#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker
1 घंटे में कितने सेकंड होते हैं?1 Ghante Mein Kitne Second Hote Hai
Prerna Rai Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Prerna जी का जवाब
Collage student in polytechnic collage
0:42

#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker
पेट में कौन सा अमल पाया जाता है?Pet Mein Kaun Sa Amal Paya Jata Hai
Prerna Rai Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Prerna जी का जवाब
Collage student in polytechnic collage
1:15

#जीवन शैली

bolkar speaker
हर किसी इंसान को क्या पता होना चाहिए?Har Kisi Insaan Ko Kya Pata Hona Chahiye
Prerna Rai Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Prerna जी का जवाब
Collage student in polytechnic collage
2:26
जैसा कि हम सब जानते हैं हमारे भगवान ने हम सभी को ऐसी कोई ना कोई खूबी भी है जिससे कि हम अपनी पहचान जरूर बना सकते हैं हर इंसान के अंदर अलग अलग हो गया है परंतु जरा उसको पहचानने की हर इंसान को एक के अंदर की खूबी को जरूर होना चाहिए होना चाहिए कि कौन से बिल्कुल अलग क्यों किया करो संस्थान ने उस खासियत को ढूंढ लिया तो उस खासियत के अंदर रोज सुधार कर करके वह 1 दिन सफलता तक वास्तव में सफलता पाना सिर्फ हम यह नहीं कह सकते एक बार किसी भी किसी भी गेम को जीत जाना है यह कहूं एक और कभी भी लाइफ में सफलता पाने का सही अर्थ होता है जिंदगी में आई हर चुनौती का डटकर सामना करना और चुनौती से हर उस को मुंहतोड़ जवाब देना उस चुनौती को हराकर उस समस्या से बाहर निकाल सफलता उस समय हमें मिलती है जब हम दुख के समय भी अपने ऊपर काबू बनाए रखते हैं अपना आत्मविश्वास नहीं होते हैं अपने ऊपर भरोसा रख कर आगे बढ़ते जाते हैं जो कि बहुत जरूरी है हर इंसान को यह समझ लेना चाहिए कि उसके ऊपर जो मुसीबत आई है उसके ऊपर जो संकट आया है उससे उससे खुद ही नहीं पढ़ना किसी और पर हाथ रख कर कोई फायदा नहीं इसीलिए हमेशा आप आत्मनिर्भर रहें हमेशा अपने आप कार्य करने का सोचा मैं आपको जरूरी बात करूंगी कि आप अपने अंदर खान जी को जल्द से जल्द होगी जिस दिन आपने अपने अंदर की खासियत को ढूंढ लिया उस समय आप उस दिन से आप अपनी जिंदगी में आए बड़ी से बड़ी मुसीबत का सामना आसानी से कर खासियत के बल पर आप उस मस्जिद में जो रोजाना सुधार करेंगे तो खासियत है जनाब के सबसे बड़ी ताकत बन जाएगी और ताकत आपको हर मुसीबत से लड़ने के लिए आपको हमेशा प्रेषित करते रहिए हमेशा आपको प्रेरणा

#जीवन शैली

Prerna Rai Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Prerna जी का जवाब
Collage student in polytechnic collage
2:34
समय है तो यह तीन नंबर का सब परंतु भविष्य की अहमियत को इंसान समझ आता है उस इंसान को सफल होने से कोई भी बात है कोई भी समस्या किसी भी तरह की परिस्थिति नहीं रोक सकती है इस जीवन में समय की है न चांदनी समझी है उसी की अहमियत समय समझ पाता है कुछ समझ आया है अभी समय है अभी आप अगर समय की अहमियत समझ कर मेहनत करते हैं तो शिवचरण में समय आपके साथ रहेगा परंतु अगर अभी आपने टाइम वेस्ट किया है मैकेनिक नहीं समझी तो फ्यूचर में इसी समय आपको रोना आएगी कहने को तो दिन में 24 घंटे होते हैं परंतु देखा जाए 1 मिनट में 20 साल लेकिन होते हैं या नहीं अगर हम एक-एक मिनट का भी यूज करें तुम पूरी तरह से 24 घंटे को यूज कर सकते हैं हमें क्या लगता है कि हम आज नहीं हम कल कर लेंगे थोड़ी देर बात कर लेना और थोड़ी देर बाद यह सोचकर चलेगा 1 घंटे बाद दूध पीता हुआ एक घंटा है जिसमें अपने वाला थोड़ी देर बात करूंगा वह कभी लौटकर नहीं आए रात को जो सोते हैं अगली सुबह जो होती है बीती हुई रात कभी नहीं आ सकती गुजरे हुए साल में आपके साथ क्या अच्छा हुआ है उसका खुश होने की वजह आने वाले साल में आपको अपने साथ सब अच्छा करना है आपका फ्यूचर अच्छा उसके लिए अभी सही नानक करते रहिए समय किसी का सगा नहीं होता परंतु जो इसकी अहमियत समझ जाता है जब मैं उसी का साथ ही बन जाता है समय के साथ आकर बाल होते हैं पीछे पर नहीं होती अगर आप समय को आगे से पकड़ना चाहते हैं जब से पकड़ सकते हैं परंतु एक बार भी पूरा समय तो आपसे कभी भी नहीं पकड़ सकते आप जब भी कभी मेरी बात नहीं तो उसी समय से हमेशा अपनी एक-एक मिनट की अहमियत को समझें समय इतना बलवान है किसी भी तरह के इंसान को कभी भी कहां से कहां पहुंचा देता है इसका अंदाजा हम भी नहीं लगाते समय की अहमियत को समझ जाओ जिंदगी में कुछ बड़ा करना

#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker
आत्मनिर्भरता के अर्थ के बारे में बताओ?Aatmnirbharta Ke Arth Ke Baare Mein Btao
Prerna Rai Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Prerna जी का जवाब
Collage student in polytechnic collage
2:42
खुद पर हो विश्वास रखो विश्वास कर लोगे हर चुनौती को पार कर लोगे हर चुनौती को तड़पा आत्मनिर्भरता कॉन्फिडेंट इंडिपेंडेंसी अगर किसी इंसान को अपने लाइफ में सक्सेस चाहिए अपनी कुल कोशिश करना है तो उसको आत्मनिर्भर होना बहुत ज्यादा जरूरी है चाहे कितना भी काटा वाला रास्ता कितने भी लोग आपको सजेशन देने वाले हो कितने भी लोग आपको और दिशा दिखाने वाले हो परंतु उस कांटे वाले रास्ते पर चलना आप ही को है कोई और आपके साथ नहीं चलेगा कोई और आपका हाथ पकड़ कर कांटे वाले रास्ते को आप को पानी नहीं कराएगा इसीलिए आप को आत्मनिर्भर बनना बहुत ज्यादा जरूरी है यह समझ लीजिए आप जीवन में सकते हैं आप जीवन में अगर कामयाब हो रहे हैं तो उसका असर सिर्फ और सिर्फ आपके जीवन पर पड़ रहा है वह अलग बात है कि आपके मम्मी पापा को समझा फिर सुधार खुश होंगे परंतु आप अपने जीवन में कुछ अजीब कर रहे हैं या फिर कुछ खो रहे हैं उसकी पूरी पूरी जिम्मेदारी सिर्फ और सिर्फ आपकी है आप अगर कुछ होते हैं तो आप अपने कार्य अपने किसी कमी के कारण कुछ हो रहा है और अगर आप कुछ पाते हैं तो अपने अंदर की खासियत यानी आत्म निर्भरता के कारण पा रहे हैं अगर आप आत्मनिर्भर हैं कि किसी भी काम को किसी भी सफलता को पाने में किसी भी चुनौती को पार करने में आपको किसी भी तरह की दिक्कत नहीं होगी जो इंसान आत्मनिर्भर नहीं होता जो साल अपने आप को आत्मनिर्भरता से परिपूर्ण नहीं कर पाता वह इंसान सक्सेस तक तो पहुंच जाता है परंतु उसके बाद आगे वाल शक्ति से पानी में जमाना बीत जाता है यानी समय बीत जाता है परंतु वैसे नहीं पापा यानी मैं कहना चाहते हो अगर आप आत्मनिर्भरता को छोड़कर आगे बढ़ते हैं तो आपको सकता है दो-तीन बार सक्सेस मिले वह भी लक बाय चांस परंतु अगर आपको अपनी लाइफ की चुनौती मिली चुनौती के रास्ते में सफलता चाहिए उसके लिए आपको अपने अंदर आत्मनिर्भरता लाना ही होगा आत्मनिर्भरता लाओ जीवन की हर जंग जीत जाओ आत्मनिर्भर तलाव जीवन की हर जंग जीत जाओ और समाज के लिए कुछ कर जाओ

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
हमारे समाज में इतनी गंदगी क्यों बढ़ती जा रही है?Humare Samaj Mein Itni Gandagi Kyun Badhti Ja Rahi Hai
Prerna Rai Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Prerna जी का जवाब
Collage student in polytechnic collage
2:48
हम आए दिन देख रहे हैं आजकल हमारे समाज में मतभेद बढ़ता ही जा रहा है हमारे समाज में गंदगी हो रही है कि उसे साफ करना मुश्किल होता है और इस गंदगी को पढ़ाने में अगर किसी का हाथ है वह भी हमारे समाज के लोगों का ही है या नहीं समास अगर गंदी बदबू आ रही है समाज की गंदगी से आगरा में समस्या हो रही है तो उसका कारण भी हम ही हैं यह बात जिस दिन हम लोग समझ जाएंगे सभी लोग इस बात को अपना लेंगे उस दिन मैं कह सकती हूं किस समाज से धीरे-धीरे गंदगी साफ हो रही है हमारे समाज में इतनी गंदगी इसलिए बढ़ रही है क्योंकि लोग आपस में जाति धर्म के नाम पर झगड़े करते हैं जाति धर्म के नाम पर विवाद करते हैं जो कि सही नहीं है भारत की तो पहचान ली है तरह तरह के लोग यहां रहते हैं तरह-तरह की जातियां रहती है मगर अब भाषा बोलते हैं फिर भी सब ठीक है यह पहचान है भारत की परंतु जातिवाद जातिवाद या धर्म के नाम पर जब लोग धर्म की बात आती है लोग अपने प्रधान का नाम लेने लग जाते हैं हमें सभी धर्मों का आदर करना चाहिए दूसरा बड़ा कारण है लोग सिर्फ और सिर्फ अपने सगे को ही अपना मानते हैं यानी मैं कहना चाहती हूं अगर राह पर चलने वाला कोई इंसान नहीं मिलता है उसी से मदद की जरूरत है तो उनकी मदद करने से पहले 10 बार सोचते हैं हां चौकन्ना रहना जरूरी है परंतु वह जिसको आपकी सहायता चाहिए उसकी सहायता भी आपको करनी चाहिए मैंने एक बार क्या देखा कि रोड पर के इंसान का एक्सीडेंट हो गया है वह खड़े बहुत होगी वीडियो भी बहुत लोग बना रहे थे परंतु कोई इंसान की मदद नहीं कर रहा था मैं लोगों से पूछा ऐसा क्यों हूं तो जवाब देते हैं कि कौन सी गर्लफ्रेंड कौन जाएगा हॉस्पिटल फालतू पर कॉमेंट करो उसके बाद पुलिस को सत्य पुलिस स्टेशन के चक्कर लगाने पड़े लोगों की ऐसी सोच है मानवता आज के समाज के लोग भूलते जा रहे हैं जिसके कारण हमारे समाज में गंदगी बढ़ती जा रही है हमें ही हमें अपने समाज की गंदगी को साफ करना होगा नहीं तो 1 दिन ऐसा आएगा कि हम शिकंदी कि के पद स्वीकृत घुट के मर जाएंगे मैं आप लोगों से यही कहना चाहूंगी यह एक कदम तुम पर आओ एक कदम तुम बढ़ाओ फिर किसी से आज लगाओ फिर किसी से आस लगा

