#भारत की राजनीति

pawan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए pawan जी का जवाब
Government services (8814983819)
2:02
अभी लोकसभा चुनाव होने में 3 लगभग 3 वर्ष का समय बाकी है और 3 साल में मोदी सरकार क्या करती है वह समय बताएगा कि वह 2024 में भी सत्ता में या अगले लोकसभा में चुनाव में आ पाएगी या नहीं आ पाएगी इसके अलावा कांग्रेसमें मजबूत नेता या मजबूत चेहरे की रिक्वायरमेंट है मतलब कौन बनाया चेहरा होगा कौन मजबूत चेहरा होगा जो आने वाले समय में कांग्रेस को संभाल सके कांग्रेस को जो है युवाओं की खोज क्यों पर भी ध्यान देना पड़ेगा कांग्रेस को अपने कार्यकर्ताओं को बढ़ाने को पर ध्यान देना पड़ेगा कांग्रेस कुछ गए जिस तरह से कांग्रेस ढीली पड़ी है जिस तरह से कांग्रेस से चीजों के ऊपर काम नहीं कर रही है उन चीजों के ऊपर कांग्रेस को बड़ी गहराई से और बड़े संघर्ष के साथ इन चीजों में उतरना पड़ेगा और अपनी खोई हुई जमीन है उसको वापस करने के लिए जनता में भरोसा लाना पड़ेगा क्योंकि यह मात्र कृषि कानूनी या किसानों के खिलाफ से कॉन्ग्रेस आ जाए यह जरूरी नहीं है क्योंकि कांग्रेस के के अंदर वर्तमान में जो है जिस तरह से कांग्रेस सोई पड़ी है या जिस तरह से कांग्रेस की स्थितियां है उन चीजों को कांग्रेस को डेवलप करना पड़ेगा कांग्रेस को संभालना पड़ेगा कांग्रेस को एक सूची तैयार करनी पड़ेगी जब तक कांग्रेस के डीजे प्रोसेसिंग में नहीं चलेगी तब तक लीडरशिप जाना बड़ा मुश्किल है लेकिन हां अगर मोदी सरकार लगातार गलतियां करती हैं और आमजन के लिए परेशानी का सबब बनते हैं तो डेफिनेटली जो है 2024 में भारत में कांग्रेस की सरकार आपको देखने को मिल सकती है और बाकी 2022 में 23 में 24 में और 2021 में जिन राज्यों में चुनाव होने हैं उन राज्यों की प्रोसेसिंग बताएगी कि भविष्य कराएं क्योंकि यूपी का चुनाव है 2022 में अगर बीजेपी 2022 में यूपी का चुनाव हारती है तो 99% चार्ज हो जाएगी क्योंकि जो कि बीजेपी बाहर हो रही है थैंक यू
Abhee lokasabha chunaav hone mein 3 lagabhag 3 varsh ka samay baakee hai aur 3 saal mein modee sarakaar kya karatee hai vah samay bataega ki vah 2024 mein bhee satta mein ya agale lokasabha mein chunaav mein aa paegee ya nahin aa paegee isake alaava kaangresamen majaboot neta ya majaboot chehare kee rikvaayarament hai matalab kaun banaaya chehara hoga kaun majaboot chehara hoga jo aane vaale samay mein kaangres ko sambhaal sake kaangres ko jo hai yuvaon kee khoj kyon par bhee dhyaan dena padega kaangres ko apane kaaryakartaon ko badhaane ko par dhyaan dena padega kaangres kuchh gae jis tarah se kaangres dheelee padee hai jis tarah se kaangres se cheejon ke oopar kaam nahin kar rahee hai un cheejon ke oopar kaangres ko badee gaharaee se aur bade sangharsh ke saath in cheejon mein utarana padega aur apanee khoee huee jameen hai usako vaapas karane ke lie janata mein bharosa laana padega kyonki yah maatr krshi kaanoonee ya kisaanon ke khilaaph se kongres aa jae yah jarooree nahin hai kyonki kaangres ke ke andar vartamaan mein jo hai jis tarah se kaangres soee padee hai ya jis tarah se kaangres kee sthitiyaan hai un cheejon ko kaangres ko devalap karana padega kaangres ko sambhaalana padega kaangres ko ek soochee taiyaar karanee padegee jab tak kaangres ke deeje prosesing mein nahin chalegee tab tak leedaraship jaana bada mushkil hai lekin haan agar modee sarakaar lagaataar galatiyaan karatee hain aur aamajan ke lie pareshaanee ka sabab banate hain to dephinetalee jo hai 2024 mein bhaarat mein kaangres kee sarakaar aapako dekhane ko mil sakatee hai aur baakee 2022 mein 23 mein 24 mein aur 2021 mein jin raajyon mein chunaav hone hain un raajyon kee prosesing bataegee ki bhavishy karaen kyonki yoopee ka chunaav hai 2022 mein agar beejepee 2022 mein yoopee ka chunaav haaratee hai to 99% chaarj ho jaegee kyonki jo ki beejepee baahar ho rahee hai thaink yoo

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
कटे-फटे और मैले नोट कहां और कैसे बदले?Kate Fate Aur Maile Note Kahan Aur Kaise Badle
pawan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए pawan जी का जवाब
Government services (8814983819)
0:34
कटे-फटे और मैंने नोट जो है वह बैंक द्वारा बदल दिए जाते हैं आरबीआई का सफर नितेश है बैंकों को जो भी नोट कटे-फटे होते हैं या मेले में होते हैं उनको मतलब कौन सा विचार कीजिए और शेयर करने के बाद 22 जनवरी को भेज देते हैं और आगे क्या करता है कि नए नोट देता है और उनको जो है वह कचरे में डाल कर खत्म कर देते हैं आप आराम से भारत के किसी भी बैंक में जाकर और वह नोटों को जो है आप अपने अकाउंट में डिपाजिट कर सकते हैं जिससे कोई भी लेने से मना नहीं करेगा थैंक यू
Kate-phate aur mainne not jo hai vah baink dvaara badal die jaate hain aarabeeaee ka saphar nitesh hai bainkon ko jo bhee not kate-phate hote hain ya mele mein hote hain unako matalab kaun sa vichaar keejie aur sheyar karane ke baad 22 janavaree ko bhej dete hain aur aage kya karata hai ki nae not deta hai aur unako jo hai vah kachare mein daal kar khatm kar dete hain aap aaraam se bhaarat ke kisee bhee baink mein jaakar aur vah noton ko jo hai aap apane akaunt mein dipaajit kar sakate hain jisase koee bhee lene se mana nahin karega thaink yoo

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
क्या आने वाले भविष्य में सरकारी नौकरी एक सपना मात्र होगी?Kya Aane Vaale Bhavishya Mein Sarkari Naukri Ek Sapna Matr Hogi
pawan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए pawan जी का जवाब
Government services (8814983819)
1:25
यह तो भविष्य ही बताएगा लेकिन वर्तमान समय में सरकारी नौकरियों के सांसद प्राइवेट नौकरियां भी हमारे देश में कमी है इसका बड़ा रीजन तो अगर हम कहें तो कोविड-19 किन सरकारी नौकरियों के कम होने का बड़ा रीजन यह है कि अभी जितने भी मंत्रालय हैं या जितने भी विभागीय फैक्ट्री या कंपनियां है वो ट्रांसफॉर्मिंग स्टेज में है और इसके अलावा कुछ डिसइनवेस्टमेंट में सरकार द्वारा कर दिया गया है यानी कि प्राइवेटाइजेशन कर दिया गया है तो जिन कंपनियों में याद जी ने फैक्ट्री में सरकार सरकारी कर्मचारियों की नियुक्ति करती थी उनमें से कुछ को प्राइवेट प्राइवेटाइजेशन के तहत कर दिया गया है तो इसका बड़ा नुकसान यह है कि अभी जो है आने वाले वक्त में क्या भविष्य होगा क्या प्रोसेस होगी वो समय बताएगा लेकिन दो हजार इक्कीस बाईस के बजट में भी सरकार ने लगभग एक लाख 90 हजार करोड़ करोड़ों इन कंपनियों का जो है डिसइनवेस्टमेंट करने का प्लान बनाया है कीपैड सरकारी नौकरी आने वाले समय में कम हो जाएंगी सेक्टर जो है वह प्राइवेट हो चुके होंगे अगर प्राइवेट सेक्टर में सरकारी नौकरी
Yah to bhavishy hee bataega lekin vartamaan samay mein sarakaaree naukariyon ke saansad praivet naukariyaan bhee hamaare desh mein kamee hai isaka bada reejan to agar ham kahen to kovid-19 kin sarakaaree naukariyon ke kam hone ka bada reejan yah hai ki abhee jitane bhee mantraalay hain ya jitane bhee vibhaageey phaiktree ya kampaniyaan hai vo traansaphorming stej mein hai aur isake alaava kuchh disinavestament mein sarakaar dvaara kar diya gaya hai yaanee ki praivetaijeshan kar diya gaya hai to jin kampaniyon mein yaad jee ne phaiktree mein sarakaar sarakaaree karmachaariyon kee niyukti karatee thee unamen se kuchh ko praivet praivetaijeshan ke tahat kar diya gaya hai to isaka bada nukasaan yah hai ki abhee jo hai aane vaale vakt mein kya bhavishy hoga kya proses hogee vo samay bataega lekin do hajaar ikkees baees ke bajat mein bhee sarakaar ne lagabhag ek laakh 90 hajaar karod karodon in kampaniyon ka jo hai disinavestament karane ka plaan banaaya hai keepaid sarakaaree naukaree aane vaale samay mein kam ho jaengee sektar jo hai vah praivet ho chuke honge agar praivet sektar mein sarakaaree naukaree

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
क्या आप मानते हैं कि मोबाइल से युवा बिगड़ते हैं?Kya Aap Maante Hain Ki Mobile Se Yuva Bigadte Hain
pawan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए pawan जी का जवाब
Government services (8814983819)
2:31
मोबाइल के विषय में मैं आपसे दो ही बात कहूंगा एक ही बात कहूंगा और एक बात आपको ज्वाइन डिसाइड करते हैं मोबाइल के आने से पहले की पीढ़ियों के विचारधारा देखी और मोबाइल के आने के बाद की जो मीडिया ने उनकी विचारधारा को देखिए उन दोनों में काफी अंतर है उनकी विचारधारा मिलने के बाद करने के तरीके में उनके रिस्पेक्ट करने के तरीके में उनकी सलाह देने के तरीके में दोनों में काफी अंतर है और कहीं ना कहीं अगर मोबाइल से यह चीज घटित हुई है मोबाइल के आने से तुझे परेशान किया है तो मोबाइल का जो है युवक को बिगाड़ने में बहुत बड़ा योगदान है जैसे कि एक व्यक्ति काम की चीज के लिए मोबाइल का यूज करता है लेकिन धीरे-धीरे क्या होता है कि वह चीजों को ओपन करता जाता है ओपन करना जाता है क्या होता है कि उसकी पहुंच छोटे बच्चों तक की पहुंच अब देखते हैं कि पोर्न तक पहुंच जाती पोर्न फिल्में देखना हो शुरू कर देता है और उन्होंने जितनी गंदी होती है कि धीरे-धीरे उसका जो है सीखो सरल के दोनों ही मनुष्य उसको भी करना शुरू कर देता है जिसका परिवार को भी पता नहीं लगता और उसे भी पता नहीं लगता है इसके अलावा आज के टाइम में जितना भी बॉलीवुड के द्वारा हॉलीवुड फिल्म स्टोरी बॉलीवुड का नाम नहीं लूंगा बॉलीवुड के द्वारा जितनी चीजें परोसी जा रही है कहीं ना कहीं स्टेटस को पूरी तरह से कर लेती है और वह जो है जब तक इन चीजों से बाहर निकलता है तब तक बहुत कुछ उसका दोष हो चुका होता है इसके अलावा मोबाइल में आजकल फिल्मों में जो जितने भी सीरियल आते हैं वह चीज अगर वह देखता है या फिर इसके अलावा जितनी छोटी छोटी है जो हमारे शॉर्ट वीडियो आफ बने हैं जैसे टिकटोक था पहले अभी इसके अलावा जैसे कुछ और है पाएंगे हमें स्टिक टकाटक है मौजूद है लेकिन लोग तो करते हैं लेकिन उसके साथ जितेंद्र पी जिसका कि उसके मतलब मेंटल स्टेटस पर बहुत बड़ा फर्क पड़ता है और अल्टीमेटली बहुत चीजें युवा क्या करता है कि अपनी पर्सनल लाइफ में अप्लाई करता है तो यही कहूंगा कि मोबाइल होने जो है युवा को बिगाड़ा भी है लेकिन मोबाइल आधुनिक युग की रिक्वायरमेंट है और आधुनिक युग जो है मोबाइल टेक्नोलॉजी के ऊपर है तो मोबाइल के बगैर हमारा काम नहीं चल सकता लेकिन युवा को इसके उपयोग के बारे में और उसकी विशेष के बारे में अभी तक आना पड़ेगा थैंक यू
Mobail ke vishay mein main aapase do hee baat kahoonga ek hee baat kahoonga aur ek baat aapako jvain disaid karate hain mobail ke aane se pahale kee peedhiyon ke vichaaradhaara dekhee aur mobail ke aane ke baad kee jo meediya ne unakee vichaaradhaara ko dekhie un donon mein kaaphee antar hai unakee vichaaradhaara milane ke baad karane ke tareeke mein unake rispekt karane ke tareeke mein unakee salaah dene ke tareeke mein donon mein kaaphee antar hai aur kaheen na kaheen agar mobail se yah cheej ghatit huee hai mobail ke aane se tujhe pareshaan kiya hai to mobail ka jo hai yuvak ko bigaadane mein bahut bada yogadaan hai jaise ki ek vyakti kaam kee cheej ke lie mobail ka yooj karata hai lekin dheere-dheere kya hota hai ki vah cheejon ko opan karata jaata hai opan karana jaata hai kya hota hai ki usakee pahunch chhote bachchon tak kee pahunch ab dekhate hain ki porn tak pahunch jaatee porn philmen dekhana ho shuroo kar deta hai aur unhonne jitanee gandee hotee hai ki dheere-dheere usaka jo hai seekho saral ke donon hee manushy usako bhee karana shuroo kar deta hai jisaka parivaar ko bhee pata nahin lagata aur use bhee pata nahin lagata hai isake alaava aaj ke taim mein jitana bhee boleevud ke dvaara holeevud philm storee boleevud ka naam nahin loonga boleevud ke dvaara jitanee cheejen parosee ja rahee hai kaheen na kaheen stetas ko pooree tarah se kar letee hai aur vah jo hai jab tak in cheejon se baahar nikalata hai tab tak bahut kuchh usaka dosh ho chuka hota hai isake alaava mobail mein aajakal philmon mein jo jitane bhee seeriyal aate hain vah cheej agar vah dekhata hai ya phir isake alaava jitanee chhotee chhotee hai jo hamaare short veediyo aaph bane hain jaise tikatok tha pahale abhee isake alaava jaise kuchh aur hai paenge hamen stik takaatak hai maujood hai lekin log to karate hain lekin usake saath jitendr pee jisaka ki usake matalab mental stetas par bahut bada phark padata hai aur alteemetalee bahut cheejen yuva kya karata hai ki apanee parsanal laiph mein aplaee karata hai to yahee kahoonga ki mobail hone jo hai yuva ko bigaada bhee hai lekin mobail aadhunik yug kee rikvaayarament hai aur aadhunik yug jo hai mobail teknolojee ke oopar hai to mobail ke bagair hamaara kaam nahin chal sakata lekin yuva ko isake upayog ke baare mein aur usakee vishesh ke baare mein abhee tak aana padega thaink yoo

