#undefined

bolkar speaker
क्या भलाई करने से भलाई मिलती है?Kya Bhalai Karne Se Bhalai Milti Hai
J.P. Y👌g i Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए J.P. जी का जवाब
Unknown
5:00
वास्तव में यह प्रश्न पूछा है क्या भलाई करना सेवालाई मिलते हैं बेशक लाइक करने से भलाई मिलती है लेकिन कई लोग कुछ तो के के असल में इस बात को नेट पैक करते हैं कि भलाई करने में कोई लाभ नहीं है लेकिन कोई भी कर्म करने से पूर्व वह पहले चांदी के सिद्धांत बनाना जरूरी है कि जैसे कि नेकी कर कुएं में डाल क्योंकि कर्म में सिर्फ अपने आत्म संतुष्टि जाती है और उसी के एवज में प्रतिक्रिया होती है जो किसी का प्रयोग द्वारा बनाई करते हैं और दूसरी बात यह है कि अगर स्वास्थ्य की सफाई करने में मुझे रिया मुकुल लाभ हो सकता है वह तो आता ही रहा है और उसमें कुछ ना पिक्चर फ्री चीजें आने लगती है तो उसे निभाते रहना चाहिए और दूसरी बार इस तरह का ही प्रयोजन दांत दिखा कर आ जाता है तो उसको चीजें इस्तेमाल की जाती है कि मुझे गिफ्ट में आ रहा है और मैं इसमें से कुछ अंश उनको भी दे रहा हूं जिनको जरूरत है वह अपना कल्याणकारी सहयोग में अपनी सेवा को तत्परता दिखाते हैं और आत्म संतुष्टि बात है तो इस तरह की भलाई करने से एक कि हम जो भी कुछ कर रहे हैं उसका मतलब नहीं होता है लेकिन हमारे हाथ पकड़ता की भावनाएं कल्याण हमारे जीवन का एक कर्तव्य परवाह है और प्रमाण के रूप में अपने कार्य को प्रसार मिला और सुनील गंगा पुल का निर्माण होता है एक सेवा भाव के मान से चलता है बेशक दूसरों की प्रवृत्ति क्या है मुस्लिम 38 साल में हमें चाहत नहीं होती है कि हमने उसके साथ मना करा है और वह तो है हमें बाला करने के लिए तत्पर होगा यह बातें रखी नहीं जाते लेकिन युक्ति अपनी सामर्थ्य डिपेंड करता है और वह सामान बंधी होती है क्योंकि वह हर चीज प्रसाद के रूप में वितरित करता है और उसमें लड़ाई करने की अपनी युक्ति भावना नहीं रखता कि अगर मैंने ऐसा कर भी दिया है तो मैं किसे इंकार वचन नहीं करना जारी करने के उद्देश्य से और उनमें अपने आदमी की लड़ाई के संबंध को अटूट कार्य करता है और यह भगवान की भी प्रयुक्त होती है जो इंसान भलाई करता है उसे श्रद्धा कहीं ना कहीं से संरक्षण विधि से जो नागिन होते हैं कि हम भलाई करने जा रहे हैं उसका प्रतिफल शीघ्र मिलेगा ऐसी भावनाओं के साथ में कार्यकर्ताओं ने अवश्य परिणामों के प्रति चिंता हाथी के बच्चे क्या हुआ जो भी तो होते रहते हैं तो यह कोई कारण नहीं बनता लेकिन वह कहता है जो प्रश्न आया है बालाजी से पढ़ाई निश्चित ही मिलते हैं क्यों मिलता है चाहे देर हो लेकिन अंधेर नहीं होता है उनके कर्मों के की हाल है उसको काट ले जाएगा वैसे वह है यह निर्भर रहता है क्योंकि वह खराब हुई किशोरी देने से आस्था के करता है काम करता है या मानवता की संवेदनाएं निशानियां होती है उसके आधार पर कार्य करता है और लोकप्रिय पात्र बनते हैं अवश्य क्योंकि लोगों की सेवा करता है और अपने शिक्षकों से अपने आप को स्वस्थ रखता है दूसरे को ईमानदार धन्यवाद अजय भैया आप सबको शुभकामनाएं
Vaastav mein yah prashn poochha hai kya bhalaee karana sevaalaee milate hain beshak laik karane se bhalaee milatee hai lekin kaee log kuchh to ke ke asal mein is baat ko net paik karate hain ki bhalaee karane mein koee laabh nahin hai lekin koee bhee karm karane se poorv vah pahale chaandee ke siddhaant banaana jarooree hai ki jaise ki nekee kar kuen mein daal kyonki karm mein sirph apane aatm santushti jaatee hai aur usee ke evaj mein pratikriya hotee hai jo kisee ka prayog dvaara banaee karate hain aur doosaree baat yah hai ki agar svaasthy kee saphaee karane mein mujhe riya mukul laabh ho sakata hai vah to aata hee raha hai aur usamen kuchh na pikchar phree cheejen aane lagatee hai to use nibhaate rahana chaahie aur doosaree baar is tarah ka hee prayojan daant dikha kar aa jaata hai to usako cheejen istemaal kee jaatee hai ki mujhe gipht mein aa raha hai aur main isamen se kuchh ansh unako bhee de raha hoon jinako jaroorat hai vah apana kalyaanakaaree sahayog mein apanee seva ko tatparata dikhaate hain aur aatm santushti baat hai to is tarah kee bhalaee karane se ek ki ham jo bhee kuchh kar rahe hain usaka matalab nahin hota hai lekin hamaare haath pakadata kee bhaavanaen kalyaan hamaare jeevan ka ek kartavy paravaah hai aur pramaan ke roop mein apane kaary ko prasaar mila aur suneel ganga pul ka nirmaan hota hai ek seva bhaav ke maan se chalata hai beshak doosaron kee pravrtti kya hai muslim 38 saal mein hamen chaahat nahin hotee hai ki hamane usake saath mana kara hai aur vah to hai hamen baala karane ke lie tatpar hoga yah baaten rakhee nahin jaate lekin yukti apanee saamarthy dipend karata hai aur vah saamaan bandhee hotee hai kyonki vah har cheej prasaad ke roop mein vitarit karata hai aur usamen ladaee karane kee apanee yukti bhaavana nahin rakhata ki agar mainne aisa kar bhee diya hai to main kise inkaar vachan nahin karana jaaree karane ke uddeshy se aur unamen apane aadamee kee ladaee ke sambandh ko atoot kaary karata hai aur yah bhagavaan kee bhee prayukt hotee hai jo insaan bhalaee karata hai use shraddha kaheen na kaheen se sanrakshan vidhi se jo naagin hote hain ki ham bhalaee karane ja rahe hain usaka pratiphal sheeghr milega aisee bhaavanaon ke saath mein kaaryakartaon ne avashy parinaamon ke prati chinta haathee ke bachche kya hua jo bhee to hote rahate hain to yah koee kaaran nahin banata lekin vah kahata hai jo prashn aaya hai baalaajee se padhaee nishchit hee milate hain kyon milata hai chaahe der ho lekin andher nahin hota hai unake karmon ke kee haal hai usako kaat le jaega vaise vah hai yah nirbhar rahata hai kyonki vah kharaab huee kishoree dene se aastha ke karata hai kaam karata hai ya maanavata kee sanvedanaen nishaaniyaan hotee hai usake aadhaar par kaary karata hai aur lokapriy paatr banate hain avashy kyonki logon kee seva karata hai aur apane shikshakon se apane aap ko svasth rakhata hai doosare ko eemaanadaar dhanyavaad ajay bhaiya aap sabako shubhakaamanaen

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
वर्तमान समय में भारत के युवाओं की मनोदशा क्या है?Vartman Samay Me Bharat Ke Yuvao Ki Manodasha Kya Hai
J.P. Y👌g i Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए J.P. जी का जवाब
Unknown
4:18
किशन है वर्तमान समय में भारत के युवाओं की मनोदशा क्या है युवा का अर्थ होता है कि उनका ही कर्म ब्लड होता है शोधकर्ताओं का मानना है वह शिक्षक भर्ती में समाज और दुनिया से चुपके सम्मुख प्रदर्शन होता है उसको अनुकरण में लेता है तो उसे अजीत और पाश्चात्य सभ्यता के योग का प्रभाव है और आज के वर्तमान युग में उसकी में नरगिस के अंदर व्यस्त ज्यादा होना पड़ता है और शारीरिक रूप से अपनी जो कला प्रदर्शन बंद करने का इंग्लिश न्यूज़ चैनल धार होता है तो यह सब प्रभाव डाल रहे हैं मनुष्य ने युवाओं के और जो आगे का जो भी होता है वे युवाओं के लिए अगर सत्ता पर प्रदर्शन में आता है और उसी के हिसाब से आगे की ओर बढ़ते हैं और परिवर्तन डालते हैं युवाओं का जो आज के दौर में है जितना और इंटरनेट के खुलापन का एक प्लेटफार्म बनता जा रहा है उसमें मनोरंजन के व्यतिकरण के लिए सुगम हो रहा है और उसमें हर युवा वर्ग को पहले आता है और अच्छी बात है कि अंतर करने के अंदर जो प्रतिभा है उसको प्रदर्शन किया और अपने आप को संभाल सके ताकि कुछ गरमाया होती है जो एक संस्कृत अपने राष्ट्र से समाज से हमें रह गया ग्रुप से क्यों डरते हैं तो थोड़ा सा खेद होता है तो इसमें ही दिन तक करने वाले भी बहुत ही प्रशंसा के पात्र बनते हैं जो सम्मिश्रण में बहुत ही कुशलता से संविदा अपनी के तालमेल को समझ में बैठा कर के प्रस्तुतीकरण में जाहिर होता है व्यवस्था का कारण बनता है लेकिन यह है कि साथ साथ में जो हमारी संस्कृति और सभ्यता एक आदर्श मर्यादा मंदिर प्राण प्रतिष्ठा हो जाए तो बहुत ही अच्छा निष्कर्ष पर प्रदर्शन सनी लियोन ने बनेगा करीना कपूर के अंदर संस्कारों की सजगता बंद क्यों कर के वातावरण से भी पैंट के द्वारा भी प्रभावित करते हैं तो यह सारी चीजें हैं जो नियंत्रण में चढ़ने अधिकांश आगे आने वाली जनरेशन युवा वर्ग एवं फैशनेबल भी है और लेकिन जिस टाइम में अपनी संस्कृति को आगे बढ़ाकर के बीच लोकप्रियता बढ़ती है जिसका अनुमोदन ज्यादा लोग करते हैं कि आज के युग में रंजो प्रभाव पड़ रहा है उपाय शब्द शब्द का जरूरत पड़ता जा रहा है और इसी में नमक है लेकिन कुछ ना कुछ जो संस्कारों में नींद है मैं कभी भी अपने प्लेटफार्म को धन्यवाद मिलेंगे छोटे बच्चे पियोगे
Kishan hai vartamaan samay mein bhaarat ke yuvaon kee manodasha kya hai yuva ka arth hota hai ki unaka hee karm blad hota hai shodhakartaon ka maanana hai vah shikshak bhartee mein samaaj aur duniya se chupake sammukh pradarshan hota hai usako anukaran mein leta hai to use ajeet aur paashchaaty sabhyata ke yog ka prabhaav hai aur aaj ke vartamaan yug mein usakee mein naragis ke andar vyast jyaada hona padata hai aur shaareerik roop se apanee jo kala pradarshan band karane ka inglish nyooz chainal dhaar hota hai to yah sab prabhaav daal rahe hain manushy ne yuvaon ke aur jo aage ka jo bhee hota hai ve yuvaon ke lie agar satta par pradarshan mein aata hai aur usee ke hisaab se aage kee or badhate hain aur parivartan daalate hain yuvaon ka jo aaj ke daur mein hai jitana aur intaranet ke khulaapan ka ek pletaphaarm banata ja raha hai usamen manoranjan ke vyatikaran ke lie sugam ho raha hai aur usamen har yuva varg ko pahale aata hai aur achchhee baat hai ki antar karane ke andar jo pratibha hai usako pradarshan kiya aur apane aap ko sambhaal sake taaki kuchh garamaaya hotee hai jo ek sanskrt apane raashtr se samaaj se hamen rah gaya grup se kyon darate hain to thoda sa khed hota hai to isamen hee din tak karane vaale bhee bahut hee prashansa ke paatr banate hain jo sammishran mein bahut hee kushalata se sanvida apanee ke taalamel ko samajh mein baitha kar ke prastuteekaran mein jaahir hota hai vyavastha ka kaaran banata hai lekin yah hai ki saath saath mein jo hamaaree sanskrti aur sabhyata ek aadarsh maryaada mandir praan pratishtha ho jae to bahut hee achchha nishkarsh par pradarshan sanee liyon ne banega kareena kapoor ke andar sanskaaron kee sajagata band kyon kar ke vaataavaran se bhee paint ke dvaara bhee prabhaavit karate hain to yah saaree cheejen hain jo niyantran mein chadhane adhikaansh aage aane vaalee janareshan yuva varg evan phaishanebal bhee hai aur lekin jis taim mein apanee sanskrti ko aage badhaakar ke beech lokapriyata badhatee hai jisaka anumodan jyaada log karate hain ki aaj ke yug mein ranjo prabhaav pad raha hai upaay shabd shabd ka jaroorat padata ja raha hai aur isee mein namak hai lekin kuchh na kuchh jo sanskaaron mein neend hai main kabhee bhee apane pletaphaarm ko dhanyavaad milenge chhote bachche piyoge

