#भारत की राजनीति

bolkar speaker
काले पानी की जेल कहां पर है?Kale Paani Ki Jail Kahan Par Hai
रितेश कुमार  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए रितेश जी का जवाब
Marketing and management
1:41

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
एक गरीब के घर में और एक अमीर के घर में आग लगी तो बताओ पुलिस किसकी आग बुझाएगा सबसे पहले?ek gareeb ke ghar mein aur ek ameer ke ghar mein aag lagee to batao pulis kisakee aag bujhaega sabase pahale
रितेश कुमार  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए रितेश जी का जवाब
Marketing and management
0:47

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
विचाराधीन अनुशासनात्मक कार्यवाही किसे कहते हैं?Vicharadheen Anushasanatmak Karyavahi Kise Kehte Hai
रितेश कुमार  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए रितेश जी का जवाब
Marketing and management
1:18

#जीवन शैली

रितेश कुमार  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए रितेश जी का जवाब
Marketing and management
0:59

#जीवन शैली

रितेश कुमार  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए रितेश जी का जवाब
Marketing and management
1:40

#जीवन शैली

रितेश कुमार  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए रितेश जी का जवाब
Marketing and management
0:39

#जीवन शैली

bolkar speaker
ससुर और बहू के अवैध संबंधों पर आप क्या कहेंगे?Sasur Aur Bahu Ke Avaidh Sambandhon Par Aap Kya Kahenge
रितेश कुमार  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए रितेश जी का जवाब
Marketing and management
1:28

#जीवन शैली

रितेश कुमार  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए रितेश जी का जवाब
Marketing and management
0:53

#जीवन शैली

bolkar speaker
जीवन क्या है एक शब्द में बताइए?Jeevan Kya Hai Ek Shabd Mein Bataiye
रितेश कुमार  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए रितेश जी का जवाब
Marketing and management
0:06

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
कौन से ऐप से लड़कियां पटती है?Kaun Se App Se Ladkiyaa Patati Hai
रितेश कुमार  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए रितेश जी का जवाब
Marketing and management
0:12
सवाल है कि कौन से ऐप में लड़कियां पढ़ती हैं तो उसका जवाब में बताऊं आपको बोला पार्टी है पर बहुत सारी लड़कियां पढ़ती है आप उस पर चाहे कर सकते हो

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
वोट देना जरूरी है या मजबूरी?Vote Dena Jaruri Hai Ya Majburi
रितेश कुमार  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए रितेश जी का जवाब
Marketing and management
1:05
सवाल बहुत ही बेहतरीन ने वोट देना जरूरी है या मजबूरी देखिए बोर्ड देना आपकी मजबूरी नहीं है यह आपको देना जरूरी है क्योंकि एक एक वोट जो है देश और क्षेत्र में उन प्रतिनिधियों को चुनने का काम करता है जिसके बाद 5 साल हम उनके कार्यकाल से संतुष्ट होते हैं या संतुष्ट होते हैं तो यदि आप अपनी सहभागिता चुनाव में अदा करेंगे तो आप उस समय आप की ताकत जो है वह वोट है क्योंकि सरकार और बा संविधान दोनों में आपको पूरी स्वतंत्रता देती है कि आप जो है अपने मताधिकार का उपयोग करके एक ऐसे व्यक्ति को चुन के वहां का प्रतिनिधि बनाए जो आपके क्षेत्र में 5 साल तक इमांधी ईमानदारी के साथ काम करवाएं और यही कि हमारे पास एक हथियार होता है कि हर 5 साल में हम अगर गलत व्यक्ति को चुनते हैं तो आर 5 साल में उसे बदलने का मौका मिलता है और यह चीजें बहुत ज्यादा जरूरी है कि आप अपने मत अधिकार का प्रयोग करें इसलिए बोर्ड देना जरूरी है ना कि मजबूरी थैंक यू थैंक यू
Savaal bahut hee behatareen ne vot dena jarooree hai ya majabooree dekhie bord dena aapakee majabooree nahin hai yah aapako dena jarooree hai kyonki ek ek vot jo hai desh aur kshetr mein un pratinidhiyon ko chunane ka kaam karata hai jisake baad 5 saal ham unake kaaryakaal se santusht hote hain ya santusht hote hain to yadi aap apanee sahabhaagita chunaav mein ada karenge to aap us samay aap kee taakat jo hai vah vot hai kyonki sarakaar aur ba sanvidhaan donon mein aapako pooree svatantrata detee hai ki aap jo hai apane mataadhikaar ka upayog karake ek aise vyakti ko chun ke vahaan ka pratinidhi banae jo aapake kshetr mein 5 saal tak imaandhee eemaanadaaree ke saath kaam karavaen aur yahee ki hamaare paas ek hathiyaar hota hai ki har 5 saal mein ham agar galat vyakti ko chunate hain to aar 5 saal mein use badalane ka mauka milata hai aur yah cheejen bahut jyaada jarooree hai ki aap apane mat adhikaar ka prayog karen isalie bord dena jarooree hai na ki majabooree thaink yoo thaink yoo

