#जीवन शैली

bolkar speaker
हजारी प्रसाद का जीवन परिचय?Hajaaree Prasaad Ka Jeevan Parichay
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
2:39
कल तो आपका प्रश्न है हजारी प्रसाद का जीवन परिचय क्या दोस्तों आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी जी का जन्म 20 अगस्त सन 1960 ईस्वी बलिया जिला दुबे का झोपड़ा नामक ग्राम में हुआ था उनके पिता जी का नाम श्री अनमोल दुबे एवं माता का नाम श्रीमती ज्योति कली देवी था इनकी शिक्षक प्रारंभ संस्कृत इंटर की परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद इन्होंने काशी हिंदू विश्वविद्यालय जो आज हम बनारस हिंदू विश्वविद्यालय के नाम से जानते हैं जो 30 तथा साहित्य में आचार्य की उपाधि प्राप्त की सन 1940 ईस्वी में हिंदी एवं संस्कृत के अध्यापक के रूप में शांति निकेतन चले गए यही इन्हें विश्वकवि रवींद्रनाथ टैगोर का सानिध्य मिला और साहित्य सृजन की ओर अभिमुख हो गई सन 1956 ईस्वी में काशी हिंदू विश्वविद्यालय के हिंदी विभाग में अध्यक्ष नियुक्त हुए कुछ समय तक पंजाब विश्वविद्यालय चंडीगढ़ में हिंदी विभागाध्यक्ष के रूप में भी कार्य किया सन् 1949 ईस्वी में लखनऊ विश्वविद्यालय ने इन हिंदी लिटरेचर तथा सन 1957 ईस्वी में भारत सरकार ने इसे पद्म विभूषण की उपाधि से विभूषित किया 19 मई 1979 को उनका देहावसान हो गया था वह तो उनका साहित्य जो पिक्चर है वह इस प्रकार से हैं द्विवेदी जी ने बाल्यकाल से ही श्री एवं के शास्त्री से कविता लिखने की कला सीखनी आरंभ कर दी थी शांतिनिकेतन पहुंचकर उनकी प्रतिभा और और अधिक बिखरने लगी कवींद्र रवींद्र का देने पर विशेष प्रभाव पड़ा बांग्ला साहित्य से भी यह बहुत प्रभावित थे यह उच्च कोटि के शोधकर्ता निबंधकार उपन्यासकार एवं आलोचक के सिद्ध साहित्य साहित्य एवं अमृत साहित्य को प्रकाश मिलाकर तथा भक्ति साहित्य का उच्चस्तरीय समीक्षा धमक ग्रंथों की रचना करके उन्होंने हिंदी साहित्य की महान सेवा की वैसे तो द्विवेदी जी ने अनेक विषयों पर उत्कृष्ट कोटि के निबंधन एवं नवीन शैली पर आधारित उपन्यासों की रचना की विशेष रूप से व्यक्ति के उन भावात्मक निबंधों की रचना करने में यह अद्वितीय रहे दिवेदी जी उत्तर प्रदेश ग्रंथ अकादमी के अध्यक्ष और हिंदी संस्थान के उपाध्यक्ष भी रहे कबीरपुर उत्कृष्ट आलोचनात्मक कार्य करने के कारण ने मंगला प्रसाद मंगला प्रसाद पारितोषिक प्राप्त हुआ इनके साथ ही सुर साहित्य पर इंदौर साहित्य समिति ने स्वर्ण पदक भी प्रदान किया था धन्यवाद
Kal to aapaka prashn hai hajaaree prasaad ka jeevan parichay kya doston aachaary hajaaree prasaad dvivedee jee ka janm 20 agast san 1960 eesvee baliya jila dube ka jhopada naamak graam mein hua tha unake pita jee ka naam shree anamol dube evan maata ka naam shreematee jyoti kalee devee tha inakee shikshak praarambh sanskrt intar kee pareeksha utteern karane ke baad inhonne kaashee hindoo vishvavidyaalay jo aaj ham banaaras hindoo vishvavidyaalay ke naam se jaanate hain jo 30 tatha saahity mein aachaary kee upaadhi praapt kee san 1940 eesvee mein hindee evan sanskrt ke adhyaapak ke roop mein shaanti niketan chale gae yahee inhen vishvakavi raveendranaath taigor ka saanidhy mila aur saahity srjan kee or abhimukh ho gaee san 1956 eesvee mein kaashee hindoo vishvavidyaalay ke hindee vibhaag mein adhyaksh niyukt hue kuchh samay tak panjaab vishvavidyaalay chandeegadh mein hindee vibhaagaadhyaksh ke roop mein bhee kaary kiya san 1949 eesvee mein lakhanoo vishvavidyaalay ne in hindee litarechar tatha san 1957 eesvee mein bhaarat sarakaar ne ise padm vibhooshan kee upaadhi se vibhooshit kiya 19 maee 1979 ko unaka dehaavasaan ho gaya tha vah to unaka saahity jo pikchar hai vah is prakaar se hain dvivedee jee ne baalyakaal se hee shree evan ke shaastree se kavita likhane kee kala seekhanee aarambh kar dee thee shaantiniketan pahunchakar unakee pratibha aur aur adhik bikharane lagee kaveendr raveendr ka dene par vishesh prabhaav pada baangla saahity se bhee yah bahut prabhaavit the yah uchch koti ke shodhakarta nibandhakaar upanyaasakaar evan aalochak ke siddh saahity saahity evan amrt saahity ko prakaash milaakar tatha bhakti saahity ka uchchastareey sameeksha dhamak granthon kee rachana karake unhonne hindee saahity kee mahaan seva kee vaise to dvivedee jee ne anek vishayon par utkrsht koti ke nibandhan evan naveen shailee par aadhaarit upanyaason kee rachana kee vishesh roop se vyakti ke un bhaavaatmak nibandhon kee rachana karane mein yah adviteey rahe divedee jee uttar pradesh granth akaadamee ke adhyaksh aur hindee sansthaan ke upaadhyaksh bhee rahe kabeerapur utkrsht aalochanaatmak kaary karane ke kaaran ne mangala prasaad mangala prasaad paaritoshik praapt hua inake saath hee sur saahity par indaur saahity samiti ne svarn padak bhee pradaan kiya tha dhanyavaad

#जीवन शैली

bolkar speaker
मस्तिष्क पर चंदन क्यू लगाते है?Mastishk Par Chandan Kyoo Lagaate Hai
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
2:15
आपका पर्सनल मैसेज पर चंदन क्यों लगाते हैं ज्यादातर हिंदू धार्मिक संस्कारों में अपने मस्तिष्क पर ही तिलक लगाया जाता है कोई भी अवसर पर पूजा पाठ भी बना दी आयोजनों में तेल लगाने का स्वाद है तो माथे पर ही लगाते हैं इसका क्या कारण है दोस्तों दिल हमेशा मस्तिष्क के केंद्र पर लगाया जाता है दिल को मत इसको के केंद्र पर लगाने के पीछे कारण यह है कि हमारे शरीर में साथ छोटे ऊर्जा केंद्र होते हैं तिलक को मस्तिष्क के बीच में इसलिए लगाया जाता है क्योंकि हमारे मस्तिष्क के बीच या आज्ञा चक्र होता है जिसे गुरु चतुर भी कहते हैं यह दिल है मानव शरीर का केंद्र स्थान है इसे एकाग्रता और ज्ञान से प्रीत यह एकाग्रता और ज्ञान से परिपूर्ण है दोस्तों ग्रुप चक्र को बृहस्पति ग्रह का केंद्र माना जाता है व्यक्ति सभी देवों का गुरु होता है इसीलिए श्री गुरु चरण कहा जाता है दोस्तों हमेशा अनामिका उंगली से तिलक लगाया जाता है अनामिका उंगली गुड़िया की प्रतीक होती है अनामिका उंगली से तिलक लगाने से तेजस्वी और प्रतिष्ठा मिलती है साथ ही जब भी मान सम्मान के लिए अंगूर यानी अंगूठे से तिलक लगाया जाता है उसे तिलक लगाने से ज्ञान और आभूषण की प्राप्ति होती है विजय प्राप्ति के लिए तर्जनी उंगली से तिलक लगाया जाता है दोस्तों दिल किसी भी रंग का हो सभी में ऊर्जा होता है होती है लेकिन सफेद रंग यानी चंदन के तेल को शीतल ताई लाल रंग के तिलक को ऊर्जावान और पीले रंग के तिलक को प्रसन्न रहने के लिए भी लगाया जाता है वही शिवभक्त भभूति एनी काले रंग का तिलक ही लगाते हैं जो मोह माया से दूर रहने का सूचक होता है तो इसका से दोस्तों में स्टेज पर चंदन लगाने का जो मैंने कारण बताया है वह कहता था यहां पर शुरू तक होता है और यहां पर यह ज्ञान चक्र भी ज्ञान का केंद्र होता है तो इसलिए पूरे तरीका इंद्रजाल भी है और क्या करता और ज्ञान से परिपूर्ण होता है तो दोस्तों इस प्रकार से यहां पर माथे के बीच में केंद्र पर चंदन का तिलक लगाया जाता है
Aapaka parsanal maisej par chandan kyon lagaate hain jyaadaatar hindoo dhaarmik sanskaaron mein apane mastishk par hee tilak lagaaya jaata hai koee bhee avasar par pooja paath bhee bana dee aayojanon mein tel lagaane ka svaad hai to maathe par hee lagaate hain isaka kya kaaran hai doston dil hamesha mastishk ke kendr par lagaaya jaata hai dil ko mat isako ke kendr par lagaane ke peechhe kaaran yah hai ki hamaare shareer mein saath chhote oorja kendr hote hain tilak ko mastishk ke beech mein isalie lagaaya jaata hai kyonki hamaare mastishk ke beech ya aagya chakr hota hai jise guru chatur bhee kahate hain yah dil hai maanav shareer ka kendr sthaan hai ise ekaagrata aur gyaan se preet yah ekaagrata aur gyaan se paripoorn hai doston grup chakr ko brhaspati grah ka kendr maana jaata hai vyakti sabhee devon ka guru hota hai iseelie shree guru charan kaha jaata hai doston hamesha anaamika ungalee se tilak lagaaya jaata hai anaamika ungalee gudiya kee prateek hotee hai anaamika ungalee se tilak lagaane se tejasvee aur pratishtha milatee hai saath hee jab bhee maan sammaan ke lie angoor yaanee angoothe se tilak lagaaya jaata hai use tilak lagaane se gyaan aur aabhooshan kee praapti hotee hai vijay praapti ke lie tarjanee ungalee se tilak lagaaya jaata hai doston dil kisee bhee rang ka ho sabhee mein oorja hota hai hotee hai lekin saphed rang yaanee chandan ke tel ko sheetal taee laal rang ke tilak ko oorjaavaan aur peele rang ke tilak ko prasann rahane ke lie bhee lagaaya jaata hai vahee shivabhakt bhabhooti enee kaale rang ka tilak hee lagaate hain jo moh maaya se door rahane ka soochak hota hai to isaka se doston mein stej par chandan lagaane ka jo mainne kaaran bataaya hai vah kahata tha yahaan par shuroo tak hota hai aur yahaan par yah gyaan chakr bhee gyaan ka kendr hota hai to isalie poore tareeka indrajaal bhee hai aur kya karata aur gyaan se paripoorn hota hai to doston is prakaar se yahaan par maathe ke beech mein kendr par chandan ka tilak lagaaya jaata hai

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
मुझे सबसे ज्यादा आलस आता है मैं क्या करूं कोई उपाय बताइए?Muje Sabse Jyada Aalas Aata Hai Main Kya Karu Koi Upay Bataye
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
4:01
नमस्कार दोस्तों आपका प्रश्न है मुझे में सबसे ज्यादा आलस आता है मैं क्या करूं कोई उपाय बताएं दोस्तों आलसी होना बहुत से लोगों की आदत होती है और अलसी कई बार ऐसे दिन या वातावरण भी ऐसे हो जाता है कि हालत हमारा पीछा नहीं छोड़ती छोड़ता है आलस्य तो 2 साल से से पीछा छुड़ाने के लिए आपको एक काम तो अपनी तरफ से जरूर करना होगा या अपने ऊपर नियंत्रण करना होगा कि कोई भी काम है यदि तो उसको झट से करने के लिए एक नियम बनाना होगा कि वह झट से काम कर लो आप जैसे कि सुबह उठना हो समय पर उठना यह भी नहीं कि बहुत ही समय पहले उठ जाओ नहीं थोड़ा सा यदि आप समय पर उठ जाते हैं थोड़ा सा समय रुक जाते हैं तो दिन भर के काम हो सकता है कि सुबह आप 1 घंटे एक डेढ़ घंटे के बीच में कर लो बाद में आपको बहुत ही अच्छा महसूस हो धीरे-धीरे यह आदत आपकी सुधर जाए तो यह आदत आपको ऐसा तो होगा नहीं कि पूरे दिन में आप सब काम एक समय पर करने लो धीरे-धीरे 10 दिन 15 दिन एक महीना 1 महीने के अंतर्गत आप इस आदत को छोड़ सकते हो आप सुबह से शुरुआत कीजिए सुबह समय पर उठ करके कोई एकाध काम आप समय पर करती थी तब आपको उसके समय पर करने का जो महत्व है वह आपको पता चलेगा कि समय पर मैंने जो काम कर लिया था समय पर मैंने नंबर लिया था समय पर मैंने जो भी कार्य घर का कर लिया था तो उसे मुझे कितनी प्रसन्नता हुई थी दोस्तों आप इस से शुरू कर सकते हैं कि घर में या तो दो-चार गमले लगा करके या एक आत्मा ही बना करके और छोटी क्यारियों में दो-चार अच्छी फोटो लगाइए फिल्म को समय पर जल्दी से उठ कर के और उन्हें कीजिए उन्हें देखिए उनके अंदर दृश्यता देखिए तू तो आदत पड़ जाएगी आपको उनको देखने की और उनको देखने के लिए आप उसको रहा नहीं जाएगा तो एक तो सुबह जल्दी उठा जाएगा और उनको देखने के बाद मन प्रसन्न हो जाएगा इसके बाद जो भी आप कार्य करेंगे हालत श्वेता पूरे दिन भर में नहीं रहेगी दोस्तो ऐसा कई बार देखा गया है और दोस्तों आपको मन को नियंत्रित तो करना ही होगा कोई भी काम करें तो वह अलग श्वेता से दूर होकर के करें और एक छठ में ही लोग का काम करने योग्य होता है उसके लिए आपको एक काम सोचना है कि बस जो भी कोई काम मेरे करनी हो गया होगा वह मैं झट से हां कर दूंगा या फिर झूठ से करने के लिए एकदम से उठ खड़ा होऊंगा और उसे करने के लिए तत्पर हो जाऊंगा ऐसी जो आदत होती है एकदम से खड़ा होकर और काम को बस शुरू कर देने की तो यह आदत आपकी सोच सकती है हम दोस्तों काफी बार सोचते हैं इधर-उधर पलंग पर लेटे लेटे उन दिल्ली मारते हैं और आखिर में चलते हैं अंगड़ाई लेते हैं उसके बाद में धीरे-धीरे खड़े होते हैं तो यह हालत से तो दोस्तों हमारे स्वास्थ्य के लिए भी अच्छी नहीं है इनको इन पर सब पर पानी फेरते हुए सिर्फ आपको एक ही काम करना है कोई भी काम हो अपने लिए आप करके चले रहे हो खुद के लिए तो खुद के लिए करने में फिर मेरी कैसी हालत से तो नहीं रखनी है आजकल बच्चों के पास जाते हैं तो उसमें भी अलशिता को दूर करने के लिए बहुत सारे पाठ समझाइए जाते हैं आप ऐसी कहानियों को पढ़ सकते हैं जिससे अलग श्वेता से उनको कोई हानि हुई हो आप म्यूजिक सुन सकते हैं जिस वक्त आपको अलग से आए उसमें आपको एक अच्छा सा प्रेरणास्पद कोई अच्छा सा म्यूजिक सुन लीजिए आप तरोताजा महसूस करेंगे अच्छा कोई सुविचार सुन लीजिए आपके पास एंड्रॉयड फोन होगा तो उनमें से ऐप्स डाउनलोड कर लीजिए सुविचार ओके सुविचार पड़ेंगे नहीं या अपनी उर्जा का संचार होता है कार्यालय से तो दूर भागती हुई दिखेगी धन्यवाद
Namaskaar doston aapaka prashn hai mujhe mein sabase jyaada aalas aata hai main kya karoon koee upaay bataen doston aalasee hona bahut se logon kee aadat hotee hai aur alasee kaee baar aise din ya vaataavaran bhee aise ho jaata hai ki haalat hamaara peechha nahin chhodatee chhodata hai aalasy to 2 saal se se peechha chhudaane ke lie aapako ek kaam to apanee taraph se jaroor karana hoga ya apane oopar niyantran karana hoga ki koee bhee kaam hai yadi to usako jhat se karane ke lie ek niyam banaana hoga ki vah jhat se kaam kar lo aap jaise ki subah uthana ho samay par uthana yah bhee nahin ki bahut hee samay pahale uth jao nahin thoda sa yadi aap samay par uth jaate hain thoda sa samay ruk jaate hain to din bhar ke kaam ho sakata hai ki subah aap 1 ghante ek dedh ghante ke beech mein kar lo baad mein aapako bahut hee achchha mahasoos ho dheere-dheere yah aadat aapakee sudhar jae to yah aadat aapako aisa to hoga nahin ki poore din mein aap sab kaam ek samay par karane lo dheere-dheere 10 din 15 din ek maheena 1 maheene ke antargat aap is aadat ko chhod sakate ho aap subah se shuruaat keejie subah samay par uth karake koee ekaadh kaam aap samay par karatee thee tab aapako usake samay par karane ka jo mahatv hai vah aapako pata chalega ki samay par mainne jo kaam kar liya tha samay par mainne nambar liya tha samay par mainne jo bhee kaary ghar ka kar liya tha to use mujhe kitanee prasannata huee thee doston aap is se shuroo kar sakate hain ki ghar mein ya to do-chaar gamale laga karake ya ek aatma hee bana karake aur chhotee kyaariyon mein do-chaar achchhee photo lagaie philm ko samay par jaldee se uth kar ke aur unhen keejie unhen dekhie unake andar drshyata dekhie too to aadat pad jaegee aapako unako dekhane kee aur unako dekhane ke lie aap usako raha nahin jaega to ek to subah jaldee utha jaega aur unako dekhane ke baad man prasann ho jaega isake baad jo bhee aap kaary karenge haalat shveta poore din bhar mein nahin rahegee dosto aisa kaee baar dekha gaya hai aur doston aapako man ko niyantrit to karana hee hoga koee bhee kaam karen to vah alag shveta se door hokar ke karen aur ek chhath mein hee log ka kaam karane yogy hota hai usake lie aapako ek kaam sochana hai ki bas jo bhee koee kaam mere karanee ho gaya hoga vah main jhat se haan kar doonga ya phir jhooth se karane ke lie ekadam se uth khada hooonga aur use karane ke lie tatpar ho jaoonga aisee jo aadat hotee hai ekadam se khada hokar aur kaam ko bas shuroo kar dene kee to yah aadat aapakee soch sakatee hai ham doston kaaphee baar sochate hain idhar-udhar palang par lete lete un dillee maarate hain aur aakhir mein chalate hain angadaee lete hain usake baad mein dheere-dheere khade hote hain to yah haalat se to doston hamaare svaasthy ke lie bhee achchhee nahin hai inako in par sab par paanee pherate hue sirph aapako ek hee kaam karana hai koee bhee kaam ho apane lie aap karake chale rahe ho khud ke lie to khud ke lie karane mein phir meree kaisee haalat se to nahin rakhanee hai aajakal bachchon ke paas jaate hain to usamen bhee alashita ko door karane ke lie bahut saare paath samajhaie jaate hain aap aisee kahaaniyon ko padh sakate hain jisase alag shveta se unako koee haani huee ho aap myoojik sun sakate hain jis vakt aapako alag se aae usamen aapako ek achchha sa preranaaspad koee achchha sa myoojik sun leejie aap tarotaaja mahasoos karenge achchha koee suvichaar sun leejie aapake paas endroyad phon hoga to unamen se aips daunalod kar leejie suvichaar oke suvichaar padenge nahin ya apanee urja ka sanchaar hota hai kaaryaalay se to door bhaagatee huee dikhegee dhanyavaad

