#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
होली जलाने का क्या कोई वैज्ञानिक कारण भी है?Holi Jalaane Ka Kya Koi Vaigyanik Kaaran Bhi Hai
Deepak Perwani7017127373 Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Deepak जी का जवाब
Job
3:26

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
पेट्रोल को हिंदी में क्या कहते हैं?Petrol Ko Hindi Mein Kya Kahte Hain
Deepak Perwani7017127373 Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Deepak जी का जवाब
Job
2:16

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
क्या बंगाल का चुनाव बीजेपी जीत पाएगी?Kya Bengal Ka Chunav Bjp Jeet Payegi
Deepak Perwani7017127373 Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Deepak जी का जवाब
Job
3:09
क्या बंगाल का चुनाव बीजेपी जीत जाएगी तो दोस्तों देखिए अगर बीजेपी को यह चुनाव जीतना है तो सबसे पहले पश्चिम बंगाल के अंदर सरकार को यह एक सर्वे करवाना होगा कि कौन सी जगह पर बंगाल की कहां पर कौन सी जाति के लोग सबसे ज्यादा रहते हैं फिर उसी के हिसाब से टिकट बंटवारा करना चाहिए मान के चलो उदाहरण के लिए कोलकाता में सबसे ज्यादा ब्राह्मण है तो वहां पर ब्राह्मण लोग खड़े करने चाहिए विधायक ब्राह्मण विधायक खड़े कार्य से नंदीग्राम से उस सीट से किस जाति के लोग रहते हैं उसी जाति का खड़ा करना चाहिए क्योंकि जो है आम जनता में लोग जो है अपनी बिरादरी को वोट देना सबसे ज्यादा पसंद करते हुए हो चाहे कांग्रेस का बीजेपी का सपा बसपा कुछ भी हो लोग अपनी बिरादरी को वोट देना चाहते हैं उदाहरण के लिए मायावती ने सन 2007 में उत्तर प्रदेश में सबसे ज्यादा ब्राह्मण वोट था तो उसमें ब्राह्मण सबसे ज्यादा विधायक खड़े किए थे तो उसमें बहुत जबरदस्त जीत मिली कुल मिलाकर कहने का मतलब है कि जहां से जाति के लोग ज्यादा हो उसी जाति का नेता आपको खड़ा कर लें इससे जो है बहुत बड़ा बेनिफिट होगा दूसरा है दुर्गा पूजा बंगाल में पुरुषों के मुकाबले महिलाओं की जनसंख्या ज्यादा है उसके अनुसार अगर महिला वोटर बढ़ाना है मोदी जी को तो कुछ ऐसी योजनाएं जो कि कल महिला दिवस था उससे कुछ योजनाएं सरकार को चुनाव आने से पहले पहले कुछ सरकार को करना चाहिए महिलाओं के लिए और जो वहां सबसे ज्यादा महत्व दुर्गा पूजा का है अगर उस विषय पर ध्यान केंद्रित करके और वही मुद्दा उठाया जाए उसी को मुद्दा बनाया जाए जैसे कलकत्ता होगा यहां कुछ ऐसे शहर हैं क्वेश्चन मंगल के जहां सबसे ज्यादा महत्व दुर्गा पूजा का वहां पर उसी तरीके का मुद्दा उठाया जाए तो फिर वहां इससे जीत मिल सकती है तीसरा है क्योंकि सन 2016 में विधानसभा चुनाव में हार मिली थी बीजेपी को बहुत जबरदस्त उसके बाद सरकार ने मोदी सरकार ने क्या किया जब यहां का आंकड़े जनसंख्या के निकाले तो सबसे ज्यादा जनसंख्या महिलाओं को मिले तो उसके बाद सन् 2019 में बहुत ही जबरदस्त जीत मिली किसको मोदी जी को क्योंकि उसका सबसे बड़ा प्रसताव उज्वला योजना और महिलाओं को जो लोन दिया जाता था उस पर कुछ सब्सिडी देती थी सरकार उसका लोकसभा चुनाव में फायदा बीजेपी तरीके से काम जो है करने पड़ेंगे कुछ इसी तरीके के वादे ऐलान करने पड़ेंगे सरकार को और भी पाते हैं तो उसे साफ से यह बीजेपी काम करती है निश्चित रूप से बंगाल का चुनाव जीत सकती है जगह विजयत्व

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
आंखें लाल किन कारणों से हो जाती है?Aankhe Laal Kin Karano Se Ho Jati Hai
Deepak Perwani7017127373 Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Deepak जी का जवाब
Job
1:55
आंखें लाल किन कारणों से हो जाती है तो दोस्ती की आंखें लाल होने से कई सारे कारण हो सकते हैं जैसे की धूल मिट्टी कभी कबार हम गाड़ी चलाते हैं यहां यूं ही पैदल वगैरह चल रहे होते तो धूल मिट्टी के कुछ करना हमारी आंखों में चले आते जब हम आंखें मसलते हैं हमें खुजली होती है तो हमारी आंखें लाल हो जाती है दूसरा है वायु प्रदूषण हवा में जो जहरीली गैस से होती है जिस कारण जैसे भी दिल्ली में हुआ था प्रदूषण इस प्रदूषण के कारण हमारी आंखों में चुभन होती है कि उसमें आंखों में वायु आंखों में जो हवा जाती है जो खराब शुद्ध हवा से में जलन होती है फिर हम जब उसमें जो आंखों की मसाज करते हैं तेजी से हाथों से तो फिर हमारी फिर आकर उससे भी लाल होती है और भी कई सारे चालू है कभी-कभी आई फ्लू के कारण भी होता है छोटी बीमारी होती है जो मात्र तीन चार दिन तक हमारी चलती है वह अपने आप भी खत्म होती है इसमें ड्रॉप डाले जाते हैं यह का स्त्रोत इसमें भी हमारी आंखें लाल हो जाती हैं और यदि एक हम अगर चश्मा या ब्लैक चश्मा ना लगाएं अगर कोई व्यक्ति हमारी आंखों में देखें तो फिर उससे भी इस बीमारी के होने के चांस होते हैं इसे आइस ब्लू कहते हैं और चौथा है आंखों में नंबर का बढ़ना जब हमारी आंखें भी को जाती है रोशनी कम हो जाती है आंखों में तो तब हम किसी चीज को देखने के लिए ज्यादा जोर लगाते हैं तो फिर इससे हमारी आंखों के ऊपर दबाव पड़ता है और फिर हम जो हैं आंखें थकान महसूस करती हैं इससे भी हमारी कई बार आंखें लाल हो जाती है यह ज्यादातर मोबाइल चलाने वालों के हैं या कंप्यूटर का काम करने वालों के संग होता है यह चीजें ज्यादा था इसीलिए आपका जितना पावर हो आप हमें उतना यह आपको चश्मा जरूर करना चाहिए तो यह है कुछ बातें जिस कारण से हमारी आंखें लाल हो सकती है जय माता दी जय हिंदुस्तान

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
bolkar app per speakar lewal kaise badhta hai?Bolkar App Par Speaker Leval Kaise Badhata Hai
Deepak Perwani7017127373 Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Deepak जी का जवाब
Job
3:19
प्रश्न है बोलकर एप्पल स्पीकर लेवल कैसे बढ़ता है तो 200 देखिए बोलकर एप्पल स्टीकर लेवल बढ़ाने के लिए आपके सब्सक्राइबर के साथ था आपकी वाचिंग भी देखी जाती है यानी कि आपका जो जवाब है कितना लोग वॉच करते हैं इसमें जो पहला चरण है जो फर्स्ट टारगेट होता है वह होता है 30 घंटे की वाचिंग और 100 सब्सक्राइबर अगर आप इसे क्रॉस करते हैं तो आप टॉप स्पीड में स्पीकर में लेवल वन को क्रश का टिकट लेकर लेवल सेकंड पर आ जाते हैं जिसमें आपकी प्रोफाइल पिक्चर के सामने एक बेड से बनकर आता है यह आपकी टॉप स्पीकर को दिखाता है कि आप प्रॉपर स्पीकर में आते हैं ऐसे ही दूसरे व तीसरे लेवल को करने के लिए 500 सब्सक्राइब और चौथे में हजार सत्रह में ऐसे ऐसे करके 50000 सब्सक्राइबर तक होते हैं लेवल 10 तक को क्रॉस करने के लिए कुल मिलाकर बोलकर एपपर जो है लेवल स्पीकर सब्सक्राइबर आपकी वाचिंग पर निर्भर करता है आप का स्पीकर लेवल अगर आप टॉप 10 स्पीकर लेवल में बांधना जाता तो आप जितना हो सके अच्छे से अच्छा जो है जवाब दीजिए और ज्यादा से ज्यादा सवालों के जवाब दीजिए एक सीक्रेट ट्रिक मैं आपको बता दूं बोल कर आप पर टॉप स्पीकर में आने के लिए आप हमेशा उन्हीं सवालों के ज्यादा से ज्यादा जवाब दे जो किसी ने नहीं दी है मैं सवालों के बहुत से लोग क्या करते हैं जिस जवाब को मान कर चलो मैंने दिया उसका आपने भी दिया तो तीसरे ने भी दिया जिससे कि लाइट ओन वर्ड्स बट जाते तीन-चार लोगों में से ही होता है कि जो है कम जो है सफलता मिलती है अगर आप जितने नए सवालों के जवाब देना जिसमें से किसी ने नहीं दिया आपका जो है जवाब स्क्रीन पर शो करेगा आपकी प्रोफाइल के साथ जैसे कोई बोलकर ऐप खोलें गा तो तो उसको क्लिक करेगा तो उसमें आपकी सबसे ज्यादा वाचिंग बढ़ेगी कीवर्ड बढ़ेंगे देना तो तरीका यह है और दूसरा है मैंने आपको बताया कि अच्छे से अच्छे जवाब दो हां प्रतियोगिता के पीछे मत भागो क्योंकि प्रतियोगिता के पीछे बहुत से लोग आते हैं इसीलिए लोग अपना जवाब उसी में देते प्रतियोगिताओं में तो उसके बीच में आकर प्रसिद्ध होना चाहते हो जो है किसी की मदद करना चाहते हो किसी काम आना चाहते हो उन सवालों के जवाब दो जो कोई नहीं दे पा रहा है जो कोई नहीं देता है उन सवालों के अगर आप जवाब देते हैं तो आपको लोकप्रियता मिलकर बने या प्रतियोगिता में नहीं आएंगे लेकिन आगे चलकर आपके सब्सक्राइबर विवश ज्यादा बनेंगे तो आपको परिस्थितियां खेलोगे ऐप के अंदर अगर आप एक बार स्पीकर बन जाते हैं आपके जवाब को बोलकर ऐप मान्यता देता है और ज्यादा से ज्यादा जो है हाईलाइट करता है आपके जवाबों को जिस से ही होता है कि इतने सब सुनाई पर बढ़ते हैं आपके भी और पढ़ते हैं और आपकी वाचिंग बढ़ती है सबसे ज्यादा आपको ध्यान देना है वाचिंग और सब्सक्राइबर के ऊपर आपकी जितनी ज्यादा वाचिंग बढ़ेगी उसको नहीं आपको जो है सबसे ज्यादा फायदा है तो इस तरीके से बढ़ता है बोलकर एप पर स्पीकर लेवल कैसे बढ़ता है जय माता दी जय हिंदू

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
सेमीनार और वेबीनार में क्या अंतर है?Seminar Aur Webinar Mein Kya Antar Hai
Deepak Perwani7017127373 Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Deepak जी का जवाब
Job
3:59
सेमिनार सेमिनार में क्या अंतर है देकर सेमिनार में क्या होता है जितने भी प्रतिभागी जो पार्क सपोर्ट करते हैं उनको एक ही जगह पर खड़ा होना पड़ता है जबकि वेबीनार में ऐसी कोई बंदिश या पाबंदी नहीं होती है इसमें दुनिया का कहीं से भी कोई भी व्यक्ति व्हाट्सएप पर ऐड कर सकता है वह सेमिनार में ही होता है कि इसमें दूर-दूर के लोग पार्टिसिपेट नहीं कर पाते वेबीनार में कहीं से भी दुनिया के लोग परिचय वेट कर पाते हैं दूसरा अंतर आप इसके शब्द में गौर करोगे तो उसके महीना और वह जो है वह मीनार सेमिनार एक ऑफलाइन मीटिंग होती है जिसमें एक व्यक्ति स्पीकर जो भाषण दे रहा होता है और वह व्यक्ति और जो प्रतिभागियों को उस भाषण को सुनने के लिए उस जगह पर जाना पड़ता है जबकि इसके शब्द पर आप देखोगे वेबप्लस सेमिनार वेब का मतलब आप समझते हैं इंटरनेट यानी कि लवीना जो है ऑनलाइन प्रक्रिया होती है इसमें आप पूरी दुनिया में से कहीं से भी अगर आप बैठे हैं उसमें भी एक ही स्पीकर होता है लेकिन उसमें ऑनलाइन होने के कारण आप उसकी एप्लीकेशन के जरिए उसकी भाषण को ऑनलाइन सुन सकते हो उस की मीटिंग रिसीव कर सकते हो उस मीटिंग में आप शामिल हो सकते हो यह दूसरा अंतर अब हम बात करते हैं 30 में अंतर के एडवांटेज और डिसएडवांटेज सेमिनार में सेमिनार का एडवांटेज क्या है कि यह कि कंट्री में होता है आप जो 1 घंटे में मिल सकते हो मतलब फिजिकल बात कर सकते हो हमेशा मीनार में क्या होता है कि आप उनसे फिजिकल नहीं मिल सकते हो आप मिलोगे उनसे ऑनलाइन लेकिन वेबीनार वेबीनार के फायदे ज्यादा है वह मीनार में आप की क्या कॉस्ट ज्यादा मिलेगी आप जो है पीपल ऑफ द नंबर चुनकर आप कोई सभी पैकेट जो है सिलेक्ट कर सकते हो इसमें आप की छूट होती है अब सेमिनार में क्या होता है कि अगर एक हॉल 500 लोगों की जो है कैपेसिटी है तो उसमें 500 लोग ही आएंगे उसके बाद अगर और लोग बैठ जाएं तो उसमे भीड़ बढ़ जाती है और समझ में कुछ नहीं आता और दूसरी सबसे बड़ी बात है कि इसमें कॉस्ट ज्यादा लगती है इसके पीछे कारण है कि जो लोग आते हैं उनका खाना पीना लाइटिंग उनका बैठना और इलेक्ट्रिसिटी वगैरह कई सारे ऐसे चार्ज होते जो सेमिनार में देखने पड़ते हैं जबकि व्यवहार में ऐसा नहीं होता है जिस कारण सेमिनार में कॉस्ट ज्यादा होती डिजाइनिंग स्पीकर लाइटिंग वगैरह कई सारे चार्जेस ओं थे अब मान के चलो कि हमारा कोई बंदा आउट ऑफ़ एरिया बाहर रहता तो कम से कम सोचेगा सैकड़ों बार जमा है इतनी कॉस्ट लगेगी जबकि वेबीनार में ऐसा नहीं होता वेबीनार में क्या है क्या दुनिया के किसी भी कोने से इन पर जो है जो है इन से मीटिंग कर सकते हैं इसमें आपकी कोई पोस्ट कोई चार्ज नहीं लगेगा बस उसमें आपका क्या लाएगा पुन्नेट लाए जानिए कि आपका इंटरनेट यूज होगा उसमें क्या होगा जिसमें केवल सेमीनार में 500 लोग आएंगे अब वेबीनार में आपको लाइटिंग का खर्चा ना तो डिजाइनिंग का खर्चा ना स्पीकर कुछ भी नहीं आप को जो है इसमें जो है आप चाहो तो उसमें 500 लोग ऐड करो 1000 2000 3000 जितने चाहे लोग ऐड कर सकते हो और पूरे वर्ल्ड से कहीं से भी कर सकते हो अब आप चाहो तो वेबीनार पर ऐड कर सकते हो या फ्री ऑफ कॉस्ट कर सकते हो कोई मिला क्या ना खरीदे आखरी भी जोड़ें तो वेबीनार जो है अच्छा है चाय फिर वह कॉस्टिंग के मामले में हो चाहे फिर वह ऑनलाइन ऑफलाइन के मामले में हो इस सब में मैं बिना रक्षा है सेमिनार से ज्यादा ही अच्छा है तो यह है कुछ अंतर पैसा सेमिनार ओं वे मीनार को अलग-अलग कि नहीं है दोनों एक ही प्लेटफार्म है दोनों के जो है फीचर्स एक ही बस फर्क इतना है यह ऑनलाइन में हो जाता है और यह ऑफलाइन होता है सेमिनार जिस कारण लोग बुधवार को ज्यादा पसंद करते हैं जय माता दी जय हिंदुस्तान

