#भारत की राजनीति

Rishabh Sengar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rishabh जी का जवाब
Student
1:14
बताओ प्रश्न पूछा गया है कि यह समस्त मीडिया वाले बीजेपी की हमेशा बढ़ाई क्यों करते हैं क्या कोई भी व्यक्ति ऐसा है जिसके अंदर कमी ना हो देखिए कमियां होना एक स्वाभाविक प्रक्रिया है और लोकतंत्र के अंदर एक निष्पक्ष मीडिया होना बहुत आवश्यक है चाहे वह मोदी जी हूं चाहे कोई भी व्यक्ति हो मीडिया का स्वतंत्र होना बहुत जरूरी है किंतु मीडिया अपनी ओछी टीआरपी के लिए चाहता है कि वह मुद्दों का इस तरीके से राजनीतिकरण करें जिससे एक खास पार्टी या विचारधारा को फायदा हो इसमें मैं यह नहीं समझता कि केवल भारतीय जनता पार्टी जिस मीडिया चैनल का झुकाव जिस पार्टी की तरफ है उस समय समय पर उस राजनीतिक खास विचारधारा का समर्थन करता है और उसकी खबरों में कहीं ना कहीं उन पार्टियों को तवज्जो दी जाती है लेकिन संपूर्ण मीडिया पर प्रश्नचिन्ह लगा ना मैं समझता हूं यह एक गलत चीज होगी क्योंकि हम संपूर्ण मीडिया को कटघरे में नहीं खड़ा कर सकते और आज भी ऐसे कुछ मीडिया संस्थान है जो बहुत ही ईमानदारी से जनता के मुद्दों को समय-समय पर उठाते हैं
Batao prashn poochha gaya hai ki yah samast meediya vaale beejepee kee hamesha badhaee kyon karate hain kya koee bhee vyakti aisa hai jisake andar kamee na ho dekhie kamiyaan hona ek svaabhaavik prakriya hai aur lokatantr ke andar ek nishpaksh meediya hona bahut aavashyak hai chaahe vah modee jee hoon chaahe koee bhee vyakti ho meediya ka svatantr hona bahut jarooree hai kintu meediya apanee ochhee teeaarapee ke lie chaahata hai ki vah muddon ka is tareeke se raajaneetikaran karen jisase ek khaas paartee ya vichaaradhaara ko phaayada ho isamen main yah nahin samajhata ki keval bhaarateey janata paartee jis meediya chainal ka jhukaav jis paartee kee taraph hai us samay samay par us raajaneetik khaas vichaaradhaara ka samarthan karata hai aur usakee khabaron mein kaheen na kaheen un paartiyon ko tavajjo dee jaatee hai lekin sampoorn meediya par prashnachinh laga na main samajhata hoon yah ek galat cheej hogee kyonki ham sampoorn meediya ko kataghare mein nahin khada kar sakate aur aaj bhee aise kuchh meediya sansthaan hai jo bahut hee eemaanadaaree se janata ke muddon ko samay-samay par uthaate hain

#भारत की राजनीति

Rishabh Sengar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rishabh जी का जवाब
Student
0:23
मंत्री निर्मला सीतारमण में कोरोनावायरस के टाइम हेल्प सेक्टर के लिए कुछ घोषणाएं की है इस बार जो बजट है उसमें हेल्थ को लेकर काफी कुछ घोषणाएं की गई हैं और हेल्थ सेक्टर में कोरोना वैक्सीन को लेकर 137 परसेंट का इजाफा किया गया है वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने संसद में अपने बजट भाषण को पढ़ते हुए इसका जिक्र किया बहुत-बहुत धन्यवाद
Mantree nirmala seetaaraman mein koronaavaayaras ke taim help sektar ke lie kuchh ghoshanaen kee hai is baar jo bajat hai usamen helth ko lekar kaaphee kuchh ghoshanaen kee gaee hain aur helth sektar mein korona vaikseen ko lekar 137 parasent ka ijaapha kiya gaya hai vitt mantree nirmala seetaaraman ne sansad mein apane bajat bhaashan ko padhate hue isaka jikr kiya bahut-bahut dhanyavaad

#भारत की राजनीति

Rishabh Sengar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rishabh जी का जवाब
Student
1:25
प्रश्न पूछा गया है कि राहु क्या राहुल गांधी कांग्रेस को और नरेंद्र मोदी बीजेपी को ले डूबेंगे डूबने की जो परिभाषा है इसको तय करने के लिए आपको पार्टी का परफॉर्मेंस देखना होता है लेकिन राहुल गांधी का जहां तक प्रश्न है वह कांग्रेस को लेट डूब चुके हैं लेकिन और नरेंद्र मोदी जी इस दिशा में आगे बढ़ रहे हैं तो ऐसा कहा जा सकता है हो सकता है नरेंद्र मोदी जी की नैया नाभि डूबे वह समझ जाएं खैर क्योंकि समय रहते कृषि कानूनों को लेकर जिस तरीके से उनकी सरकार किसानों के लिए कील और सरिए का इंतजाम कर रही है इससे तो ऐसा लगता है कि उनकी नई अभी शीघ्र अति शीघ्र डूबने वाली है कि तू जहां तक प्रश्न राहुल गांधी जी का है वह कांग्रेस को ले डूब चुके हैं इसमें कोई दो मत नहीं है कांग्रेस पार्टी को धरातल पर लाने का श्रेय यदि किसी व्यक्ति विशेष को जाता है तो उस व्यक्ति का नाम राहुल गांधी है और जो राजनीति में परिपक्वता का एक अनुपम उदाहरण है जिसने अपरिपक्व राजनीति कर कर ऐसे राजनेताओं को जो अपरिपक्व है उनके लिए एक आदर्श प्रस्तुत किया है कि बिना कुछ किए भी आप लंबे समय तक एक राष्ट्रीय पार्टी के अध्यक्ष बने रह सकते हैं इसीलिए मैं समझता हूं राहुल गांधी जी और मोदी जी की तुलना करना थोड़ी जल्दबाजी होगी बात बताने में
Prashn poochha gaya hai ki raahu kya raahul gaandhee kaangres ko aur narendr modee beejepee ko le doobenge doobane kee jo paribhaasha hai isako tay karane ke lie aapako paartee ka paraphormens dekhana hota hai lekin raahul gaandhee ka jahaan tak prashn hai vah kaangres ko let doob chuke hain lekin aur narendr modee jee is disha mein aage badh rahe hain to aisa kaha ja sakata hai ho sakata hai narendr modee jee kee naiya naabhi doobe vah samajh jaen khair kyonki samay rahate krshi kaanoonon ko lekar jis tareeke se unakee sarakaar kisaanon ke lie keel aur sarie ka intajaam kar rahee hai isase to aisa lagata hai ki unakee naee abhee sheeghr ati sheeghr doobane vaalee hai ki too jahaan tak prashn raahul gaandhee jee ka hai vah kaangres ko le doob chuke hain isamen koee do mat nahin hai kaangres paartee ko dharaatal par laane ka shrey yadi kisee vyakti vishesh ko jaata hai to us vyakti ka naam raahul gaandhee hai aur jo raajaneeti mein paripakvata ka ek anupam udaaharan hai jisane aparipakv raajaneeti kar kar aise raajanetaon ko jo aparipakv hai unake lie ek aadarsh prastut kiya hai ki bina kuchh kie bhee aap lambe samay tak ek raashtreey paartee ke adhyaksh bane rah sakate hain iseelie main samajhata hoon raahul gaandhee jee aur modee jee kee tulana karana thodee jaldabaajee hogee baat bataane mein

#भारत की राजनीति

Rishabh Sengar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rishabh जी का जवाब
Student
1:12
पूछा गया है कि बीजेपी की सरकार ना होती तब भी हिंदू लोग राम और कृष्ण मंदिर बना लेते आपका क्या कहना है इस बारे में लेकर भारतीय जनता पार्टी जो है वह हिंदुओं की ना तो ठेकेदार है ना ही हिंदू लोगों का कोई कर्ज है भारतीय जनता पार्टी के पास था लेकिन हिंदुओं से जुड़े मुद्दों को भारतीय जनता पार्टी समय-समय पर उठाती रहती है लेकिन इसका यह मतलब कदापि नहीं है कि भारतीय जनता पार्टी समस्त हिंदुओं के ठेकेदार हो जाएगी भारतीय जनता पार्टी एक राजनीतिक पार्टी है जो हिंदुओं के मुद्दे उठाकर हिंदुओं का वोट लेती है यह एकतरफा नहीं होता हिंदुओं के मुद्दे उठाती है तो हिंदू उनको वोट देते हैं और जिस दिन भारतीय जनता पार्टी हिंदुओं के मुद्दे उठाना बंद कर देगी हिंदू लोग भी भारतीय जनता पार्टी की उपेक्षा करके भारतीय जनता पार्टी को सत्ता से बाहर का किनारा दिखा देंगे इसलिए भारतीय जनता पार्टी को भी अहंकार में नहीं आना चाहिए और यह नहीं समझना चाहिए कि अगर वह नहीं होते तो रामकृष्ण और किसी का भी मंदिर हिंदू जनता नहीं बना सकती यह हिंदू जनमानस का ही प्रचंड बहुमत था जिसके कारण आज भारतीय जनता पार्टी राजनीति के शीर्ष स्थान पर बैठी है बहुत-बहुत आभार
Poochha gaya hai ki beejepee kee sarakaar na hotee tab bhee hindoo log raam aur krshn mandir bana lete aapaka kya kahana hai is baare mein lekar bhaarateey janata paartee jo hai vah hinduon kee na to thekedaar hai na hee hindoo logon ka koee karj hai bhaarateey janata paartee ke paas tha lekin hinduon se jude muddon ko bhaarateey janata paartee samay-samay par uthaatee rahatee hai lekin isaka yah matalab kadaapi nahin hai ki bhaarateey janata paartee samast hinduon ke thekedaar ho jaegee bhaarateey janata paartee ek raajaneetik paartee hai jo hinduon ke mudde uthaakar hinduon ka vot letee hai yah ekatarapha nahin hota hinduon ke mudde uthaatee hai to hindoo unako vot dete hain aur jis din bhaarateey janata paartee hinduon ke mudde uthaana band kar degee hindoo log bhee bhaarateey janata paartee kee upeksha karake bhaarateey janata paartee ko satta se baahar ka kinaara dikha denge isalie bhaarateey janata paartee ko bhee ahankaar mein nahin aana chaahie aur yah nahin samajhana chaahie ki agar vah nahin hote to raamakrshn aur kisee ka bhee mandir hindoo janata nahin bana sakatee yah hindoo janamaanas ka hee prachand bahumat tha jisake kaaran aaj bhaarateey janata paartee raajaneeti ke sheersh sthaan par baithee hai bahut-bahut aabhaar