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
किसी अन्य देश में उनकी भाषा ना आने पर किस प्रकार की दिक्कत हो सकती है?Kisi Any Desh Mein Unki Bhasha Na Aane Par Kis Prakaar Ki Dikkat Ho Sakti Hai
रितेश कुमार  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए रितेश जी का जवाब
Marketing and management
1:14
अगर आप किसी अन्य देश में और वहां की भाषा आपको नहीं आती है तो आपके सामने पहले दिक्कत तो यह होगी किसी से आप रास्ता नहीं पूछ सकते हो उसके बाद किसी चीज की कीमत पता करनी हो तो आप को इशारों में बात करनी पड़ेगी उसके बाद अगर वहां के लोकल के लोग अगर आपको कोई दिशानिर्देश देते हैं तो वह आपको समझ में नहीं आएगी साथ ही साथ आपको ज्यादा से ज्यादा मोबाइल का इस्तेमाल करना पड़ेगा और जो है इशारों में बात करनी पड़ेगी और आपको अगर 2020 वहां की भाषा आती हो तो आप उन चंद शब्दों को चुनकर वहां पर अपना रास्ता खुद चुनेंगे और जो भी काम के लिए गए हैं उसमें इशारों में आपको बात ज्यादा करनी पड़ेगी जिससे उनकी समझ में आ सके तो यह सारे दिक्कत है साथ ही साथ एक चीज और में अप्पू बताओ सबसे बड़ी दिक्कत आप करावल करते टाइम आपको आएगी कि आप जहां जाना चाहते हैं वह जगह का नाम बोल कर आप को इशारों में बोलना पड़ेगा कितना समय लगेगा घड़ी को इशारा दिखाकर घड़ी की तरफ दिखाकर समय के लिए पूछ सकते हैं कि कितना टाइम हुआ है हर चीज के लिए आपको कहीं ना कहीं दिक्कतें आएंगी इसलिए जिस भी क्षेत्र में अब जा रहे हैं वहां की भाषा के बारे में थोड़ा बहुत ज्ञान होना बहुत जरूरी है थैंक यू थैंक यू
Agar aap kisee any desh mein aur vahaan kee bhaasha aapako nahin aatee hai to aapake saamane pahale dikkat to yah hogee kisee se aap raasta nahin poochh sakate ho usake baad kisee cheej kee keemat pata karanee ho to aap ko ishaaron mein baat karanee padegee usake baad agar vahaan ke lokal ke log agar aapako koee dishaanirdesh dete hain to vah aapako samajh mein nahin aaegee saath hee saath aapako jyaada se jyaada mobail ka istemaal karana padega aur jo hai ishaaron mein baat karanee padegee aur aapako agar 2020 vahaan kee bhaasha aatee ho to aap un chand shabdon ko chunakar vahaan par apana raasta khud chunenge aur jo bhee kaam ke lie gae hain usamen ishaaron mein aapako baat jyaada karanee padegee jisase unakee samajh mein aa sake to yah saare dikkat hai saath hee saath ek cheej aur mein appoo batao sabase badee dikkat aap karaaval karate taim aapako aaegee ki aap jahaan jaana chaahate hain vah jagah ka naam bol kar aap ko ishaaron mein bolana padega kitana samay lagega ghadee ko ishaara dikhaakar ghadee kee taraph dikhaakar samay ke lie poochh sakate hain ki kitana taim hua hai har cheej ke lie aapako kaheen na kaheen dikkaten aaengee isalie jis bhee kshetr mein ab ja rahe hain vahaan kee bhaasha ke baare mein thoda bahut gyaan hona bahut jarooree hai thaink yoo thaink yoo

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
CBI और CID में क्या अंतर है?chbi aur chid mein kya antar hai
रितेश कुमार  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए रितेश जी का जवाब
Marketing and management
1:18
बहुत ही अच्छा पूछा आपने सीबीआई और सीवीसी आईडी में क्या फर्क है मैं आपको बताता हूं लेकिन सीबीआई यानी क्राइम ब्रांच ऑफ इंडिया कहीं भी जाकर वह छापा मार सकती है और सीधे वहां पर उस एरिया को सील करके वहां की जांच पड़ताल शुरू कर सकती जबकि सीआईडी का काम दूसरी तरीके से होता है यहां चुप कर चुप कर या फिर सालों साल तक कोई एक-दो व्यक्ति जो सीआईडी का होता है वह भिखारी के रूप में या किसी गरीब व्यक्ति के रूप में या किसी महिला के रूप में हो उस एरिया में रहकर उन लोगों के साथ घुलमिल कर वहां के लोगों के बारे में जानकारी इस मैटर को लेकर वह किसी मर्डर के मैटर को लेकर गया है तो उसकी छानबीन लोग छुप-छुप आते हुए करता है और उसके बाद जब उसकी पूरी तह तक पहुंच जाता है तो फिर अपने सीनियर अधिकारियों को सूचना देने के बाद उसका बड़ा खुलासा किया जाता है सीआईडी का काम जो है कभी एक में मैं 2 महीने 4 महीने एक कई बार सालों साल तक चलता रहता है लेकिन सीबीआई जो है सीधे छापा मार सकती है और वहां पर आज सब को पकड़ कर कुछ भी पूछताछ कर सकती है और किसी को भी शक के दायरे में अपने अंडर में लेकर उससे पूछताछ कर सकती जिसकी उसे पूरी छूट होती है थैंक यू थैंक यू
Bahut hee achchha poochha aapane seebeeaee aur seeveesee aaeedee mein kya phark hai main aapako bataata hoon lekin seebeeaee yaanee kraim braanch oph indiya kaheen bhee jaakar vah chhaapa maar sakatee hai aur seedhe vahaan par us eriya ko seel karake vahaan kee jaanch padataal shuroo kar sakatee jabaki seeaeedee ka kaam doosaree tareeke se hota hai yahaan chup kar chup kar ya phir saalon saal tak koee ek-do vyakti jo seeaeedee ka hota hai vah bhikhaaree ke roop mein ya kisee gareeb vyakti ke roop mein ya kisee mahila ke roop mein ho us eriya mein rahakar un logon ke saath ghulamil kar vahaan ke logon ke baare mein jaanakaaree is maitar ko lekar vah kisee mardar ke maitar ko lekar gaya hai to usakee chhaanabeen log chhup-chhup aate hue karata hai aur usake baad jab usakee pooree tah tak pahunch jaata hai to phir apane seeniyar adhikaariyon ko soochana dene ke baad usaka bada khulaasa kiya jaata hai seeaeedee ka kaam jo hai kabhee ek mein main 2 maheene 4 maheene ek kaee baar saalon saal tak chalata rahata hai lekin seebeeaee jo hai seedhe chhaapa maar sakatee hai aur vahaan par aaj sab ko pakad kar kuchh bhee poochhataachh kar sakatee hai aur kisee ko bhee shak ke daayare mein apane andar mein lekar usase poochhataachh kar sakatee jisakee use pooree chhoot hotee hai thaink yoo thaink yoo

