#टेक्नोलॉजी

lyadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए lyadav जी का जवाब
Unknown
2:07
आप अपने क्षेत्र में नेतागिरी करना चाहते हैं तो उसके लिए निम्नलिखित उपाय आप कर सकते हैं सबसे पहले आप अपने क्षेत्र के ऑटो रिक्शा चालक सब्जी वाले गुमटी वाले इत्यादि लोगों से अच्छा व्यवहार करें तथा उन्हें कोई ना कोई फायदा पहुंचा है यही लोग आपका रिव्यू बनाते हैं और लोगों के बीच में आपकी बातों को फैलाते हैं इसके अलावा आप अपने क्षेत्र में कोई आयोजन करा सकते हैं भोजन प्रसादी कर लोगों को अपने साथ जोड़ सकते हैं याद रखें किसी आयोजन में जाने का जब तक कोई मतलब ना ही नहीं है जब तक आप उस आयोजन में अपनी फोटोग्राफ्स नहीं लेते हैं या किसी बड़े व्यक्ति से नहीं मिलते जुलते हैं या उसके साथ फोटो नहीं लेते हैं इसके अलावा आप सामाजिक संगठन बना सकते हैं समाज सेवा के कई काम कर सकते हैं जो लोगों की नजर में आने के लिए सबसे अच्छा उपाय है सोशल मीडिया पर भी आपको अच्छी तरह से एक्टिव रहना होगा आपने जिंदगी में कितने ही छोटे बड़े काम किए हैं उन सभी के फोटोग्राफ्स आपके पास होना चाहिए यह बात मायने नहीं रखती कि आपने जूस कितनी बार भेजा है अगर आपने भेजा है तो वह किसी से सिंपैथी या भावनात्मक रूप से जुड़ने का सबसे अच्छा तरीका है इसके अलावा आप सभी से मिलना जुलना बड़ों का सम्मान सभी से प्यार से बात करना इत्यादि चीजें भी कर सकते हैं लोग प्रतिष्ठित व्यक्ति से अपनी रिश्तेदारी इसीलिए बताते हैं क्योंकि यह किसी से बात करने और किसी जगह पर जाने के लिए सबसे अच्छा तरीका होता है लेकिन जो की बात राजनीति की है तो सबसे महत्वपूर्ण बात परिवारवाद और पैसा ही हो इसीलिए सोच समझ कर अपना समय इसमें व्यर्थ करें

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
डेकोरेशन या सजावट कितने प्रकार की होती है? हमें इसे करते समय किन बातों का ध्यान रखना चाहिए?Dekoreshan Ya Sajaavat Kitane Prakaar Kee Hotee Hai? Hamen Ise Karate Samay Kin Baaton Ka Dhyaan Rakhana Chaahie
lyadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए lyadav जी का जवाब
Unknown
1:35

#भारत की राजनीति

lyadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए lyadav जी का जवाब
Unknown
2:05

#पढ़ाई लिखाई

lyadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए lyadav जी का जवाब
Unknown
0:42
ऐसा कहा जाता है पुरानी पुस्तक और पुरानी दारु को पढ़ने और उसे पीने वाला ही समझ सकता है इस प्रकार हम कह सकते हैं जो जितनी अधिक और इतिहास की किताबें पढ़कर समझ सकता है वही अधिक बुद्धिमान कहलाएगा रही बात आज की पुस्तकों और नोबेल की उस पर तो कई मूवी अभी बनती है आप चाहे तो किसी मूवी को देखकर भी किताब लिख सकते हैं लेकिन अगर कोई पुरानी पुस्तकों पर फिल्म भी बनाना चाहे तब भी वह उसे अपने शब्दों में ही बना पाएगा
Aisa kaha jaata hai puraanee pustak aur puraanee daaru ko padhane aur use peene vaala hee samajh sakata hai is prakaar ham kah sakate hain jo jitanee adhik aur itihaas kee kitaaben padhakar samajh sakata hai vahee adhik buddhimaan kahalaega rahee baat aaj kee pustakon aur nobel kee us par to kaee moovee abhee banatee hai aap chaahe to kisee moovee ko dekhakar bhee kitaab likh sakate hain lekin agar koee puraanee pustakon par philm bhee banaana chaahe tab bhee vah use apane shabdon mein hee bana paega

#जीवन शैली

bolkar speaker
किन लोगों को अपनी किस्मत पर बिल्कुल भी भरोसा नहीं करना चाहिए?Kin Logon Ko Apni Kismat Par Bilkul Bhi Bharosa Nahi Karna Chahiye
lyadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए lyadav जी का जवाब
Unknown
0:21
लॉ ऑफ अट्रैक्शन के अनुसार कोई व्यक्ति जिस सेलिब्रिटी से मिला भी ना हो फिर भी वह उसका भक्त हो और उसके लिए कुछ ना कुछ किया हो ऐसे व्यक्तियों को अपनी किस्मत पर विश्वास नहीं करना चाहिए बाकी आपको क्या लगता है नीचे कमेंट करके बताएं
Lo oph atraikshan ke anusaar koee vyakti jis selibritee se mila bhee na ho phir bhee vah usaka bhakt ho aur usake lie kuchh na kuchh kiya ho aise vyaktiyon ko apanee kismat par vishvaas nahin karana chaahie baakee aapako kya lagata hai neeche kament karake bataen

#जीवन शैली

bolkar speaker
समय के साथ आपकी मानसिक सेहत बिगड़ने वाले कुछ चीजें क्या है?Samay Ke Saath Aapki Maansik Sehat Bigadne Wale Kuch Cheeje Kya Hai
lyadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए lyadav जी का जवाब
Unknown
1:11
समय के साथ मानसिक स्थिति बिगाड़ने वाले बहुत से कारण हैं जो निम्नलिखित इस प्रकार हैं किसी विषय के बारे में अत्याधिक पढ़ना मूवी वेब सीरीज आदि को लगातार देखना जो व्यक्ति आपको धोखा देता है फिर भी वह विश्वास पाकर आपके साथ रहता है या जब किसी व्यक्तियों द्वारा आपको नजरबंद किया गया हो अत्याधिक आलस्य तथा नशे करने से भी मानसिक स्थिति खराब हो सकती है मोबाइल और स्क्रीन टाइम एडिक्शन आजकल बहुत ही कॉमन कारण हो चुके हैं मानसिक परेशानियों के लिए जो स्त्री पुरुष अपनी कामवासना के लिए तरह-तरह के स्त्री पुरुषों के पीछे भागते हैं साथ ही वह व्यक्ति जो जिन लोगों के साथ रहते हैं उन्हीं के बारे में बुरा सोचते हैं लोगों की वस्तुओं को देखकर प्रभावित होने वाले और किसी से जलने वाले व्यक्तियों की मानसिक स्थिति तो सबसे अधिक खराब रहती है
Samay ke saath maanasik sthiti bigaadane vaale bahut se kaaran hain jo nimnalikhit is prakaar hain kisee vishay ke baare mein atyaadhik padhana moovee veb seereej aadi ko lagaataar dekhana jo vyakti aapako dhokha deta hai phir bhee vah vishvaas paakar aapake saath rahata hai ya jab kisee vyaktiyon dvaara aapako najaraband kiya gaya ho atyaadhik aalasy tatha nashe karane se bhee maanasik sthiti kharaab ho sakatee hai mobail aur skreen taim edikshan aajakal bahut hee koman kaaran ho chuke hain maanasik pareshaaniyon ke lie jo stree purush apanee kaamavaasana ke lie tarah-tarah ke stree purushon ke peechhe bhaagate hain saath hee vah vyakti jo jin logon ke saath rahate hain unheen ke baare mein bura sochate hain logon kee vastuon ko dekhakar prabhaavit hone vaale aur kisee se jalane vaale vyaktiyon kee maanasik sthiti to sabase adhik kharaab rahatee hai

