#undefined

bolkar speaker
क्या दिल्ली में अभी लॉकडाउन के दौरान होम ट्यूशन का काम चल रहा है?Kya Delhi Me Abhi Lockdown Ke Dorran Home Tuition Ka Kaam Chal Raha Hai
MANISH BHARGAVA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए MANISH जी का जवाब
9717001594
0:45

#मनोरंजन

bolkar speaker
उत्तर भारतीयों को 'दक्षिण भारत'की फिल्में ज्यादा पसंद क्यों है?Uttar Bhaarateeyon Ko Dakshin Bhaaratakee Philmen Jyaada Pasand Kyon Hai
MANISH BHARGAVA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए MANISH जी का जवाब
9717001594
1:12

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
क्या ऐसा कोई तरीका है जिसमें नेताओं और उनके खानदान को भी कानून के दायरे में लाकर सजा दिलवाई जा सके?Kya Aisa Koee Tareeka Hai Jisamen Netaon Aur Unake Khaanadaan Ko Bhee Kaanoon Ke Daayare Mein Laakar Saja Dilavaee Ja Sake
MANISH BHARGAVA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए MANISH जी का जवाब
9717001594
1:22

#भारत की राजनीति

MANISH BHARGAVA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए MANISH जी का जवाब
9717001594
1:35
नमस्कार आपका स्वागत है सरकार ने कुछ सरकारी बैंकों को प्राइवेट क्यों किया इसके पीछे क्या तर्क हो सकता है किसी भी सरकारी संस्था को प्राइवेट करने के पीछे यह तर्क हैं वह कॉमन से यही है सबसे पहला तो सरकार अपना बोझ कम करना चाहती है अपना खर्चा घटाना चाहती है कई ऐसी संस्थाएं सरकार को आवश्यक रूप से पैसे देने पड़ते हैं चाहे वे एंप्लॉई के नाम पर हो घर के नाम पर हो कि सरकार चाहती है ना कम किया था दूसरा उन्हें बेचेंगे तो सरकार को पैसा भी मिलेगा तो सरकार के माना जिस प्रकार की बीमारी हो जाती है इस बीमारी को हटा दिया सही कर दिया जाए कई बार कभी कभी कोई बीमारी ज्यादा फैल जाती तो कभी शरीर के उस हिस्से को काटना भी पड़ता है तो बिल्कुल उसी स्थिति के तहत सरकार इस प्रकार के निर्णय लिया गया निर्णय राजनीति से भी प्रेरित रहे थे कहीं भी गलत भी हो सकते कभी सही भी हो सकते पर सबसे पहला जो कारण है वह यही है सरकार अपना बोझ कम करना चाहती है दूसरा दो कारण है वह बस सर्विस आप खुद ही एचडीएफसी बैंक और एसबीआई बैंक की सर्विस का अंतर देखना है आपको पता चल जाएगा बताने की जरूरत नहीं है तो यही तो कारण है जिनको लेकर सरकार आगे बढ़ती है दूसरा सरकारी कंपटीशन के क्षेत्र में कंपटीशन पैदा करना चाहती है वह चाहती है कि बैंक आज के मार्केट के सबसे आगे बढ़ने की सरकारी बैंकों में चाहे कर्मचारी हूं एक संस्था पूरी उसका काम करने का तरीका बिल्कुल अलग है वहीं प्राइवेट का पूरी तरह से लागू होता है इन सब चीजों कारण सरकार कई बार कई चीजों को प्राइवेट करती है धन्यवाद
Namaskaar aapaka svaagat hai sarakaar ne kuchh sarakaaree bainkon ko praivet kyon kiya isake peechhe kya tark ho sakata hai kisee bhee sarakaaree sanstha ko praivet karane ke peechhe yah tark hain vah koman se yahee hai sabase pahala to sarakaar apana bojh kam karana chaahatee hai apana kharcha ghataana chaahatee hai kaee aisee sansthaen sarakaar ko aavashyak roop se paise dene padate hain chaahe ve emploee ke naam par ho ghar ke naam par ho ki sarakaar chaahatee hai na kam kiya tha doosara unhen bechenge to sarakaar ko paisa bhee milega to sarakaar ke maana jis prakaar kee beemaaree ho jaatee hai is beemaaree ko hata diya sahee kar diya jae kaee baar kabhee kabhee koee beemaaree jyaada phail jaatee to kabhee shareer ke us hisse ko kaatana bhee padata hai to bilkul usee sthiti ke tahat sarakaar is prakaar ke nirnay liya gaya nirnay raajaneeti se bhee prerit rahe the kaheen bhee galat bhee ho sakate kabhee sahee bhee ho sakate par sabase pahala jo kaaran hai vah yahee hai sarakaar apana bojh kam karana chaahatee hai doosara do kaaran hai vah bas sarvis aap khud hee echadeeephasee baink aur esabeeaee baink kee sarvis ka antar dekhana hai aapako pata chal jaega bataane kee jaroorat nahin hai to yahee to kaaran hai jinako lekar sarakaar aage badhatee hai doosara sarakaaree kampateeshan ke kshetr mein kampateeshan paida karana chaahatee hai vah chaahatee hai ki baink aaj ke maarket ke sabase aage badhane kee sarakaaree bainkon mein chaahe karmachaaree hoon ek sanstha pooree usaka kaam karane ka tareeka bilkul alag hai vaheen praivet ka pooree tarah se laagoo hota hai in sab cheejon kaaran sarakaar kaee baar kaee cheejon ko praivet karatee hai dhanyavaad

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
भारतीय कानून में वर्णित कौन से पद को लाभ के पद की श्रेणी में रखा जाता है?Bharateey Kaanoon Mein Varnit Kaun Se Pad Ko Laabh Ke Pad Ki Shreni Mein Rakha Jaata Hai
MANISH BHARGAVA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए MANISH जी का जवाब
9717001594
0:48
नमस्कार आपका सवाल है भारतीय कानून में वर्णित कौन से पद को लाभ के पद की श्रेणी में रखा जाता है पिछले कुछ वर्षों में लाभ के पद की कई बार व्याख्या की गई है 30 पद को लेकर कई जगह सरकारों में विधायकों को सांसदों को अपने पद से इस्तीफा देना पड़ा है लाभ का पद पद माना जाता है जहां किसी भी व्यक्ति को इस पद पर रहने के दौरान कुछ सुविधाएं वेतन भत्ते के रूप में नगद मिलती हूं उस स्थिति में उसे लाभ का पद माना जाता है जहां भी नगद आपको कुछ मिल रहा है वह पद लाभ का पद माना जाता है तो कोई भी पद हो सकता है किसी भी डिपार्टमेंट के डायरेक्टर में आया चेयरमैन में जहां इसमें सिम मिल रही है वह लाभ का पद माना जा सकता है धन्यवाद
Namaskaar aapaka savaal hai bhaarateey kaanoon mein varnit kaun se pad ko laabh ke pad kee shrenee mein rakha jaata hai pichhale kuchh varshon mein laabh ke pad kee kaee baar vyaakhya kee gaee hai 30 pad ko lekar kaee jagah sarakaaron mein vidhaayakon ko saansadon ko apane pad se isteepha dena pada hai laabh ka pad pad maana jaata hai jahaan kisee bhee vyakti ko is pad par rahane ke dauraan kuchh suvidhaen vetan bhatte ke roop mein nagad milatee hoon us sthiti mein use laabh ka pad maana jaata hai jahaan bhee nagad aapako kuchh mil raha hai vah pad laabh ka pad maana jaata hai to koee bhee pad ho sakata hai kisee bhee dipaartament ke daayarektar mein aaya cheyaramain mein jahaan isamen sim mil rahee hai vah laabh ka pad maana ja sakata hai dhanyavaad

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
Sardar patel stadium का नया नाम क्या है?Sardar Patel Stadium Ka Naya Naam Kya Hai
MANISH BHARGAVA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए MANISH जी का जवाब
9717001594
0:38
नमस्कार आपका प्रश्न है सरदार पटेल स्टेडियम का नया नाम क्या है हाल ही में गुजरात में इस स्टेडियम का उद्घाटन हुआ था जिसका नाम हमारे देश के वर्तमान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के नाम पर है वह स्टेडियम पहले सरदार पटेल स्टेडियम के नाम से ही जाना चाहता था लेकिन जिसे अब विश्व का सबसे बड़ा स्टेडियम में कन्वर्ट कर दिया गया है और उसका नाम नरेंद्र मोदी जी के नाम पर रखा गया है गुजरात के कई वर्ष मुख्यमंत्री रहे और गुजरात के एक बड़े नेता के रूप में जाने जाते हैं इसलिए वहां की सरकार ने उनके नाम पर स्टेडियम करने का एक फैसला लिया है धन्यवाद
Namaskaar aapaka prashn hai saradaar patel stediyam ka naya naam kya hai haal hee mein gujaraat mein is stediyam ka udghaatan hua tha jisaka naam hamaare desh ke vartamaan pradhaanamantree narendr modee jee ke naam par hai vah stediyam pahale saradaar patel stediyam ke naam se hee jaana chaahata tha lekin jise ab vishv ka sabase bada stediyam mein kanvart kar diya gaya hai aur usaka naam narendr modee jee ke naam par rakha gaya hai gujaraat ke kaee varsh mukhyamantree rahe aur gujaraat ke ek bade neta ke roop mein jaane jaate hain isalie vahaan kee sarakaar ne unake naam par stediyam karane ka ek phaisala liya hai dhanyavaad

