#जीवन शैली

घनश्याम वन Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए घनश्याम जी का जवाब
मंदिर सेवा
0:47
बहुत सी समस्याएं ऐसी होती हैं इंसान अपनी पारिवारिक समस्याओं ने समझा हरदा और दूसरे की समस्या सुलझाने में उसका मन मस्तिष्क काम कर जाता है जैसे किसी का लड़ाई झगड़ा हो रहा है और इंसान में चला जाए और उन दोनों में अपनी चतुर्दशी अपनी अच्छाई से उन दोनों के झगड़े को समाप्त करा सकता है ऐसी कौन सी समस्याएं हैं जो इंसान खुद नहीं सुलझा पाता और दूसरे की समस्या सुलझा देता है यह इंसान थे मनो वैज्ञानिक और उसके कर्तव्य निर्धारित करता है
Bahut see samasyaen aisee hotee hain insaan apanee paarivaarik samasyaon ne samajha harada aur doosare kee samasya sulajhaane mein usaka man mastishk kaam kar jaata hai jaise kisee ka ladaee jhagada ho raha hai aur insaan mein chala jae aur un donon mein apanee chaturdashee apanee achchhaee se un donon ke jhagade ko samaapt kara sakata hai aisee kaun see samasyaen hain jo insaan khud nahin sulajha paata aur doosare kee samasya sulajha deta hai yah insaan the mano vaigyaanik aur usake kartavy nirdhaarit karata hai

#जीवन शैली

bolkar speaker
कटु वाणी से भी कठोर क्या है जो इंसान को मानसिक कष्ट देता है?Katu Vani Se Bhe Kathor Kya Hai Jo Insaan Ko Mansik Kasht Deta Hai
घनश्याम वन Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए घनश्याम जी का जवाब
मंदिर सेवा
0:53
एक एक कटु वाणी से भी कठोर हमारे मन को पीड़ा देता है वह है इंसान का अपना व्यक्ति को विश्वास को ठेस पहुंचाना जो इंसान किसी के साथ विश्वासघात करता है या किसी को धोखा देता है तो है कटु वाणी से कठोर है और वह बहुत ही मानसिक कष्ट देता है इसलिए इंसान को कभी भी किसी के साथ विश्वासघात नहीं करना चाहिए किसी को धोखा नहीं देना चाहिए कटु वाणी बहुत से पार्षद जो होती है वह इंसान उससे ऊपर भी सकता है मगर कटु वाणी कभी पीछा नहीं होनी चाहिए नहीं तो वह बहुत ही अधिक जुदाई हो सकते हैं
Ek ek katu vaanee se bhee kathor hamaare man ko peeda deta hai vah hai insaan ka apana vyakti ko vishvaas ko thes pahunchaana jo insaan kisee ke saath vishvaasaghaat karata hai ya kisee ko dhokha deta hai to hai katu vaanee se kathor hai aur vah bahut hee maanasik kasht deta hai isalie insaan ko kabhee bhee kisee ke saath vishvaasaghaat nahin karana chaahie kisee ko dhokha nahin dena chaahie katu vaanee bahut se paarshad jo hotee hai vah insaan usase oopar bhee sakata hai magar katu vaanee kabhee peechha nahin honee chaahie nahin to vah bahut hee adhik judaee ho sakate hain

#जीवन शैली

bolkar speaker
हम अपना भविष्य कैसे चुने क्योंकि हम मानसिक परेशानियों से ग्रसित है?Hum Apna Bhavishya Kaise Chune Kyunki Hum Mansik Pareshaniyo Se Grasit Hai
घनश्याम वन Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए घनश्याम जी का जवाब
मंदिर सेवा
0:44
देखिए आप मानसिक परेशानियों से ग्रसित हैं तो दूसरे की मदद भी ले सकते हैं और अपनी भविष्य की चिंता करने के लिए यदि आप मानसिक दृष्टि से अधिक कमजोर है तो किसी मानसिक विदेश में डॉक्टर को भी दिखा सकते हैं या अपने माता पिता गुरु या अभिभावक से मदद ले सकते हैं और उन्हें अपनी मनोदशा से अवगत करा सकते हैं इसलिए दूसरे की मदद से भी अपना फैशन सकते हैं या अधिक ग्रसित है तो डॉक्टरों से भी अपना इलाज करवा सकते हैं
Dekhie aap maanasik pareshaaniyon se grasit hain to doosare kee madad bhee le sakate hain aur apanee bhavishy kee chinta karane ke lie yadi aap maanasik drshti se adhik kamajor hai to kisee maanasik videsh mein doktar ko bhee dikha sakate hain ya apane maata pita guru ya abhibhaavak se madad le sakate hain aur unhen apanee manodasha se avagat kara sakate hain isalie doosare kee madad se bhee apana phaishan sakate hain ya adhik grasit hai to doktaron se bhee apana ilaaj karava sakate hain

#जीवन शैली

घनश्याम वन Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए घनश्याम जी का जवाब
मंदिर सेवा
1:06
देखिए जी हम भविष्य की चिंता नहीं कर पाएंगे तो हम कोई भी अच्छा कार्य नहीं कर पाएंगे क्योंकि जब हम मुझको ही कार्य करते हैं तो ही नहीं करते हैं कि भविष्य में हमें क्या बनना है जैसे कोई विद्यार्थी पड़ता है तो वह भी अपना भविष्य सुनता है अपना लक्ष्य सुनता है कि मैं यह पढ़ाई पकड़ के इंजीनियर बनना है एडीएम बनना है या कोई प्रॉपर्टी पोस्ट पर पहुंचना है तो वह अपने पैसे की चिंता कर सकता हूं मगर व्यर्थ की चिंता नहीं करनी चाहिए यदि उन्नति शील है उज्जवल है और जो हमारे जीवन में अच्छाई ला सकती है उस भविष्य की चिंता करनी चाहिए उस भविष्य से भविष्य की चिंता नहीं करनी चाहिए कि मैं बीमार हूं मैं ठीक हूं लूंगा या नहीं हूंगा एक ऐसी चिंता करना व्यस्त है हां यदि उन्नति शील है और विनती करना चाहते हैं तो उस भविष्य को सुधारने के लिए अच्छे कर्म करने चाहिए
Dekhie jee ham bhavishy kee chinta nahin kar paenge to ham koee bhee achchha kaary nahin kar paenge kyonki jab ham mujhako hee kaary karate hain to hee nahin karate hain ki bhavishy mein hamen kya banana hai jaise koee vidyaarthee padata hai to vah bhee apana bhavishy sunata hai apana lakshy sunata hai ki main yah padhaee pakad ke injeeniyar banana hai edeeem banana hai ya koee propartee post par pahunchana hai to vah apane paise kee chinta kar sakata hoon magar vyarth kee chinta nahin karanee chaahie yadi unnati sheel hai ujjaval hai aur jo hamaare jeevan mein achchhaee la sakatee hai us bhavishy kee chinta karanee chaahie us bhavishy se bhavishy kee chinta nahin karanee chaahie ki main beemaar hoon main theek hoon loonga ya nahin hoonga ek aisee chinta karana vyast hai haan yadi unnati sheel hai aur vinatee karana chaahate hain to us bhavishy ko sudhaarane ke lie achchhe karm karane chaahie

