#undefined

bolkar speaker
सर्दियों में शुरू किया जाने वाला मुनाफे वाला व्यापार कौन सा है?Sardiyon Mein Shuru Kiya Jane Vala Munafe Vala Vyapar Kaun Sa Hai
Manish Maurya Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Manish जी का जवाब
Unknown
1:34
सर्दियों में बहुत सारे व्यापार शुरू किए जा सकते हैं कुछ के लिए हमको पैसा ज्यादा लगाना पड़ता है कुछ के लिए काम भी तो मैं कम वाले की बात करूंगा सबसे पहला काम जो है वह अगर आप खाना बनाने का इन सब खाने पीने की चीजों में अच्छे हैं तो सबसे अच्छा काम पहले सूप का होगा सूप का जो प्राइस है बस भी रख सकते हैं आप नॉनवेज भी रख सकते हैं और प्राइस ऐसा रखें जो आपके एरिया में जितना चलता हूं बहुत ज्यादा महंगा भी नहीं बहुत ज्यादा सस्ता भी नहीं क्वालिटी दें तो सुख का काम भी सर्दी में बहुत अच्छा चलता है दूसरा काम यह है कि जब सर्दी जाने लगती है तो बहुत सारे मॉल्स हो गया सुपरमार्केट हो गई या E1 जो आम में कपड़ा मार्केट भी होती है वहां पर आपको जैकेट्स हो गई है यह सब जो है वह आपको सस्ते रेट में मिल जाती क्यों तुमको माल निकालना होता है तो अगर आप चाहें अगर आप चाहे तो इसमें आपको पैसा यह पैसा लगाकर अगले सीजन का वेट करना पड़ेगा अगले सीजन के लिए आपको पहले से जोड़ कर रखना पड़ेगा तो यह काम भी आपका सकते हैं बाद में जब सर्दी आया था उसको अच्छे दाम में भेज सकते हैं जैसे मैं आपको बताऊं तो हमारे यहां सुपर मार्केट में भी पीछे से लगी थी तो आप मानेंगे 70% ऑफ पर जीजेबी किए मल्हारगढ़ 300 में भी किया लेकिन जब वह आएगी तो अगर 1000 की जैकेट आप उसको हजारों बड़ी भेजोगे क्यों ठंड पड़ रही होगी और क्वालिटी भी अच्छी यह नहीं कि हजार वाली अगर आपको 70 पर्सेंट हो 300 मिल गई तो उसकी क्वालिटी घटिया क्वालिटी बड़ी होनी चाहिए
Sardiyon mein bahut saare vyaapaar shuroo kie ja sakate hain kuchh ke lie hamako paisa jyaada lagaana padata hai kuchh ke lie kaam bhee to main kam vaale kee baat karoonga sabase pahala kaam jo hai vah agar aap khaana banaane ka in sab khaane peene kee cheejon mein achchhe hain to sabase achchha kaam pahale soop ka hoga soop ka jo prais hai bas bhee rakh sakate hain aap nonavej bhee rakh sakate hain aur prais aisa rakhen jo aapake eriya mein jitana chalata hoon bahut jyaada mahanga bhee nahin bahut jyaada sasta bhee nahin kvaalitee den to sukh ka kaam bhee sardee mein bahut achchha chalata hai doosara kaam yah hai ki jab sardee jaane lagatee hai to bahut saare mols ho gaya suparamaarket ho gaee ya ai1 jo aam mein kapada maarket bhee hotee hai vahaan par aapako jaikets ho gaee hai yah sab jo hai vah aapako saste ret mein mil jaatee kyon tumako maal nikaalana hota hai to agar aap chaahen agar aap chaahe to isamen aapako paisa yah paisa lagaakar agale seejan ka vet karana padega agale seejan ke lie aapako pahale se jod kar rakhana padega to yah kaam bhee aapaka sakate hain baad mein jab sardee aaya tha usako achchhe daam mein bhej sakate hain jaise main aapako bataoon to hamaare yahaan supar maarket mein bhee peechhe se lagee thee to aap maanenge 70% oph par jeejebee kie malhaaragadh 300 mein bhee kiya lekin jab vah aaegee to agar 1000 kee jaiket aap usako hajaaron badee bhejoge kyon thand pad rahee hogee aur kvaalitee bhee achchhee yah nahin ki hajaar vaalee agar aapako 70 parsent ho 300 mil gaee to usakee kvaalitee ghatiya kvaalitee badee honee chaahie

#undefined

bolkar speaker
भारत में समोसा इतना लोकप्रिय क्यों हुए?Bharat Mein Samosa Itna Lokpriya Kyun Huye
Manish Maurya Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Manish जी का जवाब
Unknown
1:16
कुछ सवाल ऐसे होते हैं जिनके जवाब होते नहीं है लेकिन बनाने पड़ते हैं तो उन्हीं में से यह सवाल भी एक है देखे सबसे पहले जो कोई भी चीज लोकप्रिय होने का कारण क्या होता है कि वह चीज मिलनी चाहिए हर जगह ठीक है मिल नहीं चाहिए दिखनी चाहिए तो जो समोसे का हाल है वह भी यही है क्योंकि थोड़ा इजी टू है बनाने के लिए एक हलवाई के लिए बाकी अगर आप यह देखो कि जो साउथ इंडियन फूड से वह आपको मिलेंगे आज मिलेंगे लेकिन आगे कुछ साल पहले आप चले जाओ तो नहीं मिलते थे नॉर्थ इंडिया में तो बिल्कुल नहीं मिलते थे ना तो समोसा लोकप्रिय इस कारण भी आएगा कि ज्यादा नोट इंडिया में तो आपको हर स्टेट में मिल जाएगा और ज्यादा दुकान वाले रखते हैं से सबसे पहला कारण तो यह हो गया और दूसरा यह कि लोग इसे पसंद करते हैं अब इसका कोई वाहन पास तो रोल है नहीं क्योंकि आलू की टिक्की में बढ़ता है और साथ में वह भी उसके ऊपर बेसन होता है लेकिन उसमें मैं मेहंदी के अंदर आलू भरा जाता है तो बस इसका खुशी कैसा हार्ड फास्ट तो रूल है नहीं लोकप्रिय क्यों है यही है कि हम लोग पसंद करते हैं इसे लोकप्रिय है
Kuchh savaal aise hote hain jinake javaab hote nahin hai lekin banaane padate hain to unheen mein se yah savaal bhee ek hai dekhe sabase pahale jo koee bhee cheej lokapriy hone ka kaaran kya hota hai ki vah cheej milanee chaahie har jagah theek hai mil nahin chaahie dikhanee chaahie to jo samose ka haal hai vah bhee yahee hai kyonki thoda ijee too hai banaane ke lie ek halavaee ke lie baakee agar aap yah dekho ki jo sauth indiyan phood se vah aapako milenge aaj milenge lekin aage kuchh saal pahale aap chale jao to nahin milate the north indiya mein to bilkul nahin milate the na to samosa lokapriy is kaaran bhee aaega ki jyaada not indiya mein to aapako har stet mein mil jaega aur jyaada dukaan vaale rakhate hain se sabase pahala kaaran to yah ho gaya aur doosara yah ki log ise pasand karate hain ab isaka koee vaahan paas to rol hai nahin kyonki aaloo kee tikkee mein badhata hai aur saath mein vah bhee usake oopar besan hota hai lekin usamen main mehandee ke andar aaloo bhara jaata hai to bas isaka khushee kaisa haard phaast to rool hai nahin lokapriy kyon hai yahee hai ki ham log pasand karate hain ise lokapriy hai