#जीवन शैली

bolkar speaker
आज की जनरेशन की कौन सी बातें आपको ना पसंद है?Aaj Kee Generation Kee Kaun See Baate Aapako Na Pasand Hai
Prerna Rai Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Prerna जी का जवाब
Collage student in polytechnic collage
2:36
पीढ़ी दर पीढ़ी हम अपने समाज में बराबर बदलाव देखते हैं जिसमें से कुछ बदलाव हमें अच्छे लगते हैं कुछ बदला-बदला उस पीढ़ी को अच्छे लगते हैं और बदलाव हमें अच्छे नहीं लगते हैं और कुछ बदलाव ऐसे होते हैं जो पहली वाली पीढ़ी को अच्छे लगते हैं मैं आप को बता देना चाहती हूं अगर हम आज की जनरेशन की बात करें तो मुझे सिर्फ और सिर्फ एक चीज अच्छी नहीं लगती और सब तो ठीक है कहीं ना कहीं आज की जनरेशन में कमियां बहुत ज्यादा है पर इट्स ओके जैसे ऐसे आगे बढ़ते जाएंगे वह कमियां सुधरती जाएंगे पर एक रुत सबसे बड़ी कमी आ रही है आज की जनरेशन में जो कि फ्यूचर के जरिए सबको भी असर डालेगी और अगर फ्यूचर का जनरेशन बिगड़ेगा आज का जनरेशन है उसका कारण रहेगा आज की जनरेशन के लोग बड़े लोगों का आदर करना भूल गए हैं पहले के लोग पैर छूकर हाथ जोड़कर अपने से बड़ों को नमस्ते करते थे आज की जनरेशन किलो हाय बाय कर कर बड़े को भी आदर देते हैं जब हम अपने बड़ों के सामने झुकते हैं और वह हमें आशीर्वाद देते हैं उनके आशीर्वाद में इतनी ताकत होती है कि अब किसी भी तरह का कामयाबी किसी भी तरह के कार्य को पूरा कर सकते हैं परंतु आज के जनरेसन को अगर यह समझाया जाए कीपैड में नमस्ते बोलो तो बोलते तो पुराना फैशन हो गया है यह फैशन नहीं यह हमारे भारत की संस्कृति है कि हमारे भारत का पहचान है कि अपने से बड़ों का आदर करते हैं आज का जल्दी से इस बात को समझना नहीं चाहता इसी कारण रिश्तों में खटास आने लग जाती है बोली में मिठास खत्म होगी लोगों में दूरी बढ़ने लग जाती है मैं आज के चुनरी सर कुछ भी मैसेज देना चाहूंगी कि आप कुछ भी करें चाहे परंतु अपने बड़ों का सम्मान करना मत भूलना अगर आप आज अपने से बड़ों का सम्मान करना बोलेंगे तो किचन में आने वाले चंदे से आप का सम्मान करना भूल जाएगी अंत में सिर्फ यही कहूंगी बड़े बड़े बूढ़ों का है अगर आशीर्वाद बड़े बूढ़ों का है अगर आशीर्वाद तभी है हम आता भी हम कुछ कर सकते हैं आगे चल कर संघर्ष

#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker
कम समय में ज्यादा पढ़ाई कैसे की जा सकती है?Kam Samay Mein Jyada Padhai Kaise Ki Ja Sakti Hai
Prerna Rai Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Prerna जी का जवाब
Collage student in polytechnic collage
2:13
गुलशन प्रेसिडेंट लाइफ में किसी चीज पर कौन सल्फेट कर कर अगर चढ़ी किया जाए तो हम असलियत में सफल हो सकते हैं स्टूडेंट लाइफ में क्यों हम कभी भी किसी भी एज में कोई सी भी स्टडी कर रहे हैं या कोई सा भी काम कर रहे हैं अगर हमने अपनी तरफ से पूरी तरह से कंसंट्रेट लगा रखा है फुल फोकस के साथ काम कर रहे हैं तो हमें उस काम में जरुर सफलता मिलती है कम समय में ज्यादा पढ़ाई कैसे की जाती है इस सवाल का जवाब है अब जब भी स्टडी करने बैठे आप एक पेज पर लिख ले आपको स्टार्टिंग के मनावर में क्या करना है अगर आप 3 घंटे स्टडी करने बैठे हैं तो आपको 3 घंटे में कौन कौन सा सब्जेक्ट पढ़ना है कितने कितने देर बाद कौन सा सब्जेक्ट पढ़ना है जब वह लिख ले तो आप डायरेक्ट पढ़ने बैठे और बिना वह काम कंप्लीट के बीच में ना होते इंसान की प्रॉब्लम होती है या मैं यह कहूं स्टूडेंट की प्रॉब्लम होती है क्यों थोड़ी देर स्टडी करने बैठता 1 घंटे पर जबरदस्त के मन में लगता है मैंने बहुत पढ़ ली आपने बहुत नहीं थोड़ा भी आपने कम ही पर है अगर अमित कम समय में ज्यादा पढ़ाई करने तो उसके लिए गर्म पूरे कंसंट्रेट से 3 घंटे भी चैटिंग करें तो पूरे दिन काम लड़ाई कर सकते हैं एक ऐसा चीज है जब लग जाता है तरह-तरह के गोल कामयाब हो जाते हैं अगर आपको अपना फोकस परहाना है तो आपके पास एक गोल होना चाहिए अगर आपके पास एक गोल है तभी आप अपने फोकस को बनाए रख सकते हैं अपना गोल निश्चित कीजिए आपको कल चालि पूरी कंसंट्रेशन के साथ पढ़ाई कीजिए कम समय में आपको ज्यादा आउटपुट जरूर मिलेगा अंत में यही कहूंगी समय की कीमत है ऐसी समय की कीमत है ऐसी जिसे जाना आज तो कल करोगे राज जिसे जाना कल करोगे राज

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
हमारे भारत में ही जातिवाद क्यों होता है?Humare Bharat Mein He Jaativaad Kyun Hota Hai
Prerna Rai Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Prerna जी का जवाब
Collage student in polytechnic collage
2:09
मेरा बात नहीं हमारा भारत हमारा भारत जहां पर हर जाति हर धर्म के लोग रहते हैं अलग-अलग भाषाएं बोलते हैं अलग-अलग तरह के पहनावे को अपनाते हैं अलग-अलग तरह के भोजन को खाते हैं तरह-तरह के त्यौहार मनाते हैं फिर भी सब एक मेरा भारत एक ऐसा अकेला देश है जहां पर इतनी ज्यादा धर्म के लोग इतने सारे जाति पात पाई जाती है हमारे भारत में ही जातिवाद क्यों है इसका सबसे बड़ा कारण है कि यहां पर अलग-अलग जाति के लोग रहते हैं अलग-अलग धर्मों के लोग रहते हैं और जातिवाद में कहूं एक तरह से हमारे लिए बस आपका भी काम करते हैं रोजाना कहीं ना कहीं हम यह सुनते हैं कि जगह-जगह खबर किसी बात पर दो जाति के बीच में दंगा हो गया तू धर्मों के बीच में दंगा हो मेरे भारत देश की पहचान है या अलग अलग जाति के लोग रहते हैं अलग-अलग भाषाएं बोलते अलग-अलग धर्मों के लोग रहते हैं परंतु कुछ कुछ कारण ही जातिवाद को हमारे लिए भी शराब बनाते जा रहे हैं भारत में जातिवाद इसलिए है क्योंकि अलग-अलग तरह की जाती रहते हैं परंतु हमें जातिवाद को बढ़ावा देना चाहिए उस तरह से नहीं कि किसी आम किस जाति के हैं उसी काम तारीफ करें दूसरे साथी को नीचा दिखाए बढ़ावा देने का मतलब है सब एकजुट हो जाएं सभी जाति एकजुट होकर अपने अपने अपने अपने जाति का प्रचार करता साथ-साथ दूसरे भी जाति का सम्मान करें जब हम अपने जाति का तारीफ करते क्या मिस जाति से बिलॉन्ग करते हैं प्रशासक दूसरी शादी का भी सम्मान करते हैं तब लोगों में आपस में प्रेम की भावना उत्पन्न होती है जिससे कि हम जातिवाद को बढ़ाओ दे सकते हैं हम एकत्र होकर अपने भारत देश में अपने भारत देश का इसे ताकत बना सकते हैं

#जीवन शैली

bolkar speaker
क्या कारण है आजकल चोरी और डकैती बढ़ती ही जा रही है?Kya Karan Hai Aajkal Chori Aur Dakaiti Badhti He Ja Rahi Hai
Prerna Rai Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Prerna जी का जवाब
Collage student in polytechnic collage
2:48
आजकल माहौल बनाया है जहां देखो वहीं छोरी देखो वहीं तक है चाहे आप बस स्टैंड में हो चाहे आप रेल स्टेशन पर हो चाहे आप मेट्रो स्टेशन पर हो चाहे आप कहीं भी खड़े हो वहां पर आप दे पाएंगे कि चोरी और डकैती वही रही अगर आप जानना चाहते हैं आजकल चोरी और डकैती क्यों बढ़ती जा रही है तो मैं आपको बता दूं महसूस शब्द बोलने जा रही हूं उससे आप भी परिचित हैं हमारा देश भी परिचित है हमारा समाज भी परिचित है और वह शब्द है बेरोजगारी बहुत लोग बहुत सारे लोग बेरोजगार जिनके पास कोई भी काम नहीं है और जब लोगों के पास कोई भी काम नहीं होगा तो कहावत सुनी हो खाली दिमाग शैतान का घर होता है जब इंसान के पास कोई काम ही नहीं है तो उसे कम से कम अपने दो वक्त की रोटी चलाने के लिए चोरी तो करनी होगी हां भैया भी कहूंगी जो चोरी डकैती कर रहे हैं हमेशा से जो मजबूरी नहीं है कुछ कुछ लोगों का यह सब शौक भी होता है शौक जिस तरह से बताओ कुछ कुछ लोग गलत संगत में आकर काम करना स्टार्ट कर देते हैं पर 9 में से 50% लोग अपनी रोजगारी के कारण ही काम करते हैं और यह चोरी चकारी बिना नशे की लत की तरह होती है जैसे दारु शराब दो तीन बार पीने के बाद उसे लेने की आदत हो जाती है वैसे ही चोरी डकैती करना चार-पांच बार करने के बाद यह बहुत आसान लगने लग जाता है हाथों का मैल लगने लग जाते हैं 2 मिनट में तुम नेट चला लिया बिल्कुल नशे की तरह काम करता है इसके पीछे सबसे बड़ा कारण बेरोजगारी है हमें सरकार से हमेशा से यही अनुरोध करते हैं कि हर काम के लिए कुछ ना कुछ किया जाए तो बेरोजगारी के लिए कोई ऐसा कदम उठाया जाए जिससे कि हमारा देश हमारा भारत देश और उन्नति के तरफ जाएं और चोरी चकारी धीरे धीरे कम हो और 1 दिन ऐसा समय क्यों पूरी तरह से खत्म हो जाए हर चीज संभव होती है मैं यह नहीं कहूंगा कि तुरंत सब चोरी डकैती खत्म हो जाएगा हां इसमें 10 साल लग सकता है 20 साल से हो सकता है 50 साल भी लगा एक ना एक दिन अगर बेरोजगारी खत्म हुई चोरी डकैती खत्म हो जा हो सकती है