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
सिर्फ मोबाइल नंबर से ही किसी व्यक्ति के बारे में कैसे पता करे?Sirf Mobile Number Se Hi Kisi Vyakti Ke Baare Mein Kaise Pata Kare
MANISH BHARGAVA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए MANISH जी का जवाब
9717001594
0:40
नमस्कार आपको पसंद है सिर्फ मोबाइल नंबर से ही किसी व्यक्ति के बारे में कैसे पता करें मोबाइल नंबर के जरिए आप सिर्फ मोबाइल नंबर से किसी व्यक्ति बारे में ऐसे पता नहीं चला सकते हालांकि अब सोशल मीडिया के जरिए जहां भी मोबाइल के द्वारा उसके अकाउंट में उनके जरिए उसके सोशल मीडिया अकाउंट्स को पता कर उसकी डिटेल ले सकते हैं कि वह कौन है अगर भाई जब मोबाइल से एड्रेस पता चलाया जा सकता है पर आप उस व्यक्ति के बारे में कैसे पता नहीं चला पाएंगे मेरी मोबाइल से लिंक उसका भी सोशल मीडिया अकाउंट है तो जरूर आपको जानकारी मिल सकती है जितनी सोशल मीडिया अकाउंट पर उपलब्ध होगी वही जानकारी आप उसे हासिल कर पाएंगे
Namaskaar aapako pasand hai sirph mobail nambar se hee kisee vyakti ke baare mein kaise pata karen mobail nambar ke jarie aap sirph mobail nambar se kisee vyakti baare mein aise pata nahin chala sakate haalaanki ab soshal meediya ke jarie jahaan bhee mobail ke dvaara usake akaunt mein unake jarie usake soshal meediya akaunts ko pata kar usakee ditel le sakate hain ki vah kaun hai agar bhaee jab mobail se edres pata chalaaya ja sakata hai par aap us vyakti ke baare mein kaise pata nahin chala paenge meree mobail se link usaka bhee soshal meediya akaunt hai to jaroor aapako jaanakaaree mil sakatee hai jitanee soshal meediya akaunt par upalabdh hogee vahee jaanakaaree aap use haasil kar paenge

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
क्या किसी को वाईफाई देने से भी मोबाइल हैक हो सकता है?Kya Kisi Ko Wifi Dene Se Bhe Mobile Hack Ho Sakta Hai
MANISH BHARGAVA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए MANISH जी का जवाब
9717001594
0:50
नमस्कार आपका सवाल है क्या किसी को वाईफाई देने से भी मोबाइल है हो सकता है कि बाई फाई से आमतौर पर मोबाइल है कि नहीं किया जा सकता हालांकि इनकी बहुत ज्यादा एक्स्ट्राऑर्डिनरी है क्या तो फिर वह किसी भी तरीके से कर लेगा उसको फिर बिना वाईफाई के भी हैक करने के तरीके आते हैं क्योंकि नॉर्मल है भाई सही से मोबाइल है नहीं करना जब तक कि आप खुद कोई ना कोई गलती करके अपने मोबाइल का एड्रेस उसे ना वैसे आप निश्चिंत रहें ऐसे आसपास मारे रहने वाले लोगों में इतना आसान नहीं होता कि हैक करने वाला हूं कहने वाले कई लोग हो सकते हैं लेकिन हैक करना इतनी आसान चीज नहीं होती तो आप ऐसे अनावश्यक द रहना इस तरीके से नहीं होगा धन्यवाद
Namaskaar aapaka savaal hai kya kisee ko vaeephaee dene se bhee mobail hai ho sakata hai ki baee phaee se aamataur par mobail hai ki nahin kiya ja sakata haalaanki inakee bahut jyaada ekstraordinaree hai kya to phir vah kisee bhee tareeke se kar lega usako phir bina vaeephaee ke bhee haik karane ke tareeke aate hain kyonki normal hai bhaee sahee se mobail hai nahin karana jab tak ki aap khud koee na koee galatee karake apane mobail ka edres use na vaise aap nishchint rahen aise aasapaas maare rahane vaale logon mein itana aasaan nahin hota ki haik karane vaala hoon kahane vaale kaee log ho sakate hain lekin haik karana itanee aasaan cheej nahin hotee to aap aise anaavashyak da rahana is tareeke se nahin hoga dhanyavaad

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
वास्कोडिगामा भारत कब आया था ?Vaaskodigaama Bhaarat Kab Aaya Tha
MANISH BHARGAVA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए MANISH जी का जवाब
9717001594
0:20
आपका प्रश्न है वास्कोडिगामा भारत कब पहुंचा था वास्कोडिगामा भारत कब पहुंचा था वास्कोडिगामा मई 1498 मई 149 1498 में भारत में पहुंचा था धन्यवाद
Aapaka prashn hai vaaskodigaama bhaarat kab pahuncha tha vaaskodigaama bhaarat kab pahuncha tha vaaskodigaama maee 1498 maee 149 1498 mein bhaarat mein pahuncha tha dhanyavaad

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
वास्कोडिगामा भारत कब आया था?Vaaskodigaama Bhaarat Kab Aaya Tha
MANISH BHARGAVA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए MANISH जी का जवाब
9717001594
0:29
नमस्कार आपका प्रश्न है वास्कोडिगामा भारत कब पहुंचा था वास्कोडिगामा भारत कब पहुंचा था वास्कोडिगामा इंडिया में 1498 149 8 मई में 1498 में भारत पहुंचा था यह पश्चिम भारत में बंदरगाह वह आपके पास से होते हुए भारत में आया था मई 1498 धन्यवाद
Namaskaar aapaka prashn hai vaaskodigaama bhaarat kab pahuncha tha vaaskodigaama bhaarat kab pahuncha tha vaaskodigaama indiya mein 1498 149 8 maee mein 1498 mein bhaarat pahuncha tha yah pashchim bhaarat mein bandaragaah vah aapake paas se hote hue bhaarat mein aaya tha maee 1498 dhanyavaad

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
सरकारी नौकरी प्राप्त करने के लिए कौनसे टोटके करने चाहिए?Sarkari Naukri Praapt Karne Ke Liye Kaunse Totke Karne Chahiye
MANISH BHARGAVA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए MANISH जी का जवाब
9717001594
0:40
आपका प्रश्न है सरकारी नौकरी प्राप्त करने के लिए कौन से टोटके करने चाहिए कोई भी सरकारी नौकरी प्राप्त करने के लिए सबसे बेहतर एक टोटका है जिससे आप हर जगह सफल हो सकते हैं वह है मेहनत मेहनत प्रेक्टिस लगातार करें आपको सफलता जरूर मिलेगी जिस चीज का पैगाम देना चाहते हैं उसके पहले थोड़ा सा जानकारी हासिल करें कि क्या पैटर्न है कैसे पेपर आते हैं पुराने पेपर क्या रहे हैं और आप लगातार प्रैक्टिस करें ऐसा हो ही नहीं सकता कि आपको सफलता ना मिले यही एक सबसे मेन टोटका है जिसको आप अपना है आप जरूर सरकारी जॉब में पहुंचेंगे धन्यवाद
Aapaka prashn hai sarakaaree naukaree praapt karane ke lie kaun se totake karane chaahie koee bhee sarakaaree naukaree praapt karane ke lie sabase behatar ek totaka hai jisase aap har jagah saphal ho sakate hain vah hai mehanat mehanat prektis lagaataar karen aapako saphalata jaroor milegee jis cheej ka paigaam dena chaahate hain usake pahale thoda sa jaanakaaree haasil karen ki kya paitarn hai kaise pepar aate hain puraane pepar kya rahe hain aur aap lagaataar praiktis karen aisa ho hee nahin sakata ki aapako saphalata na mile yahee ek sabase men totaka hai jisako aap apana hai aap jaroor sarakaaree job mein pahunchenge dhanyavaad

