai hamaare maan-baap hamaare parivaar hamaaree patnee aur usake sabase oopar jo hote hain vah hamaare prabhu hamaare eeshvar jis dharm ko ham maangate hain jis devata ko maanate unake saamane yadi ham haar sveekaar karate hain to hamen koee gulaamee nahin hotee hamen koee pashchaataap nahin hota aur ham haar khushee-khushee sveekaar karate hain dhanyavaad

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
मनुष्य के दुख का सबसे बड़ा कारण क्या है?Manushya Ke Dukh Ka Sabse Bada Karan Kya Hai
Nav kishor Aggarwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Nav जी का जवाब
Service
0:57
नमस्कार आप ने प्रश्न किया है कि मनुष्य के दुख का सबसे बड़ा कारण क्या है देखिए मैं समझता हूं मनुष्य के दुख का सबसे बड़ा कारण तो मनुष्य खुद ही है मनुष्य की जो लालसा है जो इच्छाएं हैं वह जरूरत से ज्यादा हो जाती है जरूरत से ज्यादा बढ़ जाती हैं जिस वजह से उसको दुख पहुंचता है वह परेशान हो जाता है और यह परेशानी ही उसके दुख का कारण होती है कभी भी ज्यादा इच्छा या ज्यादा लालसा नहीं रखनी चाहिए जितना मिले उसी में संतोष कीजिए कहते हैं ना कि जितना ज्यादा आप मांगेंगे जितना ज्यादा आप पाने की कोशिश करेंगे उतना ही ज्यादा आप होंगे भी तो इसलिए कभी भी अपनी गुंजाइश से ज्यादा अपनी इच्छाओं को कंट्रोल में रखें और अपनी जितना आपको मिलता है प्रभु ने आपको जो दिया है उसी में संतोष रखी है जितनी चादर आपकी है उतने ही पैर फैलाने बैठा रहे उम्मीद करता हूं जवाब अच्छा लगेगा धन्यवाद
Namaskaar aap ne prashn kiya hai ki manushy ke dukh ka sabase bada kaaran kya hai dekhie main samajhata hoon manushy ke dukh ka sabase bada kaaran to manushy khud hee hai manushy kee jo laalasa hai jo ichchhaen hain vah jaroorat se jyaada ho jaatee hai jaroorat se jyaada badh jaatee hain jis vajah se usako dukh pahunchata hai vah pareshaan ho jaata hai aur yah pareshaanee hee usake dukh ka kaaran hotee hai kabhee bhee jyaada ichchha ya jyaada laalasa nahin rakhanee chaahie jitana mile usee mein santosh keejie kahate hain na ki jitana jyaada aap maangenge jitana jyaada aap paane kee koshish karenge utana hee jyaada aap honge bhee to isalie kabhee bhee apanee gunjaish se jyaada apanee ichchhaon ko kantrol mein rakhen aur apanee jitana aapako milata hai prabhu ne aapako jo diya hai usee mein santosh rakhee hai jitanee chaadar aapakee hai utane hee pair phailaane baitha rahe ummeed karata hoon javaab achchha lagega dhanyavaad

#जीवन शैली

bolkar speaker
किसी व्यक्ति को उधार देने से मना करने के लिए क्या उपाय करने चाहिए?Kisi Viyakti Ko Udhar Dene Se Mana Karne Ke Lie Kya Upaay Karne Chaiye
Nav kishor Aggarwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Nav जी का जवाब
Service
1:21
नमस्कार आपका प्रश्न है कि किसी व्यक्ति को धार देने से मना करने के लिए क्या उपाय करने चाहिए आजकल उधार तो एक परंपरा सी हो गई है आजकल हर किसी को उधार की जरूरत पड़ती है कोई भी व्यक्ति कभी भी किसी भी समय उधार मांग लेते हैं मांग लेता है तो उधार तो कुछ आजकल आप किसी को मना कर नहीं सकते हां यह है कि यदि व्यक्ति गलत है उधार देने के बाद वापस ना करें चीज है पैसे या फिर आपके पास गुंजाइश नहीं है क्या आप उसे उधार देने की स्थिति में हूं तो आप सीधा सो पाए आप उसे मना कर दीजिए सेक्टर का यह मत या उसे लारा लप्पा मत दीजिए उसे दिलासा मत दीजिए कि हां ठीक है आज तो नहीं है कल आ जाना या परसों आ जाना या फिर हां ठीक है देखते हैं कर देंगे स्पष्ट मना करना बेहतर होता है क्योंकि इससे किसी की जो उम्मीदें होती है वह टूटती नहीं है मान लीजिए आपने उसे टरका दिया या दिलासा दे दिया तो वह क्या है कि फिर आप से उम्मीद लगाए गा और पता लगेगा एक दिन उसे क्या आप तो उसका काम कर ही नहीं पाए आप तो सुधार दे नहीं पाए फिर उसकी उम्मीद टूट जाएगी और उसका दिल टूट जाता है ट्रांसलेट उधार देने से मना करने के लिए स्पष्ट है आप स्पष्ट मना कर दी अपनी स्थिति को बयान कर दीजिए कि मेरे पास फिलहाल अभी नहीं है मैं नहीं दे सकता या मैं देना नहीं चाहता धन्यवाद
Namaskaar aapaka prashn hai ki kisee vyakti ko dhaar dene se mana karane ke lie kya upaay karane chaahie aajakal udhaar to ek parampara see ho gaee hai aajakal har kisee ko udhaar kee jaroorat padatee hai koee bhee vyakti kabhee bhee kisee bhee samay udhaar maang lete hain maang leta hai to udhaar to kuchh aajakal aap kisee ko mana kar nahin sakate haan yah hai ki yadi vyakti galat hai udhaar dene ke baad vaapas na karen cheej hai paise ya phir aapake paas gunjaish nahin hai kya aap use udhaar dene kee sthiti mein hoon to aap seedha so pae aap use mana kar deejie sektar ka yah mat ya use laara lappa mat deejie use dilaasa mat deejie ki haan theek hai aaj to nahin hai kal aa jaana ya parason aa jaana ya phir haan theek hai dekhate hain kar denge spasht mana karana behatar hota hai kyonki isase kisee kee jo ummeeden hotee hai vah tootatee nahin hai maan leejie aapane use taraka diya ya dilaasa de diya to vah kya hai ki phir aap se ummeed lagae ga aur pata lagega ek din use kya aap to usaka kaam kar hee nahin pae aap to sudhaar de nahin pae phir usakee ummeed toot jaegee aur usaka dil toot jaata hai traansalet udhaar dene se mana karane ke lie spasht hai aap spasht mana kar dee apanee sthiti ko bayaan kar deejie ki mere paas philahaal abhee nahin hai main nahin de sakata ya main dena nahin chaahata dhanyavaad