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
चेहरे पर दूध की मलाई लगाने से क्या होता है?Chehre Par Dudh Ki Malai Lgane Se Kya Hota Hai
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
2:32
दोस्तों आपका पर्सनल चेहरे पर दूध की मलाई लगाने से क्या होता है दोस्तों दूध की जो मलाई होती है वह चेहरे के लिए बहुत ही अच्छी होती है और अपने मेरे को व्हाट्सएप करती है इसका इसका जो इस्तेमाल है वह कई तरीकों से किया जाता है इसमें पेट की काफी मात्रा होती है और इसलिए बहुत से लोग इसका उपयोग नहीं करते हैं कुछ लोग इसका इस्तेमाल खाने में भी कर ले लेकिन बच्चा के लिए भी बचा के निकलने के लिए भी दूध की मलाई काफी फायदेमंद होती है उसको मलाई में मौजूद सेट तो बचा कर ही देता है तो यह जानते हैं बच्चों को खूबसूरत बनाने के लिए बनाई का इस्तेमाल कैसे किया जाता है दोस्तों जब त्वचा रूखी हो तो मलाई का उपयोग किया जा सकता है तो छप्पर मलाई लगाने से त्वचा को मिलता है इसे सर्दियों में त्वचा का रूखापन से निजात मिलती है और दोस्तो ट्रेनिंग खत्म करने के लिए भी काफी पचासी टैनिंग हटाने के लिए मलाई और बेसन को आपस में मिलाकर पेस्ट बना लें इस पेस्ट को त्वचा पर 10 मिनट तक लगाकर रखें और फिर ससुराल मौसम में मजाक मसाज करते हुए त्वचा को साफ करें जिससे त्वचा पर जमा मृत कोशिका एवं रिटर्निंग बिल्कुल साफ हो जाती है तो इसके अलावा निखार लाने के लिए चेहरे पर भी इसका प्रयोग किया जाता है मलाई की तरह तरह से अपनी फेसबुक पर त्वचा को सुंदर बनाने के साथ-साथ त्वचा को नुकसान निखार देने के लिए भी काफी फायदेमंद होते हैं उस तो मलाई में फैशन मिलाकर त्वचा पर 20:25 मिनट तक लगाकर नीचे तो सफर सुंदरता का निखार आता है इसके अलावा मलाई में हल्दी मिलाकर लगाने से भी त्वचा पर निखार आता है दोस्तों मृत कोशिका से छुटकारा पाने के लिए मलाई एक प्राकृतिक एक्सफोलिएटर की तरह काम करती है साथ ही त्वचा को पोषण भी देती है दोस्तों मलाई में वोट में मिलाकर मदनपुर ने पैर आदि ऐसी दुकान पर लगाई जा मृत कोशिकाएं अधिक एकत्रित होती है 10 मिनट तक मसाज करने के बाद त्वचा को हल्के गर्म पानी से साफ कर लें इससे त्वचा की मृत कोशिकाएं साफ हो जाती है और त्वचा खूबसूरती बनती है तो इस प्रकार से दोस्तों को चेहरे पर दूध की मलाई लगाने से और अन्य त्वचा पर भी लगाने से बहुत ही अच्छा दिखा रहा था ना चाहे पर अपनी बॉडी पर तो आशा करते हैं यह जानकारी आपको अच्छी लगी होगी धन्यवाद
Doston aapaka parsanal chehare par doodh kee malaee lagaane se kya hota hai doston doodh kee jo malaee hotee hai vah chehare ke lie bahut hee achchhee hotee hai aur apane mere ko vhaatsep karatee hai isaka isaka jo istemaal hai vah kaee tareekon se kiya jaata hai isamen pet kee kaaphee maatra hotee hai aur isalie bahut se log isaka upayog nahin karate hain kuchh log isaka istemaal khaane mein bhee kar le lekin bachcha ke lie bhee bacha ke nikalane ke lie bhee doodh kee malaee kaaphee phaayademand hotee hai usako malaee mein maujood set to bacha kar hee deta hai to yah jaanate hain bachchon ko khoobasoorat banaane ke lie banaee ka istemaal kaise kiya jaata hai doston jab tvacha rookhee ho to malaee ka upayog kiya ja sakata hai to chhappar malaee lagaane se tvacha ko milata hai ise sardiyon mein tvacha ka rookhaapan se nijaat milatee hai aur dosto trening khatm karane ke lie bhee kaaphee pachaasee taining hataane ke lie malaee aur besan ko aapas mein milaakar pest bana len is pest ko tvacha par 10 minat tak lagaakar rakhen aur phir sasuraal mausam mein majaak masaaj karate hue tvacha ko saaph karen jisase tvacha par jama mrt koshika evan ritarning bilkul saaph ho jaatee hai to isake alaava nikhaar laane ke lie chehare par bhee isaka prayog kiya jaata hai malaee kee tarah tarah se apanee phesabuk par tvacha ko sundar banaane ke saath-saath tvacha ko nukasaan nikhaar dene ke lie bhee kaaphee phaayademand hote hain us to malaee mein phaishan milaakar tvacha par 20:25 minat tak lagaakar neeche to saphar sundarata ka nikhaar aata hai isake alaava malaee mein haldee milaakar lagaane se bhee tvacha par nikhaar aata hai doston mrt koshika se chhutakaara paane ke lie malaee ek praakrtik eksapholietar kee tarah kaam karatee hai saath hee tvacha ko poshan bhee detee hai doston malaee mein vot mein milaakar madanapur ne pair aadi aisee dukaan par lagaee ja mrt koshikaen adhik ekatrit hotee hai 10 minat tak masaaj karane ke baad tvacha ko halke garm paanee se saaph kar len isase tvacha kee mrt koshikaen saaph ho jaatee hai aur tvacha khoobasooratee banatee hai to is prakaar se doston ko chehare par doodh kee malaee lagaane se aur any tvacha par bhee lagaane se bahut hee achchha dikha raha tha na chaahe par apanee bodee par to aasha karate hain yah jaanakaaree aapako achchhee lagee hogee dhanyavaad

#कुछ अलग

bolkar speaker
8आदमी किसी काम को 15 दिन मे करते है तो 20 आदमी उसी काम को कितने दिन मे करेंगे8aadamee kisee kaam ko 15 din me karate hai to 20 aadamee usee kaam ko kitane din me kareng
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
1:49
कल तो आपका प्रश्न गर्भनिरोधक क्या है इसके विभिन्न विधियों कौन सी है दोस्तों गर्भनिरोधक है यानी कि बच्चों के जन्म को नियंत्रित करना या नियमित करना दोस्तों बच्चे के जन्म को नियमित या नियंत्रित करना आवश्यक में जनसंख्या वृद्धि को रोकने के लिए और छोटा परिवार अपनाने के लिए जो गर्भनिरोधक तरीके अपनाते हैं लोग तो गर्भनिरोधक नहीं है तो इसकी विभिन्न विधियां है जैसे कि नीतू रासायनिक विधि है अनेक प्रकार के रासायनिक पदार्थ माता निषेचन को रोक सकते हैं जिनके द्वारा गर्भ निरोधक गोलियां प्रयुक्त की जाती है याद की गोली चली विभिन्न प्रकार की कड़ी में आदि के कार्य करते हैं उसको शल्यक्रिया में पुरुषों में नसबंदी तथा स्त्रियों में भी नसबंदी के द्वारा निषेचन रोका जा सकता है पुरुषों की शल्य चिकित्सा में शुक्रवार को को काटकर बांध दिया जाता है जिससे वृषण में बनने वाले शुक्राणु बाहर नहीं आ पाते स्त्रियों में अंडे वाहिनी को काटकर बांध देते हैं जिसे अंडाशय में बनी हिंदी भाषा में नहीं आ पाते हैं और तो उसको एक भौतिक विधि भी है विभिन्न भौतिक विधियों से शुक्राणुओं को स्त्री के गर्भाशय में जाने से रोक दिया जाता है लैंगिक संबंध में विरोध आदि विधियों का प्रयोग इसी के अंतर्गत आता है गर्भधारण को रोकने के लिए लोग या copper-t मगर भाषा में स्थापित किया जाता है जिसकी वजह से घर को रोका जा सकता है यह है गर्भनिरोधक और भी नियम धन्यवाद
Kal to aapaka prashn garbhanirodhak kya hai isake vibhinn vidhiyon kaun see hai doston garbhanirodhak hai yaanee ki bachchon ke janm ko niyantrit karana ya niyamit karana doston bachche ke janm ko niyamit ya niyantrit karana aavashyak mein janasankhya vrddhi ko rokane ke lie aur chhota parivaar apanaane ke lie jo garbhanirodhak tareeke apanaate hain log to garbhanirodhak nahin hai to isakee vibhinn vidhiyaan hai jaise ki neetoo raasaayanik vidhi hai anek prakaar ke raasaayanik padaarth maata nishechan ko rok sakate hain jinake dvaara garbh nirodhak goliyaan prayukt kee jaatee hai yaad kee golee chalee vibhinn prakaar kee kadee mein aadi ke kaary karate hain usako shalyakriya mein purushon mein nasabandee tatha striyon mein bhee nasabandee ke dvaara nishechan roka ja sakata hai purushon kee shaly chikitsa mein shukravaar ko ko kaatakar baandh diya jaata hai jisase vrshan mein banane vaale shukraanu baahar nahin aa paate striyon mein ande vaahinee ko kaatakar baandh dete hain jise andaashay mein banee hindee bhaasha mein nahin aa paate hain aur to usako ek bhautik vidhi bhee hai vibhinn bhautik vidhiyon se shukraanuon ko stree ke garbhaashay mein jaane se rok diya jaata hai laingik sambandh mein virodh aadi vidhiyon ka prayog isee ke antargat aata hai garbhadhaaran ko rokane ke lie log ya choppair-t magar bhaasha mein sthaapit kiya jaata hai jisakee vajah se ghar ko roka ja sakata hai yah hai garbhanirodhak aur bhee niyam dhanyavaad

#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker
अंग्रेजी के कठिन शब्दों को याद करने का सबसे अच्छा तरीका क्या है?Angreji Ke Kathin Shabdon Ko Yaad Karne Ka Sabse Acha Tareeka Kya Hai
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
3:36
दोस्तों आपका प्रश्न है अंग्रेजी के कठिन शब्दों को याद करने का सबसे अच्छा तरीका क्या है दोस्तों अंग्रेजी के कठिन शब्दों को याद करने का सबसे अच्छा तरीका यही है आप उन शब्दों में इंटरेस्ट लीजिए और बार-बार उनका उच्चारण कीजिए जी हां दोस्तों पहले तो आपको यह लक्ष्य को अपने बनाए रखा होगा कि आपको इंग्लिश भाषा सीखनी है पढ़नी है और उसमें इंटरेस्टिंग ड्रेस रखना है इसके बाद दोस्तों जो भी शब्द आते हैं हालांकि सरल शब्द मीनिंग जो होते हैं वह तो आप याद कर लेते हैं और उनको बोल लेते हो लेकिन जो कठिन शब्द होते हैं उनको याद रखने का और सीखने का एक ही तरीका है कि उनको पहले तो उनको अपने हिसाब से टुकड़ों में बांट लीजिए जैसा आपको अच्छा लगे अल्फाबेट यानी कि तीन या चार टुकड़ों में आधे आधे टुकड़ों में या बहुत बड़ा लंबा कोई मिनिंग है तो उसको तीन या चार टुकड़ों में तोड़ कर के और उसको फिर अंगुलियों में याद करना शुरू कर दीजिए हम याद करेंगे तो आपको एक ट्रिक महसूस होगी और आप की याद ज्यादा हो जाएंगे जैसे कि वेडनेसडे बुधवार की स्पेलिंग यदि याद नहीं हो रही है तो इसको तीन टुकड़ों में हम काट लेंगे जैसे कि डब्लू ई डी पहली अंगुली हम तीन उंगलियां अपने हाथ में रखेंगे सीधी करके और दूसरे हाथ से उसको पहले उंगली उंगली को पकड़ेंगे और उस पर बोलेंगे डब्ल्यू ई डी और दूसरी उंगली फिर बोलेंगे एनवीएस फिर तीसरी उंगली पर day-2 तीन तीन टुकड़ों के हिसाब से 33 अल्फाबेट के हिसाब से और तीन टुकड़े हो जाते हैं तो हमें से याद कर सकती है डब्ल्यू एच डी एन एस डी ए वाई 93 टुकड़ों में से बार बार उच्चारण करेंगे यानी चार पांच बार उतार कर लिया तो यह छोटे बच्चों के याद हो जाता है दोस्तों इसी प्रकार से दिस सेंटेंस सेंटेंसेस यह काफी बच्चों में विद्यार्थियों में बहुत ही ज्यादा कठिन लगने वाला मीनिंग होता है ना तो वह याद कर पाते हैं बाकी सारी मीनिंग याद कर लेते हैं लेकिन सेंटेंसेस नाम याद करना उनको काफी कठिन लगता है तो इसको भी दोस्तों तीन या चार टुकड़ों में बांट लेते हैं पहले क्या नाम बोलते हैं उसका उच्चारण जैसे हिंदी में क ख ग ड हम सीखते हैं तो उसी के अनुसार से सेन सेन सेन सेन सेन सेन का बना बना देंगे हम ऐसी एनफील्ड की स्पेलिंग ऑफ जल्दी उठी एयरटेल वैसे भी 10 महीने 10 होता है तो सेंटेंस लास्ट में जो से आए उसका सीए कर देंगे और शहद लगाना है सेंटेंस लगाना है तो जोड़ देंगे दोस्तों इस प्रकार से यह तीन चार टुकड़ों में विभाजित हो जाती है यह लाइन जैसे कि सेंटेंसेस इन टुकड़ों में तो सेंड ए सी एल एन टी ई एन एस एस टी ई एस एस 2 सेंटेंसेस ऐसे तीन टुकड़ों में सेंटेंसेस को याद करेंगे तो याद हो जाएगी आसानी से इस प्रकार के कठिन शब्दों को टुकड़ों में अलग-अलग भागों में बांटकर के अंगुलियों पर याद करते हैं और कम से कम 5 बार उच्चारण एक स्पेलिंग शुरू कीजिए अपने हाथ पर अपने पांच अंगुलियों से होती है एक बात की तो उस पर एक एक अंगुली पर पूरा मीनिंग बोल डाली है याद होकर रहेगी धन्यवाद
Doston aapaka prashn hai angrejee ke kathin shabdon ko yaad karane ka sabase achchha tareeka kya hai doston angrejee ke kathin shabdon ko yaad karane ka sabase achchha tareeka yahee hai aap un shabdon mein intarest leejie aur baar-baar unaka uchchaaran keejie jee haan doston pahale to aapako yah lakshy ko apane banae rakha hoga ki aapako inglish bhaasha seekhanee hai padhanee hai aur usamen intaresting dres rakhana hai isake baad doston jo bhee shabd aate hain haalaanki saral shabd meening jo hote hain vah to aap yaad kar lete hain aur unako bol lete ho lekin jo kathin shabd hote hain unako yaad rakhane ka aur seekhane ka ek hee tareeka hai ki unako pahale to unako apane hisaab se tukadon mein baant leejie jaisa aapako achchha lage alphaabet yaanee ki teen ya chaar tukadon mein aadhe aadhe tukadon mein ya bahut bada lamba koee mining hai to usako teen ya chaar tukadon mein tod kar ke aur usako phir anguliyon mein yaad karana shuroo kar deejie ham yaad karenge to aapako ek trik mahasoos hogee aur aap kee yaad jyaada ho jaenge jaise ki vedanesade budhavaar kee speling yadi yaad nahin ho rahee hai to isako teen tukadon mein ham kaat lenge jaise ki dabloo ee dee pahalee angulee ham teen ungaliyaan apane haath mein rakhenge seedhee karake aur doosare haath se usako pahale ungalee ungalee ko pakadenge aur us par bolenge dablyoo ee dee aur doosaree ungalee phir bolenge enaveees phir teesaree ungalee par day-2 teen teen tukadon ke hisaab se 33 alphaabet ke hisaab se aur teen tukade ho jaate hain to hamen se yaad kar sakatee hai dablyoo ech dee en es dee e vaee 93 tukadon mein se baar baar uchchaaran karenge yaanee chaar paanch baar utaar kar liya to yah chhote bachchon ke yaad ho jaata hai doston isee prakaar se dis sentens sentenses yah kaaphee bachchon mein vidyaarthiyon mein bahut hee jyaada kathin lagane vaala meening hota hai na to vah yaad kar paate hain baakee saaree meening yaad kar lete hain lekin sentenses naam yaad karana unako kaaphee kathin lagata hai to isako bhee doston teen ya chaar tukadon mein baant lete hain pahale kya naam bolate hain usaka uchchaaran jaise hindee mein ka kh ga da ham seekhate hain to usee ke anusaar se sen sen sen sen sen sen ka bana bana denge ham aisee enapheeld kee speling oph jaldee uthee eyaratel vaise bhee 10 maheene 10 hota hai to sentens laast mein jo se aae usaka seee kar denge aur shahad lagaana hai sentens lagaana hai to jod denge doston is prakaar se yah teen chaar tukadon mein vibhaajit ho jaatee hai yah lain jaise ki sentenses in tukadon mein to send e see el en tee ee en es es tee ee es es 2 sentenses aise teen tukadon mein sentenses ko yaad karenge to yaad ho jaegee aasaanee se is prakaar ke kathin shabdon ko tukadon mein alag-alag bhaagon mein baantakar ke anguliyon par yaad karate hain aur kam se kam 5 baar uchchaaran ek speling shuroo keejie apane haath par apane paanch anguliyon se hotee hai ek baat kee to us par ek ek angulee par poora meening bol daalee hai yaad hokar rahegee dhanyavaad

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
प्रकाश किसे कहते हैं और प्रकाश की खोज किसने की थी प्रकाश की चाल?Prakash Kise Kahte Hain Aur Prakash Kee Khoj Kisne Ki Thi Prakash Ki Chaal
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
1:20
अगर दोस्तों आपका प्रश्न है प्रकाश किसे कहते हैं और प्रकाश की खोज किसने की थी और प्रकाश की चाल क्या है तू तो तू प्रकाश एक प्रकार की ऊर्जा है जिसकी सहायता से हमें वस्तु दिखाई देती है अर्थात जो विकिरण हमारी आंख को संबोधित संबोधित करती है वह प्रकाश कहलाती है दोस्तों विद्युत चुंबकीय विकिरण के स्पेक्ट्रम का वह भाग जो मनुष्य की आंख पर दृष्टि संवेदना उत्पन्न करता है वह प्रकाश कहलाता है और दोस्तों विद्युत प्रकाश अट्ठारह सौ में एक अंग्रेजी वैज्ञानिक हमारी देवी द्वारा किया गया था उसने बिजली के साथ प्रयोग किया और बिजली की बैटरी का आविष्कार किया था और दोस्तों से प्रकाश की चाल होती है वह विभिन्न माध्यमों में प्रकाश की चाल होती है दोस्तों यदि हवा में प्रकाश की गति के बारे में जाने दो प्रति सेकंड लगभग 300000 किलोमीटर की यात्रा करता है जिसमें एक पल जीरो का अपवर्तक सूचकांक होता है लेकिन यह पानी में प्रति सेकंड दो सौ पच्चीस हजार किलोमीटर और क्लास में प्रति सेकंड 250 200000 किलोमीटर तक बीमा हो जाता है धन्यवाद
Agar doston aapaka prashn hai prakaash kise kahate hain aur prakaash kee khoj kisane kee thee aur prakaash kee chaal kya hai too to too prakaash ek prakaar kee oorja hai jisakee sahaayata se hamen vastu dikhaee detee hai arthaat jo vikiran hamaaree aankh ko sambodhit sambodhit karatee hai vah prakaash kahalaatee hai doston vidyut chumbakeey vikiran ke spektram ka vah bhaag jo manushy kee aankh par drshti sanvedana utpann karata hai vah prakaash kahalaata hai aur doston vidyut prakaash atthaarah sau mein ek angrejee vaigyaanik hamaaree devee dvaara kiya gaya tha usane bijalee ke saath prayog kiya aur bijalee kee baitaree ka aavishkaar kiya tha aur doston se prakaash kee chaal hotee hai vah vibhinn maadhyamon mein prakaash kee chaal hotee hai doston yadi hava mein prakaash kee gati ke baare mein jaane do prati sekand lagabhag 300000 kilomeetar kee yaatra karata hai jisamen ek pal jeero ka apavartak soochakaank hota hai lekin yah paanee mein prati sekand do sau pachchees hajaar kilomeetar aur klaas mein prati sekand 250 200000 kilomeetar tak beema ho jaata hai dhanyavaad

