#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
मंदिर किस दिशा में बनना चाहिए?Mandir Kis Disha Mein Banana Chahiye
आचार्य समशेरसिंह यादव Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए आचार्य जी का जवाब
हिन्दी/संस्कृत व्याख्याता और वास्तुविद्
0:49

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
कोई अगर कठोरता से बात करे तो क्या करना चाहिए?Koi Agar Kathorta Se Baat Kare To Kya Karna Chahiye
आचार्य समशेरसिंह यादव Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए आचार्य जी का जवाब
हिन्दी/संस्कृत व्याख्याता और वास्तुविद्
0:59

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
सबसे ज्यादा कमाई किस काम में है?Sabse Jyada Kamai Kis Kaam Mein Hai
आचार्य समशेरसिंह यादव Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए आचार्य जी का जवाब
हिन्दी/संस्कृत व्याख्याता और वास्तुविद्
0:48

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
100 गज में कितने स्क्वायर फिट होते हैं?100 Gaj Mein Kitane Square Fit Hote Hain
आचार्य समशेरसिंह यादव Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए आचार्य जी का जवाब
हिन्दी/संस्कृत व्याख्याता और वास्तुविद्
0:29

#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker
1 गज में कितने मीटर होते हैं?1 Gaj Mein Kitne Metre Hote Hai
आचार्य समशेरसिंह यादव Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए आचार्य जी का जवाब
हिन्दी/संस्कृत व्याख्याता और वास्तुविद्
0:29

#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker
1 गज में कितने सेंटीमीटर होते हैं?1 Gaj Mein Kitne Centimetre Hote Hain
आचार्य समशेरसिंह यादव Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए आचार्य जी का जवाब
हिन्दी/संस्कृत व्याख्याता और वास्तुविद्
0:23

#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker
1 वर्ग गज में कितने फुट होते हैं?1 Varg Gaj Mein Kitne Foot Hote Hai
आचार्य समशेरसिंह यादव Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए आचार्य जी का जवाब
हिन्दी/संस्कृत व्याख्याता और वास्तुविद्
0:29
नमस्कार आपने पूछा है 1 वर्ग गज में कितने फुट होते हैं देखिए 1 गज में 3 फुट होते हैं इस तरह 1 वर्ग गज में 9 वर्ग फुट 9 फुट होते हैं धन्यवाद

#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker
नींद ना आने की समस्या को कैसे दूर करें?Neend Na Aane Ki Samasya Ko Kaise Dur Kare
आचार्य समशेरसिंह यादव Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए आचार्य जी का जवाब
हिन्दी/संस्कृत व्याख्याता और वास्तुविद्
2:00
आपका प्रश्न है नींद ना आने की समस्या को कैसे दूर करें मैं आने कारण एक ही होता है विशेषकर आप टेंशन में रहना और इसके अतिरिक्त दूसरा कारण भी होता है जब रात्रि के अंदर आप सोए हुए और अचानक आपकी नींद उड़ जाती है किसी कारणवश तो उस समय थोड़ी सी बेचैनी होती है जिसके कारण नींद नहीं आती है अब प्रश्न यह उठता है कि नींद ना आने की समस्या को कैसे दूर करें वैसे तो उसके बारे में आपको डॉक्टर से राय लेनी लेनी चाहिए लेकिन फिर भी आयुर्वेदिक एक मनोवैज्ञानिक धारण है यानी 1 वैज्ञानिक एक गिलास का रास्ता है जिससे हम कुछ हद तक यही समझो कि संपूर्ण रूप से राहत पा सकते हैं इसके लिए आपको शाम को सोने से पहले अपने पैरों को दोनों पैरों को गुनगुने पानी से अच्छी तरह से तो होना चाहिए और उसके बाद सरसों के तेल मालिश करें और कुछ मालिश को इतना रामायण जिससे कि वह जो उसका चिकनाहट है अर्थात जो तेल है वह चित्र अंदर समा जाए चमड़ी के अंदर और उसके बाद आप सोए मैं शुरू से कह सकता हूं कि आपको गहरी नींद आएगी नींद आएगी भी नींद आएगी धन्यवाद
Aapaka prashn hai neend na aane kee samasya ko kaise door karen main aane kaaran ek hee hota hai visheshakar aap tenshan mein rahana aur isake atirikt doosara kaaran bhee hota hai jab raatri ke andar aap soe hue aur achaanak aapakee neend ud jaatee hai kisee kaaranavash to us samay thodee see bechainee hotee hai jisake kaaran neend nahin aatee hai ab prashn yah uthata hai ki neend na aane kee samasya ko kaise door karen vaise to usake baare mein aapako doktar se raay lenee lenee chaahie lekin phir bhee aayurvedik ek manovaigyaanik dhaaran hai yaanee 1 vaigyaanik ek gilaas ka raasta hai jisase ham kuchh had tak yahee samajho ki sampoorn roop se raahat pa sakate hain isake lie aapako shaam ko sone se pahale apane pairon ko donon pairon ko gunagune paanee se achchhee tarah se to hona chaahie aur usake baad sarason ke tel maalish karen aur kuchh maalish ko itana raamaayan jisase ki vah jo usaka chikanaahat hai arthaat jo tel hai vah chitr andar sama jae chamadee ke andar aur usake baad aap soe main shuroo se kah sakata hoon ki aapako gaharee neend aaegee neend aaegee bhee neend aaegee dhanyavaad