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है?Ijjat Dene Or Ijjat Karne Me Kya Antar Hai
J.P. Y👌g i Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए J.P. जी का जवाब
Unknown
1:58
प्रश्न आया चंदनवाड़ी चक्कर में क्या अंतर है शब्दों में संभावनाओं की पिक्चर निकली मां नर्मदा की कहानी चलती है कि जिस में उपस्थित सज्जन लिस्ट आएगी मेरे पास समान दिख रहा है कल नहीं का मतलब क्या हुआ बहुत कुछ प्रतिक्रिया होती है अर्थात उस को सम्मान पूर्वक अंजाम क्या चाहता है उसका मान क्या है उसके अनुसार उनका व्यवहार गणित करते हैं तो पसंद होता है शब्दों की जान लिया क्या करने और मेरी मेमोरी की मां की अगर किसान सम्मान की भावना है पगला गई है तो उसके प्रदर्शन पर होती है संगीत करते हैं कि यह व्यक्ति हमेशा लड़के की शादी होती है और संस्कार चारभुजा दर्शन करता है नंबर को पढ़ाता है धन्यवाद
Prashn aaya chandanavaadee chakkar mein kya antar hai shabdon mein sambhaavanaon kee pikchar nikalee maan narmada kee kahaanee chalatee hai ki jis mein upasthit sajjan list aaegee mere paas samaan dikh raha hai kal nahin ka matalab kya hua bahut kuchh pratikriya hotee hai arthaat us ko sammaan poorvak anjaam kya chaahata hai usaka maan kya hai usake anusaar unaka vyavahaar ganit karate hain to pasand hota hai shabdon kee jaan liya kya karane aur meree memoree kee maan kee agar kisaan sammaan kee bhaavana hai pagala gaee hai to usake pradarshan par hotee hai sangeet karate hain ki yah vyakti hamesha ladake kee shaadee hotee hai aur sanskaar chaarabhuja darshan karata hai nambar ko padhaata hai dhanyavaad

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
क्या घर में मंदिर बनाना उचित होता है?Kya Ghar Me Mandir Banana Uchit Hota Hai
J.P. Y👌g i Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए J.P. जी का जवाब
Unknown
3:10
किशन है क्या घर में मंदिर बनाना दशहरे मंदिर कभी बनाया नहीं जाता इसका यथार्थ सत्य है कि जिसके हृदय में हो चुके हैं कोई मजाक कर रही है अर्थात सरदार विश्वास के कारण उसके अंदर प्रबलता पड़ रही है और जो भावनात्मक उसका अनुक्रम है वह अंतिम चरण में ही सृजन होता है और जब मन का मंदिर सदन दर्शन हो जाता है तो वह किसी भी घर के कोने में या कहीं पर भी ऐसा सामान यूज करता है कि जिसमें मैं शांति केंद्र के रूप में स्थापित किया जाता है और बहुत कम ही होता है कि अगर घर में मंदिर की भी हो गई है तो यह बहुत ही श्रेष्ठ का संस्कार का सृजन करता है तो यही बात है कि मंदिर बना कोई खास विशेषता नहीं है लेकिन उससे पूर्व उसके अंदर का जादू पीला होना बहुत जरूरी होता है और यह संस्कार की सत्यनिष्ठा पर निश्चित रूप से सुनाओ घर में एक घंटा लगता है कि अपने भावनात्मक ऊर्जा का केंद्र कहां पर है क्योंकि चीज से हटकर के अंदर शेट्टी की भावनाओं को प्रेरित करता है और यह निश्चित होना ही चाहिए और एक समय और एक अस्पताल विनती करते हैं कि उसमें कोई प्रपोज नहीं रहना चाहती हैं तीनों साथ में अपने आप को टहल कर दो और व्यक्तिगत क्यों ऐसा हो सकता है और वह इसके प्रभु जी आप कुछ भी बनती है विकास के संदर्भ में एक और निर्णय जनता जागृत होती है यार बस समाज को और मीनाक्षी नदी में अपने आप को इस व्यवस्था का पान कराकर वाहिनी ग्रुप से औरों को भी लाभ पहुंचाता है और एक साथ का धन्यवाद मैं जेपीयू बोल कर एक स्कीम
Kishan hai kya ghar mein mandir banaana dashahare mandir kabhee banaaya nahin jaata isaka yathaarth saty hai ki jisake hrday mein ho chuke hain koee majaak kar rahee hai arthaat saradaar vishvaas ke kaaran usake andar prabalata pad rahee hai aur jo bhaavanaatmak usaka anukram hai vah antim charan mein hee srjan hota hai aur jab man ka mandir sadan darshan ho jaata hai to vah kisee bhee ghar ke kone mein ya kaheen par bhee aisa saamaan yooj karata hai ki jisamen main shaanti kendr ke roop mein sthaapit kiya jaata hai aur bahut kam hee hota hai ki agar ghar mein mandir kee bhee ho gaee hai to yah bahut hee shreshth ka sanskaar ka srjan karata hai to yahee baat hai ki mandir bana koee khaas visheshata nahin hai lekin usase poorv usake andar ka jaadoo peela hona bahut jarooree hota hai aur yah sanskaar kee satyanishtha par nishchit roop se sunao ghar mein ek ghanta lagata hai ki apane bhaavanaatmak oorja ka kendr kahaan par hai kyonki cheej se hatakar ke andar shettee kee bhaavanaon ko prerit karata hai aur yah nishchit hona hee chaahie aur ek samay aur ek aspataal vinatee karate hain ki usamen koee prapoj nahin rahana chaahatee hain teenon saath mein apane aap ko tahal kar do aur vyaktigat kyon aisa ho sakata hai aur vah isake prabhu jee aap kuchh bhee banatee hai vikaas ke sandarbh mein ek aur nirnay janata jaagrt hotee hai yaar bas samaaj ko aur meenaakshee nadee mein apane aap ko is vyavastha ka paan karaakar vaahinee grup se auron ko bhee laabh pahunchaata hai aur ek saath ka dhanyavaad main jepeeyoo bol kar ek skeem

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
क्या अहंकार की सीमा होती है?Kya Ahankaar Ki Seema Hoti Hai
J.P. Y👌g i Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए J.P. जी का जवाब
Unknown
5:00
समय क्या है कार्यक्रम कार्यक्रम का विरोध होना चाहिए कभी नाश करने का किसी महिला संभालते हैं प्राणी प्रवचन में देखा जाता है मानव ठीक और ज्ञान की धारा ओपन शॉट कहां सुल्तान के साथ उसके कार्य किया था हमने उसको दिखाने के लिए प्रभावी बनाता है जिसके अंदर राशि और नाम की प्रक्रिया प्रवीण सरपंच साथियों आप ही के लिए मिलता है पहचानो पहचानो प्रभाव को कम करने के लिए संक्रांति दमन के सभी प्रश्नों पर सूजन आना चाहता है उसकी फोटो नहीं आने की क्षमता को बढ़ाता है मानव कल्याण आश्रम चंद्रावल की चौथी सुरजन चेतन के हिसाब से संपर्क करते हुए और 60 साल की कलम की शुक्रवार को संपन्न है या नवरात्रि का सांभर सकता हूं नर्मदा के प्रधानमंत्रियों प्रमोशन कार्यक्रम में क्या फर्क है

#धर्म और ज्योतिषी

J.P. Y👌g i Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए J.P. जी का जवाब
Unknown
5:00
कसाब के बयान से खुद को लेकर करके क्या मैं आपको तो खुशी के कारण भाई बिल्कुल अपने आप को नियंत्रण करके समझ जाओ उसे परिहार हो सकते हैं बशर्ते नियंत्रण करने की जरूरी होता है कि आप अपने आप नींदड़ के ज्ञान के ऊपर लाइक कर सही कराने पर भी आध्यात्मिकता की गहराई में बोलता है जो अपने संप्रदाय की शादी की उम्र रंगून बात करता है वह पेड़ में सूचित करना है निश्चित ही अपने आप को सेवर मोड पर करें मऊ में अनुशासन संकलन की पूरी जांच आवश्यकता होती है क्योंकि मन और अवचेतन मन से क्यों इतना ही आसान है पर हो गया उसे हम कैसे करते हैं और विवेक के बिना बताए सो जाते हैं जो पकने लोग ग्रुप के आचरण में या किसी भी शैली को संदेश ठाकुर का बना लिया है तो मिलने को दिल करता है मैं आपको नींद निकाल रही हो जाएगी तब तो ध्यान से अपने आप को सपोर्ट करता भरा में सबसे महत्वपूर्ण बांधने की निजी क्षेत्र को निर्धारित करके विश्वास सुधीर भैया टीम पर गर्व होना चाहिए कि अंदर करने का शहर मुंबई किस तरह विश्वास का अटूट संबंध बन जाना है और साक्षात्कार के दर्शन मियां अपने आप को दबा दिया संदेश करता है तो वहां आपने फिर कर लेना है और जो लाइक करता है वह मदनलाल के विश्लेषण प्राप्त हुआ है उसका दार्शनिक में सफलता निश्चित करता है तो उस शक्ति के सहारे में आपने जो सोचने का निर्भर होता है और ऐसा प्राकृत ज्ञान की उत्पत्ति हो जाती है कि वह मौका भंजन कर सकता है और ज्यादातर तो कुछ का कारण उसने हमारी निष्ठा कर्तव्यनिष्ठा गंभीरता से सोचने वालों पर जो अपने कर्मों के मुंह करता कांति बनवासा में पहुंचना है वह सारी सम्मेलन है उसको जो भी करती रहती है आस्था मेरी रानी बकरी के मामले पर काम कर रही है और दिलीप दशा में स्थित होता है तो जितने भी प्रकार की दिक्कत है सबसे रईसों के निर्णय पर निश्चित हो गया को चरण सीमा की चाहिए में स्थित हो जाता हो एक बार याद कर भावनाओं से प्रक्षेपण में घटित होता है उससे पूछो क्यों हो जाता है रात को ही व्यस्त रहें क्योंकि एक मंगाए खेल होता है जिसमें रखता है निरंजन का लेता है मैं उसे वैरागी शिक्षित से न कर पाने में सक्षम अहंकार की गतिविधियों से पर्यावरण को प्राप्त होता है जो कि एक भौतिक राशि के अंतर्गत आता है अपना दिल और अपना ध्यान से बंद करके अपनी मनमानी करते हुए निर्माण पर तिल होता है तो ऐसी स्थिति में वह अपने आप को दूसरी कक्षा में पाताल संसार की प्रशंसा नहीं तो
Kasaab ke bayaan se khud ko lekar karake kya main aapako to khushee ke kaaran bhaee bilkul apane aap ko niyantran karake samajh jao use parihaar ho sakate hain basharte niyantran karane kee jarooree hota hai ki aap apane aap neendad ke gyaan ke oopar laik kar sahee karaane par bhee aadhyaatmikata kee gaharaee mein bolata hai jo apane sampradaay kee shaadee kee umr rangoon baat karata hai vah ped mein soochit karana hai nishchit hee apane aap ko sevar mod par karen maoo mein anushaasan sankalan kee pooree jaanch aavashyakata hotee hai kyonki man aur avachetan man se kyon itana hee aasaan hai par ho gaya use ham kaise karate hain aur vivek ke bina batae so jaate hain jo pakane log grup ke aacharan mein ya kisee bhee shailee ko sandesh thaakur ka bana liya hai to milane ko dil karata hai main aapako neend nikaal rahee ho jaegee tab to dhyaan se apane aap ko saport karata bhara mein sabase mahatvapoorn baandhane kee nijee kshetr ko nirdhaarit karake vishvaas sudheer bhaiya teem par garv hona chaahie ki andar karane ka shahar mumbee kis tarah vishvaas ka atoot sambandh ban jaana hai aur saakshaatkaar ke darshan miyaan apane aap ko daba diya sandesh karata hai to vahaan aapane phir kar lena hai aur jo laik karata hai vah madanalaal ke vishleshan praapt hua hai usaka daarshanik mein saphalata nishchit karata hai to us shakti ke sahaare mein aapane jo sochane ka nirbhar hota hai aur aisa praakrt gyaan kee utpatti ho jaatee hai ki vah mauka bhanjan kar sakata hai aur jyaadaatar to kuchh ka kaaran usane hamaaree nishtha kartavyanishtha gambheerata se sochane vaalon par jo apane karmon ke munh karata kaanti banavaasa mein pahunchana hai vah saaree sammelan hai usako jo bhee karatee rahatee hai aastha meree raanee bakaree ke maamale par kaam kar rahee hai aur dileep dasha mein sthit hota hai to jitane bhee prakaar kee dikkat hai sabase raeeson ke nirnay par nishchit ho gaya ko charan seema kee chaahie mein sthit ho jaata ho ek baar yaad kar bhaavanaon se prakshepan mein ghatit hota hai usase poochho kyon ho jaata hai raat ko hee vyast rahen kyonki ek mangae khel hota hai jisamen rakhata hai niranjan ka leta hai main use vairaagee shikshit se na kar paane mein saksham ahankaar kee gatividhiyon se paryaavaran ko praapt hota hai jo ki ek bhautik raashi ke antargat aata hai apana dil aur apana dhyaan se band karake apanee manamaanee karate hue nirmaan par til hota hai to aisee sthiti mein vah apane aap ko doosaree kaksha mein paataal sansaar kee prashansa nahin to

