#undefined

bolkar speaker
रोजाना 1 घंटे साइकिल चलाने के क्या फायदे हैं?Rojana 1 Ghante Cycle Chalane Ke Kya Fayde Hain
Brahma Prakash Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Brahma जी का जवाब
Asst. Teacher
1:35
नमस्कार मैं ब्रहम प्रकाश मिश्रा आपका फोन करें पर हार्दिक स्वागत एवं अभिनंदन करता हूं आपका प्रश्न है रोजाना 1 घंटे साइकिल चलाने के क्या फायदे हैं तुझी मित्र रोजाना यदि हम प्रतिदिन नियमित रूप से साइकिल चलाते हैं चाहे वह एक घंटा हो या 1 किलोमीटर चलाते हैं तो उसका हमारे शरीर पर काफी लाभकारी परिणाम दिखाई देता है जैसे खोजना साइकिल चलाने से हमारे घुटनों की एक्सरसाइज होती है जिससे घुटनों की दर्द या अन्य प्रकार की बीमारियों से बचा जा सकता है योजना साइकिल चलाने से हमारी मांस पेशियों में खिंचाव आता है जिससे शरीर की मांसपेशियां चुस्त और दुरुस्त बनी रहती हैं आप किसके साथ साथ प्रथम साइकिल चला रहे हैं तो मधुमेह के रोगी होने पर एक्स्ट्रा एनर्जी खत्म करेंगे जिससे हम को पर्याप्त भूख लगेगी और मधुमेह या मोटापे की समस्या से भी बचा जा सकता है इसके अतिरिक्त प्रतिबंध एक निश्चित दूरी तक साइकिल चलाने से हम पर्याप्त शारीरिक श्रम करते हैं जिससे हमारे शरीर को अतिरिक्त ऊर्जा के लिए अधिक भोजन की आवश्यकता पड़ती है उस भोजन को अच्छे तरीके से बचाकर अपने शरीर को चुस्त-दुरुस्त बनाए रख सकते हैं और इसके साथ अन्य लाभ भी हैं जो साइकिल चलाने से हमारे शरीर को प्रभावित करते हैं तो मित्र यह जवाब अच्छा लगा होगा तो कृपया सब्सक्राइब लाइक शेयर और कमेंट करके मुझे जरूर बताएं धन्यवाद
Namaskaar main braham prakaash mishra aapaka phon karen par haardik svaagat evan abhinandan karata hoon aapaka prashn hai rojaana 1 ghante saikil chalaane ke kya phaayade hain tujhee mitr rojaana yadi ham pratidin niyamit roop se saikil chalaate hain chaahe vah ek ghanta ho ya 1 kilomeetar chalaate hain to usaka hamaare shareer par kaaphee laabhakaaree parinaam dikhaee deta hai jaise khojana saikil chalaane se hamaare ghutanon kee eksarasaij hotee hai jisase ghutanon kee dard ya any prakaar kee beemaariyon se bacha ja sakata hai yojana saikil chalaane se hamaaree maans peshiyon mein khinchaav aata hai jisase shareer kee maansapeshiyaan chust aur durust banee rahatee hain aap kisake saath saath pratham saikil chala rahe hain to madhumeh ke rogee hone par ekstra enarjee khatm karenge jisase ham ko paryaapt bhookh lagegee aur madhumeh ya motaape kee samasya se bhee bacha ja sakata hai isake atirikt pratibandh ek nishchit dooree tak saikil chalaane se ham paryaapt shaareerik shram karate hain jisase hamaare shareer ko atirikt oorja ke lie adhik bhojan kee aavashyakata padatee hai us bhojan ko achchhe tareeke se bachaakar apane shareer ko chust-durust banae rakh sakate hain aur isake saath any laabh bhee hain jo saikil chalaane se hamaare shareer ko prabhaavit karate hain to mitr yah javaab achchha laga hoga to krpaya sabsakraib laik sheyar aur kament karake mujhe jaroor bataen dhanyavaad

#undefined

bolkar speaker
सांस फूलने की बीमारी कौन से कारणों से होती है और इसका उपचार कैसे करें?Saans Foolne Ki Bimari Kaun Se Karano Se Hoti Hai Aur Iska Upchar Kaise Karein
Brahma Prakash Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Brahma जी का जवाब
Asst. Teacher
1:08
नमस्कार मैं ब्रहम प्रकाश मिश्र आपका मन करे पर हार्दिक स्वागत करता हूं आपका प्रश्न है सांस फूलने की बीमारी कौन से कारणों से होती है और इसका उपचार कैसे करें तो जी मित्र कभी कभी अधिक भोजन कर लेने से भी हम को सांस लेने या सांस छोड़ने में दिक्कत आती है लेकिन यह अधिकार होता कभी कभार ही होता है यदि आपको सांस फूलने की रेगुलर समस्या है तो इसमें हो सकता है आप अस्थमा से पीड़ित हो या किसी प्रकार की कोई पलमोनरी डीपी वगैरह हो सकता है तो इसके लिए आप किसी योग्य चिकित्सक से परामर्श लें जांच करवाएं और उसके बताए अनुसार ही दवाइयों का सेवन करें और इस स्थिति को गंभीरता से देखें किसी भी प्रकार के घरेलू उपाय उपचारों का प्रयोग न करें क्योंकि यह घरेलू उपाय और उपचार आपको लाभ की बजाय नुकसान है दे सकते हैं तो मित्र के जवाब अच्छा लगा हो तो कृपया सब्सक्राइब लाइक शेयर और कमेंट करके जरूर बताएं धन्यवाद
Namaskaar main braham prakaash mishr aapaka man kare par haardik svaagat karata hoon aapaka prashn hai saans phoolane kee beemaaree kaun se kaaranon se hotee hai aur isaka upachaar kaise karen to jee mitr kabhee kabhee adhik bhojan kar lene se bhee ham ko saans lene ya saans chhodane mein dikkat aatee hai lekin yah adhikaar hota kabhee kabhaar hee hota hai yadi aapako saans phoolane kee regular samasya hai to isamen ho sakata hai aap asthama se peedit ho ya kisee prakaar kee koee palamonaree deepee vagairah ho sakata hai to isake lie aap kisee yogy chikitsak se paraamarsh len jaanch karavaen aur usake batae anusaar hee davaiyon ka sevan karen aur is sthiti ko gambheerata se dekhen kisee bhee prakaar ke ghareloo upaay upachaaron ka prayog na karen kyonki yah ghareloo upaay aur upachaar aapako laabh kee bajaay nukasaan hai de sakate hain to mitr ke javaab achchha laga ho to krpaya sabsakraib laik sheyar aur kament karake jaroor bataen dhanyavaad

#undefined

bolkar speaker
अच्छे स्वास्थ्य के लिए मुझे रोज पानी में क्या मिलाकर पीना चाहिए?Ache Swasthya Ke Liye Mujhe Roj Paani Me Kya Milakar Peena Chahiye
Brahma Prakash Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Brahma जी का जवाब
Asst. Teacher
1:04
नमस्कार मैडम प्रकाश मिश्र आपका बोल करे पर हार्दिक स्वागत करता हूं आपका प्रश्न है अच्छे स्वास्थ्य के लिए रोज पानी में क्या मिलाकर पीना चाहिए तो नहीं मित्र अच्छे स्वास्थ्य के लिए आप प्रतिदिन 7 से 8 लीटर न्यूनतम पानी की आपको पानी में कुछ भी मिला ना नहीं है क्योंकि पानी में खुद पोषक तत्व अधिक खनिज और मिनरल्स होते हैं सर पर आपको यह देखना है कि पानी प्रदूषित ना हो या उसमें किसी प्रकार का प्रदूषण न पाया जाओ तो आप अपना पे जल्द स्वस्थ और निरोग सही रखने के लिए हमेशा स्वच्छ पेयजल का उपयोग करें यदि आपको कैब कब्ज इंडिया गेट की समस्या बनी रहती है तो आप प्रातकाल निहार मुंह गुनगुने पानी का सेवन करना आरंभ कर दें से आपका पेट अच्छी तरह साफ होगा और कब तथा गैस की समस्या के समाधान मिलेगा मित्र यह जवाब अच्छा लगा हो तो कृपया सब्सक्राइब लाइक करो कमेंट करके जरूर बताएं धन्यवाद
Namaskaar maidam prakaash mishr aapaka bol kare par haardik svaagat karata hoon aapaka prashn hai achchhe svaasthy ke lie roj paanee mein kya milaakar peena chaahie to nahin mitr achchhe svaasthy ke lie aap pratidin 7 se 8 leetar nyoonatam paanee kee aapako paanee mein kuchh bhee mila na nahin hai kyonki paanee mein khud poshak tatv adhik khanij aur minarals hote hain sar par aapako yah dekhana hai ki paanee pradooshit na ho ya usamen kisee prakaar ka pradooshan na paaya jao to aap apana pe jald svasth aur nirog sahee rakhane ke lie hamesha svachchh peyajal ka upayog karen yadi aapako kaib kabj indiya get kee samasya banee rahatee hai to aap praatakaal nihaar munh gunagune paanee ka sevan karana aarambh kar den se aapaka pet achchhee tarah saaph hoga aur kab tatha gais kee samasya ke samaadhaan milega mitr yah javaab achchha laga ho to krpaya sabsakraib laik karo kament karake jaroor bataen dhanyavaad

#मनोरंजन

bolkar speaker
रेलवे इंजन के पहिए के पास बने बॉक्स में रेत क्यों डाला जाता है?Railway Engine Ke Pahiye Ke Paas Bane Box Mein Ret Kyu Dala Jata Hai
Brahma Prakash Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Brahma जी का जवाब
Asst. Teacher
1:09
न मंगा मैं ब्रहम प्रकाश मिश्र का आपका मोड़ कृपा हार्दिक स्वागत करता हूं आपका प्रश्न है रेलवे इंजन के पहिए के पास बने बॉक्स में रेत क्यों डाला जाता है तुझी मित्र रेल इंजन के पास बने बॉक्स में बालू भरी रहती है उसको सैंडबॉक्स बोला जाता है और जिसका कंट्रोल असिस्टेंट लोको पायलट के पास होता है बालू का प्रयोग घर पर रेल पटरियों और इंजन की पहियों के बीच घर्षण को बनाए रखने के लिए अधिकारिता बरसाती मौसम में या चढ़ाई या ढलान वाले स्थानों पर किया जाता है जब ऐसी स्थितियों में इंजन पहुंचता है तो असिस्टेंट लोको पायलट अपने कमांड सिस्टम से थोड़ी थोड़ी देर तक पटरियों पर बिखरता है जिससे पहियों का घर्षण उन पदों पर बना रहता है और स्थिति जटिल नहीं होने पाती तो मित्र अब आप समझ चुके होंगे कि इनबॉक्स प्रीत क्यों खड़ा रहता है तो यह जवाब अच्छा लगा हो तो कृपया सब्सक्राइब लाइक शेयर और कमेंट करके जरूर बताएं धन्यवाद
Na manga main braham prakaash mishr ka aapaka mod krpa haardik svaagat karata hoon aapaka prashn hai relave injan ke pahie ke paas bane boks mein ret kyon daala jaata hai tujhee mitr rel injan ke paas bane boks mein baaloo bharee rahatee hai usako saindaboks bola jaata hai aur jisaka kantrol asistent loko paayalat ke paas hota hai baaloo ka prayog ghar par rel patariyon aur injan kee pahiyon ke beech gharshan ko banae rakhane ke lie adhikaarita barasaatee mausam mein ya chadhaee ya dhalaan vaale sthaanon par kiya jaata hai jab aisee sthitiyon mein injan pahunchata hai to asistent loko paayalat apane kamaand sistam se thodee thodee der tak patariyon par bikharata hai jisase pahiyon ka gharshan un padon par bana rahata hai aur sthiti jatil nahin hone paatee to mitr ab aap samajh chuke honge ki inaboks preet kyon khada rahata hai to yah javaab achchha laga ho to krpaya sabsakraib laik sheyar aur kament karake jaroor bataen dhanyavaad

