#जीवन शैली

bolkar speaker
क्या भावना इंसान को कमजोर बनाती है?Kya Bhavna Insaan Ko Kamjor Banati Hai
Yogi Nath Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Yogi जी का जवाब
Unknown
2:58
आपने एक फैक्ट्री में रोबोट को काम करते हुए देखा होगा या फिर आपके फोन में आया नी आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस ई होती है वह सिस्टम आपने देखा वह किस तरह से काम करता है उसमें फीलिंग बिल्कुल नहीं होती आप अच्छे हैं बुरे हैं कोई मतलब नहीं है बस उसको जो काम है वह करता रहता ना तो जो फीलिंग है भावनाएं हैं वह इंसान को इंसान बनाती हैं वरना इंसान और रोबोट में कोई फर्क नहीं रहता है फीलिंग ही निर्जीव से सजीव बनाती हैं जैसे कि आप जो भी डिवाइस देख लीजिए इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस जो होते हैं आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस वाले रोबोट होते हैं वह उस सिस्टम से काम करते होते हैं यानी एआई प्रोसेस होता है तुमको जो काम होता है उसको ही प्रोसेस करते हैं और ऐसा कुछ नहीं होता है यह एक निर्जीव वस्तु का काम आपने जानवरों को देखा होगा और भी कई पेड़ हो गए इन सब चीजों में फीलिंग है भावनाएं भावनाओं के पूर्व ही इनमें जीवन या सजीव तापीय वरना अगर आप भावना हटा दें तो आप पाएंगे कि यह सारी चीजें सब चीजें बेकार और भावना ही हमें इंसान बनाती हैं मैं इस बात को बार-बार दोहराता हूं कि हमें हर चीज में भावनात्मक रूप से कार्य करना चाहिए कोई गलत बात नहीं है भावना हमें कभी कमजोर नहीं बनाते भावना हमें ताकत देती है शक्ति देती है सरपंच ने की सही निर्णय लेने की सोच समझ के ताकत देते हैं कि हम जो कर रहे हैं वह कितना सही है क्या गलत है वरना तो फिर आपको जो आदेश दिया जाएगा वह आप उसको फॉलो करते जाएं आप अपनी फीलिंग आपके अंदर जो रहेगी वह नहीं रह पाएगी आप खुद के लिए कितना कर सकते हैं या दूसरों के लिए क्या कर सकते हैं इन चीजों को कहीं ना कहीं जो मिलाकर एक सामाजिक बुद्धिमत्ता का निर्माण किया गया है वह भावना पर आधारित है हमारी भावनाएं इस जीवन को सुंदर बनाती हैं यह चीजें बहुत गलत है कि कोई चीज आपको कमजोर माना कि कोई भी चीज आपको कमजोर नहीं बनाती हो सिर्फ आप की सोच आप को कमजोर बनाती है आपको ऐसा लगता है कि किसी के प्रति आप ज्यादा आकर्षित हो रहे हैं किसी को ज्यादा टाइम दे रहा है किसी के बारे में ज्यादा सोच रहे थे इस वजह से आपका ध्यान नहीं लगा पा रहे पढ़ाई में एक काम में तो कहीं ना कहीं अपनी कमजोरी तो यह आपकी गलतफहमी है यह आप भी कमजोरी है ना कि आपके भावनात्मक कर्मचारी की मानसिक रूप से आपकी कमजोरी है आईडी पोस्ट आपके जीवन में काफी हेल्प लोग काफी सहायक को मददगार हो और अगर आपको अच्छा लगे तो लाइक करें कमेंट के माध्यम से अपने विचार रखे और हमसे जुड़ने के लिए सवाल-जवाब को सुनने के लिए हमारे हमारी प्रोफाइल पेज को फॉलो कर सकते हैं
Aapane ek phaiktree mein robot ko kaam karate hue dekha hoga ya phir aapake phon mein aaya nee aartiphishiyal intelijens ee hotee hai vah sistam aapane dekha vah kis tarah se kaam karata hai usamen pheeling bilkul nahin hotee aap achchhe hain bure hain koee matalab nahin hai bas usako jo kaam hai vah karata rahata na to jo pheeling hai bhaavanaen hain vah insaan ko insaan banaatee hain varana insaan aur robot mein koee phark nahin rahata hai pheeling hee nirjeev se sajeev banaatee hain jaise ki aap jo bhee divais dekh leejie ilektronik divais jo hote hain aartiphishiyal intelijens vaale robot hote hain vah us sistam se kaam karate hote hain yaanee eaee proses hota hai tumako jo kaam hota hai usako hee proses karate hain aur aisa kuchh nahin hota hai yah ek nirjeev vastu ka kaam aapane jaanavaron ko dekha hoga aur bhee kaee ped ho gae in sab cheejon mein pheeling hai bhaavanaen bhaavanaon ke poorv hee inamen jeevan ya sajeev taapeey varana agar aap bhaavana hata den to aap paenge ki yah saaree cheejen sab cheejen bekaar aur bhaavana hee hamen insaan banaatee hain main is baat ko baar-baar doharaata hoon ki hamen har cheej mein bhaavanaatmak roop se kaary karana chaahie koee galat baat nahin hai bhaavana hamen kabhee kamajor nahin banaate bhaavana hamen taakat detee hai shakti detee hai sarapanch ne kee sahee nirnay lene kee soch samajh ke taakat dete hain ki ham jo kar rahe hain vah kitana sahee hai kya galat hai varana to phir aapako jo aadesh diya jaega vah aap usako pholo karate jaen aap apanee pheeling aapake andar jo rahegee vah nahin rah paegee aap khud ke lie kitana kar sakate hain ya doosaron ke lie kya kar sakate hain in cheejon ko kaheen na kaheen jo milaakar ek saamaajik buddhimatta ka nirmaan kiya gaya hai vah bhaavana par aadhaarit hai hamaaree bhaavanaen is jeevan ko sundar banaatee hain yah cheejen bahut galat hai ki koee cheej aapako kamajor maana ki koee bhee cheej aapako kamajor nahin banaatee ho sirph aap kee soch aap ko kamajor banaatee hai aapako aisa lagata hai ki kisee ke prati aap jyaada aakarshit ho rahe hain kisee ko jyaada taim de raha hai kisee ke baare mein jyaada soch rahe the is vajah se aapaka dhyaan nahin laga pa rahe padhaee mein ek kaam mein to kaheen na kaheen apanee kamajoree to yah aapakee galataphahamee hai yah aap bhee kamajoree hai na ki aapake bhaavanaatmak karmachaaree kee maanasik roop se aapakee kamajoree hai aaeedee post aapake jeevan mein kaaphee help log kaaphee sahaayak ko madadagaar ho aur agar aapako achchha lage to laik karen kament ke maadhyam se apane vichaar rakhe aur hamase judane ke lie savaal-javaab ko sunane ke lie hamaare hamaaree prophail pej ko pholo kar sakate hain

#धर्म और ज्योतिषी

Yogi Nath Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Yogi जी का जवाब
Unknown
2:58
उसका जीवन चक्र और सृष्टि की रचना जो है काफी ज्यादा पर्ची दी है जिसको समझना बहुत ही ज्यादा मुश्किल है सहज नहीं है इस को सहज रूप में उतारने के लिए हम इन सब चीजों का सहारा लेते हैं कि जब कोई हमारे बीच नहीं रहता जिसके साथ आप उठे हैं बैठे हैं बहुत पूरा जीवन जिनके साथ आपने गुजारा है और एक दिन आपको पता चलता है कि वह व्यक्ति आपके पास नहीं और आज के बाद आपको कभी नहीं मिलेंगे तो इस चीज का बहुत ज्यादा आघात पड़ता है हमारे दिमाग में हमारे दिल पर तो इन चीजों को हमें एक्सेप्ट करने में स्वीकार करने में बहुत ज्यादा तकलीफ होती बहुत ज्यादा मुश्किल आती है हम उसे चाह कर भी स्वीकार नहीं करते कि जो व्यक्ति जिसे साथ हमने पूरा जीवन बिताया वह एक पल में अगले क्षण नहीं है हमारे साथ तो और आगे वह हमें कभी दोबारा देखने को नहीं मिलेगा यह जो सत्य है वह बहुत ज्यादा कड़वा है जिसको हमें डाइजेश करने में पहचानने में बहुत मुश्किल होती है तो यही कारण होता है कि हम उस व्यक्ति के लिए शांत भावना देने के लिए कि भाई यह व्यक्ति नंबर लोग सुधर गए हैं अब यह दूसरे लोग में चले गए हैं या दूसरों के जन्म होने वाला है हो गया है क्योंकि जिस तरह से हमारा हर एक शरीर में नस वान है हर एक चीज नसवा ने सृष्टि की और वह खत्म होती है फिर उत्पन्न होती है जिस प्रकार से अपने खेतों में देखा होगा एक बार फसल उगाते हैं फिर से काटते हैं फिर दोबारा से उस फसल को गाई जाती है तो यह निरंतर जीवन चक्र चलता रहता है और इस चीज में हमें हमें संभालने के लिए सद्दाम ना देने के लिए ताकि हम ठीक तरीके से काम कर सके हमें हमारे पर इसका दुष्प्रभाव ना पढ़ सके क्योंकि बहुत मुश्किल होता है जब कोई व्यक्ति आपको छोड़कर जाता है और उसकी यादों से उसके रिप्लाई एफआर 200 भाव से आप उससे निकल पाना बहुत मुश्किल होता है और जब हमें यह पता रहता कि वह व्यक्ति ठीक है जहां भी है जैसा भी है अच्छी जगह पर है तो कहीं ना कहीं हमारे दिल को भी तसल्ली मिलती है ठीक है उसकी खुशी में इसे कहते हैं ना कि सच्चे प्यार की जो कहानी निशानी होती है वह यही होती है कि वह दूसरों की खुशी में अपनी खुशी पड़ता है सेल्फिश नहीं होता ट्रू लव कभी भी सेल्फिश नहीं होता हमेशा देना चाहता है हर एक को खुशी देना चाहता है अच्छाई देना चाहता है प्रेम बांटना चाहता है क्या खुद के लिए कुछ हो ना हो लेकिन दूसरों को जरूर देने की कोशिश करता जितना हो सके है जब वह हमारे बीच कोई ऐसा जो हमारा सबसे ज्यादा फ्री होता नहीं होता हमारे पास तो हम उसकी अच्छाई के लिए उसकी खुशी के लिए कामना करते हैं और यही कहते हैं कि वह व्यक्ति जहां स्वर्ग में पढ़ लो है या नए जन्म में बहुत अच्छे से खुश हैं थैंक यू फॉर लिसेन दिस व्हाट आई होप सो दैट यू पूनम सभी को बहुत अच्छा लगा हुआ आप सभी के लिए बहुत है खोलो और आपको कमेंट के माध्यम से मुझे बता सकते हैं कि कैसा लगा आपकी राय दे सकते हैं और लाइक कर सकते हैं
Usaka jeevan chakr aur srshti kee rachana jo hai kaaphee jyaada parchee dee hai jisako samajhana bahut hee jyaada mushkil hai sahaj nahin hai is ko sahaj roop mein utaarane ke lie ham in sab cheejon ka sahaara lete hain ki jab koee hamaare beech nahin rahata jisake saath aap uthe hain baithe hain bahut poora jeevan jinake saath aapane gujaara hai aur ek din aapako pata chalata hai ki vah vyakti aapake paas nahin aur aaj ke baad aapako kabhee nahin milenge to is cheej ka bahut jyaada aaghaat padata hai hamaare dimaag mein hamaare dil par to in cheejon ko hamen eksept karane mein sveekaar karane mein bahut jyaada takaleeph hotee bahut jyaada mushkil aatee hai ham use chaah kar bhee sveekaar nahin karate ki jo vyakti jise saath hamane poora jeevan bitaaya vah ek pal mein agale kshan nahin hai hamaare saath to aur aage vah hamen kabhee dobaara dekhane ko nahin milega yah jo saty hai vah bahut jyaada kadava hai jisako hamen daijesh karane mein pahachaanane mein bahut mushkil hotee hai to yahee kaaran hota hai ki ham us vyakti ke lie shaant bhaavana dene ke lie ki bhaee yah vyakti nambar log sudhar gae hain ab yah doosare log mein chale gae hain ya doosaron ke janm hone vaala hai ho gaya hai kyonki jis tarah se hamaara har ek shareer mein nas vaan hai har ek cheej nasava ne srshti kee aur vah khatm hotee hai phir utpann hotee hai jis prakaar se apane kheton mein dekha hoga ek baar phasal ugaate hain phir se kaatate hain phir dobaara se us phasal ko gaee jaatee hai to yah nirantar jeevan chakr chalata rahata hai aur is cheej mein hamen hamen sambhaalane ke lie saddaam na dene ke lie taaki ham theek tareeke se kaam kar sake hamen hamaare par isaka dushprabhaav na padh sake kyonki bahut mushkil hota hai jab koee vyakti aapako chhodakar jaata hai aur usakee yaadon se usake riplaee ephaar 200 bhaav se aap usase nikal paana bahut mushkil hota hai aur jab hamen yah pata rahata ki vah vyakti theek hai jahaan bhee hai jaisa bhee hai achchhee jagah par hai to kaheen na kaheen hamaare dil ko bhee tasallee milatee hai theek hai usakee khushee mein ise kahate hain na ki sachche pyaar kee jo kahaanee nishaanee hotee hai vah yahee hotee hai ki vah doosaron kee khushee mein apanee khushee padata hai selphish nahin hota troo lav kabhee bhee selphish nahin hota hamesha dena chaahata hai har ek ko khushee dena chaahata hai achchhaee dena chaahata hai prem baantana chaahata hai kya khud ke lie kuchh ho na ho lekin doosaron ko jaroor dene kee koshish karata jitana ho sake hai jab vah hamaare beech koee aisa jo hamaara sabase jyaada phree hota nahin hota hamaare paas to ham usakee achchhaee ke lie usakee khushee ke lie kaamana karate hain aur yahee kahate hain ki vah vyakti jahaan svarg mein padh lo hai ya nae janm mein bahut achchhe se khush hain thaink yoo phor lisen dis vhaat aaee hop so dait yoo poonam sabhee ko bahut achchha laga hua aap sabhee ke lie bahut hai kholo aur aapako kament ke maadhyam se mujhe bata sakate hain ki kaisa laga aapakee raay de sakate hain aur laik kar sakate hain

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
ध्यान करते वक्त सांस की गति बिल्कुल धीमी क्यों हो जाती है?Dhyaan Karte Vaqt Sans Ki Gati Bilkul Dhemi Kyun Ho Jati Hai
Yogi Nath Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Yogi जी का जवाब
Unknown
1:55
नमस्कार ध्यान एक ऐसी प्रणाली है जिसके कारण हम सारी ऊर्जा को एक केंद्र में समा लेते हैं हमारी जितनी भी ऊर्जा होती है जितना भी हमारा ध्यान होता है शरीर पर बाहरी तौर पर उन सबको हम एकाग्र करते हैं एक जगह एक केंद्र बिंदु पर्दा के स्थिर करते हैं इसी वजह से कारण ही होता कि हमारा जो ध्यान जो होते हैं हमारा सांसो पर या और किसी इंद्रियों पर नहीं होते ही कारणों को हिंदी आज जो होती है जब उन पर ध्यान नहीं रहता वह अपने आप ही अपने कार्य में धीरे-धीरे चलो होती चली जाती हैं उन पर क्योंकि जब हम किसी चीज पर फोकस करते हैं और जिस चीज का टेंशन देते हैं जिस चीज को आर्डर देते हैं वह चीजें सक्रिय हो जाती है और उसी तीव्रता के साथ कार्य करती है जिस तरह से हम उस पर सोच रहे हैं या जिस तरह से हम उसको आदेश करें या मुंह में चाहते हैं माइंड के थॉट क्या लेकिन जब हमारा माइंड पूरी तरह से रिलैक्स हो जाता है तो हमारी बॉडी को किसी प्रकार की कोई भी कैसे पर सिग्नल नहीं जाता किसी चीज का कि कोई काम करने के लिए किसी चीज की तू पूरी तरह से पूरी बॉडी रिलैक्स हो जाती है पूरी ब्रेकिंग जो सिस्टम है जो हमारे शासन प्रणाली वह पूरी तरह से रिलैक्स हो जाती थी यही कारण होता है कि हमारी जो शासन प्रणाली है वह बहुत ही धीमी होती चली जाती क्योंकि हमारा ध्यान ही नहीं रहता कि सांस तक जब हम बहुत अच्छे तरीके से ध्यान लगाने लग जाते हमारा ध्यान बहुत अच्छे से लगने लगता है तो हमारा किसी भी चीज पर ध्यान फोकस नहीं जाता तो यही कारण हो तो जब हम किसी का फोकस नहीं करते तो वह चीजें अपने आप ही वह निष्क्रिय होती चली जाती हैं जब कोई चीज है कोई मशीन भी है आपके सामने रखी हुई अगर आप उस पर काम करोगे तो वह ठीक रहेगी लेकिन अगर उसको आप छोड़ दोगे काम नहीं करोगे काफी लोग सब लंबे समय तक पूरी हो जाएगी यही एक सिंपल सा सहज कारण है आप सो जाइए आप सभी के काफी अच्छा लगा और आप सभी के लिए खाकर लाइक करा कर आपको अच्छा लगा और कमेंट के माध्यम से अपने विचार जरूर रखें इस पोस्ट के बारे में
Namaskaar dhyaan ek aisee pranaalee hai jisake kaaran ham saaree oorja ko ek kendr mein sama lete hain hamaaree jitanee bhee oorja hotee hai jitana bhee hamaara dhyaan hota hai shareer par baaharee taur par un sabako ham ekaagr karate hain ek jagah ek kendr bindu parda ke sthir karate hain isee vajah se kaaran hee hota ki hamaara jo dhyaan jo hote hain hamaara saanso par ya aur kisee indriyon par nahin hote hee kaaranon ko hindee aaj jo hotee hai jab un par dhyaan nahin rahata vah apane aap hee apane kaary mein dheere-dheere chalo hotee chalee jaatee hain un par kyonki jab ham kisee cheej par phokas karate hain aur jis cheej ka tenshan dete hain jis cheej ko aardar dete hain vah cheejen sakriy ho jaatee hai aur usee teevrata ke saath kaary karatee hai jis tarah se ham us par soch rahe hain ya jis tarah se ham usako aadesh karen ya munh mein chaahate hain maind ke thot kya lekin jab hamaara maind pooree tarah se rilaiks ho jaata hai to hamaaree bodee ko kisee prakaar kee koee bhee kaise par signal nahin jaata kisee cheej ka ki koee kaam karane ke lie kisee cheej kee too pooree tarah se pooree bodee rilaiks ho jaatee hai pooree breking jo sistam hai jo hamaare shaasan pranaalee vah pooree tarah se rilaiks ho jaatee thee yahee kaaran hota hai ki hamaaree jo shaasan pranaalee hai vah bahut hee dheemee hotee chalee jaatee kyonki hamaara dhyaan hee nahin rahata ki saans tak jab ham bahut achchhe tareeke se dhyaan lagaane lag jaate hamaara dhyaan bahut achchhe se lagane lagata hai to hamaara kisee bhee cheej par dhyaan phokas nahin jaata to yahee kaaran ho to jab ham kisee ka phokas nahin karate to vah cheejen apane aap hee vah nishkriy hotee chalee jaatee hain jab koee cheej hai koee masheen bhee hai aapake saamane rakhee huee agar aap us par kaam karoge to vah theek rahegee lekin agar usako aap chhod doge kaam nahin karoge kaaphee log sab lambe samay tak pooree ho jaegee yahee ek simpal sa sahaj kaaran hai aap so jaie aap sabhee ke kaaphee achchha laga aur aap sabhee ke lie khaakar laik kara kar aapako achchha laga aur kament ke maadhyam se apane vichaar jaroor rakhen is post ke baare mein