#जीवन शैली

bolkar speaker
अपना दुख भूल कर किसी की मदद करने से क्या हमारे दुख कम हो सकते हैं?Apna Dukh Bhool Kar Kisi Ki Madad Karne Se Kya Humare Dukh Kam Ho Sakte Hai
घनश्याम वन Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए घनश्याम जी का जवाब
मंदिर सेवा
0:45
जी हां यदि हम अपना दुख भूल कर किसी की मदद करते हैं तो अपना दुख कम हो जाता है क्योंकि जब हम किसी की मदद करें होते हैं तो अपने दुख का साथी होता और अपने तू का एहसास ना हो ना ही हमारे दुख का कब होना है यही दर्शाता है कि अपन किसी की मदद करें तो उसकी खुशी हमारे जीवन की दुख को कम कर सकती है क्योंकि जो इंसान दूसरे के सुख में सुखी हो दूसरे के दुख में दुखी होकर उसकी मदद करता है भगवान भी उसकी मदद करता है उसके मन को बहुत शांति मिलती है
Jee haan yadi ham apana dukh bhool kar kisee kee madad karate hain to apana dukh kam ho jaata hai kyonki jab ham kisee kee madad karen hote hain to apane dukh ka saathee hota aur apane too ka ehasaas na ho na hee hamaare dukh ka kab hona hai yahee darshaata hai ki apan kisee kee madad karen to usakee khushee hamaare jeevan kee dukh ko kam kar sakatee hai kyonki jo insaan doosare ke sukh mein sukhee ho doosare ke dukh mein dukhee hokar usakee madad karata hai bhagavaan bhee usakee madad karata hai usake man ko bahut shaanti milatee hai

#जीवन शैली

bolkar speaker
इंसान के जीवन का सबसे गंभीर विषय क्या है जो किसी को नहीं बताना चाहिए?Insaan Ke Jeevan Ka Sabse Gambhir Vishay Kya Hai Jo Kisi Ko Nahi Batana Chaiye
घनश्याम वन Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए घनश्याम जी का जवाब
मंदिर सेवा
0:48
इंसान को कभी भी यदि कोई अच्छा कार्य किया हो तो किसी को नहीं बताना चाहिए और यदि हमसे कोई गलती हुई है या हमने कोई किसी का बुरा किया है वो हमसे कोई गलती हुई है या जानबूझकर कोई पाप किया है तो उसे बताना चाहिए ताकि हम उस गलती को सुधार सकें और पाप से मुक्ति पा सके मगर इंसान को अपनी अच्छाइयों का कभी बखान नहीं करना चाहिए नहीं तो इंसान के पतन का कारण बन जाएगा और आगे जो आप अच्छा ही करते हैं अच्छाई भी आपके लिए पूरा ही साबित हो जाएगी
Insaan ko kabhee bhee yadi koee achchha kaary kiya ho to kisee ko nahin bataana chaahie aur yadi hamase koee galatee huee hai ya hamane koee kisee ka bura kiya hai vo hamase koee galatee huee hai ya jaanaboojhakar koee paap kiya hai to use bataana chaahie taaki ham us galatee ko sudhaar saken aur paap se mukti pa sake magar insaan ko apanee achchhaiyon ka kabhee bakhaan nahin karana chaahie nahin to insaan ke patan ka kaaran ban jaega aur aage jo aap achchha hee karate hain achchhaee bhee aapake lie poora hee saabit ho jaegee

#जीवन शैली

bolkar speaker
हम उसे क्यों नहीं देख पाते जिन्हें पाना ही हमारे जीवन का लक्ष्य है?Hum Use Kyun Nahin Dekh Paate Jinhein Pana Hi Humare Jeevan Ka Lakshy Hai
घनश्याम वन Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए घनश्याम जी का जवाब
मंदिर सेवा
0:53
देखिए यदि हम कोशिश करके देख सकते हैं मगर हम उसके लिए पढ़ता नहीं करते कि इसे पाना हमारे जीवन का लक्ष्य है हम हम इस संसार के बंधन में फंसे रहते हैं वास्तव में तोहर पानी के लिए उनका लक्ष्य एक ही है उस परमात्मा को पाना हम उस परमात्मा को फूल का जीवन के दूसरे लक्ष्य में खो जाते हैं और यह भूल जाते हैं कि हमें जिस परमात्मने जीवन दिया है एक जुलूस रात में विलीन होना है इसलिए इंसान यदि चाहे तो उस परमात्मा को जानने की खोज ने की देखने की कोशिश करें तो देख सकते हैं मगर उसकी मोह माया बंधन में हम सब कुछ भूल जाते हैं और फिर देख पाते
Dekhie yadi ham koshish karake dekh sakate hain magar ham usake lie padhata nahin karate ki ise paana hamaare jeevan ka lakshy hai ham ham is sansaar ke bandhan mein phanse rahate hain vaastav mein tohar paanee ke lie unaka lakshy ek hee hai us paramaatma ko paana ham us paramaatma ko phool ka jeevan ke doosare lakshy mein kho jaate hain aur yah bhool jaate hain ki hamen jis paramaatmane jeevan diya hai ek juloos raat mein vileen hona hai isalie insaan yadi chaahe to us paramaatma ko jaanane kee khoj ne kee dekhane kee koshish karen to dekh sakate hain magar usakee moh maaya bandhan mein ham sab kuchh bhool jaate hain aur phir dekh paate

