#भारत की राजनीति

bolkar speaker
किसान आंदोलन से भाजपा को कितना नुकसान होगा?Kishan Aandolan Se Bhajpa Ko Kitna Nuksaan Hoga
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
7:00
किसान आंदोलन से भाजपा को कितना नुकसान हुआ है लेकिन इसको कैलकुलेट कौन करेगा और बताएगा कौन घर-घर तक पहुंचाएगा को प्रसार माध्यम होते हैं और हुकुम क्या बताती है इस प्रश्न का उत्तर बता दें इस पर डिपेंड लुगाई अभी भी भारत के लोग डेमोक्रेसी के लायक नहीं भाई ज्यादा संख्या में कुछ परसेंटेज होगा बहुत होता था सो सो रुपए बिकनी में अपने वोट बेचने वाले लोग हमें नहीं तो ऐसे लोगों अपने विवेक से मतदान करेंगे करेंगे या अगले 32 साल तक होने की संभावना नहीं है अभी भी बहुत सारी प्रक्रिया से समाज को गुजारना पड़ेगा उसके बाद उसमें डेमो कोशिका लोकतंत्र का जनतंत्र का एक अच्छा समझ आ जाए और अनुभव से ही भारत की मरकज विकसित हुआ अभी भी 70 साल के बाद में सिर्फ कागज पर वास्तव में नहीं उतरा है इसमें किस काम में आता है लेकिन चुनाव के वक्त भारतीय जनता पार्टी को को समर्थन देगा कितने परसेंट के समर्थन देगा यह बात इस केस को तय करने के लिए बाकी मेरी माता की मूर्ति लोकल महत्वपूर्ण राष्ट्रीय महिला आयोग उत्तर प्रदेश एवं लोकल ड्यूटी लगने से भी बड़ा मुर्गी अभी तो तुम्हारे पास यह दिखाने में लगभग सफल हो गई है कि किसान पंजाब और हरियाणा किसान और इस खेल में दूसरों का दुख के साथ सरकार का यह खेल जाए उसमें कौन सी कंपनी आई लड़ता है इसके ऊपर यह होगा ऐसा दिखाई देता है दूसरा महत्वपूर्ण 41 में अभी भी है इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन में हंड्रेड परसेंट बदलाव करनी चाहिए तब तक कोई भी चुनाव नहीं चुनाव वायरस अमन के लिए कोई जगह नहीं ना होगी और ना ही है पिछले 20 साल से लगभग 15 साल से दो इतना भी फायदा या नुकसान बीजेपी को होने वाला है यह स्पष्ट दिखाई देता है लेकिन पेपर क्या होगा यह सवाल महत्वपूर्ण है अभी चुनाव हो रहे हैं कई और उनको बीजेपी को जितना पैदा होता हुआ दिखाई देता है काफी नुकसान हो गई प्रमोशन हुआ दिखाई दे रहा है अब उसे भी कुछ बातें विपक्ष में कितना कोई विपक्ष में बड़ा नेता निर्माण होते हुए राहुल गांधी को घोषित कर पकड़ करो नेता बनाने की कोशिश की जा रही है लेकिन वह उसी में नहीं बना पाए और बाकी जो दिखता है वो राष्ट्रीय लेवल नहीं करनी हो तो इसी को ध्यान में रखते हुए कुछ कहना
Kisaan aandolan se bhaajapa ko kitana nukasaan hua hai lekin isako kailakulet kaun karega aur bataega kaun ghar-ghar tak pahunchaega ko prasaar maadhyam hote hain aur hukum kya bataatee hai is prashn ka uttar bata den is par dipend lugaee abhee bhee bhaarat ke log demokresee ke laayak nahin bhaee jyaada sankhya mein kuchh parasentej hoga bahut hota tha so so rupe bikanee mein apane vot bechane vaale log hamen nahin to aise logon apane vivek se matadaan karenge karenge ya agale 32 saal tak hone kee sambhaavana nahin hai abhee bhee bahut saaree prakriya se samaaj ko gujaarana padega usake baad usamen demo koshika lokatantr ka janatantr ka ek achchha samajh aa jae aur anubhav se hee bhaarat kee marakaj vikasit hua abhee bhee 70 saal ke baad mein sirph kaagaj par vaastav mein nahin utara hai isamen kis kaam mein aata hai lekin chunaav ke vakt bhaarateey janata paartee ko ko samarthan dega kitane parasent ke samarthan dega yah baat is kes ko tay karane ke lie baakee meree maata kee moorti lokal mahatvapoorn raashtreey mahila aayog uttar pradesh evan lokal dyootee lagane se bhee bada murgee abhee to tumhaare paas yah dikhaane mein lagabhag saphal ho gaee hai ki kisaan panjaab aur hariyaana kisaan aur is khel mein doosaron ka dukh ke saath sarakaar ka yah khel jae usamen kaun see kampanee aaee ladata hai isake oopar yah hoga aisa dikhaee deta hai doosara mahatvapoorn 41 mein abhee bhee hai ilektronik voting masheen mein handred parasent badalaav karanee chaahie tab tak koee bhee chunaav nahin chunaav vaayaras aman ke lie koee jagah nahin na hogee aur na hee hai pichhale 20 saal se lagabhag 15 saal se do itana bhee phaayada ya nukasaan beejepee ko hone vaala hai yah spasht dikhaee deta hai lekin pepar kya hoga yah savaal mahatvapoorn hai abhee chunaav ho rahe hain kaee aur unako beejepee ko jitana paida hota hua dikhaee deta hai kaaphee nukasaan ho gaee pramoshan hua dikhaee de raha hai ab use bhee kuchh baaten vipaksh mein kitana koee vipaksh mein bada neta nirmaan hote hue raahul gaandhee ko ghoshit kar pakad karo neta banaane kee koshish kee ja rahee hai lekin vah usee mein nahin bana pae aur baakee jo dikhata hai vo raashtreey leval nahin karanee ho to isee ko dhyaan mein rakhate hue kuchh kahana

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
जिस से हम सबसे ज्यादा प्यार करते है वो हमारी कदर क्यों नहीं करते ?Jis Se Hum Subae Jyada Pyar Karte Hai Wo Humari Kadar Kyo Nahi Karate
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
7:00
सैमसंग भी ज्यादा प्यार करते हैं वह हमारी कदर क्यों नहीं करते बहुत बार ऐसा होता है कि ज्यादा प्यार करने के कारण किसी को वह व्यक्ति या कोई कोई प्राणी हो सकता है हमारी तरफ ध्यान नहीं देता है वह इसलिए नहीं कि उसका हमारे ऊपर प्यार नहीं ऐसा नहीं है इसका कारण यह है कि वह दलित डरता है हमारे प्यार को ब्राह्मण करता है समझता है कि यह तो पक्का है इसमें आओ ज्यादा क्या दिखाने के लिए करने की आवश्यकता नहीं यह तो है हवा के कारण को दूसरी तरफ भी अपना प्यार मिलने की कोशिश करना है किसी एक ही चीज से प्यार मिलता है ऐसी बात नहीं होती सभी सृष्टि में नजर इंसान मिलेगा उधर से उसको एक प्यारी आंखों में ऐसा कुछ रिस्पांस जाट तो हर व्यक्ति को एक ही व्यक्ति से प्यार नहीं पाता है इसके वॉल्यूम को दिल से प्यार मिलता है उसको उसको थोड़ा भर लो बाजुओं में रखकर चीजों को बदलने की कोशिश करते हैं और जो प्यार करता है उसको ऐसा लगता है कि ज्यादा प्यार करने के बावजूद भी यही कदर नहीं करता क्योंकि कदर करता है या नहीं करता है इसकी परीक्षा की घड़ी मैं कोई शादी होने बाकी नहीं होती है जब वक्त आता है तो पहले वही पर पड़ने वाले को संभालने के लिए दूर कर आता है लेकिन इस परीक्षा नहीं हुई होती है और वह प्यार नहीं करते हो क्यों आएंगे ना तो उसको मालूम है कि हम उसे सबसे ज्यादा प्यार करते हैं अगर किसी को मालूम ही नहीं है तो लेकिन ऐसा हमको लगता है कि प्यार करने वाला प्यार करना भी अब इसका मतलब यह एक मत हो ऐसा भी है की कदर कदर करने की अपेक्षा प्यार करने वाला व्यक्ति करके और भी बड़ी कंसलटेंट आ जाए जिसमें कुछ मिलने की पाने की इच्छा नहीं होती है सीधा समर्पण होता है प्यार करने वाला इसलिए पता ही नहीं मुझे कल याद प्यार मिलता है प्यार करने वाला नेता नहीं इसलिए हम बताएं किसको अपना घर ले या किसी का बन जा दोनों एक ही अंगूठी की बातें दोनों को बंद कर दो नहीं देना है कि बंटी असली प्यार की एक निशानी मानी जाती है किसी करना भी नहीं पड़ता है और उसमें कई बार ऐसा हो सकता है कि ज्यादा प्यार के कारण ही की जाती लेकिन इस गलती का एहसास होने के बाद अपने कानून की मिट्टी को निश्चित रूप से यह समझता है कि उसे प्यार करने वाला कौन था और कौन नहीं थी वैसा कुछ समझो या गलतफहमी होने के कारण कई बार ऐसा लगता है कि हमारी कहानी लेकिन परीक्षा की घड़ी
Saimasang bhee jyaada pyaar karate hain vah hamaaree kadar kyon nahin karate bahut baar aisa hota hai ki jyaada pyaar karane ke kaaran kisee ko vah vyakti ya koee koee praanee ho sakata hai hamaaree taraph dhyaan nahin deta hai vah isalie nahin ki usaka hamaare oopar pyaar nahin aisa nahin hai isaka kaaran yah hai ki vah dalit darata hai hamaare pyaar ko braahman karata hai samajhata hai ki yah to pakka hai isamen aao jyaada kya dikhaane ke lie karane kee aavashyakata nahin yah to hai hava ke kaaran ko doosaree taraph bhee apana pyaar milane kee koshish karana hai kisee ek hee cheej se pyaar milata hai aisee baat nahin hotee sabhee srshti mein najar insaan milega udhar se usako ek pyaaree aankhon mein aisa kuchh rispaans jaat to har vyakti ko ek hee vyakti se pyaar nahin paata hai isake volyoom ko dil se pyaar milata hai usako usako thoda bhar lo baajuon mein rakhakar cheejon ko badalane kee koshish karate hain aur jo pyaar karata hai usako aisa lagata hai ki jyaada pyaar karane ke baavajood bhee yahee kadar nahin karata kyonki kadar karata hai ya nahin karata hai isakee pareeksha kee ghadee main koee shaadee hone baakee nahin hotee hai jab vakt aata hai to pahale vahee par padane vaale ko sambhaalane ke lie door kar aata hai lekin is pareeksha nahin huee hotee hai aur vah pyaar nahin karate ho kyon aaenge na to usako maaloom hai ki ham use sabase jyaada pyaar karate hain agar kisee ko maaloom hee nahin hai to lekin aisa hamako lagata hai ki pyaar karane vaala pyaar karana bhee ab isaka matalab yah ek mat ho aisa bhee hai kee kadar kadar karane kee apeksha pyaar karane vaala vyakti karake aur bhee badee kansalatent aa jae jisamen kuchh milane kee paane kee ichchha nahin hotee hai seedha samarpan hota hai pyaar karane vaala isalie pata hee nahin mujhe kal yaad pyaar milata hai pyaar karane vaala neta nahin isalie ham bataen kisako apana ghar le ya kisee ka ban ja donon ek hee angoothee kee baaten donon ko band kar do nahin dena hai ki bantee asalee pyaar kee ek nishaanee maanee jaatee hai kisee karana bhee nahin padata hai aur usamen kaee baar aisa ho sakata hai ki jyaada pyaar ke kaaran hee kee jaatee lekin is galatee ka ehasaas hone ke baad apane kaanoon kee mittee ko nishchit roop se yah samajhata hai ki use pyaar karane vaala kaun tha aur kaun nahin thee vaisa kuchh samajho ya galataphahamee hone ke kaaran kaee baar aisa lagata hai ki hamaaree kahaanee lekin pareeksha kee ghadee

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है?Ijjat Dene Aur Ijjat Karane Mein Kya Antar Hai
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
7:00
इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर बताएं एक बहुत ही अच्छा था सोने पर पूछा गया है इज्जत मान सम्मान अदर प्रशंसा रिश्ते के नीचे बैठे व्यक्ति के जीवन में एक महत्वपूर्ण इंसान की जब प्राथमिक आवश्यकताएं पूरी हो जाती है जैसे अन्न वस्त्र घर इटली तब उसके मन में कुछ और हैं क्योंकि चाहत होती है और ऐसे जो और चीज है गिफ्ट चलाएं और उसका अंतिम छोड़ो अभी तक निश्चित नहीं हुआ है या व्यक्ति सापेक्षता है यह जीवन का अंतिम लक्ष्य क्या है यह सवाल यह फिलॉसफी के अंदर बहुत महत्वपूर्ण सवार थे और अब सारे झूठ के सुंदर रुप है जब इंसान एक महत्वपूर्ण स्थान पर आया उसको यह सवाल बहुत महत्वपूर्ण मिथिला के अध्यापक धर्मा तत्वज्ञान की प्रक्रिया संग गुजरा उसके बाद विकेट की विज्ञान की प्रक्रिया से गुजर रहा है विज्ञान की प्रक्रिया से उसको और ज्यादा उसके जीवन के संदर्भ में उसके होने में जन्म और मृत्यु के संबंध में और जो उसका वह भाग रहे हो पूरा ब्रह्मांड का निर्माण होना इसके संबंध में बहुत सारी जानकारी उपलब्ध हो गई है इसमें एक विजय बीच का पड़ाव आता है उसमें एक महत्वपूर्ण पड़ाव है इज्जत इंसान को क्या कक्षा अध्यापक कल्चर डेवलप सोसाइटी के अंदर समाज के अंदर उसके हिसाब से यह जस्टिफाई कभी जल्दी आती है तो कभी नेट कर जाती है कश्मीर चीज की आवश्यकता आजकल - 61 दिन सारा वीडियो चाहता है उनकी पसंद नहीं करता है वह बेज्जती पसंद नहीं करता है उसको आप मुसलमान चाहिए उसको उसको एक स्वतंत्रता सेनानी और समाज में उसको अपना एक स्थानों की प्रतिष्ठा इज्जत से भरा हुआ स्थान से तो इसमें इज्जत देने और कनिका एक इसका पिक्चर आता है कुछ लोग इज्जत देते तो कुछ लोग गलत करते हैं देने और करने में कुछ अंतर है जो दिन में ऐसी भावना हो सकती है कि मैं उस व्यक्ति को इज्जत दे रहा है उसको और इज्जत करने में ऐसा हो जाता है कि अपने-अपने मां बन जाती है उस मिट्टी के प्रभाव के कारण विचार के कारण कई कारण हो सकते हैं और लोगों की इज्जत अपने आप में करने लगते हैं इसमें अगर किलोमीटर देने में रहने वाले के मन के हिसाब से अगर सभी नहीं हुआ तो उसी क्षण भी इज्जत करना देने देना छोड़ दे सकता है अभी जल्दी करने कनाडा करने की आवश्यकता होती है लेकिन कभी नहीं हो जाती है तो हिम्मत रख के दोनों में
Ijjat dene aur ijjat karane mein kya antar bataen ek bahut hee achchha tha sone par poochha gaya hai ijjat maan sammaan adar prashansa rishte ke neeche baithe vyakti ke jeevan mein ek mahatvapoorn insaan kee jab praathamik aavashyakataen pooree ho jaatee hai jaise ann vastr ghar italee tab usake man mein kuchh aur hain kyonki chaahat hotee hai aur aise jo aur cheej hai gipht chalaen aur usaka antim chhodo abhee tak nishchit nahin hua hai ya vyakti saapekshata hai yah jeevan ka antim lakshy kya hai yah savaal yah philosaphee ke andar bahut mahatvapoorn savaar the aur ab saare jhooth ke sundar rup hai jab insaan ek mahatvapoorn sthaan par aaya usako yah savaal bahut mahatvapoorn mithila ke adhyaapak dharma tatvagyaan kee prakriya sang gujara usake baad viket kee vigyaan kee prakriya se gujar raha hai vigyaan kee prakriya se usako aur jyaada usake jeevan ke sandarbh mein usake hone mein janm aur mrtyu ke sambandh mein aur jo usaka vah bhaag rahe ho poora brahmaand ka nirmaan hona isake sambandh mein bahut saaree jaanakaaree upalabdh ho gaee hai isamen ek vijay beech ka padaav aata hai usamen ek mahatvapoorn padaav hai ijjat insaan ko kya kaksha adhyaapak kalchar devalap sosaitee ke andar samaaj ke andar usake hisaab se yah jastiphaee kabhee jaldee aatee hai to kabhee net kar jaatee hai kashmeer cheej kee aavashyakata aajakal - 61 din saara veediyo chaahata hai unakee pasand nahin karata hai vah bejjatee pasand nahin karata hai usako aap musalamaan chaahie usako usako ek svatantrata senaanee aur samaaj mein usako apana ek sthaanon kee pratishtha ijjat se bhara hua sthaan se to isamen ijjat dene aur kanika ek isaka pikchar aata hai kuchh log ijjat dete to kuchh log galat karate hain dene aur karane mein kuchh antar hai jo din mein aisee bhaavana ho sakatee hai ki main us vyakti ko ijjat de raha hai usako aur ijjat karane mein aisa ho jaata hai ki apane-apane maan ban jaatee hai us mittee ke prabhaav ke kaaran vichaar ke kaaran kaee kaaran ho sakate hain aur logon kee ijjat apane aap mein karane lagate hain isamen agar kilomeetar dene mein rahane vaale ke man ke hisaab se agar sabhee nahin hua to usee kshan bhee ijjat karana dene dena chhod de sakata hai abhee jaldee karane kanaada karane kee aavashyakata hotee hai lekin kabhee nahin ho jaatee hai to himmat rakh ke donon mein