#undefined

bolkar speaker
क्या बाजार में मिलने वाला सरसों का तेल शुद्ध है?Kya Bazaar Mein Milne Wala Sarson Ka Tel Shudh Hai
Manish Maurya Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Manish जी का जवाब
Unknown
1:37
सबसे पहले जो शब्द है शुद्ध वह अपने आप में आज बदल चुका है क्योंकि इसका कोई सीधा सीधा मतलब नहीं रह गया क्योंकि आप अगर देखें तो शुद्ध क्या है अगर हर-हर खेत में जहां पर भी फसलें उगाई जाती है वहां पर यूरिया यह सब तो पड़ता है ठीक है पूरा करते हैं प्राकृतिक खाते तो रह नहीं गई तो यह जो आर्टिफिशियल फर्टिलाइजर्स का यूज किया जाता है यह भी शुद्ध रहेगा नहीं क्योंकि उसको हम ग्रोथ जितनी जल्दी उसको ग्रुप होना चाहिए उसके हिसाब से हम उस में जाटों की फर्टिलाइजर का यूज करते हैं तो शुद्ध तो वैसे वह भी नहीं रहा लेकिन चलो फिर भी मैं यह समझता हूं कि आप जिस शुद्ध के बारे में बात कर रहे हैं वह यह है कि खेतों से सीधा कोल्हू में गया और जो तेल हमारे पास है वह शुद्ध है तो मेरे हिसाब से बजा रहा हूं मैं ऐसा शुद्ध नाम की तो कोई चीज है नहीं तो की चाय गांव के बाजार में भी चले जाओ अगर कोई अपने घर में भी तेल निकालेगा तो मिलावट करके भेजेगा क्योंकि इतना सीधा साधा इंसान तो मुझे लगता नहीं है कोई आज की डेट में जो बिल्कुल क्योंकि आज के कुछ साल पहले भी लोग तब मिलावट करते थे तो आज इतना तो लोग सुधर गए नहीं होंगे ठीक है तो बाकी बाकी अपनी-अपनी है अगर आपको पूरा शुद्ध तेल चाहिए तो आप खुद खेत में खेत खरीदी और उसमें वह गाय और साथ में फिर लेकर जाए उसको और कोलू से तेल निकला है वही होता है जो आंखों देखा गया बाकी तो हर चीज में मिलावट भाई
Sabase pahale jo shabd hai shuddh vah apane aap mein aaj badal chuka hai kyonki isaka koee seedha seedha matalab nahin rah gaya kyonki aap agar dekhen to shuddh kya hai agar har-har khet mein jahaan par bhee phasalen ugaee jaatee hai vahaan par yooriya yah sab to padata hai theek hai poora karate hain praakrtik khaate to rah nahin gaee to yah jo aartiphishiyal phartilaijars ka yooj kiya jaata hai yah bhee shuddh rahega nahin kyonki usako ham groth jitanee jaldee usako grup hona chaahie usake hisaab se ham us mein jaaton kee phartilaijar ka yooj karate hain to shuddh to vaise vah bhee nahin raha lekin chalo phir bhee main yah samajhata hoon ki aap jis shuddh ke baare mein baat kar rahe hain vah yah hai ki kheton se seedha kolhoo mein gaya aur jo tel hamaare paas hai vah shuddh hai to mere hisaab se baja raha hoon main aisa shuddh naam kee to koee cheej hai nahin to kee chaay gaanv ke baajaar mein bhee chale jao agar koee apane ghar mein bhee tel nikaalega to milaavat karake bhejega kyonki itana seedha saadha insaan to mujhe lagata nahin hai koee aaj kee det mein jo bilkul kyonki aaj ke kuchh saal pahale bhee log tab milaavat karate the to aaj itana to log sudhar gae nahin honge theek hai to baakee baakee apanee-apanee hai agar aapako poora shuddh tel chaahie to aap khud khet mein khet khareedee aur usamen vah gaay aur saath mein phir lekar jae usako aur koloo se tel nikala hai vahee hota hai jo aankhon dekha gaya baakee to har cheej mein milaavat bhaee

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
क्या नरेंद्र मोदी जी को शादी कर लेनी चाहिए?Kya Narendra Modi Ji Ko Shadi Kar Leni Chaiye
Manish Maurya Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Manish जी का जवाब
Unknown
0:24
बड़ा ही विचित्र सवाल पूछा आपने जिस उम्र में लोग सन्यास धारण कर लेते हैं उस उम्र में आप मोदी जी की शादी करवाना चाहते हैं चलिए यह फिर भी मोदी जी का पर्सनल मामला है वह जो मर्जी कर सकते हैं लेकिन लोग सेवा जनसेवा जो है वह शादी से भी कहीं ऊपर होती है
Bada hee vichitr savaal poochha aapane jis umr mein log sanyaas dhaaran kar lete hain us umr mein aap modee jee kee shaadee karavaana chaahate hain chalie yah phir bhee modee jee ka parsanal maamala hai vah jo marjee kar sakate hain lekin log seva janaseva jo hai vah shaadee se bhee kaheen oopar hotee hai

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
प्रथम भारतीय जिसे नोवेल पुरस्कार दिया गया?Pratham Bhartiya Jise Novel Puraskar Diya Gya
Manish Maurya Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Manish जी का जवाब
Unknown
0:20
प्रथम भारतीय जिसे नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया वह थे रविंद्र नाथ टैगोर उन्हें यह पुरस्कार साहित्य के क्षेत्र में दिया गया था उम्मीद करता हूं आपको जवाब पसंद आया होगा इसे अपने दोस्तों में शेयर करना ना भूले
Pratham bhaarateey jise nobel puraskaar se sammaanit kiya gaya vah the ravindr naath taigor unhen yah puraskaar saahity ke kshetr mein diya gaya tha ummeed karata hoon aapako javaab pasand aaya hoga ise apane doston mein sheyar karana na bhoole