#जीवन शैली

bolkar speaker
हमारे जीवन का यथार्थ सत्य क्या है जो हम देख नहीं पाते समझ नहीं पाते?Humare Jeevan Ka Yatharth Satya Kya Hai Jo Hum Dekh Nahin Pate Samajh Nahin Pate
घनश्याम वन Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए घनश्याम जी का जवाब
मंदिर सेवा
0:49
हमारे जीवन का यथार्थ सत्य है हमारी आत्मा हमारे जीवन शरीर में कोई शक्ति जो हमें चेतन तो प्रदान कर रही है लिस्ट में शक्ति समाधान करें हैं हम उसे देख भी नहीं पाते और समझ भी नहीं पाते कि वह शक्ति क्या है और वह शक्ति हमारे शरीर में है इसलिए यथा जीवन का यही सत्य है कि हाथ विश्वरूप है और एक ही पिक्चर है अगर हम शरीर को तो देख लेते हैं मगर जो सत्य है जो हमारी आत्मा है जो मन जागरण है हम उसे नहीं देख पाते हैं
Hamaare jeevan ka yathaarth saty hai hamaaree aatma hamaare jeevan shareer mein koee shakti jo hamen chetan to pradaan kar rahee hai list mein shakti samaadhaan karen hain ham use dekh bhee nahin paate aur samajh bhee nahin paate ki vah shakti kya hai aur vah shakti hamaare shareer mein hai isalie yatha jeevan ka yahee saty hai ki haath vishvaroop hai aur ek hee pikchar hai agar ham shareer ko to dekh lete hain magar jo saty hai jo hamaaree aatma hai jo man jaagaran hai ham use nahin dekh paate hain

#जीवन शैली

bolkar speaker
वह क्या है जो हमारे नसीब में नहीं है फिर भी हम उसे पाने की कोशिश करते रहते हैं?Vah Kya Hai Jo Humare Naseeb Mein Nahi Hai Phir Bhe Hum Use Pane Ki Koshish Karte Rehte Hain
घनश्याम वन Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए घनश्याम जी का जवाब
मंदिर सेवा
0:53
वह हमारा जीवन है जिसे हम और अधिक जीना चाहते हैं मगर जब बच्चों का सपना आता है तो हम उसे रोक नहीं पाते और हमारी आयु समाप्त हो जाते हैं हर प्राणी की इच्छा होती है कि मेरी मृत्यु ना आए और मैं जीवन अधिक से अधिक मगर जीने के लिए बहुत कोशिश करता है मगर समय आने पर विशाल को जागना पड़ता है शरीर को जागना पड़ता है इसलिए जितनी भी ऐसे काम करने चाहिए जो हमारा जीवन सफल कर सके लोगों के दिलों में जगह बना सकें
Vah hamaara jeevan hai jise ham aur adhik jeena chaahate hain magar jab bachchon ka sapana aata hai to ham use rok nahin paate aur hamaaree aayu samaapt ho jaate hain har praanee kee ichchha hotee hai ki meree mrtyu na aae aur main jeevan adhik se adhik magar jeene ke lie bahut koshish karata hai magar samay aane par vishaal ko jaagana padata hai shareer ko jaagana padata hai isalie jitanee bhee aise kaam karane chaahie jo hamaara jeevan saphal kar sake logon ke dilon mein jagah bana saken

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
किसानों की कृषि कानूनों को सरकार से वापस लेने की जिद को आप कैसे समझते हैं?Kisaanon Kee Krshi Kaanoonon Ko Sarakaar Se Vaapas Lene Kee Jid Ko Aap Kaise Samajhate Hain
घनश्याम वन Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए घनश्याम जी का जवाब
मंदिर सेवा
0:44
के राजनीतिकरण है इसमें और कोई भी चीज नहीं है राकेश टिकट व्यापारी है उसे जब तक पैसे नहीं मिलते तब तक पेंडिंग पड़ा हुआ है यह जो देश हित में नहीं है इसमें विपक्षी पार्टियों का हाथ है और विदेशी सफाई भी इसमें सम्मिलित है सरकार को इस पर ध्यान देना चाहिए को कानून निरस्त नहीं करना चाहिए यह देश में संशोधन हो सकता है तो किसानों के हित में संशोधन करना चाहिए
Ke raajaneetikaran hai isamen aur koee bhee cheej nahin hai raakesh tikat vyaapaaree hai use jab tak paise nahin milate tab tak pending pada hua hai yah jo desh hit mein nahin hai isamen vipakshee paartiyon ka haath hai aur videshee saphaee bhee isamen sammilit hai sarakaar ko is par dhyaan dena chaahie ko kaanoon nirast nahin karana chaahie yah desh mein sanshodhan ho sakata hai to kisaanon ke hit mein sanshodhan karana chaahie

#जीवन शैली

bolkar speaker
आदर्श जीवन का लक्ष्य क्या होना चाहिए?Aadarsh Jeevan Ka Lakshya Kya Hona Chaiye
घनश्याम वन Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए घनश्याम जी का जवाब
मंदिर सेवा
0:48
आदर्श जीवन का लक्ष्य परमार्थ होना चाहिए आदर्श जीवन का लक्ष्य को पाना चाहिए आदर्श जीवन का लक्ष्य माता पिता गुरु के रूप में जीवन का लक्ष्य ऐसा कोई कार्य होना चाहिए जिसमें अपना भी तो समाज कभी तो उस देश का भी तो यही आदत ही उनका लक्ष्य है अगर जीवन का लक्ष्य होना चाहिए कि हम परमात्मा को परमात्मा का मूल रूप से जानकारी कॉमेडी
Aadarsh jeevan ka lakshy paramaarth hona chaahie aadarsh jeevan ka lakshy ko paana chaahie aadarsh jeevan ka lakshy maata pita guru ke roop mein jeevan ka lakshy aisa koee kaary hona chaahie jisamen apana bhee to samaaj kabhee to us desh ka bhee to yahee aadat hee unaka lakshy hai agar jeevan ka lakshy hona chaahie ki ham paramaatma ko paramaatma ka mool roop se jaanakaaree komedee