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
क्या पूजा करने के लिए भी कोई नियम होते हैं?Kya Pooja Karne Ke Lie Bhe Koi Niyam Hote Hain
Yogi Nath Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Yogi जी का जवाब
Unknown
2:58
जब भी हम कोई क्रिया करते हैं चाहे वह फिजिकली हो चाहे वह मेंटली तौर पर शारीरिक या मानसिक तौर पर उसका कोई ना कोई प्रभाव होता है क्रिया का हमेशा प्रभाव होता है अगर आप कोई भी क्रिया सही ढंग से कर रहे हैं तो उसका आपको सही परिणाम मिलेगा जाए आपको शारीरिक व्यायाम से रिलेटेड कोई भी अगर आप टाइम टू टाइम फिटनेस का ख्याल रखें फिटनेस एक्सरसाइज करें योगा करें या कुछ भी तो इससे आपके ऊपर शरीर पर सही प्रभाव पड़ेगा लेकिन अगर उसको आप गलत तरीके से करें बेटाइम कर रहे हैं तो सब दूर पर प्रभाव भी देखने को मिलता है इसी प्रकार से जैसा कि आपने कहा कि पूजा पद्धति करने के लिए कोई नियम होता बिल्कुल जी हां इसका बहुत ज्यादा नियम अनुशासन करना पड़ता है ऐसा नहीं है कि आप करो तो बिल्कुल नियम के साथ करो तो ही होगा इसका बेनिफिट मिलेगा लेकिन अगर आप नियम के साथ करते तो बहुत अच्छी बात है अगर आप एक्सरसाइज करते हो आप और हल्की-फुल्की अगर समय नहीं होता आप थोड़ा बहुत एक्सरसाइज कर ले तो काम कर ले तो एवं आपका ले तो तो उससे भी बॉडी को अच्छा खासा रिलीफ मिल जाता आपकी बॉडी बैलेंस में रहती है लेकिन अगर आप फिटनेस को पूरी तरह से अगर आप अचीव करना चाहता अपनी अच्छी सेहत अच्छा हेल्पर अच्छा हेल्प अचीव करना चाहते हो एक आकर्षण बॉडी हेल्थ चाहते हो तो उसके लिए आपको प्रॉपर तरीके से टाइमिंग देनी पड़ेगी प्रॉपर तरीके से डाइट लेनी पड़ेगी हर एक चीज नियम के अनुसार करना अगर आप नियम से भटको गे तो कहीं ना कहीं बोला 25 नहीं कर पाओगे इसी तरह से पूजा करना वैसे भी कर सकते हो कोई बात नहीं कोई हर्ज नहीं है करनी भी चाहिए पूजा थोड़ा समय मिले आजकल के जीवन में इतना व्यस्त हो गया व्यक्ति समय नहीं दे पाता और कुछ नहीं है बस थोड़ा सा समय निकाल ना होता अपनी मानसिकता उन सब ने बना ली है कि हमारे पास समय नहीं है कि समय सबके पास होता है ऐसा नहीं है आपका नजरिया थोड़ा सा परिवर्तित करना पड़ेगा और बात है पूजा पद्धति की तो उसको मैं यही रे कमेंट करूंगा क्या पूरे नियम के साथ अनुशासन के साथ करें क्योंकि यह चीजें हमारे ही घर परिवार हमारे मॉल हमारे अंदर ही संस्कार बनाती है जैसा हम करते हैं इन चीजों को वैसे ही हमारे परिवार में हमारे छोटे बच्चे होंगे आप हमारे बड़े बुजुर्ग होंगे और हमारे साथ उनका संबंध होगा रिलेशन में बहुत अच्छी पॉजिटिव वाइब्रेशन आती है जिससे व्यक्ति पॉजिटिव तौर पर अगर घर से ही अच्छी सकारात्मक ऊर्जा बनती है तो फिर वह हर चीज अचीव कर सकता है बोल हर चीज हर एक गोला जीवन का लक्ष्य को प्राप्त कर सकता लेकिन घर से ही अगर वह सही तरीके से कितना सुबह का उठना जिस तरह से उतारकर अपील करते हैं सुबह उठकर सही तरीके होते हैं तब तो पूरा दिन अच्छा जाता वहीं अगर आप सुबह ही अपनी खराब कर लेते तो आपका पूरा दिन खराब जाता है तो यही है पूजा पद्धति का अगर आप सही तरीके से नियम आचरण करेंगे तो उसका आपको पूरा प्रभाव देखने को मिले कर्पूरी सकारात्मक ऊर्जा और आपको उसकी प्राप्त होगी पोस्ट आप सभी को बहुत अच्छा लगा आप जरूर इसे लाइक करें कमेंट के माध्यम से अपनी राय जरूर रखें
Jab bhee ham koee kriya karate hain chaahe vah phijikalee ho chaahe vah mentalee taur par shaareerik ya maanasik taur par usaka koee na koee prabhaav hota hai kriya ka hamesha prabhaav hota hai agar aap koee bhee kriya sahee dhang se kar rahe hain to usaka aapako sahee parinaam milega jae aapako shaareerik vyaayaam se rileted koee bhee agar aap taim too taim phitanes ka khyaal rakhen phitanes eksarasaij karen yoga karen ya kuchh bhee to isase aapake oopar shareer par sahee prabhaav padega lekin agar usako aap galat tareeke se karen betaim kar rahe hain to sab door par prabhaav bhee dekhane ko milata hai isee prakaar se jaisa ki aapane kaha ki pooja paddhati karane ke lie koee niyam hota bilkul jee haan isaka bahut jyaada niyam anushaasan karana padata hai aisa nahin hai ki aap karo to bilkul niyam ke saath karo to hee hoga isaka beniphit milega lekin agar aap niyam ke saath karate to bahut achchhee baat hai agar aap eksarasaij karate ho aap aur halkee-phulkee agar samay nahin hota aap thoda bahut eksarasaij kar le to kaam kar le to evan aapaka le to to usase bhee bodee ko achchha khaasa rileeph mil jaata aapakee bodee bailens mein rahatee hai lekin agar aap phitanes ko pooree tarah se agar aap acheev karana chaahata apanee achchhee sehat achchha helpar achchha help acheev karana chaahate ho ek aakarshan bodee helth chaahate ho to usake lie aapako propar tareeke se taiming denee padegee propar tareeke se dait lenee padegee har ek cheej niyam ke anusaar karana agar aap niyam se bhatako ge to kaheen na kaheen bola 25 nahin kar paoge isee tarah se pooja karana vaise bhee kar sakate ho koee baat nahin koee harj nahin hai karanee bhee chaahie pooja thoda samay mile aajakal ke jeevan mein itana vyast ho gaya vyakti samay nahin de paata aur kuchh nahin hai bas thoda sa samay nikaal na hota apanee maanasikata un sab ne bana lee hai ki hamaare paas samay nahin hai ki samay sabake paas hota hai aisa nahin hai aapaka najariya thoda sa parivartit karana padega aur baat hai pooja paddhati kee to usako main yahee re kament karoonga kya poore niyam ke saath anushaasan ke saath karen kyonki yah cheejen hamaare hee ghar parivaar hamaare mol hamaare andar hee sanskaar banaatee hai jaisa ham karate hain in cheejon ko vaise hee hamaare parivaar mein hamaare chhote bachche honge aap hamaare bade bujurg honge aur hamaare saath unaka sambandh hoga rileshan mein bahut achchhee pojitiv vaibreshan aatee hai jisase vyakti pojitiv taur par agar ghar se hee achchhee sakaaraatmak oorja banatee hai to phir vah har cheej acheev kar sakata hai bol har cheej har ek gola jeevan ka lakshy ko praapt kar sakata lekin ghar se hee agar vah sahee tareeke se kitana subah ka uthana jis tarah se utaarakar apeel karate hain subah uthakar sahee tareeke hote hain tab to poora din achchha jaata vaheen agar aap subah hee apanee kharaab kar lete to aapaka poora din kharaab jaata hai to yahee hai pooja paddhati ka agar aap sahee tareeke se niyam aacharan karenge to usaka aapako poora prabhaav dekhane ko mile karpooree sakaaraatmak oorja aur aapako usakee praapt hogee post aap sabhee ko bahut achchha laga aap jaroor ise laik karen kament ke maadhyam se apanee raay jaroor rakhen

#टेक्नोलॉजी

Yogi Nath Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Yogi जी का जवाब
Unknown
0:53
नमस्कार इसमें कोई दो राय नहीं है आज भी वर्तमान समय में हम टेलीविजन या टीवी को मोबाइल फोन में हो या इंटरनेट के माध्यम से देख सकते हैं आजकल स्मार्ट टीवी चल रहे हैं जिस पर इंटरनेट कनेक्टिविटी होती और बहुत सारे ऐसे टाइप होते हैं जो आपको टेलीविजन या टीवी और इंटरनेट टीवी ऑनलाइन के माध्यम से आप उसमें टीवी वॉच कर सकते हैं जैसे कि टाटा स्काई है कि नेटवर्क प्रोवाइडर है तो टाटा स्काई का ऐप है तो उसमें भी आप अपने फोन पर देख सकते हैं अगर आपके पास स्मार्ट टीवी है तो आप उसमें ऐप डाउनलोड कीजिए टाटा स्काई का तो उस के माध्यम से इंटरनेट के माध्यम से ब्यावर इसीलिए एक्सेस कर सकते हैं इसलिए शो देख सकते आप तो इंजॉय कर सकते आप कभी जो भी फेवरेट है जो भी टेलीविजन का एपिसोड एक बहुत ही सहज रूप में कोई फ्यूचर की बात नहीं है वर्तमान में अभी संभव है थैंक यू बोल दे संदेश पोस्ट
Namaskaar isamen koee do raay nahin hai aaj bhee vartamaan samay mein ham teleevijan ya teevee ko mobail phon mein ho ya intaranet ke maadhyam se dekh sakate hain aajakal smaart teevee chal rahe hain jis par intaranet kanektivitee hotee aur bahut saare aise taip hote hain jo aapako teleevijan ya teevee aur intaranet teevee onalain ke maadhyam se aap usamen teevee voch kar sakate hain jaise ki taata skaee hai ki netavark provaidar hai to taata skaee ka aip hai to usamen bhee aap apane phon par dekh sakate hain agar aapake paas smaart teevee hai to aap usamen aip daunalod keejie taata skaee ka to us ke maadhyam se intaranet ke maadhyam se byaavar iseelie ekses kar sakate hain isalie sho dekh sakate aap to injoy kar sakate aap kabhee jo bhee phevaret hai jo bhee teleevijan ka episod ek bahut hee sahaj roop mein koee phyoochar kee baat nahin hai vartamaan mein abhee sambhav hai thaink yoo bol de sandesh post

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
कठिन समय में अपने दिमाग को कैसे शांत करें?Kathin Samay Mein Apne Dimag Ko Kaise Shant Karein
Yogi Nath Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Yogi जी का जवाब
Unknown
2:58
उसका एक बार एक व्यक्ति के घर में उसके चाहने वाले की मृत्यु हो जाते हैं जिसकी वजह से बहुत ज्यादा डिप्रेस्ड में रहने लगता है उसे बहुत सारे लोग समझाते हैं फिर भी वह समझता नहीं अचानक वो व्यक्ति डिप्रेशन में कहीं जा रहा था बहुत ज्यादा परेशान था और वह व्यक्ति किसी फकीर से टकराता है और उसका ध्यान ना होने की वजह से मोबाइल फकीर से टकरा जाता है जिसकी वजह से उसकी रखा जो खत पर होता है एक मिट्टी का कटोरा होता है उसके हाथ से छूटकर गिर जाता और तू चाहता है वह व्यक्ति उस से भी तेज रोने लगता है चिल्लाने लगता है गाने लगता है कि हाय मेरा खत पढ़ टूट गया हाय मेरा यह कटोरा टूट गया अब मैं इसको कैसे खाना मांग लूंगा लोगों से और कैसे खाना खाऊंगा तो यह देखकर वह व्यक्ति बहुत ज्यादा आश्चर्य में पड़ जाता है कि भाई इसका एक मिट्टी का घर पर ही है तो उसे कहता भी है भाई एक मीटिंग है खप्पर है मैं तुम्हें दूसरा दिला दूंगा इसमें इतना रोने गाने की क्या जरूरत है तो व्यक्ति कहता है कि जसवंत व्यक्ति था पूछता है कि तुम क्यों इतना उदास हो इतने हताश निराश क्यों कह रहा है मेरे कोई रीज़न है जिसमें बहुत ज्यादा प्रेम करता था वह अब इस दुनिया में नहीं है तो उन्होंने कहा तो इसमें हताश निराश होने की क्या बात है उसने कभी कैसी बात कर रहे हो क्या मैं तुम्हें ऐसी ही और भी प्रेम करने वाले लोग दिला दूंगा बोलो तो कहता है यार यह कोई बात हुई तो कहने का मतलब यही है कि समस्या कभी छोटी और बड़ी नहीं होती समस्या एक समान होती है बस हमारा जो नजरिया है दूसरे व्यक्ति को अपना समस्या बहुत ज्यादा बढ़ा सामने वाले की समस्या जब हम देखते हैं दोनों का समस्या छोटी लगती है और जब हम हमारी कोई समस्या को देखता है वह सोचता कि हमारी समस्या को समस्या कोई छोटी बड़ी नहीं होती इस नजरिए का फेरबदल होता है और जो समस्या में घिरा होता व्यक्ति उसको समझाओ इतना भी पोस्टर से नहीं समझेगा जब तक आप उसके सामने कोई एग्जांपल नहीं देते तब तक ले सकेगी उसे एग्जांपल दिया था मैंने उसी का उदाहरण पर ही उसे समझ में आता है यह जीवन का सत्य है अब तक हमारा दिमाग शांत होता है जो हमें हमारी समस्याओं से भारी कठिनाइयों से मुश्किलें आसान लगने लगते कि वाकई में वह कठिनाइयां कठिनाई नहीं होती कुछ भी कठिन होता नथिंग इंपॉसिबल सब कुछ उसी वाले सब कुछ आसान है बस यही सोच और नजरिया की बातें समझ ना हमको है आई होप सो दैट यह पोस्ट आप सभी के लिए सुविधाओं के लिए हेल्प खोलो
Usaka ek baar ek vyakti ke ghar mein usake chaahane vaale kee mrtyu ho jaate hain jisakee vajah se bahut jyaada dipresd mein rahane lagata hai use bahut saare log samajhaate hain phir bhee vah samajhata nahin achaanak vo vyakti dipreshan mein kaheen ja raha tha bahut jyaada pareshaan tha aur vah vyakti kisee phakeer se takaraata hai aur usaka dhyaan na hone kee vajah se mobail phakeer se takara jaata hai jisakee vajah se usakee rakha jo khat par hota hai ek mittee ka katora hota hai usake haath se chhootakar gir jaata aur too chaahata hai vah vyakti us se bhee tej rone lagata hai chillaane lagata hai gaane lagata hai ki haay mera khat padh toot gaya haay mera yah katora toot gaya ab main isako kaise khaana maang loonga logon se aur kaise khaana khaoonga to yah dekhakar vah vyakti bahut jyaada aashchary mein pad jaata hai ki bhaee isaka ek mittee ka ghar par hee hai to use kahata bhee hai bhaee ek meeting hai khappar hai main tumhen doosara dila doonga isamen itana rone gaane kee kya jaroorat hai to vyakti kahata hai ki jasavant vyakti tha poochhata hai ki tum kyon itana udaas ho itane hataash niraash kyon kah raha hai mere koee reezan hai jisamen bahut jyaada prem karata tha vah ab is duniya mein nahin hai to unhonne kaha to isamen hataash niraash hone kee kya baat hai usane kabhee kaisee baat kar rahe ho kya main tumhen aisee hee aur bhee prem karane vaale log dila doonga bolo to kahata hai yaar yah koee baat huee to kahane ka matalab yahee hai ki samasya kabhee chhotee aur badee nahin hotee samasya ek samaan hotee hai bas hamaara jo najariya hai doosare vyakti ko apana samasya bahut jyaada badha saamane vaale kee samasya jab ham dekhate hain donon ka samasya chhotee lagatee hai aur jab ham hamaaree koee samasya ko dekhata hai vah sochata ki hamaaree samasya ko samasya koee chhotee badee nahin hotee is najarie ka pherabadal hota hai aur jo samasya mein ghira hota vyakti usako samajhao itana bhee postar se nahin samajhega jab tak aap usake saamane koee egjaampal nahin dete tab tak le sakegee use egjaampal diya tha mainne usee ka udaaharan par hee use samajh mein aata hai yah jeevan ka saty hai ab tak hamaara dimaag shaant hota hai jo hamen hamaaree samasyaon se bhaaree kathinaiyon se mushkilen aasaan lagane lagate ki vaakee mein vah kathinaiyaan kathinaee nahin hotee kuchh bhee kathin hota nathing imposibal sab kuchh usee vaale sab kuchh aasaan hai bas yahee soch aur najariya kee baaten samajh na hamako hai aaee hop so dait yah post aap sabhee ke lie suvidhaon ke lie help kholo

#मनोरंजन

bolkar speaker
क्या आप 26 जनवरी पर कोई कविता सुना सकते हैं?Kya Aap 26 January Par Koi Kavita Suna Sakte Hain
Yogi Nath Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Yogi जी का जवाब
Unknown
2:30
नमस्कार भूल बैठे हैं हम सब कुछ जो हमें सिखाया गया था भूल बैठे हैं वह सब कुछ जो हमें सिखाया गया था आज वह बारी है कि फिर से सुधार ले अपनी गलतियों को और याद करें उन लोगों को जिन्होंने कभी हमारे लिए अपना जीवन कुर्बान किया था आज उनके लिए कुर्बानी देने की हमारी बारी चाहते तो कुछ नहीं हमसे पर देना पर से हमारा जीवन को देने से ही जीवन मिलता है अगर हम चाहेंगे भी जीवन कभी भी किसी से छीन के मांग के निमित्त का जीवन को दिया है तो दिया है एवं का जीने का हाथी कुछ देना है समर्पण करना है तो आज कुछ से कुछ पूछे इस छब्बीस जनवरी पर कि आपने किसी को क्या दिया है आज तक जरूरी यह नहीं है कि दौलत शोहरत जल्दी अच्छी शिक्षा अच्छा ज्ञान अच्छा महत्व जीवन जीने का नजरिया किसी गिरते को संभालना सोच कर देखो बड़ी हैरानी होगी कि हम सब इतने व्यस्त हो चुके हैं जीवन में तरक्की और प्रगति के कैसेट के नशे में चूर है कि हर कोई अपने आप को इतना चाहता है हर एक अच्छी बात है लेकिन अपने संस्कारों को गिराकर अपने मर्यादाओं को गिरा कर कभी कोई उठा नहीं उठ सकता कभी कोई सम्मान हासिल नहीं कर सकता यह बात हम भूल जाते हैं इन बातों को याद करने की आज हमारी बारी है क्योंकि ऐसा चलता ही रहा कुछ नहीं बचेगा होने के बाद भी सब कुछ खत्म हो जाएगा जैसा कि आप देख रहे हैं आजकल मेरे धीरे जिस तरह से बढ़ती हुई महामारी है आज हमारी बारी है उनको याद करने के लिए उनके लिए कुछ करने की जिन्होंने हमारे लिए बहुत कुछ किया आज हमारी बारी है
Namaskaar bhool baithe hain ham sab kuchh jo hamen sikhaaya gaya tha bhool baithe hain vah sab kuchh jo hamen sikhaaya gaya tha aaj vah baaree hai ki phir se sudhaar le apanee galatiyon ko aur yaad karen un logon ko jinhonne kabhee hamaare lie apana jeevan kurbaan kiya tha aaj unake lie kurbaanee dene kee hamaaree baaree chaahate to kuchh nahin hamase par dena par se hamaara jeevan ko dene se hee jeevan milata hai agar ham chaahenge bhee jeevan kabhee bhee kisee se chheen ke maang ke nimitt ka jeevan ko diya hai to diya hai evan ka jeene ka haathee kuchh dena hai samarpan karana hai to aaj kuchh se kuchh poochhe is chhabbees janavaree par ki aapane kisee ko kya diya hai aaj tak jarooree yah nahin hai ki daulat shoharat jaldee achchhee shiksha achchha gyaan achchha mahatv jeevan jeene ka najariya kisee girate ko sambhaalana soch kar dekho badee hairaanee hogee ki ham sab itane vyast ho chuke hain jeevan mein tarakkee aur pragati ke kaiset ke nashe mein choor hai ki har koee apane aap ko itana chaahata hai har ek achchhee baat hai lekin apane sanskaaron ko giraakar apane maryaadaon ko gira kar kabhee koee utha nahin uth sakata kabhee koee sammaan haasil nahin kar sakata yah baat ham bhool jaate hain in baaton ko yaad karane kee aaj hamaaree baaree hai kyonki aisa chalata hee raha kuchh nahin bachega hone ke baad bhee sab kuchh khatm ho jaega jaisa ki aap dekh rahe hain aajakal mere dheere jis tarah se badhatee huee mahaamaaree hai aaj hamaaree baaree hai unako yaad karane ke lie unake lie kuchh karane kee jinhonne hamaare lie bahut kuchh kiya aaj hamaaree baaree hai

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
क्यों फोन रीस्टार्ट करने के बाद फिंगरप्रिंट काम नहीं करता है?Kyun Phone Restart Karne Ke Bad Fingerprint Kam Nahi Karta Hai
Yogi Nath Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Yogi जी का जवाब
Unknown
1:24
हेलो लिस्नर्स टू जॉइन अस फॉलो द प्रोफाइल पेज योगीनाथ आई होप आप बहुत अच्छे होंगे आपने जैसा कि प्रश्न किया है कि क्यों फोन रीस्टार्ट करने के बाद फिंगरप्रिंट काम क्यों नहीं करता तो इसका सीधा सी कारण यही होता है कि वह सिक्योरिटी रीजन होता है हमारा फोन गलत हाथों पर ना चाहे और हमारा डाटा जो है फोन में जो हमारा डाटा होता है वह सुरक्षित रहें तो इसलिए फोन हर कंपनी आई है डिप्रेशन डालते हैं कि जब भी कभी भी आपका फोन रिबूट यारी स्टार्ट होता है तो उसके लिए आपको पैटर्न या जो भी आपने लॉक लगा रखा है फोन में उसको आपको इंटर करना पड़ेगा उससे यह होता कंफर्म हो जाता है कि यह वही व्यक्ति है जो इस फोन को डिवाइस को ऑपरेट करता है और यही कारण है क्योंकि कई बार क्या होता है कि फिंगरप्रिंट को बहुत ज्यादा लोग कॉपी कर लेते हैं और अब कभी भी किसी भी तरीके से इस्तेमाल कर सकते हैं तो यही कारण की वजह से हमारे जवान होता सिक्योरिटी रीजन के वजह से ही जब रिपोर्ट करते हैं तो एक्सेस नहीं करता पिंक करती है वह शायद यह पोस्ट आप सभी के लिए का कोई और लाइक करें और कमेंट करें जो भी आपके विचार और इस पोस्ट के माध्यम से
Helo lisnars too join as pholo da prophail pej yogeenaath aaee hop aap bahut achchhe honge aapane jaisa ki prashn kiya hai ki kyon phon reestaart karane ke baad phingaraprint kaam kyon nahin karata to isaka seedha see kaaran yahee hota hai ki vah sikyoritee reejan hota hai hamaara phon galat haathon par na chaahe aur hamaara daata jo hai phon mein jo hamaara daata hota hai vah surakshit rahen to isalie phon har kampanee aaee hai dipreshan daalate hain ki jab bhee kabhee bhee aapaka phon riboot yaaree staart hota hai to usake lie aapako paitarn ya jo bhee aapane lok laga rakha hai phon mein usako aapako intar karana padega usase yah hota kampharm ho jaata hai ki yah vahee vyakti hai jo is phon ko divais ko oparet karata hai aur yahee kaaran hai kyonki kaee baar kya hota hai ki phingaraprint ko bahut jyaada log kopee kar lete hain aur ab kabhee bhee kisee bhee tareeke se istemaal kar sakate hain to yahee kaaran kee vajah se hamaare javaan hota sikyoritee reejan ke vajah se hee jab riport karate hain to ekses nahin karata pink karatee hai vah shaayad yah post aap sabhee ke lie ka koee aur laik karen aur kament karen jo bhee aapake vichaar aur is post ke maadhyam se

