#undefined

bolkar speaker
अधिक हरी मिर्च खाने के क्या नुकसान है?Adhik Hari Mirchi Khane Ke Kya Nuksan Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:24
अधिक में हरी मिर्ची जो है वह तो आपको ही स्वयं परेशान करेंगे लेकिन कोई सी जगह दिखाई जाती है तो उतनी नुकसान नहीं करती मिर्ची हमेशा लाल नुकसान करती है क्योंकि सूखी होती है और वह जो है हमारे आमाशय को नुकसान पहुंचाते और हरी हरी मिर्ची उस भोजन की तरह है जिस प्रकार से हरी सब्जियां होती हैं तो हरी सब्जियों के जब मिर्ची का इस्तेमाल किया जाता है तो मैं किसी प्रकार कोई नुकसान नहीं होगा
Adhik mein haree mirchee jo hai vah to aapako hee svayan pareshaan karenge lekin koee see jagah dikhaee jaatee hai to utanee nukasaan nahin karatee mirchee hamesha laal nukasaan karatee hai kyonki sookhee hotee hai aur vah jo hai hamaare aamaashay ko nukasaan pahunchaate aur haree haree mirchee us bhojan kee tarah hai jis prakaar se haree sabjiyaan hotee hain to haree sabjiyon ke jab mirchee ka istemaal kiya jaata hai to main kisee prakaar koee nukasaan nahin hoga

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
न्यायालय में गवाह जब गवाही देता है तो गीता की कसम क्यों दिलाई जाती है?Nyayalay Mein Gavah Jab Gavahi Deta Hai To Geeta Ki Kasam Kyun Dilaei Jati Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:59
रायला में जब गवाही दी जाती है तो गीता की कसम क्यों खिलाई जाती है कि हमारे यहां गीता सबसे पवित्र ग्रंथ है जो भगवान के श्री मुख से निकली हुई है जिस प्रकार से मुसलमानों में कुरान होती है उसी प्रकार से हिंदुओं में गीता होती है गीता से पवित्र हमारे धर्म में कोई महत्वपूर्ण और पवित्र नहीं माना जाता है इसलिए उसको यह जब बताया जाता है कि मैं भगवान को हाथ जोड़ना गीता मतलब भगवान भगवान को हाजिर नाजिर जानकर मैं शपथ लेता हूं कि मैं जो कुछ भी कहूंगा सच कहूंगा और सच के सिवा कुछ नहीं कहूंगा इसलिए जब इसके बाद भी उसकी दवाई शुरू होती है कि वह सब ने सात वचनों का पालन करेगा तुझे वह बोलता है तो उसकी दवाई पर ही मुकदमा निर्भर करता है क्योंकि न्यायालय हमें हमारी न्याय व्यवस्था जो है गवाहों पर ही निर्भर करती है दे दवा मतलब उसके मुकदमे के पक्ष में अगर गवाही देता तो मुकदमा आज भी जीत जाता है और विरोध में अगर गाली देता है मुकदमा आदमी हार जाता है
Raayala mein jab gavaahee dee jaatee hai to geeta kee kasam kyon khilaee jaatee hai ki hamaare yahaan geeta sabase pavitr granth hai jo bhagavaan ke shree mukh se nikalee huee hai jis prakaar se musalamaanon mein kuraan hotee hai usee prakaar se hinduon mein geeta hotee hai geeta se pavitr hamaare dharm mein koee mahatvapoorn aur pavitr nahin maana jaata hai isalie usako yah jab bataaya jaata hai ki main bhagavaan ko haath jodana geeta matalab bhagavaan bhagavaan ko haajir naajir jaanakar main shapath leta hoon ki main jo kuchh bhee kahoonga sach kahoonga aur sach ke siva kuchh nahin kahoonga isalie jab isake baad bhee usakee davaee shuroo hotee hai ki vah sab ne saat vachanon ka paalan karega tujhe vah bolata hai to usakee davaee par hee mukadama nirbhar karata hai kyonki nyaayaalay hamen hamaaree nyaay vyavastha jo hai gavaahon par hee nirbhar karatee hai de dava matalab usake mukadame ke paksh mein agar gavaahee deta to mukadama aaj bhee jeet jaata hai aur virodh mein agar gaalee deta hai mukadama aadamee haar jaata hai

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
भारत में उम्रकैद के लिए कितने साल की सजा दी जाती है?Bharat Mein Umrkaid Ke Lie Kitne Saal Ki Saja Di Jati Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:48
भारत में उम्र कैद के लिए कितने साल की सजा दी जाती है हमारे यहां उम्र कैद की सजा तो 14 साल दिन और रात मिलाकर के 28 साल होते हैं मतलब उसको रात भी अलग दिल्ली आ जाता दिन भैया लगेंगे तो सजा में 24 घंटे की सजा को इसलिए 14 साल की सजा ही मानी जाती है उम्र कैद की सजा में उसको 14 साल बाद उसको रिहा कर दिया जाती है दिया कर उसके चाल चलन चरित्र वगैरह सब अच्छा होता है तो उसमें कुछ छूट भी दे दी जाती है तो इसलिए इसको न्यायालय द्वारा उम्र की सजा दी जाती है और वहां पर अपने सजा के दौरान दे दिया तो उसका कार्यक्रम चरित्र ज्यादा मतलब उत्तम माना जाता है तो वह क्षमता के कारण उसके सजा में कुछ कमी कर दी जाती है और उसको जल्दी मुक्त कर दिया जाता है जल्दी रिहा कर दिया जाता है
Bhaarat mein umr kaid ke lie kitane saal kee saja dee jaatee hai hamaare yahaan umr kaid kee saja to 14 saal din aur raat milaakar ke 28 saal hote hain matalab usako raat bhee alag dillee aa jaata din bhaiya lagenge to saja mein 24 ghante kee saja ko isalie 14 saal kee saja hee maanee jaatee hai umr kaid kee saja mein usako 14 saal baad usako riha kar diya jaatee hai diya kar usake chaal chalan charitr vagairah sab achchha hota hai to usamen kuchh chhoot bhee de dee jaatee hai to isalie isako nyaayaalay dvaara umr kee saja dee jaatee hai aur vahaan par apane saja ke dauraan de diya to usaka kaaryakram charitr jyaada matalab uttam maana jaata hai to vah kshamata ke kaaran usake saja mein kuchh kamee kar dee jaatee hai aur usako jaldee mukt kar diya jaata hai jaldee riha kar diya jaata hai

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
क्या सर्वोच्च न्यायालय किसी भी परिस्थिति में कोई कानून बना सकती है?Kya Sarwochch Nyayalay Kisi Bhi Paristhiti Mein Koi Kanoon Bana Sakti Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:48
सर्वोच्च न्यायालय हमारे देश में तीन न्यायपालिका कार्यपालिका होती है ना उस कार्यपालिका हुई और विधि हिसाब से जो दिया सारी चीजें कहां किस पर हैं लोकसभा और सरकार पर निर्भर करते हैं तो जब लोकसभा में जो हमारे चुने हुए जनप्रतिनिधि आते हैं जिनको हम एमपी और एमएलए कहते हैं वहां जो अपनी बातें रखते हैं वहां कानून प्रस्तुत किए जाते हैं और जब देख लेते हैं कि जनता ने वाकई इसकी जरूरत है तो सब जब उसको विधि सम्मत तरीके से कानून बना करके और तो राष्ट्रपति के हस्ताक्षर से जब उससे गजल करा दिया तो वह कानून तो वह न्यायालय उसका पालन करता है उसके व्यवस्था की गई है और न्यायालय अपने मन से कोई कानून बना नहीं सकता है नाले के पास कानून बनाने का कोई अधिकार नहीं है
Sarvochch nyaayaalay hamaare desh mein teen nyaayapaalika kaaryapaalika hotee hai na us kaaryapaalika huee aur vidhi hisaab se jo diya saaree cheejen kahaan kis par hain lokasabha aur sarakaar par nirbhar karate hain to jab lokasabha mein jo hamaare chune hue janapratinidhi aate hain jinako ham emapee aur emele kahate hain vahaan jo apanee baaten rakhate hain vahaan kaanoon prastut kie jaate hain aur jab dekh lete hain ki janata ne vaakee isakee jaroorat hai to sab jab usako vidhi sammat tareeke se kaanoon bana karake aur to raashtrapati ke hastaakshar se jab usase gajal kara diya to vah kaanoon to vah nyaayaalay usaka paalan karata hai usake vyavastha kee gaee hai aur nyaayaalay apane man se koee kaanoon bana nahin sakata hai naale ke paas kaanoon banaane ka koee adhikaar nahin hai

#भारत की राजनीति

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:51
भारत की वर्तमान न्याय प्रणाली और व्यवस्था में आम आदमी की स्थिति कहां पर है और कैसे देखें न्याय प्रणाली हमारे यहां के थोड़ा सा गंभीर है गंभीर यह है कि आप मुकदमा दायर करते हैं बहुत दिनों बाद तारीख है लगती है तब तक भर में स्थितियां बदल जाती हैं हार जाते तो अपील करनी पड़ती है बहुत पैसा खर्च हो जाता है न्यायिक प्रणाली जो है हमारे यहां की बहुत मजबूत है और तू के न्याय देर में मिलता है इसलिए उसका सबसे बड़ा दोष है जल्दी उस पर निर्णय नहीं लिए जाते हैं तो बल्कि एक हमारे सामने भी एक भाषण में कहा था कि न्याय जो है न्यायालय बड़े लोगों के लिए पैसे वालों के लिए ही है गरीब आदमी हूं वहां तक पहुंच ही नहीं पाता है और वह मतलब न्याय से मतलब वंचित रखा जाता है
Bhaarat kee vartamaan nyaay pranaalee aur vyavastha mein aam aadamee kee sthiti kahaan par hai aur kaise dekhen nyaay pranaalee hamaare yahaan ke thoda sa gambheer hai gambheer yah hai ki aap mukadama daayar karate hain bahut dinon baad taareekh hai lagatee hai tab tak bhar mein sthitiyaan badal jaatee hain haar jaate to apeel karanee padatee hai bahut paisa kharch ho jaata hai nyaayik pranaalee jo hai hamaare yahaan kee bahut majaboot hai aur too ke nyaay der mein milata hai isalie usaka sabase bada dosh hai jaldee us par nirnay nahin lie jaate hain to balki ek hamaare saamane bhee ek bhaashan mein kaha tha ki nyaay jo hai nyaayaalay bade logon ke lie paise vaalon ke lie hee hai gareeb aadamee hoon vahaan tak pahunch hee nahin paata hai aur vah matalab nyaay se matalab vanchit rakha jaata hai