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
भारतीय सेना अपनी सीमाओं पर किस तरह के रोबोट लाने जा रही है?Bhartiya Sena Apne Seemao Par Kis Tarah Ke Robot Lane Ja Rahi Hai
Brahma Prakash Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Brahma जी का जवाब
Asst. Teacher
0:52
नमस्कार मैं ब्रहम प्रकाश मिश्र आपका बोल करे पर हार्दिक स्वागत करता हूं आपका प्रश्न है भारतीय सेना अपनी सीमाओं पर किस तरह के रोबोट बनाने जा रहे हैं जिन भारतीय सेना अपनी सीमाओं पर निगरानी बढ़ाने एवं सुरक्षा तंत्र को मजबूत बनाने के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस यानी कृत्रिम बुद्धिमत्ता पर आधारित ऐसे फोटो का प्रयोग करने पर विचार कर रही है जो कि अनुकूल मौसम के अनुकूल स्वयं को ढाल सके और दुर्गम स्थानों पर चहल कदमी करके सुरक्षा व्यवस्था को मजबूत कर सके ऐसे हमारे देश में घुसपैठ की संभावनाएं कम की जा सके और सुरक्षा व्यवस्था को डेड बनाया जा सके तो मित्र यह जवाब अच्छा लगा हो तो कृपया सब्सक्राइब लाइक शेयर और कमेंट करके जरूर बताएं धन्यवाद
Namaskaar main braham prakaash mishr aapaka bol kare par haardik svaagat karata hoon aapaka prashn hai bhaarateey sena apanee seemaon par kis tarah ke robot banaane ja rahe hain jin bhaarateey sena apanee seemaon par nigaraanee badhaane evan suraksha tantr ko majaboot banaane ke lie aartiphishiyal intelijens yaanee krtrim buddhimatta par aadhaarit aise photo ka prayog karane par vichaar kar rahee hai jo ki anukool mausam ke anukool svayan ko dhaal sake aur durgam sthaanon par chahal kadamee karake suraksha vyavastha ko majaboot kar sake aise hamaare desh mein ghusapaith kee sambhaavanaen kam kee ja sake aur suraksha vyavastha ko ded banaaya ja sake to mitr yah javaab achchha laga ho to krpaya sabsakraib laik sheyar aur kament karake jaroor bataen dhanyavaad

#मनोरंजन

bolkar speaker
बेहतरीन साइ फ़ाई फिल्में कौन-कौन सी है?Behtareen Sci Fi Filme Kaun Kaun Si Hai
Brahma Prakash Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Brahma जी का जवाब
Asst. Teacher
0:53
मक्का में ब्रहम प्रकाश मिश्रा आपका बोल कर शर्मिंदा न करता हूं आपका प्रश्न है बेहतरीन साइंस फिक्शन फिल्में कौन-कौन सी हैं तो मित्र बेहतरीन साइंस फिक्शन फिल्में भूतनी है उनमें हॉलीवुड की मुख्य रूप से अवतार या उसी को मैं साइंस फिक्शन फिल्मों की श्रेणी में सबसे ऊपर रख लूंगा आप वही बॉलीवुड की बात करें तो बॉलीवुड में शराब बन जा रोबोट रोबोट 2.0 एचडी फिल्में है जो साइंस फिक्शन फिल्मों की श्रेणी में बेहतरीन फिल्में और इनको देखने से हमको अच्छा किया न्यू प्राप्त होता है इसके अतिरिक्त हॉलीवुड में ग्रेविटी भी अच्छी फिल्म है जो साइंस फिक्शन की श्रेणी में ही है सुमित के जवाब अच्छा लगा हो तो कृपया सब्सक्राइब लाइक शेयर और कमेंट करके जरूर बताएं धन्यवाद

#मनोरंजन

bolkar speaker
चर्म रोग किस विटामिन की कमी से होता है?Charm Rog Kis Vitamin Ki Kami Se Hota Hai
Brahma Prakash Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Brahma जी का जवाब
Asst. Teacher
0:56
नमस्कार मैडम प्रकाश मित्रता कबूल करें पर हार्दिक स्वागत करता हूं आपका प्रश्न विटामिन की कमी से होता है कई कारण होते हैं लेकिन मुख्यता विटामिन ए की कमी को चर्म रोग का मुख्य कारण माना जाता है क्योंकि विटामिन हमारे शरीर पर एक इंटर कॉलेज अन्याय के रूप में कार्य करती है जो कि विभिन्न प्रदूषित संपर्कों से हम को बचाए रखती है या सूर्य की किरणें या उन पदार्थों से जो हम जिनसे हम को ही है यह हमारी सोच आपको उन पदार्थों से चालू हो सकता है जब हमारे शरीर में विटामिन ए की कमी होती है तो विटामिन एक ही परत कम होने लगती है जिससे शरीर में चर्म रोग उत्पन्न हो जाता है तो मित्र यह जवाब अच्छा लगा हो तो कृपया सब्सक्राइब लाइक शेयर और कमेंट करके जरूर बताएं धन्यवाद

#मनोरंजन

bolkar speaker
अपने पैरों के तलवों पर नारियल का तेल लगाने के क्या फायदे?Apne Pairon Ke Talvon Par Nariyal Ka Tel Lgane Ke Kya Fayde
Brahma Prakash Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Brahma जी का जवाब
Asst. Teacher
1:57
नमस्कार देवेंद्र प्रकाश मिश्रा आपका मन करे पर हार्दिक स्वागत करता हूं आपका प्रश्न है अपने पैरों के तलवों पर नारियल का तेल लगाने के क्या फायदे होते हैं तो जिमी पैरों के तलवे पर नारियल या सरसों के तेल की मसाज करने से जो फायदे होते हैं उनमें पहला फायदा होता है क्योंकि तलवे की मसाज शरीर के लिए अत्यंत लाभकारी होती है क्योंकि पैर के अंगूठे का संबंध सीधे दिमाग की नसों से होता है और तलवे के मालिश करने से हमारी सभी मानसिक चेतना जागृत हो जाती हैं दूसरा लाभ होता है अंगूठे के निचले हिस्से की नसों का संबंध की गर्दन दिल और पेट से होता है इन नसों की मालिश होते ही यह सुचारू रूप से कार्य करने लगती हैं इससे रक्त हकीकत में तीव्रता आ जाती है और गर्दन दिल तथा पेट से जुड़ी हुई सारी परेशानियां समाप्त होने लगती हैं तीसरा फायदा होता है तलवे की मसाज पेट के अंदर दूर होता है और किसी भी बात को शालीनता से समझने के लिए बुद्धि का विकास होता है दिमाग पर अधिक जोर या अधिक बोर होने पर मसाज के बाद यह बोझ हल्का हो जाता है और मन को शांति मिलती है और शरीर के अंदर संवेदनशीलता आती है तलवे की मसाज व्यक्ति के मानसिक और शारीरिक विकास में भी मदद करता है अगला फायदा होता है वृद्ध लोगों को तलवे की मालिश का ज्यादा लाभ मिलता है क्योंकि उम्र बढ़ जाने के कारण उनकी को शिकायत सुचारू रूप से कार्य करना बंद कर देती है जिससे रक्त में भी कमी आ जाती है और अच्छे चिकित्सकों का मानना है कि तलवे की मालिश करने से बुढ़ापा दूर भागता है इसके साथ-साथ तलवे की मालिश करने से हमको अच्छी नींद भी आती है तुम इतने जवाब अच्छा लगा हो तो कृपया मुझे सब्सक्राइब लाइक शेयर और कमेंट करके जरूर बताएं धन्यवाद

#मनोरंजन

bolkar speaker
दांतों व मसूड़ों की सुरक्षा के लिए घरेलू उपाय क्या क्या है?Danton Va Masudon Ki Suraksha Ke Lie Gharelu Upaay Kya Kya Hai
Brahma Prakash Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Brahma जी का जवाब
Asst. Teacher
4:00
मद्रास मिस्टर आपका फोन करें पर हार्दिक स्वागत करता हूं आपका प्रश्न है दांतों व मसूड़ों की सुरक्षा के लिए घरेलू उपाय क्या-क्या है तो जी मित्र दांतों और मसूड़ों की सुरक्षा के लिए घरेलू उपाय व महिला उपाय है मुलेठी मुलेठी में मौजूद लिखो ऋषि दिन और लिखो रिसोर्ट के बने होते जो कि दांतों और मसूड़ों की सेहत को बिगाड़ने वाले बैक्टीरिया से लड़ने में मदद करता है इसलिए मुलेठी के पाउडर या मुलेठी की लकड़ी का इस्तेमाल दांतों में ब्रश करने के लिए कर सकते हैं दूसरा उपाय है तुलसी तुलसी को मुंह में लेने से संक्रमण से बचा जा सकता है और इससे बैक्टीरिया कम होते हैं इस तरह दांतों में ब्लॉक मुंह की बदबू कैविटी की समस्या आदि समस्याएं होने पर तुलसी की पत्तियों का प्रयोग करते हैं तो तुलसी की पत्तियां खाने के अलावा इनकी पत्तियों को धूप में सुखा लें और फिर इसको देख लें इसका गुड बनाकर धातु पर विश करने से भी लाभ मिलता है तीसरी चीज है विटामिन सी और अन्य पोषक तत्वों से भरपूर आंवला आंवला दांतो को मजबूत बनाता है और यह मोह के बैक्टीरिया से बचाने में भी मदद करता है मत देना क्योंकि पुदीना में एंटी बैक्टीरियल और एंटीसेप्टिक गुण होते हैं इस कारण यह दांत और मसूड़ों को स्वस्थ रखने पुदीने की पत्तियों को पानी में डालने और आधे घंटे गरम करने के लिए 10 गए उसके बाद इस पानी को छानकर रख लें और पानी को मुंह में रखकर कुछ मिनट तक खुला करें इसे रोजाना दोहराने से दांत मजबूत होते हैं कोई चीज होती है सरसों का तेल और नमक क्योंकि दांतो की मजबूती और मसूड़े के स्वास्थ्य के लिए सरसों और नमक का तेल सदियों से इस्तेमाल किया जा रहा है क्योंकि यह एक एंटीसेप्टिक और एंटीबैक्टीरियल मटेरियल होने से हमारे दांतों और मसूड़ों को बैक्टीरिया से बचाव करता इसके लिए आप 3 छोटे चम्मच सरसों के तेल में 2 छोटे चम्मच नमक मिला सकते हैं और इस मिश्रण को अंगुली पर लेकर कुछ नेट के लिए दांतों और मसूड़ों पर मसाज करें गुनगुने पानी से कुल्ला करने अब अगली बंधुओं और मसूड़ों की सुरक्षा के लिए बुक कर सकते हैं वह तिल का तेल तिल के तेल को मुंह में रख लें और 20 मिनट तक इसे मुंह में घुमाने के बाद तेल को ठोक दे फिर गुनगुने पानी से कुल्ला करें इसके बाद ब्रश करे ऐसा रोजाना करने से मुंह के बैक्टीरिया और हानिकारक कीटाणु मर जाते हैं लेकिन इस बात का ख्याल रखना चाहिए कि तिल के तेल से गरारे नहीं करने चाहिए और ना ही इसको निकलने की कोशिश करनी चाहिए बस तू होती है नींबू भी गुण होते हैं जो दांतों को मजबूत बनाने और स्वस्थ रखने में मदद करता है इसमें कई तरह के एंटीसेप्टिक गुण होते हैं और नियमित रूप से नीम से बने माउथ वास का उप करने से हम दांतों और मसूड़ों की सुरक्षा कर सकते हैं अगली घरेलू चीज के तौर पर हम लोगों के तेल का प्रयोग कर सकते हैं क्योंकि लॉन्ग के तेल में एंटीऑक्सीडेंट और एंटी इन्फ्लेमेटरी के साथ-साथ एंटीसेप्टिक गुण होते हैं इसलिए लॉन्ग के तेल से नियमित रूप से दांतों और मसूड़ों की मालिश करने पर यह दांतो को कमजोर बनाने वाली बैक्टीरिया से लड़ता है और दातों की तकलीफ से हम को बचाए रखना है और घरेलू तौर पर आप काली मिर्च और हल्दी का भी पेस्ट बनाकर प्रयोग कर सकते हैं इससे दांतों और मसूड़ों की हल्की मालिश करने पर हमें इसमें मौजूद पोषक तत्व दांतों को मजबूत बनाते हैं और खास बात नहीं होती है मालिश के बाद लगभग 30 मिनट तक कुछ नहीं खाना चाहिए और ना ही पीना चाहिए तो मित्र यह जवाब अच्छा लगा हो तो कृपया मुझे सब्सक्राइब लाइक शेयर और कमेंट करके जरूर बताएं धन्यवाद