#जीवन शैली

bolkar speaker
क्या आपने कभी इश्वर के चमत्कार का अनुभव किया है?Kya Aapne Kabhi Eshwar Ke Chamatkaar Ka Anubhav Kiya Hai
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
2:06
दर्द तो आपका प्रश्न है क्या आपने कभी इश्वर के चमत्कार का अनुभव किया है दोस्तों ईश्वर के चमत्कार का अनुभव तो अभी तक हमने नहीं किया है हां हमेशा मानते हैं कि ईश्वर इनकी कोई परमात्मा होती है वह भी किसी मनुष्य की ही होती है जो वह स्वर्ग लोग हो जाते हैं तो उसकी आत्मा है वही असीम शक्तियों को धारण करके और परमात्मा का रूप ले लेती है और भगवान का रूप लेने दोस्तों ऐसे तो भगवान है जो शक्तिशाली जूदेव यह सत्य है उनको हमने चमत्कार के रूप में तो कभी नहीं सुना क्या देखा जब कि मुझे इस पृथ्वी पर आश्चर्य के अनुसार हमने प्रकृति के बारे में जरूर मैजिक देखा यह प्रकृति का तो चमत्कार है जैसे सूर्य का उगना चिकना हवा चल ना धूप होना अच्छा होना फसलें होना पेड़ पौधे होना मनुष्यों का होना और जीव की उत्पत्ति होना फिर उनका नश्वर हो जाना जी और जितनी भी चीजें हैं इस पृथ्वी पर जो प्राकृतिक घटनाएं होती है अपना भी बताओ जो भी अच्छी घटनाएं होती है इन सभी को जोड़ करके और बहुत सारे चमत्कार होते हैं तो दोस्तों यह जो सभी है वही प्रकार से चमत्कार है तो इन चमत्कारी इन चमत्कारों का अनुभव हम जरूर करते हैं और सभी करते हैं लेकिन ईश्वर का वैसे तो कोई चमत्कार हमने अभी तक नहीं देखा है जबकि सबसे बड़ा इस पृथ्वी पर दो चमत्कार को यही है प्रकृति का चमत्कार जिससे हमें श्वास लेने के लिए हवा मिलती है उसी से मिलती है पेड़ पौधों से हमें बहुत कुछ मिलता है हमारे जीवन जीने के लिए और इस जीवन इस पृथ्वी पर निर्वाह करने के लिए जीवन यापन करने के लिए बहुत सी चीजें चौक में प्रकृति प्रकृति से मिलती है तो यह चमत्कार सबसे बड़ा है इस दुनिया में धन्यवाद
Dard to aapaka prashn hai kya aapane kabhee ishvar ke chamatkaar ka anubhav kiya hai doston eeshvar ke chamatkaar ka anubhav to abhee tak hamane nahin kiya hai haan hamesha maanate hain ki eeshvar inakee koee paramaatma hotee hai vah bhee kisee manushy kee hee hotee hai jo vah svarg log ho jaate hain to usakee aatma hai vahee aseem shaktiyon ko dhaaran karake aur paramaatma ka roop le letee hai aur bhagavaan ka roop lene doston aise to bhagavaan hai jo shaktishaalee joodev yah saty hai unako hamane chamatkaar ke roop mein to kabhee nahin suna kya dekha jab ki mujhe is prthvee par aashchary ke anusaar hamane prakrti ke baare mein jaroor maijik dekha yah prakrti ka to chamatkaar hai jaise soory ka ugana chikana hava chal na dhoop hona achchha hona phasalen hona ped paudhe hona manushyon ka hona aur jeev kee utpatti hona phir unaka nashvar ho jaana jee aur jitanee bhee cheejen hain is prthvee par jo praakrtik ghatanaen hotee hai apana bhee batao jo bhee achchhee ghatanaen hotee hai in sabhee ko jod karake aur bahut saare chamatkaar hote hain to doston yah jo sabhee hai vahee prakaar se chamatkaar hai to in chamatkaaree in chamatkaaron ka anubhav ham jaroor karate hain aur sabhee karate hain lekin eeshvar ka vaise to koee chamatkaar hamane abhee tak nahin dekha hai jabaki sabase bada is prthvee par do chamatkaar ko yahee hai prakrti ka chamatkaar jisase hamen shvaas lene ke lie hava milatee hai usee se milatee hai ped paudhon se hamen bahut kuchh milata hai hamaare jeevan jeene ke lie aur is jeevan is prthvee par nirvaah karane ke lie jeevan yaapan karane ke lie bahut see cheejen chauk mein prakrti prakrti se milatee hai to yah chamatkaar sabase bada hai is duniya mein dhanyavaad

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
टेस्ला के मालिक कौन है?Tesla Ke Malik Kaun Hai
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
1:18
उसका दोस्तों आपका प्रश्न है टेस्ला के मालिक कौन है तू तो टेस्ला कंपनी के मालिक है या लॉन्ड्री मस्त इसी के साथ ही वे कंपनी के सीईओ और प्रोडक्ट डिजाइन अभी 2 साल 2021 में ही फैसला का मार्केट वैल्यू काफी ज्यादा बढ़ गया था जिससे एलोन मस्क दुनिया के सबसे अमीर व्यक्ति बन गए थे कंपनी की शुरुआत 1 जुलाई 2003 में हुई थी बाटी एवरहार्ड और मार्ग ट्रेनिंग ने मिलकर साल 2003 में टेस्ला कंपनी की शुरुआत की थी उसके बाद साल 2004 में लोन मत ले टेस्ला कंपनी को ज्वाइन किया उस वक्त एलॉन मुस्क टेस्ला कंपनी के चेयरमैन के दोस्तों ए लोनली मस्त टेस्ला कंपनी के सीईओ है इनको साल 2008 में पहली बार टेस्ला कंपनी का सीईओ बनाया गया था साल 2008 में एलॉन मुस्क टेस्ला कंपनी के सीईओ बना दिए गए और तब से लेकर अब तक वो टेस्ला कंपनी के सीईओ और प्रोडक्ट डिजाइनर है इस वक्त टेस्ला कंपनी में सबसे अधिक शेयर एलोन मस्क के पास है इसलिए मैं टेस्ला कंपनी के मालिक भी बन गए हैं धन्यवाद
Usaka doston aapaka prashn hai tesla ke maalik kaun hai too to tesla kampanee ke maalik hai ya londree mast isee ke saath hee ve kampanee ke seeeeo aur prodakt dijain abhee 2 saal 2021 mein hee phaisala ka maarket vailyoo kaaphee jyaada badh gaya tha jisase elon mask duniya ke sabase ameer vyakti ban gae the kampanee kee shuruaat 1 julaee 2003 mein huee thee baatee evarahaard aur maarg trening ne milakar saal 2003 mein tesla kampanee kee shuruaat kee thee usake baad saal 2004 mein lon mat le tesla kampanee ko jvain kiya us vakt elon musk tesla kampanee ke cheyaramain ke doston e lonalee mast tesla kampanee ke seeeeo hai inako saal 2008 mein pahalee baar tesla kampanee ka seeeeo banaaya gaya tha saal 2008 mein elon musk tesla kampanee ke seeeeo bana die gae aur tab se lekar ab tak vo tesla kampanee ke seeeeo aur prodakt dijainar hai is vakt tesla kampanee mein sabase adhik sheyar elon mask ke paas hai isalie main tesla kampanee ke maalik bhee ban gae hain dhanyavaad

#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker
अपनी इंग्लिश को कैसे सुधारें?Apni English Ko Kaise Sudhare
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
2:28
कर दोस्तों अब कंप्रेस गए अपनी इंग्लिश को कैसे सुधारें दोस्तों अपनी इंग्लिश व्याकरण की दृष्टि से या फिर बोल चाल की दृष्टि से किस प्रकार से आप सुधारना चाहते हैं यह आपको पहले समझना होगा दोस्तों सबसे पहले लिखने की दृष्टि से इन इंग्लिश सुधारना चाहते हो तो भी और बोलने की दृष्टि से तो भी आपको इस पर समय देना होगा समय के अनुसार यानी कि अपना टाइम टेबल बना करके रखिए और उस टाइम के हिसाब से आपने जो भी मैटर तैयार किया है जो भी शब्दों का भंडार इंग्लिश का मीनिंग्स का याद तो छोटे बड़े-बड़े सेंटेंसेस आपने जो बना कर रखे हैं तो उसका उच्चारण दिन भर करते रहिए जब जब भी आपको समय मिले या फिर जब भी जरूरत पड़े इसी बात के को बोलने की तो आप उस इंग्लिश को बोलिए छोटे-छोटे वाक्यों से हम यू सीखते हैं तो उसे हम ज्यादा सीखते हैं और इंटरेस्टिंग भी हो जाता है जबकि ग्रामर के हिसाब से एक एक चीज को करके देखते हैं तो वह ज्यादा कठिन लगता है और सबसे पहले तो आपके पास शब्दों का भंडार होना चाहिए यानी कि जितने भी मीनिंग से छोटे-छोटे सबको अलग-अलग इकट्ठे कर लीजिए उन का संग्रह कीजिए किसी ने पुस्तक में ऐसा कर लेते हैं तो आपको छोटी जो समस्याएं आ जाती है कई बार वाक्य में छोटे से मीनिंग का अर्थ आपको पता नहीं होता है तो वह आपको चल जाता है पता हो जाता है कि इसका अर्थ यह होगा तो आप एक अलग से रजिस्टर तैयार कीजिए अपनी डायरी तैयार कीजिए जिसमे अलांग मीनिंग लिखे हो और एक दूसरा डिस्टिक और या उसी रजिस्टर में सेंटेंस लिखे हैं छोटे या बड़े और एक तीसरा ग्रामर का चला सकते हैं उन पर आप समय देते हुए बहुत ही ध्यान से पढ़ते रहिए और इधर उधर से ज्ञान प्राप्त कीजिए आजकल तो एंड्रॉयड फोन में बहुत से ऐसे एप्स आने लगी है बहुत से यूट्यूब के चैनल अंग्रेजी सिखाने के तो एक कोई अच्छा सा चैनल या अच्छा सा ऐप डाउनलोड कीजिए और अब धीरे-धीरे निरंतर ज्ञान अर्जित करते हुए और आप इंग्लिश भाषा सुधार सकते हैं सीख सकते हैं लिखना भी सीख सकते हैं आजकल तो बहुत ही ज्यादा सुविधा हो चुकी है अपने एंड्राइड मोबाइल फोन के माध्यम से तो धन्यवाद आशा करता हूं कि आपको यह जवाब अच्छा लगा होगा
Kar doston ab kampres gae apanee inglish ko kaise sudhaaren doston apanee inglish vyaakaran kee drshti se ya phir bol chaal kee drshti se kis prakaar se aap sudhaarana chaahate hain yah aapako pahale samajhana hoga doston sabase pahale likhane kee drshti se in inglish sudhaarana chaahate ho to bhee aur bolane kee drshti se to bhee aapako is par samay dena hoga samay ke anusaar yaanee ki apana taim tebal bana karake rakhie aur us taim ke hisaab se aapane jo bhee maitar taiyaar kiya hai jo bhee shabdon ka bhandaar inglish ka meenings ka yaad to chhote bade-bade sentenses aapane jo bana kar rakhe hain to usaka uchchaaran din bhar karate rahie jab jab bhee aapako samay mile ya phir jab bhee jaroorat pade isee baat ke ko bolane kee to aap us inglish ko bolie chhote-chhote vaakyon se ham yoo seekhate hain to use ham jyaada seekhate hain aur intaresting bhee ho jaata hai jabaki graamar ke hisaab se ek ek cheej ko karake dekhate hain to vah jyaada kathin lagata hai aur sabase pahale to aapake paas shabdon ka bhandaar hona chaahie yaanee ki jitane bhee meening se chhote-chhote sabako alag-alag ikatthe kar leejie un ka sangrah keejie kisee ne pustak mein aisa kar lete hain to aapako chhotee jo samasyaen aa jaatee hai kaee baar vaaky mein chhote se meening ka arth aapako pata nahin hota hai to vah aapako chal jaata hai pata ho jaata hai ki isaka arth yah hoga to aap ek alag se rajistar taiyaar keejie apanee daayaree taiyaar keejie jisame alaang meening likhe ho aur ek doosara distik aur ya usee rajistar mein sentens likhe hain chhote ya bade aur ek teesara graamar ka chala sakate hain un par aap samay dete hue bahut hee dhyaan se padhate rahie aur idhar udhar se gyaan praapt keejie aajakal to endroyad phon mein bahut se aise eps aane lagee hai bahut se yootyoob ke chainal angrejee sikhaane ke to ek koee achchha sa chainal ya achchha sa aip daunalod keejie aur ab dheere-dheere nirantar gyaan arjit karate hue aur aap inglish bhaasha sudhaar sakate hain seekh sakate hain likhana bhee seekh sakate hain aajakal to bahut hee jyaada suvidha ho chukee hai apane endraid mobail phon ke maadhyam se to dhanyavaad aasha karata hoon ki aapako yah javaab achchha laga hoga

#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker
शरीर में कितने पोषक तत्व होते हैं?Shareer Mein Kitne Poshak Tatva Hote Hain
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
2:46
आपका प्रश्न है शरीर में कितने पोषक तत्व दोस्तों आइए जानते हैं डेलीहंट डॉट कॉम की एक पोस्ट के अनुसार हेल्दी फूड सेहत के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है कुछ खाने की चीजें ऐसी होती है जिस में पोषक तत्वों की काफी मात्रा में होते हैं और यह शरीर के अलग-अलग अंगों को फायदा कौन सा रोशन आईसी पोस्टिक चीजें खाने से शरीर बहुत सी बीमारियों से दूर रहता है संतुलित भोजन सी भोजन को माना जाता है जिसमें सभी पोषक तत्वों की समुचित मात्रा और किन पोषक तत्वों के सेवन के साथ ही इनका पाचन भी बहुत महत्वपूर्ण होता है दोस्तों हमारा आहार ही हमारे शरीर के पोषण का स्रोत है हमारे शरीर को विटामिन खनिज और फाइटोकेमिकल्स जैसे कई पोषक तत्व की आवश्यकता होती है तो कई अंगों प्रणालियों के कार्यों को बनाए रखने में मदद करते हैं इसमें पहले दोस्तों प्रोटीन दोस्तों प्रोटीन में एमिनो एसिड होते हैं जो शरीर के ऊतकों को बनाने और उन्हें बनाए रखने में मदद करें अगले आईरन आईरन एक महत्वपूर्ण पोषक तत्व है जो शरीर के विभिन्न अंगों तथा उसको में ऑक्सीजन बहन करने का काम करता है कार्बोहाइड्रेट यह शरीर के लिए ऊर्जा का मुख्य स्रोत और हमें अपने भोजन में कार्बोहाइड्रेट का भी सेवन करना चाहिए और दोस्तों फाइबर फाइबर हमारे शरीर के प्रतिरक्षा तंत्र को सुचारू रखने में प्रमुख भूमिका निभाता है भोजन को इकट्ठा करके बढ़िया तक ले जाता है तू तो भाई पर ऐसे कार्बोहाइड्रेट है जो पेड़ों के पत्ते डाली और जड़ों का निर्माण करते हैं फाइबर का सेवन करने से आने के बाद आप आपको अधिक समय तक भूख नहीं लगती और इसका सेवन बहुत अधिक मात्रा में नहीं किया जा सकता अगला तो तो कहती है कैल्शियम प्रारंभिक जीवन मजबूत सदन हड्डियों के निर्माण और बाद में जीवन में हड्डियों को मजबूत और स्वस्थ रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है हमारी हड्डियां दांत और नाखून 99% के नियम से ही होती है 1% कैल्शियम भी हमारे शरीर के लिए बहुत उपयोगी होता है यह रक्त में पाया जाता है और प्रत्येक कोशिका के बीच एक साथ सैलूलोइड में भी मौजूद होता है तो सभी हरी पत्तेदार सब्जियां दाल सोयाबीन और कॉर्नफ्लेक्स सीरियल्स ब्राउन राइस चौकड़ी उतारता और रवि में भी पर्याप्त मात्रा में कैल्शियम पाया जाता है तो इस प्रकार चाहिए जो पांच चीजें हैं वह हमारे शरीर में पोषक तत्व बनाते हैं या मौजूद होते हैं धन्यवाद
Aapaka prashn hai shareer mein kitane poshak tatv doston aaie jaanate hain deleehant dot kom kee ek post ke anusaar heldee phood sehat ke lie bahut hee phaayademand hota hai kuchh khaane kee cheejen aisee hotee hai jis mein poshak tatvon kee kaaphee maatra mein hote hain aur yah shareer ke alag-alag angon ko phaayada kaun sa roshan aaeesee postik cheejen khaane se shareer bahut see beemaariyon se door rahata hai santulit bhojan see bhojan ko maana jaata hai jisamen sabhee poshak tatvon kee samuchit maatra aur kin poshak tatvon ke sevan ke saath hee inaka paachan bhee bahut mahatvapoorn hota hai doston hamaara aahaar hee hamaare shareer ke poshan ka srot hai hamaare shareer ko vitaamin khanij aur phaitokemikals jaise kaee poshak tatv kee aavashyakata hotee hai to kaee angon pranaaliyon ke kaaryon ko banae rakhane mein madad karate hain isamen pahale doston proteen doston proteen mein emino esid hote hain jo shareer ke ootakon ko banaane aur unhen banae rakhane mein madad karen agale aaeeran aaeeran ek mahatvapoorn poshak tatv hai jo shareer ke vibhinn angon tatha usako mein okseejan bahan karane ka kaam karata hai kaarbohaidret yah shareer ke lie oorja ka mukhy srot aur hamen apane bhojan mein kaarbohaidret ka bhee sevan karana chaahie aur doston phaibar phaibar hamaare shareer ke pratiraksha tantr ko suchaaroo rakhane mein pramukh bhoomika nibhaata hai bhojan ko ikattha karake badhiya tak le jaata hai too to bhaee par aise kaarbohaidret hai jo pedon ke patte daalee aur jadon ka nirmaan karate hain phaibar ka sevan karane se aane ke baad aap aapako adhik samay tak bhookh nahin lagatee aur isaka sevan bahut adhik maatra mein nahin kiya ja sakata agala to to kahatee hai kailshiyam praarambhik jeevan majaboot sadan haddiyon ke nirmaan aur baad mein jeevan mein haddiyon ko majaboot aur svasth rakhane mein mahatvapoorn bhoomika nibhaata hai hamaaree haddiyaan daant aur naakhoon 99% ke niyam se hee hotee hai 1% kailshiyam bhee hamaare shareer ke lie bahut upayogee hota hai yah rakt mein paaya jaata hai aur pratyek koshika ke beech ek saath sailooloid mein bhee maujood hota hai to sabhee haree pattedaar sabjiyaan daal soyaabeen aur kornaphleks seeriyals braun rais chaukadee utaarata aur ravi mein bhee paryaapt maatra mein kailshiyam paaya jaata hai to is prakaar chaahie jo paanch cheejen hain vah hamaare shareer mein poshak tatv banaate hain ya maujood hote hain dhanyavaad