#पढ़ाई लिखाई

lyadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए lyadav जी का जवाब
Unknown
1:54
अंग्रेजी भाषा को खामियों से परिपूर्ण और एक अपरिपक्व भाषा माना गया है जिसमें हमेशा ही सुधार होता रहता है साथ ही इसकी व्याकरण को भी अशुद्ध माना गया है हिंदी भाषा इससे कहीं ज्यादा अच्छी है इसके कई प्रमाण हैं जैसे अंग्रेजी भाषा में हमें पढ़ना लिखना समझा ना समझना सुनना बोलना ग्रामर स्पेलिंग शब्दकोश व्याकरण सब सीखना होता है जबकि हिंदी भाषा में जैसा कहा जाता है वैसा ही लिखा भी जाता है साथ ही भाषा इतनी सरल भी है कि यह वक्त के अनुसार अपने आप को ढालने में सक्षम भी है कोई व्यक्ति अगर आपसे यह कहे कि वह 2 साल में ही अंग्रेजी भाषा सीख गया है तो यह गलत है वह हमेशा इसे अपडेट करते हुए देखता ही रहता है एक औसतन भारतीय अपने 5 से 6 वर्ष एक नई भाषा या अंग्रेजी भाषा को सीखने में खर्च कर देता है जिससे हमारे देश की प्रोडक्टिविटी घटी है शिक्षा न्याय तथा रोजगार में भी दो भाषाओं में सामंजस्य बिठाना बहुत ही कठिन होता है एक व्यक्ति अपने जीवन के महत्वपूर्ण समय में जीतेगा भाषा सीखने में खराब करता है उस समय में वह दूसरी बातों और चीजों को भी सीख सकता है हिंदी भाषा की सरलता ही सबसे बड़ी खासियत है उसकी किसी रोजगार को करने के लिए आवश्यक उसे काम को सीखना होता है ना की भाषा को अंग्रेजी भाषा के बारे में कहा जाता है अच्छे से अच्छा जानकार भी उसकी स्पेलिंग में मिस्टेक कर सकता है
Angrejee bhaasha ko khaamiyon se paripoorn aur ek aparipakv bhaasha maana gaya hai jisamen hamesha hee sudhaar hota rahata hai saath hee isakee vyaakaran ko bhee ashuddh maana gaya hai hindee bhaasha isase kaheen jyaada achchhee hai isake kaee pramaan hain jaise angrejee bhaasha mein hamen padhana likhana samajha na samajhana sunana bolana graamar speling shabdakosh vyaakaran sab seekhana hota hai jabaki hindee bhaasha mein jaisa kaha jaata hai vaisa hee likha bhee jaata hai saath hee bhaasha itanee saral bhee hai ki yah vakt ke anusaar apane aap ko dhaalane mein saksham bhee hai koee vyakti agar aapase yah kahe ki vah 2 saal mein hee angrejee bhaasha seekh gaya hai to yah galat hai vah hamesha ise apadet karate hue dekhata hee rahata hai ek ausatan bhaarateey apane 5 se 6 varsh ek naee bhaasha ya angrejee bhaasha ko seekhane mein kharch kar deta hai jisase hamaare desh kee prodaktivitee ghatee hai shiksha nyaay tatha rojagaar mein bhee do bhaashaon mein saamanjasy bithaana bahut hee kathin hota hai ek vyakti apane jeevan ke mahatvapoorn samay mein jeetega bhaasha seekhane mein kharaab karata hai us samay mein vah doosaree baaton aur cheejon ko bhee seekh sakata hai hindee bhaasha kee saralata hee sabase badee khaasiyat hai usakee kisee rojagaar ko karane ke lie aavashyak use kaam ko seekhana hota hai na kee bhaasha ko angrejee bhaasha ke baare mein kaha jaata hai achchhe se achchha jaanakaar bhee usakee speling mein mistek kar sakata hai

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
हम किन किन व्यवसाय में केवल लिखकर महीने में100000 से अधिक कमा सकते हैं?Hum Kin Kin Vyevsaye Me Keval Likhkar Mahene Me 100000 Se Adhik Kama Sakate Hain
lyadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए lyadav जी का जवाब
Unknown
0:35
निम्नलिखित तीन तरह के व्यवसाय से हम लिख कर ₹100000 से अधिक महीना कमा सकते हैं पहला है बुक पब्लिशिंग या किताबे लिखकर दूसरा है किसी एडवरटाइजिंग एजेंसी में कॉपीराइटिंग या ऐड लिखने के लिए तीसरा है ऑनलाइन आदि प्लेटफार्म पर चलने वाली फिल्म आदि के लिए कहानी यह गाने लिख कर भी हम एक लाख से अधिक कमा सकते हैं
Nimnalikhit teen tarah ke vyavasaay se ham likh kar ₹100000 se adhik maheena kama sakate hain pahala hai buk pablishing ya kitaabe likhakar doosara hai kisee edavarataijing ejensee mein kopeeraiting ya aid likhane ke lie teesara hai onalain aadi pletaphaarm par chalane vaalee philm aadi ke lie kahaanee yah gaane likh kar bhee ham ek laakh se adhik kama sakate hain

#जीवन शैली

bolkar speaker
कम से कम कितने पैसे में कोई व्यवसाय किया जा सकता है?Kam Se Kam Kitne Paise Mein Koi Vyavsay Kiya Ja Sakta Hai
lyadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए lyadav जी का जवाब
Unknown
1:43
किसी व्यवसाय को शुरू करने के लिए हम चार स्तरों पर उस पर होने वाले खर्चों का आंकलन कर सकते हैं पहला है जमीन और उस पर डिवेलप किया हुआ इंफ्रास्ट्रक्चर जो बिजनेस के लिए बेहद ही जरूरी है अगर यह आपके पास पहले से मौजूद है तो आपको व्यवसाय में रेंट देने की आवश्यकता नहीं होगी अगर आपकी राय से व्यवसाय करेंगे तो किराया कभी रुकता नहीं है वह हमेशा ही चलता रहता है बिजनेस चले या न चले दूसरा है मशीनरी और एसेट यह बिजनेस की प्रकृति पर निर्भर करता है बिजनेस में एसिड और मशीनरी पर कितना खर्चा आएगा उदाहरण के लिए आप जूस का व्यापार कर रहे हैं या कपड़े का तीसरा होता है उस व्यवसाय को चलाने और जमाने में क्या खर्च आएगा आप कितना माल लेते हैं और कितना उसे बनाकर तैयार करते हैं या उसके लिए क्या सैलरी देते हैं चौथा होता है उस व्यवसाय की मार्केटिंग मार्केटिंग के लिए कई तरह के विकल्प हैं आप सस्ते विकल्प को भी चुन सकते हैं जैसे पोस्टर पंपलेट ऑनलाइन मार्केटिंग ईटीसी इस तरह आप कह सकते हैं एक जूस की दुकान अगर आप खोलना चाहते हैं और आपके पास पहले से ही जमीन है तो मशीनरी और कैसे माल आदि वगैरह मिलाकर आप 10 15000 में भी बिजनेस स्टार्ट कर सकते हैं
Kisee vyavasaay ko shuroo karane ke lie ham chaar staron par us par hone vaale kharchon ka aankalan kar sakate hain pahala hai jameen aur us par divelap kiya hua imphraastrakchar jo bijanes ke lie behad hee jarooree hai agar yah aapake paas pahale se maujood hai to aapako vyavasaay mein rent dene kee aavashyakata nahin hogee agar aapakee raay se vyavasaay karenge to kiraaya kabhee rukata nahin hai vah hamesha hee chalata rahata hai bijanes chale ya na chale doosara hai masheenaree aur eset yah bijanes kee prakrti par nirbhar karata hai bijanes mein esid aur masheenaree par kitana kharcha aaega udaaharan ke lie aap joos ka vyaapaar kar rahe hain ya kapade ka teesara hota hai us vyavasaay ko chalaane aur jamaane mein kya kharch aaega aap kitana maal lete hain aur kitana use banaakar taiyaar karate hain ya usake lie kya sailaree dete hain chautha hota hai us vyavasaay kee maarketing maarketing ke lie kaee tarah ke vikalp hain aap saste vikalp ko bhee chun sakate hain jaise postar pampalet onalain maarketing eeteesee is tarah aap kah sakate hain ek joos kee dukaan agar aap kholana chaahate hain aur aapake paas pahale se hee jameen hai to masheenaree aur kaise maal aadi vagairah milaakar aap 10 15000 mein bhee bijanes staart kar sakate hain