#जीवन शैली

bolkar speaker
क्या आप मानते हैं हमें अपने लक्ष्य पर ही ध्यान देना चाहिए?Kya Aap Mante Hai Hume Apne Lakshay Par Hi Dhyan Dena Chayia
घनश्याम वन Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए घनश्याम जी का जवाब
मंदिर सेवा
1:19
यह तो ठीक है कि हमें अपने लक्ष्य पर ध्यान देना चाहिए महाभारत लक्ष्य क्या है वह लक्ष्य अपने लिए भी लाभकारी हो और समाज के लिए भी लाभकारी हो तो ऐसे लक्ष्य पर अवश्य ध्यान देना चाहिए यदि लक्ष्य आपका ठीक नहीं है तो उस लक्ष्य को छोड़ देना चाहिए लक्ष्य भी अच्छे सफल होना चाहिए अच्छा होना चाहिए आपका लक्ष्य किसी का ऐसा ना हो कि किसी को परेशानी का कारण बन अपने और अपने लक्ष्य को निर्धारित करने के लिए उपलक्ष्य में माता-पिता का गुरु का भी सेव होना चाहिए उनकी भी सलामत रहे थे यदि लक्ष्य हो तो वह अधिक अच्छा साबित होता है बोसी बार ऐसा होता है कि हम जो लक्ष्य निर्धारित करते हैं वह लक्ष्य ही हमारा सही निर्णय नहीं होता और हम भटक जाते हैं इसलिए हमारा लक्ष्य भी सहयोग चाहिए तभी हम उस लक्ष्य पर चलें और अपना लक्ष्य निर्धारित करें
Yah to theek hai ki hamen apane lakshy par dhyaan dena chaahie mahaabhaarat lakshy kya hai vah lakshy apane lie bhee laabhakaaree ho aur samaaj ke lie bhee laabhakaaree ho to aise lakshy par avashy dhyaan dena chaahie yadi lakshy aapaka theek nahin hai to us lakshy ko chhod dena chaahie lakshy bhee achchhe saphal hona chaahie achchha hona chaahie aapaka lakshy kisee ka aisa na ho ki kisee ko pareshaanee ka kaaran ban apane aur apane lakshy ko nirdhaarit karane ke lie upalakshy mein maata-pita ka guru ka bhee sev hona chaahie unakee bhee salaamat rahe the yadi lakshy ho to vah adhik achchha saabit hota hai bosee baar aisa hota hai ki ham jo lakshy nirdhaarit karate hain vah lakshy hee hamaara sahee nirnay nahin hota aur ham bhatak jaate hain isalie hamaara lakshy bhee sahayog chaahie tabhee ham us lakshy par chalen aur apana lakshy nirdhaarit karen

#जीवन शैली

bolkar speaker
29 फरवरी को पैदा हुए इंसान किस प्रकार अपना जन्म दिन हर साल मना सकते हैं ?29 Pharavaree Ko Paida Hue Insaan Kis Prakaar Apana Janm Din Har Saal Mana Sakate Hain
घनश्याम वन Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए घनश्याम जी का जवाब
मंदिर सेवा
0:55
जिनका जन्म 29 फरवरी को होता है उनका जन्मदिन 29 फरवरी को 34 वर्षीय मनाया जाता है इसमें एक उदाहरण है देश के पूर्व प्रधानमंत्री मोरारजी देसाई का जन्म 29 फरवरी को हुआ था और उनका जन्म भी 29 फरवरी को कथा चौथे वॉशिंग माना जाता था इसलिए जिनका जन्म 29 फरवरी को हुआ है तो उनका जन्म 29 फरवरी को ही मनाया जाता है यदि कोई नहीं मानता है और जिस तिथि को जन्म होता है तिथि के अनुसार तो आसपास भी मनाया जा सकता है मगर जो किसी को मानते हैं तारीख को नहीं मानते हैं उनके लिए हर हर श्वास भी जन्मदिन मनाया जा सकता है
Jinaka janm 29 pharavaree ko hota hai unaka janmadin 29 pharavaree ko 34 varsheey manaaya jaata hai isamen ek udaaharan hai desh ke poorv pradhaanamantree moraarajee desaee ka janm 29 pharavaree ko hua tha aur unaka janm bhee 29 pharavaree ko katha chauthe voshing maana jaata tha isalie jinaka janm 29 pharavaree ko hua hai to unaka janm 29 pharavaree ko hee manaaya jaata hai yadi koee nahin maanata hai aur jis tithi ko janm hota hai tithi ke anusaar to aasapaas bhee manaaya ja sakata hai magar jo kisee ko maanate hain taareekh ko nahin maanate hain unake lie har har shvaas bhee janmadin manaaya ja sakata hai

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
2 अक्टूबर को महात्मा गांधी के अलावा कौन से राजनेता का जन्म हुआ था?2 Aktoobar Ko Mahaatma Gaandhee Ke Alaava Kaun Se Raajaneta Ka Janm Hua Tha
घनश्याम वन Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए घनश्याम जी का जवाब
मंदिर सेवा
0:52
2 अक्टूबर को महात्मा गांधी के अलावा भारत के पूर्व प्रधानमंत्री श्री लाल बहादुर शास्त्री का जन्मदिन है बहुत ही उज्जवल नेता थे उन्होंने भारत की बहुत ही सुंदर ढंग से देश हित में काम किया उनकी कासगंज में अचानक मृत्यु हो गई थी कुछ शास्त्रों में भी जीत है कि उनकी मृत्यु का कारण राजनीतिकरण था
2 aktoobar ko mahaatma gaandhee ke alaava bhaarat ke poorv pradhaanamantree shree laal bahaadur shaastree ka janmadin hai bahut hee ujjaval neta the unhonne bhaarat kee bahut hee sundar dhang se desh hit mein kaam kiya unakee kaasaganj mein achaanak mrtyu ho gaee thee kuchh shaastron mein bhee jeet hai ki unakee mrtyu ka kaaran raajaneetikaran tha

#मनोरंजन

bolkar speaker
2+2*2+2 हल करो उत्तर निकालो?2 2*2 2 hal karo uttar nikaalo
घनश्याम वन Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए घनश्याम जी का जवाब
मंदिर सेवा
0:23
2 + 2 = 4 + 2 / 8 + 2 = 7 इसका उत्तर 10 निकला पहले दो में दो जोड़ा गया फिर उसे 2 से गुणा किया और फिर उसमें दो जोड़ा गया इसलिए इसका उत्तर दस्त होता है
2 + 2 \\u003d 4 + 2 / 8 + 2 \\u003d 7 isaka uttar 10 nikala pahale do mein do joda gaya phir use 2 se guna kiya aur phir usamen do joda gaya isalie isaka uttar dast hota hai

#मनोरंजन

bolkar speaker
2+2%2-2 हल करो उत्तर दो?<!DOCTYPE html> <html lang=en> <meta
घनश्याम वन Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए घनश्याम जी का जवाब
मंदिर सेवा
0:21
2 + 2 = 4 4 को 2:00 से फिर तक्सीम किया भाग दिया तो बचा दो और 2 में से 2 - 20 रहा है कि इसमें कुछ भी से नहीं पता सिर्फ तूने ही बसता है
2 + 2 \\u003d 4 4 ko 2:00 se phir takseem kiya bhaag diya to bacha do aur 2 mein se 2 - 20 raha hai ki isamen kuchh bhee se nahin pata sirph toone hee basata hai