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
गुलाम नबी आजाद की विदाई पर क्यों भावुक हुए मोदी?Gulam Nabi Azad Ki Vidayi Par Bhavuk Kyo Hue Modi
Rishabh Sengar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rishabh जी का जवाब
Student
1:37
नमस्कार सोता हूं गुलाम नबी आजाद की विदाई पर भावुक क्यों हुए मोदी जैसा कि आप सभी को ज्ञात होगा कि गुलाम नबी आजाद जो कि भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के जम्मू कश्मीर प्रांत से राज्यसभा सांसद है गुलाम नबी आजाद जी का राज्यसभा का कार्यकाल इसी फरवरी माह में पूरा हो रहा है और इसके बाद भी राज्यसभा से रिटायर हो जाएंगे इसीलिए उन्होंने एक अंतिम भाषण दिया जिस फेयरवेल स्पीच को देते हुए प्रधानमंत्री मोदी भी भावुक दिखाई दिए और उन्होंने गुलाम नबी आजाद को अपना एक बेहतरीन मित्र बनाया बताया उन्होंने एक घटना को याद करते हुए बताया कि एक बार गुजरात के 4 पर्यटक जिनको जम्मू कश्मीर में आतंकियों द्वारा मौत के घाट उतार दिया गया था इसकी सूचना गुलाम नबी आजाद ने नरेंद्र मोदी को गुजरात के सीएम रहते हुए फोन पर दी जिस समय उन मैंने केवल सूचना ही नहीं दी सूचना देते वक्त उनकी आंखों से आंसू रुक नहीं रहे थे और नरेंद्र मोदी ने यह भी बताया कि किस प्रकार से राज्यसभा में उनका योगदान एक मैम योगदान बहुत ही महत्वपूर्ण रहा और और गुलाम नबी आजाद में नरेंद्र मोदी जी कुछ से भी कहा कि वह और मोदी प्रारंभिक काल से ही एक अच्छे मित्र की तरह है और राज्यसभा से रिटायर होने के बाद भी वे उनसे मार्गदर्शन लेते रहेंगे और उन्हें कभी रिटायर नहीं होने देंगे
Namaskaar sota hoon gulaam nabee aajaad kee vidaee par bhaavuk kyon hue modee jaisa ki aap sabhee ko gyaat hoga ki gulaam nabee aajaad jo ki bhaarateey raashtreey kaangres ke jammoo kashmeer praant se raajyasabha saansad hai gulaam nabee aajaad jee ka raajyasabha ka kaaryakaal isee pharavaree maah mein poora ho raha hai aur isake baad bhee raajyasabha se ritaayar ho jaenge iseelie unhonne ek antim bhaashan diya jis pheyaravel speech ko dete hue pradhaanamantree modee bhee bhaavuk dikhaee die aur unhonne gulaam nabee aajaad ko apana ek behatareen mitr banaaya bataaya unhonne ek ghatana ko yaad karate hue bataaya ki ek baar gujaraat ke 4 paryatak jinako jammoo kashmeer mein aatankiyon dvaara maut ke ghaat utaar diya gaya tha isakee soochana gulaam nabee aajaad ne narendr modee ko gujaraat ke seeem rahate hue phon par dee jis samay un mainne keval soochana hee nahin dee soochana dete vakt unakee aankhon se aansoo ruk nahin rahe the aur narendr modee ne yah bhee bataaya ki kis prakaar se raajyasabha mein unaka yogadaan ek maim yogadaan bahut hee mahatvapoorn raha aur aur gulaam nabee aajaad mein narendr modee jee kuchh se bhee kaha ki vah aur modee praarambhik kaal se hee ek achchhe mitr kee tarah hai aur raajyasabha se ritaayar hone ke baad bhee ve unase maargadarshan lete rahenge aur unhen kabhee ritaayar nahin hone denge

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
केंद्रीय बजट 2021 के मुख्य आकर्षण क्या है?Kendriya Budget 2021 Ke Mukhya Aakarshan Kya Hai
Rishabh Sengar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rishabh जी का जवाब
Student
2:01
प्रश्न पूछा है केंद्रीय बजट 2021 के मुख्य आकर्षण क्या है लेकिन मुख्य आकर्षण तो आपकी राय के ऊपर निर्भर करता है कि आप किस चीज को कितने तवज्जो देते हैं लेकिन मुख्य तौर पर जो बजट था वह इस बार 2021 का जो पेश किया गया फुल जोश का राशि दी और बजट की 3483236 करो उठा के बोल है इतनी थाउजेंड टू हंड्रेड थर्टी सिक्स करोड़ रुपए का यह भजन था जिसमें टैक्सेशन की पॉलिसी में कोई छूट नहीं दी गई है जो चल रहा था उसी को कंटिन्यू किया गया है टैक्स स्लैब में कोई भी परिवर्तन नहीं किया गया है हां आम क्रेडिट लिमिट किसानों को के विरोध को देखते हुए शायरी कदम उठाया गया हुआ किसान क्रेडिट लिमिट को 16.5 करोड तक बढ़ा दिया गया है और स्वास्थ्य कल्याण को लेकर है उसके वेलफेयर और भौतिक चीजों में भी का इजाफा हुआ है और 137 परसेंट का इजाफा हुआ है क्या बोलते हैं हेल्थ सेक्टर में जो पहले का भजन था उसकी तुलना की जाए तो और 75 साल बाद में 75 साल से जो ऊपर के लोग हैं जो टेंशन लेते हैं तो उनका आप जो इनकम टैक्स रिटर्न था आपको नहीं भर पाएंगे क्योंकि उनका बैंक जून की पेंशन आती थी उसमें इंटरेस्ट टीडीएस के तौर पर काट लेता था और 2022 में जो राजकोषीय घाटा है वह 6.8 आशा परसेंट रहने का अनुमान लगाया गया है और 2021 में यह 9.5% रह सकता है और जो कोरोना वैक्सीन के लिए भी थर्टी फाइव थाउजेंड करोड़ रुपए का बजट रखा गया है और अगर इसमें जरूरत लगेगी सरकार को कैसे बढ़ाया जाए बहुत-बहुत धन्यवाद
Prashn poochha hai kendreey bajat 2021 ke mukhy aakarshan kya hai lekin mukhy aakarshan to aapakee raay ke oopar nirbhar karata hai ki aap kis cheej ko kitane tavajjo dete hain lekin mukhy taur par jo bajat tha vah is baar 2021 ka jo pesh kiya gaya phul josh ka raashi dee aur bajat kee 3483236 karo utha ke bol hai itanee thaujend too handred thartee siks karod rupe ka yah bhajan tha jisamen taikseshan kee polisee mein koee chhoot nahin dee gaee hai jo chal raha tha usee ko kantinyoo kiya gaya hai taiks slaib mein koee bhee parivartan nahin kiya gaya hai haan aam kredit limit kisaanon ko ke virodh ko dekhate hue shaayaree kadam uthaaya gaya hua kisaan kredit limit ko 16.5 karod tak badha diya gaya hai aur svaasthy kalyaan ko lekar hai usake velapheyar aur bhautik cheejon mein bhee ka ijaapha hua hai aur 137 parasent ka ijaapha hua hai kya bolate hain helth sektar mein jo pahale ka bhajan tha usakee tulana kee jae to aur 75 saal baad mein 75 saal se jo oopar ke log hain jo tenshan lete hain to unaka aap jo inakam taiks ritarn tha aapako nahin bhar paenge kyonki unaka baink joon kee penshan aatee thee usamen intarest teedeees ke taur par kaat leta tha aur 2022 mein jo raajakosheey ghaata hai vah 6.8 aasha parasent rahane ka anumaan lagaaya gaya hai aur 2021 mein yah 9.5% rah sakata hai aur jo korona vaikseen ke lie bhee thartee phaiv thaujend karod rupe ka bajat rakha gaya hai aur agar isamen jaroorat lagegee sarakaar ko kaise badhaaya jae bahut-bahut dhanyavaad