#जीवन शैली

Prerna Rai Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Prerna जी का जवाब
Collage student in polytechnic collage
2:04
बुरा जो देखन मैं चला बुरा न मिलिया कोय जो दिल खोजा आपना मुझसे बुरा ना कोई अबीरा मुझसे बोला कबीर जी का दोहा है जिसका अर्थ है जब मैं दूसरों के अंदर कोई कमी ढूंढने चला किस के अंदर क्या कमी है तो मैंने क्या पाया कि पूरी दुनिया से ज्यादा तो मेरे अंदर ही कमी है हम जब किसी और की कमियां गिनाते हैं हमें इस बात पर ध्यान नहीं दे रही है उसके अंदर जो कमी है क्या उसी कमी का हमारे अंदर खासियत है हम पूरी तरह से जिस जिस चीज में उसकी कमियों से पूरी तरह से हम अपना अपना कर्तव्य सब कुछ हासिल कर चुके हैं जब हम दुनिया में किसी को ढूंढने चलते हैं कि वह इंसान सबसे बुरा है जो यह काम करता है वह इंसान सबसे बुरा है जो यह काम करता है यह गलत काम करता है तो हम खुद पाएंगे जी हां हम अपने आप में पाएंगे कि हमारे अंदर कितनी सारी कमियां हैं हम लोगों की तो कमी देख रहे हैं लोगों की कमी भी बता रहे कि तुम्हारे अंदर यह कमी है मैं बोलने का तरीका नहीं आता तुम्हें चलने का तरीका नहीं आता हम सब कुछ कमी के ना देते हैं पर जब हमारी अपनी बारी आती है हम यह पाएंगे सबसे ज्यादा कमी तो हमारे अंदर है किसी और को सीख देने से पहले हमें अपने अंदर की कमियों को सुधारना चाहिए अगर रोज हम अपने अंदर एक भी कमी को सुधार लेंगे तुम एक दिन परफेक्ट इंसान बन सकते हैं आप किसी और की कमी निकाल कर अपने अंदर की खासियत को नहीं बनवा सकते इससे आपके अंदर और कमी आ रही है कि आप दूसरों की कमी को देख रहे कबीर जी के दोहे का यही अर्थ था

#धर्म और ज्योतिषी

Prerna Rai Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Prerna जी का जवाब
Collage student in polytechnic collage
2:46
जिस हिसाब से यह सवाल पूछना है क्या एक मरे हुए व्यक्ति को भी गुरु बनाया जा सकता है मेरी मां ने तो हां बिल्कुल कसम कहते हैं कि यह बंदा मेरा आइडियल है इसने रुक काम किया है उस देश का मुझे बहुत ज्यादा इन्फ्लेशन महसूस होता है कुछ कुछ आईडिया महात्मा गांधी होते हैं कुछ कुछ के इंदिरा गांधी होते हैं इस क्वेश्चन में गुरुजी के बारे में पूछा गया है अगर हां तो वह दीक्षा किस प्रकार देंगे मैं आपको पता था आप जैसे ही आइडियल बनाना चाहते हैं या यह कहें जिसे भी अपना गुरु बनाना था गुरु अगर आपने पूरी क्षमता से पूरे मन से पूरे दिन से मैं ग्रुप बना चुके हैं तो आपको विश्वास जरूर दिखाएंगे जैसे हम जानते हैं गुरु द्रोणाचार्य ने उन्हें अपना शिष्य नहीं माना था परंतु एकलव्य ने पूरे दिल से पूरी निष्ठा से हमें गुरु मान लिया था और उनकी मूर्ति बनाकर उनकी मूर्ति के पास हीरोज अभ्यास करता था जबकि उसे कोई सिखाता नहीं था पर उसे लगता था कि मूर्ति ही उस पर ध्यान रख रही है वही उसे दिखा दिखा रहे हैं जिसके कारण इतना बड़ा योद्धा बात की बात है तूने गुरु दक्षिणा में वो दोनों में द्रोणाचार्य नेमीचंद का अंगूठा मांग लिया था कि आप ने केंद्र की ऊर्जा देखी उसमें एक निजी निर्जीव की यानी माटी कल अपने गुरु का मूर्ति बनाया तब भी अजीब है परंतु अपने भक्ति से उसने उसे सजीव बना दिया और सबसे बड़ा योद्धा को सबसे तेज सबसे ज्यादा टी सबसे पहले सीखने वाला तीर धनुष योद्धा बन गया जैसे कि आप भी किसी को भी गुरु मानकर अगर आप पूरी तरह से निष्ठा से लोग रोमांच उनके कहे हुए आदेशों पर चलते हैं आपको जरूर आप जरूर आगे बढ़ पाएंगे इस सवाल में जो पूछा गया था मेरे ख्याल से आपको आपका आंसर मिल गया होगा एकलव्य की कहानी से इसलिए हम चाहे तुम हिंदी को भी आइडियल बना सकते हैं पर जरूरी है उसे आइडियल बनाने से पहले हमें उनके प्रतिशत के प्रति सम्मान उनके प्रति आदर का भाव उनके प्रति सब कुछ पता कर लेना चाहिए हम साथ साथ कभी भी किसी भी तरह का मन में लालच नहीं आना चाहिए

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
जब हम किसी अपने से दूर हो जाए और वह हमसे बात ना करें तो हमें क्या करना चाहिए?Jab Hum Kisi Apne Se Door Ho Jaye Aur Wah Humse Baat Na Karein To Hume Kya Karna Chahiye
Prerna Rai Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Prerna जी का जवाब
Collage student in polytechnic collage
2:40
हिंदी में खींचातानी होती रहती है परंतु हमें अपने रिश्ते हमें अपने रिश्ते माटी और पेड़ की तरह बनाने चाहिए चाहे कितना भी बड़ा हो जाए माटी का साथ नहीं छोड़ना चाहिए कहो चाहे पेड़ की जड़े कितनी भी बड़ी हो जाए फिर का फीस कितना भी बड़ा हो जाए माटी उसका साथ नहीं छोड़ती हर रिश्ते में खींचातानी होती रहती है परंतु हम लोगों को यह समझना चाहिए कि अगर एक साइड से जुकाम नहीं आ रहा तो हमें झुक जाना चाहिए अगर हम चाहेंगे कि वह भी बोले जा रहे हम भी बोले जाए तो बात संभालती नहीं और बिगड़ती जाती है हम रिश्ते में भी ग्राहक सही नहीं है जब हम किसी अपने से दूर हो जाए चाहे वो रिश्तेदारों या दोस्त हमेशा बात ना करें तो हमें बात करनी चाहिए मेरा मानना तो आपसे पहले तो दो-तीन बार बात करने की कोशिश कीजिए की थी अगर वह दो-तीन बार में मान रहे हैं तो ठीक है अगर वह नहीं मान रहे तो आप भी कुछ समय के लिए उठा लीजिए हो सकता है उनको जब एहसास तो खुद आपसे बात करने लगे जब तक के लिए छोड़ दीजिए परंतु अपनी तरफ से आप प्रयास कभी मत छोड़ कर दो तीन बार बात करने के बाद आपसे बात नहीं कर रहे और उस समय भी लंबे समय के बाद आकर आपसे कुछ बोल रहा था आप उसका जवाब दीजिए यह नहीं कि वह आपसे बात करने के लिए तैयार तो आप ना मुझे मैं यह मानना है मेरा अगर एक फोटो से सॉरी बट से सब कुछ और हो सकता है तो झगड़ा करना करने के बाद बोलने में क्या जाता है हमारी देखते हैं कि रोड में अगर रोड पर अगर छोटा सा एक्सीडेंट हो जाए दोनों जगह में लग जाते बाहर निकल की उम्र में से कोई एक भी सॉरी वर्ड कमाल कर ले छोटा तो नहीं होगा ना एक भी सॉरी बोल दिया तो उसी समय वह बात तो मिल जाएगी उसी टाइम झगड़ा बंद हो जाएगा नहीं और कोई किसी के सामने झुकना नहीं चाहता इंसान की फितरत दूसरे इंसान के प्रति घृणा दूसरे इंसान के प्रति दुश्मनी दूसरे इंसान के प्रति हीन भावना को पैदा करता है जो कि सही मेरा मानना तो यह है कि अगर आप सॉरी मत बोल रहा है तो उसका आप का एहसास होना चाहिए आपकी गलती हो या ना हो अलग बात कह रही हूं सॉरी व्हाट्सएप मेरा मन में कुछ भी हो सकता है तो क्यों ना मैं बैठकर तुम्हारी करें
Hindee mein kheenchaataanee hotee rahatee hai parantu hamen apane rishte hamen apane rishte maatee aur ped kee tarah banaane chaahie chaahe kitana bhee bada ho jae maatee ka saath nahin chhodana chaahie kaho chaahe ped kee jade kitanee bhee badee ho jae phir ka phees kitana bhee bada ho jae maatee usaka saath nahin chhodatee har rishte mein kheenchaataanee hotee rahatee hai parantu ham logon ko yah samajhana chaahie ki agar ek said se jukaam nahin aa raha to hamen jhuk jaana chaahie agar ham chaahenge ki vah bhee bole ja rahe ham bhee bole jae to baat sambhaalatee nahin aur bigadatee jaatee hai ham rishte mein bhee graahak sahee nahin hai jab ham kisee apane se door ho jae chaahe vo rishtedaaron ya dost hamesha baat na karen to hamen baat karanee chaahie mera maanana to aapase pahale to do-teen baar baat karane kee koshish keejie kee thee agar vah do-teen baar mein maan rahe hain to theek hai agar vah nahin maan rahe to aap bhee kuchh samay ke lie utha leejie ho sakata hai unako jab ehasaas to khud aapase baat karane lage jab tak ke lie chhod deejie parantu apanee taraph se aap prayaas kabhee mat chhod kar do teen baar baat karane ke baad aapase baat nahin kar rahe aur us samay bhee lambe samay ke baad aakar aapase kuchh bol raha tha aap usaka javaab deejie yah nahin ki vah aapase baat karane ke lie taiyaar to aap na mujhe main yah maanana hai mera agar ek photo se soree bat se sab kuchh aur ho sakata hai to jhagada karana karane ke baad bolane mein kya jaata hai hamaaree dekhate hain ki rod mein agar rod par agar chhota sa ekseedent ho jae donon jagah mein lag jaate baahar nikal kee umr mein se koee ek bhee soree vard kamaal kar le chhota to nahin hoga na ek bhee soree bol diya to usee samay vah baat to mil jaegee usee taim jhagada band ho jaega nahin aur koee kisee ke saamane jhukana nahin chaahata insaan kee phitarat doosare insaan ke prati ghrna doosare insaan ke prati dushmanee doosare insaan ke prati heen bhaavana ko paida karata hai jo ki sahee mera maanana to yah hai ki agar aap soree mat bol raha hai to usaka aap ka ehasaas hona chaahie aapakee galatee ho ya na ho alag baat kah rahee hoon soree vhaatsep mera man mein kuchh bhee ho sakata hai to kyon na main baithakar tumhaaree karen