#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker
आपके हिसाब से भारत में रिटायरमेंट की सही उम्र क्या है?Aapke Hisab Se Bharat Mein Retirement Ki Sahi Umr Kya Hai
Nav kishor Aggarwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Nav जी का जवाब
Service
1:32
नमस्कार आपका प्रश्न है कि आप के हिसाब से भारत में रिटायरमेंट की सही उम्र क्या है लिखिए जब हमारे देश में नौकरी का चलन शुरू हुआ था खासकर के सरकारी नौकरी में तो उस वक्त जो रिटायरमेंट की आयु रखी गई थी वह टी-शर्ट पर उसके बाद धीरे-धीरे इसमें संशोधन होते गए आजकल 58 वर्ष कर दी गई है रिटायरमेंट की उम्र व्यक्ति को मैं समझता हूं कि 58 साल की उम्र में आकर 60 साल की उम्र में आकर व्यक्ति वृद्ध हो जाता है और उसके शरीर की जो गतिविधियां होती है वह थोड़ा कम हो जाती हैं वह काम करने की क्षमता थोड़ा नहीं कर पाता है काम नहीं कर पाता काम करने की क्षमता उसकी कम हो जाती है जबकि नौकरी में क्या है कि जब तक आप नौकरी कर रहे हैं आपको हर वक्त अलर्ट रहना पड़ेगा और नौकरी में आपको कोई भी काम सौंपा जा सकता है तो मैं समझता हूं कि एक रिटायरमेंट की जो उम्र होती है वैसे वह 52 साल की होती है क्योंकि 52 साल की उम्र में भी एक तरह से आदमी आदमी आजकल का खानपान ऐसा है नहीं कि 52 साल की उम्र में 53 साल की उम्र में भी शरीर बहुत अच्छी तरह से काम करता है या बहुत अच्छा गतिशील है या शरीर की भुजा आज भी बरकरार है ऐसा नहीं होता 5253 साल की उम्र में यदि व्यक्ति रिटायर हो जाए और उससे यह भी है कि नए युवाओं को मौका मिलता है जो युवा आज नौकरी की तलाश में कतार में खड़े हुए हैं उनको आगे आने का मौका मिलता है तो इसलिए मैं समझता हूं कि जो रिटायरमेंट की उम्र 52 से 53 साल से ज्यादा नहीं होनी चाहिए धन्यवाद
Namaskaar aapaka prashn hai ki aap ke hisaab se bhaarat mein ritaayarament kee sahee umr kya hai likhie jab hamaare desh mein naukaree ka chalan shuroo hua tha khaasakar ke sarakaaree naukaree mein to us vakt jo ritaayarament kee aayu rakhee gaee thee vah tee-shart par usake baad dheere-dheere isamen sanshodhan hote gae aajakal 58 varsh kar dee gaee hai ritaayarament kee umr vyakti ko main samajhata hoon ki 58 saal kee umr mein aakar 60 saal kee umr mein aakar vyakti vrddh ho jaata hai aur usake shareer kee jo gatividhiyaan hotee hai vah thoda kam ho jaatee hain vah kaam karane kee kshamata thoda nahin kar paata hai kaam nahin kar paata kaam karane kee kshamata usakee kam ho jaatee hai jabaki naukaree mein kya hai ki jab tak aap naukaree kar rahe hain aapako har vakt alart rahana padega aur naukaree mein aapako koee bhee kaam saumpa ja sakata hai to main samajhata hoon ki ek ritaayarament kee jo umr hotee hai vaise vah 52 saal kee hotee hai kyonki 52 saal kee umr mein bhee ek tarah se aadamee aadamee aajakal ka khaanapaan aisa hai nahin ki 52 saal kee umr mein 53 saal kee umr mein bhee shareer bahut achchhee tarah se kaam karata hai ya bahut achchha gatisheel hai ya shareer kee bhuja aaj bhee barakaraar hai aisa nahin hota 5253 saal kee umr mein yadi vyakti ritaayar ho jae aur usase yah bhee hai ki nae yuvaon ko mauka milata hai jo yuva aaj naukaree kee talaash mein kataar mein khade hue hain unako aage aane ka mauka milata hai to isalie main samajhata hoon ki jo ritaayarament kee umr 52 se 53 saal se jyaada nahin honee chaahie dhanyavaad