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
ओवरथिंकिंग से बचने के क्या उपाय हैं?Overthinking Se Bachne Ke Kya Upaay Hain
pawan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए pawan जी का जवाब
Government services (8814983819)
2:50
दिखी और थिंकिंग से बचने का सबसे बड़ा उपाय है अपने दिमाग से नेगेटिव पहलुओं को सबसे पहले निकाल देना कई बार क्या होता है कि कोई चीज होती नहीं है और होने या ना होने से उस चीज का कोई मतलब नहीं होता है लेकिन आपका दिमाग क्या होता है उस चीज को लेकर नकारात्मक भावना पहली लेकर बैठ जाता है और नकारात्मक भावना लेकर बैठते हो आप तो क्या होता है कि आपने एक बार नकारात्मक सोच लो फिर उसके ऊपर और सोचा फिर उसे क्या हुआ एक वृक्ष बन जाता है कि नहीं फिर कुछ टहनियां वह निकली उससे फिर उन दोनों मामलों की एक नकारात्मक चीज आपके बारे में आई फिर उसको सोचा तो उससे दो बातें और निकल कर आए फिर आपके माइंड में अलग-अलग दोनों के बारे में फिर सोचा फिर उन दोनों से दोनों बातें और निकल कर आए आपके माइंड में दोनों के बारे में फिर सोचा फिर उन लोगों के बारे में फिर सोचा फिर उन दोनों फिर क्या वहां तक पहुंचते-पहुंचते आपके नकारात्मक बातों की जो श्रेणी है चार हो गई उन चारों से दो दो बातें और निकल गया यहां क्या होगी 8:00 हो गए फिर 8:00 से 16:00 क्या होता है कि एक तो नेगेटिव ऐसी नेगेटिव बात जो कि उस सिस्टम से या उस बात से कोई लेना देना नहीं है उस चीज को शुरुआत में ही निकालना शुरू कर दीजिए शुरुआत से ही निकलता है और शुरू कर दोगे कि नहीं इसका कोई मतलब नहीं है फिर हमने देखा यह बात है इसका भी कोई मतलब नहीं है तो धीरे-धीरे आपका माइंड क्या है जो बिल्कुल पॉजिटिव पक्ष है वह सोचना शुरु कर देगा आना जरूरी है किसी भी चीज के नेगेटिव और पॉजिटिव जरूरी है लेकिन नेगेटिविटी के अंदर घुस जाना यह बहुत गलत है अगर आप इस चीज पर ध्यान देते हो तो आप पावर थिंकिंग करना बंद कर सकते हो दूसरा पार्टी यह है कि कोई चीज कई बार क्या होता है कि किसी चीज के रिजल्ट उसके घटने के बाद ही आते हैं लेकिन हम पहले ही सोचना शुरु कर देते हैं कि इसका यह गांव का यह होगा यह आधा ही होगा तो होगा ही आएगा तो यह होगा ऐसा होगा तो वह होगा वैसा होगा तब होगा लेकिन वास्तविकता से उस चीज का कभी कबार पूछ ले देना नहीं होता और जब घटती है तब सोचते हैं कि यार ऐसा हमें नहीं सोचना कि यह बकवास में हम उचित को मुद्दा बनाएंगे तो यह किन चीजों पर फोकस करना जरूरी है इसके अलावा जितना भी आपको अपने दिमाग को कंसर्न्स और कॉन्सन्ट्रिक कर सकते हो एक बार में एक जगह तो क्या होगा कि एक जगह पोस्टेड होते हो तो जवाब कोई भी काम करोगे तो हर काम में वह जिस काम या परसेंटेज हुए हो उसमें आपका साथ देगा और अगर आप कौन सा स्टेट नहीं करना चाहते हो तो आपका माइंड क्या है कि आवर सिंगिंग को ज्यादा डिवेलप करेगा जो इन फ्यूचर जाकर आपको क्या प्रॉब्लम क्रिएट करें
Dikhee aur thinking se bachane ka sabase bada upaay hai apane dimaag se negetiv pahaluon ko sabase pahale nikaal dena kaee baar kya hota hai ki koee cheej hotee nahin hai aur hone ya na hone se us cheej ka koee matalab nahin hota hai lekin aapaka dimaag kya hota hai us cheej ko lekar nakaaraatmak bhaavana pahalee lekar baith jaata hai aur nakaaraatmak bhaavana lekar baithate ho aap to kya hota hai ki aapane ek baar nakaaraatmak soch lo phir usake oopar aur socha phir use kya hua ek vrksh ban jaata hai ki nahin phir kuchh tahaniyaan vah nikalee usase phir un donon maamalon kee ek nakaaraatmak cheej aapake baare mein aaee phir usako socha to usase do baaten aur nikal kar aae phir aapake maind mein alag-alag donon ke baare mein phir socha phir un donon se donon baaten aur nikal kar aae aapake maind mein donon ke baare mein phir socha phir un logon ke baare mein phir socha phir un donon phir kya vahaan tak pahunchate-pahunchate aapake nakaaraatmak baaton kee jo shrenee hai chaar ho gaee un chaaron se do do baaten aur nikal gaya yahaan kya hogee 8:00 ho gae phir 8:00 se 16:00 kya hota hai ki ek to negetiv aisee negetiv baat jo ki us sistam se ya us baat se koee lena dena nahin hai us cheej ko shuruaat mein hee nikaalana shuroo kar deejie shuruaat se hee nikalata hai aur shuroo kar doge ki nahin isaka koee matalab nahin hai phir hamane dekha yah baat hai isaka bhee koee matalab nahin hai to dheere-dheere aapaka maind kya hai jo bilkul pojitiv paksh hai vah sochana shuru kar dega aana jarooree hai kisee bhee cheej ke negetiv aur pojitiv jarooree hai lekin negetivitee ke andar ghus jaana yah bahut galat hai agar aap is cheej par dhyaan dete ho to aap paavar thinking karana band kar sakate ho doosara paartee yah hai ki koee cheej kaee baar kya hota hai ki kisee cheej ke rijalt usake ghatane ke baad hee aate hain lekin ham pahale hee sochana shuru kar dete hain ki isaka yah gaanv ka yah hoga yah aadha hee hoga to hoga hee aaega to yah hoga aisa hoga to vah hoga vaisa hoga tab hoga lekin vaastavikata se us cheej ka kabhee kabaar poochh le dena nahin hota aur jab ghatatee hai tab sochate hain ki yaar aisa hamen nahin sochana ki yah bakavaas mein ham uchit ko mudda banaenge to yah kin cheejon par phokas karana jarooree hai isake alaava jitana bhee aapako apane dimaag ko kansarns aur konsantrik kar sakate ho ek baar mein ek jagah to kya hoga ki ek jagah posted hote ho to javaab koee bhee kaam karoge to har kaam mein vah jis kaam ya parasentej hue ho usamen aapaka saath dega aur agar aap kaun sa stet nahin karana chaahate ho to aapaka maind kya hai ki aavar singing ko jyaada divelap karega jo in phyoochar jaakar aapako kya problam kriet karen

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
किसी अनपढ़ को आप कृषि कानून के फायदे कैसे समझा सकते हैं?Kisi Anpadh Ko Aap Krishi Kaanun Ke Fayde Kaise Samjha Sakte Hain
pawan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए pawan जी का जवाब
Government services (8814983819)
1:38
किसी अनपढ़ व्यक्ति को कृषि कानून के फायदे समझाने के लिए आपको उसके खेत को एक उदाहरण देकर और उसके गांव की आपके गांव की कोई फैक्ट्री या कोई शॉप का उदाहरण देकर उन दोनों को और लाइव इंप्लीमेंट करके फिर समझा सकते हो कैसे जैसे कि अगर आपको कांटेक्ट वार्मिंग के बारे में बताना है तो उस इंसान को कहिए कि वही मैं एक कांट्रेक्टर हूं और कांट्रेक्टर का मतलब कि मैं एक ऐसा कैंडिडेट हूं जो आपको यह आप की जमीन को जो है ठेके पर लेना चाहता हूं जो कि वह पहले भी देता रहा है और इसके लिए मैं आप से 6 महीने के लिए ठेका 6 महीने से 5 साल तक मैं तेरा कर पाऊंगा और वह ठेका आप कब भी आप कभी भी तोड़ सकते हो और इसमें आप की भूमि के से संबंधित कोई भी इंटरफेयर नहीं होगा तो और उसमें इससे क्या है कि आपको लाइव समझा देना है कि इस तरह से यह चीजें होगी इस तरह की चीजें और इस तरह यह चीज होगी आपको एक एग्जांपल लेकर या फिर आप एक पेज पर पॉजिटरों कर दीजिए कि आपको यह कंपनी है यह मैं हूं इस तरह से आप की प्रक्रिया होगी और इस तरह से आप क्या है अल्टीमेटली किसके लिए फायदे और नुकसान तो आपके ऊपर अफेक्ट करेंगे वह चीज आपको फोकस करना पड़ेगा इन चीजों को आप को ध्यान में देना पड़ेगा और इसके अलावा जो है आपको अलग-अलग जो है फायदे और नुकसान के बारे में बता सकते हो लेकिन आपने कहा है कि समझा कर सकते हैं तो मैं कहूंगा कि आपको लाइव बताने पड़ेंगे आपको बिल्कुल उसकी उसकी भाषा में समझाना पड़ेगा आपको
Kisee anapadh vyakti ko krshi kaanoon ke phaayade samajhaane ke lie aapako usake khet ko ek udaaharan dekar aur usake gaanv kee aapake gaanv kee koee phaiktree ya koee shop ka udaaharan dekar un donon ko aur laiv impleement karake phir samajha sakate ho kaise jaise ki agar aapako kaantekt vaarming ke baare mein bataana hai to us insaan ko kahie ki vahee main ek kaantrektar hoon aur kaantrektar ka matalab ki main ek aisa kaindidet hoon jo aapako yah aap kee jameen ko jo hai theke par lena chaahata hoon jo ki vah pahale bhee deta raha hai aur isake lie main aap se 6 maheene ke lie theka 6 maheene se 5 saal tak main tera kar paoonga aur vah theka aap kab bhee aap kabhee bhee tod sakate ho aur isamen aap kee bhoomi ke se sambandhit koee bhee intarapheyar nahin hoga to aur usamen isase kya hai ki aapako laiv samajha dena hai ki is tarah se yah cheejen hogee is tarah kee cheejen aur is tarah yah cheej hogee aapako ek egjaampal lekar ya phir aap ek pej par pojitaron kar deejie ki aapako yah kampanee hai yah main hoon is tarah se aap kee prakriya hogee aur is tarah se aap kya hai alteemetalee kisake lie phaayade aur nukasaan to aapake oopar aphekt karenge vah cheej aapako phokas karana padega in cheejon ko aap ko dhyaan mein dena padega aur isake alaava jo hai aapako alag-alag jo hai phaayade aur nukasaan ke baare mein bata sakate ho lekin aapane kaha hai ki samajha kar sakate hain to main kahoonga ki aapako laiv bataane padenge aapako bilkul usakee usakee bhaasha mein samajhaana padega aapako

#जीवन शैली

bolkar speaker
इतनी कम उम्र में ग्रेटा थनबर्ग सोशल मीडिया पर कैसे छा गई है?Itni Kam Umr Mein Greta Thanberg Social Media Par Kaise Chha Gayi Hai
pawan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए pawan जी का जवाब
Government services (8814983819)
1:37
दिखी उम्र कम है लेकिन जो स्ट्रगल कायर है ले या फिर जो उस समय उन्होंने दिया है पर्यावरण को बहुत ज्यादा है और दूसरा उन्होंने जो दुनिया में यीशु उठाया है वह दुनिया के लिए बहुत बड़ा इशू है पर्यावरण से रिलेटेड है वह पर्यावरण के लिए गाड़ी आप को जागरुक करते हैं पर्यावरण में क्या-क्या कमियां है पर्यावरण को कैसे सुधारा जा सकता है क्या डिसीजन लिया जाना चाहिए और दुनिया की नजरें की रहती है कि मतलब कोई समस्या आ रही है तो वह किस पहलू को टच कर रही है क्योंकि कहीं ना कहीं हर पहलू के साथ हर समस्या के साथ हर बीमारी के सपने में जुड़ा होता है तो आप अगर उसको उस समस्या के निदान के लिए आप जीमो उठाते हुए उस समस्या को कंट्रोल करवाने के लिए आप कुछ ना कुछ अपने पहलू रहते हो और इसके अलावा मतलब आपको आपकी सरकार की जो सपोर्ट मिलता है उसका सरकार का सपोर्ट मिलने के बाद स्थानीय लोगों का सपोर्ट होता है इसके साथ-साथ आपके बड़ी-बड़ी सेलिब्रिटी जाकर आपको सपोर्ट करते हैं धीरे-धीरे आप जो है चीजों को समझते जाते हो और आगे बढ़ते जाते हैं तो ग्रेटा थनबर्ग जो है सोशल मीडिया पर जाने का सबसे बड़ा रीजन यही था क्योंकि उसको ही नहीं चले उनको उनका स्ट्रगल बहुत अच्छा था हालांकि छोटी उम्र में इतना बड़ा कवरेज है लेकिन इन्हीं से लेवल का स्ट्रगल है जो है बहुत ज्यादा है
Dikhee umr kam hai lekin jo stragal kaayar hai le ya phir jo us samay unhonne diya hai paryaavaran ko bahut jyaada hai aur doosara unhonne jo duniya mein yeeshu uthaaya hai vah duniya ke lie bahut bada ishoo hai paryaavaran se rileted hai vah paryaavaran ke lie gaadee aap ko jaagaruk karate hain paryaavaran mein kya-kya kamiyaan hai paryaavaran ko kaise sudhaara ja sakata hai kya diseejan liya jaana chaahie aur duniya kee najaren kee rahatee hai ki matalab koee samasya aa rahee hai to vah kis pahaloo ko tach kar rahee hai kyonki kaheen na kaheen har pahaloo ke saath har samasya ke saath har beemaaree ke sapane mein juda hota hai to aap agar usako us samasya ke nidaan ke lie aap jeemo uthaate hue us samasya ko kantrol karavaane ke lie aap kuchh na kuchh apane pahaloo rahate ho aur isake alaava matalab aapako aapakee sarakaar kee jo saport milata hai usaka sarakaar ka saport milane ke baad sthaaneey logon ka saport hota hai isake saath-saath aapake badee-badee selibritee jaakar aapako saport karate hain dheere-dheere aap jo hai cheejon ko samajhate jaate ho aur aage badhate jaate hain to greta thanabarg jo hai soshal meediya par jaane ka sabase bada reejan yahee tha kyonki usako hee nahin chale unako unaka stragal bahut achchha tha haalaanki chhotee umr mein itana bada kavarej hai lekin inheen se leval ka stragal hai jo hai bahut jyaada hai

#जीवन शैली

bolkar speaker
जाड़े के दिनों में बारिश होने से क्या क्या फायदे हैं?Jaade Ke Dino Mein Barish Hone Se Kya Kya Fayde Hain
pawan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए pawan जी का जवाब
Government services (8814983819)
1:16
देखिए जाड़े के दिनों में बारिश होने का सबसे बड़ा अच्छा फायदा होता है कि जो ढूंढ आती है आपको सर्दियों में वह जाड़ा में अगर बारिश हो जाती है तो 3000 दिन तक वह धुन जो आपकी लगभग गायब हो जाती है इसके अलावा बारिश होने के बाद जो हवाएं चलती हैं तो कई बार आपके जो है कपड़े नहीं सूखते हैं वह भी सूख जाते हैं और कई बार बारिश में आपको कुछ लोगों को पानी देना सॉरी कहीं पर सर्दी में भी आपको फसलों को पानी देना पड़ता है तो अच्छी बारिश हो जाती है तो फिर वह पानी देने कि आपकी जो समस्या है वह धीरे-धीरे खत्म नहीं हो जाती है इसके अलावा जो है जाड़े के दिनों में जो है वह पानी भूमि के अंदर जो है जल्दी सूखता नहीं है और जल्दी ने सोचने की वजह से जो है वह भूमि के ऊपर पानी जो है काफी दिनों तक रहता है तो उसका बेनिफिट आपको यह होता है कि जो जल स्तर है वह धीरे-धीरे मेंटल हो जाता है वह बिल्कुल नीचे नहीं जाता तो यह चीज भी आपको बेनिफिट करती है यानी कि जो पानी जहां के लिए होता वहीं रहता है क्योंकि गर्मी में पानी क्या होता है कि ऊपर आसमान द्वारा शोक लिया जाता है लेकिन जाड़े में अगर बारिश होती है तो वह लगभग जितना भी पानी होता है सारा का सारा पानी भूमिगत हो जाता है तो काफी चीजें हैं जो जाड़े में बारिश होने से आपको फायदे होते हैं थैंक यू
Dekhie jaade ke dinon mein baarish hone ka sabase bada achchha phaayada hota hai ki jo dhoondh aatee hai aapako sardiyon mein vah jaada mein agar baarish ho jaatee hai to 3000 din tak vah dhun jo aapakee lagabhag gaayab ho jaatee hai isake alaava baarish hone ke baad jo havaen chalatee hain to kaee baar aapake jo hai kapade nahin sookhate hain vah bhee sookh jaate hain aur kaee baar baarish mein aapako kuchh logon ko paanee dena soree kaheen par sardee mein bhee aapako phasalon ko paanee dena padata hai to achchhee baarish ho jaatee hai to phir vah paanee dene ki aapakee jo samasya hai vah dheere-dheere khatm nahin ho jaatee hai isake alaava jo hai jaade ke dinon mein jo hai vah paanee bhoomi ke andar jo hai jaldee sookhata nahin hai aur jaldee ne sochane kee vajah se jo hai vah bhoomi ke oopar paanee jo hai kaaphee dinon tak rahata hai to usaka beniphit aapako yah hota hai ki jo jal star hai vah dheere-dheere mental ho jaata hai vah bilkul neeche nahin jaata to yah cheej bhee aapako beniphit karatee hai yaanee ki jo paanee jahaan ke lie hota vaheen rahata hai kyonki garmee mein paanee kya hota hai ki oopar aasamaan dvaara shok liya jaata hai lekin jaade mein agar baarish hotee hai to vah lagabhag jitana bhee paanee hota hai saara ka saara paanee bhoomigat ho jaata hai to kaaphee cheejen hain jo jaade mein baarish hone se aapako phaayade hote hain thaink yoo