#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker
जब भी मैं कहीं बाहर जाता हूं मेरी तबीयत क्यों खराब हो जाती है?Jab Bhe Main Kahe Bahar Jaata Hu Meri Tabiyat Kyun Kharab Ho Jati Hai
आचार्य समशेरसिंह यादव Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए आचार्य जी का जवाब
हिन्दी/संस्कृत व्याख्याता और वास्तुविद्
0:59
आपने पूछा है कि जब भी मैं कहीं बाहर जाता हूं तो मेरी तबीयत क्यों खराब है इसलिए अंदर किसी प्रकार का कोई हार का कोई कारण नहीं है यह सिर्फ है आपके आपके शरीर पर सिर्फ जलवायु का प्रभाव है आप जहां रह रहे हैं वहां की जलवायु आपके ऊपर सटीक बैठ रही है यह समझ जी वहां की जलवायु आपके अनुकूल है लेकिन जहां भी आप जाते हैं तो उस प्रकार की जलवायु नहीं मिलती है इस कारण आप बीमार हो जाते हैं आपकी तबीयत खराब हो जाती है इसके अतिरिक्त और कोई कारण नहीं है कि आप की तबीयत खराब सिर्फ और सिर्फ के गाने
Aapane poochha hai ki jab bhee main kaheen baahar jaata hoon to meree tabeeyat kyon kharaab hai isalie andar kisee prakaar ka koee haar ka koee kaaran nahin hai yah sirph hai aapake aapake shareer par sirph jalavaayu ka prabhaav hai aap jahaan rah rahe hain vahaan kee jalavaayu aapake oopar sateek baith rahee hai yah samajh jee vahaan kee jalavaayu aapake anukool hai lekin jahaan bhee aap jaate hain to us prakaar kee jalavaayu nahin milatee hai is kaaran aap beemaar ho jaate hain aapakee tabeeyat kharaab ho jaatee hai isake atirikt aur koee kaaran nahin hai ki aap kee tabeeyat kharaab sirph aur sirph ke gaane

#जीवन शैली

bolkar speaker
किसी इंसान को कैसे परखे?Kisi Insaan Ko Kaise Parkhe
आचार्य समशेरसिंह यादव Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए आचार्य जी का जवाब
हिन्दी/संस्कृत व्याख्याता और वास्तुविद्
0:49
आपका प्रश्न नहीं किसी इंसान को कैसे पत्र लिखे इंसान की परख मुसीबतों में होती है तो इसलिए जब आप के ऊपर कोई परेशानी आती है अब अपने मित्र को अपने भाई को अपनी बहन को अपने रिश्तेदार को यानी किसी को भी आप उस समय पर रख सकते हैं और अगर वह उस कसौटी पर खरा उतरता है तो निश्चित रूप से वह आपके हाथ में है और अगर वह बचकानी हरकत करता है स्वार्थ की है तो वह भी दिख जाएगा इस प्रकार आप इंसान को कठिन परिस्थितियों में ही रख सकते हैं धन्यवाद
Aapaka prashn nahin kisee insaan ko kaise patr likhe insaan kee parakh museebaton mein hotee hai to isalie jab aap ke oopar koee pareshaanee aatee hai ab apane mitr ko apane bhaee ko apanee bahan ko apane rishtedaar ko yaanee kisee ko bhee aap us samay par rakh sakate hain aur agar vah us kasautee par khara utarata hai to nishchit roop se vah aapake haath mein hai aur agar vah bachakaanee harakat karata hai svaarth kee hai to vah bhee dikh jaega is prakaar aap insaan ko kathin paristhitiyon mein hee rakh sakate hain dhanyavaad

#जीवन शैली

bolkar speaker
क्या किसी व्यक्ति की नैसर्गिक प्रवृत्ति को बदला जा सकता है?Kya Kisi Wyakti Ki Naisargik Pravritti Ko Badla Ja Sakta Hain
आचार्य समशेरसिंह यादव Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए आचार्य जी का जवाब
हिन्दी/संस्कृत व्याख्याता और वास्तुविद्
0:44
आपका पश्चिम है क्या किसी व्यक्ति को नैसर्गिक प्रवृत्ति को बदला जा सकता है तो इसमें मेरा उत्तर होगा बिल्कुल नहीं किसी कारणवश किसी अवसर के आधार पर या यह समझिए की परिस्थितियों के अनुरूप कुछ दिनों तक कुछ समय तक उस व्यक्ति को उनके अनुकूल रखा जा सकता है लेकिन अंततः उसकी जो नैसर्गिक पर बढ़ती है वह उजागर हो ही जाती है और वह अपने पूर्व पूर्व के बुर्के नेचर में पूर्व की प्रवृत्ति में लीन हो जाता है और यह निश्चित रूप से होता है
Aapaka pashchim hai kya kisee vyakti ko naisargik pravrtti ko badala ja sakata hai to isamen mera uttar hoga bilkul nahin kisee kaaranavash kisee avasar ke aadhaar par ya yah samajhie kee paristhitiyon ke anuroop kuchh dinon tak kuchh samay tak us vyakti ko unake anukool rakha ja sakata hai lekin antatah usakee jo naisargik par badhatee hai vah ujaagar ho hee jaatee hai aur vah apane poorv poorv ke burke nechar mein poorv kee pravrtti mein leen ho jaata hai aur yah nishchit roop se hota hai