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
शंखपुष्पी क्या सच में दिमाग तेज करती है ?Shankhapushpi Kya Sach Mein Dimag Tej Karti Hai
रितेश कुमार  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए रितेश जी का जवाब
Marketing and management
0:27
यहां दवा जो है शंखपुष्पी बहुत ही बेहतरीन दवा है इस दवा के इस्तेमाल से वास्तव में दिमाग और याददाश्त दिमाग को तेज हो ना हो लेकिन आपकी याददाश्त जो है तेज करने का काम है दवा करती है जो की बहुत पुरानी औषधि है और इसे बहुत ज्यादा इस्तेमाल किया जाता है आप इसको निसंकोच ओके ले सकते हैं लेकिन इसका मुख्य काम आपकी याददाश्त तेज करना है ना कि दिमाग को तेज करना थैंक यू थैंक यू वेरी मच
Yahaan dava jo hai shankhapushpee bahut hee behatareen dava hai is dava ke istemaal se vaastav mein dimaag aur yaadadaasht dimaag ko tej ho na ho lekin aapakee yaadadaasht jo hai tej karane ka kaam hai dava karatee hai jo kee bahut puraanee aushadhi hai aur ise bahut jyaada istemaal kiya jaata hai aap isako nisankoch oke le sakate hain lekin isaka mukhy kaam aapakee yaadadaasht tej karana hai na ki dimaag ko tej karana thaink yoo thaink yoo veree mach

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
क्या हमें सीधा और सरल नहीं होना चाहिए?Kya Hume Seedha Aur Saral Nahi Hona Chaiye
रितेश कुमार  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए रितेश जी का जवाब
Marketing and management
0:15
एक सवाल बहुत बेहतरीन है हमें सीधा और सरल होना चाहिए और कुछ परिस्थितियां ऐसी बन जाए जहां पर आप का इस्तेमाल हो रहा हो वहां पर आपको अपना सीधा पन और सरल पन को कम करना पड़ेगा थैंक यू थैंक यू वेरी मच
Ek savaal bahut behatareen hai hamen seedha aur saral hona chaahie aur kuchh paristhitiyaan aisee ban jae jahaan par aap ka istemaal ho raha ho vahaan par aapako apana seedha pan aur saral pan ko kam karana padega thaink yoo thaink yoo veree mach

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
"सपना" किसे कहते हैं? तथा यह कितने प्रकार का होता है?sapana kise kahate hain? tatha yah kitane prakaar ka hota hai
रितेश कुमार  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए रितेश जी का जवाब
Marketing and management
0:41
बहुत अच्छा सवाल पूछा आपने सपना किसे कहते हैं सपना वह नहीं जो सोने के बाद आता है सपना वह होता है जो आपको सोने नहीं देता है सपने कई प्रकार के होते हैं जैसे कि आप सोकर यदि सपना देखते हो तो वह मृत सपने होते हैं जो पूरे भी हो सकते हैं नहीं भी हो सकते कुछ सपने ऐसे होते हैं जो आप दिन आपकी दिनचर्या से जुड़े हुए होते हैं आप दिनभर जो सोचते हैं वह चीजें आपके सपनों में आती है और नाइट्स अपना वह होता है जो आपको सोने नहीं देता है दिन-रात उसी के बारे में आपसे पूछते रहते हैं उसे सकारात्मक सपने कहते हैं जो पूरे होते हैं
Bahut achchha savaal poochha aapane sapana kise kahate hain sapana vah nahin jo sone ke baad aata hai sapana vah hota hai jo aapako sone nahin deta hai sapane kaee prakaar ke hote hain jaise ki aap sokar yadi sapana dekhate ho to vah mrt sapane hote hain jo poore bhee ho sakate hain nahin bhee ho sakate kuchh sapane aise hote hain jo aap din aapakee dinacharya se jude hue hote hain aap dinabhar jo sochate hain vah cheejen aapake sapanon mein aatee hai aur naits apana vah hota hai jo aapako sone nahin deta hai din-raat usee ke baare mein aapase poochhate rahate hain use sakaaraatmak sapane kahate hain jo poore hote hain

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
मंदिरों में घंटी क्यों बजाते है?Mandiron Mein Ghanti Kyun Bajate Hai
रितेश कुमार  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए रितेश जी का जवाब
Marketing and management
0:29
मंदिरों में घंटी बजाने से नकारात्मक ऊर्जा दूर होती है और सकारात्मक ऊर्जा की प्राप्ति होती है इसलिए प्रत्येक मंदिर में घंटी रखी जाती है जिससे कि लोग घंटी को बजा के नकारात्मक ऊर्जा को दूर करें हमें सकारात्मक ऊर्जा को बुलाएं और उसके बाद मन को एक बहुत बड़ी शांति मिलती है जोकि पूजा स्थल पर आप महसूस करते हैं घंटी बजाने के बाद के दिल को एक संतुष्टि मिलती है
Mandiron mein ghantee bajaane se nakaaraatmak oorja door hotee hai aur sakaaraatmak oorja kee praapti hotee hai isalie pratyek mandir mein ghantee rakhee jaatee hai jisase ki log ghantee ko baja ke nakaaraatmak oorja ko door karen hamen sakaaraatmak oorja ko bulaen aur usake baad man ko ek bahut badee shaanti milatee hai joki pooja sthal par aap mahasoos karate hain ghantee bajaane ke baad ke dil ko ek santushti milatee hai