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
वायरलेस को आम लोग क्यों इस्तेमाल नहीं करते हैं?Wireless Ko Aam Log Kyun Istemal Nahin Karte Hain
Yogi Nath Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Yogi जी का जवाब
Unknown
1:20
लो लिसन एचडी चैनल्स फॉलो द प्रोफाइल पे चीज योगी नाथ तो आज का सवाल है वह यह है कि वायरलेस को आम लोग क्यों इस्तेमाल नहीं करते तो देश का सिंपल सा जवाब यही है कारण यह है कि जो वायरलेस सिस्टम होते हैं वह वायरलेस डिवाइस होते पहुंचा द कॉस्टली होते हैं ठीक है हर कोई व्यक्ति से आप फोन नहीं कर पाता आम लोगों में क्योंकि बहुत सारी चीजें होती हैं आप बहुत सारे खर्चे होते हैं और रनिंग का जो सोर्स होता बहुत कम होता है तो यही कारण होता है कि वह लोग वायरलेस के बजाय भारत वाले डिवाइस को फोन करना पसंद करते हैं क्योंकि वह फूट कर सकते हैं बहुत ही खून का उन से मतलब होता काम करने से काम निकालने से और जब कोई अच्छी चीज सस्ती चीज़ है उन्हें कम पैसों में कम दाम में मिल जाती है तो उसी उसी को ही उसी को ही बैठक समझते हैं और वह यह नहीं सोचते कि क्यों बेवजह खर्च से करें जब हमारा काम वायरल वायरल सिस्टम सेवर वाले डिवाइस से हो सकता है लेकिन एक्स्ट्रा चार्जेस क्यों एक्स्ट्रा पे करें यही कारण है कि जो वर्ली सी चीजें हैं वह लोकप्रिय आम लोगों में इसी कारण नहीं आए हो शायद यह पोस्ट आपको अच्छा लगा और लाइक करें कमेंट करें जो भी आपकी बात हुई सवाल जवाब के लिए
Lo lisan echadee chainals pholo da prophail pe cheej yogee naath to aaj ka savaal hai vah yah hai ki vaayarales ko aam log kyon istemaal nahin karate to desh ka simpal sa javaab yahee hai kaaran yah hai ki jo vaayarales sistam hote hain vah vaayarales divais hote pahuncha da kostalee hote hain theek hai har koee vyakti se aap phon nahin kar paata aam logon mein kyonki bahut saaree cheejen hotee hain aap bahut saare kharche hote hain aur raning ka jo sors hota bahut kam hota hai to yahee kaaran hota hai ki vah log vaayarales ke bajaay bhaarat vaale divais ko phon karana pasand karate hain kyonki vah phoot kar sakate hain bahut hee khoon ka un se matalab hota kaam karane se kaam nikaalane se aur jab koee achchhee cheej sastee cheez hai unhen kam paison mein kam daam mein mil jaatee hai to usee usee ko hee usee ko hee baithak samajhate hain aur vah yah nahin sochate ki kyon bevajah kharch se karen jab hamaara kaam vaayaral vaayaral sistam sevar vaale divais se ho sakata hai lekin ekstra chaarjes kyon ekstra pe karen yahee kaaran hai ki jo varlee see cheejen hain vah lokapriy aam logon mein isee kaaran nahin aae ho shaayad yah post aapako achchha laga aur laik karen kament karen jo bhee aapakee baat huee savaal javaab ke lie

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
फाइल ट्रांसफर प्रोटोकॉल क्या होता है और यह किस प्रकार काम करता है?File Transfer Protocal Kya Hota Hai Aur Yeh Kis Prakar Kaam Karta Hai
Yogi Nath Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Yogi जी का जवाब
Unknown
1:43
नमस्कार हमसे जुड़ने के लिए हमारे प्रोफाइल पेज को जरूर फॉलो कर दें और आज का जो सवाल है कि फाइल ट्रांसफर प्रोटोकॉल क्या होता है और यह किस प्रकार से काम करता है तो देखी आजकल जो डाटा सेव करने के लिए हमें बहुत जरूरत होती है क्योंकि कम डाटा हमें और अच्छी खासी फाइल जो होती है जो ज्यादा से ज्यादा फाइल का जो साइज है तब होती इसलिए ट्रांसफर किया जाए तो यहां पर यूज किया जाता है फाइल ट्रांसफर प्रोटोकोल किसके माध्यम से होता क्या है कि हम किसी भी लार्जेस्ट साइज की जो फाइल होती है जिसका साइज टीवी में या 1 टीवी में होता है तो उन्हें फास्ट ट्रांसपोर्ट करने के लिए हमें कुछ ऐसे प्रोटोकॉल की आवश्यकता होती है जिसके माध्यम से हम उसे बहुत ही असली ट्रांसफर कर सकते हैं किसी भी एडवाइस में किसी भी सिस्टम पर किसी भी सर भरता है तो जब हमें कोई डाटा सर्वर पर अपलोड करना पड़ता है तो काफी टाइम लगता है अगर आप से सीधे-सीधे आपको किसी फाइल जिसकी हैवी साइज होने की वजह से बहुत समय ले लेता है बहुत डाटा खर्च हो जाता तो उस साइज को आप चाहते हैं कि बहुत ही इजी ली और बहुत ही सहज रूप से अगर उसे आप शेयर करना चाहते सर्वर पर अपलोड करना चाहते हैं यहां हमारी यह जो सिस्टम है फाइल ट्रांसफर प्रोटोकोल यह बहुत मदद करती है और यह अक्सर यूज़ किया जाता है जैसे कि इंडस्ट्री लेवल पर और हम जब किसी को मेल करते हैं वहां पर और जब सॉफ्टवेयर को आप किसी को देना होता है यार रिमोट से किसी के सिस्टम को एक्सेस करना होता है तो गुस्सा बहुत ही ज्यादा यू शो दैट यह पोस्ट आप सभी के लिए काफी हेल्पफुल हो और थैंक यू फॉर थिस पोस्ट
Namaskaar hamase judane ke lie hamaare prophail pej ko jaroor pholo kar den aur aaj ka jo savaal hai ki phail traansaphar protokol kya hota hai aur yah kis prakaar se kaam karata hai to dekhee aajakal jo daata sev karane ke lie hamen bahut jaroorat hotee hai kyonki kam daata hamen aur achchhee khaasee phail jo hotee hai jo jyaada se jyaada phail ka jo saij hai tab hotee isalie traansaphar kiya jae to yahaan par yooj kiya jaata hai phail traansaphar protokol kisake maadhyam se hota kya hai ki ham kisee bhee laarjest saij kee jo phail hotee hai jisaka saij teevee mein ya 1 teevee mein hota hai to unhen phaast traansaport karane ke lie hamen kuchh aise protokol kee aavashyakata hotee hai jisake maadhyam se ham use bahut hee asalee traansaphar kar sakate hain kisee bhee edavais mein kisee bhee sistam par kisee bhee sar bharata hai to jab hamen koee daata sarvar par apalod karana padata hai to kaaphee taim lagata hai agar aap se seedhe-seedhe aapako kisee phail jisakee haivee saij hone kee vajah se bahut samay le leta hai bahut daata kharch ho jaata to us saij ko aap chaahate hain ki bahut hee ijee lee aur bahut hee sahaj roop se agar use aap sheyar karana chaahate sarvar par apalod karana chaahate hain yahaan hamaaree yah jo sistam hai phail traansaphar protokol yah bahut madad karatee hai aur yah aksar yooz kiya jaata hai jaise ki indastree leval par aur ham jab kisee ko mel karate hain vahaan par aur jab sophtaveyar ko aap kisee ko dena hota hai yaar rimot se kisee ke sistam ko ekses karana hota hai to gussa bahut hee jyaada yoo sho dait yah post aap sabhee ke lie kaaphee helpaphul ho aur thaink yoo phor this post

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
भारत के मोबाइल बाजार में चीनी उपक्रमों का बोलबाला क्यों है?Bharat Ke Mobile Bazar Mein Chinese Upakranon Ka Bolbala Kyun Hai
Yogi Nath Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Yogi जी का जवाब
Unknown
1:42
नमस्कार आजकल हर कोई व्यक्ति टेक्नोलॉजी के साथ जोड़ना चाहता है और ऐसे में टेक्नोलॉजी की जरूरत एट होते हैं जो प्राइस होते बहुत ज्यादा हाई होते हैं इस चीज पर फोकस करें हमारी जेब को ध्यान में रखते हुए हमें कुछ चाइनीस ब्रांड जो है बहुत ही सस्ते और बजट में चीप रेट में बहुत अच्छी डिवाइस से इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस हमें देते हैं प्रोवाइड कर आते हैं जैसे कि अगर आपको आईफोन खरीदेंगे एप्पल के तो बहुत ज्यादा हैवी रेट होते उनके बहुत ज्यादा लग सीरियस होते हैं और बहुत ज्यादा अकॉस्ट भी होती है उनकी ₹100000 दो हर कोई सपोर्ट नहीं कर सकता लेकिन यही फीचर्स के साथ यही फंक्शन के साथ आपको बहुत से से चाइनीस ब्रांड के स्मार्टफोन मिल जाएंगे जो बहुत ही जाता है उससे दो-तीन गुना कम रेट पर आपको अच्छी खासी फीचर्स प्रोवाइड करा देंगे चाहे वह फास्ट चार्जिंग हो या अच्छा कैमरा हो या फास्ट बाउलिंग 11 जो भी फैसिलिटी होती है वह आपको सस्ते में मिल जाएगी मैं तो उसकी प्राइस इतनी हाईकोर्ट नहीं होगी तो यही कारण है कि चाइनीस जो एयरपोर्ट जॉइनिंग जो फोन है इतनी लोकप्रियता इसलिए हासिल कर पा रही क्योंकि कम बजट में ज्यादा सुविधा देना और हर कोई यही सपोर्ट करना चाहता हर कोई वोट कर सकता है तो यही कारण है कि इनकी लोकप्रियता बढ़ती जा री दिन प्रतिदिन आए हो सो दैट यह पोस्ट आप सभी को अच्छा लगा और आपको कोई भी बात है अपनी मन की तो कमेंट के माध्यम से जरूर आप हमसे साझा करें शेयर करें और लाइक करें इस पोस्ट को और धर्म से जुड़ने के लिए हमारे प्रोफाइल पेज को फॉलो कर ले
Namaskaar aajakal har koee vyakti teknolojee ke saath jodana chaahata hai aur aise mein teknolojee kee jaroorat et hote hain jo prais hote bahut jyaada haee hote hain is cheej par phokas karen hamaaree jeb ko dhyaan mein rakhate hue hamen kuchh chainees braand jo hai bahut hee saste aur bajat mein cheep ret mein bahut achchhee divais se ilektronik divais hamen dete hain provaid kar aate hain jaise ki agar aapako aaeephon khareedenge eppal ke to bahut jyaada haivee ret hote unake bahut jyaada lag seeriyas hote hain aur bahut jyaada akost bhee hotee hai unakee ₹100000 do har koee saport nahin kar sakata lekin yahee pheechars ke saath yahee phankshan ke saath aapako bahut se se chainees braand ke smaartaphon mil jaenge jo bahut hee jaata hai usase do-teen guna kam ret par aapako achchhee khaasee pheechars provaid kara denge chaahe vah phaast chaarjing ho ya achchha kaimara ho ya phaast bauling 11 jo bhee phaisilitee hotee hai vah aapako saste mein mil jaegee main to usakee prais itanee haeekort nahin hogee to yahee kaaran hai ki chainees jo eyaraport joining jo phon hai itanee lokapriyata isalie haasil kar pa rahee kyonki kam bajat mein jyaada suvidha dena aur har koee yahee saport karana chaahata har koee vot kar sakata hai to yahee kaaran hai ki inakee lokapriyata badhatee ja ree din pratidin aae ho so dait yah post aap sabhee ko achchha laga aur aapako koee bhee baat hai apanee man kee to kament ke maadhyam se jaroor aap hamase saajha karen sheyar karen aur laik karen is post ko aur dharm se judane ke lie hamaare prophail pej ko pholo kar le

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
इंटरनेट प्राइवेसी क्या है और इसकी जरूरत क्यों है?Internet Privacy Kya Hain Aur Iski Jarurat Kyun Hain
Yogi Nath Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Yogi जी का जवाब
Unknown
2:27
ब्लू लिटमस आई होप आपसे बहुत अच्छे होंगे और आपने जो प्रश्न किया कि इंटरनेट प्राइवेसी क्या है और इसकी जरूरत क्यों होती है इंटरनेट प्राइवेसी देखिए जो हमारे जो डाटा होता है जैसे कि हमारा नाम एड्रेस हमारा सेंटर हमारा मोबाइल फोन नंबर डेट ऑफ बर्थ यह सारी चीजें हमारी प्यारी सी होती है हमारी पर्सनल इंफॉर्मेशन होती है और यह चीजें हम किसी के साथ साझा नहीं कर सकते और क्योंकि इसका दुरुपयोग भी हो सकता है जैसा कि आप सभी देखते हैं कि बैंक को हैक कर दिया जाता है और अच्छा खासा अमाउंट हमारे अकाउंट से निकाल दिया जाता है फिर हम उसकी कंप्लेंट करते रहते हैं और भी बहुत सारी चीजें होती है कि हमारी जो निजी जानकारी होती है वह अगर किसी को हाथ लग जाती वह हमें ब्लैकमेल भी कर सकता है और ब्लैकमेल के साथ-साथ हमारे को नुकसान भी पहुंचा सकता है हमसे अच्छी खासी ब्लैकमेल मनी मांग सकता है ब्लैकमेल के तौर पर और मन ही नहीं हम डिफरेंस भी हो जाते हैं कई बार ऐसी समस्या हो जाती है कि जब हमारी कोई प्राइवेट जो वीडियो हो गई बेटे हमारे इमेज हो गया कोई मुंह में होता है वही गया प्राइवेट को इन्फ्रेमेशन होती वह किसी को लीक हो जाती तो हम इतना ज्यादा डिप्रेस्ड हो जाते कि सुसाइड करने तक की नौबत आ जाती है इंटरनेट तो इतना इसी माध्यम है कि किसी के बारे में जानने के लिए आपको सिर्फ और सिर्फ एक स्मार्टफोन की आवश्यकता पड़ेगी और उसमें आपका इंटरनेट उपलब्ध होना चाहिए और बहुत सारी ऐसे सोशल प्लेटफॉर्म है सोशल मीडिया के माध्यम से आप किसी के बारे में जान सकते कि वह व्यक्ति कैसा है कि आपका दिन चले क्या रुटीन है वह किससे क्या पसंद है कि उसकी क्या नापसंद है तो यह सारी जानकारियां हम हासिल कर सकते हैं लेकिन कहीं ना कहीं इन जानकारियों के बेस पर लोग हमारे साथ बहुत से ऐसे अपलोड करते हैं बहुत से हम लोग हमें नुकसान पहुंचाते इसलिए इनसे बचने के लिए हम एक प्राइवेसी बनानी जरूरी होती कि हर कोई अपने दायरे में रहकर ही इंटरनेट का इस्तेमाल करें और कोई भी आपके निजी जीवन में इतना ज्यादा हस्तक्षेप ना करें कि आपको दिक्कत होने लगे इसलिए हमें आवश्यकता पड़ती है इंटरनेट प्राइवेसी की इंटरनेट इस्तेमाल करते वक्त इस चीजों का जरूर ध्यान रखें कि अपनी नीति जानकारी किसी के साथ साझा ना करें पोस्ट के लिए आप सभी श्रोताओं के लिए बहुत हेल्पफुल हो और अच्छा लगा तो लाइक करें कमेंट के माध्यम से अपने विचार जरूर रखें कि इस पोस्ट के बारे में और हमसे जुड़ने के लिए हमारे सवाल जवाब को सुनने के लिए हमारे प्रोफाइल पेज को
Bloo litamas aaee hop aapase bahut achchhe honge aur aapane jo prashn kiya ki intaranet praivesee kya hai aur isakee jaroorat kyon hotee hai intaranet praivesee dekhie jo hamaare jo daata hota hai jaise ki hamaara naam edres hamaara sentar hamaara mobail phon nambar det oph barth yah saaree cheejen hamaaree pyaaree see hotee hai hamaaree parsanal imphormeshan hotee hai aur yah cheejen ham kisee ke saath saajha nahin kar sakate aur kyonki isaka durupayog bhee ho sakata hai jaisa ki aap sabhee dekhate hain ki baink ko haik kar diya jaata hai aur achchha khaasa amaunt hamaare akaunt se nikaal diya jaata hai phir ham usakee kamplent karate rahate hain aur bhee bahut saaree cheejen hotee hai ki hamaaree jo nijee jaanakaaree hotee hai vah agar kisee ko haath lag jaatee vah hamen blaikamel bhee kar sakata hai aur blaikamel ke saath-saath hamaare ko nukasaan bhee pahuncha sakata hai hamase achchhee khaasee blaikamel manee maang sakata hai blaikamel ke taur par aur man hee nahin ham dipharens bhee ho jaate hain kaee baar aisee samasya ho jaatee hai ki jab hamaaree koee praivet jo veediyo ho gaee bete hamaare imej ho gaya koee munh mein hota hai vahee gaya praivet ko inphremeshan hotee vah kisee ko leek ho jaatee to ham itana jyaada dipresd ho jaate ki susaid karane tak kee naubat aa jaatee hai intaranet to itana isee maadhyam hai ki kisee ke baare mein jaanane ke lie aapako sirph aur sirph ek smaartaphon kee aavashyakata padegee aur usamen aapaka intaranet upalabdh hona chaahie aur bahut saaree aise soshal pletaphorm hai soshal meediya ke maadhyam se aap kisee ke baare mein jaan sakate ki vah vyakti kaisa hai ki aapaka din chale kya ruteen hai vah kisase kya pasand hai ki usakee kya naapasand hai to yah saaree jaanakaariyaan ham haasil kar sakate hain lekin kaheen na kaheen in jaanakaariyon ke bes par log hamaare saath bahut se aise apalod karate hain bahut se ham log hamen nukasaan pahunchaate isalie inase bachane ke lie ham ek praivesee banaanee jarooree hotee ki har koee apane daayare mein rahakar hee intaranet ka istemaal karen aur koee bhee aapake nijee jeevan mein itana jyaada hastakshep na karen ki aapako dikkat hone lage isalie hamen aavashyakata padatee hai intaranet praivesee kee intaranet istemaal karate vakt is cheejon ka jaroor dhyaan rakhen ki apanee neeti jaanakaaree kisee ke saath saajha na karen post ke lie aap sabhee shrotaon ke lie bahut helpaphul ho aur achchha laga to laik karen kament ke maadhyam se apane vichaar jaroor rakhen ki is post ke baare mein aur hamase judane ke lie hamaare savaal javaab ko sunane ke lie hamaare prophail pej ko