#जीवन शैली

bolkar speaker
क्या कोरोना काल में देश की जनसँख्या पर कोई असर पड़ा है ?Kya Corona Kaal Mein Desh Ki Jansankhya Par Koi Asar Pda Hai
आचार्य समशेरसिंह यादव Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए आचार्य जी का जवाब
हिन्दी/संस्कृत व्याख्याता और वास्तुविद्
0:44
क्या आपका प्रश्न है क्या कारण कोरोना का हाल में देश की जनसंख्या पर कोई असर पड़ा है इसमें हर व्यक्ति के अलग लेकिन मेरे मतानुसार निश्चित रूप से जनसंख्या के ऊपर असर पड़ा होगा क्योंकि जब डिस्टेंसिंग वाली बात आती है तो जो बारबारिक संबंध है उनमें भी कुछ इस तरह की इस तरह की हिदायतें जरूर बढ़ती गई होंगी और जिनके कारण यह संभव है कि जनसंख्या के ऊपर कुछ जरूर होगा
Kya aapaka prashn hai kya kaaran korona ka haal mein desh kee janasankhya par koee asar pada hai isamen har vyakti ke alag lekin mere mataanusaar nishchit roop se janasankhya ke oopar asar pada hoga kyonki jab distensing vaalee baat aatee hai to jo baarabaarik sambandh hai unamen bhee kuchh is tarah kee is tarah kee hidaayaten jaroor badhatee gaee hongee aur jinake kaaran yah sambhav hai ki janasankhya ke oopar kuchh jaroor hoga

#जीवन शैली

bolkar speaker
क्या हिंदी में सातों दिन के नाम सात ग्रहों से लिए गए हैं ?Kya Hindi Mein Saaton Din Ke Naam Saat Grahon Se Liye Gae Hain
आचार्य समशेरसिंह यादव Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए आचार्य जी का जवाब
हिन्दी/संस्कृत व्याख्याता और वास्तुविद्
0:54
आपने पूछा है क्या हिंदी में सातों दिन के नाम 7 ग्रहों से लिए गए हैं निश्चित रूप से लिए गए हैं क्योंकि यह जो नाम है यह गैरों से ले गए हैं और इनका भी एक निश्चित क्रम है 1 घंटे के हिसाब से हर दिन 24:00 जो घंटे होते हैं उसमें एक 1 घंटे के लिए हर ग्रह की उपस्थिति होती है और उस क्रम के अनुसार अगले दिन जैसे आज रविवार है तो 25 घंटे में उसकी युति शुरू होगी वह भी सोमवार था चंद्र की इस कारण से अगला बाद सोमवार होगा तो ऐसे ही करके इनकी व्यवस्थित है धन्यवाद
Aapane poochha hai kya hindee mein saaton din ke naam 7 grahon se lie gae hain nishchit roop se lie gae hain kyonki yah jo naam hai yah gairon se le gae hain aur inaka bhee ek nishchit kram hai 1 ghante ke hisaab se har din 24:00 jo ghante hote hain usamen ek 1 ghante ke lie har grah kee upasthiti hotee hai aur us kram ke anusaar agale din jaise aaj ravivaar hai to 25 ghante mein usakee yuti shuroo hogee vah bhee somavaar tha chandr kee is kaaran se agala baad somavaar hoga to aise hee karake inakee vyavasthit hai dhanyavaad