#जीवन शैली

lyadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए lyadav जी का जवाब
Unknown
2:19
पैसे और पद वाले व्यक्तियों के पास बहुत से तरीके होते हैं किसी को आर्थिक रूप से बर्बाद करने के लिए उनमें सबसे महत्वपूर्ण वह किसी जासूस या हैकर का उपयोग अधिकतर करते हैं जिस व्यक्ति को वह आर्थिक रूप से बर्बाद करना चाहते हैं उसी व्यक्ति सेवा अधिक व्यवहार बनाते हैं तथा प्यार से रहते हैं उसके आसपास के लोगों की इंफॉर्मेशन जुटाकर उनसे भी व्यवहार बनाते हैं वह आपके आसपास की चीजों को परेशानियों के अनुसार आपके लिए बदलते ही जाते हैं जब तक आप परेशान होकर कुछ गलती ना करें वैसे तो उनका मकसद गलतियां ढूंढना ही होता है और उन गलतियों को बढ़ा चढ़ा कर पेश करना होता है यह तो साधारण सी बात है जब सामने वाले के पास पैसा और पद हेतु व्यक्ति जिस व्यक्ति के साथ रहता है उसे भी धोखा देने में संकोच नहीं करेगा जो व्यक्ति आपकी पुरानी और खास है वह उनसे भी कुछ बातें पता करने और उन बातों से भी आपको परेशान करने की कोशिश करते हैं कई बार व्यवसाय को बर्बाद कर दिया जाता है गलत तरह के ऑर्डर दिए जाते हैं पेमेंट रोक लिए जाते हैं कारीगरों को भड़काया जाता है लेकिन अगर आप कोई पैसे या पद वाला व्यक्ति आपको बर्बाद करना चाहता है आर्थिक रूप से तो जरूर उसका ईगो या कोई लड़की ही उसका कारण होगी आपके पुराने कानूनी मसले और कानूनी तरीकों से भी आपको परेशान किया जाता है कई चीजों में आपको बेवजह उलझा कर आपका समय बर्बाद किया जाता है आपके ही आपसी व्यवहार वालों और रिश्तेदारों से आपको लगाया जाता है वैसे तो बहुत सारे तरीके हैं जो पैसे और पद वाले व्यक्ति आप को बर्बाद करने के लिए इस्तेमाल करते हैं लेकिन सबसे जरूरी और महत्वपूर्ण बात यह है जब वह आपको आर्थिक रूप से बर्बाद करते हैं तब आप से ही भला बनने के लिए आप की आर्थिक मदद करते हैं और फिर आपको ब्याज इत्यादि जैसी चीजों में उड़ जाते हैं यूं तो बहुत से इंसान गरीब हैं जिन्हें गिना नहीं जा सकता लेकिन कई बार ऐसे व्यक्तियों के पास पैसा आ जाना समाज के लिए बेहद ही खतरनाक होता है
Paise aur pad vaale vyaktiyon ke paas bahut se tareeke hote hain kisee ko aarthik roop se barbaad karane ke lie unamen sabase mahatvapoorn vah kisee jaasoos ya haikar ka upayog adhikatar karate hain jis vyakti ko vah aarthik roop se barbaad karana chaahate hain usee vyakti seva adhik vyavahaar banaate hain tatha pyaar se rahate hain usake aasapaas ke logon kee imphormeshan jutaakar unase bhee vyavahaar banaate hain vah aapake aasapaas kee cheejon ko pareshaaniyon ke anusaar aapake lie badalate hee jaate hain jab tak aap pareshaan hokar kuchh galatee na karen vaise to unaka makasad galatiyaan dhoondhana hee hota hai aur un galatiyon ko badha chadha kar pesh karana hota hai yah to saadhaaran see baat hai jab saamane vaale ke paas paisa aur pad hetu vyakti jis vyakti ke saath rahata hai use bhee dhokha dene mein sankoch nahin karega jo vyakti aapakee puraanee aur khaas hai vah unase bhee kuchh baaten pata karane aur un baaton se bhee aapako pareshaan karane kee koshish karate hain kaee baar vyavasaay ko barbaad kar diya jaata hai galat tarah ke ordar die jaate hain pement rok lie jaate hain kaareegaron ko bhadakaaya jaata hai lekin agar aap koee paise ya pad vaala vyakti aapako barbaad karana chaahata hai aarthik roop se to jaroor usaka eego ya koee ladakee hee usaka kaaran hogee aapake puraane kaanoonee masale aur kaanoonee tareekon se bhee aapako pareshaan kiya jaata hai kaee cheejon mein aapako bevajah ulajha kar aapaka samay barbaad kiya jaata hai aapake hee aapasee vyavahaar vaalon aur rishtedaaron se aapako lagaaya jaata hai vaise to bahut saare tareeke hain jo paise aur pad vaale vyakti aap ko barbaad karane ke lie istemaal karate hain lekin sabase jarooree aur mahatvapoorn baat yah hai jab vah aapako aarthik roop se barbaad karate hain tab aap se hee bhala banane ke lie aap kee aarthik madad karate hain aur phir aapako byaaj ityaadi jaisee cheejon mein ud jaate hain yoon to bahut se insaan gareeb hain jinhen gina nahin ja sakata lekin kaee baar aise vyaktiyon ke paas paisa aa jaana samaaj ke lie behad hee khataranaak hota hai

#टेक्नोलॉजी

lyadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए lyadav जी का जवाब
Unknown
0:46
बैटरी में जो हम पानी यूज करते हैं उसे हम डिस्टिल्ड या डी मेरे लाइफ वाटर कहते हैं इसे वाष्पीकरण प्रक्रिया द्वारा बनाया जाता है इसलिए हम इस ए आर ओ वाटर से शुद्ध कह सकते हैं लेकिन इसमें सोडियम क्लोराइड या नमक का पानी भी मिलाया जाता है सबसे ध्यान देने वाली बात यह है हमें बैटरी के लिए पानी अलग से खरीदना होता है ना कि बैटरी में से पानी निकाला हुआ पानी इसे आप अमेज़न जैसी ऑनलाइन वेबसाइट से भी खरीद सकते हैं इस प्रकार हम कह सकते हैं कि बैटरी में यूज करने वाला डिस्टी लिया डिनर लाइफ वाटर आरो वाटर से भी शुद्ध होता है पर आप इसे पीने के लिए उपयोग ना करें तो ज्यादा अच्छा है
Baitaree mein jo ham paanee yooj karate hain use ham distild ya dee mere laiph vaatar kahate hain ise vaashpeekaran prakriya dvaara banaaya jaata hai isalie ham is e aar o vaatar se shuddh kah sakate hain lekin isamen sodiyam kloraid ya namak ka paanee bhee milaaya jaata hai sabase dhyaan dene vaalee baat yah hai hamen baitaree ke lie paanee alag se khareedana hota hai na ki baitaree mein se paanee nikaala hua paanee ise aap amezan jaisee onalain vebasait se bhee khareed sakate hain is prakaar ham kah sakate hain ki baitaree mein yooj karane vaala distee liya dinar laiph vaatar aaro vaatar se bhee shuddh hota hai par aap ise peene ke lie upayog na karen to jyaada achchha hai

#जीवन शैली

lyadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए lyadav जी का जवाब
Unknown
2:43
भारतीय समाज हमेशा ही अपनी काम जिज्ञासा के लिए विश्व में चर्चित रहा है आदतें और हरकतें बताने से पहले मैं एक बात कहना चाहता हूं मां-बाप कभी भी गलत नहीं होते वह बच्चों का हमेशा अच्छा ही चाहते हैं और इस बात को गलत ढंग से पेश ना करें विदेशों में आप बाहर भी आसानी से संबंध बना सकते हैं पर भारत में आप घर तो छोड़िए इंसान आपके मन तक भी पहुंचने के लिए किसी भी हद तक जा सकता है कई लोगों में लड़कियों में दाग देने की मानसिकता भी देखी जाती है इंसान यहां पर ₹10 की मदद भले ही ना करें किसी मरते हुए व्यक्ति की भी मदद ना करें पर वह हजारों पे भी आपको दे देगा किसी और के रिलेशनशिप में चटखारे के लिए या मदद के नाम पर विदेशों में तो राजनीति और व्यवसाय को लेकर जासूसी होती है पर इंडिया में अधिकतर जासूसी का पैमाना किसी की रिलेशनशिप या काम जिज्ञासा ही होता है यहां पर लोगों की जासूसी की टाइमलाइंस होती है दो व्यक्तियों की रिलेशनशिप में दोनों से अधिक जानना जैसे सम्मान की बात मानता है इंसान जब कोई लड़की सामने से निकलती है तब सभी एक दूसरे की आंख तक नहीं लग जाते हैं ताकि वह अकेले में किसी और को कॉन्फिडेंस के साथ आए कांटेक्ट कर सके कहीं बाहर रिलेशनशिप की बातें जानबूझकर फैला दी जाती हैं कहीं लोग तो महिला मित्र इसलिए भी बनाते हैं ताकि वह किसी और के रिलेशनशिप में क्या चल रहा है वह जान सके इस बात का आप इस बात से लगा सकते हैं बॉलीवुड में अधिकतर मूवी बनने वाली जो भी होती है वह काम जिज्ञासा की तृप्ति के ऊपर ही बनी होती है जो लोग अपनी जिंदगी में खुद चोद छोड़ होते हैं या किसी को धोखा देकर संबंध बना कर छोड़ देते हैं वैसे ही लोग अधिकतर मदद के नाम पर किसी के रिलेशनशिप का हिस्सा बनना चाहते हैं किसी ना किसी तरह से बातें तो बहुत सारी है जिन्हें बताया नहीं जा सकता किताब भी लिखी जा सकती है पर ध्यान देने वाली बात है हम इन लोगों के बीच में ही रहते हैं और हम ही सभी को कर्मा का ज्ञान देते हैं सबसे महत्वपूर्ण और ध्यान देने वाली बात तो यह है अगर किसी की रिलेशनशिप बहुत अच्छी होती है उसके लिए तो वह बहुत ही जिज्ञासु होते हैं दूसरों
Bhaarateey samaaj hamesha hee apanee kaam jigyaasa ke lie vishv mein charchit raha hai aadaten aur harakaten bataane se pahale main ek baat kahana chaahata hoon maan-baap kabhee bhee galat nahin hote vah bachchon ka hamesha achchha hee chaahate hain aur is baat ko galat dhang se pesh na karen videshon mein aap baahar bhee aasaanee se sambandh bana sakate hain par bhaarat mein aap ghar to chhodie insaan aapake man tak bhee pahunchane ke lie kisee bhee had tak ja sakata hai kaee logon mein ladakiyon mein daag dene kee maanasikata bhee dekhee jaatee hai insaan yahaan par ₹10 kee madad bhale hee na karen kisee marate hue vyakti kee bhee madad na karen par vah hajaaron pe bhee aapako de dega kisee aur ke rileshanaship mein chatakhaare ke lie ya madad ke naam par videshon mein to raajaneeti aur vyavasaay ko lekar jaasoosee hotee hai par indiya mein adhikatar jaasoosee ka paimaana kisee kee rileshanaship ya kaam jigyaasa hee hota hai yahaan par logon kee jaasoosee kee taimalains hotee hai do vyaktiyon kee rileshanaship mein donon se adhik jaanana jaise sammaan kee baat maanata hai insaan jab koee ladakee saamane se nikalatee hai tab sabhee ek doosare kee aankh tak nahin lag jaate hain taaki vah akele mein kisee aur ko konphidens ke saath aae kaantekt kar sake kaheen baahar rileshanaship kee baaten jaanaboojhakar phaila dee jaatee hain kaheen log to mahila mitr isalie bhee banaate hain taaki vah kisee aur ke rileshanaship mein kya chal raha hai vah jaan sake is baat ka aap is baat se laga sakate hain boleevud mein adhikatar moovee banane vaalee jo bhee hotee hai vah kaam jigyaasa kee trpti ke oopar hee banee hotee hai jo log apanee jindagee mein khud chod chhod hote hain ya kisee ko dhokha dekar sambandh bana kar chhod dete hain vaise hee log adhikatar madad ke naam par kisee ke rileshanaship ka hissa banana chaahate hain kisee na kisee tarah se baaten to bahut saaree hai jinhen bataaya nahin ja sakata kitaab bhee likhee ja sakatee hai par dhyaan dene vaalee baat hai ham in logon ke beech mein hee rahate hain aur ham hee sabhee ko karma ka gyaan dete hain sabase mahatvapoorn aur dhyaan dene vaalee baat to yah hai agar kisee kee rileshanaship bahut achchhee hotee hai usake lie to vah bahut hee jigyaasu hote hain doosaron

