#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
क्यों कुछ लोग शराब को दुखों का साथी कहते हैं?Kyon Kuchh Log Sharaab Ko Dukhon Ka Saathee Kahate Hain
Nidhi Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Nidhi जी का जवाब
Unknown
2:23

#भारत की राजनीति

Nidhi Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Nidhi जी का जवाब
Unknown
3:00
जैसे कि आपने क्वेश्चन किया है कि क्या महिला सुरक्षा के लिए महिला पुलिस की भर्ती और सार्वजनिक स्थानों से पेट्रोल पंप आदि पर महिलाओं को रोजगार देने से नहीं है यह तो बहुत मतलब छोटे लेवल की बात हो गई मतलब यह भी सही है कि जरूरी है यह सब लेकिन मेरे हिसाब से जहां तक मैं सोचती हूं जैसे कि हमारे जैसे कि संविधान जैसे कि हमारा पार्लियामेंट परसेंट औरतों के लिए सीट रिजर्व जो अभी तक नहीं हुआ तो मेरे हिसाब से महिलाओं को पॉलिटिक्स में रहना जरूरी है क्योंकि जब महिलाएं पॉलिटिक्स में रहती है तो जो यह चांद से जो होता है वह बहुत कम हो जाता है और जो महिलाएं हैं जितनी भी औरतें हैं महिला हैं लड़कियां हैं उनके अंदर कॉन्फिडेंस रहता है फिर बोलती भी रहती हो जितना भी रूल रेगुलेशन बनता है उस पर महिला जो रहती है अगर संसद में तो वह दर्द को अटेंड समझती है और उस पर कानून जो बनता है वह बहुत सही बनता है तो मेरे हिसाब से जो पार्लियामेंट है उसमें 4:30 पर्सेंट तो महिला होनी चाहिए और इस सीट को मतलब कैसे भी रिजल्ट कितना फिल करना ही चाहिए जैसे हमारा एक डेट अफ्रीका है वहां से हमें सीखना चाहिए कि वहां पर जो महिलाओं के लिए सीट रिजर्व था वहां पर वह चीज नहीं भरा गया तो फिर क्या हुआ सीमा पर सिलेक्शन कर आएगा तो देखिए इतना मतलब हमें उस देश से सीखना चाहिए फिर जैसे कि आपने बताया है कि पुलिस में भर्ती हुआ यह भी बहुत ज्यादा जरूरी है और सबसे ज्यादा जरूरी है इंसान का माइंड से चेंज करना जो बहुत ज्यादा जरूरी है हर एक फैमिली मेंबर का माइंड से चेंज करना कि लड़की एक बर्थडे नहीं है बल्कि एक लड़की एक लड़की नहीं बल्कि एक ऐसा था और वो एक रिस्पांसिबिलिटी नहीं है क्या होता है कि अक्सर मुंबई में जो होता है कि लड़का और लड़की में भेदभाव स्टार्ट होने लगता है तो फिर तो जहां तक कब बोला जाता है कि लड़कियों को यह करना चाहिए लड़कियों को इतना काम सीखना चाहिए वहां पर लड़कों को कुछ नहीं बोला जाता है क्योंकि वह कह रहा था कि तुम तो अपने घर के घर पर ही रहोगे लेकिन उसको दूसरे घर जाना तो यह सारा माइंडसेट फैमिली में मतलब यह जो लेबल है वहां से चेंज करना चाहिए क्योंकि अक्सर क्यों होता है कि जब बचपन से ही अगर ऐसी भावनाएं बच्चों में डाल दी जाती है तो क्या होता है कि वह जो लड़के होते हैं छोटे वाले तो उनको लगता है कि वह उनका कोई मतलब ही नहीं है लड़की का या फिर कोई पेन ही नहीं है कब चैट की तरह फिट होता है तो फिर रेप करते हैं तो फिर उन्हें कोई फीलिंग नहीं होती है या फिर उनको उनका दर्द का एहसास नहीं होता तो मेरे हिसाब से यह हर चीज एक घर से स्टार्ट होने से हर घर

#पढ़ाई लिखाई

Nidhi Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Nidhi जी का जवाब
Unknown
4:42
धार जैसे कि आपने क्वेश्चन किया है कि जब परीक्षा या इंटरव्यू से पहले डर लगे तो क्या करना चाहिए कि मन शांत हो जाए और आत्मविश्वास बढ़ जाए देखिए यह हर एक इंसान के साथ होता है कि कोई भी काम करने जाता है जो नया होता है या एग्जाम देने जाता है इंटरव्यू देने जाता है तो उसे डर लगता है कितना विश्वास इंसान हूं जो हमारी हार्ट बीट होती है तो क्या होता है कि जब हम एग्जाम देने जाते हैं तो हमारी हार्ट बीट बढ़ जाती हैं क्या इंटरव्यू देने जाते हैं तब हमारी हार्ड बेस बढ़ जाती है तो हम इतने ह्यूमन नेचर है और देसी से हम ऐसे ओवर कम कर सकते हैं कि हम एग्जाम से पहले ही मतलब क्या कहते हैं कि अक्सर क्या होता है कि हमें और ज्यादा डर तक लगता है हमारे लिए बल प्रिपरेशन का उतना सही नहीं रहता है तो हमें क्या करना चाहिए कि हमें एग्जाम से दो-तीन है मतलब महीने पहले कितना सिलेबस है उसको एकदम अच्छे से कंप्लीट कर लेना चाहिए और रिवीजन जितना हो सके उतना करना चाहिए और सैंपल पेपर जितना हो सके उतना सोच कर नशीद टेस्ट सीरीज जॉइन कर लेनी चाहिए अपनी फिटनेस को देना चाहिए एक्टिविटी करने लगते हैं तो क्या होता है कि यह जो डर है वह अपने अंदर से मतलब जाने लगता है क्योंकि हमारा कॉन्फिडेंस भी बंद है लगता है जैसे कि टेस्ट सीरीज देते हैं तो हमारा अगर लेबल नीचे जाता है तो फिर थोड़ी घबराहट होती है याद करते रहेंगे तो फिर क्या होगा कि हमारे ऊपर जाएगा हमारा कॉन्फिडेंस बढ़ जाता है तो मैं यह सजेशन देना चाहूंगी कि कोई इंसान कोई भी विद्यार्थी परीक्षा देने जाता है तो पहले क्या करते हैं कि जो टॉपिक्स होते हैं वह क्या करते हैं कि वह बहुत पहले ही अपना पूरा प्रिपरेशन कर लेते हैं और एग्जाम के डेट के दिन से रहते हैं तो क्या होता है कि उनका एग्जाम सही जाता है और यह एक अच्छा तरीका भी है स्टूडेंट क्या करता है कि वह एग्जाम के डेट तक उनका सिलेबस कंप्लीट नहीं रहता तो एक तो एग्जाम का टेंशन ऊपर से सिलेबस ना कंप्लीट होने का टेंशन ऊपर से मतलब बहुत सारे फ्रेशर्स आ जाते हैं तो मैं यही सजेशन देना चाहूंगी कि जितना जल्दी हो सके स्टूडेंट को अपना सिलेबस टाइम से खत्म कर लेना चाहिए और जितना हो सके उतना मॉक टेस्ट देना चाहिए जितना हो सके उतना डिस्कशन अगर कोई उसका फ्रेंड है उसके साथ उसके साथ उसका डिस्कशन करना चाहिए जिससे अगर उसको कुछ मालूम नहीं है तो मालूम करें और और रही बात इंटरव्यू की तो इंटरव्यू में क्या होता है कि उस दिन पूछा जाता है उसमें कौन इंसान का कॉन्फिडेंस देखा जाता है कि मतलब जो इंसान है उसका उसके पास कॉन्फिडेंस कितना है उसके पास प्रॉब्लम सॉल्व करने की प्रॉब्लम को कैंसिल कॉल करता है यह सब देखा जाता है उसकी सीन देखी जाती है कि कैसे वह बात करता सब कुछ तुम्हें यह सजेशन देना चाहूंगी कि अगर किसी को बोलने में हिचकिचाहट होती है तो क्या करेगा कि वह क्या कर सकता कि बोलकर पर बोल सकता है अगर वह बोलकर पर बोलता है तो फिर वह जो अंदर से हिचकिचाहट होती है वह धीरे-धीरे खत्म हो जाएगी अगर वह इंटरव्यू देना चाहता है तो फिर क्या होगा कि वह हिचकिचाहट जो है वह उसके अंदर से खत्म हो जाएगी और फिर जितने सारे इंटरव्यू यूट्यूब पर अवेलेबल है उसे देखे उसे समझे कि कैसा होता है कैसे और वह सारी क्वालिटी अपनी में डिवेलप करने की कोशिश करें और जैसे उसके नाम से रिलेटेड उसके प्लीज से रिलेटेड जितनी भी चीजें हैं जितने अपनी डेट ऑफ बर्थ एवरीथिंग उसके बारे में सब नॉलेज रख ले तो क्या हुआ कि इंटरव्यू जब देने जाएगा तो उसका कॉन्फिडेंस भी सही रहेगा और फिर उसको हिचकिचाहट भी नहीं होगी और खुद पर विश्वास वाली बात खुद पर विश्वास है ना मैं बहुत ज्यादा जरूरी है कि अक्सर बोतल प्रिपरेशन भी हो जाता है सब कुछ अच्छा हो जाता है लेकिन क्या अक्सर इंसान अपने पर विश्वास नहीं करता है तो फिर बहुत सारा काम गड़बड़ आ जाता तो मैं यही कहोगे कि सब कुछ अपने साइड से हंड्रेड परसेंट हो बाकी सब भगवान के ऊपर छोड़ दो क्योंकि रिजल्ट को पकड़कर बैठने से क्या हुआ कि जो हमारा फोकस अबू रिजल्ट पर रहेगा और प्रिपरेशन भी सही नहीं होगा या फिर हम अपना हंड्रेड परसेंट नहीं देना नहीं दे पाएंगे कोई भी स्टूडेंट हो तो मैं यही कि जो हर चीज को टाइमिंग से सेट कर लो उसे टाइमिंग से कंप्लीट कर दो उसके बाद कोई भी टेंशन नहीं होगा और जितना हो सके उतना 23 दिन इस पर ध्यान दो और गलतियों पर ध्यान दो से क्या होगा कि सफेद होने का चांस इस पर्सेंट तक हो जाएगा थैंक यू