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
वरिष्ठ नागरिकों की सुरक्षा के लिए कौन-कौन से कानून बनाए गए हैं?Varist Nagriko Ki Suraksha Ke Liye Kon Kon Se Kanoon Banaye Gaye Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:57
वरिष्ठ नागरिक को सुरक्षा के लिए कौन-कौन से कानून बनाए गए हैं वरिष्ठ नागरिकों की सुरक्षा के लिए पहले तो थाने में रजिस्ट्रार बनाया गया जहां उसकी उनकी उपस्थिति दर्ज की जाती है मतलब हमारे क्षेत्र में कौन-कौन से किस परिवार में कितने वरिष्ठ नागरिक हैं उनको पेंशन मिलती है समय से कि नहीं मिलती है दूसरा उनके घर परिवार वालों को परेशान तो नहीं कर रहे हैं दूसरा उनके इलाज के लिए समुचित व्यवस्था है कि नहीं इसलिए समुचित पीएमसीओ गरज होती हैं प्रायमरी हेल्थ सेंटर पीएससी वगैरह वहां भी मतलब उनकी सूचना दे दी जाती है कि इनके पास पैसा हो जाना हो आप इनकी दवा सरकारी अन्य शुरू करेंगे यह सारी सुरक्षा में जो है खासतौर से पुलिस थाने की सुरक्षा जो है वह भी ज्यादा महत्व रखती ताकि लड़के बहू या मतलब अन्य पड़ोसी जो है उनके कमजोरी का फायदा उठा करके उनको परेशान ना करें इसलिए अपना पंजीकरण देकर कोई बुजुर्ग है घर में तो उसका थाने में पंजीकरण जरूर करवा दीजिए 112 नंबर पर
Varishth naagarik ko suraksha ke lie kaun-kaun se kaanoon banae gae hain varishth naagarikon kee suraksha ke lie pahale to thaane mein rajistraar banaaya gaya jahaan usakee unakee upasthiti darj kee jaatee hai matalab hamaare kshetr mein kaun-kaun se kis parivaar mein kitane varishth naagarik hain unako penshan milatee hai samay se ki nahin milatee hai doosara unake ghar parivaar vaalon ko pareshaan to nahin kar rahe hain doosara unake ilaaj ke lie samuchit vyavastha hai ki nahin isalie samuchit peeemaseeo garaj hotee hain praayamaree helth sentar peeesasee vagairah vahaan bhee matalab unakee soochana de dee jaatee hai ki inake paas paisa ho jaana ho aap inakee dava sarakaaree any shuroo karenge yah saaree suraksha mein jo hai khaasataur se pulis thaane kee suraksha jo hai vah bhee jyaada mahatv rakhatee taaki ladake bahoo ya matalab any padosee jo hai unake kamajoree ka phaayada utha karake unako pareshaan na karen isalie apana panjeekaran dekar koee bujurg hai ghar mein to usaka thaane mein panjeekaran jaroor karava deejie 112 nambar par

#जीवन शैली

bolkar speaker
अगर हमें किसी व्यक्ति से खतरा हो तो क्या कानूनी कार्रवाई करनी चाहिए?Agar Hume Kisi Vyakti Se Khatra Ho To Kya Kanuni Karyavahi Karni Chayia
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:58
अगर आपको किसी व्यक्ति से खतरा है तो क्या कानूनी कार्रवाई करना चाहिए रिटेलर आपको मालूम है हमको किसी व्यक्ति से खतरा तो पहले तो आप अपने आप को सुरक्षित रखें फिर आप एफ आई आर दर्ज करा दी सेवा भाई ने टेंपो फला फला फला आदमी से खतरा है उन्होंने हमारे साथ लिया है और इनसे में जान का खतरा तो उस पर पुलिस जो है आप को सुरक्षा प्रदान करेगी उसके लिए सब जगह जो प्रधानमंत्री को मुख्यमंत्री को गृहमंत्री को और सचिवों को आप दरखास लेकर को सूचित कर दीजिए कि अगर हमारे ऊपर मतलबी है इसको पर कार्रवाई न की गई तो हमारे पर आक्रमण कर सकता है तो इन सब चीजों से पुलिस सुरक्षा प्रदान करने के लिए विभाग बनाया गया है तो पुलिस अभिरक्षा के लिए सुरक्षा लीजिए आप उनसे और उन्नति के जब तक जांच नहीं होती है तब तो कुछ वक्त से सावधान रहिए इसलिए पहले से उसकी जो है और सूचना पुलिस को जरूर दे देना चाहिए
Agar aapako kisee vyakti se khatara hai to kya kaanoonee kaarravaee karana chaahie ritelar aapako maaloom hai hamako kisee vyakti se khatara to pahale to aap apane aap ko surakshit rakhen phir aap eph aaee aar darj kara dee seva bhaee ne tempo phala phala phala aadamee se khatara hai unhonne hamaare saath liya hai aur inase mein jaan ka khatara to us par pulis jo hai aap ko suraksha pradaan karegee usake lie sab jagah jo pradhaanamantree ko mukhyamantree ko grhamantree ko aur sachivon ko aap darakhaas lekar ko soochit kar deejie ki agar hamaare oopar matalabee hai isako par kaarravaee na kee gaee to hamaare par aakraman kar sakata hai to in sab cheejon se pulis suraksha pradaan karane ke lie vibhaag banaaya gaya hai to pulis abhiraksha ke lie suraksha leejie aap unase aur unnati ke jab tak jaanch nahin hotee hai tab to kuchh vakt se saavadhaan rahie isalie pahale se usakee jo hai aur soochana pulis ko jaroor de dena chaahie

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
पुलिस हिरासत व न्यायिक हिरासत में क्या अंतर है?Police Hirasat Va Nyayik Hirasat Me Kya Ferk Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:56
पुलिस हिरासत में उन्हें न्यायिक हिरासत में क्या अंतर है पुलिस के एक विभाग है थाना एक विभाग है था ना वह न्याय आयनों के अंडर में सरकार ने की व्यवस्था बनाई है कि आईपीसी और सीआरपीसी की धारा के अंतर्गत यदि किसी व्यक्ति के खिलाफ f.i.r. होती है औरों पकड़ा जाता है तो सबसे पहले उसे न्यायालय में पेश किया जाता है न्यायालय के पास 2 साल की होती है चाहे तो वह जमानत दे दे और चाहे उसको न्यायिक अभिरक्षा में उसको जेल भेज दे जेल दूसरा विभाग होता वह पुलिस के विभाग नहीं होता है जो जेल आदमी भेजा जाता है और न्यायिक सुरक्षा में माना जाता है कि अब वह पुलिस से उसका कोई लेना-देना नहीं पुलिस उसमें जॉब चार्ट शीट लगाएगी तफ्तीश करेगी तब तक व्यक्ति को जेल में रहे कब तक रहेगा जब तक न्यायालय उसकी जमानत नहीं दे देती है जमानत गुस्सा क्यों कर दी जाती है इन सब चीजों का ध्यान रखकर के न्यायिक अभिरक्षा अलग होती है और पुलिस के वृक्षा अलग होती है
Pulis hiraasat mein unhen nyaayik hiraasat mein kya antar hai pulis ke ek vibhaag hai thaana ek vibhaag hai tha na vah nyaay aayanon ke andar mein sarakaar ne kee vyavastha banaee hai ki aaeepeesee aur seeaarapeesee kee dhaara ke antargat yadi kisee vyakti ke khilaaph f.i.r. hotee hai auron pakada jaata hai to sabase pahale use nyaayaalay mein pesh kiya jaata hai nyaayaalay ke paas 2 saal kee hotee hai chaahe to vah jamaanat de de aur chaahe usako nyaayik abhiraksha mein usako jel bhej de jel doosara vibhaag hota vah pulis ke vibhaag nahin hota hai jo jel aadamee bheja jaata hai aur nyaayik suraksha mein maana jaata hai ki ab vah pulis se usaka koee lena-dena nahin pulis usamen job chaart sheet lagaegee taphteesh karegee tab tak vyakti ko jel mein rahe kab tak rahega jab tak nyaayaalay usakee jamaanat nahin de detee hai jamaanat gussa kyon kar dee jaatee hai in sab cheejon ka dhyaan rakhakar ke nyaayik abhiraksha alag hotee hai aur pulis ke vrksha alag hotee hai