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
क्या किसान बिल किसानों के लिए लाभदायक है?Kya Kisan Bill Kisano Ke Lie Labhdayak Hai
Manish Maurya Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Manish जी का जवाब
Unknown
2:39
फिलहाल मैं तो इस फील्ड का विशेषज्ञ तो हूं नहीं लेकिन हां जो इस फील्ड के विशेषज्ञ हैं उनका कहना यह है कि बिहार में यह मॉडल जो है वह 2004 किया 2007 में लागू हो चुका है लेकिन आप भी जानते हैं कि बिहार का किसान कितना खुश है या कितना उसको उचित मूल्य मिलता है तो कहीं ना कहीं सरकार को यह बात जरूर देखनी चाहिए कि एक बार ही हमें खगोल कर देखना चाहिए कि हां जो हमने पीछे बदलाव किए उनका क्या परिणाम निकला है अगर किसान अपनी चलिए ठीक है मुझे नहीं पता कि मुद्दे और क्या है लेकिन हां जो बात यह है कि किसान अपनी फसल किसी को भी बेच सकेगा ओपन मार्केट हो जाएगी लेकिन जो ओपन मार्केट का 2407 में बिहार में लगा उससे कितना फायदा हुआ पहले सरकार को इस पर विचार करना चाहिए फिर उसके आगे कोई निर्णय लेना चाहिए और अगर वहां पर यह फार्मूला ठीक नहीं एम्पलाईमेंट हुआ तो उसमें क्या कमियां थी इसको पहले देखना चाहिए और इसे सुधार में लाकर कानून बनाना चाहिए ना कि सीधा कानून बनाना चाहिए बाकी विशेषज्ञ जो है वह गलत तो नहीं बताएंगे कोई एक विशेषज्ञ गलत बता देगा बाकी तो गलत ठंडा बताएंगे सब मोदी के मोदी के विरोधी याद में थोड़ी ना है हम खुद अपने प्रधानमंत्री का सम्मान करते हैं लेकिन जहां पर अगर एक्सपर्ट से कह रहे हैं कि हां यह चीज गलत है तो इसका मतलब सरकार को फिर विचार करने की जरूरत है और यह बात आप भी जानते हैं कि दवाइयों में माली जी एक उदाहरण के लिए आप को मैं बताता हूं कि दवाइयों में मार्जिन कितना रहता है लेकिन फिर भी सरकार एक देखिए उस पर एमआरपी जरूर लिख आता है डालडा या रिफाइंड लेने चले जाओ ₹200 लिखा होता है लेकिन मिलता है 130 का है तो यह तो नहीं है कि हमने उसका मूल्य निर्धारण निर्धारित किया हुआ है ना चाहे बेशक उससे कम देते हैं यह ज्यादा देते लेकिन एक निर्धारित तो क्या हुआ है ना जब कि वह चीज है ऐसी है जो बड़ी-बड़ी कंपनियां चला रही हैं लेकिन सब्जी अब यह पीछे आपने देखा था कि एक किसान ने गोभी जब उसको एक रुपए किलो के हिसाब से मिल रही थी तो उसने ट्रैक्टर ही जला दिया अपने खेत में कि क्या भेजूंगा एक रुपए किलो में तो सीधा में है मतलब बर्बाद ही कर देते तो ज्यादा बढ़िया रहेगा तो किसान की जब ऐसी दशा होगी तो देश तरक्की कहां से करेगा बाकी है इंसान हर कला में निपुण तो हो नहीं सकता है या हर फील्ड में नींबू ने तो हो नहीं सकता इसीलिए उसको एक्सपर्ट्स की बात जरूर आनी चाहिए
Philahaal main to is pheeld ka visheshagy to hoon nahin lekin haan jo is pheeld ke visheshagy hain unaka kahana yah hai ki bihaar mein yah modal jo hai vah 2004 kiya 2007 mein laagoo ho chuka hai lekin aap bhee jaanate hain ki bihaar ka kisaan kitana khush hai ya kitana usako uchit mooly milata hai to kaheen na kaheen sarakaar ko yah baat jaroor dekhanee chaahie ki ek baar hee hamen khagol kar dekhana chaahie ki haan jo hamane peechhe badalaav kie unaka kya parinaam nikala hai agar kisaan apanee chalie theek hai mujhe nahin pata ki mudde aur kya hai lekin haan jo baat yah hai ki kisaan apanee phasal kisee ko bhee bech sakega opan maarket ho jaegee lekin jo opan maarket ka 2407 mein bihaar mein laga usase kitana phaayada hua pahale sarakaar ko is par vichaar karana chaahie phir usake aage koee nirnay lena chaahie aur agar vahaan par yah phaarmoola theek nahin empalaeement hua to usamen kya kamiyaan thee isako pahale dekhana chaahie aur ise sudhaar mein laakar kaanoon banaana chaahie na ki seedha kaanoon banaana chaahie baakee visheshagy jo hai vah galat to nahin bataenge koee ek visheshagy galat bata dega baakee to galat thanda bataenge sab modee ke modee ke virodhee yaad mein thodee na hai ham khud apane pradhaanamantree ka sammaan karate hain lekin jahaan par agar eksapart se kah rahe hain ki haan yah cheej galat hai to isaka matalab sarakaar ko phir vichaar karane kee jaroorat hai aur yah baat aap bhee jaanate hain ki davaiyon mein maalee jee ek udaaharan ke lie aap ko main bataata hoon ki davaiyon mein maarjin kitana rahata hai lekin phir bhee sarakaar ek dekhie us par emaarapee jaroor likh aata hai daalada ya riphaind lene chale jao ₹200 likha hota hai lekin milata hai 130 ka hai to yah to nahin hai ki hamane usaka mooly nirdhaaran nirdhaarit kiya hua hai na chaahe beshak usase kam dete hain yah jyaada dete lekin ek nirdhaarit to kya hua hai na jab ki vah cheej hai aisee hai jo badee-badee kampaniyaan chala rahee hain lekin sabjee ab yah peechhe aapane dekha tha ki ek kisaan ne gobhee jab usako ek rupe kilo ke hisaab se mil rahee thee to usane traiktar hee jala diya apane khet mein ki kya bhejoonga ek rupe kilo mein to seedha mein hai matalab barbaad hee kar dete to jyaada badhiya rahega to kisaan kee jab aisee dasha hogee to desh tarakkee kahaan se karega baakee hai insaan har kala mein nipun to ho nahin sakata hai ya har pheeld mein neemboo ne to ho nahin sakata iseelie usako eksaparts kee baat jaroor aanee chaahie

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
इंडिया की राजधानी क्या है?
Manish Maurya Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Manish जी का जवाब
Unknown
0:02
इंडिया की राजधानी दिल्ली है
Indiya kee raajadhaanee dillee hai

#खेल कूद

bolkar speaker
मुंबई यूपी से कितने किलोमीटर है?Mumbai Up Se Kitne Kilometer Hai
Manish Maurya Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Manish जी का जवाब
Unknown
0:32
वैसे तो यूपी बहुत बड़ा है इसलिए आपको कोई जगह का नाम जरूर बताना चाहिए था जैसे कि कोई कौन सा जिला पड़ता है तो ज्यादा आसानी होती लेकिन फिर भी आपको एक राजधानी के रूप में मैं अगर बताऊं तो लखनऊ से मुंबई तक का सफर 1375 किलोमीटर है अब बाकी आप अपने घर से लखनऊ का जोड़ लीजिएगा कि कितना किलोमीटर पड़ता है उसी से कम ज्यादा कर लीजिएगा
Vaise to yoopee bahut bada hai isalie aapako koee jagah ka naam jaroor bataana chaahie tha jaise ki koee kaun sa jila padata hai to jyaada aasaanee hotee lekin phir bhee aapako ek raajadhaanee ke roop mein main agar bataoon to lakhanoo se mumbee tak ka saphar 1375 kilomeetar hai ab baakee aap apane ghar se lakhanoo ka jod leejiega ki kitana kilomeetar padata hai usee se kam jyaada kar leejiega

#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker
पेड़ पोस्ट और रजिस्टर्ड पोस्ट में क्या अंतर है ?Speed Post And Registered Post Main Kya Antar Hai
Manish Maurya Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Manish जी का जवाब
Unknown
0:53
नमस्कार दोस्तों दोस्तों जो स्पीड पोस्ट होती है ना वह किसी इंसान के ऊपर स्पेसिफिक होती है और जो रजिस्ट्री रजिस्टर्ड पोस्ट होती है वह एड्रेस पर स्पेसिफिक होती है मेरे कहने का मतलब यहां पर यह है कि बाई चांस मार लीजिए आपने स्पीड पोस्ट की हुई है तो स्पीड पोस्ट जिस नाम जिस नाम से आप ने क्यू इन आज इस नाम के लिए आज इस जगह के लिए जगह का एड्रेस नहीं जिस कंपनी के नाम पर तो वह स्पीड पोस्ट जो है वह उसको ही डाकिया देकर आएगा ठीक है और वही जो रजिस्टर्ड पोस्ट होती है रजिस्टर पोस्ट पर जो आपका एड्रेस पता एड्रेस होता है ना वह आप मालू आप वहां घर पर नहीं हो लेकिन आपने रजिस्ट्री कराई है तो आप जो है ना वहां पर जाकर एड्रेस पर देगा वैसे तो दाखी इतना ख्याल भी नहीं करते स्पीड पोस्ट को भी आते हैं ऐसे ही लेकिन मैं इन दोनों में फर्क यही है
Namaskaar doston doston jo speed post hotee hai na vah kisee insaan ke oopar spesiphik hotee hai aur jo rajistree rajistard post hotee hai vah edres par spesiphik hotee hai mere kahane ka matalab yahaan par yah hai ki baee chaans maar leejie aapane speed post kee huee hai to speed post jis naam jis naam se aap ne kyoo in aaj is naam ke lie aaj is jagah ke lie jagah ka edres nahin jis kampanee ke naam par to vah speed post jo hai vah usako hee daakiya dekar aaega theek hai aur vahee jo rajistard post hotee hai rajistar post par jo aapaka edres pata edres hota hai na vah aap maaloo aap vahaan ghar par nahin ho lekin aapane rajistree karaee hai to aap jo hai na vahaan par jaakar edres par dega vaise to daakhee itana khyaal bhee nahin karate speed post ko bhee aate hain aise hee lekin main in donon mein phark yahee hai