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
अपनी कल्पनाओं को शक्तिशाली कैसे बना सकते है?Apni Kalpnao Ko Shaktishali Kaise Bna Sakte Hai
J.P. Y👌g i Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए J.P. जी का जवाब
Unknown
3:09
अपनी कल्पनाओं को शक्तिशाली कैसे बना सकते हैं यह बहुत ही श्रेष्ठ प्रश्न आया हुआ है और हमारे भारतीय परंपरागत में जितने भी ऋषि मुनि और सिद्ध हुए हैं वह अपनी कल्पनाओं की ही चरम सीमा को लांघ गए थे और उसमें सार्थक रूप से सिद्ध कई सिद्धांतों को किया और वह अप्लाई हुआ और उसकी सतह शक्तियां बरकरार चल रही हैं लेकिन कल्पनाओं की शक्ति की जहां प्रशन बन रहा है तो यही है कि जिन गुरुओं के प्रति जो शब्द ब्रम्ह है और उन पर निष्ठा के साथ एकाग्रता से एक सामाजिक व्यवस्था होती है जहां प्राण सूक्ष्म रूप से विचरण करता है और चेतन आकाश में जहां उसकी इच्छा और परिकल्पना ओं का सारांश स्पष्ट प्रदर्शित होता है और वहां से शतक मान होता है और जिस में सत्य की ज्यादा संगोष्ठी ध्यान रखे जाते हैं और पराक्रम जैसे बहुत से भावनात्मक सिस्टम में मंत्र रूप में आते हैं वे उसका निवारण करने में बहुत ही मददगार होते हैं और यही चीज है कि जितना ही विश्वसनीय तौर पर आप अपने उन प्रणालियों पर अग्रसर रहेंगे तो निश्चय ही आपको आपका मन एकाग्र होकर के उस में स्थापित हो जाएगा और जब याद मां के अंदर इन निष्ठा बनती है तो समग्र जितनी भी विकल्प की संभावनाएं उत्पन्न होती है उसके कारणों का पता चलता है और यथार्थ रूप से उस को सकारात्मक रूप देने के लिए विवेचना बनते और अंतर्गत से ही उसका एक मंडल ऊर्जा तैयार होता है आरो संप्रेषित होकर के सकारात्मक रूप लेती है और उसके अंदर से क्षमता से बहुत ही आकर्षण वेकेशन के तत्व होते हैं जो सौभाग्य उसमें उसके प्रवेश प्रवेश गांव को सिद्ध करने के लिए मददगार होती हैं तो यह सारी चीजें हैं जन्म जन्मांतर से हमारी जो बुद्धि के अंदर भी भी खत्म हो जाता है और एक निष्ठा से कोई भाव निरंतर प्रभाव महान होता है तो वह निश्चित ही हमारे अवचेतन मन में एक आकर्षण बिंदु का कारण बनता है इसी को सन्यास कहते हैं सत्य न्यास अर्थात् उस कार्य को संपादन करने के दिव्य कलाएं नियोजित की जाती है जिससे कि वह कार्य को पूरा कर सके और से संदर्भ के देवताओं की भी नियुक्ति की जाती है कि जो इस काम को पूर्णता सिद्ध कर चुके होते हैं तो ऐसा ही आज्ञा के अनुसार पूर्ण विश्वास के साथ जो साधक कल्पनाओं को सकारात्मक रूप में लाने की कोशिश करता है वह निश्चित ही वह प्राप्त होता है धन्यवाद में जेपी योगी बोलकर एपस की ओर से
Apanee kalpanaon ko shaktishaalee kaise bana sakate hain yah bahut hee shreshth prashn aaya hua hai aur hamaare bhaarateey paramparaagat mein jitane bhee rshi muni aur siddh hue hain vah apanee kalpanaon kee hee charam seema ko laangh gae the aur usamen saarthak roop se siddh kaee siddhaanton ko kiya aur vah aplaee hua aur usakee satah shaktiyaan barakaraar chal rahee hain lekin kalpanaon kee shakti kee jahaan prashan ban raha hai to yahee hai ki jin guruon ke prati jo shabd bramh hai aur un par nishtha ke saath ekaagrata se ek saamaajik vyavastha hotee hai jahaan praan sookshm roop se vicharan karata hai aur chetan aakaash mein jahaan usakee ichchha aur parikalpana on ka saaraansh spasht pradarshit hota hai aur vahaan se shatak maan hota hai aur jis mein saty kee jyaada sangoshthee dhyaan rakhe jaate hain aur paraakram jaise bahut se bhaavanaatmak sistam mein mantr roop mein aate hain ve usaka nivaaran karane mein bahut hee madadagaar hote hain aur yahee cheej hai ki jitana hee vishvasaneey taur par aap apane un pranaaliyon par agrasar rahenge to nishchay hee aapako aapaka man ekaagr hokar ke us mein sthaapit ho jaega aur jab yaad maan ke andar in nishtha banatee hai to samagr jitanee bhee vikalp kee sambhaavanaen utpann hotee hai usake kaaranon ka pata chalata hai aur yathaarth roop se us ko sakaaraatmak roop dene ke lie vivechana banate aur antargat se hee usaka ek mandal oorja taiyaar hota hai aaro sampreshit hokar ke sakaaraatmak roop letee hai aur usake andar se kshamata se bahut hee aakarshan vekeshan ke tatv hote hain jo saubhaagy usamen usake pravesh pravesh gaanv ko siddh karane ke lie madadagaar hotee hain to yah saaree cheejen hain janm janmaantar se hamaaree jo buddhi ke andar bhee bhee khatm ho jaata hai aur ek nishtha se koee bhaav nirantar prabhaav mahaan hota hai to vah nishchit hee hamaare avachetan man mein ek aakarshan bindu ka kaaran banata hai isee ko sanyaas kahate hain saty nyaas arthaat us kaary ko sampaadan karane ke divy kalaen niyojit kee jaatee hai jisase ki vah kaary ko poora kar sake aur se sandarbh ke devataon kee bhee niyukti kee jaatee hai ki jo is kaam ko poornata siddh kar chuke hote hain to aisa hee aagya ke anusaar poorn vishvaas ke saath jo saadhak kalpanaon ko sakaaraatmak roop mein laane kee koshish karata hai vah nishchit hee vah praapt hota hai dhanyavaad mein jepee yogee bolakar epas kee or se

#पढ़ाई लिखाई

J.P. Y👌g i Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए J.P. जी का जवाब
Unknown
2:58
यह मोबाइल का किस्सा एक नहीं यह घर घर की कहानी हो चुकी है कोई ना कोई उसमें अपने मन को बुझा करके रखता है और हमेशा व्यस्त रहता है कि कंटिन्यूटी बनी है लेकिन प्रॉब्लम की बात है कि उससे से निजात कैसे हो तो अब तक दखल अंदाजी करेंगे तो जाहिर है कि वह बर्दाश्त नहीं हो पाएगा तो फिलहाल यही है कि बल्कि उसको जरूर स्मरण कराएं आप इतनी देर से बैठे हैं और थोड़ा सा टाइम टू टाइम कोई भेजो जब खाने का टाइम है आप खाना खा लीजिए और भी चीज है बस उनको यह महसूस कराते रहिए कितना समय तुम्हारा स्पेंड हो रहा है और वह खुद ही एक समय में ऊंची रिपीट करेंगे दिमाग में आप की भाषाएं पहुंचेगी उनके हृदय तक कि वास्तव में कितने घंटे से बैठा हूं और यह बहुत हो रहा है और यही प्रक्रिया है कि आप जब फोन लगे हैं तो उस समय कुछ जो भी खाने-पीने का सिस्टम हो गया जो भी उनको करने की जरूरत है वह चीज का था सिर्फ ज्ञान कम है इतने बच्चों के हैं आप अपना हाल हो ही होगा फिर उसके बाद जब भी है उसको समय का प्रदीप 2 घंटे हो चुके हैं आप थोड़ा सा खा लो फिर भी आप मुझको चुके हैं मैं तो बस समय का ही उनको बार-बार रिपीट कर आओ उसके बाद कहो कि कुछ इतना समय आप ऐसा कर लो तो उसके बाद आप लगते बैठ जाना है कि आधी बातें सहजता और सरलता पूर्वक उसको आप उस चीज में लाए तो जाकर खुद भी ही क्योंकि जब तक आप प्रकरण से सेंट इच्छा नहीं बनती तब तक उसको समझ में नहीं आता होगा इससे बेहतर यही है कि आप उसको उसमें बाप को भी कॉर्पोरेट करें तो हो सकता है कि खुद ही महसूस हुआ कि हां मुझे इतना समय जो खराब हो रहा है उसमें कुछ ना कुछ करना चाहिए तो जब अपने आप प्रतिरोध होगा कि मुझे यह समझ में करना है तो शायद उसका दिमाग में निर्णय लेने के पक्ष में आ जाएगा और यह जरूरी है कि जो चीज तुम चाहते हैं वह तुमने अपनी चाहत रखते उनके अंदर खुद ही हो प्रेरणा का स्रोत बने और अपने आप से गिर निश्चित हो जाए यह युक्ति लगा सकते हैं बहुत सारी चीज है इतना शक और करके
Yah mobail ka kissa ek nahin yah ghar ghar kee kahaanee ho chukee hai koee na koee usamen apane man ko bujha karake rakhata hai aur hamesha vyast rahata hai ki kantinyootee banee hai lekin problam kee baat hai ki usase se nijaat kaise ho to ab tak dakhal andaajee karenge to jaahir hai ki vah bardaasht nahin ho paega to philahaal yahee hai ki balki usako jaroor smaran karaen aap itanee der se baithe hain aur thoda sa taim too taim koee bhejo jab khaane ka taim hai aap khaana kha leejie aur bhee cheej hai bas unako yah mahasoos karaate rahie kitana samay tumhaara spend ho raha hai aur vah khud hee ek samay mein oonchee ripeet karenge dimaag mein aap kee bhaashaen pahunchegee unake hrday tak ki vaastav mein kitane ghante se baitha hoon aur yah bahut ho raha hai aur yahee prakriya hai ki aap jab phon lage hain to us samay kuchh jo bhee khaane-peene ka sistam ho gaya jo bhee unako karane kee jaroorat hai vah cheej ka tha sirph gyaan kam hai itane bachchon ke hain aap apana haal ho hee hoga phir usake baad jab bhee hai usako samay ka pradeep 2 ghante ho chuke hain aap thoda sa kha lo phir bhee aap mujhako chuke hain main to bas samay ka hee unako baar-baar ripeet kar aao usake baad kaho ki kuchh itana samay aap aisa kar lo to usake baad aap lagate baith jaana hai ki aadhee baaten sahajata aur saralata poorvak usako aap us cheej mein lae to jaakar khud bhee hee kyonki jab tak aap prakaran se sent ichchha nahin banatee tab tak usako samajh mein nahin aata hoga isase behatar yahee hai ki aap usako usamen baap ko bhee korporet karen to ho sakata hai ki khud hee mahasoos hua ki haan mujhe itana samay jo kharaab ho raha hai usamen kuchh na kuchh karana chaahie to jab apane aap pratirodh hoga ki mujhe yah samajh mein karana hai to shaayad usaka dimaag mein nirnay lene ke paksh mein aa jaega aur yah jarooree hai ki jo cheej tum chaahate hain vah tumane apanee chaahat rakhate unake andar khud hee ho prerana ka srot bane aur apane aap se gir nishchit ho jae yah yukti laga sakate hain bahut saaree cheej hai itana shak aur karake

#खेल कूद

bolkar speaker
क्या हमारे बच्चे उन खेलों को नहीं खेल पाएंगे जो हम सभी बचपन में खेलते थे?Kya Hamare Bache Un Khelon Ko Nahi Khel Paenge Jo Hum Sabne Bachpan Mei Khelte The
J.P. Y👌g i Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए J.P. जी का जवाब
Unknown
2:58
प्रसन्न है क्या हमारे बच्चे उनके लोग को नहीं खेल पाएंगे जो हम सभी बचपन में खेलते हैं यह तो वास्तव में बात है कि जो चीज हम अपने उम्र है और उस दौर के हिसाब से बर्ताव में जो खेलकूद किए हुए हैं वह वर्तमान में उस टाइम का नहीं खेल पाएंगे लेकिन फिर भी कुछ ना कुछ में विकास की अगर सत्ता में नए रूप से खेलो को धारण कर सकते हैं और वह खेलते हैं फिलहाल मजेदार इस जीवन के उस दौर की होती है जो हम किसी रूप में भी आनंद ले लेते हैं तो कुछ हुआ क्या ऐसे होते हैं जो हमें याद जीवन इस प्लान में आती रहती हैं तो इसमें यही फिलहाल है कि किबा मुश्किल हो सकता है क्योंकि यह आनंद की गोष्ठी में अगर देखा जाए तो जो जिस चीज में भी लुफ्त उठा लेता है वह उसमें खुश रहता है तो सब प्रक्रिया वह नहीं रह गई जमीन पर खेलने की कभी प्रक्रिया ते गड्ढे खोदकर कंचे बागड़ा होते थे दिल्ली डंडा होते थे और और भी कई तरह के हैं हमारे तैरने के या कुछ ऐसी संसाधन हम सिम अपनी इच्छा से प्रकृति की ओर जा कर के उल्लू का पट्ठा लेते थे अब आजादी थे और जिस तरह की छूट रहती है उस दिन से हम अपने उस पुराने समय में जोखिम व्यवहार करते हैं वह अपने लिए यादगार बन जाता है लेकिन आने वाले बच्चों को अगर समझ जाएं उनकी जो वातावरण है वहां की भौगोलिक परिस्थितियां है उसके अनुरूप हो जॉब वर्तमान की स्थिति में खेलते कुत्ते हैं लेकिन अगर उन्होंने कुछ आनंद और कुछ चीज संग्रह कर लिया है तो वह वास्तविक जीवन की अरदास के रूप में स्थित हो जाती है और कभी लगता है कि कहने में सुनाने में वह वाक्य एक आनंद देती है उस स्मरण में हमेशा प्रतीक्षा विद्वान के रूप में बहती रहती है यादों को सलाह दी है कि आज के दौर में जो बच्चे हैं उनका हिसाब किताब और जॉन का रास्ता है जो जो चीजें प्रस्तुत हो रही है वह उसमें निर्वाह करने लगता है और वह भी उनको आनंददायक सुख दे सकता है लेकिन फिलहाल यही कहा जा सकता है जो चीज हम अपने पुराने परिस्थिति में के दौरान खेल चुके हैं हम हो इस चीजों में अंतर आज
Prasann hai kya hamaare bachche unake log ko nahin khel paenge jo ham sabhee bachapan mein khelate hain yah to vaastav mein baat hai ki jo cheej ham apane umr hai aur us daur ke hisaab se bartaav mein jo khelakood kie hue hain vah vartamaan mein us taim ka nahin khel paenge lekin phir bhee kuchh na kuchh mein vikaas kee agar satta mein nae roop se khelo ko dhaaran kar sakate hain aur vah khelate hain philahaal majedaar is jeevan ke us daur kee hotee hai jo ham kisee roop mein bhee aanand le lete hain to kuchh hua kya aise hote hain jo hamen yaad jeevan is plaan mein aatee rahatee hain to isamen yahee philahaal hai ki kiba mushkil ho sakata hai kyonki yah aanand kee goshthee mein agar dekha jae to jo jis cheej mein bhee lupht utha leta hai vah usamen khush rahata hai to sab prakriya vah nahin rah gaee jameen par khelane kee kabhee prakriya te gaddhe khodakar kanche baagada hote the dillee danda hote the aur aur bhee kaee tarah ke hain hamaare tairane ke ya kuchh aisee sansaadhan ham sim apanee ichchha se prakrti kee or ja kar ke ulloo ka pattha lete the ab aajaadee the aur jis tarah kee chhoot rahatee hai us din se ham apane us puraane samay mein jokhim vyavahaar karate hain vah apane lie yaadagaar ban jaata hai lekin aane vaale bachchon ko agar samajh jaen unakee jo vaataavaran hai vahaan kee bhaugolik paristhitiyaan hai usake anuroop ho job vartamaan kee sthiti mein khelate kutte hain lekin agar unhonne kuchh aanand aur kuchh cheej sangrah kar liya hai to vah vaastavik jeevan kee aradaas ke roop mein sthit ho jaatee hai aur kabhee lagata hai ki kahane mein sunaane mein vah vaaky ek aanand detee hai us smaran mein hamesha prateeksha vidvaan ke roop mein bahatee rahatee hai yaadon ko salaah dee hai ki aaj ke daur mein jo bachche hain unaka hisaab kitaab aur jon ka raasta hai jo jo cheejen prastut ho rahee hai vah usamen nirvaah karane lagata hai aur vah bhee unako aanandadaayak sukh de sakata hai lekin philahaal yahee kaha ja sakata hai jo cheej ham apane puraane paristhiti mein ke dauraan khel chuke hain ham ho is cheejon mein antar aaj