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
फेसबुक पर अपने प्रोडक्ट को कैसे बेच सकते हैं?Facebook Par Apne Product Ko Kaise Bech Sakte Hain
pawan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए pawan जी का जवाब
Government services (8814983819)
1:49
देखिए फेसबुक पर अपने प्रोडक्ट को बेचने के लिए दो तरह से मीडियम है एक तो आप एडवर्टाइजमेंट कर सकते हो एडवर्टाइजमेंट के थ्रू आप अपना लोकेशन चेंज कर सकते हो जैसे कि अगर आप पंजाब में हो तो आप अपना स्टेट पंजाब सुन लीजिए और पंजाब में भी आप अपने किसी एक पार्टी कूलर डिस्ट्रिक्ट में हो जैसे अमृतसर में हो लुधियाना में हो या जालंधर में तो आप अपना एक पार्टिकुलर डिस्ट्रिक्ट चार्ज कर लीजिए और जितने लोगों तक आप अपनी ऐड को पहुंचाना चाहते हो वहां तक आ पहुंचा सकते हो पहला पॉइंट है आपका यह और वह ऐड पहुंचती है तो आपका जो एडवर्टाइजमेंट के अंदर आपका फोन नंबर होता है कांटेक्ट नंबर होता है उसको देखकर लोग आप उसे उसके बारे में इंक्वायरी करते हैं उसके बारे में प्रोडक्ट को कि खरीदने का जो है पलायन करते हैं और दूसरा यह है कि फेसबुक पर आप अपना पेज बना लीजिए आप अपना ग्रुप बना लीजिए फेसबुक पर आप अपना जितने भी लोगों को जोड़ सकते जुड़े हुए हैं आप से जितने भी लोग उन लोगों को जोड़ने की कोशिश इन लोगों को मैसेज भेजिए अपने प्रोडक्ट के बारे में बता इसके अलावा जिस सिटी में आप काम करते हो उस सिटी के जितने भी लोग हैं वह डाल डाल कर आप सर्च के लिए उनका नाम और सिटी का नाम डाल कर उनको ऐड कर लीजिए और फिर जैसे ही आप अपने प्रोडक्ट का ऐड करते हो उस टाइम सभी को आप टाइप कीजिए ताकि मैक्सिमम लोगों तक वह चीज पहुंच सके तो फेसबुक बहुत बड़ा बाकी आप मल्टीपल कुछ छोटे छोटे लोग को रश्मि करवाते 400 500 का फेसबुक पर प्रोडक्ट कैसे बेचे इसके अलावा यूट्यूब का सहारा ले सकते हो यूट्यूब पर आकर आपसे साथ वीडियो देखते हो तो हर वीडियो में कुछ ना कुछ नई चीजें मिलती है कुछ आप उसी मिलना मिलती है तो अल्टीमेटली ही कहूंगा कि काफी चीजें हैं जैसे आपको अप्लाई करने की जरूरत है
Dekhie phesabuk par apane prodakt ko bechane ke lie do tarah se meediyam hai ek to aap edavartaijament kar sakate ho edavartaijament ke throo aap apana lokeshan chenj kar sakate ho jaise ki agar aap panjaab mein ho to aap apana stet panjaab sun leejie aur panjaab mein bhee aap apane kisee ek paartee koolar distrikt mein ho jaise amrtasar mein ho ludhiyaana mein ho ya jaalandhar mein to aap apana ek paartikular distrikt chaarj kar leejie aur jitane logon tak aap apanee aid ko pahunchaana chaahate ho vahaan tak aa pahuncha sakate ho pahala point hai aapaka yah aur vah aid pahunchatee hai to aapaka jo edavartaijament ke andar aapaka phon nambar hota hai kaantekt nambar hota hai usako dekhakar log aap use usake baare mein inkvaayaree karate hain usake baare mein prodakt ko ki khareedane ka jo hai palaayan karate hain aur doosara yah hai ki phesabuk par aap apana pej bana leejie aap apana grup bana leejie phesabuk par aap apana jitane bhee logon ko jod sakate jude hue hain aap se jitane bhee log un logon ko jodane kee koshish in logon ko maisej bhejie apane prodakt ke baare mein bata isake alaava jis sitee mein aap kaam karate ho us sitee ke jitane bhee log hain vah daal daal kar aap sarch ke lie unaka naam aur sitee ka naam daal kar unako aid kar leejie aur phir jaise hee aap apane prodakt ka aid karate ho us taim sabhee ko aap taip keejie taaki maiksimam logon tak vah cheej pahunch sake to phesabuk bahut bada baakee aap malteepal kuchh chhote chhote log ko rashmi karavaate 400 500 ka phesabuk par prodakt kaise beche isake alaava yootyoob ka sahaara le sakate ho yootyoob par aakar aapase saath veediyo dekhate ho to har veediyo mein kuchh na kuchh naee cheejen milatee hai kuchh aap usee milana milatee hai to alteemetalee hee kahoonga ki kaaphee cheejen hain jaise aapako aplaee karane kee jaroorat hai

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
क्या सच में मोदी सरकार के राज में देश प्रगति कर रहा है?Kya Sach Mein Modi Sarkaar Ke Raaj Mein Desh Pragati Kar Raha Hai
pawan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए pawan जी का जवाब
Government services (8814983819)
2:59
देखी मैं इस किचन के फोटो सेंड करूंगा पहले तो यह है कि 2014 से पहले और 2014 के बाद दिखे 2014 के बाद में जो देश के अंदर प्रगति हुई है देश बहुत विवादित मुद्दे वर्षों से विवादित बचे हुए मुद्दे जैसे कि राम मंदिर जैसे की धारा 370 जैसे कि तीन तलाक का मामला और इसके अलावा जो हाल ही में किए गए हैं कृषि कानून जो यह मारे जा रहे हैं कि कहीं ना कहीं देश हित में है इसके अलावा डिसइनवेस्टमेंट जिस तरह से निजीकरण किया जा रहा है कुछ ऐसे मामले हैं जो कि सरकार द्वारा लिए जा रहे हैं जो कि के यूनिक है जो पहले कभी नहीं लिए गए इस दिशा में पहले कभी कार्य नहीं किया गया लेकिन अब जो है इस दिशा में कार्य किया जा रहा है और अगर मैं भी देखूं तो वर्तमान सरकार जो है इंफ्रास्ट्रक्चर के ऊपर बहुत ज्यादा फोकस किया है इन्होंने और इंफ्रास्ट्रक्चर मजबूत होगा तो आपके देश में दुनिया से अलग अलग मल्टीनेशनल कंपनी आपके यहां आएंगी अपने जो कारखाना है आपने वेंचर हो यहां स्टाफ लिस्ट करेंगी और आप तो बाहर के लिए भारत के लोगों को नौकरियां मिलेंगी और 2014 से पहले और कुछ माइनस पॉइंट की हुए हैं जिसमें कि आपने मानते हैं कि आपने देश हित में बहुत से कार्य किए हैं लेकिन इसके साथ-साथ लोकतंत्र का कई जगह पर उल्लंघन किया गया है जैसे कि अपराधी ऑफ द जनरलिज्म जनरलिज्म की जो प्राइवेसी है वह धीरे-धीरे खत्म होती जा रही है लेकिन इसके साथ-साथ जगह पर पत्रकारिता खुद कर रही है लेकिन ज्यादातर जो है वह पत्रकारिता की जो स्वतंत्रता है यानी कि जो आर्टिकल नाइनटीन है उसका कहीं ना कहीं हनन हो रहा है इस संविधान में जो हमें नागरिकों को अधिकार दिए हैं वहां पर भी कहीं ना कहीं इसकी जो अधिकारों का हनन है कुछ जगह पर मानवाधिकारों का हनन किया जा रहा है तो यह मोदी सरकार को जो चीजों को ऐड बैलेंस बना कर चलना पड़ेगा मोदी सर माना कि आप डाउनलोड कर रहे हो लेकिन आप एक दायरे में आपको कन्वींस कैसे करना है पब्लिक को आपको सिस्टम को रन करने के लिए किस तरह के डिसीजन लेनी है क्या वह देश हित में है या नहीं है माना कि आपके कुछ डिसीजन देश हित में होते हैं लेकिन पब्लिक अगर उसके टेस्ट आ जाए जैसे कि कृषि कॉलेजों में सोचना पड़ेगा पीछे हटना पड़ेगा उन चीजों को खत्म करके एक बार दोबारा सोचना पड़ेगा पति तो हुई है लेकिन जैसी होनी चाहिए थी वैसी नहीं
Dekhee main is kichan ke photo send karoonga pahale to yah hai ki 2014 se pahale aur 2014 ke baad dikhe 2014 ke baad mein jo desh ke andar pragati huee hai desh bahut vivaadit mudde varshon se vivaadit bache hue mudde jaise ki raam mandir jaise kee dhaara 370 jaise ki teen talaak ka maamala aur isake alaava jo haal hee mein kie gae hain krshi kaanoon jo yah maare ja rahe hain ki kaheen na kaheen desh hit mein hai isake alaava disinavestament jis tarah se nijeekaran kiya ja raha hai kuchh aise maamale hain jo ki sarakaar dvaara lie ja rahe hain jo ki ke yoonik hai jo pahale kabhee nahin lie gae is disha mein pahale kabhee kaary nahin kiya gaya lekin ab jo hai is disha mein kaary kiya ja raha hai aur agar main bhee dekhoon to vartamaan sarakaar jo hai imphraastrakchar ke oopar bahut jyaada phokas kiya hai inhonne aur imphraastrakchar majaboot hoga to aapake desh mein duniya se alag alag malteeneshanal kampanee aapake yahaan aaengee apane jo kaarakhaana hai aapane venchar ho yahaan staaph list karengee aur aap to baahar ke lie bhaarat ke logon ko naukariyaan milengee aur 2014 se pahale aur kuchh mainas point kee hue hain jisamen ki aapane maanate hain ki aapane desh hit mein bahut se kaary kie hain lekin isake saath-saath lokatantr ka kaee jagah par ullanghan kiya gaya hai jaise ki aparaadhee oph da janaralijm janaralijm kee jo praivesee hai vah dheere-dheere khatm hotee ja rahee hai lekin isake saath-saath jagah par patrakaarita khud kar rahee hai lekin jyaadaatar jo hai vah patrakaarita kee jo svatantrata hai yaanee ki jo aartikal nainateen hai usaka kaheen na kaheen hanan ho raha hai is sanvidhaan mein jo hamen naagarikon ko adhikaar die hain vahaan par bhee kaheen na kaheen isakee jo adhikaaron ka hanan hai kuchh jagah par maanavaadhikaaron ka hanan kiya ja raha hai to yah modee sarakaar ko jo cheejon ko aid bailens bana kar chalana padega modee sar maana ki aap daunalod kar rahe ho lekin aap ek daayare mein aapako kanveens kaise karana hai pablik ko aapako sistam ko ran karane ke lie kis tarah ke diseejan lenee hai kya vah desh hit mein hai ya nahin hai maana ki aapake kuchh diseejan desh hit mein hote hain lekin pablik agar usake test aa jae jaise ki krshi kolejon mein sochana padega peechhe hatana padega un cheejon ko khatm karake ek baar dobaara sochana padega pati to huee hai lekin jaisee honee chaahie thee vaisee nahin

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
बच्चों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए स्वतंत्र छोड़ना कितना आवश्यक है?Bachon Ko Aatmanirbhar Banane Ke Lie Svatantr Chodna Kitna Aavashyak Hai
pawan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए pawan जी का जवाब
Government services (8814983819)
2:17
बच्चों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए स्वतंत्र रूप से छोड़ देना बहुत आवश्यक है क्योंकि आजकल हम देखते हैं कि माता-पिता बच्चों को जूस किए 3 से 4 साल नहीं होती है स्कूल में भेजना शुरू कर देते हैं मानसिक अवस्था के ऊपर बहुत ज्यादा परेशानी डालता है उसका मानसिक और शारीरिक जो परिपक्वता होती है उसमें वह कभी नहीं आ पाती है जिसकी वजह से वह अपनी लाइफ में कुछ खास नहीं कर पाता है बहुत सी जगह देखा गया है दूसरा उसे ज्यादा से ज्यादा मैं यह कहूंगा कि खेलने का मौका देना चाहिए मोबाइल से दूर रखना चाहिए क्योंकि आप मोबाइल से दूर रखोगे तो बच्चे को खेलने का मौका मिलेगा उसी अपने माइंड से सोचने का मौका मिलेगा मोबाइल से में क्या है कि बच्चा अपने मन से नहीं सोच पाता है ज्योति जी रूसी रूसी जा रही है उसी के अनुसार कार्य करता है और उसके बाद एक समय के बाद उसका माइंड ऐसा डेवलप हो जाता है कि वह चीज अगर उसे नहीं मिलती है तो वह फिर खाने की तरह तरह से लग जाता है तो मैं यही कहूंगा कि सबसे पहले बच्चों को स्वतंत्र छोड़ना बहुत जरूरी है आपने जो क्वेश्चन पूछा है मैं उस फाइनल ईयर सर सम्मिट करूंगा अगर उसका शारीरिक विकास चाहते हो उसमें अगर आप आत्मविश्वास बनाना चाहते हो उसका गरम मानसिक विकास चाहते हो आप अगर उसके अंदर एक अच्छी नेतृत्व के गुण ढोलक करना चाहते हो तू से ज्यादा से ज्यादा समाज का हिस्सा बनने दीजिए उसे ज्यादा से ज्यादा स्वतंत्र छोड़िए उसे ज्यादा से ज्यादा लोगों की लोगों से मिलने का मौका दीजिए उसे बताइए कि किसी उसने क्या सिखा उससे उन से पूछिए कि किस से मिलने पर उनको क्या बेनिफिट हुआ उन्हें बताइए कि पॉजिटिव चीजें कैसे ऑन कर सकते नेगेटिव चीजें कैसे छोड़ सकते हैं तो अल्टीमेटली मैं यही कहूंगा कि अगर आप बच्चों को एक कंपलीट परिपूर्ण उसका विकास चाहते हो तो उसे पूर्णता स्वतंत्र पूर्ण नहीं कहूंगा लेकिन उसको जहां तक एक लेवल हो सकता है वहां तब उसे स्वतंत्र छोड़ दें थैंक यू
Bachchon ko aatmanirbhar banaane ke lie svatantr roop se chhod dena bahut aavashyak hai kyonki aajakal ham dekhate hain ki maata-pita bachchon ko joos kie 3 se 4 saal nahin hotee hai skool mein bhejana shuroo kar dete hain maanasik avastha ke oopar bahut jyaada pareshaanee daalata hai usaka maanasik aur shaareerik jo paripakvata hotee hai usamen vah kabhee nahin aa paatee hai jisakee vajah se vah apanee laiph mein kuchh khaas nahin kar paata hai bahut see jagah dekha gaya hai doosara use jyaada se jyaada main yah kahoonga ki khelane ka mauka dena chaahie mobail se door rakhana chaahie kyonki aap mobail se door rakhoge to bachche ko khelane ka mauka milega usee apane maind se sochane ka mauka milega mobail se mein kya hai ki bachcha apane man se nahin soch paata hai jyoti jee roosee roosee ja rahee hai usee ke anusaar kaary karata hai aur usake baad ek samay ke baad usaka maind aisa devalap ho jaata hai ki vah cheej agar use nahin milatee hai to vah phir khaane kee tarah tarah se lag jaata hai to main yahee kahoonga ki sabase pahale bachchon ko svatantr chhodana bahut jarooree hai aapane jo kveshchan poochha hai main us phainal eeyar sar sammit karoonga agar usaka shaareerik vikaas chaahate ho usamen agar aap aatmavishvaas banaana chaahate ho usaka garam maanasik vikaas chaahate ho aap agar usake andar ek achchhee netrtv ke gun dholak karana chaahate ho too se jyaada se jyaada samaaj ka hissa banane deejie use jyaada se jyaada svatantr chhodie use jyaada se jyaada logon kee logon se milane ka mauka deejie use bataie ki kisee usane kya sikha usase un se poochhie ki kis se milane par unako kya beniphit hua unhen bataie ki pojitiv cheejen kaise on kar sakate negetiv cheejen kaise chhod sakate hain to alteemetalee main yahee kahoonga ki agar aap bachchon ko ek kampaleet paripoorn usaka vikaas chaahate ho to use poornata svatantr poorn nahin kahoonga lekin usako jahaan tak ek leval ho sakata hai vahaan tab use svatantr chhod den thaink yoo