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
क्या सरकारी नोकरी अच्छी है या खुद का करोड़ों का बिज़नेस?Kya Sarkari Noukari Achi Hai Ya Khud Ka Karodo Ka Bisuness
MANISH BHARGAVA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए MANISH जी का जवाब
9717001594
1:10
नमस्कार आपका प्रश्न है कि सरकारी नौकरी अच्छी है या खुद का करोड़ों का बिजनेस भी दोनों ही जगह दोनों ही चीजें अपनी जगह भीतर है अब किसी भी चीज से देश और समाज में योगदान दे सकते हैं लोगों का बेहतर कर सकते हैं यदि हम सिर्फ पैसे ग्रुप से बात करा तो निश्चित रूप से बिजनेस ज्यादा बेहतर है जो इनकम ज्यादा है यदि आप ग्रुप के रूप में बात करें तो दोनों जगह अपनी अपनी ग्रोथ हैं सरकारी ओं में अलग बिजनेसमैन पर यदि आप बिजनेस को किसी बड़ी सरकारी जॉब से कम प्यार करें तो निश्चित रूप से उसमें आपको ज्यादा फोर्स नहीं मिलती है अब ज्यादा बेहतर कर पाते हैं वहां पूरे देश समाज का बदलाव कर सकते हैं बेहतर बना सकते हैं लेकिन बिजनेस में भी दिया बड़ी बिजनेसमैन बनते हैं तो वहां भी आप ही कर सकते हैं तो दोनों ही चीजें बेहतर है दोनों ही विकल्प है बस बात यह है कि आप इसमें से किस विकल्प को उपयोग करना चाहते हैं आप किस विकल्प के जरिए आगे बढ़ना चाहते हैं सभी विकल्प बेहतर होते हैं यह आपके ऊपर निर्भर है आपकी चॉइस क्या है आपका फैशन किस चीज में है आपको क्या अच्छा लगता है आप उसको फॉलो करें धन्यवाद
Namaskaar aapaka prashn hai ki sarakaaree naukaree achchhee hai ya khud ka karodon ka bijanes bhee donon hee jagah donon hee cheejen apanee jagah bheetar hai ab kisee bhee cheej se desh aur samaaj mein yogadaan de sakate hain logon ka behatar kar sakate hain yadi ham sirph paise grup se baat kara to nishchit roop se bijanes jyaada behatar hai jo inakam jyaada hai yadi aap grup ke roop mein baat karen to donon jagah apanee apanee groth hain sarakaaree on mein alag bijanesamain par yadi aap bijanes ko kisee badee sarakaaree job se kam pyaar karen to nishchit roop se usamen aapako jyaada phors nahin milatee hai ab jyaada behatar kar paate hain vahaan poore desh samaaj ka badalaav kar sakate hain behatar bana sakate hain lekin bijanes mein bhee diya badee bijanesamain banate hain to vahaan bhee aap hee kar sakate hain to donon hee cheejen behatar hai donon hee vikalp hai bas baat yah hai ki aap isamen se kis vikalp ko upayog karana chaahate hain aap kis vikalp ke jarie aage badhana chaahate hain sabhee vikalp behatar hote hain yah aapake oopar nirbhar hai aapakee chois kya hai aapaka phaishan kis cheej mein hai aapako kya achchha lagata hai aap usako pholo karen dhanyavaad

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
एलपीजी के फुल फॉर्म क्या होता है?Lpg Ke Full Form Kya Hota Hai
MANISH BHARGAVA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए MANISH जी का जवाब
9717001594
1:05
नमस्कार आपका सवाल है एलपीजी का फुल फॉर्म क्या होता है एलपीजी जोटम है या यह जो शब्द है वह दो जगह है यूज़ किया जाता है एक आर्थिक शब्दावली में और एक नॉर्मल जो हम गैस यूज करते हैं उस के संदर्भ में कल के वर्तमान में यह दोनों हीटर में लगातार हमें हर जगह सुनने को मिल रहे हैं इसका जो नॉर्मल गैस सिलेंडर ग्रुप में जो न्यूज़ करते हैं एलपीजी सिलेंडर उसका फुल फॉर्म में लिखकर फाइट पेट्रोलियम के एक सिंपल स्वेटर में है जिसको एमएलपीजी कहते हैं लिखकर फाइट पेट्रोलियम के अधिकांश न्यूज़पेपर या बड़ी जगह पर जो एलपीजी सब यूज किया जाता है आर्थिक शब्दावली में ज्यादा यूज किया जाता है इस एलपीजी का फुल फॉर्म आफ लिबरलाइजेशन प्राइवेटाइजेशन ग्लोबलाइजेशन निजीकरण उदारीकरण और वैश्वीकरण इसी संदर्भ में 99 शब्द अपनाया गया था भारत सरकार द्वारा और उसके बाद इसे इसी संदर्भ में आर्थिक शब्दावली में या रिपोर्ट में यूज किया जाता है तो हो सकता अपने दोनों में से जैसे वैसे ही पूछा मैंने दोनों ही आपके अर्थ बताने की कोशिश की है धन्यवाद
Namaskaar aapaka savaal hai elapeejee ka phul phorm kya hota hai elapeejee jotam hai ya yah jo shabd hai vah do jagah hai yooz kiya jaata hai ek aarthik shabdaavalee mein aur ek normal jo ham gais yooj karate hain us ke sandarbh mein kal ke vartamaan mein yah donon heetar mein lagaataar hamen har jagah sunane ko mil rahe hain isaka jo normal gais silendar grup mein jo nyooz karate hain elapeejee silendar usaka phul phorm mein likhakar phait petroliyam ke ek simpal svetar mein hai jisako emelapeejee kahate hain likhakar phait petroliyam ke adhikaansh nyoozapepar ya badee jagah par jo elapeejee sab yooj kiya jaata hai aarthik shabdaavalee mein jyaada yooj kiya jaata hai is elapeejee ka phul phorm aaph libaralaijeshan praivetaijeshan globalaijeshan nijeekaran udaareekaran aur vaishveekaran isee sandarbh mein 99 shabd apanaaya gaya tha bhaarat sarakaar dvaara aur usake baad ise isee sandarbh mein aarthik shabdaavalee mein ya riport mein yooj kiya jaata hai to ho sakata apane donon mein se jaise vaise hee poochha mainne donon hee aapake arth bataane kee koshish kee hai dhanyavaad

#भारत की राजनीति

MANISH BHARGAVA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए MANISH जी का जवाब
9717001594
1:19
आपका सवाल है क्या कारण है कि सरकारी स्तर में सामान्य प्रसव निजी अस्पताल के मुकाबले अधिक होते हैं और सिजेरियन कम होते हैं जी हां यह बिल्कुल सच है कि शासकीय अस्पतालों में नॉर्मल डिलीवरी एक सामान्य से अधिक होते हैं खिजुरिया ना के बराबर इस कारण वही है जो आप समझ रहे हैं प्राइवेट हॉस्पिटल में सुविधाएं ज्यादा बेहतर होती हैं लेकिन वहां पैसे को कैसे ज्यादा कमाया जाए इस इंतजार में डॉक्टर रहते हैं हालांकि सभी ऐसे नहीं रहते यदि यह सब कभी होते तो फिर नॉर्मल डिलीवरी नहीं मिलती और कई बार ऐसा भी होता कि स्क्रीन की आवश्यकता भी पड़ती है पर फिर भी कुछ डॉक्टर से ऐसे होते हैं जो कि जब उन्हें पता होता कि इससे किसी व्यक्ति का लाइफ तो खराब हो नहीं रही है तो क्यों ना मैं स्वामी पैसे ही कमा लूं तो ऐसे लोग कहीं ना कहीं मन में अपने लालच को पूरा करने के लिए इस प्रकार की हरकतें करते हैं तो इफेक्ट है आप कभी किसी भी हॉस्पिटल का सरकारी का और उसके नजदीक प्राइवेट का डिटेल देखेंगे तो आपको यही जनवरी को देखने मिलेगा और वही बात आप देखें जब कोरोनावायरस एवरी हो रही थी तो नॉर्मल ज्यादा हो रही थी तो इसका मतलब साफ है कि कहीं ना कहीं कुछ पैसा है लेकिन जिस व्यक्ति के पास पैसा होता है वह निश्चित रूप से सुविधाओं को ज्यादा प्राथमिकता देता है इसलिए उसके साथ ऐसा हो जाता है धन्यवाद
Aapaka savaal hai kya kaaran hai ki sarakaaree star mein saamaany prasav nijee aspataal ke mukaabale adhik hote hain aur sijeriyan kam hote hain jee haan yah bilkul sach hai ki shaasakeey aspataalon mein normal dileevaree ek saamaany se adhik hote hain khijuriya na ke baraabar is kaaran vahee hai jo aap samajh rahe hain praivet hospital mein suvidhaen jyaada behatar hotee hain lekin vahaan paise ko kaise jyaada kamaaya jae is intajaar mein doktar rahate hain haalaanki sabhee aise nahin rahate yadi yah sab kabhee hote to phir normal dileevaree nahin milatee aur kaee baar aisa bhee hota ki skreen kee aavashyakata bhee padatee hai par phir bhee kuchh doktar se aise hote hain jo ki jab unhen pata hota ki isase kisee vyakti ka laiph to kharaab ho nahin rahee hai to kyon na main svaamee paise hee kama loon to aise log kaheen na kaheen man mein apane laalach ko poora karane ke lie is prakaar kee harakaten karate hain to iphekt hai aap kabhee kisee bhee hospital ka sarakaaree ka aur usake najadeek praivet ka ditel dekhenge to aapako yahee janavaree ko dekhane milega aur vahee baat aap dekhen jab koronaavaayaras evaree ho rahee thee to normal jyaada ho rahee thee to isaka matalab saaph hai ki kaheen na kaheen kuchh paisa hai lekin jis vyakti ke paas paisa hota hai vah nishchit roop se suvidhaon ko jyaada praathamikata deta hai isalie usake saath aisa ho jaata hai dhanyavaad