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
मनुष्य को सपना क्यों देखना चाहिए?Manushya Ko Sapna Kyun Dekhna Chaiye
J.P. Y👌g i Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए J.P. जी का जवाब
Unknown
2:58
प्रश्न आया है मनुष्य को सपना क्यों देखना चाहिए सपना की प्रक्रिया कोई सुरक्षा से नहीं होता है नियंत्रण रूप से अनिश्चित उत्पन्न होता है और लेकिन सपने देखने का एक वह है जिसको हम टारगेट बनाते हैं उसके लिए बार-बार अनुसमरणम महानायक सपना देखना चाहिए या नहीं को मजबूत बनता है कि वह चीजें जिंदगी में हासिल करने की अभिव्यक्ति तो इसलिए सपने के लिए सुई लगाया जाता है और लोग देखते हैं सपनों को लेकिन यहां सपनों के संसार के लिए दो रूप में आता है एक तो वैसे क्रांत होने से निजात पाने की युक्ति में भी अंत करण के अवचेतन में कुछ चीजें से ले ले आ जाते हैं जो हमारे से संबंधित भाव को कुछ ना कुछ प्रेरित दिशा देते हैं और उसमें प्रणाम मौका कुछ प्रभाव कि मैं सुशील बनाती है तो कुछ चीजें हैं उमंगों में होती हैं जो अलग से एक सुखदायक खुशनुमा मिजाज के अंतर्गत उत्पन्न होता है यह दोनों विधियों में ही अंत करण में ऐसे सपने बुनियादी पकड़ती गुरु से बन के आ जाते हैं आप लेकिन देखना चाहिए यह दूसरा सवाल आता है और उसका जो ज्ञान होता है उसी संदर्भ में होता है कि वह अपने टारगेट के सपने देखे कि मुझे अपने रूप से अपनी क्षमता से अपनी प्रतिभा से शिखर तक मुझे अपने दोस्त कृत रूप में खड़ा करना होता है और वहां तक अपने गांव को पांच के हाईलाइट करने की कोशिश की जाती है ऐसे सपने वह बंद करके और वातावरण को कर्षण करता है जो सहयोग में उसके लिए प्रवृत्ति का कारण बन जाता है कैसे सपने हमेशा लोग दिखते हैं जिनके अंदर कुछ भावनाएं जुड़ी होती हैं और वह उनका एक्शन क्लब लक्ष्य हो जाता है और यह होना भी चाहिए जरूरी है क्योंकि जब हम किसी चीज को भूल जाते हैं अपने रास्ते को तो यह मडगांव की दिशा होते हैं लेकिन एक लाल समय होने के लिए जरूरी होता है कि हम सभाओं के उत्पाद में रहे तो यही वाक्यांश से मैं अपने प्रत्युत्तर को अर्पण करता हूं धन्यवाद
Prashn aaya hai manushy ko sapana kyon dekhana chaahie sapana kee prakriya koee suraksha se nahin hota hai niyantran roop se anishchit utpann hota hai aur lekin sapane dekhane ka ek vah hai jisako ham taaraget banaate hain usake lie baar-baar anusamaranam mahaanaayak sapana dekhana chaahie ya nahin ko majaboot banata hai ki vah cheejen jindagee mein haasil karane kee abhivyakti to isalie sapane ke lie suee lagaaya jaata hai aur log dekhate hain sapanon ko lekin yahaan sapanon ke sansaar ke lie do roop mein aata hai ek to vaise kraant hone se nijaat paane kee yukti mein bhee ant karan ke avachetan mein kuchh cheejen se le le aa jaate hain jo hamaare se sambandhit bhaav ko kuchh na kuchh prerit disha dete hain aur usamen pranaam mauka kuchh prabhaav ki main susheel banaatee hai to kuchh cheejen hain umangon mein hotee hain jo alag se ek sukhadaayak khushanuma mijaaj ke antargat utpann hota hai yah donon vidhiyon mein hee ant karan mein aise sapane buniyaadee pakadatee guru se ban ke aa jaate hain aap lekin dekhana chaahie yah doosara savaal aata hai aur usaka jo gyaan hota hai usee sandarbh mein hota hai ki vah apane taaraget ke sapane dekhe ki mujhe apane roop se apanee kshamata se apanee pratibha se shikhar tak mujhe apane dost krt roop mein khada karana hota hai aur vahaan tak apane gaanv ko paanch ke haeelait karane kee koshish kee jaatee hai aise sapane vah band karake aur vaataavaran ko karshan karata hai jo sahayog mein usake lie pravrtti ka kaaran ban jaata hai kaise sapane hamesha log dikhate hain jinake andar kuchh bhaavanaen judee hotee hain aur vah unaka ekshan klab lakshy ho jaata hai aur yah hona bhee chaahie jarooree hai kyonki jab ham kisee cheej ko bhool jaate hain apane raaste ko to yah madagaanv kee disha hote hain lekin ek laal samay hone ke lie jarooree hota hai ki ham sabhaon ke utpaad mein rahe to yahee vaakyaansh se main apane pratyuttar ko arpan karata hoon dhanyavaad

#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker
अखबार पढ़ने की रुचि जिज्ञासा खत्म हो जाना इसका मनोविज्ञान क्या है?Akhbaar Padhne Ki Ruchi Jigyasa Khatam Ho Jana Iska Manovigyan Kya Hai
J.P. Y👌g i Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए J.P. जी का जवाब
Unknown
2:58
प्रश्नपत्र बहुत ही सही आया हुआ है क्योंकि आज के दौर पर लोग अखबार का महत्व कम रख रहे हैं दर्शन समाचार की जो विधियां हैं वह टीवी के माध्यम से ज्यादा अप्रसार और और दूसरी बात ए है कि जो मोबाइल फोंस के अंदर मीडिया का प्रचार आ रहा है वह शॉट कर रहा है नहीं तो वैसे फिर भी जो पुरानी तजुर्बे कार है वह लोग जरूर आ अखबार ने अपने इत्मीनान से पढ़ने की रुचि रखते हैं लेकिन जहां पर सुनारा के मनोवैज्ञानिक कारण तो यही बनता है कि जो संग्रहालय व्यवस्था हो रही है क्योंकि पढ़ने में और देखने और सुनने दोनों की चीजें आईलेट्स में आती हैं और वह कम श्रम में ही ग्रह हो जाता है अखबार के अंदर तो थोड़ा सा पढ़ते हैं लेकिन फिर भी ऐसा नहीं कहा जा सकता कि रुचि एकदम समाप्त हो रही और आज भी वो चीजें होती हैं जो अखबार के इस प्रोग्राम को वह संभाल कर रखते हैं प्रमाणिकता के तौर पर भी सहयोग करके रखते हैं लेकिन यह महतो हमेशा बना रहेगा ऐसा नहीं हो सकता है कि यह पढ़ने की शैली ही खत्म हो जाए शायद बाहर हो या किताब के द्वारा अन्य विधियों है जो लेखन विधि हैं उसको जरूर पढ़ते हैं तो उसे लाल जाकर उसका महीने मनोविज्ञानी में लक्ष्य के प्रति जा रहा है तो नखास जमाना हो रहा है और दूसरी बार यूज सहज उपलब्ध हो जा रहा है वह कारण बनता है इसका क्योंकि आपको हंसी तो अखबार की जो पलटी है वह समय पर आता रहता है और दूसरी बात यह है कि लेटेस्ट न्यूज़ समाचार होते हैं वह संपादन होकर पहले प्रसार में आ जाते हैं लेकिन खास टिप्पणी के लिए अखबार की विशेषता होती क्योंकि इंसान अपने उसमें पड़ता ही है और मनोवैज्ञानिक दशा यही है कि सरलता और सहजता की ओर उन्मुख होना स्वाभाविक प्रक्रिया है मनुष्य की जन्मजात में होता है जो चीज है जो धूप में है प्रस्तुतीकरण में सरल होता जा रहा है और उसमें ज्यादा मेहनत एकाग्रता करने की आवश्यकता नहीं होती और फिर चलते फिरते भी वह काम हो जाते हैं तो इसलिए यह चीजें महसूस में हारी है अन्यथा कोई खास बात नहीं
Prashnapatr bahut hee sahee aaya hua hai kyonki aaj ke daur par log akhabaar ka mahatv kam rakh rahe hain darshan samaachaar kee jo vidhiyaan hain vah teevee ke maadhyam se jyaada aprasaar aur aur doosaree baat e hai ki jo mobail phons ke andar meediya ka prachaar aa raha hai vah shot kar raha hai nahin to vaise phir bhee jo puraanee tajurbe kaar hai vah log jaroor aa akhabaar ne apane itmeenaan se padhane kee ruchi rakhate hain lekin jahaan par sunaara ke manovaigyaanik kaaran to yahee banata hai ki jo sangrahaalay vyavastha ho rahee hai kyonki padhane mein aur dekhane aur sunane donon kee cheejen aaeelets mein aatee hain aur vah kam shram mein hee grah ho jaata hai akhabaar ke andar to thoda sa padhate hain lekin phir bhee aisa nahin kaha ja sakata ki ruchi ekadam samaapt ho rahee aur aaj bhee vo cheejen hotee hain jo akhabaar ke is prograam ko vah sambhaal kar rakhate hain pramaanikata ke taur par bhee sahayog karake rakhate hain lekin yah mahato hamesha bana rahega aisa nahin ho sakata hai ki yah padhane kee shailee hee khatm ho jae shaayad baahar ho ya kitaab ke dvaara any vidhiyon hai jo lekhan vidhi hain usako jaroor padhate hain to use laal jaakar usaka maheene manovigyaanee mein lakshy ke prati ja raha hai to nakhaas jamaana ho raha hai aur doosaree baar yooj sahaj upalabdh ho ja raha hai vah kaaran banata hai isaka kyonki aapako hansee to akhabaar kee jo palatee hai vah samay par aata rahata hai aur doosaree baat yah hai ki letest nyooz samaachaar hote hain vah sampaadan hokar pahale prasaar mein aa jaate hain lekin khaas tippanee ke lie akhabaar kee visheshata hotee kyonki insaan apane usamen padata hee hai aur manovaigyaanik dasha yahee hai ki saralata aur sahajata kee or unmukh hona svaabhaavik prakriya hai manushy kee janmajaat mein hota hai jo cheej hai jo dhoop mein hai prastuteekaran mein saral hota ja raha hai aur usamen jyaada mehanat ekaagrata karane kee aavashyakata nahin hotee aur phir chalate phirate bhee vah kaam ho jaate hain to isalie yah cheejen mahasoos mein haaree hai anyatha koee khaas baat nahin

#जीवन शैली

bolkar speaker
क्या आज कल बच्चे ज्यादा अजादी चाहते हैं?Kya Aaj Kal Bache Jyada Azadi Chahte Hai
J.P. Y👌g i Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए J.P. जी का जवाब
Unknown
2:58
आजकल बच्चे ज्यादा प्रजाति चाहते हैं क्या ऐसा प्रश्न आया हुआ है तो आज के दौर में जो गुजर रहा है और उसमें जो चीज परोसी जा रही है जो सहज प्रचार-प्रसार की टेक्निक प्रणालियां चली हुई है उसे जरूर से बच्चों में होगा वह मैं हूं को बढ़ाता है जो स्वतंत्रता से उसकी परफॉर्म करने की चाहत रखती है तो सबसे बड़ी बात है कि जो मीडिया जगत का प्रसार हुआ है वह ट्रेंस बनता जा रहा है हर एक के पास मोबाइल है और पीछे जो उस समय देखे तो समय टीवी काफी होता था और उसमें भी एक नियंत्रण अनुशासन के रूप में कार्यक्रम चलते थे अब आप स्वच्छंद होते जा रहे हैं और जिसकी वजह से उनके दिमाग की परिकल्पना ए ऊपर उठा रही हैं लेकिन यही कि घाट विषय बन जाता है क्योंकि जो उनके अंदर का आंतरिक एवं अर्ध ज्ञान है जो अपने अंदर की अनुभूति के स्तर को और ऊंची उठाने वाली चीज है जो अपना लिस्ट शुरू हुआ है वह काफी कुछ अभ्यास से रहित हो जाता है क्योंकि परिकल्पना की दृष्टि ज्यादा बढ़ जाती है तो कल्पना हूं मैं और उसके मन के हिसाब से अपने कलेक्टर को रखते हैं तो ठीक भी है यार गलत भी होता है लेकिन फिलहाल इस समय जो बच्चों के अंदर जो भावनाएं यारी हैं वह हर विश्व से सीधा सीधा परिचित होता जा रहा है लेकिन यही तकलीफ की विषय है कि जो हो उनकी उम्र के दराज में जो चीज का ज्ञान होना चाहिए मैं उसी के हिसाब से संस्कारों को देख करके अंगरेज अली फोटो अच्छा है लेकिन उसमें गलत स्वरूप जाता है सो जाती हैं और ऐसे सामग्रियां परोसी जाती है जिससे कि उनके चित्र वीडियो में कुछ अलग एहसास दिलाता है और यह सब चीज एक कल्पना के बीच में और एक संभावित अवस्था के बीच में उन्हें पहले करने की आवश्यकता होनी चाहिए और मां-बाप का गार्डन कान का ध्यान के भजन रहना चाहिए कि वह आजादी
Aajakal bachche jyaada prajaati chaahate hain kya aisa prashn aaya hua hai to aaj ke daur mein jo gujar raha hai aur usamen jo cheej parosee ja rahee hai jo sahaj prachaar-prasaar kee teknik pranaaliyaan chalee huee hai use jaroor se bachchon mein hoga vah main hoon ko badhaata hai jo svatantrata se usakee paraphorm karane kee chaahat rakhatee hai to sabase badee baat hai ki jo meediya jagat ka prasaar hua hai vah trens banata ja raha hai har ek ke paas mobail hai aur peechhe jo us samay dekhe to samay teevee kaaphee hota tha aur usamen bhee ek niyantran anushaasan ke roop mein kaaryakram chalate the ab aap svachchhand hote ja rahe hain aur jisakee vajah se unake dimaag kee parikalpana e oopar utha rahee hain lekin yahee ki ghaat vishay ban jaata hai kyonki jo unake andar ka aantarik evan ardh gyaan hai jo apane andar kee anubhooti ke star ko aur oonchee uthaane vaalee cheej hai jo apana list shuroo hua hai vah kaaphee kuchh abhyaas se rahit ho jaata hai kyonki parikalpana kee drshti jyaada badh jaatee hai to kalpana hoon main aur usake man ke hisaab se apane kalektar ko rakhate hain to theek bhee hai yaar galat bhee hota hai lekin philahaal is samay jo bachchon ke andar jo bhaavanaen yaaree hain vah har vishv se seedha seedha parichit hota ja raha hai lekin yahee takaleeph kee vishay hai ki jo ho unakee umr ke daraaj mein jo cheej ka gyaan hona chaahie main usee ke hisaab se sanskaaron ko dekh karake angarej alee photo achchha hai lekin usamen galat svaroop jaata hai so jaatee hain aur aise saamagriyaan parosee jaatee hai jisase ki unake chitr veediyo mein kuchh alag ehasaas dilaata hai aur yah sab cheej ek kalpana ke beech mein aur ek sambhaavit avastha ke beech mein unhen pahale karane kee aavashyakata honee chaahie aur maan-baap ka gaardan kaan ka dhyaan ke bhajan rahana chaahie ki vah aajaadee