#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker
दूध में देसी घी मिलाकर पीने के क्या फायदे हैं?Doodh Mein Desi Ghee Milakar Peene Ke Kya Fayde Hain
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
3:07
दोस्तों आपका प्रश्न है दूध में देसी घी मिलाकर पीने के क्या फायदे हैं दोस्तों आयुर्वेद में तो की गाय के घी को अमृत के समान बताए गए हैं जिससे छात्रा के गुण होते और एक दवा की तरह काम करता है और बेबी को दूध में मिलाकर मिला लिया जाए तो सोने में सुहागा हो जाता है दोस्तों गाय के शुद्ध घी को अगर दूध में मिला दिया जाए तो यह टेस्टी हो जाने के साथ-साथ महिलाओं का वेट कंट्रोल करने एनर्जी बढ़ाने और मेंटल हेल्थ के अलावा स्किन और बालों के लिए भी बहुत अमृत की तरह हो जाता है दोस्तों गाय का घी नाक में डालने से एलर्जी ठीक होती है जी व मिश्री खिलाने से ज्यादा तेज होती है साथ ही गाय के पुराने गीत से बच्चों को छाती और पीठ पर मालिश करने से कब्ज की शिकायत दूर होती है एक गिलास में एक चम्मच गाय का एक गिलास दूध में एक चम्मच गाय का देसी घी गाय का घी डालकर पीने से कमजोरी दूर होती है कब्ज की शिकायत दूर होती है साथ ही यह आपकी आंखों और हड्डियों की हेल्थ के लिए बहुत ही अच्छा होता है तो दूध में घी मिलाकर पीना हड्डियों के लिए फायदेमंद होता है दूध में मौजूद विटामिन डी को सौंपकर हमारी हड्डियों को मजबूत मजबूती प्रदान करता है इसके अलावा की विटामिन ए विटामिन के और भी विटामिन को भी सोख लेता है जो हमारी बॉडी के लिए बेहद जरूरी होता है विटामिन और मिनरल से भरी चीजों की जगह दूसरे फ्रूट प्रोडक्ट खाने से महिलाओं के लिए कमजोर हो जाती है इसके अलावा मेनोपॉज के बाद महिलाओं में हार्मोन बैलेंस की भी हड्डियों को कमजोर बनाता है लेकिन गर्म दूध में घी मिलाकर पीना शिशु से लेकर बुजुर्गों तक सभी की हड्डियों के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है बालकों के लिए भी फायदेमंद होता है दूध में गाय की गाय के घी को एक चम्मच मिलाकर पीना आपकी आंखों की सेहत के लिए बहुत ही अच्छा हो जाता है रोजाना ऐसा करने से आपकी आंखों की जो भी समस्या है तू हो जाए तो यू कोरिया में भी फायदेमंद होता है जो कोरिया या श्वेत प्रदर में एक आम बीमारी है लेकिन नजर अंदाज करने पर यह बीमारी गंभीर रूप ले सकती तो महिलाओं में प्रदर रोग की समस्या के लिए गाय का घी कौन किसका अवतार है गाय के दूध में गाय का घी मिलाकर पीने से महिलाओं की यह सोचकर भी दूर इसके अलावा दूर तो कभी दूर हो जाता है डाइजेशन भी बढ़ जाता है मुंह के छाले को ठीक हो जाते हैं और उम्र बढ़ने से भी रोकता है या नहीं युवा 15 या 1 को कभी भी खत्म नहीं होता है कमजोरी दूर करके और 1 मिनट रुको इम्यूनिटी को भी बढ़ाता है इस प्रकार से दोस्तों दूध में देसी घी को मिलाकर पीने के अनेकों अनेक फायदे धन्यवाद
Doston aapaka prashn hai doodh mein desee ghee milaakar peene ke kya phaayade hain doston aayurved mein to kee gaay ke ghee ko amrt ke samaan batae gae hain jisase chhaatra ke gun hote aur ek dava kee tarah kaam karata hai aur bebee ko doodh mein milaakar mila liya jae to sone mein suhaaga ho jaata hai doston gaay ke shuddh ghee ko agar doodh mein mila diya jae to yah testee ho jaane ke saath-saath mahilaon ka vet kantrol karane enarjee badhaane aur mental helth ke alaava skin aur baalon ke lie bhee bahut amrt kee tarah ho jaata hai doston gaay ka ghee naak mein daalane se elarjee theek hotee hai jee va mishree khilaane se jyaada tej hotee hai saath hee gaay ke puraane geet se bachchon ko chhaatee aur peeth par maalish karane se kabj kee shikaayat door hotee hai ek gilaas mein ek chammach gaay ka ek gilaas doodh mein ek chammach gaay ka desee ghee gaay ka ghee daalakar peene se kamajoree door hotee hai kabj kee shikaayat door hotee hai saath hee yah aapakee aankhon aur haddiyon kee helth ke lie bahut hee achchha hota hai to doodh mein ghee milaakar peena haddiyon ke lie phaayademand hota hai doodh mein maujood vitaamin dee ko saumpakar hamaaree haddiyon ko majaboot majabootee pradaan karata hai isake alaava kee vitaamin e vitaamin ke aur bhee vitaamin ko bhee sokh leta hai jo hamaaree bodee ke lie behad jarooree hota hai vitaamin aur minaral se bharee cheejon kee jagah doosare phroot prodakt khaane se mahilaon ke lie kamajor ho jaatee hai isake alaava menopoj ke baad mahilaon mein haarmon bailens kee bhee haddiyon ko kamajor banaata hai lekin garm doodh mein ghee milaakar peena shishu se lekar bujurgon tak sabhee kee haddiyon ke lie bahut hee phaayademand hota hai baalakon ke lie bhee phaayademand hota hai doodh mein gaay kee gaay ke ghee ko ek chammach milaakar peena aapakee aankhon kee sehat ke lie bahut hee achchha ho jaata hai rojaana aisa karane se aapakee aankhon kee jo bhee samasya hai too ho jae to yoo koriya mein bhee phaayademand hota hai jo koriya ya shvet pradar mein ek aam beemaaree hai lekin najar andaaj karane par yah beemaaree gambheer roop le sakatee to mahilaon mein pradar rog kee samasya ke lie gaay ka ghee kaun kisaka avataar hai gaay ke doodh mein gaay ka ghee milaakar peene se mahilaon kee yah sochakar bhee door isake alaava door to kabhee door ho jaata hai daijeshan bhee badh jaata hai munh ke chhaale ko theek ho jaate hain aur umr badhane se bhee rokata hai ya nahin yuva 15 ya 1 ko kabhee bhee khatm nahin hota hai kamajoree door karake aur 1 minat ruko imyoonitee ko bhee badhaata hai is prakaar se doston doodh mein desee ghee ko milaakar peene ke anekon anek phaayade dhanyavaad

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
आंखों को मोबाइल लैपटॉप से खराब होने से कैसे बचाएं?Aankho Ko Mobile Laptop Se Kharab Hone Se Kaise Bachaye
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
2:14
नमस्कार दोस्तों आपका प्रश्न है आंखों को मोबाइल नंबर से खराब होने से कैसे बचाएं तो सो मेनी डॉट कॉम की एक पोस्ट के अनुसार ही जानते हैं और एक इंसान अपनी पलकों को 1 मिनट के अंदर 15 से 20000 जा सकता है लेकिन आदमी जो भी स्मार्ट फोन चलाता है तो वह अपनी अपनी पलकें झुकाना कम कर देता है इसके कारण उसकी आंखें सूखने लगती है और आंखों में जलन और सिर दर्द की परेशानी होने लगती है इसके अलावा स्मार्टफोन की स्क्रीन से एक ब्लूनाइट निकलती है जो आपको को हानिकारक प्रभाव में डाल दिए हमारे शरीर को सोने के लिए एक मैटर तो नहीं मिला तो नहीं तो नहीं नामक केमिकल बनता है लेकिन यह ब्लू स्क्रीन इसे बनेश्वर होती है जिसकी वजह से स्मार्ट फोन चलाते वक्त नींद नहीं आती जवाब दे रहा मोबाइल में वीडियो या कुछ इंटरेस्टिंग चीजें देखते हैं तो मोबाइल से निकलने वाली जो ग्रुप स्क्रीन सिर्फ को सुलाने वाले मैटर मेलाटोनिन नामक केमिकल को बनने नहीं देती निकालो रात 1:00 या 2:00 बजे भी नहीं सो पाते हैं दोस्तों यदि मोबाइल की रोशनी शाम को को बचाना चाहते हैं तो आपको यह कुछ ऐप है जिसके डाउनलोड करने से आज इसको चलाने से ज्यादा आंखों पर प्रभाव नहीं पड़ेगा और हानिकारक रोशनी से बच सकते हैं जैसे वे लाइट ब्लू लाइट फिल्टर ईज़ी आइस ब्लू लाइट फिल्टर फॉर आईएएस और दोस्तों कुछ सामान्य उपाय भी हमें कर लेनी चाहिए जैसे स्मार्टफोन को चलाते वक्त पलकें झुकाना बिलकुल भी नहीं बोलना चाहिए जवाब स्मार्ट फोन चला रहे हो तो 1 मिनट के अंदर 15 से 20 बार पलकों को जरूर छुपा लेंगे तो दूसरा उपाय है कि स्मार्ट फोन चलाते हो तब वह 20 मिनट बाद भी सेकंड के लिए 20 फीट की दूरी तक देखना चाहिए इसे आंखों को काफी राहत मिलती है सुनीता आदमी अपने स्मार्टफोन को 8 इंच की दूरी पर चलाता है तो यहां आपको जितना संभव हो सके मोबाइल को ज्यादा से ज्यादा दूरी पर ले जाकर या लेकर चलाना चाहिए अगर आपका स्मार्टफोन हर वक्त काम करता है तो अपने आप को एक चश्मा बनवा लेना चाहिए ऐसा करने से आपको भविष्य में आंखों की समस्या नहीं आएगी धन्यवाद
Namaskaar doston aapaka prashn hai aankhon ko mobail nambar se kharaab hone se kaise bachaen to so menee dot kom kee ek post ke anusaar hee jaanate hain aur ek insaan apanee palakon ko 1 minat ke andar 15 se 20000 ja sakata hai lekin aadamee jo bhee smaart phon chalaata hai to vah apanee apanee palaken jhukaana kam kar deta hai isake kaaran usakee aankhen sookhane lagatee hai aur aankhon mein jalan aur sir dard kee pareshaanee hone lagatee hai isake alaava smaartaphon kee skreen se ek bloonait nikalatee hai jo aapako ko haanikaarak prabhaav mein daal die hamaare shareer ko sone ke lie ek maitar to nahin mila to nahin to nahin naamak kemikal banata hai lekin yah bloo skreen ise baneshvar hotee hai jisakee vajah se smaart phon chalaate vakt neend nahin aatee javaab de raha mobail mein veediyo ya kuchh intaresting cheejen dekhate hain to mobail se nikalane vaalee jo grup skreen sirph ko sulaane vaale maitar melaatonin naamak kemikal ko banane nahin detee nikaalo raat 1:00 ya 2:00 baje bhee nahin so paate hain doston yadi mobail kee roshanee shaam ko ko bachaana chaahate hain to aapako yah kuchh aip hai jisake daunalod karane se aaj isako chalaane se jyaada aankhon par prabhaav nahin padega aur haanikaarak roshanee se bach sakate hain jaise ve lait bloo lait philtar eezee aais bloo lait philtar phor aaeeees aur doston kuchh saamaany upaay bhee hamen kar lenee chaahie jaise smaartaphon ko chalaate vakt palaken jhukaana bilakul bhee nahin bolana chaahie javaab smaart phon chala rahe ho to 1 minat ke andar 15 se 20 baar palakon ko jaroor chhupa lenge to doosara upaay hai ki smaart phon chalaate ho tab vah 20 minat baad bhee sekand ke lie 20 pheet kee dooree tak dekhana chaahie ise aankhon ko kaaphee raahat milatee hai suneeta aadamee apane smaartaphon ko 8 inch kee dooree par chalaata hai to yahaan aapako jitana sambhav ho sake mobail ko jyaada se jyaada dooree par le jaakar ya lekar chalaana chaahie agar aapaka smaartaphon har vakt kaam karata hai to apane aap ko ek chashma banava lena chaahie aisa karane se aapako bhavishy mein aankhon kee samasya nahin aaegee dhanyavaad

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
स्टॉप लोस्स क्या है और क्यों है जरूरी?Stop Loss Kya Hai Aur Kyon Hai Jaroori
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
2:30
नमस्कार दोस्तों आपका प्रश्न है तो फिर क्या है और क्यों है जरूरी दोस्तों आप जब कोई निवेश करते हैं या फिर ट्रेडिंग की पोजीशन कोई लेते हैं वह आप मुनाफा मिलने की अपेक्षा से ही लेते हैं और दोस्तों पर कई बार अपनी अपेक्षा के विरुद्ध परिस्थिति निर्माण होने पर ठीक समय पर उसमें से जैसे कितने से बाहर निकलने को आना चाहिए ऐसी स्थिति में स्टॉपलॉस बहुत ही महत्वपूर्ण नेताओं का कार्य करता है साधारण रूप से ज्यादातर लोग खरीद या बिक्री का ट्रेडिंग पोजीशन लेने के बाद स्टॉपलॉस लगाया जा सकता है ऐसा मानते हैं पर सही माहौल में बहुत ही कम लोग सुदृढ़ता से इसका पालन करते हैं दोस्तों से बाजार थाना घटता है तो घटने वाले भाव में ज्यादातर लोगों की बुद्धि भ्रष्ट होते हुए दिखाई देती है और भाव बहुत ही ज्यादा घटने पर वह देखते ही रहते हैं इस कारण तो नहीं बहुत बड़ा नुकसान होते हुए दिखाई देता है तो तू बच्चन टिप्स डॉट डॉट कॉम की पोस्ट के अनुसार जो चलो सोते हैं उनके दो प्रकार होते हैं इनमें पहला प्राइम मिनिस्टर क्लॉक याद की खरीदी भाव से निकला तब होता है ट्रेनिंग टॉपलेस यह आपके खरीदी बाग से उनका स्तर होता है वही दोस्तों इसके फायदों के बारे में जान लेते हैं दोस्तों स्टॉपलॉस नहीं लगाया तो आप समय पर अपनी गाड़ी को ब्रेक ना लगाने के समय आपको पता है कि ऐसा न करने से बड़े संकट का सामना हो सकता है उसी तरह से समय के अनुसार स्टॉपलॉस ना लगाने से आपको आर्थिक संकट का सामना करना पड़ता है तो पैराशूट की तरह कार्य करता हूं आप ब्लाइडिंग करने के लिए ऊंचाई से कूदने के बाद जरूरी है तब सही समय पर पैराशूट नहीं खुला तो ज्यादा समय तक राह देखते रहे तो जमीन पर गिरकर जान गवाने की नौबत आ सकती है इसलिए सही समय पर पैराशूट खोलना जैसा जरूरी है तो उसी प्रकार से ठीक समय कुछ लोग बहुत जरूरी तो दोस्तों इससे यही निष्कर्ष निकलता है कि समय पर स्टॉपलॉस लगा देना चाहिए यदि ऐसा करते हैं तो हमें बहुत बड़ी हानि होने से हम बचा जा सकते हैं धन्यवाद
Namaskaar doston aapaka prashn hai to phir kya hai aur kyon hai jarooree doston aap jab koee nivesh karate hain ya phir treding kee pojeeshan koee lete hain vah aap munaapha milane kee apeksha se hee lete hain aur doston par kaee baar apanee apeksha ke viruddh paristhiti nirmaan hone par theek samay par usamen se jaise kitane se baahar nikalane ko aana chaahie aisee sthiti mein stopalos bahut hee mahatvapoorn netaon ka kaary karata hai saadhaaran roop se jyaadaatar log khareed ya bikree ka treding pojeeshan lene ke baad stopalos lagaaya ja sakata hai aisa maanate hain par sahee maahaul mein bahut hee kam log sudrdhata se isaka paalan karate hain doston se baajaar thaana ghatata hai to ghatane vaale bhaav mein jyaadaatar logon kee buddhi bhrasht hote hue dikhaee detee hai aur bhaav bahut hee jyaada ghatane par vah dekhate hee rahate hain is kaaran to nahin bahut bada nukasaan hote hue dikhaee deta hai to too bachchan tips dot dot kom kee post ke anusaar jo chalo sote hain unake do prakaar hote hain inamen pahala praim ministar klok yaad kee khareedee bhaav se nikala tab hota hai trening topales yah aapake khareedee baag se unaka star hota hai vahee doston isake phaayadon ke baare mein jaan lete hain doston stopalos nahin lagaaya to aap samay par apanee gaadee ko brek na lagaane ke samay aapako pata hai ki aisa na karane se bade sankat ka saamana ho sakata hai usee tarah se samay ke anusaar stopalos na lagaane se aapako aarthik sankat ka saamana karana padata hai to pairaashoot kee tarah kaary karata hoon aap blaiding karane ke lie oonchaee se koodane ke baad jarooree hai tab sahee samay par pairaashoot nahin khula to jyaada samay tak raah dekhate rahe to jameen par girakar jaan gavaane kee naubat aa sakatee hai isalie sahee samay par pairaashoot kholana jaisa jarooree hai to usee prakaar se theek samay kuchh log bahut jarooree to doston isase yahee nishkarsh nikalata hai ki samay par stopalos laga dena chaahie yadi aisa karate hain to hamen bahut badee haani hone se ham bacha ja sakate hain dhanyavaad

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
इन दिनों में महिलाओं में एंग्जाइटी की समस्या बढ़ने के क्या कारण है?In Dinon Mein Mahilaon Mein Anxiety Ki Samasya Badhne Ke Kya Karan Hai
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
3:13
दोस्तों आपका प्रश्न है कि इन दिनों में महिलाओं में एक जाति की समस्या बढ़ने के क्या कारण तो सही जान लेते हैं कि क्या होता है कि एक मानसिक रोग है जिसमें रोगी को बचाने के साथ नकारात्मक विचार चिंता को डर का आभास होता है जिसे अचानक हाथ में पसीना आना आदि अगर समय पर इसका सही इलाज न किया जाए तो यह बहुत खतरनाक हो सकता है और बाकी का कारण भी बन सकता है आगे चलकर रोकना है हित भी कर सकता है तो हमारे रोजमर्रा के चीन में दिनचर्या में कुछ ऐसी चिंताएं सामान्य ऐसी होती है जो मान्यता एंजायटी और डिप्रेशन का कारण बनती है कम कभी इसके नतीजे जो है वह भयंकर भी हो सके जैसे दोस्त तो नौकरी हां और परीक्षा से पहले की वैसे ही बहुत ही ज्यादा कुछ युवा लोग बैठे नहीं रखते हैं और जैसे ही बिलों का भुगतान किया जाता है किस देश में पानी की तो चिंता होती और ऐसे चिंता बहुत ही खराब मानी जाती है यह जो हर किसी को ऋण चुकता करना है या किस्ते चुकाना या बिलों का भुगतान करना कैस्पियन आया लोगों के बीच खड़े होने की घबराहट या चिंतामन आधार कार्ड खो गया वैसे ऊंचाई आवारा कुत्ते से कट जाने का डंडा का डंडा किसी के निधन होने वाला दुख या चिंता होने का कारण बन जाता है और दूसरी बढ़ने के कारण है और भी घटनाएं हो सकती है जो हमेशा तनाव में रखती हो जैसे कि कोई कार्यालय का तनाव गरीबी की मृत्यु कदम अपनी गर्लफ्रेंड से ब्रेकअप या बॉयफ्रेंड से ब्रेकअप इत्यादि अन्य भी कई स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं हो सकती है जैसे किसी भी प्रकार का रोग नमाना रोड शुक्रिया हृदय संबंधी रोग भी एंजायटी डिसऑर्डर हो सकता है तो लोग तनाव में है वह भी इसकी चपेट में आ सकते हैं और दोस्तों नशे का सेवन भी हो सकता है दोस्तों यह समस्या को बढ़ाने का यह बहुत ही ज्यादा काम कारण है जैसे ही नशे का असर खत्म होगा समस्या पहले से ज्यादा महसूस होने लगती तो तू तो इंजॉय ही डिसऑर्डर से निजात पाया जा सकता है लेकिन इसे बिल्कुल भी हल्के में नहीं लेना चाहिए अगर कोई लक्षण नजर आए तो फौरन डॉक्टर की सलाह पर इलाज के लिए किसी प्रोफेशनल डॉक्टर को दिखाएं स्पेशल ड्राइंग साइटिका का इलाज दवा कंपनियां मिले-जुले इस्तेमाल से बेहद आसानी से किया जा सकता है दोस्तों इस को करते हुए रोगी को कभी भी अकेला ना छोड़ा छोड़ी स्वस्थ आहार लें और भोजन करने का एक थैले बनाए संगीत सुनें दोस्तों बयान तो जरूर ही करें प्रतिदिन 30 मिनट कम से कम बयान अवश्य करें सुबह शाम शेयर करने की आदत बनाएं और अपनी दिनचर्या में योग जरूर सर धन्यवाद
Doston aapaka prashn hai ki in dinon mein mahilaon mein ek jaati kee samasya badhane ke kya kaaran to sahee jaan lete hain ki kya hota hai ki ek maanasik rog hai jisamen rogee ko bachaane ke saath nakaaraatmak vichaar chinta ko dar ka aabhaas hota hai jise achaanak haath mein paseena aana aadi agar samay par isaka sahee ilaaj na kiya jae to yah bahut khataranaak ho sakata hai aur baakee ka kaaran bhee ban sakata hai aage chalakar rokana hai hit bhee kar sakata hai to hamaare rojamarra ke cheen mein dinacharya mein kuchh aisee chintaen saamaany aisee hotee hai jo maanyata enjaayatee aur dipreshan ka kaaran banatee hai kam kabhee isake nateeje jo hai vah bhayankar bhee ho sake jaise dost to naukaree haan aur pareeksha se pahale kee vaise hee bahut hee jyaada kuchh yuva log baithe nahin rakhate hain aur jaise hee bilon ka bhugataan kiya jaata hai kis desh mein paanee kee to chinta hotee aur aise chinta bahut hee kharaab maanee jaatee hai yah jo har kisee ko rn chukata karana hai ya kiste chukaana ya bilon ka bhugataan karana kaispiyan aaya logon ke beech khade hone kee ghabaraahat ya chintaaman aadhaar kaard kho gaya vaise oonchaee aavaara kutte se kat jaane ka danda ka danda kisee ke nidhan hone vaala dukh ya chinta hone ka kaaran ban jaata hai aur doosaree badhane ke kaaran hai aur bhee ghatanaen ho sakatee hai jo hamesha tanaav mein rakhatee ho jaise ki koee kaaryaalay ka tanaav gareebee kee mrtyu kadam apanee garlaphrend se brekap ya boyaphrend se brekap ityaadi any bhee kaee svaasthy sambandhee samasyaen ho sakatee hai jaise kisee bhee prakaar ka rog namaana rod shukriya hrday sambandhee rog bhee enjaayatee disordar ho sakata hai to log tanaav mein hai vah bhee isakee chapet mein aa sakate hain aur doston nashe ka sevan bhee ho sakata hai doston yah samasya ko badhaane ka yah bahut hee jyaada kaam kaaran hai jaise hee nashe ka asar khatm hoga samasya pahale se jyaada mahasoos hone lagatee to too to injoy hee disordar se nijaat paaya ja sakata hai lekin ise bilkul bhee halke mein nahin lena chaahie agar koee lakshan najar aae to phauran doktar kee salaah par ilaaj ke lie kisee propheshanal doktar ko dikhaen speshal draing saitika ka ilaaj dava kampaniyaan mile-jule istemaal se behad aasaanee se kiya ja sakata hai doston is ko karate hue rogee ko kabhee bhee akela na chhoda chhodee svasth aahaar len aur bhojan karane ka ek thaile banae sangeet sunen doston bayaan to jaroor hee karen pratidin 30 minat kam se kam bayaan avashy karen subah shaam sheyar karane kee aadat banaen aur apanee dinacharya mein yog jaroor sar dhanyavaad