#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker
हाथ में किस धातु की अंगूठी पहनना चाहिए?Hath Mein Kis Dhatu Ki Anguthi Pehnna Chaiye
Nav kishor Aggarwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Nav जी का जवाब
Service
1:05
नमस्कार आपका प्रश्न है कि हाथ में किस धातु की अंगूठी पहनना चाहिए लेकिन दोस्त हम लोग अपने हाथों में कई किस्म की धातु की अंगूठियां पहनते हैं और यह सब अंगूठियां जो पहनी जाती है यह सब हमारे राशि रतन के हिसाब से पहनी जाती है जो व्यक्ति जिस राशि का है और उसे जो धातु सूट करती है हमेशा उसी धातु को ग्रहण करना चाहिए क्योंकि मैंने देखा है कई लोग जाने अनजाने फैशन के तौर पर या वैसे ही बिना किसी से पूछा था कि साला लिए कोई भी धातु ग्रहण कर लेते हैं और जिसका कि उनके जीवन पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है उनके शरीर में नेगेटिव ऊर्जा एक्टिव हो जाती है तो हमेशा कोई भी धातुओं पहले कोई भी रत्न पहने तो उसको अपने ज्योतिष शास्त्र जो होते हैं पंडित होते हैं उनसे सलाह मशवरा ले करके ही पहने पुत्र रतन और धातु हमेशा राशि के अनुसार बनाए जाते हैं और राशि के अनुसार ही पहने जाते हैं इनको मात्र फैशन के तौर पर धारण कर लेना या ऐसे ही जाने अनजाने में धारण कर लेना नुकसान होता है धन्यवाद
Namaskaar aapaka prashn hai ki haath mein kis dhaatu kee angoothee pahanana chaahie lekin dost ham log apane haathon mein kaee kism kee dhaatu kee angoothiyaan pahanate hain aur yah sab angoothiyaan jo pahanee jaatee hai yah sab hamaare raashi ratan ke hisaab se pahanee jaatee hai jo vyakti jis raashi ka hai aur use jo dhaatu soot karatee hai hamesha usee dhaatu ko grahan karana chaahie kyonki mainne dekha hai kaee log jaane anajaane phaishan ke taur par ya vaise hee bina kisee se poochha tha ki saala lie koee bhee dhaatu grahan kar lete hain aur jisaka ki unake jeevan par nakaaraatmak prabhaav padata hai unake shareer mein negetiv oorja ektiv ho jaatee hai to hamesha koee bhee dhaatuon pahale koee bhee ratn pahane to usako apane jyotish shaastr jo hote hain pandit hote hain unase salaah mashavara le karake hee pahane putr ratan aur dhaatu hamesha raashi ke anusaar banae jaate hain aur raashi ke anusaar hee pahane jaate hain inako maatr phaishan ke taur par dhaaran kar lena ya aise hee jaane anajaane mein dhaaran kar lena nukasaan hota hai dhanyavaad

#जीवन शैली

bolkar speaker
क्या इस दुनिया में धन या पैसे से सब कुछ खरीदा जा सकता है?Kya Is Duniya Mein Dhan Ya Paise Se Sab Kuch Khareeda Ja Sakta Hai
Nav kishor Aggarwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Nav जी का जवाब
Service
1:09
नमस्कार आपका प्रश्न है कि क्या इस दुनिया में धनिया पैसे से सब कुछ खरीदा जा सकता है जी नहीं ऐसा नहीं है मानता हूं कि किसी के पास पैसा है तो वह सब कुछ खरीद सकता है तो सब कुछ में क्या-क्या चीज आती है वह सिर्फ अपने आसाराम के साधन खरीद सकता है वह अपने लिए गाड़ी खरीद सकता है मकान खरीद सकता है और और अपने ऐश्वर्याम के कपड़े खरीद सकता है और भी जो भी साधन होते हैं वह सब खरीद सकता है लेकिन पैसों से दोस्त कभी भी किसी की इमानदारी नहीं खरीद सकते और आज भी इस दुनिया में आप पैसों से कोई ऐसी दवाई नहीं खरीद सकते जो शरीर में जान डाल दे क्योंकि किसी की जान आप नहीं खरीद सकते पैसों से तो यह चीज एक ऐसी है कि पैसों से आप सब कुछ खरीद सकते हैं लेकिन कुछ भगवान ने शक्तियां अपने पास रखें और पैसे से आप उन शक्तियों को नहीं खरीद सकते किसी भी मृत व्यक्ति के शरीर में आप जान नहीं डाल सकते थे आप और करोड़ों रुपया खर्च कर दीजिए अरबों रुपया खर्च कर दीजिए पूरा जितना पैसा वह खर्च लेकिन जो व्यक्ति मृत है उसके शरीर में जान नहीं डाल सकते यह कुछ कारण है कि हम पैसे से सब चीजें नहीं खरीद सकते धन्यवाद
Namaskaar aapaka prashn hai ki kya is duniya mein dhaniya paise se sab kuchh khareeda ja sakata hai jee nahin aisa nahin hai maanata hoon ki kisee ke paas paisa hai to vah sab kuchh khareed sakata hai to sab kuchh mein kya-kya cheej aatee hai vah sirph apane aasaaraam ke saadhan khareed sakata hai vah apane lie gaadee khareed sakata hai makaan khareed sakata hai aur aur apane aishvaryaam ke kapade khareed sakata hai aur bhee jo bhee saadhan hote hain vah sab khareed sakata hai lekin paison se dost kabhee bhee kisee kee imaanadaaree nahin khareed sakate aur aaj bhee is duniya mein aap paison se koee aisee davaee nahin khareed sakate jo shareer mein jaan daal de kyonki kisee kee jaan aap nahin khareed sakate paison se to yah cheej ek aisee hai ki paison se aap sab kuchh khareed sakate hain lekin kuchh bhagavaan ne shaktiyaan apane paas rakhen aur paise se aap un shaktiyon ko nahin khareed sakate kisee bhee mrt vyakti ke shareer mein aap jaan nahin daal sakate the aap aur karodon rupaya kharch kar deejie arabon rupaya kharch kar deejie poora jitana paisa vah kharch lekin jo vyakti mrt hai usake shareer mein jaan nahin daal sakate yah kuchh kaaran hai ki ham paise se sab cheejen nahin khareed sakate dhanyavaad