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
भारत अपने विरोधी देश कनाडा को कोरोना वैक्सीन क्यों दे रहा है?Bharat Apne Virodhi Desh Canda Ko Corona Vacine Kyo De Raha Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:18
देसी भारत के व्यक्तिगत नीतियां अलग होती हैं और व्यापारिक नीतियां अलग होती है विरोध वाली जब तक विरोध इन राइटिंग नहीं आता है तब तक उस पर कोई कार्रवाई नहीं की जा सकती लेकिन हमारी जो विदेश नीति की जो शर्तें होती हैं उसमें अगर हम उनको बैंक से नहीं देंगे तो वहां से जो सामान आता है वह भी तो हमें नहीं देगा ना इसलिए व्यापारिक समझौतों में थोड़ा सा फर्क ना पड़े अंतर न पड़े किसी तरह की आल आपसे लेन-देन में जो समझा होते हैं उन समझाओ तो कोई मतलब दुष्ट प्रभावित न होने पाए इसलिए ऐसी व्यवस्था होती है और बॉक्सिंग देना ना देना तो यह हमारी उपलब्धता पर निर्भर है अगर भारत देश में वैक्सीन उपलब्ध है तो हम दे सकते हैं उसे देश की आर्थिक स्थिति मजबूत होगी उसको रख के सर आना जब हम भारत से विदेशों से भारत मंगा सकता है तो भारत देगा क्यों नहीं यह तो यह आपका देश और देश और विदेश को समझौता होता है ना अगर हम किसी मदद नहीं करेंगे तो दूसरा कोई हमें कोई मदद क्यों करेगा कनाडा में गिर चुकी भारतीय सरदार वहां पर हैं इसलिए वह सरदारों के पक्ष में वहां पर वह एजीटेशन कर रहे हैं वह एक अलग बात होती है कि लोकतंत्र में सबको अपना-अपना स्टेशन करने का अधिकार है अभिव्यक्ति का अधिकार है
Desee bhaarat ke vyaktigat neetiyaan alag hotee hain aur vyaapaarik neetiyaan alag hotee hai virodh vaalee jab tak virodh in raiting nahin aata hai tab tak us par koee kaarravaee nahin kee ja sakatee lekin hamaaree jo videsh neeti kee jo sharten hotee hain usamen agar ham unako baink se nahin denge to vahaan se jo saamaan aata hai vah bhee to hamen nahin dega na isalie vyaapaarik samajhauton mein thoda sa phark na pade antar na pade kisee tarah kee aal aapase len-den mein jo samajha hote hain un samajhao to koee matalab dusht prabhaavit na hone pae isalie aisee vyavastha hotee hai aur boksing dena na dena to yah hamaaree upalabdhata par nirbhar hai agar bhaarat desh mein vaikseen upalabdh hai to ham de sakate hain use desh kee aarthik sthiti majaboot hogee usako rakh ke sar aana jab ham bhaarat se videshon se bhaarat manga sakata hai to bhaarat dega kyon nahin yah to yah aapaka desh aur desh aur videsh ko samajhauta hota hai na agar ham kisee madad nahin karenge to doosara koee hamen koee madad kyon karega kanaada mein gir chukee bhaarateey saradaar vahaan par hain isalie vah saradaaron ke paksh mein vahaan par vah ejeeteshan kar rahe hain vah ek alag baat hotee hai ki lokatantr mein sabako apana-apana steshan karane ka adhikaar hai abhivyakti ka adhikaar hai

#जीवन शैली

bolkar speaker
पुलिस अपराधी का चेहरा कपड़े से क्यों छुपा कर रखती है?Police Apradhi Ka Chera Kapde Se Kyo Chupa Kar Rakhthi Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:17
पुलिस अपराधी का चेहरा कपड़े से तो छुपा कर रखती है पुलिस अपराधी को इसलिए कि उस अपराधी को किसने देखा है उसके कार्रवाई से नाथ होती है क्योंकि हमारे संविधान में व्यवस्था दी गई है कि अपराधी को किसी भी तरह से छूटने नहीं देना चाहिए लेकिन कोई गलत व्यक्ति चाहे तो अपराधी छूट जाए लेकिन किसी भी निर्दोष को सजा नहीं मिलना चाहिए यह हमारे यहां का एक थीम है यह न्यायालय का थीम है हमारी न्यायपालिका का स्कीम है तो उस टीम को बरकरार रखने के लिए उस आदमी के मुंह पर कपड़ा डाल दिया जाता है ताकि उसे कोई सड़क लेते गिरफ्तार करके ले जाते समय उसको कोई देख ना सके क्योंकि उसके विषय में जिस जो मुकदमा दायर करेगा वह कहेगा फलाने आदमियों को मैंने पहचाना है तो पहचान बनाने के लिए विद्याधर उसको खुलेआम ले जाएंगे तो वह आदमी उसको पहचान लेगी हां यह पकड़ा गया था और हम इनको जानते गए थे बदमाशी किया था लेकिन जो आदमी जिसके साथ घटना घटी है ग्रुप को पहचानने का उसके साथ रहने वाले आप लोग पहचाने कि हां यही घटनास्थल पर यही यही था अगर उसकी कार्रवाई सनत ने उसकी शिनाख्त कर ली जाती है तो वह मदद दोषी माना जाएगा इसलिए कपड़ा डालकर के लिए जाते ताकि उसको और गलत देखते जो है सिद्धांत न कर सके
Pulis aparaadhee ka chehara kapade se to chhupa kar rakhatee hai pulis aparaadhee ko isalie ki us aparaadhee ko kisane dekha hai usake kaarravaee se naath hotee hai kyonki hamaare sanvidhaan mein vyavastha dee gaee hai ki aparaadhee ko kisee bhee tarah se chhootane nahin dena chaahie lekin koee galat vyakti chaahe to aparaadhee chhoot jae lekin kisee bhee nirdosh ko saja nahin milana chaahie yah hamaare yahaan ka ek theem hai yah nyaayaalay ka theem hai hamaaree nyaayapaalika ka skeem hai to us teem ko barakaraar rakhane ke lie us aadamee ke munh par kapada daal diya jaata hai taaki use koee sadak lete giraphtaar karake le jaate samay usako koee dekh na sake kyonki usake vishay mein jis jo mukadama daayar karega vah kahega phalaane aadamiyon ko mainne pahachaana hai to pahachaan banaane ke lie vidyaadhar usako khuleaam le jaenge to vah aadamee usako pahachaan legee haan yah pakada gaya tha aur ham inako jaanate gae the badamaashee kiya tha lekin jo aadamee jisake saath ghatana ghatee hai grup ko pahachaanane ka usake saath rahane vaale aap log pahachaane ki haan yahee ghatanaasthal par yahee yahee tha agar usakee kaarravaee sanat ne usakee shinaakht kar lee jaatee hai to vah madad doshee maana jaega isalie kapada daalakar ke lie jaate taaki usako aur galat dekhate jo hai siddhaant na kar sake

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
क्या पीएम मोदी के कार्यकाल में भारत बदल रहा है?Kya Pm Modi Ke Karyakal Me Bharat Badal Raha Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:41
क्या पीएम मोदी के कार्यकाल भारत में बजट राज्य नहीं अभी तो यह 22 तक की उनकी भी सरकार है यह मोदी की प्रधानमंत्री रहेंगे अभी कार्यकाल बदलने का तो कोई सवाल ही नहीं है इसके अलावा फिर जनता है देकर उन कुछ उन के तोरण का 5 साल के लिए कार्यकाल पड़ जाएगा और मोदी पर बहुत पॉपुलर प्रधानमंत्री हैं वह जनता के दिल में घुसे हुए हैं हिंदुत्व के दिल में घुसे हुए हैं और हिंदूवादी नेता है तो देश का विकास उनके हाथों में बराबर चल रहा है इसलिए यह तय करने उनका युग बदल रहा युग नहीं बदल रहा है उनके कार्य करने की जो सीमाएं हैं क्षमताएं हैं वह थोड़ा सा और प्रोग्रेस में हो रहे इसलिए उम्मीद की जीत हो सकता कभी 5 साल तक अपना और उनका शासन हो जाए
Kya peeem modee ke kaaryakaal bhaarat mein bajat raajy nahin abhee to yah 22 tak kee unakee bhee sarakaar hai yah modee kee pradhaanamantree rahenge abhee kaaryakaal badalane ka to koee savaal hee nahin hai isake alaava phir janata hai dekar un kuchh un ke toran ka 5 saal ke lie kaaryakaal pad jaega aur modee par bahut popular pradhaanamantree hain vah janata ke dil mein ghuse hue hain hindutv ke dil mein ghuse hue hain aur hindoovaadee neta hai to desh ka vikaas unake haathon mein baraabar chal raha hai isalie yah tay karane unaka yug badal raha yug nahin badal raha hai unake kaary karane kee jo seemaen hain kshamataen hain vah thoda sa aur progres mein ho rahe isalie ummeed kee jeet ho sakata kabhee 5 saal tak apana aur unaka shaasan ho jae

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
बच्चों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए स्वतंत्र छोड़ना कितना आवश्यक है?Bachho Ko Atmnirbhar Banane Ke Liye Svatanatr Chodna Kitna Avashyak Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:19
बच्चों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए स्वतंत्र छोड़ना कितना आवश्यक है देखिए इसमें बहुत सारी बातें हैं बच्चों को इंडिया का 15 साल का बच्चा है तो उसको भी आपको निगाह रखनी पड़ेगी क्या करता है कहां जाता है कहीं उसके गलत संगत ना हो जाए क्योंकि वह कहीं भी भटक सकता है उसी स्थिति में इसलिए वहां पर तो आपको ध्यान रखना पड़ेगा 16 से 18 साल की 20 साल की अवस्था ऐसी होती हो इंटरमीडिएट कॉलेज में डिग्री कॉलेज होगा राम यूनिवर्सिटी वगैरह में पड़ता है वहां भी थोड़ा सा ध्यान देने लायक होता है और आत्मनिर्भर बनाने के लिए उसको सामान मुहैया करवाइए आत्मनिर्भर तक किस चीज में लेना चाहते हैं आप उसको 5 डिग्री के साथ साथ हैं देकर खुशी टेक्निकल को टाइप की योग्यता दिखाना चाहते हैं ठंड हो गया था सिखाना चाहते हैं या उसको टैली कंप्यूटर वगैरह का ज्ञान सिखाता चाहता है तो उसको उनको आत्मनिर्भर बनाने दीजिए उनको वहां से प्रशिक्षण लेकर के घर में कंप्यूटर ले लीजिए घर में अपना आत्म निर्भर बनने लेकिन उनकी संगत पर कहां-कहां रात में क्या करते हैं इस पर निजा माता-पिता की जरूर होनी चाहिए जब वह सोता अपने पैरों पर खड़े हो जाए तो फिर वह जो मर्जी हो तो खाने लेकिन 18 साल की अवस्था तक जब तक वह बहस को नहीं हो जाते हो अपने पैरों पर नहीं खड़े हो जाते हैं उनके अच्छाई और बुराई का ज्ञान नहीं आ जाता तब तक उनको थोड़ा सा ध्यान रखना जो है फिर माता-पिता का दायित्व बनता है
Bachchon ko aatmanirbhar banaane ke lie svatantr chhodana kitana aavashyak hai dekhie isamen bahut saaree baaten hain bachchon ko indiya ka 15 saal ka bachcha hai to usako bhee aapako nigaah rakhanee padegee kya karata hai kahaan jaata hai kaheen usake galat sangat na ho jae kyonki vah kaheen bhee bhatak sakata hai usee sthiti mein isalie vahaan par to aapako dhyaan rakhana padega 16 se 18 saal kee 20 saal kee avastha aisee hotee ho intarameediet kolej mein digree kolej hoga raam yoonivarsitee vagairah mein padata hai vahaan bhee thoda sa dhyaan dene laayak hota hai aur aatmanirbhar banaane ke lie usako saamaan muhaiya karavaie aatmanirbhar tak kis cheej mein lena chaahate hain aap usako 5 digree ke saath saath hain dekar khushee teknikal ko taip kee yogyata dikhaana chaahate hain thand ho gaya tha sikhaana chaahate hain ya usako tailee kampyootar vagairah ka gyaan sikhaata chaahata hai to usako unako aatmanirbhar banaane deejie unako vahaan se prashikshan lekar ke ghar mein kampyootar le leejie ghar mein apana aatm nirbhar banane lekin unakee sangat par kahaan-kahaan raat mein kya karate hain is par nija maata-pita kee jaroor honee chaahie jab vah sota apane pairon par khade ho jae to phir vah jo marjee ho to khaane lekin 18 saal kee avastha tak jab tak vah bahas ko nahin ho jaate ho apane pairon par nahin khade ho jaate hain unake achchhaee aur buraee ka gyaan nahin aa jaata tab tak unako thoda sa dhyaan rakhana jo hai phir maata-pita ka daayitv banata hai