#रिश्ते और संबंध

घनश्याम वन Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए घनश्याम जी का जवाब
मंदिर सेवा
0:40
जब आपस में दो व्यक्ति झगड़ा करते हैं तो शरीर की उत्तेजना बढ़ जाती है दिमाग की जाती है और वाणी उत्तेजना के कारण उत्तेजित हो जाती है जिससे आदमी अपना नहीं सोच पाता और छोड़ो
Jab aapas mein do vyakti jhagada karate hain to shareer kee uttejana badh jaatee hai dimaag kee jaatee hai aur vaanee uttejana ke kaaran uttejit ho jaatee hai jisase aadamee apana nahin soch paata aur chhodo

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
क्या बेटी का पैदा होना बुरी बात है आशीर्वाद है?Kya Beti Ka Paida Hona Buri Baat Hai Ashirvaad Hai
घनश्याम वन Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए घनश्याम जी का जवाब
मंदिर सेवा
0:50
बेटा और बेटी भी तो फालतू बात है बेटा और बेटी में कोई फर्क नहीं है और लेकिन आशीर्वाद भाइयों पर सकती है क्योंकि बिना बेटी की बंदी की बेटी देख आशीर्वाद सदा बेजुबान सम्मान रखना चाहिए या कॉफी दो कुल की परंपरा होती है तो उनकी होती है फिर देख लेना
Beta aur betee bhee to phaalatoo baat hai beta aur betee mein koee phark nahin hai aur lekin aasheervaad bhaiyon par sakatee hai kyonki bina betee kee bandee kee betee dekh aasheervaad sada bejubaan sammaan rakhana chaahie ya kophee do kul kee parampara hotee hai to unakee hotee hai phir dekh lena

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
कठिन समय में अपने दिमाग को कैसे शांत करें?Kathin Samay Mein Apne Dimag Ko Kaise Shant Karein
घनश्याम वन Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए घनश्याम जी का जवाब
मंदिर सेवा
1:11
कठिन समय में अपने दिमाग को शांत करने के लिए अधिक नहीं बोलना चाहिए मूंगा धारण करना चाहिए सनम से रहना चाहिए और कोई भी बात कहे चाहे वह कोई क्रोध में कह रहा हूं उसकी बात पर हां यदि कोई बात आपके इस बात को समझना चाहिए और इस बात पर जाना चाहिए अधिकतर अपने दिमाग को शांत करने के लिए शास्त्रों का अध्ययन करना चाहिए किसी बच्चे को जल्दी दिमाग चलाओ दिमाग के डॉक्टर को दिखा सकते हैं आपको और ठीक करने की दवाई से आत्मा को शांति मिलती है भगवान के भजन में लगाना चाहिए
Kathin samay mein apane dimaag ko shaant karane ke lie adhik nahin bolana chaahie moonga dhaaran karana chaahie sanam se rahana chaahie aur koee bhee baat kahe chaahe vah koee krodh mein kah raha hoon usakee baat par haan yadi koee baat aapake is baat ko samajhana chaahie aur is baat par jaana chaahie adhikatar apane dimaag ko shaant karane ke lie shaastron ka adhyayan karana chaahie kisee bachche ko jaldee dimaag chalao dimaag ke doktar ko dikha sakate hain aapako aur theek karane kee davaee se aatma ko shaanti milatee hai bhagavaan ke bhajan mein lagaana chaahie

#पढ़ाई लिखाई

घनश्याम वन Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए घनश्याम जी का जवाब
मंदिर सेवा
1:03
सबसे पहले तो विद्यार्थी को कभी भी आलस्य कर नहीं करना चाहिए समय से होता चाहिए अनुशासन का पालन करना चाहिए पढ़ाई करते समय दिमाग में सिर्फ पढ़ाई के विषय में भी सोचना चाहिए कोई भी इधर उधर की बात नहीं करनी चाहिए अशोक अनुशासन सबसे पहले हैं कभी भी पढ़ाई करते समय है इधर-उधर ध्यान नहीं देना चाहता हूं सिर्फ पढ़ाई करते रहना चाहिए और जो जब कार्य है उसका भोजपुरी
Sabase pahale to vidyaarthee ko kabhee bhee aalasy kar nahin karana chaahie samay se hota chaahie anushaasan ka paalan karana chaahie padhaee karate samay dimaag mein sirph padhaee ke vishay mein bhee sochana chaahie koee bhee idhar udhar kee baat nahin karanee chaahie ashok anushaasan sabase pahale hain kabhee bhee padhaee karate samay hai idhar-udhar dhyaan nahin dena chaahata hoon sirph padhaee karate rahana chaahie aur jo jab kaary hai usaka bhojapuree

#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker
रोज हरी सब्जी खाने से कौन सी समस्या हो सकती हैं?Roj Hari Sabzi Khane Se Kaun Si Samasya Ho Sakti Hai
घनश्याम वन Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए घनश्याम जी का जवाब
मंदिर सेवा
1:06
ऋषभ जी सरपंच स्वास्थ्य लाभ अधिक से अधिक लाभकारी है शरीर के लिए पोस्टिक नहीं है शरीर की पौष्टिकता के लिए लौकी तोरी पपीता मूली की सब्जी मेथी बथुआ चोलाई हाजीपुर के लिए स्वास्थ्य को हरी सब्जी खाने से शरीर में विटामिन प्रोटीन आदि की आवश्यकता की पूर्ति होती है जैसे शर्मा शरीर के लिए लाभकारी है
Rshabh jee sarapanch svaasthy laabh adhik se adhik laabhakaaree hai shareer ke lie postik nahin hai shareer kee paushtikata ke lie laukee toree papeeta moolee kee sabjee methee bathua cholaee haajeepur ke lie svaasthy ko haree sabjee khaane se shareer mein vitaamin proteen aadi kee aavashyakata kee poorti hotee hai jaise sharma shareer ke lie laabhakaaree hai