#भारत की राजनीति

आचार्य समशेरसिंह यादव Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए आचार्य जी का जवाब
हिन्दी/संस्कृत व्याख्याता और वास्तुविद्
2:44
नमस्कार आपने पूछा है कि आज के किसानों के आंदोलन के लिए भारत सरकार जिम्मेवार है या किसान रविवार है या कोई बाहर का देखिए सामने जो दिख रहा है उसके आधार पर तो भारत सरकार और किसान दोनों जिम्मेवार हैं लेकिन अगर कोई बाहर की बात करें तो हार के अंदेशे से इनकार नहीं किया जा सकता अब इन्हीं पहलुओं में बात करते हैं किसान जिम्मेवार इस कारण से हैं उनको भारत सरकार की पुलिस से न्यू दिल्ली की पुलिस से एक कमिटमेंट किया था कि किन-किन मार्गों के ऊपर उनका जुलूस होगा कैसे होगा उनके क्या पैरामीटर्स होंगे यह तमाम चीजें उन्होंने लिखित रूप से पुलिस को दी थी उसके बाद उन्होंने उस सारे बैरिकेड तोड़े उन रास्तों को थोड़ा राजपूतों को थोड़ा और लाल किले तक पहुंच गए प्रशन इसे नकारा नहीं जा सकता है कि कोई अराजक तत्व होंगे लेकिन इस पूरी कार्यवाही पूरे आंदोलन की जिम्मेवारी संगठन प्रबंधकों का जिम्मेवारी थी कि वह उनके अंतर अधीन होकर ही काम करें उनके कंट्रोल में हो कर काम करें अब आती है दूसरी बात दूसरी तरफ यह वाक्य है कि भारत सरकार जैसा कि समाचारों से जानकारियां प्राप्त हुई होती हैं कि इनको पहले से ही अंदेशा था कि किसान इस तरह के क्या कर सकते हैं इस तरह का आंदोलन कर सकते हैं जिन्होंने उस बात के प्रति अपने आपको तैयार क्यों नहीं रखता हूं यह कहिए कि जहां यह लाल किले पर ऊपर तक पड़ जाते हैं उस जगह के के लिए उन्होंने कुछ भी क्यों नहीं किया तो इस तरह यह दोनों ही बातें स्पष्ट रूप से सामने आ रही है लेकिन जब झांकी मैंने बाहर की बात की तो बाहर का अप्रत्याशित रूप से उनके ऊपर हाथ ही है धन्यवाद
Namaskaar aapane poochha hai ki aaj ke kisaanon ke aandolan ke lie bhaarat sarakaar jimmevaar hai ya kisaan ravivaar hai ya koee baahar ka dekhie saamane jo dikh raha hai usake aadhaar par to bhaarat sarakaar aur kisaan donon jimmevaar hain lekin agar koee baahar kee baat karen to haar ke andeshe se inakaar nahin kiya ja sakata ab inheen pahaluon mein baat karate hain kisaan jimmevaar is kaaran se hain unako bhaarat sarakaar kee pulis se nyoo dillee kee pulis se ek kamitament kiya tha ki kin-kin maargon ke oopar unaka juloos hoga kaise hoga unake kya pairaameetars honge yah tamaam cheejen unhonne likhit roop se pulis ko dee thee usake baad unhonne us saare bairiked tode un raaston ko thoda raajapooton ko thoda aur laal kile tak pahunch gae prashan ise nakaara nahin ja sakata hai ki koee araajak tatv honge lekin is pooree kaaryavaahee poore aandolan kee jimmevaaree sangathan prabandhakon ka jimmevaaree thee ki vah unake antar adheen hokar hee kaam karen unake kantrol mein ho kar kaam karen ab aatee hai doosaree baat doosaree taraph yah vaaky hai ki bhaarat sarakaar jaisa ki samaachaaron se jaanakaariyaan praapt huee hotee hain ki inako pahale se hee andesha tha ki kisaan is tarah ke kya kar sakate hain is tarah ka aandolan kar sakate hain jinhonne us baat ke prati apane aapako taiyaar kyon nahin rakhata hoon yah kahie ki jahaan yah laal kile par oopar tak pad jaate hain us jagah ke ke lie unhonne kuchh bhee kyon nahin kiya to is tarah yah donon hee baaten spasht roop se saamane aa rahee hai lekin jab jhaankee mainne baahar kee baat kee to baahar ka apratyaashit roop se unake oopar haath hee hai dhanyavaad

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
क्या ग्रहों के उपायों से जातक निडर साहसी बन सकता है कैसे?Kya Grehon Ke Upayon Se Jatak Nidar Sahasi Ban Sakta Hai Kaise
आचार्य समशेरसिंह यादव Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए आचार्य जी का जवाब
हिन्दी/संस्कृत व्याख्याता और वास्तुविद्
0:49
आपने प्रश्न पूछा है क्या ग्रहों के उपायों से 4:00 तक निडर साहसी बन सकता है देखिए मैं यह कहूंगा यहां ऐसा तो कोई है चीज है ही नहीं जो नहीं होगी अगर व्यक्ति की पहचान दशा अगर उसके अनुकूल नहीं है तो उनके उपाय किए जाएं विश निश्चित रूप से जातक निडर और साहसी बन सकता है यहां तक कि अपने भाग्य का विधाता बन जाता है वह चाहे जो प्राप्त कर सकता है यह सब निश्चित रूप से उनके ग्रह नक्षत्रों के प्रभाव
Aapane prashn poochha hai kya grahon ke upaayon se 4:00 tak nidar saahasee ban sakata hai dekhie main yah kahoonga yahaan aisa to koee hai cheej hai hee nahin jo nahin hogee agar vyakti kee pahachaan dasha agar usake anukool nahin hai to unake upaay kie jaen vish nishchit roop se jaatak nidar aur saahasee ban sakata hai yahaan tak ki apane bhaagy ka vidhaata ban jaata hai vah chaahe jo praapt kar sakata hai yah sab nishchit roop se unake grah nakshatron ke prabhaav