#जीवन शैली

bolkar speaker
लोग कब ज्यादा घमंडी हो जाते है?Log Kab Jyada Ghamandi Ho Jate Hai
J.P. Y👌g i Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए J.P. जी का जवाब
Unknown
2:58
हेलो कब ज्यादा घमंडी हो जाते हैं इस संदर्भ में यह देखा जाता है कि जो मनुष्य के अंदर से उनका पर्सनैलिटी है यानी कि वो उसकी जो इगो है वह किस वेद लेवल की है उसके हिसाब से ही घमंड होता है क्योंकि जनसाधारण में जो कभी आप प्राप्त वस्तुएं प्राप्त होती है तो सहज ही घमंड हो जाता है और यह एक प्रक्रिया होती है कि जिसमें उसमें उसका लाश इतना नियंत्रण हो जाता है जिसकी वजह से वह और चीजों को गौर नहीं करता जो अनुशासन के विपरीत चने की कोशिश करता है यह घमंड का एक रूप होता है जिसमें अपनी स्वतंत्रता और एक क्षमता को वह राजेश नहीं करता और हेलो बोलते हैं उसको दूसरी भाषा में कोई चीज ऐसी उसके साथ जुड़ती है या प्राप्ति होती है अचानक तो यह पाया जाता है आम इंसानों में लेकिन जो दूसरे हिसाब से अपने रुतबे के हिसाब से कुछ और लंबे प्रोसीजर स्थित होते हैं उनको तभी कुछ महसूस होता है कि हां या घमंड को गर्व कहे एक अलग चीज हो जाते हैं लेकिन घमंड हो ना जाता ना समझी की बुनियाद पर होता है क्योंकि वह उसी में ही अपने आप को बहुत मानता की परिभाषा में जोड़ता है यह सब चीजें उसके जीवन की इस नियंत्रण यंत्र शैली पर होती है अगर वह संपन्न है तो या खानदानी सा और इसी से चलता है तो वह साधारण सी जी लगते हैं लेकिन इस स्पेशल जब होता है जिन चीजों का भाव होता है वह प्राप्त होता है तो सेल बाहों में ऐसा भावना होती है लेकिन डांस करने वाले उसको भी हजम कर लेते हैं तो प्रश्न जो आया हुआ इसके साथ के मुताबिक यही है कि जब आप प्राप्त वस्तुएं अगर उसको मिल जाते हैं तो वह इस दौर में आ जाता जिस को घमंड कहा जाता है और अनाचार की स्थिति में उत्पन्न होता है यह जो प्रिय नहीं होता है तो शायद संभव में रहने की जिसमें क्षमता होती है वह अच्छा होता है उसके बारे में यही कहना चाहते धन्यवाद बीजेपी योग्य बोलकर एप्स की ओर
Helo kab jyaada ghamandee ho jaate hain is sandarbh mein yah dekha jaata hai ki jo manushy ke andar se unaka parsanailitee hai yaanee ki vo usakee jo igo hai vah kis ved leval kee hai usake hisaab se hee ghamand hota hai kyonki janasaadhaaran mein jo kabhee aap praapt vastuen praapt hotee hai to sahaj hee ghamand ho jaata hai aur yah ek prakriya hotee hai ki jisamen usamen usaka laash itana niyantran ho jaata hai jisakee vajah se vah aur cheejon ko gaur nahin karata jo anushaasan ke vipareet chane kee koshish karata hai yah ghamand ka ek roop hota hai jisamen apanee svatantrata aur ek kshamata ko vah raajesh nahin karata aur helo bolate hain usako doosaree bhaasha mein koee cheej aisee usake saath judatee hai ya praapti hotee hai achaanak to yah paaya jaata hai aam insaanon mein lekin jo doosare hisaab se apane rutabe ke hisaab se kuchh aur lambe proseejar sthit hote hain unako tabhee kuchh mahasoos hota hai ki haan ya ghamand ko garv kahe ek alag cheej ho jaate hain lekin ghamand ho na jaata na samajhee kee buniyaad par hota hai kyonki vah usee mein hee apane aap ko bahut maanata kee paribhaasha mein jodata hai yah sab cheejen usake jeevan kee is niyantran yantr shailee par hotee hai agar vah sampann hai to ya khaanadaanee sa aur isee se chalata hai to vah saadhaaran see jee lagate hain lekin is speshal jab hota hai jin cheejon ka bhaav hota hai vah praapt hota hai to sel baahon mein aisa bhaavana hotee hai lekin daans karane vaale usako bhee hajam kar lete hain to prashn jo aaya hua isake saath ke mutaabik yahee hai ki jab aap praapt vastuen agar usako mil jaate hain to vah is daur mein aa jaata jis ko ghamand kaha jaata hai aur anaachaar kee sthiti mein utpann hota hai yah jo priy nahin hota hai to shaayad sambhav mein rahane kee jisamen kshamata hotee hai vah achchha hota hai usake baare mein yahee kahana chaahate dhanyavaad beejepee yogy bolakar eps kee or

#जीवन शैली

J.P. Y👌g i Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए J.P. जी का जवाब
Unknown
2:58
खुश और उत्साहित व्यक्ति के संपर्क में रहने से हमारी तन मन में क्या असर पड़ता इत्यादि बहुत आती है तो यही स्वास्तिक में सफर स्थान पर और अपने आचरण में खुद ही स्पष्ट हो जाता है कि जब ऐसे व्यक्तित्व के लोग हमारे बीच में होते हैं तो एक सकारात्मक ऊर्जा का अहसास होने लगता है यानी कि हादसों गर्व का विषय बनता है क्योंकि कभी भी उनके अंदर से जोहोरा मंडल की जो भी सोती हैं वह सब में एक प्रभाव चित्र को घेरा करती है और उसका सर हमारे अंदर असर पहुंचता है इसलिए ऐसी संस्कारों से संपुट चोर लोग मनन चिंतन में उर्द रेट होते हैं अर्थात अपने विचारों से उन्मुख होकर के उस परम सत्ता किंग स्थित होते हैं क्योंकि जो मकान है नॉर्मल का जो सैया में है वह उस अवस्था में रखते हैं कि जिसमें कि उनका जो संचरण होता है वोट करके होता है और वहां से वह चीज से रिलायंस करता आते हैं कि जिस से गिफ्ट भेज दिया और जो भी बातचीत की धारा होती है वह अनुभव के स्तर में ही कही जाती है और जोर जिस चीज का स्पंदन करके जो वाक्य घटित किया जाता है उसका यथार्थ प्रभाव होता है तो यह किस संगठन भावनाओं के साथ ज्योत निर्णय उत्पन्न होते हैं वह संचार केंद्र वह तरंग है सूर्य के रहते हैं और उसका एक असर वातावरण बनने तैयार होता है और एक अन्य कहे सुने हुए अवस्था में भी प्रभावित होती रहती हैं उनकी वेशभूषा मुख मंडल और जो भी प्रतिक्रिया होती है वह इस सकारात्मक ऊर्जा के उद्घोष से आच्छादित रहती है और वही असर हम लोगों पर पड़ता है और चाहिए भी कि ऐसे लोगों की सुनने ध्यान में रहे जिससे कि हमारे अंदर ऊर्जावान मन उठे और प्रेरणादायक हमें युक्ति मिलते हैं उनके आचरण और उनकी नैतिकता से इत्यादि बातें हैं तो सपना देखता है और हमें हमेशा उन लोगों के बारे में चिंता सीखने के प्रयोग में रहना चाहिए जिससे कि हमें सकारात्मक ऊर्जा उत्पन्न हो धन्यवाद महेश जी भी योग योग और कर्म की ओर से आपको शुभकामनाएं देता हूं
Khush aur utsaahit vyakti ke sampark mein rahane se hamaaree tan man mein kya asar padata ityaadi bahut aatee hai to yahee svaastik mein saphar sthaan par aur apane aacharan mein khud hee spasht ho jaata hai ki jab aise vyaktitv ke log hamaare beech mein hote hain to ek sakaaraatmak oorja ka ahasaas hone lagata hai yaanee ki haadason garv ka vishay banata hai kyonki kabhee bhee unake andar se johora mandal kee jo bhee sotee hain vah sab mein ek prabhaav chitr ko ghera karatee hai aur usaka sar hamaare andar asar pahunchata hai isalie aisee sanskaaron se samput chor log manan chintan mein urd ret hote hain arthaat apane vichaaron se unmukh hokar ke us param satta king sthit hote hain kyonki jo makaan hai normal ka jo saiya mein hai vah us avastha mein rakhate hain ki jisamen ki unaka jo sancharan hota hai vot karake hota hai aur vahaan se vah cheej se rilaayans karata aate hain ki jis se gipht bhej diya aur jo bhee baatacheet kee dhaara hotee hai vah anubhav ke star mein hee kahee jaatee hai aur jor jis cheej ka spandan karake jo vaaky ghatit kiya jaata hai usaka yathaarth prabhaav hota hai to yah kis sangathan bhaavanaon ke saath jyot nirnay utpann hote hain vah sanchaar kendr vah tarang hai soory ke rahate hain aur usaka ek asar vaataavaran banane taiyaar hota hai aur ek any kahe sune hue avastha mein bhee prabhaavit hotee rahatee hain unakee veshabhoosha mukh mandal aur jo bhee pratikriya hotee hai vah is sakaaraatmak oorja ke udghosh se aachchhaadit rahatee hai aur vahee asar ham logon par padata hai aur chaahie bhee ki aise logon kee sunane dhyaan mein rahe jisase ki hamaare andar oorjaavaan man uthe aur preranaadaayak hamen yukti milate hain unake aacharan aur unakee naitikata se ityaadi baaten hain to sapana dekhata hai aur hamen hamesha un logon ke baare mein chinta seekhane ke prayog mein rahana chaahie jisase ki hamen sakaaraatmak oorja utpann ho dhanyavaad mahesh jee bhee yog yog aur karm kee or se aapako shubhakaamanaen deta hoon