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
समस्त प्राणियों के कर्मों का भाग्य का लेखा-जोखा किसके पास होता है?Samast Praaniyo Ke Karmon Ka Bhagya Ka Lekha Jokha Kiske Paas Hota Hai
घनश्याम वन Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए घनश्याम जी का जवाब
मंदिर सेवा
1:00
समस्त प्राणियों का लेखा-जोखा विधाता ने अपने पास रखा है जिसे यमराज प्रयोजन राज के पास किसकी सरकार कार्यों का लेखा-जोखा करता है और शनि देव सब की सांसो से विनती करते हैं समय चक्र बहुत समय से चला आ रहा है इंसान को सदा अच्छे कर्म करते रहनी चाहिए क्योंकि वह जो भी कदम करता है जो भिवानी से बोलता है यदि शरीर के द्वारा यमन के द्वारा कर्म करता है उसका सफल चित्रगुप्त रखता है और उसी के अनुसार कर्म दुनिया में इंसान अपना जैसा था वैसा बना
Samast praaniyon ka lekha-jokha vidhaata ne apane paas rakha hai jise yamaraaj prayojan raaj ke paas kisakee sarakaar kaaryon ka lekha-jokha karata hai aur shani dev sab kee saanso se vinatee karate hain samay chakr bahut samay se chala aa raha hai insaan ko sada achchhe karm karate rahanee chaahie kyonki vah jo bhee kadam karata hai jo bhivaanee se bolata hai yadi shareer ke dvaara yaman ke dvaara karm karata hai usaka saphal chitragupt rakhata hai aur usee ke anusaar karm duniya mein insaan apana jaisa tha vaisa bana

#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker
मकर सक्रांति क्यों मनाते हैं हम किसकी याद में?Makar Sakranti Kyun Manate Hain Hum Kiski Yaad Mein
घनश्याम वन Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए घनश्याम जी का जवाब
मंदिर सेवा
0:47
आज के दिन सूर्य मकर राशि में प्रवेश करने हैं सूर्य भगवान दक्षिणायन से उत्तरायण में प्रवेश करते हैं आज सूर्य भगवान का बहुत ही अच्छा शिक्षा ज्ञान देने वाला यह जो सूर्य की उपासना करते हैं ग्रुप आज सूर्य के पर सदैव बनी रहती है आज से वितरण शुरू होता है विषम पिता में है जिसने भी मकर सक्रांति को ही चरण में अपना शरीर पूरा
Aaj ke din soory makar raashi mein pravesh karane hain soory bhagavaan dakshinaayan se uttaraayan mein pravesh karate hain aaj soory bhagavaan ka bahut hee achchha shiksha gyaan dene vaala yah jo soory kee upaasana karate hain grup aaj soory ke par sadaiv banee rahatee hai aaj se vitaran shuroo hota hai visham pita mein hai jisane bhee makar sakraanti ko hee charan mein apana shareer poora

#धर्म और ज्योतिषी

घनश्याम वन Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए घनश्याम जी का जवाब
मंदिर सेवा
0:58
क्या हमारे देश में कुछ लोग तो ऐसे भी हैं जो भारत माता की जय बोलने से भी दुखी हो जाते हैं भारत माता को माता कैसे मान सकते हैं इन लोगों को वंदे मातरम कहने में भी विदा उत्पन्न होती है तो वह लोग किसकी हो सकते हैं वे झगड़े के कारण इसलिए इस देश में भारत देश में भारत को भारत माता मानने वाले ऐसे बहुत लोग हैं जो भारत को भारत माता नहीं मांगते किसी पार्टी या फिर झगड़े करते रहते हैं जो दूसरे देश की प्रशंसा करते हैं और अपने ही देश की निंदा करते हैं मैं भारत का कहते हैं और दूसरे देश में गंगा तेरे देश में रहने लायक नहीं है उन्ही के पास धर्म जाति प्रथा के झगड़े होते हैं
Kya hamaare desh mein kuchh log to aise bhee hain jo bhaarat maata kee jay bolane se bhee dukhee ho jaate hain bhaarat maata ko maata kaise maan sakate hain in logon ko vande maataram kahane mein bhee vida utpann hotee hai to vah log kisakee ho sakate hain ve jhagade ke kaaran isalie is desh mein bhaarat desh mein bhaarat ko bhaarat maata maanane vaale aise bahut log hain jo bhaarat ko bhaarat maata nahin maangate kisee paartee ya phir jhagade karate rahate hain jo doosare desh kee prashansa karate hain aur apane hee desh kee ninda karate hain main bhaarat ka kahate hain aur doosare desh mein ganga tere desh mein rahane laayak nahin hai unhee ke paas dharm jaati pratha ke jhagade hote hain

#जीवन शैली

घनश्याम वन Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए घनश्याम जी का जवाब
मंदिर सेवा
1:02
जो इंसान समय देकर बात नहीं करता तो उसे 1 दिन वास्तव में पसंद करता है उसे देखना चाहिए कि इस समय यहां का क्या माहौल है जैसे किसी की शादी हो रही है और आप उसे कोई दुखद समाचार या कोई ऐसा वार्तालाप सुनाएं जिससे वह करने पहुंचे तो समय देखकर ही उसे ऐसी खुशी की बातें करनी चाहिए जिससे उसके दिल को ठेस न पहुंचे यदि किसी की मृत्यु के समय आप वहां जाकर उस कराएं और मनोरंजन करें उसका उपवास में तो वह है अधिक दुखदाई हो जाता है इसलिए समय देखकर जो इंसान बात करता है वास्तव में वह इंसान व्यक्तित्व का धनी है वह इंसान सफल होता है और जो समय देखकर बात नहीं करते वह एक न एक दिन यह दुनिया से नहीं हो जाते हैं वह लोग से लिखा है
Jo insaan samay dekar baat nahin karata to use 1 din vaastav mein pasand karata hai use dekhana chaahie ki is samay yahaan ka kya maahaul hai jaise kisee kee shaadee ho rahee hai aur aap use koee dukhad samaachaar ya koee aisa vaartaalaap sunaen jisase vah karane pahunche to samay dekhakar hee use aisee khushee kee baaten karanee chaahie jisase usake dil ko thes na pahunche yadi kisee kee mrtyu ke samay aap vahaan jaakar us karaen aur manoranjan karen usaka upavaas mein to vah hai adhik dukhadaee ho jaata hai isalie samay dekhakar jo insaan baat karata hai vaastav mein vah insaan vyaktitv ka dhanee hai vah insaan saphal hota hai aur jo samay dekhakar baat nahin karate vah ek na ek din yah duniya se nahin ho jaate hain vah log se likha hai