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
क्या काला टीका लगाने से नजर नहीं लगती?Kya Kala Teeka Lagane Se Najar Nahin Lagti
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
7:00
क्या काला टीका लगाने से नजर नहीं लगती ना कभी किसी को किसी की नजर लगती है और ना नजर में या आंखों में ऐसी कोई शक्ति है कि वो किसी का पूरा कर सकती है या अच्छा कर सकती है और आप जो ब्रेन से जुड़ी हुई होती है उसके पास भी केवल देखने के देखने से किसी का अच्छा या बुरा करने की या उसके कारण होने की कोई भी क्षमता नहीं है लेकिन इंसान का मानव घबराया हुआ है और वह हमेशा रहेगा जब तक उसको मुक्तिका भरे हैं मृत्यु के भय के कारण दुनिया ने क्या नहीं किया क्या नहीं किया क्या नहीं किया भगवान को बनाया धर्म संस्था बनाई विज्ञान भी बना के बस्ती के भाई के कारण लेकर आज तक को मृत्यु पर विजय नहीं पा सका है उसको हारा नहीं सका लेकिन लगातार उसकी कोशिश जारी है तो छोटे-छोटे बच्चों के प्रति माता-पिता और तुम भूखे लोग बहुत संवेदनशील होते हैं छोटे बच्चों को सभी प्यार करते हैं वह करते हैं तो अपने ही घर के दिलों में तो वह तो बहुत ज्यादा प्यार करते हैं छोटे बच्चे प्यार करने के लायक बड़े लोग लायक नहीं होते हैं इसलिए कई लोग बच्चों में खेलना ज्यादा पसंद करते हैं बड़ों से ज्यादा संबंध बनाए बनाते नहीं ऐसी ब्लॉक महीने देखें और यही कारण बताते हैं कि बड़े लोग बिगड़ चुके होते हैं क्योंकि वह बड़े हुए होते हैं छोटे नहीं रहते रहते और छोटा जो बच्चा है भगवान का रूप है ऐसे शब्द में कहो तो उसमें इमोशंस होता है बड़े लोगों की नस्ल गायब हो जाता है और यह रिश्ता स्वास्थ मदर मोहम्मद माया तिरस्कार कौन सा अधिकार भरे हुए प्रमाणिकता ज्यादा करके जो होते हैं वैसे स्थिति को एडजस्ट नहीं कर पाते हैं उनको जोड़ वरना जनता नहीं पता लेकिन यह जैसे बड़े लोगों के जीने का एक आवश्यक अंग है इसे बना हुआ है तो अपने मन को बहलाने के लिए उस बच्चे को कभी कुछ तकलीफ ना हो बीमारी ना हो इसलिए प्राणी से क्या की तो कोशिश प्रादुर्भाव ना वह हमेशा हंसते खेलते हैं और हिंदी रहे ऐसी इच्छा होती है परिवार वालों की तो भावनात्मक रूप से उनको ऐसे लगता है कि बच्चे वसा दुनिया की सबसे सुंदर सूरत है और अगर मुझे किसी ने उसको देखा तो इसको पाने की कोशिश करेगा और ना जाने हम से चीनी मिल जाए ऐसी भावना उत्पन्न होती भक्तों में ऐसा कुछ नहीं होता है यह घर वाले भी जानते हैं लेकिन अपने मन को उनके साथ कौन से स्थान पर बैठा हुआ है उसके कारण वह छोटी मोटी चीजें करते हैं चेहरे पर काला टीका लगाने से परिवार वालों को और अच्छा दिखाई भी देता है और कई लोगों को थोड़ा कम अच्छा सुंदर दिखाई दे सकता है और वैसा ही लोग और उनकी नजर ना लग जाए इसलिए काला टीका लगा दे कल का कोई अर्थ नहीं है लेकिन बहुत बड़ा तो कुदरत का नियम है हर कोई चीज परिवर्तनशील है
Kya kaala teeka lagaane se najar nahin lagatee na kabhee kisee ko kisee kee najar lagatee hai aur na najar mein ya aankhon mein aisee koee shakti hai ki vo kisee ka poora kar sakatee hai ya achchha kar sakatee hai aur aap jo bren se judee huee hotee hai usake paas bhee keval dekhane ke dekhane se kisee ka achchha ya bura karane kee ya usake kaaran hone kee koee bhee kshamata nahin hai lekin insaan ka maanav ghabaraaya hua hai aur vah hamesha rahega jab tak usako muktika bhare hain mrtyu ke bhay ke kaaran duniya ne kya nahin kiya kya nahin kiya kya nahin kiya bhagavaan ko banaaya dharm sanstha banaee vigyaan bhee bana ke bastee ke bhaee ke kaaran lekar aaj tak ko mrtyu par vijay nahin pa saka hai usako haara nahin saka lekin lagaataar usakee koshish jaaree hai to chhote-chhote bachchon ke prati maata-pita aur tum bhookhe log bahut sanvedanasheel hote hain chhote bachchon ko sabhee pyaar karate hain vah karate hain to apane hee ghar ke dilon mein to vah to bahut jyaada pyaar karate hain chhote bachche pyaar karane ke laayak bade log laayak nahin hote hain isalie kaee log bachchon mein khelana jyaada pasand karate hain badon se jyaada sambandh banae banaate nahin aisee blok maheene dekhen aur yahee kaaran bataate hain ki bade log bigad chuke hote hain kyonki vah bade hue hote hain chhote nahin rahate rahate aur chhota jo bachcha hai bhagavaan ka roop hai aise shabd mein kaho to usamen imoshans hota hai bade logon kee nasl gaayab ho jaata hai aur yah rishta svaasth madar mohammad maaya tiraskaar kaun sa adhikaar bhare hue pramaanikata jyaada karake jo hote hain vaise sthiti ko edajast nahin kar paate hain unako jod varana janata nahin pata lekin yah jaise bade logon ke jeene ka ek aavashyak ang hai ise bana hua hai to apane man ko bahalaane ke lie us bachche ko kabhee kuchh takaleeph na ho beemaaree na ho isalie praanee se kya kee to koshish praadurbhaav na vah hamesha hansate khelate hain aur hindee rahe aisee ichchha hotee hai parivaar vaalon kee to bhaavanaatmak roop se unako aise lagata hai ki bachche vasa duniya kee sabase sundar soorat hai aur agar mujhe kisee ne usako dekha to isako paane kee koshish karega aur na jaane ham se cheenee mil jae aisee bhaavana utpann hotee bhakton mein aisa kuchh nahin hota hai yah ghar vaale bhee jaanate hain lekin apane man ko unake saath kaun se sthaan par baitha hua hai usake kaaran vah chhotee motee cheejen karate hain chehare par kaala teeka lagaane se parivaar vaalon ko aur achchha dikhaee bhee deta hai aur kaee logon ko thoda kam achchha sundar dikhaee de sakata hai aur vaisa hee log aur unakee najar na lag jae isalie kaala teeka laga de kal ka koee arth nahin hai lekin bahut bada to kudarat ka niyam hai har koee cheej parivartanasheel hai

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
अपनी असुरक्षाओ से निपटने का सबसे अच्छा तरीका क्या है?Apni Asurakshao Se Nipatne Ka Sabse Acha Tareeka Kya Hai
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
7:00
अपनी असुरक्षित अदाओं से निपटने का सबसे अच्छा तरीका क्या है एक बहुत अच्छा सवाल पूछा गया है हर एक व्यक्ति सुरक्षित और सुरक्षा के कारण वह भी था और वो भी इंसानियत है उससे एलाइनेटेड हो रहा है कि जा रहा है पूरी प्रकृति सुरक्षितता खोजने के पीछे पीछे भाग रहा है और उसको लगता है कि इस चीज से सुरक्षित मिलेगी जिससे सुरक्षा मिली विचारों में कंफ्यूजन के कारण मार्ग भटकने वाले बहुत ज्यादा लोग सबसे ज्यादा असुरक्षित तक कब महसूस होती है जब हम गलती करते हैं हम पाप पाप करते हैं तुमसे जी हमारे मन में उत्सुकता क्या होता है लूट लिया है इसको फंसाया है किसी को मरवाया है तो ऐसे व्यक्तियों को अपने मन के अंदर बहुत असुरक्षित था हमेशा दिखाई देती है महसूस होती है और वह सहारा लेते मंदिरों का यह प्रश्न स्थलों का यह बुआ धर्म देव देवता अंधश्रद्धा ऐसी चीजों का सहारा लेकर अपने मन को बहलाने का प्रयत्न करते हैं लेकिन वह नहीं होता क्योंकि यह जो चीजें होती है वह मन के सबकॉन्शियस लेवल पर थक गई हुई होती है और उससे किसी किसी को छुटकारा नहीं है तो सुरक्षा के लिए पहली शर्त यह है कि हमारा चरित्र अच्छा कैरेक्टर अच्छा मित्र आर्थिक मामला है सुरक्षित पानी के लिए जो भी जरूरत थी जिसे है वह प्राप्त करना जरूरी है कैरियर बनाने बनाने के लिए अच्छे और बड़े कोर्स कोर्स करने का जरूरी है आधा अधूरा शिक्षा शिक्षा जो है वह और समझते हैं निर्माण करती इसलिए शिक्षा ज्यादा से ज्यादा और तांत्रिक शिक्षा देना जरूरी होता है देने वाली चाहने वालों की जरूरत हर जगह पर है जगह पर है कैरियर के मामले में काम मिलने के बाद में मामले में परिश्रम करके पढ़ाई में अच्छी डिग्री और उसकी लाश ऐड करना जरूर या व्यवसाय अच्छी तरह से प्लानिंग और उस पर अमल सिस्टर आरती प्रस्तुत करते हैं जिसको कार्तिक सुरक्षित चाहिए उसके लिए हम इंतजाम करके रख सकते हैं इसमें खुद का अपना एक जल्दी से आजा अनुभव होता इसलिए उसके अपने तरीके से हुआ बढ़ सकता है किसी की कॉपी करके नहीं बनाया जा सकता है वह अपने उसे बनाना पड़ता है और वह बना दिया बना देना चाहिए और उसके साथ जो भी जरूरी चीज है जैसे शादी है उसके बाद बच्चे होते हैं बुढ़ापा आता है बीच-बीच में कई बीमारियां आती है उसके घर जाते हैं बुढ़ापा भी आता है पैसे की कीमत भी बढ़ जा बढ़ती है जो आज बड़ा पैसा दिख रहा है वह वैल्यू कम हो जाती है पैसों का इंतजाम किया जाए एक बारी परसेंटेज में यह सुरक्षित दूर होती है क्या सुरक्षित सुरक्षित आई महत्वपूर्ण बन गई इसी कारण वह सारी समस्या निर्माण हुई तो यह सुरक्षितता हमें बनानी जल्दी होती है यह कुल बातें हैं धन्यवाद
Apanee asurakshit adaon se nipatane ka sabase achchha tareeka kya hai ek bahut achchha savaal poochha gaya hai har ek vyakti surakshit aur suraksha ke kaaran vah bhee tha aur vo bhee insaaniyat hai usase elaineted ho raha hai ki ja raha hai pooree prakrti surakshitata khojane ke peechhe peechhe bhaag raha hai aur usako lagata hai ki is cheej se surakshit milegee jisase suraksha milee vichaaron mein kamphyoojan ke kaaran maarg bhatakane vaale bahut jyaada log sabase jyaada asurakshit tak kab mahasoos hotee hai jab ham galatee karate hain ham paap paap karate hain tumase jee hamaare man mein utsukata kya hota hai loot liya hai isako phansaaya hai kisee ko maravaaya hai to aise vyaktiyon ko apane man ke andar bahut asurakshit tha hamesha dikhaee detee hai mahasoos hotee hai aur vah sahaara lete mandiron ka yah prashn sthalon ka yah bua dharm dev devata andhashraddha aisee cheejon ka sahaara lekar apane man ko bahalaane ka prayatn karate hain lekin vah nahin hota kyonki yah jo cheejen hotee hai vah man ke sabakonshiyas leval par thak gaee huee hotee hai aur usase kisee kisee ko chhutakaara nahin hai to suraksha ke lie pahalee shart yah hai ki hamaara charitr achchha kairektar achchha mitr aarthik maamala hai surakshit paanee ke lie jo bhee jaroorat thee jise hai vah praapt karana jarooree hai kairiyar banaane banaane ke lie achchhe aur bade kors kors karane ka jarooree hai aadha adhoora shiksha shiksha jo hai vah aur samajhate hain nirmaan karatee isalie shiksha jyaada se jyaada aur taantrik shiksha dena jarooree hota hai dene vaalee chaahane vaalon kee jaroorat har jagah par hai jagah par hai kairiyar ke maamale mein kaam milane ke baad mein maamale mein parishram karake padhaee mein achchhee digree aur usakee laash aid karana jaroor ya vyavasaay achchhee tarah se plaaning aur us par amal sistar aaratee prastut karate hain jisako kaartik surakshit chaahie usake lie ham intajaam karake rakh sakate hain isamen khud ka apana ek jaldee se aaja anubhav hota isalie usake apane tareeke se hua badh sakata hai kisee kee kopee karake nahin banaaya ja sakata hai vah apane use banaana padata hai aur vah bana diya bana dena chaahie aur usake saath jo bhee jarooree cheej hai jaise shaadee hai usake baad bachche hote hain budhaapa aata hai beech-beech mein kaee beemaariyaan aatee hai usake ghar jaate hain budhaapa bhee aata hai paise kee keemat bhee badh ja badhatee hai jo aaj bada paisa dikh raha hai vah vailyoo kam ho jaatee hai paison ka intajaam kiya jae ek baaree parasentej mein yah surakshit door hotee hai kya surakshit surakshit aaee mahatvapoorn ban gaee isee kaaran vah saaree samasya nirmaan huee to yah surakshitata hamen banaanee jaldee hotee hai yah kul baaten hain dhanyavaad

#रिश्ते और संबंध

Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
7:00
जब 1 लीटर पेट्रोल की कीमत में 2 किलो दूध खरीदा जा सकता है तो क्या 2 लीटर दूध पीकर साइकिल से चलना चलना तो एक तार्किक रूप से तीन है लेकिन साइकिल की कुछ महिलाएं की गति बहुत धीमी गति और उस लोगों को काम के लिए कहीं पर भी दूर दूर दूर दूर तक प्रवास करना पड़ता है इसलिए वैज्ञानिक उसकी जरूरत जरूरत निर्माण में पहले के जमाने में साइकिल का यूज किया जाता को चलाना सेहत के लिए अच्छा सा प्रदूषण नहीं होता यह सब बात सही है लेकिन एक लिमिटेड अंतर तक ऐसा करना जरूरी चाइना में ऐसा किया जाता है तो उसकी रिजेक्ट प्रदूषण के संबंध में एक्सीडेंट के संबंध में सार्वजनिक स्वच्छता और संस्था के डांस अच्छे सकारात्मक परिणाम दिखाई नहीं है अपने शहर में और गांव में साइकिल चलाना बिल्कुल अवश्य दें लेकिन इस तरह की आदत नहीं हमें डालनी चाहिए कि कभी पैदल चलता ही नहीं सिर्फ भी कल पर ऑटोमेटिक चलने वाली गाड़ियों पर चलता है वह झूठा तो निश्चित रूप से इस केस को शारीरिक समस्या आएंगे लेकिन यह सब लोग जो है वस्तुओं के और भौतिक सुखों के इतने मोह जाल में फंसे हुए हैं कि उम्र कम कब हुई थी होती दिखाई दे रही है लोग मर रहे हर्ट अटैक से मर गए कम उम्र में डायबिटीज कैंसर जैसी पड़ी की बीमारियां मिलता इस कई बीमारियों के शिकार होते जा रहे हैं गुर्जर भी चलना चाहिए और आंतरिक में ज्यादा हो तो साइकिल चलाना चाहिए कमेंट की बात का मैं घर पर नहीं हूं इस तरीके के लोकल नंबर आनी चाहिए और फिल्म उसके लिए उनकी इच्छाशक्ति है लेकिन शायद गांव का हो या दिल्ली का पेट्रोल वालों से बहुत डरता है सारी दुनिया पेट्रोल पर चल रहे और उसके पैसे में प्रस्तुत करने से भी शामिल है सभी के परसेंटेज से मिले हैं मुख्यमंत्री से लेकर सब केंद्र सरकार हो गया और बहुत सारी आर्थिक संबंध बने हुए हैं इसलिए सरकार उसके ऊपर कर कोई पर्याय भी नहीं है कई लोगों ने दावे किए थे कि में पेट्रोल डीजल के भाव चलाई जा सकती लेकिन वो करीब गायब हुए मालूम है और यह पेट्रोल वाली अर्थव्यवस्था और इसके जो बड़े माफिया है वैसी बातें होने लगी रहती है लेकिन इच्छाशक्ति होगा सरकार को सुनिश्चित केजरीवाल ने दिल्ली में सब कुछ किया है सर उसे हो सकता है
Jab 1 leetar petrol kee keemat mein 2 kilo doodh khareeda ja sakata hai to kya 2 leetar doodh peekar saikil se chalana chalana to ek taarkik roop se teen hai lekin saikil kee kuchh mahilaen kee gati bahut dheemee gati aur us logon ko kaam ke lie kaheen par bhee door door door door tak pravaas karana padata hai isalie vaigyaanik usakee jaroorat jaroorat nirmaan mein pahale ke jamaane mein saikil ka yooj kiya jaata ko chalaana sehat ke lie achchha sa pradooshan nahin hota yah sab baat sahee hai lekin ek limited antar tak aisa karana jarooree chaina mein aisa kiya jaata hai to usakee rijekt pradooshan ke sambandh mein ekseedent ke sambandh mein saarvajanik svachchhata aur sanstha ke daans achchhe sakaaraatmak parinaam dikhaee nahin hai apane shahar mein aur gaanv mein saikil chalaana bilkul avashy den lekin is tarah kee aadat nahin hamen daalanee chaahie ki kabhee paidal chalata hee nahin sirph bhee kal par otometik chalane vaalee gaadiyon par chalata hai vah jhootha to nishchit roop se is kes ko shaareerik samasya aaenge lekin yah sab log jo hai vastuon ke aur bhautik sukhon ke itane moh jaal mein phanse hue hain ki umr kam kab huee thee hotee dikhaee de rahee hai log mar rahe hart ataik se mar gae kam umr mein daayabiteej kainsar jaisee padee kee beemaariyaan milata is kaee beemaariyon ke shikaar hote ja rahe hain gurjar bhee chalana chaahie aur aantarik mein jyaada ho to saikil chalaana chaahie kament kee baat ka main ghar par nahin hoon is tareeke ke lokal nambar aanee chaahie aur philm usake lie unakee ichchhaashakti hai lekin shaayad gaanv ka ho ya dillee ka petrol vaalon se bahut darata hai saaree duniya petrol par chal rahe aur usake paise mein prastut karane se bhee shaamil hai sabhee ke parasentej se mile hain mukhyamantree se lekar sab kendr sarakaar ho gaya aur bahut saaree aarthik sambandh bane hue hain isalie sarakaar usake oopar kar koee paryaay bhee nahin hai kaee logon ne daave kie the ki mein petrol deejal ke bhaav chalaee ja sakatee lekin vo kareeb gaayab hue maaloom hai aur yah petrol vaalee arthavyavastha aur isake jo bade maaphiya hai vaisee baaten hone lagee rahatee hai lekin ichchhaashakti hoga sarakaar ko sunishchit kejareevaal ne dillee mein sab kuchh kiya hai sar use ho sakata hai