#पढ़ाई लिखाई

आचार्य समशेरसिंह यादव Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए आचार्य जी का जवाब
हिन्दी/संस्कृत व्याख्याता और वास्तुविद्
0:15
आपने पूछा है माउंट एवरेस्ट पर चढ़ने वाली प्रथम महिला कौन सी है देखिए इसमें प्रथम महिला बछेंद्री पाल थी धन्यवाद
Aapane poochha hai maunt evarest par chadhane vaalee pratham mahila kaun see hai dekhie isamen pratham mahila bachhendree paal thee dhanyavaad

#भारत की राजनीति

आचार्य समशेरसिंह यादव Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए आचार्य जी का जवाब
हिन्दी/संस्कृत व्याख्याता और वास्तुविद्
0:24
आपने पूछा है कि वह संख्या ज्ञात कीजिए जिसमें 60 से भाग देने पर भागफल 37 तथा शेषफल 15 है कि वह संख्या है 2272 चुने गए 2272
Aapane poochha hai ki vah sankhya gyaat keejie jisamen 60 se bhaag dene par bhaagaphal 37 tatha sheshaphal 15 hai ki vah sankhya hai 2272 chune gae 2272

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
किस किताब को पढ़कर आपको गहरे रहस्य की जानकारी हुई?Kis Kitaab Ko Padhkar Apko Gehre Rehsya Ki Jaankari Hui
आचार्य समशेरसिंह यादव Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए आचार्य जी का जवाब
हिन्दी/संस्कृत व्याख्याता और वास्तुविद्
0:35
आपने पूछा कि किस किताब को पढ़कर आपको गहरे रहस्य की जानकारी देखें इस कह रहे थे कि जानकारियों के पीछे कोई किताब नहीं है इस तरह की काफी किताबें हैं जैसे पुराण हुए नेता हुई महा भारद्वाज रामायण हुई और अन्य और भी ऐसी हैं जिनके माध्यम से मैं इस तरह की जानकारी हासिल कर पाया
Aapane poochha ki kis kitaab ko padhakar aapako gahare rahasy kee jaanakaaree dekhen is kah rahe the ki jaanakaariyon ke peechhe koee kitaab nahin hai is tarah kee kaaphee kitaaben hain jaise puraan hue neta huee maha bhaaradvaaj raamaayan huee aur any aur bhee aisee hain jinake maadhyam se main is tarah kee jaanakaaree haasil kar paaya

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
आपको बचपन की कौन सी कविता याद है?Aapko Bachpan Ki Kaun Si Kavita Yaad Hai
आचार्य समशेरसिंह यादव Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए आचार्य जी का जवाब
हिन्दी/संस्कृत व्याख्याता और वास्तुविद्
0:44
नमस्कार आपने पूछा है कि आपको बचपन की कौन सी कविता याद है देखिए बचपन की तो बहुत सारी कविताएं याद है लेकिन फिर भी मैं सुनाता हूं यह कविता है कुरुक्षेत्र खंडकाव्य के श्री कृष्ण दूध कार्य है कौन विघ्न ऐसा जग में टिक सके आदमी के मन में कम ठोक ठेलता है जब नर पर्वत के जाते पैरों का जब मानव जोर लगाता है पत्थर पानी बन जाता है उन बड़े 1hp मोटर गाड़ी कविता पूरी कविता है
Namaskaar aapane poochha hai ki aapako bachapan kee kaun see kavita yaad hai dekhie bachapan kee to bahut saaree kavitaen yaad hai lekin phir bhee main sunaata hoon yah kavita hai kurukshetr khandakaavy ke shree krshn doodh kaary hai kaun vighn aisa jag mein tik sake aadamee ke man mein kam thok thelata hai jab nar parvat ke jaate pairon ka jab maanav jor lagaata hai patthar paanee ban jaata hai un bade 1hp motar gaadee kavita pooree kavita hai

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
सूर्य देव भगवान के कितने पुत्र पुत्रियां थे उन सभी के नाम बताइए?Surya Dev Bhagwan Ke Kitne Putra Putriyan The Un Sabhi Ke Naam Bataiye
आचार्य समशेरसिंह यादव Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए आचार्य जी का जवाब
हिन्दी/संस्कृत व्याख्याता और वास्तुविद्
0:59
नमस्कार हम आपका प्रश्न है कि सूर्य देव भगवान के कितने पुत्र पुत्रियां थे उन सभी के नाम बताइए देखे सूर्य भगवान के कुल 5 पुत्र पुत्रियां थे जिनमें से दो संध्या के पुत्र थे जिनके नाम यम और यमी थे एक छाया का पुत्र था जिसका नाम सनी और दो पुत्र संध्या शापित संध्या जब अथवा बनी तब उसके पुत्र हुए थे इस प्रकार कुल 5 पुत्र थे धन्यवाद जावेद हेलो हेलो
Namaskaar ham aapaka prashn hai ki soory dev bhagavaan ke kitane putr putriyaan the un sabhee ke naam bataie dekhe soory bhagavaan ke kul 5 putr putriyaan the jinamen se do sandhya ke putr the jinake naam yam aur yamee the ek chhaaya ka putr tha jisaka naam sanee aur do putr sandhya shaapit sandhya jab athava banee tab usake putr hue the is prakaar kul 5 putr the dhanyavaad jaaved helo helo