#धर्म और ज्योतिषी

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:06
जी हां मंदिर में अगरबत्ती जलाना शुभ नहीं होता है क्योंकि हिंदू धर्म में बात को क्यों पूजा में भर्ती थे बांस का उपयोग जो कि जब अर्थी बनती है मनुष्य की तो उस आरती में बांस का प्रयोग किया जाता है इसलिए माना जाता है यही कि जो अगरबत्ती में बांस का प्रयोग होता है उसके ऊपर भी वही धूप लगती है तो धूप उस पर लगाया जाता है इसलिए उस बांस का उपयोग नगर के क्योंकि बांस का वर्तमान प्रयोग बांस की डलिया भी बनती है बात क्या थी बनाई जाती है बस की छत पर पानी भी लगती है बस इसलिए कि वह जो है जलाने के काम में ना उसके अन्य उपयोग ले लिए जाएं इसलिए बुजुर्गों ने इसको एक बैरियर लगा दिया है कि धूप का अलग से माल करना है तो उसके बत्तियां जो है धूप भी और इस तरह से मत लो उसको वैज्ञानिक तरीके से बना करके थी उसको छुड़वाया जाए बांस में लगाते हैं तो उसके पास को जलाने से थोड़ा सोच कुछ कैसे निकलते हैं जो स्वास्थ्य के लिए भी हानिकारक होती है असली बुजुर्गों ने बताया है कि बांस जो है हिंदू धर्म के लिए जलाना उचित नहीं है
Jee haan mandir mein agarabattee jalaana shubh nahin hota hai kyonki hindoo dharm mein baat ko kyon pooja mein bhartee the baans ka upayog jo ki jab arthee banatee hai manushy kee to us aaratee mein baans ka prayog kiya jaata hai isalie maana jaata hai yahee ki jo agarabattee mein baans ka prayog hota hai usake oopar bhee vahee dhoop lagatee hai to dhoop us par lagaaya jaata hai isalie us baans ka upayog nagar ke kyonki baans ka vartamaan prayog baans kee daliya bhee banatee hai baat kya thee banaee jaatee hai bas kee chhat par paanee bhee lagatee hai bas isalie ki vah jo hai jalaane ke kaam mein na usake any upayog le lie jaen isalie bujurgon ne isako ek bairiyar laga diya hai ki dhoop ka alag se maal karana hai to usake battiyaan jo hai dhoop bhee aur is tarah se mat lo usako vaigyaanik tareeke se bana karake thee usako chhudavaaya jae baans mein lagaate hain to usake paas ko jalaane se thoda soch kuchh kaise nikalate hain jo svaasthy ke lie bhee haanikaarak hotee hai asalee bujurgon ne bataaya hai ki baans jo hai hindoo dharm ke lie jalaana uchit nahin hai

#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker
आज के समय में कॉलेज की डिग्री की आवश्यकता क्यों नहीं है?Aaj Ke Samay Mein College Ki Degree Ki Aavashyakta Kyun Nahin Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:18
कॉलेज की डिग्री की आवश्यकता इसलिए नहीं की डिग्री भर से कार्य नहीं मिलते हैं ना हमेशा आजकल कलयुग है वह कंप्यूटर का योगा और कंप्यूटर जो है 25 योग्यता और क्षमता के अंतर्गत माना जाता है डिजिटल युग है डिजिटल युग में आपको कंप्यूटर के विषय में डाटा इंट्री के विषय में ओ लेवल के विषय में सी सी प्लस बी प्लस सी के विषय में एप्लीकेशन बनाने के विषय में और उस दिन दुनिया के विषय में जानना है आपको प्रैक्टिकल और प्रोफेशनल योग्यता जरूर प्राप्त करना चाहिए ताकि आपको फैक्ट्रियों में नौकरी मिल जाए आपको मार्केटिंग का काम मिल जाए तो इसलिए जब तक आपके पास के अधिकार योग्यता नहीं होगी चाहे वह मैनेजमेंट की हो चाहे एमबीए की हो चाहे बीजेपी हो चाहे एमटेक की हो जाए B.Ed की हो जाए बीटीसी कि वह सब टेक्निकल योग्यताएं तो सब सरकार से जोड़ रखे हैं कि आपको कॉलेज यूनिवर्सिटी की डिग्री के साथ साथ इस तरह की आपको टैग निकालिए बताएं यह जरूरी है क्योंकि सरकार ने कहा कि जो लोग प्रशिक्षित होंगे उनको हम पहले नौकरी देंगे इसलिए इन सब बातों का ध्यान रख कर के आपको कॉलेज डिग्री के साथ-साथ आपको प्रशिक्षण भी प्राप्त करना होगा तभी आपका जीवन आगे जो है सुख में तरीके से बढ़ सकेगा
Kolej kee digree kee aavashyakata isalie nahin kee digree bhar se kaary nahin milate hain na hamesha aajakal kalayug hai vah kampyootar ka yoga aur kampyootar jo hai 25 yogyata aur kshamata ke antargat maana jaata hai dijital yug hai dijital yug mein aapako kampyootar ke vishay mein daata intree ke vishay mein o leval ke vishay mein see see plas bee plas see ke vishay mein epleekeshan banaane ke vishay mein aur us din duniya ke vishay mein jaanana hai aapako praiktikal aur propheshanal yogyata jaroor praapt karana chaahie taaki aapako phaiktriyon mein naukaree mil jae aapako maarketing ka kaam mil jae to isalie jab tak aapake paas ke adhikaar yogyata nahin hogee chaahe vah mainejament kee ho chaahe emabeee kee ho chaahe beejepee ho chaahe ematek kee ho jae b.aid kee ho jae beeteesee ki vah sab teknikal yogyataen to sab sarakaar se jod rakhe hain ki aapako kolej yoonivarsitee kee digree ke saath saath is tarah kee aapako taig nikaalie bataen yah jarooree hai kyonki sarakaar ne kaha ki jo log prashikshit honge unako ham pahale naukaree denge isalie in sab baaton ka dhyaan rakh kar ke aapako kolej digree ke saath-saath aapako prashikshan bhee praapt karana hoga tabhee aapaka jeevan aage jo hai sukh mein tareeke se badh sakega

#रिश्ते और संबंध

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:25
जो मेरा व्यक्तिगत अनुभव है आपका प्रश्न कौन सी ऐसी बातें हैं किसके द्वारा इसके बारे में पति को अपनी पत्नी से सलामत बिना नहीं लेना चाहिए पति और पत्नी के बीच की पहली बात तो कोई अंतर होना नहीं चाहिए कोई बात छुपाई नहीं जाना चाहिए लेकिन जब आप अपने घर परिवार यह देखिए कि पति आपके माता-पिता की सेवा करने के लिए तत्पर है कि नहीं वह अपने मायके के लिए ध्यान देती है आपके घर परिवार को ध्यान नहीं देती आपके रिश्तेदारों को बेजती करती है आप के पक्ष में नहीं रहती है वह केवल अपने मायके के पक्ष में रहते तो आई सी बात मैं आपको अपने माता पिता की मदद करने के लिए जो भी कार्य करते हैं वह पत्नी से आपको दिन नहीं बताना चाहिए क्योंकि घर में कल होगी जब कलर होगी तो माता-पिता को तकलीफ होगी इसलिए आप अपने गुप्त कुमारी मैसेज कुछ गुप्त धाम तक की ओर गुप्त गुप्त धन से माता-पिता की सेवा कीजिए उनके दवा दारू की व्यवस्था कर आइए सब कुछ उनके लिए कीजिए और इसके लिए थोड़ा सा आपको सतर्कता और इतनी बड़ी सख्ती बरतनी पड़ेगी एक बार शक्ति बदलेंगे तो आप बिल्कुल एकदम मजबूत हो जाएंगे बहुत सी बातें अपने मान सम्मान घर द्वार और पति पत्नी से कभी भी अपने पूर्व प्रेमी चाचा कभी भी नहीं करना चाहिए अगर आपने पूर्व प्रेम की चर्चा करती तो आपका जीवन नर्क हो जाएगा चाहे जितनी भी सुधारना पता नहीं हो समझ लीजिए इन बातों को पकने से कभी शेयर नहीं करना चाहिए
Jo mera vyaktigat anubhav hai aapaka prashn kaun see aisee baaten hain kisake dvaara isake baare mein pati ko apanee patnee se salaamat bina nahin lena chaahie pati aur patnee ke beech kee pahalee baat to koee antar hona nahin chaahie koee baat chhupaee nahin jaana chaahie lekin jab aap apane ghar parivaar yah dekhie ki pati aapake maata-pita kee seva karane ke lie tatpar hai ki nahin vah apane maayake ke lie dhyaan detee hai aapake ghar parivaar ko dhyaan nahin detee aapake rishtedaaron ko bejatee karatee hai aap ke paksh mein nahin rahatee hai vah keval apane maayake ke paksh mein rahate to aaee see baat main aapako apane maata pita kee madad karane ke lie jo bhee kaary karate hain vah patnee se aapako din nahin bataana chaahie kyonki ghar mein kal hogee jab kalar hogee to maata-pita ko takaleeph hogee isalie aap apane gupt kumaaree maisej kuchh gupt dhaam tak kee or gupt gupt dhan se maata-pita kee seva keejie unake dava daaroo kee vyavastha kar aaie sab kuchh unake lie keejie aur isake lie thoda sa aapako satarkata aur itanee badee sakhtee baratanee padegee ek baar shakti badalenge to aap bilkul ekadam majaboot ho jaenge bahut see baaten apane maan sammaan ghar dvaar aur pati patnee se kabhee bhee apane poorv premee chaacha kabhee bhee nahin karana chaahie agar aapane poorv prem kee charcha karatee to aapaka jeevan nark ho jaega chaahe jitanee bhee sudhaarana pata nahin ho samajh leejie in baaton ko pakane se kabhee sheyar nahin karana chaahie