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
राजनीति में सफलता पाने के लिए रोज मंदिर जाना कितना जरूरी है?Rajniti Me Safalta Pane Ke Liye Roj Mandir Jana Kitna Jaruri Hai
lyadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए lyadav जी का जवाब
Unknown
0:30
राजनीति में सफलता पाने के लिए रोज मंदिर जाना बेहद जरूरी है हम अपने आसपास ऐसे बहुत से उदाहरण देख सकते हैं जो जो ऐसा सोचते थे कि मंदिर जाने से कोई फर्क नहीं पड़ता है उन लोगों का तो राजनीति में सूपड़ा ही साफ हो गया और जिन लोगों ने जाना शुरू कर दिया उनकी किस्मत बदलने लगी लोग आप को रोकने के लिए ही ऐसा कहते हैं कि आप मंदिर पर राजनीति कर रहे हैं आप अपना विश्वास रखें
Raajaneeti mein saphalata paane ke lie roj mandir jaana behad jarooree hai ham apane aasapaas aise bahut se udaaharan dekh sakate hain jo jo aisa sochate the ki mandir jaane se koee phark nahin padata hai un logon ka to raajaneeti mein soopada hee saaph ho gaya aur jin logon ne jaana shuroo kar diya unakee kismat badalane lagee log aap ko rokane ke lie hee aisa kahate hain ki aap mandir par raajaneeti kar rahe hain aap apana vishvaas rakhen

#जीवन शैली

bolkar speaker
क्या 100% सच बोलने से समाज में रहा जा सकता है?Kya 100 Percent Sach Bolne Se Samaj Mein Rha Ja Sakta Hai
lyadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए lyadav जी का जवाब
Unknown
0:39
जी हां सो प्रतिशत सच बोल कर भी समाज में रहा जा सकता है परंतु यह महत्वपूर्ण है आप सच को किस तरह से देखते हैं जो व्यक्ति सच्चे हैं सच बोलते हैं उनके साथ हमेशा ही सच बोले लेकिन अगर आप झूठ पर झूठ बोलने वाले व्यक्ति से सच बोलेंगे तो इसे झूठ ही माने झूठ बोलने वाले व्यक्ति के साथ धर्म मान कर या कंपटीशन मानकर झूठ बोले यही सबसे सही होगा वरना सच बोलने की सजा तो तब ही मिलती है जब आप किसी झूठे व्यक्ति से भी सच बोल रहे हो
Jee haan so pratishat sach bol kar bhee samaaj mein raha ja sakata hai parantu yah mahatvapoorn hai aap sach ko kis tarah se dekhate hain jo vyakti sachche hain sach bolate hain unake saath hamesha hee sach bole lekin agar aap jhooth par jhooth bolane vaale vyakti se sach bolenge to ise jhooth hee maane jhooth bolane vaale vyakti ke saath dharm maan kar ya kampateeshan maanakar jhooth bole yahee sabase sahee hoga varana sach bolane kee saja to tab hee milatee hai jab aap kisee jhoothe vyakti se bhee sach bol rahe ho

#धर्म और ज्योतिषी

lyadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए lyadav जी का जवाब
Unknown
0:58
पूर्वजों के अनुसार लड़कियों को बंदिश में रखना जरूरी इसलिए भी है क्योंकि जिस भी व्यक्ति को एक उस लड़की के जीवन में सबसे पहला मौका मिलेगा या जो भी उसे छुए गा देखेगा वह उसे ही प्रेम करने लगेगी उसके अनुरूप बन जाएगी या ढल जाएगी एक लड़की के लिए सबसे अच्छा तभी हो सकता है जब उसे पहली बार में ही सबसे अच्छा व्यक्ति मिल जाए लिए माता पिता का फर्ज होता है जब तक कोई स्त्री एक बार या पहली बार तक कोई रिलेशन ना बना ले उसे बंदिशों में रखा जाए माता पिता को ही उसका मालिक समझा जाता था जिस लड़की को पहली बार में ही अच्छा पति या पार्टनर मिलता है उसके लाइफ के एक्सपीरियंस सबसे अलग और सबसे महत्वपूर्ण होते हैं ऐसा वह लोग मानते थे
Poorvajon ke anusaar ladakiyon ko bandish mein rakhana jarooree isalie bhee hai kyonki jis bhee vyakti ko ek us ladakee ke jeevan mein sabase pahala mauka milega ya jo bhee use chhue ga dekhega vah use hee prem karane lagegee usake anuroop ban jaegee ya dhal jaegee ek ladakee ke lie sabase achchha tabhee ho sakata hai jab use pahalee baar mein hee sabase achchha vyakti mil jae lie maata pita ka pharj hota hai jab tak koee stree ek baar ya pahalee baar tak koee rileshan na bana le use bandishon mein rakha jae maata pita ko hee usaka maalik samajha jaata tha jis ladakee ko pahalee baar mein hee achchha pati ya paartanar milata hai usake laiph ke eksapeeriyans sabase alag aur sabase mahatvapoorn hote hain aisa vah log maanate the

#जीवन शैली

lyadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए lyadav जी का जवाब
Unknown
0:57
जो व्यक्ति किसी से चढ़ते हैं या जलते हैं उनसे हमेशा दूरी बना कर रखना चाहिए कुछ व्यक्ति इस प्रकार के होते हैं जिनकी जो मदद करता है वह उसी पर आशुतोष फायदा उठाने की कोशिश में लग जाते हैं ऐसे व्यक्ति की मदद अगर हम करना भी चाहे तो हमें मदद करके तुरंत उनके पास से भाग जाना चाहिए बात बुरा सोचने की नहीं है वह जानबूझकर आपके बारे में बुरा सोचते हैं ताकि आप उनके साथ और अच्छा व्यवहार करें और फायदा हो उन्हें किसी चिड़िया जलेस व्यक्ति के साथ रहने से बुरा प्रभाव हम पर ही पड़ता है जलन करने वाला व्यक्ति ना ही दोस्ती के लायक होता है ना ही साथ रहने के जब ऐसे लोग आपके बारे में समझ नहीं लग जाते हैं आप बुरा नहीं देख सकते हैं तो वह जानबूझकर आपको बुरा कहते हैं कि आप उनके साथ और अच्छा करें
Jo vyakti kisee se chadhate hain ya jalate hain unase hamesha dooree bana kar rakhana chaahie kuchh vyakti is prakaar ke hote hain jinakee jo madad karata hai vah usee par aashutosh phaayada uthaane kee koshish mein lag jaate hain aise vyakti kee madad agar ham karana bhee chaahe to hamen madad karake turant unake paas se bhaag jaana chaahie baat bura sochane kee nahin hai vah jaanaboojhakar aapake baare mein bura sochate hain taaki aap unake saath aur achchha vyavahaar karen aur phaayada ho unhen kisee chidiya jales vyakti ke saath rahane se bura prabhaav ham par hee padata hai jalan karane vaala vyakti na hee dostee ke laayak hota hai na hee saath rahane ke jab aise log aapake baare mein samajh nahin lag jaate hain aap bura nahin dekh sakate hain to vah jaanaboojhakar aapako bura kahate hain ki aap unake saath aur achchha karen

#टेक्नोलॉजी

lyadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए lyadav जी का जवाब
Unknown
0:08
पुत्र कॉरपोरल इलस्ट्रेटेड 3D मैक्स ऑटोसिटी प्रीमियर फूटी लूट और ट्रेडिंग सॉफ्टवेयर