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
जरूरत से ज्यादा पौधों को पानी देने से क्या क्या नुकसान होते है?Jarurat Se Jyada Paudho Ko Paani Dene Se Kya Kya Nuksan Hote Hai
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
3:10
जरूरत से ज्यादा पौधों को पानी देने से देने से क्या क्या नुकसान होते हैं कोई भी पौधा जो है वह जितना पानी आवश्यक होता है उतना एप्स लोड करना है उसके जो उसका मूल होता है होता है और उसके बच्चे सोते हैं सब राजपूत होते हैं और वह जमीन को एक ताकत के साथ पकड़ कर रखे हुए हैं उनको जमीन की बहुत बहुत जरूरत होती है प्रोग्राम ज्यादा पानी डालते हैं तो उसके रूट की जो जमीन है पार्टी में भरकर आजू बाजू में जिसके कारण पौधे को जड़े मजबूत करने के लिए जमीन की कमी पड़ती है उसके साथ-साथ पानी के साथ आवश्यक पोषक द्रव्य उसके आसपास की जमीन में होते हैं वह भी ग्रुप होते हुए सशस्त्र शंकर के बढ़ते उनका वर्णन होता है वह भी पानी के साथ भी जाता है इसकी जरूरत से ज्यादा उनको मेहंदी रचाई ऐसा मुझे लगता है धन्यवाद
Jaroorat se jyaada paudhon ko paanee dene se dene se kya kya nukasaan hote hain koee bhee paudha jo hai vah jitana paanee aavashyak hota hai utana eps lod karana hai usake jo usaka mool hota hai hota hai aur usake bachche sote hain sab raajapoot hote hain aur vah jameen ko ek taakat ke saath pakad kar rakhe hue hain unako jameen kee bahut bahut jaroorat hotee hai prograam jyaada paanee daalate hain to usake root kee jo jameen hai paartee mein bharakar aajoo baajoo mein jisake kaaran paudhe ko jade majaboot karane ke lie jameen kee kamee padatee hai usake saath-saath paanee ke saath aavashyak poshak dravy usake aasapaas kee jameen mein hote hain vah bhee grup hote hue sashastr shankar ke badhate unaka varnan hota hai vah bhee paanee ke saath bhee jaata hai isakee jaroorat se jyaada unako mehandee rachaee aisa mujhe lagata hai dhanyavaad

#जीवन शैली

bolkar speaker
क्या आप सकारात्मक सोच की शक्ति को समझा सकते हैं?Kya Aap Sakaartmak Soch Ki Shakti Ko Samjha Sakte Hain
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
6:57
क्या आप सकारात्मक सोच की शक्ति को समझा सकते हैं अभी जो बातें बताई जा रही है और प्रसारित की जा रही है उसके आधार पर सकारात्मक सोच को रखना रखने का मतलब यह हो सकता है कि संगठन की भावना जोड़ने की मांग जो है उसको ही खत्म कर देना है हर व्यक्ति को सकारात्मक सोचने के लिए कहा जाए तो उनका शोषण होता है वह सकारात्मक सोच कर ही बैठ सकते हैं कि यह ठीक है हमें सर रहना चाहिए बाद में सब शकर अपनी खो जाएगा ₹500 का काम कर ले लेना और उसको दूसरा काम कर देना और उसमें उसने नहीं है वह काम कर अगर सकारात्मक रूप से सोचने लगा तो यह गुलामगिरी जैसे उसके ऊपर से केवाईसी रखने के लिए क्या तत्वज्ञान है इसको कहा जा सकता है पूरी तरह से सही और सटीक देश के लिए व्यक्ति होता है तो वहीं उसके लिए वह आतंकवादी तुझ में सकारात्मक और नकारात्मक कौन सी बातें होती लेकिन किसी भी तरह से पहले सोच होनी चाहिए और उसके सबसे एनालिसिस करके और सत्यता को उसके बाद उसके प्रति सत्य के प्रति सकारात्मक बार प्रतिष्ठित चोरों के सामने नंबर तहसील बैठे रहना अगर कोई काम की नहीं और ऐसे काम रोज गाना ढूंढ के भेजना उसका दूसरा बैंक से पहले सप्ताह पहले भी समझना चाहिए कि अघोषित तथाकथित नकारात्मक सूची हिस्सों से ही ढूंढा जा सकता है जैसे कि संकट उसका स्वरूप क्या है उसके परिणाम क्या है यह सब सोचकर ही उसके बारे में पहले निश्चित करना चाहिए सही क्या है और गलत करें और उसके बाद सही जो लोग को समझ लेना चाहिए लेकिन उसके पहले सकारात्मक रखना होगा जबकि सकारात्मक की जाए तो ज्यादा करेगा मार्केटिंग करेगा तभी सच कह कर बताएगा तो उसको मान करोगी सकारात्मकता बन जाएगी और नुकसान हो सकता है हो सकता है उनका पता भी कभी नहीं चल सकता सकारात्मक सोच इतनी भी है कि नया गुना जो पुराना जो है वह उड़कर नया उच्च नया उससे भी बेहतर बनाना यह भी एक सकारात्मक होती होती होती हो सकती है अतः मेरा विश्वास होता है उसे सकारात्मक शरीर में जलन होती है पॉजिटिव एहसास निर्माण होता है और उसकी समझते को निश्चित रूप से एनर्जी को भी बढ़ाता है आत्मविश्वास को भी अगर अपने अनुसार हो जाए तो उसमें भी हो सार्थकता समझता है दोस्तों के लिए समारोह सकारात्मक सोच होना बहुत जरूरी चाहिए और बात रही शक्ति की शक्ति का मतलब यही होता है कि कंप्यूटर और हौसला बुलंद होना शारीरिक मानसिक रूप से ताकतवर हो जाना यह सब टीवी से बढ़ती धन्यवाद
Kya aap sakaaraatmak soch kee shakti ko samajha sakate hain abhee jo baaten bataee ja rahee hai aur prasaarit kee ja rahee hai usake aadhaar par sakaaraatmak soch ko rakhana rakhane ka matalab yah ho sakata hai ki sangathan kee bhaavana jodane kee maang jo hai usako hee khatm kar dena hai har vyakti ko sakaaraatmak sochane ke lie kaha jae to unaka shoshan hota hai vah sakaaraatmak soch kar hee baith sakate hain ki yah theek hai hamen sar rahana chaahie baad mein sab shakar apanee kho jaega ₹500 ka kaam kar le lena aur usako doosara kaam kar dena aur usamen usane nahin hai vah kaam kar agar sakaaraatmak roop se sochane laga to yah gulaamagiree jaise usake oopar se kevaeesee rakhane ke lie kya tatvagyaan hai isako kaha ja sakata hai pooree tarah se sahee aur sateek desh ke lie vyakti hota hai to vaheen usake lie vah aatankavaadee tujh mein sakaaraatmak aur nakaaraatmak kaun see baaten hotee lekin kisee bhee tarah se pahale soch honee chaahie aur usake sabase enaalisis karake aur satyata ko usake baad usake prati saty ke prati sakaaraatmak baar pratishthit choron ke saamane nambar tahaseel baithe rahana agar koee kaam kee nahin aur aise kaam roj gaana dhoondh ke bhejana usaka doosara baink se pahale saptaah pahale bhee samajhana chaahie ki aghoshit tathaakathit nakaaraatmak soochee hisson se hee dhoondha ja sakata hai jaise ki sankat usaka svaroop kya hai usake parinaam kya hai yah sab sochakar hee usake baare mein pahale nishchit karana chaahie sahee kya hai aur galat karen aur usake baad sahee jo log ko samajh lena chaahie lekin usake pahale sakaaraatmak rakhana hoga jabaki sakaaraatmak kee jae to jyaada karega maarketing karega tabhee sach kah kar bataega to usako maan karogee sakaaraatmakata ban jaegee aur nukasaan ho sakata hai ho sakata hai unaka pata bhee kabhee nahin chal sakata sakaaraatmak soch itanee bhee hai ki naya guna jo puraana jo hai vah udakar naya uchch naya usase bhee behatar banaana yah bhee ek sakaaraatmak hotee hotee hotee ho sakatee hai atah mera vishvaas hota hai use sakaaraatmak shareer mein jalan hotee hai pojitiv ehasaas nirmaan hota hai aur usakee samajhate ko nishchit roop se enarjee ko bhee badhaata hai aatmavishvaas ko bhee agar apane anusaar ho jae to usamen bhee ho saarthakata samajhata hai doston ke lie samaaroh sakaaraatmak soch hona bahut jarooree chaahie aur baat rahee shakti kee shakti ka matalab yahee hota hai ki kampyootar aur hausala buland hona shaareerik maanasik roop se taakatavar ho jaana yah sab teevee se badhatee dhanyavaad

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
उन्नति शील बनने का रहस्य क्या है?Unnati Sheel Banne Ka Rahasy Kya Hai
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
7:00
श्रीमती शीला बनने का राशि क्या है मैं उन्नति की व्याख्या ऐसी करता हूं कि हर तरह से एक विकसित हो जाना चाहिए मुझे माता के रूप से आर्थिक रूप से प्रतिष्ठा के रूप में अयोग्य के रूप में पारिवारिक सुख के रूप में और कुछ क्रिएटिव करके खुद की कुछ पहचान पीछे जो छोड़ा गोमती से मेहमान का भविष्य बनने के लिए क्या करना चाहिए तो ऐसे ही विषयों पर मार्गदर्शन करने वाले बहुत-बहुत मोटिवेशनल स्पीकर स्पीकर से शिव खेरा वह माहेश्वरी माहेश्वरी ऐसे ऐसे कुछ होता है कुछ तो देश एक है फिर भी हर एक की जिंदगी एक जैसी नहीं होती हर एक व्यक्ति का वक्त इस तरह का एक जैसा नहीं होता अलग अलग तरीका बताएं और हर एक व्यक्ति के सामने जो चुनौतियां एक जैसी नहीं होती तो हर एक का मार्ग जो बनता है एक जैसा नहीं बन सकता यह व्यक्ति सापेक्ष हर व्यक्ति का अलग है और वह उसने उसने खुद बनाना किसी के कहने से वह नहीं बनता है अपने अनुभव से उसको विकसित करना पड़ता है और हमारे पर जो साधन होते हैं उनके हिसाब से उसको भी कष्ट करना लेकिन कुछ चीजें कॉमेडी से हम कर सकते हैं उन्हें हमारी प्रमाणिकता बहुत महत्वपूर्ण प्रमाणिक व्यक्ति का समाज में हर काम होता है विश्वास होता महत्वपूर्ण विश्वास के आधार पर किसी भी क्षेत्र में करियर रिया का व्यापार धंधा उसमें सफलता मिलती है इसे पैसा मिलता है पैसा बढ़ता है इससे बहुत महत्वपूर्ण है हर चीज में एक सहयोग होना जरूरी होता है तभी जाकर वो उसके रूल अप्लाई कर सकते तो भावनात्मक पुस्तक में भर गया तो वह डिस्टर्ब होता है उसका धंधा डिस्टर्ब होता है उसका कम्युनिकेशन निर्माता है अब इसमें से उन्नति में बाधक स्वयं के साथ-साथ संवेदनशीलता दिखानी कहां पर है थोड़ी उदारता भी है दिखाना जरूरी होता है तो कहीं पर वह जरूरी नहीं होता शिक्षक मध्यप्रदेश में चित्रों की शिक्षा के लिए शिक्षा और का प्रेक्टिस जरूरी होता है कोई भी स्किल अगर होता है तो उसको कभी बेरोजगारी का सामना नहीं करना पड़ता है क्योंकि वह काम करने वाले लोग वकील रखने वाले लोग बहुत कम होते हैं इसका फायदा मिलता है सिर्फ छोटी करौली से आर्थिक उन्नति नहीं हो सकता विकास हो सकता है चोरों का विकास हो सकता है दूसरों को काउंसलिंग कर सकता है आर्थिक विकास में बाधा आती है अपने शरीर को हेल्दी रखने के लिए आहार विहार गया इसका एक संपन्न रखना जी के भजन खींचकर लाया गया नहीं होना चाहिए तो नहीं तो इसमें ज्यादा दिन तक नहीं कर सकते से कुछ बातें बनियापुर बताइए अगर आपको यह अच्छी लगी तो कृपया इसे लाइक करें धन्यवाद
Shreematee sheela banane ka raashi kya hai main unnati kee vyaakhya aisee karata hoon ki har tarah se ek vikasit ho jaana chaahie mujhe maata ke roop se aarthik roop se pratishtha ke roop mein ayogy ke roop mein paarivaarik sukh ke roop mein aur kuchh krietiv karake khud kee kuchh pahachaan peechhe jo chhoda gomatee se mehamaan ka bhavishy banane ke lie kya karana chaahie to aise hee vishayon par maargadarshan karane vaale bahut-bahut motiveshanal speekar speekar se shiv khera vah maaheshvaree maaheshvaree aise aise kuchh hota hai kuchh to desh ek hai phir bhee har ek kee jindagee ek jaisee nahin hotee har ek vyakti ka vakt is tarah ka ek jaisa nahin hota alag alag tareeka bataen aur har ek vyakti ke saamane jo chunautiyaan ek jaisee nahin hotee to har ek ka maarg jo banata hai ek jaisa nahin ban sakata yah vyakti saapeksh har vyakti ka alag hai aur vah usane usane khud banaana kisee ke kahane se vah nahin banata hai apane anubhav se usako vikasit karana padata hai aur hamaare par jo saadhan hote hain unake hisaab se usako bhee kasht karana lekin kuchh cheejen komedee se ham kar sakate hain unhen hamaaree pramaanikata bahut mahatvapoorn pramaanik vyakti ka samaaj mein har kaam hota hai vishvaas hota mahatvapoorn vishvaas ke aadhaar par kisee bhee kshetr mein kariyar riya ka vyaapaar dhandha usamen saphalata milatee hai ise paisa milata hai paisa badhata hai isase bahut mahatvapoorn hai har cheej mein ek sahayog hona jarooree hota hai tabhee jaakar vo usake rool aplaee kar sakate to bhaavanaatmak pustak mein bhar gaya to vah distarb hota hai usaka dhandha distarb hota hai usaka kamyunikeshan nirmaata hai ab isamen se unnati mein baadhak svayan ke saath-saath sanvedanasheelata dikhaanee kahaan par hai thodee udaarata bhee hai dikhaana jarooree hota hai to kaheen par vah jarooree nahin hota shikshak madhyapradesh mein chitron kee shiksha ke lie shiksha aur ka prektis jarooree hota hai koee bhee skil agar hota hai to usako kabhee berojagaaree ka saamana nahin karana padata hai kyonki vah kaam karane vaale log vakeel rakhane vaale log bahut kam hote hain isaka phaayada milata hai sirph chhotee karaulee se aarthik unnati nahin ho sakata vikaas ho sakata hai choron ka vikaas ho sakata hai doosaron ko kaunsaling kar sakata hai aarthik vikaas mein baadha aatee hai apane shareer ko heldee rakhane ke lie aahaar vihaar gaya isaka ek sampann rakhana jee ke bhajan kheenchakar laaya gaya nahin hona chaahie to nahin to isamen jyaada din tak nahin kar sakate se kuchh baaten baniyaapur bataie agar aapako yah achchhee lagee to krpaya ise laik karen dhanyavaad