#जीवन शैली

Yogi Nath Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Yogi जी का जवाब
Unknown
2:52
नमस्कार गीता में भगवान श्रीकृष्ण ने स्वयं एक वाक्य कहा था कि अगर हे अर्जुन उस पक्ष में अगर मैं खुद होता तो यहां तक कि मैं जो ब्रह्मांड की सबसे बड़ी शक्ति है सृष्टि कर्ता है उसका भी विध्वंस हो जाता है अर्थात कहने का मतलब है यह उस समय उन्होंने कहा था जब महाभारत के युद्ध में धर्म और अधर्म के पक्ष की बात हो रही थी तो बहुत से ऐसे योद्धा थे बहुत अच्छे अच्छे लोग थे जो कौरवों की तरफ से दरअसल को कौरव का साइड नहीं था वह अधर्म का साइड था और जो अर्जुन के साइड था वह धर्म का साइड था तो उन्होंने कहा कि अर्जुन ने कितने बड़े बड़े योद्धा जब उस पक्ष में तो इन्हें कैसे तरह से इनका विध्वंस कैसे हो सकता है कि कैसे इन का विनाश किया जा सकता है इन को कैसे हराया जा सकता है इन को कैसे मारा जा सकता है तो उन्होंने कहा देखो जो भी व्यक्ति धर्म के रास्ते पर चलता है उसका विध्वंस निश्चित है उसका अंत निश्चित है चाहे वह कोई भी हो उस पक्ष में भीष्म पितामह थे करंट जैसे अच्छे दानवीर योद्धा थे पराक्रमी गुरु द्रोणाचार्य थे तो जैसे कि आपने प्रश्न क्या है कि कौन सा अपराध है जिसके कारण स्वयं गुरु और भगवान अपने आप को नहीं बचा पाते तो यह धर्म धर्म का धर्म अगर कोई भी करेगा अधर्म के रास्ते में कोई भी चलेगा ही शुरू से आप देख सकते हैं मैं आकर एक बार जब भगवान विष्णु जी ने आज जालंधर को हराने के लिए मारने के लिए जो तुम सीधी थी उनकी उनके पति के रूप धर के उनके पास आए थे तो उन्होंने श्राप दिया था उनको कि वह पत्थर के बन जाएंगे और बाकी वह पत्थर के बन गए थे फिर बाद में सृष्टि को चलाएं मन बनाने के लिए उन्होंने अपना सारा वापस लिया और वह तुलसी और भगवान हरि शालिग्राम के रूप में एक नया उन्होंने मैसेज दिया एक ने अपहरण किया तुझे बहुत सी बातें हैं बहुत सी चीजें हैं जो आप देखेंगे जब भी कोई व्यक्ति या धर्म के रास्ते पर चलता वह चाहे कितनी भी बड़ी ताकत करो उसका विध्वंस जरूर होगा उसका विनाश कब होगा एवं सोसाइटी बातें आप सभी श्रोताओं अपने जीवन में जरूर लाएं और धर्म के रास्ते पर चलें क्योंकि जीवन में इंसान इस चीज को बहुत जल्दी आ धर्म करने लगता है चाहे कोई भी चीज हल्की सी लापरवाही हल्का सा स्वार्थ जॉब मिलता है उसके कारण वह अपने आप को धर्म के रास्ते पर झोंक देता है सी खुशी हुई है नहीं फिक्र करता क्या फिर इसके बाद उसका परिणाम क्या होगा आयोग 100 बैटरी पोस्ट आपके लिए हेल्पफुल और आपको अच्छा लगा तो लाइक जरूर करें कमेंट जरूर करें कैसा लगा इस पोस्ट के बारे में अपनी राय विचार जरूर बताएं हमसे जुड़ने के लिए हमारे सवाल जवाब को सुनने के लिए हमारे प्रोफाइल पेज को फॉलो कर सकते हैं
Namaskaar geeta mein bhagavaan shreekrshn ne svayan ek vaaky kaha tha ki agar he arjun us paksh mein agar main khud hota to yahaan tak ki main jo brahmaand kee sabase badee shakti hai srshti karta hai usaka bhee vidhvans ho jaata hai arthaat kahane ka matalab hai yah us samay unhonne kaha tha jab mahaabhaarat ke yuddh mein dharm aur adharm ke paksh kee baat ho rahee thee to bahut se aise yoddha the bahut achchhe achchhe log the jo kauravon kee taraph se darasal ko kaurav ka said nahin tha vah adharm ka said tha aur jo arjun ke said tha vah dharm ka said tha to unhonne kaha ki arjun ne kitane bade bade yoddha jab us paksh mein to inhen kaise tarah se inaka vidhvans kaise ho sakata hai ki kaise in ka vinaash kiya ja sakata hai in ko kaise haraaya ja sakata hai in ko kaise maara ja sakata hai to unhonne kaha dekho jo bhee vyakti dharm ke raaste par chalata hai usaka vidhvans nishchit hai usaka ant nishchit hai chaahe vah koee bhee ho us paksh mein bheeshm pitaamah the karant jaise achchhe daanaveer yoddha the paraakramee guru dronaachaary the to jaise ki aapane prashn kya hai ki kaun sa aparaadh hai jisake kaaran svayan guru aur bhagavaan apane aap ko nahin bacha paate to yah dharm dharm ka dharm agar koee bhee karega adharm ke raaste mein koee bhee chalega hee shuroo se aap dekh sakate hain main aakar ek baar jab bhagavaan vishnu jee ne aaj jaalandhar ko haraane ke lie maarane ke lie jo tum seedhee thee unakee unake pati ke roop dhar ke unake paas aae the to unhonne shraap diya tha unako ki vah patthar ke ban jaenge aur baakee vah patthar ke ban gae the phir baad mein srshti ko chalaen man banaane ke lie unhonne apana saara vaapas liya aur vah tulasee aur bhagavaan hari shaaligraam ke roop mein ek naya unhonne maisej diya ek ne apaharan kiya tujhe bahut see baaten hain bahut see cheejen hain jo aap dekhenge jab bhee koee vyakti ya dharm ke raaste par chalata vah chaahe kitanee bhee badee taakat karo usaka vidhvans jaroor hoga usaka vinaash kab hoga evan sosaitee baaten aap sabhee shrotaon apane jeevan mein jaroor laen aur dharm ke raaste par chalen kyonki jeevan mein insaan is cheej ko bahut jaldee aa dharm karane lagata hai chaahe koee bhee cheej halkee see laaparavaahee halka sa svaarth job milata hai usake kaaran vah apane aap ko dharm ke raaste par jhonk deta hai see khushee huee hai nahin phikr karata kya phir isake baad usaka parinaam kya hoga aayog 100 baitaree post aapake lie helpaphul aur aapako achchha laga to laik jaroor karen kament jaroor karen kaisa laga is post ke baare mein apanee raay vichaar jaroor bataen hamase judane ke lie hamaare savaal javaab ko sunane ke lie hamaare prophail pej ko pholo kar sakate hain

#जीवन शैली

bolkar speaker
सर्दी के मौसम में खाना खाने के बाद हमें ठंड क्यो लगती है?Sardi Ke Mausam Mein Khana Khane Ke Baad Humein Thand Kyun Lagti Hai
Yogi Nath Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Yogi जी का जवाब
Unknown
1:04
लोलिता आई होप आप सभी बहुत अच्छे होंगे आपने बहुत ही अच्छा प्रश्न किया है कि भाई जब भी हम खाना खाते हैं तो हमें सर्दी क्यों लगने लगती है इसका कारण यह है कि जो हमारी ऊर्जा होती है बॉडी की जो मीटिंग होती है एनर्जी जब भी आप देखेंगे एनर्जी का जो फॉर्म होता है वह एक ना एक ही वर्ड यूज़ करती है और जब हम आ रही जो पाचन क्रिया है जब हम कोई खाना खाते हैं कोई भी चीज है खाते तो उसको टाइट करने के लिए हमारी बॉडी को एनर्जी क्रिएट करनी पड़ती है उस एनर्जी के लिए सारी एनर्जी हमारे पेट की तरफ मुंह कर दिया और इसी वजह से यह कारण होता है कि हमें ठंड लगने लगती है क्योंकि हमारी जो सारी ऊर्जा है एक तरफ एक तो हो जाती है संकुचित हो जाती है वह सब लग जाती है हमारे खाए हुए भोजन को मैसेज करने में और जब वह टाइप होता है उसके बाद हम एनर्जी मिलती है तो यही एक मूल कारण होता है जिस वजह से ऐसा पता है हमारी बॉडी के साथ
Lolita aaee hop aap sabhee bahut achchhe honge aapane bahut hee achchha prashn kiya hai ki bhaee jab bhee ham khaana khaate hain to hamen sardee kyon lagane lagatee hai isaka kaaran yah hai ki jo hamaaree oorja hotee hai bodee kee jo meeting hotee hai enarjee jab bhee aap dekhenge enarjee ka jo phorm hota hai vah ek na ek hee vard yooz karatee hai aur jab ham aa rahee jo paachan kriya hai jab ham koee khaana khaate hain koee bhee cheej hai khaate to usako tait karane ke lie hamaaree bodee ko enarjee kriet karanee padatee hai us enarjee ke lie saaree enarjee hamaare pet kee taraph munh kar diya aur isee vajah se yah kaaran hota hai ki hamen thand lagane lagatee hai kyonki hamaaree jo saaree oorja hai ek taraph ek to ho jaatee hai sankuchit ho jaatee hai vah sab lag jaatee hai hamaare khae hue bhojan ko maisej karane mein aur jab vah taip hota hai usake baad ham enarjee milatee hai to yahee ek mool kaaran hota hai jis vajah se aisa pata hai hamaaree bodee ke saath

#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker
वह कौन सी दौलत है जिसे कोई चुरा नहीं सकता बल्कि बांटने से बढ़ती है?Vah Kaun Si Daulat Hai Jise Koi Chura Nahi Sakta Balki Bantne Se Badhti Hai
Yogi Nath Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Yogi जी का जवाब
Unknown
1:25
आई होप आप सभी बहुत अच्छे होंगे जिंदगी में हम हर चीज हासिल कर सकते और हर चीज हमसे हो सकती है लेकिन एक चीज है जो कभी चुराई नहीं जा सकती कभी भूल नहीं सकती वह हमारी नॉलेज हमारा ज्ञान इसे कोई चोर चुरा नहीं सकता हूं उसकी सबसे अच्छी और खास बात यह है कि आप इसे जितना बाटेंगे उतना ही बढ़ता जाएगा हमारी पीढ़ी दर पीढ़ी जो हमें नॉलेज में दी जा रही है और उस नौली से ही हम अपने आप को डेवलप कर पा रहे हैं क्योंकि हम बढ़ते जाते हमारी बारी जो हमारे पूर्वजों ने जो हमें सूत्र दिए हैं जीवन के आधार दिया जो इतना लीजिए उसके अनुसार साल पर उनके अनुभव के आधार पर हम अपने जीवन को बेहतर से बेहतर बनाते जा रहे हैं और भी नॉलेज बढ़ा दे जा रहे हैं हमारी नॉलेज अज्ञान है वह पढ़ता चला जा रहा है इसमें कोई दो राय नहीं है कि ज्ञान जो है एक ऐसी दौलत है जो कभी घटती नहीं है जितना समय है आप उसे दें जितना आपसे बाटेंगे उतना ही यह पड़ती चली जाएगी आई होप सो दैट यू पोस्ट ऑफिस जीवन में काफी हेल्प लो और अगर आपको यह पोस्ट अच्छा लगा तो आप इसमें जरूर लाइक करें कमेंट के माध्यम से हमें बताएं कि आपको कैसा लगा आपके कमेंट बहुत महत्व रखते हैं हमारे लिए और हमसे जुड़ने के लिए इस तरह के सवाल जवाब को सुनने के लिए आपको फॉलो कर सकते हमारे प्रोफाइल पेज को
Aaee hop aap sabhee bahut achchhe honge jindagee mein ham har cheej haasil kar sakate aur har cheej hamase ho sakatee hai lekin ek cheej hai jo kabhee churaee nahin ja sakatee kabhee bhool nahin sakatee vah hamaaree nolej hamaara gyaan ise koee chor chura nahin sakata hoon usakee sabase achchhee aur khaas baat yah hai ki aap ise jitana baatenge utana hee badhata jaega hamaaree peedhee dar peedhee jo hamen nolej mein dee ja rahee hai aur us naulee se hee ham apane aap ko devalap kar pa rahe hain kyonki ham badhate jaate hamaaree baaree jo hamaare poorvajon ne jo hamen sootr die hain jeevan ke aadhaar diya jo itana leejie usake anusaar saal par unake anubhav ke aadhaar par ham apane jeevan ko behatar se behatar banaate ja rahe hain aur bhee nolej badha de ja rahe hain hamaaree nolej agyaan hai vah padhata chala ja raha hai isamen koee do raay nahin hai ki gyaan jo hai ek aisee daulat hai jo kabhee ghatatee nahin hai jitana samay hai aap use den jitana aapase baatenge utana hee yah padatee chalee jaegee aaee hop so dait yoo post ophis jeevan mein kaaphee help lo aur agar aapako yah post achchha laga to aap isamen jaroor laik karen kament ke maadhyam se hamen bataen ki aapako kaisa laga aapake kament bahut mahatv rakhate hain hamaare lie aur hamase judane ke lie is tarah ke savaal javaab ko sunane ke lie aapako pholo kar sakate hamaare prophail pej ko

#जीवन शैली

bolkar speaker
आपको यह कब एहसास हुआ कि आप जो भी आज कर रहे हैं, यही आपके जीवन का लक्ष्य था?Aapako Yah Kab Ehasaas Hua Ki Aap Jo Bhee Aaj Kar Rahe Hain Yahee Aapake Jeevan Ka Lakshy Tha
Yogi Nath Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Yogi जी का जवाब
Unknown
2:10
हेलो लिसन जब हम कोई काम करते हैं और उस काम को करते वक्त हमें ऐसा लगता है कि टाइम का पता नहीं चलता और ना ही हमें कोई थकान किसी प्रकार की कोई चीज की परेशानी नहीं महसूस होती है तो समझ लीजिए वही काम आपके जीवन का लक्ष्य होता है और जब मैं वीडियो एडिटिंग करता हूं और वीडियो से रिलेटेड कोई काम करता हूं मीडिया लाइन से रिलेटेड तो मुझे बिल्कुल भी इस चीज का एहसास नहीं होता लगता ही नहीं कि मैं कोई काम कर रहा हूं काम जैसा नहीं लगता है बिल्कुल ऐसा लगता है जैसे कि मैं कोई गेम खेल रहा हूं या कोई जिस तरह से हम गेम खेलते हैं अपने आपको रिलैक्स करते हैं तो जब भी हमको करते वक्त आपको अगर रिलैक्स फील होता है तो वही आपका जीवन का लक्ष्य है क्योंकि जीवन का लक्ष्य आनंद है जीवन का अर्थ ही आनंद है हर चीज करना जिससे आपको खुशी मिलती है आनंद मिलता है वही आपके जीवन का लक्ष्य है जीवन को कुछ और चीज के आवश्यकता नहीं थी खुशियां ही जीवन का लक्ष्य मिला और खुश रहने के लिए पहली बात तो किसी चीज की आवश्यकता नहीं है आपको तो मैं खुश रह सकते हैं ना किसी सक्सेस की जरूरत है ना किसी के पैसे की जरूरत है ना किसी और की तबीयत आंखों से खुश रह सकते हैं और आप खुश ही दुखी भी आते हैं और बाहर की चीजों को दुखी नहीं करती आप से सोचिए जब आप खुश होते हैं कोई काम करते हैं आपको खुशी महसूस होती है तो आपका दिन अच्छा जाता है चाहे कोई कुछ भी कहे आप के बारे में कितनी भी बुराई करें आपको कोई फर्क नहीं पड़ता आप कभी भी उस से हताश और निराश नहीं होते तो क्या के अंदर कि जो खुशी है वह आपके अंदर से आ रही होती है और उसे बाहर किस ओर से खराब ढूढेंगे की यार मुझे यह चीज मिल जाएगी यही चीज हासिल हो जाएगी तो मुझे खुशी होगी तो यकीनन अगर आप उस चीज को पापी लेकर तो भी आपको खुशी महसूस नहीं होगी क्योंकि आपको लगेगा कहीं ना कहीं कुछ तो कमी है वह कहीं जो कमी है वह कहीं और नहीं है बाहर कहीं नहीं है सिर्फ आपके आई होप सो दैट यह पोस्ट आपके लिए काफी है खोलो और अच्छा लगा तो लाइक करें कमेंट के माध्यम से आप जरूर बताएं कि कैसा लगा आपको यह पोस्ट
Helo lisan jab ham koee kaam karate hain aur us kaam ko karate vakt hamen aisa lagata hai ki taim ka pata nahin chalata aur na hee hamen koee thakaan kisee prakaar kee koee cheej kee pareshaanee nahin mahasoos hotee hai to samajh leejie vahee kaam aapake jeevan ka lakshy hota hai aur jab main veediyo editing karata hoon aur veediyo se rileted koee kaam karata hoon meediya lain se rileted to mujhe bilkul bhee is cheej ka ehasaas nahin hota lagata hee nahin ki main koee kaam kar raha hoon kaam jaisa nahin lagata hai bilkul aisa lagata hai jaise ki main koee gem khel raha hoon ya koee jis tarah se ham gem khelate hain apane aapako rilaiks karate hain to jab bhee hamako karate vakt aapako agar rilaiks pheel hota hai to vahee aapaka jeevan ka lakshy hai kyonki jeevan ka lakshy aanand hai jeevan ka arth hee aanand hai har cheej karana jisase aapako khushee milatee hai aanand milata hai vahee aapake jeevan ka lakshy hai jeevan ko kuchh aur cheej ke aavashyakata nahin thee khushiyaan hee jeevan ka lakshy mila aur khush rahane ke lie pahalee baat to kisee cheej kee aavashyakata nahin hai aapako to main khush rah sakate hain na kisee sakses kee jaroorat hai na kisee ke paise kee jaroorat hai na kisee aur kee tabeeyat aankhon se khush rah sakate hain aur aap khush hee dukhee bhee aate hain aur baahar kee cheejon ko dukhee nahin karatee aap se sochie jab aap khush hote hain koee kaam karate hain aapako khushee mahasoos hotee hai to aapaka din achchha jaata hai chaahe koee kuchh bhee kahe aap ke baare mein kitanee bhee buraee karen aapako koee phark nahin padata aap kabhee bhee us se hataash aur niraash nahin hote to kya ke andar ki jo khushee hai vah aapake andar se aa rahee hotee hai aur use baahar kis or se kharaab dhoodhenge kee yaar mujhe yah cheej mil jaegee yahee cheej haasil ho jaegee to mujhe khushee hogee to yakeenan agar aap us cheej ko paapee lekar to bhee aapako khushee mahasoos nahin hogee kyonki aapako lagega kaheen na kaheen kuchh to kamee hai vah kaheen jo kamee hai vah kaheen aur nahin hai baahar kaheen nahin hai sirph aapake aaee hop so dait yah post aapake lie kaaphee hai kholo aur achchha laga to laik karen kament ke maadhyam se aap jaroor bataen ki kaisa laga aapako yah post

#जीवन शैली

Yogi Nath Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Yogi जी का जवाब
Unknown
2:56
नमस्कार कभी ना कभी तो यह सवाल सभी के जेहन में आता होगा जब हम लोन लेने जाते हैं या कोई भी ऐसी चीज है जो हम परचेज करते हैं बाय चांस जिसका फोन है देखो ना रहे तो फिर क्या होगा क्या डिसीजन है कि जिस तरह से हम या बैंक में अपना अकाउंट खुलवा आते हैं तो उसमें के नॉमिनी डिसाइड किया जाता है और भाई साहब ऐसी कोई परिस्थिति आती है तो लोन वालों का भी अपना एक इंश्योरेंस होता है तो उस इंश्योरेंस के तहत उनका जो भी भुगतान होता जो भी लॉस होता है उसका बात बोलेंगे क्योंकि वह दिखा देते कि यह बंदा भी नहीं है तो क्यों कि कोई भी व्यक्ति रिक्स पर नहीं काम करता हर कहीं ना कहीं हर एक व्यक्ति इसको खबर करने की पूरी योजना बनाकर चलता है तो यही लोन के साथ भी होता है बहुत से लोग आजकल आधार कार्ड पैन कार्ड के माध्यम से ऑनलाइन ऐप जो होते हैं उन से लोन ले ली थी अब सोचते हैं अगर हम लोन नहीं चुका थे तो देख कर पहली बात आप का जो सी बीवी है वह खराब हो जाएगा आप नेक्स्ट टाइम तो लोग नहीं दे पाएंगे ठीक है सेकंड ऐसा उनका कोई दोस्त नहीं होता उनका रिकॉर्ड हो जाता है उनका इंश्योरेंस होता लो माल का बैंक का भी अपना एक इंश्योरेंस होता अगर कोई बैंक की किसी घाटे में जा रही होती है कोई बहुत ज्यादा उनके साथ फ्रॉड हो जाता है तो उनका भी अपना एक इंश्योरेंस होता है जिसके तहत वह लिखवा कर देते हैं आजकल रिक्स को कवर करने का और यह स्टेशन बहुत प्रेयर होती बहुत कम होती है पांच परसेंट होती है 100 में से ज्यादातर नहीं होता तो जो अच्छा बिजनेस मैंने वह एक परसेंट भी को नहीं लेता वह हर एक विक्स को खबर कर लेता है तो यही कंपनियों के साथ होता कंपनी हर एक लिस्ट को कवर करती है बहुत अच्छी बिजनेसमैन अगर कोई होगा यह बहुत बड़ा कंपनी अपने सुना होगा बहुत सारी कंपनी तुम कभी अपना एक लोग होते हैं लोग के साथ साथ उनका भी एक इंश्योरेंस होता दोनों चीजों पर चलती है कंपनी लोन और इंश्योरेंस से बाई चांस अगर उनका कोई भी प्रोग्राम कोई भी चीज अगर वह लांच कर रहे हैं वह घर फ्लॉप हो जाती है तो उसका जो रिकवर है वह कैसे करें बंधन है ना तो इन दोनों चीजों को कवर करने के लिए लोन और इंश्योरेंस की जो पॉलिसी बहुत ही जरूरी काम आती है और आप भी याद है जब भी आप कोई लोन ले तो लोन के साथ एक इंश्योरेंस पॉलिसी भी आती है बाई चांस कुछ भी इस तरह का टाइम होता है तो कोई भी ऐसी सिचुएशन आती है जिसमें व्यक्ति असमर्थ होता है लोन चुकाने के लिए इंश्योरेंस के माध्यम से उसका पीएम पूरा उत्तर दिया जाता है आई होप सो दैट पोस्ट आपके लिए काफी हेल्प लो काफी नॉलेज बोलो आपको काफी होंगे या नॉलेज मिली होगी लोन के अगेंस्ट और अच्छा लगा तो कमेंट कर सकते हैं और फॉलो कर सकते हमारी प्रोफाइल पेज को इस तरह के सवाल जवाब को सुनने के लिए और लाइक जरूर कर दीजिए इस पोस्ट को
Namaskaar kabhee na kabhee to yah savaal sabhee ke jehan mein aata hoga jab ham lon lene jaate hain ya koee bhee aisee cheej hai jo ham parachej karate hain baay chaans jisaka phon hai dekho na rahe to phir kya hoga kya diseejan hai ki jis tarah se ham ya baink mein apana akaunt khulava aate hain to usamen ke nominee disaid kiya jaata hai aur bhaee saahab aisee koee paristhiti aatee hai to lon vaalon ka bhee apana ek inshyorens hota hai to us inshyorens ke tahat unaka jo bhee bhugataan hota jo bhee los hota hai usaka baat bolenge kyonki vah dikha dete ki yah banda bhee nahin hai to kyon ki koee bhee vyakti riks par nahin kaam karata har kaheen na kaheen har ek vyakti isako khabar karane kee pooree yojana banaakar chalata hai to yahee lon ke saath bhee hota hai bahut se log aajakal aadhaar kaard pain kaard ke maadhyam se onalain aip jo hote hain un se lon le lee thee ab sochate hain agar ham lon nahin chuka the to dekh kar pahalee baat aap ka jo see beevee hai vah kharaab ho jaega aap nekst taim to log nahin de paenge theek hai sekand aisa unaka koee dost nahin hota unaka rikord ho jaata hai unaka inshyorens hota lo maal ka baink ka bhee apana ek inshyorens hota agar koee baink kee kisee ghaate mein ja rahee hotee hai koee bahut jyaada unake saath phrod ho jaata hai to unaka bhee apana ek inshyorens hota hai jisake tahat vah likhava kar dete hain aajakal riks ko kavar karane ka aur yah steshan bahut preyar hotee bahut kam hotee hai paanch parasent hotee hai 100 mein se jyaadaatar nahin hota to jo achchha bijanes mainne vah ek parasent bhee ko nahin leta vah har ek viks ko khabar kar leta hai to yahee kampaniyon ke saath hota kampanee har ek list ko kavar karatee hai bahut achchhee bijanesamain agar koee hoga yah bahut bada kampanee apane suna hoga bahut saaree kampanee tum kabhee apana ek log hote hain log ke saath saath unaka bhee ek inshyorens hota donon cheejon par chalatee hai kampanee lon aur inshyorens se baee chaans agar unaka koee bhee prograam koee bhee cheej agar vah laanch kar rahe hain vah ghar phlop ho jaatee hai to usaka jo rikavar hai vah kaise karen bandhan hai na to in donon cheejon ko kavar karane ke lie lon aur inshyorens kee jo polisee bahut hee jarooree kaam aatee hai aur aap bhee yaad hai jab bhee aap koee lon le to lon ke saath ek inshyorens polisee bhee aatee hai baee chaans kuchh bhee is tarah ka taim hota hai to koee bhee aisee sichueshan aatee hai jisamen vyakti asamarth hota hai lon chukaane ke lie inshyorens ke maadhyam se usaka peeem poora uttar diya jaata hai aaee hop so dait post aapake lie kaaphee help lo kaaphee nolej bolo aapako kaaphee honge ya nolej milee hogee lon ke agenst aur achchha laga to kament kar sakate hain aur pholo kar sakate hamaaree prophail pej ko is tarah ke savaal javaab ko sunane ke lie aur laik jaroor kar deejie is post ko