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
बच्चे बीमार क्यों होते हैं?Bache Bimar Kyun Hote Hain
आचार्य समशेरसिंह यादव Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए आचार्य जी का जवाब
हिन्दी/संस्कृत व्याख्याता और वास्तुविद्
1:00
आपने पूछा है कि बच्चे बीमार क्यों होते हैं बच्चों के शरीर होता है वह अत्यधिक संवेदनशील होता है कोमल होता है इसलिए जो समय की जो मौसम का प्रभाव है सबसे अधिक बच्चों पर होता है और सब अत्यधिक सर्दी अत्यधिक गर्मी अत्यधिक बरसात का जो मौसम है उसके अंदर फंगस वाला की तमाम जो मौसम का अति वाला जो भाग है वह अति संवेदनशील शरीर को अपना माध्यम बना था और वहां अपना सबसे ज्यादा अच्छा रहता है इसी कारण से बच्चे अधिक बीमार होते हैं धन्यवाद
Aapane poochha hai ki bachche beemaar kyon hote hain bachchon ke shareer hota hai vah atyadhik sanvedanasheel hota hai komal hota hai isalie jo samay kee jo mausam ka prabhaav hai sabase adhik bachchon par hota hai aur sab atyadhik sardee atyadhik garmee atyadhik barasaat ka jo mausam hai usake andar phangas vaala kee tamaam jo mausam ka ati vaala jo bhaag hai vah ati sanvedanasheel shareer ko apana maadhyam bana tha aur vahaan apana sabase jyaada achchha rahata hai isee kaaran se bachche adhik beemaar hote hain dhanyavaad

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
शराब पीना क्या है?Sharab Peena Kya Hai
आचार्य समशेरसिंह यादव Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए आचार्य जी का जवाब
हिन्दी/संस्कृत व्याख्याता और वास्तुविद्
1:09
आपने पूछा है इस शराब पीना क्या है कि किस तरह पीना एक शरीर के अंदर अपनी मानवता को बढ़ाना है इससे उत्तेजना बड़े और मनुष्य अपनी क्षमताओं को भूल जाए और इसके दुष्परिणाम ज्यादा है अतः शराब पीने से शरीर के अंदर विकृतियां पैदा हो जाते हैं उसके गुर्दे खराब हो जाते हैं उनकी वाणी लड़खड़ा जाती है और उसके साथ शराब को अनियंत्रित तरीके से दिया जाए तो वह शीघ्र ही मनुष्य का काल बन जाती है इस शराब अगर कोई पीता भी है तो वह दवा के रूप में कर ले तो उसके नुकसान की बजाय फायदा अधिक करती है यह कार्य सोच समझ ले करें धन्यवाद
Aapane poochha hai is sharaab peena kya hai ki kis tarah peena ek shareer ke andar apanee maanavata ko badhaana hai isase uttejana bade aur manushy apanee kshamataon ko bhool jae aur isake dushparinaam jyaada hai atah sharaab peene se shareer ke andar vikrtiyaan paida ho jaate hain usake gurde kharaab ho jaate hain unakee vaanee ladakhada jaatee hai aur usake saath sharaab ko aniyantrit tareeke se diya jae to vah sheeghr hee manushy ka kaal ban jaatee hai is sharaab agar koee peeta bhee hai to vah dava ke roop mein kar le to usake nukasaan kee bajaay phaayada adhik karatee hai yah kaary soch samajh le karen dhanyavaad

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
पंचायत और नगरपालिका का चुनाव कैसे होता है?Panchayat Aur Nagarpalika Ka Chunav Kaise Hota Hai
आचार्य समशेरसिंह यादव Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए आचार्य जी का जवाब
हिन्दी/संस्कृत व्याख्याता और वास्तुविद्
0:59
आपका प्रश्न है पंचायत और नगरपालिका का चुनाव कैसे होता है देखिए पंचायत के चुनाव में प्रत्यक्ष मतदान प्रणाली के माध्यम से होता है इसके अंदर वार्ड वाइज वंचो चुने जाते हैं तथा कोई सरपंच चुना जाता है जो कि पब्लिक प्रत्यक्ष चुनती है और उसी प्रकार शहरों के अंदर नगरों के अंदर नगरपालिका होती है जिसके अंदर उसके अंदर सदस्य नगरपालिका सदस्य होते हैं और साथ में मेल हो चुना जाता है ठीक वही तरीके से उनका चुनाव होता है धन्य को
Aapaka prashn hai panchaayat aur nagarapaalika ka chunaav kaise hota hai dekhie panchaayat ke chunaav mein pratyaksh matadaan pranaalee ke maadhyam se hota hai isake andar vaard vaij vancho chune jaate hain tatha koee sarapanch chuna jaata hai jo ki pablik pratyaksh chunatee hai aur usee prakaar shaharon ke andar nagaron ke andar nagarapaalika hotee hai jisake andar usake andar sadasy nagarapaalika sadasy hote hain aur saath mein mel ho chuna jaata hai theek vahee tareeke se unaka chunaav hota hai dhany ko