#मनोरंजन

bolkar speaker
किसी की किडनी में सूजन के क्या कारण हो सकते हैं?Kisi Ki Kidney Me Soojan Ke Kya Karan Ho Sakte Hai
Brahma Prakash Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Brahma जी का जवाब
Asst. Teacher
1:29
नमस्कार मधुर मटका आपका मन करे पर हार्दिक स्वागत करता हूं आपका प्रश्न है किसी की किडनी में सूजन के क्या कारण हो सकते हैं तो जी मित्र किडनी में सूजन के मुख्य कारण में पहला कारण होता है होली अर्थराइटिस नोडोसा जैसी एक बीमारी जितने कोशिकाएं धमनियों पर हमला करते हैं दूसरा कारण होता है गले की खराश जोकि स्ट्रैप्टॉकोक्की बैक्टीरिया के कारण होती है और दो या तीन हफ्तों में जीएन बन सकती है इसके अलावा कुछ गुड पोस्चर सिंड्रोम जैसे कि ऑटोइम्यून रोग जिनके इलाज के दौरान शरीर में बनने वाले एंटीबॉडी मुख्य तौर पर किडनी और फेफड़ों को नुकसान पहुंचाकर किडनी में सूजन का कारण बन जाते हैं लुपस आईडीएनए करो पैथी भी ऐसे कारक हैं जो कि जिया ने किडनी की सूजन में महत्वपूर्ण कारक बनते हैं हमारी लाइट कोशिश जैसी जिसमें असामान्य 20 मरीज के अंगों में जाकर उनके ऊतकों को नुकसान पहुंचाता है यह भी एक कारण होता है जो कि किडनी किडनी में सूजन पहुंचाता है ग्रानुलोमेटोसिस जैसी बीमारी जिसके कारण रक्त वाहिकाओं के सूजन में आती है और किडनी में सूजन भी हो जाती है तो मित्र यह जवाब अच्छा लगा हो तो कृपया सब्सक्राइब लाइक शेयर और कमेंट करके जरूर बताएं धन्यवाद

#मनोरंजन

bolkar speaker
एक दर्जी के पास 16 मीटर कपड़ा हैं ! एक घंटे में वह 2 मीटर काटता है तो पूरे कपड़े को कितने घंटे में काटेगा ?Ek Darjee Ke Paas 16 Meetar Kapada Hain ! Ek Ghante Mein Vah 2 Meetar Kaatata Hai To Poore Kapade Ko Kitane Ghante Mein Kaatega
Brahma Prakash Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Brahma जी का जवाब
Asst. Teacher
0:41
नमस्कार मदन प्रकाश मिश्र आपका बोल कर एक पर हार्दिक स्वागत करता हूं आप ने प्रश्न किया है एक दर्जी के पास 16 मीटर कपड़ा है 1 घंटे में वह 2 मीटर कपड़ा काटता है तो पूरे कपड़े को काटने में कितना समय लगेगा तो मित्र क्योंकि वह 1 घंटे में 2 मीटर कपड़ा काटता है इसलिए उसको 16 मीटर कपड़े काटने के लिए 2 * 7 यानी 7 घंटे लगेंगे क्योंकि मैं 7 घंटे में 14 मीटर कार्ड कपड़ा काटेगा और अंत में 2 मीटर कपड़ा होता है ही बच जाएगा तो मित्र यह जवाब अच्छा लगा हो तो कृपया सब्सक्राइब लाइक शेयर और कमेंट करके जरूर बताएं धन्यवाद
Namaskaar madan prakaash mishr aapaka bol kar ek par haardik svaagat karata hoon aap ne prashn kiya hai ek darjee ke paas 16 meetar kapada hai 1 ghante mein vah 2 meetar kapada kaatata hai to poore kapade ko kaatane mein kitana samay lagega to mitr kyonki vah 1 ghante mein 2 meetar kapada kaatata hai isalie usako 16 meetar kapade kaatane ke lie 2 * 7 yaanee 7 ghante lagenge kyonki main 7 ghante mein 14 meetar kaard kapada kaatega aur ant mein 2 meetar kapada hota hai hee bach jaega to mitr yah javaab achchha laga ho to krpaya sabsakraib laik sheyar aur kament karake jaroor bataen dhanyavaad

#मनोरंजन

bolkar speaker
साइनस की समस्या का घरेलू उपचार क्या है?Science Ki Samasya Ka Gharelu Upchar Kya Hai
Brahma Prakash Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Brahma जी का जवाब
Asst. Teacher
1:53
नमस्कार नमस्कार मित्र आपका बोल करें पर हार्दिक स्वागत करता हूं आपका प्रश्न है साइनस की समस्या का घरेलू उपचार क्या है तो जी मित्र साइनस की समस्या होने पर आप घर में कुछ तरीके अपना सकते हैं जो आपको इस समस्या में लाभ पहुंचाएगा पहला इलाज होता है इस एनसीआर यानी सुगंधित तेलों का प्रयोग किस एनसीएल की दो से तीन बूंदे आप इस्तेमाल कर सकते हैं इसके लिए आप यूकेलिप्टस प्रवीण जरा लोबान जैसे किसी भी एसेंशियल ऑयल का इस्तेमाल कर सकते हैं दूसरा तरीका होता है तुलसी के पत्तों की सुगंध लेना क्योंकि तुलसी के पत्तों में इन्फेंट्री एंटीबैक्टीरियल और एंटीवायरल गतिविधियां पाई जाती है इसलिए यदि फायदा करता है दूसरा इलाज है सेब का सिरका यानी एप्पल साइडर विनेगर इसकी 510 मूंदे आप प्रतिदिन प्रयोग करें तो लाभ मिलता है लेमन बाम और हर्बल टी का भी प्रयोग फायदेमंद होता है इसके साथ-साथ अदरक की चाय भी साइंस में लाभ देती है इनकी फायदा देती है और शहद भी आपको साइनस में फायदा पहुंचाता है इसके अतिरिक्त लहसुन बेडशीट एक्सट्रैक्ट ऐसे तत्व हैं जिनका प्रयोग करने से हमको साइनस की बीमारी में फायदा मिलता है और कुछ योगासन भी करने से साइनस में लाभ मिलता है जैसे भुजंगासन गोमुखासन अधोमुख स्वामीनाथन जैसे कई ऐसे योगासन हैं जिनको करने से साइनस की बीमारी में फायदा मिलता है प्रिय जवाब अच्छा लगा हो तो कृपया सब्सक्राइब लाइक शेयर और कमेंट करके जरूर बताएं धन्यवाद
Namaskaar namaskaar mitr aapaka bol karen par haardik svaagat karata hoon aapaka prashn hai sainas kee samasya ka ghareloo upachaar kya hai to jee mitr sainas kee samasya hone par aap ghar mein kuchh tareeke apana sakate hain jo aapako is samasya mein laabh pahunchaega pahala ilaaj hota hai is enaseeaar yaanee sugandhit telon ka prayog kis enaseeel kee do se teen boonde aap istemaal kar sakate hain isake lie aap yookeliptas praveen jara lobaan jaise kisee bhee esenshiyal oyal ka istemaal kar sakate hain doosara tareeka hota hai tulasee ke patton kee sugandh lena kyonki tulasee ke patton mein inphentree enteebaikteeriyal aur enteevaayaral gatividhiyaan paee jaatee hai isalie yadi phaayada karata hai doosara ilaaj hai seb ka siraka yaanee eppal saidar vinegar isakee 510 moonde aap pratidin prayog karen to laabh milata hai leman baam aur harbal tee ka bhee prayog phaayademand hota hai isake saath-saath adarak kee chaay bhee sains mein laabh detee hai inakee phaayada detee hai aur shahad bhee aapako sainas mein phaayada pahunchaata hai isake atirikt lahasun bedasheet eksatraikt aise tatv hain jinaka prayog karane se hamako sainas kee beemaaree mein phaayada milata hai aur kuchh yogaasan bhee karane se sainas mein laabh milata hai jaise bhujangaasan gomukhaasan adhomukh svaameenaathan jaise kaee aise yogaasan hain jinako karane se sainas kee beemaaree mein phaayada milata hai priy javaab achchha laga ho to krpaya sabsakraib laik sheyar aur kament karake jaroor bataen dhanyavaad