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
भारत में कोरोना वायरस की वैक्सीन कब आएगी ?Bharat Me Coronavirus Ki Vaccine Kab Ayegi
रितेश कुमार  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए रितेश जी का जवाब
Marketing and management
0:34
करीना वैक्सीन आ चुकी है और यह वैक्सीन जो है सबसे पहले स्वास्थ्य कर्मियों को फिर सुरक्षाकर्मियों को उसके बाद टीचरों को उसके बाद 50 साल से ज्यादा उम्र वाले व्यक्तियों को लगाई जाएगी इसके बाद धीरे-धीरे उन से कम उम्र के व्यक्तियों को लगाई जाएगी यह सिस्टमैटिक तरीके से शुरुआत हो चुकी है और यहां फरवरी में लगाना शुरु हो गया चुकी है पिछले जनवरी में इसकी तैयारी हो चुकी थी और इस समय वैक्सीन लगाए जा रहे हैं थैंक यू थैंक यू वेरी मच
Kareena vaikseen aa chukee hai aur yah vaikseen jo hai sabase pahale svaasthy karmiyon ko phir surakshaakarmiyon ko usake baad teecharon ko usake baad 50 saal se jyaada umr vaale vyaktiyon ko lagaee jaegee isake baad dheere-dheere un se kam umr ke vyaktiyon ko lagaee jaegee yah sistamaitik tareeke se shuruaat ho chukee hai aur yahaan pharavaree mein lagaana shuru ho gaya chukee hai pichhale janavaree mein isakee taiyaaree ho chukee thee aur is samay vaikseen lagae ja rahe hain thaink yoo thaink yoo veree mach

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
क्यों मुंबई को सपनों का शहर कहा जाता है?kyon mumbee ko sapanon ka shahar kaha jaata hai
रितेश कुमार  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए रितेश जी का जवाब
Marketing and management
0:42
कहां जाता है कि मुंबई में जाने के बाद लोगों के सपने पूरे होने लगते हैं और यह चीजें बहुत पहले से देखी गई हैं कहीं ना कहीं शुरुआत में जब कोई व्यक्ति या गायक जो है मुंबई पहुंचने के बाद उसे फिर मिनिस्ट्री में मौका मिल जाता था और वहां अपना एक बेहतरीन करियर बना पाता था हालांकि आज के दौर में कंपटीशन इतनी ज्यादा है कि लोगों को मौका मिल पाना ही बड़ी बात होती है लेकिन 1980 के दशक में सत्ता के दशक में साठ के दशक में बहुत सारे ऐसे लोग जो देश के कोने-कोने से मुंबई पहुंचे और वहां पर अपने सपनों को साकार किया
Kahaan jaata hai ki mumbee mein jaane ke baad logon ke sapane poore hone lagate hain aur yah cheejen bahut pahale se dekhee gaee hain kaheen na kaheen shuruaat mein jab koee vyakti ya gaayak jo hai mumbee pahunchane ke baad use phir ministree mein mauka mil jaata tha aur vahaan apana ek behatareen kariyar bana paata tha haalaanki aaj ke daur mein kampateeshan itanee jyaada hai ki logon ko mauka mil paana hee badee baat hotee hai lekin 1980 ke dashak mein satta ke dashak mein saath ke dashak mein bahut saare aise log jo desh ke kone-kone se mumbee pahunche aur vahaan par apane sapanon ko saakaar kiya

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
दुनिया में इस समय Covid -19 की क्या स्थिति है?Duniya Mein Is Samay Covid 19 Ki Kya Sthiti Hai
रितेश कुमार  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए रितेश जी का जवाब
Marketing and management
1:18
आने में बहुत बेहतरीन तरीके से समझ पा रहा हूं कि पिछले साल इस समय क्या परिस्थिति थी देश की कहीं ना कहीं उस समय और 19 की शुरुआत हो रही थी वो सुख लाइट को बंद कर दिया गया था धीरे-धीरे जनमानस जो है ट्राई ट्राई कर रहा था और समय के साथ-साथ जैसी मार्च का महीना आया देश में दिल्ली में जो घटना हुई उससे कहीं ना कहीं देश में एक बहुत बड़ी चेंज करना कि फैली और धीरे-धीरे उसमें जाति धर्म मजहब को भी बुलाया गया लेकिन कहीं ना कहीं किसी एक कवरेज वह बहुत ज्यादा देश में कोई न फैलाने का काम किया जो कि बेहद दुखद रहा उसके बाद जो 1 मार्च के 21 तारीख को जैसे ही लॉकडाउन लगा देश में अचानक से कानों में गिरने लगी और धीरे-धीरे लोग जो हैं घरों में कैद होते गए और 3 महीने तक जो वह लॉकडाउन रहा उस में मानसिक स्थिति बहुत ज्यादा कम जिगोलो की लेकिन कहीं ना कहीं हम लोगों ने पूरे विश्व को दिखाया कि लोगों के बीच में भारत किसी से कम नहीं है लोगों ने पर रहकर बहुत सारी तकनीकी चीजों की तैयारी की बहुत सारी नई नई चीजें सीखी और ज्यादा तैयारी की थैंक यू थैंक यू
Aane mein bahut behatareen tareeke se samajh pa raha hoon ki pichhale saal is samay kya paristhiti thee desh kee kaheen na kaheen us samay aur 19 kee shuruaat ho rahee thee vo sukh lait ko band kar diya gaya tha dheere-dheere janamaanas jo hai traee traee kar raha tha aur samay ke saath-saath jaisee maarch ka maheena aaya desh mein dillee mein jo ghatana huee usase kaheen na kaheen desh mein ek bahut badee chenj karana ki phailee aur dheere-dheere usamen jaati dharm majahab ko bhee bulaaya gaya lekin kaheen na kaheen kisee ek kavarej vah bahut jyaada desh mein koee na phailaane ka kaam kiya jo ki behad dukhad raha usake baad jo 1 maarch ke 21 taareekh ko jaise hee lokadaun laga desh mein achaanak se kaanon mein girane lagee aur dheere-dheere log jo hain gharon mein kaid hote gae aur 3 maheene tak jo vah lokadaun raha us mein maanasik sthiti bahut jyaada kam jigolo kee lekin kaheen na kaheen ham logon ne poore vishv ko dikhaaya ki logon ke beech mein bhaarat kisee se kam nahin hai logon ne par rahakar bahut saaree takaneekee cheejon kee taiyaaree kee bahut saaree naee naee cheejen seekhee aur jyaada taiyaaree kee thaink yoo thaink yoo