#खेल कूद

bolkar speaker
क्या मर जाना है सभी समस्याओं का समाधान है?Mar Jana Hai Sabhi Samasyaon Ka Samadhan
Yogi Nath Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Yogi जी का जवाब
Unknown
2:58
जीवन के संघर्ष से हार कर एक व्यक्ति आत्महत्या करने जा रहा होता है वह कौन से कूदने वाला होता है तभी एक व्यक्ति उसके पास आकर उससे पूछता है भाई तुम आत्महत्या क्यों करना चाहते हो उसने बताया यह सारी समस्याएं आ रही है इसलिए मेरा जीवन बहुत ज्यादा मुश्किल से भरा है मैं ऐसा जीवन नहीं जी सकता उसने कहा अच्छा ठीक है अगर तुम्हें आत्महत्या करनी है तो 1 महीने बात कर लेना उसने कहा भाई मैं आज मारूं या 1 महीने बाद मारूं तुम्हें इससे क्या तेरा अगर आप 1 महीने बाद मरेंगे तो मेरा फायदा हो जाएगा मैं आपके नाम पर एक इंश्योरेंस करवा लूंगा और उसके बाद आप मर जाना और आपका नॉमिनी में बन जाऊंगा और आपके इंश्योरेंस के पैसे मुझे मिल जाएंगे उस व्यक्ति ने सोचा जो मर रहा था आत्महत्या कर रहा था कि चलो मरते-मरते पुण्य का काम कर देते हैं किसी के काम तो आ जाए अभी तक तो आया नहीं शायद जाते जाते ही किसी का काम आ जाए तो सोचता है ठीक है एक महीने बाद आत्महत्या कर लूंगा तो जब उसको सारी सुविधाएं दी जाती है 1 महीने तक रहने के लिए जैसे सोने की मुर्गी देने वाले अंडे की क्यों होता है कहानी होती तो अब जब उसको कहता है एक महीने बाद की भाई अब तुम आत्महत्या कर लो पता नहीं मैं अब आत्महत्या नहीं करूंगा क्योंकि उसे सब सुख सुविधाएं मिली हुई होती उसे उस जीवन का महत्व समझ आ जाता है कई बार ऐसा ही होता जब हम समस्याओं से घिरे होते हमें नजर नहीं आती परेशानियों से निकलने का रास्ता नजर नहीं आता और हमें लगता कि जीवन बस यही है इन्हीं समस्याओं से घिरा हुआ है लेकिन वास्तविकता में संसार बहुत ही ज्यादा सुंदर है बहुत ज्यादा ही रोचक और उसकी महत्व तभी हमें मिलता है पता चलता है जब हम उसको एक्सपीरियंस करते हैं तो जब भी इस तरह के ख्याल आपके मन में आए तो थोड़ा सा समय दे तुरंत एक्शन ना करें या ना करें क्योंकि हम जब गुस्से में कोई फैसला करते हैं तो हमारी बुद्धि काम नहीं करती और उसके वजह से हमें और हमारे से जुड़े हुए लोगों को बहुत समय के लिए पछताना तो मैं एक उदाहरण दूंगा अमेरिका के 2 राष्ट्रपति थे अब्राहम लिंकन वह कभी भी जब गुस्से में कोई प्रतिक्रिया करनी होती थी तो वह एक लेटर लिखा करते थे उस लेटर को पोस्ट नहीं करते थे उससे 2 घंटे बाद दोबारा रेट करते थे फिर देखते थे उन्हें खुद ही यकीन नहीं होता था कि उन्होंने की चीजें लिखी है अपने हाथों से इस तरह की गुस्से वाले पत्र यही कहना चाहूंगा कि पहले कोई भी प्रतिक्रिया ना करें जब भी कोई समस्या है उस पर जितना हो सके समय दे जितना ज्यादा आप समझोगे उतनी ही ज्यादा अच्छे से आप निर्णय ले पाओगे उतनी अच्छी नजरिए से आप दुनिया को देख पाओगे कई बार हमारी आंखों पर पट्टी बंध जाती है जिसकी वजह से कुछ दिखाई नहीं देता कुछ समय के लिए लेकिन जब वह हस्ती है तुम्हारी दुनिया जो है जो सुंदर दुनिया वह दिखती है
Jeevan ke sangharsh se haar kar ek vyakti aatmahatya karane ja raha hota hai vah kaun se koodane vaala hota hai tabhee ek vyakti usake paas aakar usase poochhata hai bhaee tum aatmahatya kyon karana chaahate ho usane bataaya yah saaree samasyaen aa rahee hai isalie mera jeevan bahut jyaada mushkil se bhara hai main aisa jeevan nahin jee sakata usane kaha achchha theek hai agar tumhen aatmahatya karanee hai to 1 maheene baat kar lena usane kaha bhaee main aaj maaroon ya 1 maheene baad maaroon tumhen isase kya tera agar aap 1 maheene baad marenge to mera phaayada ho jaega main aapake naam par ek inshyorens karava loonga aur usake baad aap mar jaana aur aapaka nominee mein ban jaoonga aur aapake inshyorens ke paise mujhe mil jaenge us vyakti ne socha jo mar raha tha aatmahatya kar raha tha ki chalo marate-marate puny ka kaam kar dete hain kisee ke kaam to aa jae abhee tak to aaya nahin shaayad jaate jaate hee kisee ka kaam aa jae to sochata hai theek hai ek maheene baad aatmahatya kar loonga to jab usako saaree suvidhaen dee jaatee hai 1 maheene tak rahane ke lie jaise sone kee murgee dene vaale ande kee kyon hota hai kahaanee hotee to ab jab usako kahata hai ek maheene baad kee bhaee ab tum aatmahatya kar lo pata nahin main ab aatmahatya nahin karoonga kyonki use sab sukh suvidhaen milee huee hotee use us jeevan ka mahatv samajh aa jaata hai kaee baar aisa hee hota jab ham samasyaon se ghire hote hamen najar nahin aatee pareshaaniyon se nikalane ka raasta najar nahin aata aur hamen lagata ki jeevan bas yahee hai inheen samasyaon se ghira hua hai lekin vaastavikata mein sansaar bahut hee jyaada sundar hai bahut jyaada hee rochak aur usakee mahatv tabhee hamen milata hai pata chalata hai jab ham usako eksapeeriyans karate hain to jab bhee is tarah ke khyaal aapake man mein aae to thoda sa samay de turant ekshan na karen ya na karen kyonki ham jab gusse mein koee phaisala karate hain to hamaaree buddhi kaam nahin karatee aur usake vajah se hamen aur hamaare se jude hue logon ko bahut samay ke lie pachhataana to main ek udaaharan doonga amerika ke 2 raashtrapati the abraaham linkan vah kabhee bhee jab gusse mein koee pratikriya karanee hotee thee to vah ek letar likha karate the us letar ko post nahin karate the usase 2 ghante baad dobaara ret karate the phir dekhate the unhen khud hee yakeen nahin hota tha ki unhonne kee cheejen likhee hai apane haathon se is tarah kee gusse vaale patr yahee kahana chaahoonga ki pahale koee bhee pratikriya na karen jab bhee koee samasya hai us par jitana ho sake samay de jitana jyaada aap samajhoge utanee hee jyaada achchhe se aap nirnay le paoge utanee achchhee najarie se aap duniya ko dekh paoge kaee baar hamaaree aankhon par pattee bandh jaatee hai jisakee vajah se kuchh dikhaee nahin deta kuchh samay ke lie lekin jab vah hastee hai tumhaaree duniya jo hai jo sundar duniya vah dikhatee hai

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
उत्पत्ति एकादशी की कथा क्या है?Utpatti Ekadashi Ki Katha Kya Hai
Yogi Nath Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Yogi जी का जवाब
Unknown
2:58
हरे कृष्ण कृष्ण से युधिष्ठिर ने पूछा प्रभु उत्पत्ति एकादशी कैसे हुई तो भगवान श्रीकृष्ण ने युधिष्ठिर को कहा कि सतयुग में मोड़ नामक एक दानव था जिसने पूरे संसार को जीत लिया था तीनों लोग को और देवताओं को विवश कर दिया था पृथ्वी पर विचरण करने के लिए देवता अपनी समस्या को लेकर भगवान शिव के पास पहुंचे भगवान शिव ने कहा आपकी समस्या का समाधान गरुड़ध्वज भगवान हरि विष्णु करेंगे आप उनके पास जाएं सारे देवता पताल में सागर के बीचो बीच पहुंचे वहां उन्होंने विनती की भगवान श्री श्री विष्णु जी से कि प्रभु हमें इस दैत्य से मुर नामक देते थे हमें आजादी पिलाएं याद दिला दो भगवान श्री हरि विष्णु जी ने असत्य के बारे में पूछा कौन है वह दोनों ने बताया देवराज इंद्र ने की ब्रह्मा के वंश से हुए दाल नामक एक असूल के पुत्र है मुर्दा ना जो कि चंद्रावती नाम की नगरी में रहते हैं अब उन्होंने उसका वध करने के लिए भगवान श्री हरि ने उसके पास गए हैं तो बहुत तो युद्ध काफी समय चला उसके पश्चात भगवान हरि विष्णु सिंगर वती गुफा में जाकर विश्राम करने लगे हैं योग्य उतरा में उनके पीछे पीछे मुड़ नामक दैत्य भी वहां पहुंचा तो उन्होंने मारने के लिए प्रयास किया जैसे उन्होंने आज तो उठाया तो भगवान श्री हरि के देर से एक दिव्य ज्योति प्रकट हुई जिसके हुंकार मात्र से ही मोड़ नामक दैत्य का संहार हो गया और उस कन्या को ही उत्पत्ति एकादशी कहा जाता है उसे भगवान ने वरदान दिया कि जो कोई भी तुम्हारा व्रत करेगा उसे संसार की हर एक सिद्धियां हर एक व्यक्ति सॉरी वैभव प्राप्त होगा मुझे यह कथा सुनने का उसका भी उद्धार होगा आशा करता हूं यह कथा आपके जीवन में सकारात्मक परिवर्तन लाए
Hare krshn krshn se yudhishthir ne poochha prabhu utpatti ekaadashee kaise huee to bhagavaan shreekrshn ne yudhishthir ko kaha ki satayug mein mod naamak ek daanav tha jisane poore sansaar ko jeet liya tha teenon log ko aur devataon ko vivash kar diya tha prthvee par vicharan karane ke lie devata apanee samasya ko lekar bhagavaan shiv ke paas pahunche bhagavaan shiv ne kaha aapakee samasya ka samaadhaan garudadhvaj bhagavaan hari vishnu karenge aap unake paas jaen saare devata pataal mein saagar ke beecho beech pahunche vahaan unhonne vinatee kee bhagavaan shree shree vishnu jee se ki prabhu hamen is daity se mur naamak dete the hamen aajaadee pilaen yaad dila do bhagavaan shree hari vishnu jee ne asaty ke baare mein poochha kaun hai vah donon ne bataaya devaraaj indr ne kee brahma ke vansh se hue daal naamak ek asool ke putr hai murda na jo ki chandraavatee naam kee nagaree mein rahate hain ab unhonne usaka vadh karane ke lie bhagavaan shree hari ne usake paas gae hain to bahut to yuddh kaaphee samay chala usake pashchaat bhagavaan hari vishnu singar vatee gupha mein jaakar vishraam karane lage hain yogy utara mein unake peechhe peechhe mud naamak daity bhee vahaan pahuncha to unhonne maarane ke lie prayaas kiya jaise unhonne aaj to uthaaya to bhagavaan shree hari ke der se ek divy jyoti prakat huee jisake hunkaar maatr se hee mod naamak daity ka sanhaar ho gaya aur us kanya ko hee utpatti ekaadashee kaha jaata hai use bhagavaan ne varadaan diya ki jo koee bhee tumhaara vrat karega use sansaar kee har ek siddhiyaan har ek vyakti soree vaibhav praapt hoga mujhe yah katha sunane ka usaka bhee uddhaar hoga aasha karata hoon yah katha aapake jeevan mein sakaaraatmak parivartan lae

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
आप अपना कितना वक्त स्मार्टफोन के साथ बिताते हैं ?Aap Apna Kitna Vaqt Smartphone Ke Saath Bitate Hain
Yogi Nath Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Yogi जी का जवाब
Unknown
2:59
नमस्कार मेरे पास एक सिक्का है और उस सिक्के के दो पहलू हैं है तो वह एक ही लेकिन उसके पहलू तुम्हें कहने का अभिप्राय यही है कि हर चीज के दो नजरियों होते अच्छा और बुरा भी जैसा कि आपने प्रश्न किया है कि अब स्मार्टफोन में कितना वक्त एस्कवा स्मार्टफोन के साथ बिताते हैं तो यह आपके ऊपर निर्भर करता कि आप उसका इस्तेमाल किस प्रकार से करते हैं मैं इतना महत्व नहीं देता व्यस्त उसूल के इस्तेमाल के लिए स्मार्टफोन पर इतना वक्त नहीं देता हूं लेकिन इस स्मार्टफोन की महत्वता को मैं अच्छे से समझता हूं कि कितना महत्वपूर्ण है हम सभी के जीवन में इसके बहुत से फायदे हैं अगर से सही तरीके से इस्तेमाल किया जाए जैसे नेट बैंकिंग हो गई समस्या रहती थी पैसे ट्रांसफर करने के लिए बहुत से झंझट होते थे अब सरिता से आपको यह सारे काम कर सकते हैं किसी से बात करनी हूं किसी को मैसेज भेजना हो और भी बहुत सारे सवाल जवाब आपके मन में जो चल रहे होते उन्हें आप पूछ सकते हैं जान सकते हैं सिर्फ और सिर्फ आपके हाथ में जो स्मार्ट वालेकुम के माध्यम से आप पूरे संसार से कनेक्ट कर सकते हैं पूरे संसार की जानकारी आपको मिल जाएगी आपके स्मार्टफोन पर बस यह निर्धारित आपके ऊपर करता है कि आप किस चीज को ज्यादा तकलीफ देते हैं जितना ज्यादा महत्व देते बहुत से लोग स्मार्टफोन का इस्तेमाल गेमिंग के लिए करते हैं बेफिजूल का समय अलग थोड़े वक्त के लिए अगर आप कहीं वेटिंग रूम में है या थोड़ा वेट करें तो मैं यह सलाह नहीं दूंगा कि वहां पर भी आप गेम खेलें वहां अपने आप को प्रिपेयर करें इस काम के लिए आप गए हैं जिस काम के लिए वेट करें लेकिन बोला कि अगर आपको वेट करना थोड़ा समझ कर लटका दो अब थोड़ा 5 से 10 मिनट गेम खेल सकते हैं अपने माइंड को फ्रेश करने के लिए कई बार बहुत सारी ऐसी समस्याएं आती है जटिल समस्याओं से निकलने में हमें बहुत मुश्किल होती परेशानी आती है तो उसके लिए हम थोड़ा अपना माइंड फ्रेश करने के लिए थोड़ा बहुत गेम खेल सकते 5 से 10 मिनट गेमिंग में बुरी चीज नहीं है लेकिन हम हर चीज की खेती होती अगर आप किसी चीज को बहुत ज्यादा करोगे अगर बहुत ज्यादा खाना भी खाओ जाओ कितना भी हेल्दी फूड क्यों ना हो आप को नुकसान पहुंचाएगा आप कितनी अच्छी है एक साइड एक्सरसाइज बहुत ज्यादा करो और अपने शरीर को देखना दो वह भी आप को नुकसान पहुंचाएगा तो हर चीज का इस्तेमाल सही तरीके से करना यह बहुत महत्वपूर्ण है इसके साथ-साथ उसके नियंत्रण टाइमिंग पर नियंत्रण करना वह भी बहुत जरूरी है प्लीज
Namaskaar mere paas ek sikka hai aur us sikke ke do pahaloo hain hai to vah ek hee lekin usake pahaloo tumhen kahane ka abhipraay yahee hai ki har cheej ke do najariyon hote achchha aur bura bhee jaisa ki aapane prashn kiya hai ki ab smaartaphon mein kitana vakt eskava smaartaphon ke saath bitaate hain to yah aapake oopar nirbhar karata ki aap usaka istemaal kis prakaar se karate hain main itana mahatv nahin deta vyast usool ke istemaal ke lie smaartaphon par itana vakt nahin deta hoon lekin is smaartaphon kee mahatvata ko main achchhe se samajhata hoon ki kitana mahatvapoorn hai ham sabhee ke jeevan mein isake bahut se phaayade hain agar se sahee tareeke se istemaal kiya jae jaise net bainking ho gaee samasya rahatee thee paise traansaphar karane ke lie bahut se jhanjhat hote the ab sarita se aapako yah saare kaam kar sakate hain kisee se baat karanee hoon kisee ko maisej bhejana ho aur bhee bahut saare savaal javaab aapake man mein jo chal rahe hote unhen aap poochh sakate hain jaan sakate hain sirph aur sirph aapake haath mein jo smaart vaalekum ke maadhyam se aap poore sansaar se kanekt kar sakate hain poore sansaar kee jaanakaaree aapako mil jaegee aapake smaartaphon par bas yah nirdhaarit aapake oopar karata hai ki aap kis cheej ko jyaada takaleeph dete hain jitana jyaada mahatv dete bahut se log smaartaphon ka istemaal geming ke lie karate hain bephijool ka samay alag thode vakt ke lie agar aap kaheen veting room mein hai ya thoda vet karen to main yah salaah nahin doonga ki vahaan par bhee aap gem khelen vahaan apane aap ko pripeyar karen is kaam ke lie aap gae hain jis kaam ke lie vet karen lekin bola ki agar aapako vet karana thoda samajh kar lataka do ab thoda 5 se 10 minat gem khel sakate hain apane maind ko phresh karane ke lie kaee baar bahut saaree aisee samasyaen aatee hai jatil samasyaon se nikalane mein hamen bahut mushkil hotee pareshaanee aatee hai to usake lie ham thoda apana maind phresh karane ke lie thoda bahut gem khel sakate 5 se 10 minat geming mein buree cheej nahin hai lekin ham har cheej kee khetee hotee agar aap kisee cheej ko bahut jyaada karoge agar bahut jyaada khaana bhee khao jao kitana bhee heldee phood kyon na ho aap ko nukasaan pahunchaega aap kitanee achchhee hai ek said eksarasaij bahut jyaada karo aur apane shareer ko dekhana do vah bhee aap ko nukasaan pahunchaega to har cheej ka istemaal sahee tareeke se karana yah bahut mahatvapoorn hai isake saath-saath usake niyantran taiming par niyantran karana vah bhee bahut jarooree hai pleej