#मनोरंजन

bolkar speaker
कंधे की अकड़न या फ्रोजन शोल्डर की बीमारी क्या है तथा इसका कोई इलाज क्या है?Kandhe Kee Akdan Ya Frozen Shoulder Ki Beemari Kya Hai Tatha Iska Koi Ilaaj Kya Hai
Brahma Prakash Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Brahma जी का जवाब
Asst. Teacher
1:46
नमस्कार मैं ब्रहम प्रकाश मिश्र आपका बोल करें पर हार्दिक स्वागत करता हूं आपका प्रश्न है कंधे की अकड़न या फ्रोजन शोल्डर की बीमारी क्या है तथा इसका कोई इलाज क्या है तो जी मित्र पूजा में फोल्डर यानी कंधे की अकड़न इस बीमारी में व्यक्ति का कंधा बिल्कुल सो जाता है और अकड़न के कारण कठोर हो जाता है जिससे हां चलाना बहुत मुश्किल होता है और हिलाने पर तीव्र दर्द होता है संडे को किसी भी दिशा में मोड़ने में रोगी को बहुत दिक्कत होती है और कंधे का दर्द रोगी की गर्दन और उसके ऊपर के भाग में पाया जाता है और होने के कई कारण हो सकते हैं गर्दन या पेट का दर्द थकान काम करने में था आज भी इस की समस्याएं होती है फोल्डर फोल्डर में व्यक्ति रोगी की मद में दौरा पड़ना या ओके रुक का भी शिकार हो सकता है उसके इलाज के लिए इसमें कई इलाज है इनमें शारीरिक चिकित्सा औषधी मालिश चिकित्सा शल्य चिकित्सा आदेश में कारगर होती है जो लोग इससे पीड़ित होते हैं उन्हें कई महीनों तक या अधिक लंबे समय तक काम करने एवं जीवन की अन्य सामान्य गतिविधियां करने में अत्यधिक कठिनाई होने की आशंका रहती है इसके लिए एक दिन मालिश करना चाहिए और जूस तथा पौष्टिक आहार का सेवन करना चाहिए गर्म पानी से सिकाई करनी चाहिए और रात के समय कम से कम 1 घंटे तक ठंडा ले पर्दे पर उतारना चाहिए यदि मित्र जानकारी अच्छी लगी हो तो कृपया सब्सक्राइब लाइक शेयर और कमेंट करके जरूर बताएं धन्यवाद
Namaskaar main braham prakaash mishr aapaka bol karen par haardik svaagat karata hoon aapaka prashn hai kandhe kee akadan ya phrojan sholdar kee beemaaree kya hai tatha isaka koee ilaaj kya hai to jee mitr pooja mein pholdar yaanee kandhe kee akadan is beemaaree mein vyakti ka kandha bilkul so jaata hai aur akadan ke kaaran kathor ho jaata hai jisase haan chalaana bahut mushkil hota hai aur hilaane par teevr dard hota hai sande ko kisee bhee disha mein modane mein rogee ko bahut dikkat hotee hai aur kandhe ka dard rogee kee gardan aur usake oopar ke bhaag mein paaya jaata hai aur hone ke kaee kaaran ho sakate hain gardan ya pet ka dard thakaan kaam karane mein tha aaj bhee is kee samasyaen hotee hai pholdar pholdar mein vyakti rogee kee mad mein daura padana ya oke ruk ka bhee shikaar ho sakata hai usake ilaaj ke lie isamen kaee ilaaj hai inamen shaareerik chikitsa aushadhee maalish chikitsa shaly chikitsa aadesh mein kaaragar hotee hai jo log isase peedit hote hain unhen kaee maheenon tak ya adhik lambe samay tak kaam karane evan jeevan kee any saamaany gatividhiyaan karane mein atyadhik kathinaee hone kee aashanka rahatee hai isake lie ek din maalish karana chaahie aur joos tatha paushtik aahaar ka sevan karana chaahie garm paanee se sikaee karanee chaahie aur raat ke samay kam se kam 1 ghante tak thanda le parde par utaarana chaahie yadi mitr jaanakaaree achchhee lagee ho to krpaya sabsakraib laik sheyar aur kament karake jaroor bataen dhanyavaad

#मनोरंजन

bolkar speaker
इंजेक्शन की सुई किस धातु से बनी होती है?Injection Kee Sui Kis Dhatu Se Bani Hoti Hai
Brahma Prakash Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Brahma जी का जवाब
Asst. Teacher
0:33
नमस्कार मैडम के साथ में चुनाव कबूल करे पर हार्दिक स्वागत करता हूं आपका प्रश्न है इंजेक्शन की सुई किस धातु की बनी होती है तो जिन इंजेक्शन की सुई ज्ञानेंद्र डेल स्टेन लेस स्टील की बनी हुई होती है क्योंकि stainless-steel जनविरोधी रात होती है और इसमें कोई भी नहीं लगती है यह जवाब अच्छा लगा हो तो कृपया सब्सक्राइब लाइक शेयर और कमेंट करके जरूर बताएं धन्यवाद
Namaskaar maidam ke saath mein chunaav kabool kare par haardik svaagat karata hoon aapaka prashn hai injekshan kee suee kis dhaatu kee banee hotee hai to jin injekshan kee suee gyaanendr del sten les steel kee banee huee hotee hai kyonki stainlaiss-staiail janavirodhee raat hotee hai aur isamen koee bhee nahin lagatee hai yah javaab achchha laga ho to krpaya sabsakraib laik sheyar aur kament karake jaroor bataen dhanyavaad

#मनोरंजन

Brahma Prakash Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Brahma जी का जवाब
Asst. Teacher
2:21
नमस्कार मैं ब्रहम प्रकाश मिश्र काम का बोल कर एक पर हार्दिक स्वागत करता हूं आपका प्रश्न है हमारे शरीर पर यूरिक एसिड अटैक क्यों होता है और इसे नियंत्रित करने का क्या तरीका है तुझी मित्र हमारे शरीर पर यूरिक एसिड के अटैक होने के कई कारण हैं उनमें से पहला कारण जेनेटिक दूसरा कारण होता है गलत डाइट या खानपान तीसरा कारण होता है रेड मीट सीफूड दाल राजमा पनीर और चावल जैसे खाने से भी एसिड बढ़ता है चौथा कारण होता है कि अधिक समय तक खाली पेट रहना भी एसिड अटैक का कारण बनता है डायबिटीज के मरीजों को भी एसिड अटैक एक मुख्य कारण बन जाता है मोटापा और स्ट्रेस भी एक कारण होता है इसको नियंत्रित करने के लिए हमको अपने डाइट में यूरिक एसिड की मात्रा की सीमा रखनी पड़ती है और जिन फूड में ड्यूरिंग नाम का पदार्थ अधिक मात्रा में होता है उसे लेना कम कर देना चाहिए मीट सीफूड आदि पाचन के बाद अधिक मात्रा में यूरिक एसिड का निर्माण करते हैं तो ऐसी चीजों को खाने से हमको बचाव रखना चाहिए जैसे मीट और घर की मछली मटन मशरूम मटर मशरूम ऐसी चीजें हैं इनको खाने से प्रोटीन की मात्रा बढ़ती है और ऐसे भी बढ़ता है तो हमको ऐसी चीजों को खाने से परहेज करना चाहिए इसके साथ-साथ चीनी युक्त पेय पदार्थों का भी कम प्रयोग करना चाहिए और अधिक पानी का प्रयोग करना चाहिए या नहीं हमको अधिक पानी पीना चाहिए अपनी डाइट में हमको ऐसे पदार्थों का किया ऐसी खाद्य वस्तुओं का प्रयोग करना चाहिए जिनमें फाइबर अधिक मात्रा में हो इसके साथ-साथ हम को सोने के लिए कम से कम अधिक से अधिक नींद लेनी चाहिए और कम से कम 2 या 2 या 3 घंटे पहले डिसकस स्क्रीन का इस्तेमाल बंद करने कर देना चाहिए और लंच के बाद आपको कभी नहीं लेनी चाहिए तो मित्र यह जवाब अच्छा लगा हो तो कृपया सब्सक्राइब लाइक शेयर और कमेंट करके जरूर बताएं धन्यवाद
Namaskaar main braham prakaash mishr kaam ka bol kar ek par haardik svaagat karata hoon aapaka prashn hai hamaare shareer par yoorik esid ataik kyon hota hai aur ise niyantrit karane ka kya tareeka hai tujhee mitr hamaare shareer par yoorik esid ke ataik hone ke kaee kaaran hain unamen se pahala kaaran jenetik doosara kaaran hota hai galat dait ya khaanapaan teesara kaaran hota hai red meet seephood daal raajama paneer aur chaaval jaise khaane se bhee esid badhata hai chautha kaaran hota hai ki adhik samay tak khaalee pet rahana bhee esid ataik ka kaaran banata hai daayabiteej ke mareejon ko bhee esid ataik ek mukhy kaaran ban jaata hai motaapa aur stres bhee ek kaaran hota hai isako niyantrit karane ke lie hamako apane dait mein yoorik esid kee maatra kee seema rakhanee padatee hai aur jin phood mein dyooring naam ka padaarth adhik maatra mein hota hai use lena kam kar dena chaahie meet seephood aadi paachan ke baad adhik maatra mein yoorik esid ka nirmaan karate hain to aisee cheejon ko khaane se hamako bachaav rakhana chaahie jaise meet aur ghar kee machhalee matan masharoom matar masharoom aisee cheejen hain inako khaane se proteen kee maatra badhatee hai aur aise bhee badhata hai to hamako aisee cheejon ko khaane se parahej karana chaahie isake saath-saath cheenee yukt pey padaarthon ka bhee kam prayog karana chaahie aur adhik paanee ka prayog karana chaahie ya nahin hamako adhik paanee peena chaahie apanee dait mein hamako aise padaarthon ka kiya aisee khaady vastuon ka prayog karana chaahie jinamen phaibar adhik maatra mein ho isake saath-saath ham ko sone ke lie kam se kam adhik se adhik neend lenee chaahie aur kam se kam 2 ya 2 ya 3 ghante pahale disakas skreen ka istemaal band karane kar dena chaahie aur lanch ke baad aapako kabhee nahin lenee chaahie to mitr yah javaab achchha laga ho to krpaya sabsakraib laik sheyar aur kament karake jaroor bataen dhanyavaad