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
गर्मियों में मास्क लगाने के क्या फायदे हैं?Garmiyon Mein Mask Lgane Ke Kya Fayde Hain
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
1:24
क्रीमी बीमारी के क्या फायदे दोस्तों वैसे तो गर्मियों में मास्क लगाना मुश्किल भरा काम है बहुत ज्यादा गर्मी में मस्त लगाना तरह-तरह की जो मस होते हैं तो उसमें हवा का प्रवेश वर्जित नहीं हो सकता है दोस्तों फिर भी उधर भी व्यक्ति को टर्न के रचाईया लगाई जाए तो अच्छा होता है स्वास्थ्य के लिए भी अच्छा है और एक्सपर्ट भी यही बताते हैं कि मस्त रखनी चाहिए को टर्न मोहित सर सोता है इसके कुछ देर बाद ही गुलाबी हो जाता है तो दोस्तों मस्त पहनी रखना कि मैं लिखित पैदा कर सकता है कि बार-बार में हो जाता है लेकिन इस वजह से गर्मियों में होटल के कई मात्र सूचना बहुत ही जरूरी है और दोस्तों गर्मियों में ही बात करने से ब्लू है नहीं लगेगी क्यों नहीं लगेगी और अपने मुंह की सुरक्षा भी रहेगी कई बार गर्मियों में लू से होंठ फट जाते हैं और होठों के आसपास खराब हो जाता है तो उनसे भी बचत होती है हम रहते हैं हमारा मुक्त जो है वह नंबर रहेगा तो फायदा भी है
Kreemee beemaaree ke kya phaayade doston vaise to garmiyon mein maask lagaana mushkil bhara kaam hai bahut jyaada garmee mein mast lagaana tarah-tarah kee jo mas hote hain to usamen hava ka pravesh varjit nahin ho sakata hai doston phir bhee udhar bhee vyakti ko tarn ke rachaeeya lagaee jae to achchha hota hai svaasthy ke lie bhee achchha hai aur eksapart bhee yahee bataate hain ki mast rakhanee chaahie ko tarn mohit sar sota hai isake kuchh der baad hee gulaabee ho jaata hai to doston mast pahanee rakhana ki main likhit paida kar sakata hai ki baar-baar mein ho jaata hai lekin is vajah se garmiyon mein hotal ke kaee maatr soochana bahut hee jarooree hai aur doston garmiyon mein hee baat karane se bloo hai nahin lagegee kyon nahin lagegee aur apane munh kee suraksha bhee rahegee kaee baar garmiyon mein loo se honth phat jaate hain aur hothon ke aasapaas kharaab ho jaata hai to unase bhee bachat hotee hai ham rahate hain hamaara mukt jo hai vah nambar rahega to phaayada bhee hai

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
बुखार आ जाए तो तुरंत कौन सा घरेलू उपाय किया जा सकता है?Bukhar Aa Jaye To Turant Kon Sa Gharelu Upay Kiya Ja Sakta Hai
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
2:01
कसूर तो आपका प्रेम है अगर एक पल भी खाना चाहिए तो तुरंत कौन सा घरेलू उपाय किया जा सकता है तो दोस्तों मानसून का मौसम चल रहा है यह अपने साथ कई बीमारियों को लेकर आता है ऐसे में हम सामान्य ज्ञान उसमें जो बीमारियां हैं जैसे सर्दी जुकाम बुखार इत्यादि की समस्या हो जाती है मौसम बदलता है तो इसके साथ ही ऐसा होने लगता है ऐसे में कई संक्रामक बीमारियां भी हमें गिर सकती है तो एकदम स्वस्थ होने के बाद भी अचानक से बीमार पड़ सकते हैं मौसम बदलने पर सर्दी जुकाम होने से फीवर भी हो सकता है ऐसे में कई दिनों तक खुद को अस्वस्थ महसूस कर सकते हैं तो उससे बचने के लिए थोड़ी यहां पर तरीके बताए जा रहे हैं जैसे कि अजवाइन का काढ़ा अजवाइन के फायदे कई है अगर आप अजवाइन से कांटा बनाते हैं तो यह न सिर्फ आपके रेस्पिरेटरी सिस्टम को बेहतर करना है बल्कि सर्दी जुकाम की काशीपुर से भी बचा सकता है इसके लिए एक एक गिलास में एक गिलास पानी डालकर उबाल लें और आधा चम्मच अजवाइन और थोड़ा दूध डालकर धीमी आंच पर पकाएं इसके बाद गुनगुना करके सेवन करें यह काडा पेट के स्वास्थ्य के लिए पेट के स्वास्थ्य के लिए भी काफी फायदेमंद होता है साथ ही खांसी की समस्या से भी राहत दिलाता दोस्तों दोस्तों तुलसी और अदरक का काढा तुलसी और अदरक दोनों आयुर्वेदिक जड़ी बूटियां स्वास्थ्य के लिए कमाल है दोनों से काढा बनाने के लिए दो गिलास पानी एक बर्तन में डालकर गर्म करें इसमें लोगों काली मिर्च अदरक इलायची तुलसी की पत्तियां और डालकर धीमी आंच में उबालें जब पानी आधा रह जाए तो गैस बंद कर दिया और इसे छानकर बुलबुला इसका सेवन करें यह भी सर्दी जुखाम और बुखार से राहत दिलाता है धन्यवाद
Kasoor to aapaka prem hai agar ek pal bhee khaana chaahie to turant kaun sa ghareloo upaay kiya ja sakata hai to doston maanasoon ka mausam chal raha hai yah apane saath kaee beemaariyon ko lekar aata hai aise mein ham saamaany gyaan usamen jo beemaariyaan hain jaise sardee jukaam bukhaar ityaadi kee samasya ho jaatee hai mausam badalata hai to isake saath hee aisa hone lagata hai aise mein kaee sankraamak beemaariyaan bhee hamen gir sakatee hai to ekadam svasth hone ke baad bhee achaanak se beemaar pad sakate hain mausam badalane par sardee jukaam hone se pheevar bhee ho sakata hai aise mein kaee dinon tak khud ko asvasth mahasoos kar sakate hain to usase bachane ke lie thodee yahaan par tareeke batae ja rahe hain jaise ki ajavain ka kaadha ajavain ke phaayade kaee hai agar aap ajavain se kaanta banaate hain to yah na sirph aapake respiretaree sistam ko behatar karana hai balki sardee jukaam kee kaasheepur se bhee bacha sakata hai isake lie ek ek gilaas mein ek gilaas paanee daalakar ubaal len aur aadha chammach ajavain aur thoda doodh daalakar dheemee aanch par pakaen isake baad gunaguna karake sevan karen yah kaada pet ke svaasthy ke lie pet ke svaasthy ke lie bhee kaaphee phaayademand hota hai saath hee khaansee kee samasya se bhee raahat dilaata doston doston tulasee aur adarak ka kaadha tulasee aur adarak donon aayurvedik jadee bootiyaan svaasthy ke lie kamaal hai donon se kaadha banaane ke lie do gilaas paanee ek bartan mein daalakar garm karen isamen logon kaalee mirch adarak ilaayachee tulasee kee pattiyaan aur daalakar dheemee aanch mein ubaalen jab paanee aadha rah jae to gais band kar diya aur ise chhaanakar bulabula isaka sevan karen yah bhee sardee jukhaam aur bukhaar se raahat dilaata hai dhanyavaad

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
गर्मियों से बचाव के लिए किस प्रकार के रस व जूस बनाकर पिए जा सकते हैं?Garmiyo Se Bachav Ke Lie Kis Prakar Ke Ras Va Juice Bnakar Piye Ja Sakte Hain
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
2:29
प्रदूषण का प्रश्न है कर्मियों से बचाव के लिए किस प्रकार के रस को जूस बनाकर किए जा सकते हैं घर में गर्मी का मौसम दिनभर सुस्ती और खाने-पीने का दिल न तोड़ना और पानी से क्लास लगा तो दोस्तों को इसके अलावा कोई छोटी मोटी तो समझ से तो इन दिनों बेहद आम है बेहद आम है लेकिन सभी से बचने के लिए जरूरी है चुस्ती फुर्ती और दिनचर्या में बदलाव भी तो आइए जानते हैं कुछ टिप्स दो कि आपकी गर्मी की परेशानियों से आपको राहत दिलाई गर्मी में सबसे महत्वपूर्ण और पहला टिप्स तो यही है कि आप धूप में निकलते वक्त सुरक्षा का पूरा ध्यान रखें सुबह 10:00 से शाम 4:00 बजे के बीच धूप में जाने से बचें अगर पास जाना ही पड़े तो शरीर को पूरी तरह से ठप कर कच्चा प्याज साथ में रखकर ही बाहर निकले सलमान और सरकारी पेय पदार्थ ज्यादा लेनी चाहिए जैसे कि गर्मी में तो गर्मी के मौसम में ठोस आहार की बजाय तरल पदार्थ जैसे ठंडा पानी नींबू पानी नींबू सिकंदरी सरवन गिरी का पानी ज्यादा मात्रा में लेकर ऊर्जा का स्तर भी बना रहेगा तो तो ठंडी तासीर वाले फल खा सकते हैं गर्मी के दुष्परिणाम से बचने के लिए ठंडी तासीर के खाद्य पदार्थों का सेवन करें केरी का पना कामना करते प्यास को भोजन में शामिल करें खाद्य पदार्थ को गर्म ठंडे के आधार पर नहीं बल्कि उसके तासीर के आधार पर पहुंचाने जैसे आइसक्रीम कोल्ड ड्रिंक और बर्फ का गोला ठंडा होने पर भी शरीर की गर्मी बढ़ जाते हैं दोस्तों कल का ताजा और जल्दी पचने वाला जो पूछा है वह कम से कम खाएं ज्यादा पीले फल जैसे कि तरबूज संतरा करने से पेट भरेगा और यह शरीर में पानी की जरूरत पड़े तो जरूर करें और दोस्तों शारीरिक संपर्क करें और नींद पूरी लगे तो दोस्तों गर्मियों से बचने के लिए यह सबसे कारगर उपाय है धन्यवाद
Pradooshan ka prashn hai karmiyon se bachaav ke lie kis prakaar ke ras ko joos banaakar kie ja sakate hain ghar mein garmee ka mausam dinabhar sustee aur khaane-peene ka dil na todana aur paanee se klaas laga to doston ko isake alaava koee chhotee motee to samajh se to in dinon behad aam hai behad aam hai lekin sabhee se bachane ke lie jarooree hai chustee phurtee aur dinacharya mein badalaav bhee to aaie jaanate hain kuchh tips do ki aapakee garmee kee pareshaaniyon se aapako raahat dilaee garmee mein sabase mahatvapoorn aur pahala tips to yahee hai ki aap dhoop mein nikalate vakt suraksha ka poora dhyaan rakhen subah 10:00 se shaam 4:00 baje ke beech dhoop mein jaane se bachen agar paas jaana hee pade to shareer ko pooree tarah se thap kar kachcha pyaaj saath mein rakhakar hee baahar nikale salamaan aur sarakaaree pey padaarth jyaada lenee chaahie jaise ki garmee mein to garmee ke mausam mein thos aahaar kee bajaay taral padaarth jaise thanda paanee neemboo paanee neemboo sikandaree saravan giree ka paanee jyaada maatra mein lekar oorja ka star bhee bana rahega to to thandee taaseer vaale phal kha sakate hain garmee ke dushparinaam se bachane ke lie thandee taaseer ke khaady padaarthon ka sevan karen keree ka pana kaamana karate pyaas ko bhojan mein shaamil karen khaady padaarth ko garm thande ke aadhaar par nahin balki usake taaseer ke aadhaar par pahunchaane jaise aaisakreem kold drink aur barph ka gola thanda hone par bhee shareer kee garmee badh jaate hain doston kal ka taaja aur jaldee pachane vaala jo poochha hai vah kam se kam khaen jyaada peele phal jaise ki tarabooj santara karane se pet bharega aur yah shareer mein paanee kee jaroorat pade to jaroor karen aur doston shaareerik sampark karen aur neend pooree lage to doston garmiyon se bachane ke lie yah sabase kaaragar upaay hai dhanyavaad

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
मूर्ति अथवा मंदिर की परिक्रमा करने से हमें क्या लाभ होता है?Murti Athva Mandir Ki Parikrama Karne Se Humein Kya Laabh Hota Hai
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
2:48
नमस्कार दोस्तों आपका प्रश्न है मूर्ति अथवा मंदिर की परिक्रमा करने से हमें क्या लाभ होता है दोस्तों हिंदू पूजा पद्धति में देवी देवता की परिक्रमा करने का विधान है इसलिए मंदिरों में परिक्रमा पथ बनाए जाते हैं सिर्फ देवी देवताओं की ही नहीं पीपल अस्वस्थ है तुलसी समेत अन्य सुसु प्रतीक पेड़ों के अलावा कुछ न दिया है जैसे गंगा नर्मदा कुछ धार्मिक स्थल है तो आधी की परिक्रमा की जाती है क्योंकि सनातन धर्म में प्रकृति को भी साक्षात देव के रूप में माना गया क्यों जरूरी है और यह किस लिए की जाती है दोस्तों इंडिया डॉट कॉम के अनुसार हमने जाना लोग कहते हैं की परिक्रमा करने जरूरी है लेकिन क्या कभी आपने सोचा है कि ऐसा क्यों दोस्तों इसे संस्कृत में प्रदक्षिणा कहा जाता है इसे प्रभु की बस में करने का माध्यम माना गया तो ऋग्वेद में प्रदर्शना के बारे में विस्तृत जानकारी मिलती है ऋग्वेद के अनुसार प्रदक्षिणा शब्द को दो भागों में पूरा और कक्षा में विभाजित किया गया इस शब्द में मौजूद ब्रा से तात्पर्य है आगे बढ़ना और दक्षिणा मतलब चारों दिशाओं में से एक दक्षिण की दिशा ज्ञान की परिक्रमा का अर्थ हुआ दक्षिण दिशा की ओर बढ़ते हुए देवी देवता की उपासना करें दोस्तों यदि आप परिक्रमा करने के लाभ जानेंगे तो पसंद होंगे परिक्रमा तो भले ही आप करते होंगे लेकिन शायद ही इस से मिलने वाले आध्यात्मिक एवं शारीरिक फायदों को जानते होंगे दोस्तों परिक्रमा करने से हमारे स्वास्थ्य को भी लाभ मिलता है यूं तो हम मानते हैं कि प्रत्येक धार्मिक स्थल का वातावरण काफी सुखद होता है लेकिन इसे हम मात्र श्रद्धा का नाम देते हैं किंतु वैज्ञानिकों ने इस बात को काफी सर से समझा एवं समझाया भी है उनके अनुसार प्रत्येक धार्मिक स्थल पर कुछ विशेष प्रकार की ऊर्जा होती है यह ऊर्जा मंत्रों एवं धार्मिक देशों के उच्चारण से पैदा होती है यही कारण है कि किसी भी धार्मिक स्थल पर जाकर मानसिक शांति मिलती है परिक्रमा से मिलने वाला फायदा भी इसी तथ्य से जुड़ा हुआ है जो भी व्यक्ति किसी धार्मिक स्थान की परिक्रमा करता है उसे वहां मौजूद सकारात्मक ऊर्जा की प्राप्ति होती है यह उसका हमें जीवन में आगे बढ़ने की शक्ति प्रदान करती हैं इस तरह न केवल आध्यात्मिक वरन मनुष्य के शरीर को भी वैज्ञानिक रूप से लाभ देती है धन्यवाद
Namaskaar doston aapaka prashn hai moorti athava mandir kee parikrama karane se hamen kya laabh hota hai doston hindoo pooja paddhati mein devee devata kee parikrama karane ka vidhaan hai isalie mandiron mein parikrama path banae jaate hain sirph devee devataon kee hee nahin peepal asvasth hai tulasee samet any susu prateek pedon ke alaava kuchh na diya hai jaise ganga narmada kuchh dhaarmik sthal hai to aadhee kee parikrama kee jaatee hai kyonki sanaatan dharm mein prakrti ko bhee saakshaat dev ke roop mein maana gaya kyon jarooree hai aur yah kis lie kee jaatee hai doston indiya dot kom ke anusaar hamane jaana log kahate hain kee parikrama karane jarooree hai lekin kya kabhee aapane socha hai ki aisa kyon doston ise sanskrt mein pradakshina kaha jaata hai ise prabhu kee bas mein karane ka maadhyam maana gaya to rgved mein pradarshana ke baare mein vistrt jaanakaaree milatee hai rgved ke anusaar pradakshina shabd ko do bhaagon mein poora aur kaksha mein vibhaajit kiya gaya is shabd mein maujood bra se taatpary hai aage badhana aur dakshina matalab chaaron dishaon mein se ek dakshin kee disha gyaan kee parikrama ka arth hua dakshin disha kee or badhate hue devee devata kee upaasana karen doston yadi aap parikrama karane ke laabh jaanenge to pasand honge parikrama to bhale hee aap karate honge lekin shaayad hee is se milane vaale aadhyaatmik evan shaareerik phaayadon ko jaanate honge doston parikrama karane se hamaare svaasthy ko bhee laabh milata hai yoon to ham maanate hain ki pratyek dhaarmik sthal ka vaataavaran kaaphee sukhad hota hai lekin ise ham maatr shraddha ka naam dete hain kintu vaigyaanikon ne is baat ko kaaphee sar se samajha evan samajhaaya bhee hai unake anusaar pratyek dhaarmik sthal par kuchh vishesh prakaar kee oorja hotee hai yah oorja mantron evan dhaarmik deshon ke uchchaaran se paida hotee hai yahee kaaran hai ki kisee bhee dhaarmik sthal par jaakar maanasik shaanti milatee hai parikrama se milane vaala phaayada bhee isee tathy se juda hua hai jo bhee vyakti kisee dhaarmik sthaan kee parikrama karata hai use vahaan maujood sakaaraatmak oorja kee praapti hotee hai yah usaka hamen jeevan mein aage badhane kee shakti pradaan karatee hain is tarah na keval aadhyaatmik varan manushy ke shareer ko bhee vaigyaanik roop se laabh detee hai dhanyavaad