#जीवन शैली

bolkar speaker
किसी व्यक्ति के असली स्वभाव को देखने का सबसे अच्छा तरीका क्या है?Kisi Vyakti Ke Asli Swabhav Ko Dekhne Ka Sabse Acha Tareeka Kya Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:06
आप किसी भी व्यक्ति के व्यक्तित्व से प्रभावित होते हैं जब वह मन की बात आपके हिसाब से करता जैसे कोई व्यक्ति सावधान घर परिवार का है वह आईएस कंफर्म दे देता है उसके पास हो जाता है तू एक व्यक्तित्व और उसके कार्य क्षमता बरात देखिए कि उसकी क्या-क्या एक्टिविटीज नहीं है सुबह उठता था पढ़ता था घर में अपने माता पिता की सेवा भी करता था घर का काम भी कर आता था स्कूल भी जाता था और समाज के मतलब है कि अनावश्यक तत्व होते हैं ना एंटी मतलब एलिमेंट होते हैं उनसे वह दूर भी रहता था इस प्रकार से आपने देखा कि उसका व्यक्तित्व प्रारंभ से ही मतलब यह कि बिल्कुल सार्वभौमिक रहा है लेकिन वह अपनी पढ़ाई की और अब और अपने लक्ष्य की ओर हमेशा सतर्क रहा है सजग रहा है तो जो व्यक्ति अपने लक्ष्य को सतर्कता से मजबूती के साथ पकड़ता है और उसके लिए कड़ी मेहनत दूर दृष्टि पक्का इरादा अनुशासन के साथ जब वो आगे बढ़ता है तो उसे सफलता मिलती है सफल व्यक्ति का व्यक्तित्व और समाज के लिए एक उदाहरण होता है और वही सबसे ज्यादा प्रभावी होता है
Aap kisee bhee vyakti ke vyaktitv se prabhaavit hote hain jab vah man kee baat aapake hisaab se karata jaise koee vyakti saavadhaan ghar parivaar ka hai vah aaeees kampharm de deta hai usake paas ho jaata hai too ek vyaktitv aur usake kaary kshamata baraat dekhie ki usakee kya-kya ektiviteej nahin hai subah uthata tha padhata tha ghar mein apane maata pita kee seva bhee karata tha ghar ka kaam bhee kar aata tha skool bhee jaata tha aur samaaj ke matalab hai ki anaavashyak tatv hote hain na entee matalab eliment hote hain unase vah door bhee rahata tha is prakaar se aapane dekha ki usaka vyaktitv praarambh se hee matalab yah ki bilkul saarvabhaumik raha hai lekin vah apanee padhaee kee aur ab aur apane lakshy kee or hamesha satark raha hai sajag raha hai to jo vyakti apane lakshy ko satarkata se majabootee ke saath pakadata hai aur usake lie kadee mehanat door drshti pakka iraada anushaasan ke saath jab vo aage badhata hai to use saphalata milatee hai saphal vyakti ka vyaktitv aur samaaj ke lie ek udaaharan hota hai aur vahee sabase jyaada prabhaavee hota hai

#जीवन शैली

bolkar speaker
लोगों के जीवन को बदल देने वाली घटनाएं और बातें क्या है?Logon Ke Jeewan Ko Badal Dene Wali Ghatnaein Aur Baatein Kya Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:56
जीवन की बातें तो अनुभव से बदलते हैं जैसे आप कहीं चले जा रहे हैं आपने देखा कि कोई व्यक्ति आया और जबरदस्ती उसके टाइपिंग करके भाग गया आपको हमेशा ऐसे समय का चयन करना चाहिए जब कहीं से चलिए तो आप के विषय में पता ना हो किसी को आप कहां जाएंगे घर जाएंगे कि बाजार जाएंगे कि मार्केट जाएंगे कहां जाएंगे तो अपने जो लोग फूल से इन को नहीं बताना चाहिए तो यदि अगर आप सबको बता कर जल तो आजकल समाज में अपराधी किस्म के लोग ज्यादा घूम रहे हैं तो इसमें घटनाएं होने की संभावना रहती है दूसरा आप घर में कभी क्या रखते हैं आपके घर का जोरदार गुरु में वाला होना चाहिए ड्राइंग बैठने के लिए कोई आ जाता तो उसको बाहर बैठने के लिए घर की बातें नहीं बताना चाहिए कि सारी घटनाएं जो है उन्हें का एक कारण होती है जब 4 लोग उसको देखते हैं तो 4 लोगों में बस जाती है तो गांव देहात में क्या होता गया जिसके पास बहुत पैसा जल डकैती डाल दो किस तरह से आगे रात भर की बात किसी को बताते नहीं हैं अपने आप को बहुत बड़ा चौड़ा करके नहीं कहते हैं तो क्या होता है - 1 साल दी जाती है कल जाते हैं तो अगर लोगों के जीवन में इसी तरह ही तो बदला जा सकता है कि सादा जीवन उच्च विचार अगर आपके विचारों चाहे जीवन सादा है और आपकी बौद्धिक क्षमता श्रेष्ठ है तो आप सब कुछ बदल सकते हैं और इस तरह की घटनाएं ऐसा ही नहीं आ विवेकानंद को देख लीजिए स्वामी रामतीर्थ को देख लीजिए और तमाम स्टोर गौतम बुद्ध को भी देख लीजिए सब ऐसे थे कि सब कुछ सुविधाएं उपलब्ध होने के बाद उन्होंने समाज को नई दिशा दी है और सब कुछ उन्होंने अपना समर्पण कर दिया है इसलिए आदमी का जब मन मजबूत होता है व्यक्तित्व मजबूत होता है और समाज के लिए कुछ करना चाहता है तो समाज की दिशा दशा इन दोनों को बदल दी कि उसके अंदर क्षमता सुता पैदा हो जाती है
Jeevan kee baaten to anubhav se badalate hain jaise aap kaheen chale ja rahe hain aapane dekha ki koee vyakti aaya aur jabaradastee usake taiping karake bhaag gaya aapako hamesha aise samay ka chayan karana chaahie jab kaheen se chalie to aap ke vishay mein pata na ho kisee ko aap kahaan jaenge ghar jaenge ki baajaar jaenge ki maarket jaenge kahaan jaenge to apane jo log phool se in ko nahin bataana chaahie to yadi agar aap sabako bata kar jal to aajakal samaaj mein aparaadhee kism ke log jyaada ghoom rahe hain to isamen ghatanaen hone kee sambhaavana rahatee hai doosara aap ghar mein kabhee kya rakhate hain aapake ghar ka joradaar guru mein vaala hona chaahie draing baithane ke lie koee aa jaata to usako baahar baithane ke lie ghar kee baaten nahin bataana chaahie ki saaree ghatanaen jo hai unhen ka ek kaaran hotee hai jab 4 log usako dekhate hain to 4 logon mein bas jaatee hai to gaanv dehaat mein kya hota gaya jisake paas bahut paisa jal dakaitee daal do kis tarah se aage raat bhar kee baat kisee ko bataate nahin hain apane aap ko bahut bada chauda karake nahin kahate hain to kya hota hai - 1 saal dee jaatee hai kal jaate hain to agar logon ke jeevan mein isee tarah hee to badala ja sakata hai ki saada jeevan uchch vichaar agar aapake vichaaron chaahe jeevan saada hai aur aapakee bauddhik kshamata shreshth hai to aap sab kuchh badal sakate hain aur is tarah kee ghatanaen aisa hee nahin aa vivekaanand ko dekh leejie svaamee raamateerth ko dekh leejie aur tamaam stor gautam buddh ko bhee dekh leejie sab aise the ki sab kuchh suvidhaen upalabdh hone ke baad unhonne samaaj ko naee disha dee hai aur sab kuchh unhonne apana samarpan kar diya hai isalie aadamee ka jab man majaboot hota hai vyaktitv majaboot hota hai aur samaaj ke lie kuchh karana chaahata hai to samaaj kee disha dasha in donon ko badal dee ki usake andar kshamata suta paida ho jaatee hai

#जीवन शैली

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:29
जब कोई भी व्यक्ति यज्ञ हवन जाप पूजा क्या जो करवाता है तो सबसे पहले तो यह दिया करो स्वयं करता है तो ज्यादा फलदाई होता है और ज्यादा करो संस्कृत मंत्रों का उच्चारण नहीं कर पाता ठीक से यज्ञ की के मतलब जो मंत्र है उनको ठीक से नहीं कह पाता ठीक से अधिक की विधि विधान से पूजा नहीं कर पाता तो इसका भी विधान है मतलब उसको पंडित के द्वारा किसी योग्य पंडित के द्वारा पूजन करवाया जाए जैसे पितृदोष वगैरा भी होते ना तो कोशिश कीजिए कि 200 का समूल अंत करने के लिए आप गरीबों की मदद कीजिए गरीबों को स्वयं भोजन कराइए चींटियों को आटा खिलाइए उनको शक्कर मिलाकर के मछलियों को दाना दीजिए इस प्रसिद्ध जब आप लगातार एक महीने से 2 महीने तक इस कार्य को करेंगे तो सारे ग्रहों की शांति हो जाए एक रही मछली आती है वही मछली वाला करके मछली मंडी चले जाइए तो हम मछली मंडी से ले आइए तो दही मछली को और उनको जाकर के दाना वगैरह चाहिए और जाकर के नदी में छोड़ा यह मतलब आपने इतनी रही मछलियों का जीवन बचाया तो आपके जो ग्रहों के जो दोस्त है वह सब शांत हो जाएंगे इसलिए अगर आप चाहते हैं कि पंडित सेना करवाना पड़े तो इन चीजों को आप कर सकते हैं इससे आपको जरूर लाभ होगा
Jab koee bhee vyakti yagy havan jaap pooja kya jo karavaata hai to sabase pahale to yah diya karo svayan karata hai to jyaada phaladaee hota hai aur jyaada karo sanskrt mantron ka uchchaaran nahin kar paata theek se yagy kee ke matalab jo mantr hai unako theek se nahin kah paata theek se adhik kee vidhi vidhaan se pooja nahin kar paata to isaka bhee vidhaan hai matalab usako pandit ke dvaara kisee yogy pandit ke dvaara poojan karavaaya jae jaise pitrdosh vagaira bhee hote na to koshish keejie ki 200 ka samool ant karane ke lie aap gareebon kee madad keejie gareebon ko svayan bhojan karaie cheentiyon ko aata khilaie unako shakkar milaakar ke machhaliyon ko daana deejie is prasiddh jab aap lagaataar ek maheene se 2 maheene tak is kaary ko karenge to saare grahon kee shaanti ho jae ek rahee machhalee aatee hai vahee machhalee vaala karake machhalee mandee chale jaie to ham machhalee mandee se le aaie to dahee machhalee ko aur unako jaakar ke daana vagairah chaahie aur jaakar ke nadee mein chhoda yah matalab aapane itanee rahee machhaliyon ka jeevan bachaaya to aapake jo grahon ke jo dost hai vah sab shaant ho jaenge isalie agar aap chaahate hain ki pandit sena karavaana pade to in cheejon ko aap kar sakate hain isase aapako jaroor laabh hoga