#जीवन शैली

bolkar speaker
सामाजिक स्वास्थ्य क्या है?Samajik Savasthya Kya Hai
J.P. Y👌g i Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए J.P. जी का जवाब
Unknown
2:58
सामाजिक स्वास्थ्य की सामाजिक संस्था हमारे देश के अंदर जो सूची चल रहा है उसके अंदर हर मनुष्य को स्टेशन देखता है और अपने आपको कहीं ना कहीं हाथ करके नस्ल संगठन बनाता है और जब भी क्षमता कामयाब होना जाएंगे कहीं ना कहीं विश्वास ओपन करने की विधियां तैयार हो जाती है और मानव में एक विवाह अलग नजर आता है अभी ज्यादातर लोग होते हैं जो अपनी जिंदगी की शादी में पहुंच जाता विभिनता पाते होली की क्षमता ही समाज के स्वास्थ्य को संतुलन बनाने देते हैं तो यही चीज है कि जो कानून और जानू शासन हत्या आदि व्यवस्थाएं हैं जो कि के मानव समाज की दृष्टि से संभव में आचरण नहीं आता है यह सामाजिक संस्था के प्रति जनता हो गई है और सुनाइए कृषि संकट उत्पन्न होने लगता है वही सब चीजें जब सामान दारू से कोई संचारित व्यवस्था नहीं अंकुर काम करवाती है वह दिखता सबको है लेकिन उसका सही प्लेटफॉर्म नहीं हो पाता है और दूसरी बातें करते करते हो फिर भी भेजता चल रही है जैसे जाति पात का हो सकता है और विक्रय ऊंच-नीच की बातें होती हैं और एक समुदाय रूप में अलग से संगठन के रूप में एक दूसरे का विरोध करते हैं यह सब चीज सामाजिक व्यवस्था स्वयं इसको दृश्य नहीं कह सकते कि समाज सवाल है कौन सी चीज है कि कुछ ना कुछ आपसी सद्भावना उनके साथ ही सामाजिक मूल्य सुधर सकता है और हम देख सकते हैं कि हमारी देश की गति किस तरह के लोग नॉन में कमियां कारण क्या थे रोजगार की शिक्षा की तैयारी बहुत सारी चीजें हैं ऐसे जो क्षमता को धारण बनाती हो यह सब चीजें स्ट्रगल कर रहा है अभी बंद कीजिए होते हैं और इसी कानून का और नेता पक्ष का ध्यान चाहे तो उसकी संभावना से कुछ सुधार किया जा सकता है
Saamaajik svaasthy kee saamaajik sanstha hamaare desh ke andar jo soochee chal raha hai usake andar har manushy ko steshan dekhata hai aur apane aapako kaheen na kaheen haath karake nasl sangathan banaata hai aur jab bhee kshamata kaamayaab hona jaenge kaheen na kaheen vishvaas opan karane kee vidhiyaan taiyaar ho jaatee hai aur maanav mein ek vivaah alag najar aata hai abhee jyaadaatar log hote hain jo apanee jindagee kee shaadee mein pahunch jaata vibhinata paate holee kee kshamata hee samaaj ke svaasthy ko santulan banaane dete hain to yahee cheej hai ki jo kaanoon aur jaanoo shaasan hatya aadi vyavasthaen hain jo ki ke maanav samaaj kee drshti se sambhav mein aacharan nahin aata hai yah saamaajik sanstha ke prati janata ho gaee hai aur sunaie krshi sankat utpann hone lagata hai vahee sab cheejen jab saamaan daaroo se koee sanchaarit vyavastha nahin ankur kaam karavaatee hai vah dikhata sabako hai lekin usaka sahee pletaphorm nahin ho paata hai aur doosaree baaten karate karate ho phir bhee bhejata chal rahee hai jaise jaati paat ka ho sakata hai aur vikray oonch-neech kee baaten hotee hain aur ek samudaay roop mein alag se sangathan ke roop mein ek doosare ka virodh karate hain yah sab cheej saamaajik vyavastha svayan isako drshy nahin kah sakate ki samaaj savaal hai kaun see cheej hai ki kuchh na kuchh aapasee sadbhaavana unake saath hee saamaajik mooly sudhar sakata hai aur ham dekh sakate hain ki hamaaree desh kee gati kis tarah ke log non mein kamiyaan kaaran kya the rojagaar kee shiksha kee taiyaaree bahut saaree cheejen hain aise jo kshamata ko dhaaran banaatee ho yah sab cheejen stragal kar raha hai abhee band keejie hote hain aur isee kaanoon ka aur neta paksh ka dhyaan chaahe to usakee sambhaavana se kuchh sudhaar kiya ja sakata hai

#जीवन शैली

J.P. Y👌g i Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए J.P. जी का जवाब
Unknown
2:57
मुश्किल वक्त में भी प्रकृति के साथ संतुलन कैसे स्थापित किया जा सकता है मुश्किल वक्त का मतलब यह है कि वो आती संकट में है जिसमें विवश की स्थिति बनी रहती है अर्थात उसका कोई भी सामर्थ्य युक्ति साथ नहीं देता है और वह अपने आपको आता हताश होता है तो प्रकृति में एक से नहीं हर शंकर से गुजरने का साक्षरता पहलवान के ही रहते हैं लेकिन हम उनको ही बढ़ावा देते हैं शांत ही सबसे बड़ी स्क्रीन और धरता युक्ति है अगर शांत और धैर्य से अपनी स्थिति को नियंत्रण रख पाए तो वह दौर होता है जो गुजरता है या इसी दौरान में कुछ भी कर संभावना है हमारे अंतर्गत से बचाव पक्ष में स्वीकृत करती है अगर हम थोड़ा सा ध्यान करेंगे तो जब हम किसी आपदा का संवेदनशीलता है तो क्योंकि वह संवेदना एक दर्द के रूप से प्रतीत कराती है उस प्रणव को और यह सावधानी के लिए बताती है ऑरेंज बताने का मतलब है फिर जहां से बताने की क्षमता है वहीं से निदान होने की प्रवृत्ति उत्पन्न होने लग जाती है बशर्ते यही है कि उसमें अपने डिसीजन को आतुर नहीं देना चाहिए क्योंकि आनन-फानन में बिना सोचे समझे कोई निर्णय के पक्ष में हम घबराहट को पढ़ाते हैं तो नुकसान अपना होता है 3:00 से ही एक प्रकृति संतुलन के लिए जरूरत होती है कि आप शांत और देवर के साथ अपने आप को स्थित रखें और साक्षी भाव से देखेंगे तो आपको जरूर निवारण विधियां अपने आप से विकल्प के रूप में उत्पन्न होने लगे जाए लगेगी क्योंकि जो प्रकृति का स्वभाविक धर्म है वह सिर्फ उसकी सुरक्षा प्रदान करना है असुरक्षा ही उसकी शक्ति है धन्यवाद वैसे भी होगी वर्करैक्स की ओर से यही कहना चाहता हूं कि सिर्फ सही है नहीं और धरता ही और शांति ही आपको सदा है उस मोबाइल पर खड़ा कर देगी जहां से आप अपने आप को सुरक्षात्मक दृष्टि से बचा पाएंगे
Mushkil vakt mein bhee prakrti ke saath santulan kaise sthaapit kiya ja sakata hai mushkil vakt ka matalab yah hai ki vo aatee sankat mein hai jisamen vivash kee sthiti banee rahatee hai arthaat usaka koee bhee saamarthy yukti saath nahin deta hai aur vah apane aapako aata hataash hota hai to prakrti mein ek se nahin har shankar se gujarane ka saaksharata pahalavaan ke hee rahate hain lekin ham unako hee badhaava dete hain shaant hee sabase badee skreen aur dharata yukti hai agar shaant aur dhairy se apanee sthiti ko niyantran rakh pae to vah daur hota hai jo gujarata hai ya isee dauraan mein kuchh bhee kar sambhaavana hai hamaare antargat se bachaav paksh mein sveekrt karatee hai agar ham thoda sa dhyaan karenge to jab ham kisee aapada ka sanvedanasheelata hai to kyonki vah sanvedana ek dard ke roop se prateet karaatee hai us pranav ko aur yah saavadhaanee ke lie bataatee hai orenj bataane ka matalab hai phir jahaan se bataane kee kshamata hai vaheen se nidaan hone kee pravrtti utpann hone lag jaatee hai basharte yahee hai ki usamen apane diseejan ko aatur nahin dena chaahie kyonki aanan-phaanan mein bina soche samajhe koee nirnay ke paksh mein ham ghabaraahat ko padhaate hain to nukasaan apana hota hai 3:00 se hee ek prakrti santulan ke lie jaroorat hotee hai ki aap shaant aur devar ke saath apane aap ko sthit rakhen aur saakshee bhaav se dekhenge to aapako jaroor nivaaran vidhiyaan apane aap se vikalp ke roop mein utpann hone lage jae lagegee kyonki jo prakrti ka svabhaavik dharm hai vah sirph usakee suraksha pradaan karana hai asuraksha hee usakee shakti hai dhanyavaad vaise bhee hogee varkaraiks kee or se yahee kahana chaahata hoon ki sirph sahee hai nahin aur dharata hee aur shaanti hee aapako sada hai us mobail par khada kar degee jahaan se aap apane aap ko surakshaatmak drshti se bacha paenge

#जीवन शैली

J.P. Y👌g i Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए J.P. जी का जवाब
Unknown
2:28
प्रश्न आया हुआ है आत्मविश्वास बढ़ाने के लिए हमें क्या करना चाहिए आत्मविश्वास का मतलब होता है कि क्या ज्ञान होता है तब विकास की शक्ति बढ़ते हैं ज्ञान के बिना और कुछ नहीं जान पाता है क्योंकि बाहरी विवेक जो उत्पीड़न और अस्मिता को बरकरार दर्शन में स्थापित कर दिया जिसमें हीनता की गुलामी भावना हैपन होती है याद में कि इनका है आत्मशक्ति खेलता है तो पहला यह है कि जीवन में आदर्श रूप में किसी ऐसे ज्ञान का पल्लू पकड़ना चाहिए जिससे यह लगे कि संरक्षण में बातचीत संभव है जो हमें कमी को महसूस कराती है उसका निदान होता है और वह सपोर्ट सिर्फ गुरु परंपरा के उपदेश से हम आत्मा ग्रह शिल्पा में लाते हैं यही जरूरी है कि अपने ज्ञान के लिए किसी भी प्रकार के कुछ इस तरह के अध्यात्मिक लोगों के संगठन है या उनको आदर्श रूप में अपने हृदय में स्थापित कर आदरणीय और सम्मान के साथ उनका ध्यान रखना चाहिए कि मेरे घर नहीं सपोर्ट के लिए यह सारी चीजें मौजूद है और उनके स्मरण के साथ ही अपने जो इन भावनाओं को भर सकते हैं वैसे भी रसीद नहीं की है लेकिन कहावत है कि आत्मा अजर अमर अविनाशी है तो उनकी शक्ति की कुछ परते होती हैं जहां पिचकारी फैक्ट होता है लेकिन जो इससे परे कुछ ज्ञान की उत्सर्ग में साक्षी करण करते हैं हड़ताल जान लेते हैं की प्रक्रिया में क्यों विघटित करती रहती है हर तरह से उन सारी चीजों से तो खैर दूसरा मामला था लेकिन फिलहाल के लिए चाहिए आत्मविश्वास के लिए किसी भी तत्वों के आदर्श में अपने आप को अनुबंधित करें निश्चित ही आत्मा पल भर का बीजेपी होगी धन्यवाद
Prashn aaya hua hai aatmavishvaas badhaane ke lie hamen kya karana chaahie aatmavishvaas ka matalab hota hai ki kya gyaan hota hai tab vikaas kee shakti badhate hain gyaan ke bina aur kuchh nahin jaan paata hai kyonki baaharee vivek jo utpeedan aur asmita ko barakaraar darshan mein sthaapit kar diya jisamen heenata kee gulaamee bhaavana haipan hotee hai yaad mein ki inaka hai aatmashakti khelata hai to pahala yah hai ki jeevan mein aadarsh roop mein kisee aise gyaan ka palloo pakadana chaahie jisase yah lage ki sanrakshan mein baatacheet sambhav hai jo hamen kamee ko mahasoos karaatee hai usaka nidaan hota hai aur vah saport sirph guru parampara ke upadesh se ham aatma grah shilpa mein laate hain yahee jarooree hai ki apane gyaan ke lie kisee bhee prakaar ke kuchh is tarah ke adhyaatmik logon ke sangathan hai ya unako aadarsh roop mein apane hrday mein sthaapit kar aadaraneey aur sammaan ke saath unaka dhyaan rakhana chaahie ki mere ghar nahin saport ke lie yah saaree cheejen maujood hai aur unake smaran ke saath hee apane jo in bhaavanaon ko bhar sakate hain vaise bhee raseed nahin kee hai lekin kahaavat hai ki aatma ajar amar avinaashee hai to unakee shakti kee kuchh parate hotee hain jahaan pichakaaree phaikt hota hai lekin jo isase pare kuchh gyaan kee utsarg mein saakshee karan karate hain hadataal jaan lete hain kee prakriya mein kyon vighatit karatee rahatee hai har tarah se un saaree cheejon se to khair doosara maamala tha lekin philahaal ke lie chaahie aatmavishvaas ke lie kisee bhee tatvon ke aadarsh mein apane aap ko anubandhit karen nishchit hee aatma pal bhar ka beejepee hogee dhanyavaad

#खेल कूद

bolkar speaker
सम्मोहन विद्या द्वारा किस तरह से किसी के मन को वश में कर लिया जाता है?Sammohan Vidya Dwara Kis Tarah Se Kisi Ke Mann Ko Wash Mein Kar Liya Jata Hain
J.P. Y👌g i Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए J.P. जी का जवाब
Unknown
1:38
सम्मोहन विद्या के द्वारा किस तरह से किसी के मन को वश में किया जाता है प्रश्न आएगा मतलब उसको सम्मोहित कर लेना अपने मन की सिस्टम से उसको एकाकार करना और जो निर्देश होता है वह फॉलो करें यह सम्मोहन की युक्ति होती है और इस सम्मोहन जब होता है जब उसका वाह रे मन करता है और वह है मन को हटाने के लिए उसे किसी पेंडल का इस्तेमाल किया जाता है या किसी ऐसे प्रणालियों का प्रयोग किया जाता है जिससे कि उसका जो अवचेतन मन होता है जहां से संप्रेषित हो करके उसको यह लगता है कि यह मेरे द्वारा ही मेरे विचार है और यह है कि जब से तन मन से जब चेतन मन में टकराता है तो उसे ऐसा महसूस होता है कि यह मेरे ही विचार है मेरी मेरी होती है जिस तरह की एक बांसुरी को कोई भी फूंक मारे लेकिन उसकी ध्वनि उसी के अनुरूप से उसकी मूर्खता है सर से उत्सर्जित होती है इसी प्रकार मनुष्य किस चीज तन मन में जब कोई आवश्यक तत्वों से संप्रेषित भावनाएं होता है उसे ऐसा प्रतीत होता है कि मेरी ही मेरी इच्छा बनी हुई है और इसी के साथ उसका प्रभाव होता है धन्यवाद इलाज के लिए मैं यही चाहता हूं कि इसमें किसी को एकाग्र करके उस पर संप्रेषित भावनाओं को प्रेरित करना ही दे दीजिए सब में होती है
Sammohan vidya ke dvaara kis tarah se kisee ke man ko vash mein kiya jaata hai prashn aaega matalab usako sammohit kar lena apane man kee sistam se usako ekaakaar karana aur jo nirdesh hota hai vah pholo karen yah sammohan kee yukti hotee hai aur is sammohan jab hota hai jab usaka vaah re man karata hai aur vah hai man ko hataane ke lie use kisee pendal ka istemaal kiya jaata hai ya kisee aise pranaaliyon ka prayog kiya jaata hai jisase ki usaka jo avachetan man hota hai jahaan se sampreshit ho karake usako yah lagata hai ki yah mere dvaara hee mere vichaar hai aur yah hai ki jab se tan man se jab chetan man mein takaraata hai to use aisa mahasoos hota hai ki yah mere hee vichaar hai meree meree hotee hai jis tarah kee ek baansuree ko koee bhee phoonk maare lekin usakee dhvani usee ke anuroop se usakee moorkhata hai sar se utsarjit hotee hai isee prakaar manushy kis cheej tan man mein jab koee aavashyak tatvon se sampreshit bhaavanaen hota hai use aisa prateet hota hai ki meree hee meree ichchha banee huee hai aur isee ke saath usaka prabhaav hota hai dhanyavaad ilaaj ke lie main yahee chaahata hoon ki isamen kisee ko ekaagr karake us par sampreshit bhaavanaon ko prerit karana hee de deejie sab mein hotee hai