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
इंटरनेट पर साइबर क्राइम से बचने के लिए कुछ उपाय क्या है?Internet Par Cyber Crime Se Bachne Ke Liye Kuchh Upaay Kya Hai
Deepak Perwani7017127373 Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Deepak जी का जवाब
Job
4:01
इंटरनेट पर साइबर क्राइम से बचने के लिए कुछ उपाय क्या है तू तो सुबह ही इंटरनेट जितना ही हमारे लिए सुविधाजनक है और उतना ही हमारे लिए खतरनाक साबित हो सकता है तो उन खतरनाक चीजों से बचने के लिए उपाय और दोस्तों दोस्तों जब भी आप अपना इंटरनेट यूज कर रहे हैं तो आपको इस चीज पर नजर रखनी होगी वह ब्राउज़िंग को किस यह ब्राउजिंग को कैसी होती है जो आपकी जरूरी डिटेल्स और इंफॉर्मेशन को वेबसाइट तक पहुंचाती है इसको किस का ऑप्शन आपको सेटिंग की प्राइवेसी ऑप्शन में मिल जाएगा साथ ही साथ बता दी की प्राइवेसी टोन आपकी को किस पर पूरी तरीके से नजर बनाए रखता इन सब चीजों से बचने के लिए आप अपनी प्राइवेसी में सभी ब्राउज़र को इनकॉग्निटो मोड पर करें ऐसा करने से यह फायदा होगा कि आप अपने इंटरनेट पर किसी भी वेबसाइट पर विजिट करते हैं या सर्च करते हैं किसी डाटा को तो यह आपका डाटा उसको कि इसमें स्टोर नहीं होता है जिसका आपकी ईमेल वगैरह है कौन ak401 बहुत कम हो जाते हैं दूसरी टिप्स है आप किसी भी यूआरएल पर शिव यूआरएल पर विजिट करें तो उसका यूआरएल चेक कर लेना है इसका फायदा यह है कि किसी भी सिक्योर वेबसाइट की जो स्टार्टिंग जो अक्सर होते हैं वह एचटीटीपीएस से होते हैं तो आपको ध्यान देना कि अगर वेबसाइट पर अगर आपको खाली एचटीटीपी मिले तो उन वेबसाइटों पर विजिट होने से बचना चाहिए क्योंकि यह फ्रॉड वेबसाइट होती है और आपका डाटा लीक हो सकता है इससे एचटीटीपीएस है एक लगा हुआ है तो आप भी चैट कर सकता है यह शिक्षा वेबसाइट है तीसरी हमारी टिप्स है आप किसी भी ब्राउज़र को यूज करते हैं चाहिए यूसी ब्राउजर क्रोम ब्राउजर गूगल वगैरा ब्राउज़र को ऑटोमेटिक अपडेट मोड पर ना रखें उसे मैन्युअल मोड पर रखे हां मैन्युअल पर रखते रखने के बाद आप उसको समय-समय पर अपडेट करते हैं जिससे आपको सर्विस तो का लाभ मिले नहीं आने वाली सर्विस का ऑटोमेटिक अपडेट मोड पर ना रखें क्योंकि जब भी इसकी अपडेट आता है नया तो उसमें जब नया से बदल लाभ करता है अपना कोई भी ब्राउज़र तो उसमें आपके डाटा लीक होने के चांस होते हैं दोस्तों मरीजों की टिप्स है अगर आप अपने फेसबुक और जीमेल को किसी दूसरे मोबाइल फोन या लैपटॉप पर खोलते हैं तो यह बिल्कुल गलत है इससे आपकी जो इंफॉर्मेशन नहीं तो प्राइवेट इंफॉर्मेशन है वही हो जाती है इसमें जो आपकी निजी जानकारियां होती है वह इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर पर जाकर स्टोर हो जाती है अब बाद में जाकर बनती है यह आपके लिए बहुत बड़ी दिक्कत इसमें आपको एक बात का ध्यान रखना अगर आप कॉल भी रहे हैं अपने मोबाइल से लैपटॉप पर नहीं साइड तो उसमें आप यह वेबसाइट या कोई जीमेल अकाउंट है फिर आप अपना फेसबुक खोलने से खोलने के बाद उसकी हिस्ट्री को डिलीट करना ना भूले उसकी हिस्ट्री डिलीट करने के बाद ज्यादा कोई डिस्प्ले और पांचवी और आखरी ट्रिप है हमारी अगर आप कोई वेबसाइट खोलते हैं तो आपको उसमें कई सारे एडवर्टाइजमेंट देखने को मिलते हैं उसमें कुछ ऐसी एडवर्टाइजमेंट होती है जो आपको आपके वायरस के बारे में बताती यह बताती हैं कि वायरस साउंड या वायरस स्कैनिंग तो दोस्तों ऐसी एडवर्टाइजमेंट में भूलकर भी क्लिक ना करें क्योंकि 200 यूजेस होते हैं वह इन्हीं तरीके के एडवर्टाइजमेंट को देकर अपना शिकार ढूंढते हैं और आपसे उस एडवर्टाइजमेंट में क्लिक करवा कर सारी इनफार्मेशन निकलवा लेते हैं क्योंकि से यूजर को लगता है कि मेरे फोन में या मेरे लैपटॉप में वायरस है इसीलिए वह एडवर्टाइजमेंट पर क्लिक कर लेता है और फिर उसका सारा डाटा पर्सनल जो डेट है वह सब चला जाता है तो यह के पास जानकारी है जिनको अगर आप ध्यान रखोगे तो आप हमेशा इंटरनेट पर हमेशा सिक्के और रहोगे तो यह है बातें साइबर क्राइम से बचने की जय माता दी

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
क्या बोलकर ऐप हमारा मनोबल बढ़ाता हैं ?Kya Bolkar App Humara Manobal Badhata Hai
Deepak Perwani7017127373 Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Deepak जी का जवाब
Job
1:57
बोल कर एक क्या हमारा मनोबल बढ़ाता है तो दोस्तों देखिए हां क्योंकि इस प्लेटफार्म में आपको कई ऐसे सवाल कहीं ऐसी जानकारियां मिलती हैं जिसका जो है मनोबल बढ़ता है यदि आप कोई समस्या है तो आप अपनी समस्या रखते हैं या किसी की समस्या का समाधान करते हैं तो तब भी खुशी मिलती है आपने देखा होगा जब हम किसी के काम आते हैं किसी काम में तो हमें अपने आप में ही खुशी महसूस होती है हमें खुशी होती है मन को कि हम किसी काम आ रहे हैं और कोई हमारे काम आता है हमने मान के चलो कोई अपनी समस्याएं प्रश्न पूछा तो हमें किसी ने अब हमारी समस्या का समाधान किया तो हमें भी खुशी होती है कि कोई हमारा जो है दोस्त है कोई हमारा साथी है जो हमारी मदद कर रहा है तो उससे हमारा कॉन्फिडेंस लेवल भरता है और उसके अलावा इसके अंदर प्रतियोगिता भी होती है हालांकि प्रतियोगिता को मैं दूर रख लूंगा लेकिन फिर भी इस ऐप के अंदर कई ऐसी चीजें हैं इसमें जो है हमारा कॉन्फिडेंस लेवल बढ़ता है क्योंकि इस ऐप के अंदर कई ऐसी चीजें हैं जो आपको जो है प्रसिद्ध बनाती है अगर आप अच्छे स्पीच मैंने अच्छा भाषण वगैरा दे देते हैं अगर आपकी इंग्लिश वगैरा कमजोर है तो आप किस प्लेटफार्म पर आकर अपना अपने दिमाग का प्रदर्शन कर सकते हैं यह भारतीय ऐप है इसमें उन्हें यह एक खास बने उन्हीं लोगों के लिए है जो अपना यूट्यूब चैनल नहीं बनाना चाहता ना नहीं आता है जिनको यहां से जिनके इंग्लिश वगैरह थोड़ी बहुत हुई क्या उन लोगों के लिए प्लेटफार्म बहुत अच्छा है यह लोग अपने आप को इस प्लेटफार्म पर लाकर अपने ज्ञान का प्रदर्शन कर सकते हैं यही कारण है कि बोलकर ऐप पर हमारा मनोबल बढ़ता है जय माता दी जय हिंद

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
मुझे थायराइड है क्या मेरा वजन कम हो सकता है?Mujhe Thyroid Hai Kya Mera Wajan Kam Ho Sakta Hai
Deepak Perwani7017127373 Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Deepak जी का जवाब
Job
2:43
मुझे थायराइड है क्या मेरा वजन कम हो सकता है तो देखी बिल्कुल हो सकता है देश में लगभग 10 में से एक व्यक्ति थायराइड मतलब हाइपो थायराइड से पीड़ित है अगर आपको वजन तेजी से बढ़ा तो हाइपो थायराइड से समझ लो पीड़ित हैं इसमें आपको तीन चीज लेनी है घरेलू उपचार के लिए पहला है दालचीनी पाउडर दूसरा है मेथी दाना पाउडर तीसरा अजवाइन अगर यह तीनों आपके पास सबूत है तो तीनों काल को मिक्सी में पीस लेना है और तीनों में से दो दो चम्मच आपको लेने हैं दो चम्मच मेथी दाना दो चम्मच अजवाइन और दो चम्मच आपको दालचीनी पाउडर लेना है आपको साबुत लेना है दो चम्मच पैलेस को पीस लें उसके बाद इनमें से दो दो चम्मच लेने के बाद इनको आपको पीस नहीं मिक्सी में और उसके बाद आपको दो गिलास पानी लेना है दो गिलास पानी लेने के बाद आपको ही गैस पर रख देना गर्म होने के लिए गर्म होने के बाद आपको इन कुछ तीनों चीजों को ऑन में मिक्स कर देना यह तीनों डीजे मिक्स करना है अच्छे से आपको एक तब तक मिलाते रहना अच्छे से जब तक कि जो अपने दो गिलास पानी डालें आधा नवजात का पानी के लिए एक थायराइड का काला है यह काढ़ा तैयार करने के बाद रोज सुबह उठकर और शाम को इसका को सेवन करना है या इससे आपका वजन बिल्कुल बैलेंस रहेगा फॉर थायराइड में बैलेंस आएगा ध्यान रहे कि आपको से धीमी धीमी आंच पर उबालना है जिससे कि वह जो अपने मटेरियल डाला वह जले नहीं और लगातार मिलाते रहना घुमाते रहना हमारा दूसरा घरेलू उपाय है हरा हरा धनिया सूखा धनिया इन दोनों में से आपको कोई भी अवेलेबल होना चाहिए अगर अगर हरा धनिया ए तो और भी अच्छी बात है और आपको एक गिलास पानी लेना उसने तो कहा था धनिया है या फिर सुख आदमी कोई दोनों में से एक होना चाहिए उसमें से आपको जो है 50 ग्राम सुबह और 50 ग्राम शाम को अरे दुनिया में तो आपको जो है मिक्सी में पीसकर उसका जूस बना लेना है ए क्लास पानी को उबालकर उसमें साथ आपको सेवन करना है बहुत जबरदस्त लाभ होगा क्योंकि क्योंकि हाइपो थायराइड में आपका जो है काफी तेजी से मोटापा बढ़ता है इसके पीछे का कारण है आपका हार्मोन अल जो है बैलेंस इन बैलेंस हो जाता है और यह आपकी थायराइड के लेवल को कम करेगा तो सीधी सी बात है अगर आप 18 लेवल नीचे आएगा अपने हिसाब से तो फिर आपका मोटापा अपने आप ही कम होना शुरू हो जाएगा और इसके लिए धनिया जो है सबसे कारगर उपाय है डॉक्टर लोग भी बताते हैं और वेद लोग भी बताते हैं जय माता दी जय हिंद

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
आंतों में सूजन होने के लक्षण क्या है?Aanton Mein Sujan Hone Ke Lakshan Kya Hai
Deepak Perwani7017127373 Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Deepak जी का जवाब
Job
4:26
प्रश्न है आंतों में सूजन होने के क्या लक्षण है तो दोस्तों आंतों में सूजन होने के लक्षण होते हैं उनमें से प्रमुख लक्षण कुछ इस प्रकार है लैट्रिन के रास्ते खून आना बार-बार बुखार से पीड़ित हो ना भूख में कमी होना जाने की भूख कम लगना एनीमिया हो ना दिल की धड़कन तेज हो जाना और पाचन संबंधी समस्याएं आंतों में लक्षण किसे आंतों में सूजन के प्रमुख लक्षण होते हैं अगर इसका समय रहते इलाज न किया जाए तो व्यक्ति को जरूरी तत्व विटामिंस मिनरल्स ऑफ़ प्रोटीन के शरीर में कमी आ जाती है क्योंकि सीधी बातें अगर के हाथों में सूजन आएगी तो खाना जैसे बुक कर लेंगे क्योंकि आते खाना को पचा नहीं सकती आएंगे और उसके बाद यह शरीर में कमजोरी नहीं अब हम जानते हैं कि आंतों में सूजन आती कहां तो इसके कई सारे कारण हैं जैसे खराब खानपान शारीरिक व्यायाम में कमी धूम्रपान जैसे सिग्निटी आरिफ अथवा वायु प्रदूषण का प्रभाव वायु प्रदूषण के छोटे-छोटे गणित सांस के जरिए जाकर शरीर में आंतों में सूजन करते हैं स्टेज गरीब पर भोजन यानी कि जैसे अमेरिका की चीज है ज्यादा लेते हैं तो वह आते पचा नहीं पाते हैं तो वह भी इस तक का कारण बनती है विटामिन डी की कमी हानिकारक बैक्टीरिया का प्रभावी होता अगर हमारे घर में पानी अच्छा नहीं पीने वाला सही नहीं है यह बार-बार पानी बदलाव होने से जैसे हम दुकान पर छोड़ ही रहेंगे और पी रहे हैं उस पानी से बदलाव से भी कहीं बैक्टीरिया का जन्म होता है जो आंतों में सूजन का कारण बनता है अब हम बात करते हैं उसके उपचार कि अगर आप घरेलू उपचार करना चाहते हैं तो अलसी का तेल आपको लेकर आंखों की सूजन को खत्म करनी है कम करने के लिए ओमेगा 3 फैटी एसिड तेल को तेल मुक्त लेना चाहिए किटकैट मुक्त तेलों का इस्तेमाल करना चाहिए मछली के तेल और अलसी के तेल में फ्री ज्यादा पाया जाता है भेजिए जो तेरे को भी इन्फॉर्म एंट्री प्रक्रिया को कम करने में मदद करते हैं रोज एक से दो चम्मच अलसी का तेल लेना चाहिए अगर शरीर इंस्ट्रुमेंटल प्रक्रिया का अगर कमी अकड़ तो सीधी सी बात है आंतों को ज्यादा मेहनत नहीं करनी पड़ेगी भोजन वगैरह पचाने करने के लिए तो आंखों को आराम मिलता है धीरे-धीरे सुजानगढ़ में से एक है डॉक्टरी उपाय है घरेलू उपाय था यह डॉक्टर इकबाल अगर डॉक्टर के सांप की माने तो डॉक्टर कहते हैं कि आंतों में सूजन का सबसे अच्छा उपाय प्रोटीन की चीजें बनाने के प्रोटीन लेना क्योंकि प्रोटीन की चीजें इसीलिए डॉक्टर सलाह देते हैं क्योंकि यह हमारे शरीर में डैमेज होने वाली हाथों की पुस्तके होती है उत्तक होती है जो कोशिकाएं जय माई की कोशिकाओं को नए सिरे से भरता है जो नए गांव होते हैं उसको भरता है कि नहीं आपको जो है प्रोटीन युक्त भोजन जकंडा लेना चाहिए आपको दूध लेने नासिक दूध में कार्बोहाइड्रेट होता है जबरदस्त अनिल लेना है अखरोट लेना है अब आप कहोगे यह भी तो दूध से बनता है पनीर लेकिन दोस्तों पनीर की एक खासियत होती है कि दूध से बनता तो है लेकिन इसके अंदर एक ना एक हल्का सा एसिड पाया जाता है जिस कारण इससे इसके कार्बोहाइड्रेट के कहां मर जाते हैं और प्रोटीन ज्यादा हो जाता है अंडे मछली और मूंगफली आदि का सेवन जब ज्यादा कर सकते हैं लेकिन कम फैट वाले दूध से बनी चीजें ही होनी चाहिए कुल मिलाकर सीधी सी भाषा में समझे तो दूध से बनने वाला पनीर को छोड़कर बाकी दूध से बनी हुई कोई चीज नहीं लेनी है उसके अलावा आपको सारी चीजें गोली लेनी है प्रोटीन वाली तो आपकी जो टूट गई है तो खराब ही कोशिका है ना वह भरने लैंग्वेज शुरू से और आप अच्छे खासे जो है फिर से आंतों की सूजन खत्म हो जाएगी क्योंकि प्रोटीन लेने से आंतों की सूजन इसीलिए दूर होती है शरीर को चलाने के लिए उसी ऊर्जा और शक्ति मिलती है तू जो है आंतों को उस भोजन को पचाने में इतनी मेहनत नहीं करनी पड़ती है जिसके कारण आंखों को आराम मिलता है और फिर यह होता है कि उसमें जो विजय भैया उसको हटाने में असमर्थ होती है ऐसा क्यों किसकी खुशी कर नहीं बनेगी नई कोशिकाओं के विकास से पुरानी कोशिकाएं और उसमें पनपने वाले बैक्टीरिया भी मर जाएंगे माता की जय हिंदुस्तान

#रिश्ते और संबंध

Deepak Perwani7017127373 Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Deepak जी का जवाब
Job
4:50
पशुओं से प्राप्त होने वाली सभी चीजें हमारे शरीर के लिए हानिकारक होती तो दोस्तों देखिए इस प्रश्न को लिखने में थोड़ी सी गलती है क्योंकि सभी चीजें हानिकारक है तो उसमें तो हम वह गाय और भैंस का दूध पीते हैं जिसको डॉक्टर भी सलाह वगैरह देता फिर दुआ भी हानिकारक होना चाहिए यह पृष्ठ इस तरीके से होना चाहिए क्या पशुओं से प्राप्त होने वाली कुछ चीजें हानिकारक है कुछ चीजें हानिकारक है सभी चीजें हानिकारक नहीं है अब तो सब कुछ चीजों में जो है यह हो सकता है पहला है स्पर्म व्हेल मछली व्हेल मछली से बनने वाली जो सेंट होती है यह इससे सेंट बनाई जाती है क्योंकि इसका जो करना होता है यह सालों तक समुंद्र में पड़े रहने का ठोस और खुशबूदार बन जाता है लेकिन इसमें कुछ बैक्टीरिया पनपता है इससे बनने वाली सेंड खतरनाक है दूसरा है मुर्गी से मिलने वाले अंडे हालांकि अंडा खाना अच्छी बात है फिर लेकिन अब कहते हैं कि बर्ड फ्लू के चक्कर में अंडे को भी हानिकारक माना जाता है क्योंकि उसके अंदर इनफ्लुएंजा के वायरस पाए जाने लगे तो यह भी अब मेरे हिसाब से खराब कैटेगरी में रखना चाहिए तीसरा है हाथी के ढंग से बनने वाली दवाइयां तो दोस्तों देखिए हाथी वैसे जिंदा है तब तक उसकी वैल्यू उतनी नहीं होती जबकि मरने के बाद उसकी वैल्यू उससे दोगुनी हो जाती है इसके पीछे का कारण है कि उसके शरीर से बनने वाली कुछ औषधि दवाइयां वैसे औषधीय दवाइयों में इसका काफी अच्छा प्रयोग होता है लेकिन कुछ लोग को यह साइड इफेक्ट करता है कुछ लोग कोई अच्छा होता है लेकिन कुछ लोगों के लिए बहुत बड़ा साइड इफेक्ट होता है इसीलिए वर्तमान में सरकार ने कहा कि हाथी के दांत व अन्य अंगों से बनाई जाने वाली जो दवाइयां है उनके ऊपर भी जो है थोड़ा अब रिस्की कैटेगरी में रखा है तीसरा है हिरण के सींग बनने वाली औषधि ए कैंसर संबंध में कुछ अन्य जानलेवा बीमारियों की दवाइयां दोस्तों में से तो हिरण के सींग पर पहले से ही बैन लगा हुआ है उसके ऊपर क्योंकि यहां पर भी लाखों रुपए किलो में भेजता है 45000 से ₹100000 तक के में बैठता है उसका सीन क्योंकि इसकी कई जानलेवा बीमारियों में इलाज होता है लेकिन वर्तमान में बदलते पर्यावरण और बिगड़ते प्राकृतिक असंतुलन के कारण कुछ हिरण जो बीमार वगैरह होते हैं उनको भी जो मरने के बाद उनसे भी लोग दवाई बनाने का जो काम करते हैं तो उनसे जो अंदर बीमारी होती हिरण के अंदर वह दूसरे व्यक्ति के शरीर में प्रवेश कर जाती है हालांकि पहले इन दवाइयों का अच्छा संबंध का अच्छा हुआ था जब समय में प्राकृतिक वातावरण था पेड़ पौधे थे प्रदूषण वगैरह नहीं था लेकिन जब तक कोई भी पशुओं से निकलने वाला कोई भी चीज हो दूध को छोड़कर सभी चीज इसी लिए नुकसानदायक है क्योंकि पर्यावरण में प्रकृति में परिवर्तन आएगा तो पशु पक्षी बीमार होंगे उन्हीं पशु पक्षियों से निकलने वाली कोई भी जो हमारे शरीर के लिए लाभदायक चीज है वह भी हानिकारक है क्योंकि जब उसे वह रोग है तो वह मनुष्य के अंदर प्रवेश पर एक समय ऐसा था जो पशु से प्राप्त होने वाली सभी चीजें कि मनुष्य के लिए लाभकारी थी उसके पीछे का कारण था उस समय के बाद उस समय के बाद और औषधि बनाने वाले जो होते थे डॉक्टर हो जाते थे वह बहुत ही विद्वान होते थे वह प्रकृति को समझ कर पढ़ कर ही समझ लेते थे कि इस व्यक्ति को क्या बीमारी और सिक्के इस तरीके की दवाइयां देनी चाहिए उसी हिसाब से पशुओं से ही वह दवाइयां एकत्रित कर देते थे लेकिन अब वह सारी चीजें जो हानिकारक केटेगरी में रखी जाती है क्योंकि अब ना तो ऐसा वातावरण है ना तो वैसे ही प्राकृतिक ऐसा ना तो रहा है कि मैं तो बस एक ही बात कहूंगा कि पशु बहुत से मिलने वाली दूध को छोड़कर बाकी की चीजें हानिकारक श्रेणी में है क्योंकि गाय और भैंस होती है एकदम शाकाहारी पक्षी है प्रश्न है जिसका नाम उनके अंदर कोई किसी प्रकार का वायरस से बैक्टीरिया नहीं होता इसीलिए सबसे ज्यादा हमारे सनातन धर्म में भी सबसे शुभ मानी जाती है गाय यही कारण है कि डॉक्टर भी इसी की सलाह देते हैं कि कुछ पशु शरवारी होते हैं कुछ तो बिल्कुल मांसाहारी होते हैं तो उन से बनने वाली दवाइयां या अन्य पदार्थ जो शरीर के लिए वह काफी हद तक नुकसान दायक है उनमें से सेंट प्रमुख है जो मैंने आपको शुरुआती चरण में बताया था जय माता दी जय हिंदुस्तान