#जीवन शैली

bolkar speaker
अगर कोई अपनी तारीफ खुद करें और मुझे उस पर क्रोध आए तो खुद को कैसे रोके?Agar Koee Apanee Taareeph Khud Karen Aur Mujhe Us Par Krodh Aae To Khud Ko Kaise Roke
Nidhi Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Nidhi जी का जवाब
Unknown
3:12
जैसे कि आपने क्वेश्चन किया कि अगर आप अगर कोई अपनी तारीफ खुद करें और मुझे उस पर क्रोध है तो मैं खुद को कैसे रोके तो देखना है यह तो पहली बार बहुत सही बात है अगर कोई इंसान अपनी तारीफ खुद कर रहा है तो उस टाइम क्रोध नहीं आता उस टाइम आप जिस इंसान को हंसी आएगी एटलेस्ट उसमें क्रोध करने की क्या बात है क्योंकि इंसान में जो क्वालिटी रहता हूं खुद को दिखाएं दूसरों को भी दिखाई देता है उसे खुद बताने की जरूरत नहीं पड़ती है और वह इंसान ही बताता है जो जिसको प्रूफ करना पड़ता है जो उसमें क्वालिटी या नहीं रहती है उसी को बुक करने में लगा रहा था और एक बात नोटिस कर लो कोई भी इंसान है किसी भी इंसान को अपना काम ज्यादा दिखता है कंपेयर दिन दूसरे के तो उसमें क्रोध की बात नहीं है अगर आपको मतलब अक्सर इंसान में यह भावनाएं होती है क्योंकि क्रोध आता है फिर किसी से जले सी होने लगती है इंसान का स्वभाव है लेकिन यह बहुत गलत बात है नहीं होना चाहिए ऐसा जब कोई ऐसा इंसान है जो खुद से अपनी बड़ाई करता है और आपको उस टाइम क्रोध आता है तो आप क्या करोगी वहां से साइड आ जाओ क्योंकि आपकी कुछ कर नहीं सकते एटलेस्ट लेकिन क्रोध करने की कोई बात नहीं है क्योंकि उसमें फोन नहीं आया अगर आप किसी भी चीज को लाइट ले लेना शुरू कर दो तो लाइफ बहुत बिजी बन जाएगी हर चीज में बहुत सारा इस प्रेस भरा हुआ है इस लाइन में तो हर चीज में और इस फैसले पर गए तो हमारा दिमाग है वह बहुत बड़े पड़ेगा मैं आपको कहूंगी कि आप इसमें स्ट्रेस लेने की कोई बात नहीं है बल्कि फनी वाली बात है उसमें उसमें हंसी वाली बात है कि वह इंसान खुद पढ़ाई करें अगर आप उसे ध्यान से देखोगे तो आपको अच्छे से हंसी आएगी पर एक लिस्ट आपका मूड फ्रेश हो जाएगा आपको क्रोध के जगह पर वहां पर खुशी ढूंढने की वह इंसान कैसे बात कर रहा है कैसे बड़ाई कर आए क्या क्या क्वालिटी के में और क्या उसने वह क्वालिटिया बता रहा है कि जो उसमें नहीं है तो उसमें हंसी मजाक करना चाहिए अपने भूमिका सीरियस नहीं रहना चाहिए चेंज करना चाहिए लाइफ में बहुत लेने के लिए बहुत सारा पड़ा हुआ खुशी हर हर जगह हर इंसान को खुशी देना चाहिए अगर कोई इंसान पढ़ाई कर रहा है तो उसमें फनी वाली बातें इसमें इस फैसले से कोई बात नहीं और मैं आपको एक और चीज बता दूं यह जो क्वालिटी का है वह सबसे ज्यादा किसी को नुकसान करती है तो वह खुद को नुकसान करती है तो मैं यह सजेशन देना चाहूंगी कि यह सारी क्वालिटी हमको अब कोई इंसान अपने अंदर से हटाना चाहिए और क्योंकि वह इंसान खुद की बड़ाई कर रहा है तू उसको कुछ नुकसान नहीं होगा अगर आपको गुस्सा आ रहा है तो उस पर सबसे ज्यादा किसी को नुकसान होगा तो आपको का तो मैं आपको यही सजेशन देना चाहूंगी कि कोई भी काम होता है तो उसमें कुछ पानी देखने की कोशिश करो और इसमें तो पूरा पूरी दिख ही रहा है कि कोई इंसान खुद की बड़ाई कर रहा है तो मैं यही सजेशन देना चाहिए कि अगर ज्यादा अच्छा नहीं लगता था वहां से साइड हो जाओ या फिर क्या करूं क्यों इसमें कुछ फनी ढूंढने की कोशिश करो और फिर उसके सामने नहीं हंस लो बाद में जाकर कहीं पर अच्छे से हंस लो जिससे आपके मूड भी फ्रेश हो जाएगा और फिर उस इंसान को भी बुरा नहीं लगा
Jaise ki aapane kveshchan kiya ki agar aap agar koee apanee taareeph khud karen aur mujhe us par krodh hai to main khud ko kaise roke to dekhana hai yah to pahalee baar bahut sahee baat hai agar koee insaan apanee taareeph khud kar raha hai to us taim krodh nahin aata us taim aap jis insaan ko hansee aaegee etalest usamen krodh karane kee kya baat hai kyonki insaan mein jo kvaalitee rahata hoon khud ko dikhaen doosaron ko bhee dikhaee deta hai use khud bataane kee jaroorat nahin padatee hai aur vah insaan hee bataata hai jo jisako prooph karana padata hai jo usamen kvaalitee ya nahin rahatee hai usee ko buk karane mein laga raha tha aur ek baat notis kar lo koee bhee insaan hai kisee bhee insaan ko apana kaam jyaada dikhata hai kampeyar din doosare ke to usamen krodh kee baat nahin hai agar aapako matalab aksar insaan mein yah bhaavanaen hotee hai kyonki krodh aata hai phir kisee se jale see hone lagatee hai insaan ka svabhaav hai lekin yah bahut galat baat hai nahin hona chaahie aisa jab koee aisa insaan hai jo khud se apanee badaee karata hai aur aapako us taim krodh aata hai to aap kya karogee vahaan se said aa jao kyonki aapakee kuchh kar nahin sakate etalest lekin krodh karane kee koee baat nahin hai kyonki usamen phon nahin aaya agar aap kisee bhee cheej ko lait le lena shuroo kar do to laiph bahut bijee ban jaegee har cheej mein bahut saara is pres bhara hua hai is lain mein to har cheej mein aur is phaisale par gae to hamaara dimaag hai vah bahut bade padega main aapako kahoongee ki aap isamen stres lene kee koee baat nahin hai balki phanee vaalee baat hai usamen usamen hansee vaalee baat hai ki vah insaan khud padhaee karen agar aap use dhyaan se dekhoge to aapako achchhe se hansee aaegee par ek list aapaka mood phresh ho jaega aapako krodh ke jagah par vahaan par khushee dhoondhane kee vah insaan kaise baat kar raha hai kaise badaee kar aae kya kya kvaalitee ke mein aur kya usane vah kvaalitiya bata raha hai ki jo usamen nahin hai to usamen hansee majaak karana chaahie apane bhoomika seeriyas nahin rahana chaahie chenj karana chaahie laiph mein bahut lene ke lie bahut saara pada hua khushee har har jagah har insaan ko khushee dena chaahie agar koee insaan padhaee kar raha hai to usamen phanee vaalee baaten isamen is phaisale se koee baat nahin aur main aapako ek aur cheej bata doon yah jo kvaalitee ka hai vah sabase jyaada kisee ko nukasaan karatee hai to vah khud ko nukasaan karatee hai to main yah sajeshan dena chaahoongee ki yah saaree kvaalitee hamako ab koee insaan apane andar se hataana chaahie aur kyonki vah insaan khud kee badaee kar raha hai too usako kuchh nukasaan nahin hoga agar aapako gussa aa raha hai to us par sabase jyaada kisee ko nukasaan hoga to aapako ka to main aapako yahee sajeshan dena chaahoongee ki koee bhee kaam hota hai to usamen kuchh paanee dekhane kee koshish karo aur isamen to poora pooree dikh hee raha hai ki koee insaan khud kee badaee kar raha hai to main yahee sajeshan dena chaahie ki agar jyaada achchha nahin lagata tha vahaan se said ho jao ya phir kya karoon kyon isamen kuchh phanee dhoondhane kee koshish karo aur phir usake saamane nahin hans lo baad mein jaakar kaheen par achchhe se hans lo jisase aapake mood bhee phresh ho jaega aur phir us insaan ko bhee bura nahin laga