#जीवन शैली

bolkar speaker
मरने के बाद हम इस दुनिया में अपना क्या छोड़ जाते हैं?Marne Ke Bad Hum Is Duniya Mein Apna Kya Chod Jate Hain
घनश्याम वन Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए घनश्याम जी का जवाब
मंदिर सेवा
1:03
देखे हम जैसा कर्म करते हैं यह सब लोगों से व्यवहार करते हैं और न ही व्यवहार हम इस दुनिया में मरने के बाद छोड़ जाते हैं इसलिए हमें अच्छे कर्म करने चाहिए किसी का बुरा नहीं करना चाहिए सब के पास 3 साल भाव देखना चाहिए हम नहीं सहन शक्ति होनी चाहिए क्रोध नहीं होना चाहिए ताकि बाद में भी हमारे शुभ कर्मों का आचरण करें और हमारी याद करते रहे कि यह इंसान इतना अच्छे चरित्र का था उसके मार्ग पर चलना चाहिए इसलिए बाद में हमारे कर्म हमारा वाईफाई हमारी कार्यप्रणाली की यादों के तौर पर इस दुनिया में रह जाती है इसलिए कहा भगवान ने गीता में कहा है कि शुभ कर्म कीजिए अपने करते को सुनकर कीजिए और यह कर्तव्य श्रेष्ठ कर्म ही आपके मरने के बाद भी कीचड़ की राजस्थानी चौधरी
Dekhe ham jaisa karm karate hain yah sab logon se vyavahaar karate hain aur na hee vyavahaar ham is duniya mein marane ke baad chhod jaate hain isalie hamen achchhe karm karane chaahie kisee ka bura nahin karana chaahie sab ke paas 3 saal bhaav dekhana chaahie ham nahin sahan shakti honee chaahie krodh nahin hona chaahie taaki baad mein bhee hamaare shubh karmon ka aacharan karen aur hamaaree yaad karate rahe ki yah insaan itana achchhe charitr ka tha usake maarg par chalana chaahie isalie baad mein hamaare karm hamaara vaeephaee hamaaree kaaryapranaalee kee yaadon ke taur par is duniya mein rah jaatee hai isalie kaha bhagavaan ne geeta mein kaha hai ki shubh karm keejie apane karate ko sunakar keejie aur yah kartavy shreshth karm hee aapake marane ke baad bhee keechad kee raajasthaanee chaudharee

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
जो ईश्वर को नहीं मानते उन व्यक्तियों की क्या गति होती है?Jo Ishvar Ko Nahi Mante Un Vyaktiyon Ki Kya Gati Hoti Hai
घनश्याम वन Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए घनश्याम जी का जवाब
मंदिर सेवा
1:34
देखिए बहुत से ऐसे इंसान है जो ईश्वर को नहीं मानते मगर उनके काम अच्छे हैं रे परोपकार के कार्य करते हैं माता पिता गुरु की सेवा करते हैं कोई भी ऐसा कार्य नहीं करते जिससे किसी को ठेस पहुंचे सब के प्रति उत्तरदाई है अपना कार्य पूर्णता ठीक प्रकार से करते हैं तो वह भी ईश्वर की ही बनती है विधि स्कूल कोई मानते हैं क्योंकि जो व्यवहार करता है वह सब प्राणी में ईश्वर को ही देखता है और मानवता की सेवा करना भी ईश्वर की भक्ति है क्योंकि मानव में ही ईश्वर है ईश्वर भक्ति हम मूर्ति पूजा कर रहे हैं और माता पिता गुरु को जो कहते हैं इसलिए सबसे पहले तो एडमिन में मानवता है और वे ईश्वर को नहीं मानते तो उसे कोई अंतर नहीं है क्योंकि माता पिता की गुरु सेवा करके सब के प्रति परोपकार के कार्य करती है प्रमाण के कार्य करके ईश्वर भक्ति तो स्वता ही हो जाती है ईश्वर को तो सोचे मानी लेते हैं इसलिए उनकी कार्यप्रणाली पर रहकर कार्य सक्षम होता है कि वे ऐसा करते हैं यदि किसी को परेशान करते हैं जो मेला में करते हैं किसी को टालना देते हैं तो वह ईश्वर भक्ति से तू है मगर जो अच्छे काम करते हैं फिर भी करके हम ईश्वर को नहीं मानते तो मैं जवान से तो कहते हम ईश्वर को नहीं मानते वास्तव में वे ईश्वर को मानते हैं जो भी तो मेरे माता पिता गुरु की सेवा करनी चाहिए और अच्छे कार्य करें
Dekhie bahut se aise insaan hai jo eeshvar ko nahin maanate magar unake kaam achchhe hain re paropakaar ke kaary karate hain maata pita guru kee seva karate hain koee bhee aisa kaary nahin karate jisase kisee ko thes pahunche sab ke prati uttaradaee hai apana kaary poornata theek prakaar se karate hain to vah bhee eeshvar kee hee banatee hai vidhi skool koee maanate hain kyonki jo vyavahaar karata hai vah sab praanee mein eeshvar ko hee dekhata hai aur maanavata kee seva karana bhee eeshvar kee bhakti hai kyonki maanav mein hee eeshvar hai eeshvar bhakti ham moorti pooja kar rahe hain aur maata pita guru ko jo kahate hain isalie sabase pahale to edamin mein maanavata hai aur ve eeshvar ko nahin maanate to use koee antar nahin hai kyonki maata pita kee guru seva karake sab ke prati paropakaar ke kaary karatee hai pramaan ke kaary karake eeshvar bhakti to svata hee ho jaatee hai eeshvar ko to soche maanee lete hain isalie unakee kaaryapranaalee par rahakar kaary saksham hota hai ki ve aisa karate hain yadi kisee ko pareshaan karate hain jo mela mein karate hain kisee ko taalana dete hain to vah eeshvar bhakti se too hai magar jo achchhe kaam karate hain phir bhee karake ham eeshvar ko nahin maanate to main javaan se to kahate ham eeshvar ko nahin maanate vaastav mein ve eeshvar ko maanate hain jo bhee to mere maata pita guru kee seva karanee chaahie aur achchhe kaary karen