#भारत की राजनीति

Rishabh Sengar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rishabh जी का जवाब
Student
1:12
बेस्ट पूछा गया कि क्या देश के मौजूदा हालात को देखते हुए पश्चिम बंगाल में भी बार पूर्ण बहुमत से ममता बनर्जी की ही सरकार बनेगी के प्रश्न बहुत गंभीर है क्योंकि मुख्य तौर पर यह जो नेता किसानों का कृषि कानूनों को लेकर विरोध हो रहा है शायद आप इस माहौल के बारे में बात कर रहे हैं जिससे यह सरकार की इस नकारात्मक छवि कुछ दिनों से वह पर हो सकता है कि देश के एक बड़े वर्ग में इसके प्रति असंतोष हो या सरकार की राय से इत्तेफाक ना रखते हो लोग हिंदू पश्चिम बंगाल में अलग मुद्दों पर चुनाव होगा और पश्चिम बंगाल में मैं समझता हूं इस बार बीजेपी टीएमसी के गढ़ में सेंध लगाने में काफी हद तक कामयाब होगी हो सकता है कि बहुमत से थोड़ी बहुत सीधे कम मिले भारतीय जनता पार्टी को लेकिन वह इसे मैनेज कर लेगी और मुझे लगता है इस बार भारतीय जनता पार्टी काफी अच्छा प्रदर्शन करने जा रही हो और मुझे नहीं लगता कि इस बार ममता बनर्जी जी के लिए राह आसान रहने वाली है उन को पूर्ण बहुमत शायद ना मिले इस बार ऐसा मेरा व्यक्तिगत आकलन है
Best poochha gaya ki kya desh ke maujooda haalaat ko dekhate hue pashchim bangaal mein bhee baar poorn bahumat se mamata banarjee kee hee sarakaar banegee ke prashn bahut gambheer hai kyonki mukhy taur par yah jo neta kisaanon ka krshi kaanoonon ko lekar virodh ho raha hai shaayad aap is maahaul ke baare mein baat kar rahe hain jisase yah sarakaar kee is nakaaraatmak chhavi kuchh dinon se vah par ho sakata hai ki desh ke ek bade varg mein isake prati asantosh ho ya sarakaar kee raay se ittephaak na rakhate ho log hindoo pashchim bangaal mein alag muddon par chunaav hoga aur pashchim bangaal mein main samajhata hoon is baar beejepee teeemasee ke gadh mein sendh lagaane mein kaaphee had tak kaamayaab hogee ho sakata hai ki bahumat se thodee bahut seedhe kam mile bhaarateey janata paartee ko lekin vah ise mainej kar legee aur mujhe lagata hai is baar bhaarateey janata paartee kaaphee achchha pradarshan karane ja rahee ho aur mujhe nahin lagata ki is baar mamata banarjee jee ke lie raah aasaan rahane vaalee hai un ko poorn bahumat shaayad na mile is baar aisa mera vyaktigat aakalan hai

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
किसान आंदोलन को मोदी जल्दी निपटाते क्यों नहीं?Kisan Andolan Ko Modi Jaldi Niptate Kyun Nahin
Rishabh Sengar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rishabh जी का जवाब
Student
1:40
प्रश्न पूछा है कि किसान आंदोलन को मोदी जल्दी निपटा थे क्यों नहीं किसान आंदोलन को सरकार द्वारा प्रायोजित आंदोलन नहीं है यानी को पता नहीं चला रही है इसलिए इसका निवारण करने के लिए सरकार या तो किसानों की मांगों को माने इन तीनों तीनों कानूनों को रद्द करें या फिर सरकार किसानों के आंदोलन को बलपूर्वक हटाए बलपूर्वक जबरन बंद करा है दोनों ही स्थिति में कानून व्यवस्था का प्रश्न उठेगा क्योंकि जो किसान है वह फर्स्ट प्रयास में है वह नहीं चाहती कि दुकान में किसी भी हालत में इंपोर्ट किए जाएं और वैसे भी जो सुप्रीम कोर्ट का निर्णय था कि इसको 18 महीने के लिए तो वैसे ही एक सस्पेंडेड है अभी 18 महीनों तक तो यह प्रभावी होगा नहीं वह कानून तो इसलिए सरकार इस समय मैं समझता हूं बहुत खूब खूब कर कदम रख रही है इसीलिए शायद वह आंदोलन को कमजोर करने का प्रयास तो कर रही है जिस प्रकार से 26 जनवरी की घटना हुई थी उसके बाद कमजोर आंदोलन पड़ा था लेकिन हमने देखा कि किसान नेताओं की भावुक अपील से दोबारा उस आंदोलन में जान आ गई और यह सरकार के लिए चिंता का विषय बना हुआ है और सरकार मुझे लगता है ऐसा कोई भी कदम तुरंत इसलिए नहीं उठा रही क्योंकि इससे शायद गलत संदेश जा सकता है जनता में अगर सरकार किसानों के विरुद्ध कोई जबरन कार्यवाही करती है बहुत-बहुत धन्यवाद
Prashn poochha hai ki kisaan aandolan ko modee jaldee nipata the kyon nahin kisaan aandolan ko sarakaar dvaara praayojit aandolan nahin hai yaanee ko pata nahin chala rahee hai isalie isaka nivaaran karane ke lie sarakaar ya to kisaanon kee maangon ko maane in teenon teenon kaanoonon ko radd karen ya phir sarakaar kisaanon ke aandolan ko balapoorvak hatae balapoorvak jabaran band kara hai donon hee sthiti mein kaanoon vyavastha ka prashn uthega kyonki jo kisaan hai vah pharst prayaas mein hai vah nahin chaahatee ki dukaan mein kisee bhee haalat mein import kie jaen aur vaise bhee jo supreem kort ka nirnay tha ki isako 18 maheene ke lie to vaise hee ek saspended hai abhee 18 maheenon tak to yah prabhaavee hoga nahin vah kaanoon to isalie sarakaar is samay main samajhata hoon bahut khoob khoob kar kadam rakh rahee hai iseelie shaayad vah aandolan ko kamajor karane ka prayaas to kar rahee hai jis prakaar se 26 janavaree kee ghatana huee thee usake baad kamajor aandolan pada tha lekin hamane dekha ki kisaan netaon kee bhaavuk apeel se dobaara us aandolan mein jaan aa gaee aur yah sarakaar ke lie chinta ka vishay bana hua hai aur sarakaar mujhe lagata hai aisa koee bhee kadam turant isalie nahin utha rahee kyonki isase shaayad galat sandesh ja sakata hai janata mein agar sarakaar kisaanon ke viruddh koee jabaran kaaryavaahee karatee hai bahut-bahut dhanyavaad

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
भारत में गुटनिरपेक्ष की विदेश नीति के प्रवर्तक कौन थे?Bharat Mein Gutnirpeksh Ki Videsh Neeti Ke Pravartak Kaun The
Rishabh Sengar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rishabh जी का जवाब
Student
2:29
यह बहुत ही दिलचस्प प्रश्न पूछा गया है कि भारत में गुटनिरपेक्ष की विदेश नीति के प्रवर्तक कौन थे वैसे तो हमारा जो इतिहास से वो एक व्यक्ति को चिन्हित करता है कि गुटनिरपेक्ष आंदोलन के जो प्रवर्तक माने गए हैं वह पंडित जवाहरलाल नेहरु जी हमारे देश के माने गए हैं भारत में और उन्हीं के द्वारा योजना ऑनलाइन मोमेंट था जिसमें पांच और देश से इंडोनेशिया युगोस्लाविया इजिप्ट गाना और कंट्रीज 345 फाउंडिंग मेंबर्स एस के लोगों ने मिलकर गुटनिरपेक्ष आंदोलन चलाया और पुलिस को पंडित जवाहरलाल नेहरू को इसका श्रेय दिया जाता है उन्होंने उन्होंने ही गुट निरपेक्षता चाहिए जो पूरा कांसेप्ट को भारत में लाए थे और भारतीय विदेश नीति का यह एक अहम प्रिंसिपल है मुख्य स्तंभ है भारतीय विदेश नीति का लेकिन मैं समझता हूं इस विदेश नीति को हमने इसलिए भी अपनाया है क्योंकि सदा ही भी थे जो हमारा दर्शन रहा है और जो भारतीय संस्कृति रही है वह सदैव से ही गुटों में ना बट कर गुट निरपेक्षता की ही बात करती रही है क्योंकि हमारी संस्कृति में कहा भी गया है कि आया मैंने जहां पर वह भेज दी गणना लघु चित्र शाम उधार चढ़ता नाम तु वसुधैव कुटुंबकम और उस वसुधैव कुटुंबकम की कि के विचार में जो लोग विश्वास करते हैं उस वाक्यांश को पुनर्जीवित करना चाहते हैं उन्हीं लोगों के द्वारा और उनके सहयोगी देशों के द्वारा गुट निरपेक्षता का यह आंदोलन चलाया गया हालांकि इसकी प्रासंगिकता वर्तमान समय में ना के बराबर रह गई है जिन के कारणों को हमें तलाशने की गहना हो सकता है किंतु यह एक ऐतिहासिक और मैं समझता हूं बहुत ही विश्व राजनीति में उस समय यह एक थर्ड ऑप्शन के रूप में उभरा जब द्वितीय विश्व युद्ध के बाद विश्व दो दलों में बट गया था एक तरफ था सोवियत संघ यूएसएसआर और दूसरी तरफ था अमेरिका दैट इज द यूनाइटेड स्टेट्स और उस समय एक ऐसी तीसरे विकल्प के रूप में उभरना और ना केवल उभरना शक्तिशाली यह जो नए रिश्ते उनके द्वारा उनको समर्थन पाना भी एक चुनौती से कम था और पंडित जवाहरलाल नेहरू को स्पष्ट है आपको देना पड़ेगा भले ही आप की विचारधारा कोई भी हो
Yah bahut hee dilachasp prashn poochha gaya hai ki bhaarat mein gutanirapeksh kee videsh neeti ke pravartak kaun the vaise to hamaara jo itihaas se vo ek vyakti ko chinhit karata hai ki gutanirapeksh aandolan ke jo pravartak maane gae hain vah pandit javaaharalaal neharu jee hamaare desh ke maane gae hain bhaarat mein aur unheen ke dvaara yojana onalain moment tha jisamen paanch aur desh se indoneshiya yugoslaaviya ijipt gaana aur kantreej 345 phaunding membars es ke logon ne milakar gutanirapeksh aandolan chalaaya aur pulis ko pandit javaaharalaal neharoo ko isaka shrey diya jaata hai unhonne unhonne hee gut nirapekshata chaahie jo poora kaansept ko bhaarat mein lae the aur bhaarateey videsh neeti ka yah ek aham prinsipal hai mukhy stambh hai bhaarateey videsh neeti ka lekin main samajhata hoon is videsh neeti ko hamane isalie bhee apanaaya hai kyonki sada hee bhee the jo hamaara darshan raha hai aur jo bhaarateey sanskrti rahee hai vah sadaiv se hee guton mein na bat kar gut nirapekshata kee hee baat karatee rahee hai kyonki hamaaree sanskrti mein kaha bhee gaya hai ki aaya mainne jahaan par vah bhej dee ganana laghu chitr shaam udhaar chadhata naam tu vasudhaiv kutumbakam aur us vasudhaiv kutumbakam kee ki ke vichaar mein jo log vishvaas karate hain us vaakyaansh ko punarjeevit karana chaahate hain unheen logon ke dvaara aur unake sahayogee deshon ke dvaara gut nirapekshata ka yah aandolan chalaaya gaya haalaanki isakee praasangikata vartamaan samay mein na ke baraabar rah gaee hai jin ke kaaranon ko hamen talaashane kee gahana ho sakata hai kintu yah ek aitihaasik aur main samajhata hoon bahut hee vishv raajaneeti mein us samay yah ek thard opshan ke roop mein ubhara jab dviteey vishv yuddh ke baad vishv do dalon mein bat gaya tha ek taraph tha soviyat sangh yooesesaar aur doosaree taraph tha amerika dait ij da yoonaited stets aur us samay ek aisee teesare vikalp ke roop mein ubharana aur na keval ubharana shaktishaalee yah jo nae rishte unake dvaara unako samarthan paana bhee ek chunautee se kam tha aur pandit javaaharalaal neharoo ko spasht hai aapako dena padega bhale hee aap kee vichaaradhaara koee bhee ho