#भारत की राजनीति

रितेश कुमार  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए रितेश जी का जवाब
Marketing and management
0:26
बहुत बड़ी समस्या है किसी की जीवन गाथा पढ़ना चाहूंगा तुम करना है अपना नाम रिंगटोन कैसे योद्धा थे जिन्होंने जीवन में 17 बार हारने के बाद भी अपना प्रयास नहीं छोड़ा और अंततः वह अमेरिका के सर्वश्रेष्ठ
Bahut badee samasya hai kisee kee jeevan gaatha padhana chaahoonga tum karana hai apana naam ringaton kaise yoddha the jinhonne jeevan mein 17 baar haarane ke baad bhee apana prayaas nahin chhoda aur antatah vah amerika ke sarvashreshth

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
मोदी सरकार ने मुस्लिमों के लिये क्या काम किये हैं?Modi Sarkar Ne Muslimon Ke Liye Kya Kaam Kiye Hain
रितेश कुमार  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए रितेश जी का जवाब
Marketing and management
1:15
यह मोदी सरकार की बात की जाए मुस्लिमों के लिए स्पेशल की बात की जाए तो कुछ ऐसी चीजें हुए हैं जो लड़कियों की शादी के लिए पहले ₹30000 मिलते थे वहां पर बढ़ाकर ₹50000 कर दिए गए और 121 में आपको और बताओ बीजेपी सरकार का मूल मंत्र है सबका साथ सबका विकास को सरकार जो भी योजनाएं निकाल रही है सबके लिए समान निकाली है उसमें जाति धर्म के आधार पर कैटेगरी नहीं रखी गई है जैसे कि गैस सिलेंडर जो दिए गए उज्जवला योजना के तहत वह भी निशुल्क और सभी को दिए गए साथ ही साथ हम लोगों ने बहुत सारी योजनाएं जिसमें आयुष्मान कार्ड भी एक बहुत अच्छी योजना है जिसमें पांच लाख तक का इलाज जो है फ्री है वह भी सभी के लिए एक समान नजरिए से देखने का काम जो है मोदी सरकार ने किया शौचालय क्रांति आई पूरे देश में शौचालय में हिंदू मुस्लिम नहीं देखेगा सभी को बराबरी के हिसाब से दिया गया जो प्रधानमंत्री आवास आ रहे हैं वह भी समान नजरिए से दिया जा रहा है यानी कि सरकार हर चीज जो है जाति के आधार पर नहीं सबके था सबको साथ लेकर काम कर रही है इसलिए इसमें कोई दो राय नहीं है कि सरकार जो है सब के लिए चल रही है थैंक यू थैंक यू वेरी मच
Yah modee sarakaar kee baat kee jae muslimon ke lie speshal kee baat kee jae to kuchh aisee cheejen hue hain jo ladakiyon kee shaadee ke lie pahale ₹30000 milate the vahaan par badhaakar ₹50000 kar die gae aur 121 mein aapako aur batao beejepee sarakaar ka mool mantr hai sabaka saath sabaka vikaas ko sarakaar jo bhee yojanaen nikaal rahee hai sabake lie samaan nikaalee hai usamen jaati dharm ke aadhaar par kaitegaree nahin rakhee gaee hai jaise ki gais silendar jo die gae ujjavala yojana ke tahat vah bhee nishulk aur sabhee ko die gae saath hee saath ham logon ne bahut saaree yojanaen jisamen aayushmaan kaard bhee ek bahut achchhee yojana hai jisamen paanch laakh tak ka ilaaj jo hai phree hai vah bhee sabhee ke lie ek samaan najarie se dekhane ka kaam jo hai modee sarakaar ne kiya shauchaalay kraanti aaee poore desh mein shauchaalay mein hindoo muslim nahin dekhega sabhee ko baraabaree ke hisaab se diya gaya jo pradhaanamantree aavaas aa rahe hain vah bhee samaan najarie se diya ja raha hai yaanee ki sarakaar har cheej jo hai jaati ke aadhaar par nahin sabake tha sabako saath lekar kaam kar rahee hai isalie isamen koee do raay nahin hai ki sarakaar jo hai sab ke lie chal rahee hai thaink yoo thaink yoo veree mach