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
एक ट्रेन में आपके द्वारा अनुभव किए गए कुछ सबसे असहज अनुभव क्या है?Ek Train Mein Aapke Dwara Anubhav Kiye Gaye Kuchh Sabse Asahaj Anubhav Kya Hai
Prerna Rai Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Prerna जी का जवाब
Collage student in polytechnic collage
3:00
ट्रेन का सफर जो कि बहुत ही मजेदार होता है हम हर गर्मियों की छुट्टी में इंतजार करते थे कि कब हम अपने कहां जाएंगे हम बिहार के रहने वाले हैं परंतु हम दिल्ली में रहकर अपनी पढ़ाई करते हैं मेरे पापा मम्मी में मेरी बहना सबकी मेरा गर्मियों की छुट्टियों में हम अपने दादा दादी से मिलने पर हार जाते हैं मैं बिहार जाने में 24 घंटे से भी ज्यादा समय लगता है हम अपने से दूर की दूरी ट्रेन से सफर करते हैं और ट्रेन में जो मजा है वह कहीं नहीं है एक बार की बात है मैंने एक अनुभव अनुभव किया एक बार की बात है मैं ट्रेन में बैठी हुई थी उनसे अपनी-अपनी सीटों पर बैठे हुए थे सामने वाली सीट पर ही एक बुरी बुजुर्ग और बैठी हुई थी उनके साथ साथ उनके पोते बेटे और बहू भी थी मैंने क्या अनुभव किया उनके पोते बेटे और बहू सब अपने आप में लगे हुए हैं उन बुजुर्ग औरतों को भी कुछ पूछ भी नहीं रहा चाहे कोई खाने की कुछ बात हो या कुछ मुझे जब भी कुछ चाहिए था खुद ही ले लेते देखकर मुझे बहुत आश्चर्य चकित हो क्या क्यों कोई गलती से कुछ बोल क्यों नहीं रहे हमसे कोई बात क्यों नहीं कर रहा है बाद में रात का समय हुआ तो जैसे कि उसे बोलने आई तो अपना उधर एक साइड में फिर कर कर सो गई मैं यह सब देखकर समझ नहीं पा रही थी कि क्या हो रहा है मैं अपनी फैमिली के साथ इंजॉय कर रही थी पर मेरा बार-बार ध्यान वही चला जा रहा था कहते हैं ना तब जब उनसे कुछ देख ले तो उसकी जड़ तक मोहन जाए तब तक हमें समय नहीं मिलता मेरा भी कुछ काम था जब हम अपने डेस्टिनेशन यानी जब ट्रेन आखरी स्टेशन पर पहुंच जाना करना था तो वह यही बताना था जैसे हम लोग पढ़ने लग गए मैंने क्या देखा कि सब मुझे पोता बहुत सुंदर गजब औरत को कुत्ता रही थी ऐसे में उनकी मदद करने की कोशिश करी वह मेरे को चला जिसमें मेरे पैर हाथ सलामत है मैं चल सकती हूं तो सो गई मैं तो सेकंड की मदद करना चाहती थी जब मैंने उनकी बहू ने मुझे पता है कि वह चाहती है क्यों कोई मदद ना करें क्योंकि जब कोई इनकी ज्यादा मदद करने लग जाते हैं उन्हें लगता है कि राधा पूरी हो चुकी है हमें चाहती है कि उनको कोई बड़ा फर्क है शासनादेश में हम लोग भी उन आंखों से कम बात करते मुझसे छोटी बात पर गुस्सा हो जाती है गुस्सा होकर वह अपने
Tren ka saphar jo ki bahut hee majedaar hota hai ham har garmiyon kee chhuttee mein intajaar karate the ki kab ham apane kahaan jaenge ham bihaar ke rahane vaale hain parantu ham dillee mein rahakar apanee padhaee karate hain mere paapa mammee mein meree bahana sabakee mera garmiyon kee chhuttiyon mein ham apane daada daadee se milane par haar jaate hain main bihaar jaane mein 24 ghante se bhee jyaada samay lagata hai ham apane se door kee dooree tren se saphar karate hain aur tren mein jo maja hai vah kaheen nahin hai ek baar kee baat hai mainne ek anubhav anubhav kiya ek baar kee baat hai main tren mein baithee huee thee unase apanee-apanee seeton par baithe hue the saamane vaalee seet par hee ek buree bujurg aur baithee huee thee unake saath saath unake pote bete aur bahoo bhee thee mainne kya anubhav kiya unake pote bete aur bahoo sab apane aap mein lage hue hain un bujurg auraton ko bhee kuchh poochh bhee nahin raha chaahe koee khaane kee kuchh baat ho ya kuchh mujhe jab bhee kuchh chaahie tha khud hee le lete dekhakar mujhe bahut aashchary chakit ho kya kyon koee galatee se kuchh bol kyon nahin rahe hamase koee baat kyon nahin kar raha hai baad mein raat ka samay hua to jaise ki use bolane aaee to apana udhar ek said mein phir kar kar so gaee main yah sab dekhakar samajh nahin pa rahee thee ki kya ho raha hai main apanee phaimilee ke saath injoy kar rahee thee par mera baar-baar dhyaan vahee chala ja raha tha kahate hain na tab jab unase kuchh dekh le to usakee jad tak mohan jae tab tak hamen samay nahin milata mera bhee kuchh kaam tha jab ham apane destineshan yaanee jab tren aakharee steshan par pahunch jaana karana tha to vah yahee bataana tha jaise ham log padhane lag gae mainne kya dekha ki sab mujhe pota bahut sundar gajab aurat ko kutta rahee thee aise mein unakee madad karane kee koshish karee vah mere ko chala jisamen mere pair haath salaamat hai main chal sakatee hoon to so gaee main to sekand kee madad karana chaahatee thee jab mainne unakee bahoo ne mujhe pata hai ki vah chaahatee hai kyon koee madad na karen kyonki jab koee inakee jyaada madad karane lag jaate hain unhen lagata hai ki raadha pooree ho chukee hai hamen chaahatee hai ki unako koee bada phark hai shaasanaadesh mein ham log bhee un aankhon se kam baat karate mujhase chhotee baat par gussa ho jaatee hai gussa hokar vah apane

#जीवन शैली

bolkar speaker
अमीर और गरीब लोगों की आदतों में क्या अंतर होता है?Ameer Aur Gareeb Logon Ki Aadaton Mein Kya Antar Hota Hai
Prerna Rai Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Prerna जी का जवाब
Collage student in polytechnic collage
2:50
आदत आदत में अंतर इंसान के रहने के ढंग इंसान के ऊपर बीत रही समय जान का खराब अच्छा दोनों समय सब पर डिपेंड करता है हम इस तरह के माहौल में रह रहे होते हैं हमारी आदत है वैसे ही बन जाती है अगर मैं अमीर और गरीब लोगों की आदतों में अंतर स्पष्ट करो तो मैं बताऊंगा अमीर लोगों के आवेदन कैसे होती है कि हमेशा अपने आप को अपडेट रखना दूसरों के सामने अपने आपको हमेशा ऊंचा दिखाएं कोई बात कहने से पहले सूरत परंतु गरीब को कुछ सुनाने से पहले अमीर लोग नहीं सोचते गरीब पर कुछ और जाम लगाने से पहले मिल लो नहीं सोचते कि अगर हम गरीब लोगों की बात करें तो गरी लोगों को कुछ भी बोलने से पहले अमीर लोगों से भी ज्यादा सोचना पड़ता है क्योंकि उनकी बोली गई एक एक बार उनको उनको उसका फल मिलता है या यह कहा अगर उनके मुंह से कुछ गलत निकल जाए तुम उनको उसका बहुत बड़ा भुगतान भरना पड़ता है गरीब लोग जितनी सारी तकलीफ में रहते हैं उतना ज्यादा नहीं नहीं बातों को सीख पाते हैं नई नई चीजों को देखो आएंगे और वह यही चाहती हैं कि उनके जो बच्चे को किस करीबी में नाचे हमारे समाज में तीन तरह के लोग रहते हैं हम अमीर गरीब पर मेडल प्राप्त मिडिल क्लास के बाद अगर हटा दिए हैं गरीब लोगों का जीना बहुत ही ज्यादा मुश्किल होता है खुद दो वक्त की रोटी भी बहुत मुश्किल से जुटा पाते हैं और साथ-साथ यह भी बता दो गरीब लोग कभी भी जल्दी इंतजाम नहीं लगाते उनके बीच में आप से रिश्ते अच्छे होते हैं वह कुछ बोलने अपने रिश्तेदारों ने दो संबंधियों से हमेशा मेल मिलाव रखता है कि अगर अमीर की बात करी तूने सबकी नहीं कुछ की बात करने को समीर ऐसे होते हैं जो अमीरी के घमंड में मेरे साथ तारों से अपना रिश्ता तोड़ देते हैं दोस्त यारों पर इल्जाम लगाने लगे सबसे बड़ा अंतर है गरीब और मम्मी मैं अंत में सिर्फ यही कहूंगी अमीर हो या गरीब सबका सम्मान अमीर हो या गरीब सबका करो सम्मान जिंदगी है कि जिंदगी है कि जिस में सब को भी खेलना
Aadat aadat mein antar insaan ke rahane ke dhang insaan ke oopar beet rahee samay jaan ka kharaab achchha donon samay sab par dipend karata hai ham is tarah ke maahaul mein rah rahe hote hain hamaaree aadat hai vaise hee ban jaatee hai agar main ameer aur gareeb logon kee aadaton mein antar spasht karo to main bataoonga ameer logon ke aavedan kaise hotee hai ki hamesha apane aap ko apadet rakhana doosaron ke saamane apane aapako hamesha ooncha dikhaen koee baat kahane se pahale soorat parantu gareeb ko kuchh sunaane se pahale ameer log nahin sochate gareeb par kuchh aur jaam lagaane se pahale mil lo nahin sochate ki agar ham gareeb logon kee baat karen to garee logon ko kuchh bhee bolane se pahale ameer logon se bhee jyaada sochana padata hai kyonki unakee bolee gaee ek ek baar unako unako usaka phal milata hai ya yah kaha agar unake munh se kuchh galat nikal jae tum unako usaka bahut bada bhugataan bharana padata hai gareeb log jitanee saaree takaleeph mein rahate hain utana jyaada nahin nahin baaton ko seekh paate hain naee naee cheejon ko dekho aaenge aur vah yahee chaahatee hain ki unake jo bachche ko kis kareebee mein naache hamaare samaaj mein teen tarah ke log rahate hain ham ameer gareeb par medal praapt midil klaas ke baad agar hata die hain gareeb logon ka jeena bahut hee jyaada mushkil hota hai khud do vakt kee rotee bhee bahut mushkil se juta paate hain aur saath-saath yah bhee bata do gareeb log kabhee bhee jaldee intajaam nahin lagaate unake beech mein aap se rishte achchhe hote hain vah kuchh bolane apane rishtedaaron ne do sambandhiyon se hamesha mel milaav rakhata hai ki agar ameer kee baat karee toone sabakee nahin kuchh kee baat karane ko sameer aise hote hain jo ameeree ke ghamand mein mere saath taaron se apana rishta tod dete hain dost yaaron par iljaam lagaane lage sabase bada antar hai gareeb aur mammee main ant mein sirph yahee kahoongee ameer ho ya gareeb sabaka sammaan ameer ho ya gareeb sabaka karo sammaan jindagee hai ki jindagee hai ki jis mein sab ko bhee khelana