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
मोबाइल के बैटरी को अधिक समय तक चलाने के लिए हमें क्या करना चाहिए?Mobile Ke Battery Ko Adhik Samay Tak Chalane Ke Lie Hume Kya Karna Chaiye
pawan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए pawan जी का जवाब
Government services (8814983819)
1:23
मी की मोबाइल की बैटरी को अधिकतम समय तक चलाने के लिए पहले डिपार्टमेंट होती है कि आप इंटरनेट का इस्तेमाल अगर फिलहाल मोबाइल में नहीं कर रहे हैं तो आपका डाटा क्लोज करके रखना चाहिए दूसरी बात यह है कि आपकी जो लाइट है मोबाइल कि वह मीडियम रखनी चाहिए ना तो ज्यादा ही हो ना ज्यादा कम होता कि आपको बैलेंस बना रहे तीसरा यह है कि जो ऐप बैटरी को ज्यादा खाते हैं और वह न्यूज़ फुल है उनको अनइनस्टॉल कर देना चाहिए और चौथे यह है कि अगर आप कॉलिंग कर रहे हैं फोन कॉल कर रहे हैं तो आपको डाटा बंद कर देना चाहिए उसके बाद फोन करना चाहिए क्योंकि कभी कबार क्या होता है कि आपके डाटा चलते रहते हैं और फोन भी चलता रहता है इसे दो तरह से बैटरी मोबाइल की खत्म हो जाती है अन्य एसेसरी नोटिफिकेशन एप्स में अननेसेसरी नोटिफिकेशन नोटिफिकेशन आपको बार बार भेजता रहता है यह आ गया यह आ गया अभी आ गया जिससे आप परेशान हो जाती है एक तरफ तो और दूसरी तरफ कुछ लोगों को पता भी नहीं होता कि नोटिफिकेशन को क्लोज कैसे करें तो वह बार-बार मैं जब घंटे पर जाता आपको परेशानी होती और बार-बार भी उससे बैटरी की खपत भी साथ-साथ में होती है तो नोटिफिकेशन को क्लोज करके रखना चाहिए जो इंपॉर्टेंट है वही नोटिफिकेशन को ऑन रखना चाहिए इसके अलावा किसी भी तरह का कोई मैसेज आता है या किसी भी तरह का कोई फोन आता है तो वह घंटी बजती है तो कोशिश करना चाहिए यह घंटी जो है वह 9:00 बजे को साइलेंट मोड रखें इससे आपका भी जो है बैटरी बचत कर सकते हैं थैंक यू
Mee kee mobail kee baitaree ko adhikatam samay tak chalaane ke lie pahale dipaartament hotee hai ki aap intaranet ka istemaal agar philahaal mobail mein nahin kar rahe hain to aapaka daata kloj karake rakhana chaahie doosaree baat yah hai ki aapakee jo lait hai mobail ki vah meediyam rakhanee chaahie na to jyaada hee ho na jyaada kam hota ki aapako bailens bana rahe teesara yah hai ki jo aip baitaree ko jyaada khaate hain aur vah nyooz phul hai unako aninastol kar dena chaahie aur chauthe yah hai ki agar aap koling kar rahe hain phon kol kar rahe hain to aapako daata band kar dena chaahie usake baad phon karana chaahie kyonki kabhee kabaar kya hota hai ki aapake daata chalate rahate hain aur phon bhee chalata rahata hai ise do tarah se baitaree mobail kee khatm ho jaatee hai any esesaree notiphikeshan eps mein ananesesaree notiphikeshan notiphikeshan aapako baar baar bhejata rahata hai yah aa gaya yah aa gaya abhee aa gaya jisase aap pareshaan ho jaatee hai ek taraph to aur doosaree taraph kuchh logon ko pata bhee nahin hota ki notiphikeshan ko kloj kaise karen to vah baar-baar main jab ghante par jaata aapako pareshaanee hotee aur baar-baar bhee usase baitaree kee khapat bhee saath-saath mein hotee hai to notiphikeshan ko kloj karake rakhana chaahie jo importent hai vahee notiphikeshan ko on rakhana chaahie isake alaava kisee bhee tarah ka koee maisej aata hai ya kisee bhee tarah ka koee phon aata hai to vah ghantee bajatee hai to koshish karana chaahie yah ghantee jo hai vah 9:00 baje ko sailent mod rakhen isase aapaka bhee jo hai baitaree bachat kar sakate hain thaink yoo

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
शादी करने की सही उम्र क्या है?Shadi Karne Ki Sahi Umr Kya Hai
pawan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए pawan जी का जवाब
Government services (8814983819)
1:41
डीजे शादी करने की जो है वैसे तो कोई उम्र नहीं है लेकिन मैं जो चीजो के ऊपर ध्यान दूंगा पहले यह है कि लड़का और लड़की की जो एजुकेशन है वह जहां तक पढ़ना चाहिए उन्हें पूरा पढ़ने का मौका दीजिए पढ़ने के बाद उनको खुद को डिसाइड करने दीजिए कि क्या उनका शादी का समय आ गया है अगर वह कहें कि हां मेरा शादी का समय आ गया है तो आप उनके लिए लड़का या लड़की ढूंढ सकते हैं पहले तो यह है कि आप उसको एजुकेशन को मैचोर कीजिए एजुकेशन से उनको ब्रॉड बना दीजिए ताकि आने वाले समय में जब उनकी शादी हो जाए तो वह डिसीजन लेने में अच्छा रहे और किसी भी तरह की जो आजकल शादियों में भी बेरुखी अधूरा जोगिंग कि ना जाता है वह चीजें कर लेट ना हो पाए लड़की जो इस साल नहीं हो जाती है और लड़की की जो मिनिमम एज है जो 28 से 26 से 27 साल नहीं हो जाती है तो उन्हें शादी नहीं करनी चाहिए क्योंकि इस अवस्था में वह क्या होते हैं कि जो एक फैमिली की रियल कंडीशन क्या होती है फैमिली को चलाने के लिए क्या रिक्वायरमेंट होती फैमिली को चलाने के लिए मैनेज करने के लिए क्या बेसिक की चीजें होती हैं उनको भी नहीं समझ पाते और नासमझी के कारण अल्टीमेटली एक प्रॉब्लम वाह के सामने खड़ी हो जाती है कि वह अच्छा डिसीजन नहीं ले पाते और अच्छा डिसीजन नहीं ले पाते हैं तो शादी अटूट शुरू हो जाती है क्लेश होते हैं आपस में विचार नहीं मिल पाते हैं और कई बार तो महिलाएं या लड़के सुसाइड तक कर लेते हैं जिसकी जो रिजल्ट होते हैं वो काफी नेगेटिव होते तो लिटिल इटली में यही कामना की शादी की सही उम्र में छोटी जब लड़का और लड़की अच्छी अजुकेशन हो जाए एजुकेशन के बाद पूरी तरह अपने आप को समझे कि हम मैच और हैं उन्हें शादी की ओर बढ़ना चाहिए थैंक यू
Deeje shaadee karane kee jo hai vaise to koee umr nahin hai lekin main jo cheejo ke oopar dhyaan doonga pahale yah hai ki ladaka aur ladakee kee jo ejukeshan hai vah jahaan tak padhana chaahie unhen poora padhane ka mauka deejie padhane ke baad unako khud ko disaid karane deejie ki kya unaka shaadee ka samay aa gaya hai agar vah kahen ki haan mera shaadee ka samay aa gaya hai to aap unake lie ladaka ya ladakee dhoondh sakate hain pahale to yah hai ki aap usako ejukeshan ko maichor keejie ejukeshan se unako brod bana deejie taaki aane vaale samay mein jab unakee shaadee ho jae to vah diseejan lene mein achchha rahe aur kisee bhee tarah kee jo aajakal shaadiyon mein bhee berukhee adhoora joging ki na jaata hai vah cheejen kar let na ho pae ladakee jo is saal nahin ho jaatee hai aur ladakee kee jo minimam ej hai jo 28 se 26 se 27 saal nahin ho jaatee hai to unhen shaadee nahin karanee chaahie kyonki is avastha mein vah kya hote hain ki jo ek phaimilee kee riyal kandeeshan kya hotee hai phaimilee ko chalaane ke lie kya rikvaayarament hotee phaimilee ko chalaane ke lie mainej karane ke lie kya besik kee cheejen hotee hain unako bhee nahin samajh paate aur naasamajhee ke kaaran alteemetalee ek problam vaah ke saamane khadee ho jaatee hai ki vah achchha diseejan nahin le paate aur achchha diseejan nahin le paate hain to shaadee atoot shuroo ho jaatee hai klesh hote hain aapas mein vichaar nahin mil paate hain aur kaee baar to mahilaen ya ladake susaid tak kar lete hain jisakee jo rijalt hote hain vo kaaphee negetiv hote to litil italee mein yahee kaamana kee shaadee kee sahee umr mein chhotee jab ladaka aur ladakee achchhee ajukeshan ho jae ejukeshan ke baad pooree tarah apane aap ko samajhe ki ham maich aur hain unhen shaadee kee or badhana chaahie thaink yoo

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
क्या किसानों को इतनी छूट देना सही है?Kya Kisano Ko Itni Chut Dena Sahi Hai
pawan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए pawan जी का जवाब
Government services (8814983819)
1:21
देखिए किसानों को इतनी छूट देना बिल्कुल सही है क्योंकि आप देखेंगे कि देश का 60% से अधिक जनसंख्या जगह आदमी एग्रीकल्चर के ऊपर डिपेंड है अगर आपका एग्रीकल्चर बंद हो जाएगा तो सब कुछ बंद हो जाएगा आपका मैन्युफैक्चरिंग आप का सर्विस सेंटर किसी काम का नहीं रहेगा और जो देश में कोरोना के इतने भयंकर काल में जो सबसे ज्यादा पावरफुल यह सबसे ज्यादा पॉजिटिव पक्ष रहा है हमारे देश का वह कृषि का रहा है बाकी सारे सेक्टर नेगेटिव रही है सोई जो भी प्रॉब्लम है किसानों की या जो भी कमियां है कानून में सरकार को कुछ चीजों के ऊपर ध्यान देना चाहिए अंग्रेजी नहीं होना चाहिए हरियल नहीं होना चाहिए अनकार नहीं अपनाना चाहिए क्योंकि देश के किसान हैं और आप देश की जनता के साथ गलत नहीं कर सकते यह तो वही है कि आपने कहा कि यह पानी पी लीजिए बेस्ट आपको पीना चाहिए अच्छा है लेकिन मैंने कहा कि मुझे पानी पीना ही नहीं है और आप कह रहे हो क्यों नहीं पीना भी हो गया कि बेस्ट है तो इसमें क्या है कि किसान आंदोलन का मुख्य लक्ष्य क्या है किसान कि हमें यह कानून नहीं चाहिए यह हमारे नुकसान हो सकता है लेकिन सरकार करें कि नहीं नहीं नुकसान नहीं होगा लेकिन सरकार उसको साबित भी नहीं कर पा रही दोनों पक्षों में सरकार है कि वह साबित करो या दोगी या नहीं होगा अगर आप साबित नहीं कर पा रहे हो तो कानून को वापस ले लीजिए उसके बाद नए सिरे से कानून बनाए और उसके बाद देखिए कि क्या क्या इंप्रूवमेंट इसमें हो सकता है थैंक यू
Dekhie kisaanon ko itanee chhoot dena bilkul sahee hai kyonki aap dekhenge ki desh ka 60% se adhik janasankhya jagah aadamee egreekalchar ke oopar dipend hai agar aapaka egreekalchar band ho jaega to sab kuchh band ho jaega aapaka mainyuphaikcharing aap ka sarvis sentar kisee kaam ka nahin rahega aur jo desh mein korona ke itane bhayankar kaal mein jo sabase jyaada paavaraphul yah sabase jyaada pojitiv paksh raha hai hamaare desh ka vah krshi ka raha hai baakee saare sektar negetiv rahee hai soee jo bhee problam hai kisaanon kee ya jo bhee kamiyaan hai kaanoon mein sarakaar ko kuchh cheejon ke oopar dhyaan dena chaahie angrejee nahin hona chaahie hariyal nahin hona chaahie anakaar nahin apanaana chaahie kyonki desh ke kisaan hain aur aap desh kee janata ke saath galat nahin kar sakate yah to vahee hai ki aapane kaha ki yah paanee pee leejie best aapako peena chaahie achchha hai lekin mainne kaha ki mujhe paanee peena hee nahin hai aur aap kah rahe ho kyon nahin peena bhee ho gaya ki best hai to isamen kya hai ki kisaan aandolan ka mukhy lakshy kya hai kisaan ki hamen yah kaanoon nahin chaahie yah hamaare nukasaan ho sakata hai lekin sarakaar karen ki nahin nahin nukasaan nahin hoga lekin sarakaar usako saabit bhee nahin kar pa rahee donon pakshon mein sarakaar hai ki vah saabit karo ya dogee ya nahin hoga agar aap saabit nahin kar pa rahe ho to kaanoon ko vaapas le leejie usake baad nae sire se kaanoon banae aur usake baad dekhie ki kya kya improovament isamen ho sakata hai thaink yoo