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
भारत मे बेरोज़गारी कैसे हटाई जा सकती है।?Bharat Me Berozgari Kaise Hatai Ja Sakti Hai
रितेश कुमार  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए रितेश जी का जवाब
Marketing and management
0:44
भारत में बेरोजगारी हटाने के के लिए मैं मानता हूं कि भारत में सबसे ज्यादा टेक्नोलॉजी पर ध्यान दिया जाना चाहिए जिसमें रिसर्च सेंटर बहुत ज्यादा खोल दी जानी चाहिए कि भारत में रिसर्च सेंटर की कमी बहुत ज्यादा है रिसर्च सेंटर खोलने से बहुत सारे ऐसे प्रति व्यवहार व्यक्ति जो कुछ करना चाहते हैं बहुत से छात्र-छात्राएं जो नई नई चीजें बनाना चाहते हैं उनको मौका मिलना चाहिए जिससे की एक एक मिशन में काफी सारे लोग मिलकर काम कर सकेंगे और मिशन की कामयाबी के बाद बोलो अच्छी इनकम भी पैदा कर पाएंगे साथ ही साथ कला और साहित्य के साथ-साथ गीत संगीत में भी हम लोगों को आगे आना चाहिए जिससे कि बहुत सारे लोगों को काम मिल पाएगा थैंक यू थैंक यू
Bhaarat mein berojagaaree hataane ke ke lie main maanata hoon ki bhaarat mein sabase jyaada teknolojee par dhyaan diya jaana chaahie jisamen risarch sentar bahut jyaada khol dee jaanee chaahie ki bhaarat mein risarch sentar kee kamee bahut jyaada hai risarch sentar kholane se bahut saare aise prati vyavahaar vyakti jo kuchh karana chaahate hain bahut se chhaatr-chhaatraen jo naee naee cheejen banaana chaahate hain unako mauka milana chaahie jisase kee ek ek mishan mein kaaphee saare log milakar kaam kar sakenge aur mishan kee kaamayaabee ke baad bolo achchhee inakam bhee paida kar paenge saath hee saath kala aur saahity ke saath-saath geet sangeet mein bhee ham logon ko aage aana chaahie jisase ki bahut saare logon ko kaam mil paega thaink yoo thaink yoo

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
लाल किले की घटना के बाद किसान आंदोलन का क्या होगा?Laal Kile Ki Ghatna Ke Baad Kisaan Aandolan Ka Kya Hoga
रितेश कुमार  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए रितेश जी का जवाब
Marketing and management
0:48
जयपुर समाज में बहुत ही अच्छे लाल की नई घटना के बाद किसान आंदोलन में क्या होगा लिखित किसान आंदोलन जो है वह अपनी तरह से चलता रहेगा लेकिन अराजक तत्वों जो उसमें झंडा फहराने की कोशिश भी की गई है जहां साहब बहुत ज्यादा शर्मनाक है जिसके बाद कहीं ना कहीं लोग बड़े भाई रो के बहुत सारे लोग जेल में बंद भी हैं और उनके ऊपर मुकदमे भी चल रहे हैं और कहीं ना कहीं उन सभी को मुकदमा चलना पड़ेगा जिसके बाद सजा का जो प्रावधान है वह किया जाएगा और किसान आंदोलन में जिन लोगों ने ऐसी घटनाओं को अंजाम दिया है वह लोग हाईलाइट हो चुके हैं बाकी लोग किसान आंदोलन जौबना शांति पूर्वक चला रहे हैं जो कि चलता रहेगा और वह सरकार के साथ सामंजस्य बिठाने के बाद कोई उसका निष्कर्ष निकल पाएगा
Jayapur samaaj mein bahut hee achchhe laal kee naee ghatana ke baad kisaan aandolan mein kya hoga likhit kisaan aandolan jo hai vah apanee tarah se chalata rahega lekin araajak tatvon jo usamen jhanda phaharaane kee koshish bhee kee gaee hai jahaan saahab bahut jyaada sharmanaak hai jisake baad kaheen na kaheen log bade bhaee ro ke bahut saare log jel mein band bhee hain aur unake oopar mukadame bhee chal rahe hain aur kaheen na kaheen un sabhee ko mukadama chalana padega jisake baad saja ka jo praavadhaan hai vah kiya jaega aur kisaan aandolan mein jin logon ne aisee ghatanaon ko anjaam diya hai vah log haeelait ho chuke hain baakee log kisaan aandolan jaubana shaanti poorvak chala rahe hain jo ki chalata rahega aur vah sarakaar ke saath saamanjasy bithaane ke baad koee usaka nishkarsh nikal paega

#खेल कूद

bolkar speaker
बच्चे ज्यादा देर बाहर नहीं खेलते हैं, क्या करे?Bache Jyada Der Bahar Nahin Khelte Hain Kya Kare
रितेश कुमार  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए रितेश जी का जवाब
Marketing and management
0:53
सवाल बहुत ही बेहतरीन हैं बच्चे ज्यादा देर बाहर नहीं खेलते हैं इसका एक कारण मैं आपको यह भी बता दूं बच्चे ज्यादा देर बाहर क्यों नहीं खेलते हैं क्योंकि आज के समय में मोबाइल होने के कारण बच्चे ज्यादातर गेम्स जो है अपने मोबाइल में ही खेलते हैं जिससे कि उनकी मानसिक तौर पर तो और स्वस्थ रहते हैं लेकिन कहीं न कि शारीरिक तौर पर वह जो है दुर्बल होते जा रहे हैं इसलिए बच्चों को मोबाइल से निकलकर अब बाहरी सपोर्ट गेम खेलने चाहिए जिससे कि वह शारीरिक रूप से भी फिट रहें और यह बहुत ज्यादा जरूरी और आज के टाइम में यह चीजें बहुत कम पाई जाती है कि बच्चे आपस में पैसे बचपन में जैसे हम लोग घुड़सवारी और कई तरह के खो-खो आदि कबड्डी आदि गेम खेलते थे लेकिन हाथ की बच्चों में वह चीज नहीं पाई जाती है और जहां तक बच्चे घर पर ही मिलते हैं
Savaal bahut hee behatareen hain bachche jyaada der baahar nahin khelate hain isaka ek kaaran main aapako yah bhee bata doon bachche jyaada der baahar kyon nahin khelate hain kyonki aaj ke samay mein mobail hone ke kaaran bachche jyaadaatar gems jo hai apane mobail mein hee khelate hain jisase ki unakee maanasik taur par to aur svasth rahate hain lekin kaheen na ki shaareerik taur par vah jo hai durbal hote ja rahe hain isalie bachchon ko mobail se nikalakar ab baaharee saport gem khelane chaahie jisase ki vah shaareerik roop se bhee phit rahen aur yah bahut jyaada jarooree aur aaj ke taim mein yah cheejen bahut kam paee jaatee hai ki bachche aapas mein paise bachapan mein jaise ham log ghudasavaaree aur kaee tarah ke kho-kho aadi kabaddee aadi gem khelate the lekin haath kee bachchon mein vah cheej nahin paee jaatee hai aur jahaan tak bachche ghar par hee milate hain