#भारत की राजनीति

Rishabh Sengar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rishabh जी का जवाब
Student
1:55
प्रश्न पूछा है कि मोदी भक्त और गोदी मीडिया चिल्ला रहे थे आज रात कुछ बड़ा होगा सुबह उठकर देखा तो किसान आंदोलन बड़ा हो गया किसान एकता जिंदाबाद दिखे प्रश्न का जवाब और लोगों ने भी दिया है उसमें से कुछ लोग तो ऐसे हैं जो भारतीय जनता पार्टी के समर्थक हैं और कुछ लोग ऐसे हैं जो भारतीय जनता पार्टी के विरोधी हैं तो यहां पर विरोधियों और समर्थकों से अलग हटकर एक निष्पक्ष राय रखना बहुत जरूरी है इसीलिए मैं आपको बता देना चाहता हूं कि आंदोलन बड़ा हो गया है या आंदोलन तीव्र हो गया इसमें संख्या लोगों की बढ़ रही है तो यह कंसान है एक सिक्योरिटी को लेकर भी क्योंकि जिस तरीके से कुछ चीज है हमने देखे पिछले दिनों घटित हुई उससे यह तो इंकार नहीं किया जा सकता कि आंदोलन को कभी भी कोई भी हाईजैक कर सकता है इसलिए जो ऐसे तत्व हैं जिनका काम केवल अराजकता फैलाना और हिंसक विदेशियों को बढ़ावा देना है ऐसे लोगों को तो आप को चिन्हित करना पड़ेगा और जब आंदोलन बड़ा हो जाएगा तो यह जिम्मेदारी पुलिस और जो खुफिया तंत्र है उसके लिए बहुत बड़ी रहने वाली है कि इसमें कोई अराजक तत्व शामिल ना हो हालांकि सरकार की ओर से किसानों को बातचीत को लेकर जो प्रस्ताव दिया जा रहा है वह भी इसका एक प्रमुख मुद्दा है मैं इस बीच बहस में नहीं पड़ना चाहता कि इस समय किसान सही है या सरकार सही है एक निष्पक्ष राय के तौर पर मैं आपको बता देना चाहता हूं कि जितनी जल्दी हो सके सरकार और किसान दोनों को इसका समाधान निकालना चाहिए किसानों को भी अपनी तरफ से नरमी बरतनी चाहिए और सरकार को भी एक पारदर्शी और थोड़ा लचीला रवैया किसानों के प्रति अपनाना चाहिए कोई भी ऐसी चीज जो किसानों को वह काहे नहीं करनी चाहिए धन्यवाद बहुत-बहुत धन्यवाद
Prashn poochha hai ki modee bhakt aur godee meediya chilla rahe the aaj raat kuchh bada hoga subah uthakar dekha to kisaan aandolan bada ho gaya kisaan ekata jindaabaad dikhe prashn ka javaab aur logon ne bhee diya hai usamen se kuchh log to aise hain jo bhaarateey janata paartee ke samarthak hain aur kuchh log aise hain jo bhaarateey janata paartee ke virodhee hain to yahaan par virodhiyon aur samarthakon se alag hatakar ek nishpaksh raay rakhana bahut jarooree hai iseelie main aapako bata dena chaahata hoon ki aandolan bada ho gaya hai ya aandolan teevr ho gaya isamen sankhya logon kee badh rahee hai to yah kansaan hai ek sikyoritee ko lekar bhee kyonki jis tareeke se kuchh cheej hai hamane dekhe pichhale dinon ghatit huee usase yah to inkaar nahin kiya ja sakata ki aandolan ko kabhee bhee koee bhee haeejaik kar sakata hai isalie jo aise tatv hain jinaka kaam keval araajakata phailaana aur hinsak videshiyon ko badhaava dena hai aise logon ko to aap ko chinhit karana padega aur jab aandolan bada ho jaega to yah jimmedaaree pulis aur jo khuphiya tantr hai usake lie bahut badee rahane vaalee hai ki isamen koee araajak tatv shaamil na ho haalaanki sarakaar kee or se kisaanon ko baatacheet ko lekar jo prastaav diya ja raha hai vah bhee isaka ek pramukh mudda hai main is beech bahas mein nahin padana chaahata ki is samay kisaan sahee hai ya sarakaar sahee hai ek nishpaksh raay ke taur par main aapako bata dena chaahata hoon ki jitanee jaldee ho sake sarakaar aur kisaan donon ko isaka samaadhaan nikaalana chaahie kisaanon ko bhee apanee taraph se naramee baratanee chaahie aur sarakaar ko bhee ek paaradarshee aur thoda lacheela ravaiya kisaanon ke prati apanaana chaahie koee bhee aisee cheej jo kisaanon ko vah kaahe nahin karanee chaahie dhanyavaad bahut-bahut dhanyavaad

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
किसानों की कृषि कानूनों को सरकार से वापस लेने की जिद को आप कैसे समझते हैं?Kisaanon Kee Krshi Kaanoonon Ko Sarakaar Se Vaapas Lene Kee Jid Ko Aap Kaise Samajhate Hain
Rishabh Sengar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rishabh जी का जवाब
Student
2:23
यश्मिता ने प्रश्न पूछा है कि किसानों की कृषि का कानूनों को सरकार से वापस लेने की विधि को आप कैसे समझते हैं सफल सॉरी फॉर लेट रिप्लाई भेजना कि किसानों को कृषि कानूनों को सरकार से वापस लेने की जिसको आप कैसे समझते थे कि किसानों के लिए हो सकता है उनके मन में भ्रम और चिंताएं हैं सरकार के प्रति उनका अविश्वास जो वह विश्वास ना करना चाहती हूं कि गवर्मेंट उनको एश्योंरेंस दे रही है आश्वासन दे रही है कि एमएसपी खत्म नहीं होगा या मंडी का प्राइवेटाइजेशन नहीं होगा या उसमें कोई भी जो कंट्रक्शन फार्मिंग रिलेटेड लोग हैं उससे किसानों का शोषण नहीं होगा इसमें बहुत सारी बातें हैं कमेंट अपनी तरीक तरफ से काफी चीजें क्लियर करने की कोशिश कर रही है बर्थडे कम्युनिकेशन और ट्रस्ट क्या आप दोनों के बीच में जो है वह कहीं ना कहीं परिलक्षित होता है और जो कुछ पिछले कुछ तीनों में हुआ वह सब उसका ही नतीजा था कि कि किसानों में कहीं ना कहीं आप विश्वास है इसीलिए मैं उनकी से जीत नहीं समझूंगा जीवन का अधिकार है कि वे विरोध कर सकें हां लेकिन वॉलपेपर और चुके हैं कि वे इन कानून काले कानूनों को वापस ही करवाएंगे तो मुझे लगता है इसमें गवर्मेंट और मर्ज के बीच में एक कंप्रिहेंसिव वाले डायलॉग होना बहुत जरूरी है लेकिन डायलॉग कुछ कनक्लूसिव निकले उसमें वह बहुत जरूरी है और मैसेजेस नहीं समझूंगा मैं इसे समझूंगा कि जब भी किसी की जीविका के ऊपर उसे खतरा मंडराता दिखता है तो स्वाभाविक है कि वह लोग आंदोलन करेंगे मैं किसानों को गलत नहीं ठहरा रहा हूं हां पर हो सकता है कि उनके अंदर कुछ भी मत हो या भ्रम वहीं कहां का लेखा कानूनों को लेकर जो कि किसान इसे काले कानून करेंगे और सरकार इसे ऐतिहासिक बता रही है देखना है कि जिसके की होती है लेकिन अंत में सदैव जीत सत्य की ही होती है सत्य विचलित जरूर हो सकता है किंतु पराजित नहीं आप देखते हैं सत्य किसके पक्ष में है सत्ता पक्ष में सत्य के साथ है यदि सांसद के साथ है इसका फैसला हम आप नहीं कर सकते इसलिए स्कूल जिद कहना मैं समझूंगा थोड़ी जल्दबाजी होगा बहुत-बहुत धन्यवाद
Yashmita ne prashn poochha hai ki kisaanon kee krshi ka kaanoonon ko sarakaar se vaapas lene kee vidhi ko aap kaise samajhate hain saphal soree phor let riplaee bhejana ki kisaanon ko krshi kaanoonon ko sarakaar se vaapas lene kee jisako aap kaise samajhate the ki kisaanon ke lie ho sakata hai unake man mein bhram aur chintaen hain sarakaar ke prati unaka avishvaas jo vah vishvaas na karana chaahatee hoon ki gavarment unako eshyonrens de rahee hai aashvaasan de rahee hai ki emesapee khatm nahin hoga ya mandee ka praivetaijeshan nahin hoga ya usamen koee bhee jo kantrakshan phaarming rileted log hain usase kisaanon ka shoshan nahin hoga isamen bahut saaree baaten hain kament apanee tareek taraph se kaaphee cheejen kliyar karane kee koshish kar rahee hai barthade kamyunikeshan aur trast kya aap donon ke beech mein jo hai vah kaheen na kaheen parilakshit hota hai aur jo kuchh pichhale kuchh teenon mein hua vah sab usaka hee nateeja tha ki ki kisaanon mein kaheen na kaheen aap vishvaas hai iseelie main unakee se jeet nahin samajhoonga jeevan ka adhikaar hai ki ve virodh kar saken haan lekin volapepar aur chuke hain ki ve in kaanoon kaale kaanoonon ko vaapas hee karavaenge to mujhe lagata hai isamen gavarment aur marj ke beech mein ek kamprihensiv vaale daayalog hona bahut jarooree hai lekin daayalog kuchh kanakloosiv nikale usamen vah bahut jarooree hai aur maisejes nahin samajhoonga main ise samajhoonga ki jab bhee kisee kee jeevika ke oopar use khatara mandaraata dikhata hai to svaabhaavik hai ki vah log aandolan karenge main kisaanon ko galat nahin thahara raha hoon haan par ho sakata hai ki unake andar kuchh bhee mat ho ya bhram vaheen kahaan ka lekha kaanoonon ko lekar jo ki kisaan ise kaale kaanoon karenge aur sarakaar ise aitihaasik bata rahee hai dekhana hai ki jisake kee hotee hai lekin ant mein sadaiv jeet saty kee hee hotee hai saty vichalit jaroor ho sakata hai kintu paraajit nahin aap dekhate hain saty kisake paksh mein hai satta paksh mein saty ke saath hai yadi saansad ke saath hai isaka phaisala ham aap nahin kar sakate isalie skool jid kahana main samajhoonga thodee jaldabaajee hoga bahut-bahut dhanyavaad