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
एंटीबायोटिक दवा का क्या साइड इफेक्ट होता है?Antibiotic Dawa Ka Kya Side Effect Hota Hai
Deepak Perwani7017127373 Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Deepak जी का जवाब
Job
2:00
प्रश्न है एंटीबायोटिक दवा का क्या साइड इफेक्ट होता है देखे तो सुबह से 20 बार जो दवाइयां होती है वह शरीर को व्यक्ति या के हमलों से बचाती है और साथ में दवाइयां भी काम करती है लेकिन दोस्ती जो है इसके कुछ साइड इफेक्ट होते हैं लेकिन उन लोगों के लिए होते हैं जिनका शरीर कमजोर हो इम्यून सिस्टम कमजोर होता है यानी कि जो लोग पावर वाली दवाइयां नहीं खेल पाते हैं उनको कुछ ऐसे मामूली साइड इफेक्ट होते हैं जैसे कि डायरिया होना पेट दर्द जी मचला ना यह सारी चीजें उनके अंदर पाई जाती है उनको जो है थोड़ा रिएक्शन करता है यह बाकी जो लोग सही है खेलती है कोई भी दवाई कुछ खेल सकते हैं वह पूरी तरीके से स्वस्थ हैं तो वह उनको नहीं होता है अगर किसी व्यक्ति के अंदर वीकनेस है तो उसको डॉक्टर की सलाह से ही एंटीबायोटिक एंटीबायोटिक दवाइयां लेनी चाहिए क्योंकि डॉक्टर आपकी शरीर की परिस्थिति को जानकर और शरीर की जो है ताकत को देखकर उसकी झेलने की क्षमता को समझ लेता है और उसी के हिसाब से एंटीबायोटिक दवाई का पावर लिखता है कि आपको कितने पावर वाली लिखिए दोस्तों देखिए कभी-कभी टाइम टेबल टैग दवाइयों में कुछ हल्का सा नशा होता है हमें तो व्यक्ति को चक्कर में क्या आदमी लगते हैं आप जैसे कि हम नींद आना या फिर कहीं ऐसी गतिविधियां होती है जो दवाई के अंदर जो जो थोड़ा नक्शा पर होता है उसके कारण से होती है लेकिन उसे हम कभी-कभी साइड इफेक्ट समझ लेते हैं लेकिन असल में साइड इफेक्ट नहीं होता है उस दवाई का असर होता है उस दवाई को लेने के बाद एंटीबायोटिक तुरंत मरीज को आराम करना होता है
Prashn hai enteebaayotik dava ka kya said iphekt hota hai dekhe to subah se 20 baar jo davaiyaan hotee hai vah shareer ko vyakti ya ke hamalon se bachaatee hai aur saath mein davaiyaan bhee kaam karatee hai lekin dostee jo hai isake kuchh said iphekt hote hain lekin un logon ke lie hote hain jinaka shareer kamajor ho imyoon sistam kamajor hota hai yaanee ki jo log paavar vaalee davaiyaan nahin khel paate hain unako kuchh aise maamoolee said iphekt hote hain jaise ki daayariya hona pet dard jee machala na yah saaree cheejen unake andar paee jaatee hai unako jo hai thoda riekshan karata hai yah baakee jo log sahee hai khelatee hai koee bhee davaee kuchh khel sakate hain vah pooree tareeke se svasth hain to vah unako nahin hota hai agar kisee vyakti ke andar veekanes hai to usako doktar kee salaah se hee enteebaayotik enteebaayotik davaiyaan lenee chaahie kyonki doktar aapakee shareer kee paristhiti ko jaanakar aur shareer kee jo hai taakat ko dekhakar usakee jhelane kee kshamata ko samajh leta hai aur usee ke hisaab se enteebaayotik davaee ka paavar likhata hai ki aapako kitane paavar vaalee likhie doston dekhie kabhee-kabhee taim tebal taig davaiyon mein kuchh halka sa nasha hota hai hamen to vyakti ko chakkar mein kya aadamee lagate hain aap jaise ki ham neend aana ya phir kaheen aisee gatividhiyaan hotee hai jo davaee ke andar jo jo thoda naksha par hota hai usake kaaran se hotee hai lekin use ham kabhee-kabhee said iphekt samajh lete hain lekin asal mein said iphekt nahin hota hai us davaee ka asar hota hai us davaee ko lene ke baad enteebaayotik turant mareej ko aaraam karana hota hai

#जीवन शैली

bolkar speaker
हजारी प्रसाद का जीवन परिचय?Hazari Prasad Ka Jeevan Parichay
Deepak Perwani7017127373 Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Deepak जी का जवाब
Job
1:43
हजारी प्रसाद का जीवन परिचय का सारे हजारी प्रसाद द्विवेदी जी का जन्म 19 अगस्त 1960 ईस्वी में उत्तर प्रदेश के बलिया जिले में हुआ आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी प्रसिद्ध निबंधकार उपन्यासकार और प्रसिद्ध आलोचक के नाम से जाने जाते हैं आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी जी की प्रमुख रचनाएं कुछ इस प्रकार है पारिवारिक परंपरा के अनुसार उन्होंने सबसे पहले संस्कृत भाषा का अध्ययन किया था क्योंकि उनका जन्म ब्राह्मण परिवार में हुआ था उसके बाद उन्होंने काशी विश्वविद्यालय से ज्योतिष आचार्य की परीक्षा होती है कि कुछ दिनों बाद शांति निकेतन चलेगा निर्देशक के पद पर कार्य करते रहें उन्होंने काशी विश्वविद्यालय के हिंदी अध्यक्ष पद पर कार्य की भारत सरकार ने उन्हें पद्मभूषण अलंकार से सम्मानित किया कुछ दिनों तक इन्होंने चंडीगढ़ विश्वविद्यालय के हिंदी पद पर भी कार्यक्रम इन की प्रमुख रचनाओं के बात करते हैं प्रमुख रचनाएं बाणभट्ट की आत्मकथा अशोक के फूल है यह इनकी जो है निबंध आलोक पर्व कोटल पुनर्नवा विचार प्रवाह कल्प लता इत्यादि की रचनाएं हैं इनका जीवन जो है काफी कठिन परिस्थितियों में गुजरा था उनके दो पिता थे वह अनमोल दुबे और माता ज्योति कली थी शांतिनिकेतन में जो है मुलाकात रविंद्र नाथ टैगोर से हुई थी रविंद्र नाथ टैगोर जो है हिंदी साहित्य के बहुत बड़े विद्वान कलाकार थे और आखरी में 19 मई 1979 को में उनका स्वर्गवास हो गया
Hajaaree prasaad ka jeevan parichay ka saare hajaaree prasaad dvivedee jee ka janm 19 agast 1960 eesvee mein uttar pradesh ke baliya jile mein hua aachaary hajaaree prasaad dvivedee prasiddh nibandhakaar upanyaasakaar aur prasiddh aalochak ke naam se jaane jaate hain aachaary hajaaree prasaad dvivedee jee kee pramukh rachanaen kuchh is prakaar hai paarivaarik parampara ke anusaar unhonne sabase pahale sanskrt bhaasha ka adhyayan kiya tha kyonki unaka janm braahman parivaar mein hua tha usake baad unhonne kaashee vishvavidyaalay se jyotish aachaary kee pareeksha hotee hai ki kuchh dinon baad shaanti niketan chalega nirdeshak ke pad par kaary karate rahen unhonne kaashee vishvavidyaalay ke hindee adhyaksh pad par kaary kee bhaarat sarakaar ne unhen padmabhooshan alankaar se sammaanit kiya kuchh dinon tak inhonne chandeegadh vishvavidyaalay ke hindee pad par bhee kaaryakram in kee pramukh rachanaon ke baat karate hain pramukh rachanaen baanabhatt kee aatmakatha ashok ke phool hai yah inakee jo hai nibandh aalok parv kotal punarnava vichaar pravaah kalp lata ityaadi kee rachanaen hain inaka jeevan jo hai kaaphee kathin paristhitiyon mein gujara tha unake do pita the vah anamol dube aur maata jyoti kalee thee shaantiniketan mein jo hai mulaakaat ravindr naath taigor se huee thee ravindr naath taigor jo hai hindee saahity ke bahut bade vidvaan kalaakaar the aur aakharee mein 19 maee 1979 ko mein unaka svargavaas ho gaya

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
क्या बैंक के ग्राहकों को मिलने वाले फ्रॉड मैसेज को रोक सकते हैं?Kya Bank Ke Grahako Ko Milne Wale Fraud Message Ko Rok Sakte Hai
Deepak Perwani7017127373 Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Deepak जी का जवाब
Job
3:14
क्या बैंक के ग्राहकों को मिलने वाले रोड मैसेज को रोक सकते हैं तो दोस्तों यह एक ऑनलाइन फ्रॉड होता है जिसे नहीं रोका जा सकता है क्योंकि अगर आप शीघ्र में नल को एक तरीके से पकड़ते हैं तो और दूसरे नेटवर्क बनाएगा एक ईमेल आईडी सका दूसरी कुल मिलाकर इसे नहीं रोका जा सकता है इसे रोकने के लिए आप अपनी सावधानियां बरत सकते हैं आपके पास भी फालतू का मैसेज यहां कोई ऐसा लिंक आता है उस पर आप क्लिक ना करें अगर आपके पास कोई शक कॉल तेरा मैसेज आता है जिसमें आपसे कि जो है वेरिफिकेशन के लिए जैसे पेटीएम कुछ लोग कहते हैं कि मेरी के बाप की केवाईसी एक्सपायर हो गई है वह कई मैसेज आते हैं तो आपको आपका ओटीपी सीवीवी नंबर डेबिट कार्ड वगैरह नंबर या अकाउंट नंबर से कोई भी रिलेटेड कोई जानकारी नहीं देनी है क्योंकि चाय बैंक हो जाए फिर कोई ऑनलाइन पेमेंट करने वाली कम सनी हो जैसे पेटीएम गूगल पर यह अपनी तरफ मतलब जो है केवाईसी वगैरह कराने के लिए अपनी तरफ से कभी ना तो कॉल करते हैं ना तो एस एम एस करते हैं यह जो फ्रॉक लोग भी होते हैं क्योंकि केवाईसी करने के लिए हमें खुद ही जाना पड़ता है बाकी आपका ऑफिस करोड़ को रोका जा सकता है तो यह नहीं क्योंकि कोई क्रिमिनल एक नंबर अगर पकड़ा जाता है दूसरा नंबर 4 करेगा एक ईमेल आईडी इसकी ब्लॉक होती है तो दूसरी ईमेल आईडी से काम करेगा तो यह नहीं पहुंचा सकता क्योंकि यह ऑनलाइन है जो कि सब पर एक काम करते हैं ऑनलाइन तो सब उसी तरीके से ही काम करता है यह भी ऑनलाइन प्लेटफॉर्म लेकिन आप इससे जो है रोक सकते हैं इन जनता आम जनता चाहे तो उसे रोक सकती है अगर जनता होशियार हो पढ़े-लिखे जो साथ चारों लोग तो हो रोक सकते हैं फिर और उन लोगों के साथ जरूर हो जाता है जो लोग पढ़े लिखे नहीं होते हैं साक्षर नहीं होते हैं वह लोग इनके झांसे में आ जाते हैं और वह उन्हीं लोगों को सबसे ज्यादा अपना शिकार बनाते हैं जो लोग गरीब हो या किसी चीज से परेशान हो या पढ़े लिखे ना तो उन्हीं की सबसे ज्यादा विकेट कौन से जगह कई बार बैंक डिटेल मांगी जाती है और कई बार जैसे किसी प्रोग्राम चलाते हैं तो उनसे यह मांगा जाता है कि आपकी केवल से एक्सपायर हो गई है पर आपके पास एक ओटीपी वगैरह आएगा आपको यह डीपी वगैरह मांग कर आपका जो है वॉलेट में पैलेस रखा हुआ तमाल कर लेते हैं और आपसे बैंक डिटेल मांग कर आप सब जो खाता खाली कर देते हैं इन सभी चीजों के लिए ना तो बैंक जिम्मेदार है ना ही कोई ऑनलाइन पेमेंट करने वाली कंपनी जैसे पेटीएम गूगल पर अगर आपकी जो हेल्प टू बैंक ना तो कोई जिम्मेदारी नहीं होता क्योंकि आपकी अपनी लापरवाही के कारण खोया हुआ पैसा होता है क्योंकि बैंक पहले से सब को ऐड करके चलता है कि आप किसी को अपनी पर्सनल डिटेल ना दे हर मैसेज में भी कहता है और हर डिटेल में भी कहता है बैंक को चाहे वह कोई ऑनलाइन कंपनी है यह सब एक ही बात कहते हैं कि अपनी पर्सनल डिटेल किसी को ना दे जय माता दी जय हिंद
Kya baink ke graahakon ko milane vaale rod maisej ko rok sakate hain to doston yah ek onalain phrod hota hai jise nahin roka ja sakata hai kyonki agar aap sheeghr mein nal ko ek tareeke se pakadate hain to aur doosare netavark banaega ek eemel aaeedee saka doosaree kul milaakar ise nahin roka ja sakata hai ise rokane ke lie aap apanee saavadhaaniyaan barat sakate hain aapake paas bhee phaalatoo ka maisej yahaan koee aisa link aata hai us par aap klik na karen agar aapake paas koee shak kol tera maisej aata hai jisamen aapase ki jo hai veriphikeshan ke lie jaise peteeem kuchh log kahate hain ki meree ke baap kee kevaeesee eksapaayar ho gaee hai vah kaee maisej aate hain to aapako aapaka oteepee seeveevee nambar debit kaard vagairah nambar ya akaunt nambar se koee bhee rileted koee jaanakaaree nahin denee hai kyonki chaay baink ho jae phir koee onalain pement karane vaalee kam sanee ho jaise peteeem googal par yah apanee taraph matalab jo hai kevaeesee vagairah karaane ke lie apanee taraph se kabhee na to kol karate hain na to es em es karate hain yah jo phrok log bhee hote hain kyonki kevaeesee karane ke lie hamen khud hee jaana padata hai baakee aapaka ophis karod ko roka ja sakata hai to yah nahin kyonki koee kriminal ek nambar agar pakada jaata hai doosara nambar 4 karega ek eemel aaeedee isakee blok hotee hai to doosaree eemel aaeedee se kaam karega to yah nahin pahuncha sakata kyonki yah onalain hai jo ki sab par ek kaam karate hain onalain to sab usee tareeke se hee kaam karata hai yah bhee onalain pletaphorm lekin aap isase jo hai rok sakate hain in janata aam janata chaahe to use rok sakatee hai agar janata hoshiyaar ho padhe-likhe jo saath chaaron log to ho rok sakate hain phir aur un logon ke saath jaroor ho jaata hai jo log padhe likhe nahin hote hain saakshar nahin hote hain vah log inake jhaanse mein aa jaate hain aur vah unheen logon ko sabase jyaada apana shikaar banaate hain jo log gareeb ho ya kisee cheej se pareshaan ho ya padhe likhe na to unheen kee sabase jyaada viket kaun se jagah kaee baar baink ditel maangee jaatee hai aur kaee baar jaise kisee prograam chalaate hain to unase yah maanga jaata hai ki aapakee keval se eksapaayar ho gaee hai par aapake paas ek oteepee vagairah aaega aapako yah deepee vagairah maang kar aapaka jo hai volet mein pailes rakha hua tamaal kar lete hain aur aapase baink ditel maang kar aap sab jo khaata khaalee kar dete hain in sabhee cheejon ke lie na to baink jimmedaar hai na hee koee onalain pement karane vaalee kampanee jaise peteeem googal par agar aapakee jo help too baink na to koee jimmedaaree nahin hota kyonki aapakee apanee laaparavaahee ke kaaran khoya hua paisa hota hai kyonki baink pahale se sab ko aid karake chalata hai ki aap kisee ko apanee parsanal ditel na de har maisej mein bhee kahata hai aur har ditel mein bhee kahata hai baink ko chaahe vah koee onalain kampanee hai yah sab ek hee baat kahate hain ki apanee parsanal ditel kisee ko na de jay maata dee jay hind

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
कॉफी किस क्षेत्र का पौधा होता है?Coffee Kis Kshetra Ka Paudha Hota Hai
Deepak Perwani7017127373 Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Deepak जी का जवाब
Job
0:51
कॉफी किस क्षेत्र का पौधा का दोस्त को देखिए भारत के केवल 3 राज्यों में ही होती है यही कारण है कि बहुत महंगी है भारत के दक्षिण के कर्नाटक केरल और तमिलनाडु के टी-शर्ट ऐसे हैं जहां पर कॉफी की खेती की जाती है इसकी खेती के लिए 150 से 200 सेंटीमीटर की बारिश चाहिए जो केवल दक्षिण भारत के राज्यों में ही हो सकती है क्योंकि इस समुद्र के बीचो-बीच होने के कारण यहां पर सबसे ज्यादा मॉनसून सक्रिय होता है और दूसरी सबसे बड़ी बात है कि इस को उगाने के लिए छायादार जगह चाहिए क्योंकि दक्षिण से जो सूरज है उल्टा पड़ता है तो यही कारण है कि दक्षिण भारत का जो ऐसा है वह सबसे ज्यादा छायावादी ऐसा माना जाता है कि यहां पर इसीलिए यह कहती होती है
Kophee kis kshetr ka paudha ka dost ko dekhie bhaarat ke keval 3 raajyon mein hee hotee hai yahee kaaran hai ki bahut mahangee hai bhaarat ke dakshin ke karnaatak keral aur tamilanaadu ke tee-shart aise hain jahaan par kophee kee khetee kee jaatee hai isakee khetee ke lie 150 se 200 senteemeetar kee baarish chaahie jo keval dakshin bhaarat ke raajyon mein hee ho sakatee hai kyonki is samudr ke beecho-beech hone ke kaaran yahaan par sabase jyaada monasoon sakriy hota hai aur doosaree sabase badee baat hai ki is ko ugaane ke lie chhaayaadaar jagah chaahie kyonki dakshin se jo sooraj hai ulta padata hai to yahee kaaran hai ki dakshin bhaarat ka jo aisa hai vah sabase jyaada chhaayaavaadee aisa maana jaata hai ki yahaan par iseelie yah kahatee hotee hai