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
राकेश टिकैल कौन है और वह रो क्यों रहा था?Rakesh Tikail Kaun Hai Aur Vah Ro Kyun Raha Tha
Manish Maurya Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Manish जी का जवाब
Unknown
1:28
मेरे हिसाब से आप शायद राकेश टिकैत के बारे में बात कर रहे हैं तो आपकी जानकारी के लिए बता दूं राकेश टिकट जो है वह जाने-माने किसान नेता महेंद्र सिंह टिकैत के बेटे हैं और ही साथ ही साथ वह भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता है जब से किसान आंदोलन शुरू हुआ है तब से राकेश टिकैत एक बढ़-चढ़कर उभरे हुए नेता दिखाई दिए हैं लेकिन 26 जनवरी के दिन हुई हिंसा के बाद से ही जब दलों ने पीछे हटना शुरू किया और पुलिस ने उन पर लाठियां बरसानी शुरू की तो राकेश टिकैत ने भावुक होकर वह इसलिए रो पड़े क्योंकि उन्होंने इसके पीछे बहुत संघर्ष किया है पिछले कम से कम 700 दिन से 700 मैरिज मेरा मतलब 7 से लेकर 100 दिन के बीच में वह लोग धरने पर बैठे हुए हैं और अभी तक इस बात का कोई हल नहीं निकला है और अब अंत में उनका वह आंदोलन फीका पड़ता हुआ दिखा जिस कारण से उनके विभागों को कर रो पड़े और उन्होंने कहा है कि अगर यह बिल यह तीनों बिल अगर वापस नहीं लिए गए तो वह आत्महत्या कर लेंगे उनके इस रोने के बाद अब किसान आंदोलन फिर से मानव जैसे नया सा हो गया है जो लोग पीछे हट रहे थे वह भी अब बढ़-चढ़कर फिर आगे हो गए हैं तो उम्मीद करता हूं आपके सवाल का जवाब आपको मिल गया होगा इसे अपने दोस्तों में शेयर करना ना भूले
Mere hisaab se aap shaayad raakesh tikait ke baare mein baat kar rahe hain to aapakee jaanakaaree ke lie bata doon raakesh tikat jo hai vah jaane-maane kisaan neta mahendr sinh tikait ke bete hain aur hee saath hee saath vah bhaarateey kisaan yooniyan ke raashtreey pravakta hai jab se kisaan aandolan shuroo hua hai tab se raakesh tikait ek badh-chadhakar ubhare hue neta dikhaee die hain lekin 26 janavaree ke din huee hinsa ke baad se hee jab dalon ne peechhe hatana shuroo kiya aur pulis ne un par laathiyaan barasaanee shuroo kee to raakesh tikait ne bhaavuk hokar vah isalie ro pade kyonki unhonne isake peechhe bahut sangharsh kiya hai pichhale kam se kam 700 din se 700 mairij mera matalab 7 se lekar 100 din ke beech mein vah log dharane par baithe hue hain aur abhee tak is baat ka koee hal nahin nikala hai aur ab ant mein unaka vah aandolan pheeka padata hua dikha jis kaaran se unake vibhaagon ko kar ro pade aur unhonne kaha hai ki agar yah bil yah teenon bil agar vaapas nahin lie gae to vah aatmahatya kar lenge unake is rone ke baad ab kisaan aandolan phir se maanav jaise naya sa ho gaya hai jo log peechhe hat rahe the vah bhee ab badh-chadhakar phir aage ho gae hain to ummeed karata hoon aapake savaal ka javaab aapako mil gaya hoga ise apane doston mein sheyar karana na bhoole

#मनोरंजन

bolkar speaker
भारत में होटलों से ज्यादा ढाबे क्यों लोकप्रिय है?bhaarat mein hotalon se jyaada dhaabe kyon lokapriy hai
Manish Maurya Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Manish जी का जवाब
Unknown
0:31
आप यह बात जानते होंगे कि भारत में ज्यादातर लोग आर्थिक रूप से इतने अच्छे नहीं हैं हर एक इंसान होटल के खाने को अवार्ड भी नहीं कर सकता है वहीं दूसरी तरफ ढाबे जो होते हैं वह थोड़ा लेट भी उनका कम होता है और साथ ही साथ क्योंकि ज्यादा लोग वहां पर विजिट करते हैं तो उनका रोज का सामान भी खत्म हो सामान पर रहता है यह ढाबे की लोकप्रियता ज्यादा होने का एक कारण है
Aap yah baat jaanate honge ki bhaarat mein jyaadaatar log aarthik roop se itane achchhe nahin hain har ek insaan hotal ke khaane ko avaard bhee nahin kar sakata hai vaheen doosaree taraph dhaabe jo hote hain vah thoda let bhee unaka kam hota hai aur saath hee saath kyonki jyaada log vahaan par vijit karate hain to unaka roj ka saamaan bhee khatm ho saamaan par rahata hai yah dhaabe kee lokapriyata jyaada hone ka ek kaaran hai

#मनोरंजन

bolkar speaker
क्या अंग्रेजी फिल्में अंग्रेजी सीखने में मदद करती है?Kya Angreji Films Angreji Seekhne Mein Madad Karti Hai
Manish Maurya Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Manish जी का जवाब
Unknown
0:28
अंग्रेजी एक भाषा है भाषा सीखने के बहुत सारे तरीके होते हैं बहुत सारे तरीके करो या बहुत सारे अंग होते हैं जिसमें से पढ़ना लिखना और सुनना यह तीनों चीजें बहुत जरूरी होती है सिर्फ अंग्रेजी फिल्में ही नहीं आप कोई अंग्रेजी इंटरव्यू भी देख सकते हैं लेकिन आप फायदा तो जरूर करती हैं लेकिन इसके साथ आज आपको इंग्लिश रेट भी करनी पड़ेगी और साथ ही साथ लिखनी पड़ेगी तभी आप एक भाषा में निपुण हो पाएंगे
Angrejee ek bhaasha hai bhaasha seekhane ke bahut saare tareeke hote hain bahut saare tareeke karo ya bahut saare ang hote hain jisamen se padhana likhana aur sunana yah teenon cheejen bahut jarooree hotee hai sirph angrejee philmen hee nahin aap koee angrejee intaravyoo bhee dekh sakate hain lekin aap phaayada to jaroor karatee hain lekin isake saath aaj aapako inglish ret bhee karanee padegee aur saath hee saath likhanee padegee tabhee aap ek bhaasha mein nipun ho paenge

#मनोरंजन

Manish Maurya Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Manish जी का जवाब
Unknown
0:58
वह हिंदी में कहावत है ना नीम हकीम खतरे जान यही कहावत ऑनलाइन पैसा कमाने और स्टॉक मार्केट पर शेयर मार्केट पर लागू होती है इस तरह की ऐड चलाई जाती हैं इंसान को लगता है कि शायद शेयर मार्केट से पैसा कमाना बहुत ही आसान है लेकिन वास्तव में शेयर मार्केट अपने आप में एक बिजनेस है इसको एक दिल लगा लगा कर और कम फ्रेंड को देखते-देखते समझ आता है कि पैसा कब और कहां पर लगाना है यह कोई ऐड छोड़ना चल रही है जो आप जो ऐड में आप देखते हैं कि आप बस मैंने फिटिंग किया और बस क्या था मेरे वॉलेट में ₹1000 आ गए ऐसा कुछ नहीं होता है मार्केट को देखना पड़ता है बाकी हो सकता है आप किस्मत के बहुत धनी हो तो आप पहली बारी लगाओ तो आपके पैसे बढ़ जाए बाकी शेयर मार्केट इतनी भी बचकानी चीनी जितना दिखा दिया जाता है
Vah hindee mein kahaavat hai na neem hakeem khatare jaan yahee kahaavat onalain paisa kamaane aur stok maarket par sheyar maarket par laagoo hotee hai is tarah kee aid chalaee jaatee hain insaan ko lagata hai ki shaayad sheyar maarket se paisa kamaana bahut hee aasaan hai lekin vaastav mein sheyar maarket apane aap mein ek bijanes hai isako ek dil laga laga kar aur kam phrend ko dekhate-dekhate samajh aata hai ki paisa kab aur kahaan par lagaana hai yah koee aid chhodana chal rahee hai jo aap jo aid mein aap dekhate hain ki aap bas mainne phiting kiya aur bas kya tha mere volet mein ₹1000 aa gae aisa kuchh nahin hota hai maarket ko dekhana padata hai baakee ho sakata hai aap kismat ke bahut dhanee ho to aap pahalee baaree lagao to aapake paise badh jae baakee sheyar maarket itanee bhee bachakaanee cheenee jitana dikha diya jaata hai