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
खुशियां बांटने से मिलती हैं पैसों se🙏🙏🙏🙏🙏?Khushiyan Bantane Se Milti Hain Paison Se
Rishabh Sengar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rishabh जी का जवाब
Student
2:01
प्रश्न काफी रोचक पूछा गया है कि खुशियां बांटने से मिलती है यह पैसों से आप अंग्रेजी में कहा जाता है मनी के नोट्स बाय हैप्पीनेस यानी पैसा खुशियों को नहीं खरीद सकता और ऐसा भी कहा जाता है कि पैसा भगवान को नहीं किंतु भगवान से कम भी नहीं तो यह दोनों ही बातें हैं लेकिन खुशियां बांटने से नहीं मैं खुशियां बांटने से मिलती है पैसों से नहीं और एग्जांपल आप पैसों से कार ले सकते हैं आप पैसों से कोई बंगला खरीद सकते हैं और पैसों से आप तमाम अपने आप की जो नीड दे आर जस्ट दूसरे मनीष जस्ट टो सेटिस्फाई और कुंडली में आप स्वयं की जरूरतों को पूरा करते हैं धन से और मन से आप तो रिसोर्सेज ले सकते हैं वह रिसोर्सेज का काम है केवल आप की आवश्यकताओं को पूरा करना और लेकिन आप क्या करते हैं आप उन्हीं में खुशियां ढूंढने लगते हमें अपनी कार खरीदी और आप उससे चाहते हैं कि अब आपको खुशी मिले अरे भाई उस कार का काम है आपको छोड़ कर आना ठीक है वह स्टेटस सिंबल हो जाएगा बट आप क्या सोचते हैं कि आप मुझे इससे खुशी मिले आपको खुशी नहीं देगी बिकॉज वह करे शोर है हैप्पीनेस आपको पहचान नहीं दे सकता हां पैसा आपके लिए हैप्पीनेस पाने का माहौल बना सकता है लेकिन इसकी गारंटी नहीं है कि वह आपको हैप्पीनेस एक्शन में लिखी जाए हां लेकिन पैसा कुछ हद तक आपको खुश रहने के लिए सारी जो फिजिकल रिक्वायरमेंट है या कैपिटल रिक्वायरमेंट उसको फुल फील कर देता है
Prashn kaaphee rochak poochha gaya hai ki khushiyaan baantane se milatee hai yah paison se aap angrejee mein kaha jaata hai manee ke nots baay haippeenes yaanee paisa khushiyon ko nahin khareed sakata aur aisa bhee kaha jaata hai ki paisa bhagavaan ko nahin kintu bhagavaan se kam bhee nahin to yah donon hee baaten hain lekin khushiyaan baantane se nahin main khushiyaan baantane se milatee hai paison se nahin aur egjaampal aap paison se kaar le sakate hain aap paison se koee bangala khareed sakate hain aur paison se aap tamaam apane aap kee jo need de aar jast doosare maneesh jast to setisphaee aur kundalee mein aap svayan kee jarooraton ko poora karate hain dhan se aur man se aap to risorsej le sakate hain vah risorsej ka kaam hai keval aap kee aavashyakataon ko poora karana aur lekin aap kya karate hain aap unheen mein khushiyaan dhoondhane lagate hamen apanee kaar khareedee aur aap usase chaahate hain ki ab aapako khushee mile are bhaee us kaar ka kaam hai aapako chhod kar aana theek hai vah stetas simbal ho jaega bat aap kya sochate hain ki aap mujhe isase khushee mile aapako khushee nahin degee bikoj vah kare shor hai haippeenes aapako pahachaan nahin de sakata haan paisa aapake lie haippeenes paane ka maahaul bana sakata hai lekin isakee gaarantee nahin hai ki vah aapako haippeenes ekshan mein likhee jae haan lekin paisa kuchh had tak aapako khush rahane ke lie saaree jo phijikal rikvaayarament hai ya kaipital rikvaayarament usako phul pheel kar deta hai

#भारत की राजनीति

Rishabh Sengar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rishabh जी का जवाब
Student
2:18
प्रश्न पूछा गया है कि आज देश का किसान 174 मोर्चों पर लड़ रहा है गोदी मीडिया से सरकार से पूंजीपतियों से के प्रश्न है यानी चार मुद्दों पर इकट्ठे लड़ रहा है देश का किसान मैं समझता हूं इस बार यह सत्य है किंतु बार दे सकते हैं लेकिन गोदी मीडिया जैसी चीज एग्जिट नहीं करती है मीडिया कभी भी किसी राजनैतिक दल की पक्षधर नहीं होती उनकी प्रवक्ता नहीं होती लेकिन आज के दौर में हम देखते हैं कि 1 तरीके की खबरें दिखाई जाती है मैं समझता हूं जो भी सत्ता में होता है उसमें चाहे भारतीय जनता पार्टी हो या कोई अन्य पार्टी हो वह मीडिया को उस तरीके से कंट्रोल करता है और सरकार से सरकार अपने आप को डिफेंड कर रही है भाई सरकार काम है कि प्रणब को डिफाइंड करना पूंजी पतियों से कैपिटल लिस्ट से नहीं यह जो पूंजीपति वाला कांसेप्ट है यह फैलाया गया है लेटेस्ट प्रोपेगेंडा का हिस्सा है क्योंकि अडानी अंबानी इन सब का नाम लेकर यह जो वामपंथ के प्रगतिवादी पुरोधा है उनके द्वारा फैलाया गया प्रपंच है और बाकी आप जानते ही हैं कि किसान अपने अधिकार के लिए लड़ रहा है हो सकता है वह गलत हो या सरकार गलत हो इस पर में टिप्पणी नहीं करना चाहूंगा पिंटू हां यह सत्य है कि किसान संघर्ष कर रहा है उसके सामने कई कठिनाइयां है और गोदी मीडिया मुझे नहीं पता किसके लिए उपयोग किया जा रहा है इस देश में दोनों तरीके की मीडिया है गोदी मीडिया है तो दूसरी तरफ वामपंथ की वामपंथ के प्रगतिवादी पूर्व धार टेस्ट आई दिवाली जी के भी चैनल है तो गलत नहीं होना चाहिए एक उनको पूछती है सरकार को दूसरी सरकार की प्रशंसा करती है तो मीडिया तो सदैव से ही में संस्था इन दिनों तो बिकी हुई नजर आती है मुझे
Prashn poochha gaya hai ki aaj desh ka kisaan 174 morchon par lad raha hai godee meediya se sarakaar se poonjeepatiyon se ke prashn hai yaanee chaar muddon par ikatthe lad raha hai desh ka kisaan main samajhata hoon is baar yah saty hai kintu baar de sakate hain lekin godee meediya jaisee cheej egjit nahin karatee hai meediya kabhee bhee kisee raajanaitik dal kee pakshadhar nahin hotee unakee pravakta nahin hotee lekin aaj ke daur mein ham dekhate hain ki 1 tareeke kee khabaren dikhaee jaatee hai main samajhata hoon jo bhee satta mein hota hai usamen chaahe bhaarateey janata paartee ho ya koee any paartee ho vah meediya ko us tareeke se kantrol karata hai aur sarakaar se sarakaar apane aap ko diphend kar rahee hai bhaee sarakaar kaam hai ki pranab ko diphaind karana poonjee patiyon se kaipital list se nahin yah jo poonjeepati vaala kaansept hai yah phailaaya gaya hai letest propegenda ka hissa hai kyonki adaanee ambaanee in sab ka naam lekar yah jo vaamapanth ke pragativaadee purodha hai unake dvaara phailaaya gaya prapanch hai aur baakee aap jaanate hee hain ki kisaan apane adhikaar ke lie lad raha hai ho sakata hai vah galat ho ya sarakaar galat ho is par mein tippanee nahin karana chaahoonga pintoo haan yah saty hai ki kisaan sangharsh kar raha hai usake saamane kaee kathinaiyaan hai aur godee meediya mujhe nahin pata kisake lie upayog kiya ja raha hai is desh mein donon tareeke kee meediya hai godee meediya hai to doosaree taraph vaamapanth kee vaamapanth ke pragativaadee poorv dhaar test aaee divaalee jee ke bhee chainal hai to galat nahin hona chaahie ek unako poochhatee hai sarakaar ko doosaree sarakaar kee prashansa karatee hai to meediya to sadaiv se hee mein sanstha in dinon to bikee huee najar aatee hai mujhe