#भारत की राजनीति

आचार्य समशेरसिंह यादव Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए आचार्य जी का जवाब
हिन्दी/संस्कृत व्याख्याता और वास्तुविद्
0:59
नमस्कार आपका प्रश्न है कि पुराने समय में डाकू अमीरों को लूट कर गरीबों में बांट देते क्या यह सत्य है लेकिन वास्तव में सत्य है उन लोगों के मन में रहेम था उन लोगों के मन में आस्था थी को ईश्वर के अंदर विश्वास करने वाले होते थे और यह सारे इस कारण से को ईश्वर से डरते थे इसी वजह से वह एक धार्मिक प्रवृत्ति में लूट जरूर करते थे लेकिन वह धार्मिक पर्दे के अंदर करते थे जिससे उनको भगवान माफ कर सके अर्थात उनको इसका दोस्त ना मिले तो काफी बेहतरीन लूट जो उनकी थी आज की लूट से बहुत ही सही थी हालांकि लूट कभी भी सही नहीं होती है लेकिन इस हिसाब से आज से 100 गुना अच्छी थी धन्यवाद
Namaskaar aapaka prashn hai ki puraane samay mein daakoo ameeron ko loot kar gareebon mein baant dete kya yah saty hai lekin vaastav mein saty hai un logon ke man mein rahem tha un logon ke man mein aastha thee ko eeshvar ke andar vishvaas karane vaale hote the aur yah saare is kaaran se ko eeshvar se darate the isee vajah se vah ek dhaarmik pravrtti mein loot jaroor karate the lekin vah dhaarmik parde ke andar karate the jisase unako bhagavaan maaph kar sake arthaat unako isaka dost na mile to kaaphee behatareen loot jo unakee thee aaj kee loot se bahut hee sahee thee haalaanki loot kabhee bhee sahee nahin hotee hai lekin is hisaab se aaj se 100 guna achchhee thee dhanyavaad

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
बर्ड फ्लू क्या है?Bird Flu Kya Hai
आचार्य समशेरसिंह यादव Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए आचार्य जी का जवाब
हिन्दी/संस्कृत व्याख्याता और वास्तुविद्
0:59
आपका प्रश्न है बर्ड फ्लू क्या है देखिए बर्ड फ्लू जो है वह 1 पक्षियों के अंदर संक्रमित होने वाली बीमारी है विशेष रूप से यह मुर्गी मुर्गों में फैलाई जा रही है अंतर यहां देश के अंदर बहुत सारे पक्षी चंद दिनों में मर गए हैं इसलिए यह बहुत ही खतरनाक है और पक्षियों के माध्यम से यह मनुष्य तक पहुंच सकती है इसलिए इसको संहिता में ना लें इसके सावधान रहें और सरकार ताकि हेल्थ डिपार्टमेंट इसके बारे में बहुत कुछ बंद कर रहे हैं उसकी सहायता करें धन्यवाद
Aapaka prashn hai bard phloo kya hai dekhie bard phloo jo hai vah 1 pakshiyon ke andar sankramit hone vaalee beemaaree hai vishesh roop se yah murgee murgon mein phailaee ja rahee hai antar yahaan desh ke andar bahut saare pakshee chand dinon mein mar gae hain isalie yah bahut hee khataranaak hai aur pakshiyon ke maadhyam se yah manushy tak pahunch sakatee hai isalie isako sanhita mein na len isake saavadhaan rahen aur sarakaar taaki helth dipaartament isake baare mein bahut kuchh band kar rahe hain usakee sahaayata karen dhanyavaad