#जीवन शैली

bolkar speaker
क्या किसी को अपनी बातों से हंड्रेड परसेंट संतुष्ट किया जा सकता है?Kya Kisi Ko Apni Baton Se Hundred Percent Santusht Kiya Ja Sakta Hai
MANISH BHARGAVA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए MANISH जी का जवाब
9717001594
0:50
आपका प्रश्न है क्या आप किसी को हंड्रेड परसेंट संतुष्ट कर पाओगे अपनी बातों से किसी को भी हंड्रेड परसेंट संतोष सिर्फ तभी किया जा सकता है जब वह आपका भक्त हो या उसकी आप में आस्था हो यदि कोई व्यक्ति आपका सम्मान करता है उसकी आप में आस्था है तो निश्चित रूप से वापस हंड्रेड परसेंट संतुष्ट हो जाएगा अन्यथा दुनिया में अब किसी भी व्यक्ति को हंड्रेड परसेंट संतुष्ट नहीं कर सकते यह एक मानवीय स्वभाव का व्यक्ति दिन नहीं मानना तो उसे नहीं मानना व्यक्ति जब किसी भगवान को नहीं मानता एक भगवान को पूरी दुनिया नहीं मान सकती आप एक व्यक्ति किसी भगवान से भी पूरी तरह संतुष्ट नहीं होता यह तो संभव नहीं है कि कोई व्यक्ति किसी तरीके से किसी व्यक्ति को बातों से भी संतुष्ट करता क्वेश्चन तभी संभव है जब सामने वाला आपका भक्त हो आपका फोन धन्यवाद
Aapaka prashn hai kya aap kisee ko handred parasent santusht kar paoge apanee baaton se kisee ko bhee handred parasent santosh sirph tabhee kiya ja sakata hai jab vah aapaka bhakt ho ya usakee aap mein aastha ho yadi koee vyakti aapaka sammaan karata hai usakee aap mein aastha hai to nishchit roop se vaapas handred parasent santusht ho jaega anyatha duniya mein ab kisee bhee vyakti ko handred parasent santusht nahin kar sakate yah ek maanaveey svabhaav ka vyakti din nahin maanana to use nahin maanana vyakti jab kisee bhagavaan ko nahin maanata ek bhagavaan ko pooree duniya nahin maan sakatee aap ek vyakti kisee bhagavaan se bhee pooree tarah santusht nahin hota yah to sambhav nahin hai ki koee vyakti kisee tareeke se kisee vyakti ko baaton se bhee santusht karata kveshchan tabhee sambhav hai jab saamane vaala aapaka bhakt ho aapaka phon dhanyavaad

#जीवन शैली

MANISH BHARGAVA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए MANISH जी का जवाब
9717001594
1:34
नमस्कार आपका सवाल है क्या बेटा पैदा करने की कोई जड़ी बूटी जैसी दवाई होती है इसमें 7 प्रतिशत गारंटी होने की संभावना होने वाला संतान बेटा ही ऐसी कोई दवा नहीं होती जिससे इस प्रकार की कोई चीज की गारंटी दी जा सके यह व्यक्ति के कई प्रकार के बायोलॉजिकल फैक्टस पर निर्भर करता है इसमें किसी प्रकार की दवाई का कोई रोल नहीं होता कोई भी व्यक्ति यदि ऐसी दवा देने की दावा करता है ऐसा हो ही नहीं सकता कि वह सच हो आप उसको खुद चेक करके वेरीफाई कर सकते हैं दूसरी बात इस प्रकार की मैं कहूंगा गलत है सामाजिक रूप से भी और कानून भी बेहतर होगा आप के बेटे हो या बेटी हो दोनों बराबर हैं और किसी भी स्वरूप में वो एक दूसरे से कम नहीं है वर्तमान में आप कहीं भी देखे बेटा हो या बेटी हो दोनों आगे बढ़ रहे हैं अपने परिवार का नाम रोशन कर रहे हैं दूसरी बात रही बात यह है कि कहीं किसी को लगता है कि नहीं बेटी होने की वजह से कई बार हमारे साथ सामाजिक रूप से ऐसा होता जिसे स्वीकार नहीं करना चाहते तो ऐसी चीज दो बेटों के साथ हुई है कई बेटे ऐसे जनाब जो अपने परिवार को अपने बुजुर्ग मां-बाप की सीमा तक नहीं कर पा रहा हूं खुला तक नहीं पा रहे हैं तो भी सब जगह रहती है व्यक्ति के हर व्यक्ति के इस प्रकार का है उस पर निर्भर करता है आप कुछ नहीं कर सकते ईश्वर द्वारा दिया गया हर जीव बेहतर है चाहे वह बेटा हो चाहे बेटी हो धन्यवाद
Namaskaar aapaka savaal hai kya beta paida karane kee koee jadee bootee jaisee davaee hotee hai isamen 7 pratishat gaarantee hone kee sambhaavana hone vaala santaan beta hee aisee koee dava nahin hotee jisase is prakaar kee koee cheej kee gaarantee dee ja sake yah vyakti ke kaee prakaar ke baayolojikal phaiktas par nirbhar karata hai isamen kisee prakaar kee davaee ka koee rol nahin hota koee bhee vyakti yadi aisee dava dene kee daava karata hai aisa ho hee nahin sakata ki vah sach ho aap usako khud chek karake vereephaee kar sakate hain doosaree baat is prakaar kee main kahoonga galat hai saamaajik roop se bhee aur kaanoon bhee behatar hoga aap ke bete ho ya betee ho donon baraabar hain aur kisee bhee svaroop mein vo ek doosare se kam nahin hai vartamaan mein aap kaheen bhee dekhe beta ho ya betee ho donon aage badh rahe hain apane parivaar ka naam roshan kar rahe hain doosaree baat rahee baat yah hai ki kaheen kisee ko lagata hai ki nahin betee hone kee vajah se kaee baar hamaare saath saamaajik roop se aisa hota jise sveekaar nahin karana chaahate to aisee cheej do beton ke saath huee hai kaee bete aise janaab jo apane parivaar ko apane bujurg maan-baap kee seema tak nahin kar pa raha hoon khula tak nahin pa rahe hain to bhee sab jagah rahatee hai vyakti ke har vyakti ke is prakaar ka hai us par nirbhar karata hai aap kuchh nahin kar sakate eeshvar dvaara diya gaya har jeev behatar hai chaahe vah beta ho chaahe betee ho dhanyavaad

#जीवन शैली

bolkar speaker
ऐसी क्या सावधानी रखें कि वृद्धावस्था सुख से कट सके?Aesi Kya Savdhani Rakhe Ki Vriddavastha Sukh Se Kat Sake
MANISH BHARGAVA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए MANISH जी का जवाब
9717001594
0:50
आपका सवाल है ऐसी क्या सावधानी रखें कि वृद्धावस्था सुख से कर सकें वृद्धावस्था बेहतर तरीके से सुख से काटना चाहते हैं तो उसके लिए दो बातों का ध्यान रखना अनिवार्य है पहला आप अपनी सेहत का ख्याल रखें ताकि आप वृद्धावस्था में सुखी रह पाए दूसरा अपने पास पर्याप्त मात्रा में धन की सर धन का संग्रह रखें कि 4G में कहूंगा अपने व्यवहार को या अपने आचरण अपने करीबियों के साथ ऐसा व्यवहार रखा है जिससे समय आने पर वह भी आपका साथ दे सके तो सबसे पहले ही आपका स्वास्थ आपका व्यवहार और धन यह चीजें आपके बुढ़ापे के लिए सबसे ज्यादा आवश्यक है ताकि आपका और आप आपकी वृद्धावस्था बेहतर तरीके से आप का सफाया जी सतन धन्यवाद
Aapaka savaal hai aisee kya saavadhaanee rakhen ki vrddhaavastha sukh se kar saken vrddhaavastha behatar tareeke se sukh se kaatana chaahate hain to usake lie do baaton ka dhyaan rakhana anivaary hai pahala aap apanee sehat ka khyaal rakhen taaki aap vrddhaavastha mein sukhee rah pae doosara apane paas paryaapt maatra mein dhan kee sar dhan ka sangrah rakhen ki 4g mein kahoonga apane vyavahaar ko ya apane aacharan apane kareebiyon ke saath aisa vyavahaar rakha hai jisase samay aane par vah bhee aapaka saath de sake to sabase pahale hee aapaka svaasth aapaka vyavahaar aur dhan yah cheejen aapake budhaape ke lie sabase jyaada aavashyak hai taaki aapaka aur aap aapakee vrddhaavastha behatar tareeke se aap ka saphaaya jee satan dhanyavaad