#भारत की राजनीति

Manish Maurya Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Manish जी का जवाब
Unknown
0:30
इस प्रश्न के बहुत दुख उत्तर हो सकते हैं संगीत करने के बहुत से कारण भी हो सकते हैं लेकिन एक कारण जो इसमें मुख्य हो जो आम इंसान सोचेगा वह यह है कि डेढ़ साल के लिए कानून को स्थगित करने के लिए कहा जा रहा है तो आप खुद सोचिए जो बात एक बार ठंडी पड़ गई तो दोबारा पता नहीं इतने लोग इकट्ठे हो ना हो इसीलिए सरकार की रणनीति यह होगी कि कानून को स्थगित कर दिया जाए फिर हो सकता है बाद में लोग इकट्ठे ना हो
Is prashn ke bahut dukh uttar ho sakate hain sangeet karane ke bahut se kaaran bhee ho sakate hain lekin ek kaaran jo isamen mukhy ho jo aam insaan sochega vah yah hai ki dedh saal ke lie kaanoon ko sthagit karane ke lie kaha ja raha hai to aap khud sochie jo baat ek baar thandee pad gaee to dobaara pata nahin itane log ikatthe ho na ho iseelie sarakaar kee rananeeti yah hogee ki kaanoon ko sthagit kar diya jae phir ho sakata hai baad mein log ikatthe na ho

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
मोबाइल फोन के नेटवर्क नहीं होने पर भी एमरजैंसी कॉल कैसे संभव हो जाती है?Mobile Phone Ke Network Nahi Hone Par Bhe Emergency Call Kaise Sambhav Ho Jati Hai
Manish Maurya Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Manish जी का जवाब
Unknown
0:24
मोबाइल में नेटवर्क ना होने पर भी इमरजेंसी कॉल इसलिए संभव होती है क्योंकि क्योंकि इमरजेंसी की स्थिति में जो हमारा फोन होता है वह दूसरे कंपनी के भी नेटवर्क से इमरजेंसी कॉल कर सकते हैं यही कारण है कि जब नेटवर्क आपकी सिम में नहीं होता तब भी हम अर्जेंसी कॉल संभव होती है
Mobail mein netavark na hone par bhee imarajensee kol isalie sambhav hotee hai kyonki kyonki imarajensee kee sthiti mein jo hamaara phon hota hai vah doosare kampanee ke bhee netavark se imarajensee kol kar sakate hain yahee kaaran hai ki jab netavark aapakee sim mein nahin hota tab bhee ham arjensee kol sambhav hotee hai

#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker
ऐसा कौन सा एप है जिससे सबसे ज्यादा पैसे कमाए जा सकते हैं?Aisa Kaun Sa App Hai Jisse Sabse Jyada Paise Kamaye Ja Sakte Hain
Manish Maurya Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Manish जी का जवाब
Unknown
0:37
नई-नई कोई भी ऐप आती है तो उसमें आप रेफरल से पैसे कमा सकते हैं लेकिन आप अगर एक लंबे समय तक किसी ऐप से पैसा कमाना चाहते हैं तो वह अपना आपके साथ होकर एक प्लेटफार्म होगा जैसे कि यूट्यूब कहने को तो एक ऐप है लेकिन वह अपने आप में एक सोशल प्लेटफॉर्म में जहां पर लोग अपनी इसके लिए आप ही कोई जानकारी शेयर करते हैं और महीने का लाखों कमाते हैं बाकी कोई भी ऐप है वह आपको पैसा तभी देगी जब आपसे कुछ पैसे कमाएंगे
Naee-naee koee bhee aip aatee hai to usamen aap repharal se paise kama sakate hain lekin aap agar ek lambe samay tak kisee aip se paisa kamaana chaahate hain to vah apana aapake saath hokar ek pletaphaarm hoga jaise ki yootyoob kahane ko to ek aip hai lekin vah apane aap mein ek soshal pletaphorm mein jahaan par log apanee isake lie aap hee koee jaanakaaree sheyar karate hain aur maheene ka laakhon kamaate hain baakee koee bhee aip hai vah aapako paisa tabhee degee jab aapase kuchh paise kamaenge

#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker
भारत में पहला मुगल सम्राट कौन है?Bharat Mein Pehla Mugal Samrat Kaun Hai
Manish Maurya Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Manish जी का जवाब
Unknown
0:32
भारत में पहला मुगल सम्राट बाबर था जिसने 1526 में पानीपत की लड़ाई में इब्राहिम लोदी को हराकर मुगल वंश की भारत में स्थापना की थी बाबर के बाद कुछ का बेटा हूं मायू मायू के बाद अकबर मुगल वंश के शासक रहे और मुगल वंश का आखरी शासक बहादुर शाह जफर था जिसे 18 सो 57 की क्रांति के बाद 18 सो 58 में रंगून भेज दिया गया था देश निकाला दे कर
Bhaarat mein pahala mugal samraat baabar tha jisane 1526 mein paaneepat kee ladaee mein ibraahim lodee ko haraakar mugal vansh kee bhaarat mein sthaapana kee thee baabar ke baad kuchh ka beta hoon maayoo maayoo ke baad akabar mugal vansh ke shaasak rahe aur mugal vansh ka aakharee shaasak bahaadur shaah japhar tha jise 18 so 57 kee kraanti ke baad 18 so 58 mein rangoon bhej diya gaya tha desh nikaala de kar

#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker
क्या छोटे बच्चों पर पढ़ाई के लिए दबाव बनाना उचित है?Kya Chote Bachon Par Padhai Ke Lie Dabaav Banana Uchit Hai
Manish Maurya Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Manish जी का जवाब
Unknown
0:24
हर चीज का एक बैलेंस जरूरी है बहुत ज्यादा बनाना भी अच्छा नहीं होगा और बहुत ज्यादा खेलना कूदना भी अच्छा नहीं होगा दोनों का बैलेंस बहुत जरूरी है अगर आपने उसको ज्यादा खेलने दिया तो पढ़ने में इसका मन नहीं लगना कम हो जाएगा और अगर उसे ज्यादा पढ़ने को दबाव बनाते रहे तो वह एकदम तो पूछा बन के रह जाएगा तो इसीलिए बैलेंस जरूरी है बैलेंस बनाकर रखें
Har cheej ka ek bailens jarooree hai bahut jyaada banaana bhee achchha nahin hoga aur bahut jyaada khelana koodana bhee achchha nahin hoga donon ka bailens bahut jarooree hai agar aapane usako jyaada khelane diya to padhane mein isaka man nahin lagana kam ho jaega aur agar use jyaada padhane ko dabaav banaate rahe to vah ekadam to poochha ban ke rah jaega to iseelie bailens jarooree hai bailens banaakar rakhen