#धर्म और ज्योतिषी

Brahma Prakash Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Brahma जी का जवाब
Asst. Teacher
3:54
नमस्कार मैं ब्रहम प्रकाश मिश्र प्रताप कबूल करे पर हार्दिक स्वागत करता हूं आपका प्रश्न है भारत के सबसे प्राचीन मंदिरों में से एक मुंडेश्वरी देवी के मंदिर का इतिहास क्या है मित्र मुंडेश्वरी देवी का मंदिर बिहार के भभुआ जिला केंद्र से 14 किलोमीटर दक्षिण पश्चिम में कैमूर की पहाड़ियों पर स्थित है साडे 600 फीट की ऊंचाई वाली इस पहाड़ी पर माता मुंडेश्वरी एवं महा मंडलेश्वर महादेव का एक प्राचीन मंदिर है इस मंदिर को भारत के प्राचीन मंदिरों में से एक माना जाता है पर यह कितना प्राचीन है इसका कोई स्पष्ट प्रमाण नहीं है इसके इतने प्रमाण अवश्य मिल रहे हैं इस मंदिर में तेल एवं अनाज का प्रबंध स्थानीय राजा के द्वारा संवत्सर के तीसरे वर्ष के कार्तिक मास यानी वाइस में दिन किया गया था पुलिस का उल्लेख एक शिलालेख में उत्कीर्ण राजा गया में किया गया यानी इस शिलालेख पर कुत्ते आज्ञा के पूर्व में मंदिर था ऐसा पता चलता है वर्तमान में पहाड़ी पर स्थित यह मंदिर भग्नावशेष के रूप में ही है ना लगता है कि किसी ने इस मंदिर को तोड़ा है मूर्तियों के अंग ऐसे टूटे हैं मानो किसी तेज हथियार से उन पर चोट की गई है पंचमुखी महादेव का मंदिर ट्रस्ट स्थिति में है किसी के एक भाग में माता की प्रतिमा को दक्षिण मुखी स्वरूप में खड़ा कर पूजा अर्चना की जाती है माता की 3:30 फीट की काले पत्थर की प्रतिमा है जो भयंकर सब आ रहे हैं इस मंदिर का उल्लेख कनिंघम ने अपनी पुस्तक में किया है इसमें स्पष्ट स्पष्ट रूप से उल्लेख है कि कैमूर में मुंडेश्वरी पहाड़ी है जहां मंदिर रूप में विद्यमान है मंदिर का पता तब चला जब कुछ कर दिए पहाड़ी के ऊपर गए और मंदिर के स्वरूप को देखा यह कुल 20 25 वर्ष पूर्व उक्त बात है अब इसकी इतनी औकात नहीं थी जितनी कि अब है प्रारंभ में पहाड़ी के नीचे निवास करने वाले लोग ही इस मंदिर में दिया जलाते और पूजा अर्चना करते थे वर्तमान में धार्मिक न्यास बोर्ड बिहार द्वारा इस मंदिर को व्यवस्थित किया गया है और पूजा अर्चना की व्यवस्था की गई है नाग पंचमी से पूर्णिमा तक इस पहाड़ी पर एक मेला लगता है जिसमें दूर-दूर से भक्त आते हैं कहते हैं कि चंड मुंड के नाश के लिए जब देवी उद्यत हुई थी तो चंद के विनाश के बाद मुंडे युद्ध करते हुए इस पार्टी में छिप गया था और यहीं पर माता ने उसका वध किया था अतः मुंडेश्वरी माता के नाम से स्थानीय लोगों में जानी जाती है एक आश्चर्य की बात यह है कि यहां भक्तों की मां कामनाओं को पूरा होने के बाद बकरी की बलि चढ़ाई जाती है पर माता उनकी बलि नहीं लेती है बल्कि बलि चढ़ने के समय भक्तों में माता के प्रति आश्चर्यजनक आस्था पनपती है बकरे को माता की पूर्ण मूर्ति के सामने लाया जाता है तो पुजारी अक्षत यानि चावल के दाने को मूर्ति को स्पर्श कराकर बकरे पर देखते हैं बकरा तत्क्षण क्षेत्र और मृतप्राय हो जाता है थोड़ी देर के बाद अक्षत फेंकने की प्रक्रिया फिर होती है तो बकरा उठ खड़ा होता है बड़ी की एक रिया माता के प्रति आस्था को बढ़ाती है तो मित्र इस मंदिर के रास्ते में सिक्के भी मिले हैं और तमिल सिंहली भाषा में पहाड़ी के पत्थरों पर कुछ अक्षर भी जुड़े हुए हैं कहते हैं कि यहां पर श्रीलंका के बीच वक्त आया करते हैं और पाया करते थे बहरहाल मंदिर के गर्भ में अभी कई रहस्य छिपे हुए हैं बहुत कुछ पता नहीं है बस माता की अर्चना होती है तो मित्र यह जानकारी अच्छी लगी हो तो कृपया मुझे सब्सक्राइब लाइक शेयर और कमेंट करके जरूर बताएं धन्यवाद
Namaskaar main braham prakaash mishr prataap kabool kare par haardik svaagat karata hoon aapaka prashn hai bhaarat ke sabase praacheen mandiron mein se ek mundeshvaree devee ke mandir ka itihaas kya hai mitr mundeshvaree devee ka mandir bihaar ke bhabhua jila kendr se 14 kilomeetar dakshin pashchim mein kaimoor kee pahaadiyon par sthit hai saade 600 pheet kee oonchaee vaalee is pahaadee par maata mundeshvaree evan maha mandaleshvar mahaadev ka ek praacheen mandir hai is mandir ko bhaarat ke praacheen mandiron mein se ek maana jaata hai par yah kitana praacheen hai isaka koee spasht pramaan nahin hai isake itane pramaan avashy mil rahe hain is mandir mein tel evan anaaj ka prabandh sthaaneey raaja ke dvaara sanvatsar ke teesare varsh ke kaartik maas yaanee vais mein din kiya gaya tha pulis ka ullekh ek shilaalekh mein utkeern raaja gaya mein kiya gaya yaanee is shilaalekh par kutte aagya ke poorv mein mandir tha aisa pata chalata hai vartamaan mein pahaadee par sthit yah mandir bhagnaavashesh ke roop mein hee hai na lagata hai ki kisee ne is mandir ko toda hai moortiyon ke ang aise toote hain maano kisee tej hathiyaar se un par chot kee gaee hai panchamukhee mahaadev ka mandir trast sthiti mein hai kisee ke ek bhaag mein maata kee pratima ko dakshin mukhee svaroop mein khada kar pooja archana kee jaatee hai maata kee 3:30 pheet kee kaale patthar kee pratima hai jo bhayankar sab aa rahe hain is mandir ka ullekh kaningham ne apanee pustak mein kiya hai isamen spasht spasht roop se ullekh hai ki kaimoor mein mundeshvaree pahaadee hai jahaan mandir roop mein vidyamaan hai mandir ka pata tab chala jab kuchh kar die pahaadee ke oopar gae aur mandir ke svaroop ko dekha yah kul 20 25 varsh poorv ukt baat hai ab isakee itanee aukaat nahin thee jitanee ki ab hai praarambh mein pahaadee ke neeche nivaas karane vaale log hee is mandir mein diya jalaate aur pooja archana karate the vartamaan mein dhaarmik nyaas bord bihaar dvaara is mandir ko vyavasthit kiya gaya hai aur pooja archana kee vyavastha kee gaee hai naag panchamee se poornima tak is pahaadee par ek mela lagata hai jisamen door-door se bhakt aate hain kahate hain ki chand mund ke naash ke lie jab devee udyat huee thee to chand ke vinaash ke baad munde yuddh karate hue is paartee mein chhip gaya tha aur yaheen par maata ne usaka vadh kiya tha atah mundeshvaree maata ke naam se sthaaneey logon mein jaanee jaatee hai ek aashchary kee baat yah hai ki yahaan bhakton kee maan kaamanaon ko poora hone ke baad bakaree kee bali chadhaee jaatee hai par maata unakee bali nahin letee hai balki bali chadhane ke samay bhakton mein maata ke prati aashcharyajanak aastha panapatee hai bakare ko maata kee poorn moorti ke saamane laaya jaata hai to pujaaree akshat yaani chaaval ke daane ko moorti ko sparsh karaakar bakare par dekhate hain bakara tatkshan kshetr aur mrtapraay ho jaata hai thodee der ke baad akshat phenkane kee prakriya phir hotee hai to bakara uth khada hota hai badee kee ek riya maata ke prati aastha ko badhaatee hai to mitr is mandir ke raaste mein sikke bhee mile hain aur tamil sinhalee bhaasha mein pahaadee ke pattharon par kuchh akshar bhee jude hue hain kahate hain ki yahaan par shreelanka ke beech vakt aaya karate hain aur paaya karate the baharahaal mandir ke garbh mein abhee kaee rahasy chhipe hue hain bahut kuchh pata nahin hai bas maata kee archana hotee hai to mitr yah jaanakaaree achchhee lagee ho to krpaya mujhe sabsakraib laik sheyar aur kament karake jaroor bataen dhanyavaad

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
काल भैरव को काशी के कोतवालक्यों कहा जाता है? Kaal Bhairav Ko Kashi Ke Kotval Kyo Kaha Jata Hai
Brahma Prakash Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Brahma जी का जवाब
Asst. Teacher
2:31
मदन मदन प्रकाश मिश्रा जी आपका बोलकर हार्दिक स्वागत करता हूं आप ने प्रश्न किया है क्यों कहा जाता है काल भैरव को काशी के कोतवाल जी मित्र काल भैरव काशी का कोतवाल कहने के पीछे शिव पुराण में एक कथा का वर्णन मिलता है जिसमें बताया गया है कि एक बार मेरु पर्वत के शिखर पर ब्रह्मा जी विराजमान थे तब सब देव और इसी गढ़ उत्तम तत्व के बारे में जानने के लिए उनके पास गए तब ब्रह्मा ने कहा वे स्वयं ही उत्तम तत्व है यानी कि सर्वश्रेष्ठ और सर्वोच्च किंतु भगवान विष्णु इस बात से सहमत नहीं थे उन्होंने कहा कि वे की समस्त सृष्टि के संयोजक और परम पुरुष परमात्मा है अभी उन दोनों के मध्य वार्तालाप चल ही रहा था कि तभी उनके बीच एक महान जी प्रकट हुई उस ज्योति के मंडल में उन्होंने पुरुष का एक आकार देगा तब तीन नेत्र वाले महान पुरुष शिव सर में दिखाई दिए उनके हाथ में त्रिशूल का सर्प और चंद्र के अलंकार धारण किए हुए थे तब ब्रह्मा ने अहंकार से कहा है कि आप पहले मेरे लाड से रूद्र रूप में प्रकट हुए हैं उनके इस अनावश्यक अहंकार को देखकर भगवान शिव अत्यंत क्रोधित हो गए और उसे खुद से भैरव नामक पुरुष को उत्पन्न किया यह भैरव बड़े अतीत से प्रज्वलित हो उठा और साक्षात्कार की बात दिखने लगा भगवान शंकर के रूप में नजर आने लगे और उनका रौद्र रूप देखकर तीनो लोग भयभीत हो गए भगवान शिव का यह रूप का राज नाम से प्रसिद्ध हुआ और भयंकर होने के कारण भैरव कहलाने लगे काल भी उनसे भयभीत होने लगा है इसलिए वह काल भैरव कहलाने लगे दुष्ट आत्माओं का नाश करने वाला यह अमरदीप बीज कहां गया काशी नगरी का अधिपति इनको बना दिया गया इस रूप में भैरवनाथ स्वान पर यानी कुत्ते पर सवार थे और उनके हाथ में दर्द था हाथ में होने के कारण भी डंडा दीपक भी कहे गए भैरव जी का रूप अत्यंत भयंकर था उनके रूप को देखकर ब्रह्माजी को अपनी गलती का एहसास हुआ है और विष्णु जी तथा भगवान शिव की आराधना करने लगे और गर्भ रहित हो गए इस प्रकार काल भैरव जी को काशी नगरी का अधिपति बना देने के कारण काशी के कोतवाल बनाए गए तो मित्र यह जानकारी अच्छी लगी हो तो कृपया मुझे सब्सक्राइब लाइक शेयर और कमेंट करके जरूर बताएं धन्यवाद
Madan madan prakaash mishra jee aapaka bolakar haardik svaagat karata hoon aap ne prashn kiya hai kyon kaha jaata hai kaal bhairav ko kaashee ke kotavaal jee mitr kaal bhairav kaashee ka kotavaal kahane ke peechhe shiv puraan mein ek katha ka varnan milata hai jisamen bataaya gaya hai ki ek baar meru parvat ke shikhar par brahma jee viraajamaan the tab sab dev aur isee gadh uttam tatv ke baare mein jaanane ke lie unake paas gae tab brahma ne kaha ve svayan hee uttam tatv hai yaanee ki sarvashreshth aur sarvochch kintu bhagavaan vishnu is baat se sahamat nahin the unhonne kaha ki ve kee samast srshti ke sanyojak aur param purush paramaatma hai abhee un donon ke madhy vaartaalaap chal hee raha tha ki tabhee unake beech ek mahaan jee prakat huee us jyoti ke mandal mein unhonne purush ka ek aakaar dega tab teen netr vaale mahaan purush shiv sar mein dikhaee die unake haath mein trishool ka sarp aur chandr ke alankaar dhaaran kie hue the tab brahma ne ahankaar se kaha hai ki aap pahale mere laad se roodr roop mein prakat hue hain unake is anaavashyak ahankaar ko dekhakar bhagavaan shiv atyant krodhit ho gae aur use khud se bhairav naamak purush ko utpann kiya yah bhairav bade ateet se prajvalit ho utha aur saakshaatkaar kee baat dikhane laga bhagavaan shankar ke roop mein najar aane lage aur unaka raudr roop dekhakar teeno log bhayabheet ho gae bhagavaan shiv ka yah roop ka raaj naam se prasiddh hua aur bhayankar hone ke kaaran bhairav kahalaane lage kaal bhee unase bhayabheet hone laga hai isalie vah kaal bhairav kahalaane lage dusht aatmaon ka naash karane vaala yah amaradeep beej kahaan gaya kaashee nagaree ka adhipati inako bana diya gaya is roop mein bhairavanaath svaan par yaanee kutte par savaar the aur unake haath mein dard tha haath mein hone ke kaaran bhee danda deepak bhee kahe gae bhairav jee ka roop atyant bhayankar tha unake roop ko dekhakar brahmaajee ko apanee galatee ka ehasaas hua hai aur vishnu jee tatha bhagavaan shiv kee aaraadhana karane lage aur garbh rahit ho gae is prakaar kaal bhairav jee ko kaashee nagaree ka adhipati bana dene ke kaaran kaashee ke kotavaal banae gae to mitr yah jaanakaaree achchhee lagee ho to krpaya mujhe sabsakraib laik sheyar aur kament karake jaroor bataen dhanyavaad