#जीवन शैली

bolkar speaker
ठंड के मौसम में सिर के सतह पर जगह-जगह dandruff जम जाते हैं इसके क्या कारण है?Thand Ke Mausam Mein Sir Ke Satah Par Jagah Jagah Dandruff Jam Jaate Hain Iske Kya Karan Hai
Nav kishor Aggarwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Nav जी का जवाब
Service
1:36
सर आपका प्रश्न है कि ठंड के मौसम में सिर के सतह पर जगह-जगह जेंटल जिम जाते हैं इसके क्या कारण है लेकिन ठंड के मौसम में अक्सर ऐसा होता है कि सर पर डैंड्रफ हो जाती है शरीर पर कई जगह मैल जम जाता है उसका कारण है कि कुछ लोग को कई-कई दिन तक नहाते नहीं है सिर्फ हाथ मुंह धोए और अपना आंचल दिए तो उसकी वजह से भी एक कारण है हमें नित्य प्रति रोजाना हमें नहाना चाहिए स्नान करना चाहिए और अच्छे से साबुन से अच्छे से शैंपू से हमें नहाना चाहिए सर वह हमें रोजाना शैंपू से धोना चाहिए अच्छे ब्रांडेड शैंपू से जुड़िए और आयुर्वेदिक शैंपू हो तो बढ़िया है और उसके अलावा सर जब आप नहा कर निकलते हैं तो सर पर करीबन आधे घंटे तक बढ़िया तेल जैसे नवरत्न तेल आता है या आंवले का तेल आता है या गोले का तेल आता है इस तेल से आप रोजाना अच्छे से मालिश कीजिए सरसों का तेल मत लगाई है सर पर क्योंकि मैंने बहुत लोगों को देखा है सरसों का तेल सर पर लगाते हैं तो उससे क्या होता है एक तो मालूम बहुत गंदी स्मेल आती है दूसरे क्या है कि सरसों के तेल की वजह से भी चिपचिपाहट बढ़ जाती है और सर पर रोए जम जाते हैं डैंड्रफ आ जाती है तो सरसों के तेल को सर पर मत मानिए सरसों के तेल को आप सिर्फ बॉडी पर मिली है वह भी गर्म करके और इसके अलावा आप अपना आंवले का तेल यूज़ कर सकते हैं हल्का तेल होता है या फिर जैस्मिन का तेल लगाइए और रोजाना बालों को अच्छे शैंपू से हुई है सर पर कभी भी डैंड्रफ नहीं आएगी और जब भी आप बाहर जाते हैं तो धूल मिट्टी से अपने सर को बताइए सर पर कोई कपड़ा बांधी है जिसे की धूल मिट्टी आपके बालों में नामों से उम्मीद करता हूं जवाब अच्छा लगेगा धन्यवाद
Sar aapaka prashn hai ki thand ke mausam mein sir ke satah par jagah-jagah jental jim jaate hain isake kya kaaran hai lekin thand ke mausam mein aksar aisa hota hai ki sar par daindraph ho jaatee hai shareer par kaee jagah mail jam jaata hai usaka kaaran hai ki kuchh log ko kaee-kaee din tak nahaate nahin hai sirph haath munh dhoe aur apana aanchal die to usakee vajah se bhee ek kaaran hai hamen nity prati rojaana hamen nahaana chaahie snaan karana chaahie aur achchhe se saabun se achchhe se shaimpoo se hamen nahaana chaahie sar vah hamen rojaana shaimpoo se dhona chaahie achchhe braanded shaimpoo se judie aur aayurvedik shaimpoo ho to badhiya hai aur usake alaava sar jab aap naha kar nikalate hain to sar par kareeban aadhe ghante tak badhiya tel jaise navaratn tel aata hai ya aanvale ka tel aata hai ya gole ka tel aata hai is tel se aap rojaana achchhe se maalish keejie sarason ka tel mat lagaee hai sar par kyonki mainne bahut logon ko dekha hai sarason ka tel sar par lagaate hain to usase kya hota hai ek to maaloom bahut gandee smel aatee hai doosare kya hai ki sarason ke tel kee vajah se bhee chipachipaahat badh jaatee hai aur sar par roe jam jaate hain daindraph aa jaatee hai to sarason ke tel ko sar par mat maanie sarason ke tel ko aap sirph bodee par milee hai vah bhee garm karake aur isake alaava aap apana aanvale ka tel yooz kar sakate hain halka tel hota hai ya phir jaismin ka tel lagaie aur rojaana baalon ko achchhe shaimpoo se huee hai sar par kabhee bhee daindraph nahin aaegee aur jab bhee aap baahar jaate hain to dhool mittee se apane sar ko bataie sar par koee kapada baandhee hai jise kee dhool mittee aapake baalon mein naamon se ummeed karata hoon javaab achchha lagega dhanyavaad

#जीवन शैली

bolkar speaker
क्या आप हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए उपचार बता सकते हैं?Kya Aap Haddiyo Ko Majbut Banane Ke Lie Upchar Bata Sakte Hain
Nav kishor Aggarwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Nav जी का जवाब
Service
0:50
नमस्कार आपका प्रश्न है कि क्या आप हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए कोई उपचार बता सकते हैं लेकिन हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए सबसे बढ़िया उपचार है कैल्शियम कैल्शियम को भरपूर मात्रा में लीजिए कैल्शियम दूध में भी पाया जाता है फलों में भी पाया जाता सब्जियों में भी पाया जाता है हरे पत्तों की सब्जी है ज्यादा खाई है सेब खाई है चुकंदर खाई है दूध पीजिए और अपने शरीर को स्वस्थ रखें हड्डियों को मजबूत करने के लिए हड्डियों में जो मजबूती आती है वह कैल्शियम की वजह से आती आयरन की वजह से आती है अगर आप यह दो प्रोटीन आयरन और कैल्शियम नियमित मात्रा में लेंगे और रोजाना आप अगर कुछ ऐसी चीजों का सेवन करेंगे जिससे कि आपको यह दोनों विटामिन ए आपको टाइम मिले तो आप की हड्डियां हमेशा मजबूत रहेंगे आगे आप डॉक्टर से भी सलाह ले सकते हैं वह आपको बेहतर चला देंगे धन्यवाद
Namaskaar aapaka prashn hai ki kya aap haddiyon ko majaboot banaane ke lie koee upachaar bata sakate hain lekin haddiyon ko majaboot banaane ke lie sabase badhiya upachaar hai kailshiyam kailshiyam ko bharapoor maatra mein leejie kailshiyam doodh mein bhee paaya jaata hai phalon mein bhee paaya jaata sabjiyon mein bhee paaya jaata hai hare patton kee sabjee hai jyaada khaee hai seb khaee hai chukandar khaee hai doodh peejie aur apane shareer ko svasth rakhen haddiyon ko majaboot karane ke lie haddiyon mein jo majabootee aatee hai vah kailshiyam kee vajah se aatee aayaran kee vajah se aatee hai agar aap yah do proteen aayaran aur kailshiyam niyamit maatra mein lenge aur rojaana aap agar kuchh aisee cheejon ka sevan karenge jisase ki aapako yah donon vitaamin e aapako taim mile to aap kee haddiyaan hamesha majaboot rahenge aage aap doktar se bhee salaah le sakate hain vah aapako behatar chala denge dhanyavaad