#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker
बोलकर ऐप भविष्य में हमे कैसे फायदे देगा?Bolkar App Bhavishya Mein Hume Kaise Fayde Dega
Manish Maurya Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Manish जी का जवाब
Unknown
1:44
आज के कुछ साल पहले लोग ब्लॉक्स पढ़ते थे वेबसाइट पर जाते थे कोई भी इंफॉर्मेशन चाहिए होती थी लेकिन अब जमाना बदल गया अब लोग यूट्यूब पर जा रहा सच करते हैं और यूट्यूब सेकंड लार्जेस्ट सर्च इंजन बन चुका है और धीरे-धीरे लेकिन वीडियो देखने की कई सारी नुकसान किया जा रहा है वीडियो कंज्यूम करने से आपकी आंखों पर बुरा असर पड़ता है जिन देशों में यूट्यूब पहले आ गया या वहां पर डाटा पहले सस्ता हो गया वह वह वह देश जैसे अमेरिका हो गया मालिका में इस समय यूट्यूब तो लोग चलाते चलाते हैं लेकिन उसके साथ वहां पर पॉडकास्टिंग और मशहूर है क्योंकि लोग पॉडकास्टिंग में लोगों को देखना नहीं पड़ता सिर्फ तुम नहीं होता है लेकिन पॉडकास्टिंग अभी इंडिया में अपने शुरुआती के शुरुआती नहीं कर सकते हम लेकिन हां फिर भी अभी-अभी पॉडकास्टिंग शुरू हुई है थोड़े दिनों में एक दो साल पहले ही पॉडकास्टिंग शुरुआत इंडिया में हुई है अच्छे ढंग से वैसे तो काफी दिन पहले आज लेकिन पिछले एक डेढ़ साल से सुनने में आना शुरू हो चुका है और वही उसी तरह बोलकर आप भी एक हिसाब से भविष्य में इसी तरह काम करेगा कि अगर किसी को कोई जरूरत है जैसे क्यों रहा होता था कि वह वेबसाइट है अभी भी है ओं र वेबसाइट पर जाकर आप अपनी कोई क्वेरी फॉर क्वेरी पोस्ट कर सकते हैं फिर भी बोल कर आप यहां पर आपको कोई गाड़ी है तो आप सीधा पूछ सकते हैं बस आंखों चीजें हैं जैसे कि आपको कोई मैथमेटिक्स की प्रॉब्लम सॉल्व करनी है तो वह आपको बोलकर नहीं बताई जा सकती कि आपका कोई बोल कर आप अपनी प्रॉब्लम नहीं बता सकते या तो बुरा मैथ का क्वेश्चन टाइप करके भेजेंगे लेकिन हां वह तो है आने वाले समय में
Aaj ke kuchh saal pahale log bloks padhate the vebasait par jaate the koee bhee imphormeshan chaahie hotee thee lekin ab jamaana badal gaya ab log yootyoob par ja raha sach karate hain aur yootyoob sekand laarjest sarch injan ban chuka hai aur dheere-dheere lekin veediyo dekhane kee kaee saaree nukasaan kiya ja raha hai veediyo kanjyoom karane se aapakee aankhon par bura asar padata hai jin deshon mein yootyoob pahale aa gaya ya vahaan par daata pahale sasta ho gaya vah vah vah desh jaise amerika ho gaya maalika mein is samay yootyoob to log chalaate chalaate hain lekin usake saath vahaan par podakaasting aur mashahoor hai kyonki log podakaasting mein logon ko dekhana nahin padata sirph tum nahin hota hai lekin podakaasting abhee indiya mein apane shuruaatee ke shuruaatee nahin kar sakate ham lekin haan phir bhee abhee-abhee podakaasting shuroo huee hai thode dinon mein ek do saal pahale hee podakaasting shuruaat indiya mein huee hai achchhe dhang se vaise to kaaphee din pahale aaj lekin pichhale ek dedh saal se sunane mein aana shuroo ho chuka hai aur vahee usee tarah bolakar aap bhee ek hisaab se bhavishy mein isee tarah kaam karega ki agar kisee ko koee jaroorat hai jaise kyon raha hota tha ki vah vebasait hai abhee bhee hai on ra vebasait par jaakar aap apanee koee kveree phor kveree post kar sakate hain phir bhee bol kar aap yahaan par aapako koee gaadee hai to aap seedha poochh sakate hain bas aankhon cheejen hain jaise ki aapako koee maithametiks kee problam solv karanee hai to vah aapako bolakar nahin bataee ja sakatee ki aapaka koee bol kar aap apanee problam nahin bata sakate ya to bura maith ka kveshchan taip karake bhejenge lekin haan vah to hai aane vaale samay mein

#पढ़ाई लिखाई

Manish Maurya Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Manish जी का जवाब
Unknown
1:12
यह आपकी ही नहीं ज्यादातर विद्यार्थियों की समस्या है लेकिन फैसला हमें ही करना पड़ता है कि क्या जरूरी है यदि फोन चलाने से आप का उद्धार हो रहा है तो बहुत अच्छी बात है उसको आप चलाते रहिए और यदि आपका लक्ष्य कुछ और है जैसे कि सरकारी नौकरी की तैयारी करना तो आपको तो किताबें पढ़नी पड़ेगी और रह गई बात नींद लगती है तो उसके लिए आपको गोसाई तरीके अपनाने पड़ेंगे खुद को सचेत रखने के लिए आप थोड़ा चल फिर सकते हैं उसके बाद मुंह धो सकते हैं उसके बाद आकर फिर बैठ सकते हैं और अपनी पढ़ाई को कुछ फैशन में डिवाइड कर सकते हैं ताकि आपको सुस्ती ना पड़े मीठे से बचकर रहें त्राटक और सुबह सुबह सूर्य नमस्कार करें वही अगर मैं बात करूं कि अगर आप 4 दिन इसको ऐसे प्रैक्टिस करेंगे तो आपका जरूर दिल लगने लगेगा पढ़ने में कहते हैं ना वह 21 दिन लगते हैं किसी भी आदत को बनने में तो आप 21 दिन का फार्मूला के देखे जरूरी नहीं है सबके लिए किस दिन होगा हो सकता है आपके लिए थोड़ी और ज्यादा जी कहते हैं ना कि वह वाला एटीट्यूड अपना करते रहिए बस चलते रहिए
Yah aapakee hee nahin jyaadaatar vidyaarthiyon kee samasya hai lekin phaisala hamen hee karana padata hai ki kya jarooree hai yadi phon chalaane se aap ka uddhaar ho raha hai to bahut achchhee baat hai usako aap chalaate rahie aur yadi aapaka lakshy kuchh aur hai jaise ki sarakaaree naukaree kee taiyaaree karana to aapako to kitaaben padhanee padegee aur rah gaee baat neend lagatee hai to usake lie aapako gosaee tareeke apanaane padenge khud ko sachet rakhane ke lie aap thoda chal phir sakate hain usake baad munh dho sakate hain usake baad aakar phir baith sakate hain aur apanee padhaee ko kuchh phaishan mein divaid kar sakate hain taaki aapako sustee na pade meethe se bachakar rahen traatak aur subah subah soory namaskaar karen vahee agar main baat karoon ki agar aap 4 din isako aise praiktis karenge to aapaka jaroor dil lagane lagega padhane mein kahate hain na vah 21 din lagate hain kisee bhee aadat ko banane mein to aap 21 din ka phaarmoola ke dekhe jarooree nahin hai sabake lie kis din hoga ho sakata hai aapake lie thodee aur jyaada jee kahate hain na ki vah vaala eteetyood apana karate rahie bas chalate rahie

#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker
जॉब करने के लिए कोई भी फॉर्म किस एप या वेबसाइट पर मिलेगा?Job Karne Ke Liye Koi Bhe Form Kis App Ya Website Par Milega
Manish Maurya Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Manish जी का जवाब
Unknown
1:15
आपने बताया नहीं कि आप जॉब कौन सी करना चाहते हैं सरकारी या प्राइवेट यदि आप सरकारी जॉब्स के बारे में बात कर रहे हैं तो सरकारी रिजल्ट जॉब रास्ता फ्री जॉब अलर्ट ऐसी बहुत सी वेबसाइट है जहां पर जाकर आप पता कर सकते हैं कि कौन से फॉर्म निकले हैं वहीं पर प्राइवेट सेक्टर की बात की जाए अगर आपके पास कील है तो इंटर्नशाला भी आपके लिए एक अच्छा ऑप्शन होगा बस मैं आपको सचेत करना चाहूंगा कि आप किसी कंसलटेंसी वाली सर्विस कंसल्टेंसी वाले के पास मत जाना यदि आपके पास स्किल होगी तो मैं कहता हूं कि वह अच्छी जॉब लगवा देंगे लेकिन अगर आप फ्रेशर हैं तो आप यह आपको वह यह कहे कि हम आपको 25 30 हजार दिला देंगे तो ऐसा नहीं होता है कोई भी कंसलटेंसी वाला इतनी स्टार्टिंग बंदे को 2530 यानी लगवा सकता है अब आप सोच रहे होंगे कि क्यों नहीं लगवा सकता बीटेक वाला बीटेक जो आईआईटी से करते हैं उनकी तो लगवा सकता है लेकिन मैं आपसे ही सवाल पूछना चाहूंगा कि जोबीटेक वाला वह कंसल्टेंसी वाले के पास आएगा ही क्यों हां यदि आपके पास एक्सपीरियंस है तो कंसलटेंसी वाले जरूर आपको अच्छी जॉब लगवा सकते हैं लेकिन बच के रहना थोड़ा अगर आप सोच रहे हैं तो
Aapane bataaya nahin ki aap job kaun see karana chaahate hain sarakaaree ya praivet yadi aap sarakaaree jobs ke baare mein baat kar rahe hain to sarakaaree rijalt job raasta phree job alart aisee bahut see vebasait hai jahaan par jaakar aap pata kar sakate hain ki kaun se phorm nikale hain vaheen par praivet sektar kee baat kee jae agar aapake paas keel hai to intarnashaala bhee aapake lie ek achchha opshan hoga bas main aapako sachet karana chaahoonga ki aap kisee kansalatensee vaalee sarvis kansaltensee vaale ke paas mat jaana yadi aapake paas skil hogee to main kahata hoon ki vah achchhee job lagava denge lekin agar aap phreshar hain to aap yah aapako vah yah kahe ki ham aapako 25 30 hajaar dila denge to aisa nahin hota hai koee bhee kansalatensee vaala itanee staarting bande ko 2530 yaanee lagava sakata hai ab aap soch rahe honge ki kyon nahin lagava sakata beetek vaala beetek jo aaeeaeetee se karate hain unakee to lagava sakata hai lekin main aapase hee savaal poochhana chaahoonga ki jobeetek vaala vah kansaltensee vaale ke paas aaega hee kyon haan yadi aapake paas eksapeeriyans hai to kansalatensee vaale jaroor aapako achchhee job lagava sakate hain lekin bach ke rahana thoda agar aap soch rahe hain to