#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker
क्या करें जब बच्चा किताब लेते ही उस पर से रख कर सो जाए?Kya Karein Jab Bacha Kitab Lete Hi Us Par Se Rakh Kar So Jaye
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:20
क्या करूं जब बच्चा किताब लेते हो पर सर रख कर के सो जाए ठीक है धीरे धीरे रे मना धीरे सब कुछ होय माली सींचे सौ घड़ा ऋतु आए फल को मिट्टी लाते हैं तो पहले उसको पानी में पूछते हैं उसको चिकना बनाते हैं उसके कंकड़ निकालते हैं तब जाकर के अनुसार एक घड़ी के रूप में रखकर के चक में रखते हैं वह घुमाकर उसने घड़े का शुल्क दर कितनी मेहनत करनी पड़ती है कि बच्चे को जब आपने किताब किताब के प्रति पहले तो उसको कहानी बताइए उसको सुनाइए कि देखो तुम इससे नहीं पढ़ पाते हो पढ़ लोगे तो देखो सी कहानियां भी में पढ़ने में समझ में अच्छे-अच्छे फोटो भी देखने को मिलेंगे फिर उसको पढ़ना सिखाइए अक्षर ज्ञान सिखाइए अंकित सिखाइए तो जब जिस चीज को नहीं जानता तो उसे तो बंद होगी इसलिए बच्चे के अंदर जो है पढ़ ले के प्रति अरुचि पैदा कीजिए तब उसको किताब दीजिए जब उसको रुचि पैदा हो जाएगी तो उसके अंदर की अभिलाषा जगी कि देखे किताब में पढ़ लेता हूं कि नहीं पर जब वह पढ़ लेगा तुम्हारी खुशी के पहले दौड़ के पहले आपको बताने के लिए अगर मैंने किताब में देखो यह लिखा है उसकी तारीफ कीजिए मतलब आवाज दीजिए उसका जो है दिलों दिमाग में खूब तारीफ की जाए ताकि खूब पढ़े और पढ़ने के प्रति उसके रुचि जागृत हो जाएगा तो आ जाएगा सर रख कर के सो जाए क्योंकि उसके विषय में कुछ ज्ञान नहीं आपने उसको कोई प्रारंभिक शिक्षा नहीं दी है कि आपकी कमी है बच्चे की कमी नहीं
Kya karoon jab bachcha kitaab lete ho par sar rakh kar ke so jae theek hai dheere dheere re mana dheere sab kuchh hoy maalee seenche sau ghada rtu aae phal ko mittee laate hain to pahale usako paanee mein poochhate hain usako chikana banaate hain usake kankad nikaalate hain tab jaakar ke anusaar ek ghadee ke roop mein rakhakar ke chak mein rakhate hain vah ghumaakar usane ghade ka shulk dar kitanee mehanat karanee padatee hai ki bachche ko jab aapane kitaab kitaab ke prati pahale to usako kahaanee bataie usako sunaie ki dekho tum isase nahin padh paate ho padh loge to dekho see kahaaniyaan bhee mein padhane mein samajh mein achchhe-achchhe photo bhee dekhane ko milenge phir usako padhana sikhaie akshar gyaan sikhaie ankit sikhaie to jab jis cheej ko nahin jaanata to use to band hogee isalie bachche ke andar jo hai padh le ke prati aruchi paida keejie tab usako kitaab deejie jab usako ruchi paida ho jaegee to usake andar kee abhilaasha jagee ki dekhe kitaab mein padh leta hoon ki nahin par jab vah padh lega tumhaaree khushee ke pahale daud ke pahale aapako bataane ke lie agar mainne kitaab mein dekho yah likha hai usakee taareeph keejie matalab aavaaj deejie usaka jo hai dilon dimaag mein khoob taareeph kee jae taaki khoob padhe aur padhane ke prati usake ruchi jaagrt ho jaega to aa jaega sar rakh kar ke so jae kyonki usake vishay mein kuchh gyaan nahin aapane usako koee praarambhik shiksha nahin dee hai ki aapakee kamee hai bachche kee kamee nahin

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
चीकू एक हल्का और स्वास्थ्यवर्धक फोन कहा गया है?Cheeku Ek Halka Aur Svasthyavardhak Phone Kyun Kaha Gaya Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:43
कीवी फल का स्वास्थ वर्धक फोन नहीं है वह फल है किसी को एक मीठा फल होता है जो स्वादिष्ट भी होता है और उस में ग्लूकोज की मात्रा काफी अधिक होती है कि जो लोग सत्तर कर ज्यादा इस्तेमाल करते हैं उसको लेकर के लिए कल चीकू का फल अगर ले तो उनके मीठा खाने की जो साथ है वह भी पूरी हो जाती है और उनको किसी तरह से अप्राकृतिक रूप से नुकसान भी नहीं होता पेट के लिए हल्का होता है पाचक होता है इसलिए चीकू जो है स्वास्थ वर्धक ही कहा जाता है जिन लोगों को शुगर होती है तो उन लोगों के लिए नुकसानदायक होता है क्योंकि में काफी पर्याप्त मात्रा में ग्लूकोस होता है और शुगर के मरीजों को इसे नहीं खाना चाहिए
Keevee phal ka svaasth vardhak phon nahin hai vah phal hai kisee ko ek meetha phal hota hai jo svaadisht bhee hota hai aur us mein glookoj kee maatra kaaphee adhik hotee hai ki jo log sattar kar jyaada istemaal karate hain usako lekar ke lie kal cheekoo ka phal agar le to unake meetha khaane kee jo saath hai vah bhee pooree ho jaatee hai aur unako kisee tarah se apraakrtik roop se nukasaan bhee nahin hota pet ke lie halka hota hai paachak hota hai isalie cheekoo jo hai svaasth vardhak hee kaha jaata hai jin logon ko shugar hotee hai to un logon ke lie nukasaanadaayak hota hai kyonki mein kaaphee paryaapt maatra mein glookos hota hai aur shugar ke mareejon ko ise nahin khaana chaahie

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
विटामिन E किन किन चीजों में सबसे ज्यादा पाया जाता है?Vitamin E Kin Kin Chijo Me Subse Jayada Paya Jata Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:33
ब्रिटेन में नहीं करी पर जितने भी ड्राई फ्रूट मिलते होंगे सब मैं आपको मिलता है और यह प्रोडक्शन क्षमता को बढ़ाता है आपकी सेक्सुअल पावर को बढ़ाता है प्रोटीन भी हो जिसमें होते हैं और हरी सब्जियों में भी आपको भी टाइम इन मिल जाता है काफी विटामिन आपको विटामिन सी वाले आइटम होते हैं जितने भी फल होते हैं उनमें भी भी टाइम ही नहीं मिलता कहीं पर भी टाइम ही नहीं है कहां मांग है करीब नाहर सूखे मेवे मैं आपको विटामिन सी मिल जाएगा
Briten mein nahin karee par jitane bhee draee phroot milate honge sab main aapako milata hai aur yah prodakshan kshamata ko badhaata hai aapakee seksual paavar ko badhaata hai proteen bhee ho jisamen hote hain aur haree sabjiyon mein bhee aapako bhee taim in mil jaata hai kaaphee vitaamin aapako vitaamin see vaale aaitam hote hain jitane bhee phal hote hain unamen bhee bhee taim hee nahin milata kaheen par bhee taim hee nahin hai kahaan maang hai kareeb naahar sookhe meve main aapako vitaamin see mil jaega

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
करेले का जूस पीने के फायदे और नुकसान क्या है?Karele Ka Juice Peene Ke Fayde Aur Nuksan Kya Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:46
करेला में दिखे फास्फोरस बहुत होता है और जिंद बहुत होता है इसके अलावा जो कड़वी चीजें होती जो प्रकृति वह शुद्ध होती हैं और जितने भी आपको डायबिटीज के मरीज हैं वह आपको करेले का रस और यह जामुन की गुठली गुड़मार बूटी इन सब चीजों का शामिल करके उसका पाउडर बनाकर के लेते हैं और करेले का रस जिस आदमी का पेट में कब्जियत होती है अगर रोज सवेरे उठकर के निहार में करेले के रस में नींबू और काला नमक डालकर के उसको लेते हैं एक गिलास उनसे उनके पेट की तबीयत दो-तीन दिन में समाप्त होने लगती है और हफ्ते भर में उसकी पूरी कभी ठीक हो और के पेट नॉर्मल हो जाता है
Karela mein dikhe phaasphoras bahut hota hai aur jind bahut hota hai isake alaava jo kadavee cheejen hotee jo prakrti vah shuddh hotee hain aur jitane bhee aapako daayabiteej ke mareej hain vah aapako karele ka ras aur yah jaamun kee guthalee gudamaar bootee in sab cheejon ka shaamil karake usaka paudar banaakar ke lete hain aur karele ka ras jis aadamee ka pet mein kabjiyat hotee hai agar roj savere uthakar ke nihaar mein karele ke ras mein neemboo aur kaala namak daalakar ke usako lete hain ek gilaas unase unake pet kee tabeeyat do-teen din mein samaapt hone lagatee hai aur haphte bhar mein usakee pooree kabhee theek ho aur ke pet normal ho jaata hai