#भारत की राजनीति

lyadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए lyadav जी का जवाब
Unknown
1:37
पर्यावरण का विकास और स्वच्छता दोनों एक दूसरे के पूरक होते हैं जिसे हम निम्नलिखित 6 बिंदुओं के आधार पर समझ सकते हैं पहला है रिसाइकल जिसमें हम ग्लास प्लास्टिक में टेलीबेस्ट आदि वस्तुओं को रिसाइकल कर फिर उपयोग में ले सकते हैं दूसरा है रीयूज जिसमें हम वुड वाटर एनर्जी लैंड आदि का उपयोग दोबारा कर सकते हैं तीसरा है रिड्यूस जिसमें हम प्लास्टिक पेट्रोल कॉल नॉनवेज जैसी जैसी वस्तुओं का उपयोग कम कर सकते हैं जो होता है फॉरेस्ट डेवलपमेंट जिसमें हम जंगलों की सीमाओं का निर्धारण कर उसे सख्ती से पालन करने पर मजबूर कर देते हैं माफिया इत्यादि पर कार्यवाही कर उन्हें प्रतिबंधित कर सकते हैं साथ ही साथ पेड़ों को बचाना और नए पेड़ों को लगाना और वन्यजीवों को दक्षिण प्रदान कर सकते हैं पांचवा बिंदु है राइट प्लेसमेंट जिसमें हम ट्री हाउस मार्ग एग्रीकल्चर लैंड वेस्टेज स्टोन आदि जगह का निर्धारण कर सकते हैं छठवां और सबसे महत्वपूर्ण बिंदु जनता को जागरूक करना जैसे उन्हें रूल्स फॉलो करने के लिए प्रेरित करना डस्टबिन का उपयोग करना पर्यावरण के प्रति समर्पण की भावना सिखाना जैसी बातों पर ध्यान देकर हम पर्यावरण विकास और स्वच्छता को एक साथ कर सकते हैं

#मनोरंजन

lyadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए lyadav जी का जवाब
Unknown
1:39
वर्क फ्रॉम होम के लिए बिजनेस आइडियाज इस प्रकार हैं सबसे पहले आप प्रॉपर्टी बाय एंड सेल सकते हैं के बाद आप बुक पब्लिशिंग कर सकते हैं कॉपीराइटिंग कर सकते हैं आर्टिकल राइटिंग कर सकते हैं खुद का यूट्यूब चैनल बना सकते हैं जॉब सर्च इंजन जैसी वेबसाइट बना सकते हैं अगर आपका घर बड़ा है तो आप क्लब हाउस या कैसे भी खोल सकते हैं आप इवेंट सर्विस के लिए कोई डीलर बन सकते हैं डेकोरेशन आइटम्स और 8 डीलर बन सकते हैं लाइफ कोशिश बन सकते हैं वर्चुअल असिस्टेंट बन सकते हैं किसी के लिए पर्सनल शॉपर बन सकते हैं पर्सनल पेट केयर सर्विस दे सकते हैं लॉन्ड्री सर्विस खोल सकते हैं कैसी हो या सोशल मीडिया स्पेशलिस्ट बन सकते हैं वेब डेवलपर या डिजाइनर बन सकते हैं किसी छोटे इवेंट के लिए पर्सनल इवेंट प्लान घर बन सकते हैं नेटवर्क मार्केटिंग कर सकते हैं या कोई ऑनलाइन सर्विस दे सकते हैं इंफॉर्मेशन और ट्यूटोरियल बनाकर उसे सीडी या चिप में भेज सकते हैं ऑनलाइन क्लासेस ले सकते हैं होम ट्यूटर बन सकते हैं अगर आपको पेंटिंग का शौक है तो आप अपनी पेंटिंग बनाकर भेज सकते हैं वह या एप डेवलपर बन सकते हैं ऑनलाइन स्टोर खोल सकते हैं या खुद का कैमरा खरीदकर उसे रेंट पर दे सकते हैं या उसे खुद कर सकते हैं इस प्रकार और भी कई तरीकों से आप work-from-home कर सकते हैं

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
भारत खुद का ट्विटर या व्हाट्सएप क्यों नहीं बनाता है?Bharat Khudh Ka Twitter Ya Whatsapp Kyo Nahi Bnata Hai
lyadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए lyadav जी का जवाब
Unknown
1:36
भारत खुद का ट्विटर और व्हाट्सएप बना भी ले तो उसमें कई दिक्कतें हैं सोशल प्लेटफॉर्म लचीला होने के कारण हमेशा बदलता रहता है इसमें इनोवेशन करते रहना पड़ता है यह एक लंबे खेल की तरह है आप ट्विटर और व्हाट्सएप बना ले तो भी आपकी प्राइवेसी की कोई गारंटी नहीं उल्टा दूसरे देश आपको दुश्मन की नजर से देखेंगे सबसे ज्यादा जरूरी तो हमें एंड्रॉयड और आईओएस की तरह और ऑपरेटिंग सिस्टम बनाने की है एक बार हम ऑपरेटिंग सिस्टम बना ले तो यूं समझ लीजिए जमीन हमारे पास है अब हम उस पर बिजनेस करें या खेती हालांकि ऑपरेटिंग सिस्टम बनाना इतना आसान नहीं है इसके लिए फंडिंग भी बहुत ज्यादा लगती है जब आप एक बार प्लेटफार्म बना लेंगे तब वह खुद-ब-खुद इसमें इनोवे ऐड करते जाएंगे और यह आगे बढ़ता जाएगा इस तरह हम कह सकते हैं कि व्हाट्सएप और टि्वटर बनाना कोई पुणे समाधान नहीं है ना ही कोई सुरक्षा की गारंटी सबसे ज्यादा जरूरी हमें बेस बनाने की है एंड्रॉयड और आईओएस की तरह इसमें कई तरह की लहर और ऑप्शंस बनाकर हम पूर्णता कंट्रोल अपने हाथ में ले सकते हैं एक बार आपके पास ऑपरेटिंग सिस्टम होगा तब आपके लिए व्हाट्सएप पर ट्विटर जैसी कहीं एप्लीकेशन बनाना बहुत ही आसान हो जाएगा वरना आप दूसरे के प्लेटफार्म के लिए एप्लीकेशन ही बनाते रह जाएंगे
Bhaarat khud ka tvitar aur vhaatsep bana bhee le to usamen kaee dikkaten hain soshal pletaphorm lacheela hone ke kaaran hamesha badalata rahata hai isamen inoveshan karate rahana padata hai yah ek lambe khel kee tarah hai aap tvitar aur vhaatsep bana le to bhee aapakee praivesee kee koee gaarantee nahin ulta doosare desh aapako dushman kee najar se dekhenge sabase jyaada jarooree to hamen endroyad aur aaeeoes kee tarah aur opareting sistam banaane kee hai ek baar ham opareting sistam bana le to yoon samajh leejie jameen hamaare paas hai ab ham us par bijanes karen ya khetee haalaanki opareting sistam banaana itana aasaan nahin hai isake lie phanding bhee bahut jyaada lagatee hai jab aap ek baar pletaphaarm bana lenge tab vah khud-ba-khud isamen inove aid karate jaenge aur yah aage badhata jaega is tarah ham kah sakate hain ki vhaatsep aur tivatar banaana koee pune samaadhaan nahin hai na hee koee suraksha kee gaarantee sabase jyaada jarooree hamen bes banaane kee hai endroyad aur aaeeoes kee tarah isamen kaee tarah kee lahar aur opshans banaakar ham poornata kantrol apane haath mein le sakate hain ek baar aapake paas opareting sistam hoga tab aapake lie vhaatsep par tvitar jaisee kaheen epleekeshan banaana bahut hee aasaan ho jaega varana aap doosare ke pletaphaarm ke lie epleekeshan hee banaate rah jaenge

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
किसी के खूबसूरत होने और प्यार करने के बावजूद वह किसी को पसंद नहीं आता ऐसा क्यों?Kisi Ke Khobsurat Hone Aur Pyaar Karne Ke Baavjood Vah Kisi Ko Pasand Nahin Aata Aisa Kyun
lyadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए lyadav जी का जवाब
Unknown
0:43
प्रथम दृष्टया तो हम ऐसा कह सकते हैं उस व्यक्ति को कोई और पसंद होगा या वह रिलेशनशिप ही नहीं बनाना चाहता किसी भी रिलेशनशिप के लिए आपका व्यवहार इतना मायने नहीं रखता जितना आप का समर्पण और समर्पण के लिए विश्वास बेहद ही जरूरी है इसलिए आप उसे अपनी पुरानी रिलेशनशिप के बारे में सच सच बता कर अपने पुराने पाटनर ओं को धोखा दे दे जो कुछ भी आपने उसे पाने के लिए किया है बेबी सच सच बता दें इस तरह से आप उस व्यक्ति को और उसके विश्वास को हासिल कर लेंगे
Pratham drshtaya to ham aisa kah sakate hain us vyakti ko koee aur pasand hoga ya vah rileshanaship hee nahin banaana chaahata kisee bhee rileshanaship ke lie aapaka vyavahaar itana maayane nahin rakhata jitana aap ka samarpan aur samarpan ke lie vishvaas behad hee jarooree hai isalie aap use apanee puraanee rileshanaship ke baare mein sach sach bata kar apane puraane paatanar on ko dhokha de de jo kuchh bhee aapane use paane ke lie kiya hai bebee sach sach bata den is tarah se aap us vyakti ko aur usake vishvaas ko haasil kar lenge