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
विश्व का सबसे ज्यादा सुना और देखा जाने वाला गाना कौन सा है ?Vishva Ka Sabse Jyada Suna Aur Dekha Jane Wala Gana Kaun Sa Hai
Deepak Perwani7017127373 Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Deepak जी का जवाब
Job
1:25
विश्व का सबसे ज्यादा सुना और देखा गया गाना कौन सा है तो दोस्तों वह जो गाना है डेसपेसिटो जिस का इंग्लिश में मतलब होता है लोली जिसको फोंसी ने गाया था कौन सी ने सबसे पहले यह गाना अपनी गर्लफ्रेंड या यूं कहें दोस्त एरिका एंड्रयू को सबसे पहले गाना गाकर सुनाया था इस गाने की रिलीज होने से लेकर हिट होने तक की कहानी कुछ इस तरीके की है इस गाने में इतना जोर लिरिक्स लिखने वाले कुछ कमी लग रही थी तो उसने डैडी यंकी को जाकर वह डेमो सुनाया तो वहां पता चला उसने उस गाने को आगे कुछ कमी थी वह पूरियां करवाएं जैसे ही यह गाना रिलीज हुआ तो शुरुआती 8 देशों में ऐसे वायरल हुआ है गाना जैसे किसी समय में हमारे जो इंडिया का गाना थाना ओपन कम कम स्टाइल वैसे हुआ था उससे पहले जो हिट गाने थे हमारे इंडियन का गाना था व्हाई दिस कोलावेरी यहां से ओपन कम कम स्टाइल है केरला का गाना था साउथ इंडिया का अब डेस्पासितो हुई जिनका ना बहुत ही जबरदस्त अभी यूट्यूब पर है इसे उस समय 7 मिलीयन व्यूज मिल चुके थे 3 से 4 दिन में यह तब की बात है जब यह गाना रिलीज हुआ था आज काफी हद तक हिट हो चुका है तो यह है वह गाना जो सबसे ज्यादा सुना गया और देखा गया यूट्यूब पर है उसके बाद ओपन कम कम स्टाइल
Vishv ka sabase jyaada suna aur dekha gaya gaana kaun sa hai to doston vah jo gaana hai desapesito jis ka inglish mein matalab hota hai lolee jisako phonsee ne gaaya tha kaun see ne sabase pahale yah gaana apanee garlaphrend ya yoon kahen dost erika endrayoo ko sabase pahale gaana gaakar sunaaya tha is gaane kee rileej hone se lekar hit hone tak kee kahaanee kuchh is tareeke kee hai is gaane mein itana jor liriks likhane vaale kuchh kamee lag rahee thee to usane daidee yankee ko jaakar vah demo sunaaya to vahaan pata chala usane us gaane ko aage kuchh kamee thee vah pooriyaan karavaen jaise hee yah gaana rileej hua to shuruaatee 8 deshon mein aise vaayaral hua hai gaana jaise kisee samay mein hamaare jo indiya ka gaana thaana opan kam kam stail vaise hua tha usase pahale jo hit gaane the hamaare indiyan ka gaana tha vhaee dis kolaaveree yahaan se opan kam kam stail hai kerala ka gaana tha sauth indiya ka ab despaasito huee jinaka na bahut hee jabaradast abhee yootyoob par hai ise us samay 7 mileeyan vyooj mil chuke the 3 se 4 din mein yah tab kee baat hai jab yah gaana rileej hua tha aaj kaaphee had tak hit ho chuka hai to yah hai vah gaana jo sabase jyaada suna gaya aur dekha gaya yootyoob par hai usake baad opan kam kam stail

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
जुड़वा बच्चे पैदा होने के पीछे क्या वैज्ञानिक कारण?Judva Bachhe Paida Hone Ke Piche Kya Vaigyanik Karan
Deepak Perwani7017127373 Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Deepak जी का जवाब
Job
2:28
रोशनी है जुड़वा बच्चे पैदा होने के लिए क्या वैज्ञानिक कारण है कि दोस्तों जुड़वा प्रेगनेंसी 2 तरीके की होती है एक होती है मोनू साहिब और दूसरी होती है डांस हाई कोर्ट हाईकोर्ट में आपकी जो है ऊपरी संडे को रिलीज करती है पहले वह जो है फैलोपियन ट्यूब में होता है पहले उसके बाद जवाब रिलेशन को मेंटेन करते हैं तो मेल कंफर्म हो संडे को फॉर डायल करता है और धीरे-धीरे करके अपनी आ जाओ फैलोपियन ट्यूब है वह दो हिस्सों में बांटा जाता है और फिर यह फैलोपियन ट्यूब से निकलकर एंड डोमिनियम की एंड मीडियम की लाइन में जाकर चिपक जाते हैं और वहीं पर प्लेसेंटा के अंदर इनका विकास होता है यह प्लेसेंटा कोशिश करते हैं उन्हें ढाई हाई कोर्ट में क्या होता है कि आपकी एवरी ही 2 घंटे में प्रोटींस करती और वह दोनों अंडे फैलोपियन ट्यूब में आते ही और यहां पर मैथ के दोष बा मैया दोनों शुभम को अलग-अलग फॉर डायल करते हैं और उसके बाद यह दोनों अंडे फैलोपियन ट्यूब से निकलकर एंडोमेट्रियम की लाइन में जाकर चिपक जाते हैं इनका अलग-अलग प्लेसेंटा बनता है और अलग अलग ही डेवलपमेंट होता है इसी वजह से जम्मू नो डायरो रायगढ़ प्रेगनेंसी होती है बच्चे दोनों एक जैसे जुड़वा लगते हैं वहीं ट्राई साइकिल टायर जाएगा उसमें बच्चे अलग अलग दिखाई देते हैं यह तो बात हुई कि मोनू जाएगा और ड्राइवर ड्राइवर एजेंसी की लेकिन दोस्तों अभी मैं आपको ही बताऊंगा उन दोनों के पीछे के दो प्रमुख कारण है वह है जो है शाकाहारी है सर्व हारी व्यक्ति का होना क्योंकि ना कारी सरकारी होने से उसको जो है जो लेडी हो चेक मेल हो सकती मेलो वह जो है जो डेहरी उद्योग डेहरी प्रोडक्ट होते हैं जैसे दूध दही पनीर मगर प्रोटीन वाले उसको सबसे ज्यादा हाईलाइट करते हैं और वही सबसे ज्यादा लेते हैं जो लोग जिसका शरीर में जरूरत से ज्यादा जो मेल फ्रीक्वेंसी होती है उनमें यह सारे जो है डेवलपमेंट होते हैं वह स्थान ज्यादा डेवलपर होता है और वह स्थान जो है मोनू हाइड्रोटिक नामक जुड़वा हारमोंस को जो है कारण बनता है बनने में जय माता की जय हिंदुस्तान
Roshanee hai judava bachche paida hone ke lie kya vaigyaanik kaaran hai ki doston judava preganensee 2 tareeke kee hotee hai ek hotee hai monoo saahib aur doosaree hotee hai daans haee kort haeekort mein aapakee jo hai ooparee sande ko rileej karatee hai pahale vah jo hai phailopiyan tyoob mein hota hai pahale usake baad javaab rileshan ko menten karate hain to mel kampharm ho sande ko phor daayal karata hai aur dheere-dheere karake apanee aa jao phailopiyan tyoob hai vah do hisson mein baanta jaata hai aur phir yah phailopiyan tyoob se nikalakar end dominiyam kee end meediyam kee lain mein jaakar chipak jaate hain aur vaheen par plesenta ke andar inaka vikaas hota hai yah plesenta koshish karate hain unhen dhaee haee kort mein kya hota hai ki aapakee evaree hee 2 ghante mein proteens karatee aur vah donon ande phailopiyan tyoob mein aate hee aur yahaan par maith ke dosh ba maiya donon shubham ko alag-alag phor daayal karate hain aur usake baad yah donon ande phailopiyan tyoob se nikalakar endometriyam kee lain mein jaakar chipak jaate hain inaka alag-alag plesenta banata hai aur alag alag hee devalapament hota hai isee vajah se jammoo no daayaro raayagadh preganensee hotee hai bachche donon ek jaise judava lagate hain vaheen traee saikil taayar jaega usamen bachche alag alag dikhaee dete hain yah to baat huee ki monoo jaega aur draivar draivar ejensee kee lekin doston abhee main aapako hee bataoonga un donon ke peechhe ke do pramukh kaaran hai vah hai jo hai shaakaahaaree hai sarv haaree vyakti ka hona kyonki na kaaree sarakaaree hone se usako jo hai jo ledee ho chek mel ho sakatee melo vah jo hai jo deharee udyog deharee prodakt hote hain jaise doodh dahee paneer magar proteen vaale usako sabase jyaada haeelait karate hain aur vahee sabase jyaada lete hain jo log jisaka shareer mein jaroorat se jyaada jo mel phreekvensee hotee hai unamen yah saare jo hai devalapament hote hain vah sthaan jyaada devalapar hota hai aur vah sthaan jo hai monoo haidrotik naamak judava haaramons ko jo hai kaaran banata hai banane mein jay maata kee jay hindustaan

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
कोई एक प्रेरणादायक कहानी सुनाइए?Koi Ek Prernadayak Kahani Sunaiye
Deepak Perwani7017127373 Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Deepak जी का जवाब
Job
4:48
कहानी है आपके गलत बिलीफ सिस्टम को जो है खत्म करेगी बहुत से लोगों की सोच होती है ना कि जो है इस लड़की का कैरेक्टर खराब है इसके घर में जाया करो पानी मत पिया करो यह लड़का गलत है यह गलत है लोग एक दूसरे के ऊपर गलत आरोप लगाते हैं उनके बारे एक बार गौतम बुध अपने बिच्छू कहीं जहां रहते तो वहां उन्होंने उन्हें एक मंत्री ने देखा तो उन्होंने कहा बुद्ध से तुम तो किसी राजकुमार की तरह लगते हो तुम यहां कैसे तू गौतम बुद्ध ने कहा मैंने अपनी जिंदगी में सन्यास लिया है तो फिर उस लड़की ने कहा क्यों तो बोला कि मैंने तीन प्रश्नों का उत्तर जानने के लिए उन्होंने बोला जीवन का सत्य जानने के लिए कि मृत्यु पर्यंत यानी कि हमारे शरीर वृद्ध होगा कि मृत्यु को प्राप्त होगा इन सब का सत्य जानने के लिए इन प्रश्नों का तो फिर लड़की ने कहा आपको आपके प्रश्नों का उत्तर मिल गए उन्होंने बोला मुझे मिल गए तो उस दिन से प्रभावित हुई और उन्होंने उन्होंने गौतम बुध को अपने घर में बजट के लिए बुलाया जैसे ही कहां वालों को ही पता चला कि गौतम बुध उस लड़की के घर में जाने वाले हैं तो गौतम बुध वालों का गांव वाले पहुंच गए कहां की भागवत गौतम बुद्ध क्या आप उनके घर में भोजन करने जाने वाले किसी स्त्री के गर्भ में बोला हां क्या कमी है क्या बात है बताओ तो गौतम बुद्ध से कहा उनका वालों ने आपको पता नहीं है लड़की चरित्रहीन है यह लड़की का कैरेक्टर खराब इसके घर का तो कोई पानी भी ना पिए तो गौतम बुद्ध ने कहा कि अगर तुमने साबित कर दिया कि एक ही लड़की है तो मैं उसके घर पर खाना खाने नहीं जाऊंगा अगर तुम साबित करके दिखाओ तो गौतम बुध ने कहा तुम गांव वालों में से सबसे ज्यादा ज्ञानी व्यक्ति जो हो उसे मेरे पास भेजो वह ज्ञानी व्यक्ति को अपने पास लाते हैं गौतम बुध उच्च ज्ञानी व्यक्ति इसे कहते हैं गौतम को तो स्थानीय व्यक्ति से कहते हैं क्या है गांव वाले जो बात कह रहे हैं सच है कि लड़की चरित्रहीन है गांव वाले हो ज्ञानी व्यक्ति कहता हां गौतम बुद्ध यह बात सही है तो कहो तुम बुध एग्जांपल उदाहरण के लिए उनसे आगे आने के लिए कहते हैं कि नहीं तुम्हारे पास कितने हाथ हैं बात है ठीक है तो गौतम बुद्ध ने कहा मान कर चलिए कि तुम्हारा सीधा हाथ गांव वाले हैं और उल्टा हाथ वह लड़की है जिसको तुमने चरित्रहीन मनासा गौतम बुद्ध ने कहा अब तुम अपने दोनों हाथ मिलाओ और जोर-जोर से ताली बजाओ वह ज्ञानी व्यक्ति ऐसा ही करता है फिर गौतम बुद्ध से वह व्यक्ति कहता है अब रूको कैरो गौतम बुध कहता है अब तुम बताओ जो जो तुमने ताली बजाई एक के साथ में कहा मैं ज्यादा तेज बजे राइट एंड लेफ्ट है तो ज्ञानी व्यक्ति कहता है कि यह क्या प्रश्न कर रहे हो भक्तों को यह तो ताली बजाने में तो दोनों हाथों का बराबर सहयोग चाहिए होता है गौतम को तो कहते हैं खैर अब एक हाथ तुम आगे लावा बना जिसे वह गांव वाले हैं वह चरित्रहीन स्त्री और कहां की एक हाथ से ताली बजा कर दिखाओ तो ज्ञानी व्यक्ति कहता ऐसे कैसे होगा वह तुमको देखी एक हाथ से ताली बस सकती है तो फिर गौतम बुद्ध कहते हैं जब ताली बजाने में दोनों हाथों का बराबर सहयोग चाहिए होता है तो चरित्रहीन स्त्री हो अकेले क्यों है पुरुष भी उतना ही चरित्रहीन है जितनी बड़ी चरित्रहीन है अगर स्त्री चरित्रं पुरुषस्य चरित्रहीन है जब तक कोई किसी के ऊपर दाग लगाने वाला नहीं होगा तो क्या उससे पहले कोई इंसान या पुरुष वचन फ्री वह चरित्रहीन हो सकता है लेकिन दुनिया के कहने का तरीका तो देखिए ढंग तो देखिए मिस्त्री को चरित्रहीन हो जाती है लेकिन उस पर उसका कोई कुछ नहीं कहता जिसके कारण वह स्त्री चरित्रहीन स्त्री चरित्र ही है तो पुरुष भी उतना ही चरित्रहीन है अगर वह स्त्री इतनी चरित्रहीन ना होती कि आप गांव वालों चरित्रहीन ना होते गांव वालों को गौतम बुद्ध की बात समझ में आ जाती है तो गौतम बुद्ध से क्षमा मांग लेते हैं कुल मिलाकर इस कहानी से भी यही प्रेरणा मिलती है कि इंसान अपनी नजरों में कैसा है इंसान को अपनी नजरों में कैसा है वह हमें देखना चाहिए दूसरा इंसान के ऊपर आरोप लगाने से पहले में देखना चाहिए कि वह अच्छी है या नहीं अगर आप अपनी नजरों में खुद की नजरों में आप सही है तो फिर दुनिया को सही लगेगी अगर आप दूसरों को गलत नजर से देखेंगे तो आपको अपने अंदर सब केंद्र सब गलत देखेंगे यह प्रकृति का नियम है जब तक कोई किसी के ऊपर चरित्र पर दाग नहीं लगाता है तब तक कोई इंसान कोई चरित्रहीन स्त्री वगैरह कोई कुछ नहीं होता है जय माता दी जय हिंदुस्तान यह है कहानी
Kahaanee hai aapake galat bileeph sistam ko jo hai khatm karegee bahut se logon kee soch hotee hai na ki jo hai is ladakee ka kairektar kharaab hai isake ghar mein jaaya karo paanee mat piya karo yah ladaka galat hai yah galat hai log ek doosare ke oopar galat aarop lagaate hain unake baare ek baar gautam budh apane bichchhoo kaheen jahaan rahate to vahaan unhonne unhen ek mantree ne dekha to unhonne kaha buddh se tum to kisee raajakumaar kee tarah lagate ho tum yahaan kaise too gautam buddh ne kaha mainne apanee jindagee mein sanyaas liya hai to phir us ladakee ne kaha kyon to bola ki mainne teen prashnon ka uttar jaanane ke lie unhonne bola jeevan ka saty jaanane ke lie ki mrtyu paryant yaanee ki hamaare shareer vrddh hoga ki mrtyu ko praapt hoga in sab ka saty jaanane ke lie in prashnon ka to phir ladakee ne kaha aapako aapake prashnon ka uttar mil gae unhonne bola mujhe mil gae to us din se prabhaavit huee aur unhonne unhonne gautam budh ko apane ghar mein bajat ke lie bulaaya jaise hee kahaan vaalon ko hee pata chala ki gautam budh us ladakee ke ghar mein jaane vaale hain to gautam budh vaalon ka gaanv vaale pahunch gae kahaan kee bhaagavat gautam buddh kya aap unake ghar mein bhojan karane jaane vaale kisee stree ke garbh mein bola haan kya kamee hai kya baat hai batao to gautam buddh se kaha unaka vaalon ne aapako pata nahin hai ladakee charitraheen hai yah ladakee ka kairektar kharaab isake ghar ka to koee paanee bhee na pie to gautam buddh ne kaha ki agar tumane saabit kar diya ki ek hee ladakee hai to main usake ghar par khaana khaane nahin jaoonga agar tum saabit karake dikhao to gautam budh ne kaha tum gaanv vaalon mein se sabase jyaada gyaanee vyakti jo ho use mere paas bhejo vah gyaanee vyakti ko apane paas laate hain gautam budh uchch gyaanee vyakti ise kahate hain gautam ko to sthaaneey vyakti se kahate hain kya hai gaanv vaale jo baat kah rahe hain sach hai ki ladakee charitraheen hai gaanv vaale ho gyaanee vyakti kahata haan gautam buddh yah baat sahee hai to kaho tum budh egjaampal udaaharan ke lie unase aage aane ke lie kahate hain ki nahin tumhaare paas kitane haath hain baat hai theek hai to gautam buddh ne kaha maan kar chalie ki tumhaara seedha haath gaanv vaale hain aur ulta haath vah ladakee hai jisako tumane charitraheen manaasa gautam buddh ne kaha ab tum apane donon haath milao aur jor-jor se taalee bajao vah gyaanee vyakti aisa hee karata hai phir gautam buddh se vah vyakti kahata hai ab rooko kairo gautam budh kahata hai ab tum batao jo jo tumane taalee bajaee ek ke saath mein kaha main jyaada tej baje rait end lepht hai to gyaanee vyakti kahata hai ki yah kya prashn kar rahe ho bhakton ko yah to taalee bajaane mein to donon haathon ka baraabar sahayog chaahie hota hai gautam ko to kahate hain khair ab ek haath tum aage laava bana jise vah gaanv vaale hain vah charitraheen stree aur kahaan kee ek haath se taalee baja kar dikhao to gyaanee vyakti kahata aise kaise hoga vah tumako dekhee ek haath se taalee bas sakatee hai to phir gautam buddh kahate hain jab taalee bajaane mein donon haathon ka baraabar sahayog chaahie hota hai to charitraheen stree ho akele kyon hai purush bhee utana hee charitraheen hai jitanee badee charitraheen hai agar stree charitran purushasy charitraheen hai jab tak koee kisee ke oopar daag lagaane vaala nahin hoga to kya usase pahale koee insaan ya purush vachan phree vah charitraheen ho sakata hai lekin duniya ke kahane ka tareeka to dekhie dhang to dekhie mistree ko charitraheen ho jaatee hai lekin us par usaka koee kuchh nahin kahata jisake kaaran vah stree charitraheen stree charitr hee hai to purush bhee utana hee charitraheen hai agar vah stree itanee charitraheen na hotee ki aap gaanv vaalon charitraheen na hote gaanv vaalon ko gautam buddh kee baat samajh mein aa jaatee hai to gautam buddh se kshama maang lete hain kul milaakar is kahaanee se bhee yahee prerana milatee hai ki insaan apanee najaron mein kaisa hai insaan ko apanee najaron mein kaisa hai vah hamen dekhana chaahie doosara insaan ke oopar aarop lagaane se pahale mein dekhana chaahie ki vah achchhee hai ya nahin agar aap apanee najaron mein khud kee najaron mein aap sahee hai to phir duniya ko sahee lagegee agar aap doosaron ko galat najar se dekhenge to aapako apane andar sab kendr sab galat dekhenge yah prakrti ka niyam hai jab tak koee kisee ke oopar charitr par daag nahin lagaata hai tab tak koee insaan koee charitraheen stree vagairah koee kuchh nahin hota hai jay maata dee jay hindustaan yah hai kahaanee