#जीवन शैली

bolkar speaker
क्या यह सच है कि जैसे हमारे संस्कार होते हैं वैसे ही हमारा व्यवहार होता है?Kya Yah Sach Hai Ki Jaise Humare Sanskaar Hote Hain Vaise He Humara Vyavahar Hota Hai
pawan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए pawan जी का जवाब
Government services (8814983819)
2:03
यह बात बिल्कुल सच है कि जैसे हमारे संस्कार होते हैं वैसे हमारे व्यवहार होते हैं आप किसी परिवार से उन्हें नए परिवार से मिली है जिनसे आप कभी नहीं मिली आप भी मतलब बस दो-तीन घंटे की अगर मुलाकात होती है आधे घंटे घंटे की मुलाकात होती है तो आप पाएंगे कि उस परिवार के सदस्यों के जो विचार हैं भाव भाव है बात करने का तरीका है मोरनी है रूम पर कि वह सभी बात वही मैच करती हूं उनके पेरेंट्स कि उनके बच्चों की वाइफ है उनकी भी तुम और आप कितनी भी कोशिश कर लो आपकी बात को मानने के लिए तैयार नहीं होते हैं अपनी बात को ज्यादा इंपोर्टेंट देते हैं और आप पाएंगे कि मतलब जो संस्कार होते हैं उनका ग्रीन नेचर के बातें और अगर बुधवार को लाइट होता है फैमिली का तो बाकी का भी जो है बुलेट होता है हमारी दो कि नहीं कह सकता हूं कई बार 12 फैमिली में कुछ लोग जो है मेरी फैमिली क्या लग रहा है कल दूसरी जगह रहती है या कुछ जगह उनके संस्कार है उनके व्यवहार या उनके थिंकिंग जो डिवेलप दूसरी जगह हुई होती है तो मैं उनके बारे में कर नहीं पाऊंगा कर रहे हैं देख लीजिए कि आपने देखा कि कई बार लोग अपने बूढ़े बुजुर्गों को देख लेते हैं साइड में जो बच्चा देता है जब बच्चे भी उनके साथ बात करते हुए मिलते हैं जैसे उन्होंने हमारे संस्कार जैसे होते हैं हमारा घर
Yah baat bilkul sach hai ki jaise hamaare sanskaar hote hain vaise hamaare vyavahaar hote hain aap kisee parivaar se unhen nae parivaar se milee hai jinase aap kabhee nahin milee aap bhee matalab bas do-teen ghante kee agar mulaakaat hotee hai aadhe ghante ghante kee mulaakaat hotee hai to aap paenge ki us parivaar ke sadasyon ke jo vichaar hain bhaav bhaav hai baat karane ka tareeka hai moranee hai room par ki vah sabhee baat vahee maich karatee hoon unake perents ki unake bachchon kee vaiph hai unakee bhee tum aur aap kitanee bhee koshish kar lo aapakee baat ko maanane ke lie taiyaar nahin hote hain apanee baat ko jyaada importent dete hain aur aap paenge ki matalab jo sanskaar hote hain unaka green nechar ke baaten aur agar budhavaar ko lait hota hai phaimilee ka to baakee ka bhee jo hai bulet hota hai hamaaree do ki nahin kah sakata hoon kaee baar 12 phaimilee mein kuchh log jo hai meree phaimilee kya lag raha hai kal doosaree jagah rahatee hai ya kuchh jagah unake sanskaar hai unake vyavahaar ya unake thinking jo divelap doosaree jagah huee hotee hai to main unake baare mein kar nahin paoonga kar rahe hain dekh leejie ki aapane dekha ki kaee baar log apane boodhe bujurgon ko dekh lete hain said mein jo bachcha deta hai jab bachche bhee unake saath baat karate hue milate hain jaise unhonne hamaare sanskaar jaise hote hain hamaara ghar

#भारत की राजनीति

pawan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए pawan जी का जवाब
Government services (8814983819)
2:58
देखिए कोई भी चीज होती है या कोई भी बजट आज तक हमारे देश में पास किया गया है जो पिछले लगभग 70 सालों से पास किया किया जाता रहा है तो हर बजट में किसी ना किसी और को आप संतुष्ट नहीं कर पाए कि कोई ना कोई वर्ग हमेशा आप से असंतुष्ट रहा है और 2021 का मैं आपको बजट बताऊं तो यह पूरी तरह से लोन फ्रॉम डेवलपमेंट को ध्यान में रखा गया है क्योंकि इस दुनिया के बहुत से देशों ने कहा है कि अगर भारत को एक अच्छे डेवलप्ड कंट्री के अंदर शामिल होना है तो उसी अपना इन्फ्रास्ट्रक्चर डिवेलप करना पड़ेगा इंफ्रास्ट्रक्चर इन द सेंस कि आपके पास अच्छे रोड होने चाहिए अच्छे पोर्ट्स होने चाहिए अच्छे बंदर का होने चाहिए अगर यह चीजें होंगी तो दुनिया की दूसरी कंपनियां भारत में आएंगी वह अपना पैसा लगाएगी पैसा लगाएंगे तो भारत के लोगों को रोजगार देंगे और इसके पॉजिटिव और फोटो क्योंकि कृषि में फैला दो टेक्नोलॉजी हैं वो इनडायरेक्टली रूप से इंटर कर रही हैं और भारत सरकार ने कानून भी बनाए हैं जिसके कुछ बेनिफिट्स और लोग भी हैं और अगर हम में हम बात की बात करूं तो इस बजट में आम आदमी को कुछ ज्यादा फिलहाल बेनिफिट होता नहीं दिखाई दे रहा है लक्की लेकिन जो वर्तमान बजट सरकार ने पेश किया है यह समय की रिक्वायरमेंट थी अगर आज भारत सरकार इस बजट को पेश नहीं करती इस तरह का बजट वह योजनाओं पर ही फोकस कर देती आमजन की योजनाओं पर ही फोकस कर दी आमजन में ही पैसा सारा खर्च कर देती तो जो बड़ा बड़ा इंफ्रास्ट्रक्चर की रिक्वायरमेंट है जिसको देखकर आप दुनिया की मल्टीनैशनल कंपनीज को भारत में एंट्री करवा सकते हैं वह भारत में आना उनके लिए बड़ा मुश्किल हो जाता है क्योंकि जब तक आप दुनिया की दूसरी कंपनियों को इंफ्रास्ट्रक्चर नहीं देंगे उनको लैंड नहीं देंगे उनको फैसिलिटी नहीं देंगे उनको गुड गवर्नेंस नहीं देंगे तब तब वह भारत में नहीं आएंगी जो भारत में नहीं आएंगी इसका मतलब इन्वेस्टमेंट नहीं हुआ इन्वेस्टमेंट नहीं हुआ है कंप्लीमेंट्री नहीं लगी फैक्ट्री नहीं लगी इसका मतलब लोगों को रोजगार नहीं मिला रोजगार नहीं मिला भारत में बेरोजगारी व्याप्त रहेगी लेकिन अगर आप आम आदमी वही पैसा खर्च कर दोगे तो कहीं ना कहीं आपको किस चीज से दूर जा रहे हो कि जो पैसा एयरपोर्ट बनने में लगना चाहिए था या एक बड़ा रेलवे बनने में लगना चाहिए था आपका पैसा लगाना चाहिए था आप पुल बनने में वह पैसा आपने योजना पर या फिर किसी और सिस्टम पर खर्च कर दिया तो उसे क्या है कि यह तीनों चीजें नहीं है तो बाहर की कंपनियां आएंगी नहीं भारतीय कंपनियां नहीं आएगी तो मैंने आपको शक्ल बता दिया कि वह कंपनी स्टाफ नहीं होगी कंपनी नहीं होगी लोगों को रोजगार नहीं मिलेगा रोजगार मिलेगा बेरोजगारी बनी रहेगी इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट किसी भी देश की विकासशील देश की ग्रोसरी प्रोडक्ट बहुत जरूरी है इसलिए जहां तक मेरा पॉइंट है बजट कुल मिलाकर में बजट में 10 में से आठ नंबर दूंगा थैंक यू
Dekhie koee bhee cheej hotee hai ya koee bhee bajat aaj tak hamaare desh mein paas kiya gaya hai jo pichhale lagabhag 70 saalon se paas kiya kiya jaata raha hai to har bajat mein kisee na kisee aur ko aap santusht nahin kar pae ki koee na koee varg hamesha aap se asantusht raha hai aur 2021 ka main aapako bajat bataoon to yah pooree tarah se lon phrom devalapament ko dhyaan mein rakha gaya hai kyonki is duniya ke bahut se deshon ne kaha hai ki agar bhaarat ko ek achchhe devalapd kantree ke andar shaamil hona hai to usee apana inphraastrakchar divelap karana padega imphraastrakchar in da sens ki aapake paas achchhe rod hone chaahie achchhe ports hone chaahie achchhe bandar ka hone chaahie agar yah cheejen hongee to duniya kee doosaree kampaniyaan bhaarat mein aaengee vah apana paisa lagaegee paisa lagaenge to bhaarat ke logon ko rojagaar denge aur isake pojitiv aur photo kyonki krshi mein phaila do teknolojee hain vo inadaayarektalee roop se intar kar rahee hain aur bhaarat sarakaar ne kaanoon bhee banae hain jisake kuchh beniphits aur log bhee hain aur agar ham mein ham baat kee baat karoon to is bajat mein aam aadamee ko kuchh jyaada philahaal beniphit hota nahin dikhaee de raha hai lakkee lekin jo vartamaan bajat sarakaar ne pesh kiya hai yah samay kee rikvaayarament thee agar aaj bhaarat sarakaar is bajat ko pesh nahin karatee is tarah ka bajat vah yojanaon par hee phokas kar detee aamajan kee yojanaon par hee phokas kar dee aamajan mein hee paisa saara kharch kar detee to jo bada bada imphraastrakchar kee rikvaayarament hai jisako dekhakar aap duniya kee malteenaishanal kampaneej ko bhaarat mein entree karava sakate hain vah bhaarat mein aana unake lie bada mushkil ho jaata hai kyonki jab tak aap duniya kee doosaree kampaniyon ko imphraastrakchar nahin denge unako laind nahin denge unako phaisilitee nahin denge unako gud gavarnens nahin denge tab tab vah bhaarat mein nahin aaengee jo bhaarat mein nahin aaengee isaka matalab investament nahin hua investament nahin hua hai kampleementree nahin lagee phaiktree nahin lagee isaka matalab logon ko rojagaar nahin mila rojagaar nahin mila bhaarat mein berojagaaree vyaapt rahegee lekin agar aap aam aadamee vahee paisa kharch kar doge to kaheen na kaheen aapako kis cheej se door ja rahe ho ki jo paisa eyaraport banane mein lagana chaahie tha ya ek bada relave banane mein lagana chaahie tha aapaka paisa lagaana chaahie tha aap pul banane mein vah paisa aapane yojana par ya phir kisee aur sistam par kharch kar diya to use kya hai ki yah teenon cheejen nahin hai to baahar kee kampaniyaan aaengee nahin bhaarateey kampaniyaan nahin aaegee to mainne aapako shakl bata diya ki vah kampanee staaph nahin hogee kampanee nahin hogee logon ko rojagaar nahin milega rojagaar milega berojagaaree banee rahegee imphraastrakchar devalapament kisee bhee desh kee vikaasasheel desh kee grosaree prodakt bahut jarooree hai isalie jahaan tak mera point hai bajat kul milaakar mein bajat mein 10 mein se aath nambar doonga thaink yoo

#रिश्ते और संबंध

pawan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए pawan जी का जवाब
Government services (8814983819)
1:25
डिग्गी का पॉइंट को देखो कि जो वर्ल्ड है उसका डीएनए से कुछ खास रिलेशन नहीं होता भी मींस होता है कि एक महिला गर्भवती कब होती है जब एक महिला और पुरुष दोनों आपस में फिजिकली कांटेक्ट में आते हैं और उनका जो इंटर ट्रांजैक्शंस होता है उसकी वजह से एक महिला ने क्या बोलते हैं गर्भवती होती है लेकिन उससे वर्ल्ड में तो कोई बड़ा नहीं होता बट किसी का भी हो तो बोलने रहेगा जीने का अलग चीज है अगर आपको मैं आपको एक बेसिक भाषा में समझाऊं तो एक कंप्यूटर के अंदर एक मदरबोर्ड होता है एक सीपीयू होता है एक कीबोर्ड होता है तो तीनों के जो फंक्शन अलग-अलग होते हैं मदरबोर्ड की का का मदरबोर्ड ही करेगा और अगर बाकी फंक्शंस काम नहीं कर रहे हैं और आपको मान लो कि सीपीयू को चेंज करना पड़ गया है या आपको कीबोर्ड पर मदर बोर्ड के ऊपर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा एक बच्चा जन्म लेता है जो स्त्री और पुरुष जो आपस में आते फिजिकली कांटेक्ट में आते हैं और फिजिकली कांटेक्ट आने के बाद जब वह ट्रांजिशन करते हैं और उसके बाद जो प्रोसेसिंग शुरू होती बच्चे की बनने की उसका वर्ल्ड से कोई रिलेशन नहीं होता है थैंक यू
Diggee ka point ko dekho ki jo varld hai usaka deeene se kuchh khaas rileshan nahin hota bhee meens hota hai ki ek mahila garbhavatee kab hotee hai jab ek mahila aur purush donon aapas mein phijikalee kaantekt mein aate hain aur unaka jo intar traanjaikshans hota hai usakee vajah se ek mahila ne kya bolate hain garbhavatee hotee hai lekin usase varld mein to koee bada nahin hota bat kisee ka bhee ho to bolane rahega jeene ka alag cheej hai agar aapako main aapako ek besik bhaasha mein samajhaoon to ek kampyootar ke andar ek madarabord hota hai ek seepeeyoo hota hai ek keebord hota hai to teenon ke jo phankshan alag-alag hote hain madarabord kee ka ka madarabord hee karega aur agar baakee phankshans kaam nahin kar rahe hain aur aapako maan lo ki seepeeyoo ko chenj karana pad gaya hai ya aapako keebord par madar bord ke oopar koee prabhaav nahin padega ek bachcha janm leta hai jo stree aur purush jo aapas mein aate phijikalee kaantekt mein aate hain aur phijikalee kaantekt aane ke baad jab vah traanjishan karate hain aur usake baad jo prosesing shuroo hotee bachche kee banane kee usaka varld se koee rileshan nahin hota hai thaink yoo

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
हमें नई तकनीकों को विकसित करने की आवश्यकता क्यों है?Hume Nayi Takneekon Ko Viksit Karne Ki Aavashykta Kyun Hai
pawan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए pawan जी का जवाब
Government services (8814983819)
1:02
नई तकनीकी विकसित करने का सबसे बड़ा रीजन है कि फास्ट ट्रैक डेवलपमेंट अगर तक नहीं होगी तो आप उसी काम को 20 दिन में पूरा कर रहे हो अगर अच्छी तकनीक आपकी का पासवर्ड उसी काम को 5 दिन में भी थोड़ा करके दे रहे हो तो दोनों चीजें में काफी अंतर आता है एक तो आपके पास समय की बचत होती है दूसरा आपके पास जो हुमन पावर है उसको ज्यादा ट्रेन करने की जरूरत नहीं होती है ना इसके लिए आप देख सकते हैं जितने भी पहले आप वेबसाइट या बनवाते थे तो कितना ज्यादा ए स्किल्ड गवर्नमेंट होती थी लेकिन समय के साथ ही इन स्कूल रिक्वायरमेंट धीरे धीरे कम होगी आज ही आदमी भी जो है एपिया वेबसाइट बना सकता है तो चीजें बहुत धीरे-धीरे हो रही है इसके अलावा इंडस्ट्रियल सेक्टर है उसका इस्तेमाल इतना बेहतर कर पाएंगे उनको टाइम की बचत होगी उनको पैसे की बचत होगी इसके साथ-साथ उनको पूर्व अनुमान लगाने की चीजें पता लग जाएगा कोई काम कब करना चाहिए किस तरह करना चाहिए कब हो रहा है बहुत बेनिफिट
Naee takaneekee vikasit karane ka sabase bada reejan hai ki phaast traik devalapament agar tak nahin hogee to aap usee kaam ko 20 din mein poora kar rahe ho agar achchhee takaneek aapakee ka paasavard usee kaam ko 5 din mein bhee thoda karake de rahe ho to donon cheejen mein kaaphee antar aata hai ek to aapake paas samay kee bachat hotee hai doosara aapake paas jo human paavar hai usako jyaada tren karane kee jaroorat nahin hotee hai na isake lie aap dekh sakate hain jitane bhee pahale aap vebasait ya banavaate the to kitana jyaada e skild gavarnament hotee thee lekin samay ke saath hee in skool rikvaayarament dheere dheere kam hogee aaj hee aadamee bhee jo hai epiya vebasait bana sakata hai to cheejen bahut dheere-dheere ho rahee hai isake alaava indastriyal sektar hai usaka istemaal itana behatar kar paenge unako taim kee bachat hogee unako paise kee bachat hogee isake saath-saath unako poorv anumaan lagaane kee cheejen pata lag jaega koee kaam kab karana chaahie kis tarah karana chaahie kab ho raha hai bahut beniphit