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
आपको क्या लगता है इस बार भाजपा बंगाल में सरकार बना पाएगी?Aapako Kya Lagata Hai Is Baar Bhajpa Bangal Me Sarkaar Bana Paegi
Prerna Rai Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Prerna जी का जवाब
Collage student in polytechnic collage
1:47
जैसा कि हम लोग जानते हैं इस बार बंगाल चुनाव में कांटे की टक्कर हो रही है टीएमसी और बीजेपी की थी मेरा मन में तो यही है कि स्पा आज पर जीते या हारे पर यह तो तय है कि उतना टीएमसी को बहुत ज्यादा टक्कर देने वाली है पिछले बार के कम पर इस बार 19 सीट भी ज्यादा मिलने वाली है और साथ-साथ उनका यह भी संयोग बन सकता है कि कुछ जीत ही चैट पर हमें टीएमसी को भी किसी से कम नहीं समझना चाहिए क्योंकि उनकी भी 10 साल तक की सरकार है और ममता बनर्जी बंगाल की शेरनी इतनी जल्दी हारने वाली भी सही है इस बार का हालत देखकर यह भी करा नहीं कह सकते हैं कि यह से भी बहुत जल्दी घायल होने वाली है क्योंकि जिस हिसाब से बीजेपी बंगाल में प्रचार कर रही है अपने पार्टी का दावा दे रही है किस पर हम जीतेंगे बंगाल के लोग की बातों से बहुत ज्यादा ही प्रभावित हो रही है और वहीं जहां अगर बीजेपी जीती है बीजेपी को ज्यादा सीट मिली वहां से टीएमसी का में कह सकते हैं कि बंगाल से पता करने वाला यह चांस हो सकता है कि बीजेपी वहां पर जीते पर यह भी चांस है कि वरना जीतकर ममता बनर्जी को कांटे की टक्कर देख कर अच्छी सिटी अपनी पार्टी में अपनी तरफ खींचना इस बार बीजेपी चुंबक की तरह बंगाल में चली गई है जो कि वहां की चल ज्यादा सीटें अपनी तरफ खींचना चाहती है है जो आएगा 2 मई को नतीजा सब साफ हो जाएगा मेरा मानना यही है कि बीजेपी की सरकार इस बार बंगाल में बन सकती है
Jaisa ki ham log jaanate hain is baar bangaal chunaav mein kaante kee takkar ho rahee hai teeemasee aur beejepee kee thee mera man mein to yahee hai ki spa aaj par jeete ya haare par yah to tay hai ki utana teeemasee ko bahut jyaada takkar dene vaalee hai pichhale baar ke kam par is baar 19 seet bhee jyaada milane vaalee hai aur saath-saath unaka yah bhee sanyog ban sakata hai ki kuchh jeet hee chait par hamen teeemasee ko bhee kisee se kam nahin samajhana chaahie kyonki unakee bhee 10 saal tak kee sarakaar hai aur mamata banarjee bangaal kee sheranee itanee jaldee haarane vaalee bhee sahee hai is baar ka haalat dekhakar yah bhee kara nahin kah sakate hain ki yah se bhee bahut jaldee ghaayal hone vaalee hai kyonki jis hisaab se beejepee bangaal mein prachaar kar rahee hai apane paartee ka daava de rahee hai kis par ham jeetenge bangaal ke log kee baaton se bahut jyaada hee prabhaavit ho rahee hai aur vaheen jahaan agar beejepee jeetee hai beejepee ko jyaada seet milee vahaan se teeemasee ka mein kah sakate hain ki bangaal se pata karane vaala yah chaans ho sakata hai ki beejepee vahaan par jeete par yah bhee chaans hai ki varana jeetakar mamata banarjee ko kaante kee takkar dekh kar achchhee sitee apanee paartee mein apanee taraph kheenchana is baar beejepee chumbak kee tarah bangaal mein chalee gaee hai jo ki vahaan kee chal jyaada seeten apanee taraph kheenchana chaahatee hai hai jo aaega 2 maee ko nateeja sab saaph ho jaega mera maanana yahee hai ki beejepee kee sarakaar is baar bangaal mein ban sakatee hai

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
टेक्नोलॉजी का सभी लोगों पर कैसा असर कर रहा है?Technology Ka Sabhi Logon Par Kaisa Asar Kar Raha Hai
Prerna Rai Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Prerna जी का जवाब
Collage student in polytechnic collage
2:59
दूध का एक परिवार के रीड की हड्डी के समान होता है जिस तरह कोई भी इंसान सही तरीके से बैठ नहीं सकता झुक कर चलता है उसी तरह अगर किसी परिवार में कोई भी एक ऐसा व्यक्ति नहीं है जिसके पास रोजगार नहीं है या यह कानून सिर्फ एक व्यक्ति है जो कि पूरे परिवार का खर्चा चलाता है पूरे परिवार को चलाता है और उसके पास रोजगार नहीं है तो पूरा परिवार टेक्नोलॉजी बुक में इतने फायदे दिख रहे हैं इससे ज्यादा हमें नुकसान भी है मैं मानती हूं कि टेक्नोलॉजी के युग में पेपर वर्क कम हो गया है घंटों का काम मिनटों में होने लग गया है परंतु उन्होंने लोगों का लोगों से उनका रोजगार भी छीन लिया है एक उदाहरण है बता मैं बताती हूं आपको नींद बालों में पहले मेट्रो स्टेशन पर टोकन लेने के लिए लाइन लगी रहती थी काउंटर पर अब क्या होता है या मशीन आ गया इससे इनके छोटू पर निकालते हैं कार्ड को रिचार्ज करते हैं क्या हुआ करते थे उनकी संख्या कम हो गई है यह कहूंगी टेक्नॉलॉजी के युग में लोगों को बहुत आगे उन्हें ले गया है उनको नई नई चीजों से अपने परिचित कराया है हमें बहुत सारे फायदे कंप्यूटर मोबाइल फोन यह सब टेक्नोलॉजी के रूप है क्योंकि हमें दिन प्रतिदिन ज्यादा से ज्यादा फायदे दे रहे हैं ज्यादा ज्यादा सुविधाएं प्रोवाइड कर रहे हैं हमें हमारे स्वास्थ्य पर असर डाल रही है पहले के लोग हाथों से खड़े होते हैं बातों से सब्जियों करते थे परंतु आज के समय के लोग वॉशिंग मशीन का यूज करते हैं सब्जियां करने के लिए भी मशीन का यूज करते हैं और तो और अब तो रोटी बनाने के लिए भी मशीन का यूज करते हैं मेरा के खासदार कहने का यह अर्थ टेक्नोलॉजी से चुनाव लड़ रहा है चुनाव नुकसान भी दे रहा है परंतु चैनल आज का आविष्कार भी इंसान ही कर रहा है या नहीं टेक्नोलॉजी सर्वे जॉब फायदे मिल रहे हैं वह इंसान के द्वारा ही हो सकता है कंप्यूटर पर जब तक एक इंसान ना चलाएं तब तक वह किसी वस्तु की तरह ही पड़ी रहती है जब उसे इंसान चला था तो उसने सिर्फ उस समय पर आकर जाना चाहते हैं हमारा काम करता है वैसे ही और भी बहुत सारे मोबाइल फोन नहीं करो रखा हुआ है तो ऐसे ही वस्तु फालतू वस्तु कर रखा रहता है परंतु द यूज़ करते हैं इंसान कभी यूज़ में
Doodh ka ek parivaar ke reed kee haddee ke samaan hota hai jis tarah koee bhee insaan sahee tareeke se baith nahin sakata jhuk kar chalata hai usee tarah agar kisee parivaar mein koee bhee ek aisa vyakti nahin hai jisake paas rojagaar nahin hai ya yah kaanoon sirph ek vyakti hai jo ki poore parivaar ka kharcha chalaata hai poore parivaar ko chalaata hai aur usake paas rojagaar nahin hai to poora parivaar teknolojee buk mein itane phaayade dikh rahe hain isase jyaada hamen nukasaan bhee hai main maanatee hoon ki teknolojee ke yug mein pepar vark kam ho gaya hai ghanton ka kaam minaton mein hone lag gaya hai parantu unhonne logon ka logon se unaka rojagaar bhee chheen liya hai ek udaaharan hai bata main bataatee hoon aapako neend baalon mein pahale metro steshan par tokan lene ke lie lain lagee rahatee thee kauntar par ab kya hota hai ya masheen aa gaya isase inake chhotoo par nikaalate hain kaard ko richaarj karate hain kya hua karate the unakee sankhya kam ho gaee hai yah kahoongee teknolojee ke yug mein logon ko bahut aage unhen le gaya hai unako naee naee cheejon se apane parichit karaaya hai hamen bahut saare phaayade kampyootar mobail phon yah sab teknolojee ke roop hai kyonki hamen din pratidin jyaada se jyaada phaayade de rahe hain jyaada jyaada suvidhaen provaid kar rahe hain hamen hamaare svaasthy par asar daal rahee hai pahale ke log haathon se khade hote hain baaton se sabjiyon karate the parantu aaj ke samay ke log voshing masheen ka yooj karate hain sabjiyaan karane ke lie bhee masheen ka yooj karate hain aur to aur ab to rotee banaane ke lie bhee masheen ka yooj karate hain mera ke khaasadaar kahane ka yah arth teknolojee se chunaav lad raha hai chunaav nukasaan bhee de raha hai parantu chainal aaj ka aavishkaar bhee insaan hee kar raha hai ya nahin teknolojee sarve job phaayade mil rahe hain vah insaan ke dvaara hee ho sakata hai kampyootar par jab tak ek insaan na chalaen tab tak vah kisee vastu kee tarah hee padee rahatee hai jab use insaan chala tha to usane sirph us samay par aakar jaana chaahate hain hamaara kaam karata hai vaise hee aur bhee bahut saare mobail phon nahin karo rakha hua hai to aise hee vastu phaalatoo vastu kar rakha rahata hai parantu da yooz karate hain insaan kabhee yooz mein

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
क्या आजकल की पीढ़ी रिश्तों की अहमियत को समझती हैं?Kya Aajkal Ki Peedhi Rishton Ki Ehmiyat Ko Samjhti Hain
Prerna Rai Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Prerna जी का जवाब
Collage student in polytechnic collage
2:25
मेरा मानना यह है कोई चीज अपने आप समझी नहीं चाहती उसे समझाना पड़ता है जब हम छोटे होते हैं हमें सिखाया जाता है कोई बड़ा है तो समझ जाओ करो उसने बोला कोई बोले तो चुपचाप सोना उसकी इज्जत अगर हम आज के आजकल की पीढ़ी बात करें तो दिन प्रतिदिन बिगड़ती जा रही है क्योंकि स्थिति को समझना ही नहीं सकती है यह करो उन्हें समझाया तो गया था वहां पर वह भूलते जा रहे हैं रिश्ते खून के नहीं होते रिश्ते इंसानियत के भी होते हैं निभाने वाले तो डिपेंड करता है कि किस तरह के रिश्ते को किस तरह निभा रहा है अगर हमसे कोई अहमियत नहीं जान सकते तो किसी भी चीज की है मैं तो नहीं जानता क्योंकि जब हम रिश्ते की अहमियत जानते हैं हम उस इंसान से डायरेक्टली कनेक्ट हो जाते हैं इंसान की फीलिंग से उस इंसान के जीवन में आने वाली खुशियां इंसान के जीवन में आने वाले तो सब से जुड़ जाते हैं हम दोनों के लिए कुछ रिश्तो के बीच कार्य का गुणवत कमजोर होता है किसी भी तरफ से खींचातानी की जय हो टूट जाता है आजकल की पीढ़ी यह बात समझती ही नहीं है जबकि को समझना नहीं चाहती ने समझाया तो गया था परंतु वक्त ने इसी तरह सबक सबक सिखा के बाद समझा सकते हैं क्योंकि आज अगर उन्होंने रिश्ते की अहमियत नहीं जानी तो जिंदगी भर सफल होते रहेंगे अगर जिंदगी में आपको सफलता पानी है तो सबसे पहले ही काम कीजिए कि आप रिश्ते की अहमियत समझ नहीं आ रहा तो आप अपने बड़े बुजुर्ग इस बात को डिसकस मिले वह आपको रिश्ते किया है समझाएंगे क्योंकि उन्होंने उन्होंने वह भी इस चीज से गुजर
Mera maanana yah hai koee cheej apane aap samajhee nahin chaahatee use samajhaana padata hai jab ham chhote hote hain hamen sikhaaya jaata hai koee bada hai to samajh jao karo usane bola koee bole to chupachaap sona usakee ijjat agar ham aaj ke aajakal kee peedhee baat karen to din pratidin bigadatee ja rahee hai kyonki sthiti ko samajhana hee nahin sakatee hai yah karo unhen samajhaaya to gaya tha vahaan par vah bhoolate ja rahe hain rishte khoon ke nahin hote rishte insaaniyat ke bhee hote hain nibhaane vaale to dipend karata hai ki kis tarah ke rishte ko kis tarah nibha raha hai agar hamase koee ahamiyat nahin jaan sakate to kisee bhee cheej kee hai main to nahin jaanata kyonki jab ham rishte kee ahamiyat jaanate hain ham us insaan se daayarektalee kanekt ho jaate hain insaan kee pheeling se us insaan ke jeevan mein aane vaalee khushiyaan insaan ke jeevan mein aane vaale to sab se jud jaate hain ham donon ke lie kuchh rishto ke beech kaary ka gunavat kamajor hota hai kisee bhee taraph se kheenchaataanee kee jay ho toot jaata hai aajakal kee peedhee yah baat samajhatee hee nahin hai jabaki ko samajhana nahin chaahatee ne samajhaaya to gaya tha parantu vakt ne isee tarah sabak sabak sikha ke baad samajha sakate hain kyonki aaj agar unhonne rishte kee ahamiyat nahin jaanee to jindagee bhar saphal hote rahenge agar jindagee mein aapako saphalata paanee hai to sabase pahale hee kaam keejie ki aap rishte kee ahamiyat samajh nahin aa raha to aap apane bade bujurg is baat ko disakas mile vah aapako rishte kiya hai samajhaenge kyonki unhonne unhonne vah bhee is cheej se gujar