#खेल कूद

bolkar speaker
क्या शेयर बाजार में पैसे लगाना जुआ खेलने के सामान नहीं है?Kya Share Bajar Mein Paise Lgana Jua Khelne Ke Samaan Nahin Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:47
शेयर बाजार में पैसा लगाना जुआ खेलने के सामान की है लेकिन अगर कोई कमोडिटी और इक्विटी की कुटी में अगर आप अच्छे फंडामेंटल्स में पैसे लगा करके शेयर खरीदकर के नामकरण के लिए देते हैं तो निश्चय ही मानिए यह समा लीजिए इस समय मार्केट गिरी हुई है अपने टाटा मोटर्स का शेयर ले लिया 2 साल के लिए उसको छोड़ दिया 500 से अगले 2 साल के लिए छोड़ दे निश्चित है कि आप को दो से तीन गुणा करके जाएगा लेकिन अब आप को वोट देंगे रोज बेचेंगे तो फिर खाते में आ जाएगा लेकिन खरीद करके छोड़ देना के फायदे में आजा तबीयत ना कोई व्यवसाय के अंतर्गत आता है इसलिए इंट्राडे ना कीजिए आप लॉन्ग टर्म जो है इनवेस्टमेंट कीजिए
Sheyar baajaar mein paisa lagaana jua khelane ke saamaan kee hai lekin agar koee kamoditee aur ikvitee kee kutee mein agar aap achchhe phandaamentals mein paise laga karake sheyar khareedakar ke naamakaran ke lie dete hain to nishchay hee maanie yah sama leejie is samay maarket giree huee hai apane taata motars ka sheyar le liya 2 saal ke lie usako chhod diya 500 se agale 2 saal ke lie chhod de nishchit hai ki aap ko do se teen guna karake jaega lekin ab aap ko vot denge roj bechenge to phir khaate mein aa jaega lekin khareed karake chhod dena ke phaayade mein aaja tabeeyat na koee vyavasaay ke antargat aata hai isalie intraade na keejie aap long tarm jo hai inavestament keejie

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
आप एक टिपिकल भरतीय पिता की व्याख्या कैसे करेंगे?Aap Ek Tipikal Bharatiye Pita Ki Vekheya Kese Karenge
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:04
भारतीय पिता कभी टिपिकल नहीं होते हैं कोई भी मां बाप अपने बेटे का अहित नहीं चाहता तो आफ टिपिकल सब आप स्वतंत्रता चाहते हैं बाप कंट्रोल चाहता है कि जब तक बेटा अपने पैरों पर खड़ा हो जाए समाज की कोई गंदी हवा उसके ऊपर न लगने पाए वह दारू ना पिए वह ब्राउन शुगर कहीं चक्कर में ना पड़ जाए कहीं औरतों के चक्कर में ना पड़ जाए उसका जीवन बर्बाद हो जाए यह मात्र मां-बाप की जिम्मेदारी होती है और हर पिता यही चाहता है कि उसका बेटा जितना वह है जिसने उसके सांभर तो सम्मान समाज में है उसे कह 10 गुना बड़ा करके दे क्योंकि पैसा जो है वही संसार में सब कुछ नहीं होता मान सम्मान भी होता है ज्ञान भी होता है परिवार की परंपराएं भी होते हैं इन सारी सारी परंपराओं को मान सम्मान को और पारिवारिक प्रतिष्ठा को इन को आगे बढ़ाने वाला ही अच्छा पुत्र माना जाता है और भारतीय माता-पिता जो है इस को सुरक्षित रखने के लिए हर संभव प्रयास करते हो टिपिकल नहीं होते गूगल आपको लगता है कि जो आपको मना करते हो और आपको बुरा लगता है
Bhaarateey pita kabhee tipikal nahin hote hain koee bhee maan baap apane bete ka ahit nahin chaahata to aaph tipikal sab aap svatantrata chaahate hain baap kantrol chaahata hai ki jab tak beta apane pairon par khada ho jae samaaj kee koee gandee hava usake oopar na lagane pae vah daaroo na pie vah braun shugar kaheen chakkar mein na pad jae kaheen auraton ke chakkar mein na pad jae usaka jeevan barbaad ho jae yah maatr maan-baap kee jimmedaaree hotee hai aur har pita yahee chaahata hai ki usaka beta jitana vah hai jisane usake saambhar to sammaan samaaj mein hai use kah 10 guna bada karake de kyonki paisa jo hai vahee sansaar mein sab kuchh nahin hota maan sammaan bhee hota hai gyaan bhee hota hai parivaar kee paramparaen bhee hote hain in saaree saaree paramparaon ko maan sammaan ko aur paarivaarik pratishtha ko in ko aage badhaane vaala hee achchha putr maana jaata hai aur bhaarateey maata-pita jo hai is ko surakshit rakhane ke lie har sambhav prayaas karate ho tipikal nahin hote googal aapako lagata hai ki jo aapako mana karate ho aur aapako bura lagata hai

#जीवन शैली

bolkar speaker
क्या कोई व्यक्ति है जिसने अपने दुश्मन का दिल भी जीत लिया हो?Kya Koi Vyekti Hai Jisne Apne Dushman Ka Dil Bhi Jeet Liya Ho
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:38
कोई व्यक्ति है जिसने अपने दुश्मन को भी जीत लिया दुश्मनों को वही व्यक्ति जीत सकता है जिसने अपने मन को जीत लिया जिसने अपने मन को जीत दिया जिसके लिए संसार पहली बार तो उसको होने से आम ब्रह्मास्मि दूसरा वसुधैव कुटुंबकम वसुदेव कुटुंबकम की धारणा को उसने प्राप्त कर लिया और सारी बसुधा ही उसकी कुटुंब है उसका कोई दुश्मन नहीं रहा जाता और ऐसे व्यक्ति का संसार में आप को मिलते हैं वसुधैव कुटुंबकम तमाम ऐसे संत मिल जाएंगे जिनका कोई दुश्मन ही नहीं मिलेगा
Koee vyakti hai jisane apane dushman ko bhee jeet liya dushmanon ko vahee vyakti jeet sakata hai jisane apane man ko jeet liya jisane apane man ko jeet diya jisake lie sansaar pahalee baar to usako hone se aam brahmaasmi doosara vasudhaiv kutumbakam vasudev kutumbakam kee dhaarana ko usane praapt kar liya aur saaree basudha hee usakee kutumb hai usaka koee dushman nahin raha jaata aur aise vyakti ka sansaar mein aap ko milate hain vasudhaiv kutumbakam tamaam aise sant mil jaenge jinaka koee dushman hee nahin milega

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
भारत खुद का ट्विटर या व्हाट्सएप क्यों नहीं बनाता है?Bharat Khudh Ka Twitter Ya Whatsapp Kyo Nahi Bnata Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:36
भारत के ट्विटर व्हाट्सएप क्यों नहीं बनाता है भारत में भी एक टि्वटर की तरह का एक सॉफ्टवेयर डेवलप किया गया है जो काफी प्रचलित हो रहा है चल रहा है किसको कहते हैं और व्हाट्सएप वाला भी कार्यक्रम चल रहा है कि भारत का अपना जो व्हाट्सएप हो जाएगा तो सर भारत का कमांड रहेगा सरकार का सामान रहेगा अभी यह व्हाट्सएप पर जितने फेसबुक हैं कि जब अमेरिका के संचालन में है इसलिए इसमें थोड़ा सा दिक्कत रहती हैं और क्रू तो चालू हो गया है उसको रुकवाया काफी प्रचार प्रसार जा रहा है और बिल्कुल ट्विटर की तरह ही काम करता है
Bhaarat ke tvitar vhaatsep kyon nahin banaata hai bhaarat mein bhee ek tivatar kee tarah ka ek sophtaveyar devalap kiya gaya hai jo kaaphee prachalit ho raha hai chal raha hai kisako kahate hain aur vhaatsep vaala bhee kaaryakram chal raha hai ki bhaarat ka apana jo vhaatsep ho jaega to sar bhaarat ka kamaand rahega sarakaar ka saamaan rahega abhee yah vhaatsep par jitane phesabuk hain ki jab amerika ke sanchaalan mein hai isalie isamen thoda sa dikkat rahatee hain aur kroo to chaaloo ho gaya hai usako rukavaaya kaaphee prachaar prasaar ja raha hai aur bilkul tvitar kee tarah hee kaam karata hai

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
क्या कोई भी व्यक्ति नागा साधु बन सकता है?Kya Koi Bhi Vyakti Naga Sadhu Ban Sakta Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:42
वीडियो पिक्चर नागा साधु बन सकते नागा साधु मालूम कौन बनता है नागा साधु वह बनते हैं जो काम क्रोध मद लोभ मोह माया मत सर इन सब चीजों को त्याग देता है तभी उनका शरीर से कोई लेना देना नहीं है मनुष्य समाज से कोई लेना देना उनके लिए काम क्रोध मद लोभ मोह माया सब निर्मल उपस्थित कोई अपना भोजन का साधन समझते हैं वैसे पानी जो कुछ नहीं मिल गया वही खाना खा लेते हैं यह होते थे नागा साधु और हमेशा को रात को अपने शरीर पर लगाए रहते थे धूनी रमाते थे जो मिल जाता तो खाते थे बस यही उनका हुआ
Veediyo pikchar naaga saadhu ban sakate naaga saadhu maaloom kaun banata hai naaga saadhu vah banate hain jo kaam krodh mad lobh moh maaya mat sar in sab cheejon ko tyaag deta hai tabhee unaka shareer se koee lena dena nahin hai manushy samaaj se koee lena dena unake lie kaam krodh mad lobh moh maaya sab nirmal upasthit koee apana bhojan ka saadhan samajhate hain vaise paanee jo kuchh nahin mil gaya vahee khaana kha lete hain yah hote the naaga saadhu aur hamesha ko raat ko apane shareer par lagae rahate the dhoonee ramaate the jo mil jaata to khaate the bas yahee unaka hua