#खेल कूद

bolkar speaker
लोग पतंग क्यों उड़ाते हैं?Log Patang Kyun Udate Hain
रितेश कुमार  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए रितेश जी का जवाब
Marketing and management
0:48
देखिए आज के समय में बहुत सारे बच्चे पतंग उड़ाते हुए पाए जाते हैं इसका सबसे बड़ा कारण यह है कि बहुत सारे बच्चे घर से बाहर नहीं निकल पाते या जगह का अभाव होता है क्योंकि ग्रामीण क्षेत्रों में बच्चों को लिए खेलने कूदने की जगह पर्याप्त होती है पर शहरों में यह चीजें नहीं हो पाती हैं और उनके पास अपनी छत के अलावा कोई आसपास की जगह नहीं होती है और पाक भी होते तो काफी दूर होते हैं जहां पर हमेशा जा पाना संभव नहीं होता है जिस कारण बच्चे अपनी-अपनी छत के ऊपर जो है पतंगबाजी करते रहते हैं जिससे कि उनका समय भी पास होता है और एक दूसरे के साथ वह जुड़े भी रहते हैं और आस पड़ोस की छत पर जो उनकी मित्र लोग उड़ा रहे होते हैं उनसे उन्हें खुशी मिलती हैं थैंक यू थैंक यू वेरी मच
Dekhie aaj ke samay mein bahut saare bachche patang udaate hue pae jaate hain isaka sabase bada kaaran yah hai ki bahut saare bachche ghar se baahar nahin nikal paate ya jagah ka abhaav hota hai kyonki graameen kshetron mein bachchon ko lie khelane koodane kee jagah paryaapt hotee hai par shaharon mein yah cheejen nahin ho paatee hain aur unake paas apanee chhat ke alaava koee aasapaas kee jagah nahin hotee hai aur paak bhee hote to kaaphee door hote hain jahaan par hamesha ja paana sambhav nahin hota hai jis kaaran bachche apanee-apanee chhat ke oopar jo hai patangabaajee karate rahate hain jisase ki unaka samay bhee paas hota hai aur ek doosare ke saath vah jude bhee rahate hain aur aas pados kee chhat par jo unakee mitr log uda rahe hote hain unase unhen khushee milatee hain thaink yoo thaink yoo veree mach

#खेल कूद

रितेश कुमार  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए रितेश जी का जवाब
Marketing and management
1:16
आपका सवाल है क्या आप बता सकते हैं क्रिकेट में एलबीडब्ल्यू आउट क्या होता मैं आपको बताऊं जो तीन स्तंभ जो लगे होते हैं जिस पर बॉलिंग करने के बाद उस पर स्थान पर यदि गेंद लग जाती है तो उसे आउट माना जाता है उसी तरीके से जो आप क्रिकेट पर देखते होंगे पैरों में जो पेड़ लगा होता है यदि वह परिश्रम के सीधे-सीधे में हो और जो गेम जाकर यदि डायरेक्ट बेड पर भी लगती है कि यदि पैड ना होता तो वह स्टंपर लगती तो भी उसे आउट माना जाता है जिसे एलबीडब्ल्यू कहा जाता है और आज के आधुनिक युग में बहुत सारे ऐसे सिस्टम निकाले गए हैं जिसके हैं जिससे हम देख सकते हैं जैसे आप देखते होंगे हर डम प्यार की हेल्प ली जाती है तो सिर्फ उस कंडीशन मेथड इन प्यार की हेल्प ली जाती है जिससे कि पता चल सके कि गेंद यदि उनके पेट पर नहीं लगती तो वह गेंद कहां जाती है तो इससे कई बार मिस्टेक भी लोगों ने होते भी देखा होगा एलबीडब्ल्यू की जगह कई बार नहीं भी होता है तो भी आउट दे दिया जाता है तो इस तरह की दिक्कत है उसमें हो सकती है लेकिन मैक्सिमम जो है रिजल्ट जो है सही होते हैं और एलबीडब्ल्यू आउट होते हैं थैंक यू थैंक यू वेरी मच
Aapaka savaal hai kya aap bata sakate hain kriket mein elabeedablyoo aaut kya hota main aapako bataoon jo teen stambh jo lage hote hain jis par boling karane ke baad us par sthaan par yadi gend lag jaatee hai to use aaut maana jaata hai usee tareeke se jo aap kriket par dekhate honge pairon mein jo ped laga hota hai yadi vah parishram ke seedhe-seedhe mein ho aur jo gem jaakar yadi daayarekt bed par bhee lagatee hai ki yadi paid na hota to vah stampar lagatee to bhee use aaut maana jaata hai jise elabeedablyoo kaha jaata hai aur aaj ke aadhunik yug mein bahut saare aise sistam nikaale gae hain jisake hain jisase ham dekh sakate hain jaise aap dekhate honge har dam pyaar kee help lee jaatee hai to sirph us kandeeshan methad in pyaar kee help lee jaatee hai jisase ki pata chal sake ki gend yadi unake pet par nahin lagatee to vah gend kahaan jaatee hai to isase kaee baar mistek bhee logon ne hote bhee dekha hoga elabeedablyoo kee jagah kaee baar nahin bhee hota hai to bhee aaut de diya jaata hai to is tarah kee dikkat hai usamen ho sakatee hai lekin maiksimam jo hai rijalt jo hai sahee hote hain aur elabeedablyoo aaut hote hain thaink yoo thaink yoo veree mach