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
घर में कलह ना हो इसके कुछ उपाय क्या है?Ghar Mein Kalah Na Ho Iske Kuch Upaay Kya Hai
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
7:00
घर में कल हो ना हो उसके कुछ उपाय क्या है मैं एक साइकोलॉजी क्रिमिनल सुन रहा था एक विदेशी साइंटिस्ट अभी अभी की बात है उसने बताया कि सारा कौटुंबिक कल का मूल कारण लाइंस है मुझे भी शुरू कर रहा हूं आश्चर्य लेकिन मैंने सोचने पर मुझे भी ध्यान में आया इसका मतलब मोटा झूठ बोलना कहीं पर जा रहा है दूसरा स्थान अगर होता है नहीं हुआ है अभी तक ऐसा बता देता है जानबूझकर औरत ज्यादा तीखा खाना बनाती है और एक गलती से ज्यादा असर पड़ गया कि दूसरों को सताने के लिए छोटी छोटी बातें घर में चलती थी और एक बार की एक नहीं दूसरे भी उसको उसी तरीके से जवाब गिरी के प्रयास करते हैं मेरा एक शादी के बाद अपनी ससुराल ज्यादा जाने लगा मैंने उससे कहा कि इसका क्या कारण है तो उसने कहा कि मेरा जो भाई है उस की जब शादी हुई थी वह ऐसे ही भाग तथा ससुराल पुनः पुनः तो मैं क्यों ना भाग जाओ तब उसने मेरा सुना था क्या तो मैं भी ऐसा ही करूंगा कि मैं भी अपने ससुराल जाता रहूंगा ज्यादा समय तक दोनों का धंधा था तू जिंदा है उसमें वहां पर उपस्थित होना जरूरी है बाद में उनके जुड़े हो गए दोनों अलग रहने लगे एक के झंडे पर रहने लगा और दूसरी कंपनी का गाड़ी वहां पर मोबाइल का दोस्ती का एक दुकान शुरू कर दिया तनी देना इनडायरेक्टली बोलना होता है उसको ताने देना कहा जाता है ऐसी बुरी आदत से हमको भूल जाओगे होती है और एक दूसरे को एहसास को आशा बहुओं को से किसी तरीके से कम नहीं जाएगा और वह दूसरे को समझ में आती है वह भी इसका बदला लेने का सस्ता है अभी सिलसिला चला जाता है इसका उपाय क्या है कल का उपाय यह है कि घर के कारोबार में एक पारदर्शिता होनी चाहिए जो भी प्रमुख है उसके आर्थिक व्यवहार में प्रमुखता होनी चाहिए और कौन सा भी काम करने के पहले सभी की सभी से पूछना चाहिए कम से कम यह हम कर रहे हैं बिना बताए बताए किया तो वह भी एक कारण बन जाता है छोटी-छोटी चीजों में झूठ बोलना बहुत गलत बात बनती बड़ा संघर्ष बनता है ऑनलाइन है उसकी तरफ ध्यान देकर उनके वक्तव्य घर में नहीं करनी चाहिए इससे बेहतर है कि चुप रहे लेकिन गलत बातें झूठी शान की बातें नहीं करनी चाहिए और सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि घर के मेंबर्स में एक समायोजन चाहिए समायोजन होना चाहिए तालमेल होना चाहिए
Ghar mein kal ho na ho usake kuchh upaay kya hai main ek saikolojee kriminal sun raha tha ek videshee saintist abhee abhee kee baat hai usane bataaya ki saara kautumbik kal ka mool kaaran lains hai mujhe bhee shuroo kar raha hoon aashchary lekin mainne sochane par mujhe bhee dhyaan mein aaya isaka matalab mota jhooth bolana kaheen par ja raha hai doosara sthaan agar hota hai nahin hua hai abhee tak aisa bata deta hai jaanaboojhakar aurat jyaada teekha khaana banaatee hai aur ek galatee se jyaada asar pad gaya ki doosaron ko sataane ke lie chhotee chhotee baaten ghar mein chalatee thee aur ek baar kee ek nahin doosare bhee usako usee tareeke se javaab giree ke prayaas karate hain mera ek shaadee ke baad apanee sasuraal jyaada jaane laga mainne usase kaha ki isaka kya kaaran hai to usane kaha ki mera jo bhaee hai us kee jab shaadee huee thee vah aise hee bhaag tatha sasuraal punah punah to main kyon na bhaag jao tab usane mera suna tha kya to main bhee aisa hee karoonga ki main bhee apane sasuraal jaata rahoonga jyaada samay tak donon ka dhandha tha too jinda hai usamen vahaan par upasthit hona jarooree hai baad mein unake jude ho gae donon alag rahane lage ek ke jhande par rahane laga aur doosaree kampanee ka gaadee vahaan par mobail ka dostee ka ek dukaan shuroo kar diya tanee dena inadaayarektalee bolana hota hai usako taane dena kaha jaata hai aisee buree aadat se hamako bhool jaoge hotee hai aur ek doosare ko ehasaas ko aasha bahuon ko se kisee tareeke se kam nahin jaega aur vah doosare ko samajh mein aatee hai vah bhee isaka badala lene ka sasta hai abhee silasila chala jaata hai isaka upaay kya hai kal ka upaay yah hai ki ghar ke kaarobaar mein ek paaradarshita honee chaahie jo bhee pramukh hai usake aarthik vyavahaar mein pramukhata honee chaahie aur kaun sa bhee kaam karane ke pahale sabhee kee sabhee se poochhana chaahie kam se kam yah ham kar rahe hain bina batae batae kiya to vah bhee ek kaaran ban jaata hai chhotee-chhotee cheejon mein jhooth bolana bahut galat baat banatee bada sangharsh banata hai onalain hai usakee taraph dhyaan dekar unake vaktavy ghar mein nahin karanee chaahie isase behatar hai ki chup rahe lekin galat baaten jhoothee shaan kee baaten nahin karanee chaahie aur sabase mahatvapoorn baat yah hai ki ghar ke membars mein ek samaayojan chaahie samaayojan hona chaahie taalamel hona chaahie

#भारत की राजनीति

Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
6:20
हमें दिन में कुछ समय निकालकर लंबी और गहरी सांस लेना चाहिए क्यों कहा जाता है तो वैसे ही हमें कभी भी पूछ लेना मां दुर्गे होता है कि सांस के साथ जो हवा हमारे फेफड़ों में जाती है वहां पर ऑक्सीजन पहुंचाती बाकी सिर्फ जूते और उनसे उस कर चेंजर पूरे शरीर को मिली और हमारी जो पेपर है उसको हम बहुत ज्यादा पहला दिन है वैसे तो बहुत ज्यादा फैला फैला सकता है उसमें ज्यादा पड़ सकता है उतना ऑक्सीजन ज्यादा अंदर लिया जा सकता है उसको पहुंचाया जा सकता है इसलिए ऐसा कहा जाता है कि उस समय के लिए ही सही लेकिन पूरी गहरी सांसे और लंबी सांसे लेना और इसमें कुछ देश में खड़ा रहने के लिए वैसे ही हवा भर के दिल के बाद हवा को छोड़ना शरीर के लिए अच्छा होता है इसका क्या कारण है और गहरी श्वास लेते समय हम जो है हमारे विचार विषय में रुकते जो मन का चित्र चित्र जो है वह समय भी रुकता है जो मन हमेशा कुछ न कुछ इधर-उधर भटकता है वह उस समय रुकता है तो मन का भी एक गया मुझसे होता है यह मेडिटेशन का एक अर्थ विपश्यना सा अपनी सांसों के ऊपर ध्यान रखकर वह कैसे आती है जाती है इस पर इस पर पहले ध्यान रखना होता है ध्यान रखने के बाद मंजूर होता है उसके बाद बात भी हवा आती है और जब आती है तो धीरे से उसको भर देती है और उसके बाद धीरे से वह चूड़ी मिल जाती है तो इससे भी फायदा उठा एकमात्र जरिया है ऑक्सीजन का हमारे शरीर में जाने का जो हवा में होता है वह हमारी सारा बारी हमारी सांस जब रुक जाती है तो कुछ समय बाद वह हमेशा के लिए रुक जाती है कि लगातार जीवन भर चलती हुई है बहुत सिस्टमैटिक यंत्रणा है जैसे हमारा दिल का धड़कना एक सिस्टमैटिक अंतर नाही जो हमारे जन्म से लेकर हमारे मूर्ति तकिए पर भी कोई आसान बात नहीं इतने लंबे समय तक उसका पंपिंग राहुल फ्री होते हैं उनका फैलना उसी पर जाना यह चलता है इश्क जीवन भर तो निश्चित रूप से वे दिन में कुछ समय के लिए और हो सके तो हमेशा उड़ीसा गहरी सांस लेनी चाहिए और तुमने भी चाहिए इसे अपनी बॉडी को ऑक्सीजन मिलने में सहायता होती है और ही अच्छा रहता है अगर मेरा यह जवाब सही से लाइक करना मत भूलें धन्यवाद
Hamen din mein kuchh samay nikaalakar lambee aur gaharee saans lena chaahie kyon kaha jaata hai to vaise hee hamen kabhee bhee poochh lena maan durge hota hai ki saans ke saath jo hava hamaare phephadon mein jaatee hai vahaan par okseejan pahunchaatee baakee sirph joote aur unase us kar chenjar poore shareer ko milee aur hamaaree jo pepar hai usako ham bahut jyaada pahala din hai vaise to bahut jyaada phaila phaila sakata hai usamen jyaada pad sakata hai utana okseejan jyaada andar liya ja sakata hai usako pahunchaaya ja sakata hai isalie aisa kaha jaata hai ki us samay ke lie hee sahee lekin pooree gaharee saanse aur lambee saanse lena aur isamen kuchh desh mein khada rahane ke lie vaise hee hava bhar ke dil ke baad hava ko chhodana shareer ke lie achchha hota hai isaka kya kaaran hai aur gaharee shvaas lete samay ham jo hai hamaare vichaar vishay mein rukate jo man ka chitr chitr jo hai vah samay bhee rukata hai jo man hamesha kuchh na kuchh idhar-udhar bhatakata hai vah us samay rukata hai to man ka bhee ek gaya mujhase hota hai yah mediteshan ka ek arth vipashyana sa apanee saanson ke oopar dhyaan rakhakar vah kaise aatee hai jaatee hai is par is par pahale dhyaan rakhana hota hai dhyaan rakhane ke baad manjoor hota hai usake baad baat bhee hava aatee hai aur jab aatee hai to dheere se usako bhar detee hai aur usake baad dheere se vah choodee mil jaatee hai to isase bhee phaayada utha ekamaatr jariya hai okseejan ka hamaare shareer mein jaane ka jo hava mein hota hai vah hamaaree saara baaree hamaaree saans jab ruk jaatee hai to kuchh samay baad vah hamesha ke lie ruk jaatee hai ki lagaataar jeevan bhar chalatee huee hai bahut sistamaitik yantrana hai jaise hamaara dil ka dhadakana ek sistamaitik antar naahee jo hamaare janm se lekar hamaare moorti takie par bhee koee aasaan baat nahin itane lambe samay tak usaka pamping raahul phree hote hain unaka phailana usee par jaana yah chalata hai ishk jeevan bhar to nishchit roop se ve din mein kuchh samay ke lie aur ho sake to hamesha udeesa gaharee saans lenee chaahie aur tumane bhee chaahie ise apanee bodee ko okseejan milane mein sahaayata hotee hai aur hee achchha rahata hai agar mera yah javaab sahee se laik karana mat bhoolen dhanyavaad

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
लोग मदिरा पान के साथ मांस खाना पसंद क्यों करते हैं?Log Madira Paan Ke Sath Maans Khana Pasand Kyo Karte Hai
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
7:00
लोग मदिरापान के साथ माउस खाना मांस खाना पसंद क्यों करते हैं एक बात तो यह है कि उसका जो खाना होता है बिना मजीरा के भी बहुत स्वादिष्ट होता है अगर किसी ने सिखाया है तो उसको मालूम भाई अब जिसने कभी नहीं खाया होता है वह इसकी घोषणा करता है तिरस्कार करता है इसको भी ऐसा क्यों नहीं होता है लेकिन एसटीडी 10 दिवसीय जीवनम करो क्यों बनाया है मुझे मालूम है लेकिन बनाने वाला बहुत कठोर लगेगा किसी भी संवेदनशील व्यक्ति को जब हर एक पुरानी से पुरानी को खाता है और इसका एक साइकिल है लेकिन मरता हुआ मनुष्य कोई भी प्राणी देखकर बहुत दर्द है या दुख किसी भी संवेदनशील व्यक्ति को होता है लेकिन यह ना चाहते हो घट जाता है इस मिट्टी का चक्र है इसलिए इस वीडियो को बनाने वाले को कई लोग कई कारणों से गाड़ी अभी डिटेल और उनके मुद्दों में कक्षा एक दम दम जो है वह दिखाई देता है तो माउस मौसम खाने में स्वादिष्ट था उसकी सिर्फ जो बस आती है उसमें उस से आदमी उत्तेजित होता है खाने के लिए दूसरी तरफ शराब जो है इसका भी यही बनता है इसीलिए कभी नहीं पी है वह इसको बहुत गंदी चीज बताता है मंत्री फिलोसोफी बीज होता है धर्म को किसके साथ जोड़ता है शिल्पा और कुत्ता को भी इसके साथ जुड़ता है लेकिन एक नशीली नशीली पदार्थ द्रव्य से मैसेज चलती है नशा चढ़ने के बाद शराब से आदमी रहेगा अजय भैया बहुत भावुक हो जाता है खुशी खुशी भी उसको बहुत ज्यादा होती है इसी वक्त में इस तरह का खाना उसके मन में अगर किसी के मन में आया आता है तो भी वो खुशी से मचलता है और एक बार फिर इसने दोनों चीजों का एक कतरा स्वर्गीय तो कहते हैं ना ऐसी खुशियां होती है खाता ही रहता है और नशे में डबल हो जाती है और आनंद हो जाता है लेकिन इसके लंबे दुष्परिणाम है लेकिन वह 20 या 30 साल 25 साल के बाद होने होने वाले हैं यह भी कई श्रमिक और भोसारी मालूम होता है और जिस चीज जिससे इंसान को आनंद मिलता है खुशी मिलती है शरीर के होती है इसका स्वाद अच्छा फल मिलता है टेस्ट अच्छी लगती है ज्ञान उसी का अनुभव होता है यह सब अच्छा बहुत अच्छा श्रीकांत भाई कन्नू है पीने के साथ या पहले थोड़ा सुधार स्टार्टिंग कहते हैं बाद में पीते हैं पूरा और उसके ऊपर खाना खाते रहते हैं और मंगवा और मोदी होटल में बाबू में पूरा फुल होने के बाद कई बार इनको रिक्शा करके कर भेजा जाता है लेकिन यह खुशी उसको बहुत मजाक बना देती है और अगर लोग नहीं खाते हो नहीं पीते हैं उन्होंने कभी जान भूखी है तू अब यह करने लगेंगे प्रिया जी अभी करने लगेंगे और कुछ इसमें वैष्णो दिन हो सकती है धन्यवाद
Log madiraapaan ke saath maus khaana maans khaana pasand kyon karate hain ek baat to yah hai ki usaka jo khaana hota hai bina majeera ke bhee bahut svaadisht hota hai agar kisee ne sikhaaya hai to usako maaloom bhaee ab jisane kabhee nahin khaaya hota hai vah isakee ghoshana karata hai tiraskaar karata hai isako bhee aisa kyon nahin hota hai lekin esateedee 10 divaseey jeevanam karo kyon banaaya hai mujhe maaloom hai lekin banaane vaala bahut kathor lagega kisee bhee sanvedanasheel vyakti ko jab har ek puraanee se puraanee ko khaata hai aur isaka ek saikil hai lekin marata hua manushy koee bhee praanee dekhakar bahut dard hai ya dukh kisee bhee sanvedanasheel vyakti ko hota hai lekin yah na chaahate ho ghat jaata hai is mittee ka chakr hai isalie is veediyo ko banaane vaale ko kaee log kaee kaaranon se gaadee abhee ditel aur unake muddon mein kaksha ek dam dam jo hai vah dikhaee deta hai to maus mausam khaane mein svaadisht tha usakee sirph jo bas aatee hai usamen us se aadamee uttejit hota hai khaane ke lie doosaree taraph sharaab jo hai isaka bhee yahee banata hai iseelie kabhee nahin pee hai vah isako bahut gandee cheej bataata hai mantree philosophee beej hota hai dharm ko kisake saath jodata hai shilpa aur kutta ko bhee isake saath judata hai lekin ek nasheelee nasheelee padaarth dravy se maisej chalatee hai nasha chadhane ke baad sharaab se aadamee rahega ajay bhaiya bahut bhaavuk ho jaata hai khushee khushee bhee usako bahut jyaada hotee hai isee vakt mein is tarah ka khaana usake man mein agar kisee ke man mein aaya aata hai to bhee vo khushee se machalata hai aur ek baar phir isane donon cheejon ka ek katara svargeey to kahate hain na aisee khushiyaan hotee hai khaata hee rahata hai aur nashe mein dabal ho jaatee hai aur aanand ho jaata hai lekin isake lambe dushparinaam hai lekin vah 20 ya 30 saal 25 saal ke baad hone hone vaale hain yah bhee kaee shramik aur bhosaaree maaloom hota hai aur jis cheej jisase insaan ko aanand milata hai khushee milatee hai shareer ke hotee hai isaka svaad achchha phal milata hai test achchhee lagatee hai gyaan usee ka anubhav hota hai yah sab achchha bahut achchha shreekaant bhaee kannoo hai peene ke saath ya pahale thoda sudhaar staarting kahate hain baad mein peete hain poora aur usake oopar khaana khaate rahate hain aur mangava aur modee hotal mein baaboo mein poora phul hone ke baad kaee baar inako riksha karake kar bheja jaata hai lekin yah khushee usako bahut majaak bana detee hai aur agar log nahin khaate ho nahin peete hain unhonne kabhee jaan bhookhee hai too ab yah karane lagenge priya jee abhee karane lagenge aur kuchh isamen vaishno din ho sakatee hai dhanyavaad

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
अयस्को का संकलन की परिभाषा दे?Ayasko Ka Sanklan Ki Paribhasha De
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
5:11
इसको का संकलन की परिभाषा लिखिए इसको यहां पर लिखा हुआ है लेकिन यह गलत टाइप हुआ है ऐसा लगता है यह आईएसओ लिखना चाहता है शायद तुम्हें आए हो मन करो इसका जवाब नहीं था आज तो कलम फार्मा इंटरनेशनल जनरलाइजेशन ऑर्गेनाइजेशन आईएस को यह विभिन्न मासूम थे जो मानक मानक संगठन होते हैं उनके प्रतिनिधियों से यह संगठन मंत्र बताइए 23 फरवरी 1947 का बहुत बड़ा महत्व है उसको स्टैंडर्ड में जो है इसी प्रकार उसको भेज देता है कोई सी भी सरकारी संगठन है लेकिन का प्रभाव और सरकारों से निकटता बंगड़ी और कई समझौते इसके रास्ते के बीच में हुए इसलिए बहुत ताकत ताकत और सरकारी होने के बावजूद भी सरकारी संस्थाओं से भी ताकतवर ये संगठन माना जाता है ज्यादा करके औद्योगिक और वाणिज्यिक क्षेत्रों के मानकों को घुमाने का देता है सुमन अंकिता का मानक बारे में माना जाता है इसका मुख्य कार्यालय लंकेश जय जिनेवा में अब यह स्थिति बन गई है कि जैसे इस संगठन ने मान्यता या मानक धमकियां जैसे कोई कारण बन जाता है विधि बन जाता है इस तरीके का उसका मूड बना हुआ है तो हर शाम तक कोई भी कई कंपनियां शोरूम के प्रोडक्ट चाहे सेवा हो हरिश्चंद्र के ज्यादा कर के प्राइवेट ट्रक में सूती मने मान्यता और उसका 1 अंक हासिल करने का एक बड़ा बहुत प्रयास होता रहता है और दुनिया भर के कस्टमर में so2 पर भरोसा होता है और अगर मना कर मिला हुआ होता है तो कस्टमर सीधा विश्वास करता है प्रोडक्ट पर एक बहुत महत्वपूर्ण ऑर्गनाइजेशन है अगर न जवाब सही लगा तो कृपया इसे लाइक करना भी ना भूली धनबाद
Isako ka sankalan kee paribhaasha likhie isako yahaan par likha hua hai lekin yah galat taip hua hai aisa lagata hai yah aaeeeso likhana chaahata hai shaayad tumhen aae ho man karo isaka javaab nahin tha aaj to kalam phaarma intaraneshanal janaralaijeshan orgenaijeshan aaeees ko yah vibhinn maasoom the jo maanak maanak sangathan hote hain unake pratinidhiyon se yah sangathan mantr bataie 23 pharavaree 1947 ka bahut bada mahatv hai usako staindard mein jo hai isee prakaar usako bhej deta hai koee see bhee sarakaaree sangathan hai lekin ka prabhaav aur sarakaaron se nikatata bangadee aur kaee samajhaute isake raaste ke beech mein hue isalie bahut taakat taakat aur sarakaaree hone ke baavajood bhee sarakaaree sansthaon se bhee taakatavar ye sangathan maana jaata hai jyaada karake audyogik aur vaanijyik kshetron ke maanakon ko ghumaane ka deta hai suman ankita ka maanak baare mein maana jaata hai isaka mukhy kaaryaalay lankesh jay jineva mein ab yah sthiti ban gaee hai ki jaise is sangathan ne maanyata ya maanak dhamakiyaan jaise koee kaaran ban jaata hai vidhi ban jaata hai is tareeke ka usaka mood bana hua hai to har shaam tak koee bhee kaee kampaniyaan shoroom ke prodakt chaahe seva ho harishchandr ke jyaada kar ke praivet trak mein sootee mane maanyata aur usaka 1 ank haasil karane ka ek bada bahut prayaas hota rahata hai aur duniya bhar ke kastamar mein so2 par bharosa hota hai aur agar mana kar mila hua hota hai to kastamar seedha vishvaas karata hai prodakt par ek bahut mahatvapoorn organaijeshan hai agar na javaab sahee laga to krpaya ise laik karana bhee na bhoolee dhanabaad