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
क्या कोरोना वैक्सीन पर राजनीति होनी चाहिए?Kya Corona Vaccine Par Rajneeti Honi Chaiye
Prerna Rai Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Prerna जी का जवाब
Collage student in polytechnic collage
2:18
सभी को पता है करो ना काम है क्या सब समय आया जिसने हमें इस दलदल में फंसा दिया जिससे बाहर निकलने का कोई रास्ता दिखाइए उस समय नहीं दे रहा था कोरोनावायरस हमारा 1 साल बर्बाद हुआ है चाहे वह अमीर इंसान हो या गरीब चाहे वह नेता हो प्रधानमंत्री सबका साथ घाटे में ही करें अपनी बात करें अधिक देश की देश को भी स्कूल के कारण बहुत नुकसान झेलना पड़ा और हमें तो उससे भी ज्यादा कोई देश तभी आगे बढ़ पाता है तब वह जब वहां के लोग मिलकर उसके सरकार का साथ दे गोरा काले कैसे समय था जहां हम सभी ने अपना कर्तव्य निभाया हम सभी ने देश की सरकार का साथ दिया था दलदल से बाहर निकल चुकी अब कोरोनावायरस किस पर राजनीति नहीं होनी चाहिए क्योंकि कोरोनावायरस इन सभी के जिंदगी से जुड़ा हुआ है इन लोगों का काम ठप पड़ गया उसको रोना के कारण वह तो यही आस लगाकर बैठे हैं ना कभी कोरोनावायरस अपडेट काम पर लग जाए बहुत लोगों का रोजगार चला गया उसको होने के कारण अभी तुरंत लगने का भी कोई उपाय नहीं दिख रहा पर यह कैसी लग जाएगा तब लोगों को फिर से उनके रोजगार मिलने का और ज्यादा उम्मीद तो मैं सभी राजनीति नेताओं से हाथ जोड़कर प्रार्थना करना चाहती हूं प्लीज कोरोनावायरस इन पर किसी तरह की राजनीति ना करें क्योंकि कोरोनावायरस इन लोगों की पूरी हुई है लोगों क्या हुआ है लोगों का जो समय का खाना जुड़ा हुआ है लोगों की खुशी जुड़ी हुई है लोगों की खुशी हुई हुई इसके ऊपर राजनीति आप लोग नहीं करना चाहिए एक इंसानियत के खातिर में आपको इसके बारे में सोचना चाहिए
Sabhee ko pata hai karo na kaam hai kya sab samay aaya jisane hamen is daladal mein phansa diya jisase baahar nikalane ka koee raasta dikhaie us samay nahin de raha tha koronaavaayaras hamaara 1 saal barbaad hua hai chaahe vah ameer insaan ho ya gareeb chaahe vah neta ho pradhaanamantree sabaka saath ghaate mein hee karen apanee baat karen adhik desh kee desh ko bhee skool ke kaaran bahut nukasaan jhelana pada aur hamen to usase bhee jyaada koee desh tabhee aage badh paata hai tab vah jab vahaan ke log milakar usake sarakaar ka saath de gora kaale kaise samay tha jahaan ham sabhee ne apana kartavy nibhaaya ham sabhee ne desh kee sarakaar ka saath diya tha daladal se baahar nikal chukee ab koronaavaayaras kis par raajaneeti nahin honee chaahie kyonki koronaavaayaras in sabhee ke jindagee se juda hua hai in logon ka kaam thap pad gaya usako rona ke kaaran vah to yahee aas lagaakar baithe hain na kabhee koronaavaayaras apadet kaam par lag jae bahut logon ka rojagaar chala gaya usako hone ke kaaran abhee turant lagane ka bhee koee upaay nahin dikh raha par yah kaisee lag jaega tab logon ko phir se unake rojagaar milane ka aur jyaada ummeed to main sabhee raajaneeti netaon se haath jodakar praarthana karana chaahatee hoon pleej koronaavaayaras in par kisee tarah kee raajaneeti na karen kyonki koronaavaayaras in logon kee pooree huee hai logon kya hua hai logon ka jo samay ka khaana juda hua hai logon kee khushee judee huee hai logon kee khushee huee huee isake oopar raajaneeti aap log nahin karana chaahie ek insaaniyat ke khaatir mein aapako isake baare mein sochana chaahie

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
सर्वनाम किसे कहते हैं?Sarvnaam Kise Kehte Hain
Prerna Rai Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Prerna जी का जवाब
Collage student in polytechnic collage
1:41
संज्ञा के स्थान पर प्रयोग किए जाने वाले शब्दों को शर्म ना कहा जाता है हमसर नाम और अच्छे समझना चाहते हैं तो आप मेरे इस जो मैं बोल रही हूं उस पर ध्यान दीजिए एक समय के बाद एक राजा था उसका नाम विशाल विशाल एक बहुत ही मददगार राजा था मृतकों और सवारी करना बहुत अच्छा लगता था विशाल अपनी प्रजा से बहुत प्यार करता हूं विशाल अपने प्रजा के लिए बहुत कार्य करना एक ईमानदार राजा सेंटेंस में बार-बार शिक्षा लोन दे रही है विशाल क्या है संज्ञा शब्द व्यक्तिवाचक संज्ञा के अंदर विशाल आता है बार-बार का नाम सेंटेंस बिगड़ जा रहा है सेंटेंस ऑडिट करने में कोई इंटरेस्ट नहीं आ रहा है सेंटेंस सही नहीं लग रहा है ऐसे हम सलाम करते हैं मैं तुम्हें वह दोनों ऐसे बोलो एक समय की बात है विशाल नाम का एक राजा था वह बहुत ही ईमानदार था वह अपनी प्रजा का ख्याल रखता था अपनी प्रजा से बहुत प्यार करता था सेंटेंस को जब हम इस सेंटेंस को देखते हैं वह लगाकर विशाल की जगह लगता है संख्या की जगह पर विशाल की जगह का है जो कि सर्वनाम
Sangya ke sthaan par prayog kie jaane vaale shabdon ko sharm na kaha jaata hai hamasar naam aur achchhe samajhana chaahate hain to aap mere is jo main bol rahee hoon us par dhyaan deejie ek samay ke baad ek raaja tha usaka naam vishaal vishaal ek bahut hee madadagaar raaja tha mrtakon aur savaaree karana bahut achchha lagata tha vishaal apanee praja se bahut pyaar karata hoon vishaal apane praja ke lie bahut kaary karana ek eemaanadaar raaja sentens mein baar-baar shiksha lon de rahee hai vishaal kya hai sangya shabd vyaktivaachak sangya ke andar vishaal aata hai baar-baar ka naam sentens bigad ja raha hai sentens odit karane mein koee intarest nahin aa raha hai sentens sahee nahin lag raha hai aise ham salaam karate hain main tumhen vah donon aise bolo ek samay kee baat hai vishaal naam ka ek raaja tha vah bahut hee eemaanadaar tha vah apanee praja ka khyaal rakhata tha apanee praja se bahut pyaar karata tha sentens ko jab ham is sentens ko dekhate hain vah lagaakar vishaal kee jagah lagata hai sankhya kee jagah par vishaal kee jagah ka hai jo ki sarvanaam

#जीवन शैली

bolkar speaker
क्या आप खुद की गलतियों के लिए खुद को माफ़ कर पाए हैं?Kya Ap Khud Ki Galtiyo Ke Lie Khud Ko Maaf Kar Paye Hain
Prerna Rai Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Prerna जी का जवाब
Collage student in polytechnic collage
2:24
ऐसा कोई भी नहीं होगा तो गलती नहीं करता मैं तो यह कहूंगी मन में ऐसा कोई नहीं होगा जो बिना गलती के अपने जीवन में आगे बढ़ने पर हम गलती करते हैं गलती हो जाती है तो गलती कर रही हूं उससे सीख मिल रही है गलती करके मैंने सेट किया परंतु बहुत बार अपने आप को गलत भी मांगती हूं गलती करके अपने आप चाहे इंसान हो या गलती सभी से हो सकती है दूसरे व्यक्ति को किसी गलती पर माफ करना फिर भी आसान होता है कंपेयर हट जाए हम अपने आप को माफ नहीं कर पाते क्योंकि वह गलती भी हमारे द्वारा की गई हो अपने आप को जब हम सजा देना चाहते हैं तो वह भी देने में हम कतराते हैं मैं बहुत गलती करती हूं कि तुम मुझे बहुत ज्यादा होता है परंतु जब मैं अपने आपसे माफी मांगती हूं तुम्हें अपने आप को माफ नहीं कर पाती फिर मैं गलती की माफी के लिए जो मैंने गलती करी है उसे भारतीय अपने आप को फिर से मनाते हैं क्योंकि जब तक जब तक हम अपने आप को माफ नहीं करना सीखेंगे तब तक हम दूसरों की गलतियों गलत दूसरे लोग जो गलती कर रहे हैं वह किस कारण कर रहे हैं उनको किस तरह से सही राह पर लाएं यह भी नहीं सीख पाएंगे जब इंसान अपने आपको गलती करके सही राह पर डाला सीख जाता है तो वह भी सीख जाता है कि दूसरों को कैसे समझाना क्योंकि इंसान सबसे बड़ी खासियत यह होती है जो इंसान अपने आप को समझाने में गलतियों को माफ करने में अपनी गलतियों का प्रायश्चित करने में सफल हो जाता है वह इंसान दूसरे को आसानी से उसकी गलती का एहसास दिला सकता है क्योंकि उसे अपनी गलती का एहसास लेते वक्त उस बात का अनुभव हो जाता है
Aisa koee bhee nahin hoga to galatee nahin karata main to yah kahoongee man mein aisa koee nahin hoga jo bina galatee ke apane jeevan mein aage badhane par ham galatee karate hain galatee ho jaatee hai to galatee kar rahee hoon usase seekh mil rahee hai galatee karake mainne set kiya parantu bahut baar apane aap ko galat bhee maangatee hoon galatee karake apane aap chaahe insaan ho ya galatee sabhee se ho sakatee hai doosare vyakti ko kisee galatee par maaph karana phir bhee aasaan hota hai kampeyar hat jae ham apane aap ko maaph nahin kar paate kyonki vah galatee bhee hamaare dvaara kee gaee ho apane aap ko jab ham saja dena chaahate hain to vah bhee dene mein ham kataraate hain main bahut galatee karatee hoon ki tum mujhe bahut jyaada hota hai parantu jab main apane aapase maaphee maangatee hoon tumhen apane aap ko maaph nahin kar paatee phir main galatee kee maaphee ke lie jo mainne galatee karee hai use bhaarateey apane aap ko phir se manaate hain kyonki jab tak jab tak ham apane aap ko maaph nahin karana seekhenge tab tak ham doosaron kee galatiyon galat doosare log jo galatee kar rahe hain vah kis kaaran kar rahe hain unako kis tarah se sahee raah par laen yah bhee nahin seekh paenge jab insaan apane aapako galatee karake sahee raah par daala seekh jaata hai to vah bhee seekh jaata hai ki doosaron ko kaise samajhaana kyonki insaan sabase badee khaasiyat yah hotee hai jo insaan apane aap ko samajhaane mein galatiyon ko maaph karane mein apanee galatiyon ka praayashchit karane mein saphal ho jaata hai vah insaan doosare ko aasaanee se usakee galatee ka ehasaas dila sakata hai kyonki use apanee galatee ka ehasaas lete vakt us baat ka anubhav ho jaata hai