#धर्म और ज्योतिषी

Yogi Nath Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Yogi जी का जवाब
Unknown
2:59
एक बार एक व्यक्ति ने पूछा कि अगर सभी ज्ञानी बन गए सभी धनी बन गए सभी के पास ऐश्वर्या जाता है तो जो छोटे-मोटे कार्य हैं उन्हें कौन करेगा और इसमें जवाब दिया कि जब अज्ञानता होती है तो हिंसा अपराध होता है लेकिन अगर जॉब तो ज्ञानी मिलते हैं तो हमेशा ही सकारात्मक परिणाम आते हैं और देखा जाए अगर सभी संपन्न हो जाते हैं तो कहीं ना कहीं वह अपनी नई सुविधाओं के अनुसार अपने लिए स्थिति का निर्माण कर सकते हैं जो ज्ञानी बस अज्ञानता बस इस तरह के भय में जीते हैं कि अगर सभी के सभी के पास सारी संपन्न हो जाए सभी संपन्न हो जाए सारी संप्रदा आ जाए तो क्या होगा विनाश तो नहीं होता एक दूसरे से लगने तो नहीं लगेंगे तो ऐसा बिल्कुल नहीं है जब दो अज्ञानी लोग मिलते हैं तो बहस बाजी होती है हिंसा होता है लेकिन जब ज्ञानी को ज्ञानी व्यक्ति मिलते हैं तो शांति प्रेम और ऐश्वर्या की उत्पत्ति होती है मान लीजिए अगर सभी के सभी अमीर हो जाते हैं सभी के सभी ज्ञानी हो जाते हैं तो अपने लिए कुछ ना कुछ नया डिवेलप करेंगे टेक्नोलॉजी है और भी बहुत सारे सोर्स और बन जाते हैं बनते चले जाते आज देखने जिस तरह से हमारा समय इतना विकसित हो गया इस समय हमें हर चीज उपलब्ध है शायद नॉलेज हो जाए पैसा कमाना चाहते हो कुछ भी चीज है तो इससे भी चीज खत्म नहीं होती अच्छाई से हमेशा अच्छा ही बनती है बुरा ही नहीं होती यह डर लगा रहता है सबके मन में कैसा है वैसा है तो भी श्री राम का जो नाम है बहुत बहुत पवित्र है निर्मल उनका अर्थ यही है धर्म इतना श्री रघुकुल रीति सदा चली आई प्राण जाए पर वचन ना जाए और श्री राम जी तो पुरुषों में उत्तम मर्यादा पुरुषोत्तम है मर्यादा में हर काम करते हैं कभी भी उन्होंने अपनी मर्यादा लंगी नहीं चाहे उन्हें 1 मार्च जाना पड़ा 14 वर्ष के लिए उन्होंने कभी भी आपत्ति नहीं जाता है और चाय उनके राज्य के जो प्रजा है जो उनके पुत्र के समान थे उनके लिए भी उन्होंने जितना हो सका त्याग किया
Ek baar ek vyakti ne poochha ki agar sabhee gyaanee ban gae sabhee dhanee ban gae sabhee ke paas aishvarya jaata hai to jo chhote-mote kaary hain unhen kaun karega aur isamen javaab diya ki jab agyaanata hotee hai to hinsa aparaadh hota hai lekin agar job to gyaanee milate hain to hamesha hee sakaaraatmak parinaam aate hain aur dekha jae agar sabhee sampann ho jaate hain to kaheen na kaheen vah apanee naee suvidhaon ke anusaar apane lie sthiti ka nirmaan kar sakate hain jo gyaanee bas agyaanata bas is tarah ke bhay mein jeete hain ki agar sabhee ke sabhee ke paas saaree sampann ho jae sabhee sampann ho jae saaree samprada aa jae to kya hoga vinaash to nahin hota ek doosare se lagane to nahin lagenge to aisa bilkul nahin hai jab do agyaanee log milate hain to bahas baajee hotee hai hinsa hota hai lekin jab gyaanee ko gyaanee vyakti milate hain to shaanti prem aur aishvarya kee utpatti hotee hai maan leejie agar sabhee ke sabhee ameer ho jaate hain sabhee ke sabhee gyaanee ho jaate hain to apane lie kuchh na kuchh naya divelap karenge teknolojee hai aur bhee bahut saare sors aur ban jaate hain banate chale jaate aaj dekhane jis tarah se hamaara samay itana vikasit ho gaya is samay hamen har cheej upalabdh hai shaayad nolej ho jae paisa kamaana chaahate ho kuchh bhee cheej hai to isase bhee cheej khatm nahin hotee achchhaee se hamesha achchha hee banatee hai bura hee nahin hotee yah dar laga rahata hai sabake man mein kaisa hai vaisa hai to bhee shree raam ka jo naam hai bahut bahut pavitr hai nirmal unaka arth yahee hai dharm itana shree raghukul reeti sada chalee aaee praan jae par vachan na jae aur shree raam jee to purushon mein uttam maryaada purushottam hai maryaada mein har kaam karate hain kabhee bhee unhonne apanee maryaada langee nahin chaahe unhen 1 maarch jaana pada 14 varsh ke lie unhonne kabhee bhee aapatti nahin jaata hai aur chaay unake raajy ke jo praja hai jo unake putr ke samaan the unake lie bhee unhonne jitana ho saka tyaag kiya

#जीवन शैली

bolkar speaker
जीवन में ज्यादा महत्व किसका है मंजिल का यह सफर का?Jeevan Mein Jyada Mahatv Kiska Hai Manjil Ka Ya Safar Ka
Yogi Nath Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Yogi जी का जवाब
Unknown
2:58
मुस्कान बहुत ही रोचक प्रश्न किया है आपने के मंदिर या सफेद इसका ज्यादा महत्व ताजी में मंदिर जो है वह स्थाई है आप कभी ना कभी उस चीज को हासिल कर देंगे लेकिन सफल के साथ जो अनुभव होते हैं वह अस्थाई होते वह दोबारा नहीं आते जब आप किसी यात्रा पर निकलते हैं तो जिन चीजों का अनुभव करते हैं जो चीजें आपसे पीछे छूट ही जाते हैं वह जिंदगी में दोबारा आपके पास नहीं आएंगे इसलिए हमें इस चीज का जरूर ध्यान रखना चाहिए जो पल हम बिता रहे हैं उस चीज का संपूर्ण आनंद लेना चाहिए संपूर्ण उपयोग करना चाहिए पूरी तरह और होता अक्सर यह है कि हम मंजिल पाने की होड़ में इतने व्यस्त हो जाते हैं यह हमारे आसपास क्या चल रहा है कौन हमारी परवाह करता है कौन हमारी फिक्र करता है हां हम उन चीजों को बिल्कुल ही लग लेट कर देते अनदेखा करते थे कि कहीं ना कहीं अगर आपको चीज हासिल करना चाहते हैं उसके साथ-साथ आपको आशीर्वाद की आवश्यकता पड़ती है आप तभी हासिल कर सकते हैं जब आप किसी चीज को अपने आसपास की चीजों को महत्व देंगे क्योंकि जवाब मंजिल पर चढ़ते हैं तो आप पीढ़ी दर पीढ़ी करते करते थे के चलते अब डायरेक्ट नहीं चल पाता अगर कोई आपसे कहे 5 चिड़िया एक साथ झड़ जाएंगे तो कोई है मुश्किल है और उसका आप अपने आप को छोड़ भी पहुंचा देंगे तो आपका ध्यान हर एक सीडी पर होना चाहिए ताकि आपका बैलेंस बना रहे आप लड़का है ना ठीक है अगर आप लड़का है के नीचे गिर जाए फिर आपको दिक्कत भी होगी और फिर आप और ज्यादा मेहनत करना पड़ेगा इसलिए शुरू से ही अपना ध्यान उन चीजों पर इन छोटी-छोटी चीजों पर रखकर जो के जीवन में आ रही है चल रही है पर इससे क्या होगा आप बहुत जल्दी अपनी मंजिल तक पहुंच जाएंगे और आपको बिल्कुल भी हताशा निराशा है थकान महसूस नहीं होगी और आपको मजा आएगा जैसे हम किसी चंडी पर निकलते तो हमें जो दृष्टि मिलते हैं जो अनुभव होते हैं वह बहुत ही ज्यादा वेअर होते हैं जो लोग हमसे मिलते हैं उस सफर में के दौरान बहुत ज्यादा गैर होते क्योंकि हमने उनकी कल्पना भी नहीं की होती कि ऐसे ऐसे लोग में मिलेंगे फिर से अनुभव होंगे तो यह चीज और भेजो दिखा देते हैं जिससे कि हमारी मंजिल को पाना बहुत आसान हो जाता है अगर हम उन चीजों को नजरअंदाज करेंगे जब हम निकलते हैं तो हमारे को बहुत सारे साइन बोर्ड दिखाई देते रहते हैं
Muskaan bahut hee rochak prashn kiya hai aapane ke mandir ya saphed isaka jyaada mahatv taajee mein mandir jo hai vah sthaee hai aap kabhee na kabhee us cheej ko haasil kar denge lekin saphal ke saath jo anubhav hote hain vah asthaee hote vah dobaara nahin aate jab aap kisee yaatra par nikalate hain to jin cheejon ka anubhav karate hain jo cheejen aapase peechhe chhoot hee jaate hain vah jindagee mein dobaara aapake paas nahin aaenge isalie hamen is cheej ka jaroor dhyaan rakhana chaahie jo pal ham bita rahe hain us cheej ka sampoorn aanand lena chaahie sampoorn upayog karana chaahie pooree tarah aur hota aksar yah hai ki ham manjil paane kee hod mein itane vyast ho jaate hain yah hamaare aasapaas kya chal raha hai kaun hamaaree paravaah karata hai kaun hamaaree phikr karata hai haan ham un cheejon ko bilkul hee lag let kar dete anadekha karate the ki kaheen na kaheen agar aapako cheej haasil karana chaahate hain usake saath-saath aapako aasheervaad kee aavashyakata padatee hai aap tabhee haasil kar sakate hain jab aap kisee cheej ko apane aasapaas kee cheejon ko mahatv denge kyonki javaab manjil par chadhate hain to aap peedhee dar peedhee karate karate the ke chalate ab daayarekt nahin chal paata agar koee aapase kahe 5 chidiya ek saath jhad jaenge to koee hai mushkil hai aur usaka aap apane aap ko chhod bhee pahuncha denge to aapaka dhyaan har ek seedee par hona chaahie taaki aapaka bailens bana rahe aap ladaka hai na theek hai agar aap ladaka hai ke neeche gir jae phir aapako dikkat bhee hogee aur phir aap aur jyaada mehanat karana padega isalie shuroo se hee apana dhyaan un cheejon par in chhotee-chhotee cheejon par rakhakar jo ke jeevan mein aa rahee hai chal rahee hai par isase kya hoga aap bahut jaldee apanee manjil tak pahunch jaenge aur aapako bilkul bhee hataasha niraasha hai thakaan mahasoos nahin hogee aur aapako maja aaega jaise ham kisee chandee par nikalate to hamen jo drshti milate hain jo anubhav hote hain vah bahut hee jyaada vear hote hain jo log hamase milate hain us saphar mein ke dauraan bahut jyaada gair hote kyonki hamane unakee kalpana bhee nahin kee hotee ki aise aise log mein milenge phir se anubhav honge to yah cheej aur bhejo dikha dete hain jisase ki hamaaree manjil ko paana bahut aasaan ho jaata hai agar ham un cheejon ko najarandaaj karenge jab ham nikalate hain to hamaare ko bahut saare sain bord dikhaee dete rahate hain

#जीवन शैली

bolkar speaker
समाज की महिलाओं प्रति किस सोच को बदलना चाहिए?Samaj Ki Mahilao Prati Kis Soch Ko Badalna Chaiye
Yogi Nath Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Yogi जी का जवाब
Unknown
2:58
बात करें बदलाव यह सृष्टि का नियम है अशोक नियम जो सर्वदा चलता रहता है और हमें भी समय अनुसार चलना चाहिए जिस तरह से बदलाव होता हमारे शरीर में हमारे समय के अनुसार हमारे आसपास के माहौल में हमें उसके अनुरूप देना चाहिए अब देखा भी जाता जो समय के साथ वह कहते ना वक्त के साथ तालमेल मिलाता है वह व्यक्ति ही जीवन में सफलता हासिल करता जीवन में अपना एक मुकाम बना पाता है वरना अगर आप तालमेल नहीं बदला बना पाएंगे वक्त के साथ क्योंकि वक्त के साथ बदलाव होता है आप देखेंगे आप तो कुछ साल पहले बच्चे से बाल अवस्था थी फिर आपके युवावस्था फिर आगे चलकर वृद्धावस्था आती है तो हर एक अवस्था के अपने ही महत्व होते अगर कोई बुजुर्ग व्यक्ति लड़कपन करें या कोई ना समझी वाली बात करें बहुत ही गंभीर परिस्थिति हो जाते हैं उसके कह सकते हैं कि सोच और नजरिया को बहुत ज्यादा सीरियस समझाया था कि हां यह बहुत तजुर्बे कार व्यक्ति और इस तरह की बातें करना उसके लिए सो भी नहीं है नहीं होती वही बात करें अगर कोई बालक के इस तरह की बातें करता है नादानी पूर्वक तो हम उसे नजरअंदाज कर देते क्योंकि यह एक बालक है अभी बच्चा है इसे अदनान सामी ज्ञान नहीं है उसी प्रकार से जीवन में जो समाज में जो महिलाओं के प्रति पहले की जो धरना थी तू कहीं ना कहीं सही नहीं थी और आज समाज में देख रहे हैं महिलाएं हर तरफ अपना कैसे योगदान दे रही है या किसी भी कार्य क्षेत्र में बात करें हर एक कार्य क्षेत्र में कार्य करते हैं और बढ़-चढ़कर पुरुषों से भी बढ़ जाता है ऐसे में हमें उनका सम्मान करना चाहिए क्योंकि चाहे महिला हो या पुरुष हो अगर वह किसी पद पर उसका कोई फादर निर्धारित किया गया है तो उसकी रिस्पेक्ट हमें करनी चाहिए उस पद की रिस्पेक्ट जानी चाहिए ऐसा नहीं होगी यह पुरुष स्त्री है और यह इस क्षेत्र में कैसे आगे बढ़ सकती है ऐसा होना नहीं चाहिए क्योंकि शुरू से ही इस पुरुष प्रधान की जो सोच रही है हमारे समाज में वह कहीं ना कहीं हमारे मन में मनमुटाव का जरिया बन जाता है और हम सब महिलाओं के प्रति सम्मानजनक दृष्टि नहीं बना पाते शुरू से ही सिखाया जाता है कि पुरुष प्रधान होता है तो आज समय बदल रहा है आजा हर एक के समानता का अधिकार है हर किसी को चाहे वह किसी भी जाति धर्म से या किसी भी क्षेत्र से चुनाव संबंधित हो लेकिन इस चीज को हम नजरअंदाज नहीं कर सकते और बिल्कुल भी करना भी नहीं चाहिए सम्मान की आवश्यकता हर किसी को दिया और सम्मान देना ही सम्मान पाने की पहली निशानी होती है
Baat karen badalaav yah srshti ka niyam hai ashok niyam jo sarvada chalata rahata hai aur hamen bhee samay anusaar chalana chaahie jis tarah se badalaav hota hamaare shareer mein hamaare samay ke anusaar hamaare aasapaas ke maahaul mein hamen usake anuroop dena chaahie ab dekha bhee jaata jo samay ke saath vah kahate na vakt ke saath taalamel milaata hai vah vyakti hee jeevan mein saphalata haasil karata jeevan mein apana ek mukaam bana paata hai varana agar aap taalamel nahin badala bana paenge vakt ke saath kyonki vakt ke saath badalaav hota hai aap dekhenge aap to kuchh saal pahale bachche se baal avastha thee phir aapake yuvaavastha phir aage chalakar vrddhaavastha aatee hai to har ek avastha ke apane hee mahatv hote agar koee bujurg vyakti ladakapan karen ya koee na samajhee vaalee baat karen bahut hee gambheer paristhiti ho jaate hain usake kah sakate hain ki soch aur najariya ko bahut jyaada seeriyas samajhaaya tha ki haan yah bahut tajurbe kaar vyakti aur is tarah kee baaten karana usake lie so bhee nahin hai nahin hotee vahee baat karen agar koee baalak ke is tarah kee baaten karata hai naadaanee poorvak to ham use najarandaaj kar dete kyonki yah ek baalak hai abhee bachcha hai ise adanaan saamee gyaan nahin hai usee prakaar se jeevan mein jo samaaj mein jo mahilaon ke prati pahale kee jo dharana thee too kaheen na kaheen sahee nahin thee aur aaj samaaj mein dekh rahe hain mahilaen har taraph apana kaise yogadaan de rahee hai ya kisee bhee kaary kshetr mein baat karen har ek kaary kshetr mein kaary karate hain aur badh-chadhakar purushon se bhee badh jaata hai aise mein hamen unaka sammaan karana chaahie kyonki chaahe mahila ho ya purush ho agar vah kisee pad par usaka koee phaadar nirdhaarit kiya gaya hai to usakee rispekt hamen karanee chaahie us pad kee rispekt jaanee chaahie aisa nahin hogee yah purush stree hai aur yah is kshetr mein kaise aage badh sakatee hai aisa hona nahin chaahie kyonki shuroo se hee is purush pradhaan kee jo soch rahee hai hamaare samaaj mein vah kaheen na kaheen hamaare man mein manamutaav ka jariya ban jaata hai aur ham sab mahilaon ke prati sammaanajanak drshti nahin bana paate shuroo se hee sikhaaya jaata hai ki purush pradhaan hota hai to aaj samay badal raha hai aaja har ek ke samaanata ka adhikaar hai har kisee ko chaahe vah kisee bhee jaati dharm se ya kisee bhee kshetr se chunaav sambandhit ho lekin is cheej ko ham najarandaaj nahin kar sakate aur bilkul bhee karana bhee nahin chaahie sammaan kee aavashyakata har kisee ko diya aur sammaan dena hee sammaan paane kee pahalee nishaanee hotee hai

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
ऐसा कौन सा मंत्र है या उपाय है जिससे पूरी कुंडली मजबूत बन सके?Aisa Kaun Sa Mantra Hai Ya Upay Hai Jisse Puri Kundli Majbut Ban Sake
Yogi Nath Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Yogi जी का जवाब
Unknown
2:58
ज्ञान ताकत वैभव इन सभी के केंद्र बिंदु हमारे अंदर ही समाया होता है बाहर कहीं नहीं होता सब हमारे तरफ केंद्र बिंदु को संबोधित किया जाने कुंडली रूप में एक कुंडली जागरण होता है चक्र हमारे जब जागते हैं लड़के तो हमारे पास संपदा के हम स्वामी बन जाते हैं चाहे वह ज्ञान हो बुद्धि बल वैभव धन हर एक तरह की चीजों के हम स्वामी बन जाते स्वामी पर तो आ जाता है आपने हमारे अंदर और उससे भी बढ़कर जैसे कि आपने प्रश्न क्या है कि ऐसा कौन सा मंत्र है या उपाय है जिससे पूरी कुंडली मजबूत बन सके कुंडली मजबूत बनाने का यहां विषय नहीं है कुंडली अपने आप में ही सार्थक है वह सबसे संपूर्ण है सबसे ज्यादा मजबूत सबसे ज्यादा ताकतवर चीज है उसमें किसी प्रकार की निर्मलता यह कमजोरी नहीं होती जो व्यक्ति को उसकी खुद मैं खुद दुर्बलता तुम दूर होती जाती है चाहे वह मानसिक रूप से वह सारी भी रुक जाओ या आर्थिक रूप से वह हर चीज में संपन्न हो जाता समर्थन खो जाता है किसी चीज की कमी नहीं रहती मैं लगता है तेज रहा था तो यह प्रश्न जो अपने क्या है बात यह है कि हम अपनी कुंडली को किस तरह से व्यवस्थित रूप से संचालित कर सकते उसे अपने जागृत कर सकते हैं और इसके लिए कोई मंत्र या एक भी नहीं है आपके भावनात्मक आपके अनुभवों पर आधारित हैं निर्भर करता है कि आप उसे किस प्रकार से अनुभव करते हैं उसके अनुरोध इस प्रकार से महसूस करते जब आपके अंदर जो केंद्र बिंदु होते हैं उसमें से ऊर्जा निकलती है तो अलग ही अनुभव आपको प्रदान करते हैं नजरिया आपको देती है जीवन को देखने का समझने का अपने आप को समझने का एक अलग नजरिया प्रदान करते हैं फिर वह खुद ब खुद अपने आप में जागृत होने लगती है उसके लिए किसी चीज की आवश्यकता नहीं होती अब देखेंगे जिन लोगों की कुंडली जागृत है उनमें से उन सब ने की थी जो भेजी है वह सब बहुत अलग-अलग है एक दूसरे से बहुत बड़ी थे सिमिलर नहीं है इसका मतलब यही है कि आप की अनुभूति ही आपकी कुंडली जागरण में बहुत अहम रोल निभाती है अब यह कैसे पता करें ऐसा नहीं है कोई व्यक्ति अगर का किसी क्षेत्र में कार्यरत है उसके पास टाइम नहीं है और कार्य में सांसारिक जीवन में इतना व्यस्त अपनी जो कह सकते हैं तो उन चीजों में की वजह से समय नहीं दे पा रहा है उसके पास समय नहीं है
Gyaan taakat vaibhav in sabhee ke kendr bindu hamaare andar hee samaaya hota hai baahar kaheen nahin hota sab hamaare taraph kendr bindu ko sambodhit kiya jaane kundalee roop mein ek kundalee jaagaran hota hai chakr hamaare jab jaagate hain ladake to hamaare paas sampada ke ham svaamee ban jaate hain chaahe vah gyaan ho buddhi bal vaibhav dhan har ek tarah kee cheejon ke ham svaamee ban jaate svaamee par to aa jaata hai aapane hamaare andar aur usase bhee badhakar jaise ki aapane prashn kya hai ki aisa kaun sa mantr hai ya upaay hai jisase pooree kundalee majaboot ban sake kundalee majaboot banaane ka yahaan vishay nahin hai kundalee apane aap mein hee saarthak hai vah sabase sampoorn hai sabase jyaada majaboot sabase jyaada taakatavar cheej hai usamen kisee prakaar kee nirmalata yah kamajoree nahin hotee jo vyakti ko usakee khud main khud durbalata tum door hotee jaatee hai chaahe vah maanasik roop se vah saaree bhee ruk jao ya aarthik roop se vah har cheej mein sampann ho jaata samarthan kho jaata hai kisee cheej kee kamee nahin rahatee main lagata hai tej raha tha to yah prashn jo apane kya hai baat yah hai ki ham apanee kundalee ko kis tarah se vyavasthit roop se sanchaalit kar sakate use apane jaagrt kar sakate hain aur isake lie koee mantr ya ek bhee nahin hai aapake bhaavanaatmak aapake anubhavon par aadhaarit hain nirbhar karata hai ki aap use kis prakaar se anubhav karate hain usake anurodh is prakaar se mahasoos karate jab aapake andar jo kendr bindu hote hain usamen se oorja nikalatee hai to alag hee anubhav aapako pradaan karate hain najariya aapako detee hai jeevan ko dekhane ka samajhane ka apane aap ko samajhane ka ek alag najariya pradaan karate hain phir vah khud ba khud apane aap mein jaagrt hone lagatee hai usake lie kisee cheej kee aavashyakata nahin hotee ab dekhenge jin logon kee kundalee jaagrt hai unamen se un sab ne kee thee jo bhejee hai vah sab bahut alag-alag hai ek doosare se bahut badee the similar nahin hai isaka matalab yahee hai ki aap kee anubhooti hee aapakee kundalee jaagaran mein bahut aham rol nibhaatee hai ab yah kaise pata karen aisa nahin hai koee vyakti agar ka kisee kshetr mein kaaryarat hai usake paas taim nahin hai aur kaary mein saansaarik jeevan mein itana vyast apanee jo kah sakate hain to un cheejon mein kee vajah se samay nahin de pa raha hai usake paas samay nahin hai