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
लंबे समय से रुके हुए काम कैसे पूरे हो सकते हैं?Lambe Samay Se Ruke Hue Kaam Kaise Pure Ho Sakte Hain
J.P. Y👌g i Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए J.P. जी का जवाब
Unknown
1:54
सुनाया लंबे समय से रुके हुए काम कैसे खुश हो सकते हैं बिल्कुल भी ऐसा होता है कि कई विघ्न बाधाएं उसमें आती रहती है और वह पुरुष पुराण में नहीं आता है उसने हो जाता है उसके पैसे अवस्था में रुके हुए उसको खुश करने के लिए कुछ मात्रा क्या होती है जो काम भी से संपूर्ण रहती है हमारी भारतीय परंपरागत अध्यात्मिक संपदा में ऐसे मंत्र प्रणालियां की नियुक्ति की गई है जो 6 जिलों के काम को प्रभाव मान कर देते हैं गतिमान करते हर था तो यह किसी भी स्ट के प्रति आपका घर ध्यान स्मरण हो तो उसको ही एकाकार करके कोशिश करें या कोई ऐसे गुरुओं से किसी से मंत्रणा आवश्यक है ब्राह्मण मिलेगी जिससे कि आप का समाधान हो सके और युक्ति के लिए बहुत सारी चीजें हैं दान इसमें सबसे उत्तम होता है या हाजिरी लगाना किसी मंदिर में किसी भी ऐसे देवस्थल में जाकर के नदिया वृक्षों से भी आप उस समस्याओं की याचना कर सकते हैं तो वह गोपनीय तौर पर करने के पश्चात आप उस पर ध्यान दें तो वह काम सदा ही ठीक होने लगता है मनौती मांगी जाती है इसमें की जानकारी अगर मेरा सिद्ध होता है तो मैं आगे सफलता पर है और कुछ प्रसादी तैयारी है अर्पण कर सकते हैं बेटे सकते हैं धन्यवाद
Sunaaya lambe samay se ruke hue kaam kaise khush ho sakate hain bilkul bhee aisa hota hai ki kaee vighn baadhaen usamen aatee rahatee hai aur vah purush puraan mein nahin aata hai usane ho jaata hai usake paise avastha mein ruke hue usako khush karane ke lie kuchh maatra kya hotee hai jo kaam bhee se sampoorn rahatee hai hamaaree bhaarateey paramparaagat adhyaatmik sampada mein aise mantr pranaaliyaan kee niyukti kee gaee hai jo 6 jilon ke kaam ko prabhaav maan kar dete hain gatimaan karate har tha to yah kisee bhee st ke prati aapaka ghar dhyaan smaran ho to usako hee ekaakaar karake koshish karen ya koee aise guruon se kisee se mantrana aavashyak hai braahman milegee jisase ki aap ka samaadhaan ho sake aur yukti ke lie bahut saaree cheejen hain daan isamen sabase uttam hota hai ya haajiree lagaana kisee mandir mein kisee bhee aise devasthal mein jaakar ke nadiya vrkshon se bhee aap us samasyaon kee yaachana kar sakate hain to vah gopaneey taur par karane ke pashchaat aap us par dhyaan den to vah kaam sada hee theek hone lagata hai manautee maangee jaatee hai isamen kee jaanakaaree agar mera siddh hota hai to main aage saphalata par hai aur kuchh prasaadee taiyaaree hai arpan kar sakate hain bete sakate hain dhanyavaad

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
किसी की नजर लगना क्या होता है?Kisi Ki Najar Lagna Kya Hota Hai
J.P. Y👌g i Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए J.P. जी का जवाब
Unknown
2:28
पहचाने किसी की नजर लग ना क्या होता है नजर वास्तव में लगती है इसलिए हमारा एक परफेक्ट और बोला है और ऐसी चीजें आती हमारे सामने हमसे मंत्रों द्वारा झाड़ भी देते हैं और वास्तव में ठीक हो जाता है क्योंकि एक नेगेटिव ऊर्जा होती है जो उस पर प्रभावित में पढ़ती हैं उसकी वजह से इस जो हर व्यक्ति होता है तो ग्रसित हो जाता है उसके अंदर उसका मन शरीर में दोनों ही एकदम रोग ग्रस्त व्यवस्था में आने लगते हैं और दवाई दिया दी उसे खाने पीने के अन्य विषयों में कोई खुलासा नहीं बनते हैं और वह मुरझाया सा अपने आप को ढूंढता रहता है लेकिन यह करेक्ट है कि कुछ मंत्रियों की प्रक्रिया के द्वारा है उसका निवारण भी हो जाता एक भावनात्मक भैंस होती है कई लोगों के अंदर ऐसी कुदृष्टि होती है उनकी अंत्रवाना में है उनको भी नहीं पता चलता कि हम कर क्या रहे हैं लेकिन हां उनका जो फूल लेवल है वह नकारात्मक उर्जा से परिपूर्ण रहता है तो ऐसी दृष्टि से कोई चीज प्रिय लगती है जिससे उनका मन साथ होता है तो उसके साथ उसकी जो तरंगे उस प्रवेश होती है इसकी वजह से ग्रसित हो जाता है तो उसकी तरंगों को दूसरे जो अच्छे लोग होते हैं उसकी चेस्टर में कोई प्रतिक्रिया करते हैं तो उसका निवारण हो जाता है उरई क्या होता है तो इसके कई रिजल्ट आते हैं कई लोग ऐसे पढ़कर टाइमिंग रखते हैं और कई ऐसे ही संभालते होता है लेकिन छोटे-मोटे निवारण से उसकी मृत्यु हो जाती है तो एक तो यह प्रत्यक्ष रूप से नजर की दूर दृष्टि बनती है जो मन सोनी अचानक किसी रूप से उनमें बासित रहते हैं लेकिन समाधान मिलता है और यह फैक्ट करते हैं बॉडी को और स्कूल तारा करने से ठीक होता है धन्यवाद
Pahachaane kisee kee najar lag na kya hota hai najar vaastav mein lagatee hai isalie hamaara ek paraphekt aur bola hai aur aisee cheejen aatee hamaare saamane hamase mantron dvaara jhaad bhee dete hain aur vaastav mein theek ho jaata hai kyonki ek negetiv oorja hotee hai jo us par prabhaavit mein padhatee hain usakee vajah se is jo har vyakti hota hai to grasit ho jaata hai usake andar usaka man shareer mein donon hee ekadam rog grast vyavastha mein aane lagate hain aur davaee diya dee use khaane peene ke any vishayon mein koee khulaasa nahin banate hain aur vah murajhaaya sa apane aap ko dhoondhata rahata hai lekin yah karekt hai ki kuchh mantriyon kee prakriya ke dvaara hai usaka nivaaran bhee ho jaata ek bhaavanaatmak bhains hotee hai kaee logon ke andar aisee kudrshti hotee hai unakee antravaana mein hai unako bhee nahin pata chalata ki ham kar kya rahe hain lekin haan unaka jo phool leval hai vah nakaaraatmak urja se paripoorn rahata hai to aisee drshti se koee cheej priy lagatee hai jisase unaka man saath hota hai to usake saath usakee jo tarange us pravesh hotee hai isakee vajah se grasit ho jaata hai to usakee tarangon ko doosare jo achchhe log hote hain usakee chestar mein koee pratikriya karate hain to usaka nivaaran ho jaata hai uree kya hota hai to isake kaee rijalt aate hain kaee log aise padhakar taiming rakhate hain aur kaee aise hee sambhaalate hota hai lekin chhote-mote nivaaran se usakee mrtyu ho jaatee hai to ek to yah pratyaksh roop se najar kee door drshti banatee hai jo man sonee achaanak kisee roop se unamen baasit rahate hain lekin samaadhaan milata hai aur yah phaikt karate hain bodee ko aur skool taara karane se theek hota hai dhanyavaad

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
व्हाट्सएप की नई पॉलिसी क्या है क्या यह हमारे-आपके लिए उपयोगी है ?Whatsapp Ki Nayi Policy Kya Hai Kya Yah Hamare Aapke Lie Upyogi Hai
J.P. Y👌g i Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए J.P. जी का जवाब
Unknown
2:28
व्हाट्सएप की नई पॉलिसी क्या है यह हमारे आपके लिए इधर ही पसंद आता है तो उस देश दर्शन के सही है अगर मीडिया में कोई चीज आ रही है और उसकी गोपनीयता के ऊपर ध्यान आकर्षण होता है कि वह चीज है उनके हाथों से निकल रही है लेकिन इसमें क्या है जो भी विचार और विषम विषय वस्तु होती है उस पर रूकावट हो सकती है क्योंकि इसमें कलेक्टर का बनना बहुत जरूरी होता है हालांकि यह प्लेटफॉर्म है अपनी जगह लेकिन ठीक है इंसान एक बार ही सच्ची तो हो जाता है उसको चेतावनी मिलती है कि हम कोई भी चीज ऐसा कर रहे जिसका साक्षी चाहिए आदमी पढ़कर आत्मा हो या परमात्मा हो या पूरा संसार हो सत्य तो सत्य होता है लेकिन हम उसमें क्या सुरजन करके परोस रहे हैं इसमें उसको कुछ ना कुछ श्याम कुछ ले तेजा और वह अच्छी वितरण करके भावनाओं को समझने की कोशिश करेगा व्यवहारों को और यह भी शोषण का मतलब सामाजिकता होती है लेकिन सामाजिकता का अर्थ यह नहीं होता है कि रहकर दुर्गेश उनका प्रचार-प्रसार हो तो ही अच्छी बात है उसमें डरने घबराने की कोई बात ही नहीं पड़ती है कि जो चीज भावनाएं हैं उस शब्द पर आधारित हो और वह कल्याण दायक हो तो यह बहुत ही उत्तम व्यवस्था है और दूसरी बात और भी जो कुछ उनकी जो रणनीतियां हैं और सबसे अच्छी बात है कि सारा डाटा है उसके पास और कभी जरूरत पड़ती है किसी भी चीज की तो वह निकल आती है इत्यादि चीजें हैं और यह संवैधानिक रूप में हो जानी चाहिए उसमें किसी भी घबराने की जरूरत नहीं है बहुत अच्छा कदम है धन्यवाद श्री राय से पेशाब के भी मतलब हो सकते हैं जैसे भी समय से जीती होगी बोलकर एप्स
Vhaatsep kee naee polisee kya hai yah hamaare aapake lie idhar hee pasand aata hai to us desh darshan ke sahee hai agar meediya mein koee cheej aa rahee hai aur usakee gopaneeyata ke oopar dhyaan aakarshan hota hai ki vah cheej hai unake haathon se nikal rahee hai lekin isamen kya hai jo bhee vichaar aur visham vishay vastu hotee hai us par rookaavat ho sakatee hai kyonki isamen kalektar ka banana bahut jarooree hota hai haalaanki yah pletaphorm hai apanee jagah lekin theek hai insaan ek baar hee sachchee to ho jaata hai usako chetaavanee milatee hai ki ham koee bhee cheej aisa kar rahe jisaka saakshee chaahie aadamee padhakar aatma ho ya paramaatma ho ya poora sansaar ho saty to saty hota hai lekin ham usamen kya surajan karake paros rahe hain isamen usako kuchh na kuchh shyaam kuchh le teja aur vah achchhee vitaran karake bhaavanaon ko samajhane kee koshish karega vyavahaaron ko aur yah bhee shoshan ka matalab saamaajikata hotee hai lekin saamaajikata ka arth yah nahin hota hai ki rahakar durgesh unaka prachaar-prasaar ho to hee achchhee baat hai usamen darane ghabaraane kee koee baat hee nahin padatee hai ki jo cheej bhaavanaen hain us shabd par aadhaarit ho aur vah kalyaan daayak ho to yah bahut hee uttam vyavastha hai aur doosaree baat aur bhee jo kuchh unakee jo rananeetiyaan hain aur sabase achchhee baat hai ki saara daata hai usake paas aur kabhee jaroorat padatee hai kisee bhee cheej kee to vah nikal aatee hai ityaadi cheejen hain aur yah sanvaidhaanik roop mein ho jaanee chaahie usamen kisee bhee ghabaraane kee jaroorat nahin hai bahut achchha kadam hai dhanyavaad shree raay se peshaab ke bhee matalab ho sakate hain jaise bhee samay se jeetee hogee bolakar eps