#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker
रेलगाड़ी के जनरल डिब्बे में टीसी टिकट चेक करने क्यों नहीं आता है?Railgaadhi Ke General Dibbe Mein Tc Ticket Check Karane Kyun Nahin Ata Hai
Manish Maurya Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Manish जी का जवाब
Unknown
0:28
भैया टीटी लोग सरकारी बाबू बन जाते हैं और भारतीय रेल में जनरल डब्बू की जो हालत होती है वह तो आप को बयान करने की जरूरत नहीं है अगर जनरल डब्बे में घुस गए ना तो वाइट शर्ट पूरी काली हो सकती है इसीलिए आपको ज्यादातर टिकट चेकर जो है वह गेट पर ही मिलेंगे या तो सरकार या तो स्लीपर कोच में ही मिलेंगे
Bhaiya teetee log sarakaaree baaboo ban jaate hain aur bhaarateey rel mein janaral dabboo kee jo haalat hotee hai vah to aap ko bayaan karane kee jaroorat nahin hai agar janaral dabbe mein ghus gae na to vait shart pooree kaalee ho sakatee hai iseelie aapako jyaadaatar tikat chekar jo hai vah get par hee milenge ya to sarakaar ya to sleepar koch mein hee milenge

#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker
me apna nashib keshe bdal skta hu?
Manish Maurya Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Manish जी का जवाब
Unknown
0:25
मेहनत करें जिस भी फील्ड में आप हैं और विश्वास रखें कि आपकी मेहनत रंग लाएगी भगवान से प्रार्थना कीजिए बाकी सब चीजें छोड़ दीजिए इस प्रकृति के ऊपर जो कि हर चीज आपके हाथ में भी नहीं है
Mehanat karen jis bhee pheeld mein aap hain aur vishvaas rakhen ki aapakee mehanat rang laegee bhagavaan se praarthana keejie baakee sab cheejen chhod deejie is prakrti ke oopar jo ki har cheej aapake haath mein bhee nahin hai

#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker
upsc ka full form?
Manish Maurya Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Manish जी का जवाब
Unknown
0:27
यूपीएससी का फुल फॉर्म यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन है यानी कि संयुक्त लोक सेवा आयोग यह संस्था हमारे देश में बड़े-बड़े एग्जाम यानी कि कृपया ग्रुप ए ऑफिसर की एग्जाम कंडक्ट कराती है हमारे देश का चर्चित एग्जाम आईएएस यानी कि सिविल सेवा परीक्षा यूपीएससी कंडक्ट कराती है
Yoopeeesasee ka phul phorm yooniyan pablik sarvis kameeshan hai yaanee ki sanyukt lok seva aayog yah sanstha hamaare desh mein bade-bade egjaam yaanee ki krpaya grup e ophisar kee egjaam kandakt karaatee hai hamaare desh ka charchit egjaam aaeeees yaanee ki sivil seva pareeksha yoopeeesasee kandakt karaatee hai

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
रहने के लिए सबसे अच्छी जगह क्या है शहर या गांव?Rehne Ke Lie Sabse Achi Jagah Kya Hai Shahar Ya Gao
Manish Maurya Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Manish जी का जवाब
Unknown
1:22
रहने के लिए सबसे अच्छी जगह यह वैसे तो हर इंसान की अपनी जरूरतों पर निर्भर करेगा कि उसे कौन सी जगह ज्यादा अच्छी लगती है लेकिन मेरा अनुमान से जहां पर आप की आय के साधन है वह जगह अकेले ठीक है और आजकल चेहरों की पोलूशन और यह सब चीजें देखते हुए धीरे-धीरे लोगों का रूप जो है वह गांव की तरफ झुक रहा है इसीलिए अगर किसी इंसान की मान लीजिए कोई किसी गांव में उसकी टीचर की नौकरी है 40 50,000 3030 कमा रहा है तो उसके लिए गांव ही बहुत बढ़िया रहेगा क्योंकि उसके खर्चे भी कम रहेंगे और ज्यादा शेर भी करेगा बाकी हरेक का अपना पैतृक वह भी होता है अगर किसी के मां बाप शहर में रहे हैं तो उस उनके बच्चे के लिए गांव में जाकर बसना थोड़ा मुश्किल होगा वही अगर कोई गांव में या किसी के माता-पिता गांव से हैं तो वह शहर में जाकर बस बस सकते हैं तो मेरे अनुसार अगर आपकी आए गांव में भी अच्छी है तो गांव बैठने पर बढ़िया है लेकिन वही है की सोच अपनी अपनी
Rahane ke lie sabase achchhee jagah yah vaise to har insaan kee apanee jarooraton par nirbhar karega ki use kaun see jagah jyaada achchhee lagatee hai lekin mera anumaan se jahaan par aap kee aay ke saadhan hai vah jagah akele theek hai aur aajakal cheharon kee polooshan aur yah sab cheejen dekhate hue dheere-dheere logon ka roop jo hai vah gaanv kee taraph jhuk raha hai iseelie agar kisee insaan kee maan leejie koee kisee gaanv mein usakee teechar kee naukaree hai 40 50,000 3030 kama raha hai to usake lie gaanv hee bahut badhiya rahega kyonki usake kharche bhee kam rahenge aur jyaada sher bhee karega baakee harek ka apana paitrk vah bhee hota hai agar kisee ke maan baap shahar mein rahe hain to us unake bachche ke lie gaanv mein jaakar basana thoda mushkil hoga vahee agar koee gaanv mein ya kisee ke maata-pita gaanv se hain to vah shahar mein jaakar bas bas sakate hain to mere anusaar agar aapakee aae gaanv mein bhee achchhee hai to gaanv baithane par badhiya hai lekin vahee hai kee soch apanee apanee