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
क्या आप मेरे साथ कुछ देश भक्ति गीत साझा कर सकते हैं?Kya Aap Mere Sath Kuch Desh Bhakti Geet Saajha Kar Sakte Hain
Rishabh Sengar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rishabh जी का जवाब
Student
1:10
प्रश्न पूछा गया है कि क्या आप मेरे साथ कुछ देशभक्ति गीत साझा कर सकते हैं बिल्कुल में एक लंबी फेहरिस्त है इसकी हर करम अपना करेंगे ए वतन तेरे लिए बहुत ही प्रसिद्ध गाना है जय हो उठा लीजिए कर चले हम फिदा कर चले हम फिदा जाने तन साथियों अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों मोहम्मद रफी साहब की आवाज में कर्मा का गाना आप सभी ने सुना है लता मंगेशकर जी की आवाज में और सुरेश वाडकर जी ने भी श्रावस्ती है और देश भक्ति के मार्ग भी काफी प्रचलित है जिसमें लता मंगेशकर जी का बहुचर्चित गीत ए मेरे वतन के लोगों में काफी लोकप्रिय है और देशभक्ति के गीत गई है लंबी फेहरिस्त है आप अपनी स्वेच्छा से कोई भी गीत गुनगुना सकते हैं बहुत-बहुत धन्यवाद
Prashn poochha gaya hai ki kya aap mere saath kuchh deshabhakti geet saajha kar sakate hain bilkul mein ek lambee pheharist hai isakee har karam apana karenge e vatan tere lie bahut hee prasiddh gaana hai jay ho utha leejie kar chale ham phida kar chale ham phida jaane tan saathiyon ab tumhaare havaale vatan saathiyon mohammad raphee saahab kee aavaaj mein karma ka gaana aap sabhee ne suna hai lata mangeshakar jee kee aavaaj mein aur suresh vaadakar jee ne bhee shraavastee hai aur desh bhakti ke maarg bhee kaaphee prachalit hai jisamen lata mangeshakar jee ka bahucharchit geet e mere vatan ke logon mein kaaphee lokapriy hai aur deshabhakti ke geet gaee hai lambee pheharist hai aap apanee svechchha se koee bhee geet gunaguna sakate hain bahut-bahut dhanyavaad

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
वोट देना जरूरी है या मजबूरी?Vote Dena Jaruri Hai Ya Majburi
Rishabh Sengar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rishabh जी का जवाब
Student
1:35
आप प्रश्न पूछा गया है वोट देना जरूरी है या मजबूरी है यह निश्चित रूप से आपके ऊपर निर्भर करता है यदि आप अपने वोट को अपनी जिम्मेदारी के तौर पर लेते हैं और यह जानते हैं कि मेरा वोट देना जरूरी है जिससे मैं अपने प्रतिनिधि को निर्वाचित करता हूं अपने वोट के जरिए या फिर अगर आप निराशावादी व्यक्ति हैं जो यह सोचता है कि मेरे वोट देने से क्या फर्क पड़ता है केवल रस्म अदायगी के लिए आप वोट देना चाहते हैं तो यह आपकी मजबूरी बन जाता है कि आपके साइकोलॉजिकल फैक्टर्स जो आपको अफेक्ट करते हैं आपकी सोच निर्धारित करते हैं मेरे हिसाब से मैं सोचता हूं कि वोट देना अधिकार ही नहीं बल्कि मूल कर्तव्य है हमारा क्योंकि हम अपने प्रतिनिधि का चुनाव करते हैं और इसमें मेरी भूमिका होना बहुत जरूरी हो होता है और अगर आप इसे रस्म अदायगी समझते हैं अपने वह ही आप वैल्यू नहीं करना चाहते या फिर आपको लगता है जैसे जोक सुनाओ यूज़ तो यह आपकी मजबूरी बन जाता है या फिर से अच्छा है क्या आप इसको जरूरी समझे या मजबूरी समझें किंतु मेरा मानना है कि यह जरूरी तो नहीं बात है तो नहीं लेकिन आपके अंदर के भाग जरूर होना चाहिए कि मेरा कर्तव्य है उसका आपको निर्वाह करना चाहिए बहुत-बहुत आभार
Aap prashn poochha gaya hai vot dena jarooree hai ya majabooree hai yah nishchit roop se aapake oopar nirbhar karata hai yadi aap apane vot ko apanee jimmedaaree ke taur par lete hain aur yah jaanate hain ki mera vot dena jarooree hai jisase main apane pratinidhi ko nirvaachit karata hoon apane vot ke jarie ya phir agar aap niraashaavaadee vyakti hain jo yah sochata hai ki mere vot dene se kya phark padata hai keval rasm adaayagee ke lie aap vot dena chaahate hain to yah aapakee majabooree ban jaata hai ki aapake saikolojikal phaiktars jo aapako aphekt karate hain aapakee soch nirdhaarit karate hain mere hisaab se main sochata hoon ki vot dena adhikaar hee nahin balki mool kartavy hai hamaara kyonki ham apane pratinidhi ka chunaav karate hain aur isamen meree bhoomika hona bahut jarooree ho hota hai aur agar aap ise rasm adaayagee samajhate hain apane vah hee aap vailyoo nahin karana chaahate ya phir aapako lagata hai jaise jok sunao yooz to yah aapakee majabooree ban jaata hai ya phir se achchha hai kya aap isako jarooree samajhe ya majabooree samajhen kintu mera maanana hai ki yah jarooree to nahin baat hai to nahin lekin aapake andar ke bhaag jaroor hona chaahie ki mera kartavy hai usaka aapako nirvaah karana chaahie bahut-bahut aabhaar

#भारत की राजनीति

Rishabh Sengar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rishabh जी का जवाब
Student
2:27
प्रश्न पूछा गया है कि क्या एक प्रचारक को प्रधानमंत्री बना देने का खामियाजा देश भुगत रहा है क्या मोदी जी प्रचार प्रसार करने में अपना समय बर्बाद कर देते हैं प्रचारक से यदि मैं ठीक समझ पा रहा हूं तो आप का आशय है कि मोदी जी भूतपूर्व संघ के प्रचारक रहे हैं अपने प्रारंभिक दिनों में तो आप ही कह रहे हैं कि इसीलिए वह प्रचारक जैसे हर समय प्रचार प्रसार करते रहते हैं अपनी नीतियों का हो या अपनी जो भी उनकी पॉलिसीज है इसकी है उनका प्रचार प्रसार करते हैं वह समय को बर्बाद कर देते हैं देखिए एक कुशल प्रचारक ही अपनी नीतियों को बेहतर ढंग से जनता को समझा सकता है और यह एक कौशल के अलावा एक राजनीतिक राजनीतिक रूप से अगर देखा जाए तो 1 गुण भी है क्योंकि केवल वाकपटुता ही जरूरी नहीं है राजनीति में बने रहने के लिए यह भी जरूरी है कि आप अपनी नीतियों का प्रचार प्रसार करें और जहां तक आप पर पूछ रहे हैं कि अपना समय बर्बाद कर देते हैं लेकिन समय बर्बाद करना नहीं होता आम जनमानस तक उस एडवर्टाइजमेंट के जरिए शरीर कैसे बात पहुंचे कि उसको रिलेट कर सके कि यह स्कीम अगर आई है तो इसलिए मुझे कैसे अफेक्ट करेगी या मुझे कैसे इसका फायदा मिलेगा या मेरी एक्सएसएस तक एक्सेस कैसे हो इस स्कीम तक उसके उसको लेकर के दिन प्रधानमंत्री कार्यक्रम करते हैं यह कार्यक्रमों में उसके बारे में प्रचार प्रसार करते हैं और मैं समझता हूं कोई बुरी बात नहीं है हो सकता है कुछ राजनीतिक लोग इसकी आलोचना करें क्योंकि इस पर काफी पैसा खर्च किया जा रहा है वह एक बुरी बात है इस एडवर्टाइजमेंट को लेकर ना जाने कितने करोड़ों की संपत्ति खर्च की जा रही है सिर्फ प्रचार प्रसार के लिए प्रचार प्रसार बुरी बात नहीं है किंतु प्रचार प्रसार के लिए इतनी अधिक धनराशि का व्यय करना मैं समझता हूं थोड़ी नाइंसाफी है बहुत-बहुत धन्यवाद
Prashn poochha gaya hai ki kya ek prachaarak ko pradhaanamantree bana dene ka khaamiyaaja desh bhugat raha hai kya modee jee prachaar prasaar karane mein apana samay barbaad kar dete hain prachaarak se yadi main theek samajh pa raha hoon to aap ka aashay hai ki modee jee bhootapoorv sangh ke prachaarak rahe hain apane praarambhik dinon mein to aap hee kah rahe hain ki iseelie vah prachaarak jaise har samay prachaar prasaar karate rahate hain apanee neetiyon ka ho ya apanee jo bhee unakee poliseej hai isakee hai unaka prachaar prasaar karate hain vah samay ko barbaad kar dete hain dekhie ek kushal prachaarak hee apanee neetiyon ko behatar dhang se janata ko samajha sakata hai aur yah ek kaushal ke alaava ek raajaneetik raajaneetik roop se agar dekha jae to 1 gun bhee hai kyonki keval vaakapatuta hee jarooree nahin hai raajaneeti mein bane rahane ke lie yah bhee jarooree hai ki aap apanee neetiyon ka prachaar prasaar karen aur jahaan tak aap par poochh rahe hain ki apana samay barbaad kar dete hain lekin samay barbaad karana nahin hota aam janamaanas tak us edavartaijament ke jarie shareer kaise baat pahunche ki usako rilet kar sake ki yah skeem agar aaee hai to isalie mujhe kaise aphekt karegee ya mujhe kaise isaka phaayada milega ya meree ekseses tak ekses kaise ho is skeem tak usake usako lekar ke din pradhaanamantree kaaryakram karate hain yah kaaryakramon mein usake baare mein prachaar prasaar karate hain aur main samajhata hoon koee buree baat nahin hai ho sakata hai kuchh raajaneetik log isakee aalochana karen kyonki is par kaaphee paisa kharch kiya ja raha hai vah ek buree baat hai is edavartaijament ko lekar na jaane kitane karodon kee sampatti kharch kee ja rahee hai sirph prachaar prasaar ke lie prachaar prasaar buree baat nahin hai kintu prachaar prasaar ke lie itanee adhik dhanaraashi ka vyay karana main samajhata hoon thodee nainsaaphee hai bahut-bahut dhanyavaad