#भारत की राजनीति

lyadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए lyadav जी का जवाब
Unknown
0:50
कुछ 10 15 नेताओं के नाम लेकर परिवारवाद के मुद्दे को खूब बनाया जाता है लेकिन अपनी ही पार्टी के परिवार वादी नेताओं के बारे में कभी कुछ भी नहीं कहा जाता लोग अपने पत्थर को भी सोना बताते हैं कुछ लोग तो बस यही चाहते हैं कि आप उनकी आधी बात सच मान लें और आधी बात मान ले जो जिस पार्टी से होता है वह उसका ही गुणगान करता है कोई कुछ भी कहे उनकी बातों पर ध्यान ना दे कर देश के विकास के मुद्दों पर ध्यान दिया जाना चाहिए अब समय बदल गया है और अब परिवारवाद के मुद्दे को भुनाना बंद कर देना चाहिए अगर आप अपनी पार्टी में परिवारवाद को खत्म नहीं कर सकते तुम
Kuchh 10 15 netaon ke naam lekar parivaaravaad ke mudde ko khoob banaaya jaata hai lekin apanee hee paartee ke parivaar vaadee netaon ke baare mein kabhee kuchh bhee nahin kaha jaata log apane patthar ko bhee sona bataate hain kuchh log to bas yahee chaahate hain ki aap unakee aadhee baat sach maan len aur aadhee baat maan le jo jis paartee se hota hai vah usaka hee gunagaan karata hai koee kuchh bhee kahe unakee baaton par dhyaan na de kar desh ke vikaas ke muddon par dhyaan diya jaana chaahie ab samay badal gaya hai aur ab parivaaravaad ke mudde ko bhunaana band kar dena chaahie agar aap apanee paartee mein parivaaravaad ko khatm nahin kar sakate tum

#भारत की राजनीति

lyadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए lyadav जी का जवाब
Unknown
2:01
जी हां मेरा ऐसा मानना है और विश्वास भी है अगर बीजेपी ना होती है तब भी हिंदू लोग राम और कृष्ण मंदिर बना लेते इस मुद्दे का राजनीतिकरण होने के कारण इसे बनाने में इतना समय लग गया राम तो सभी राजाओं के भी राजा हैं मेरा तो ऐसा मानना है इस दुनिया में जो भी होता है उनकी ही इच्छा और मर्जी से होता है और हर कोई उनका कार्य करने के लिए आतुर होते रहता है संगठित होकर रहना हिंदुओं के खून में है समय कुछ समय के लिए बलवान जरूर हो सकता है पर वह राम श्री राम जी की मर्यादा के आगे नहीं टिक सकता मर्यादा का एक पहलू हम यह भी कह सकते हैं पहले सभी को मौका दिया जाए फिर जो सर्वोत्तम हो उसे किया जाए पाकिस्तान जैसे देशों की हालत किसी से छुपी नहीं है आज इस मुद्दे का राजनीतिकरण करना बंद करें और 2024 के चुनाव में थे बनाने की कोशिश ना की जाए सरकार को मौका भी मिला है और समय भी अगर आप जनता के लिए अच्छा कार्य नहीं करेंगे तो वह आप को हटाकर किसी और को गद्दी पर बिठा देंगे जनता में जो लोग आपके साथ हैं या विरोध करेंगे वह भी किसी ना किसी रूप में राम भक्त या कृष्ण भक्त होंगे ही इसे कानून और अदालत के अनुसार ही बनाया जा रहा है और सभी को अपना पक्ष रखने का मौका भी दिया गया है इसलिए इस बात का क्रेडिट किसी और को देने का प्रयास ना करें ऐसा नहीं होता तो इसका निर्माण कार्य 2014 15 मई शुरू कर दिया जाता
Jee haan mera aisa maanana hai aur vishvaas bhee hai agar beejepee na hotee hai tab bhee hindoo log raam aur krshn mandir bana lete is mudde ka raajaneetikaran hone ke kaaran ise banaane mein itana samay lag gaya raam to sabhee raajaon ke bhee raaja hain mera to aisa maanana hai is duniya mein jo bhee hota hai unakee hee ichchha aur marjee se hota hai aur har koee unaka kaary karane ke lie aatur hote rahata hai sangathit hokar rahana hinduon ke khoon mein hai samay kuchh samay ke lie balavaan jaroor ho sakata hai par vah raam shree raam jee kee maryaada ke aage nahin tik sakata maryaada ka ek pahaloo ham yah bhee kah sakate hain pahale sabhee ko mauka diya jae phir jo sarvottam ho use kiya jae paakistaan jaise deshon kee haalat kisee se chhupee nahin hai aaj is mudde ka raajaneetikaran karana band karen aur 2024 ke chunaav mein the banaane kee koshish na kee jae sarakaar ko mauka bhee mila hai aur samay bhee agar aap janata ke lie achchha kaary nahin karenge to vah aap ko hataakar kisee aur ko gaddee par bitha denge janata mein jo log aapake saath hain ya virodh karenge vah bhee kisee na kisee roop mein raam bhakt ya krshn bhakt honge hee ise kaanoon aur adaalat ke anusaar hee banaaya ja raha hai aur sabhee ko apana paksh rakhane ka mauka bhee diya gaya hai isalie is baat ka kredit kisee aur ko dene ka prayaas na karen aisa nahin hota to isaka nirmaan kaary 2014 15 maee shuroo kar diya jaata

#धर्म और ज्योतिषी

lyadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए lyadav जी का जवाब
Unknown
2:49
धर्म के अनुसार अपराध को तीन श्रेणियों में बांटा गया है पहला प्रकृति का अपराध दूसरा पुरुष का अपराध तीसरा प्रकृति पुरुष दोनों का अपराध एक स्त्री के अपमान को हम प्रकृति का अपराध मान सकते हैं प्रकृति पुरुष के अपराध के लिए सबसे अच्छा उदाहरण हम ऋषि अत्रि और सती अनुसुइया का उदाहरण मान सकते हैं जब अत्रि ऋषि के तब से प्रभावित होकर ब्रह्मा विष्णु महेश तीनों ने चुप कर उन्हें देखना चाहा तब वे अपने बीज रूप तम तत्व और राज के रूप में शिशु रूप को प्राप्त हुए हम सीधे तौर पर ऐसा तो नहीं कह सकते कि किसी के रिलेशनशिप की जासूसी करना ही मुक्ति पुरुष का अपराध हुआ हम इसे और भी उदाहरण से समझ सकते हैं जब दधीचि ऋषि ऋषि के पुत्र कांडू ऋषि ने संभोग के बाद पूजन किया तो तब भी उसे प्रकृति पुरुष का अपराध माना गया हिंदू धर्म की वर्ण व्यवस्था में भी इसका प्रभाव दिखता है जो व्यक्ति निश्चित होती थी उन्हें ब्राह्मण माना जाता था जो समर्पित होते थे देश के लिए या धर्म के लिए उन्हें क्षत्रिय कहा गया जिन्होंने सब तरह की बातों को सिर्फ पैसे से ही जाना उन्हें वैश्य कहा गया लेकिन जिन्होंने प्रकृति पुरुष का अपराध किया गया उन्हें शूद्र कहा गया जालंधर तुलसी इंद्र अहिल्या आदि कहानियों में भी इसी तरह की बातों को बताने की कोशिश की गई है पर जब कोई व्यक्ति काम के वश होता है तो उन्हें अपने हिसाब से ही समझता है इंसानों ने स्त्रियों को घुंघट और बुर्के में भी रख कर देख लिया पर जब किसी की बुद्धि कांबस होती है तब वह किसी के रिलेशंस की जासूसी को भी मदद मानने लग जाता है किसी भी धर्म का आधार प्रकृति पुरुष को ही कहा गया है भले ही वह रामायण क्यों ना हो इसलिए हम कह सकते हैं किसी को मारना भी धर्म का काम हो सकता है अगर वह इस तरह का अपराध करें पुरुष एक पिता के समान सबको समान नजर से देखता है और प्रकृति सभी को समान रुप से पोषण करती है इसलिए जो ऐसे व्यक्तियों में विश्वास रखता है उसे सब कुछ खोना पड़ता है जीता हुआ इंसान भी ऐसे व्यक्ति के साथ रहकर हार जाता है पर आप इस तरह के व्यक्ति को ढूंढ नहीं सकते क्योंकि वह तो चुप कर ही रहता होगा इस तरह का व्यक्ति भी अगर बचा हुआ है तो वह जरूर कोई भक्त बना चुका हूं
Dharm ke anusaar aparaadh ko teen shreniyon mein baanta gaya hai pahala prakrti ka aparaadh doosara purush ka aparaadh teesara prakrti purush donon ka aparaadh ek stree ke apamaan ko ham prakrti ka aparaadh maan sakate hain prakrti purush ke aparaadh ke lie sabase achchha udaaharan ham rshi atri aur satee anusuiya ka udaaharan maan sakate hain jab atri rshi ke tab se prabhaavit hokar brahma vishnu mahesh teenon ne chup kar unhen dekhana chaaha tab ve apane beej roop tam tatv aur raaj ke roop mein shishu roop ko praapt hue ham seedhe taur par aisa to nahin kah sakate ki kisee ke rileshanaship kee jaasoosee karana hee mukti purush ka aparaadh hua ham ise aur bhee udaaharan se samajh sakate hain jab dadheechi rshi rshi ke putr kaandoo rshi ne sambhog ke baad poojan kiya to tab bhee use prakrti purush ka aparaadh maana gaya hindoo dharm kee varn vyavastha mein bhee isaka prabhaav dikhata hai jo vyakti nishchit hotee thee unhen braahman maana jaata tha jo samarpit hote the desh ke lie ya dharm ke lie unhen kshatriy kaha gaya jinhonne sab tarah kee baaton ko sirph paise se hee jaana unhen vaishy kaha gaya lekin jinhonne prakrti purush ka aparaadh kiya gaya unhen shoodr kaha gaya jaalandhar tulasee indr ahilya aadi kahaaniyon mein bhee isee tarah kee baaton ko bataane kee koshish kee gaee hai par jab koee vyakti kaam ke vash hota hai to unhen apane hisaab se hee samajhata hai insaanon ne striyon ko ghunghat aur burke mein bhee rakh kar dekh liya par jab kisee kee buddhi kaambas hotee hai tab vah kisee ke rileshans kee jaasoosee ko bhee madad maanane lag jaata hai kisee bhee dharm ka aadhaar prakrti purush ko hee kaha gaya hai bhale hee vah raamaayan kyon na ho isalie ham kah sakate hain kisee ko maarana bhee dharm ka kaam ho sakata hai agar vah is tarah ka aparaadh karen purush ek pita ke samaan sabako samaan najar se dekhata hai aur prakrti sabhee ko samaan rup se poshan karatee hai isalie jo aise vyaktiyon mein vishvaas rakhata hai use sab kuchh khona padata hai jeeta hua insaan bhee aise vyakti ke saath rahakar haar jaata hai par aap is tarah ke vyakti ko dhoondh nahin sakate kyonki vah to chup kar hee rahata hoga is tarah ka vyakti bhee agar bacha hua hai to vah jaroor koee bhakt bana chuka hoon