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
देश के युवकों के लिए, केंद्रीय सरकार नए पदों का सृजन क्यों नहीं कर बन रही है ?Desh Ke Yuvkon Ke Lie Kendriya Sarkar Naye Padon Ka Srijan Kyun Nahin Kar Ban Rahi Hai
Manish Maurya Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Manish जी का जवाब
Unknown
2:15
सरकार नए पद क्यों नहीं कर रही है इसका सबसे पहला कारण तो खर्चा है अगर ज्यादा सरकारी कर्मचारी होंगे तो सरकार को खर्चा ज्यादा बढ़ना पड़ेगा पेंशन और पेंशनरों बंद हो गई है लेकिन फिर भी आर्मी नेवी एयरफोर्स में जो फंक्शन है यह और उसके साथ-साथ एनपीएस और बहुत सारे खर्चे जो एक सरकारी मुलाजिम के ऊपर सरकार को उठाने पड़ते हैं इसीलिए सरकार अपने ऊपर से बाहर उठ उतारने के लिए अब प्राइवेटाइजेशन की ओर ज्यादा ध्यान दे रही है और मोदी क्या मोदी सरकार ने तो कुछ ज्यादा ही मतलब प्राइवेटाइजेशन को जोड़ दिया है आने वाले कुछ समय में हो सकता है रेलवे को पूरी तरह प्राइवेट हो जाए नए पदों की बात की जाए तो एसएससी सीजीएल 2020 और 2020 में कुल 65 तो ही वैकेंसी रिपोर्ट की गई है वहीं अगर आपको 2011 से इसकी मुकाबला करें तो कप 2011 में कम से कम 10000 से 11000 पद रिपोर्ट किए गए थे दिन-ब-दिन डिक्रीज होती है बैंक की जॉब्स में भी यही हाल है आप खुद सोचिए आरआरबी एनटीपीसी जिसका नोटिफिकेशन आज से 2 साल पहले आया था सरकार को 2 साल लग गए यह सोचने में कि हम एग्जाम कब कराएंगे वह तो पीछे हुआ था जब मोदी जी के जन्मदिन पर छात्रों ने और युवकों ने नेशनल अनइंप्लॉयमेंट डे मनाया तब जाकर सरकार की आंख खुली और जाकर सरकार ने एडक्लियर किया कि हम 25 दिसंबर से आरआरबी एनटीपीसी की परीक्षा शुरू करेंगे सरकार खर्चे से बचने के लिए ऐसे ही तरीके अपनाती है और यह कोई कांग्रेसी या भाजपा का वह हाल नहीं है अगर आप भाजपा को दोष देते हैं इसके लिए तो यह भी गलत होगा तो कि राजस्थान सरकार में 7 साल से 6 साल से भर्ती प्रक्रिया अटकी पड़ी है अब आप खुद बताइए क्या वहां पर बीजेपी है नहीं ना और यही हाल पंजाब का भी है पंजाब में भी पिछले चार-पांच वर्षों से नई कोई वैकेंसी रिपोर्ट नहीं करेगी की गई है हो सकता है आने वाले कुछ समय में रेलवे भी प्राइवेट हो जाए
Sarakaar nae pad kyon nahin kar rahee hai isaka sabase pahala kaaran to kharcha hai agar jyaada sarakaaree karmachaaree honge to sarakaar ko kharcha jyaada badhana padega penshan aur penshanaron band ho gaee hai lekin phir bhee aarmee nevee eyaraphors mein jo phankshan hai yah aur usake saath-saath enapeees aur bahut saare kharche jo ek sarakaaree mulaajim ke oopar sarakaar ko uthaane padate hain iseelie sarakaar apane oopar se baahar uth utaarane ke lie ab praivetaijeshan kee or jyaada dhyaan de rahee hai aur modee kya modee sarakaar ne to kuchh jyaada hee matalab praivetaijeshan ko jod diya hai aane vaale kuchh samay mein ho sakata hai relave ko pooree tarah praivet ho jae nae padon kee baat kee jae to esesasee seejeeel 2020 aur 2020 mein kul 65 to hee vaikensee riport kee gaee hai vaheen agar aapako 2011 se isakee mukaabala karen to kap 2011 mein kam se kam 10000 se 11000 pad riport kie gae the din-ba-din dikreej hotee hai baink kee jobs mein bhee yahee haal hai aap khud sochie aaraarabee enateepeesee jisaka notiphikeshan aaj se 2 saal pahale aaya tha sarakaar ko 2 saal lag gae yah sochane mein ki ham egjaam kab karaenge vah to peechhe hua tha jab modee jee ke janmadin par chhaatron ne aur yuvakon ne neshanal animployament de manaaya tab jaakar sarakaar kee aankh khulee aur jaakar sarakaar ne edakliyar kiya ki ham 25 disambar se aaraarabee enateepeesee kee pareeksha shuroo karenge sarakaar kharche se bachane ke lie aise hee tareeke apanaatee hai aur yah koee kaangresee ya bhaajapa ka vah haal nahin hai agar aap bhaajapa ko dosh dete hain isake lie to yah bhee galat hoga to ki raajasthaan sarakaar mein 7 saal se 6 saal se bhartee prakriya atakee padee hai ab aap khud bataie kya vahaan par beejepee hai nahin na aur yahee haal panjaab ka bhee hai panjaab mein bhee pichhale chaar-paanch varshon se naee koee vaikensee riport nahin karegee kee gaee hai ho sakata hai aane vaale kuchh samay mein relave bhee praivet ho jae

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
क्या आर्थिक संकट में फंसे लोग ऑनलाइन काम से अपना घर चला सकते हैं?Kya Aarthik Sankat Mein Fsse Log Online Kaam Se Apna Ghar Chala Sakte Hain
Manish Maurya Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Manish जी का जवाब
Unknown
1:34

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
भारत मे बेरोज़गारी कैसे हटाई जा सकती है।?Bharat Me Berozgari Kaise Hatai Ja Sakti Hai
Manish Maurya Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Manish जी का जवाब
Unknown
1:35
चार दोस्तों बेरोजगारी अपने आप में एक बहुत बड़ा विषय है इस सवाल के साथ मुझे अवेंजर्स फिल्म की याद आ गई जिसमें ध्यान उस लोगों का नरसंहार करता है और ताकि संसाधन पूरे पढ़ सके तो बेरोजगारी का भी यही हाल है जब किसी देश के संसाधन वहां की जरूरतों को पूरा करने के लिए पर्याप्त नहीं रहते हैं तो बेरोजगारी भी उनमें से एक कारण है जो पनपती है किस को दूर करने के लिए सबसे पहला जो कार्य है वह जनसंख्या नियंत्रण पर जोर होना चाहिए इसके पश्चात ठेकों को थोड़ा कम किया जाना चाहिए क्योंकि ठेकेदारी आने के बाद एक बड़ा मार्जिन ठेकेदारों के पास चला जाता है और जो मजदूर होते हैं उनको कम कर दिया जाता है उनसे ज्यादा काम लेकर काम किया जाता है इसकी एक और मिसाल है कि हमारे जितने सरकारी डिपार्टमेंट है उसमें कोई कोई भी जाए तो सभी डिपार्टमेंट में कर्मचारी पूरे नहीं है जितनी जरूरत है उससे कम ही तो इन लोगों को भी इसे पूरा करना चाहिए ताकि करमचारी ज्यादा हूं जब सरकार ही ऐसा करेगी कि कम लोग रखेगी तो वहां आप आम जनता से क्या एक्सपेक्ट करते हैं और तीसरा यह कि आप अगर बेरोजगारी को दूर करना चाहते हैं तो आपको मशीनों का प्रयोग थोड़ा कम करना पड़ेगा क्यों क्योंकि मशीनों के आने के बाद इंसानों के काम में काफी कमी आई है
Chaar doston berojagaaree apane aap mein ek bahut bada vishay hai is savaal ke saath mujhe avenjars philm kee yaad aa gaee jisamen dhyaan us logon ka narasanhaar karata hai aur taaki sansaadhan poore padh sake to berojagaaree ka bhee yahee haal hai jab kisee desh ke sansaadhan vahaan kee jarooraton ko poora karane ke lie paryaapt nahin rahate hain to berojagaaree bhee unamen se ek kaaran hai jo panapatee hai kis ko door karane ke lie sabase pahala jo kaary hai vah janasankhya niyantran par jor hona chaahie isake pashchaat thekon ko thoda kam kiya jaana chaahie kyonki thekedaaree aane ke baad ek bada maarjin thekedaaron ke paas chala jaata hai aur jo majadoor hote hain unako kam kar diya jaata hai unase jyaada kaam lekar kaam kiya jaata hai isakee ek aur misaal hai ki hamaare jitane sarakaaree dipaartament hai usamen koee koee bhee jae to sabhee dipaartament mein karmachaaree poore nahin hai jitanee jaroorat hai usase kam hee to in logon ko bhee ise poora karana chaahie taaki karamachaaree jyaada hoon jab sarakaar hee aisa karegee ki kam log rakhegee to vahaan aap aam janata se kya eksapekt karate hain aur teesara yah ki aap agar berojagaaree ko door karana chaahate hain to aapako masheenon ka prayog thoda kam karana padega kyon kyonki masheenon ke aane ke baad insaanon ke kaam mein kaaphee kamee aaee hai

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
वोट देना जरूरी है या मजबूरी?Vote Dena Jaruri Hai Ya Majburi
Manish Maurya Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Manish जी का जवाब
Unknown
0:56

#भारत की राजनीति

Manish Maurya Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Manish जी का जवाब
Unknown
0:40
URL copied to clipboard