#धर्म और ज्योतिषी

Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
2:59
उसका दोस्तों आप का प्रेस है मस्तिष्क के स्वास्थ्य और तंदुरुस्ती के लिए किस प्रकार के व्यायाम की आवश्यकता होती हैं दोस्तों आइए जानते हैं patrika.com के पोस्ट के अनुसार मस्तिष्क शरीर का अद्भुत है यह हमें सोचने व समझने की शक्ति देता है यह कंप्यूटर से भी तेज प्रतिक्रिया देता है बीपी पल्स रेट और सांस लेने की प्रक्रिया के अलावा अन्य अंगों को भी नियंत्रित करता है मस्तिष्क का दायां हिस्सा शरीर के बाएं भाग तथा बायां हिस्सा शरीर के दाएं भाग को नियंत्रित करता है मस्तिष्क से जुड़ी माइग्रेन सर्वाइकल स्पॉन्डलोसिस ब्रेन ट्यूमर अल्जाइमर एटीट्यूड सीखने इंजरी मिर्गी बेनहैम हेमरेज ब्रेन हेमरेज ब्रेन स्ट्रोक और नोटिस की बीमारियां होती तो तुझको यह हो ही ना इसके लिए मैं बहुत ही ज्यादा सावधानी बरतनी जरूरी है जैसे तनाव ना लें बीपी शुगर पर कंट्रोल रखें 200 बीपी मधुमेह और कोलेस्ट्रॉल के रोगियों को ब्रेन स्ट्रोक होने की आशंका ज्यादा रहती है अब कम उम्र के युवाओं को विश्व की दिक्कत हो रही है ऐसे में तनाव नहीं लेना चाहिए लोगों के बीच रहे ट्रेन स्टॉप होने पर मछली मरीज को 3 घंटे में सीमेंट थेरेपी भी सुविधा युक्त अस्पताल में भर्ती कराना चाहिए दोस्तों पुरुष के मस्तिष्क का वजन 1424 ग्राम और महिला का 1565 ग्राम होता है इसमें 75% जैसे ज्यादा पानी 10% और 8% प्रोटीन से बना होता है तो तो आपको जयपुर से बचना चाहिए कल फूड खाने से माइग्रेन के साथ शारीरिक दिक्कतें भी बढ़ता गलत खान-पान और जीवनशैली से लोगों को सर्वाइकल स्पांडिलाइसिस की दिक्कत सबसे ज्यादा हो रही है तो संतुलित खानपान के साथ सक्रिय जिंदगी अपनानी चाहिए और 200 तक संभव होता है व्यक्ति को स्वस्थ रखने के लिए तंदुरुस्त रखने के लिए कम से कम 5 घंटे सोना जरूरी और घंटे अलर्ट नोट पर काम करने से इसकी क्षमता प्रभावित नहीं होती है कौन का प्रयोग करते समय दिमाग अलर्ट मोड पर रहता है 8 घंटे से अधिक रहने से गुस्सा बढ़ता है तो सुधार रहे सबके दिल का अच्छा तरीका यही है कि आप पर्याप्त नींद लें और यदि बहुत ज्यादा गुस्सा आ रहा है या कुछ ऐसी स्थिति उत्पन्न हो जाती है तो आप लोगों के बीच रहना शुरू कर दें क्योंकि लोगों के बीच रहने से हमारे गुस्से पर कंट्रोल रहता है और कुछ अन्य बातों में हमारा वह हो जाता है तो दोस्तों इस प्रकार से मस्तिष्क का नाम है एक तरह से फ्रेश रहना है तरोताजा रहना है तो तरोताजा के लिए पर्याप्त नींद बहुत ही जरूरी
Usaka doston aap ka pres hai mastishk ke svaasthy aur tandurustee ke lie kis prakaar ke vyaayaam kee aavashyakata hotee hain doston aaie jaanate hain patrik.chom ke post ke anusaar mastishk shareer ka adbhut hai yah hamen sochane va samajhane kee shakti deta hai yah kampyootar se bhee tej pratikriya deta hai beepee pals ret aur saans lene kee prakriya ke alaava any angon ko bhee niyantrit karata hai mastishk ka daayaan hissa shareer ke baen bhaag tatha baayaan hissa shareer ke daen bhaag ko niyantrit karata hai mastishk se judee maigren sarvaikal spondalosis bren tyoomar aljaimar eteetyood seekhane injaree mirgee benahaim hemarej bren hemarej bren strok aur notis kee beemaariyaan hotee to tujhako yah ho hee na isake lie main bahut hee jyaada saavadhaanee baratanee jarooree hai jaise tanaav na len beepee shugar par kantrol rakhen 200 beepee madhumeh aur kolestrol ke rogiyon ko bren strok hone kee aashanka jyaada rahatee hai ab kam umr ke yuvaon ko vishv kee dikkat ho rahee hai aise mein tanaav nahin lena chaahie logon ke beech rahe tren stop hone par machhalee mareej ko 3 ghante mein seement therepee bhee suvidha yukt aspataal mein bhartee karaana chaahie doston purush ke mastishk ka vajan 1424 graam aur mahila ka 1565 graam hota hai isamen 75% jaise jyaada paanee 10% aur 8% proteen se bana hota hai to to aapako jayapur se bachana chaahie kal phood khaane se maigren ke saath shaareerik dikkaten bhee badhata galat khaan-paan aur jeevanashailee se logon ko sarvaikal spaandilaisis kee dikkat sabase jyaada ho rahee hai to santulit khaanapaan ke saath sakriy jindagee apanaanee chaahie aur 200 tak sambhav hota hai vyakti ko svasth rakhane ke lie tandurust rakhane ke lie kam se kam 5 ghante sona jarooree aur ghante alart not par kaam karane se isakee kshamata prabhaavit nahin hotee hai kaun ka prayog karate samay dimaag alart mod par rahata hai 8 ghante se adhik rahane se gussa badhata hai to sudhaar rahe sabake dil ka achchha tareeka yahee hai ki aap paryaapt neend len aur yadi bahut jyaada gussa aa raha hai ya kuchh aisee sthiti utpann ho jaatee hai to aap logon ke beech rahana shuroo kar den kyonki logon ke beech rahane se hamaare gusse par kantrol rahata hai aur kuchh any baaton mein hamaara vah ho jaata hai to doston is prakaar se mastishk ka naam hai ek tarah se phresh rahana hai tarotaaja rahana hai to tarotaaja ke lie paryaapt neend bahut hee jarooree

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
जिम में कसरत करने के बाद दो-चार दिन तक पूरा शरीर दुखता क्यों है?Gym Mein Kasrat Karne Ke Baad Do Chaar Din Tak Poora Shareer Dukhta Kyo Hai
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
1:49
उसका रास्ता आपका प्रश्न है जिम में कसरत करने के बाद दो-चार दिन तक पूरा शरीर दुखता क्यों है तू तो जिम में कसरत करने के दो-चार दिन बाद यानी कि इसका कारण है कि आप पहले कसरत नहीं करते थे या आयोग आ गए आप जो भी आप नहीं करते तो आप आराम से रहा करते थे लेकिन जब से जिम में आपने जाना शुरु किया और दो-चार दिन हुए हैं तो इसका मतलब है आप थक गए हैं शांत हो गए हैं क्लांत हो गए हैं तो थका हुआ होने के कारण में और कुछ दिनों तक सिर दुखता है जकड़न आ जाती है क्योंकि मांसपेशियों में जोड़ों में खिंचाव आता है तो 4 दिनों में जैसे ही हम कसरत करते हैं तो अपनी मांसपेशियों में खिंचाव आना शुरू हो जाता है तो जिसकी वजह से जोड़ या मांसपेशियां प्रभावित होते हैं दो-चार दिनों के लिए कुछ दिनों के लिए इसकी वजह से यानी कि शांत होने की वजह से होने की वजह से कसरत करने के बाद और आपका शरीर दुखता है लेकिन इसमें एक घबराने की कोई बात नहीं है क्योंकि जो पहले शुरुआत करता है तो इसमें जोड़ों में दर्द या मांसपेशियों में खिंचाव होने की वजह से ऐसा हो सकता है लेकिन जैसे धीरे-धीरे आप ऐसा करते जाएंगे कसरत जिम सेंटर में करते जाएंगे तो आपका जो शरीर है वह उनके अनुकूल हो जाएगा और आप रोजाना की कसरत के बाद थके हुए नहीं होंगे और शरीर भी नहीं दिखेगा लेकिन दोस्तों एक ध्यान रखने योग्य यह बात है कि जो भी आप नफरत करो तो उसको सबसे पहले उसकी जो समय सीमा है वह थोड़ी रखो ताकि एकदम ज्यादा करने से बुरा प्रभाव पूरा अपने शरीर पर प्रभाव न पड़े धन्यवाद
Usaka raasta aapaka prashn hai jim mein kasarat karane ke baad do-chaar din tak poora shareer dukhata kyon hai too to jim mein kasarat karane ke do-chaar din baad yaanee ki isaka kaaran hai ki aap pahale kasarat nahin karate the ya aayog aa gae aap jo bhee aap nahin karate to aap aaraam se raha karate the lekin jab se jim mein aapane jaana shuru kiya aur do-chaar din hue hain to isaka matalab hai aap thak gae hain shaant ho gae hain klaant ho gae hain to thaka hua hone ke kaaran mein aur kuchh dinon tak sir dukhata hai jakadan aa jaatee hai kyonki maansapeshiyon mein jodon mein khinchaav aata hai to 4 dinon mein jaise hee ham kasarat karate hain to apanee maansapeshiyon mein khinchaav aana shuroo ho jaata hai to jisakee vajah se jod ya maansapeshiyaan prabhaavit hote hain do-chaar dinon ke lie kuchh dinon ke lie isakee vajah se yaanee ki shaant hone kee vajah se hone kee vajah se kasarat karane ke baad aur aapaka shareer dukhata hai lekin isamen ek ghabaraane kee koee baat nahin hai kyonki jo pahale shuruaat karata hai to isamen jodon mein dard ya maansapeshiyon mein khinchaav hone kee vajah se aisa ho sakata hai lekin jaise dheere-dheere aap aisa karate jaenge kasarat jim sentar mein karate jaenge to aapaka jo shareer hai vah unake anukool ho jaega aur aap rojaana kee kasarat ke baad thake hue nahin honge aur shareer bhee nahin dikhega lekin doston ek dhyaan rakhane yogy yah baat hai ki jo bhee aap napharat karo to usako sabase pahale usakee jo samay seema hai vah thodee rakho taaki ekadam jyaada karane se bura prabhaav poora apane shareer par prabhaav na pade dhanyavaad

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
मलेरिया रोग की एक कारक लक्षण और निवारण क्या होते हैं?Malaria Rog Ki Ek Karak Lakshan Aur Nivaran Kya Hote Hain
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
3:32
नमस्कार दोस्तों आपका प्रश्न है मलेरिया रोग की के कारण लक्षण और निवारण क्या होती है तो यह दोस्तों जानते हैं न्यूज़ नेशन डॉट कॉम की एक पोस्ट के अनुसार दोस्तों 25 अप्रैल को पूरी दुनिया में विश्व मलेरिया दिवस मनाया जाता है मलेरिया प्लाज्मोडियम परजीवी के कारण होने वाला एग्जाम निवारक रोग है यह लो प्लीज मच्छर के काटने से मनुष्य में संचालित होता है जब संक्रमित मच्छर मानव को काटता है तो परजीवी लाल रक्त कोशिकाओं को संक्रमित को नष्ट करने से पहले मेजबान के लिवर में मल्टीप्लाई हो जाता है दोस्तों मेरी मलेरिया का जो लक्षण होता है उनके वह इस प्रकार से है देश जैसे कि गंभीर मलेरिया के लक्षणों में बुखार और ठंड लगना बुखार आना सिर दर्द होना वीडियो ना फीवर कम होने पर तेज पसीना व थकान होना डायरिया होना सांस लेने में तकलीफ होना बेहोशी जैसी स्थिति मेरी सांस लेने में परेशानी है सामान्य रक्त स्त्राव और एनीमिया के लक्षण और पीलिया सा मेरे दोस्तों मलेरिया से बचने के उपाय आइए जानते हैं क्या होते हैं जमा हुआ पानी इन मच्छरों को पनपने के लिए सबसे अच्छी जगह मलेरिया से बचने के लिए टूटे गमले टायर कूलर आदि में पानी जमा न होने दें विश्व मलेरिया दिवस 2018 के मौके पर के 5 तरीकों से आप इन जानलेवा बीमारी से बचाव कर सकते दोस्तों मैंने इसका जिक्र किया है क्योंकि 2018 में मलेरिया जो यह जानलेवा बीमारी उत्पन्न हुई थी एक बार तो उस पर इसका बचाव किया गया था और उस वक्त घर घर में मलेरिया के मच्छर हो गई थी उसको विशेष दोनों के द्वारा मारा गया था घर घर में दोस्त देवेंद्र तेरे को शायद रोला और नीलगिरी के तेलों के साथ मिलाकर स्प्रे के रूप में इस्तेमाल करें आप इसके लिक्विड को अभी फिर में डालकर इस्तेमाल कर सकते हैं दोस्तों भारत के सबसे मूल्यवान होती है पौधे में से एक ने इन मच्छरों का आतंक को कम करने में बेहद मददगार है पाचन और गैस को रोकने के अलावा मच्छरों से लड़ने के लिए अजवाइन या कैरम के बीच का इस्तेमाल करें दोस्त और सरसों के तेल में मुट्ठी भर अजवाइन के बीज मिलाएं अजवाइन और सरसों की तेल सुगंध मच्छरों को दूर रखने में मदद करती है उनके कंधे मच्छर सेंड करने में सक्षम नहीं है लहसुन में लारवा लारवा ही साइड गुण होते हैं जिन्हें मच्छरों को दूर रखने के लिए रखा जाता है लहसुन की कुंज गली आकृष्ट करें और इसे थोड़ी थोड़ी देर तक पानी में उबालें इसे अपने घर के चारो और सफाई करें तो तू गेंदे के फूल के पौधे को अपने घर में लगाएं गेंदे के फूलों की खुशबू से आपका घर सुगंध से भरा रहेगा और मच्छर नहीं होंगे इसके अलावा दो तो मच्छरों से बचने के लिए कपूर की टिकिया को जलाकर कमरे के कोने में रख दे बच्चों के दार लेवा टैक्स से बचने के लिए उपाय काफी मददगार है मच्छरदानी में सोए और घर की दीवारों पर इंसेक्ट आए सारी इंसेक्टिसाइड डालें इस प्रकार से मलेरिया होने के कारण हो सके तो उनको निवारण किया जा सकता है मच्छरों पर रोकथाम की जा सकती है धन्यवाद
Namaskaar doston aapaka prashn hai maleriya rog kee ke kaaran lakshan aur nivaaran kya hotee hai to yah doston jaanate hain nyooz neshan dot kom kee ek post ke anusaar doston 25 aprail ko pooree duniya mein vishv maleriya divas manaaya jaata hai maleriya plaajmodiyam parajeevee ke kaaran hone vaala egjaam nivaarak rog hai yah lo pleej machchhar ke kaatane se manushy mein sanchaalit hota hai jab sankramit machchhar maanav ko kaatata hai to parajeevee laal rakt koshikaon ko sankramit ko nasht karane se pahale mejabaan ke livar mein malteeplaee ho jaata hai doston meree maleriya ka jo lakshan hota hai unake vah is prakaar se hai desh jaise ki gambheer maleriya ke lakshanon mein bukhaar aur thand lagana bukhaar aana sir dard hona veediyo na pheevar kam hone par tej paseena va thakaan hona daayariya hona saans lene mein takaleeph hona behoshee jaisee sthiti meree saans lene mein pareshaanee hai saamaany rakt straav aur eneemiya ke lakshan aur peeliya sa mere doston maleriya se bachane ke upaay aaie jaanate hain kya hote hain jama hua paanee in machchharon ko panapane ke lie sabase achchhee jagah maleriya se bachane ke lie toote gamale taayar koolar aadi mein paanee jama na hone den vishv maleriya divas 2018 ke mauke par ke 5 tareekon se aap in jaanaleva beemaaree se bachaav kar sakate doston mainne isaka jikr kiya hai kyonki 2018 mein maleriya jo yah jaanaleva beemaaree utpann huee thee ek baar to us par isaka bachaav kiya gaya tha aur us vakt ghar ghar mein maleriya ke machchhar ho gaee thee usako vishesh donon ke dvaara maara gaya tha ghar ghar mein dost devendr tere ko shaayad rola aur neelagiree ke telon ke saath milaakar spre ke roop mein istemaal karen aap isake likvid ko abhee phir mein daalakar istemaal kar sakate hain doston bhaarat ke sabase moolyavaan hotee hai paudhe mein se ek ne in machchharon ka aatank ko kam karane mein behad madadagaar hai paachan aur gais ko rokane ke alaava machchharon se ladane ke lie ajavain ya kairam ke beech ka istemaal karen dost aur sarason ke tel mein mutthee bhar ajavain ke beej milaen ajavain aur sarason kee tel sugandh machchharon ko door rakhane mein madad karatee hai unake kandhe machchhar send karane mein saksham nahin hai lahasun mein laarava laarava hee said gun hote hain jinhen machchharon ko door rakhane ke lie rakha jaata hai lahasun kee kunj galee aakrsht karen aur ise thodee thodee der tak paanee mein ubaalen ise apane ghar ke chaaro aur saphaee karen to too gende ke phool ke paudhe ko apane ghar mein lagaen gende ke phoolon kee khushaboo se aapaka ghar sugandh se bhara rahega aur machchhar nahin honge isake alaava do to machchharon se bachane ke lie kapoor kee tikiya ko jalaakar kamare ke kone mein rakh de bachchon ke daar leva taiks se bachane ke lie upaay kaaphee madadagaar hai machchharadaanee mein soe aur ghar kee deevaaron par insekt aae saaree insektisaid daalen is prakaar se maleriya hone ke kaaran ho sake to unako nivaaran kiya ja sakata hai machchharon par rokathaam kee ja sakatee hai dhanyavaad

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
रॉकेट और मिसाइल में क्या अंतर है?Rocket Aur Missile Me Kya Antar Hai
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
1:01
नमस्कार दोस्तों आपका प्रश्न है रोकेट और मिसाइल में क्या वही दोस्तों सत्याग्रह डॉट कॉम की एक पोस्ट के अनुसार जानते हैं यह जानकारी लेते हैं मोटे तौर पर देखा जाए तो दोनों राष्ट्रों में फर्क यह है कि रॉकेट दिशाहीन होते हैं और इस वजह से अपने लक्ष्य से भटक जाने की संभावना है उधर मिसाइल या प्रक्षेपास्त्र में दिशा सूचक यंत्र लगा होता है जिसे वे निश्चित दिशा में आगे बढ़ती है इस वजह से उसके लक्ष्य को भेदने के ज्यादा आसार होते हैं इसको सर्कुलर एयर प्रोबेबल एन इ सी इ पी कहते हैं कि वे सीमा है जिसके तहत दागी गई कुल मिसाइलों की आधी संख्या अपने लक्ष्य को भेज देती है या उसकी मम्मी गिरती है खाड़ी युद्ध में इराक की स्कर्ट मिसाइलों का भारी कौन सा पर इनका सीएबी 1 किलोमीटर था यानी 50 भेज दी मिसाइलें ही लक्ष्य से 1 किलोमीटर की आज तक की दूरी तक बैठक सकती थी धन्यवाद
Namaskaar doston aapaka prashn hai roket aur misail mein kya vahee doston satyaagrah dot kom kee ek post ke anusaar jaanate hain yah jaanakaaree lete hain mote taur par dekha jae to donon raashtron mein phark yah hai ki roket dishaaheen hote hain aur is vajah se apane lakshy se bhatak jaane kee sambhaavana hai udhar misail ya prakshepaastr mein disha soochak yantr laga hota hai jise ve nishchit disha mein aage badhatee hai is vajah se usake lakshy ko bhedane ke jyaada aasaar hote hain isako sarkular eyar probebal en i see i pee kahate hain ki ve seema hai jisake tahat daagee gaee kul misailon kee aadhee sankhya apane lakshy ko bhej detee hai ya usakee mammee giratee hai khaadee yuddh mein iraak kee skart misailon ka bhaaree kaun sa par inaka seeebee 1 kilomeetar tha yaanee 50 bhej dee misailen hee lakshy se 1 kilomeetar kee aaj tak kee dooree tak baithak sakatee thee dhanyavaad