#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker
इकोनॉमिक्स क्या होता है?Economics Kya Hota Hai
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
5:20
इकोनॉमिक्स क्या होता है इकोनॉमिक्स का सीधा मतलब अर्थशास्त्र का मतलब पैसा या धन है और इसमें भी खासकर जो पैसा आया करेंसी होती है जो एक माध्यम होता है लेन-देन करने का पहले सोना भी हुआ था हुआ करता था चांद हुआ करती थी बाद में रुपया $1 आए दुनिया की सारी करंसी याद आ गई उसके आधार पर जो भी सब दुनिया में सारा व्यवहार होता है संपत्ति होती है उसके अंदर होती है बुरा इस दुनिया का लेनदेन का एक सिस्टम बना हुआ नेटवर्क बना हुआ है इतना सीधा साधा नहीं है और बहुत कॉम्प्लिकेटेड भी होता है और उसको पढ़ने के लिए समझने के लिए आधुनिक शिक्षा पद्धति है शिक्षा प्रणाली है सारे देशों में उसमें इकोनॉमिक्स सब्जेक्ट बनाया गया है इसमें बहुत सारा उसको भैया और इसके बहुत सारे पहलू है और उनको फर्स्ट टाइम लगा करो वक्त देकर पढ़ना चाहिए क्योंकि यह महत्वपूर्ण और गंभीर विषय भी है इसलिए ज्ञान शाखा की एक शाखा बनी हुई है इसमें इस संबंध में सरस डेयरी किया जाता है वह करने के बाद में जिगरिया मिलती है मिलते हैं बहुत सारे बहुत सारे करियर अपॉर्चुनिटी दिल की दुनिया के समाचार ओरिजिनल रिसर्च भी होता है हो सकता है और उसके कारण और क्या-क्या चीजें जरूरत है इंसान की जिंदगी जीने के लिए आर्थिक क्षेत्र में अनजान पहलू भी सामने आ जाते हैं इसमें जगह करके मुक्त अर्थव्यवस्था समाजवादी अर्थव्यवस्था साम्यवादी अर्थव्यवस्था कंबाइंड अर्थव्यवस्था इस तरह के प्रकार है और इसमें कालू मार्च से लेकर अमृतसर डॉक्टर अमर्त्य सेन को पसंद किया और तेरी जो जो है वह मन की आवाज भी पढ़ी जाती है विश्वविद्यालयों में और इसी के कारण दुनिया में बहुत सारी उल्टा पालक जो भी है वह भी हुई है क्रांति अभी हुई है संघर्ष हुए खून खराबा हुआ है और आगे जाकर बड़ा होने की संभावना है तो इतना महत्वपूर्ण व्यक्ति का नाम है लेकिन जो मैंने अभी भेजा है वह यहां पर कहां है अगर यह सवाल आपको सही लगा अच्छा लगा कि कृपया इसे लाइक करें धन्यवाद
Ikonomiks kya hota hai ikonomiks ka seedha matalab arthashaastr ka matalab paisa ya dhan hai aur isamen bhee khaasakar jo paisa aaya karensee hotee hai jo ek maadhyam hota hai len-den karane ka pahale sona bhee hua tha hua karata tha chaand hua karatee thee baad mein rupaya $1 aae duniya kee saaree karansee yaad aa gaee usake aadhaar par jo bhee sab duniya mein saara vyavahaar hota hai sampatti hotee hai usake andar hotee hai bura is duniya ka lenaden ka ek sistam bana hua netavark bana hua hai itana seedha saadha nahin hai aur bahut kompliketed bhee hota hai aur usako padhane ke lie samajhane ke lie aadhunik shiksha paddhati hai shiksha pranaalee hai saare deshon mein usamen ikonomiks sabjekt banaaya gaya hai isamen bahut saara usako bhaiya aur isake bahut saare pahaloo hai aur unako pharst taim laga karo vakt dekar padhana chaahie kyonki yah mahatvapoorn aur gambheer vishay bhee hai isalie gyaan shaakha kee ek shaakha banee huee hai isamen is sambandh mein saras deyaree kiya jaata hai vah karane ke baad mein jigariya milatee hai milate hain bahut saare bahut saare kariyar aporchunitee dil kee duniya ke samaachaar orijinal risarch bhee hota hai ho sakata hai aur usake kaaran aur kya-kya cheejen jaroorat hai insaan kee jindagee jeene ke lie aarthik kshetr mein anajaan pahaloo bhee saamane aa jaate hain isamen jagah karake mukt arthavyavastha samaajavaadee arthavyavastha saamyavaadee arthavyavastha kambaind arthavyavastha is tarah ke prakaar hai aur isamen kaaloo maarch se lekar amrtasar doktar amarty sen ko pasand kiya aur teree jo jo hai vah man kee aavaaj bhee padhee jaatee hai vishvavidyaalayon mein aur isee ke kaaran duniya mein bahut saaree ulta paalak jo bhee hai vah bhee huee hai kraanti abhee huee hai sangharsh hue khoon kharaaba hua hai aur aage jaakar bada hone kee sambhaavana hai to itana mahatvapoorn vyakti ka naam hai lekin jo mainne abhee bheja hai vah yahaan par kahaan hai agar yah savaal aapako sahee laga achchha laga ki krpaya ise laik karen dhanyavaad

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
ऐसा कौन सा बल है जो पुरुषों को अपनी ओर आकर्षित कर लेता है?Ladkiyo Me Aisa Kon Sa Bal Hai Jo Pursho Ko Apni Or Aakarshit Kar Leta Hai
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
7:00
लड़कियों में ऐसा कौन सा फल है जो पुरुषों को अपनी ओर आकर्षित कर लेता है कि सृष्टि का नियम है या कोई होता है इसके बारे में हमारे आसपास देख सकते हैं रिसीव द कॉल पॉजिटिव रिपोर्ट देने की प्रवृत्ति होती है पानी की फिटिंग तेरे इश्क में इंसान में जो इसलिए होते हैं कि उनके ऊपर नैसर्गिक रूप से एक जिम्मेदारी डाली गई भगवान को या नहीं लेकिन इंसान समझता है आज की स्थिति में उसके अनुसार तो एक देवी मानसिक सामाजिक और सभी तरह की एक प्रति औरत के कार्यक्रम ज्यादा करके इसमें ऐसा भी आएंगे ग्रुप ज्यादा से ज्यादा बलवान फिल्म बलवान लेकिन फिर भी गर्भधारण की करने की जिम्मेदारी से के श्री क्षेत्र के ऊपर डाल दी गई है तो उसमें भी कोई शक्ति है से गुजरती करने के लिए नर्सरी ग्रुप से तैयार रहती है ऐसा क्यों होता है कि मैं आज आने के बाद ऐसा ही ऐसा क्यों क्यों सब पर पैसा क्यों होता है कि दुनिया में मुझसे बिहार जीविका को कायम रखने के लिए अपने जैसे रानी को जन्मदिन की जिम्मेदारी है सुंदर पुरुष के बीच में ही बना हुआ है उसका शरीर फूड से होने वाली दत्ता एचडी जापानी सुंदरबन नहीं तो सब कोई कमी नहीं होती हर किसी के लिए कोई नंबर भेजा था कि भगवान ने जोड़ी बनाई है तो मैसेंजर पर पुरुष को आकर्षित कर लेते हैं उसी तरीके से सहयोग को भी आकर्षित कर लेता है लेते हैं तुम खुश होकर जो कुछ भी है और उनमें एक प्रक्रिया हो जाती है काम मिस कॉल आ जाता है शिक्षा निकेतन जाता है और इससे पूर्व चीज है बाकी जो नियम बने हैं वह इंसान ने समय-समय पर बनाए हुए हैं किसकी शादी किसके साथ करनी चाहिए या नहीं फिर के गोबर में खर्चा करना चाहिए या नहीं ऐसे बाकी सब चीजें मैन मेड है उसका संबंध होता और रिप्रोडक्शन होता और अवस्था में ऐसा होता अगर ऐसा नहीं होता तो अब हम यहां पर नहीं होते अगर मेरा जवाब आपको सही लगा तो कृपया इसे लाइक करें
Ladakiyon mein aisa kaun sa phal hai jo purushon ko apanee or aakarshit kar leta hai ki srshti ka niyam hai ya koee hota hai isake baare mein hamaare aasapaas dekh sakate hain riseev da kol pojitiv riport dene kee pravrtti hotee hai paanee kee phiting tere ishk mein insaan mein jo isalie hote hain ki unake oopar naisargik roop se ek jimmedaaree daalee gaee bhagavaan ko ya nahin lekin insaan samajhata hai aaj kee sthiti mein usake anusaar to ek devee maanasik saamaajik aur sabhee tarah kee ek prati aurat ke kaaryakram jyaada karake isamen aisa bhee aaenge grup jyaada se jyaada balavaan philm balavaan lekin phir bhee garbhadhaaran kee karane kee jimmedaaree se ke shree kshetr ke oopar daal dee gaee hai to usamen bhee koee shakti hai se gujaratee karane ke lie narsaree grup se taiyaar rahatee hai aisa kyon hota hai ki main aaj aane ke baad aisa hee aisa kyon kyon sab par paisa kyon hota hai ki duniya mein mujhase bihaar jeevika ko kaayam rakhane ke lie apane jaise raanee ko janmadin kee jimmedaaree hai sundar purush ke beech mein hee bana hua hai usaka shareer phood se hone vaalee datta echadee jaapaanee sundaraban nahin to sab koee kamee nahin hotee har kisee ke lie koee nambar bheja tha ki bhagavaan ne jodee banaee hai to maisenjar par purush ko aakarshit kar lete hain usee tareeke se sahayog ko bhee aakarshit kar leta hai lete hain tum khush hokar jo kuchh bhee hai aur unamen ek prakriya ho jaatee hai kaam mis kol aa jaata hai shiksha niketan jaata hai aur isase poorv cheej hai baakee jo niyam bane hain vah insaan ne samay-samay par banae hue hain kisakee shaadee kisake saath karanee chaahie ya nahin phir ke gobar mein kharcha karana chaahie ya nahin aise baakee sab cheejen main med hai usaka sambandh hota aur riprodakshan hota aur avastha mein aisa hota agar aisa nahin hota to ab ham yahaan par nahin hote agar mera javaab aapako sahee laga to krpaya ise laik karen

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
क्या हम लोगों का भविष्य दिन प्रतिदिन उज्जवल हो रहा है?Kya Ham Logon Ka Bhavishy Din Pratidin Ujjaval Ho Raha Hai
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
5:58
क्या हम लोगों का भविष्य भविष्य उज्जवल हो रहा है इसलिए जब भारत स्वतंत्र हुआ था तब भारतीय लोगों की एवरेज उमर सिर्फ 35 साल की थी अब 65 साल तक इसका कारण है और आधुनिकता लोगों तक पहुंचे चाहे उनमें है वैज्ञानिक दृष्टिकोण नहीं आता है आता है लेकिन विज्ञान के फायदे उन तक पहुंचते हैं और अब व्यापार और टेक्नोलॉजी बहुत महत्वपूर्ण साबित होने वाले हैं और व्यापार में संपत्ति की असमानता के कारण सभी लोगों का भविष्य ठीक नहीं है लेकिन कुछ लोगों का और जो कुछ लोगों को अपने अंदर ही एक प्रवृत्ति की इच्छा होती है उनके लिए बहुत सारे सैकड़ों द्वारा आधुनिकता ने खुले कर दिए हैं लोगों में डेमोक्रेसी के प्रति जागरूकता भी आने लगे बहुत सारे आंदोलन आंदोलन के बाद समाज में एकता वैचारिक जाग्रता बिहार जाती है तो पहले की तुलना में आज वह अगर पोर्टल कर्तव्य के प्रति जागरूकता है जो बहुत आज थोड़े से गलत विचार और क्या और दोनों के सरकारी है उनको लोग जल्दी ही बदल देंगे भ्रष्टाचार भरी-भरी यंत्र ना यह भी बदल देंगे और उसकी जरूरत ही पड़ेगी और उसमें भी टेक्नोलॉजी का महत्वपूर्ण रोल बाबा किस तरीके से देखा जाए तो लोगों का भविष्य अच्छा है फिर भी यह सार्वत्रिक हो और सर्वव्यापी हो जाती हो जैसे अच्छे समाज के लिए बाकी सारी चीजें भी जरूरत होती है जीवन जीने में जीने की बहुत सारे पहलू है उनको वेकेशन करके जैसे पर्यावरण का मामला है एक गलत पर्यावरण में इंसान ठीक तरह से नहीं रह सकता इसलिए ऐसी जागृति आ क्राइम है समा उसके संबंध में जागरूकता लानी बहुत जरूरी है कुछ बहुत जरूरी है उसके बाद एक अच्छा भविष्य निर्माण होता

#जीवन शैली

bolkar speaker
यदि जीवन एक बधुआ मजदूर की तरह लगने लगे तो क्या करें?Yadi Jivan Ek Badhua Majdur Ki Tarah Lagne Lage To Kya Kare
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
7:00
यदि झोली भर दो बंधुआ मजदूर की तरह लगने लगे तो क्या करें सबसे बड़ा अगर कोई पाप है और उन्हें हर है या अपमान है या नीचे कौन है तो वह पूरा गिरी और यदि किसी को जीवनदान बंधुआ मजदूर की पिक्चर आ जानी चाहिए गुलामी की जंजीरें और उसके लिए कुछ भी हो पर लगाने की जरूरत पड़ी प्रोजेक्ट दांव पर लगाना चाहिए इसके अलावा कोई रास्ता नहीं है पहले खुलना चाहिए कि ऐसा क्यों लगता है कि देश के क्या कारण है जीवन ऐसा बंधन पाकिस्तान रहा है इस चीज के कारण दर्द को कैसे ठीक से झांक लेना चाहिए एकांत में इंटर करना चाहिए क्योंकि यह गुलामगिरी की जो मंजूरे खुदा कभी पैसों के कारण कभी-कभी अपने करियर में उसको गुलामगिरी की तरह रहना पड़ता है उसको फैमिली में गुलाबी महसूस अनेक प्रकार की बंदूक करता है और वह कंफर्टेबल महसूस करता है कई बार कुछ विचार बीएसआर जकड़ कर लेते हैं कि जैसे उससे छुटकारा पाने को जी चाहता है उस गुरु बाबा हुआ है उस पार्टी संगठन या विचारधारा अब उसी में घुसा रहता है उसके दिमाग से उसका एक मारा होता है गुलामी पिक्चर कट जाता है दुबई से मुक्त होना चाहिए और इस खुले आकाश में उड़ने वाले पंछी जैसी हो एक स्वतंत्रता का अनुभव करते हैं उसी तरह मेडिटेशन करके अपने मन में जो भी भी कुछ धारणाओं को धार ना हो पकड़ा हुआ है धर्मों को छोड़ देना चाहिए मेडिटेशन इस में काम आता है और मेडिटेशन उसका एक तंत्र और उसके हिसाब से समझकर किया जाए तो मानसिक जंजीरों से बाहर आ जाते हैं और यह सामाजिक और आर्थिक होती है उसे भी बाहर आ जा सकता है उसको कुछ प्रयास करने पड़ते हैं जैसे कोई काम है उसमें से जकड़ लिया है तू छोड़ना भी नहीं थोड़ा भी नहीं जा सकता और उसको कर दे मैं हर वक्त गुलामी में तो ऐसे बसवापुर जो इसके कारण है उनको घूम कर को दूर कर देख कर ले चाहिए उसमें काम छोड़ देने का भी प्रयोग होता है वैसे भी के सापेक्ष कारण और सोनू संडे को कॉल करने की आवश्यकता है तब जाकर जीवन जोखिम कारक नहीं रहेंगे तो तंत्र का और शांति और आनंद भाई साहब सभी शिक्षकों के लिए कर कर रहे

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
भारत में आध्यात्मिकता का भविष्य क्या है?Bharat Mein Adhyatmikta Ka Bhavishy Kya Hai
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
7:00
भारत का भारत में आध्यात्मिकता का क्या भविष्य है एक बहुत अच्छा सवाल हल सहित पूर्व जो है उसने अंतर की यात्रा अंतर कम किया था उसका एक वशिष्ठ और पश्चिम का विशिष्ट हो रहा है कि भाई जगत की यात्रा तो उसने पश्चिम में शिखर पर किया उसी तरह से उन्होंने बुद्ध लाउड से कांटेक्ट कैसे लोग हैं जिन्होंने अंतर पर की यात्रा में एक हिमालय की तरह ऊंचाई हासिल की है आध्यात्मिक जीवन शैली का एक भाग साइंस और टेक्नोलॉजी की वजह से नई जनरेशन में आ जाती तो आज नैतिकता की तरफ भी है वह बिल्कुल दुकान था तो काफी कम हो गया है फिर भी यह एक गहरी जड़ें आध्यात्मिकता के निर्माण कई बार पश्चिम के लोग भी भारत में आते हैं सत्य की खोज करने के लिए अपने अंदर और भारत के विभिन्न विपश्यना केंद्र आध्यात्मिक गुरुओं के अनुभव सुकन्या में है वहां पर आते जाते दिखाई देते हैं दिव्या को एक खबर के बारे में सूजन का कारण बुद्ध ने जो मार्ग दिखाया है वह दुनिया में दूर-दूर तक वो उसका प्रभाव पड़ता है और एक आदमी की जरूरत नहीं है जब जरूरत नहीं होती है कभी उसके बाद इंसान खुश रहो खुश रहो आप चला जाता है भारत में सबसे ज्यादा सामाजिक विशेष धार्मिक रूप से आर्थिक रूप से सदस्य तनाव है कि भारत को भारत के लोगों को इसकी ज्यादा जरूरत पड़ती है पड़ती है लोग आध्यात्मिकता की ओर खींचे जाते हैं लेकिन फिर भी उनमें बदलाव नहीं दिखाई देता उसके कारण अलग है पुराने सजा हो सकती है लेकिन आध्यात्मिक क्षेत्र में भारत के लोग ज्यादा लोग अभी भी अब आगे वाले आने वाले दिनों में भी रहेंगे विज्ञान जो है वह कुछ बातें बताता है सच बताता है उसमें तब पिक्चर प्रत्याशियों और कारण जो है जिससे वह भी बताता है और व्यापक दर्शन भी करवाता है लेकिन मनुष्य के मन को एक आनंद और शांत शांत होता इसकी आवश्यकता होती है इसलिए बहुत अच्छा है