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
किन लोगों को कोरोना वैक्सीन नहीं लगवानी चाहिए?Kin Logon Ko Corona Vaccine Nahin Lagvani Chaiye
Rishabh Sengar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rishabh जी का जवाब
Student
2:50
आप बस में पूछा गया है कि किन लोगों को कोरोना वैक्सीन नहीं लगानी चाहिए देखिए सरकार ने टीकाकरण प्रारंभ कर दिया है और टीकाकरण प्रारंभ में हेल्थ वर्कर सर फ्रंटलाइन वर्कर को यानी स्वास्थ्य कर्मियों और सफाई कर्मियों को लगाया जाएगा आपका प्रश्न है कि किन लोगों को कोरोना वैक्सीन नहीं लगानी चाहिए फिलहाल में दो व्यक्तियों को मंजूरी दी गई है टीके के लिए और जो भारतीय वैक्सीने को वैक्सीन उसको आपातकाल मंजूरी दी गई है जिसका निर्माण आप कैसे जानते हैं भारत बायोटेक और इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च आईसीएमआर ने मिलकर मैन्युफैक्चर किया है उसको स्वदेशी है पूर्ण रूप से लेकिन कंपनी ने इसको लेकर अपनी चेतावनी भी जारी की है कि जिन लोगों की इम्युनिटी काम है या फिर जो लोग को बुखार है या जो लोग खून पतला करने की दवाई लेते हैं उनके ऊपर इसके एडवर्ड इसका एडवर्स रिएक्शन हो सकता है एलर्जी हो सकती हो उनको किसी भी प्रकार की तो उनको इस से परहेज करना चाहिए और हो सकता है कि उनका ब्लड प्रेशर 20 इनक्रीस हो जाए लेकिन ऐसा भी का कोई मामला सामने नहीं आया है किंतु संभावनाओं से इनकार नहीं किया जा सकता और यह जो प्रिकॉशनरी मेजर इंस्ट्रक्शन जारी किए हैं वह को वैक्सीन ने किए हैं जिसको भारत बायोटेक और इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च ने मिलकर बना है और जो दूसरी वैक्सीन है को भी सीरियस का उत्पादन भारत में कब सिरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया कर रहा है ऑक्सफोर्ड के साथ उसका करार है उस वैक्सीन को लेकर अभी कोई प्रिकॉशनरी मेजरस कंपनी की तरफ से दायर नहीं की गई तो अंत में आपके सवाल का केवल यही जवाब है कि जिन लोगों को जो लोग ऐसी मेडिसिंस ले रहे हैं हार्ट के पेशेंट का खून पतला होने की या जिन को फीवर है या जिनकी मिलिट्री कमजोर है यह जो किसी प्रकार की एलर्जी सिगरेट हैं उनको अपने चिकित्सक के परामर्श से यानी अपने डॉक्टर की सलाह से ही वैक्सीन लगवानी चाहिए और अभी तो सरकार ने कोई ऐसी बाध्यता नहीं दिखाई है कि वैक्सीन लगाना सभी के लिए बाध्य है जो व्यक्ति अपनी स्वेच्छा से वैक्सीन लगवाना चाहता है टीकाकरण कराना चाहता है वह करवा सकता है यह दो चरणों में होगा 1 वैक्सीन कुछ दिनों बाद इसकी डोस दी जाएगी बता दो प्राण 14 दिन के बाद दूसरी दोस्त के 14 दिन के बाद आपके अंदर एंटीबॉडी जब अलग हो जाएंगे यानी रोगों से रोग से लड़ने की जो एंटीबॉडीज है वह आपका शरीर विकसित कर लेगा तब तक आपको जो कोविड-19 प्रिय प्रोटोकॉल है उसको फॉलो करना होगा मार्क लगा कर रहना होगा और सैनिटाइज का नियमित रूप से इस्तेमाल करना होगा बहुत-बहुत धन्यवाद
Aap bas mein poochha gaya hai ki kin logon ko korona vaikseen nahin lagaanee chaahie dekhie sarakaar ne teekaakaran praarambh kar diya hai aur teekaakaran praarambh mein helth varkar sar phrantalain varkar ko yaanee svaasthy karmiyon aur saphaee karmiyon ko lagaaya jaega aapaka prashn hai ki kin logon ko korona vaikseen nahin lagaanee chaahie philahaal mein do vyaktiyon ko manjooree dee gaee hai teeke ke lie aur jo bhaarateey vaikseene ko vaikseen usako aapaatakaal manjooree dee gaee hai jisaka nirmaan aap kaise jaanate hain bhaarat baayotek aur indiyan kaunsil oph medikal risarch aaeeseeemaar ne milakar mainyuphaikchar kiya hai usako svadeshee hai poorn roop se lekin kampanee ne isako lekar apanee chetaavanee bhee jaaree kee hai ki jin logon kee imyunitee kaam hai ya phir jo log ko bukhaar hai ya jo log khoon patala karane kee davaee lete hain unake oopar isake edavard isaka edavars riekshan ho sakata hai elarjee ho sakatee ho unako kisee bhee prakaar kee to unako is se parahej karana chaahie aur ho sakata hai ki unaka blad preshar 20 inakrees ho jae lekin aisa bhee ka koee maamala saamane nahin aaya hai kintu sambhaavanaon se inakaar nahin kiya ja sakata aur yah jo prikoshanaree mejar instrakshan jaaree kie hain vah ko vaikseen ne kie hain jisako bhaarat baayotek aur indiyan kaunsil oph medikal risarch ne milakar bana hai aur jo doosaree vaikseen hai ko bhee seeriyas ka utpaadan bhaarat mein kab siram insteetyoot oph indiya kar raha hai oksaphord ke saath usaka karaar hai us vaikseen ko lekar abhee koee prikoshanaree mejaras kampanee kee taraph se daayar nahin kee gaee to ant mein aapake savaal ka keval yahee javaab hai ki jin logon ko jo log aisee medisins le rahe hain haart ke peshent ka khoon patala hone kee ya jin ko pheevar hai ya jinakee militree kamajor hai yah jo kisee prakaar kee elarjee sigaret hain unako apane chikitsak ke paraamarsh se yaanee apane doktar kee salaah se hee vaikseen lagavaanee chaahie aur abhee to sarakaar ne koee aisee baadhyata nahin dikhaee hai ki vaikseen lagaana sabhee ke lie baadhy hai jo vyakti apanee svechchha se vaikseen lagavaana chaahata hai teekaakaran karaana chaahata hai vah karava sakata hai yah do charanon mein hoga 1 vaikseen kuchh dinon baad isakee dos dee jaegee bata do praan 14 din ke baad doosaree dost ke 14 din ke baad aapake andar enteebodee jab alag ho jaenge yaanee rogon se rog se ladane kee jo enteebodeej hai vah aapaka shareer vikasit kar lega tab tak aapako jo kovid-19 priy protokol hai usako pholo karana hoga maark laga kar rahana hoga aur sainitaij ka niyamit roop se istemaal karana hoga bahut-bahut dhanyavaad