#जीवन शैली

bolkar speaker
अश्वत्थामा को अमर होने के वरदान किसने दिया था ?Ashwathama Ko Amar Hone Ka Vardan Kisne Diya Tha
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:28
कामा को अमरता का वरदान किसने दी पहले के जमाने में क्या होते थे कि जितने भी संत ऋषि मुनि महात्मा राजा जितने भी लोगों के दो तपस्या करते थे उनकी आयु भी ज्यादा होती थी वीर होते थे बली होते थे वो किसी न किसी स्तर की सिद्धियां प्राप्त करते थे उनसे उनसे दिनों में उनका इतना महत्व बढ़ जाता था कि ईश्वर उनको जो है उनके उन सिद्धियों के बदले में कुछ ना कुछ तपस्या देते थे तो उसने उन को अमरत्व का वरदान दिया कि उनको अमरत्व का वरदान दिया था और वह सा मृत्यु के बाद दान के कारण ही और यह था कि द्रोणाचार्य के पुत्र थे जून आचार्य की मृत्यु थे कि जब तक आप अपनी मृत्यु बेटे की मृत्यु का समाचार नहीं सुनेंगे आप तब तक आप की मृत्यु नहीं होगी क्योंकि उनको मालूम था कि मेरा बेटा जो है वह तपस्वी है और उसको अमरत्व का वरदान प्राप्त इसीलिए जब वहां कहा कि गुरु द्रोणाचार्य बेईमानी पर उतारा जाएगा और पांडवों के साथ तो यह कहा गया कि भाई अगर ऐसा कर दिया जाए कि उनको मृत्यु का खबर सुना दिया जाए तो भाई देखे सब लोगों ने कहा कि अश्वत्थामा मर गया अश्वत्थामा मर गया अश्वत्थामा मर गया लेकिन उन्होंने कहा कुछ नहीं डिस्ट्रिक्ट सबसे बड़े ज्ञानी हैं और यह सत्यवादी अगले दिन के मौसम में सुन लूंगा तो मैं मान जाऊंगा तूने द्वारा सुदामा मरो मरो या कुंडे अश्वत्थामा नाम का एक हाथी था युद्ध में मारा गया था इसलिए कहा गया कि अश्वत्थामा मरो मरो या कुछ और था मुझे नहीं मालूम कि मनुष्य की बस इतनी सुंदर जो मर गए पुराने छोड़ दिया
Kaama ko amarata ka varadaan kisane dee pahale ke jamaane mein kya hote the ki jitane bhee sant rshi muni mahaatma raaja jitane bhee logon ke do tapasya karate the unakee aayu bhee jyaada hotee thee veer hote the balee hote the vo kisee na kisee star kee siddhiyaan praapt karate the unase unase dinon mein unaka itana mahatv badh jaata tha ki eeshvar unako jo hai unake un siddhiyon ke badale mein kuchh na kuchh tapasya dete the to usane un ko amaratv ka varadaan diya ki unako amaratv ka varadaan diya tha aur vah sa mrtyu ke baad daan ke kaaran hee aur yah tha ki dronaachaary ke putr the joon aachaary kee mrtyu the ki jab tak aap apanee mrtyu bete kee mrtyu ka samaachaar nahin sunenge aap tab tak aap kee mrtyu nahin hogee kyonki unako maaloom tha ki mera beta jo hai vah tapasvee hai aur usako amaratv ka varadaan praapt iseelie jab vahaan kaha ki guru dronaachaary beeemaanee par utaara jaega aur paandavon ke saath to yah kaha gaya ki bhaee agar aisa kar diya jae ki unako mrtyu ka khabar suna diya jae to bhaee dekhe sab logon ne kaha ki ashvatthaama mar gaya ashvatthaama mar gaya ashvatthaama mar gaya lekin unhonne kaha kuchh nahin distrikt sabase bade gyaanee hain aur yah satyavaadee agale din ke mausam mein sun loonga to main maan jaoonga toone dvaara sudaama maro maro ya kunde ashvatthaama naam ka ek haathee tha yuddh mein maara gaya tha isalie kaha gaya ki ashvatthaama maro maro ya kuchh aur tha mujhe nahin maaloom ki manushy kee bas itanee sundar jo mar gae puraane chhod diya

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
प्रेम बिना ज्ञान कैसा होता है?Prem Bina Gyaan Kaisa Hota Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:13
देखिए जहां प्रेम होता है आपका स्नेह प्रेम के बिना ज्ञान कैसा हो जा प्रेम होता है वहां ज्ञान का कोई महत्व नहीं होता क्योंकि जब उठो गायक गदर लाखों ज्ञान गुण गौरव कुमार कोई को पिंकू आवाज में भागवत भड़ंग है और प्रेम अमित शाह के पद पर कहां के कहां था कि अंगने में शिथिलता सुहाई गाने रत्नाकर युवा उच्च का तू दो जो मानव सुधिया तो कोई भावना बुलाई है तुम हो तो बहुत ज्ञानी आदमी है और वह ज्ञान का उपदेश देने के लिए गए थे लेकिन उनके प्रेम पर इतने मग्न हो गए उन्होंने अपने ज्ञान का समर्पण करके वह भी प्रेम भाव के वशीभूत होकर थे वह आंसू आ गए इसलिए ज्ञान का महत्व अपने स्थान पर है लेकिन प्रेम का सर्वाधिक सर्वाधिक महत्व है जिसकी कोई तुलना नहीं की जा सकती कहते हैं कि प्रेम से प्रगट होए मर जाना हरि व्यापक सर्वत्र समाना अगर बहुत ज्यादा ज्ञानी बन कर के अगर आप ईश्वर की उपासना करते इतना फलीभूत नहीं होगी जितना आप मन से हृदय से मनसा वाचा कर्मणा से और प्रेम से आप किसी सर को प्राप्त करने के लिए आप अध्ययन करते हैं उनकी तपस्या कर
Dekhie jahaan prem hota hai aapaka sneh prem ke bina gyaan kaisa ho ja prem hota hai vahaan gyaan ka koee mahatv nahin hota kyonki jab utho gaayak gadar laakhon gyaan gun gaurav kumaar koee ko pinkoo aavaaj mein bhaagavat bhadang hai aur prem amit shaah ke pad par kahaan ke kahaan tha ki angane mein shithilata suhaee gaane ratnaakar yuva uchch ka too do jo maanav sudhiya to koee bhaavana bulaee hai tum ho to bahut gyaanee aadamee hai aur vah gyaan ka upadesh dene ke lie gae the lekin unake prem par itane magn ho gae unhonne apane gyaan ka samarpan karake vah bhee prem bhaav ke vasheebhoot hokar the vah aansoo aa gae isalie gyaan ka mahatv apane sthaan par hai lekin prem ka sarvaadhik sarvaadhik mahatv hai jisakee koee tulana nahin kee ja sakatee kahate hain ki prem se pragat hoe mar jaana hari vyaapak sarvatr samaana agar bahut jyaada gyaanee ban kar ke agar aap eeshvar kee upaasana karate itana phaleebhoot nahin hogee jitana aap man se hrday se manasa vaacha karmana se aur prem se aap kisee sar ko praapt karane ke lie aap adhyayan karate hain unakee tapasya kar

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
प्राचीन काल में जब कूलर एयर कंडीशनर नहीं थे तब लोग गर्मी से बचाव कैसे करते थे?Prachin Kaal Mein Jab Coolar Air Conditionar Nahi The Tab Log Garmi Se Bachav Kaise Karte The
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:10
प्राचीन काल में जब सोलर एयर कंडीशनर नहीं थे तब लोग गर्मी से कैसे बचाव करते हुए आपने देखा होगा खसखस के नहीं झाड़ियों में खाता था उसके घर जिसको खर्च किया बोलते हैं इस खास की दरिया का विलोम प्रयोग करते थे छात्रों के ऊपर लोग ठानी सब पर लगा देते थे उसको पानी से गीला कर देते थे ताकि छोरी की रोशनी के कारण ताप जो है नीचे न पहुंच सके और जो खर्च की टट्टी में लगा कर के और उसमें पंखे से उसको हवाओं ने का एक साधन बना देते थे तो वह काफी ठंड आता था और वातावरण को शांत रखता था पहले के जमाने में जब यह नहीं थे तो लोग अपनी जमीन एक अच्छे लगते थे कच्ची रखने के कारण उनके अंदर एक जमीन पर जैसे बहुत ज्यादा बोलते हैं खुदरा में मनु पल पल पानी के शोध भी रहते थे वहां पर जाकर के लेट जाते थे उसे गर्मी में उनको काफी आनंद मिलता था क्योंकि वह जगह काफी ठंड आते थे और सूर्य की रोशनी जब ऊपर से आती है उस किताब को रोक लिया जाए तो भिजवा और बीच वाले स्थान में थोड़ा पानी और संस्कृतियों की व्यवस्था हवा के माध्यम से करा दी जाए तभी वह बिल्डिंग काफी ठंडी रहेगी और ऊपर वाले मकान भी काफी ठंड दे रहे
Praacheen kaal mein jab solar eyar kandeeshanar nahin the tab log garmee se kaise bachaav karate hue aapane dekha hoga khasakhas ke nahin jhaadiyon mein khaata tha usake ghar jisako kharch kiya bolate hain is khaas kee dariya ka vilom prayog karate the chhaatron ke oopar log thaanee sab par laga dete the usako paanee se geela kar dete the taaki chhoree kee roshanee ke kaaran taap jo hai neeche na pahunch sake aur jo kharch kee tattee mein laga kar ke aur usamen pankhe se usako havaon ne ka ek saadhan bana dete the to vah kaaphee thand aata tha aur vaataavaran ko shaant rakhata tha pahale ke jamaane mein jab yah nahin the to log apanee jameen ek achchhe lagate the kachchee rakhane ke kaaran unake andar ek jameen par jaise bahut jyaada bolate hain khudara mein manu pal pal paanee ke shodh bhee rahate the vahaan par jaakar ke let jaate the use garmee mein unako kaaphee aanand milata tha kyonki vah jagah kaaphee thand aate the aur soory kee roshanee jab oopar se aatee hai us kitaab ko rok liya jae to bhijava aur beech vaale sthaan mein thoda paanee aur sanskrtiyon kee vyavastha hava ke maadhyam se kara dee jae tabhee vah bilding kaaphee thandee rahegee aur oopar vaale makaan bhee kaaphee thand de rahe
URL copied to clipboard