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
अधिकतम कितना ईमेल अकाउंट बनाया जा सकता है इसमें कोई खतरा तो नहीं है?Adhiktam Kitna Email Account Banaya Ja Sakta Hai Isme Koi Khatra To Nahi Hai
pawan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए pawan जी का जवाब
Government services (8814983819)
0:42
अधिकतम आप कितने भी ईमेल अकाउंट बना सकते हैं अभी तक किसी तरह का कोई प्रावधान नहीं किया गया है और वैसे भी ईमेल का जो सिस्टम है या समय है वह धीरे-धीरे वर्ड में खत्म हो चुका है आने वाले समय में जो है ईमेल का महत्व इतना नहीं रह जाएगा जितना एक समय में होता था क्योंकि जब से व्हाट्सएप ऐप आया है सिग्नल आया है और इसके अलावा जो इंटरनेट की फैसिलिटी जो दुनिया में बड़ी उससे धीरे-धीरे ईमेल का जो प्रचलन है वह धीरे-धीरे खत्म हो जाएगा और वैसे आप कितने भी अकाउंट बना सकते हो अभी तक कोई इंस्ट्रक्शन नहीं है और इसमें किसी तरह का खतरा भी नहीं है बशर्ते कि आप उस अकाउंट को छुपा रखी है उसकी और ओटीपी उसके पास बड़ा गहरा को अगर आप जरा को आप पूरा तरह मैनेज करके रखें
Adhikatam aap kitane bhee eemel akaunt bana sakate hain abhee tak kisee tarah ka koee praavadhaan nahin kiya gaya hai aur vaise bhee eemel ka jo sistam hai ya samay hai vah dheere-dheere vard mein khatm ho chuka hai aane vaale samay mein jo hai eemel ka mahatv itana nahin rah jaega jitana ek samay mein hota tha kyonki jab se vhaatsep aip aaya hai signal aaya hai aur isake alaava jo intaranet kee phaisilitee jo duniya mein badee usase dheere-dheere eemel ka jo prachalan hai vah dheere-dheere khatm ho jaega aur vaise aap kitane bhee akaunt bana sakate ho abhee tak koee instrakshan nahin hai aur isamen kisee tarah ka khatara bhee nahin hai basharte ki aap us akaunt ko chhupa rakhee hai usakee aur oteepee usake paas bada gahara ko agar aap jara ko aap poora tarah mainej karake rakhen

#टेक्नोलॉजी

pawan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए pawan जी का जवाब
Government services (8814983819)
1:03
देखी सारी नौकरी तो मैं नहीं कहूंगा लेकिन बहुत चेसिन जॉब्स है जिसे आईटी सेक्टर की जॉब है बैंकिंग सेक्टर की जॉब है जो हमारा लो लेवल मजदूरी लेवल की जॉब है या कुछ जॉब जो है एग्रीकल्चर में है बहुत सी जॉब पर इन द आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस जो दोस्त के ऊपर फैक्ट करेगा और क्योंकि वह जैसे-जैसे आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस दूसरे देशों में कामयाब हो चुका है और उसके रिजल्ट जो है पॉजिटिव आ रहे हैं तो इसका इंपैक्ट भारत में पढ़ना भी लाजमी है लेकिन इस बात का यह भी है कि अगर भारत में आर्थिक जय अखिलेश को अपॉइंटमेंट नहीं करेंगे तो कहीं ना कहीं आप आधुनिक टेक्नोलॉजी से भी नहीं जोड़ें तो दो तरह के खतरनाक मोड़ देश के सामने है पहला है कि आप आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस को ऐड कीजिए तो फिर आपकी देश की जनसंख्या जो है वह बेरोजगार हो रही है अगर आप नहीं कर रहे हैं तो फिर आप दुनिया की जो न्यू टेक्नोलॉजी दुनिया में चल रही है उससे अलग कर ले तो दोनों ही चीजें रहेंगी लेकिन आर्टिफीस दिल्ली में जॉब के ऊपर पूरा पूरा करेगी
Dekhee saaree naukaree to main nahin kahoonga lekin bahut chesin jobs hai jise aaeetee sektar kee job hai bainking sektar kee job hai jo hamaara lo leval majadooree leval kee job hai ya kuchh job jo hai egreekalchar mein hai bahut see job par in da aartiphishiyal intelijens jo dost ke oopar phaikt karega aur kyonki vah jaise-jaise aartiphishiyal intelijens doosare deshon mein kaamayaab ho chuka hai aur usake rijalt jo hai pojitiv aa rahe hain to isaka impaikt bhaarat mein padhana bhee laajamee hai lekin is baat ka yah bhee hai ki agar bhaarat mein aarthik jay akhilesh ko apointament nahin karenge to kaheen na kaheen aap aadhunik teknolojee se bhee nahin joden to do tarah ke khataranaak mod desh ke saamane hai pahala hai ki aap aartiphishiyal intelijens ko aid keejie to phir aapakee desh kee janasankhya jo hai vah berojagaar ho rahee hai agar aap nahin kar rahe hain to phir aap duniya kee jo nyoo teknolojee duniya mein chal rahee hai usase alag kar le to donon hee cheejen rahengee lekin aartiphees dillee mein job ke oopar poora poora karegee

#टेक्नोलॉजी

pawan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए pawan जी का जवाब
Government services (8814983819)
1:00
देखिए पाकिस्तान और नेपाल से तुलना में भारत के में इंटरनेट की गति इतनी धीमी होने का रीजन यह है कि पाकिस्तान में जनसंख्या बहुत कम है इसके साथ शान नेपाल में भी जनसंख्या कम है लेकिन भारत में जो जनसंख्या है और इसके साथ-साथ इंटरनेट पर जो यूजर हैं वह बहुत ज्यादा है एक आंकड़े के अनुसार इनकी संख्या जो है ट्राई का एक रिपोर्ट बताती है कि 77 करोड से ज्यादा हो चुकी यानी कि देश की 60% जनसंख्या जो है लगभग इंटरनेट को यूज करना शुरू कर दिया जिससे क्या है कि जो हमारा टेलीकॉम का इंफ्रास्ट्रक्चर है उसके ऊपर बहुत ज्यादा बढ़ रहा जाता है और बढ़ने की वजह से आप एक तो एक टावर से 10 ही लोग मोबाइल चलाते हो या इंटरनेट चलाते हो एक ऊंची टावर से 1000 लोग 2000 लोग इंटरनेट चलाते हो तो यह जो हमारे जितने भी टावर आफ डाटा की और इंटरनेट की कैपेसिटी होती है उसके पति से बाहर आकर उसकी यूजर्स बढ़ जाते हैं तो कहीं ना कहीं इंटरनेट की जो स्पीड है वह धीरे धीरे धीरे धीरे कम होना शुरू हो जाती है
Dekhie paakistaan aur nepaal se tulana mein bhaarat ke mein intaranet kee gati itanee dheemee hone ka reejan yah hai ki paakistaan mein janasankhya bahut kam hai isake saath shaan nepaal mein bhee janasankhya kam hai lekin bhaarat mein jo janasankhya hai aur isake saath-saath intaranet par jo yoojar hain vah bahut jyaada hai ek aankade ke anusaar inakee sankhya jo hai traee ka ek riport bataatee hai ki 77 karod se jyaada ho chukee yaanee ki desh kee 60% janasankhya jo hai lagabhag intaranet ko yooj karana shuroo kar diya jisase kya hai ki jo hamaara teleekom ka imphraastrakchar hai usake oopar bahut jyaada badh raha jaata hai aur badhane kee vajah se aap ek to ek taavar se 10 hee log mobail chalaate ho ya intaranet chalaate ho ek oonchee taavar se 1000 log 2000 log intaranet chalaate ho to yah jo hamaare jitane bhee taavar aaph daata kee aur intaranet kee kaipesitee hotee hai usake pati se baahar aakar usakee yoojars badh jaate hain to kaheen na kaheen intaranet kee jo speed hai vah dheere dheere dheere dheere kam hona shuroo ho jaatee hai

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
क्या भारत में मोबाइल डाटा और सस्ता होना चाहिए?Kya Bharat Mein Mobile Data Aur Sasta Hona Chaiye
pawan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए pawan जी का जवाब
Government services (8814983819)
1:13
हां देखिए भारत में जो है मोबाइल डाटा और भी सस्ता होना चाहिए क्योंकि अभी जो फिलहाल कि अगर कंडीशन देखें तो भारत की आज भी जो है लगभग 39 परसेंट जनसंख्या बीपीएल श्रेणी में जा चुकी है क्योंकि लोग डाउन से पहले यह प्रतिशत जो था 26 से 27% था लेकिन वर्तमान में यह कंडीशन जो है लगभग 39 से 46 परसेंट हो चुके और दूसरा देखे तो लोगों के पास रोजगार नहीं है बेरोजगारी देश में बढ़ी है इसके अलावा हमारा देश का जो किसान वर्ग है मजदूर वर्ग है उन लोगों तक बहुत लोगों तक अभी तक मोबाइल डाटा की जो पहुंचा है वह पूरी तरह नहीं हो पाई है और इसके साथ-साथ अगर हम देखें तो भारत सरकार ने भी डिजिटल इंडिया जो कंप्लेन बनाया है अगर उसको हम पूरी तरह कामयाब बनाना चाहते हैं और उसको एक अच्छे मन में लाना चाहते हैं तो इन सब बातों का ग्राम ध्यान देते हैं तो भारत में जो है मोबाइल डाटा और सस्ता होना चाहिए और इसके साथ-साथ कंपटीशन सरकार को क्रिएट करवाना चाहिए 23 कंपनियों को और को जो है मार्केट में लाना चाहिए ताकि कंपटीशन हो चुके और इसका फायदा जो है डायरेक्टली इनडायरेक्टली कस्टमर को हो सके थैंक यू
Haan dekhie bhaarat mein jo hai mobail daata aur bhee sasta hona chaahie kyonki abhee jo philahaal ki agar kandeeshan dekhen to bhaarat kee aaj bhee jo hai lagabhag 39 parasent janasankhya beepeeel shrenee mein ja chukee hai kyonki log daun se pahale yah pratishat jo tha 26 se 27% tha lekin vartamaan mein yah kandeeshan jo hai lagabhag 39 se 46 parasent ho chuke aur doosara dekhe to logon ke paas rojagaar nahin hai berojagaaree desh mein badhee hai isake alaava hamaara desh ka jo kisaan varg hai majadoor varg hai un logon tak bahut logon tak abhee tak mobail daata kee jo pahuncha hai vah pooree tarah nahin ho paee hai aur isake saath-saath agar ham dekhen to bhaarat sarakaar ne bhee dijital indiya jo kamplen banaaya hai agar usako ham pooree tarah kaamayaab banaana chaahate hain aur usako ek achchhe man mein laana chaahate hain to in sab baaton ka graam dhyaan dete hain to bhaarat mein jo hai mobail daata aur sasta hona chaahie aur isake saath-saath kampateeshan sarakaar ko kriet karavaana chaahie 23 kampaniyon ko aur ko jo hai maarket mein laana chaahie taaki kampateeshan ho chuke aur isaka phaayada jo hai daayarektalee inadaayarektalee kastamar ko ho sake thaink yoo

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
किसानों की कृषि कानूनों को सरकार से वापस लेने की जिद को आप कैसे समझते हैं?Kisaanon Kee Krshi Kaanoonon Ko Sarakaar Se Vaapas Lene Kee Jid Ko Aap Kaise Samajhate Hain
pawan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए pawan जी का जवाब
Government services (8814983819)
2:58
देखिए मैं दो बातों को विशेष रुप से ध्यान दूंगा पहला तो यह है कि किसानों को जो कृषि कानून में क्लोज दिए उन क्लोज को बहुत गहराई से पढ़ना चाहिए और भारत सरकार को भी उन क्लोज को समझाने की पूरी पूरी कोशिश करनी चाहिए क्योंकि कृषि कानूनों में लोग कांटेक्ट फार्मिंग को लेकर मुद्दा उठा रहे हैं तो उसको मैं क्लियर कर देता हूं कांटेक्ट फॉर्मिंग जो होगी वह आपकी एक सीजन की फसल से लेकर यानी कि मिनिमम आप 6 महीने और मैक्सिमम 5 साल तक कर सकते हो और उस कांटेक्ट फॉर्मिंग के दौरान आपका जब मन चाहे आप कांटेक्ट तोड़ सकते हो आप जब मन चाहे आप कांटेक्ट तोड़ सकते हो और जब आपकी कॉन्टेक्ट्स आर्मी के बाद जवाब फसल उगा देते हो और उसका जो आउटपुट होता है उस आउटपुट में जैसे भी रिजल्ट आए जो भी रिजल्ट आया अभी रिजल्ट आया वह तो सामने वाला है उसके ऊपर बाध्य होगा आपके ऊपर कोई बात नहीं होगा जो था इसके अंदर भूमिका की लेनदेन काया भूमि के ऊपर कोई भी बैंक लोन का किसी भी तरह का कोई भी प्रावधान दूसरे के ऊपर नहीं होगा क्योंकि 2 की भूमि किसान की है और किसान को बाध्य नहीं किया जा सकता कुंठित फार्मिंग का जो पॉइंट है उसमें सरकार गलत नहीं है क्योंकि आप का मन है तो आप कांटेक्ट फार्मिंग गुरु आपका मन नहीं है तो आप जैसा प्रोसेसिंग चल रहा है वैसा वैसा करूं इसमें क्या मिस्टेक है दूसरा कानून में सरकार ने ओपन कर दिया है पूरी दुनिया के लिए पूरी इंडिया के लिए सॉरी एक किसान जहां पर भी है वह कहीं भी पर भी भेज सकता है वर्षों से भारत का किसान जो है केवल एपीएमसी इंप्लीमेंटेड रहा है एपीएमसी को अपना सामान बेचने के लिए बाध्य है यह जगजाहिर है हम सब जानते हैं अब सरकार ने क्या किया है कि एपीएमसी के अलावा एपीएमसी तो रहेगी उसके अलावा भी इतनी जगह आपके लिए मार्केट ओपन कर दिया या प्राइवेट को बेचना चाहते हैं उसको भेजो आप डायरेक्ट कस्टमर को भेजना चाहते हो आप उसको भेजो आप डायरेक्ट इंडस्ट्री के अंदर या किसी कारखाने के अंदर फैक्ट्री के अंदर ले जाकर बेचना चाहते हो आप डायरेक्ट वहां भेजो आपके लिए एक ऑप्शन ओपन कर दिया भाई आप जहां भेजना चाहते हो भेज सकते इसके साथ-साथ सरकार भी आपका आई एम एस भी जारी रखेगी और msp1 मिनिमम है और सरकार कह रही है कि मिनिमम पर ध्यान मत दो आप मैक्सिमम पर जाओगे कितना और मिल सकता है और आकर मार्केट में नई प्ले रहेंगे तो आपको और ज्यादा बेनिफिट होगा और ज्यादा बेनिफिट होगा और ज्यादा के रेगुलेशन साइट जो है वह भंडारण को लेकर थोड़ा सरकार को ध्यान रखना चाहिए
Dekhie main do baaton ko vishesh rup se dhyaan doonga pahala to yah hai ki kisaanon ko jo krshi kaanoon mein kloj die un kloj ko bahut gaharaee se padhana chaahie aur bhaarat sarakaar ko bhee un kloj ko samajhaane kee pooree pooree koshish karanee chaahie kyonki krshi kaanoonon mein log kaantekt phaarming ko lekar mudda utha rahe hain to usako main kliyar kar deta hoon kaantekt phorming jo hogee vah aapakee ek seejan kee phasal se lekar yaanee ki minimam aap 6 maheene aur maiksimam 5 saal tak kar sakate ho aur us kaantekt phorming ke dauraan aapaka jab man chaahe aap kaantekt tod sakate ho aap jab man chaahe aap kaantekt tod sakate ho aur jab aapakee kontekts aarmee ke baad javaab phasal uga dete ho aur usaka jo aautaput hota hai us aautaput mein jaise bhee rijalt aae jo bhee rijalt aaya abhee rijalt aaya vah to saamane vaala hai usake oopar baadhy hoga aapake oopar koee baat nahin hoga jo tha isake andar bhoomika kee lenaden kaaya bhoomi ke oopar koee bhee baink lon ka kisee bhee tarah ka koee bhee praavadhaan doosare ke oopar nahin hoga kyonki 2 kee bhoomi kisaan kee hai aur kisaan ko baadhy nahin kiya ja sakata kunthit phaarming ka jo point hai usamen sarakaar galat nahin hai kyonki aap ka man hai to aap kaantekt phaarming guru aapaka man nahin hai to aap jaisa prosesing chal raha hai vaisa vaisa karoon isamen kya mistek hai doosara kaanoon mein sarakaar ne opan kar diya hai pooree duniya ke lie pooree indiya ke lie soree ek kisaan jahaan par bhee hai vah kaheen bhee par bhee bhej sakata hai varshon se bhaarat ka kisaan jo hai keval epeeemasee impleemented raha hai epeeemasee ko apana saamaan bechane ke lie baadhy hai yah jagajaahir hai ham sab jaanate hain ab sarakaar ne kya kiya hai ki epeeemasee ke alaava epeeemasee to rahegee usake alaava bhee itanee jagah aapake lie maarket opan kar diya ya praivet ko bechana chaahate hain usako bhejo aap daayarekt kastamar ko bhejana chaahate ho aap usako bhejo aap daayarekt indastree ke andar ya kisee kaarakhaane ke andar phaiktree ke andar le jaakar bechana chaahate ho aap daayarekt vahaan bhejo aapake lie ek opshan opan kar diya bhaee aap jahaan bhejana chaahate ho bhej sakate isake saath-saath sarakaar bhee aapaka aaee em es bhee jaaree rakhegee aur msp1 minimam hai aur sarakaar kah rahee hai ki minimam par dhyaan mat do aap maiksimam par jaoge kitana aur mil sakata hai aur aakar maarket mein naee ple rahenge to aapako aur jyaada beniphit hoga aur jyaada beniphit hoga aur jyaada ke reguleshan sait jo hai vah bhandaaran ko lekar thoda sarakaar ko dhyaan rakhana chaahie