#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker
क्या ऐसा कोई तत्व है जिसको जल के संपर्क में आने पर आग उत्पन्न हो जाए?Kya Aisa Koi Tatv Hai Jisko Jal Ke Sampark Mein Aane Par Aag Utpann Ho Jaye
Brahma Prakash Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Brahma जी का जवाब
Asst. Teacher
0:27
नमस्कार मैं ब्रहम प्रकाश मिश्र आपका बोल कर एक पर हार्दिक स्वागत करता हूं आपका प्रश्न है क्या कोई ऐसा तत्व है जो जिसको जल के संपर्क में आने पर आग उत्पन्न हो जाए जी मित्र सोडियम एक ऐसा पदार्थ होता है जो कि जल के संपर्क में आने पर आग उत्पन्न करता है यह जवाब अच्छा लगा हो तो कृपया सब्सक्राइब लाइक शेयर और कमेंट करके जरूर बताएं धन्यवाद
Namaskaar main braham prakaash mishr aapaka bol kar ek par haardik svaagat karata hoon aapaka prashn hai kya koee aisa tatv hai jo jisako jal ke sampark mein aane par aag utpann ho jae jee mitr sodiyam ek aisa padaarth hota hai jo ki jal ke sampark mein aane par aag utpann karata hai yah javaab achchha laga ho to krpaya sabsakraib laik sheyar aur kament karake jaroor bataen dhanyavaad

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
प्लास्टिक सर्जरी का आविष्कार सबसे पहले किस देश में हुआ था?Plastic Surgery Ka Avishkar Sabse Pehle Kis Desh Mei Hua Tha
Brahma Prakash Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Brahma जी का जवाब
Asst. Teacher
0:25
ममता मैडम प्रकाश में आपका बोल कर एक पर हार्दिक स्वागत करता हूं आपका प्रश्न प्लास्टिक सर्जरी का आविष्कार सर्वप्रथम किस देश में हुआ था तो जी मित्र विश्व में प्लास्टिक सर्जरी का सर्वप्रथम प्रयोग किया आविष्कार हमारे प्राचीन भारत के द्वारा ही किया गया था यह जवाब अच्छा लगा हो तो कृपया मुझे सब्सक्राइब लाइक शेयर और कमेंट करके जरूर बताएं धन्यवाद
Mamata maidam prakaash mein aapaka bol kar ek par haardik svaagat karata hoon aapaka prashn plaastik sarjaree ka aavishkaar sarvapratham kis desh mein hua tha to jee mitr vishv mein plaastik sarjaree ka sarvapratham prayog kiya aavishkaar hamaare praacheen bhaarat ke dvaara hee kiya gaya tha yah javaab achchha laga ho to krpaya mujhe sabsakraib laik sheyar aur kament karake jaroor bataen dhanyavaad

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
सर्दियों में सफेद तिल का प्रयोग किस प्रकार करना चाहिए?Sardiyon Mein Safed Til Ka Pryog Kis Prakar Karna Chaiye
Brahma Prakash Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Brahma जी का जवाब
Asst. Teacher
1:41
मदन प्रकाश मिश्र अब कबूल करे पर हार्दिक स्वागत करता हूं आपका प्रश्न सर्दियों में सफेद तिल का प्रयोग किस प्रकार करना चाहिए तो जी मित्र सफेद तिल सर्दियों में खाने से मुंह में बहुत से शारीरिक लाभ मिलते हैं जो कि हमारे स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होते हैं तिल का प्रयोग बालों के लिए वरदान साबित हो सकता है तिल के तेल का प्रयोग या फिर प्रतिदिन थोड़ी मात्रा में तिल को खाने से बालों का असमय पकना और झड़ना बंद हो जाता है तिल का उपयोग चेहरे पर निखार के लिए भी किया जा सकता है दिल को दूध में भिगोकर उसका पेस्ट चेहरे पर लगाने से चेहरे पर प्राकृतिक चमक आती है और रंग भी निकलता है इसके अलावा तिल के तेल की मालिश करने से त्वचा कांतिमय हो जाती है दिल को लूट कर खाने से कब्ज की समस्या नहीं रहती है साथ ही तीनों को चबाकर खाने के बाद ठंडा पानी पीने से के लिए भी लाभ मिलता है और इससे पुराना बवासीर ठीक हो जाता है कि किसी भी अन्य की त्वचा के जल जाने पर तिल को पीसकर घी और कपूर के साथ लगाने पर आराम मिलता है और गांव भी जल्दी ठीक हो जाता है यदि आप को सुखी खांसी आ रही हो तो वहां पर आप सफेद तिल को मिश्री व पानी के साथ सेवन करते हैं इसके अलावा तिल के तेल को लहसुन के साथ गर्म करके बुलबुले रूप में कान में डालते हैं तो कान दर्द में भी राहत मिलता है तो मित्र के जवाब अच्छा लगा हो तो कृपया मुझे सब्सक्राइब लाइक शेयर और कमेंट करके जरूर बताएं धन्यवाद
Madan prakaash mishr ab kabool kare par haardik svaagat karata hoon aapaka prashn sardiyon mein saphed til ka prayog kis prakaar karana chaahie to jee mitr saphed til sardiyon mein khaane se munh mein bahut se shaareerik laabh milate hain jo ki hamaare svaasthy ke lie laabhadaayak hote hain til ka prayog baalon ke lie varadaan saabit ho sakata hai til ke tel ka prayog ya phir pratidin thodee maatra mein til ko khaane se baalon ka asamay pakana aur jhadana band ho jaata hai til ka upayog chehare par nikhaar ke lie bhee kiya ja sakata hai dil ko doodh mein bhigokar usaka pest chehare par lagaane se chehare par praakrtik chamak aatee hai aur rang bhee nikalata hai isake alaava til ke tel kee maalish karane se tvacha kaantimay ho jaatee hai dil ko loot kar khaane se kabj kee samasya nahin rahatee hai saath hee teenon ko chabaakar khaane ke baad thanda paanee peene se ke lie bhee laabh milata hai aur isase puraana bavaaseer theek ho jaata hai ki kisee bhee any kee tvacha ke jal jaane par til ko peesakar ghee aur kapoor ke saath lagaane par aaraam milata hai aur gaanv bhee jaldee theek ho jaata hai yadi aap ko sukhee khaansee aa rahee ho to vahaan par aap saphed til ko mishree va paanee ke saath sevan karate hain isake alaava til ke tel ko lahasun ke saath garm karake bulabule roop mein kaan mein daalate hain to kaan dard mein bhee raahat milata hai to mitr ke javaab achchha laga ho to krpaya mujhe sabsakraib laik sheyar aur kament karake jaroor bataen dhanyavaad

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
समाजवाद का मुख्य गुण क्या है?Samajvad Ka Mukhya Gun Kya Hai
Brahma Prakash Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Brahma जी का जवाब
Asst. Teacher
1:02
नमस्कार मदन प्रकाश मित्र आपका बोल करें पर हार्दिक स्वागत करता हूं आपका प्रश्न है समाजवाद का मुख्य गुण क्या है तो मित्र समाजवाद के जो मुख्य गुण होते हैं वह लागू होता है समाजवाद में शोषण का अंत होता है दूसरा समाजवाद सामाजिक न्याय पर आधारित होता है तीसरा समाजवाद में उत्पादन का लक्ष्य सामाजिक आवश्यकताओं को देखकर होता है चौथा समाजवाद में उत्पादन पर पूरे समाज का नियंत्रण होता है पांचवा गुण होता है कि समाजवाद में सभी को उन्नति के लिए समान अवसर प्राप्त होते हैं और छठा जो इसका मुख्य गुण होता है वह यह होता है इस समाजवाद जो होता है वह साम्राज्यवाद का विरोध करता है यानी समाजवाद औपनिवेशिक परतंत्रता और समाजवाद का विरोध करता है तो मित्र क्लब जवाब अच्छा लगा हो तो कृपया मुझे सब्सक्राइब लाइक शेयर और कमेंट करके जरूर बताएं धन्यवाद
Namaskaar madan prakaash mitr aapaka bol karen par haardik svaagat karata hoon aapaka prashn hai samaajavaad ka mukhy gun kya hai to mitr samaajavaad ke jo mukhy gun hote hain vah laagoo hota hai samaajavaad mein shoshan ka ant hota hai doosara samaajavaad saamaajik nyaay par aadhaarit hota hai teesara samaajavaad mein utpaadan ka lakshy saamaajik aavashyakataon ko dekhakar hota hai chautha samaajavaad mein utpaadan par poore samaaj ka niyantran hota hai paanchava gun hota hai ki samaajavaad mein sabhee ko unnati ke lie samaan avasar praapt hote hain aur chhatha jo isaka mukhy gun hota hai vah yah hota hai is samaajavaad jo hota hai vah saamraajyavaad ka virodh karata hai yaanee samaajavaad aupaniveshik paratantrata aur samaajavaad ka virodh karata hai to mitr klab javaab achchha laga ho to krpaya mujhe sabsakraib laik sheyar aur kament karake jaroor bataen dhanyavaad

#भारत की राजनीति

Brahma Prakash Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Brahma जी का जवाब
Asst. Teacher
1:07
नमस्कार मैं ब्रहम प्रकाश मिश्रा आपका बोल कर एक पर हार्दिक स्वागत एवं अभिनंदन करता हूं आपका प्रश्न है राजनीति का पर्यायवाची अंग्रेजी शब्द पॉलिटिक्स किस यूनानी शब्द से बना है तो जी मित्र राजनीति का पर्यायवाची अंग्रेजी शब्द जिसको पॉलिटिक्स कहा जाता है यह यूनानी भाषा के ऑल यानी पी एल आई एफ पुलिस शब्द से बना है जिसका अर्थ नगर अथवा राज्य होता है क्योंकि प्राचीन यूनान में प्रत्येक नगर एक स्वतंत्र राज्य के रूप में संगठित होता था और पॉलिटिक्स शब्द से उन नगर राज्य से संबंधित शासन की विद्या का बोध होता था धीरे-धीरे नगर राज्यों यानी सिटी स्टेट का स्थान राष्ट्रीय राजीव जिनको nation-state कहा जाता था उन्होंने ले लिया अतः राजनीति किस राज्य के विस्तृत रूप से संबंधित विद्या हो गई तो मित्र मैं समझता हूं आप मेरे उत्तर से संतुष्ट होंगे यदि आपको अच्छा लगा हो तो कृपया मुझे सब्सक्राइब लाइक शेयर और कमेंट करके जरूर बताएं धन्यवाद
Namaskaar main braham prakaash mishra aapaka bol kar ek par haardik svaagat evan abhinandan karata hoon aapaka prashn hai raajaneeti ka paryaayavaachee angrejee shabd politiks kis yoonaanee shabd se bana hai to jee mitr raajaneeti ka paryaayavaachee angrejee shabd jisako politiks kaha jaata hai yah yoonaanee bhaasha ke ol yaanee pee el aaee eph pulis shabd se bana hai jisaka arth nagar athava raajy hota hai kyonki praacheen yoonaan mein pratyek nagar ek svatantr raajy ke roop mein sangathit hota tha aur politiks shabd se un nagar raajy se sambandhit shaasan kee vidya ka bodh hota tha dheere-dheere nagar raajyon yaanee sitee stet ka sthaan raashtreey raajeev jinako nation-statai kaha jaata tha unhonne le liya atah raajaneeti kis raajy ke vistrt roop se sambandhit vidya ho gaee to mitr main samajhata hoon aap mere uttar se santusht honge yadi aapako achchha laga ho to krpaya mujhe sabsakraib laik sheyar aur kament karake jaroor bataen dhanyavaad