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
क्या हम सामाजिक सेवा के नाम पर सामाजिक संगठन बनाकर पैसे कमा सकते हैं?Kya Ham Samajik Seva Ke Naam Per Samajik Sangathan Banakar Paise Kama Sakte Hain
lyadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए lyadav जी का जवाब
Unknown
2:28
एक सामाजिक संगठन बनाने के बहुत से फायदे हैं और बहुत सारे तरीकों से पैसा बनाया जा सकता है जो लोग आज अमीर हैं उन्होंने भी कभी सामाजिक संगठन चलाया है आप कुछ से सोच कर देखें एक राजनीतिक पार्टी में हर व्यक्ति को तो कोई पद दिया नहीं जाता सकता वे लोग सामाजिक संगठन बनाकर ही कार्य करते हैं एक सामाजिक संगठन अपने से जुड़ने वाले व्यक्तियों के डाटा के आधार पर राजनीतिक पार्टी से चंदा जुटा सकता है अपने खुद के ही खर्चा और सैलरी और मधु को जोड़कर भी पैसा लिया जा सकता है कई बार तो गुप्त दान भी होते हैं और ऐसे कई गुप्त जान हमेशा ही गुप्त रह जाते हैं आप खुद से सोच कर देखें गवर्नमेंट की हेल्थ पॉलिसी में क्या कमजोरी होगी जो सबसे अधिक एनजीओ हेल्थ के ऊपर ही चलते हैं एक सामाजिक संगठन का प्रचार लोग खुद से ही फ्री में करते हैं और आपकी पहचान बड़े बड़े पद वाले व्यक्तियों से हो जाती है किसी राजनीतिक पार्टी में एंट्री लेने का भी सबसे अच्छा माध्यम से ही माना जाता है दूसरे नंबर पर सबसे ज्यादा चलने वाला सामाजिक संगठन है भूखे लोगों को भोजन कराने का क्या आप खुद बताए ऐसे लोगों के राशन कार्ड नहीं होते आपको हर बार किसी भूखे को भोजन कराने की जरूरत भी नहीं होती है आप भंडारा इत्यादि करा कर भी नाम और चंदा दोनों कमा सकते हैं अधिकतर सामाजिक संगठनों की किसी ना किसी राजनीतिक पार्टी से मेलजोल होता है इसलिए उन्हें गवर्नमेंट में की पॉलिसी में भी कई तरह की छूट मिलती है लाइसेंस लेकर आगे बढ़ने का भी उस व्यक्ति को मिलता है जिसकी राजनीतिक पकड़ हो और सबसे ज्यादा जरूरी तो विज्ञापन और प्रचार प्रसार के नाम से उन्हीं कार्यकर्ताओं से भी पैसे लिए जाते हैं और उस एडवर्टाइज को भी डिस्काउंट रेट में चला दिया जाता है वैसे तो और भी तरीके हैं जिन्हें कहा नहीं जा सकता इस प्रकार हम कह सकते हैं एक सामाजिक संगठन बनाकर हम अधिक से अधिक पैसा भी बना सकते हैं और सेवा और नाम भी कमा सकते हैं
Ek saamaajik sangathan banaane ke bahut se phaayade hain aur bahut saare tareekon se paisa banaaya ja sakata hai jo log aaj ameer hain unhonne bhee kabhee saamaajik sangathan chalaaya hai aap kuchh se soch kar dekhen ek raajaneetik paartee mein har vyakti ko to koee pad diya nahin jaata sakata ve log saamaajik sangathan banaakar hee kaary karate hain ek saamaajik sangathan apane se judane vaale vyaktiyon ke daata ke aadhaar par raajaneetik paartee se chanda juta sakata hai apane khud ke hee kharcha aur sailaree aur madhu ko jodakar bhee paisa liya ja sakata hai kaee baar to gupt daan bhee hote hain aur aise kaee gupt jaan hamesha hee gupt rah jaate hain aap khud se soch kar dekhen gavarnament kee helth polisee mein kya kamajoree hogee jo sabase adhik enajeeo helth ke oopar hee chalate hain ek saamaajik sangathan ka prachaar log khud se hee phree mein karate hain aur aapakee pahachaan bade bade pad vaale vyaktiyon se ho jaatee hai kisee raajaneetik paartee mein entree lene ka bhee sabase achchha maadhyam se hee maana jaata hai doosare nambar par sabase jyaada chalane vaala saamaajik sangathan hai bhookhe logon ko bhojan karaane ka kya aap khud batae aise logon ke raashan kaard nahin hote aapako har baar kisee bhookhe ko bhojan karaane kee jaroorat bhee nahin hotee hai aap bhandaara ityaadi kara kar bhee naam aur chanda donon kama sakate hain adhikatar saamaajik sangathanon kee kisee na kisee raajaneetik paartee se melajol hota hai isalie unhen gavarnament mein kee polisee mein bhee kaee tarah kee chhoot milatee hai laisens lekar aage badhane ka bhee us vyakti ko milata hai jisakee raajaneetik pakad ho aur sabase jyaada jarooree to vigyaapan aur prachaar prasaar ke naam se unheen kaaryakartaon se bhee paise lie jaate hain aur us edavartaij ko bhee diskaunt ret mein chala diya jaata hai vaise to aur bhee tareeke hain jinhen kaha nahin ja sakata is prakaar ham kah sakate hain ek saamaajik sangathan banaakar ham adhik se adhik paisa bhee bana sakate hain aur seva aur naam bhee kama sakate hain

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
किसी रिलेशनशिप से पीछा छुड़ाने का सबसे आसान और अच्छा तरीका कौन सा है?Kisi Relationhip Se Picha Chudane Ka Sabse Aasan Aur Acha Tareeka Kaun Sa Hai
lyadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए lyadav जी का जवाब
Unknown
0:23
जो भी आपके पार्टनर के गुप्त राज हैं उसे किसी दूसरे को बता कर उसे बिल्कुल भी ना बताएं जब ऐसा करने के कुछ समय बीत जाए तब एक चिंगारी की तरह आप अपना व्यवहार बदल ले उससे कुछ दिनों बाद उसका इंट्रेंस भी आप में से खत्म हो जाएगा
Jo bhee aapake paartanar ke gupt raaj hain use kisee doosare ko bata kar use bilkul bhee na bataen jab aisa karane ke kuchh samay beet jae tab ek chingaaree kee tarah aap apana vyavahaar badal le usase kuchh dinon baad usaka intrens bhee aap mein se khatm ho jaega

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
जब कोई आपसे बिना वजह उलझे तो ऐसी स्थिति में क्या किया जाए?Jab Koi Aapse Bina Vajah Uljhe To Aisi Sthiti Mein Kya Kiya Jaye
lyadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए lyadav जी का जवाब
Unknown
0:38
कुछ लोग और परिस्थितियां ऐसी होती हैं वह अपने आप ही आप से उलझते हैं जैसे जिस व्यक्ति के पास अत्याधिक बेवजह ही पैसा हो और वह फ्री भी हो तब और उसकी रिश्तेदारी किसी ऐसे बड़े पद वाले व्यक्तियों से हो और तीसरा ऐसा व्यक्ति जो किसी स्त्री को वादा यह कमिटमेंट कर चुका हो ऐसे व्यक्ति बिना वजह ही मौका खोद खोद कर व्यक्तियों से उलझते जाते हैं इन से बच कर रहना चाहिए
Kuchh log aur paristhitiyaan aisee hotee hain vah apane aap hee aap se ulajhate hain jaise jis vyakti ke paas atyaadhik bevajah hee paisa ho aur vah phree bhee ho tab aur usakee rishtedaaree kisee aise bade pad vaale vyaktiyon se ho aur teesara aisa vyakti jo kisee stree ko vaada yah kamitament kar chuka ho aise vyakti bina vajah hee mauka khod khod kar vyaktiyon se ulajhate jaate hain in se bach kar rahana chaahie