#जीवन शैली

bolkar speaker
प्रतिदिन पैदल चलने से क्या होता है?Pratidin Paidal Chalne Se Kya Hota Hai
Nav kishor Aggarwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Nav जी का जवाब
Service
1:13
स्टार आपका प्रश्न है कि प्रतिदिन पैदल चलने से क्या होता है लेकिन यह शुरू से बात चलती आई है कि पैदल चलना और साइकिल चलाना इन दोनों सेम एक्सरसाइज है और मैं समझता हूं कि हर इंसान को अपने जीवन में यह दो चीजें रोजाना ही करनी चाहिए अगर वह दोनों चीज नहीं कर सकता तो कम से कम पैदल जरूर चले पैदल चलने से क्या होता कि हमारा पूरा शरीर गतिमान होता है पूरे शरीर की हमारी नशे खुलती हैं हमें हमारा वजन कम होता है हमारा पेट कम हो जाता है पैदल चलने से बहुत ज्यादा अच्छी एक्सरसाइज उससे कोई होती पैदल चलना चाहिए अगर हम जिम नहीं जा पाते या हम कोई और अन्य एक्सरसाइज नहीं कर पाते व्यायाम नहीं कर पाते तो हमें रोजाना करीबन 2 से 5 किलोमीटर पैदल जरूर चलना चाहिए जिससे कि हमारे शरीर को ऊर्जा मिले हमारे शरीर की जो बेस्ट एनर्जी है वह खत्म हो जाए जो हमें अपना शरीर के अंदर हमें एक्स्ट्रा जो भाषा होती है प्रो वह सब जल जाए और हमारा शरीर स्वस्थ रहे हमारे शरीर की सभी नशे खुली रहे हैं और हमारा शरीर जो है बिल्कुल एकदम फिट रहे थे इसके लिए पैदल चलना बहुत जरूरी है धन्यवाद
Staar aapaka prashn hai ki pratidin paidal chalane se kya hota hai lekin yah shuroo se baat chalatee aaee hai ki paidal chalana aur saikil chalaana in donon sem eksarasaij hai aur main samajhata hoon ki har insaan ko apane jeevan mein yah do cheejen rojaana hee karanee chaahie agar vah donon cheej nahin kar sakata to kam se kam paidal jaroor chale paidal chalane se kya hota ki hamaara poora shareer gatimaan hota hai poore shareer kee hamaaree nashe khulatee hain hamen hamaara vajan kam hota hai hamaara pet kam ho jaata hai paidal chalane se bahut jyaada achchhee eksarasaij usase koee hotee paidal chalana chaahie agar ham jim nahin ja paate ya ham koee aur any eksarasaij nahin kar paate vyaayaam nahin kar paate to hamen rojaana kareeban 2 se 5 kilomeetar paidal jaroor chalana chaahie jisase ki hamaare shareer ko oorja mile hamaare shareer kee jo best enarjee hai vah khatm ho jae jo hamen apana shareer ke andar hamen ekstra jo bhaasha hotee hai pro vah sab jal jae aur hamaara shareer svasth rahe hamaare shareer kee sabhee nashe khulee rahe hain aur hamaara shareer jo hai bilkul ekadam phit rahe the isake lie paidal chalana bahut jarooree hai dhanyavaad

#जीवन शैली

bolkar speaker
जीवन में ज्यादा महत्व किसका है मंजिल का यह सफर का?Jeevan Mein Jyada Mahatv Kiska Hai Manjil Ka Ya Safar Ka
Nav kishor Aggarwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Nav जी का जवाब
Service
0:43
नमस्कार आपका प्रश्न है कि जीवन में ज्यादा महत्व किसका है मंजिल का यह सफर का दोस्त मेरी नजर में जीवन में सबसे ज्यादा महत्व होता सफर का क्योंकि हम सफाई नहीं करेंगे तो मंजिल तक कैसे पहुंचेंगे पहला तो हमें सफारी करना है ना पहले तो हमें रास्ते तलाश करने हैं रास्तों को पूरा करना है तभी तो हम अपनी मंजिल तक पहुंचेंगे तो इसलिए हां यह बात जरूर है कि हमें अपनी मंजिल पर नजर रखनी चाहिए हमें अपना लक्ष्य पता होना चाहिए कि हमें क्या करना है कहां जाना है और हमें अपनी जिंदगी में क्या चाहिए लेकिन उस लक्ष्य को पाने के लिए सबसे पहले हमें उसके रास्ते भी तलाशने होते हैं तो वो रास्ते हमारे लिए ज्यादा महत्वपूर्ण होते हैं उम्मीद करता हूं आपका जवाब अच्छा लगेगा धन्यवाद
Namaskaar aapaka prashn hai ki jeevan mein jyaada mahatv kisaka hai manjil ka yah saphar ka dost meree najar mein jeevan mein sabase jyaada mahatv hota saphar ka kyonki ham saphaee nahin karenge to manjil tak kaise pahunchenge pahala to hamen saphaaree karana hai na pahale to hamen raaste talaash karane hain raaston ko poora karana hai tabhee to ham apanee manjil tak pahunchenge to isalie haan yah baat jaroor hai ki hamen apanee manjil par najar rakhanee chaahie hamen apana lakshy pata hona chaahie ki hamen kya karana hai kahaan jaana hai aur hamen apanee jindagee mein kya chaahie lekin us lakshy ko paane ke lie sabase pahale hamen usake raaste bhee talaashane hote hain to vo raaste hamaare lie jyaada mahatvapoorn hote hain ummeed karata hoon aapaka javaab achchha lagega dhanyavaad