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
राज्य इस धरा पर ईश्वर का अवतरण है किसने कहा है?Rajya Is Dhara Par Ishvar Ka Avtaran Hai Kisne Kaha Hai
Brahma Prakash Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Brahma जी का जवाब
Asst. Teacher
0:32
नमस्कार मैं ब्रह्म प्रकाश मिश्र आपका बोल कर अपना हार्दिक अभिनंदन एवं स्वागत करता हूं आपका प्रश्न है राज्य इस धरा पर ईश्वर का अवतरण है किसने कहा है तुझी मित्र राज्य इस धरा पर ईश्वर का अवतरण है यह एक राजनीतिक विचारक जिनका नाम बेंथम था और यूरोप से संबंध रखते थे उनके द्वारा कहा गया था तो मित्र यह जवाब अच्छा लगा हो तो कृपया मुझे लाइक सब्सक्राइब शेयर और कमेंट करके जरूर बताएं धन्यवाद
Namaskaar main brahm prakaash mishr aapaka bol kar apana haardik abhinandan evan svaagat karata hoon aapaka prashn hai raajy is dhara par eeshvar ka avataran hai kisane kaha hai tujhee mitr raajy is dhara par eeshvar ka avataran hai yah ek raajaneetik vichaarak jinaka naam bentham tha aur yoorop se sambandh rakhate the unake dvaara kaha gaya tha to mitr yah javaab achchha laga ho to krpaya mujhe laik sabsakraib sheyar aur kament karake jaroor bataen dhanyavaad

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
सर्व शिक्षा अभियान के तहत उप कार्यक्रम क्या है?Sarv Shiksha Abhiyan Ke Tahat Up Karyakram Kya Hai
Brahma Prakash Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Brahma जी का जवाब
Asst. Teacher
2:56
नमस्कार मैं ब्रहम प्रकाश मिश्रा आपका बोल कर एक पर हार्दिक स्वागत करता हूं आपका प्रश्न है सर्व शिक्षा अभियान के तहत उपलब्ध कार्यक्रम क्या है तो मित्र सर्व शिक्षा अभियान 2001 भारत सरकार का एक प्रमुख कार्यक्रम है जिसकी शुरुआत 2000 12 में अटल बिहारी बाजपेई द्वारा एक निश्चित समयावधि के तरीके से प्राथमिक शिक्षा के सार्वभौमीकरण जैसा कि भारतीय संविधान के 86 वें संशोधन द्वारा निर्देशित किया गया है इसके तहत 6 से 14 साल तक के बच्चों जो कि 201 से लगभग 205 मिलियन बच्चों की संख्या आंकड़ों में उपलब्ध थी उनको मुफ्त और अनिवार्य शिक्षा दिए जाने का उद्देश्य नहीं था इसमें इस कार्यक्रम का उद्देश्य 2010 तक संतोषजनक गुणवत्तापूर्ण प्राथमिक शिक्षा के सार्वभौमीकरण को प्राप्त कर आना था इसके साथ-साथ इसके जो अन्य ऐसे थे उनमें 2003 तक सभी बच्चे स्कूलों में हूं 2007 तक प्राथमिक शिक्षा का 5 साल पूरा करना और 2010 तक स्कूली शिक्षा का 8 साल पूरा करवाना अन्य उद्देश्यों में संतोषजनक गुणवत्ता और जीवन कौशल के लिए शिक्षा पर बल देना 2007 तक प्राथमिक स्तर पर और 2010 तक के प्रारंभिक स्तर पर सभी लैंगिक और सामाजिक अंतरों को समाप्त करना वर्ष 2000 तक 2010 तक सार्वभौमिक प्रतिधारण सर्व शिक्षा अभियान के मुख्य उद्देश्य थे इस कार्यक्रम के अनुसार उन बस्तियों में नई स्कूल बनाने का प्रयास किया जाता है जहां स्कूली शिक्षा की सुविधा नहीं है और अतिरिक्त कक्षों का निर्माण कराना शौचालय पीने का पानी रखरखाव अनुदान और स्कूल सुधार अनुदान के माध्यम से मौजूदा स्कूलों की बुनियादी ढांचे में विकास करना है जिन मौजूदा स्कूलों में अपर्याप्त शिक्षक हैं उन्हें अतिरिक्त शिक्षक मुहैया कराना है जबकि मौजूदा शिक्षकों की क्षमता को व्यापक प्रशिक्षण विकासशील शिक्षण अधिगम सामग्री अनुदान और ब्लॉक एवं जिला स्तर पर एक क्लस्टर पर एकेडमिक सहायता संरचना को मजबूत बनाने के लिए अनुदान से सुदृढ़ बनाया गया है सर्व शिक्षा अभियान जीवन कौशल सहित गुणवत्ता युक्त प्रारंभिक शिक्षा प्रदान करता है और सर्व शिक्षा अभियान द्वारा लड़कियों और विशिष्ट आवश्यकता वाले बच्चों पर विशेष रूप से ध्यान केंद्रित किया जाता है सर्व शिक्षा अभियान डिजिटल अंतराल को खत्म करने के लिए कंप्यूटर शिक्षा भी प्रदान करने का प्रयास करता है और बच्चों की उपस्थिति कम होने के चलते मध्यान भोजन की शुरुआत भी की गई थी तो मित्र यह जवाब अच्छा लगा हो तो कृपया मुझे सब्सक्राइब लाइक शेयर और कमेंट करके जरूर बताएं धन्यवाद
Namaskaar main braham prakaash mishra aapaka bol kar ek par haardik svaagat karata hoon aapaka prashn hai sarv shiksha abhiyaan ke tahat upalabdh kaaryakram kya hai to mitr sarv shiksha abhiyaan 2001 bhaarat sarakaar ka ek pramukh kaaryakram hai jisakee shuruaat 2000 12 mein atal bihaaree baajapeee dvaara ek nishchit samayaavadhi ke tareeke se praathamik shiksha ke saarvabhaumeekaran jaisa ki bhaarateey sanvidhaan ke 86 ven sanshodhan dvaara nirdeshit kiya gaya hai isake tahat 6 se 14 saal tak ke bachchon jo ki 201 se lagabhag 205 miliyan bachchon kee sankhya aankadon mein upalabdh thee unako mupht aur anivaary shiksha die jaane ka uddeshy nahin tha isamen is kaaryakram ka uddeshy 2010 tak santoshajanak gunavattaapoorn praathamik shiksha ke saarvabhaumeekaran ko praapt kar aana tha isake saath-saath isake jo any aise the unamen 2003 tak sabhee bachche skoolon mein hoon 2007 tak praathamik shiksha ka 5 saal poora karana aur 2010 tak skoolee shiksha ka 8 saal poora karavaana any uddeshyon mein santoshajanak gunavatta aur jeevan kaushal ke lie shiksha par bal dena 2007 tak praathamik star par aur 2010 tak ke praarambhik star par sabhee laingik aur saamaajik antaron ko samaapt karana varsh 2000 tak 2010 tak saarvabhaumik pratidhaaran sarv shiksha abhiyaan ke mukhy uddeshy the is kaaryakram ke anusaar un bastiyon mein naee skool banaane ka prayaas kiya jaata hai jahaan skoolee shiksha kee suvidha nahin hai aur atirikt kakshon ka nirmaan karaana shauchaalay peene ka paanee rakharakhaav anudaan aur skool sudhaar anudaan ke maadhyam se maujooda skoolon kee buniyaadee dhaanche mein vikaas karana hai jin maujooda skoolon mein aparyaapt shikshak hain unhen atirikt shikshak muhaiya karaana hai jabaki maujooda shikshakon kee kshamata ko vyaapak prashikshan vikaasasheel shikshan adhigam saamagree anudaan aur blok evan jila star par ek klastar par ekedamik sahaayata sanrachana ko majaboot banaane ke lie anudaan se sudrdh banaaya gaya hai sarv shiksha abhiyaan jeevan kaushal sahit gunavatta yukt praarambhik shiksha pradaan karata hai aur sarv shiksha abhiyaan dvaara ladakiyon aur vishisht aavashyakata vaale bachchon par vishesh roop se dhyaan kendrit kiya jaata hai sarv shiksha abhiyaan dijital antaraal ko khatm karane ke lie kampyootar shiksha bhee pradaan karane ka prayaas karata hai aur bachchon kee upasthiti kam hone ke chalate madhyaan bhojan kee shuruaat bhee kee gaee thee to mitr yah javaab achchha laga ho to krpaya mujhe sabsakraib laik sheyar aur kament karake jaroor bataen dhanyavaad

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना क्या है?Rashtriya Svasthya Beema Yojna Kya Hai
Brahma Prakash Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Brahma जी का जवाब
Asst. Teacher
0:47
नमस्कार मैं ब्रह्म प्रकाश मिश्र आपका बोल करें पर हार्दिक स्वागत करता हूं आपका प्रश्न है राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना क्या है 2G मित्र राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना के तहत असंगठित क्षेत्रों के कामगार लोगों को सरकार के द्वारा ₹30000 का स्वास्थ्य बीमा प्रदान किया जाएगा असंगठित क्षेत्र के कामगारों और उनके परिवार जिनकी अधिकतम इकाई पांच यूनिट हो सकती है को इस योजना के तहत शामिल किया जाएगा और राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना के तहत बीमा कवर दिया जाएगा जो कि केवल एक वित्तीय वर्ष के लिए मान्य होगा तो मित्र यह जानकारी अच्छी लगी हो तो कृपया मुझे सब्सक्राइब लाइक शेयर और कमेंट करके जरूर बताएं धन्यवाद
Namaskaar main brahm prakaash mishr aapaka bol karen par haardik svaagat karata hoon aapaka prashn hai raashtreey svaasthy beema yojana kya hai 2g mitr raashtreey svaasthy beema yojana ke tahat asangathit kshetron ke kaamagaar logon ko sarakaar ke dvaara ₹30000 ka svaasthy beema pradaan kiya jaega asangathit kshetr ke kaamagaaron aur unake parivaar jinakee adhikatam ikaee paanch yoonit ho sakatee hai ko is yojana ke tahat shaamil kiya jaega aur raashtreey svaasthy beema yojana ke tahat beema kavar diya jaega jo ki keval ek vitteey varsh ke lie maany hoga to mitr yah jaanakaaree achchhee lagee ho to krpaya mujhe sabsakraib laik sheyar aur kament karake jaroor bataen dhanyavaad