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
किसानों की कृषि कानूनों को सरकार से वापस लेने की जिद को आप कैसे समझते हैं?Kisaanon Ki Krishi Kaanunon Ko Sarkar Se Vapas Lene Ki Jid Ko Aap Kaise Samajhte Hain
lyadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए lyadav जी का जवाब
Unknown
2:46
किसानों की कृषि कानूनों को वापस लेने की जिद कह सकते हैं या मोदी जी की जीत कह सकते हैं या भक्तों का फैलाया हुआ भ्रम कह सकते हैं लेकिन हम मेन मुद्दों पर बात करते हैं जो सबसे ज्यादा इंपोर्टेंट है सबसे पहली बात तो किसानों को उनके एमएसपी की सही कीमत नहीं मिलती है और सरकार नहीं देती है उसके बाद पेट्रोल और डीजल डीजल के भाव इस कदर बढ़ा देना जो सीधे तौर पर किसानों को प्रभावित करते हैं उसके बाद भी कुछ लोग मुंहफट यह कह रहे हैं कि किसानों को सही कीमत इसलिए नहीं मिलती क्योंकि बिचौलिए उसे खा जाते हैं इसीलिए कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग जरूरी है एक बात आप बताइए सरकार जिसकी है वहीं इसके लिए जिम्मेदार होगा या कोई और कैसे बिचौलिए कीमत को प्रभावित कर पाते हैं क्या सरकार नजर नहीं रखती यूं तो हर योजनाओं का ढिंढोरा चिल्ला चिल्ला कर पीटा जाता है पर कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग काबिल तो इतनी जल्दी पास करा लिया बिना किसी को बताए क्या सरकार द्वारा कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग को बताने के लिए कोई ट्रेनिंग प्रोग्राम चलाया गया सरकार की तरफ से कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग तो पहले भी होती थी पर सच बात तो यह है कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग और एमएसपी के समय के बीच में किसानों को एक बार फिर लूट लिया जाएगा जब तक कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग पूरा लागू होगा सरकार को एमएसपी ना देने का सबसे बड़ा फायदा तो यह है कि वह वह ज्यादा कीमत देने से बच जाएगी और कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग के नाम पर मोलभाव भी किया जाएगा उनके साथ कॉन्ट्रैक्ट पूरा होगा या नहीं होगा नियम शर्ते कुछ भी तय नहीं है बात आती है समाधान कि हम क्या कर सकते हैं सबसे बड़ी बात सरकार को डायरेक्ट कंपनियों से आर्डर लेकर कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग के लिए मंडियों को पूर्वानुमान के अनुसार तैयार रखना होगा जिसमें सरकार भविष्य की जरूरतों और पूर्वानुमान के आधार पर फसलों को उदास सकती है उस अनुसार बीज दे सकती है खाद और बीजों पर सब्सिडी दे सकती है खाद एवं बीज पर सब्सिडी देना सरकार के लिए ही फायदेमंद होगा सरकार एमएसपी के निर्धारण के लिए एक आदर्श ग्राम बना सकती है जहां पर वह खर्चों का विश्लेषण कर खुद से
Kisaanon kee krshi kaanoonon ko vaapas lene kee jid kah sakate hain ya modee jee kee jeet kah sakate hain ya bhakton ka phailaaya hua bhram kah sakate hain lekin ham men muddon par baat karate hain jo sabase jyaada importent hai sabase pahalee baat to kisaanon ko unake emesapee kee sahee keemat nahin milatee hai aur sarakaar nahin detee hai usake baad petrol aur deejal deejal ke bhaav is kadar badha dena jo seedhe taur par kisaanon ko prabhaavit karate hain usake baad bhee kuchh log munhaphat yah kah rahe hain ki kisaanon ko sahee keemat isalie nahin milatee kyonki bichaulie use kha jaate hain iseelie kontraikt phaarming jarooree hai ek baat aap bataie sarakaar jisakee hai vaheen isake lie jimmedaar hoga ya koee aur kaise bichaulie keemat ko prabhaavit kar paate hain kya sarakaar najar nahin rakhatee yoon to har yojanaon ka dhindhora chilla chilla kar peeta jaata hai par kontraikt phaarming kaabil to itanee jaldee paas kara liya bina kisee ko batae kya sarakaar dvaara kontraikt phaarming ko bataane ke lie koee trening prograam chalaaya gaya sarakaar kee taraph se kontraikt phaarming to pahale bhee hotee thee par sach baat to yah hai kontraikt phaarming aur emesapee ke samay ke beech mein kisaanon ko ek baar phir loot liya jaega jab tak kontraikt phaarming poora laagoo hoga sarakaar ko emesapee na dene ka sabase bada phaayada to yah hai ki vah vah jyaada keemat dene se bach jaegee aur kontraikt phaarming ke naam par molabhaav bhee kiya jaega unake saath kontraikt poora hoga ya nahin hoga niyam sharte kuchh bhee tay nahin hai baat aatee hai samaadhaan ki ham kya kar sakate hain sabase badee baat sarakaar ko daayarekt kampaniyon se aardar lekar kontraikt phaarming ke lie mandiyon ko poorvaanumaan ke anusaar taiyaar rakhana hoga jisamen sarakaar bhavishy kee jarooraton aur poorvaanumaan ke aadhaar par phasalon ko udaas sakatee hai us anusaar beej de sakatee hai khaad aur beejon par sabsidee de sakatee hai khaad evan beej par sabsidee dena sarakaar ke lie hee phaayademand hoga sarakaar emesapee ke nirdhaaran ke lie ek aadarsh graam bana sakatee hai jahaan par vah kharchon ka vishleshan kar khud se

#टेक्नोलॉजी

lyadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए lyadav जी का जवाब
Unknown
1:16
हिंदी में कौन-कौन से विषय पर यूट्यूब चैनल बना सकते हैं जो पहले से अवेलेबल नहीं है आप लिरिक्स को एक्सप्लेन करने के लिए भी एक यूट्यूब चैनल बना सकते हैं जिसमें इंग्लिश आदि लैंग्वेज की लिरिक्स को आप हिंदी में बता सकते हैं दूसरा आप लाइव गेमिंग के लिए भी यूट्यूब चैनल बना सकते हैं वर्टिकल वीडियो तथा शॉट वीडियो भी बना सकते हैं टॉप मोबाइल गेम्स पर भी यूट्यूब चैनल बना सकते हैं कुछ यूटिलिटी टॉपिक्स तथा न्यूज़ चैनल्स भी बना सकते हैं जैसे इवेंट फार्मिंग हेल्थ एक्सरसाइज मशीन गैजेट ईटीसी इसके अलावा आप अदर लैंग्वेज के सोंग्स की प्ले लिस्ट बना सकते हैं तथा इवेंट मैनेजमेंट पर भी बना सकते सबसे आखरी और सबसे महत्वपूर्ण हम प्रयोग टेबल पर भी यूट्यूब चैनल बना सकते हैं वैसे तो बहुत से लोगों ने साइंस वीडियोस बनाए हैं लेकिन पूरी तरह से अभी तक कोई भी पीरियोडिक टेबल को नहीं समझा पाया है
Hindee mein kaun-kaun se vishay par yootyoob chainal bana sakate hain jo pahale se avelebal nahin hai aap liriks ko eksaplen karane ke lie bhee ek yootyoob chainal bana sakate hain jisamen inglish aadi laingvej kee liriks ko aap hindee mein bata sakate hain doosara aap laiv geming ke lie bhee yootyoob chainal bana sakate hain vartikal veediyo tatha shot veediyo bhee bana sakate hain top mobail gems par bhee yootyoob chainal bana sakate hain kuchh yootilitee topiks tatha nyooz chainals bhee bana sakate hain jaise ivent phaarming helth eksarasaij masheen gaijet eeteesee isake alaava aap adar laingvej ke songs kee ple list bana sakate hain tatha ivent mainejament par bhee bana sakate sabase aakharee aur sabase mahatvapoorn ham prayog tebal par bhee yootyoob chainal bana sakate hain vaise to bahut se logon ne sains veediyos banae hain lekin pooree tarah se abhee tak koee bhee peeriyodik tebal ko nahin samajha paaya hai

#रिश्ते और संबंध

lyadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए lyadav जी का जवाब
Unknown
0:34
एक स्त्री अगर धन चाहती है तो वह अपने पिता पति या भाई से भी ले सकती है परंतु हिंदू धर्म के अनुसार दहेज वर पक्ष को तब दिया जा सकता है जब वह आर्थिक रूप से सक्षम ना हो ऐसा स्वयं विष्णु जी ने भी किया है जहां तक बात रामायण की है जनक जी ने स्वेच्छा से प्रभु चरणों में अपनी संपत्ति समर्पित की थी
Ek stree agar dhan chaahatee hai to vah apane pita pati ya bhaee se bhee le sakatee hai parantu hindoo dharm ke anusaar dahej var paksh ko tab diya ja sakata hai jab vah aarthik roop se saksham na ho aisa svayan vishnu jee ne bhee kiya hai jahaan tak baat raamaayan kee hai janak jee ne svechchha se prabhu charanon mein apanee sampatti samarpit kee thee
URL copied to clipboard