#जीवन शैली

bolkar speaker
जिंदगी कभी दूसरा मौका नहीं देते क्या यह सच है?Zindagi Kabhi Dusra Mauka Nahin Dete
Nav kishor Aggarwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Nav जी का जवाब
Service
0:54
नमस्कार आपका प्रश्न है कि जिंदगी कभी दूसरा मौका नहीं देती क्या यह सच है जी हां काफी हद तक ए बात सच है कि हमारी जिंदगी में बहुत सारे मौके ऐसे आते हैं जिनसे कि हमारा जीवन बदल जाए लेकिन या तो हम उन मौकों को समझ नहीं पाते या फिर उन मौकों को हम अंजाम नहीं दे पाते जिसकी वजह से हमारी जिंदगी कई बार बदलने से रुक जाती है या हम बाद में सोचते कि यार काश उसकी काम ऐसा किया होता तो आज कुछ का कुछ होता आज हमें प्रॉफिट होता है आज हमारा जीवन ऐसा होता वाक्य में ठीक बात है लेकिन जिंदगी मौका बहुत कम देती है हां कुछ लोग खुशनसीब होते हैं कि जिन्हें दोबारा मौका मिलता है और अगर वह उस वक्त भी चूक जाते हैं तो फिर उनकी जिंदगी बिल्कुल नरक बन जाती है फिर वह लोग कभी भी सफल नहीं हो पाते उम्मीद करता हूं जवाब अच्छा लगेगा धन्यवाद
Namaskaar aapaka prashn hai ki jindagee kabhee doosara mauka nahin detee kya yah sach hai jee haan kaaphee had tak e baat sach hai ki hamaaree jindagee mein bahut saare mauke aise aate hain jinase ki hamaara jeevan badal jae lekin ya to ham un maukon ko samajh nahin paate ya phir un maukon ko ham anjaam nahin de paate jisakee vajah se hamaaree jindagee kaee baar badalane se ruk jaatee hai ya ham baad mein sochate ki yaar kaash usakee kaam aisa kiya hota to aaj kuchh ka kuchh hota aaj hamen prophit hota hai aaj hamaara jeevan aisa hota vaaky mein theek baat hai lekin jindagee mauka bahut kam detee hai haan kuchh log khushanaseeb hote hain ki jinhen dobaara mauka milata hai aur agar vah us vakt bhee chook jaate hain to phir unakee jindagee bilkul narak ban jaatee hai phir vah log kabhee bhee saphal nahin ho paate ummeed karata hoon javaab achchha lagega dhanyavaad

#जीवन शैली

Nav kishor Aggarwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Nav जी का जवाब
Service
1:19
कार प्रश्न किया गया है कि हमें दूसरों की सहायता करनी चाहिए या नहीं अगर करनी चाहिए तो क्या सोचकर करनी चाहिए देखे दोस्त हमें दूसरों की सहायता अवश्य करनी चाहिए क्योंकि आपने सुना होगा कि जैसी करनी वैसी भरनी यदि हम दूसरों की सहायता करते हैं तभी दूसरे भी हमारी सहायता करेंगे तो हमें अवश्य दूसरों की सहायता करनी चाहिए अगर हम सहायता करने के लायक हैं यह गर्म कर सकते हैं तो हमें करनी चाहिए लेकिन सहायता कुछ चीजें देखकर के की जाती है पहली तो यह कि जिस की सहायता में कर रहे हैं वह वाक्य में इस सहायता लेने के लायक है या नहीं है कई बार लोग झूठ बोलकर कह दूंगा करके फ्रॉड करके ठगी करके सहायता मांगते वह गलत है तो हमेशा हमें पहले सामने वाले व्यक्ति को परखना चाहिए कि वाक्य में हमें उसकी सहायता करनी चाहिए या नहीं करनी चाहिए अगर वह सच्चा ईमानदार है और वाक्य में उसे असलियत में उसे सच की सहायता की जरूरत है तो हमें उसकी सहायता जरूर करनी चाहिए लेकिन सहायता उसी व्यक्ति की करें जो वाक्य में मजबूर हो हमेशा काफी सारे लोग ऐसे मैंने देखे हैं आजकल देखा होगा आपने सिग्नल वगैरह पर भीख मांगते लो वह सहायता के पात्र नहीं होते लोगों की आदत है हमको तो बिजनेस है
Kaar prashn kiya gaya hai ki hamen doosaron kee sahaayata karanee chaahie ya nahin agar karanee chaahie to kya sochakar karanee chaahie dekhe dost hamen doosaron kee sahaayata avashy karanee chaahie kyonki aapane suna hoga ki jaisee karanee vaisee bharanee yadi ham doosaron kee sahaayata karate hain tabhee doosare bhee hamaaree sahaayata karenge to hamen avashy doosaron kee sahaayata karanee chaahie agar ham sahaayata karane ke laayak hain yah garm kar sakate hain to hamen karanee chaahie lekin sahaayata kuchh cheejen dekhakar ke kee jaatee hai pahalee to yah ki jis kee sahaayata mein kar rahe hain vah vaaky mein is sahaayata lene ke laayak hai ya nahin hai kaee baar log jhooth bolakar kah doonga karake phrod karake thagee karake sahaayata maangate vah galat hai to hamesha hamen pahale saamane vaale vyakti ko parakhana chaahie ki vaaky mein hamen usakee sahaayata karanee chaahie ya nahin karanee chaahie agar vah sachcha eemaanadaar hai aur vaaky mein use asaliyat mein use sach kee sahaayata kee jaroorat hai to hamen usakee sahaayata jaroor karanee chaahie lekin sahaayata usee vyakti kee karen jo vaaky mein majaboor ho hamesha kaaphee saare log aise mainne dekhe hain aajakal dekha hoga aapane signal vagairah par bheekh maangate lo vah sahaayata ke paatr nahin hote logon kee aadat hai hamako to bijanes hai