#जीवन शैली

Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
7:00
मौत कुआं कौन-कौन से हैं कारण है और तरीके है जिसके कारण सामान्य व्यक्ति के ही बहुत ज्यादा रिलेशनशिप्स होते हैं समझ लेना चाहिए कि सीसीएल भोजपुरी सेक्स ऐसा जरूरी नहीं है स्त्री के लिए कि केवल वह किसी उद्योगपति हो या कलेक्टर हो या डीएसपी हो डॉक्टर हो वकील हो उसी को ही अपना पर्सनल मालिक ऐसी बात नहीं होती कभी फोन विश्व पुरुष पुरुष का वीर्य नो विश्व होता है उस बनो विश्व विश्व में वह जीता है इस्लामी रियल में जब हम देखते हैं तो सोला सत्र साल की जवान लड़की है जो होती है वह आकर्षित होती है वहां की है लड़कों को जिसको हम अगर देखें तो हमको ऐसा लगता है कि उसका भविष्य क्या होगा आगे जाकर कैसे आएगा इस दुनिया में मैं इसके पास घर घर है इस्लाम में ऐसी हालत में रहता है ना यह पड़ा हुआ है अभी तक तो किसको मागम्मा कम हो जाती है और यह जींस पैंट वगैरह बना कर चुके पीछे पीछे लगा लगा हुआ रहता है कि दूसरे के साथ होते हैं लेकिन वहां पर कॉलेज की लड़कियां उस पर भी आकर्षित होती दिखाई देते तुझे बेटी लड़कियों को स्त्रियों को आकर्षित कर सकता है और इसका संबंध बहुत ज्यादा श्री हो जाता है तो ज्यादा रिलेशनशिप उसके बनते हैं सेक्यूलर पैसा नहीं पैसा ही नहीं चाहती और बहुत कुछ चाहती है और उसी के साथ पैसा भी मिल जाए तो अच्छा है ओके सर ऐसे ही समाज में है जिनके दिमाग को कंट्रोल करने के लिए उनके घर में या उनको किसी का भी देने के लिए उनके घर में कुछ लोग रहते नहीं या बहुत कम रहते हैं या शराबी बने बने हुए रहते हैं तुमको काम के लिए बाहर जाना पड़ता है और आप और सोसाइटी में भी किया असंतुष्ट होती है पर सबसे ज्यादा इसका इसका लाभ होता है तरीके से किसको होता है तो वह ड्राइवर लोगों को होता है जो बड़े-बड़े लोगों के गाड़ियों का ड्राइंग का काम करते हैं और वह रूटिंग भी डिलीट दिल्ली उनका रूटिंग भी इसी मार्ग से होता है तो वही सब कस्टमर छुट्टी के प्रवासी होते हैं तो वह बरस से उसका जो एक गाड़ी की गाड़ी में एक ऐसा होता है उससे वह पीछे देखता है और पीछे वाली जो बहन जो भी है उससे भी गुस्सा आपसे मैं आपसे भी देखती है और रिलेशनशिप बन जाते हैं कई लोगों के कई लोगों को लगता है कि हमारे यहां केवल का काम करता है पैसे वाला भी बन गए हैं और हर घर में उसका संबंध आता है तो बहुत ज्यादा उसके रिलेशन संबंध संख्या में हर महीने उसका मदद करता वह सस्ता है ड्राइवर लोग तो कई नंबर पर जाते हैं और उनके संबंध बन जाते हैं उनको जरूरी होता है वह उधर जाते हैं तो घर के घर की जरूरत होती है उनके बारे में भी है घट जाता है कुछ लोग भारत में आए हुए हैं तो भारत से दूल्हा उसको खुशी और इधर उधर उसको उधर क्या होते हैं

#मनोरंजन

bolkar speaker
बेहतरीन साइ फ़ाई फिल्में कौन-कौन सी है?Behtareen Sci Fi Filme Kaun Kaun Si Hai
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
7:00
साइंस फिक्शन फिल्में कौन-कौन सी तुषार साइंस फिक्शन फिल्में जो है वह हॉलीवुड में ज्यादा बनती है बॉलीवुड में कब बनती जैसा प्रेषित प्रेषित की मांग होती इस तरीके की फिल्में भारतीयों को कभी प्यार नहीं मिला जो जवानी में होता है उसके कारण 1950 से लेकर 2020 तक भारतीय फिल्मों का एक ही विषय रहा प्रेम और वह भी उसमें ट्रायंगल मिलना बिछड़ना दुख दर्द भरे गीत अनु फिल्में हिट रहीं राजेश खन्ना से सजे सलमान खान आमिर खान की फिल्में और वह सलमान खान और माधुरी दीक्षित की हम आपके कौन हैं इस फिल्म में आखिर मम्मी ने आखिर तक घूमने का प्रयास किया है बाकी बाद में मुझे पछतावा होगा कि मैंने 17 सो रुपए की टिकट लेकर बहुत बड़ी गलती की है और यह फिल्मों में देखने आया चैटिंग में उस वक्त मैं देखता रहा कि अभी कुछ हो जाएगा अभी कुछ हो जाएगा अभी कुछ हो जाएगा कुछ टर्निंग करना चाहेगा तो उसमें भी कोई दम नहीं है मामूली घटना है लेकिन केंद्र सारा प्रेम रहा है जैसे इस देश को प्रेम कभी मिला ही नहीं और यह शाश्वत सत्य घटना है उधर की फिल्में जो बड़ा बनती है वह उस देशों के लोगों ने जहां पर रहते होंगे और देखते होंगे तुमको हंसी के सिवाय कुछ नहीं आता होगा हॉलीवुड में ऐसे ही कम होता है और ऐसा तरसने का विषय भी नहीं होता है सदस्य और वह लोग तो हो जाते हैं आप फ्रेश हो जाते हैं उनका दमन नहीं होता और दमन बहुत खतरनाक होता है संस्कृति से भी बड़ा खतरनाक दमन होता है और संस्कृति के नाम पर दमन भारत के लोगों का सारे लोगों का बहुत हुआ मैंने साइंस फिक्शन स्टोरी में बहुत इंटरेस्ट बंद किया हुआ है कि मुझे सख्त समय कम मिलता है इसलिए उसी साइंस फिक्शन कोविड-19 मीटिंग में से एक बार सेक्स कॉमेडी फिल्म जंगल गोरखपुर के लोग होते हैं ऊंची पर 81 करती है और अमेरिकियों से किस देश में एक प्रैक्टिस गया है इसमें सारी गड़बड़ी हो जाती है और गलत विशेष विशेष का गलत अर्थ निकाला जाता है और युद्ध होगा नहीं मेरी हंसी और खुशी की फोटो के पीछे बहुत अच्छी फिल्म आशा टाउनशिप मिशन मार्स कोविड-19 इंडिया हाल ही में भारत में वन्य रोबोट फिल्म रितिक रोशन की फिल्म कोई मिल गया लेकिन हॉलीवुड बाबा मारी फिल्म हिंदी फिल्मों में शांति नहीं तब तक वह गरीबों को भी बढ़ बढ़ बढ़ बढ़ जाएगा और छोटे-छोटे बच्चों से लेकर बड़े लोगों का प्रभाव रहता है जैसी फिल्में समाज देखता है वैश्य समाज बनता है तो अगर हम प्रेमा और अनुसार एक्शन इतना ही विषय देखेंगे तो हम ऐसे ही रहेंगे होगा और अगर साइकिल में देखेंगे तो उसकी ओर बढ़े और उन्नति हो जाएगी चले जाते हैं

#जीवन शैली

bolkar speaker
लड़कियों को चरण स्पर्श करने से क्यों रोका जाता हैLadkiyo Ko Charan Sparsh Karne Se Kyun Roka Jata Ha
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
7:00
लड़कियों को चरण स्पर्श करने से क्यों रोका जाता है सीतापुर में परंपराएं चलती आ रहे हैं उसमें से एक है कि किसी के पैर छूना और वह भी केवल जन्म के आधार पर जैसे ब्राह्मण का और सुना या कुछ रिश्तेदार है जो नातेसंबंध से बड़े होते हैं उनके पैर छूना नहीं है क्योंकि गुलामगिरी का प्रतीक जी उनको जब वह गुलाम बनाए गए पुरुषों द्वारा तो उस पर कई पाबंदियां डाल दी गई यहां तक कि अगर पति मर जाता है तो पति पत्नी ने अपने देह का त्याग करना चाहिए क्योंकि वह पति की अर्धांगिनी होती है पति का आधार होती है तो आधा मर गया तो आदमी को जिंदा रहने का कोई अधिकार नहीं है उसको भी पूरा करके पूर्ण पूरी कम करना चाहिए ऐसी भयानक पर अच्छा है इससे बहुत सारा इतिहास बन गया है भारतीयों के संस्कारों का दर्द किसी की मर्जी है और किसी को रिस्पेक्ट लड़की देती है तभी उसको पृथ्वी के लिए कहां जाना चाहिए और लड़कियां कर सकती है इसे आदरणीय ऋषि कपूर की सब की ओर से पूरे वाले सकती है उसे उसके विचार से प्रभावित हो सकती है उसके लिए उसे प्रभावित हो सकती है लेकिन किसी के पैर में आचरण को स्पर्श करने के लिए बताना परंपरा के अनुसार ऐसी बातों को आप होना चाहिए पुराने जमाने में ऐसी बातें थी लेकिन क्या उसका सजा हो गया क्षेत्र में हम दुनिया में दुनिया की तुलना में आगे नहीं बढ़े नहीं नहीं हम गुलाम बनते हुए कहीं दूर से आए हुए ब्रिटिश होने हमें गुलाम लगाएं मुग़ल मुगलो ने ग्रुप बनाया मंगोलियन थी जिसका नाम दुनिया में प्रसिद्ध है वह चंगेज खान मंगल था उसका एवं मुगल नाम से आगे जाकर चलता रहा हूं उसी का एक और बाबर भारत में आया उसने दिल्ली पर कब्जा किया हो गूगल घर आने का 600 साल के लिए साल तक राज जरा गरीबी बढ़ती गई और गरीब के बीच में फासला जो है वह बढ़ता ही गया है सारी दुनिया के 50% लोग छोड़कर बाकी लोगों की जो रिजल्ट है इसकी बातों का अब ऐसे कई धार्मिक कर्मकांड सैकड़ों की संख्या में करते हैं लेकिन आप मिलने अपनी अदा रिबूट ऊपर नहीं उठते हैं फिर भी करवाई करते रहते हैं ऐसा इनको प्रविष्ट किया गया है धर्म संस्था के माध्यम से और कर्मकांड ऊपर लड़कियों को यात्रियों को जैसे इंसान ही नहीं मानते हो उसको मानते हैं या धन मानते हैं अपने घर का यह पर आएगा इंसान नहीं मानते हैं तो ऐसी स्थिति में चरण स्पर्श करने के लिए कहेंगे यह तो बहुत मामूली बात है इससे भी कोई कठिनाई चाहिए

#भारत की राजनीति

Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
7:00
कोई व्यक्ति अपनी नकारात्मक खबर को फैलने से रोकने के लिए जिसके सभी अखबार खरीद सकता खरीद सकता है अगर उसके पास भूषण साजन साजन जाए उसके पास यंत्रणा है रात को 2:00 बजे लघु पेपर तैयार हो जाता है और अगर वह न्यूज़ छपी गई तो पुलिस में रिपोर्ट तैयार होने के लिए कुछ समय लगता है उसी वक्त देश के सारे अखबार वालों को अगर किसी ने ज्यादा पैसे देकर खरीद ली है तो पैसे के लालच पेपर दीप सकता है लेकिन यह कोई क्यों निकल पड़ो सकती है cbs1 तरीका यह है कि जो चलता है पहले से प्रिंट मीडिया हाउसेस होते हैं उनको मंडी करते करते हैं कई लोग अगर हमेशा फंडिंग करता है तो उसकी उसके खिलाफ की न्यूज़ जो है जो पेपर के मालिक और संपादक होते हैं कोई नहीं छुपाए हुए चकना चकना कैंसिल कर सकते हैं करते हैं ऐसा सच में यह दूसरी तरफ से दूसरे शब्दों में उप आत्मीय न्यूज़ लिखते हैं ताकि नकारात्मक खबरों की छुट्टी देकर भी रिजर्वेशन नहीं हुई है उसमें कोई आईडिया तो लगा सब बिकने वाले के लोग गांव गांव के जो भी फोटो से फोटो बहुत सारी खबरें ना छुपाने के लिए कुछ लेते हैं छुपाने के लिए उनको पगार भी नहीं होता है उन्हें को एडवर्टाइज व्यापारियों से या राजनीतिक लोगों से जुड़ने के लिए उनके पीछे भागना पड़ता है और अगर न्यूज़ मिली भी तो उसका संपादक भी पुलिस स्टेशन से आवा के संबंधित लोग उनसे फोन पर बात करता है और ऊपर क्यों पड़े पैसा लेता है और बाद में बाद में जागने भेज दी भेज दी है छुपाता नहीं बाद में कहता है कल आएगी या परसों आएगी ऐसा मेरे साथ भी मेरी कोई न कोई नहीं जाती जाती थी जब मैं पत्रकारिता करता था और ऐसी बातें संपादक के द्वारा मुझे बताइए तो ऐसी स्थिति है मीडिया की लेकिन सोशल मीडिया में इस तरह की जरूरत है क्योंकि नकारात्मक खबरों सोशल मीडिया को प्लीज अगर उस में दम है तो पैसे सीजीएचएस की

#भारत की राजनीति

Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
7:00
पर्यावरण विकास और स्वच्छता के लिए हम क्या कर सकते हैं संक्षिप्त में बताएं पर्यावरण में हम और हमारे सराउंडिंग में योगी जी होती है बहुत ही खुशी जय हो देवी जी जय हो रासायनिक को सारी चीजें हमारे देश में आर्थिक पर्यावरण उसे निर्माण होता है उसका एक बार सोचता है कि पर्यावरण में कितनी मात्रा में जनसंख्या चरस रहेगी मात्रा में प्रदूषण नॉर्मल होगा कितनी बार में मात्रा में वहां पर कम से कम स्वच्छता और पानी का व्यवस्था पर पेड़ हो उसकी उनके साथ उनका भी एक बैलेंस ट्रांसफर जीवित रखना सृष्टि के रचयिता को सुरक्षित रखना और इसी के साथ इस वास्तविकता से संतुलन के ढक्कन मानव का जीवन जो है उसमें फल फूल जाए मैं कृष्ण हूं नष्ट हो जाएगा उधर से की स्थिति में इस बात का ख्याल रखना इस बात के लिए जी कार्यक्रम करना जैसे वक्षा रोपण का के कार्यक्रम में राष्ट्रीय गली मोहल्ले की सफाई ग्राउंड कटर कटर ऑडियो सुविधा हो सकती लिए लड़की चाहिए और जो बंदे ने भेजी है उसको रुक जा इसमें जो अनमोल विचार नहीं पनपते स्वच्छता से आपको बहुत ज्यादा फायदा पर्यावरण व्यापक उसमें जो एक दिवसीय जुनून की एक कड़ी है यह साइकिल है उस हिसाब से चलती है उसमें यह मानव ने हस्तक्षेप किया तो संतुलन बिगड़ जाता है इसलिए हमें तो जोड़ना नकली चोटी निकालना वीडियो के पात्रों से कटवा कर भेजना दुर्मिल वनस्पति और वह बेचना जैसे चंदन चंदन की चंदन के पेड़ से चंदन निकालकर बेस्ट है और अब पूरी मात्रा में उनको नगर अमीर जज्बातों की स्वच्छता के लिए सार्वजनिक शौचालय का उपयोग नहीं करना चाहिए कचरा साफ करने की व्यवस्था व्यवस्था से कम करना चाहिए एचडी चाहिए चीजें करनी पड़ेगी