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
एटीएम मशीन में error code 60 आने पर क्या करें?Eteeem Masheen Mein Airror Chodai 60 Aane Par Kya Karen
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
1:40
नमस्कार दोस्तों आपका प्रश्न है एटीएम मशीन में हीरो स्पोर्ट्स 160 आने पर क्या करें यदि शिफ्ट में जीरो सात नंबर संख्या आई है तो इसका मतलब है यूसेज लिमिट खत्म यानी कि यूसेज लिमिट एक्सीड हो चुके हैं यानी कि आपने कार्ड से पैसे निकालने की लिमिट यूज कर ली दोस्तों किसी भी बैंक के एटीएम मशीन द्वारा निकाला हुआ निकला हुआ रिसिप्ट में एयरपोर्ट के पीछे का कारण होता है वह सेमी होता है इसलिए आपका खाता किसी भी बैंक में क्यों ना हो आपके रिसिप्ट में आए एरर कोड का मतलब हमारे द्वारा बताया गया कारण भी होता है तो हम खुद ही करते हैं दोस्तों इसके अलावा कुछ और भी नंबर है जिससे कि यदि रिसिप्ट में जीरो 58 नंबर की संख्या दी गई है तो इसका मतलब आप के खाते में इन्हीं स्पीच एंड फाइंड है और जीरो पचपन नंबर की संख्या दिखाई है तो इसका मतलब आपका कार्ड इन एक्टिव है और यदि रिसिप्ट में जीरो 53 की संख्या या तो इसका मतलब आपने गलत कमेंट किया है या फिर 51 नंबर संख्या है तो इसका मतलब आपका कार्ड एक्सपायर है और यदि सिर्फ में जीरो 50 नंबर की संख्या है तो इसका मतलब आपका यह काम बंद है और जरूरत हीरो जीरो गेम 30 000 कोड आया है तो इसका मतलब आप का ट्रांजैक्शन सक्सेसफुली तो दोस्तों इस प्रकार से एक बार फिर से बता देते हैं कि इस नंबर की सिम चाहिए तो इसका मतलब यूसेज लिमिट खत्म हो चुकी है
Namaskaar doston aapaka prashn hai eteeem masheen mein heero sports 160 aane par kya karen yadi shipht mein jeero saat nambar sankhya aaee hai to isaka matalab hai yoosej limit khatm yaanee ki yoosej limit ekseed ho chuke hain yaanee ki aapane kaard se paise nikaalane kee limit yooj kar lee doston kisee bhee baink ke eteeem masheen dvaara nikaala hua nikala hua risipt mein eyaraport ke peechhe ka kaaran hota hai vah semee hota hai isalie aapaka khaata kisee bhee baink mein kyon na ho aapake risipt mein aae erar kod ka matalab hamaare dvaara bataaya gaya kaaran bhee hota hai to ham khud hee karate hain doston isake alaava kuchh aur bhee nambar hai jisase ki yadi risipt mein jeero 58 nambar kee sankhya dee gaee hai to isaka matalab aap ke khaate mein inheen speech end phaind hai aur jeero pachapan nambar kee sankhya dikhaee hai to isaka matalab aapaka kaard in ektiv hai aur yadi risipt mein jeero 53 kee sankhya ya to isaka matalab aapane galat kament kiya hai ya phir 51 nambar sankhya hai to isaka matalab aapaka kaard eksapaayar hai aur yadi sirph mein jeero 50 nambar kee sankhya hai to isaka matalab aapaka yah kaam band hai aur jaroorat heero jeero gem 30 000 kod aaya hai to isaka matalab aap ka traanjaikshan saksesaphulee to doston is prakaar se ek baar phir se bata dete hain ki is nambar kee sim chaahie to isaka matalab yoosej limit khatm ho chukee hai

#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker
मोबाइल में पानी चला जाए तो क्या करें?Mobile Mein Paani Chala Jaye To Kya Karein
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
3:30
कर दोस्तों आपका प्रश्न है मोबाइल में पानी चला जाए तो क्या करें दोस्तों फोन आज के समय में सबसे ज्यादा यूज किया जाने वाला डिवाइस है लगभग हर कोई आज के समय में मोबाइल यूज करते हैं लेकिन कभी-कभी ऐसा भी हो जाता है कि हमारे फोन में पानी घुस जाता है या फिर हमारा फोन पानी में गिर जाता है तो आपका फोन खराब हो जाता है या नहीं की फोन पानी की वजह से खराब हो जाता ऐसी कंडीशन पर आपको समझ में नहीं आता कि फोन को ठीक करने के लिए क्या करें पानी में गिरे मोबाइल के साथ और कुछ भी नहीं करना चाहिए तभी हमारे फोन में पानी घुस जाता है तो फोन अपने आप बंद हो जाता है और स्विच ऑन नहीं होता है और कभी-कभी ऐसा भी हो जाता है कि फोन में हल्का सा लाइट जलने लगता है यानी पुलिंग करने लगता है और हमारा फोन भी डर नहीं लगता है तो ऐसे में बहुत से लोग फोन में पानी घुस जाने की वजह से छोटी-छोटी गलतियां करते हैं जैसे कि मोबाइल को ऑन करना इत्यादि जिनकी वजह से उनका फोन पूरी तरह से खराब हो जाता है मैंने फोन के अंदर सोर्स तो आपको यह गलती नहीं करना है कुछ तो सबसे पहले फोन को स्विच ऑफ कर दें अगर आप फोन में आपके फोन में पानी चला जाता है तो सबसे पहले आप को स्विच ऑफ करना है और बैटरी को निकाल देना ऐसा इसलिए क्योंकि पानी में मोबाइल खो जाने के बाद बहुत से लोग अपने फोन को स्विच ऑन करने की कोशिश करती है यह सबसे बड़ी गलती है जो दादा ज्यादातर लोग करते हैं दोस्तों अगर आपका फोन पानी में जाता है तो अब गलती से भी फोन को ऑन करने की कोशिश ना करें होने के लिए टॉनिक डिवाइस है अगर आप उनको पानी कुछ नहीं पर फोन करने की कोशिश करेंगे तो आपके फोन में शॉर्ट सर्किट हो सकता है जिससे आपका फोन कोई खराब हो सकता है यह गलतियां नहीं करनी चाहिए दोस्तों बैटरी और फोन के पाठ को अलग-अलग करके दिखाएं इसके बाद अपने फोन में यदि पानी घुस जाता है तो फोन की बैटरी सिम कार्ड और मेमोरी कार्ड को निकाल कर रख रखे और सूखने के लिए छोड़ दें अगर आपके फोन में बैटरी non-removable है तो आपको फोन को बंद कर के सूखने के लिए रात में बहुत से लोग पानी में घुस जाने की वजह से मोबाइल फोन को बंद तो कर देते हैं लेकिन बैटरी या सिम कार्ड या मेमोरी कार्ड को निकालते नहीं है जिसकी वजह से फोन में शार्ट सर्किट होने का खतरा रहता है अगर आपके फोन में भी कभी पानी चला गया हो तो आपके फोन के बैटरी को निकाल कर अलग रख दें ताकि आपका फोन शॉर्ट सर्किट से बजा दो फोन को ब्लू प्राइस से भी झुकाना चाहिए फोन में पानी घुस जाए तो हमेशा कोशिश करें कि फोन की बैटरी सिम और मेमोरी कार्ड को निकालकर ब्लू ट्राई से छुपाने की कोशिश करें यह बहुत ही अच्छा तरीका है और मोबाइल को कच्चे चावल में डालकर की इसके बाद अब आपको फोन के अंदर पानी को सुखाने के लिए आप फोन को कच्चे चावल में पूरी तरह ढक कर के रखे कम से कम 10 से 12 घंटे ऐसा इसलिए क्योंकि कच्चे चावल नहीं पानी को सोखने की क्षमता होती तो वैसा करके आप अपने फोन के अंदर के पानी को रोक सकते हैं चावल की मदद से और तुम तो जितना हो सके 10 12 घंटों से पहले ही सेवन ना करें यह सिर्फ सब तरीके जो के उपाय मेरे बताए हैं तरीके बताए हैं तो इनको करने के बाद आपका हो सकता है कि फोन जो के पानी में गिर गया वह अंदर घुस गया हो तो उसको ठीक करने में मदद मिल सकती है धन्यवाद
Kar doston aapaka prashn hai mobail mein paanee chala jae to kya karen doston phon aaj ke samay mein sabase jyaada yooj kiya jaane vaala divais hai lagabhag har koee aaj ke samay mein mobail yooj karate hain lekin kabhee-kabhee aisa bhee ho jaata hai ki hamaare phon mein paanee ghus jaata hai ya phir hamaara phon paanee mein gir jaata hai to aapaka phon kharaab ho jaata hai ya nahin kee phon paanee kee vajah se kharaab ho jaata aisee kandeeshan par aapako samajh mein nahin aata ki phon ko theek karane ke lie kya karen paanee mein gire mobail ke saath aur kuchh bhee nahin karana chaahie tabhee hamaare phon mein paanee ghus jaata hai to phon apane aap band ho jaata hai aur svich on nahin hota hai aur kabhee-kabhee aisa bhee ho jaata hai ki phon mein halka sa lait jalane lagata hai yaanee puling karane lagata hai aur hamaara phon bhee dar nahin lagata hai to aise mein bahut se log phon mein paanee ghus jaane kee vajah se chhotee-chhotee galatiyaan karate hain jaise ki mobail ko on karana ityaadi jinakee vajah se unaka phon pooree tarah se kharaab ho jaata hai mainne phon ke andar sors to aapako yah galatee nahin karana hai kuchh to sabase pahale phon ko svich oph kar den agar aap phon mein aapake phon mein paanee chala jaata hai to sabase pahale aap ko svich oph karana hai aur baitaree ko nikaal dena aisa isalie kyonki paanee mein mobail kho jaane ke baad bahut se log apane phon ko svich on karane kee koshish karatee hai yah sabase badee galatee hai jo daada jyaadaatar log karate hain doston agar aapaka phon paanee mein jaata hai to ab galatee se bhee phon ko on karane kee koshish na karen hone ke lie tonik divais hai agar aap unako paanee kuchh nahin par phon karane kee koshish karenge to aapake phon mein short sarkit ho sakata hai jisase aapaka phon koee kharaab ho sakata hai yah galatiyaan nahin karanee chaahie doston baitaree aur phon ke paath ko alag-alag karake dikhaen isake baad apane phon mein yadi paanee ghus jaata hai to phon kee baitaree sim kaard aur memoree kaard ko nikaal kar rakh rakhe aur sookhane ke lie chhod den agar aapake phon mein baitaree non-raimovablai hai to aapako phon ko band kar ke sookhane ke lie raat mein bahut se log paanee mein ghus jaane kee vajah se mobail phon ko band to kar dete hain lekin baitaree ya sim kaard ya memoree kaard ko nikaalate nahin hai jisakee vajah se phon mein shaart sarkit hone ka khatara rahata hai agar aapake phon mein bhee kabhee paanee chala gaya ho to aapake phon ke baitaree ko nikaal kar alag rakh den taaki aapaka phon short sarkit se baja do phon ko bloo prais se bhee jhukaana chaahie phon mein paanee ghus jae to hamesha koshish karen ki phon kee baitaree sim aur memoree kaard ko nikaalakar bloo traee se chhupaane kee koshish karen yah bahut hee achchha tareeka hai aur mobail ko kachche chaaval mein daalakar kee isake baad ab aapako phon ke andar paanee ko sukhaane ke lie aap phon ko kachche chaaval mein pooree tarah dhak kar ke rakhe kam se kam 10 se 12 ghante aisa isalie kyonki kachche chaaval nahin paanee ko sokhane kee kshamata hotee to vaisa karake aap apane phon ke andar ke paanee ko rok sakate hain chaaval kee madad se aur tum to jitana ho sake 10 12 ghanton se pahale hee sevan na karen yah sirph sab tareeke jo ke upaay mere batae hain tareeke batae hain to inako karane ke baad aapaka ho sakata hai ki phon jo ke paanee mein gir gaya vah andar ghus gaya ho to usako theek karane mein madad mil sakatee hai dhanyavaad

#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker
सुंदर वन के जंगल को क्या कहा जाता है?Sundar Van Ke Jungle Ko Kya Kaha Jata Hai
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
3:01
नमस्कार दोस्तों आपका फेस नहीं सुंदरबन के जंगल को क्या कहा जाता है दोस्तों सुंदरबन पश्चिम बंगाल के दक्षिणी छोर पर और भारत और बांग्लादेश की सीमा पर स्थित है जो विश्व का सबसे बड़ा नदी डेल्टा डेल्टा गंगा और ब्रह्मपुत्र मेघना वर्मा और उनकी सहायक से छोटी नदियों के मिश्रण से बना हुआ है जो सुंदरवन से होती हुई बंगाल की खाड़ी में गिरती है दोस्तों सुंदरवन दुनिया का सबसे बड़ा डेल्टा है जो कुछ जो कुल 38500 वर्ग किलोमीटर में फैला है इसका 35% भाग पानी और दलदल से ही गिरा है और 10000 वर्ग किलोमीटर से भी अधिक क्षेत्रों में सदाबहार वन सुंदरबन दुनिया का सबसे बड़ा बेंगलुरु का जंगल भी है तो इसलिए दोस्तों सुंदरबन के जंगल को मैंगो का जंगल भी कहा जाता है दोस्तों सुंदरवन का लग्न 4000 वर्ग किलोमीटर का हिस्सा भारत में और बाकी 6000 वर्ग किलोमीटर का हिस्सा बांग्लादेश में आता है दोस्तों सुंदरवन एक ऐसा क्षेत्र है जहां की जमीन में दलदल है यहां अनेकों जंगल है यहां अनेकों टापू है और इन टापुओं पर छोटे-छोटे गांव भी जहां लोग रहते हैं यहां केवल वहीं पर जीवित रह सकते हैं जो मीठे और खारे पानी के मिश्रण में होते हैं यहां के जंगलों में कुछ क्षेत्रों में तो पेड़ हर समय पानी में डूबे रहते हैं इस दलदल इलाके के पेड़ों की जड़ें बाहर दिखाई देने लगती है यहां मुख्य नदियों में गंगा और ब्रह्मपुत्र नदी है जो अपने साथ मिट्टी बहाकर ले आते हैं जिसके यहां जमा होने से ही क्षेत्र में एक बहुत बड़े डेल्टा का कार ले लिया है इस डेल्टा को बंगाल डेल्टा या ग्रीन डेल्टा भी कहा जाता है उसको सुंदरवन में सुंदरी नामक पेड़ों की तादाद है तो इसी कारण इस जगह का नाम सुंदर वन पड़ा इसके साथ ही बांग्ला भाषा के शुद्ध और शब्द का प्रयोग सुंदरवन नाम के लिए किया जाता है इसके अलावा यहां पेड़ों की सैकड़ों प्रजातियां पाई जाती है यहां वन्यजीवों के सैकड़ों की प्रजातियां पाई जाती है जैसे बाघ जंगली सूअर विशेष प्रकार का रंगा सियार बंदर की विशेष प्रजाति शीतल हिरण और बंगाली जंगली मुर्गी विशाल गुप्ता इत्यादि इसके अलावा यहां नमकीन पानी में रहने वाले मगरमच्छ भी पाए जाते हैं सुंदरवन विलुप्त प्राय प्रजातियां देसी बटा 4 बस का किंग क्रैब और ओलिव रिडले कछुए का भी ठहरने का स्थान खानाबदोश मौसम के दौरान यहां साइबेरियन पत्रों को भी देखा जा सकता है सुंदरवन यहां की विशेष प्रजाति के बाद के लिए विश्वभर में जाना चाहता है सुंदरबन रॉयल बंगाल टाइगर के लिए बीमा क्षेत्र है धन्यवाद
Namaskaar doston aapaka phes nahin sundaraban ke jangal ko kya kaha jaata hai doston sundaraban pashchim bangaal ke dakshinee chhor par aur bhaarat aur baanglaadesh kee seema par sthit hai jo vishv ka sabase bada nadee delta delta ganga aur brahmaputr meghana varma aur unakee sahaayak se chhotee nadiyon ke mishran se bana hua hai jo sundaravan se hotee huee bangaal kee khaadee mein giratee hai doston sundaravan duniya ka sabase bada delta hai jo kuchh jo kul 38500 varg kilomeetar mein phaila hai isaka 35% bhaag paanee aur daladal se hee gira hai aur 10000 varg kilomeetar se bhee adhik kshetron mein sadaabahaar van sundaraban duniya ka sabase bada bengaluru ka jangal bhee hai to isalie doston sundaraban ke jangal ko maingo ka jangal bhee kaha jaata hai doston sundaravan ka lagn 4000 varg kilomeetar ka hissa bhaarat mein aur baakee 6000 varg kilomeetar ka hissa baanglaadesh mein aata hai doston sundaravan ek aisa kshetr hai jahaan kee jameen mein daladal hai yahaan anekon jangal hai yahaan anekon taapoo hai aur in taapuon par chhote-chhote gaanv bhee jahaan log rahate hain yahaan keval vaheen par jeevit rah sakate hain jo meethe aur khaare paanee ke mishran mein hote hain yahaan ke jangalon mein kuchh kshetron mein to ped har samay paanee mein doobe rahate hain is daladal ilaake ke pedon kee jaden baahar dikhaee dene lagatee hai yahaan mukhy nadiyon mein ganga aur brahmaputr nadee hai jo apane saath mittee bahaakar le aate hain jisake yahaan jama hone se hee kshetr mein ek bahut bade delta ka kaar le liya hai is delta ko bangaal delta ya green delta bhee kaha jaata hai usako sundaravan mein sundaree naamak pedon kee taadaad hai to isee kaaran is jagah ka naam sundar van pada isake saath hee baangla bhaasha ke shuddh aur shabd ka prayog sundaravan naam ke lie kiya jaata hai isake alaava yahaan pedon kee saikadon prajaatiyaan paee jaatee hai yahaan vanyajeevon ke saikadon kee prajaatiyaan paee jaatee hai jaise baagh jangalee sooar vishesh prakaar ka ranga siyaar bandar kee vishesh prajaati sheetal hiran aur bangaalee jangalee murgee vishaal gupta ityaadi isake alaava yahaan namakeen paanee mein rahane vaale magaramachchh bhee pae jaate hain sundaravan vilupt praay prajaatiyaan desee bata 4 bas ka king kraib aur oliv ridale kachhue ka bhee thaharane ka sthaan khaanaabadosh mausam ke dauraan yahaan saiberiyan patron ko bhee dekha ja sakata hai sundaravan yahaan kee vishesh prajaati ke baad ke lie vishvabhar mein jaana chaahata hai sundaraban royal bangaal taigar ke lie beema kshetr hai dhanyavaad