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
बाबा रामदेव के बाल सफेद कैसे हो गए जबकि वह रोज योगा करते हैं?Baba Ramdev Ke Baal Safed Kaise Ho Gaye Jabki Vah Roj Yoga Karte Hain
Deepak Perwani7017127373 Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Deepak जी का जवाब
Job
1:50
रश्मि है बाबा रामदेव के बाल सफेद कैसे हो गए जबकि यहां रोज योग करते हैं लेख तो दोस्तों आप ने प्रश्न किया है मुझे एक बात बताइए कि जो लोग योग करते हुए सताइस वगैरह सब करते हैं अपने शरीर का ध्यान रखते क्या वह बूढ़े नहीं होते यह तो एक प्रकृति का जोर नियम है कि जो इंसान पैदा हुआ है वह जहानाबाद जवानों का तो बुरा भी होगा इंसान योग भले कितना भी कुछ भी कर ले क्या लेकिन प्रकृति के नियमों में जाने की कुदरत के नियमों में परिवर्तन कर सकता है और जहां तक बाल सफेद होने की बात है यह तो है प्रकृति का नियम है यह योग करने एक्सरसाइज वाले के संग भी होगा और ना करने वाले के संग योग बस दोनों में अंतर इतना है कि ऐसा व्यक्ति जो अपनी औकात नहीं रखता तो शायरियां योग्यता तो वह समय से पहले सफेद बालों से हो जाएंगे यानी कि समय से पहले आयुर्वेद अजीत जोगी का ध्यान रखते हैं अच्छे पोषक तत्व लेते हैं अच्छा भोजन लेते हैं सही मात्रा में लेते हैं और शरीर को युवक व वगैरह व्यायाम में रखते हैं तो ऐसे व्यक्ति की जो है आयु लंबी जो मतलब जो है ज्यादा उम्र होने के बाद ही उसके बाल सफेद वगैरह दिखते हैं दोनों बसंतरीय कि वह कम उम्र में बड़ा दिखता है और कुछ लोग जो है जय दादा मर होने पर भी जवान दिखते हैं तो यह कारण हो सकता है बाकी आप सोचो कि योगा करने से एक साइट करने से इंसान के बाल सफेद नहीं सकता जय माता दी जय हिंदुस्तान
Rashmi hai baaba raamadev ke baal saphed kaise ho gae jabaki yahaan roj yog karate hain lekh to doston aap ne prashn kiya hai mujhe ek baat bataie ki jo log yog karate hue satais vagairah sab karate hain apane shareer ka dhyaan rakhate kya vah boodhe nahin hote yah to ek prakrti ka jor niyam hai ki jo insaan paida hua hai vah jahaanaabaad javaanon ka to bura bhee hoga insaan yog bhale kitana bhee kuchh bhee kar le kya lekin prakrti ke niyamon mein jaane kee kudarat ke niyamon mein parivartan kar sakata hai aur jahaan tak baal saphed hone kee baat hai yah to hai prakrti ka niyam hai yah yog karane eksarasaij vaale ke sang bhee hoga aur na karane vaale ke sang yog bas donon mein antar itana hai ki aisa vyakti jo apanee aukaat nahin rakhata to shaayariyaan yogyata to vah samay se pahale saphed baalon se ho jaenge yaanee ki samay se pahale aayurved ajeet jogee ka dhyaan rakhate hain achchhe poshak tatv lete hain achchha bhojan lete hain sahee maatra mein lete hain aur shareer ko yuvak va vagairah vyaayaam mein rakhate hain to aise vyakti kee jo hai aayu lambee jo matalab jo hai jyaada umr hone ke baad hee usake baal saphed vagairah dikhate hain donon basantareey ki vah kam umr mein bada dikhata hai aur kuchh log jo hai jay daada mar hone par bhee javaan dikhate hain to yah kaaran ho sakata hai baakee aap socho ki yoga karane se ek sait karane se insaan ke baal saphed nahin sakata jay maata dee jay hindustaan

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
गेहूं और चावल दोनों में कौन अधिक पौष्टिक हैं?Gehu Aur Chaval Donon Mein Kaun Adhik Paushtik Hain
Deepak Perwani7017127373 Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Deepak जी का जवाब
Job
1:23
गेहूं और चावल दोनों में से कौन अधिक पौष्टिक है तो दोस्तों मुझे नहीं लगता है कि कि इस प्रश्न का उत्तर किसी को ना बताओ कोई बिना पढ़ा लिखा इंसान ही हो गाना वह भी इस प्रश्न का उत्तर देने से नहीं झुकेगा अब बात करते हैं इस प्रश्न के उत्तर की तो दोस्तों ने की है कि सीधी सी बात है कि चावल इंसान को मोटा तो करता है लेकिन शरीर में अतिरिक्त चर्बी को बढ़ाता है इसीलिए चावल को जो है पोस्टिक नहीं माना जा सकता और जहां तक बातें गेहूं की गेहूं तो यह इंसान को तो बतला रखता है और शरीर में शक्ति प्रदान करता है एक्स्ट्रा जल्दी नहीं हो रहा था दूसरा गेहूं में कई तरीके के पौष्टिक तत्व पाए जाते हैं जैसे कि अपना प्रोटीन होता है उसमें अगर विटामिन की बात का तो विटामिन केवल एक ही पाया जाता है विटामिन ए और सिलियम और कई तरीके के दृश्य जाते हैं जो कि कैंसर की कोशिकाओं से बहू को पनपने से रोकते हैं जबकि चावल की केवल एक ही प्लस्पॉइंट है जिसमे आदमी खाली मोटा हो सकता है बाकी और कुछ नहीं है तो यह प्रश्न का उत्तर और मुझे हंड्रेड परसेंट बताएं कि इस प्रश्न का उत्तर सबको पता होगा और इस प्रश्न को लगभग कम से कम सब लोग उठाएंगे सब लोग इसका उत्तर देंगे
Gehoon aur chaaval donon mein se kaun adhik paushtik hai to doston mujhe nahin lagata hai ki ki is prashn ka uttar kisee ko na batao koee bina padha likha insaan hee ho gaana vah bhee is prashn ka uttar dene se nahin jhukega ab baat karate hain is prashn ke uttar kee to doston ne kee hai ki seedhee see baat hai ki chaaval insaan ko mota to karata hai lekin shareer mein atirikt charbee ko badhaata hai iseelie chaaval ko jo hai postik nahin maana ja sakata aur jahaan tak baaten gehoon kee gehoon to yah insaan ko to batala rakhata hai aur shareer mein shakti pradaan karata hai ekstra jaldee nahin ho raha tha doosara gehoon mein kaee tareeke ke paushtik tatv pae jaate hain jaise ki apana proteen hota hai usamen agar vitaamin kee baat ka to vitaamin keval ek hee paaya jaata hai vitaamin e aur siliyam aur kaee tareeke ke drshy jaate hain jo ki kainsar kee koshikaon se bahoo ko panapane se rokate hain jabaki chaaval kee keval ek hee plaspoint hai jisame aadamee khaalee mota ho sakata hai baakee aur kuchh nahin hai to yah prashn ka uttar aur mujhe handred parasent bataen ki is prashn ka uttar sabako pata hoga aur is prashn ko lagabhag kam se kam sab log uthaenge sab log isaka uttar denge

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
सिलिकॉन क्या है और इसका उपयोग कैसे किया जाता है?Silikon Kya Hai Aur Iska Upyog Kaise Kiya Jata Hai
Deepak Perwani7017127373 Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Deepak जी का जवाब
Job
2:13
सिलिकॉन क्या है इसका प्रयोग कैसे किया जाता है सिलिकॉन जिसका सूत्र एसआई होता है असली को यह पृथ्वी पर ऑक्सीजन के बाद दूसरा सबसे ज्यादा पाया जाने वाला तत्व है सिलिकॉन को यौगिक इलेक्ट्रॉनिक अथवा साबुन में शीशे एवं कंप्यूटर चिप में इस्तेमाल होता है सिलिकॉन इस तत्वों की खोज 18 सो 24 ईस्वी में स्वीडन के एक वैज्ञानिक एक रासायनिक वैज्ञानिक जॉन ज्वेलरी ज्वेलरी सोने की थी यह तो बात हुई उसके यौगिक तत्व की जांच इस्तेमाल होता है जो मेरा को बता एक और इसका दूसरा रसायनिक समीकरण आता है ai302 इसका जो सिलिकॉन का सूत्र होता है यह एक ऐसा होता है जिसका जब यह बनाया जाता है जिन केमिकल से बनाया जाता है उसका इस्तेमाल सोल की मशीन में होता जब हम जो चोर होता है जो ठोस होता है सर उस सौल को मुलायम बनाने के लिए किया जाता है और एक दूसरा शुद्ध पदार्थ का सिलिकॉन होता है जो जो पहले यौगिक बताएगा था वह दूसरे सिलिकॉन का योग 1 होता है वह sin2 यानी कि एसआई तो सिलिकॉन हो गए एंड सोडियम हो गया सोडावाला सिलिकॉन इसका जो प्रयोग है इसका प्रयोग हम उन चीजों में करते हैं जैसे कि हम पीने वाली सोडा होती है और कैसे गोल्ड रिंग हुई जो मैं कोल्ड ड्रिंक में करंट सा लगता है वह यही वाला सिलिकॉन होता हालांकि का रासायनिक वाला भी जो श्री कृष्ण वह होता है ऐसे अब यह मत समझना कि असल में प्रयोग किया जाता है तो उसमें भी किया था यह योगिक वाला जो है असली कौन है वह जो पहले बताया था वह केमिकल वाला सिलिकॉन था यह जो सिली कौन है सोडा वगैरा पीने वाली या फिर कोल्ड ड्रिंक बियर बगैरा में जो तेज करने में होता है जिसको उसमें है जो इस्तेमाल होता है सिलिकॉन जय माता दी जय हिंदुस्तान
Silikon kya hai isaka prayog kaise kiya jaata hai silikon jisaka sootr esaee hota hai asalee ko yah prthvee par okseejan ke baad doosara sabase jyaada paaya jaane vaala tatv hai silikon ko yaugik ilektronik athava saabun mein sheeshe evan kampyootar chip mein istemaal hota hai silikon is tatvon kee khoj 18 so 24 eesvee mein sveedan ke ek vaigyaanik ek raasaayanik vaigyaanik jon jvelaree jvelaree sone kee thee yah to baat huee usake yaugik tatv kee jaanch istemaal hota hai jo mera ko bata ek aur isaka doosara rasaayanik sameekaran aata hai ai302 isaka jo silikon ka sootr hota hai yah ek aisa hota hai jisaka jab yah banaaya jaata hai jin kemikal se banaaya jaata hai usaka istemaal sol kee masheen mein hota jab ham jo chor hota hai jo thos hota hai sar us saul ko mulaayam banaane ke lie kiya jaata hai aur ek doosara shuddh padaarth ka silikon hota hai jo jo pahale yaugik bataega tha vah doosare silikon ka yog 1 hota hai vah sin2 yaanee ki esaee to silikon ho gae end sodiyam ho gaya sodaavaala silikon isaka jo prayog hai isaka prayog ham un cheejon mein karate hain jaise ki ham peene vaalee soda hotee hai aur kaise gold ring huee jo main kold drink mein karant sa lagata hai vah yahee vaala silikon hota haalaanki ka raasaayanik vaala bhee jo shree krshn vah hota hai aise ab yah mat samajhana ki asal mein prayog kiya jaata hai to usamen bhee kiya tha yah yogik vaala jo hai asalee kaun hai vah jo pahale bataaya tha vah kemikal vaala silikon tha yah jo silee kaun hai soda vagaira peene vaalee ya phir kold drink biyar bagaira mein jo tej karane mein hota hai jisako usamen hai jo istemaal hota hai silikon jay maata dee jay hindustaan