#पढ़ाई लिखाई

Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
7:00
प्रकाश की किस घटना के कारण सूर्य में वास्तविक सूर्योदय से लगभग 2 मिनट बाद क्यों दिखाई देता है हम जो भी देखते हैं और समझते हैं वो प्रकाश की किरण पर लंबित है पहले किसी भी चीज से प्रकाश की किरण जो है हमारे आंखों में मिलते हैं और यहां पर एक प्रतिमा निर्माण करती है ना पर एक नरम होती है वह उसका संदेश ब्रेन तक पहुंचाती है ब्रेन उसका अर्थ लगाता है और उसके बाद हम कोई चीज समझते समझने के लिए समझने की भी ब्रेन की एक प्रक्रिया होती है एक मेकैनिज्म होता है यह बहुत कम प्लिकेटेड चीज है लेकिन थे साइंटिफिक सूर्य से निकली हुई प्रकाश की जो किरणों को पृथ्वी तक और बाद में हमारे यहां तक पहुंचने में पहुंचने में 8 मिनट का अंतर लगता है जो भी चीज हम देखते हैं या सूर्य की किरण हम देखते हैं तो 8 मिनट पहले क्यों वाली वह पीड़ा होती है और यह बीच का 8 मिनट का अंतर जो है उसमें सूर्या अगर गायब भी हो जाए तो भी तो भी हम सूर्य देख सकते हैं 11 मिनट पहले वह सूर्य की किरण वहां से निकली है निकली है जो निकली है वह वापस नहीं जा सकते और वह हमारी आंखों में जाकर उसकी जो प्रक्रिया रहे हो पूरी होने वाली है प्रत्यक्षण तो वह किरण 8 मिनट मिनट पहले वाली होती है और अभी जो इस पल में निकली निकली हुई चोरी की किरण होती है वह अभी तक पहुंचे कि नहीं पहुंचे और फिर हम देखेंगे प्रकाश के नियम पर्सन प्रकाश की गति को एक निश्चित होती है और इस ब्रह्मांड में सबसे ज्यादा गति प्रकाश की गति होती है उससे ज्यादा अभी तक मिली नहीं है लेकिन उसके प्रयास हमेशा जारी रहते हैं और अगर इसे ज्यादा बेटी का पदार्थ मिल जाए तो बहुत सारी विज्ञान में प्राइम टाइम ट्रेवल आदि शब्द घटित हो सकता है लेकिन रिलेटिविटी जो है वह हम केवल इस एक घटना से समझ सकते हैं कि हम जो समझ रहे हैं वह रिलेटिव है यह बीच का अंतर जो है उसके कारण आग में 8 मिनट बाद हम पहले क्या मुंशी जी देख रहे हैं तुझे आकाशगंगा उसे और अन्य तारों से जो प्रकाश निकली हुई होती है कई बार वो कुछ 16 साल पहले वाली कुछ लाख साल पहले वाली कुछ करोड़ साल पहले वाली होती है तो हम आपस में जो देखते हैं वह कितना पुराना आना तरंग है इसके बाद हम करो कि कल प्रणाम कर सकते हैं वह भी अभी हम देख रहे हैं वह अभी का तारागढ़ नहीं है वहां से निकली निकली नहीं निकली होगी और अभी हमारे सर आंखों पर पहुंचे इसके बीच का दुकान है उसके पहले की वह स्थिति है आकाश में और वह अब हम देख रहे हैं उनके बीच में बहुत ज्यादा बिगड़ चुका हुआ हो सकता है इसलिए बात करने हम तक पहुंचती है इसलिए मजदूरी के कारण थोड़ा देर में हम सूर्योदय देखते हैं देख सकते हैं और यह पूरा साइंटिफिक मामला है इसे ठीक ढंग से समझ लेना चाहिए और प्रकाश जो है उसे ऐड कर दिया उसका स्वरूप कितना महत्वपूर्ण है भ्रमण की रचना में समझने में यह समझ में आ जाएगा धन्यवाद
Prakaash kee kis ghatana ke kaaran soory mein vaastavik sooryoday se lagabhag 2 minat baad kyon dikhaee deta hai ham jo bhee dekhate hain aur samajhate hain vo prakaash kee kiran par lambit hai pahale kisee bhee cheej se prakaash kee kiran jo hai hamaare aankhon mein milate hain aur yahaan par ek pratima nirmaan karatee hai na par ek naram hotee hai vah usaka sandesh bren tak pahunchaatee hai bren usaka arth lagaata hai aur usake baad ham koee cheej samajhate samajhane ke lie samajhane kee bhee bren kee ek prakriya hotee hai ek mekainijm hota hai yah bahut kam pliketed cheej hai lekin the saintiphik soory se nikalee huee prakaash kee jo kiranon ko prthvee tak aur baad mein hamaare yahaan tak pahunchane mein pahunchane mein 8 minat ka antar lagata hai jo bhee cheej ham dekhate hain ya soory kee kiran ham dekhate hain to 8 minat pahale kyon vaalee vah peeda hotee hai aur yah beech ka 8 minat ka antar jo hai usamen soorya agar gaayab bhee ho jae to bhee to bhee ham soory dekh sakate hain 11 minat pahale vah soory kee kiran vahaan se nikalee hai nikalee hai jo nikalee hai vah vaapas nahin ja sakate aur vah hamaaree aankhon mein jaakar usakee jo prakriya rahe ho pooree hone vaalee hai pratyakshan to vah kiran 8 minat minat pahale vaalee hotee hai aur abhee jo is pal mein nikalee nikalee huee choree kee kiran hotee hai vah abhee tak pahunche ki nahin pahunche aur phir ham dekhenge prakaash ke niyam parsan prakaash kee gati ko ek nishchit hotee hai aur is brahmaand mein sabase jyaada gati prakaash kee gati hotee hai usase jyaada abhee tak milee nahin hai lekin usake prayaas hamesha jaaree rahate hain aur agar ise jyaada betee ka padaarth mil jae to bahut saaree vigyaan mein praim taim treval aadi shabd ghatit ho sakata hai lekin riletivitee jo hai vah ham keval is ek ghatana se samajh sakate hain ki ham jo samajh rahe hain vah riletiv hai yah beech ka antar jo hai usake kaaran aag mein 8 minat baad ham pahale kya munshee jee dekh rahe hain tujhe aakaashaganga use aur any taaron se jo prakaash nikalee huee hotee hai kaee baar vo kuchh 16 saal pahale vaalee kuchh laakh saal pahale vaalee kuchh karod saal pahale vaalee hotee hai to ham aapas mein jo dekhate hain vah kitana puraana aana tarang hai isake baad ham karo ki kal pranaam kar sakate hain vah bhee abhee ham dekh rahe hain vah abhee ka taaraagadh nahin hai vahaan se nikalee nikalee nahin nikalee hogee aur abhee hamaare sar aankhon par pahunche isake beech ka dukaan hai usake pahale kee vah sthiti hai aakaash mein aur vah ab ham dekh rahe hain unake beech mein bahut jyaada bigad chuka hua ho sakata hai isalie baat karane ham tak pahunchatee hai isalie majadooree ke kaaran thoda der mein ham sooryoday dekhate hain dekh sakate hain aur yah poora saintiphik maamala hai ise theek dhang se samajh lena chaahie aur prakaash jo hai use aid kar diya usaka svaroop kitana mahatvapoorn hai bhraman kee rachana mein samajhane mein yah samajh mein aa jaega dhanyavaad

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
क्या चीन को लगने लगा है कि भारत से पंगा लेना बहुत महंगा पड़ सकता है?Kya China Ko Lagne Laga Hai Ki Bharat Se Panga Lena Bahut Mehnga Pad Sakta Hai
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
7:00
सचिन को लगने लगा है कि भारत से पंगा लेना बहुत महंगा पड़ सकता है निश्चित रूप से कम की कहना जो है वह अमेरिका से कंपटीशन कर रहा है कभी याद भी करते न तुम चाहे कुछ सालों में अमेरिका के साथ-साथ कौन सी भाषा बनने की सत्यता है और अगर महासत्ता बन जाए तो यह तो भारत को शत्रु मानता है भारत के कई किलोमीटर वर्ग एक्सप्रेस जबलपुर पहुंचकर दवा और 59 1962 की लड़ाई में भारत बुरी तरह से चेंज कर लेना लेकिन उस वक्त भारत की भारत की सेना की रिपोर्ट कटिंग तुम्हें चलने के लिए उनके पास बुक भी नहीं थी इस इलाके में लड़ाई हो गई लेकिन 1961 के युद्ध में पाकिस्तान के साथ भारत सफलता सीट 1974 में भारत ने पहला एल्बम का टेस्ट किया तो भारतीय अनुसंधान राष्ट्र बन गया उसके बाद भी अभी जाकर अटल बिहारी सरकार ने एटॉमिक बम के टेस्ट है और वह सफल रहे और आज की स्थिति है कि भारत एक बड़ा राष्ट्र या पर की दृष्टि में भी हो शशश की दृष्टि में भी बड़ा राष्ट्र बन गया है लेकिन चीन की चीन की तुलना में इतना बड़ा नहीं लेकिन चाइना का पड़ोसी और अमेरिका किसी भी हालत में कुछ चैनलों में चाइना को कमजोर करना चाहता है भारत और चीन का युद्ध हुआ तो अमेरिका अपनी पूरी ताकत भारत के साथ लगाएगा चाइना की पश्चिमी सीमा की स्थिति होगी अमेरिका से नफरत कहीं से भी हमला कर उधर पूर्व में जापान और चीन के संबंध बिगड़ चुके हैं जापान देश में शामिल हो सकता है चीन के कुछ अंदरूनी मामले सिटी मेट्रो उड़ते बंदे से कुछ 20th वाली या गीत गुप्ता निर्माण करने वाली अखंडता को मामले बाकी राष्ट्रीय स्वयं कोरियर के अलावा उनके कोई ज्यादा मित्र राष्ट्र नहीं और इरान और ऐसी स्थिति में ग्राफिक युद्ध हुआ तो सारा विनाश हो जाएगा पूरी दुनिया इसमें खतरे में आ सकती है तो ऐसा कोई नहीं चाहता है लेकिन भारत से पंगा लेने पर भारत की भाषा में जो 17 अपना परिचय दिया है उसको देखते भरूच इनको इनके अंदर घुस कर लड़ाई कर सकता है भारत का हवाई अड्डा मजबूत करो घर की नींव मजबूत है और अमेरिका इजरायल देश देश का भारत का मैच कब है अभी सब चीजें मालूम होने के कारण से पंगा लेना नहीं चाहता है अगर आप कोई जवाब सही लगा तो कृपया इसे लाइक करें जाना
Sachin ko lagane laga hai ki bhaarat se panga lena bahut mahanga pad sakata hai nishchit roop se kam kee kahana jo hai vah amerika se kampateeshan kar raha hai kabhee yaad bhee karate na tum chaahe kuchh saalon mein amerika ke saath-saath kaun see bhaasha banane kee satyata hai aur agar mahaasatta ban jae to yah to bhaarat ko shatru maanata hai bhaarat ke kaee kilomeetar varg eksapres jabalapur pahunchakar dava aur 59 1962 kee ladaee mein bhaarat buree tarah se chenj kar lena lekin us vakt bhaarat kee bhaarat kee sena kee riport kating tumhen chalane ke lie unake paas buk bhee nahin thee is ilaake mein ladaee ho gaee lekin 1961 ke yuddh mein paakistaan ke saath bhaarat saphalata seet 1974 mein bhaarat ne pahala elbam ka test kiya to bhaarateey anusandhaan raashtr ban gaya usake baad bhee abhee jaakar atal bihaaree sarakaar ne etomik bam ke test hai aur vah saphal rahe aur aaj kee sthiti hai ki bhaarat ek bada raashtr ya par kee drshti mein bhee ho shashash kee drshti mein bhee bada raashtr ban gaya hai lekin cheen kee cheen kee tulana mein itana bada nahin lekin chaina ka padosee aur amerika kisee bhee haalat mein kuchh chainalon mein chaina ko kamajor karana chaahata hai bhaarat aur cheen ka yuddh hua to amerika apanee pooree taakat bhaarat ke saath lagaega chaina kee pashchimee seema kee sthiti hogee amerika se napharat kaheen se bhee hamala kar udhar poorv mein jaapaan aur cheen ke sambandh bigad chuke hain jaapaan desh mein shaamil ho sakata hai cheen ke kuchh andaroonee maamale sitee metro udate bande se kuchh 20th vaalee ya geet gupta nirmaan karane vaalee akhandata ko maamale baakee raashtreey svayan koriyar ke alaava unake koee jyaada mitr raashtr nahin aur iraan aur aisee sthiti mein graaphik yuddh hua to saara vinaash ho jaega pooree duniya isamen khatare mein aa sakatee hai to aisa koee nahin chaahata hai lekin bhaarat se panga lene par bhaarat kee bhaasha mein jo 17 apana parichay diya hai usako dekhate bharooch inako inake andar ghus kar ladaee kar sakata hai bhaarat ka havaee adda majaboot karo ghar kee neenv majaboot hai aur amerika ijaraayal desh desh ka bhaarat ka maich kab hai abhee sab cheejen maaloom hone ke kaaran se panga lena nahin chaahata hai agar aap koee javaab sahee laga to krpaya ise laik karen jaana

#जीवन शैली

Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
4:15
अक्सर सीधे-साधे शोभा वाले लोग अपनी बुराई सुनने के बाद ही अपने तनाव में क्यों आते हैं इसका मानव शरीर के अच्छे व्यक्तियों में भी एक अहंकार होता है मैं अच्छा हूं मैं समाजसेवक मैंने क्या किया है मैं सच बोलता मैं सत्य के लिए लड़ता इस तरह के उनके भक्तों के होते हैं और उन्हें अपने साधन से और सोच से चरित्र के लिए गर्व है गर्व हो जाता है थोड़े किसी भी जरूर गर्विष्ठ व्यक्ति को किसी ने अगर कुछ बुरा कहा तो उसको उठे छोटी बड़ी ठेस पहुंची है उसको नहीं पहुंची है उससे ज्यादा ऐसे व्यक्तियों को कम कर दो को चोट पहुंचती इसके आगे गए हुए व्यक्ति होते हैं लेकिन यह बात सामान्य जो श्री शादी व्यक्ति है इनके बारे में उसके आगे भी जो बुद्ध पुरुष जाते हैं तो उन पर किसी ने धोखा भी तो उनको कुछ नहीं तनाव आ जाता उगने वाले ठोकने वाले को आता है बहुत ज्यादा बाद में और कुछ आता है और ऐसे व्यक्ति से देखिए यह मिस्टेक होती है लेकिन यह सीधे साधे जिनमें यह जो घमंड निर्माण होता है की बात ज्यादा करके होती क्योंकि उनकी सोच भी बहुत बड़ी नहीं होती और 14 चीजें स्वभाव वाला और एक स्टेट फॉरवार्ड जीना जीवन की सार्थकता है ऐसा ही लोग मानते हैं लेकिन ऐसा नहीं होता है इतनी मामूली चीज से परिपूर्ण जीवन की व्याख्या व्याख्या निबंध पढ़ते-पढ़ते सुनने वाले स्वभाव के लोग लोग जो है वह किसी भी तरह नहीं करते और बताते हैं कि मैं सीधा साधा ही पसंद घबराते हैं किसी विश्वास करने से और अगर इसमें किसी ने कहा है ऐसा तो उनकी नस पर जैसे हाथ रखा है ऐसे ऐसे वाली बात होती है और यह तनाव में आ जाते हैं धन्यवाद
Aksar seedhe-saadhe shobha vaale log apanee buraee sunane ke baad hee apane tanaav mein kyon aate hain isaka maanav shareer ke achchhe vyaktiyon mein bhee ek ahankaar hota hai main achchha hoon main samaajasevak mainne kya kiya hai main sach bolata main saty ke lie ladata is tarah ke unake bhakton ke hote hain aur unhen apane saadhan se aur soch se charitr ke lie garv hai garv ho jaata hai thode kisee bhee jaroor garvishth vyakti ko kisee ne agar kuchh bura kaha to usako uthe chhotee badee thes pahunchee hai usako nahin pahunchee hai usase jyaada aise vyaktiyon ko kam kar do ko chot pahunchatee isake aage gae hue vyakti hote hain lekin yah baat saamaany jo shree shaadee vyakti hai inake baare mein usake aage bhee jo buddh purush jaate hain to un par kisee ne dhokha bhee to unako kuchh nahin tanaav aa jaata ugane vaale thokane vaale ko aata hai bahut jyaada baad mein aur kuchh aata hai aur aise vyakti se dekhie yah mistek hotee hai lekin yah seedhe saadhe jinamen yah jo ghamand nirmaan hota hai kee baat jyaada karake hotee kyonki unakee soch bhee bahut badee nahin hotee aur 14 cheejen svabhaav vaala aur ek stet phoravaard jeena jeevan kee saarthakata hai aisa hee log maanate hain lekin aisa nahin hota hai itanee maamoolee cheej se paripoorn jeevan kee vyaakhya vyaakhya nibandh padhate-padhate sunane vaale svabhaav ke log log jo hai vah kisee bhee tarah nahin karate aur bataate hain ki main seedha saadha hee pasand ghabaraate hain kisee vishvaas karane se aur agar isamen kisee ne kaha hai aisa to unakee nas par jaise haath rakha hai aise aise vaalee baat hotee hai aur yah tanaav mein aa jaate hain dhanyavaad