#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker
मई का पहला मंगलवार किस रूप में मनाया जाता है?Mai Ka Pahala Mangalvaar Kis Roop Mein Manaaya Jaata Hai
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
1:40
नमस्कार दोस्तों आपका प्रश्न है मई का पहला मंगलवार किस रूप में मनाया जाता है दोस्तों को बड़े मंगल वैसे तो कई दिनों में रहते हैं कई दिन होते हैं बड़े मंगल की और बड़े मंगल की मान्यता है कि जस्ट में जो पवन पुत्र हनुमान का पूजन अर्चन हर मंगल को करता है उसके सारे संकट दूर हो जाते हैं कहा जाता है कि नवाब सआदत अली खान के बीमार होने पर मां छतरपुर नहीं नाम मुसलमान से मन्नत मांगी थी मन्नत पूरी होने पर उन्होंने अलीगंज का पुराना हनुमान मंदिर बनवाया था आज भी मंदिर के ऊपर चांद का निशान देखा जा सकता है लखनऊ में नवाब सआदत अली खान से शुरू हुआ था मंगलवार आज यहां हिंदू मुस्लिम दोनों के लिए महत्व रखता है इस अवसर पर मुसलमान भी धार्मिक कार्यक्रम में भाग लेते हैं एक और यह विवाद नहीं हनुमान मंदिर की स्थापना के संदर्भ में कहा जाता है कि जाट फल व्यापारी ने स्वयं प्रकट हनुमान प्रतिमा संबंधित मांगी थी कि अगर उसका इत्र और केसर बिक जाएगा तो हनुमान जी का भव्य मंदिर बनवाए नवाब वाजिद अली शाह ने आग बुझाने के लिए जाट मन से ही धर्म के संग प्रीत है इस तरह मन्नत पूरी होने पर दर्द में चेस्ट के पहले मंगलवार को अलीगंज के नए हनुमान मंदिर में हनुमान जी की प्रतिमा स्थापना करवाई थी तब से जस्ट का हर मंगलवार बड़े मंगल के रूप में मनाया जाता है धन्यवाद
Namaskaar doston aapaka prashn hai maee ka pahala mangalavaar kis roop mein manaaya jaata hai doston ko bade mangal vaise to kaee dinon mein rahate hain kaee din hote hain bade mangal kee aur bade mangal kee maanyata hai ki jast mein jo pavan putr hanumaan ka poojan archan har mangal ko karata hai usake saare sankat door ho jaate hain kaha jaata hai ki navaab saaadat alee khaan ke beemaar hone par maan chhatarapur nahin naam musalamaan se mannat maangee thee mannat pooree hone par unhonne aleeganj ka puraana hanumaan mandir banavaaya tha aaj bhee mandir ke oopar chaand ka nishaan dekha ja sakata hai lakhanoo mein navaab saaadat alee khaan se shuroo hua tha mangalavaar aaj yahaan hindoo muslim donon ke lie mahatv rakhata hai is avasar par musalamaan bhee dhaarmik kaaryakram mein bhaag lete hain ek aur yah vivaad nahin hanumaan mandir kee sthaapana ke sandarbh mein kaha jaata hai ki jaat phal vyaapaaree ne svayan prakat hanumaan pratima sambandhit maangee thee ki agar usaka itr aur kesar bik jaega to hanumaan jee ka bhavy mandir banavae navaab vaajid alee shaah ne aag bujhaane ke lie jaat man se hee dharm ke sang preet hai is tarah mannat pooree hone par dard mein chest ke pahale mangalavaar ko aleeganj ke nae hanumaan mandir mein hanumaan jee kee pratima sthaapana karavaee thee tab se jast ka har mangalavaar bade mangal ke roop mein manaaya jaata hai dhanyavaad

#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker
क्या यूपी में महिला कांस्टेबल सब इंस्पेक्टर की नौकरी निकली है 2021?Kya Up Me Mahila Constable Sub Inspectar Ki Naukari Nikli Hai 2021
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
1:50
मुस्कान दोस्तों आपका प्रश्न है क्या यूपी में महिला कॉन्स्टेबल सब इंस्पेक्टर की नौकरी निकली है 2021 के लिए तो दोस्तों क्यों नहीं जरूर निकली है सब इंस्पेक्टर इन की अस्थाई महिला व पुरुष दोस्तों 9027 पदों के लिए भर्ती निकली है और प्लाटून कमांडर एनपीएसई पुरुषों के लिए 484 पद है फायर ऑफिसर पुरुषों के लिए 23 पदों और कुल पदों की संख्या जो है वह है दोस्तों 9534 दोस्तों इस के लिए जो योग्यता है वह नवभारत टाइम्स डॉट कॉम की पोस्ट के अनुसार हमें यह जानकारी के ठीक ही है तो उनके लिए योग्यता ऐसा ही हो प्लाटून कमांडर के लिए मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से किसी भी प्राप्त में या विषय में ग्रेजुएशन की डिग्री होनी चाहिए फायर ऑफिसर के लिए साइंस विषय के साथ ग्रेजुएशन किया है उम्र सीमा 21 से ढाई साल होनी चाहिए आरक्षित वर्गों को अधिकतम उम्र सीमा में छूट मिलेगी और दोस्तों एप्लीकेशन डिटेल इस प्रकार से है यूपी पुलिस वैकेंसी 2021 के लिए ऑनलाइन आवेदन 1 अप्रैल से शुरू होंगे अब यूपीपीआरपीबी की वेबसाइट से 30 अप्रैल 2021 तक अप्लाई कर सकते हैं आवेदन शुल्क का भुगतान भी 30 अप्रैल 2021 तक कर सकते हैं सभी उम्मीदवारों के लिए आवेदन शुल्क ₹400 दोस्तों सिलेक्शन कैसे होगा इसके बारे में जिक्र कर लेते हैं ऑनलाइन लिखित परीक्षा होगी फिर आपका डॉक्यूमेंटेशन होगा फिजिकल स्टैंडर्ड टेस्ट होगा और फिजिकल एफिशिएंसी टेस्ट के आधार पर आपका सिलेक्शन किया जाएगा तो दोस्तों इस प्रकार से युक्त यूपी में महिला कॉन्स्टेबल सब इंस्पेक्टर की नौकरी निकली है धन्यवाद
Muskaan doston aapaka prashn hai kya yoopee mein mahila konstebal sab inspektar kee naukaree nikalee hai 2021 ke lie to doston kyon nahin jaroor nikalee hai sab inspektar in kee asthaee mahila va purush doston 9027 padon ke lie bhartee nikalee hai aur plaatoon kamaandar enapeeesee purushon ke lie 484 pad hai phaayar ophisar purushon ke lie 23 padon aur kul padon kee sankhya jo hai vah hai doston 9534 doston is ke lie jo yogyata hai vah navabhaarat taims dot kom kee post ke anusaar hamen yah jaanakaaree ke theek hee hai to unake lie yogyata aisa hee ho plaatoon kamaandar ke lie maanyata praapt vishvavidyaalay se kisee bhee praapt mein ya vishay mein grejueshan kee digree honee chaahie phaayar ophisar ke lie sains vishay ke saath grejueshan kiya hai umr seema 21 se dhaee saal honee chaahie aarakshit vargon ko adhikatam umr seema mein chhoot milegee aur doston epleekeshan ditel is prakaar se hai yoopee pulis vaikensee 2021 ke lie onalain aavedan 1 aprail se shuroo honge ab yoopeepeeaarapeebee kee vebasait se 30 aprail 2021 tak aplaee kar sakate hain aavedan shulk ka bhugataan bhee 30 aprail 2021 tak kar sakate hain sabhee ummeedavaaron ke lie aavedan shulk ₹400 doston silekshan kaise hoga isake baare mein jikr kar lete hain onalain likhit pareeksha hogee phir aapaka dokyoomenteshan hoga phijikal staindard test hoga aur phijikal ephishiensee test ke aadhaar par aapaka silekshan kiya jaega to doston is prakaar se yukt yoopee mein mahila konstebal sab inspektar kee naukaree nikalee hai dhanyavaad

#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker
चीन की दीवार कितनी लम्बी है और किसने बनवाई?cheen kee deevaar kitanee lambee hai aur kisane banavaee
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
3:41
कर दोस्तों आपका प्रश्न है चीन की दीवार कितनी लंबी है और किसने बनवाई है तो दोस्तों आइए जानते हैं दोस्तों चीन की दीवार विशाल मिट्टी और पत्थर से बनी एक किले में दीवार चीन के विभिन्न शास्त्रों के द्वारा उत्तरी हमलावरों से रक्षा के लिए 5 वीं शताब्दी ईसा पूर्व से लेकर 16 शताब्दी तक बनवाया गया चीन की महान दीवार दो हजार तीन सौ से अधिक साल पुरानी है यह दीवार दुनिया के सात अजूबों में ले जाती है तो सचिन के पूर्व सम्राट के जीवन की कल्पना के बाद दीवार बनाने में करीब 2000 साल लगे इस दीवार का निर्माण किस सम्राट द्वारा नहीं किया गया बल्कि कई सम्राट और राजाओं द्वारा कराया गया दोस्तों इस दीवार को 1970 यानी 1970 में आम पर्यटकों के लिए खोला गया था इस दीवार की लंबाई 6400 किलोमीटर है यह दुनिया में इंसानों की बनाई सबसे बड़ी सरलता है दीवार को बनाते समय इसके पत्थरों को जोड़ने के लिए चावल के आटे का इस्तेमाल किया गया था इन्हीं दीवार को यूनेस्को ने 1987 में विश्व धरोहर सूची में शामिल किया गया था दोस्तों यह पूरी एक दीवार नहीं है बल्कि छोटे हिस्सों से मिलकर बनी दीवार में कई खरीदे गए भी है यदि इन खाली जगहों को भी जोड़ दिया जाए तो इसकी लंबाई 8848 किलोमीटर हो जाए इस दीवार की चौड़ाई कितनी है कि एक साथ पांच या 10 पैदल चलेंगे एक साथ व्यस्त कर सकते हैं इस दीवार की ऊंचाई एक समान नहीं है किसी दिखाइए नौकरी कौन सी है तो कहीं पर 35 फोटो दीवार से दूर से आते समय पर नजर रखने के लिए कई जगह मिला रहे भी बनाई गई थी तो चीन की विशाल दीवार को दुश्मनों से देश की रक्षा के लिए बनाया गया था बात नहीं करते माल परिवहन और समाज को एक जगह से दूसरी जगह पर पहुंचाने के लिए किया जाने लगा दो सौ उन्नीस सौ साठ से सत्तर के दशक में लोगों ने इस त्यौहार से निकलकर अपने लिए घर बनाने शुरू कर दिए थे लेकिन बाद में सरकार ने सुरक्षा बढा दी थी हालांकि चोरी आज भी होती है और तस्कर बाजार में इसकी एक इनकी कीमत 3 पाउंड मानी जाती है तो ग्रेट वॉल ऑफ चाइना का एक तिहाई हिस्सा गायब हो चुका है इसका कारण दीवार के सही रखरखाव की कमी के अलावा मौसम का प्रभाव और सॉरी भी ऐसा कहा जाता है कि इस दीवार को बनाने में जो मजदूर कड़ी मेहनत नहीं करते थे उन्हें इसी दीवार में दफना दिया जाता था आंकड़ों के अनुसार इसे बनाने में करीब 1000000 लोगों ने जान गंवाई थी इसी कारण इस दीवार को दुनिया को सबसे बड़ा कब्रिस्तान भी कहा जाता है यह एक मा मानव निर्मित चरण चला है जितेंद्र से भी देखा जा सकता है और चीनी भाषा में इस दीवार को मान ली छन छन कहा जाता है जिसका मतलब होता है चीन की विशाल दीवार और पर्यटक हर साल इस दीवार को देखने के लिए आते हैं और दोस्तों बराक ओबामा रिचर्ड निक्सन रानी एलिजाबेथ और जापान के सम्राट अकीहितो सहित दुनिया भर के करीब 400 से भी अधिक नेता इस दीवार को देख चुके हैं तो यह तो जानकारी आप सुन रहे थे जागरण josh.com की एक पोस्ट के अनुसार सुन रहे थे आशा करते हैं आप की जानकारी अच्छी लगी होगी धन्यवाद
Kar doston aapaka prashn hai cheen kee deevaar kitanee lambee hai aur kisane banavaee hai to doston aaie jaanate hain doston cheen kee deevaar vishaal mittee aur patthar se banee ek kile mein deevaar cheen ke vibhinn shaastron ke dvaara uttaree hamalaavaron se raksha ke lie 5 veen shataabdee eesa poorv se lekar 16 shataabdee tak banavaaya gaya cheen kee mahaan deevaar do hajaar teen sau se adhik saal puraanee hai yah deevaar duniya ke saat ajoobon mein le jaatee hai to sachin ke poorv samraat ke jeevan kee kalpana ke baad deevaar banaane mein kareeb 2000 saal lage is deevaar ka nirmaan kis samraat dvaara nahin kiya gaya balki kaee samraat aur raajaon dvaara karaaya gaya doston is deevaar ko 1970 yaanee 1970 mein aam paryatakon ke lie khola gaya tha is deevaar kee lambaee 6400 kilomeetar hai yah duniya mein insaanon kee banaee sabase badee saralata hai deevaar ko banaate samay isake pattharon ko jodane ke lie chaaval ke aate ka istemaal kiya gaya tha inheen deevaar ko yoonesko ne 1987 mein vishv dharohar soochee mein shaamil kiya gaya tha doston yah pooree ek deevaar nahin hai balki chhote hisson se milakar banee deevaar mein kaee khareede gae bhee hai yadi in khaalee jagahon ko bhee jod diya jae to isakee lambaee 8848 kilomeetar ho jae is deevaar kee chaudaee kitanee hai ki ek saath paanch ya 10 paidal chalenge ek saath vyast kar sakate hain is deevaar kee oonchaee ek samaan nahin hai kisee dikhaie naukaree kaun see hai to kaheen par 35 photo deevaar se door se aate samay par najar rakhane ke lie kaee jagah mila rahe bhee banaee gaee thee to cheen kee vishaal deevaar ko dushmanon se desh kee raksha ke lie banaaya gaya tha baat nahin karate maal parivahan aur samaaj ko ek jagah se doosaree jagah par pahunchaane ke lie kiya jaane laga do sau unnees sau saath se sattar ke dashak mein logon ne is tyauhaar se nikalakar apane lie ghar banaane shuroo kar die the lekin baad mein sarakaar ne suraksha badha dee thee haalaanki choree aaj bhee hotee hai aur taskar baajaar mein isakee ek inakee keemat 3 paund maanee jaatee hai to gret vol oph chaina ka ek tihaee hissa gaayab ho chuka hai isaka kaaran deevaar ke sahee rakharakhaav kee kamee ke alaava mausam ka prabhaav aur soree bhee aisa kaha jaata hai ki is deevaar ko banaane mein jo majadoor kadee mehanat nahin karate the unhen isee deevaar mein daphana diya jaata tha aankadon ke anusaar ise banaane mein kareeb 1000000 logon ne jaan ganvaee thee isee kaaran is deevaar ko duniya ko sabase bada kabristaan bhee kaha jaata hai yah ek ma maanav nirmit charan chala hai jitendr se bhee dekha ja sakata hai aur cheenee bhaasha mein is deevaar ko maan lee chhan chhan kaha jaata hai jisaka matalab hota hai cheen kee vishaal deevaar aur paryatak har saal is deevaar ko dekhane ke lie aate hain aur doston baraak obaama richard niksan raanee elijaabeth aur jaapaan ke samraat akeehito sahit duniya bhar ke kareeb 400 se bhee adhik neta is deevaar ko dekh chuke hain to yah to jaanakaaree aap sun rahe the jaagaran josh.chom kee ek post ke anusaar sun rahe the aasha karate hain aap kee jaanakaaree achchhee lagee hogee dhanyavaad

#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker
भारत की खोज किसने की थी?Bharat Ki Khoj Kisne Ki Thi
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
2:32
नमस्कार दोस्तों आपका प्रश्न है भारत की खोज किसने की दोस्तों भारत की खोज सर्वप्रथम 20 मई सन 1998 को 1498 इसवी को वास्कोडिगामा ने की थी एक बार फिर से बता देता हूं दोस्तों भारत की खोज सर्वप्रथम 20 मई सन 1498 ईस्वी को वास्कोडिगामा ने की थी दोस्तों यह कहना बिल्कुल भी ठीक नहीं होगा किस भारत की खोज वास्कोडिगामा ने की थी बल्कि उसने तो समुद्र के रास्ते भारत आकर समुद्र में एक नया मार्ग बनाया था ना कि उसने भारत की खोज की थी जो भारत की खोज किसी ने नहीं की थी क्योंकि भारत के लोग और भारत पहले से ही मौजूद था और दुनिया को इसके बारे में पता था और दुनिया के नक्शे में भारत पहले से ही मौजूद था परंतु नहीं किताबों में बताइए जानकारों को यह कहते हुए सुना होगा कि भारत की खोज वास्कोडिगामा ने की थी भारत की खोज सर्वप्रथम 1498 ईस्वी को वास्को डी गामा ने की थी उनके लिए खोज दी जबकि वह नहीं जानता था कि भारत कहां है किस दिशा में है तो उसको पता नहीं था कि भारत कहां है तो उनके द्वारा केवल उसी एक व्यक्ति के द्वारा यह कहा जाएगा माना जाएगा कि उसके लिए खोजती सभी के लिए खुशखबरी थी दूसरे विदेशियों के लिए खोल थोड़ी थी क्योंकि सभी को तो मानचित्र में पहले भी भारत था दोस्तों पश्चिमी देशों से वास्कोडिगामा समुद्री मार्ग से भारत आने वाला पहला व्यक्ति था उसने समुद्र के रास्ते भारत आकर समुद्र में एक नया मार्ग बनाया था दोस्तों भारत के लिए चलिए मार्ग की खोज कोडिंग कामायनी के तीन दोस्तों यह भी हम चाहते हैं भारत जहां हम आदिमानव युग से यहां रह रहे हैं हजारों सालों से अलग-अलग नामों से इतिहास में भारत का अस्तित्व है और जहां हजारों सालों से यहां पर जीवनी अपन लोगों का आदिमानव कर रहा है तो मिला उसे कैसे कोई खोज सकता है लेकिन क्योंकि यह बना ही दिया गया है कि भारत की खोज किसने की थी को वास्कोडिगामा ने की थी धन्यवाद
Namaskaar doston aapaka prashn hai bhaarat kee khoj kisane kee doston bhaarat kee khoj sarvapratham 20 maee san 1998 ko 1498 isavee ko vaaskodigaama ne kee thee ek baar phir se bata deta hoon doston bhaarat kee khoj sarvapratham 20 maee san 1498 eesvee ko vaaskodigaama ne kee thee doston yah kahana bilkul bhee theek nahin hoga kis bhaarat kee khoj vaaskodigaama ne kee thee balki usane to samudr ke raaste bhaarat aakar samudr mein ek naya maarg banaaya tha na ki usane bhaarat kee khoj kee thee jo bhaarat kee khoj kisee ne nahin kee thee kyonki bhaarat ke log aur bhaarat pahale se hee maujood tha aur duniya ko isake baare mein pata tha aur duniya ke nakshe mein bhaarat pahale se hee maujood tha parantu nahin kitaabon mein bataie jaanakaaron ko yah kahate hue suna hoga ki bhaarat kee khoj vaaskodigaama ne kee thee bhaarat kee khoj sarvapratham 1498 eesvee ko vaasko dee gaama ne kee thee unake lie khoj dee jabaki vah nahin jaanata tha ki bhaarat kahaan hai kis disha mein hai to usako pata nahin tha ki bhaarat kahaan hai to unake dvaara keval usee ek vyakti ke dvaara yah kaha jaega maana jaega ki usake lie khojatee sabhee ke lie khushakhabaree thee doosare videshiyon ke lie khol thodee thee kyonki sabhee ko to maanachitr mein pahale bhee bhaarat tha doston pashchimee deshon se vaaskodigaama samudree maarg se bhaarat aane vaala pahala vyakti tha usane samudr ke raaste bhaarat aakar samudr mein ek naya maarg banaaya tha doston bhaarat ke lie chalie maarg kee khoj koding kaamaayanee ke teen doston yah bhee ham chaahate hain bhaarat jahaan ham aadimaanav yug se yahaan rah rahe hain hajaaron saalon se alag-alag naamon se itihaas mein bhaarat ka astitv hai aur jahaan hajaaron saalon se yahaan par jeevanee apan logon ka aadimaanav kar raha hai to mila use kaise koee khoj sakata hai lekin kyonki yah bana hee diya gaya hai ki bhaarat kee khoj kisane kee thee ko vaaskodigaama ne kee thee dhanyavaad
URL copied to clipboard