#जीवन शैली

bolkar speaker
आत्मनिर्भरता के महत्व को उदाहरण सहित समझाइए?Aatmnirbharta Ke Mahatv Ko Udaharan Sahit Samjhaiye
Yogi Nath Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Yogi जी का जवाब
Unknown
2:58
बहुत समय पहले एक कृषि हुआ करते थे और वह किसी से कोई भी मतलब नहीं रखते थे और उन्हें किसी भी चीज की कोई आवश्यकता की किसी की इतनी जरूरत नहीं होती थी चाहे वह पैसों की हो या रहन-सहन की वास्ता हो या खानपान की व्यवस्था हो किसी भी चीज से उन्हें कोई तकलीफ नहीं हुआ कभी किसी चीज की कोई परेशानी नहीं होती थी और किसी चीज की कोई टेंशन नहीं होती थी और जब लोगों ने उससे पूछा कि आखिर आप इस तरह से कैसे रहते हैं आपको किसी प्रकार की कोई चिंता दर्द है क्यों नहीं रहता उन्होंने कहा कि मैं आत्मनिर्भर हूं तो जो व्यक्ति ने होता उसे किसी प्रकार का डर भय चिंता नहीं रहता अब यहां सवाल आ रहा है कि आत्म निर्भरता क्या है इसका महत्व क्या है आखिर यह होता है अरिजीत कैसे किया जाता है जो व्यक्ति अपने आप में एक संप्रदाय का ठेका लेता है संप्रदाय से मेरा मतलब धन से नहीं पड़ जाएगा कि हर एक चीज ध्यान योग शिक्षा और प्रशिक्षण और बुद्धि और बल हो कुछ भी आप किसी एक से पूरी तरह से उसकी से धनी है तो आप अपने आप में आत्मनिर्भर हैं संपूर्ण जैसे एक योगी परमात्मा का पूरी तरह से परमात्मा आत्मनिर्भर रहता है उसने अपने जीवन की डोर उस को समर्पित कर दिया कि समर्पण ही आत्मनिर्भर का सबसे बड़ा मैं तो एकदम किसी के प्रति समर्पित हो जाते हैं किसी के भी प्रति क्या हुआ अपना लक्ष्य हो क्या अपनी कोई भी क्षमता हो उसके पत्ते का धन समर्पित हो जाते हैं तो हम देखते कि हम आत्मनिर्भर हो गए हैं जैसा कि मैंने ऋषि के बारे में कहा उन्होंने अपना सबकुछ समर्पित कर दिया था परमात्मा को हैंग भगवान को तूने किसी चीज की चिंता नहीं रहेगी उन्होंने जो कुछ भी आप करोगे आपके हाथों इसी तरह से जब हम किसी को अपने आप को समर्पित कर देते हैं जीवन में चाहे वह कुछ भी हो जहां को पैसा कमाना है सक्सेसफुल बनना हो या कोई संगीतकार बनाया कोई बॉडी बिल्डर बनना कोई एथलेटिक्स बना कोई रेसलर ना जब हम ईमानदारी के साथ समर्पित होते हैं तो हम आत्मनिर्भर बन जाते हैं और फिर हमें किसी चीज का कोई दर्द है नहीं रहता
Bahut samay pahale ek krshi hua karate the aur vah kisee se koee bhee matalab nahin rakhate the aur unhen kisee bhee cheej kee koee aavashyakata kee kisee kee itanee jaroorat nahin hotee thee chaahe vah paison kee ho ya rahan-sahan kee vaasta ho ya khaanapaan kee vyavastha ho kisee bhee cheej se unhen koee takaleeph nahin hua kabhee kisee cheej kee koee pareshaanee nahin hotee thee aur kisee cheej kee koee tenshan nahin hotee thee aur jab logon ne usase poochha ki aakhir aap is tarah se kaise rahate hain aapako kisee prakaar kee koee chinta dard hai kyon nahin rahata unhonne kaha ki main aatmanirbhar hoon to jo vyakti ne hota use kisee prakaar ka dar bhay chinta nahin rahata ab yahaan savaal aa raha hai ki aatm nirbharata kya hai isaka mahatv kya hai aakhir yah hota hai arijeet kaise kiya jaata hai jo vyakti apane aap mein ek sampradaay ka theka leta hai sampradaay se mera matalab dhan se nahin pad jaega ki har ek cheej dhyaan yog shiksha aur prashikshan aur buddhi aur bal ho kuchh bhee aap kisee ek se pooree tarah se usakee se dhanee hai to aap apane aap mein aatmanirbhar hain sampoorn jaise ek yogee paramaatma ka pooree tarah se paramaatma aatmanirbhar rahata hai usane apane jeevan kee dor us ko samarpit kar diya ki samarpan hee aatmanirbhar ka sabase bada main to ekadam kisee ke prati samarpit ho jaate hain kisee ke bhee prati kya hua apana lakshy ho kya apanee koee bhee kshamata ho usake patte ka dhan samarpit ho jaate hain to ham dekhate ki ham aatmanirbhar ho gae hain jaisa ki mainne rshi ke baare mein kaha unhonne apana sabakuchh samarpit kar diya tha paramaatma ko haing bhagavaan ko toone kisee cheej kee chinta nahin rahegee unhonne jo kuchh bhee aap karoge aapake haathon isee tarah se jab ham kisee ko apane aap ko samarpit kar dete hain jeevan mein chaahe vah kuchh bhee ho jahaan ko paisa kamaana hai saksesaphul banana ho ya koee sangeetakaar banaaya koee bodee bildar banana koee ethaletiks bana koee resalar na jab ham eemaanadaaree ke saath samarpit hote hain to ham aatmanirbhar ban jaate hain aur phir hamen kisee cheej ka koee dard hai nahin rahata

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
अकेलेपन की भावना को दूर करने के लिए मुझे क्या करना चाहिए?Akelepan Ki Bhavna Ko Door Karne Ke Lie Mujhe Kya Karna Chaiye
Yogi Nath Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Yogi जी का जवाब
Unknown
2:58
उसका व्यक्ति जब खुद में दिलचस्पी लेने लगता है ना तो उसका के लेपन खुद-ब-खुद खत्म हो जाता है अकेलापन दरअसल तब होता है जब हम खुद को इतना महत्व नहीं देते और दूसरों को बहुत ज्यादा महत्व देने लगते हैं हम बाहरी तौर पर खुशियां जोड़ते हैं चाहे वह कोई वस्तु बहुत जिया कोई व्यक्ति हो हम पूरी तरह से उस पर डिपेंड हो जाते हैं अगर वह मिलेगा वह हमारे साथ रहेगा यह चीज में हमें हासिल हो जाएगी तो हमें खुशी मिलेगी अचीवमेंट लेकिन इस खुशी को बहुत कराने वाला फोन है हम खुद हैं सर खुशियां अंदर से आती है हम अपने से ज्यादा दूसरों को जानने में दिलचस्पी रखने लगते हैं तो हमें अकेलापन 2:00 बजे तक जब हम खुद को जानने की कोशिश करेंगे खुद को समय देंगे अपनी अच्छाई और बुराई अपनी कमियों को अपनी जो समर्थ है उसको अगर समय देंगे जाने की कोशिश करेंगे टटोलने की कोशिश करें खुद को खंगालने की कोशिश करेंगे तो कभी भी आप अकेलापन लगेगा आप इतने व्यस्त हो जाएंगे आप अपने आप में ही एक ही यूनिवर्सिटी हैं आप अपने आप में यह कैसी किताब है जो कभी खत्म होने वाली होती है और बहुत ज्यादा दिलचस्प होती है तो अपने आप को जानने की कोशिश करें अपने आप को समझने की कोशिश करें वास्तविक में आप करना क्या चाहते हैं और उसे किस तरह से करना चाहते क्या हासिल करना चाहता फिर से हासिल कर सकते हैं इन चीजों पर काम करेंगे आप पाएंगे कि सब लोग आपके पास आने लगेंगे अब से जुड़ने लगे जवाब किसी के पास भागते होना चाहते हो तो आप से दूर भागते हैं फिर आप उसके पास और जा रही कोशिश करता हूं पूरी बढ़ाता है ज्यादातर लोग पता कीजिए तो टाइप भी अपने अंदर अपने आप में अपनी प्रतिभा को बढ़ाता है तो लोग खुद उसके पास आने चाहते उसे अट्रैक्टिव होते हैं किसी और से ट्रेक्टर होने के बजाय खुद को इतना अट्रैक्टिव बनाएं अपनी प्रतिभा को भी लोग आपके पास आना चाहे आप से मिलना चाहे तो इस तरह से आपका जवाब ही अकेलापन है खुद ब खुद हो जाएगा कि आप कमेंट के माध्यम से अपनी अपनी राय स्पोर्ट्स के बारे में जो मैंने आपको बात बताई नहीं हो जरूर रखें हमारे समक्ष और इस तरह के सवाल जवाब सुनने के लिए सब्सक्राइब कर सकते हैं हमारा प्रोफाइल पेज और बैल आइकन है उसे जरूर जब आइएगा ताकि नोटिफिकेशन मिले जब भी मैं कोई नई पोस्ट अपलोड करूं और लाइक करें अगर आपको यह पता
Usaka vyakti jab khud mein dilachaspee lene lagata hai na to usaka ke lepan khud-ba-khud khatm ho jaata hai akelaapan darasal tab hota hai jab ham khud ko itana mahatv nahin dete aur doosaron ko bahut jyaada mahatv dene lagate hain ham baaharee taur par khushiyaan jodate hain chaahe vah koee vastu bahut jiya koee vyakti ho ham pooree tarah se us par dipend ho jaate hain agar vah milega vah hamaare saath rahega yah cheej mein hamen haasil ho jaegee to hamen khushee milegee acheevament lekin is khushee ko bahut karaane vaala phon hai ham khud hain sar khushiyaan andar se aatee hai ham apane se jyaada doosaron ko jaanane mein dilachaspee rakhane lagate hain to hamen akelaapan 2:00 baje tak jab ham khud ko jaanane kee koshish karenge khud ko samay denge apanee achchhaee aur buraee apanee kamiyon ko apanee jo samarth hai usako agar samay denge jaane kee koshish karenge tatolane kee koshish karen khud ko khangaalane kee koshish karenge to kabhee bhee aap akelaapan lagega aap itane vyast ho jaenge aap apane aap mein hee ek hee yoonivarsitee hain aap apane aap mein yah kaisee kitaab hai jo kabhee khatm hone vaalee hotee hai aur bahut jyaada dilachasp hotee hai to apane aap ko jaanane kee koshish karen apane aap ko samajhane kee koshish karen vaastavik mein aap karana kya chaahate hain aur use kis tarah se karana chaahate kya haasil karana chaahata phir se haasil kar sakate hain in cheejon par kaam karenge aap paenge ki sab log aapake paas aane lagenge ab se judane lage javaab kisee ke paas bhaagate hona chaahate ho to aap se door bhaagate hain phir aap usake paas aur ja rahee koshish karata hoon pooree badhaata hai jyaadaatar log pata keejie to taip bhee apane andar apane aap mein apanee pratibha ko badhaata hai to log khud usake paas aane chaahate use atraiktiv hote hain kisee aur se trektar hone ke bajaay khud ko itana atraiktiv banaen apanee pratibha ko bhee log aapake paas aana chaahe aap se milana chaahe to is tarah se aapaka javaab hee akelaapan hai khud ba khud ho jaega ki aap kament ke maadhyam se apanee apanee raay sports ke baare mein jo mainne aapako baat bataee nahin ho jaroor rakhen hamaare samaksh aur is tarah ke savaal javaab sunane ke lie sabsakraib kar sakate hain hamaara prophail pej aur bail aaikan hai use jaroor jab aaiega taaki notiphikeshan mile jab bhee main koee naee post apalod karoon aur laik karen agar aapako yah pata

#जीवन शैली

Yogi Nath Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Yogi जी का जवाब
Unknown
2:58
एक बार एक गांव में एक बुजुर्ग महिला की मृत्यु हो जाती है जिसकी शोक सभा में बहुत सारे लोग आए थे अपना दुख व्यक्त कर रहे थे घर से बहुत अच्छी थी हमारी अम्मा जैसी थी कोई कहा कि हां यह तो वह तुम्हारी क्या पूरे गांव की अम्मा जैसी थी ऐसा था वैसा था फिर वो शोक सभा के बाद कुछ दिन बीते और एक और मृत्यु हो गई इसमें एक युवा महिला की मृत्यु हो गई थी तो फिर से शोकसभा हुई उसमें एक ऐसा व्यक्ति आया जो बिना सोचे समझे बात करता था तो उसे लगा कि पिछली बार इस तरह से बात हुई थी तो बहुत लोगों ने सांत्वना दी थी कह रहे थे तो बड़ा अच्छा इंसान है उसने कहा कि यह महिला सिर्फ तुम्हारी महिला नीति पूरे गांव की महिला थी मेरी महिला आती है सबके तुम्हारी औरत नहीं थी मेरी औरत की शक्ति और अतुलकर पूरे गांव वाले को बहुत गुस्सा आया उस व्यक्ति को बहुत पीटा अबे उसकी बहुत तो ज्यादा पिटाई हुई तो बहुत ज्यादा उसके हड्डी हड्डी टूट गई बहुत ज्यादा उसे चोट आई तो अब वह पछता रहा था कि यह मैंने क्या कहा अगर मैं इस तरह की बात ना कहता बेतुके के सवाल जवाब हमारे शरीर में एक के जो शब्द है बोलना हमें उसकी महत्वता नहीं पता जबकि हम बोलने से किसी के दर्द पर घाव भी लगा सकते हो किसी के घाव पर नमक मत छिड़क पर 6 शब्दों का खेल है सब कुछ लेकिन हम इस की महत्वता को नहीं समझते और जहां भी बिना सोचे समझे बोलने लगते ज्यादातर देखा गया है कि यही होता है और हमें करना यही चाहिए कि जब भी किसी व्यक्ति से मिलो उससे बात करो एक बार खुद से वह चीजें यूटिलाइज करो बात करके देखो सोचो एक बार मन में वह चीजें सही से सोच लो विचार कर लो कि जो मैं बात कहने वाला हूं तो उसका क्या प्रभाव पड़ेगा मेरे लिए उस व्यक्ति के ऊपर क्या प्रभाव पड़ेगा कि बिना सोचे समझे सोचे विचारे जो ना करें वह पाछे पछताय काम बिगाड़े अपना जग में हंसी उड़ाए तो इस प्रकार की हरकतें नहीं करनी चाहिए जब भी कोई बातें करो तो अपने बोलने का अपने शब्दों का महत्व संख्या एक कहावत है रघुकुल रीत सदा चली आई प्राण जाए पर वचन ना जाए 10 शब्दों का सारा खेल है और सोचे समझे कि हम क्या कह रहे हैं कितना कहना चाहिए क्योंकि बाद में चलकर वही शब्द हमारे लिए दिक्कत हो जाते कभी हम खुश होकर बहुत ज्यादा किसी को कोई वचन देते थे और बाद में पता चलता है कि इससे तो हमारा हमें बहुत ज्यादा दिक्कत हो रही है परेशानी हो रही है क्योंकि हम उस वचन को पूरा नहीं कर पाते या करने में असमर्थ होते तो जब भी बातों को सोचे कहे तो सोचे समझे हमें लगता है कि यह सहज है मुफ्त में मिल रहा है कुछ ज्यादा दिक्कत नहीं होती बोलने में किसी का क्या पैसा खर्च हो रहा है बोल दो जो मन की मन में आया ऐसा नहीं करना चाहिए
Ek baar ek gaanv mein ek bujurg mahila kee mrtyu ho jaatee hai jisakee shok sabha mein bahut saare log aae the apana dukh vyakt kar rahe the ghar se bahut achchhee thee hamaaree amma jaisee thee koee kaha ki haan yah to vah tumhaaree kya poore gaanv kee amma jaisee thee aisa tha vaisa tha phir vo shok sabha ke baad kuchh din beete aur ek aur mrtyu ho gaee isamen ek yuva mahila kee mrtyu ho gaee thee to phir se shokasabha huee usamen ek aisa vyakti aaya jo bina soche samajhe baat karata tha to use laga ki pichhalee baar is tarah se baat huee thee to bahut logon ne saantvana dee thee kah rahe the to bada achchha insaan hai usane kaha ki yah mahila sirph tumhaaree mahila neeti poore gaanv kee mahila thee meree mahila aatee hai sabake tumhaaree aurat nahin thee meree aurat kee shakti aur atulakar poore gaanv vaale ko bahut gussa aaya us vyakti ko bahut peeta abe usakee bahut to jyaada pitaee huee to bahut jyaada usake haddee haddee toot gaee bahut jyaada use chot aaee to ab vah pachhata raha tha ki yah mainne kya kaha agar main is tarah kee baat na kahata betuke ke savaal javaab hamaare shareer mein ek ke jo shabd hai bolana hamen usakee mahatvata nahin pata jabaki ham bolane se kisee ke dard par ghaav bhee laga sakate ho kisee ke ghaav par namak mat chhidak par 6 shabdon ka khel hai sab kuchh lekin ham is kee mahatvata ko nahin samajhate aur jahaan bhee bina soche samajhe bolane lagate jyaadaatar dekha gaya hai ki yahee hota hai aur hamen karana yahee chaahie ki jab bhee kisee vyakti se milo usase baat karo ek baar khud se vah cheejen yootilaij karo baat karake dekho socho ek baar man mein vah cheejen sahee se soch lo vichaar kar lo ki jo main baat kahane vaala hoon to usaka kya prabhaav padega mere lie us vyakti ke oopar kya prabhaav padega ki bina soche samajhe soche vichaare jo na karen vah paachhe pachhataay kaam bigaade apana jag mein hansee udae to is prakaar kee harakaten nahin karanee chaahie jab bhee koee baaten karo to apane bolane ka apane shabdon ka mahatv sankhya ek kahaavat hai raghukul reet sada chalee aaee praan jae par vachan na jae 10 shabdon ka saara khel hai aur soche samajhe ki ham kya kah rahe hain kitana kahana chaahie kyonki baad mein chalakar vahee shabd hamaare lie dikkat ho jaate kabhee ham khush hokar bahut jyaada kisee ko koee vachan dete the aur baad mein pata chalata hai ki isase to hamaara hamen bahut jyaada dikkat ho rahee hai pareshaanee ho rahee hai kyonki ham us vachan ko poora nahin kar paate ya karane mein asamarth hote to jab bhee baaton ko soche kahe to soche samajhe hamen lagata hai ki yah sahaj hai mupht mein mil raha hai kuchh jyaada dikkat nahin hotee bolane mein kisee ka kya paisa kharch ho raha hai bol do jo man kee man mein aaya aisa nahin karana chaahie