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
वैराग्य कैसे होता है?Vairagya Kaise Hota Hai
J.P. Y👌g i Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए J.P. जी का जवाब
Unknown
2:28
भजन है वैराग्य कैसे होता है वैराग्य का मतलब यह है कि जो संसार एक रुप से हमारी मोह के बेटियां होती है उससे ब्रेकअप हो ना लाला अलग होना मेरा की भावना जागृत होती है लेकिन ऐसा नहीं होता कि उसका वैराग फोन पर होता है लेकिन हां यह जो जिस संस्थान में विघ्न कार्य की जितनी भी भर्तियां है उससे निवृत्ति पाने का उपाय वैराग पत्र बनता है कि उससे कोई राह किसी तरह का हम मन में संगठन की भावनाएं नहीं आनी चाहिए क्योंकि उनकी भाव भीड़ थी नहीं संप्रेषित होकर का कार्य करके मनुष्य के अंदर कुछ ऑफिस करती है इसलिए सिर्फ से रहित होकर कि उन्हें बैरागी पथ पर उच्च स्तर पर लाना पड़ता है और यह जब तक पूर्णता के पथ पर पूर्ण विराम तो नहीं आती तब तक इसकी गतिविधियां बढ़ती चली जाती है उसके बीच में आने वाली बहुत सी अपेक्षाएं हैं जो किसी न किसी आधार पर बांधती हैं एक चाहे कोई भी हो जब किसी को संज्ञान में होता है तो परी बंद हो जाता है अर्थात मुक्त तो जब होता है जब किसी भी पदार्थ के संसर्ग में ना रहते हुए मृत्यु पंक्ति चली जाती है और महाराष्ट्र सदन के अंदर स्थित होता है और यह बहुत समाधि की स्थिति में सहायक होती है इसलिए वैराग धारण होता लेकिन कैसे होता है तो ऐसा कभी कुछ इंसान को कोई ह्रदय में अघात पहुंचता है जिसकी वजह से वह एक दुष्ट होता है तो वह दूसरे मार्ग की ओर चल पड़ता है वह संपूर्ण त्याग करता है एक ही परेशानी की वजह से जिसको चल नहीं पाता उससे भी प्रत्यक्ष की भावना उत्पन्न हो जाती है और और उन्मुख होता है मेरा के प्रति लेकिन भैरव का अर्थ यह नहीं होता है कि अपने आप को बिल्कुल ही मिनिस्टर करता है वह बल्कि एक किसी तत्व की प्राप्ति का साधन बनता है उसमें पूर्णता आती है यही मेरा की उचित व्याख्या है धन्यवाद में
Bhajan hai vairaagy kaise hota hai vairaagy ka matalab yah hai ki jo sansaar ek rup se hamaaree moh ke betiyaan hotee hai usase brekap ho na laala alag hona mera kee bhaavana jaagrt hotee hai lekin aisa nahin hota ki usaka vairaag phon par hota hai lekin haan yah jo jis sansthaan mein vighn kaary kee jitanee bhee bhartiyaan hai usase nivrtti paane ka upaay vairaag patr banata hai ki usase koee raah kisee tarah ka ham man mein sangathan kee bhaavanaen nahin aanee chaahie kyonki unakee bhaav bheed thee nahin sampreshit hokar ka kaary karake manushy ke andar kuchh ophis karatee hai isalie sirph se rahit hokar ki unhen bairaagee path par uchch star par laana padata hai aur yah jab tak poornata ke path par poorn viraam to nahin aatee tab tak isakee gatividhiyaan badhatee chalee jaatee hai usake beech mein aane vaalee bahut see apekshaen hain jo kisee na kisee aadhaar par baandhatee hain ek chaahe koee bhee ho jab kisee ko sangyaan mein hota hai to paree band ho jaata hai arthaat mukt to jab hota hai jab kisee bhee padaarth ke sansarg mein na rahate hue mrtyu pankti chalee jaatee hai aur mahaaraashtr sadan ke andar sthit hota hai aur yah bahut samaadhi kee sthiti mein sahaayak hotee hai isalie vairaag dhaaran hota lekin kaise hota hai to aisa kabhee kuchh insaan ko koee hraday mein aghaat pahunchata hai jisakee vajah se vah ek dusht hota hai to vah doosare maarg kee or chal padata hai vah sampoorn tyaag karata hai ek hee pareshaanee kee vajah se jisako chal nahin paata usase bhee pratyaksh kee bhaavana utpann ho jaatee hai aur aur unmukh hota hai mera ke prati lekin bhairav ka arth yah nahin hota hai ki apane aap ko bilkul hee ministar karata hai vah balki ek kisee tatv kee praapti ka saadhan banata hai usamen poornata aatee hai yahee mera kee uchit vyaakhya hai dhanyavaad mein

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
वह कौन सा बीज मंत्र है जिससे नकारात्मकता समाप्त होती है?Vah Kaun Sa Beej Mantra Hai Jisse Nakaratmakta Samaapt Hoti Hai
J.P. Y👌g i Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए J.P. जी का जवाब
Unknown
2:28
प्रश्न आया है कौन सा बीज मंत्र है जिससे नकारात्मक समाप्त हो जाते हैं बिल्कुल सही बात है लेकिन हमारे नकारात्मक विद्या उत्पन्न होती है और उसके कारण हमारी मानसिक दशा प्रभावित रहती है जिससे कि हम अपने स्वभाव इस संस्था में स्थान नहीं हो पाते हैं उसमें विचलित होता है तो ऐसा ही है कि भावनाओं का उद्गम स्थल होता है और वह जब लॉकेट हो जाती है या उससे ज्यादा कोई प्रभावशाली तिरंगे को उत्पन्न करता है तो वह हमें उस बाहों में मिलता तो पराक्रम देता है नकारात्मक शक्तियां जो है डिप्रेशन बनाते हैं और ज्यादातर हमारी इन भावनाओं से उत्पन्न होती है और हमारा दिमाग पहले से स्वीकार करके चलता है कि हर अपने आप को किसी टैली में यानी तुलनात्मक दृष्टि में फर्नीचर रख देता है और कमजोरी का है इसका प्रमोद भी ज्यादा होता है इस कारण से लेकिन जहां तक बीज मंत्र का सवाल है तो जो श्रद्धा पूर्वक ह्रदय में आता है कि उसको ग्रहण कर सकते हैं चाहे ओंकार हो एक ओंकार ओ जी विश्नोई संप्रदाय में आपका रुचि और ध्यान हो खुश कोई सर्विस प्राप्त करने तो उसमें मन मुखी और गुरुमुखी का एक शब्द निचोड़ आता है गुरु मुख से जो शब्द प्राप्त होता है वह वास्तव में एक दिन होती है और जो हम वैसे अपनी मनमर्जी से कोई शक उठा लेते हैं लेकिन प्रभाव तो वह भी करता है फिलहाल लेकिन वह ज्यादा प्रभावित करता है जो ग्रुप के द्वारा प्रदत्त दिव्या मिलती है तो कोई सभी बीज मंत्र है लेकिन उसके पीछे का रहस्य ही है कि उसमें सर दावत आत्मा निष्ठा होनी चाहिए विश्वास बेहद सुधरता नीचे आपस की बारंबारता जब कीजिएगा फतेह आपको उठा देगा और मैं यहां विशेषता हिंदू परंपरा के अनुसार ओम नमः शिवाय का पंचाक्षर मंत्र बहुत ही सटीक होता है और इसमें कोई ज्यादा अनुशासन की जरूरत नहीं पड़ती बस श्रद्धा पूर्वक उसको साफ किया जा सकता है और आपका ऑटोमेटिक करो
Prashn aaya hai kaun sa beej mantr hai jisase nakaaraatmak samaapt ho jaate hain bilkul sahee baat hai lekin hamaare nakaaraatmak vidya utpann hotee hai aur usake kaaran hamaaree maanasik dasha prabhaavit rahatee hai jisase ki ham apane svabhaav is sanstha mein sthaan nahin ho paate hain usamen vichalit hota hai to aisa hee hai ki bhaavanaon ka udgam sthal hota hai aur vah jab loket ho jaatee hai ya usase jyaada koee prabhaavashaalee tirange ko utpann karata hai to vah hamen us baahon mein milata to paraakram deta hai nakaaraatmak shaktiyaan jo hai dipreshan banaate hain aur jyaadaatar hamaaree in bhaavanaon se utpann hotee hai aur hamaara dimaag pahale se sveekaar karake chalata hai ki har apane aap ko kisee tailee mein yaanee tulanaatmak drshti mein pharneechar rakh deta hai aur kamajoree ka hai isaka pramod bhee jyaada hota hai is kaaran se lekin jahaan tak beej mantr ka savaal hai to jo shraddha poorvak hraday mein aata hai ki usako grahan kar sakate hain chaahe onkaar ho ek onkaar o jee vishnoee sampradaay mein aapaka ruchi aur dhyaan ho khush koee sarvis praapt karane to usamen man mukhee aur gurumukhee ka ek shabd nichod aata hai guru mukh se jo shabd praapt hota hai vah vaastav mein ek din hotee hai aur jo ham vaise apanee manamarjee se koee shak utha lete hain lekin prabhaav to vah bhee karata hai philahaal lekin vah jyaada prabhaavit karata hai jo grup ke dvaara pradatt divya milatee hai to koee sabhee beej mantr hai lekin usake peechhe ka rahasy hee hai ki usamen sar daavat aatma nishtha honee chaahie vishvaas behad sudharata neeche aapas kee baarambaarata jab keejiega phateh aapako utha dega aur main yahaan visheshata hindoo parampara ke anusaar om namah shivaay ka panchaakshar mantr bahut hee sateek hota hai aur isamen koee jyaada anushaasan kee jaroorat nahin padatee bas shraddha poorvak usako saaph kiya ja sakata hai aur aapaka otometik karo

#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker
बोलकर ऐप भविष्य में हमे कैसे फायदे देगा?Bolkar App Bhavishya Mein Hume Kaise Fayde Dega
J.P. Y👌g i Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए J.P. जी का जवाब
Unknown
2:28
पुलिस उन्हें बोल करें भविष्य में हमें कैसे फायदे देखा तो दर्शन जी यह बताता है कि कोई भी जवाब किसी के समझ में आता है तो वह सीधा सा फास्ट अपने अनुभव के आधार पर कह सकता है और उससे जो समाधान मिलता है वह बहुत ही प्राण तारीफ के काबिल बनती है और आज के युग में लोग फुर्सत नहीं होती है कि वह किसी तरह के समाधान को पास अकेली के लिए एक ऐसा प्लेटफॉर्म मिल जाता है जो भविष्य में हर शंका का समाधान प्राप्त होता है तो वर्करैक्स भविष्य में हमारे पूरे समाज को फायदा दे सकता है और मन की जो भी स्थितियां हैं और उसमें जो समझ में आए हमारे को महसूस होता है उत्पीड़न होती है हर चीज की बात को शेयर कर सकते हैं और तो सर्दी पूर्वक जवाब दे सकते हैं और इसमें विशेषता यही की खास भी नहीं होती कि कोई भी इंसान जो हम भाषा में एक दूसरे को समझा पाते उसकी ही भाषा में अपने सैनिकों को समझा सकते हैं और उसमें समझने और समझाने वाला का समय से बैठ जाता है और मानसिकता ही इस जगत में है और उसकी निवृत्ति के लिए कई विकल्प संभावनाएं मिलते हैं जिससे कि हमें एक सही दिशा निर्देश प्राप्त होता है और यह बहुत ही अच्छी बात है कि हर संभावित भावनाओं का हमारा परिमार्जन भी बनता है कि हम वास्तव में सही है या गलत है इसकी भी हमें एक ऊपर रखनी होती है तो बेहतर यह है कि एक तो सेल्ट ने 7 माह की चीजें होती है जो सदा ही अपने आप से सृजन करते हैं और ऐसी बहुत सी प्रतिभाएं हैं जो उनको ऑडियंस नहीं मिलती है तो इस प्लेटफार्म में सब कुछ सिद्ध होता है अर्थात व्यर्थ नहीं जाता है इसी के साथ में अपने इस जवाब को समापन करना चाहता हूं धन्यवाद बीजेपी योगी बोल कर
Pulis unhen bol karen bhavishy mein hamen kaise phaayade dekha to darshan jee yah bataata hai ki koee bhee javaab kisee ke samajh mein aata hai to vah seedha sa phaast apane anubhav ke aadhaar par kah sakata hai aur usase jo samaadhaan milata hai vah bahut hee praan taareeph ke kaabil banatee hai aur aaj ke yug mein log phursat nahin hotee hai ki vah kisee tarah ke samaadhaan ko paas akelee ke lie ek aisa pletaphorm mil jaata hai jo bhavishy mein har shanka ka samaadhaan praapt hota hai to varkaraiks bhavishy mein hamaare poore samaaj ko phaayada de sakata hai aur man kee jo bhee sthitiyaan hain aur usamen jo samajh mein aae hamaare ko mahasoos hota hai utpeedan hotee hai har cheej kee baat ko sheyar kar sakate hain aur to sardee poorvak javaab de sakate hain aur isamen visheshata yahee kee khaas bhee nahin hotee ki koee bhee insaan jo ham bhaasha mein ek doosare ko samajha paate usakee hee bhaasha mein apane sainikon ko samajha sakate hain aur usamen samajhane aur samajhaane vaala ka samay se baith jaata hai aur maanasikata hee is jagat mein hai aur usakee nivrtti ke lie kaee vikalp sambhaavanaen milate hain jisase ki hamen ek sahee disha nirdesh praapt hota hai aur yah bahut hee achchhee baat hai ki har sambhaavit bhaavanaon ka hamaara parimaarjan bhee banata hai ki ham vaastav mein sahee hai ya galat hai isakee bhee hamen ek oopar rakhanee hotee hai to behatar yah hai ki ek to selt ne 7 maah kee cheejen hotee hai jo sada hee apane aap se srjan karate hain aur aisee bahut see pratibhaen hain jo unako odiyans nahin milatee hai to is pletaphaarm mein sab kuchh siddh hota hai arthaat vyarth nahin jaata hai isee ke saath mein apane is javaab ko samaapan karana chaahata hoon dhanyavaad beejepee yogee bol kar

#जीवन शैली

bolkar speaker
क्या दुखी और और सफल जीवन जीने से मृत्यु सही है?Kya Dukhi Aur Aur Safal Jeevan Jeene Se Mrityu Sahi Hai
J.P. Y👌g i Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए J.P. जी का जवाब
Unknown
2:09

#जीवन शैली

bolkar speaker
हम जीवन में एक समान खुशी कैसे पा सकते हैं?Hum Jeevan Mein Ek Samaan Khushi Kaise Pa Sakte Hain
J.P. Y👌g i Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए J.P. जी का जवाब
Unknown
2:28

#जीवन शैली

bolkar speaker
वास्तव में अभिनय का हमारे जीवन में कितना महत्व है?Vastav Mein Abhinay Ka Humare Jeevan Mein Kitna Mahatv Hai
J.P. Y👌g i Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए J.P. जी का जवाब
Unknown
2:28

#जीवन शैली

bolkar speaker
अहंकारी लोगों के साथ कैसे पेश आए?Ahankari Logon Ke Saath Kaise Pesh Aaye
J.P. Y👌g i Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए J.P. जी का जवाब
Unknown
2:28

#मनोरंजन

bolkar speaker
जोक्स, चुटकुला, कॉमेडी, मिमिक्री या कोई मनोरंजन कर सकते हैं तो सुनाएं?Jocks Chutkula Comedy Mimicry Ya Koi Manoranjan Kar Sakte Hain To Sunaye
J.P. Y👌g i Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए J.P. जी का जवाब
Unknown
2:28

#मनोरंजन

J.P. Y👌g i Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए J.P. जी का जवाब
Unknown
2:28
URL copied to clipboard