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
प्रधान मंत्री स्वास्थ्य सुरक्षा योजना क्या है?Pradhan Mantri Swasthya Suraksha Yojna Kya Hai
Brahma Prakash Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Brahma जी का जवाब
Asst. Teacher
0:49
नमस्कार मैं ब्रहम प्रकाश मिश्रा आपका बोल कर एक पर हार्दिक स्वागत करता हूं आपका प्रश्न है सर्व शिक्षा अभियान के तहत उपलब्ध कार्यक्रम क्या है तो मित्र सर्व शिक्षा अभियान 2001 भारत सरकार का एक प्रमुख कार्यक्रम है जिसकी शुरुआत 2000 12 में अटल बिहारी बाजपेई द्वारा एक निश्चित समयावधि के तरीके से प्राथमिक शिक्षा के सार्वभौमीकरण जैसा कि भारतीय संविधान के 86 वें संशोधन द्वारा निर्देशित किया गया है इसके तहत 6 से 14 साल तक के बच्चों जो कि 201 से लगभग 205 मिलियन बच्चों की संख्या आंकड़ों में उपलब्ध थी उनको मुफ्त और अनिवार्य शिक्षा दिए जाने का उद्देश्य नहीं था इसमें इस कार्यक्रम का उद्देश्य 2010 तक संतोषजनक गुणवत्तापूर्ण प्राथमिक शिक्षा के सार्वभौमीकरण को प्राप्त कर आना था इसके साथ-साथ इसके जो अन्य ऐसे थे उनमें 2003 तक सभी बच्चे स्कूलों में हूं 2007 तक प्राथमिक शिक्षा का 5 साल पूरा करना और 2010 तक स्कूली शिक्षा का 8 साल पूरा करवाना अन्य उद्देश्यों में संतोषजनक गुणवत्ता और जीवन कौशल के लिए शिक्षा पर बल देना 2007 तक प्राथमिक स्तर पर और 2010 तक के प्रारंभिक स्तर पर सभी लैंगिक और सामाजिक अंतरों को समाप्त करना वर्ष 2000 तक 2010 तक सार्वभौमिक प्रतिधारण सर्व शिक्षा अभियान के मुख्य उद्देश्य थे इस कार्यक्रम के अनुसार उन बस्तियों में नई स्कूल बनाने का प्रयास किया जाता है जहां स्कूली शिक्षा की सुविधा नहीं है और अतिरिक्त कक्षों का निर्माण कराना शौचालय पीने का पानी रखरखाव अनुदान और स्कूल सुधार अनुदान के माध्यम से मौजूदा स्कूलों की बुनियादी ढांचे में विकास करना है जिन मौजूदा स्कूलों में अपर्याप्त शिक्षक हैं उन्हें अतिरिक्त शिक्षक मुहैया कराना है जबकि मौजूदा शिक्षकों की क्षमता को व्यापक प्रशिक्षण विकासशील शिक्षण अधिगम सामग्री अनुदान और ब्लॉक एवं जिला स्तर पर एक क्लस्टर पर एकेडमिक सहायता संरचना को मजबूत बनाने के लिए अनुदान से सुदृढ़ बनाया गया है सर्व शिक्षा अभियान जीवन कौशल सहित गुणवत्ता युक्त प्रारंभिक शिक्षा प्रदान करता है और सर्व शिक्षा अभियान द्वारा लड़कियों और विशिष्ट आवश्यकता वाले बच्चों पर विशेष रूप से ध्यान केंद्रित किया जाता है सर्व शिक्षा अभियान डिजिटल अंतराल को खत्म करने के लिए कंप्यूटर शिक्षा भी प्रदान करने का प्रयास करता है और बच्चों की उपस्थिति कम होने के चलते मध्यान भोजन की शुरुआत भी की गई थी तो मित्र यह जवाब अच्छा लगा हो तो कृपया मुझे सब्सक्राइब लाइक शेयर और कमेंट करके जरूर बताएं धन्यवाद
Namaskaar main braham prakaash mishra aapaka bol kar ek par haardik svaagat karata hoon aapaka prashn hai sarv shiksha abhiyaan ke tahat upalabdh kaaryakram kya hai to mitr sarv shiksha abhiyaan 2001 bhaarat sarakaar ka ek pramukh kaaryakram hai jisakee shuruaat 2000 12 mein atal bihaaree baajapeee dvaara ek nishchit samayaavadhi ke tareeke se praathamik shiksha ke saarvabhaumeekaran jaisa ki bhaarateey sanvidhaan ke 86 ven sanshodhan dvaara nirdeshit kiya gaya hai isake tahat 6 se 14 saal tak ke bachchon jo ki 201 se lagabhag 205 miliyan bachchon kee sankhya aankadon mein upalabdh thee unako mupht aur anivaary shiksha die jaane ka uddeshy nahin tha isamen is kaaryakram ka uddeshy 2010 tak santoshajanak gunavattaapoorn praathamik shiksha ke saarvabhaumeekaran ko praapt kar aana tha isake saath-saath isake jo any aise the unamen 2003 tak sabhee bachche skoolon mein hoon 2007 tak praathamik shiksha ka 5 saal poora karana aur 2010 tak skoolee shiksha ka 8 saal poora karavaana any uddeshyon mein santoshajanak gunavatta aur jeevan kaushal ke lie shiksha par bal dena 2007 tak praathamik star par aur 2010 tak ke praarambhik star par sabhee laingik aur saamaajik antaron ko samaapt karana varsh 2000 tak 2010 tak saarvabhaumik pratidhaaran sarv shiksha abhiyaan ke mukhy uddeshy the is kaaryakram ke anusaar un bastiyon mein naee skool banaane ka prayaas kiya jaata hai jahaan skoolee shiksha kee suvidha nahin hai aur atirikt kakshon ka nirmaan karaana shauchaalay peene ka paanee rakharakhaav anudaan aur skool sudhaar anudaan ke maadhyam se maujooda skoolon kee buniyaadee dhaanche mein vikaas karana hai jin maujooda skoolon mein aparyaapt shikshak hain unhen atirikt shikshak muhaiya karaana hai jabaki maujooda shikshakon kee kshamata ko vyaapak prashikshan vikaasasheel shikshan adhigam saamagree anudaan aur blok evan jila star par ek klastar par ekedamik sahaayata sanrachana ko majaboot banaane ke lie anudaan se sudrdh banaaya gaya hai sarv shiksha abhiyaan jeevan kaushal sahit gunavatta yukt praarambhik shiksha pradaan karata hai aur sarv shiksha abhiyaan dvaara ladakiyon aur vishisht aavashyakata vaale bachchon par vishesh roop se dhyaan kendrit kiya jaata hai sarv shiksha abhiyaan dijital antaraal ko khatm karane ke lie kampyootar shiksha bhee pradaan karane ka prayaas karata hai aur bachchon kee upasthiti kam hone ke chalate madhyaan bhojan kee shuruaat bhee kee gaee thee to mitr yah javaab achchha laga ho to krpaya mujhe sabsakraib laik sheyar aur kament karake jaroor bataen dhanyavaad

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
महाभाष्य के लेखक कौन थे?Mahabhashya Ke Lekhak Kaun The
Brahma Prakash Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Brahma जी का जवाब
Asst. Teacher
0:27
नमस्कार मैं ब्रहम प्रकाश मिश्र आपका बोल करें पर हार्दिक स्वागत करता हूं आपका प्रश्न है महावाक्य के लेखक कौन थे मित्र महाभाष्य महर्षि पतंजलि ने लिखा था जिसमें महर्षि पाणिनि द्वारा लिखी गई अष्टाध्याई के कुछ लोगों का वर्णन किया गया है यह जवाब अच्छा लगा हो तो कृपया सब्सक्राइब लाइक शेयर और कमेंट करके जरूर बताएं धन्यवाद
Namaskaar main braham prakaash mishr aapaka bol karen par haardik svaagat karata hoon aapaka prashn hai mahaavaaky ke lekhak kaun the mitr mahaabhaashy maharshi patanjali ne likha tha jisamen maharshi paanini dvaara likhee gaee ashtaadhyaee ke kuchh logon ka varnan kiya gaya hai yah javaab achchha laga ho to krpaya sabsakraib laik sheyar aur kament karake jaroor bataen dhanyavaad

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
द्वितीय बौद्ध संगीति का आयोजन कहां हुआ था?Dvitiya Bauddh Sangeeti Ka Ayojan Kaha Hua Tha
Brahma Prakash Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Brahma जी का जवाब
Asst. Teacher
0:18
नमस्कार नमस्कार सर आपका पूर्ण करें पर हार्दिक स्वागत करता हूं आपका प्रश्न द्वितीय बौद्ध संगीति का आयोजन कहां हुआ था तो मित्र द्वितीय बौद्ध संगीति का आयोजन 383 ईसा पूर्व वैशाली में हुआ था धन्यवाद
Namaskaar namaskaar sar aapaka poorn karen par haardik svaagat karata hoon aapaka prashn dviteey bauddh sangeeti ka aayojan kahaan hua tha to mitr dviteey bauddh sangeeti ka aayojan 383 eesa poorv vaishaalee mein hua tha dhanyavaad

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
बुद्ध ने अपना प्रथम उपदेश कहां दिया था?Buddh Ne Apna Pratham Updesh Kaha Diya Tha
Brahma Prakash Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Brahma जी का जवाब
Asst. Teacher
0:19
नमस्कार मैं ब्रह्म प्रकाश मिश्र आपका वोट करें हार्दिक स्वागत करता हूं आप ने प्रश्न किया है बुद्ध ने अपना प्रथम उपदेश कहां दिया था तो जी मित्र बुद्ध ने अपना प्रथम उपदेश सारनाथ में दिया था धन्यवाद
Namaskaar main brahm prakaash mishr aapaka vot karen haardik svaagat karata hoon aap ne prashn kiya hai buddh ne apana pratham upadesh kahaan diya tha to jee mitr buddh ne apana pratham upadesh saaranaath mein diya tha dhanyavaad

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
हिलियम गैस द्वारा भरे हुए गुब्बारे हवा में उड़ते हैं क्यों?Hilium Gas Dvara Bhare Hue Gubare Hava Mein Udte Hain Kyun
Brahma Prakash Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Brahma जी का जवाब
Asst. Teacher
0:39
मक्का हरम प्रकाश मित्र आपका बोल करे पर हार्दिक अभिनंदन एवं स्वागत करता हूं आपका प्रश्न है हिलियम गैस द्वारा भरे हुए गुब्बारे हवा में उड़ते हैं क्यों तुझे मित्र सूची हीलियम वातावरण में मौजूद अन्य देशों से हल्की होती है इसीलिए हिलियम गैस से भरे हुए गुब्बारे हवा में उड़ते हैं क्योंकि यह गैस हल्की होने के कारण वातावरण की अन्य देशों के दबाव के कारण हवा में ऊपर की ओर उठती रहती है तो मित्र यह जवाब अच्छा लगा हो तो कृपया सब्सक्राइब लाइक शेयर और कमेंट करके जरूर बताएं धन्यवाद
Makka haram prakaash mitr aapaka bol kare par haardik abhinandan evan svaagat karata hoon aapaka prashn hai hiliyam gais dvaara bhare hue gubbaare hava mein udate hain kyon tujhe mitr soochee heeliyam vaataavaran mein maujood any deshon se halkee hotee hai iseelie hiliyam gais se bhare hue gubbaare hava mein udate hain kyonki yah gais halkee hone ke kaaran vaataavaran kee any deshon ke dabaav ke kaaran hava mein oopar kee or uthatee rahatee hai to mitr yah javaab achchha laga ho to krpaya sabsakraib laik sheyar aur kament karake jaroor bataen dhanyavaad
URL copied to clipboard