#जीवन शैली

bolkar speaker
आप समाज की सोच और खुद की सोच में क्या फर्क देखते हैं?Aap Samaj Ki Soch Aur Khud Ki Soch Mein Kya Fark Dekhte Hain
Yogi Nath Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Yogi जी का जवाब
Unknown
2:58
नमस्कार एक बार मैं रास्ते से जा रहा था तभी मुझे कुछ ठोकर से लगी और मेरा बैलेंस बिगड़ गया और मैं थोड़ा सा हंसी का पात्र सा बन गया और मुझे यह सोचकर शर्म से आ रही थी कि मुझे जिन लोगों ने देखा नोटिस क्या हमारे आस-पास के समाज में वह क्या राय बना रहे होंगे मेरे बारे में कि ठीक तरह से चल नहीं पा रहा थोड़ी देर यह विचार आया लेकिन उसके बाद फिर मैंने अपने आप को इस चीजों से हटाया और प्रेस माइंड ओके हंसता हुआ निकल गया तो मैंने यह बात दरअसल इसलिए की क्योंकि हमारे मन में बहुत सारे विचार आ जाते हैं समाज को लेकर सोच को लेकर वह दरअसल होता कुछ नहीं है समाज का निर्माण हमारे हमसे ही होता है कोई व्यक्ति किसी के निजी जीवन में कोई हस्तक्षेप नहीं कर सकता किसी को आज के जमाने में किसी की पड़ी नहीं होती हम खुद से लोग सोचते हैं कि यह हमारे बारे में क्या सोचेगा वह क्या सोचेगा लेकिन खुद भूल जाता कि हम अपने बारे में क्या सोच रखते हैं खुद के बारे में हमारी क्या सोचे क्या राय है दिलचस्पी किसी की किसी में नहीं होती सबसे ज्यादा खुशी दिलचस्पी लोगों की अपने आप में होती है यह सर्वे से पता चला है कि लोगों को अपने बारे में बात करना अपने बारे में सोचना सबसे ज्यादा अच्छा लगता है ऐसे में हम बेवजह ही फिक्र करते हैं कि हमारे आसपास के लोग क्या कहेंगे क्या सोचेंगे समाज क्या कहेगा क्या सोचेगा तो यह सारी चीजें एक भ्रम है और भ्रम का पैदाइश जितनी जल्दी हो सके हट जाए तो अच्छा रहता नहीं तो आंखों पर भ्रम की पट्टी पड़ी रहती है तो जीवन में बहुत सी ऐसी ठोकने लगती रहती हैं जैसा मैंने जिक्र किया और उसे समझना बड़ा मुश्किल हो जाता है तो अपने जीवन में एक सही राय बनाएं अपने लिए अपने लिए बनाएं किसी और के लिए नहीं बनाया मैं यह कह रहा हूं कि आप अपने लिए अपनी अच्छी इमेज बनाया अपनी राय बने अपने लिए किसी को दिखाने की आवश्यकता नहीं है किसी को नहीं कोई आपके बारे में कुछ भी कहे क्योंकि समाज का निर्माण हमारे खुद के विचारों से था हम चार लोग हैं हम फ्रेंड से उनके अपने अपने विचार जो होते हैं वह एक कम्युनिटी एक ग्रुप का निर्माण करती है आगे चलकर वही एक समाज बन जाता है हर एक समाज का अपना एक के सभ्यताओं की है अपना ही रहन-सहन का तरीका होता तो और तरीका होता है तो आप ही तालमेल अपने विचारों की वजह से बनता है तो हम भूल जाते हैं कि इस समाज का निर्माण हमसे होता है समाज के हम भी एक अंग है अपने आप को सूचित करें अपने आपको अपने आप को डेवलप करें और आपका समाज आप वह भी अच्छा होता चला जाएगा हम समाज को सुधारने चले जाते लेकिन क्या हम अपने आप को सुधार पाते बस यही चाहूंगा कि आप खुद के बारे में बातें करना सीख ले खुद के बारे में जानना सीख ले हम बाहर के बारे में बहुत कुछ जानने लगते हैं बहुत कुछ जानते कि यह व्यक्ति क्या करता है यह व्यक्ति कैसा था उसके जीवन में यही आगरा की समस्याएं उसने इस तरह से दूसरों के बजाय खुद
Namaskaar ek baar main raaste se ja raha tha tabhee mujhe kuchh thokar se lagee aur mera bailens bigad gaya aur main thoda sa hansee ka paatr sa ban gaya aur mujhe yah sochakar sharm se aa rahee thee ki mujhe jin logon ne dekha notis kya hamaare aas-paas ke samaaj mein vah kya raay bana rahe honge mere baare mein ki theek tarah se chal nahin pa raha thodee der yah vichaar aaya lekin usake baad phir mainne apane aap ko is cheejon se hataaya aur pres maind oke hansata hua nikal gaya to mainne yah baat darasal isalie kee kyonki hamaare man mein bahut saare vichaar aa jaate hain samaaj ko lekar soch ko lekar vah darasal hota kuchh nahin hai samaaj ka nirmaan hamaare hamase hee hota hai koee vyakti kisee ke nijee jeevan mein koee hastakshep nahin kar sakata kisee ko aaj ke jamaane mein kisee kee padee nahin hotee ham khud se log sochate hain ki yah hamaare baare mein kya sochega vah kya sochega lekin khud bhool jaata ki ham apane baare mein kya soch rakhate hain khud ke baare mein hamaaree kya soche kya raay hai dilachaspee kisee kee kisee mein nahin hotee sabase jyaada khushee dilachaspee logon kee apane aap mein hotee hai yah sarve se pata chala hai ki logon ko apane baare mein baat karana apane baare mein sochana sabase jyaada achchha lagata hai aise mein ham bevajah hee phikr karate hain ki hamaare aasapaas ke log kya kahenge kya sochenge samaaj kya kahega kya sochega to yah saaree cheejen ek bhram hai aur bhram ka paidaish jitanee jaldee ho sake hat jae to achchha rahata nahin to aankhon par bhram kee pattee padee rahatee hai to jeevan mein bahut see aisee thokane lagatee rahatee hain jaisa mainne jikr kiya aur use samajhana bada mushkil ho jaata hai to apane jeevan mein ek sahee raay banaen apane lie apane lie banaen kisee aur ke lie nahin banaaya main yah kah raha hoon ki aap apane lie apanee achchhee imej banaaya apanee raay bane apane lie kisee ko dikhaane kee aavashyakata nahin hai kisee ko nahin koee aapake baare mein kuchh bhee kahe kyonki samaaj ka nirmaan hamaare khud ke vichaaron se tha ham chaar log hain ham phrend se unake apane apane vichaar jo hote hain vah ek kamyunitee ek grup ka nirmaan karatee hai aage chalakar vahee ek samaaj ban jaata hai har ek samaaj ka apana ek ke sabhyataon kee hai apana hee rahan-sahan ka tareeka hota to aur tareeka hota hai to aap hee taalamel apane vichaaron kee vajah se banata hai to ham bhool jaate hain ki is samaaj ka nirmaan hamase hota hai samaaj ke ham bhee ek ang hai apane aap ko soochit karen apane aapako apane aap ko devalap karen aur aapaka samaaj aap vah bhee achchha hota chala jaega ham samaaj ko sudhaarane chale jaate lekin kya ham apane aap ko sudhaar paate bas yahee chaahoonga ki aap khud ke baare mein baaten karana seekh le khud ke baare mein jaanana seekh le ham baahar ke baare mein bahut kuchh jaanane lagate hain bahut kuchh jaanate ki yah vyakti kya karata hai yah vyakti kaisa tha usake jeevan mein yahee aagara kee samasyaen usane is tarah se doosaron ke bajaay khud

#जीवन शैली

bolkar speaker
हमेशा उत्साहित रहने के लिए हमें क्या करना चाहिए?Hamesha Utsahit Rehne Ke Lie Humein Kya Karna Chaiye
Yogi Nath Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Yogi जी का जवाब
Unknown
2:58
नमस्कार एक सर्वे के अनुसार पता चला है कि हममें से ज्यादातर लोग बाहरी चीज को देख कर खुश होने सोचते हैं कि हमें अगर कोई बाहर ही चीज मिल जाए जो कीमती वस्तु होती है वह मिल जाए तो हमें खुशी मिलेगी गुस्सा आएगा लेकिन वास्तविकता क्या होती है वास्तविक में ऐसा कुछ नहीं होता जितने भी उत्साह खुशियां होती वह हमारे अंदर होते हैं बाहर से कोई नहीं सब एक माध्यम है कभी आप रिलायंस करो कि कभी आपका मूड खराब हो उस समय कोई कितनी अच्छी जोक सुनाएं कितनी अच्छी है फनी हरकतें करें लेकिन आपको उस समय खुशियां उत्साह नहीं मिलेगा क्योंकि आप अंदर से दुखी हूं जब आप अंदर से खुश होते ना तो किसी और माध्यम की आवश्यकता नहीं पड़ती आपने देखा होगा योगियों को ध्यान लगाते हुए उनको किसी चीज की खुशी नहीं होती अंदर से उत्साहित होते आनंदित होते क्योंकि उन्हें अपना बेस पता होता है जिस चीज को बाहर खोज रहे हो तो वह असल में अंदर है वह सारी दुनिया उनकी अपने अंदर होती है वह सारी एनर्जी जो है अंदर होती जब आप खुश होते तो अभी आप किसी को खुश रह सकते जब आपके पास कोई चीज है धन है तभी तो आप किसी को दे पाओगे अब आप खुद कंगाल हो आपके पास खुद वह चीजें नहीं है तो आप किसी को क्या दोगे तो इसलिए जब खुशियां हासिल करनी होती है खुशियां देनी होती है तो आप खुद से शुरुआत करें और इसके लिए किसी चीज के आसरा बनाने की जरूरत नहीं है कि इसके माध्यम से हमें खुशी मिलेगी अगर हमारे जीवन में यह चीज आ गया हमने यह अचीव कर दिया हमने यह डिग्री हासिल कर लिया यह चीजें अच्छी नौकरी में अच्छे पोस्ट अगर हासिल कर लिया तो हमें खुशी मिलेगी तो ऐसा कुछ नहीं अब जिंदगी के जो समय व्यर्थ कर दोगे और समय बहुत मूल्यवान होता है वैसे धन सभी चीजों से एक बार जाने के बाद दोबारा नहीं आ सकता कितना भी आपको लो लो गिड़गिड़ा लो कितना भी पैसे दो कुछ भी करो अब समय नहीं खरीद सकते कोई व्यक्ति दुनिया का इतना अमीर नहीं है कि पैसा खरीद और पैसे से समय को खरीद सके और कोई इतना गरीब नहीं है किस समय का सदुपयोग ना कर सके तो हमेशा खुश रहने के लिए आपको किसी चीज की आवश्यकता नहीं खुद से पूछिए अपने आप से बात कीजिए अपने आप को जानने की कोशिश कीजिए कि मैं हूं कौन मेरा क्या काम है मुझे क्या करना चाहिए जीवन में तो आप खुद मैं खुद उत्साहित रहेंगे हां मुझे पता है मैं अंधेरे में नहीं हूं मैं गुमराह नहीं व्यक्ति भाई हताश निराश होता जिसको रास्ता नहीं देखा जब आपने देखा होगा कोई व्यक्ति भटक जाता रास्ता तभी तो वह ताश होता जिसको मंजिल अपना रास्ता मालूम रहता है वह कभी हताश नहीं होता वह मौज लेते हुए चलता है उसे पता कि आगे चलकर मुझे यह चीज हासिल होगी जीवन में एक लक्ष्य बनाएं गोल बनाएं और उसके प्रति काम करें अपने आप को समर्पित करें आशा करता हूं यह पोस्ट आपके जीवन में बहुत ज्यादा लाभदायक हो और अच्छा लगे तो जरूर इसे लाइक करें और कमेंट के माध्यम से जरूर अपने
Namaskaar ek sarve ke anusaar pata chala hai ki hamamen se jyaadaatar log baaharee cheej ko dekh kar khush hone sochate hain ki hamen agar koee baahar hee cheej mil jae jo keematee vastu hotee hai vah mil jae to hamen khushee milegee gussa aaega lekin vaastavikata kya hotee hai vaastavik mein aisa kuchh nahin hota jitane bhee utsaah khushiyaan hotee vah hamaare andar hote hain baahar se koee nahin sab ek maadhyam hai kabhee aap rilaayans karo ki kabhee aapaka mood kharaab ho us samay koee kitanee achchhee jok sunaen kitanee achchhee hai phanee harakaten karen lekin aapako us samay khushiyaan utsaah nahin milega kyonki aap andar se dukhee hoon jab aap andar se khush hote na to kisee aur maadhyam kee aavashyakata nahin padatee aapane dekha hoga yogiyon ko dhyaan lagaate hue unako kisee cheej kee khushee nahin hotee andar se utsaahit hote aanandit hote kyonki unhen apana bes pata hota hai jis cheej ko baahar khoj rahe ho to vah asal mein andar hai vah saaree duniya unakee apane andar hotee hai vah saaree enarjee jo hai andar hotee jab aap khush hote to abhee aap kisee ko khush rah sakate jab aapake paas koee cheej hai dhan hai tabhee to aap kisee ko de paoge ab aap khud kangaal ho aapake paas khud vah cheejen nahin hai to aap kisee ko kya doge to isalie jab khushiyaan haasil karanee hotee hai khushiyaan denee hotee hai to aap khud se shuruaat karen aur isake lie kisee cheej ke aasara banaane kee jaroorat nahin hai ki isake maadhyam se hamen khushee milegee agar hamaare jeevan mein yah cheej aa gaya hamane yah acheev kar diya hamane yah digree haasil kar liya yah cheejen achchhee naukaree mein achchhe post agar haasil kar liya to hamen khushee milegee to aisa kuchh nahin ab jindagee ke jo samay vyarth kar doge aur samay bahut moolyavaan hota hai vaise dhan sabhee cheejon se ek baar jaane ke baad dobaara nahin aa sakata kitana bhee aapako lo lo gidagida lo kitana bhee paise do kuchh bhee karo ab samay nahin khareed sakate koee vyakti duniya ka itana ameer nahin hai ki paisa khareed aur paise se samay ko khareed sake aur koee itana gareeb nahin hai kis samay ka sadupayog na kar sake to hamesha khush rahane ke lie aapako kisee cheej kee aavashyakata nahin khud se poochhie apane aap se baat keejie apane aap ko jaanane kee koshish keejie ki main hoon kaun mera kya kaam hai mujhe kya karana chaahie jeevan mein to aap khud main khud utsaahit rahenge haan mujhe pata hai main andhere mein nahin hoon main gumaraah nahin vyakti bhaee hataash niraash hota jisako raasta nahin dekha jab aapane dekha hoga koee vyakti bhatak jaata raasta tabhee to vah taash hota jisako manjil apana raasta maaloom rahata hai vah kabhee hataash nahin hota vah mauj lete hue chalata hai use pata ki aage chalakar mujhe yah cheej haasil hogee jeevan mein ek lakshy banaen gol banaen aur usake prati kaam karen apane aap ko samarpit karen aasha karata hoon yah post aapake jeevan mein bahut jyaada laabhadaayak ho aur achchha lage to jaroor ise laik karen aur kament ke maadhyam se jaroor apane

#जीवन शैली

bolkar speaker
सुबह सर्दियों में उठने में इतना आलस क्यों आता है?Subah Sardiyon Mein Uthne Mein Itna Aalas Kyun Aata Hai
Yogi Nath Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Yogi जी का जवाब
Unknown
2:58
नमस्कार आज मैं आपको एक कहानी सुनाता हूं एक व्यक्ति था उसके बाद 2:00 पर यह एक अच्छी परी एक बुरी परी उसके पास हमेशा रहते थे एक अच्छी सलाह देते थे एक बुरी सलाह देते थे डिसीजन उस व्यक्ति को ही लेना होता था तो अक्सर जब भी कोई दुविधा आती थी तो वह दोनों से ही पूछा करता था कि क्या करना चाहिए उस सिचुएशन में क्या उसे वह काम करना चाहिए या नहीं करना चाहिए अच्छी परी कहती थी कि करना चाहिए थोड़ी सी मेहनत लगेगी थोड़ा सा दुख तकलीफ होगा लेकिन आपको ही काम करना चाहिए दूसरे तरीके से नहीं तुम्हें कोई कष्ट उठाने की आवश्यकता क्या है किसी की को तुम्हें आराम मिल रहा है आराम करो वह उसे बहला-फुसलाकर अपने जाल में फंसा लेते थे कि ठीक है तुम्हें कुछ करने की जरूरत नहीं वह दूसरा व्यक्ति भी कहता था या मुझे कुछ करने की जरूरत नहीं मेरे पास इतनी सारी सुख सुविधाएं हैं लेकिन कुछ समय बाद स्थितियां बद से बदतर होती जा रही है फिर उसे रिलायंस होता है कि काश मैंने समय निकल जाने के बाद कि काश मैंने अच्छी परी की बात सुन ली होती दरअसल यह मैंने इसलिए कहा क्योंकि आपने जैसा प्रश्न किया है कि सुबह सर्दी में उठना इतना आलस क्यों आता है तो देखें हमारे ही विचार होते हैं अच्छे विचार और बुरे विचार अब हम डिसाइड नहीं कर पाते कि हमें किसकी बात सुननी चाहिए जब हम कोई ऐसा काम करते हैं जो कहीं ना कहीं हमारे करना मुश्किल तुम्हारे मन से एक आवाज आती कि यार यह अगर हम करेंगे थोड़ी सी मेहनत करके अगर सुबह जल्दी उठेंगे तो उसके बहुत सारे फायदे हैं लेकिन वही अच्छे विचार को हम नजरअंदाज कर देते हैं और बुरे विचार के साथ हो लेते हैं वह हमें यह कहता की क्या जरूरत है अभी बाहर सर्दी होगी जल्दी मत उठाओ बीमार हो जाओगे यहां पर इतना अच्छा गद्दा है बड़े आराम से गर्म माहौल है सोते रहो रिलैक्स करो क्या जरूरत है लेकिन समय-समय ठहरता नहीं इस समय कितना हर चीज को दूध का दूध और पानी का पानी कर देता है हर चीज बता देता है कि आखिर किसकी बात सुननी चाहिए कुछ भी नहीं आज रिजल्ट जब आता है जब मन चाहे कुछ भी लिखो कुछ भी करो रिजल्ट आपको क्लियर कर देता कि आपके पास कितने आएंगे कितने यह जीवन का है ज्यादातर लोग यही करते हैं ऐसे में मैं यही चाहता हूं कि आप अपने अच्छे विचारों को सुनें थोड़ा सा अपने आपको पोस्ट करें थोड़ा सा अपने आप को ढके ले उठाएं की कोशिश करें बस थोड़ा सा शुरुआती देता था ना गाड़ी को की लगाने की जरूरत होती है उसके बाद अपने आप काम ऑटोमेटिक हो जाता है बस उसकी को नहीं लगाते जिंदगी की जो गाड़ी होती है उसको किक लगाने की आवश्यकता होती हो हम उस पिक से बचते की क्या करेंगे मेहनत करके क्या करेंगे लेकिन अगर आप थोड़ी सी मेहनत करते हैं तो सुबह उठ जाते हो तो आपका दिन देखोगे आप बहुत अच्छा जाएगा और आपको बहुत सारी चीजें हासिल होगी जिंदगी में जो आपकी आदतों की वजह से कुछ ऐसे ही आदत होती लेजी पन्ना की वजह से नहीं हो पाती थी अब आप सो जाइए
Namaskaar aaj main aapako ek kahaanee sunaata hoon ek vyakti tha usake baad 2:00 par yah ek achchhee paree ek buree paree usake paas hamesha rahate the ek achchhee salaah dete the ek buree salaah dete the diseejan us vyakti ko hee lena hota tha to aksar jab bhee koee duvidha aatee thee to vah donon se hee poochha karata tha ki kya karana chaahie us sichueshan mein kya use vah kaam karana chaahie ya nahin karana chaahie achchhee paree kahatee thee ki karana chaahie thodee see mehanat lagegee thoda sa dukh takaleeph hoga lekin aapako hee kaam karana chaahie doosare tareeke se nahin tumhen koee kasht uthaane kee aavashyakata kya hai kisee kee ko tumhen aaraam mil raha hai aaraam karo vah use bahala-phusalaakar apane jaal mein phansa lete the ki theek hai tumhen kuchh karane kee jaroorat nahin vah doosara vyakti bhee kahata tha ya mujhe kuchh karane kee jaroorat nahin mere paas itanee saaree sukh suvidhaen hain lekin kuchh samay baad sthitiyaan bad se badatar hotee ja rahee hai phir use rilaayans hota hai ki kaash mainne samay nikal jaane ke baad ki kaash mainne achchhee paree kee baat sun lee hotee darasal yah mainne isalie kaha kyonki aapane jaisa prashn kiya hai ki subah sardee mein uthana itana aalas kyon aata hai to dekhen hamaare hee vichaar hote hain achchhe vichaar aur bure vichaar ab ham disaid nahin kar paate ki hamen kisakee baat sunanee chaahie jab ham koee aisa kaam karate hain jo kaheen na kaheen hamaare karana mushkil tumhaare man se ek aavaaj aatee ki yaar yah agar ham karenge thodee see mehanat karake agar subah jaldee uthenge to usake bahut saare phaayade hain lekin vahee achchhe vichaar ko ham najarandaaj kar dete hain aur bure vichaar ke saath ho lete hain vah hamen yah kahata kee kya jaroorat hai abhee baahar sardee hogee jaldee mat uthao beemaar ho jaoge yahaan par itana achchha gadda hai bade aaraam se garm maahaul hai sote raho rilaiks karo kya jaroorat hai lekin samay-samay thaharata nahin is samay kitana har cheej ko doodh ka doodh aur paanee ka paanee kar deta hai har cheej bata deta hai ki aakhir kisakee baat sunanee chaahie kuchh bhee nahin aaj rijalt jab aata hai jab man chaahe kuchh bhee likho kuchh bhee karo rijalt aapako kliyar kar deta ki aapake paas kitane aaenge kitane yah jeevan ka hai jyaadaatar log yahee karate hain aise mein main yahee chaahata hoon ki aap apane achchhe vichaaron ko sunen thoda sa apane aapako post karen thoda sa apane aap ko dhake le uthaen kee koshish karen bas thoda sa shuruaatee deta tha na gaadee ko kee lagaane kee jaroorat hotee hai usake baad apane aap kaam otometik ho jaata hai bas usakee ko nahin lagaate jindagee kee jo gaadee hotee hai usako kik lagaane kee aavashyakata hotee ho ham us pik se bachate kee kya karenge mehanat karake kya karenge lekin agar aap thodee see mehanat karate hain to subah uth jaate ho to aapaka din dekhoge aap bahut achchha jaega aur aapako bahut saaree cheejen haasil hogee jindagee mein jo aapakee aadaton kee vajah se kuchh aise hee aadat hotee lejee panna kee vajah se nahin ho paatee thee ab aap so jaie
URL copied to clipboard