#जीवन शैली

bolkar speaker
दूध पीने का सबसे उत्तम समय कौन सा है?Doodh Peene Ka Sabse Uttam Samay Kaun Sa Hai
Nav kishor Aggarwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Nav जी का जवाब
Service
1:18
नमस्कार आपका सवाल है कि दूध पीने का सबसे उत्तम समय कौन सा है दूर एक अच्छी ड्रिंक है हमारे स्वास्थ्य के लिए दूध पीना स्वास्थ्य के लिए बहुत ज्यादा लाभदायक होता है और दूध से हमें काफी सारे ऐसे प्रोटीन और विटामिन मिलते हैं जो हम अन्य चीजों से प्राप्त नहीं कर पाते यहां मरने चीजों को उपयोग नहीं कर पाते तो दूर देख प्राचीन काल से एक दूध को बहुत स्वादिष्ट और बहुत पोस्टिक आहार माना गया जब बच्चा जन्म लेता है तो उसे भी मां का दूध ही दिया जाता है और उसे भी दूध के ऊपर ही रखा जाता है तो मैं समझता हूं तू देख सर्वोत्तम आहार है और रही बात इसको पीने की तो सुबह और शाम यदि आप दूध का सेवन करेंगे तो आपको ज्यादा लाभ होगा क्योंकि सुबह जब हम नहा धोके अपना फ्रेश होकर नाश्ता करते हैं उससे मैं अगर एक गिलास दूध ले लिया जाए तो वह हमारे पूरे दिन के लिए पोस्टिक आहार साबित होता है इसके अलावा रात को सोते समय अगर आप गर्म और मीठा दूध लेंगे उस से क्या होगा कि आपके शरीर के अंदर जो है बहुत अच्छा ताकत वगैरह आती है बहुत अच्छा आपको नींद भी आएगी आपको बहुत बढ़िया तरीके से मतलब जो आपकी थकान है मेहनत है वह सब उतर जाती है दूध हमारे शरीर के लिए काफी अच्छा आ रहा है धन्यवाद
Namaskaar aapaka savaal hai ki doodh peene ka sabase uttam samay kaun sa hai door ek achchhee drink hai hamaare svaasthy ke lie doodh peena svaasthy ke lie bahut jyaada laabhadaayak hota hai aur doodh se hamen kaaphee saare aise proteen aur vitaamin milate hain jo ham any cheejon se praapt nahin kar paate yahaan marane cheejon ko upayog nahin kar paate to door dekh praacheen kaal se ek doodh ko bahut svaadisht aur bahut postik aahaar maana gaya jab bachcha janm leta hai to use bhee maan ka doodh hee diya jaata hai aur use bhee doodh ke oopar hee rakha jaata hai to main samajhata hoon too dekh sarvottam aahaar hai aur rahee baat isako peene kee to subah aur shaam yadi aap doodh ka sevan karenge to aapako jyaada laabh hoga kyonki subah jab ham naha dhoke apana phresh hokar naashta karate hain usase main agar ek gilaas doodh le liya jae to vah hamaare poore din ke lie postik aahaar saabit hota hai isake alaava raat ko sote samay agar aap garm aur meetha doodh lenge us se kya hoga ki aapake shareer ke andar jo hai bahut achchha taakat vagairah aatee hai bahut achchha aapako neend bhee aaegee aapako bahut badhiya tareeke se matalab jo aapakee thakaan hai mehanat hai vah sab utar jaatee hai doodh hamaare shareer ke lie kaaphee achchha aa raha hai dhanyavaad

#जीवन शैली

bolkar speaker
अंडा खाने से पेट में दर्द होता है कौन सी दवाई लेनी चाहिए कि ठीक हो जाए?Anda Khane Se Pet Mein Dard Hota Hai Kaun See Dawai Leni Chaiye Ki Theek Ho Jaye
Nav kishor Aggarwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Nav जी का जवाब
Service
0:51
कार आपका सवाल है कि अंडा खाने से पेट में दर्द होता है कौन सी दवाई लेनी चाहिए कि ठीक हो जाए लेकिन पहले तो आप यह चेक कीजिए कि सिर्फ अंडा खाने से आपके पेट में दर्द होता है या और भी कोई चीज आप खाते हैं तो आपके पेट में दर्द होता है क्योंकि समस्या अंडे से नहीं हो सकती समस्या आपके पेट से हो सकती है तो पहले आप यह चीज चेक कीजिए अगर आपको खाली अंडा खाने से ही प्रॉब्लम है तो हो सकता है कि कोई आपके शरीर के अंदर कोई ऐसी प्रॉब्लम है जो अंडे के अंदर पाए जाने वाले प्रोटीन और विटामिन से आपको दिक्कत हो जाती है तो पहले आप किसी अच्छे डॉक्टर से सलाह लीजिए अपना अच्छे से चेकअप कराइए ऐसे बिना किसी कारण क्या कोई भी किसी के बताने से दवाई खाएंगे तो आपको नुकसान होगा तो बेहतर है कि आप किसी अच्छे फिजीशियन से मिली है जो डॉक्टर होते हैं उनसे आप अपना चेकअप कराइए पेट का भी और अल्ट्रासाउंड होगा जो भी वह चला देते हैं वह कीजिए धन्यवाद
Kaar aapaka savaal hai ki anda khaane se pet mein dard hota hai kaun see davaee lenee chaahie ki theek ho jae lekin pahale to aap yah chek keejie ki sirph anda khaane se aapake pet mein dard hota hai ya aur bhee koee cheej aap khaate hain to aapake pet mein dard hota hai kyonki samasya ande se nahin ho sakatee samasya aapake pet se ho sakatee hai to pahale aap yah cheej chek keejie agar aapako khaalee anda khaane se hee problam hai to ho sakata hai ki koee aapake shareer ke andar koee aisee problam hai jo ande ke andar pae jaane vaale proteen aur vitaamin se aapako dikkat ho jaatee hai to pahale aap kisee achchhe doktar se salaah leejie apana achchhe se chekap karaie aise bina kisee kaaran kya koee bhee kisee ke bataane se davaee khaenge to aapako nukasaan hoga to behatar hai ki aap kisee achchhe phijeeshiyan se milee hai jo doktar hote hain unase aap apana chekap karaie pet ka bhee aur altraasaund hoga jo bhee vah chala dete hain vah keejie dhanyavaad