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
मोदी सरकार ने मुस्लिमों के लिये क्या काम किये हैं?Modi Sarkar Ne Muslimon Ke Liye Kya Kaam Kiye Hain
Rishabh Sengar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rishabh जी का जवाब
Student
2:50
प्रश्न पूछा गया है कि मोदी सरकार ने मुस्लिमों के लिए क्या काम किए हैं मैं समझता हूं स्वतंत्र भारत में यानि आजादी के इतने वर्षों के बाद भी यदि यह प्रश्न पूछा जाए कैटिगराइज करके कि मुस्लिमों के लिए सरकार क्या काम करती है तो यह आप के भीतर छुपी हुई कुंठित मानसिकता का परिचायक है क्योंकि यह वही सोच है जो आजादी से पूर्व सेपरेट इलेक्टरेट यानी जातियों और धर्म के नाम पर बांट कर जो ब्रिटिश ने किया था उसी सोच का अंकुर है जो आज इस रूप में प्रस्फुटित हो रहा है कि आप ही पूछ रहे हैं मुस्लिमों के लिए क्या काम किए हैं देखिए यह देश है यहां सरकार का काम है अपने नागरिकों के लिए करते नागरिकों के लिए कानून बनाना नागरिक का भी नागरिकों में भेद नहीं डाला जा सकता कि यह काम हिंदू के लिए है या यह मुस्लिम के लिए है यहां पर आप इंडिविजुअल के राइट के बाद कीजिए एसएस सिटीजन के राइट की बात कीजिए लेकिन अगर आप बात करेंगे कैटिगराइज करके हो सकता है आपका कम्युनिटी कॉन्शसनेस डेवलप करना चाहते हो आप हो सकता है आपकी चिंताएं हो मुस्लिमों के प्रति लेकिन यह कोई पूछे आप नहीं पूछ सकते कि मुस्लिमों के लिए पार्टिकुलरली क्या काम किए गए हैं जो भारत के विकास के लिए किया गया है यानी अगर चूल्हा दिया गया है गैस चूल्हा किसी को तो किसी का धर्म जाति पंथ मजहब देखकर नहीं दिया गया जो भी योजनाओं का क्रियान्वयन हुआ है वह सब रिस्पेक्टिव ऑफ द कास्ट कलर क्रीम और रिलिजन उसके बेसिस पर दिया गया है ऐसा सवाल पूछना मैं समझता निरर्थक है और मैं यह भी कहूंगा कि इसमें मुस्लिमों के लिए ही नहीं हम यह भी नहीं कह सकते कि मोदी सरकार ने हिंदुओं के लिए क्या किया है क्या सिक्कों के लिए क्या किया है या ईसाइयों के लिए क्या-क्या या भारतीयों के लिए जैन बौद्ध या और भी जो माइनॉरिटी इस हैं उनके लिए क्या किया है यह सवाल आप नहीं पूछ सकते आप पूछे देश के लिए क्या किया है इसलिए मैं इस सवाल आपके सवाल का ही खंडन करता हूं और आप इस सोच को निकाल दे तो बेहतर होगा और ज्यादा काम की बात है तो गैस चूल्हा देना हो या फिर डिजिटल भारत का सपना और कौशल विकास कौशल विकास कौशल विकास योजना हो
Prashn poochha gaya hai ki modee sarakaar ne muslimon ke lie kya kaam kie hain main samajhata hoon svatantr bhaarat mein yaani aajaadee ke itane varshon ke baad bhee yadi yah prashn poochha jae kaitigaraij karake ki muslimon ke lie sarakaar kya kaam karatee hai to yah aap ke bheetar chhupee huee kunthit maanasikata ka parichaayak hai kyonki yah vahee soch hai jo aajaadee se poorv separet ilektaret yaanee jaatiyon aur dharm ke naam par baant kar jo british ne kiya tha usee soch ka ankur hai jo aaj is roop mein prasphutit ho raha hai ki aap hee poochh rahe hain muslimon ke lie kya kaam kie hain dekhie yah desh hai yahaan sarakaar ka kaam hai apane naagarikon ke lie karate naagarikon ke lie kaanoon banaana naagarik ka bhee naagarikon mein bhed nahin daala ja sakata ki yah kaam hindoo ke lie hai ya yah muslim ke lie hai yahaan par aap indivijual ke rait ke baad keejie eses siteejan ke rait kee baat keejie lekin agar aap baat karenge kaitigaraij karake ho sakata hai aapaka kamyunitee konshasanes devalap karana chaahate ho aap ho sakata hai aapakee chintaen ho muslimon ke prati lekin yah koee poochhe aap nahin poochh sakate ki muslimon ke lie paartikularalee kya kaam kie gae hain jo bhaarat ke vikaas ke lie kiya gaya hai yaanee agar choolha diya gaya hai gais choolha kisee ko to kisee ka dharm jaati panth majahab dekhakar nahin diya gaya jo bhee yojanaon ka kriyaanvayan hua hai vah sab rispektiv oph da kaast kalar kreem aur rilijan usake besis par diya gaya hai aisa savaal poochhana main samajhata nirarthak hai aur main yah bhee kahoonga ki isamen muslimon ke lie hee nahin ham yah bhee nahin kah sakate ki modee sarakaar ne hinduon ke lie kya kiya hai kya sikkon ke lie kya kiya hai ya eesaiyon ke lie kya-kya ya bhaarateeyon ke lie jain bauddh ya aur bhee jo mainoritee is hain unake lie kya kiya hai yah savaal aap nahin poochh sakate aap poochhe desh ke lie kya kiya hai isalie main is savaal aapake savaal ka hee khandan karata hoon aur aap is soch ko nikaal de to behatar hoga aur jyaada kaam kee baat hai to gais choolha dena ho ya phir dijital bhaarat ka sapana aur kaushal vikaas kaushal vikaas kaushal vikaas yojana ho

#भारत की राजनीति

Rishabh Sengar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rishabh जी का जवाब
Student
1:20
प्रश्न है कि क्या 1 जनवरी से गाड़ियों पर अपनी जाति सूचक शब्द लिखने पर कार्यवाही की जाएगी और जुर्माना लगाया जाएगा जो भी उत्तर प्रदेश सरकार ने इसको कानून की शक्ल की शक्ल अख्तियार कर चुका है वह कानून की जो भी अपने वाहनों पर अपनी जाति सूचक शब्द लिखेगा उसको जुर्माना देना होगा दंड का प्रावधान है ऐसा करना भी चालू किया जा चुका है कई जगहों पर लखनऊ में लोगों को रोका गया जिनकी और जिनके निजी वाहनों पर जातिसूचक शब्द लिखे थे ऐसे में लेकिन देखने वाली बात यह है कि जो संपत्ति जो वाहन अपने अपने निजी संपत्ति को खर्च करके खरीदा है उस पर हम अपनी ही जाति नहीं लिख सकते क्योंकि संविधान हमें इसकी इजाजत नहीं देता जाति सूचक शब्द जिससे कि समाज में असमानता का भाव पैदा हुआ किंतु क्या आदेश के जितने भी संसाधन है उन सब पर कुछ लोग आरक्षण के नाम पर जाति के आधार पर ही हक पाना चाहते हैं क्या वह जायज है मैं समझता हूं सरकार को इस विषय पर भी गंभीरता से सोचने की आवश्यकता है बहुत धन्यवाद
Prashn hai ki kya 1 janavaree se gaadiyon par apanee jaati soochak shabd likhane par kaaryavaahee kee jaegee aur jurmaana lagaaya jaega jo bhee uttar pradesh sarakaar ne isako kaanoon kee shakl kee shakl akhtiyaar kar chuka hai vah kaanoon kee jo bhee apane vaahanon par apanee jaati soochak shabd likhega usako jurmaana dena hoga dand ka praavadhaan hai aisa karana bhee chaaloo kiya ja chuka hai kaee jagahon par lakhanoo mein logon ko roka gaya jinakee aur jinake nijee vaahanon par jaatisoochak shabd likhe the aise mein lekin dekhane vaalee baat yah hai ki jo sampatti jo vaahan apane apane nijee sampatti ko kharch karake khareeda hai us par ham apanee hee jaati nahin likh sakate kyonki sanvidhaan hamen isakee ijaajat nahin deta jaati soochak shabd jisase ki samaaj mein asamaanata ka bhaav paida hua kintu kya aadesh ke jitane bhee sansaadhan hai un sab par kuchh log aarakshan ke naam par jaati ke aadhaar par hee hak paana chaahate hain kya vah jaayaj hai main samajhata hoon sarakaar ko is vishay par bhee gambheerata se sochane kee aavashyakata hai bahut dhanyavaad

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
छिपकली के काटने पर क्या करें?Chhipakalee Ke Kaatane Par Kya Karen
Rishabh Sengar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rishabh जी का जवाब
Student
0:50

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
भारतीय कृषि कानून के विरोध में किसने अपना सम्मान पुरस्कार भारत सरकार को लौटा दिया?bhaarateey krshi kaanoon ke virodh mein kisane apana sammaan puraskaar bhaarat sarakaar ko lauta diya
Rishabh Sengar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rishabh जी का जवाब
Student
0:40

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
what is ramachanran plot?
Rishabh Sengar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rishabh जी का जवाब
Student
0:29

#भारत की राजनीति

Rishabh Sengar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rishabh जी का जवाब
Student
0:55

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
सन 1967 में भारत में हरित क्रांति का सूत्रपात हुआ सत्य सत्य कौन सा है?San 1967 Mein Bhaarat Mein Harit Kraanti Ka Sootrapaat Hua Saty Saty Kaun Sa Hai
Rishabh Sengar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rishabh जी का जवाब
Student
1:48

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
इस बार हैदराबाद का GHMC चुनाव कौन जीतेगा?Is Baar Haidaraabaad Ka Ghmch Chunaav Kaun Jeetega
Rishabh Sengar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rishabh जी का जवाब
Student
0:56

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
आप की राजनीतिक विचारधारा क्या है?Aap Kee Raajaneetik Vichaaradhaara Kya Hai
Rishabh Sengar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rishabh जी का जवाब
Student
1:48

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
भारत का राष्ट्रीय ध्वज गीत क्या है?bhaarat ka raashtreey dhvaj geet kya hai
Rishabh Sengar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rishabh जी का जवाब
Student
0:30

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
दिल्ली यूनिवर्सिटी के टीचर्स?dillee yoonivarsitee ke teechars
Rishabh Sengar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rishabh जी का जवाब
Student
1:12

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
भारत का ऐसा कौन सा प्रधानमंत्री था जो बिना शपथ ग्रहण किए प्रधानमंत्री पद पर नियुक्त हो गया था?bhaarat ka aisa kaun sa pradhaanamantree tha jo bina shapath grahan kie pradhaanamantree pad par niyukt ho gaya tha
Rishabh Sengar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rishabh जी का जवाब
Student
0:41

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
भारतीय किसान आंदोलन पर कंगना रनौत ने क्या कहा?bhaarateey kisaan aandolan par kangana ranaut ne kya kaha
Rishabh Sengar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rishabh जी का जवाब
Student
1:08
URL copied to clipboard