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
पुरुषों की अपेक्षा महिलाएं अधिक दिन क्यों जीवित रहती है?Purushon Kee Apeksha Mahilaen Adhik Din Kyon Jeevit Rahatee Hai
Nidhi Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Nidhi जी का जवाब
Unknown
2:04
नमस्कार जैसे कि आपने क्वेश्चन किया है कि पुरुष की अपेक्षा महिलाएं अधिक दिनों तक क्यों जीवित रहते हैं तो देखिए मैं आपको बता दूं कि जो महिलाएं हैं उनके अंदर जो 3 सैनिक क्षमता होता है वह पुरुष से बहुत ज्यादा दुख होता है क्योंकि जब एक महिला जब एक बच्चे को जन्म देती है तो जो भीम सेना का सबसे ज्यादा हाई स्कूल होता है उसको भी क्रॉस कर देती है तो उसके अंदर ही बहुत ज्यादा होती है और और पुरुषों में वह शक्तियां बहुत कम होती है कंपेयर एक महिला तो क्या होता है कि अगर आप उसको ऐसा सिचुएशन है कि अगर महिला पुरुष दोनों का एक्सीडेंट एक साथ हुआ है और दोनों को बराबर शॉट लगाया तो उस टाइम में पुरुष का जो देश की संभावना को ज्यादा हो जाती है कंपेयर एक महिला क्योंकि महिला के अंदर बहुत सारे प्रिंस रहने का शक्ति रहता है और उन्हें बहुत ज्यादा पेन सहना पड़ता है इंटरनल करता है क्यों क्वालिटी बन जाता है कि वह जल्दी मतलब मुंह में ले सकती हूं में ड ब्लॉक हो जाता है कि वह जल्दी मर नहीं पाती और जो पुरुष होते हैं उनमें वह इंटरनल विपिन सैनी का उतना ज्यादा सख्ती नहीं होता है तो फिर यही सारी रीज़न है कि जो पुरुष है उनका त्याग कम पर आप महिला जल्दी हो जाता है और बहुत सारे रीजन है और यह बहुत सारी रीज़न है कि महिलाएं अक्सर क्या होता है कि वह घर में रहती है सुरक्षित वातावरण में रहती हैं और जो पूरी फैक्ट्री में काम करते हैं मैं अपनी मम्मी आप पर बहुत ज्यादा टाइपिंग करते हैं कंपेयर आप महिला तो फिर क्या होता कि जब वह ज्यादा ट्रैवलिंग करते हैं दोनों बहुत अब टेलीविजन का सामना कर तब करना पड़ता है या फैक्ट्री में काम बंद है तो उसमें बहुत सारा पेंशन का सामना करना पड़ता है और एक और रीजन बता दो अक्षर क्या होता है कि महिला के कंपेयर में पुरुष जो होते हैं वह नशा ज्यादा करते हैं आशा करते हैं अल्कोहल ज्यादा लेते हैं तो यह सारे रीजन है जो जिसके कारण जो पुरुष की जीने की शक्ति है वह कम हो जाती है कंपेयर अब महिला थैंक यू
Namaskaar jaise ki aapane kveshchan kiya hai ki purush kee apeksha mahilaen adhik dinon tak kyon jeevit rahate hain to dekhie main aapako bata doon ki jo mahilaen hain unake andar jo 3 sainik kshamata hota hai vah purush se bahut jyaada dukh hota hai kyonki jab ek mahila jab ek bachche ko janm detee hai to jo bheem sena ka sabase jyaada haee skool hota hai usako bhee kros kar detee hai to usake andar hee bahut jyaada hotee hai aur aur purushon mein vah shaktiyaan bahut kam hotee hai kampeyar ek mahila to kya hota hai ki agar aap usako aisa sichueshan hai ki agar mahila purush donon ka ekseedent ek saath hua hai aur donon ko baraabar shot lagaaya to us taim mein purush ka jo desh kee sambhaavana ko jyaada ho jaatee hai kampeyar ek mahila kyonki mahila ke andar bahut saare prins rahane ka shakti rahata hai aur unhen bahut jyaada pen sahana padata hai intaranal karata hai kyon kvaalitee ban jaata hai ki vah jaldee matalab munh mein le sakatee hoon mein da blok ho jaata hai ki vah jaldee mar nahin paatee aur jo purush hote hain unamen vah intaranal vipin sainee ka utana jyaada sakhtee nahin hota hai to phir yahee saaree reezan hai ki jo purush hai unaka tyaag kam par aap mahila jaldee ho jaata hai aur bahut saare reejan hai aur yah bahut saaree reezan hai ki mahilaen aksar kya hota hai ki vah ghar mein rahatee hai surakshit vaataavaran mein rahatee hain aur jo pooree phaiktree mein kaam karate hain main apanee mammee aap par bahut jyaada taiping karate hain kampeyar aap mahila to phir kya hota ki jab vah jyaada traivaling karate hain donon bahut ab teleevijan ka saamana kar tab karana padata hai ya phaiktree mein kaam band hai to usamen bahut saara penshan ka saamana karana padata hai aur ek aur reejan bata do akshar kya hota hai ki mahila ke kampeyar mein purush jo hote hain vah nasha jyaada karate hain aasha karate hain alkohal jyaada lete hain to yah saare reejan hai jo jisake kaaran jo purush kee jeene kee shakti hai vah kam ho jaatee hai kampeyar ab mahila thaink yoo