#भारत की राजनीति

आचार्य समशेरसिंह यादव Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए आचार्य जी का जवाब
हिन्दी/संस्कृत व्याख्याता और वास्तुविद्
1:14
आपने प्रश्न किया है क्या दलालों को कॉन्टैक्टर बनने का सपना दिखाया जा रहा है और किसानों के जो पैसों के बेहतरीन मदद के लिए बोला जा रहा है तो बिल्कुल सही कहा क्योंकि आज जहां भी जो किसान आंदोलन के नाम पर जो किया जा रहा है यह सरासर एक सरकार के ऊपर अप्रत्याशित दबाव बनाने की कोशिश की जा रही है इसमें सही मायने में कहीं भी कोई किसान नहीं है सारे के सारे विरोधी पार्टियों की वह दलाल है और जिसके कारण उनको पैसे भी खरीद कर बैठाया गया है यह साफ स्पष्ट है और अनेक इनके खातों में बहुत भारी पैसा बाहर से जो आ रहा है इनकी मदद के लिए यह कहां से आ रहा है एक बहुत बड़ा विषय है तो यह तमाम बातें हैं ऐसी दिखाई दे रही हैं जिससे इन दलालों को कांट्रेक्टर बनाने का सपना निश्चित रूप से दिखाई जा रहा है और किसानों का जो पैसा है उसको लूटने का फिरा की जा रही है धन्यवाद
Aapane prashn kiya hai kya dalaalon ko kontaiktar banane ka sapana dikhaaya ja raha hai aur kisaanon ke jo paison ke behatareen madad ke lie bola ja raha hai to bilkul sahee kaha kyonki aaj jahaan bhee jo kisaan aandolan ke naam par jo kiya ja raha hai yah saraasar ek sarakaar ke oopar apratyaashit dabaav banaane kee koshish kee ja rahee hai isamen sahee maayane mein kaheen bhee koee kisaan nahin hai saare ke saare virodhee paartiyon kee vah dalaal hai aur jisake kaaran unako paise bhee khareed kar baithaaya gaya hai yah saaph spasht hai aur anek inake khaaton mein bahut bhaaree paisa baahar se jo aa raha hai inakee madad ke lie yah kahaan se aa raha hai ek bahut bada vishay hai to yah tamaam baaten hain aisee dikhaee de rahee hain jisase in dalaalon ko kaantrektar banaane ka sapana nishchit roop se dikhaee ja raha hai aur kisaanon ka jo paisa hai usako lootane ka phira kee ja rahee hai dhanyavaad

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
कबीर जी के दोहे "निंदक नियरे राखिए" का अर्थ आप किस तरह स्पष्ट करेंगे?Kabir Ji Ke Dohe Nindak Niyare Rakhie Ka Arth Ap Kis Tarah Spasht Karenge
आचार्य समशेरसिंह यादव Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए आचार्य जी का जवाब
हिन्दी/संस्कृत व्याख्याता और वास्तुविद्
0:59
इस कारण आप का प्रश्न है सोशल मीडिया की इस झूठी दुनिया में कबीर जी के दोहे निंदक नियरे राखिए आंगन कुटी छवाय का अर्थ आप कैसे स्पष्ट करें देखी आज के समय में व्यक्ति इतना स्वार्थी हो गया है इसको अपने अलावा कुछ दिखता ही नहीं है एक मित्रता करता है तो उसमें भी अपना स्वार्थ है स्वार्थ होता है एक माता पिता के संबंध तक में वह स्वार्थ देखता है ऐसी स्थिति में कबीर जी का दोहा अत्यंत उचित है और इस दोहे के मुताबिक प्रत्येक मनुष्य को हर किसी पर बहुत बारीक नजर से विश्वास करना चाहिए और ऐसे निंदा करने वाले को अपने इर्द-गिर्द रखना चाहिए
Is kaaran aap ka prashn hai soshal meediya kee is jhoothee duniya mein kabeer jee ke dohe nindak niyare raakhie aangan kutee chhavaay ka arth aap kaise spasht karen dekhee aaj ke samay mein vyakti itana svaarthee ho gaya hai isako apane alaava kuchh dikhata hee nahin hai ek mitrata karata hai to usamen bhee apana svaarth hai svaarth hota hai ek maata pita ke sambandh tak mein vah svaarth dekhata hai aisee sthiti mein kabeer jee ka doha atyant uchit hai aur is dohe ke mutaabik pratyek manushy ko har kisee par bahut baareek najar se vishvaas karana chaahie aur aise ninda karane vaale ko apane ird-gird rakhana chaahie

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
क्या कर्तव्य को नहीं समझने पर अधिकार खत्म हो जाते हैं? क्यों और कैसे?Kya Kartavya Ko Nahin Samajhne Par Adhikaar Khatam Ho Jaate Hain Kyun Aur Kaise
आचार्य समशेरसिंह यादव Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए आचार्य जी का जवाब
हिन्दी/संस्कृत व्याख्याता और वास्तुविद्
0:43

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
श्रीमद्भागवत गीता में कुल कितने श्लोक हैं? इसका प्रथम श्लोक कौन सा है?Shrimadbhagvat Geeta Mein Kul Kitne Shlok Hain Iska Pratham Shlok Kaun Sa Hai
आचार्य समशेरसिंह यादव Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए आचार्य जी का जवाब
हिन्दी/संस्कृत व्याख्याता और वास्तुविद्
1:05

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
हिंदू धर्म पर इतने सवाल क्यों उठाते हैं इसकी क्या वजह है?hindoo dharm par itane savaal kyon uthaate hain isakee kya vajah hai
आचार्य समशेरसिंह यादव Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए आचार्य जी का जवाब
हिन्दी/संस्कृत व्याख्याता और वास्तुविद्
1:15
URL copied to clipboard