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
क्या हमारे द्वारा लिए गए विकल्प हमारे जीवन का निर्माण करते हैं?Kya Humare Dvara Lie Gaye Vikalp Humare Jeevan Ka Nirman Karte Hain
MANISH BHARGAVA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए MANISH जी का जवाब
9717001594
1:01
नमस्कार आपका सवाल है क्या हमारे द्वारा लिए गए विकल्प हमारे जीवन का निर्माण करते हैं कि आपके द्वारा लिया गया कोई भी निर्णय निश्चित रूप से आपके जीवन में उसका सर आपको मिलेगा * कैसा भी हो हर व्यक्ति अपनी सोच समझ के अनुसार अपने निर्णय लेता है और उससे आगे व सीखता है पर अपने निर्णय पर पुनर्विचार करता है कई बार बदलता है उसी नोएडा में कुछ सुधार करता है 19 दिन से हमारा पूरा जीवन हमारे ही निर्णयों का एक परिणाम है अब जो भी निर्णय लेते हैं बचपन से लेकर आपके कैरियर की लेकर हो पढ़ाई को लेकर हो आपके रिलेशन को लेकर हो हर चीज को लेकर आपका जो भी निर्णय है वह निश्चित रूप से आगे कुछ ना कुछ परिणाम लेकर आएगा वह सकारात्मक व नकारात्मक होगा यह निर्णय किस तरीके से लिया है उस परिस्थिति पर निर्भर करता है और आगे के आगे की परिस्थितियों पर निर्भर करता है जो परिणाम आगे आएंगे पर यह सच है कि आपके द्वारा लिए गए विकल्प या निर्णय आपके जीवन का निर्माण कर धन्यवाद
Namaskaar aapaka savaal hai kya hamaare dvaara lie gae vikalp hamaare jeevan ka nirmaan karate hain ki aapake dvaara liya gaya koee bhee nirnay nishchit roop se aapake jeevan mein usaka sar aapako milega * kaisa bhee ho har vyakti apanee soch samajh ke anusaar apane nirnay leta hai aur usase aage va seekhata hai par apane nirnay par punarvichaar karata hai kaee baar badalata hai usee noeda mein kuchh sudhaar karata hai 19 din se hamaara poora jeevan hamaare hee nirnayon ka ek parinaam hai ab jo bhee nirnay lete hain bachapan se lekar aapake kairiyar kee lekar ho padhaee ko lekar ho aapake rileshan ko lekar ho har cheej ko lekar aapaka jo bhee nirnay hai vah nishchit roop se aage kuchh na kuchh parinaam lekar aaega vah sakaaraatmak va nakaaraatmak hoga yah nirnay kis tareeke se liya hai us paristhiti par nirbhar karata hai aur aage ke aage kee paristhitiyon par nirbhar karata hai jo parinaam aage aaenge par yah sach hai ki aapake dvaara lie gae vikalp ya nirnay aapake jeevan ka nirmaan kar dhanyavaad

#जीवन शैली

bolkar speaker
क्या लंबे बाल होने से आदमी बुद्धिमान होता है इतिहास तो यही कहता है आप क्या कहते हैं?Kya Lambe Baal Hone Se Aadamee Buddhimaan Hota Hai Itihaas To Yahee Kahata Hai Aap Kya Kahate Hain
MANISH BHARGAVA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए MANISH जी का जवाब
9717001594
0:48
नमस्कार आपका सवाल है क्या लंबे बाल होने से आदमी बुद्धिमान होता है इतिहास तो यही कहता है आप क्या करते हैं ऐसा तो कहीं कोई इतिहास में जिक्र नहीं है कि किसी के लंबे बाल हैं तो वह बुद्धिमान होगा ही यह किसी के लंबे बाल नहीं है तो बुद्धिमान नहीं होगा ऐसा कहीं भी किसी भी प्रकार से इतिहास में कोई जिक्र नहीं है ना कुछ उदाहरण हो सकते हैं तो धारण तो ऐसे भी हो सकते हैं जिसके बाल नहीं थे वह भी ज्यादा बुद्धिमान था जिसके छोटे बाल थे वह भी ज्यादा बुद्धिमान हो सकता है तो उदाहरण तो दुनिया में हर चीज का खोजा जा सकता है या मिल जाता है पर यह प्रॉपर कोई प्रमाण नहीं है ना ही इसे हर जगह हर स्वरूप में यूनिवर्सल रूप से स्वीकार किया जाता है यह किसी के साथ व्यक्तिगत घटना या व्यक्तिगत अनुभव हो सकता है पर यह बात पता नहीं है इसे सार्वभौमिक रूप से स्वीकार किया जा सके धन्यवाद
Namaskaar aapaka savaal hai kya lambe baal hone se aadamee buddhimaan hota hai itihaas to yahee kahata hai aap kya karate hain aisa to kaheen koee itihaas mein jikr nahin hai ki kisee ke lambe baal hain to vah buddhimaan hoga hee yah kisee ke lambe baal nahin hai to buddhimaan nahin hoga aisa kaheen bhee kisee bhee prakaar se itihaas mein koee jikr nahin hai na kuchh udaaharan ho sakate hain to dhaaran to aise bhee ho sakate hain jisake baal nahin the vah bhee jyaada buddhimaan tha jisake chhote baal the vah bhee jyaada buddhimaan ho sakata hai to udaaharan to duniya mein har cheej ka khoja ja sakata hai ya mil jaata hai par yah propar koee pramaan nahin hai na hee ise har jagah har svaroop mein yoonivarsal roop se sveekaar kiya jaata hai yah kisee ke saath vyaktigat ghatana ya vyaktigat anubhav ho sakata hai par yah baat pata nahin hai ise saarvabhaumik roop se sveekaar kiya ja sake dhanyavaad

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
धार्मिक ग्रंथों में लिखी गई सभी बातें क्या ठीक है?Dhaarmik Granthon Mein Likhee Gayi Sabhi Baate Kya Theek Hai
MANISH BHARGAVA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए MANISH जी का जवाब
9717001594
0:58
नमस्कार आपका सवाल है धार्मिक ग्रंथों में लिखी गई सभी बातें क्या ठीक है जी धार्मिक ग्रंथों में जो भी बातें लिखी गई हैं वह ठीक है या नहीं है इस चीज को जानने के लिए बेहतर है कि आप उसका प्रेक्टिकल करके देखें उसके मार्ग पर चल कर देखें जब आप उस चीज को खुद प्रूफ कर लेंगे खुद चेक कर लेंगे जज कर लेंगे तो आप इस चीज का ज्यादा भीतर जवाब हासिल कर पाएंगे क्योंकि दूसरा जो भी व्यक्ति आपको जवाब देगा वह अपने अनुभव से देगा तो बजा दूसरों के अनुभव को मारने की उस चीज को अंदर तक जाकर फिर करके देखें उसको गहनता से पढ़कर समझने की कोशिश करें और फिर अपने आप उसका आपको जवाब मिल जाएगा कि क्या वह सही है या नहीं क्योंकि दुनिया में ऐसी कोई भी बात नहीं है जिसे कोई ना कोई सही ना मानता हो ऐसी भी कोई बात नहीं है जैसे कोई ना कोई गलत ना मानता हो तो हर व्यक्ति की समझ और उसकी क्षमता समाज और सोचने की क्षमता पर निर्भर करता है धन्यवाद
Namaskaar aapaka savaal hai dhaarmik granthon mein likhee gaee sabhee baaten kya theek hai jee dhaarmik granthon mein jo bhee baaten likhee gaee hain vah theek hai ya nahin hai is cheej ko jaanane ke lie behatar hai ki aap usaka prektikal karake dekhen usake maarg par chal kar dekhen jab aap us cheej ko khud prooph kar lenge khud chek kar lenge jaj kar lenge to aap is cheej ka jyaada bheetar javaab haasil kar paenge kyonki doosara jo bhee vyakti aapako javaab dega vah apane anubhav se dega to baja doosaron ke anubhav ko maarane kee us cheej ko andar tak jaakar phir karake dekhen usako gahanata se padhakar samajhane kee koshish karen aur phir apane aap usaka aapako javaab mil jaega ki kya vah sahee hai ya nahin kyonki duniya mein aisee koee bhee baat nahin hai jise koee na koee sahee na maanata ho aisee bhee koee baat nahin hai jaise koee na koee galat na maanata ho to har vyakti kee samajh aur usakee kshamata samaaj aur sochane kee kshamata par nirbhar karata hai dhanyavaad