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
दूर दृष्टि दोष के लिए किस लेंस का प्रयोग किया जाता है?Door Drishti Dosh Ke Liye Kis Lens Ka Prayog Kiya Jata Hai
Deepak Perwani7017127373 Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Deepak जी का जवाब
Job
5:00
दूर दृष्टि दोष में के लिए किस लेंस का प्रयोग किया जाता है तो 200 देखिए वैसे तो इसके लिए जो हम मगर हमारी उम्र कम है तो कांटेक्ट लेंस का प्रयोग करते हैं कांटेक्ट लेंस सीधी आंख में लगाए जाते हैं दोनों आंखों में दूर दृष्टि दोष है तो लेकिन सबसे पहले हमें उसकी कैटेगरी देखनी होगी दूर दृष्टि दोष प्लस का है दूर दृष्टि दोष - का है या दूर दृष्टि दोष से जो है इस पेरीकल में माइनस है यहां स्फेरिकल में ओ सॉरी ट्रेंडी कल में माइनस है या प्लस में स्पैरी कल प्लस में सिलेंडर करें यह देखना जरूरी होता क्योंकि सिलेंडर कल नंबर के कांटेक्ट लेंस नहीं आते हैं तो फिर हमें चश्मा ही बनवाना पड़ता है अब सवाल यह कि जो लोग चश्मा बनवाए तो वह किस तरीके का बनवाए कैसा लेंस होना चाहिए तो दोस्तों अगर आप चश्मा बनवाना चाहते हैं अगर आप गाड़ी गाड़ी चलाते हैं तो आपको यहां तो ऑटो लेंस का बनवाना चाहिए जो धूप में जो है काला उठाया में सफेद हो जाता है जैसे हम प्रो है फोटोग्राफी डे क्लांस भी कहते हैं यहां तो आपको एंटी किया लेंस लगवाना चाहिए इसका जो कलर होता है वह हल्का सा ग्रीन या फिर जो हल्का सा ब्लू टाइप में होता है देखने में लेंस दिखता है एंटीक लिए लेंस क्या है एंटी ग्लेयर लेंस एक ऐसा लेंस होता है जब हम बाहर जाते हैं जो हमारे आंखों पर 14% सूर्य की किरणें पड़ती है या सामने से कोई गाड़ी आ रही है रात को गाड़ी ले जा रहा है उसकी जो हमारी आंखों पर जोकरे बढ़ती है उसको रिफ्लेक्ट करता है उनको जो है जो चांदा पड़ता है ना वह चांद हमारी आंखों पर नहीं आता है तो जो दूर दृष्टि दोष के लोग हैं उन्हें एंटीक लिए यहां ऑटो लेंस का चश्मा बनवाना चाहिए अगर आपका नंबर सेंड करें तो अगर आपका नंबर स्पीकर है तो आपका कांटेक्ट लेंस बन जाएगा एंटीक लिया और जो है फोटो क्रोमेटिक इन दोनों लेंस का फायदा यह होता है जब हम रास्ते पर चलते हैं तो हमारी आंखों पर पड़ने वाली सामने वाली गाड़ी की रोशनी से हमें सामने का कुछ दिखाई नहीं देता है एंटी के लिए लेंस से उसकी जो क्रीम रिफ्लेक्ट होती है इसीलिए इसका नाम एंटी क्लियर है ऑटो लेंस की कुछ इस तरीके का ही प्रयोग करता है हालांकि ऑटोलाइंस रात में नहीं काम करता है दिन में काम करता है क्योंकि धूप में काला होता है जिनको धूप से एलर्जी है और उनका दूर का नंबर है तो उन्हें और तो है बनाना चाहिए जिससे कि उन्हें जो आंखों पर दिन को चलते समय चांद आना पड़ेगी भी जब वह चश्मा जो है धूप में धूप के जैसे कांटेक्ट में आता है तो वह चश्मा जो है वैसा हो जाता है जो हल्का सा ग्रह जिस में बस स्टैंड गिरे हल्का सिगरेट ऐसा हो जाता है आदमी को अच्छा देखना है उनकी धूपबत्ती दी कि उसकी आंखों में जो है दूर दृष्टि दोष में कांटेक्ट लेंस का प्रयोग किया जाता है कांटेक्ट लेंस अगर आप अच्छे से अच्छे लगवाना चाहते हो तो फिर जाल से बढ़िया कोई इलाज नहीं है क्या हाल है कैसा लेंस है जो पूरी जो है इंडिया में मल्टीनेशनल कंपनी का नाम फेमस है कि जो है आपको लेंस को साफ करने की वह भी मिल जाती है क्या बोलते हैं से एक साथ लेंस को या चश्मे को साफ करने की दवाई भी होती है वह मिल जाती है अगर आप जो है कांटेक्ट लेंस सॉरी अगर आप चश्मा भी बनवाना चाहते हैं तो अगर आप लंच लगवाना चाहते हैं अगर आपका ज्यादा नंबर है चश्मे का तो आप कहां आजकल ऐसे मत लगाइए क्योंकि कांच के लेंस से चश्मा भारी हो जाता है और हमारे आंखें उसे खाने नहीं साइड के जो हमारे दिमाग की नसों की साइड की उसमें जो है हल्का सा वजन बढ़ता है तो आपको जो है जितना हो सके फाइबर का लेंस लगवाना चाहिए i10 हल्का होता है और आपको तो फिर भी अगर लगवाना चाहते हो और फिर भी आपको जो है बिल्कुल हल्का सा जो है लेना चाहिए हल्का वाला और दोस्तों आपका जितना भी नंबर है मान कर चलिए आपका ढाई नंबर है तो आपको 2.25 यानी कि सवा दो नंबर का चश्मा देना चाहिए क्योंकि अगर आप लड़ाई जितना आप नंबर लोगे तो आपका उत्तरा तेजी से नंबर बढ़ता चला जाएगा जैसा बड़ा ही लोग हैं तो फिर 6 महीने बाद करो 2:45 हो जाएगा तीन हो जाएगा तो आपको 2:30 या 2:15 लेना चाहिए से कि वह जो है आंखें जो एक कवर करती है कवरिंग करना चाहिए जिससे कि नंबर जो है धीरे-धीरे बने लेकिन अगर आपका नंबर इस पर ही कल है नॉर्मल वाले नंबर है तो आपके कांटेक्ट लेंस लगवा सकते हैं अब आप पूछोगे एस्पेरी कर लो सिलेंडर कल क्या होता है तो दोस्तों इस पेरीकल वह नंबर होता है जिसमें हम लेंस को घुमाने पर भी हमें सीन दिखाई देता है और लेंस को चाहे जैसे हम गोल घूम आएंगे तो सिर्फ और जो जो सिलेंडर कल नंबर होता है वह ऑपरेशन के बाद का होता हाल है कुछ लोगों को ऑपरेशन से पहले भी वह नंबर आता है वह डिग्री वाला नंबर होता है उसको जैसे लेंस को घुमाएंगे तो व्यक्ति को दिखेगा और फिर उस तरफ घूम आएंगे फिर नहीं देखेगा यह जो है सिलेंडर का नंबर 4 डिग्री के सबसे डिपेंड करता है जैसे आप नंबर 2:15 है कितने डिग्री पर है 180 डिग्री या 90 डिग्री कैसे डिसाइड होता है आंखों के बारे में और भी बातें आपको समझ आता मैं जाई माता दी जय हिंदुस्तान टाइम बहुत कम है
Door drshti dosh mein ke lie kis lens ka prayog kiya jaata hai to 200 dekhie vaise to isake lie jo ham magar hamaaree umr kam hai to kaantekt lens ka prayog karate hain kaantekt lens seedhee aankh mein lagae jaate hain donon aankhon mein door drshti dosh hai to lekin sabase pahale hamen usakee kaitegaree dekhanee hogee door drshti dosh plas ka hai door drshti dosh - ka hai ya door drshti dosh se jo hai is pereekal mein mainas hai yahaan spherikal mein o soree trendee kal mein mainas hai ya plas mein spairee kal plas mein silendar karen yah dekhana jarooree hota kyonki silendar kal nambar ke kaantekt lens nahin aate hain to phir hamen chashma hee banavaana padata hai ab savaal yah ki jo log chashma banavae to vah kis tareeke ka banavae kaisa lens hona chaahie to doston agar aap chashma banavaana chaahate hain agar aap gaadee gaadee chalaate hain to aapako yahaan to oto lens ka banavaana chaahie jo dhoop mein jo hai kaala uthaaya mein saphed ho jaata hai jaise ham pro hai photograaphee de klaans bhee kahate hain yahaan to aapako entee kiya lens lagavaana chaahie isaka jo kalar hota hai vah halka sa green ya phir jo halka sa bloo taip mein hota hai dekhane mein lens dikhata hai enteek lie lens kya hai entee gleyar lens ek aisa lens hota hai jab ham baahar jaate hain jo hamaare aankhon par 14% soory kee kiranen padatee hai ya saamane se koee gaadee aa rahee hai raat ko gaadee le ja raha hai usakee jo hamaaree aankhon par jokare badhatee hai usako riphlekt karata hai unako jo hai jo chaanda padata hai na vah chaand hamaaree aankhon par nahin aata hai to jo door drshti dosh ke log hain unhen enteek lie yahaan oto lens ka chashma banavaana chaahie agar aapaka nambar send karen to agar aapaka nambar speekar hai to aapaka kaantekt lens ban jaega enteek liya aur jo hai photo krometik in donon lens ka phaayada yah hota hai jab ham raaste par chalate hain to hamaaree aankhon par padane vaalee saamane vaalee gaadee kee roshanee se hamen saamane ka kuchh dikhaee nahin deta hai entee ke lie lens se usakee jo kreem riphlekt hotee hai iseelie isaka naam entee kliyar hai oto lens kee kuchh is tareeke ka hee prayog karata hai haalaanki otolains raat mein nahin kaam karata hai din mein kaam karata hai kyonki dhoop mein kaala hota hai jinako dhoop se elarjee hai aur unaka door ka nambar hai to unhen aur to hai banaana chaahie jisase ki unhen jo aankhon par din ko chalate samay chaand aana padegee bhee jab vah chashma jo hai dhoop mein dhoop ke jaise kaantekt mein aata hai to vah chashma jo hai vaisa ho jaata hai jo halka sa grah jis mein bas staind gire halka sigaret aisa ho jaata hai aadamee ko achchha dekhana hai unakee dhoopabattee dee ki usakee aankhon mein jo hai door drshti dosh mein kaantekt lens ka prayog kiya jaata hai kaantekt lens agar aap achchhe se achchhe lagavaana chaahate ho to phir jaal se badhiya koee ilaaj nahin hai kya haal hai kaisa lens hai jo pooree jo hai indiya mein malteeneshanal kampanee ka naam phemas hai ki jo hai aapako lens ko saaph karane kee vah bhee mil jaatee hai kya bolate hain se ek saath lens ko ya chashme ko saaph karane kee davaee bhee hotee hai vah mil jaatee hai agar aap jo hai kaantekt lens soree agar aap chashma bhee banavaana chaahate hain to agar aap lanch lagavaana chaahate hain agar aapaka jyaada nambar hai chashme ka to aap kahaan aajakal aise mat lagaie kyonki kaanch ke lens se chashma bhaaree ho jaata hai aur hamaare aankhen use khaane nahin said ke jo hamaare dimaag kee nason kee said kee usamen jo hai halka sa vajan badhata hai to aapako jo hai jitana ho sake phaibar ka lens lagavaana chaahie i10 halka hota hai aur aapako to phir bhee agar lagavaana chaahate ho aur phir bhee aapako jo hai bilkul halka sa jo hai lena chaahie halka vaala aur doston aapaka jitana bhee nambar hai maan kar chalie aapaka dhaee nambar hai to aapako 2.25 yaanee ki sava do nambar ka chashma dena chaahie kyonki agar aap ladaee jitana aap nambar loge to aapaka uttara tejee se nambar badhata chala jaega jaisa bada hee log hain to phir 6 maheene baad karo 2:45 ho jaega teen ho jaega to aapako 2:30 ya 2:15 lena chaahie se ki vah jo hai aankhen jo ek kavar karatee hai kavaring karana chaahie jisase ki nambar jo hai dheere-dheere bane lekin agar aapaka nambar is par hee kal hai normal vaale nambar hai to aapake kaantekt lens lagava sakate hain ab aap poochhoge esperee kar lo silendar kal kya hota hai to doston is pereekal vah nambar hota hai jisamen ham lens ko ghumaane par bhee hamen seen dikhaee deta hai aur lens ko chaahe jaise ham gol ghoom aaenge to sirph aur jo jo silendar kal nambar hota hai vah opareshan ke baad ka hota haal hai kuchh logon ko opareshan se pahale bhee vah nambar aata hai vah digree vaala nambar hota hai usako jaise lens ko ghumaenge to vyakti ko dikhega aur phir us taraph ghoom aaenge phir nahin dekhega yah jo hai silendar ka nambar 4 digree ke sabase dipend karata hai jaise aap nambar 2:15 hai kitane digree par hai 180 digree ya 90 digree kaise disaid hota hai aankhon ke baare mein aur bhee baaten aapako samajh aata main jaee maata dee jay hindustaan taim bahut kam hai

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
क्रोध आने पर शरीर क्यों कांपने लगता है?Krodh Aane Par Shareer Kyun Kampane Lagta Hai
Deepak Perwani7017127373 Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Deepak जी का जवाब
Job
1:29
क्रोध आने पर शरीर क्यों कांपने लगता है तो दोस्तों देखिए ऐसा ही होता है क्योंकि शरीर में साईं को टिटनेस नामक हार्मोन भर जाता है इसके बढ़ने से हमारी आप लेट हो जाती है और शरीर कांपने लगता है खासकर ऐसा शुगर वाले एबीपी वाले मरीज को चाहता होता है नॉर्मल इंसान के अंदर भी ऐसा हो सकता है उसके शरीर में खून की कमी हो दूसरे शोध में बताया गया है कि गुस्सा करने वाले व्यक्ति जो तेज गुस्सा करता है उसके जो है फेफड़े तेजी से सांस खींचने लगते हैं वह तेजी से सांस में लगता है और आपने लगता है उसके पीछे जो है जो हमारे फेफड़ों को ज्यादा मेहनत करनी पड़ती है ऑक्सीजन लेने के लिए क्योंकि हम जब चिल्लाते हैं तो हमें ज्यादा एनर्जी की जरूरत पड़ती है और उनसे हमारी जो है फेफड़ों को मेहनत ज्यादा करनी पड़ती है और हमारे होंठ पर भी इसका असर पड़ता है जिससे 12 बाकी शरीर के अंग कांपने लगते हैं और शरीर में पसीना भी आता है साइकोटिक्स नामक हार्मोन जब हमारे शरीर में ज्यादा होता है तो ब्लड प्रेशर बढ़ जाता है और उन्हें हमारे शरीर कांपने लगता है जय माता दी जय हिंद
Krodh aane par shareer kyon kaampane lagata hai to doston dekhie aisa hee hota hai kyonki shareer mein saeen ko titanes naamak haarmon bhar jaata hai isake badhane se hamaaree aap let ho jaatee hai aur shareer kaampane lagata hai khaasakar aisa shugar vaale ebeepee vaale mareej ko chaahata hota hai normal insaan ke andar bhee aisa ho sakata hai usake shareer mein khoon kee kamee ho doosare shodh mein bataaya gaya hai ki gussa karane vaale vyakti jo tej gussa karata hai usake jo hai phephade tejee se saans kheenchane lagate hain vah tejee se saans mein lagata hai aur aapane lagata hai usake peechhe jo hai jo hamaare phephadon ko jyaada mehanat karanee padatee hai okseejan lene ke lie kyonki ham jab chillaate hain to hamen jyaada enarjee kee jaroorat padatee hai aur unase hamaaree jo hai phephadon ko mehanat jyaada karanee padatee hai aur hamaare honth par bhee isaka asar padata hai jisase 12 baakee shareer ke ang kaampane lagate hain aur shareer mein paseena bhee aata hai saikotiks naamak haarmon jab hamaare shareer mein jyaada hota hai to blad preshar badh jaata hai aur unhen hamaare shareer kaampane lagata hai jay maata dee jay hind

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
क्या कुंडली में लिखा हुआ भाग्य वास्तविक होता है?Kya Kundli Me Likha Hua Bhagya Vastvik Hota Hai
Deepak Perwani7017127373 Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Deepak जी का जवाब
Job
4:26
प्रश्न है क्या उनकी में लिखा हुआ भाग्य वास्तविक होता है तो दोस्तों कीजिए ऐसा तो कुछ भी नहीं है आपका भाग्य आपके पराक्रम मेहनत और कर्म पर निर्भर करता है आप किस तरह कितनी मेहनत करते हैं कितनी आप कर्म करते हैं उसके आधार पर हमारा भाग्य लिखा जाता है गरुड़ पुराण में विष्णु भगवान ने कहा था कि कर्म प्रधान विश्व रचि राखा यानी कर्म करने वाला ही जो है व्यक्ति आगे बढ़ेगा दुनिया में लेकिन यह भी नहीं कह सकते कि कुंडली में राहु भाग्य जी बिल्कुल कोई काम नहीं करता 200 देखिए इसका मैं आपको एक उदाहरण देता हूं कुछ लोग कम मेहनत करते हैं और उसकी सफलता हासिल करते हैं कुछ लोग बहुत मेहनत करने के बाद भी उतनी सफलता नहीं हासिल कर पाते जितना जो है वह चाहते हैं इन दोनों के इसमें काम करता है भाग्य लेकिन कर्म तो दोनों को ही करना पड़ेगा जिसका भाग्य अच्छा उसको भी और जिसका भाग्य दुर्भाग्य हो उसको भी कर्म तो दोनों को ही करना पड़ेगा लेकिन सफलता किसी को अच्छी मिलती है किसी को उतनी खास नहीं मिलती इसीलिए कुंडली में लिखा हुआ कि हम पूरी तरीके से नकार नहीं सकते कि काम नहीं कर सकता हूं करता है क्योंकि ग्रहों के अनुसार जो मनुष्य पर उसका काफी व्यापक प्रभाव पड़ता है अगर कुंडली के भाग्य भाग जाने की नवम भाव में मंगल ग्रह बैठे हो शुभ ग्रहों की राशि से दृष्ट हों और उस पर किसी पाप ग्रह की दृष्टि ना हो पाप कर्तरी योग में हमारा नाम भावना हो लगने का मित्र को चंद्रेश करने को नवमांश कुंडली में बलवान हो डिग्री बल में अच्छा हो षड्बल में डिग्री पर अच्छा हो इन सारी चीजों को अगर हमारा नवम भाव कुंडली का पार कर जाता है तो फिर समझ लीजिए कि आपका भाग्य प्रबल है लेकिन आपको मेहनत तो तो भी करनी पड़ेगी लेकिन आपकी सफलता है कि होंगे आप कम मेहनत में बहुत काम कर पाएंगे लेकिन अगर आप जो है वह कम होते हैं या फिर पाप प्रभाव में है नीच राशि का है कि सारी चीजें उनके संग है तो फिर आपको यह सारी चीजें कम मिलेंगे यह भी नहीं करेंगे कि नहीं मिलेगी मतलब आप अगर ₹100 की मेहनत करते हैं तो आपको ₹10 मिलेंगे और जो मैंने पहले बताया अगर वह लोग जिनका भागे प्रभालय सर पर की मेहनत करते तुम ₹500 मिलते हैं क्योंकि हमारा भाग्य हमारे पूर्व जन्म के बाद टीवी से जो है काम करता है हमारे पूर्व जन्म के कर्मों पर काम करता है इसके लिए अपने आप कुंडली के पंचम भाव को देखिए कुंडली के पंचम भाव में अगर शुभ ग्रह हो जैसे बरस पड़ती कि गुरु बृहस्पति बुध चंद्रमा शुक्र हो तो आपने पूर्व जन्म में अच्छे कर्म किए हैं जिस कारण आपका जो है बाकी इस बात पर बनाएं अगर पंचमेश खराब हो पाप ग्रहों से दृष्ट पंचम भाव में शनि राहु जैसी युक्तियों पाप ग्रहों की युति हो तो समझ लो आप को रोशन कर रही है और पूर्व जन्म के पितरों के भी लेनी है तो आपको थोड़ा पंचम नवम इन दोनों भावों को ध्यानपूर्वक देखना चाहिए क्योंकि हिंदू भाव मनुष्य के जीवन के मैच खून बहाकर पंचम भाव से हमारा इष्ट देव हमारी संतान समग्र शिक्षा और भी यह कई सारी चीजें पत्नी का सुख वगैरा दिखाता है जबकि नामा से हमारा में भाग्य रेखा जाता है और भी कई सारे जो बड़े-बड़े चीजें हैं वह नवम भाव से ही नहीं की जाती है तो यह कुछ बात की जगह कुंडली में लिखा भाग्य का वास्तविक होता है यदि होता है जय माता की जय हिंदुस्तान
Prashn hai kya unakee mein likha hua bhaagy vaastavik hota hai to doston keejie aisa to kuchh bhee nahin hai aapaka bhaagy aapake paraakram mehanat aur karm par nirbhar karata hai aap kis tarah kitanee mehanat karate hain kitanee aap karm karate hain usake aadhaar par hamaara bhaagy likha jaata hai garud puraan mein vishnu bhagavaan ne kaha tha ki karm pradhaan vishv rachi raakha yaanee karm karane vaala hee jo hai vyakti aage badhega duniya mein lekin yah bhee nahin kah sakate ki kundalee mein raahu bhaagy jee bilkul koee kaam nahin karata 200 dekhie isaka main aapako ek udaaharan deta hoon kuchh log kam mehanat karate hain aur usakee saphalata haasil karate hain kuchh log bahut mehanat karane ke baad bhee utanee saphalata nahin haasil kar paate jitana jo hai vah chaahate hain in donon ke isamen kaam karata hai bhaagy lekin karm to donon ko hee karana padega jisaka bhaagy achchha usako bhee aur jisaka bhaagy durbhaagy ho usako bhee karm to donon ko hee karana padega lekin saphalata kisee ko achchhee milatee hai kisee ko utanee khaas nahin milatee iseelie kundalee mein likha hua ki ham pooree tareeke se nakaar nahin sakate ki kaam nahin kar sakata hoon karata hai kyonki grahon ke anusaar jo manushy par usaka kaaphee vyaapak prabhaav padata hai agar kundalee ke bhaagy bhaag jaane kee navam bhaav mein mangal grah baithe ho shubh grahon kee raashi se drsht hon aur us par kisee paap grah kee drshti na ho paap kartaree yog mein hamaara naam bhaavana ho lagane ka mitr ko chandresh karane ko navamaansh kundalee mein balavaan ho digree bal mein achchha ho shadbal mein digree par achchha ho in saaree cheejon ko agar hamaara navam bhaav kundalee ka paar kar jaata hai to phir samajh leejie ki aapaka bhaagy prabal hai lekin aapako mehanat to to bhee karanee padegee lekin aapakee saphalata hai ki honge aap kam mehanat mein bahut kaam kar paenge lekin agar aap jo hai vah kam hote hain ya phir paap prabhaav mein hai neech raashi ka hai ki saaree cheejen unake sang hai to phir aapako yah saaree cheejen kam milenge yah bhee nahin karenge ki nahin milegee matalab aap agar ₹100 kee mehanat karate hain to aapako ₹10 milenge aur jo mainne pahale bataaya agar vah log jinaka bhaage prabhaalay sar par kee mehanat karate tum ₹500 milate hain kyonki hamaara bhaagy hamaare poorv janm ke baad teevee se jo hai kaam karata hai hamaare poorv janm ke karmon par kaam karata hai isake lie apane aap kundalee ke pancham bhaav ko dekhie kundalee ke pancham bhaav mein agar shubh grah ho jaise baras padatee ki guru brhaspati budh chandrama shukr ho to aapane poorv janm mein achchhe karm kie hain jis kaaran aapaka jo hai baakee is baat par banaen agar panchamesh kharaab ho paap grahon se drsht pancham bhaav mein shani raahu jaisee yuktiyon paap grahon kee yuti ho to samajh lo aap ko roshan kar rahee hai aur poorv janm ke pitaron ke bhee lenee hai to aapako thoda pancham navam in donon bhaavon ko dhyaanapoorvak dekhana chaahie kyonki hindoo bhaav manushy ke jeevan ke maich khoon bahaakar pancham bhaav se hamaara isht dev hamaaree santaan samagr shiksha aur bhee yah kaee saaree cheejen patnee ka sukh vagaira dikhaata hai jabaki naama se hamaara mein bhaagy rekha jaata hai aur bhee kaee saare jo bade-bade cheejen hain vah navam bhaav se hee nahin kee jaatee hai to yah kuchh baat kee jagah kundalee mein likha bhaagy ka vaastavik hota hai yadi hota hai jay maata kee jay hindustaan