#जीवन शैली

bolkar speaker
डर लगने पर रोगंटे खड़े क्यों हो जाते हैं?Dar Lagane Par Roye Khade Kyo Ho Jaate Hai
Nidhi Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Nidhi जी का जवाब
Unknown
2:47
सर जैसे कि आपने क्वेश्चन किया है कि डर लगने पर रोमांटिक हरी क्यों हो जाते हैं तो देखिए जो हमारे पूर्वज थे वह उनके हाइट बहुत ज्यादा बड़ी थी और उनके शरीर पर बहुत सारे बाल थे तो क्या करते थे कि उन्हें वह नहीं पता था कि खाना कैसे बनाया जाता है तो वह शिकार पर ज्यादा मतलब शिकार करते थे वह पत्थरों से जानवरों को मार दे दी और उन्हें खाते थे और उनके शरीर पर बहुत सारा माल था तो क्या होता था कि जब जब भी वह शिकार करने जाते थे तो क्या होगा कि उनके शरीर पर बाल रहता था और जो कुछ टाइम के जानवर थी वह भी बहुत ज्यादा बड़े थे और इंसान में बहुत ज्यादा पढ़े थे तो क्या होता था कि जब भी उनको डर लगता था तो उनका जो मतलब शरीर का बाल है वह रोंगटे खड़े कर लेते थे जिसकी वजह से वह कुछ ज्यादा ही बड़े दिखाई दे तो क्या उनके शरीर पर बहुत सारा बाल था और वह खड़ा हो जाता था जब भी उन्हें डर लगता था तो खड़ा हो जाता था और जब बाल खड़ा हो जाता है तो वह बहुत ज्यादा मतलब बड़े दिखते थे विशाल दिखते थे तो क्या कि जैसे कि जो जानवर है उसे देख कर डर जाए तो फिर यह सारा जो चीज है वह धीरे धीरे धीरे धीरे जो इंसान है वह डिवेलप होने लगा है जो उसके शरीर के पास है वह भी कम होने लगी और क्या हुआ कि जब भी यह हमारे साथ एक्टिविटी होती है कि जब भी हम डरते हैं तो क्या होता अक्सर ऐसा होता है या फिर जब और ऐसा होता है कि जब हमें ठंडी लगती है तब हमारे रोंगटे खड़े हो जाते हैं रूम थी इसलिए खड़े हो जाते हमारे शरीर के कि उस टाइम जो था जब वह आदिमानव रहते थे तो उस टाइम बहुत ज्यादा बढ़ पड़ता था तू जब इंसान को ठंडा लगता था तो जाऊंगा क्योंकि रोंगटे खड़े हो जाते थे रूम में इसलिए खड़े हो जाते थे क्यों नहीं ठंडी से प्रोटेक्ट कर सकते यह सारा का सारा जो प्रोसेस है हमारे अंदर चलता है वह जो हेयर से पहले के जमाने वाले अंशुमन दिल के बहुत ज्यादा बड़े थे वह इंसान में धीरे-धीरे कम होने लगे हैं मतलब बहुत कम है बाद में क्या होता है कि हमें डर लगता है या जब भी हमें ठंडा लगता है तो वह वाली एक्टिविटी हमारे साथ में लगती है और लगता है तो फिर हमारे रोंगटे खड़े हो जाते हैं या फिर हमें जब ठंडी लगती है तब हमारे रोंगटे खड़े हो जाते हैं तो इसका रीजन यह है कि जब हमें जब हमें ठंडी लगती है तो हमारे रोंगटे खड़े होते हैं हमें प्रोटेक्ट करने के लिए खड़े होते हैं फिर वह डर डर वाली बात जो मैंने पहले बताइए वह वाला दीजिए ना तो मैं आशा करते हैं कि मैं आपका रिप्लाई दे पाई होंगी धन्यवाद
Sar jaise ki aapane kveshchan kiya hai ki dar lagane par romaantik haree kyon ho jaate hain to dekhie jo hamaare poorvaj the vah unake hait bahut jyaada badee thee aur unake shareer par bahut saare baal the to kya karate the ki unhen vah nahin pata tha ki khaana kaise banaaya jaata hai to vah shikaar par jyaada matalab shikaar karate the vah pattharon se jaanavaron ko maar de dee aur unhen khaate the aur unake shareer par bahut saara maal tha to kya hota tha ki jab jab bhee vah shikaar karane jaate the to kya hoga ki unake shareer par baal rahata tha aur jo kuchh taim ke jaanavar thee vah bhee bahut jyaada bade the aur insaan mein bahut jyaada padhe the to kya hota tha ki jab bhee unako dar lagata tha to unaka jo matalab shareer ka baal hai vah rongate khade kar lete the jisakee vajah se vah kuchh jyaada hee bade dikhaee de to kya unake shareer par bahut saara baal tha aur vah khada ho jaata tha jab bhee unhen dar lagata tha to khada ho jaata tha aur jab baal khada ho jaata hai to vah bahut jyaada matalab bade dikhate the vishaal dikhate the to kya ki jaise ki jo jaanavar hai use dekh kar dar jae to phir yah saara jo cheej hai vah dheere dheere dheere dheere jo insaan hai vah divelap hone laga hai jo usake shareer ke paas hai vah bhee kam hone lagee aur kya hua ki jab bhee yah hamaare saath ektivitee hotee hai ki jab bhee ham darate hain to kya hota aksar aisa hota hai ya phir jab aur aisa hota hai ki jab hamen thandee lagatee hai tab hamaare rongate khade ho jaate hain room thee isalie khade ho jaate hamaare shareer ke ki us taim jo tha jab vah aadimaanav rahate the to us taim bahut jyaada badh padata tha too jab insaan ko thanda lagata tha to jaoonga kyonki rongate khade ho jaate the room mein isalie khade ho jaate the kyon nahin thandee se protekt kar sakate yah saara ka saara jo proses hai hamaare andar chalata hai vah jo heyar se pahale ke jamaane vaale anshuman dil ke bahut jyaada bade the vah insaan mein dheere-dheere kam hone lage hain matalab bahut kam hai baad mein kya hota hai ki hamen dar lagata hai ya jab bhee hamen thanda lagata hai to vah vaalee ektivitee hamaare saath mein lagatee hai aur lagata hai to phir hamaare rongate khade ho jaate hain ya phir hamen jab thandee lagatee hai tab hamaare rongate khade ho jaate hain to isaka reejan yah hai ki jab hamen jab hamen thandee lagatee hai to hamaare rongate khade hote hain hamen protekt karane ke lie khade hote hain phir vah dar dar vaalee baat jo mainne pahale bataie vah vaala deejie na to main aasha karate hain ki main aapaka riplaee de paee hongee dhanyavaad