#जीवन शैली

bolkar speaker
आजकल प्रत्येक व्यक्ति इतनी जल्दी में क्यों है?Aajkal Pratyek Vyakti Itni Jaldi Mein Kyun Hai
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
7:00
हट आजकल प्रत्येक व्यक्ति इतनी जल्दी में क्यों है इसका मुख्य कारण एक प्रकार की सुरक्षित है असुरक्षित होने गहरा हुआ है उसको करियर की चिंता है उसको फैमिली लाइफ में चिंता है पर्दा में उनको स्पर्धा के कारण चिंता है कामायनी की चिंता है इस तरीके से हो गया है पहले के जमाने से इस संदर्भ में अगर देखा जाए तो पहले का आदमी से ज्यादा होता था चाहे वांटेड हो लेकिन उसका उसका मस्तिष्क और यह मन है ज्यादा करके चला करता था कि किसी प्रकार की भयानक कंपटीशन उसके सामना नहीं करना पड़ा उस वक्त जनसंख्या भी कम अब जनसंख्या 140 को लोगो चारों में शिफ्ट होते हैं काम के लिए शहर के आकर्षण के कारण और वहां पर भीड़ जी करता हो जाती भीड़ में अपने आप को अपना अस्तित्व बनाना बनाकर और ठिकाना रहे कितना दूर पड़ता है इसके अलावा कुछ गलत धारणा है जो मनुष्य में हैं और समाज में फैलाई गई है उसने महत्वपूर्ण एक चीज है वह सफलता और असफलता ज्यादा कर के आर्थिक उन्नति के बाद में माना जाता है कि पैसा कमाए यह सफल हो गया किसी भी तरह से कमाए वह सफल है ऐसा लोग समझते ज्यादा करके सफलता की व्याख्या बदल गई तो हर एक व्यक्ति सफल होना होने का प्रयास कर रहा है उसके कारण में वो जल्दी में रहता है हर वक्त पर उसे जल्दी भी जाना पड़ता है हकीकत पर पहले पहले की सब बातें नहीं तो गाड़ी चल सकती है इसलिए बात नहीं प्राप्त होगा ऐसी एक ऐसा भी उसके मन में होता है और छोटी-छोटी जो बाकी चीजें होती है उनमें वह जल्दबाजी करता है इसलिए संभव कंपलेक्स के कारण उसमें कम टैक्स जमा हो जाता है और उसको अच्छा मार्गदर्शन प्रदर्शन करने वाले आदर्श व्यक्ति कोई रहे नहीं मिला जो चीजें पहुंचा था क्या पहुंचाता है उससे उसके घर बन जाते हैं जैसे बड़े-बड़े आप पुलिस अफसरों को सुरक्षा पर अक्सर कंगना राणावत सुधरे हुए इधर-उधर कर रहे थे और वो सिर्फ कुछ टिप्पणियां ऑस्ट्रेलिया सेलिब्रिटी होने के बाद कारण कुछ की जा रही थी और वह आराम से चल रही थी जैसे एक रानी चटर्जी पहले बड़े अफसर अफसर उसके जैसे नौकर है और यह टीवी पर दिखाया गया क्या ऐसी चीजें दिखाई जाती है तो मन में ऐसा हो रहा है कि कौन से महत्वपूर्ण है और कौन सी चीजें महत्वपूर्ण है और ऐसे बनने के लिए परदादा की कंपटीशन रजिस्ट्री आजकल प्रत्येक व्यक्ति को सपने में देखते हुए वह जल्दबाजी में चलता है धन्यवाद
Hat aajakal pratyek vyakti itanee jaldee mein kyon hai isaka mukhy kaaran ek prakaar kee surakshit hai asurakshit hone gahara hua hai usako kariyar kee chinta hai usako phaimilee laiph mein chinta hai parda mein unako spardha ke kaaran chinta hai kaamaayanee kee chinta hai is tareeke se ho gaya hai pahale ke jamaane se is sandarbh mein agar dekha jae to pahale ka aadamee se jyaada hota tha chaahe vaanted ho lekin usaka usaka mastishk aur yah man hai jyaada karake chala karata tha ki kisee prakaar kee bhayaanak kampateeshan usake saamana nahin karana pada us vakt janasankhya bhee kam ab janasankhya 140 ko logo chaaron mein shipht hote hain kaam ke lie shahar ke aakarshan ke kaaran aur vahaan par bheed jee karata ho jaatee bheed mein apane aap ko apana astitv banaana banaakar aur thikaana rahe kitana door padata hai isake alaava kuchh galat dhaarana hai jo manushy mein hain aur samaaj mein phailaee gaee hai usane mahatvapoorn ek cheej hai vah saphalata aur asaphalata jyaada kar ke aarthik unnati ke baad mein maana jaata hai ki paisa kamae yah saphal ho gaya kisee bhee tarah se kamae vah saphal hai aisa log samajhate jyaada karake saphalata kee vyaakhya badal gaee to har ek vyakti saphal hona hone ka prayaas kar raha hai usake kaaran mein vo jaldee mein rahata hai har vakt par use jaldee bhee jaana padata hai hakeekat par pahale pahale kee sab baaten nahin to gaadee chal sakatee hai isalie baat nahin praapt hoga aisee ek aisa bhee usake man mein hota hai aur chhotee-chhotee jo baakee cheejen hotee hai unamen vah jaldabaajee karata hai isalie sambhav kampaleks ke kaaran usamen kam taiks jama ho jaata hai aur usako achchha maargadarshan pradarshan karane vaale aadarsh vyakti koee rahe nahin mila jo cheejen pahuncha tha kya pahunchaata hai usase usake ghar ban jaate hain jaise bade-bade aap pulis aphasaron ko suraksha par aksar kangana raanaavat sudhare hue idhar-udhar kar rahe the aur vo sirph kuchh tippaniyaan ostreliya selibritee hone ke baad kaaran kuchh kee ja rahee thee aur vah aaraam se chal rahee thee jaise ek raanee chatarjee pahale bade aphasar aphasar usake jaise naukar hai aur yah teevee par dikhaaya gaya kya aisee cheejen dikhaee jaatee hai to man mein aisa ho raha hai ki kaun se mahatvapoorn hai aur kaun see cheejen mahatvapoorn hai aur aise banane ke lie paradaada kee kampateeshan rajistree aajakal pratyek vyakti ko sapane mein dekhate hue vah jaldabaajee mein chalata hai dhanyavaad

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
एक स्त्री किस हद तक शक्तिशाली हो सकती है?Ek Stree Kis Had Tak Shaktishali Ho Sakti Hai
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
4:43
एक स्त्री किस हद तक शक्तिशाली हो सकती है एक पुरुष जितने हद तक शक्तिशाली हो सकता है उसने हद तक एक स्त्री भी शक्तिशाली हो सकती ब्रिटेन की महारानी जब ब्रिटिश होगा पूरे दुनिया पर राजस्थान की महारानी दुनिया की सबसे ताकतवर चीज रहती थी शक्तिशाली चीजें कौन कौन सी है जो सीआईसीयू ने अभी तक नहीं कि हम देखें तो मिलिट्री में यह काम कर रहे हैं अवकाश यात्राओं में रिसर्च में संख्या में कम है लेकिन उसको संधि जो है वह भी बहुत बाद में मिल रही देर में मिल रहे थे पहले जमाने में जा जाकर पर शक्तिशाली पदों को नहीं हो रही थी भारत में श्री पंतप्रधान रहे भारत के सबसे शक्तिशाली श्री रहे भारत के ग्रंथों में कई वीरो की जुर्म के नाम अपनी माता के नाम से पहचाने जाते कुंती पुत्र अर्जुन राधे राधे शुभरात्रि सिया शक्तिशाली की प्रमुख झीलें को तह समिति प्रधान संस्कृति पहले भारत ने भी चीज के शुभ संदेश को किताबें लिखी गई वेदों में विष के प्रमाण मिलते हैं मिले सभी ग्रुप से विजय श्री पुरुष को हरा सकती है अगर दोनों में फाइटर गाड़ी और पूरा अधिकार दिया गया पूरा को स्वतंत्रता दी गई तो वह जो है वह पुरुष को हरा सकते इस तरीके से मैं सोचता हूं किसी भी शक्तिशाली हो सकती है जो साल तक जातक पुरुष शक्तिशाली है धन्यवाद
Ek stree kis had tak shaktishaalee ho sakatee hai ek purush jitane had tak shaktishaalee ho sakata hai usane had tak ek stree bhee shaktishaalee ho sakatee briten kee mahaaraanee jab british hoga poore duniya par raajasthaan kee mahaaraanee duniya kee sabase taakatavar cheej rahatee thee shaktishaalee cheejen kaun kaun see hai jo seeaeeseeyoo ne abhee tak nahin ki ham dekhen to militree mein yah kaam kar rahe hain avakaash yaatraon mein risarch mein sankhya mein kam hai lekin usako sandhi jo hai vah bhee bahut baad mein mil rahee der mein mil rahe the pahale jamaane mein ja jaakar par shaktishaalee padon ko nahin ho rahee thee bhaarat mein shree pantapradhaan rahe bhaarat ke sabase shaktishaalee shree rahe bhaarat ke granthon mein kaee veero kee jurm ke naam apanee maata ke naam se pahachaane jaate kuntee putr arjun raadhe raadhe shubharaatri siya shaktishaalee kee pramukh jheelen ko tah samiti pradhaan sanskrti pahale bhaarat ne bhee cheej ke shubh sandesh ko kitaaben likhee gaee vedon mein vish ke pramaan milate hain mile sabhee grup se vijay shree purush ko hara sakatee hai agar donon mein phaitar gaadee aur poora adhikaar diya gaya poora ko svatantrata dee gaee to vah jo hai vah purush ko hara sakate is tareeke se main sochata hoon kisee bhee shaktishaalee ho sakatee hai jo saal tak jaatak purush shaktishaalee hai dhanyavaad

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
किसी के चरित्र पर शंका करना आजकल आम बात क्यों होने लगी है?Kisi Ke Charitra Par Shanka Karna Aajkal Aam Baat Kyo Hone Lagi Hai
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
7:00
किसी के चरित्र पर शंका करना आजकल आम बात क्यों होने लगी एक बढ़िया इंस्ट्रूमेंट मिला है लोगों को दूसरों को नीचा दिखाने के लिए और दूसरों को बदनाम करने के लिए मुस्लिम को पीछे करने के लिए या फिर अगर ऐसा बात बात सच्ची है उसको एक्सपोर्ट करने के लिए किसका उपयोग इसलिए हो रहा है कि माध्यम बड़े हैं कोई भी चीज जो है वह सोशल मीडिया के माध्यम से ज्यादा करके दूर-दूर तक फैला की जा सकती है एक साधन हाथ में लगा है तो इसका भरपूर उपयोग करना मनुष्य की मनुष्य का स्वभाव को पहले ही था पहले भी था लेकिन इतना बड़ा माध्यम लोग के पास नहीं था लेकिन लोकल लेवल पर वही बातें करते थे गांव-गांव में बड़ी बस्ती में यह प्रवृत्ति हमेशा रहे दूसरे एक महत्वपूर्ण बैठक में भारतीय लोगों को अभी तक पर्सनल और सोशल स्टडी अभी तक ध्यान में नहीं आई आई कॉमन सेंस की बात से बटेश्वर भारतीय लोगों को अभी तक बड़े बड़ी संख्या में मालूम नहीं होगी जो होती है वह शिष्य भारतीय लोगों को नहीं है कि कहां तक हमने किसी के पर्सनल लाइफ में दिखना चाहिए या विक्की के कुछ अपने प्राइवेसी के अधिकार होते हैं यह बात लोगों को पता नहीं तो कोई चीज है जो होती है वह किसी की पर्सनल चीज होती है उसमें उस पर टिप्पणी करना कोई आवश्यक तत्व शिव बात नहीं ठीक है वैसे पर्सनल कीजिए हर व्यक्ति की होती है हमारी भी होती है उनका ऑपरेशन करने वालों वाले की भी भर्ती कॉमन सेंस की बात है कि कौन सी चीज है सामने वाले व्यक्ति को पूछा या नहीं पूछें इसका कोई ख्याल ही नहीं करते और बार-बार एक ही प्रश्न पूछते हैं मुझे एक व्यक्ति ने 20 बार पूछा कि तुम्हारा पगार कितना है तुम्हारा पगार मेरे गांव मैंने कहा कुछ भी नहीं है आपके बगैर में से मुझे कुछ महीना दे दीजिए मैं बहुत गरीब आदमी हूं बाद में वह हंसने लगा और उसने कहा कि ठीक है ठीक है दे दो उसके घर में आ गया कि यह गलत सवाल पूछे ज्यादा ज्यादा कोई बार बार पूछेगा कि अपने तुम्हारे भाई अब क्या करते हैं ऐसे 100 बार भी पूछेंगे पूछा होगा कि भाई क्या करता है वह भाई क्या करता है बहन के प्रति कम से कम 50 बार पूछा है ऐसा भी मुझे तो ऐसे मूर्ख इसलिए पैदा हुए हैं इनमें शिक्षा बहुत प्रमाण कमी कम है और वह भी दसवीं तक शिक्षा लेते हैं और उनको आज की डेट के पास करते या पास करते हैं और बाद में यह आधी अधूरी शिक्षा मूर्खता निर्माण करती हो तो पूरी होगी तो बिल्कुल ना हो यह बताया जा सकता है कि नहीं शिक्षा में लोधी समाज की इच्छा नहीं है बिल्कुल अनपढ़ है जमीन का विकास नहीं हो पाए विकास केवल पैसा कितना बड़ा है इतनी से नहीं हुआ यह बात उनको मालूम है धन्यवाद
Kisee ke charitr par shanka karana aajakal aam baat kyon hone lagee ek badhiya instrooment mila hai logon ko doosaron ko neecha dikhaane ke lie aur doosaron ko badanaam karane ke lie muslim ko peechhe karane ke lie ya phir agar aisa baat baat sachchee hai usako eksaport karane ke lie kisaka upayog isalie ho raha hai ki maadhyam bade hain koee bhee cheej jo hai vah soshal meediya ke maadhyam se jyaada karake door-door tak phaila kee ja sakatee hai ek saadhan haath mein laga hai to isaka bharapoor upayog karana manushy kee manushy ka svabhaav ko pahale hee tha pahale bhee tha lekin itana bada maadhyam log ke paas nahin tha lekin lokal leval par vahee baaten karate the gaanv-gaanv mein badee bastee mein yah pravrtti hamesha rahe doosare ek mahatvapoorn baithak mein bhaarateey logon ko abhee tak parsanal aur soshal stadee abhee tak dhyaan mein nahin aaee aaee koman sens kee baat se bateshvar bhaarateey logon ko abhee tak bade badee sankhya mein maaloom nahin hogee jo hotee hai vah shishy bhaarateey logon ko nahin hai ki kahaan tak hamane kisee ke parsanal laiph mein dikhana chaahie ya vikkee ke kuchh apane praivesee ke adhikaar hote hain yah baat logon ko pata nahin to koee cheej hai jo hotee hai vah kisee kee parsanal cheej hotee hai usamen us par tippanee karana koee aavashyak tatv shiv baat nahin theek hai vaise parsanal keejie har vyakti kee hotee hai hamaaree bhee hotee hai unaka opareshan karane vaalon vaale kee bhee bhartee koman sens kee baat hai ki kaun see cheej hai saamane vaale vyakti ko poochha ya nahin poochhen isaka koee khyaal hee nahin karate aur baar-baar ek hee prashn poochhate hain mujhe ek vyakti ne 20 baar poochha ki tumhaara pagaar kitana hai tumhaara pagaar mere gaanv mainne kaha kuchh bhee nahin hai aapake bagair mein se mujhe kuchh maheena de deejie main bahut gareeb aadamee hoon baad mein vah hansane laga aur usane kaha ki theek hai theek hai de do usake ghar mein aa gaya ki yah galat savaal poochhe jyaada jyaada koee baar baar poochhega ki apane tumhaare bhaee ab kya karate hain aise 100 baar bhee poochhenge poochha hoga ki bhaee kya karata hai vah bhaee kya karata hai bahan ke prati kam se kam 50 baar poochha hai aisa bhee mujhe to aise moorkh isalie paida hue hain inamen shiksha bahut pramaan kamee kam hai aur vah bhee dasaveen tak shiksha lete hain aur unako aaj kee det ke paas karate ya paas karate hain aur baad mein yah aadhee adhooree shiksha moorkhata nirmaan karatee ho to pooree hogee to bilkul na ho yah bataaya ja sakata hai ki nahin shiksha mein lodhee samaaj kee ichchha nahin hai bilkul anapadh hai jameen ka vikaas nahin ho pae vikaas keval paisa kitana bada hai itanee se nahin hua yah baat unako maaloom hai dhanyavaad

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
क्या आजकल के भी लोग एक दूसरे को चिट्ठी लिखते हैं?Kya Aajkal Ke Bhe Log Ek Dusre Ko Chitthi Likhte Hain
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
4:00
क्या आजकल के लोग भी एक दूसरे को दूसरे को चिट्ठी लिखते हैं लेकिन इसका प्रमाण है वह बहुत कम हुआ है क्योंकि मोबाइल फोन मेल मैसेजेस शादी कम्युनिकेशन के बहुत सारे माध्यम भी कुछ व्यवसायिक मैंने देखे ऐसी चीजों पर विश्वास नहीं करते और अपने पुराने ढंग से कागज पर लिखकर अपने नौकर के द्वारा यह पोस्ट से भिजवा ते हैं और उनको ही आदत है और उनको यह चीजें भी चलाना नहीं आता है जैसे ईमेल पर भेज सकते हैं लेकिन उसको भी वह तो विश्वास नहीं रखते हैं और उनको लगता है कि कुछ चीजें हैं जो हम दिल दोनों के बीच में ही रहनी चाहिए और वह कागज पर लिख कर देते हैं कई बार वक्ता बहुत ज्यादा समय बोलने शुरू हुई रखता है और आयोजक भी होते हैं इनको समझ में आता है कि यह वक्ता बहुत ज्यादा समय ले रहा है और बाकी व्यवस्था बोलने वाले हैं या कार्यक्रम होता है उसका टाइमिंग है उसके अनुसार इस को ज्यादा नहीं बोलना चाहिए तो छोटी चिट्ठी लिखकर वह चिट्ठी न कोई कार्य करता उस वक्त आपको देता है और वह पढ़कर वक्त बताता है कि ठीक है ठीक है अभी सिर्फ मैं एक आधुनिक बोलने वाला पैसा देकर अपना वक्तव्य बंद करके कई चीजों में अभी ग्रामीण इलाकों में लिखते हैं या तो कभी असुविधा ही नहीं पहुंची है वहां का वहां कागज पर लिख दे पोस्ट ऑफिस गांव गांव की में आता है चिट्ठी आती है उसका कमेंट आते हैं दूसरी वस्तुएं भी आते पार्सल यादें मैंने भी कुछ ऑनलाइन ही मंगाई हुई वस्तुएं पोस्ट में जब तक है वह पोस्ट से मेरे पास आया यह भी माध्यम अभी जिंदा है इतना तो हम कह सकते हैं लेकिन ज्यादा देर कल देर तक यह वाला मामला जो है और रहेगा नहीं क्योंकि परिवर्तन परिवर्तन का नियम है परिवर्तन तो होता है परिवर्तन हो जाएगा धन्यवाद
Kya aajakal ke log bhee ek doosare ko doosare ko chitthee likhate hain lekin isaka pramaan hai vah bahut kam hua hai kyonki mobail phon mel maisejes shaadee kamyunikeshan ke bahut saare maadhyam bhee kuchh vyavasaayik mainne dekhe aisee cheejon par vishvaas nahin karate aur apane puraane dhang se kaagaj par likhakar apane naukar ke dvaara yah post se bhijava te hain aur unako hee aadat hai aur unako yah cheejen bhee chalaana nahin aata hai jaise eemel par bhej sakate hain lekin usako bhee vah to vishvaas nahin rakhate hain aur unako lagata hai ki kuchh cheejen hain jo ham dil donon ke beech mein hee rahanee chaahie aur vah kaagaj par likh kar dete hain kaee baar vakta bahut jyaada samay bolane shuroo huee rakhata hai aur aayojak bhee hote hain inako samajh mein aata hai ki yah vakta bahut jyaada samay le raha hai aur baakee vyavastha bolane vaale hain ya kaaryakram hota hai usaka taiming hai usake anusaar is ko jyaada nahin bolana chaahie to chhotee chitthee likhakar vah chitthee na koee kaary karata us vakt aapako deta hai aur vah padhakar vakt bataata hai ki theek hai theek hai abhee sirph main ek aadhunik bolane vaala paisa dekar apana vaktavy band karake kaee cheejon mein abhee graameen ilaakon mein likhate hain ya to kabhee asuvidha hee nahin pahunchee hai vahaan ka vahaan kaagaj par likh de post ophis gaanv gaanv kee mein aata hai chitthee aatee hai usaka kament aate hain doosaree vastuen bhee aate paarsal yaaden mainne bhee kuchh onalain hee mangaee huee vastuen post mein jab tak hai vah post se mere paas aaya yah bhee maadhyam abhee jinda hai itana to ham kah sakate hain lekin jyaada der kal der tak yah vaala maamala jo hai aur rahega nahin kyonki parivartan parivartan ka niyam hai parivartan to hota hai parivartan ho jaega dhanyavaad
URL copied to clipboard