#धर्म और ज्योतिषी

घनश्याम वन Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए घनश्याम जी का जवाब
मंदिर सेवा
1:49
देखें ईश्वर के प्रति भक्ति के प्रति जागरूक करने के लिए पहले तो स्वयं को खुद ईश्वर का भक्ति बनाने के लिए कर्म करना होगा कि आप फोन भी करके बस्ती में सक्षम है या नहीं है पहले अपने आप को दुरुस्त कीजिए पहले अपने मन के मैल को छोड़िए और ईश्वर भक्ति सॉन्ग करिए खींचे और जब आप कुछ परिपक्व हो जाएं फोन पर कर दो परमात्मा की कृपा से ही हुआ जा सकता है हां जब आपको ऐसा लगे कि मैं कुछ किशन की भक्ति के प्रति लोगों को जागरूक कर सकता हूं तो पहले अपने दोस्तों को दूर करें और फिर लोगों को जागरूक करने का प्रयत्न करें ऐसा ना हो कि आप लोगों को भक्ति के लिए प्रेरित करें और आप में भर्ती की भावना ही ना हो इसलिए सर्वप्रथम अपने आप को सुधारने और फिर साधु समाज को सुधारने के लिए ईश्वर की भक्ति करने के लिए जागरूक कीजिए और यह देखिए कि समाज में यह लोग ईश्वर की भक्ति के लिए यह क्या सोच लिया नहीं है पहले कॉल व्यक्तिगत विचार उनकी कार्यप्रणाली सुने भक्ति गाने प्ले कीजिए ऐसा ना हो क्या भक्ति के विपरीत करते करें और लोगों पर उनके पास कांकेर में पड़ जाए तो आप उन्हीं को भक्ति के लिए प्रेरित करें पहले यह में मानवता मिस्त्री क्या मानवता को जो प्रधानता देते हैं
Dekhen eeshvar ke prati bhakti ke prati jaagarook karane ke lie pahale to svayan ko khud eeshvar ka bhakti banaane ke lie karm karana hoga ki aap phon bhee karake bastee mein saksham hai ya nahin hai pahale apane aap ko durust keejie pahale apane man ke mail ko chhodie aur eeshvar bhakti song karie kheenche aur jab aap kuchh paripakv ho jaen phon par kar do paramaatma kee krpa se hee hua ja sakata hai haan jab aapako aisa lage ki main kuchh kishan kee bhakti ke prati logon ko jaagarook kar sakata hoon to pahale apane doston ko door karen aur phir logon ko jaagarook karane ka prayatn karen aisa na ho ki aap logon ko bhakti ke lie prerit karen aur aap mein bhartee kee bhaavana hee na ho isalie sarvapratham apane aap ko sudhaarane aur phir saadhu samaaj ko sudhaarane ke lie eeshvar kee bhakti karane ke lie jaagarook keejie aur yah dekhie ki samaaj mein yah log eeshvar kee bhakti ke lie yah kya soch liya nahin hai pahale kol vyaktigat vichaar unakee kaaryapranaalee sune bhakti gaane ple keejie aisa na ho kya bhakti ke vipareet karate karen aur logon par unake paas kaanker mein pad jae to aap unheen ko bhakti ke lie prerit karen pahale yah mein maanavata mistree kya maanavata ko jo pradhaanata dete hain

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
कबीर ने किस का चिंतन करने को कहा है?Kabir Ne Kis Ka Chintan Karne Ko Kaha Hai
घनश्याम वन Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए घनश्याम जी का जवाब
मंदिर सेवा
1:24
कवि ने निर्गुण उपासना को अधिक प्रावधान दिया है उन्होंने अपनी हत्याकांड में आत्मा की उपासना करने की विधि बताई है उन्होंने मंदिर मस्जिद में जाने के लिए उनसे कहा है कि पहले मन की सुध ही जरूरी है मंदिर पर भी जाना है इतनी जरूरी नहीं है कबीर दास जी ने मांग की सूची अपने कार्य जो किसी के प्रति पूरी ना हो किसी को भेजना करते हो ऐसे काले करने के लिए भी ट्वीट किया है उन्होंने बताया है कि ईश्वर उन्हें व्यापक है और है वह हमारे अंदर ही हमसे दूर हमें अपनी आत्मा में ही उनका विश्लेषण करना चाहिए अपनी आत्मा भी उनका ध्यान करना चाहिए और अपने आप में हीरोइन को कोई अच्छा वाला पक्का मंदिर मस्जिद में लगानी है इसलिए उन्होंने निराकार परमात्मा को
Kavi ne nirgun upaasana ko adhik praavadhaan diya hai unhonne apanee hatyaakaand mein aatma kee upaasana karane kee vidhi bataee hai unhonne mandir masjid mein jaane ke lie unase kaha hai ki pahale man kee sudh hee jarooree hai mandir par bhee jaana hai itanee jarooree nahin hai kabeer daas jee ne maang kee soochee apane kaary jo kisee ke prati pooree na ho kisee ko bhejana karate ho aise kaale karane ke lie bhee tveet kiya hai unhonne bataaya hai ki eeshvar unhen vyaapak hai aur hai vah hamaare andar hee hamase door hamen apanee aatma mein hee unaka vishleshan karana chaahie apanee aatma bhee unaka dhyaan karana chaahie aur apane aap mein heeroin ko koee achchha vaala pakka mandir masjid mein lagaanee hai isalie unhonne niraakaar paramaatma ko

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
किस तरह का खानपान लिवर को स्वस्थ बनाए रख सकता है?Kis Tarah Ka Khaanpaan Liver Ko Svasth Banaye Rakh Sakta Hai
घनश्याम वन Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए घनश्याम जी का जवाब
मंदिर सेवा
0:58
दानों में मूंग की दवाई अधिक उपयोगी है जो शरीर के लिए लियोन को ठीक लगती है और दाल भी खा सकते हैं मगर उनकी जी लाल की मात्रा अधिक ना हो या उनमें मूंग की दाल की खीर खा सकते हैं अगर की जानकारी दो कि कल चने की दाल पोस्टिक है और सब्जियों में लौकी तोरी मूली की सब्जी शलगम की सब्जी भिंडी की सब्जी सही के लिए बहुत ही उपयोगी है और स्वास्थ्यवर्धक है और लीवर को मजबूत बनाए रखती है भोजन के साथ सलाद नहीं सकते हैं खाने में बहुत ही उपयोगी है
Daanon mein moong kee davaee adhik upayogee hai jo shareer ke lie liyon ko theek lagatee hai aur daal bhee kha sakate hain magar unakee jee laal kee maatra adhik na ho ya unamen moong kee daal kee kheer kha sakate hain agar kee jaanakaaree do ki kal chane kee daal postik hai aur sabjiyon mein laukee toree moolee kee sabjee shalagam kee sabjee bhindee kee sabjee sahee ke lie bahut hee upayogee hai aur svaasthyavardhak hai aur leevar ko majaboot banae rakhatee hai bhojan ke saath salaad nahin sakate hain khaane mein bahut hee upayogee hai
URL copied to clipboard