#जीवन शैली

Nidhi Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Nidhi जी का जवाब
Unknown
5:03
नमस्कार जैसे कि आपने क्वेश्चन किया है कि मेरी जिंदगी में बहुत दिक्कत है मैं बिना मतलब के परेशानियों में फंस जाती हूं इस शब्द से बचने के लिए मैं क्या उपाय करूं देश के हर इंसान जाए वह दुनिया में कितना भी अमीर हो या फिर कितना भी गरीब हो यह कोई भी कैसा बनता है ना कोई ऐसा इंसान नहीं है जबकि लाइफ में उसका घर नहीं है जिसके लाइफ में प्रॉब्लम नहीं हर इंसान की लाइफ में प्रॉब्लम है बस उसे देखने का नजरिया चेंज करना पड़ेगा तो देखिए प्रॉब्लम आता है ना तो जितना बड़ा प्रॉब्लम आएगा इतनी बड़ी शक्ति हम उसके साथ हमारे पास आएंगे और आप नोटिस नहीं किया होगा कि आप को आप की क्वालिटी तभी पता चलती है जब वह प्रॉब्लम ऑफ हैंडल करते हो तो प्रॉब्लम से आपको घबराना नहीं चाहिए बल्कि उसको एक दम धांसू के अच्छे से उसे मतलब समझना चाहिए और उसका मतलब निकालना चाहिए मैं आपको यह कहना चाहूंगी कि आपको अपनी नजरिया को चेंज करना पड़ेगा हर इंसान की लाइफ में बहुत सारे प्रॉब्लम पाते हैं और उन्हें प्रॉब्लम उसे वह बहुत ज्यादा निखरता है जैसे कि आपको पता है कि हर कोयला अगर कोई कोयला है अगर उसको डायमंड बनना है उसको बहुत सारा पैसा देना पड़ता है तो ऐसे ही अगर कोई इंसान बहुत ज्यादा अच्छा अगर आपकी लाइफ में यह सोचो कि अगर आप प्रॉब्लम में आ रहे हो अगर आपको प्रॉब्लम आ रही है लाइफ में आप समझो कि आप डेवलप कर रहे हो आपके अंदर की जो इंटरनल क्वालिटी है जो आपको पता नहीं है आपके सामने आ रही है और वह मतलब आपको एक लाइफ में बहुत अच्छा इंसान बना रहेगी और आपको बाद में समझ में आएगा जैसे कि आपने जितना भी अब लाइफ जिओ जितने भी प्रॉब्लम तो आपने हैंडल किया है अगर आप सोचोगे तो आपको यह पता चलेगा कि अरे यार यह लाइफ में हुआ है तो इसका मतलब बहुत अच्छा हुआ है और इसकी वजह से मैंने बहुत कुछ सीखा है अपने माइंड से चेंज करना है यह करना कोई प्रॉब्लम अगर आप घर तक यह करो जैसे कि अक्सर क्या होता है कि जब हमारे थॉट्स मैच नहीं करते किसी इंसान से उसको पकड़ लेता है और हम अपने थॉट को पकड़ लेते हैं तो क्या होता की लड़ाई होने लगती है क्या करना चाहिए उस इंसान से इंसान से आपको आपका खास नहीं मैच करता है ऐसे इंसान जो आपको पसंद नहीं है उसकी एक्टिविटी आपको पसंद नहीं है तो उसे थोड़ी बहुत दूरियां बना लो तो उस दिन भर सकता उसे करता दूरियां बना लो क्योंकि फिर आप देखोगे फिर गुस्सा आ जाएगा फिर एक्टिविटी करेगा जिससे जो आपको पसंद ना हो तो फिर क्या होगा कि ऑटोमेटिक की प्रॉब्लम आने लगती हैं अक्सर मैक्सिमम लोगों के साथ होता तो क्या करना है कि वह अपने माइंड सेट को चेंज करना और ऐसे लोगों से दूरियां बनानी है जो आपको पसंद ना हो जो उनके काम ना पसंद हो और फिर कुछ अच्छे अच्छे लोगों से फ्रेंडशिप करनी है या फिर आपको कोई प्रॉब्लम होता है तो आप इस पर बोलकर पर प्रॉब्लम्स को पूछ कर सकते हो तो आपको बहुत सारे एक्सपर्ट अच्छे अच्छे वाले सलाह देंगे जो आप अपनी लाइफ में अप्लाई कर के कुछ बहुत कुछ सीख सकते हो तो मैं आपको यह कहना चाहूंगी कि आप लाइफ में प्रॉब्लम चाहते हैं तो अपने माइंडसेट को चेंज करना चाहिए उस टाइम आप को देखिए हर इंसान की लाइफ में प्रॉब्लम चाहते हैं गुस्से आते हैं फिल्मों में नजर है क्योंकि इंसान अगर जी रहा है तभी तो वह प्रॉब्लम सैंडल कर रहा है जब वह मर जाएगा तो फिर उसको तो कोई प्रॉब्लम तो नहीं होगी तो सोचो कि आपको कि आप डेवलप कर रहे हो आपकी जो अंदर की इंटरनल क्वालिटी का है वह आपके सामने में करके आ रही हैं और वह आपको आगे लाइफ में बहुत ज्यादा हेल्प करेगी तो आपको भगवान को थैंक्स बोलना चाहिए या किसी को प्रॉब्लम होता है उसे भी हटाना चाहिए क्योंकि उसके वजह से जो क्वालिटी आप नहीं जानते हो और के सामने आता है और जिससे आप जब लव करते हो अरे अपने आप को निखारती हो तो आपको प्रॉब्लम पाता है तो फिर शांत रहो और अच्छे से कुछ देखो सबसे अच्छा तरीका है कि अगर आपका मूड ऑफ हो आप गाने सुन लो और अच्छे वाले गाने जो कुछ मोटिवेट करें यह नहीं कि सैड सॉन्ग सुन लिया सैड सॉन्ग सुनोगे तो फिर मुंह और आप हो जाएंगे तो अच्छे वाले गाने सुन लो या फिर ऐसा जगह पर जाओ कुछ उसके बाद देर शाम के घर जाते हैं अच्छे वाले थॉट्स क्रिएट करो अपने लिए अगर आप अपने से बात करोगे अपने आप को समझ जाओगे तो फिर कितनी भी बड़ी प्रॉब्लम से आगे अच्छे से हैंडल कर लोगे और आपको अप एंड डाउन आपका जो फ्लकचुएशन होता है हर इंसान के साथ होता है कि कोई भी छोटी सी प्रॉब्लम आती है तो हम बहुत सारा अप एंड डाउन चाहते हैं तो मैं यही सही समय ना चांदी के अपने आपको लाइफ में अगर प्रॉब्लम शायद तो फिर न्यूट्रल रखने की कोशिश करो उसे हैंड रखने की कोशिश करो और उसका एंड पॉजिटिव माइंड से सोचो कि इस प्रॉब्लम मुझे क्या बेनिफिट है थैंक यू
Namaskaar jaise ki aapane kveshchan kiya hai ki meree jindagee mein bahut dikkat hai main bina matalab ke pareshaaniyon mein phans jaatee hoon is shabd se bachane ke lie main kya upaay karoon desh ke har insaan jae vah duniya mein kitana bhee ameer ho ya phir kitana bhee gareeb ho yah koee bhee kaisa banata hai na koee aisa insaan nahin hai jabaki laiph mein usaka ghar nahin hai jisake laiph mein problam nahin har insaan kee laiph mein problam hai bas use dekhane ka najariya chenj karana padega to dekhie problam aata hai na to jitana bada problam aaega itanee badee shakti ham usake saath hamaare paas aaenge aur aap notis nahin kiya hoga ki aap ko aap kee kvaalitee tabhee pata chalatee hai jab vah problam oph haindal karate ho to problam se aapako ghabaraana nahin chaahie balki usako ek dam dhaansoo ke achchhe se use matalab samajhana chaahie aur usaka matalab nikaalana chaahie main aapako yah kahana chaahoongee ki aapako apanee najariya ko chenj karana padega har insaan kee laiph mein bahut saare problam paate hain aur unhen problam use vah bahut jyaada nikharata hai jaise ki aapako pata hai ki har koyala agar koee koyala hai agar usako daayamand banana hai usako bahut saara paisa dena padata hai to aise hee agar koee insaan bahut jyaada achchha agar aapakee laiph mein yah socho ki agar aap problam mein aa rahe ho agar aapako problam aa rahee hai laiph mein aap samajho ki aap devalap kar rahe ho aapake andar kee jo intaranal kvaalitee hai jo aapako pata nahin hai aapake saamane aa rahee hai aur vah matalab aapako ek laiph mein bahut achchha insaan bana rahegee aur aapako baad mein samajh mein aaega jaise ki aapane jitana bhee ab laiph jio jitane bhee problam to aapane haindal kiya hai agar aap sochoge to aapako yah pata chalega ki are yaar yah laiph mein hua hai to isaka matalab bahut achchha hua hai aur isakee vajah se mainne bahut kuchh seekha hai apane maind se chenj karana hai yah karana koee problam agar aap ghar tak yah karo jaise ki aksar kya hota hai ki jab hamaare thots maich nahin karate kisee insaan se usako pakad leta hai aur ham apane thot ko pakad lete hain to kya hota kee ladaee hone lagatee hai kya karana chaahie us insaan se insaan se aapako aapaka khaas nahin maich karata hai aise insaan jo aapako pasand nahin hai usakee ektivitee aapako pasand nahin hai to use thodee bahut dooriyaan bana lo to us din bhar sakata use karata dooriyaan bana lo kyonki phir aap dekhoge phir gussa aa jaega phir ektivitee karega jisase jo aapako pasand na ho to phir kya hoga ki otometik kee problam aane lagatee hain aksar maiksimam logon ke saath hota to kya karana hai ki vah apane maind set ko chenj karana aur aise logon se dooriyaan banaanee hai jo aapako pasand na ho jo unake kaam na pasand ho aur phir kuchh achchhe achchhe logon se phrendaship karanee hai ya phir aapako koee problam hota hai to aap is par bolakar par problams ko poochh kar sakate ho to aapako bahut saare eksapart achchhe achchhe vaale salaah denge jo aap apanee laiph mein aplaee kar ke kuchh bahut kuchh seekh sakate ho to main aapako yah kahana chaahoongee ki aap laiph mein problam chaahate hain to apane maindaset ko chenj karana chaahie us taim aap ko dekhie har insaan kee laiph mein problam chaahate hain gusse aate hain philmon mein najar hai kyonki insaan agar jee raha hai tabhee to vah problam saindal kar raha hai jab vah mar jaega to phir usako to koee problam to nahin hogee to socho ki aapako ki aap devalap kar rahe ho aapakee jo andar kee intaranal kvaalitee ka hai vah aapake saamane mein karake aa rahee hain aur vah aapako aage laiph mein bahut jyaada help karegee to aapako bhagavaan ko thainks bolana chaahie ya kisee ko problam hota hai use bhee hataana chaahie kyonki usake vajah se jo kvaalitee aap nahin jaanate ho aur ke saamane aata hai aur jisase aap jab lav karate ho are apane aap ko nikhaaratee ho to aapako problam paata hai to phir shaant raho aur achchhe se kuchh dekho sabase achchha tareeka hai ki agar aapaka mood oph ho aap gaane sun lo aur achchhe vaale gaane jo kuchh motivet karen yah nahin ki said song sun liya said song sunoge to phir munh aur aap ho jaenge to achchhe vaale gaane sun lo ya phir aisa jagah par jao kuchh usake baad der shaam ke ghar jaate hain achchhe vaale thots kriet karo apane lie agar aap apane se baat karoge apane aap ko samajh jaoge to phir kitanee bhee badee problam se aage achchhe se haindal kar loge aur aapako ap end daun aapaka jo phlakachueshan hota hai har insaan ke saath hota hai ki koee bhee chhotee see problam aatee hai to ham bahut saara ap end daun chaahate hain to main yahee sahee samay na chaandee ke apane aapako laiph mein agar problam shaayad to phir nyootral rakhane kee koshish karo use haind rakhane kee koshish karo aur usaka end pojitiv maind se socho ki is problam mujhe kya beniphit hai thaink yoo