#जीवन शैली

bolkar speaker
क्या लड़कियां लड़कों को आकर्षित करने के लिए छोटे कपड़े पहनते हैं?Kya Ladkiyaan Ladkon Ko Aakarshit Karne Ke Lie Chote Kapde Pehnti Hain
Nav kishor Aggarwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Nav जी का जवाब
Service
1:39
नमस्कार आपका सवाल है कि क्या लड़कियां लड़कों को आकर्षित करने के लिए छोटे कपड़े पहनते हैं लेकिन दोस्त यह तो अपनी अपनी सोच का सवाल है जिस व्यक्ति की जैसी सोच होगी वह वैसा ही विचार करेगा अब किसी की सोच गंदी है तो वह यही कह सकता है कि हां जी लड़कियां छोटे छोटे कपड़े पहनती है तो शायद हमें लुभाने के लिए ऐसे कपड़े पहन रही है या शायद यह लड़की गलत है नहीं ऐसा नहीं है ठीक है आजकल फैशन है मॉडर्न जमाना है आजकल वह पुराने जमाना गया जब लड़कियां बिलकुल दुपट्टे से सड़क के चलती थी नजर नीचे करके चलती थी सिंपल बिल्कुल एकदम सीमित अपने रहती थी नहीं आजकल देखे पढ़ाई लिखाई बहुत अच्छी हो गई है मॉडर्न जमाना हो गया और काफी सारे ऐप ऐसे आ रहे हैं जैसे फेसबुक है व्हाट्सएप पर और काफी सारे जो फोन में पोस्ट जो प्रोसीजर है वह आ रहे हैं जिसकी वजह से आधुनिकता बढ़ गई है हां यह बात जरूर है कि अगर हम आधुनिकता जीवन जी रहे हैं अगर हम आधुनिक जीवन जी रहे तो हमें अपनी शालीनता नहीं भूलनी चाहिए हमें अपने संस्कार नहीं भूलना चाहिए हमें अपनी सीमा में रहना चाहिए क्योंकि लड़की हो या लड़का हो अगर ज्यादा बोलकर होता है या ज्यादा थोड़ा सा शालीनता से बाहर होता है अपनी सीमा क्रॉस करता है तो फिर वह समाज के लिए भी घातक होती है समाज की विचारधारा को बहुत ज्यादा प्रभावित करती है और उसकी वजह से अपराध भी भरते हैं तो यह चीजें जरूर सोचनी चाहिए आधुनिक जीवन जियो लेकिन एक सीमा में रहकर एक शालीनता से रहकर और अपने संस्कार को नहीं भूलना चाहिए अपने देश की परंपरा को नहीं भूलना चाहिए धन्यवाद
Namaskaar aapaka savaal hai ki kya ladakiyaan ladakon ko aakarshit karane ke lie chhote kapade pahanate hain lekin dost yah to apanee apanee soch ka savaal hai jis vyakti kee jaisee soch hogee vah vaisa hee vichaar karega ab kisee kee soch gandee hai to vah yahee kah sakata hai ki haan jee ladakiyaan chhote chhote kapade pahanatee hai to shaayad hamen lubhaane ke lie aise kapade pahan rahee hai ya shaayad yah ladakee galat hai nahin aisa nahin hai theek hai aajakal phaishan hai modarn jamaana hai aajakal vah puraane jamaana gaya jab ladakiyaan bilakul dupatte se sadak ke chalatee thee najar neeche karake chalatee thee simpal bilkul ekadam seemit apane rahatee thee nahin aajakal dekhe padhaee likhaee bahut achchhee ho gaee hai modarn jamaana ho gaya aur kaaphee saare aip aise aa rahe hain jaise phesabuk hai vhaatsep par aur kaaphee saare jo phon mein post jo proseejar hai vah aa rahe hain jisakee vajah se aadhunikata badh gaee hai haan yah baat jaroor hai ki agar ham aadhunikata jeevan jee rahe hain agar ham aadhunik jeevan jee rahe to hamen apanee shaaleenata nahin bhoolanee chaahie hamen apane sanskaar nahin bhoolana chaahie hamen apanee seema mein rahana chaahie kyonki ladakee ho ya ladaka ho agar jyaada bolakar hota hai ya jyaada thoda sa shaaleenata se baahar hota hai apanee seema kros karata hai to phir vah samaaj ke lie bhee ghaatak hotee hai samaaj kee vichaaradhaara ko bahut jyaada prabhaavit karatee hai aur usakee vajah se aparaadh bhee bharate hain to yah cheejen jaroor sochanee chaahie aadhunik jeevan jiyo lekin ek seema mein rahakar ek shaaleenata se rahakar aur apane sanskaar ko nahin bhoolana chaahie apane desh kee parampara ko nahin bhoolana chaahie dhanyavaad
URL copied to clipboard