#जीवन शैली

MANISH BHARGAVA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए MANISH जी का जवाब
9717001594
0:32
नमस्कार आपका सवाल है के दिव्यांगों को भी पेंशन लेने के लिए जीवन प्रमाण पत्र देना होगा अगर हां तो जो सौ परसेंट विकलांग है वह कैसे जाएंगे जी हां यह सच है कि पेंशन के लिए वीकली प्रमाण पत्र जीवन प्रमाण पत्र देना निवास पर हैं यदि कोई हंड्रेड परसेंट विकलांग है तो निश्चित रूप से वह किसी ना किसी के सहारे से रहते होंगे किसी ने किसी सा के सहारे क्यों न जरूरत पड़ती हूं तो उनके जरिए अपनी प्रमाण पत्र भिजवा सकते हैं तो निश्चित रूप से किसी ना किसी की हमें मदद लेनी पड़ेगी इसके लिए पर यह अनिवार्य प्रमाण पत्र अनिवार्य डॉक्यूमेंट की जरूरत होती है पेंशन के लिए धन्यवाद
Namaskaar aapaka savaal hai ke divyaangon ko bhee penshan lene ke lie jeevan pramaan patr dena hoga agar haan to jo sau parasent vikalaang hai vah kaise jaenge jee haan yah sach hai ki penshan ke lie veekalee pramaan patr jeevan pramaan patr dena nivaas par hain yadi koee handred parasent vikalaang hai to nishchit roop se vah kisee na kisee ke sahaare se rahate honge kisee ne kisee sa ke sahaare kyon na jaroorat padatee hoon to unake jarie apanee pramaan patr bhijava sakate hain to nishchit roop se kisee na kisee kee hamen madad lenee padegee isake lie par yah anivaary pramaan patr anivaary dokyooment kee jaroorat hotee hai penshan ke lie dhanyavaad

#धर्म और ज्योतिषी

MANISH BHARGAVA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए MANISH जी का जवाब
9717001594
1:20
नमस्कार आपका प्रश्न है विवाह के समय कुंडली मिलान करना क्यों आवश्यक है बिना कुंडली मिलान किए तो वह करना उचित है या नहीं जरा ज्योतिष में विश्वास है वह कुंडली का मिलान आमतौर पर करते हैं और वह से जरूरी समझते हैं हालांकि कुंडली मिलान करना या न करना यह अलग बात है आप नहीं भी करें तो भी ज्यादा फर्क नहीं पड़ता और करें तो भी ठीक है दोनों अपनी अपनी जगह किसी का कुछ लाभ है तो किसी से कुछ नुकसान है दूसरी बात है आपके मानने के ऊपर भी है इसके अलावा ऐसे ही है जैसे मान लीजिए आप पानी पीते हैं और आप ही जानना चाहा कि हम बिल्कुल पीएच वैल्यू बिल्कुल फैक्ट चेक करके हम पानी पिएंगे क्या टीडीएस बिल्कुल प्रॉपर मात्रा में चेक करके पानी पिएंगे पीते हैं उन्हें लगता है कि हम इससे स्वास्थ्य हैं या रहेंगे वह बात की बात है कि वह क्या पूरी लाइफ स्वस्थ रह पाते हैं या नहीं पर कई लोग ऐसा करते हैं वहीं कई लोग नॉर्मल ही पानी मिलता है हमारी बॉडी है डॉक्टर लेती हमें कोई फर्क नहीं पड़ता तो आपकी सोच और आपकी मारने के ऊपर फर्क पड़ता है यदि आपको लगता है ठीक है जरूरी है तो आप बिल्कुल मान सकते हैं यदि आपको लगता है कोई जरूरी नहीं है तो आप बिल्कुल ना माने आपके ऊपर निर्भर करता है इसका क्या फायदा है क्या नुकसान है यह इतनी आसानी से समझाया जाना आसान नहीं है धन्यवाद
Namaskaar aapaka prashn hai vivaah ke samay kundalee milaan karana kyon aavashyak hai bina kundalee milaan kie to vah karana uchit hai ya nahin jara jyotish mein vishvaas hai vah kundalee ka milaan aamataur par karate hain aur vah se jarooree samajhate hain haalaanki kundalee milaan karana ya na karana yah alag baat hai aap nahin bhee karen to bhee jyaada phark nahin padata aur karen to bhee theek hai donon apanee apanee jagah kisee ka kuchh laabh hai to kisee se kuchh nukasaan hai doosaree baat hai aapake maanane ke oopar bhee hai isake alaava aise hee hai jaise maan leejie aap paanee peete hain aur aap hee jaanana chaaha ki ham bilkul peeech vailyoo bilkul phaikt chek karake ham paanee pienge kya teedeees bilkul propar maatra mein chek karake paanee pienge peete hain unhen lagata hai ki ham isase svaasthy hain ya rahenge vah baat kee baat hai ki vah kya pooree laiph svasth rah paate hain ya nahin par kaee log aisa karate hain vaheen kaee log normal hee paanee milata hai hamaaree bodee hai doktar letee hamen koee phark nahin padata to aapakee soch aur aapakee maarane ke oopar phark padata hai yadi aapako lagata hai theek hai jarooree hai to aap bilkul maan sakate hain yadi aapako lagata hai koee jarooree nahin hai to aap bilkul na maane aapake oopar nirbhar karata hai isaka kya phaayada hai kya nukasaan hai yah itanee aasaanee se samajhaaya jaana aasaan nahin hai dhanyavaad

#जीवन शैली

bolkar speaker
क्या आप एक लघु प्रेम कथा लिख सकते हैं?Kya Aap Ek Laghu Prem Ktha Likh Sakte Hain
MANISH BHARGAVA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए MANISH जी का जवाब
9717001594
0:55
नमस्कार आपका सवाल है क्या आप एक लघु प्रेम कथा लिख सकते हैं यदि आप कोई किताब लिखना चाह रहे हो और आपके मन में ऐसा है कि क्या हम कोई शार्ट स्टोरी अलग हो प्रेम कथा लिख सकते तो हां बिल्कुल एक सकते हैं हालांकि मार्केट में किताबों का जो चालान है उसमें लगभग सवा सौ भेज दिया इस ऊपर की किताब में प्रचलित रहती हैं जिसमें या तो कई स्टोरी हो सकती है एक उपन्यास हो सकता है या का वसुंधरा हो सकता है एक स्टोरी के फॉर्म में वह भी छोटी स्टोरी हो यह मार्केट में प्रचलन में नहीं है या फिर भी चाहे तो छुपा सकते हैं इसमें ऐसा कोई मना नहीं है कि कब पब्लिश मना करते हैं या एक और विकल्प ऑफिस के लिए ब्लॉक का उपयोग ले सकते हैं आप सोशल मीडिया पर इसको लिख सकते हैं अपने ब्लॉग पर लिखकर उसे सब जगह शेयर कर सकते हैं न्यूज़पेपर को भेज सकते हैं इन माध्यमों से भी आप प्रेम कथा शेयर कर सकते हैं फिर भी आपको लगता है कि नहीं हम सब आना चाहते हैं तो बिल्कुल आप किसी से बात कर कर वह भी कर सकते हैं
Namaskaar aapaka savaal hai kya aap ek laghu prem katha likh sakate hain yadi aap koee kitaab likhana chaah rahe ho aur aapake man mein aisa hai ki kya ham koee shaart storee alag ho prem katha likh sakate to haan bilkul ek sakate hain haalaanki maarket mein kitaabon ka jo chaalaan hai usamen lagabhag sava sau bhej diya is oopar kee kitaab mein prachalit rahatee hain jisamen ya to kaee storee ho sakatee hai ek upanyaas ho sakata hai ya ka vasundhara ho sakata hai ek storee ke phorm mein vah bhee chhotee storee ho yah maarket mein prachalan mein nahin hai ya phir bhee chaahe to chhupa sakate hain isamen aisa koee mana nahin hai ki kab pablish mana karate hain ya ek aur vikalp ophis ke lie blok ka upayog le sakate hain aap soshal meediya par isako likh sakate hain apane blog par likhakar use sab jagah sheyar kar sakate hain nyoozapepar ko bhej sakate hain in maadhyamon se bhee aap prem katha sheyar kar sakate hain phir bhee aapako lagata hai ki nahin ham sab aana chaahate hain to bilkul aap kisee se baat kar kar vah bhee kar sakate hain

#जीवन शैली

bolkar speaker
क्या देश में कोरोना की वजह से फिर से बंद हो रहे हैं स्कूल और कॉलेज?Kya Desh Mein Corona Ki Wjah Se Phir Se Band Ho Rhe Hain School Aur College
MANISH BHARGAVA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए MANISH जी का जवाब
9717001594
0:25
नमस्कार आपका सवाल है कि देश में कोरोनावायरस ऐसे फिर से बंद हो रहे हैं स्कूल और कॉलेज जी ऐसा अब तक तो बिल्कुल नहीं लगता नहीं सुनने में आया है कि देश में कॉलेज और स्कूल फिर से बंद होने की उम्मीद है सीबीएसई और सभी बोर्ड अपने एग्जाम कराने की भी पूरी तैयारी कर रहे हैं ऐसा बिल्कुल नहीं लगता कि कॉलेज और स्कूल फिर से बंद होंगे अभी इनकी बंद होने की ऐसी कोई उम्मीद नहीं दिखाई दे रही है धन्यवाद
Namaskaar aapaka savaal hai ki desh mein koronaavaayaras aise phir se band ho rahe hain skool aur kolej jee aisa ab tak to bilkul nahin lagata nahin sunane mein aaya hai ki desh mein kolej aur skool phir se band hone kee ummeed hai seebeeesee aur sabhee bord apane egjaam karaane kee bhee pooree taiyaaree kar rahe hain aisa bilkul nahin lagata ki kolej aur skool phir se band honge abhee inakee band hone kee aisee koee ummeed nahin dikhaee de rahee hai dhanyavaad