#खेल कूद

रितेश कुमार  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए रितेश जी का जवाब
Marketing and management
0:27
आपका सवाल पढ़ कर मुझे बहुत ज्यादा खुशी भी हुई कि कम से कम आपने सोचा तो सही आजकल के बच्चे गुड्डे गुड़ियों और खिलौनों से खेलना बंद क्यों कर दिया है क्योंकि आज के समय में मोबाइल आने की वजह से बहुत सारे कार्टून और गेम मोबाइल में आ गए हैं जिस कारण बच्चों ने खिलौनों से खेलना बंद कर दिया है और सिर्फ मोबाइल दिन भर लगे रहते हैं जो कि बेहद दुखद है
Aapaka savaal padh kar mujhe bahut jyaada khushee bhee huee ki kam se kam aapane socha to sahee aajakal ke bachche gudde gudiyon aur khilaunon se khelana band kyon kar diya hai kyonki aaj ke samay mein mobail aane kee vajah se bahut saare kaartoon aur gem mobail mein aa gae hain jis kaaran bachchon ne khilaunon se khelana band kar diya hai aur sirph mobail din bhar lage rahate hain jo ki behad dukhad hai

#खेल कूद

रितेश कुमार  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए रितेश जी का जवाब
Marketing and management
0:53
आपका सवाल बहुत ही बेहतरीन ठीक किया सानिया मिर्जा ने एक पाकिस्तानी व्यक्ति से शादी रचा कर गलत किया बिल्कुल वह चाहती तो भारत के किसी ना किसी प्रसिद्ध व्यक्ति से वह शादी कर सकती थी जिससे उनका मान सम्मान और ज्यादा बढ़ जाता है क्योंकि अब जो समस्या है वह पाकिस्तान की है और हालांकि हमारे भारत के पाकिस्तान के साथ तालुकात ज्यादा अच्छे नहीं है जिस कारण हम पाकिस्तान को थोड़ा सा गलत नजरिए से भी देखते हैं क्योंकि पाकिस्तान हमारे भारत को और ज्यादा ग्रुप में वीडियो से देखता है यह सिर्फ कश्मीर की वजह से ऐसे हालात यहां पर पैदा हुए हैं जिस कारण सानिया मिर्जा यदि इंडियन व्यक्ति से शादी कर दी तो उनकी इज्जत कहीं ना कहीं हम लोगों की नजरों में और ज्यादा होती और वह देश के लिए और ज्यादा खेल पाती और हम लोगों को गर्व महसूस होता थैंक यू थैंक यू वेरी मच
Aapaka savaal bahut hee behatareen theek kiya saaniya mirja ne ek paakistaanee vyakti se shaadee racha kar galat kiya bilkul vah chaahatee to bhaarat ke kisee na kisee prasiddh vyakti se vah shaadee kar sakatee thee jisase unaka maan sammaan aur jyaada badh jaata hai kyonki ab jo samasya hai vah paakistaan kee hai aur haalaanki hamaare bhaarat ke paakistaan ke saath taalukaat jyaada achchhe nahin hai jis kaaran ham paakistaan ko thoda sa galat najarie se bhee dekhate hain kyonki paakistaan hamaare bhaarat ko aur jyaada grup mein veediyo se dekhata hai yah sirph kashmeer kee vajah se aise haalaat yahaan par paida hue hain jis kaaran saaniya mirja yadi indiyan vyakti se shaadee kar dee to unakee ijjat kaheen na kaheen ham logon kee najaron mein aur jyaada hotee aur vah desh ke lie aur jyaada khel paatee aur ham logon ko garv mahasoos hota thaink yoo thaink yoo veree mach

#खेल कूद

bolkar speaker
मोबाइल पर हमें क्या आईपीएल फ्री को देखने को मिलेगा?mobail par hamen kya aaeepeeel phree ko dekhane ko milega
रितेश कुमार  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए रितेश जी का जवाब
Marketing and management
0:30
मैं आपको बता दूंगा मोबाइल में अगर आपको आईपीएल देखना है तो उसके लिए एस्टर रिचार्ज करवाना पड़ता है क्योंकि बिना एमबी के लिए आपको आईपीएल नहीं दिखाई दिए कंपनी क्योंकि आईपीएल जो है सिर्फ एक मनोरंजक गेम है जिसमें बहुत सारे इन्वेस्ट अपने पैसे लगाते हैं और अपनी गाढ़ी कमाई करते हैं इसलिए बात तो अब सोचना छोड़ दें कि फ्री में आपको मोबाइल पर आईपीएल दिखाया जाएगा MP3 में
Main aapako bata doonga mobail mein agar aapako aaeepeeel dekhana hai to usake lie estar richaarj karavaana padata hai kyonki bina emabee ke lie aapako aaeepeeel nahin dikhaee die kampanee kyonki aaeepeeel jo hai sirph ek manoranjak gem hai jisamen bahut saare invest apane paise lagaate hain aur apanee gaadhee kamaee karate hain isalie baat to ab sochana chhod den ki phree mein aapako mobail par aaeepeeel dikhaaya jaega mp3 mein
URL copied to clipboard