#जीवन शैली

Nidhi Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Nidhi जी का जवाब
Unknown
3:07
जैसे कि आपने क्वेश्चन किया है कि ज्यादातर खामोश रहने वाले लोगों को घमंडी क्यों समझते हैं या फिर खामोश रहने वाले लोगों का मजाक क्यों उड़ाते हैं लेकिन यह जो इंसान है वह अपने जैसा जो इंसान जैसा होता है वह इंसान को उसी टाइप से जांच करता तो अक्सर मतलब यह इंसान बहुत अच्छे होते हैं जो खामोश रहते हैं या फिर जो थोड़ा कम बोलते हैं तो वह इंसान बहुत ज्यादा बैटर होते हैं क्योंकि वह हर सिचुएशन को समझते हैं उसके बाद बोलते हैं और कोई इंसान बहुत ज्यादा बोलता रहता पक पक पक पक तो क्या होता है कि लोग मतलब उससे बहुत ज्यादा कि हां यार यह तो यह तीव्रता है यह करता है वह है लेकिन हर इंसान का अपना तरीका होता तो मैं यह बता दूं कि जो इंसान है कोई भी इंसान है वह कोई कैसे भी रहे कोई ज्यादा बोले या फिर कोई ज्यादा कम बोले अपने साइड से ही दर्द करेगा डेट्स बैटर कि जो इंसान जिस चीज में कंफर्टेबल है तू और कम बोलना भी बहुत सही बात है क्योंकि नहीं किए कम बोलने से क्या होता है कि अगर विवाद होने के चांसेस बहुत कम होते हैं एंड को और उसकी जो एलर्जी होती है वह दोस्ती होती है जैसे कि आप बोलोगे कि जो एनर्जी बोलने में भी बहुत ज्यादा लगती है जो कम बोलता है तो है क्या होता है कि उसके उसके बाद उसके बाद की वैल्यू भी रहती है जो इंसान बोलता रहता है 14 घंटे तो उसके बाद की कोई वैल्यू नहीं रहती लेकिन जो इंसान शांत रहता है और वह कोई बात बात बोलता है तो क्या होता है कि उसकी बात क्यों पराई होती है और ज्यादातर आप नोटिस क्योंकि जितने भी मतलब मैं एजुकेटेड लोग होते हैं वह बहुत कम बोलते हैं जितनी बात रहती है उतनी उतना ही बोलते हैं तो हम नहीं किसी को जज कर सकते क्योंकि ऐसी क्वालिटी है तो वह इंसान है ऐसा है और मतलब कोई ऐसा है तो वह ऐसा नहीं कर सकते क्योंकि हर एक इंसान का एक अलग क्या तो मैं कहूंगी कि कोई कैसा भी हो उसको ऐसे ही एक्सेप्ट करना चाहिए वहां अक्सर सोसाइटी में ऐसा होता है कि लोग अगर कोई काम बोलता है तो लोग कहते हैं घमंडी है क्या हो गया बोलने दो बोलने से क्या होने वाला है क्योंकि हम दुनिया को देख कर चलने लगेंगे अगर हम यह सोचने लगे कि दुनिया क्या सोचेगी तो फिर दुनिया क्या सोचेगी बात तो मैं तुम्हें यही सजेशन देना सॉन्ग कि आप जैसे कोई भी इंसान जैसा अच्छा अच्छा फील करता अगर वह कम बोलने में अच्छा फील करता है अगर वह ज्यादा बोलने में अच्छा फिर करता तो वह ऐसे बोले और ना कि मतलब हर चीज में बैलेंस होना चाहिए जैसे कोई कम बोलता है तो भी बैठा है कोई ज्यादा ज्यादा बोलने वाले लोगों को देखा है कि उन्हें बहुत सारा नुकसान होता है और हर एक बात अपनी शेयर कर देते हैं और मतलब क्या होता है कि फिर बाद में उन्हें बहुत ज्यादा पछतावा होने लगता तो मेरे हिसाब से कोई इंसान कैसे भी जज करें बस अपने आप में ही करना चाहिए खुशी रखनी चाहिए क्योंकि कोई इंसान कितना भी बैटर बनता है उसमें लोग खामियां निकालेंगे थैंक यू
Jaise ki aapane kveshchan kiya hai ki jyaadaatar khaamosh rahane vaale logon ko ghamandee kyon samajhate hain ya phir khaamosh rahane vaale logon ka majaak kyon udaate hain lekin yah jo insaan hai vah apane jaisa jo insaan jaisa hota hai vah insaan ko usee taip se jaanch karata to aksar matalab yah insaan bahut achchhe hote hain jo khaamosh rahate hain ya phir jo thoda kam bolate hain to vah insaan bahut jyaada baitar hote hain kyonki vah har sichueshan ko samajhate hain usake baad bolate hain aur koee insaan bahut jyaada bolata rahata pak pak pak pak to kya hota hai ki log matalab usase bahut jyaada ki haan yaar yah to yah teevrata hai yah karata hai vah hai lekin har insaan ka apana tareeka hota to main yah bata doon ki jo insaan hai koee bhee insaan hai vah koee kaise bhee rahe koee jyaada bole ya phir koee jyaada kam bole apane said se hee dard karega dets baitar ki jo insaan jis cheej mein kamphartebal hai too aur kam bolana bhee bahut sahee baat hai kyonki nahin kie kam bolane se kya hota hai ki agar vivaad hone ke chaanses bahut kam hote hain end ko aur usakee jo elarjee hotee hai vah dostee hotee hai jaise ki aap bologe ki jo enarjee bolane mein bhee bahut jyaada lagatee hai jo kam bolata hai to hai kya hota hai ki usake usake baad usake baad kee vailyoo bhee rahatee hai jo insaan bolata rahata hai 14 ghante to usake baad kee koee vailyoo nahin rahatee lekin jo insaan shaant rahata hai aur vah koee baat baat bolata hai to kya hota hai ki usakee baat kyon paraee hotee hai aur jyaadaatar aap notis kyonki jitane bhee matalab main ejuketed log hote hain vah bahut kam bolate hain jitanee baat rahatee hai utanee utana hee bolate hain to ham nahin kisee ko jaj kar sakate kyonki aisee kvaalitee hai to vah insaan hai aisa hai aur matalab koee aisa hai to vah aisa nahin kar sakate kyonki har ek insaan ka ek alag kya to main kahoongee ki koee kaisa bhee ho usako aise hee eksept karana chaahie vahaan aksar sosaitee mein aisa hota hai ki log agar koee kaam bolata hai to log kahate hain ghamandee hai kya ho gaya bolane do bolane se kya hone vaala hai kyonki ham duniya ko dekh kar chalane lagenge agar ham yah sochane lage ki duniya kya sochegee to phir duniya kya sochegee baat to main tumhen yahee sajeshan dena song ki aap jaise koee bhee insaan jaisa achchha achchha pheel karata agar vah kam bolane mein achchha pheel karata hai agar vah jyaada bolane mein achchha phir karata to vah aise bole aur na ki matalab har cheej mein bailens hona chaahie jaise koee kam bolata hai to bhee baitha hai koee jyaada jyaada bolane vaale logon ko dekha hai ki unhen bahut saara nukasaan hota hai aur har ek baat apanee sheyar kar dete hain aur matalab kya hota hai ki phir baad mein unhen bahut jyaada pachhataava hone lagata to mere hisaab se koee insaan kaise bhee jaj karen bas apane aap mein hee karana chaahie khushee rakhanee chaahie kyonki koee insaan kitana bhee baitar banata hai usamen log khaamiyaan nikaalenge thaink yoo