#भारत की राजनीति

pawan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए pawan जी का जवाब
Government services (8814983819)
2:13
देखिए वर्तमान परिस्थितियों में पक्षियों का कम होने का मल्टीपल रीजन से पहला तो मैं कहूंगा कि जो जलवायु परिवर्तन है देश में सबसे ज्यादा उसका नुकसान हो रहा है क्योंकि जलवायु परिवर्तन के अकॉर्डिंग पक्षी जो है अपने शरीर को ढाल नहीं पाते हैं और डालने नहीं पाने के कारण उनके शरीर में मल्टीपल विश्वजीत हो जाते हैं काफी बीमारियां उनके शरीर को घेर लेते हैं जिसकी वजह से जैसा वह सोचते हैं या जैसा उनकी जो बॉडी की पोजीशन होता है या सिस्टम होता है वह अचानक परिवर्तन को सहन नहीं कर पाता है और इससे उनमें प्रजनन क्षमता कम हो जाती है और इसके साथ-साथ उनमें जो है बीमारियां बहुत ज्यादा हो जाती हैं और अंत में उनकी मृत्यु हो जाती है और दूसरों मैं कहूंगा कि जिस तरह से खेतों में फर्टिलाइजर का जिस तरह से प्रयोग हुआ है और फर्टिलाइजर का प्रयोग होने से पक्षी जब वह उन दानों को खाते हैं उन चीजों को खाते हैं तो ऐसे होते हैं जिनकी कैपेसिटी उतनी नहीं होती है कि वह उससे केमिकल को या उससे फर्टिलाइजर से बनाई गई फसल का खाने से मतलब जीवित रह सके तो अंत जो जो है वह धीरे-धीरे उनमें कई तरह की बीमारियां पैदा होती हैं और वह धीरे-धीरे मर जाते हैं इसके अलावा जिस तरह से बहुत से पक्षी ऐसे होते हैं जो कि गले सड़े जिओ के ऊपर निर्भर होते हैं जो मतलब एक तरह से हमारे इन्वायरमेंट को सफाई करने का काम करते हैं लेकिन पिछले कुछ वर्षों में जिस तरह से पशुओं के लिए लोगों ने दूध को बढ़ाने के लिए केमिकल्स का यूज किया है या इसके अलावा काफी ऐसी चीजों का यूज किया है जिसकी वजह से काफी केमिकल से ऐसे हैं जो कि पक्षियों के लिए जो वह पशु मर जाते हैं तो वह अल्टीमेटली उन पक्षियों के लिए भी उनको चांद आए होते तो उससे भी काफी पक्षी जो है कम हो गए इसके अलावा जिस तरह से देश में हो जोगी करने की प्रोसेस चली है जिस तरह से हमार देश में अलग-अलग तरह से बिजनेसेस ओपन किए गए हैं क्या निकल को ज्यादा बढ़ावा दिया गया है इसका सी ऐसी चीज है जो पक्षियों के वर्तमान समय में हमारे देश में कम होने का एक बड़ा रीजन हो सकता है थैंक यू
Dekhie vartamaan paristhitiyon mein pakshiyon ka kam hone ka malteepal reejan se pahala to main kahoonga ki jo jalavaayu parivartan hai desh mein sabase jyaada usaka nukasaan ho raha hai kyonki jalavaayu parivartan ke akording pakshee jo hai apane shareer ko dhaal nahin paate hain aur daalane nahin paane ke kaaran unake shareer mein malteepal vishvajeet ho jaate hain kaaphee beemaariyaan unake shareer ko gher lete hain jisakee vajah se jaisa vah sochate hain ya jaisa unakee jo bodee kee pojeeshan hota hai ya sistam hota hai vah achaanak parivartan ko sahan nahin kar paata hai aur isase unamen prajanan kshamata kam ho jaatee hai aur isake saath-saath unamen jo hai beemaariyaan bahut jyaada ho jaatee hain aur ant mein unakee mrtyu ho jaatee hai aur doosaron main kahoonga ki jis tarah se kheton mein phartilaijar ka jis tarah se prayog hua hai aur phartilaijar ka prayog hone se pakshee jab vah un daanon ko khaate hain un cheejon ko khaate hain to aise hote hain jinakee kaipesitee utanee nahin hotee hai ki vah usase kemikal ko ya usase phartilaijar se banaee gaee phasal ka khaane se matalab jeevit rah sake to ant jo jo hai vah dheere-dheere unamen kaee tarah kee beemaariyaan paida hotee hain aur vah dheere-dheere mar jaate hain isake alaava jis tarah se bahut se pakshee aise hote hain jo ki gale sade jio ke oopar nirbhar hote hain jo matalab ek tarah se hamaare invaayarament ko saphaee karane ka kaam karate hain lekin pichhale kuchh varshon mein jis tarah se pashuon ke lie logon ne doodh ko badhaane ke lie kemikals ka yooj kiya hai ya isake alaava kaaphee aisee cheejon ka yooj kiya hai jisakee vajah se kaaphee kemikal se aise hain jo ki pakshiyon ke lie jo vah pashu mar jaate hain to vah alteemetalee un pakshiyon ke lie bhee unako chaand aae hote to usase bhee kaaphee pakshee jo hai kam ho gae isake alaava jis tarah se desh mein ho jogee karane kee proses chalee hai jis tarah se hamaar desh mein alag-alag tarah se bijaneses opan kie gae hain kya nikal ko jyaada badhaava diya gaya hai isaka see aisee cheej hai jo pakshiyon ke vartamaan samay mein hamaare desh mein kam hone ka ek bada reejan ho sakata hai thaink yoo

#जीवन शैली

bolkar speaker
परिवार के साथ बुढापा अच्छे से और शांति से काटने का मूल मंत्र क्या है?Parivaar Ke Saath Budhapa Ache Se Aur Shanti Se Kaatne Ka Mool Mantra Kya Hai
pawan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए pawan जी का जवाब
Government services (8814983819)
2:52
एक ही परिवार के साथ बुढापा अच्छे से और शांति से कान काटने का मूल मंत्र है शांति से बैठे हैं जवाब वर्ध अवस्था में आ जाते हो तो आपकी विचार आपके थॉट्स और आपके द्वारा किए गए आपकी जिंदगी में जिंदगी के कार्य जो हैं युवा पीढ़ी के लिए आज की डिग्री किसी काम के नहीं होते तो पहले मैं यह कहूंगा कि बुढ़ापे के अंदर इंसान को बिल्कुल सही हो जाना चाहिए उसको जिस तरह से उसके बेटे हैं या बोलते हैं या उसकी बेटियां हैं जिस तरह से कहते हैं उसी हिसाब से काम करना चाहिए क्योंकि वर्तमान में घर से बाहर के जो कार्य है वह लोग करते हैं और घर से बाहर के कार्यों में उन्हें नई जनरेशन से सामना करना पड़ रहा है और नई जनरेशन से सामना करने के लिए उन्हें अलग तरह के डिसीजन लेने पढ़ रहे हो सकता है कि जब इंसान बुढ़ापा खुद जवानी में था तो उस समय परिस्थिति या कुछ और रही होंगी लेकिन अगर आज भी वही की वही परिस्थितियां रहे तो आज के जनेशन उसको मानने के लिए तैयार नहीं हो पाएगी क्योंकि उसके सामने पुलिस तुम्हें सबसे अच्छा और सबसे इंपोर्टेंट पॉइंट यही कहूंगा कि बुढ़ापे में आप बिल्कुल घर पर चलती रही बेटों के साथ तालमेल बिठा कर रखी है घर में जो अमाउंट आती है पैसा आता है जो चीज आप को संभाला जाता है उसको आप अच्छे से मतलब मैसेज कीजिए इसके अलावा जो मतलब घर की छोटी-छोटी बेसिक एमेनिटीज है बेसिक चीजें हैं उसको आप जितना मैनेज कर सकते हैं वह मेहनत कीजिए और बुढ़ापे में मैं एक को कम बाद इंसान को यह सुबह शाम जो है मतलब जब तक हो सकता है चलने की उसकी प्रतिक्रिया है या चलेगी जब तक है तब तक उसे योगा करना चाहिए बाहर जाना चाहिए दो-तीन घंटे जो है मतलब खेतों में बिताने चाहिए अगर आप शहर में रहते हो तो एक दो घंटा को पार्क में इधर से उधर उधर से उधर घूमना चाहिए ताकि आपका माइंड फ्रेश रहेगा आपको सोचने का कली पर जो है वह इंसान का बढ़ता जाता है जो मैंने कहा ऐसा कर रही है वह डिसीजन उसका मजबूत होता है क्योंकि परिस्थितियां अलग है दूसरा मैं यह कहूंगा कि बुढ़ापे में इंसान को जो है जितना ज्यादा वह एक्सरसाइज योगा पर छोटा-मोटा जो चीजें रखते हैं जहां पर भी उसको करना चाहिए इसके अलावा बेतुकी बातों के ऊपर किसी भी तरह का परिवार में इंटरफेयर नहीं करना चाहिए क्योंकि वह परिवार के महत्वपूर्ण सदस्य हैं लेकिन परिवार कई बार परेशान क्यों हो जाता है क्योंकि अन्य एसेसरी परेशान करते हैं दूसरा अननेसेसरी बातों को ठोकते हैं जो कि रिलेवेंट नहीं है किसी पर तुम्हें अपने प्रश्न पर कहा कि वे शांति से बुढ़ापे में हराया दूसरे परिवार को भी उनकी उनको सारी बातें बतानी चाहिए कि वह आज की प्रवृत्ति है सारी चाबी आप बिल्कुल सही हो अपने अकाउंट को बताना चाहिए कि आप बिल्कुल सही हो अपनी जगह हमारा सोसाइटी आसमा जो है एक्सेप्ट करने के लिए एग्री नहीं है थैंक यू
Ek hee parivaar ke saath budhaapa achchhe se aur shaanti se kaan kaatane ka mool mantr hai shaanti se baithe hain javaab vardh avastha mein aa jaate ho to aapakee vichaar aapake thots aur aapake dvaara kie gae aapakee jindagee mein jindagee ke kaary jo hain yuva peedhee ke lie aaj kee digree kisee kaam ke nahin hote to pahale main yah kahoonga ki budhaape ke andar insaan ko bilkul sahee ho jaana chaahie usako jis tarah se usake bete hain ya bolate hain ya usakee betiyaan hain jis tarah se kahate hain usee hisaab se kaam karana chaahie kyonki vartamaan mein ghar se baahar ke jo kaary hai vah log karate hain aur ghar se baahar ke kaaryon mein unhen naee janareshan se saamana karana pad raha hai aur naee janareshan se saamana karane ke lie unhen alag tarah ke diseejan lene padh rahe ho sakata hai ki jab insaan budhaapa khud javaanee mein tha to us samay paristhiti ya kuchh aur rahee hongee lekin agar aaj bhee vahee kee vahee paristhitiyaan rahe to aaj ke janeshan usako maanane ke lie taiyaar nahin ho paegee kyonki usake saamane pulis tumhen sabase achchha aur sabase importent point yahee kahoonga ki budhaape mein aap bilkul ghar par chalatee rahee beton ke saath taalamel bitha kar rakhee hai ghar mein jo amaunt aatee hai paisa aata hai jo cheej aap ko sambhaala jaata hai usako aap achchhe se matalab maisej keejie isake alaava jo matalab ghar kee chhotee-chhotee besik emeniteej hai besik cheejen hain usako aap jitana mainej kar sakate hain vah mehanat keejie aur budhaape mein main ek ko kam baad insaan ko yah subah shaam jo hai matalab jab tak ho sakata hai chalane kee usakee pratikriya hai ya chalegee jab tak hai tab tak use yoga karana chaahie baahar jaana chaahie do-teen ghante jo hai matalab kheton mein bitaane chaahie agar aap shahar mein rahate ho to ek do ghanta ko paark mein idhar se udhar udhar se udhar ghoomana chaahie taaki aapaka maind phresh rahega aapako sochane ka kalee par jo hai vah insaan ka badhata jaata hai jo mainne kaha aisa kar rahee hai vah diseejan usaka majaboot hota hai kyonki paristhitiyaan alag hai doosara main yah kahoonga ki budhaape mein insaan ko jo hai jitana jyaada vah eksarasaij yoga par chhota-mota jo cheejen rakhate hain jahaan par bhee usako karana chaahie isake alaava betukee baaton ke oopar kisee bhee tarah ka parivaar mein intarapheyar nahin karana chaahie kyonki vah parivaar ke mahatvapoorn sadasy hain lekin parivaar kaee baar pareshaan kyon ho jaata hai kyonki any esesaree pareshaan karate hain doosara ananesesaree baaton ko thokate hain jo ki rilevent nahin hai kisee par tumhen apane prashn par kaha ki ve shaanti se budhaape mein haraaya doosare parivaar ko bhee unakee unako saaree baaten bataanee chaahie ki vah aaj kee pravrtti hai saaree chaabee aap bilkul sahee ho apane akaunt ko bataana chaahie ki aap bilkul sahee ho apanee jagah hamaara sosaitee aasama jo hai eksept karane ke lie egree nahin hai thaink yoo

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
घर के अंदर मंदिर किस जगह बनाए?Ghar Ke Andar Mandir Kis Jagah Banaye
pawan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए pawan जी का जवाब
Government services (8814983819)
0:59
घर के अंदर जो मंदिर बनाने का जो स्थान है वैसे तो यह कौन के अंदर ही बनाया जाता है और मकान में अगर एक या दो ही रूम है तो आप इन दोनों रूम ओके बिटवीन में ऊपर वाले स्थान पर एक आप लकड़ी का मंदिर जो है उस टेबल पर सकते हैं और दूसरा घर बड़ा मकान है तो उसमें मैं यह कहूंगा कि एक उसमें या तो आप एक जगह सेट कर दीजिए जिसमें कोई बाथरूम में यार वहां पर आसपास में किसी तरह का कोई बाथरूम टॉयलेट या ऐसा कोई चीज नहीं होनी चाहिए और वहां पर अगर आप तो आप पूजा करते हो तो उसका दूर रिफ्लेक्शन है पूरे घर को अफेक्ट हो जाना चाहिए डायरेक्टली इनडायरेक्टली तो ऐसी जगह जो लोग ज्यादा स्त्री चोली आध्यात्मिक होते हैं तो उन लोगों को वह चीजें नजर भी आती रहे थोड़ी-थोड़ी धीरे-धीरे आते समय जाते समय कुछ करते समय वह चीज डायरेक्शन में रहती तो और ज्यादा बेनिफिट
Ghar ke andar jo mandir banaane ka jo sthaan hai vaise to yah kaun ke andar hee banaaya jaata hai aur makaan mein agar ek ya do hee room hai to aap in donon room oke bitaveen mein oopar vaale sthaan par ek aap lakadee ka mandir jo hai us tebal par sakate hain aur doosara ghar bada makaan hai to usamen main yah kahoonga ki ek usamen ya to aap ek jagah set kar deejie jisamen koee baatharoom mein yaar vahaan par aasapaas mein kisee tarah ka koee baatharoom toyalet ya aisa koee cheej nahin honee chaahie aur vahaan par agar aap to aap pooja karate ho to usaka door riphlekshan hai poore ghar ko aphekt ho jaana chaahie daayarektalee inadaayarektalee to aisee jagah jo log jyaada stree cholee aadhyaatmik hote hain to un logon ko vah cheejen najar bhee aatee rahe thodee-thodee dheere-dheere aate samay jaate samay kuchh karate samay vah cheej daayarekshan mein rahatee to aur jyaada beniphit