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
कागज में पानी गर्म करने पर कागज नहीं जलता है क्यों?Kaagaj Me Pani Garm Karne Par Kagaj Nahi Jalta Hai Kyo
Deepak Perwani7017127373 Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Deepak जी का जवाब
Job
1:04
स्नेहा कागज के में पानी गर्म करने पर कागज नहीं जानता है ऐसा क्यों तो दोस्तों देखिए जब हम आपस में पानी लेकर गर्म करते हैं उसे उसे पानी का तापमान बहुत कम होता है उस समय और कागज को जलने के लिए कम से कम 100 डिग्री का तापमान 90 डिग्री का तापमान चाहिए और उसमें जो है उसे उस समय नहीं मिल पाता है आपने देखा को बहुत से लोग कागज का जो पात्र होता है उसे लेकर भी जो पानी गर्म करते हैं क्योंकि पात्रों से चिपका हुआ होता है जिस कारण उसे ठंडा पानी का जो तापमान मिलता रहता है जिस कारण कहां पर चलता ही नहीं है जैसे का अंदर का तापमान जो है ज्यादा होने लगता है अगर आप ज्यादा समय तक से रखेंगे तो कागज जलना स्टार्ट हो जाएगा जबकि जो है 90 डिग्री व क्रॉस नहीं करता है तो यही एक कारण है कि कागज में पानी गर्म करने पर कागज नहीं जलता है इसकी सबसे बड़ी वजह का तापमान आज का तापमान कम रहता है जय माता दी जय हिंद
Sneha kaagaj ke mein paanee garm karane par kaagaj nahin jaanata hai aisa kyon to doston dekhie jab ham aapas mein paanee lekar garm karate hain use use paanee ka taapamaan bahut kam hota hai us samay aur kaagaj ko jalane ke lie kam se kam 100 digree ka taapamaan 90 digree ka taapamaan chaahie aur usamen jo hai use us samay nahin mil paata hai aapane dekha ko bahut se log kaagaj ka jo paatr hota hai use lekar bhee jo paanee garm karate hain kyonki paatron se chipaka hua hota hai jis kaaran use thanda paanee ka jo taapamaan milata rahata hai jis kaaran kahaan par chalata hee nahin hai jaise ka andar ka taapamaan jo hai jyaada hone lagata hai agar aap jyaada samay tak se rakhenge to kaagaj jalana staart ho jaega jabaki jo hai 90 digree va kros nahin karata hai to yahee ek kaaran hai ki kaagaj mein paanee garm karane par kaagaj nahin jalata hai isakee sabase badee vajah ka taapamaan aaj ka taapamaan kam rahata hai jay maata dee jay hind

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
स्टॉक मार्केट में कौन-कौन से शहर भारी मुनाफा दे सकते हैं?Stock Market Mein Kaun Kaun Se Shehar Bhari Munafa De Sakte Hain
Deepak Perwani7017127373 Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Deepak जी का जवाब
Job
4:46
कृष्ण के स्टॉक मार्केट में कौन-कौन से शहर भारी मुनाफा दे सकते हैं तो दोस्तों ने कि उनमें से प्रमुख है रिलायंस इंडस्ट्रीज रिलायंस प्राइवेट लिमिटेड ऐसा हालांकि इस समय जो है थोड़ा हाई लेवल पर है लेकिन दोस्तों अगर कहीं इसके रेट गिर रहे हो तो आप खुद ले लेना चाहिए क्योंकि वर्तमान में जो है कहीं बड़ी-बड़ी कंपनियों ने इस पर जो हाफ लाइन में इन्वेस्ट किया जैसे कि गूगल फेसबुक का और भी कई कंपनियों ने रिलायंस जिओ पर जो है इनवेस्ट किया ऐसा इसलिए क्योंकि 5G टेक्नोलॉजी आने के बाद के कस्टमर्स बढ़ेंगे और इसकी जो है काफी अच्छा रिटर्न मिलेगा आगे जाने के बाद और जो दूसरी मेरी जो कंपनी है जो मन में है तू है बजाज फाइनेंस तो दोस्तों अभी आपने देखा होगा कि बजाज फाइनेंस में कितना जबरदस्त सेट किया है और कितना आगे तो कुछ के शेयर गए हैं हालांकि बीच में कुछ गिरावट देखी गई थी लेकिन उसके बाद काफी हद तक ऊपर गया है हां अगर बाईसोया 2000 के समथिंग अगर आपको यह गिरावट के साथ मिलता है तो जरूर खरीदना चाहिए क्योंकि आगे चलकर बजाज फाइनेंस किस जबरदस्त रैली होने वाली है तीसरा है आईआरसीटीसी आईआरसीटीसी जो है गवर्नमेंट कंपनी है क्योंकि आईआरसीटीसी गवर्नमेंट जो कंपनी है तो यहां गवर्नमेंट को जो होल्डिंग निकालेंगे उसमें इस समय स्थिति में शेयर काफी हद तक नीचे चल रहे इसके पीछे का कारण है कि गवर्नमेंट को साफ और पैसों की जरूरत है और सरकार हो सकता है कि 90 से नीचे का जो रिटर्न दे सकती है और उसके बाद जो है आपने देखा होगा कि बीच में 7275 के आसपास की यह जो है इसकी रेट आई थी क्योंकि गवर्नमेंट को पैसे की सख्त जरूरत है तो गवर्नमेंट और भी इसको नीचे लाएगी उस समय आपको इस शेयर खरीदना है आईआरसीटीसी और सरकार इसके ऊपर कुछ नए फीचर्स डालेगी तो इसकी वैल्यू आगे चलकर बढ़ेगी और गवर्नमेंट इससे आपको अच्छा खासा रिटर्न दे आईआरसीटीसी फिलहाल थोड़ा नीचे है होल्डिंग में गवर्नमेंट का अप्रूवल लेकिन अगर 1000 से 1100 अगर आपको मिलता है कहीं पर भी तो उस पर नजर बनाए रखिएगा इसको देखना जरूर चौथा जो हमारा शौक है वह है एसबीआई कार्ड चैटिंग में जब इसकी एज लिमिट आई थी वह सारे 700 से 800 के समथिंग आया था यह और ऊपर नहीं उठ पा रहा था तो लोगों का विश्वास है स्पर्श बड़ी माता और कम से कम लो प्राइस में 495 खबरें आया था और काफी समय तक 500 के आसपास के ट्रेड कर राशन कार्ड है जो फाइनेंस क्रेडिट कार्ड बना देती है वह आने वाले समय में सबसे बड़ा इसका फ्यूचर है क्योंकि एसबीआई के कस्टमर देश में 40 करोड़ है सोने का बहुत जबरदस्त उछाल देखने को मिलेगा अब इसका रेट 600 से करीबन 700 पड़ रहा है अगर आप इसको फिनाल लेते हैं तो आपको दुगनी नहीं चार गुनी रितेश का जबरदस्त बेनिफिट मिलेगा इसके पीछे का कारण है कि एसबीआई के बहुत जबरदस्त ग्राहक है इसलिए एसबीआई में अपना कार्ड निकाला था ना कि इस कहानी में जो ब्राइटनेस बढ़ा महंगा चलता है जैसे आपको गिरावट में इसका प्राइस मैंने वन थाउजेंड 80 के समथिंग वन साउथ इनके समथिंग तो आपको इसको जरूर खरीदना चाहिए अगला जो हमारा चेहरा है वह मुथूट फाइनेंस इसका जवाब रिटर्न्स रिटर्न्स अच्छा है एचडी रेड अच्छी है और जो है मुथूट फाइनेंस जो है गोल्ड पर लोन देती है अभी कुछ दिनों पहले आरबीआई ने कहा है कि अगर आपके पास है क्या कर लूंगा अगर उसकी मान्यता है वैल्यू है तो 90% चांसेस है कि आपको मुथूट फाइनेंस मिल सकता है जिस कारण इसमें ग्राहकों की संख्या बढ़ेगी और इसका फायदा होगा जिसके फिर शेयर बढ़ेंगे नोट रिलैक्सेशन और इस केस में किसी प्रकार का ज्यादा कोई खतरा नहीं है इसके पीछे का कारण है मुथूट फाइनेंस की भर्ती वैल्यू आरबीआई ने इसको जो है वर्तमान में अच्छा रिस्पांस दिया है जिस कारण इसमें जो है पॉजिटिविटी आ रही है और धीरे-धीरे इसकी कस्टमर बड़ा है अगर आप अभी आप इस शेयर को खरीद लोगे 1 साल 2 साल 2 साल बाद आपको उसका जबरदस्त रिटर्न मिलेगा तो यह है कुछ दिन के बारे में मैंने आपको अपनी जानकारी शेयर की दोस्तों अगर और भी ज्यादा टाइम होता तो मैं आपको और ज्यादा बताता जय माता दी जय हिंदुस्तान
Krshn ke stok maarket mein kaun-kaun se shahar bhaaree munaapha de sakate hain to doston ne ki unamen se pramukh hai rilaayans indastreej rilaayans praivet limited aisa haalaanki is samay jo hai thoda haee leval par hai lekin doston agar kaheen isake ret gir rahe ho to aap khud le lena chaahie kyonki vartamaan mein jo hai kaheen badee-badee kampaniyon ne is par jo haaph lain mein invest kiya jaise ki googal phesabuk ka aur bhee kaee kampaniyon ne rilaayans jio par jo hai inavest kiya aisa isalie kyonki 5g teknolojee aane ke baad ke kastamars badhenge aur isakee jo hai kaaphee achchha ritarn milega aage jaane ke baad aur jo doosaree meree jo kampanee hai jo man mein hai too hai bajaaj phainens to doston abhee aapane dekha hoga ki bajaaj phainens mein kitana jabaradast set kiya hai aur kitana aage to kuchh ke sheyar gae hain haalaanki beech mein kuchh giraavat dekhee gaee thee lekin usake baad kaaphee had tak oopar gaya hai haan agar baeesoya 2000 ke samathing agar aapako yah giraavat ke saath milata hai to jaroor khareedana chaahie kyonki aage chalakar bajaaj phainens kis jabaradast railee hone vaalee hai teesara hai aaeeaaraseeteesee aaeeaaraseeteesee jo hai gavarnament kampanee hai kyonki aaeeaaraseeteesee gavarnament jo kampanee hai to yahaan gavarnament ko jo holding nikaalenge usamen is samay sthiti mein sheyar kaaphee had tak neeche chal rahe isake peechhe ka kaaran hai ki gavarnament ko saaph aur paison kee jaroorat hai aur sarakaar ho sakata hai ki 90 se neeche ka jo ritarn de sakatee hai aur usake baad jo hai aapane dekha hoga ki beech mein 7275 ke aasapaas kee yah jo hai isakee ret aaee thee kyonki gavarnament ko paise kee sakht jaroorat hai to gavarnament aur bhee isako neeche laegee us samay aapako is sheyar khareedana hai aaeeaaraseeteesee aur sarakaar isake oopar kuchh nae pheechars daalegee to isakee vailyoo aage chalakar badhegee aur gavarnament isase aapako achchha khaasa ritarn de aaeeaaraseeteesee philahaal thoda neeche hai holding mein gavarnament ka aprooval lekin agar 1000 se 1100 agar aapako milata hai kaheen par bhee to us par najar banae rakhiega isako dekhana jaroor chautha jo hamaara shauk hai vah hai esabeeaee kaard chaiting mein jab isakee ej limit aaee thee vah saare 700 se 800 ke samathing aaya tha yah aur oopar nahin uth pa raha tha to logon ka vishvaas hai sparsh badee maata aur kam se kam lo prais mein 495 khabaren aaya tha aur kaaphee samay tak 500 ke aasapaas ke tred kar raashan kaard hai jo phainens kredit kaard bana detee hai vah aane vaale samay mein sabase bada isaka phyoochar hai kyonki esabeeaee ke kastamar desh mein 40 karod hai sone ka bahut jabaradast uchhaal dekhane ko milega ab isaka ret 600 se kareeban 700 pad raha hai agar aap isako phinaal lete hain to aapako duganee nahin chaar gunee ritesh ka jabaradast beniphit milega isake peechhe ka kaaran hai ki esabeeaee ke bahut jabaradast graahak hai isalie esabeeaee mein apana kaard nikaala tha na ki is kahaanee mein jo braitanes badha mahanga chalata hai jaise aapako giraavat mein isaka prais mainne van thaujend 80 ke samathing van sauth inake samathing to aapako isako jaroor khareedana chaahie agala jo hamaara chehara hai vah muthoot phainens isaka javaab ritarns ritarns achchha hai echadee red achchhee hai aur jo hai muthoot phainens jo hai gold par lon detee hai abhee kuchh dinon pahale aarabeeaee ne kaha hai ki agar aapake paas hai kya kar loonga agar usakee maanyata hai vailyoo hai to 90% chaanses hai ki aapako muthoot phainens mil sakata hai jis kaaran isamen graahakon kee sankhya badhegee aur isaka phaayada hoga jisake phir sheyar badhenge not rilaikseshan aur is kes mein kisee prakaar ka jyaada koee khatara nahin hai isake peechhe ka kaaran hai muthoot phainens kee bhartee vailyoo aarabeeaee ne isako jo hai vartamaan mein achchha rispaans diya hai jis kaaran isamen jo hai pojitivitee aa rahee hai aur dheere-dheere isakee kastamar bada hai agar aap abhee aap is sheyar ko khareed loge 1 saal 2 saal 2 saal baad aapako usaka jabaradast ritarn milega to yah hai kuchh din ke baare mein mainne aapako apanee jaanakaaree sheyar kee doston agar aur bhee jyaada taim hota to main aapako aur jyaada bataata jay maata dee jay hindustaan