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
मैं ज्यादा सोचता हूं और कुछ खाली समय मिलते ही कल्पना करना शुरू कर देता हूं मैं उसे कैसे रुकूं?Main Jyaada Sochata Hoon Aur Kuchh Khaalee Samay Milate Hee Kalpana Karana Shuroo Kar Deta Hoon Main Use Kaise Rukoon
Nidhi Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Nidhi जी का जवाब
Unknown
3:44
नमस्कार जय विज्ञान में क्वेश्चन किया है कि मैं ज्यादा सोचता हूं और कुछ खाली समय मिलता ही मिलते यह कल्पना करना शुरू कर देता हूं मैं उसे कैसे रोकू देखिए हमारी जो है वह जो हमारे दिमाग का काम है वह सोचना ही काम है और यह हर इंसान के साथ होता है पहली बार ही अपने दिमाग से निकाल दो कि कोई ऐसा इंसान ही नहीं है जो सोचता नहीं है हर इंसान सोचता है लेकिन जो हम चाहे होता है कि इंसान की सोच ले कि जो मतलब दृष्टि है वह अलग अलग होती है जिसे कोई इंसान को इंसान मतलब मैक्सिमम इंसान एक परसेंट इंसान क्या होता है कि वह नेगेटिव सोचता है कि वह कोई भी काम करने से पहले जैसे कि आपको पता है कि जो जो क्या करें खरपतवार होते हैं वह ऐसे ऊपर जाते हैं लेकिन हमें जैसे गेहूं चावल के स्वीट्स हुआ उसके लिए हमें मेहनत करनी पड़ती वैसे ही हमारे थॉट्स जो हमारे गलत व्हाट्सएप में खुद ही ऊपर जाता है उसे ऊपर उठने की कोई जरूरत नहीं पड़ती है और जो हमारे अच्छे वाले थॉट्स है उसे हमें मेहनत करना पड़ता है अच्छी बुक पढ़नी पड़ती है मैं अच्छे अच्छे लोगों की लाइव स्कोर पढ़नी पड़ती है या फिर बहुत ज्यादा पॉजिटिव रहना पड़ता है और यह धीरे-धीरे प्रेक्टिस करने पर होता है कोई बीमारी नहीं है वह हर इंसान के साथ होता है कि वह सोचता है लेकिन उस जो एक दूसरे पर उसे अच्छे वाले थॉट सोचना चाहिए क्योंकि अक्सर क्या होता है कि हम नेगेटिव फॉर्म ज्यादा ही सोचने लग गया था कि जैसे आप सोचोगे आपका मन में ऐसा होने लगता है जैसे बोला गया कि जो इंसान जैसा सोचता है वह वैसा बन जाता है तो अपने आप को अच्छे वाले थॉट्स उसने अपने आपको अच्छा वाला इंसान बनाना है क्योंकि उस टाइम अक्सर आपने देखा उसकी हर इंसान इंडिया नंबर वन पर डिप्रेशन में इसका नतीजा यह है कि हम लोग अपने आपको टाइम ही नहीं रहता है दूध सोशल मीडिया पर चेक किया है क्या वह है तो दूसरों से कंपटीशन में रहना यह सारी चीज है जो हमारी लाइफ को बहुत ज्यादा बिगड़ रही है उन लोग से तो दूरी बना लेनी चाहिए और क्या करना चाहिए कि हमारे जो थॉट हैं उनको अच्छे वाले मतलब क्रिकेट करना चाहिए अच्छा वाला थॉट्स ग्रेट करना चाहिए अच्छे-अच्छे बुक्स पढ़नी चाहिए जो अच्छे वाले मतलब जो कैरेक्टर अच्छा जैसे स्वामी विवेकानंद या फिर बहुत अच्छे अच्छे वाले कैरेक्टर हैं उनके बारे में पढ़ना चाहिए उनकी लाइफ में बहुत सारी इच्छा कल आए लेकिन उन्होंने कितने अच्छे से उसे हैंडल किया है यह सब चीज हम पड़ता है तो हमारे जो मेंटल है वह मतलब वह बहुत ज्यादा पावर में मिला था और लाइफ में इतना याद रखो कि हमें बहुत कुछ सीखना है अभी लाइफ में और बहुत कुछ जाना है यह सरकार के अंदर का उपयोग करके रखना चाहिए तो क्या करना चाहिए कि हम अपने दोस्त को तो रोक नहीं सकते लेकिन हम उसे डायरेक्शन दे सकते हैं कि आपका जॉब है जो भी है के बारे में सर्च करो उसके बारे में लिखो उसके बारे में नोटिस करो फिर मुझसे बात करो जब आप अपने आपको बिजी रखोगे उस में रहोगे तो धीरे-धीरे जो आप सोचते हो कि आप जैसा बनने पर कुछ अलग ही देखने लगे हो फिर आपको मतलब यह तो नहीं कहते व्हाट्सएप को धीरे-धीरे खुद पर खुद से ही दूर हो जाएगा और जो आप चाहोगे लाइफ में वह बन जाओगे तो मैं कहूंगी कि जो फसल उसको रोका नहीं जा सकता और कोई भी इंसान अपने दोस्त को नहीं रोक सकता लेकिन उसको एक डायरेक्शन दे सकता है अगर वह डाल देगा अगर अच्छा डायरेक्शन मिल गया उसको जो उसका एम है या कुछ भी है तो फिर क्या होगा कि वो इंसान बहुत अच्छा बन जाएगा और जो चेहरा लाइफ में चलेगा थैंक यू
Namaskaar jay vigyaan mein kveshchan kiya hai ki main jyaada sochata hoon aur kuchh khaalee samay milata hee milate yah kalpana karana shuroo kar deta hoon main use kaise rokoo dekhie hamaaree jo hai vah jo hamaare dimaag ka kaam hai vah sochana hee kaam hai aur yah har insaan ke saath hota hai pahalee baar hee apane dimaag se nikaal do ki koee aisa insaan hee nahin hai jo sochata nahin hai har insaan sochata hai lekin jo ham chaahe hota hai ki insaan kee soch le ki jo matalab drshti hai vah alag alag hotee hai jise koee insaan ko insaan matalab maiksimam insaan ek parasent insaan kya hota hai ki vah negetiv sochata hai ki vah koee bhee kaam karane se pahale jaise ki aapako pata hai ki jo jo kya karen kharapatavaar hote hain vah aise oopar jaate hain lekin hamen jaise gehoon chaaval ke sveets hua usake lie hamen mehanat karanee padatee vaise hee hamaare thots jo hamaare galat vhaatsep mein khud hee oopar jaata hai use oopar uthane kee koee jaroorat nahin padatee hai aur jo hamaare achchhe vaale thots hai use hamen mehanat karana padata hai achchhee buk padhanee padatee hai main achchhe achchhe logon kee laiv skor padhanee padatee hai ya phir bahut jyaada pojitiv rahana padata hai aur yah dheere-dheere prektis karane par hota hai koee beemaaree nahin hai vah har insaan ke saath hota hai ki vah sochata hai lekin us jo ek doosare par use achchhe vaale thot sochana chaahie kyonki aksar kya hota hai ki ham negetiv phorm jyaada hee sochane lag gaya tha ki jaise aap sochoge aapaka man mein aisa hone lagata hai jaise bola gaya ki jo insaan jaisa sochata hai vah vaisa ban jaata hai to apane aap ko achchhe vaale thots usane apane aapako achchha vaala insaan banaana hai kyonki us taim aksar aapane dekha usakee har insaan indiya nambar van par dipreshan mein isaka nateeja yah hai ki ham log apane aapako taim hee nahin rahata hai doodh soshal meediya par chek kiya hai kya vah hai to doosaron se kampateeshan mein rahana yah saaree cheej hai jo hamaaree laiph ko bahut jyaada bigad rahee hai un log se to dooree bana lenee chaahie aur kya karana chaahie ki hamaare jo thot hain unako achchhe vaale matalab kriket karana chaahie achchha vaala thots gret karana chaahie achchhe-achchhe buks padhanee chaahie jo achchhe vaale matalab jo kairektar achchha jaise svaamee vivekaanand ya phir bahut achchhe achchhe vaale kairektar hain unake baare mein padhana chaahie unakee laiph mein bahut saaree ichchha kal aae lekin unhonne kitane achchhe se use haindal kiya hai yah sab cheej ham padata hai to hamaare jo mental hai vah matalab vah bahut jyaada paavar mein mila tha aur laiph mein itana yaad rakho ki hamen bahut kuchh seekhana hai abhee laiph mein aur bahut kuchh jaana hai yah sarakaar ke andar ka upayog karake rakhana chaahie to kya karana chaahie ki ham apane dost ko to rok nahin sakate lekin ham use daayarekshan de sakate hain ki aapaka job hai jo bhee hai ke baare mein sarch karo usake baare mein likho usake baare mein notis karo phir mujhase baat karo jab aap apane aapako bijee rakhoge us mein rahoge to dheere-dheere jo aap sochate ho ki aap jaisa banane par kuchh alag hee dekhane lage ho phir aapako matalab yah to nahin kahate vhaatsep ko dheere-dheere khud par khud se hee door ho jaega aur jo aap chaahoge laiph mein vah ban jaoge to main kahoongee ki jo phasal usako roka nahin ja sakata aur koee bhee insaan apane dost ko nahin rok sakata lekin usako ek daayarekshan de sakata hai agar vah daal dega agar achchha daayarekshan mil gaya usako jo usaka em hai ya kuchh bhee hai to phir kya hoga ki vo insaan bahut achchha ban jaega aur jo chehara laiph mein chalega thaink yoo