#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker
गांव की शिक्षा प्रणाली व शहर की शिक्षा प्रणाली में क्या अंतर है?Gao Ki Shiksha Pranali Va Shehar Ki Shiksha Pranali Mein Kya Antar Hai
MANISH BHARGAVA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए MANISH जी का जवाब
9717001594
1:35
नमस्कार आपका स्वागत गांव की शिक्षा प्रणाली व शहर की शिक्षा प्रणाली में क्या अंतर है गांव की शिक्षा प्रणाली और शहर की शिक्षा प्रणाली में अभी हम अंतर देखे हैं या उन दोनों को कंपेयर करें तो सबसे बड़ा अंतर है साधन और संसाधनों का गांव के लिए आज भी साधन और संसाधन उपलब्ध नहीं है चाहे वह शिक्षकों की बात हो स्कूल में जो इंफ्रास्ट्रक्चर हो उसकी बात हो स्कूल बिल्डिंग की बात हो लैब की बात हो या अन्य किसी भी चीज की बात हो तो ही शहरों में देखा जाता है सब कुछ उपलब्ध हैं ड्यूटी थी जो आज तक मोदी बढ़ रही है उसका शहर शहरों में बेहतर उपयोग हो पारा ग्रामीण क्षेत्र में नहीं हो पा रहा तो ग्रामीण बच्चों को कई ऐसी चीजों से पीछे रहना पड़ता है जो शहर में नहीं चाहे वो किसी भी स्वरूप में हूं इसके अलावा शहर के बच्चों को आज के परिवेश के हिसाब से एप्स लोड करने को मिल रहा है शहर का वातावरण इसलिए उन चीजों को ज्यादा बेहतर सीख पा रहे हैं हालांकि गांव के बच्चों को गांव ग्रामीण परिवेश का जो वातावरण है वह ऐप्स लोड करने को मिलता है इसलिए उन चीजों को सीख पाते हैं लेकिन वह जो भी चीजें हैं वह आज के समय के हिसाब से उनके कैरियर को आगे दिशा देने में बेहतर नहीं है इसलिए कहीं ना कहीं ग्रामीण बच्चों को यह लगता है कि या अभिभावक को लगता है कि हमारे बच्चे कहीं साहिब से पीछे हैं और इसलिए वह अपने बच्चों को पढ़ाने के लिए शहर लाना चाहते हैं तो मुक्ता इन्हीं चीजों का अंतर है जो हमें देखने को मिलता है धन्यवाद
Namaskaar aapaka svaagat gaanv kee shiksha pranaalee va shahar kee shiksha pranaalee mein kya antar hai gaanv kee shiksha pranaalee aur shahar kee shiksha pranaalee mein abhee ham antar dekhe hain ya un donon ko kampeyar karen to sabase bada antar hai saadhan aur sansaadhanon ka gaanv ke lie aaj bhee saadhan aur sansaadhan upalabdh nahin hai chaahe vah shikshakon kee baat ho skool mein jo imphraastrakchar ho usakee baat ho skool bilding kee baat ho laib kee baat ho ya any kisee bhee cheej kee baat ho to hee shaharon mein dekha jaata hai sab kuchh upalabdh hain dyootee thee jo aaj tak modee badh rahee hai usaka shahar shaharon mein behatar upayog ho paara graameen kshetr mein nahin ho pa raha to graameen bachchon ko kaee aisee cheejon se peechhe rahana padata hai jo shahar mein nahin chaahe vo kisee bhee svaroop mein hoon isake alaava shahar ke bachchon ko aaj ke parivesh ke hisaab se eps lod karane ko mil raha hai shahar ka vaataavaran isalie un cheejon ko jyaada behatar seekh pa rahe hain haalaanki gaanv ke bachchon ko gaanv graameen parivesh ka jo vaataavaran hai vah aips lod karane ko milata hai isalie un cheejon ko seekh paate hain lekin vah jo bhee cheejen hain vah aaj ke samay ke hisaab se unake kairiyar ko aage disha dene mein behatar nahin hai isalie kaheen na kaheen graameen bachchon ko yah lagata hai ki ya abhibhaavak ko lagata hai ki hamaare bachche kaheen saahib se peechhe hain aur isalie vah apane bachchon ko padhaane ke lie shahar laana chaahate hain to mukta inheen cheejon ka antar hai jo hamen dekhane ko milata hai dhanyavaad

#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker
जब नौकरी ना मिले तो क्या करना चाहिए?Jab Naukari Na Mile To Kya Karna Chahiye
MANISH BHARGAVA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए MANISH जी का जवाब
9717001594
0:49
नमस्कार आपका प्रश्न है जब नौकरी ना मिले तो क्या करना चाहिए जब नौकरी ना मिले तो और ज्यादा मेहनत से नौकरी के लिए प्रयास करना चाहिए हिम्मत नहीं हारना चाहिए जितनी कोशिश अब तक की कुछ और ज्यादा बेहतर कोशिश करनी चाहिए ना कि हमें सफलता क्यों नहीं मिल पा रही इस चीज को भी खोजना चाहिए कि हम क्या कम जाएगा यह किस चीज पर हमें और काम करने की जरूरत है इसके अलावा कहीं जॉब नहीं मिल रही है नहीं कर पा रहा हूं या मैरिज करने की कोशिश कर सकते हैं अब कुछ और प्रयास कर सकते हैं अपने पैसों को खोजने की कोशिश कर सकते कि आपको क्या अच्छा लगता है मुझे पता है आप जॉब के लिए बने ही ना हो आपको उससे कुछ अच्छा बड़ा करना हो तो अपने आप को खोजें और आगे बढ़ाएं धन्यवाद
Namaskaar aapaka prashn hai jab naukaree na mile to kya karana chaahie jab naukaree na mile to aur jyaada mehanat se naukaree ke lie prayaas karana chaahie himmat nahin haarana chaahie jitanee koshish ab tak kee kuchh aur jyaada behatar koshish karanee chaahie na ki hamen saphalata kyon nahin mil pa rahee is cheej ko bhee khojana chaahie ki ham kya kam jaega yah kis cheej par hamen aur kaam karane kee jaroorat hai isake alaava kaheen job nahin mil rahee hai nahin kar pa raha hoon ya mairij karane kee koshish kar sakate hain ab kuchh aur prayaas kar sakate hain apane paison ko khojane kee koshish kar sakate ki aapako kya achchha lagata hai mujhe pata hai aap job ke lie bane hee na ho aapako usase kuchh achchha bada karana ho to apane aap ko khojen aur aage badhaen dhanyavaad

#जीवन शैली

bolkar speaker
क्या गलतियां इंसान को सही मार्ग दिखाती है या सिर्फ नुकसान ही करती हैं?Kya Galtiyan Insaan Ko Sahi Maarg Dikhati Hai Ya Sirf Nuksan He Karti Hain
MANISH BHARGAVA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए MANISH जी का जवाब
9717001594
0:44
नमस्कार आपका सवाल है क्या गलतियां इंसान को सही मार्ग दिखाती है या सिर्फ नुकसान ही कराती हैं गलतियां हमेशा व्यक्ति को सही मार्ग दिखाती है यह व्यक्ति को यह बताती है कि किस तरीके से उसे सफलता मिल सकती है और किस तरीके से नहीं मिल सकती क्योंकि हर व्यक्ति हमेशा अनुभव से ही आगे बढ़ता है तो गलतियां उसे अनुभव का अनिवार्य हिस्सा हैं पर साथ ही यह भी ध्यान रखें एक ही गलती है बार-बार हो रही है तो फिर कहीं ना कहीं व्यक्ति को अपने अंदर भी झगड़े की जरूरत है गलती होना स्वाभाविक बात है एक आम हिम्मत नहीं चल रहा है बार बार गलती होना मूर्खता है
Namaskaar aapaka savaal hai kya galatiyaan insaan ko sahee maarg dikhaatee hai ya sirph nukasaan hee karaatee hain galatiyaan hamesha vyakti ko sahee maarg dikhaatee hai yah vyakti ko yah bataatee hai ki kis tareeke se use saphalata mil sakatee hai aur kis tareeke se nahin mil sakatee kyonki har vyakti hamesha anubhav se hee aage badhata hai to galatiyaan use anubhav ka anivaary hissa hain par saath hee yah bhee dhyaan rakhen ek hee galatee hai baar-baar ho rahee hai to phir kaheen na kaheen vyakti ko apane andar bhee jhagade kee jaroorat hai galatee hona svaabhaavik baat hai ek aam himmat nahin chal raha hai baar baar galatee hona moorkhata hai