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
क्या खेती करके कोई अमीर बन सकता है अगर हां तो कैसे?Kya Kheti Karke Koi Ameer Ban Sakta Hai Agar Haan To Kaise
pawan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए pawan जी का जवाब
Government services (8814983819)
1:08
देखिए खेती करके अमीर बना जा सकता है जो आज देश के अंदर किसानों के आंदोलन का जो बना हुआ है सिस्टम और जिसमें कॉर्पोरेट कंपनी आना चाहती तो कहीं ना कहीं उन्हें दिखाई दे गया कि आने वाले समय में खेती का जो है मोस्ट इंपोर्टेंट पार्ट मैं आपको बताऊंगा कि आज से दो से चार पांच साल के बाद जो है दुनिया के अंदर या हमारे देश के अंदर जो ऑर्गेनिक प्रोडक्ट्स की डिमांड इतनी ज्यादा बढ़ जाएगी कि मतलब उसे पूरा करना भी हमारे लिए बहुत मुश्किल हो जाएगा क्योंकि जैसे जैसे दुनिया में अवेयरनेस बढ़ रही है जैसे-जैसे लाइफस्टाइल बढ़ रही है जैसे जैसी बीमारियां बढ़ रही है अलग-अलग टाइप की 20 बढ़ रही है वैसे-वैसे लोगों में एक अवेयरनेस पड़ रही है कि किस तरह से हम इन चीजों से बन सकते हैं पहले क्या होता था कि लोग ज्यादातर फोकस करते थे कि जितना ज्यादा कम पैसा खर्च कर की कोई वस्तु अवेलेबल हो जाए वह भेज दे लेकिन आज जो है कोई भी वस्तु इंसान खरीदा है तो सबसे पहले उसकी क्वालिटी और उसके साथ-साथ उसकी हेल्थ कॉन्शियस या उसके हमारे स्वास्थ्य के ऊपर क्या प्रभाव पड़ सकते हैं उन चीजों के ऊपर ज्यादा प्रकट करता है थैंक यू
Dekhie khetee karake ameer bana ja sakata hai jo aaj desh ke andar kisaanon ke aandolan ka jo bana hua hai sistam aur jisamen korporet kampanee aana chaahatee to kaheen na kaheen unhen dikhaee de gaya ki aane vaale samay mein khetee ka jo hai most importent paart main aapako bataoonga ki aaj se do se chaar paanch saal ke baad jo hai duniya ke andar ya hamaare desh ke andar jo orgenik prodakts kee dimaand itanee jyaada badh jaegee ki matalab use poora karana bhee hamaare lie bahut mushkil ho jaega kyonki jaise jaise duniya mein aveyaranes badh rahee hai jaise-jaise laiphastail badh rahee hai jaise jaisee beemaariyaan badh rahee hai alag-alag taip kee 20 badh rahee hai vaise-vaise logon mein ek aveyaranes pad rahee hai ki kis tarah se ham in cheejon se ban sakate hain pahale kya hota tha ki log jyaadaatar phokas karate the ki jitana jyaada kam paisa kharch kar kee koee vastu avelebal ho jae vah bhej de lekin aaj jo hai koee bhee vastu insaan khareeda hai to sabase pahale usakee kvaalitee aur usake saath-saath usakee helth konshiyas ya usake hamaare svaasthy ke oopar kya prabhaav pad sakate hain un cheejon ke oopar jyaada prakat karata hai thaink yoo

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
महात्मा गांधी ने चरखे को राष्ट्रवाद का प्रतीक क्यों चुना?Mahatma Gandhi Charkhe Ko Raashtrvad Ka Prateek Kyun Chuna
pawan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए pawan जी का जवाब
Government services (8814983819)
0:52
महात्मा गांधी जी ने राखी को राष्ट्रवाद का प्रतीक मांगने का बड़ा रीजन था कि एक आम आदमी से जुड़ा जहां तक हम देखते हैं कि चरखा जो है उस जमाने में जो गांव के लोग और जो बिल्कुल नॉर्मल और गरीब तबके के लोग थे वह लोगों का एक आय का साधन होता था और उन लोगों को प्रमोट करने के लिए गांधी को गांधी जी ने इन चीजों का सहारा दिया ताकि लोग जो है उस चरखे की पीछे छुपी हुई महत्वता को और उसके पीछे छुपे हुए आर्थिक को और उसके पीछे छुपे हुए लोगों के एक रिस्पेक्ट को या फिर मोनू भावनाओं को समझें और उसके अनुसार जो है निर्णय लें और आने वाली सरकारी नीचे है उसके अनुसार कार्य करने के लिए उसके ऊपर बंदे चरखी को जो है राष्ट्रवाद का एक प्रतीक घोषित करती है थैंक यू
Mahaatma gaandhee jee ne raakhee ko raashtravaad ka prateek maangane ka bada reejan tha ki ek aam aadamee se juda jahaan tak ham dekhate hain ki charakha jo hai us jamaane mein jo gaanv ke log aur jo bilkul normal aur gareeb tabake ke log the vah logon ka ek aay ka saadhan hota tha aur un logon ko pramot karane ke lie gaandhee ko gaandhee jee ne in cheejon ka sahaara diya taaki log jo hai us charakhe kee peechhe chhupee huee mahatvata ko aur usake peechhe chhupe hue aarthik ko aur usake peechhe chhupe hue logon ke ek rispekt ko ya phir monoo bhaavanaon ko samajhen aur usake anusaar jo hai nirnay len aur aane vaalee sarakaaree neeche hai usake anusaar kaary karane ke lie usake oopar bande charakhee ko jo hai raashtravaad ka ek prateek ghoshit karatee hai thaink yoo

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
भारत देश में ऐसा क्या है जिसे स्वर्गसे भी सुंदर कहते हैं?Bharat Desh Mein Aisa Kya Hai Jise Svargse Bhe Sundar Kehte Hain
pawan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए pawan जी का जवाब
Government services (8814983819)
2:55
देखिए सबसे पहले तो भारत देश का जो कल्चर है वह विविधता में एकता का सबसे बड़ा प्रमाण हमारे देश में हमारा देश जो है 3287263 वर्ग किलोमीटर में फैला हुआ है जिसमें आप एक मान्यता मानी जाती है कि हर दो 4 किलोमीटर के बाद भाषा बदल जाती है सॉरी बोली बदल जाती है और 200 300 किलोमीटर के बाद आपकी जरूरत भाषा में क्या है बेसिक परिवर्तन आ जाते हैं आप कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक कि अगर यात्रा करते हो तो आप आते हो कि बहुत ही अच्छी चीजें हैं बहुत सारे सा और कल्चर है जो कि आपको डिफरेंट डिफरेंट सेगमेंट में आपको देखने को मिलता है कि 1 इंडियन की जो कन्याकुमारी में पैदा हुआ है या जो तमिलनाडु में पैदा हुआ है वह अपनी पूरी जिंदगी भर पूरी इंडिया को नहीं देख पाता तो पहला तो मैं कहूंगा कल चले कैसा है जोकि बहुत बड़ा से कमेंट है हमारे देश के लिए इसके साथ-साथ बड़ा डेमोक्रेटिक कंट्री जो कि इतनी ज्यादा पार्टियों के होते हुए इतनी ज्यादा देश में अस्थिरता होते हुए इतनी ज्यादा जनसंख्या होते हुए बिगड़ डेमोक्रेसी को बहुत ज्यादा बनाएंगे कुछ परिस्थितियों को छोड़ दें तो आज भी जो है दूसरी कंट्री की तुलना में भारत में भाईचारे का और जो आपसी संबंध का आज आप सिर्फ तक का जो प्रमाण है वह आज भी हम एक बहुत बड़ा पुख्ता उदाहरण है दुनिया के सामने तो और इसके अलावा इंडियन की जो बरेली जीवन सितम है कितने धर्मों का होने के बावजूद भी आज हमारा देश से मतलब पूरी दुनिया को एक सुधरे पूरी इंडिया को शुद्ध एक सूत्र में बांधे हुए इतने धर्मों के लोग कुछ एग्जांपल्स को छोड़ दें तो एक साथ रहने पर बहुत अच्छा एक मतलब उदाहरण पेश करते हैं यह सब सारी चीजें जो है दुनिया के सामने भारत को एक जो हैं वह स्वर्ग घोषित करते हैं और इसके अलावा हमारा एक बहुत बड़ा स्वर्ग अगर मैं कहूं तो हिमालय का जो पार्ट है जिस जिस में सिक्किम अरुणाचल प्रदेश शासन है उत्तराखंड है हिमाचल प्रदेश है जम्मू कश्मीर है इसके अलावा आपके जो है नॉर्थ ईस्ट के बाकी बचे हुए जो राज्य हैं तो वह भी मतलब मतलब उनका आगरा क्षेत्रफल मापने हो तो कई यूरोपियन और अफ्रीकन कंट्री यों के पूरे क्षेत्रफल से भी दो तीन गुना ज्यादा है तो यानी कि आज दुनिया के 50 देशों को छोटे-छोटे देशों को श्रम आएंगे तो इस समय यह सब सारी चीजें जो है मतलब एक सुंदरता एकता विविधता में एकता लोकतंत्र का एक बहुत बड़ा उदाहरण इस भारत में जो है दुनिया के सामने हमें स्वर्ग से भी सुंदर मैसेज करते हो दूसरा संतों की नगरी इससे बेहतर भारत में कुछ नहीं हो सकता है थैंक यू
Dekhie sabase pahale to bhaarat desh ka jo kalchar hai vah vividhata mein ekata ka sabase bada pramaan hamaare desh mein hamaara desh jo hai 3287263 varg kilomeetar mein phaila hua hai jisamen aap ek maanyata maanee jaatee hai ki har do 4 kilomeetar ke baad bhaasha badal jaatee hai soree bolee badal jaatee hai aur 200 300 kilomeetar ke baad aapakee jaroorat bhaasha mein kya hai besik parivartan aa jaate hain aap kashmeer se lekar kanyaakumaaree tak ki agar yaatra karate ho to aap aate ho ki bahut hee achchhee cheejen hain bahut saare sa aur kalchar hai jo ki aapako dipharent dipharent segament mein aapako dekhane ko milata hai ki 1 indiyan kee jo kanyaakumaaree mein paida hua hai ya jo tamilanaadu mein paida hua hai vah apanee pooree jindagee bhar pooree indiya ko nahin dekh paata to pahala to main kahoonga kal chale kaisa hai joki bahut bada se kament hai hamaare desh ke lie isake saath-saath bada demokretik kantree jo ki itanee jyaada paartiyon ke hote hue itanee jyaada desh mein asthirata hote hue itanee jyaada janasankhya hote hue bigad demokresee ko bahut jyaada banaenge kuchh paristhitiyon ko chhod den to aaj bhee jo hai doosaree kantree kee tulana mein bhaarat mein bhaeechaare ka aur jo aapasee sambandh ka aaj aap sirph tak ka jo pramaan hai vah aaj bhee ham ek bahut bada pukhta udaaharan hai duniya ke saamane to aur isake alaava indiyan kee jo barelee jeevan sitam hai kitane dharmon ka hone ke baavajood bhee aaj hamaara desh se matalab pooree duniya ko ek sudhare pooree indiya ko shuddh ek sootr mein baandhe hue itane dharmon ke log kuchh egjaampals ko chhod den to ek saath rahane par bahut achchha ek matalab udaaharan pesh karate hain yah sab saaree cheejen jo hai duniya ke saamane bhaarat ko ek jo hain vah svarg ghoshit karate hain aur isake alaava hamaara ek bahut bada svarg agar main kahoon to himaalay ka jo paart hai jis jis mein sikkim arunaachal pradesh shaasan hai uttaraakhand hai himaachal pradesh hai jammoo kashmeer hai isake alaava aapake jo hai north eest ke baakee bache hue jo raajy hain to vah bhee matalab matalab unaka aagara kshetraphal maapane ho to kaee yooropiyan aur aphreekan kantree yon ke poore kshetraphal se bhee do teen guna jyaada hai to yaanee ki aaj duniya ke 50 deshon ko chhote-chhote deshon ko shram aaenge to is samay yah sab saaree cheejen jo hai matalab ek sundarata ekata vividhata mein ekata lokatantr ka ek bahut bada udaaharan is bhaarat mein jo hai duniya ke saamane hamen svarg se bhee sundar maisej karate ho doosara santon kee nagaree isase behatar bhaarat mein kuchh nahin ho sakata hai thaink yoo

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
भारत एक विकसित देश बन पाएगा?bhaarat ek vikasit desh ban paega
pawan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए pawan जी का जवाब
Government services (8814983819)
1:11
देखिए यह तो समय बताएगा क्योंकि जिस तरह से भारत की जनसंख्या बढ़ रही है जिस तरह से देश की अर्थव्यवस्था फिलहाल में दान गई है जिस तरह से राजनीतिक परिदृश्य देश में चल रहा है तो इन सब चीजों को अगर बहुत बेहतरीन तरीके से लागू किया जाता है देश में और देश की जनता जो है देश की सरकार का साथ देती है और साथ साथ में देश की सरकार भी जो है जनता के विकास करने के लिए जनता की भलाई के लिए और जनता के अंदर जो छिपी हुई स्किल है या योग्यता है उसको निकालने में अगर सरकार कामयाब हो जाती है तो संभवत भारत एक विकसित देश बन सकता है क्योंकि विकसित देश बनने के लिए मजबूत अर्थव्यवस्था मजबूत देश के जो आर्मी चेस्ट में है या देश का जो सुरक्षा सुरक्षा का जो पहलू है वह मजबूत होना चाहिए और इसके इसके साथ-साथ जो है देश से प्रगति के क्रम में निरंतर भरने के लिए नई नई टेक्नोलॉजी नई नई तरह की प्रोसेसिंग यह सब चीजें जो जो है यह आज की रिक्वायरमेंट है अगर हम इन चीजों पर ज्यादा फोकस करते हैं तो वे चिकली का डेफिनेटली दे जो है विकासशील के अनुसार बीते हर चीज का बनता है
Dekhie yah to samay bataega kyonki jis tarah se bhaarat kee janasankhya badh rahee hai jis tarah se desh kee arthavyavastha philahaal mein daan gaee hai jis tarah se raajaneetik paridrshy desh mein chal raha hai to in sab cheejon ko agar bahut behatareen tareeke se laagoo kiya jaata hai desh mein aur desh kee janata jo hai desh kee sarakaar ka saath detee hai aur saath saath mein desh kee sarakaar bhee jo hai janata ke vikaas karane ke lie janata kee bhalaee ke lie aur janata ke andar jo chhipee huee skil hai ya yogyata hai usako nikaalane mein agar sarakaar kaamayaab ho jaatee hai to sambhavat bhaarat ek vikasit desh ban sakata hai kyonki vikasit desh banane ke lie majaboot arthavyavastha majaboot desh ke jo aarmee chest mein hai ya desh ka jo suraksha suraksha ka jo pahaloo hai vah majaboot hona chaahie aur isake isake saath-saath jo hai desh se pragati ke kram mein nirantar bharane ke lie naee naee teknolojee naee naee tarah kee prosesing yah sab cheejen jo jo hai yah aaj kee rikvaayarament hai agar ham in cheejon par jyaada phokas karate hain to ve chikalee ka dephinetalee de jo hai vikaasasheel ke anusaar beete har cheej ka banata hai
URL copied to clipboard