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
क्या देश में आज के समय में आरक्षण की आवश्यकता है?Kya Desh Mein Aaj Ke Samay Mein Aarakshan Ki Avashykta Hai
Prerna Rai Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Prerna जी का जवाब
Collage student in polytechnic collage
2:30
हर व्यक्ति की राय अपनी अपनी होती है अगर मेरी राय से आपके विचारों को किसी भी तरह का ठेस पहुंच रहा हो तो सबसे पहले उसके लिए माफी मांगना चाहती हूं मेरा मानना है कि अभी के समय में आरक्षण की जरूरत है जरूरत व्यक्ति व्यक्ति को नहीं जिनको आरक्षण की जरूरत ही नहीं है परंतु तब भी उस आरक्षण का फायदा उठाने समय में हमारे संविधान में आरक्षण जाति को इसीलिए दिया गया था ताकि वह जाति के बराबर में आज का समय कैसा बन चुका है कि निचली जाति लोकगीत ऊपरी जाती लोगों के बराबर आ चुके हैं सच्चाई हम लोग पैसों में देखें चाहे हम उन अमीरों में देखे नीची जाति के लोग भी अमीरों में मैं चाहती हूं कि बहुत सारे गरीब होते हैं जिनको पढ़ने का मन होता है परंतु जनरल केटेगरी में आने के कारण अपनी शिक्षा को पूरा नहीं कर पाते ओबीसी के अंदर क्योंकि लोग आते हैं अगर उनको आरक्षण की जरूरत हो तो मैं चाहती हूं उन्हें मिले परंतु अगर वह वह इतने समर्थ है क्योंकि शिक्षा को पूरा कर सकते हैं अपने बल पर आगे बढ़ सकते हैं उनसे आरक्षण लेकर उन लोगों को देना चाहिए जिनके पास ऊपर तक पहुंचने के लिए अपनी शिक्षा पूरी करने के लिए पैसे नहीं है उनको आरक्षण देना चाहिए तभी जाकर हमारा देश और जल्दी आगे बढ़ते हैं आगे भारत का भविष्य है परंतु मैं यह भी बताना चाहती हूं कि बहुत सारे ऐसे बच्चे हैं जो आगे भारत को आगे ले जा सकते हैं परंतु पैसे की कमी के कारण अपना एजुकेशन पूरा नहीं कर पाते और वह पीछे रह जाते हैं जिनके कारण भारत को आगे ले जाने में योगदान नहीं देना चाहती नहीं दे पाते अपने देश को योगदान देने के लिए जो बच्चे सामर्थ्य उनको आरक्षण देना चाहिए अपना एजुकेशन को पूरा कर सकते कुछ कर सकें
Har vyakti kee raay apanee apanee hotee hai agar meree raay se aapake vichaaron ko kisee bhee tarah ka thes pahunch raha ho to sabase pahale usake lie maaphee maangana chaahatee hoon mera maanana hai ki abhee ke samay mein aarakshan kee jaroorat hai jaroorat vyakti vyakti ko nahin jinako aarakshan kee jaroorat hee nahin hai parantu tab bhee us aarakshan ka phaayada uthaane samay mein hamaare sanvidhaan mein aarakshan jaati ko iseelie diya gaya tha taaki vah jaati ke baraabar mein aaj ka samay kaisa ban chuka hai ki nichalee jaati lokageet ooparee jaatee logon ke baraabar aa chuke hain sachchaee ham log paison mein dekhen chaahe ham un ameeron mein dekhe neechee jaati ke log bhee ameeron mein main chaahatee hoon ki bahut saare gareeb hote hain jinako padhane ka man hota hai parantu janaral ketegaree mein aane ke kaaran apanee shiksha ko poora nahin kar paate obeesee ke andar kyonki log aate hain agar unako aarakshan kee jaroorat ho to main chaahatee hoon unhen mile parantu agar vah vah itane samarth hai kyonki shiksha ko poora kar sakate hain apane bal par aage badh sakate hain unase aarakshan lekar un logon ko dena chaahie jinake paas oopar tak pahunchane ke lie apanee shiksha pooree karane ke lie paise nahin hai unako aarakshan dena chaahie tabhee jaakar hamaara desh aur jaldee aage badhate hain aage bhaarat ka bhavishy hai parantu main yah bhee bataana chaahatee hoon ki bahut saare aise bachche hain jo aage bhaarat ko aage le ja sakate hain parantu paise kee kamee ke kaaran apana ejukeshan poora nahin kar paate aur vah peechhe rah jaate hain jinake kaaran bhaarat ko aage le jaane mein yogadaan nahin dena chaahatee nahin de paate apane desh ko yogadaan dene ke lie jo bachche saamarthy unako aarakshan dena chaahie apana ejukeshan ko poora kar sakate kuchh kar saken

#जीवन शैली

Prerna Rai Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Prerna जी का जवाब
Collage student in polytechnic collage
2:20
हर मानव का स्वभाव होता है कि वह किसी भी व्यक्ति के बारे में जब भी आप किसी व्यक्ति के बारे में अपनी राय बनाए सबसे पहले यह जरूरी है क्या उसके बारे में चित्र रिलेटेड ऑफिस के लिए राय बनारस साड़ी इंफॉर्मेशन ऑफ जामली क्योंकि एक व्यक्ति को समझ पाना हर इंसान के अंदर एक कला नहीं होती लेकिन इंसान होते हैं वह देखकर ही व्यक्ति के व्यक्ति के बारे में पूरी जानकारी पता कर लेते हैं उनके बोलने के तरीके उनके चलने के तरीके 100 में से 1% ऐसे बोलने चलने उनके कार्य करने के तरीके को देखकर जान ले किस तरह के व्यक्ति हैं उनके बारे में राय बनाने परसेंट लोगों के अंदर हम सब आते हैं अगर हम किसी के बारे में कोई राय बना रहे हैं तो सबसे पहले जरूरी है किस से रिलेटेड हम सारी जानकारी खट्टा करें दूसरी बार किसी पर भी भरोसा है कि कोई सगा भी अपना नहीं है बाप बड़ा ना भैया सबसे बड़ा रुपैया यह कहावत तो आपने सुनी होगी यह कहावत बिल्कुल सही कही गई है और किसी के ऊपर भरोसा करना है उसके बारे में पहली वाली मुलाकात कर कर राय बनाने से बचे थे आप चाहे किसी के बारे में अच्छी राय बना रहे हैं या गंदी सबसे पहले जरूरी है कि आपके बारे में सब कुछ जान उसके बारे में पूरी तरह से जब आपको जानकारी हो जाए तब आप अपनी राय देंगे ना तब आप बिल्कुल सही बहुत मनीषा इन बातों में मात्र छा जाते हैं किसी अच्छे इंसान के बारे में गलत राय बना कर अपने मन में रख लेते हैं उससे भी बाहर निकलने का तरीका यह बोलूंगी कि आप उससे बात की थी उसके बाद कीजिए तो आपको पता चलेगा कि उसके बारे में आपकी राय सही है या नहीं है
Har maanav ka svabhaav hota hai ki vah kisee bhee vyakti ke baare mein jab bhee aap kisee vyakti ke baare mein apanee raay banae sabase pahale yah jarooree hai kya usake baare mein chitr rileted ophis ke lie raay banaaras sari imphormeshan oph jaamalee kyonki ek vyakti ko samajh paana har insaan ke andar ek kala nahin hotee lekin insaan hote hain vah dekhakar hee vyakti ke vyakti ke baare mein pooree jaanakaaree pata kar lete hain unake bolane ke tareeke unake chalane ke tareeke 100 mein se 1% aise bolane chalane unake kaary karane ke tareeke ko dekhakar jaan le kis tarah ke vyakti hain unake baare mein raay banaane parasent logon ke andar ham sab aate hain agar ham kisee ke baare mein koee raay bana rahe hain to sabase pahale jarooree hai kis se rileted ham saaree jaanakaaree khatta karen doosaree baar kisee par bhee bharosa hai ki koee saga bhee apana nahin hai baap bada na bhaiya sabase bada rupaiya yah kahaavat to aapane sunee hogee yah kahaavat bilkul sahee kahee gaee hai aur kisee ke oopar bharosa karana hai usake baare mein pahalee vaalee mulaakaat kar kar raay banaane se bache the aap chaahe kisee ke baare mein achchhee raay bana rahe hain ya gandee sabase pahale jarooree hai ki aapake baare mein sab kuchh jaan usake baare mein pooree tarah se jab aapako jaanakaaree ho jae tab aap apanee raay denge na tab aap bilkul sahee bahut maneesha in baaton mein maatr chha jaate hain kisee achchhe insaan ke baare mein galat raay bana kar apane man mein rakh lete hain usase bhee baahar nikalane ka tareeka yah boloongee ki aap usase baat kee thee usake baad keejie to aapako pata chalega ki usake baare mein aapakee raay sahee hai ya nahin hai