#जीवन शैली

MANISH BHARGAVA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए MANISH जी का जवाब
9717001594
1:30
आपका प्रश्न है क्रोध पर काबू करने के लिए दवाइयां विवेक दोनों में क्या उत्तम है और विवेक कौन सी टी सी क्रोध पर काबू करता है कि क्रोध पर काबू करने का तरीका है मुझे लगता है आपको बहुत कुछ समझने की जरूरत है आप किसी भी व्यक्ति पर गौर करें विरोध करता है तब आप अगर किसी व्यक्ति के सामने जो भी कुछ और उसको भी उसके प्रॉब्लम है जो भी घटना है उसका कोई उसके पास कोई समाधान नहीं होता जो आपको बस किसी भी समस्या का समाधान नहीं होगा तो आप दुखी होंगे और उसी समस्या का समाधान होगा तब खुशी होंगे या कोई भी समस्या हो सकती है वह छोटी सी चीज का समाधान नहीं है तो समाधान है तो आप सिख विरोधी भी आता है क्रोध आने का मतलब है कि वह कमजोर है उसको कोई चीज नहीं आती वो किसी सिचुएशन को हैंडल नहीं कर क्रोध हमेशा विनती की कमजोरी का एहसास कराता है क्रोध हमेशा कभी यादव जो व्यक्ति कमजोर होता है उसे उसे ट्यूशन हैंडल नहीं हो रही हो कि ग्रुप में कब करने का एकमात्र तरीका है आप अपनी समझ को बढ़ाएं अपनी समझ का दायरा बढ़ाए जब आप अपने आप को आगे बढ़ाएंगे अपनी समाज को आगे बढ़ाएंगे तो आप हर प्रकार की परिस्थिति को हैंडल कर पाएंगे और आपके बच्चे भी काबू कर पाएंगे धन्यवाद
Aapaka prashn hai krodh par kaaboo karane ke lie davaiyaan vivek donon mein kya uttam hai aur vivek kaun see tee see krodh par kaaboo karata hai ki krodh par kaaboo karane ka tareeka hai mujhe lagata hai aapako bahut kuchh samajhane kee jaroorat hai aap kisee bhee vyakti par gaur karen virodh karata hai tab aap agar kisee vyakti ke saamane jo bhee kuchh aur usako bhee usake problam hai jo bhee ghatana hai usaka koee usake paas koee samaadhaan nahin hota jo aapako bas kisee bhee samasya ka samaadhaan nahin hoga to aap dukhee honge aur usee samasya ka samaadhaan hoga tab khushee honge ya koee bhee samasya ho sakatee hai vah chhotee see cheej ka samaadhaan nahin hai to samaadhaan hai to aap sikh virodhee bhee aata hai krodh aane ka matalab hai ki vah kamajor hai usako koee cheej nahin aatee vo kisee sichueshan ko haindal nahin kar krodh hamesha vinatee kee kamajoree ka ehasaas karaata hai krodh hamesha kabhee yaadav jo vyakti kamajor hota hai use use tyooshan haindal nahin ho rahee ho ki grup mein kab karane ka ekamaatr tareeka hai aap apanee samajh ko badhaen apanee samajh ka daayara badhae jab aap apane aap ko aage badhaenge apanee samaaj ko aage badhaenge to aap har prakaar kee paristhiti ko haindal kar paenge aur aapake bachche bhee kaaboo kar paenge dhanyavaad

#जीवन शैली

bolkar speaker
मानवीय व्यवहार की कौन सी बातें हर व्यक्ति को हमेशा ध्यान में रखनी चाहिए?Manviya Vyavahar Ki Kaun Si Baate Har Vyakti Ko Humesha Dhyan Mein Rakhni Chaiye
MANISH BHARGAVA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए MANISH जी का जवाब
9717001594
0:45
आपका प्रश्न है मानवीय व्यवहार की कौन सी बात है हर व्यक्ति को हमेशा ध्यान में रखनी चाहिए मानवीय व्यवहार की सबसे महत्वपूर्ण बात जो हर व्यक्ति को हमेशा ध्यान में रखनी चाहिए वह यह है कि हमारी वजह से किसी व्यक्ति का कोई नुकसान ना हो बोलने से भी सोचने से भी और करने से यदि यह बात ध्यान में रखेंगे तो हम अधिकांश पहलुओं को सॉल्व कर चुके होंगे दूसरी चीज है कि हर व्यक्ति को सामने वाले को समझने की कोशिश कर सामने वाला जो जिस स्थिति में है उसे उसी स्थिति में समझने की कोशिश करनी चाहिए यदि है दोबारा कोई व्यक्ति ध्यान रखता है तो उसके जीवन का भी सरल हो जाता है धन्यवाद
Aapaka prashn hai maanaveey vyavahaar kee kaun see baat hai har vyakti ko hamesha dhyaan mein rakhanee chaahie maanaveey vyavahaar kee sabase mahatvapoorn baat jo har vyakti ko hamesha dhyaan mein rakhanee chaahie vah yah hai ki hamaaree vajah se kisee vyakti ka koee nukasaan na ho bolane se bhee sochane se bhee aur karane se yadi yah baat dhyaan mein rakhenge to ham adhikaansh pahaluon ko solv kar chuke honge doosaree cheej hai ki har vyakti ko saamane vaale ko samajhane kee koshish kar saamane vaala jo jis sthiti mein hai use usee sthiti mein samajhane kee koshish karanee chaahie yadi hai dobaara koee vyakti dhyaan rakhata hai to usake jeevan ka bhee saral ho jaata hai dhanyavaad

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
क्यों कुछ लोग शराब को दुखों का साथी कहते हैं?Kyun Kuch Log Sharab Ko Dukhon Ka Saathi Kehte Hain
MANISH BHARGAVA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए MANISH जी का जवाब
9717001594
1:21
नमस्कार आपका स्वागत क्यों कुछ लोग शराब को दुखों का साथी कहते हैं ऐसा तो कोई नहीं है जो सर आपको दुख का साथ किया था पर हां यह जरूर है कि कई लोग जो अपने आप पर कंट्रोल नहीं रख पाते जो अपने आप में अपना सामना नहीं कर पाते वह इस प्रकार की चीजों का उपयोग करते हैं क्योंकि शराबी कहीं जिसको पीने के बाद होगा कि कुछ समय तक भाव शुरू हो जाता है उसे कोई होश नहीं रहता उसकी जो भी समस्या चल रही है तो उनको कुछ समय के लिए भूल जाता है कुछ नहीं कर रहे होते हैं इस प्रकार की चीजों का युद्ध करते हैं और वह उसको नाम दे देते हैं क्या दुखों का साथ किए जबकि ऐसा कुछ नहीं है वह सिर्फ और सिर्फ 1 साल से कहा जाए तो बेहोश करने वाली दवा जाती है तो कुछ समय के लिए उन्हें उस चीज के होश से हटा देती है ध्यान भुला देती है कि उनके साथ क्या हो रहा है क्या नहीं हो रहा 1 साल से कहा तो व्यक्ति एक ऐसी स्थिति में पहुंच जाता जैसे जानवर होता है बस उसे खाने और पीने से मौत लीची से कोई मतलब नहीं होता उसके साथ क्या इमोशन है क्या भाव है उन सब को भूल चुका होता है कुछ देर के लिए व्यक्ति निश्चित समस्याओं से घिरा हुआ कुछ समय के लिए उसे कोई समस्या नहीं याद आ रही तो मानता है कि अच्छी चीज है ऐसे कई लोग हैं जिन्हें अच्छी लग सकती है धन्यवाद
Namaskaar aapaka svaagat kyon kuchh log sharaab ko dukhon ka saathee kahate hain aisa to koee nahin hai jo sar aapako dukh ka saath kiya tha par haan yah jaroor hai ki kaee log jo apane aap par kantrol nahin rakh paate jo apane aap mein apana saamana nahin kar paate vah is prakaar kee cheejon ka upayog karate hain kyonki sharaabee kaheen jisako peene ke baad hoga ki kuchh samay tak bhaav shuroo ho jaata hai use koee hosh nahin rahata usakee jo bhee samasya chal rahee hai to unako kuchh samay ke lie bhool jaata hai kuchh nahin kar rahe hote hain is prakaar kee cheejon ka yuddh karate hain aur vah usako naam de dete hain kya dukhon ka saath kie jabaki aisa kuchh nahin hai vah sirph aur sirph 1 saal se kaha jae to behosh karane vaalee dava jaatee hai to kuchh samay ke lie unhen us cheej ke hosh se hata detee hai dhyaan bhula detee hai ki unake saath kya ho raha hai kya nahin ho raha 1 saal se kaha to vyakti ek aisee sthiti mein pahunch jaata jaise jaanavar hota hai bas use khaane aur peene se maut leechee se koee matalab nahin hota usake saath kya imoshan hai kya bhaav hai un sab ko bhool chuka hota hai kuchh der ke lie vyakti nishchit samasyaon se ghira hua kuchh samay ke lie use koee samasya nahin yaad aa rahee to maanata hai ki achchhee cheej hai aise kaee log hain jinhen achchhee lag sakatee hai dhanyavaad
URL copied to clipboard