#जीवन शैली

bolkar speaker
कुछ लोग अपने जिंदगी में करना बहुत चाहते हैं पर कुछ भी नहीं कर पाते ऐसा क्यों?Kuch Log Apne Jindagi Mein Karna Bahut Chahate Hain Par Kuch Bh Nahin Kar Paate Aisa Kyun
Deepak Perwani7017127373 Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Deepak जी का जवाब
Job
4:50
कुछ लोग अपनी जिंदगी में करना बहुत चाहते हैं पर कुछ भी नहीं कर पाते ऐसा क्यों तो दोस्तों इसके पीछे का कारण है आपका कमजोर पराक्रम क्योंकि जो आप करना चाहते हैं वह आपकी चाहत है जबकि उस कार्य को आप को पूरा करना है वह आपका कर्म यानी कि आपका पराक्रम है आप बने कितना भी कुछ करना क्यों नहीं चाहते हो लेकिन जब तक आपका पराक्रम सही ढंग से आपका काम नहीं करेगा पराक्रम आपका शरीर काम नहीं है तब तक कोई भी इंसान कुछ नहीं कर पाता है इसीलिए जिस चीज की चाहत रखते हो और चाहत को पूरा करने की आप को साथ में साथ में शक्ति भी रखनी चाहिए दूसरा है मोटिवेशन मोटिवेशन का मतलब कि आपको कोई जो है गाइड करने वाला नहीं होता आपको कोई यह कॉन्फिडेंट चलाने वाला नहीं होता है कोई मोटिवेशन दिलाने वाला ऐसा नहीं होता है जो कि आपके द्वारा की हुई इच्छाओं और जो है चाहतों को पूरा करने में मदद कर सके कई बार ऐसा होता है कि बहुत से लोग की चाहत होती मैं यह करो वह करो लेकिन दोस्त उसे चाहत जो करता है उसके पीछे का उसे ज्ञान नहीं होता है कि वह हम काम करें कैसे जिस कारण उससे एक ऐसे व्यक्ति की जरूरत होती है उस समय जो उसे उस काम के प्रति उसी का ज्ञान देने वाला होना चाहिए और उसे वह मोटिवेशन देने वाला होना चाहिए और कॉन्फिडेंट देने वाला होना चाहिए तब कोई भी कार्य सफल होता है तीसरा है कर्म और संकल्प बहुत से लोग ऐसे होते हैं कि मैं इस लाइन में जाऊंगा मैं यह काम करूंगा या कुछ भी यह कोई भी कार्य करने से पहले उसकी कल्पना है तो करते हैं परंतु उस प्रकार का कर्म नहीं करते हैं कर्म जब तक कोई नहीं करेगा जब तक जो है वह कार्य संभव नहीं होगा क्योंकि ऋषि मुनियों ने कहा है कि कर्म प्रधान विश्व याद आती राजा यानी कि कर्म में ही सारी चीजें छुपी हुई है जब तक आप किसी चीज का कल नहीं करोगे तब तक वह चीज आपके सामने आपके हाथ में नहीं आएगी आप चाहते तो बहुत रखते हैं लेकिन मेहनत नहीं करते हैं तो चाहत कैसे पूरी होगी क्योंकि चाहत से करने में और मेहनत करने में बहुत अंतर होता है आदमी कोई भी कार्य हो कैसा भी कार्य हो सफलता आपको तभी मिलेगी जब आप उन चाहतों को पूरा करने में पराक्रम करते हैं बिना पराक्रम के कुछ नहीं होने वाला होता है संकल्प शक्ति कहते हैं कि किसी भी चीज की चाहत करने और संकल्प करने में बहुत अंतर होता है चाहते तो कोई भी कर सकता है कि मैं यह भी बन जाऊं वह भी बन जाओ लेकिन संकल्प यानी कि जैसे हम सामान्य भाषा में कटक गांठ बांधना हम संकल्प नहीं करते कि यह कार्य हमें करना हां है तो करना ही है संकल्प हम कर लेते हैं किसी चीज का तो वहां पर हमारा प्रकृति भी साथ रहती है हमें इतनी शक्ति प्रदान करती है हम उस कार्य को करने में सक्षम हो इसीलिए सपने तो देखने चाहिए चाहते करनी चाहिए लेकिन चाहतों को पूरा करने के पीछे एक संकल्प होना चाहिए पांचवा है मकसद मकसद एक ऐसी चीज होती है कि आप जो काम कर रहे हो किसके लिए कर रहे हैं जैसे कि बहुत से लोग कहते हैं वह लोग कहते में जी रहा हूं किसके लिए जी रहा हूं या मैं कुछ काम कर रहा हूं अपने लिए परिवार के लिए फैमिली के लिए कर रहा हूं या लड़की के लिए कर रहा किसके लिए कर रहा हूं तो एक जो है मकसद जिंदगी का होना चाहिए क्योंकि मकसद होने से भी होता है कि व्यक्ति को जो है जीने की चाहत में जीने की चाहत मिलेगी तो आपको कुछ करने की चाहत में लगी मान लीजिए कि आप की कोई अच्छी गर्लफ्रेंड है ठीक है या माता-पिता है या कुछ भी आप अपने जीवन में उनके लिए कुछ करना चाहते हैं तो आपको एक शक्ति मिलेंगे एक ताकत मिलती है कि हां भाई बहन के लिए कुछ करूंगा तो जो है मुझे एक जीने का मकसद है मैं अपने लिए जी लूंगा या किसके लिए जिऊंगा या मैं किसके लिए जी रहा हूं उसके लिए मकसद होना चाहिए क्योंकि ऐसा करने से इंसान को अपनी जिंदगी को जीने का एक मकसद मिल जाता है एक रास्ता मिल जाता है कि मैं किस और आगे बढ़ रहा हूं मैं मान लूं आपकी जिंदगी में कोई अच्छी सी लड़की आ गई ठीक है और आप जो है उसके लिए जी रहे हैं अगर आपको लगे कि वह लड़की अच्छी है जिंदगी में मेरा सहारा बनेगी तो आप हर जरूरी कोशिश करोगे उसको पाने के लिए आप पराक्रम करोगे मेहनत करोगे सब चीजें प्राप्त करने की कोशिश करोगे यह कुछ बातें जिससे हम जानते हैं कि
Kuchh log apanee jindagee mein karana bahut chaahate hain par kuchh bhee nahin kar paate aisa kyon to doston isake peechhe ka kaaran hai aapaka kamajor paraakram kyonki jo aap karana chaahate hain vah aapakee chaahat hai jabaki us kaary ko aap ko poora karana hai vah aapaka karm yaanee ki aapaka paraakram hai aap bane kitana bhee kuchh karana kyon nahin chaahate ho lekin jab tak aapaka paraakram sahee dhang se aapaka kaam nahin karega paraakram aapaka shareer kaam nahin hai tab tak koee bhee insaan kuchh nahin kar paata hai iseelie jis cheej kee chaahat rakhate ho aur chaahat ko poora karane kee aap ko saath mein saath mein shakti bhee rakhanee chaahie doosara hai motiveshan motiveshan ka matalab ki aapako koee jo hai gaid karane vaala nahin hota aapako koee yah konphident chalaane vaala nahin hota hai koee motiveshan dilaane vaala aisa nahin hota hai jo ki aapake dvaara kee huee ichchhaon aur jo hai chaahaton ko poora karane mein madad kar sake kaee baar aisa hota hai ki bahut se log kee chaahat hotee main yah karo vah karo lekin dost use chaahat jo karata hai usake peechhe ka use gyaan nahin hota hai ki vah ham kaam karen kaise jis kaaran usase ek aise vyakti kee jaroorat hotee hai us samay jo use us kaam ke prati usee ka gyaan dene vaala hona chaahie aur use vah motiveshan dene vaala hona chaahie aur konphident dene vaala hona chaahie tab koee bhee kaary saphal hota hai teesara hai karm aur sankalp bahut se log aise hote hain ki main is lain mein jaoonga main yah kaam karoonga ya kuchh bhee yah koee bhee kaary karane se pahale usakee kalpana hai to karate hain parantu us prakaar ka karm nahin karate hain karm jab tak koee nahin karega jab tak jo hai vah kaary sambhav nahin hoga kyonki rshi muniyon ne kaha hai ki karm pradhaan vishv yaad aatee raaja yaanee ki karm mein hee saaree cheejen chhupee huee hai jab tak aap kisee cheej ka kal nahin karoge tab tak vah cheej aapake saamane aapake haath mein nahin aaegee aap chaahate to bahut rakhate hain lekin mehanat nahin karate hain to chaahat kaise pooree hogee kyonki chaahat se karane mein aur mehanat karane mein bahut antar hota hai aadamee koee bhee kaary ho kaisa bhee kaary ho saphalata aapako tabhee milegee jab aap un chaahaton ko poora karane mein paraakram karate hain bina paraakram ke kuchh nahin hone vaala hota hai sankalp shakti kahate hain ki kisee bhee cheej kee chaahat karane aur sankalp karane mein bahut antar hota hai chaahate to koee bhee kar sakata hai ki main yah bhee ban jaoon vah bhee ban jao lekin sankalp yaanee ki jaise ham saamaany bhaasha mein katak gaanth baandhana ham sankalp nahin karate ki yah kaary hamen karana haan hai to karana hee hai sankalp ham kar lete hain kisee cheej ka to vahaan par hamaara prakrti bhee saath rahatee hai hamen itanee shakti pradaan karatee hai ham us kaary ko karane mein saksham ho iseelie sapane to dekhane chaahie chaahate karanee chaahie lekin chaahaton ko poora karane ke peechhe ek sankalp hona chaahie paanchava hai makasad makasad ek aisee cheej hotee hai ki aap jo kaam kar rahe ho kisake lie kar rahe hain jaise ki bahut se log kahate hain vah log kahate mein jee raha hoon kisake lie jee raha hoon ya main kuchh kaam kar raha hoon apane lie parivaar ke lie phaimilee ke lie kar raha hoon ya ladakee ke lie kar raha kisake lie kar raha hoon to ek jo hai makasad jindagee ka hona chaahie kyonki makasad hone se bhee hota hai ki vyakti ko jo hai jeene kee chaahat mein jeene kee chaahat milegee to aapako kuchh karane kee chaahat mein lagee maan leejie ki aap kee koee achchhee garlaphrend hai theek hai ya maata-pita hai ya kuchh bhee aap apane jeevan mein unake lie kuchh karana chaahate hain to aapako ek shakti milenge ek taakat milatee hai ki haan bhaee bahan ke lie kuchh karoonga to jo hai mujhe ek jeene ka makasad hai main apane lie jee loonga ya kisake lie jioonga ya main kisake lie jee raha hoon usake lie makasad hona chaahie kyonki aisa karane se insaan ko apanee jindagee ko jeene ka ek makasad mil jaata hai ek raasta mil jaata hai ki main kis aur aage badh raha hoon main maan loon aapakee jindagee mein koee achchhee see ladakee aa gaee theek hai aur aap jo hai usake lie jee rahe hain agar aapako lage ki vah ladakee achchhee hai jindagee mein mera sahaara banegee to aap har jarooree koshish karoge usako paane ke lie aap paraakram karoge mehanat karoge sab cheejen praapt karane kee koshish karoge yah kuchh baaten jisase ham jaanate hain ki

#जीवन शैली

bolkar speaker
कॉम्बिफ्लेम टेबलेट का उपयोग कब और कैसे करना चाहिए?Combiflame Tablet Ka Upyog Kab Aur Kaise Karna Chahiye
Deepak Perwani7017127373 Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Deepak जी का जवाब
Job
1:38
कॉन्बिफ्लेम टेबलेट का उपयोग कब और कैसे करना चाहिए तो 200 देखिए कॉन्बिफ्लेम टेबलेट है वह दर्द की टेबलेट है जब किसी शरीर के किसी हिस्से में दर्द हो रहा हो या पूरे शरीर में दर्द हो रहा हूं अगर आपके शरीर में हाथ पैरों में दर्द हो या ज्यादा जो है पीठ में या कंट्री कमर हिस्से में कमर के साथ कहीं पर भी दर्द हो तो कंप्लेंट टेबलेट का उपयोग करना चाहिए वैसे इस टेबलेट टेबलेट का उपयोग हो बिना दूध से करें तो और अच्छा होता यह है कि कई बार हमारे शरीर में कैल्शियम की कमी के कारण भी कई हिस्सों में दर्द होता है तो अगर इसका उपयोग प्रकरण दूध से करते हैं तो आपका जो है जो एक गोली है फिलहाल दर्द शांत करेगी और जो दूध का हिसाब जो है वह कैल्शियम बनाई है कि ज्यादा आराम मिलता है लेकिन अगर आपको एक तरफा दर्द है जैसे कितने का एक पैर है एक साइड का जो दर्द है उसमें टेबलेट आप ना लें क्योंकि पहले आपको डॉक्टर को दिखाना चाहिए क्योंकि यह जो पेन होता है वह दो तीन तरीके कहां पर हो सकता है जैसे पैरालाइसिस हार्ट अटैक आफ सर्वाइकल अथवा सर्वाइकल सर्वाइकल का अधिकांश जो छोटी-छोटी बच्चों में भी देखा जा रहा है सर्वाइकल का दर्द अगर इस तरीके का कोई दर्द है आप जो है इस टेबलेट का प्रयोग ना करें पहले डॉक्टर से सलाह ले बाकी अनारकली कैसे दर्द होता है जैसे कि कमर वगैरह में काम करने से जो थकावट होती है हमें कावट का दर्द है यहां वीकनेस का दर्द है तो आप चूहे इस टैबलेट का उपयोग कर सकते हैं धन्यवाद जय माता दी जय हिंदुस्तान
Konbiphlem tebalet ka upayog kab aur kaise karana chaahie to 200 dekhie konbiphlem tebalet hai vah dard kee tebalet hai jab kisee shareer ke kisee hisse mein dard ho raha ho ya poore shareer mein dard ho raha hoon agar aapake shareer mein haath pairon mein dard ho ya jyaada jo hai peeth mein ya kantree kamar hisse mein kamar ke saath kaheen par bhee dard ho to kamplent tebalet ka upayog karana chaahie vaise is tebalet tebalet ka upayog ho bina doodh se karen to aur achchha hota yah hai ki kaee baar hamaare shareer mein kailshiyam kee kamee ke kaaran bhee kaee hisson mein dard hota hai to agar isaka upayog prakaran doodh se karate hain to aapaka jo hai jo ek golee hai philahaal dard shaant karegee aur jo doodh ka hisaab jo hai vah kailshiyam banaee hai ki jyaada aaraam milata hai lekin agar aapako ek tarapha dard hai jaise kitane ka ek pair hai ek said ka jo dard hai usamen tebalet aap na len kyonki pahale aapako doktar ko dikhaana chaahie kyonki yah jo pen hota hai vah do teen tareeke kahaan par ho sakata hai jaise pairaalaisis haart ataik aaph sarvaikal athava sarvaikal sarvaikal ka adhikaansh jo chhotee-chhotee bachchon mein bhee dekha ja raha hai sarvaikal ka dard agar is tareeke ka koee dard hai aap jo hai is tebalet ka prayog na karen pahale doktar se salaah le baakee anaarakalee kaise dard hota hai jaise ki kamar vagairah mein kaam karane se jo thakaavat hotee hai hamen kaavat ka dard hai yahaan veekanes ka dard hai to aap choohe is taibalet ka upayog kar sakate hain dhanyavaad jay maata dee jay hindustaan

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
माता सती से उत्पन्न कितनी शक्तिपीठ हैं विस्तार से बताओ?Mata Sati Se Utpann Kitnei Shaktipeeth Hain Vistaar Se Btao
Deepak Perwani7017127373 Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Deepak जी का जवाब
Job
4:26
माता सती के उत्पन्न कितने शक्तिपीठ हैं विस्तार से बताओ तो दोस्तों देकर सेवक महाशिवपुराण और देवी पुराण के अनुसार माता के 51 शक्ति पीठ है उनके नाम इस प्रकार इलाज शक्तिपीठ पाकिस्तान कराची कामाख्या शक्तिपीठ असम दिसपुर तीसरे चक्र अरे शक्तिपीठ कराची पाकिस्तान सुगंधा सुनंदा बांग्लादेश का शिकारपुर में चौथा है कश्मीर महामाया कश्मीर के पहलगाम में है यह शक्ति पांचवा है ज्वालामुखी सिद्दीका हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा में शक्तिपीठ से ज्वालाजी भी कहते हैं आठवां है जालंधर त्रिपुरमालिनी पंजाब के जालंधर में शक्तिपीठ सातवां है वैद्यनाथ जय दुर्गा यह जो है झारखंड में है देवघर में झारखंड के देवघर आठवां है नेपाल के पशुपतिनाथ मंदिर के पास बना गुजरे गुजरे श्वरी मंदिर ईश्वरी शक्ति पीठ अनुष्का शर्मा श्री जावरा क्षेत्र उड़ीसा के उत्कल स्थित जगह पर धारावाहिक गंडकी नेपाल में गंडकी नदी के किनारे पर एक मुक्तिनाथ मंदिर बना हुआ वह माता का शक्तिपीठ है तेरा मां है बहुला चंडी का भारत के पश्चिम बंगाल में स्थित वर्तमान जिला में कटवा के 2 ग्राम पर शक्तिपीठ है इसका नाम है बाबूलाल चंडी चाहता है उज्जैनी बाहुल्य चंडी का भारत के पश्चिम बंगाल में से वर्तमान जिले में घुसकर स्टेशन के पास ही शक्ति पीठ है इंद्र मां त्रिपुरा त्रिपुर सुंदरी भारत के राज्य त्रिपुरा में त्रिपुरा के उदयपुर राज्य में 16 चप्पल भवानी डिजिटल भवानी है यह बांग्लादेश के चटगांव में सीतापुर स्टेशन पर 17 17 17 बराबरी भारतीय राज्य पश्चिम बंग लाल के जलपाईगुड़ी में स्थित है अट्ठारह है प्रयाग ललिता भारतीय राज्य उत्तर प्रदेश इलाहाबाद के संगम तट पर है 19 में युवा दिया भूत धात्री भारतीय राज्य पश्चिम बंगाल के वर्तमान जिले टू वर्धमान जिले के खेड़ी ग्राम स्थित जो है गांव में है और भी चाहे जयंती बांग्लादेश के सिलहट जिले में यह स्थिति जयंती शक्तिपीठ 21वां कालीपीठ काली का कोलकाता के काली पीठ काली का कोलकाता के काली घाट पर विश्वास है कि रीट में मिला बमलेश्वरी भारतीय राज्य पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद जिले में है यह 23 माय वाराणसी विशालाक्षी उत्तर प्रदेश के काशी में मणिकर्णिका घाट पर शक्तिपीठ 24 माहे कन्याश्रम सर्वानी 25वां है कुरुक्षेत्र सावित्री यह हरियाणा के कुरुक्षेत्र में है शक्तिपीठ 26 वां है देवी गायत्री जो कि राजस्थान के अजमेर में पुष्कर सरोवर के पास 27 वां है श्रीशैल महालक्ष्मी बांग्लादेश किस सिलहट में है यह फैसला है कांची देव गरबा पश्चिम बंगाल के बीरभूम जिले में है 30 महाकाल माधव देवी काली के मध्य प्रदेश के अमरकंटक में हरीश महेश और देश नर्मदा 84 एमपी मध्य प्रदेश अमरकंटक में 138 कहां है रामगिरी शिवानी उत्तर प्रदेश के झांसी के मणिपुर मणिपुर स्टेशन 32 वा है वृंदावन उमा जो कि उत्तर प्रदेश के मथुरा में खेती सुनील शेट्टी नारायण यह तमिलनाडु के कन्या कन्याकुमारी के तिरुअनंतपुरम में 34 आहे पंच सागर वाराही 35 वा है कर दो या तक अपर्णा यह बांग्लादेश के शेरपुर बागला स्टेशन पर श्री पर्वत श्री सुंदरी कश्मीर के लद्दाख में है या 38 वह विभास कपालिनी पश्चिम बंगाल के जिला पूर्वी मेदिनीपुर 38 वां है प्रभाष चंद्रभागा गुजरात के जूनागढ़ में है यह 399 है भैरव पर्वत अवंती मध्य प्रदेश के उज्जैन में जन्म स्थान भ्रामरी महाराष्ट्र के नासिक में शक्तिपीठ चालीसवां है सर्व संस्थान आंध्र प्रदेश से राजापुर के लिए एकता निस्सहाय गोदावरी तीरथ माता के दक्षिण गणित प्रश्नावली कुमारी

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
क्या लड़कियों को चिकने लड़के पसंद आते हैं?Kya Ladkiyo Ko Chikne Ladke Pasand Aate Hai
Deepak Perwani7017127373 Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Deepak जी का जवाब
Job
2:24
प्रश्न है क्या लड़कियों को कितने लड़के पसंद आते हैं तो दोस्तों दिखे ऐसा कुछ भी नहीं है हां थोड़ा बहुत प्रभाव न जॉय स्किन का या फिर स्मार्टनेस का पड़ता है लेकिन यह नहीं कह सकते कि जितने लड़की पसंद आते हैं क्योंकि लड़कियां हमेशा लड़के के अंदर सारी वहां देखती है कि उसका उठना बैठना कैसा है कम बात करने का तरीका कैसा है उसमें टेंडर पंड कैसा है कब पहनावा कैसा है उसकी सोच कैसी है वह मेरी रिश्वत वह लड़की सोचेगी वह मेरी रिस्पेक्ट कितनी करता है यह सारी चीजें जब देखती है तो वह लड़की अपनी सिर्फ की तुलना करके देखती है अगर यह सारी चीजें फिट बैठती है उसके ऊपर तब जाकर लड़की दोस्ती का हाथ आगे बढ़ाते वैसे कई बार ऐसा होता है कि लड़कियों को उस बांटने उसका जो है पसंद आते हैं कि स्मार्ट लड़की होनी चाहिए गोरे होने चाहिए लेकिन हर बार ऐसा भी होता है लड़कियां और भी कई क्वालिटी लड़कों के अंदर देखते हैं तब जाकर छुपे दोस्ती का हाथ आगे बढ़ाते लड़कियां सबसे मेन चीज देखती अपनी रिस्पेक्ट देखती हैं कि जिस लड़की को मैं चाहती हूं जो लड़का मतलब जो मुझे पसंद है वह मेरी रिश्ते कितनी करता है मेरी इज्जत करती करता है और जो मेरी फीलिंग है उसको किस प्रकार से वह समझता है कि शक्ल से देखता है वह मेरे प्रति कितनी सकारात्मक सोच आने की पॉजिटिव थिंकिंग कितनी कितनी रखता है वह सारी चीजें देखने के बाद तब लड़की जो है क्या करती है कि हां भाई जो है यह लड़का जो है मेरे लायक है मेरी कैटेगरी का है क्योंकि हम यह कह दे कि गोरे होने पर ही आशिक ने होने पर ही लड़कियां जो पसंद करती है तो यह कहना गलत है कि कुछ सारी जो है अगर कोई लड़का किसी लड़की को सभी एंगल से जो है पॉजिटिव थिंकिंग लड़की को आती है यानी कि सकारात्मक सोच अगर किसी लड़की के लड़के के प्रति किसी लड़की को आती है तो समझ लीजिए कि लड़की उसे पसंद करती है फिर वह चाहे काला हो उसे गोरा हो चाहे कुछ भी हो लड़कियां खाली बस उनके अंदर उनकी पांच है क्वालिटी देती है कि वह मेरे लायक है या नहीं जय माता दी जय हिंदुस्तान
URL copied to clipboard