#रिश्ते और संबंध

Prerna Rai Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Prerna जी का जवाब
Collage student in polytechnic collage
2:32
हमारा तालाब के पानी की तरह चंचल होता है जिस तरह तलाब में 1 फुट से पत्थर डालने पर भी वहां पानी तुरंत मिल जाता है उसे वाइब्रेशन स्टार्ट होने लग जाता है वैसे ही हमारा मन है हमारे मन में जब खुशी आती तभी हमारा मन में परेशान करता है और जब दुख आता है तब तो यह में पूरी तरह से परेशान करता है हमारे मन में निराशावादी विचारों के रहते हैं क्योंकि हम कोई कार्य करते हैं इस कार्य से संबंधित तुम्हारे मन में दो तरह के विचार आ सकते हैं या फिर क्या होगा विचार निराशावादी विचारों में आता है अपने आप को मोटिवेट करना चाहिए नहीं होगा तो क्या हो गया हम से प्यार करेंगे उसका कुछ भी ऐसा नहीं है जो तुमसे नहीं हो सकता पहले तो कोशिश की थी आपके मन में विचार आए ना कि आप से नहीं होगा आ भी जाए तो फिर अपने आप को समझाइए कि नहीं होगा तो क्या हो जाएगा फिर से मेहनत कर लूंगा अगली बार मेहनत में कोई कमी नहीं छोडूंगा कि मैं यह बात सोच सकूं एक बात याद रखेगा के साथ पैदा होते हैं मर जाते हैं और दूसरा व निराशावादी विचारों के जीवन उसका डटकर सामना करते हैं और निराशावादी विचार को हराकर उसके ऊपर जीत हासिल करता है दूसरों को समझा पाना के कारण तुमसे हो पाएगा तू मेहनत करो मेहनत को बढ़ाओ दूसरों को कहना आसान होता है परंतु जब आप अपने आप को समझा सकते हैं यह बात की कुछ भी करना इंपॉसिबल नहीं है मेहनत करते रहो तब वह अपने आप को समझा पाना इतना आसान नहीं होता जितना दूसरों को बताते हैं इसीलिए कहा जाता है तब पता चलता है तो आपके मन में जब भी निराशावादी विचारों से डरिए मत घबराइए मत करना कि जब निराशावादी विचार अपने मन से भगा दीजिए
Hamaara taalaab ke paanee kee tarah chanchal hota hai jis tarah talaab mein 1 phut se patthar daalane par bhee vahaan paanee turant mil jaata hai use vaibreshan staart hone lag jaata hai vaise hee hamaara man hai hamaare man mein jab khushee aatee tabhee hamaara man mein pareshaan karata hai aur jab dukh aata hai tab to yah mein pooree tarah se pareshaan karata hai hamaare man mein niraashaavaadee vichaaron ke rahate hain kyonki ham koee kaary karate hain is kaary se sambandhit tumhaare man mein do tarah ke vichaar aa sakate hain ya phir kya hoga vichaar niraashaavaadee vichaaron mein aata hai apane aap ko motivet karana chaahie nahin hoga to kya ho gaya ham se pyaar karenge usaka kuchh bhee aisa nahin hai jo tumase nahin ho sakata pahale to koshish kee thee aapake man mein vichaar aae na ki aap se nahin hoga aa bhee jae to phir apane aap ko samajhaie ki nahin hoga to kya ho jaega phir se mehanat kar loonga agalee baar mehanat mein koee kamee nahin chhodoonga ki main yah baat soch sakoon ek baat yaad rakhega ke saath paida hote hain mar jaate hain aur doosara va niraashaavaadee vichaaron ke jeevan usaka datakar saamana karate hain aur niraashaavaadee vichaar ko haraakar usake oopar jeet haasil karata hai doosaron ko samajha paana ke kaaran tumase ho paega too mehanat karo mehanat ko badhao doosaron ko kahana aasaan hota hai parantu jab aap apane aap ko samajha sakate hain yah baat kee kuchh bhee karana imposibal nahin hai mehanat karate raho tab vah apane aap ko samajha paana itana aasaan nahin hota jitana doosaron ko bataate hain iseelie kaha jaata hai tab pata chalata hai to aapake man mein jab bhee niraashaavaadee vichaaron se darie mat ghabaraie mat karana ki jab niraashaavaadee vichaar apane man se bhaga deejie

#जीवन शैली

bolkar speaker
प्रदूषण से बचाव के लिए हमें कैसी दिनचर्या अपनानी चाहिए?Pradushan Se Bachav Ke Lie Humein Kaise Dinacharya Apnani Chaiye
Prerna Rai Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Prerna जी का जवाब
Collage student in polytechnic collage
2:58
सुंदर वातावरण को हमने किया लाचार सुंदर वातावरण को हमने किया लाचा इसी को हमने बनाया है दिमाग आ गया है अब वक्त आ गया है हम भी इसे बनाए स्वर और खुशियों का दरबार प्रदूषण जो कि आज हम सब हम सब कहते हैं कि हमें प्रदूषण को कम करना है प्रदूषण को कम करना है परंतु उनमें से कोई भी मेहनत नहीं करना चाहता है कोई और करेगा तब हम करेंगे कोई और यह कार्य करेगा तब हम करेंगे मैं यह कहना चाहती हूं कि पहले आप तो स्टार्ट की थी आप तो बताना कि प्रदूषण को कम करने में तब जाकर आपको देख कर कोई और प्रभावित सबसे बड़ी बात अगर हमें प्रदूषण को कम करना है दिनचर्या को बदलना है हम जिस तरह का जीवन जी रहे हैं हमें इसमें बदलाव लाना होगा नहीं तो वह दिन दूर नहीं कि प्रदूषण से होने वाली बीमारियों से पूरी तरह से खत्म प्रदूषण को कम करने के लिए पहला कदम उठाना चाहिए वह है हमें अपने आसपास के एरिया को साफ रखना चाहिए बदल जाते हैं और घूमी में वह जाकर डीकंपोज हो जाते हैं उन्हें हमें अलग कूड़ेदान में रखना चाहिए और दूसरा कश्मीर उसका यूज़ करके उसे किसी और कार्य के लिए यूज किया जा सके झांसी की भूमि प्रदूषण वायु प्रदूषण इत्यादि हमारा कर्तव्य बनता है कि हम सभी प्रश्नों को खत्म करके साथ में सुंदरवन चौकी अगर हमारा प्यार भरा पूरी तरह से बिगड़ जाएगा इंसान भी धीरे-धीरे खत्म हो जाएगा यह कोशिश करनी चाहिए कि हम नदियों में कुछ भी ना डालें लोगों लोग धार्मिक मान्यताओं के द्वारा नदियों में तरह-तरह की चीजों को विसर्जित करते हैं जिससे कि जल प्रदूषण बढ़ता जा रहा है उसके अंदर जो मछलियां रहती है या यह कौन है पार्टी एनिमल्स रहते हैं और प्लांट्स रहते हैं उनका जीवन हम धीरे-धीरे
Sundar vaataavaran ko hamane kiya laachaar sundar vaataavaran ko hamane kiya laacha isee ko hamane banaaya hai dimaag aa gaya hai ab vakt aa gaya hai ham bhee ise banae svar aur khushiyon ka darabaar pradooshan jo ki aaj ham sab ham sab kahate hain ki hamen pradooshan ko kam karana hai pradooshan ko kam karana hai parantu unamen se koee bhee mehanat nahin karana chaahata hai koee aur karega tab ham karenge koee aur yah kaary karega tab ham karenge main yah kahana chaahatee hoon ki pahale aap to staart kee thee aap to bataana ki pradooshan ko kam karane mein tab jaakar aapako dekh kar koee aur prabhaavit sabase badee baat agar hamen pradooshan ko kam karana hai dinacharya ko badalana hai ham jis tarah ka jeevan jee rahe hain hamen isamen badalaav laana hoga nahin to vah din door nahin ki pradooshan se hone vaalee beemaariyon se pooree tarah se khatm pradooshan ko kam karane ke lie pahala kadam uthaana chaahie vah hai hamen apane aasapaas ke eriya ko saaph rakhana chaahie badal jaate hain aur ghoomee mein vah jaakar deekampoj ho jaate hain unhen hamen alag koodedaan mein rakhana chaahie aur doosara kashmeer usaka yooz karake use kisee aur kaary ke lie yooj kiya ja sake jhaansee kee bhoomi pradooshan vaayu pradooshan ityaadi hamaara kartavy banata hai ki ham sabhee prashnon ko khatm karake saath mein sundaravan chaukee agar hamaara pyaar bhara pooree tarah se bigad jaega insaan bhee dheere-dheere khatm ho jaega yah koshish karanee chaahie ki ham nadiyon mein kuchh bhee na daalen logon log dhaarmik maanyataon ke dvaara nadiyon mein tarah-tarah kee cheejon ko visarjit karate hain jisase ki jal pradooshan badhata ja raha hai usake andar jo machhaliyaan rahatee hai ya yah kaun hai paartee enimals rahate hain aur plaants rahate hain unaka jeevan ham dheere-dheere

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
आपके लिए असली आनंद क्या है?Aapke Lie Asli Anand Kya Hai
Prerna Rai Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Prerna जी का जवाब
Collage student in polytechnic collage
1:59
वास्तविक आने हर व्यक्ति के जीवन में कोई ना कोई ऐसा फल जरूर आता रहता है मेरे जीवन में भी बहुत सारे पैसे आ रखे हैं मैं चाहती हूं आप आए भी जिसने मुझे वास्तविक आनंद का एहसास हूं आनंद वह पल जब मैंने अपने माता-पिता को अपने ऊपर गौरव महसूस जब मैंने अपने गुरुजनों को अपने ऊपर गौरव वास्तविक आनंद हमारे अंदर की शुभकामना पूरे करने के लिए नहीं वाक्य का नाम हमें यह पता है कि हम दूसरों को कितना आनंद ले रहे हैं क्योंकि वही कर सकता है जो दूसरों को आनंद कर सकता है दूसरों को प्रभावित कर सकता है जो कि सबके बस की बात नहीं है सर पॉसिबल इन द वर्ल्ड सब कुछ कर सकते हैं आपको भी जीवन में सबसे पहले कोशिश की सबसे पहले अपने लिए कोई कार्य करें क्योंकि दूसरों की जिंदगी से जुड़े हुए हैं जैसे कि मैंने बोला था कि मैंने अपने टीचर से अपने पैरंट्स को अपने पर गौरव महसूस कराया वैसे आप ऐसा कोई कार्य कीजिए जिससे कि उप कार्य आपके द्वारा किया गया है परंतु उसका आनंद दूसरे लोग भी ले सके क्योंकि खुशियां जिसे जितना ज्यादा बार टीचर उतनी ज्यादा दुबली होती जाती है जितना वह खुश होंगे ज्यादा आपको किसी का होगा और वही आपके जीवन का सेवा करना होगा
Vaastavik aane har vyakti ke jeevan mein koee na koee aisa phal jaroor aata rahata hai mere jeevan mein bhee bahut saare paise aa rakhe hain main chaahatee hoon aap aae bhee jisane mujhe vaastavik aanand ka ehasaas hoon aanand vah pal jab mainne apane maata-pita ko apane oopar gaurav mahasoos jab mainne apane gurujanon ko apane oopar gaurav vaastavik aanand hamaare andar kee shubhakaamana poore karane ke lie nahin vaaky ka naam hamen yah pata hai ki ham doosaron ko kitana aanand le rahe hain kyonki vahee kar sakata hai jo doosaron ko aanand kar sakata hai doosaron ko prabhaavit kar sakata hai jo ki sabake bas kee baat nahin hai sar posibal in da varld sab kuchh kar sakate hain aapako bhee jeevan mein sabase pahale koshish kee sabase pahale apane lie koee kaary karen kyonki doosaron kee jindagee se jude hue hain jaise ki mainne bola tha ki mainne apane teechar se apane pairants ko apane par gaurav mahasoos karaaya vaise aap aisa koee kaary keejie jisase ki up kaary aapake dvaara kiya gaya hai parantu usaka aanand doosare log bhee le sake kyonki khushiyaan jise jitana jyaada baar teechar utanee jyaada dubalee hotee jaatee hai jitana vah khush honge jyaada aapako kisee ka hoga aur vahee aapake jeevan ka seva karana hoga

#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker
क्यों मनुष्य का अनुभव उसके ज्ञान से बड़ा होता है?Kyun Manushya Ka Anubhav Uske Gyan Se Bada Hota Hai
Prerna Rai Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Prerna जी का जवाब
Collage student in polytechnic collage
2:51

#जीवन शैली

bolkar speaker
बेईमान और इमानदार इंसान के जीवन में क्या फर्क होता है?Beiman Aur Imandaar Insaan Ke Jeevan Mein Kya Fark Hota Hai
Prerna Rai Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Prerna जी का जवाब
Collage student in polytechnic collage
2:45

#जीवन शैली

bolkar speaker
आपके हिसाब से जिंदगी में सबसे महत्वपूर्ण चीज क्या है?Apke Hisaab Se Jindazi Mein Sabse Mahatvapurn Cheej Kya Hai
Prerna Rai Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Prerna जी का जवाब
Collage student in polytechnic collage
1:59

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
हमेशा किन लोगों से दूर रहना चाहिए?Hamesha Kin Logon Se Door Rehna Chahiye
Prerna Rai Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Prerna जी का जवाब
Collage student in polytechnic collage
2:32
URL copied to clipboard