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
तनाव कम करने के लिए हम क्या क्या कर सकते हैं?Tanaav Kam Karne Ke Liye Hum Kya Kya Kar Sakte Hai
Nidhi Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Nidhi जी का जवाब
Unknown
3:56
जैसे कि आप नमस्कार जैसे कि आपने क्वेश्चन किया है कि तनाव कम करने के लिए हमें क्या क्या कर सकते हैं तो देखिए हर इंसान की जो चाहते हैं वह बहुत अलग है लोग पता तनाव क्यों होता है लोग उसको जिस काम को करे उनको तुरंत रिजल्ट चाहिए तुरंत रिजल्ट के पीछे भागोगे तो क्या होगा कि तनाव होगा और दूसरी बात तो क्या होता है कि लोग दूसरों की वजह से ज्यादा परेशान हो तो खुद के लिए जीते हैं प्लीज की मतलब क्या होता है कि कोई भी काम करता है कोई इंसान का काम ही है दूसरों के काम में दखल देना है तो वह क्या करेगा उसको कुछ सेंड कर देगा तुमको तो यह करने नहीं आता है तुम्हें यह नहीं होता तो उस बात को दिल पर लगा देगा तो तो सबसे पहले बात क्या करना है कि दूसरे को बात को इग्नोर कर देना क्योंकि आप से बेटर आपको सब कोई समझ नहीं सकता है क्योंकि आप अपने टो अपने साथ सबसे ज्यादा समय आप बताते हो तो आप आप पर बैठे आपको कोई नहीं जान सकता तो मेरे हिसाब से दूसरों की बातों को दिल पर लगाना छोड़ पहली बात का नाम होगा ही नहीं दूसरी बात रिजल्ट को लेकर चिंता ना करो जो होगा अच्छा होगा इस लाइफ में आज तक जो भी हुआ है कि इसमें बहुत अच्छा हुआ है और जो भी होगा वह उसके पीछे बहुत अच्छा ही होगा अगर यह सारी भावनाएं अंदर आएगी तो तनाव नहीं आएगा लेकिन तनाव आते हैं अक्सर क्या होता है कि लाइफ में बहुत सारे लोग भी फ्रेश हो जाता है ब्लू क्या होता है कि इतनी छोटी-छोटी बात को लेकर इतना सारा चिल्लाने लगते हैं या फिर बहुत कुछ बहुत सारी प्रॉब्लम आती है तो क्या करना चाहिए कि उस टाइम जहां पर लोग ज्यादा चलाते हैं या फिर उस टाइम ऑफिस अर्जेंटली वो मेरे दिमाग पृथक करता जैसा हम पढ़ाई करते हैं तो सब वीडियो देखते हैं कुछ भी करते हैं जैसा करते हैं ना ऐसे माहौल में रहते हम वैसा बन जाते हैं हमें अपने आप को बहुत संभाल कर रखना और अच्छे अच्छी क्वालिटी आपने अंदर भरना तो और क्या करें अगर इंसान अपने अंदर अच्छी अच्छी क्वालिटी या भरेगा फिर अच्छे अच्छे थॉट रखेगा तो फिर से पर उसके बाद क्या करना चाहिए उसको अगर सबसे अच्छा तरीका उसे क्या करना चाहिए जो छोटे बच्चे हैं उनके साथ जाकर एटलेस्ट अगर ज्यादा तनाव हो रहा है तो उनके साथ जाकर थोड़ा बहुत टाइम स्पेंड कर लो तो क्या होगा कि आपका मूड जो है बहुत अच्छा हो जाएगा या फिर क्या कर सकता है कोई दम शांत प्ले स्टोर चले जाओ ऐसी जगह जहां पर आपको बहुत ज्यादा सुकून मिले और खुद से बातें करो अच्छी वाली बातें करो कि हां मैं तो तनाव में हूं आपको सारे प्रश्न का उत्तर मिल जाएगा क्या क्यों ऐसा कर रहे हो क्यों ना करो 2 मिनट अपने आप को शांत रखो अपने आप को समझो ऑटोमेटिक आप मुझे नहीं लगता था अब एंड सबसे अच्छा तरीका तो मैंने बताया फिर गाना सुन लो गाना सुन लो उससे भी क्या होता है कि इंसान जैसे कि बोला गया है कि जो इंसान में 25 से गाने सुनता है वह यस नहीं होता है उसे कोई तनाव नहीं होता अच्छा तरीका है यार कोई ऐसा दोस्त है जो आपको बहुत अच्छे से समझता है उसे बातें कर लो यह सारे काम करोगे तो फिर आपको तनाव आप ऐसी सिचुएशन क्रिएट करो पहले से तैयार होकर आपको तनाव हीरा लेकिन इस टाइम लाइफ में तनाव आ जाते हैं तो हमें क्या करना चाहिए पहले से तैयार रहना चाहिए क्योंकि यह हमारी जो लाइफ है उसको हम नहीं संभाल लेंगे तो फिर कोई नहीं संभाल लेगा पाकिस्तान आपको पता है कि भारत जो है वह तनाव में मतलब डिप्रेशन में सबसे नंबर वन है हमारे इंडिया के लिए बहुत दुख की बात है कि इतने सारे मतलब लोग बहुत ज्यादा डिप्रेशन में तो क्या करना चाहिए बस इंसान को खुद से अगर ना हो जाए डिप्रेशन होता है तो क्या करना चाहिए 2 मिनट शांत रहना चाहिए और अपने आप से बातें बातें करो क्यों तनाव में है क्यों हो कैसे हो आपको सारे प्रश्न का उत्तर मिल जाएगा और आप बहुत ज्यादा रिलैक्स फील करो थैंक यू
Jaise ki aap namaskaar jaise ki aapane kveshchan kiya hai ki tanaav kam karane ke lie hamen kya kya kar sakate hain to dekhie har insaan kee jo chaahate hain vah bahut alag hai log pata tanaav kyon hota hai log usako jis kaam ko kare unako turant rijalt chaahie turant rijalt ke peechhe bhaagoge to kya hoga ki tanaav hoga aur doosaree baat to kya hota hai ki log doosaron kee vajah se jyaada pareshaan ho to khud ke lie jeete hain pleej kee matalab kya hota hai ki koee bhee kaam karata hai koee insaan ka kaam hee hai doosaron ke kaam mein dakhal dena hai to vah kya karega usako kuchh send kar dega tumako to yah karane nahin aata hai tumhen yah nahin hota to us baat ko dil par laga dega to to sabase pahale baat kya karana hai ki doosare ko baat ko ignor kar dena kyonki aap se betar aapako sab koee samajh nahin sakata hai kyonki aap apane to apane saath sabase jyaada samay aap bataate ho to aap aap par baithe aapako koee nahin jaan sakata to mere hisaab se doosaron kee baaton ko dil par lagaana chhod pahalee baat ka naam hoga hee nahin doosaree baat rijalt ko lekar chinta na karo jo hoga achchha hoga is laiph mein aaj tak jo bhee hua hai ki isamen bahut achchha hua hai aur jo bhee hoga vah usake peechhe bahut achchha hee hoga agar yah saaree bhaavanaen andar aaegee to tanaav nahin aaega lekin tanaav aate hain aksar kya hota hai ki laiph mein bahut saare log bhee phresh ho jaata hai bloo kya hota hai ki itanee chhotee-chhotee baat ko lekar itana saara chillaane lagate hain ya phir bahut kuchh bahut saaree problam aatee hai to kya karana chaahie ki us taim jahaan par log jyaada chalaate hain ya phir us taim ophis arjentalee vo mere dimaag prthak karata jaisa ham padhaee karate hain to sab veediyo dekhate hain kuchh bhee karate hain jaisa karate hain na aise maahaul mein rahate ham vaisa ban jaate hain hamen apane aap ko bahut sambhaal kar rakhana aur achchhe achchhee kvaalitee aapane andar bharana to aur kya karen agar insaan apane andar achchhee achchhee kvaalitee ya bharega phir achchhe achchhe thot rakhega to phir se par usake baad kya karana chaahie usako agar sabase achchha tareeka use kya karana chaahie jo chhote bachche hain unake saath jaakar etalest agar jyaada tanaav ho raha hai to unake saath jaakar thoda bahut taim spend kar lo to kya hoga ki aapaka mood jo hai bahut achchha ho jaega ya phir kya kar sakata hai koee dam shaant ple stor chale jao aisee jagah jahaan par aapako bahut jyaada sukoon mile aur khud se baaten karo achchhee vaalee baaten karo ki haan main to tanaav mein hoon aapako saare prashn ka uttar mil jaega kya kyon aisa kar rahe ho kyon na karo 2 minat apane aap ko shaant rakho apane aap ko samajho otometik aap mujhe nahin lagata tha ab end sabase achchha tareeka to mainne bataaya phir gaana sun lo gaana sun lo usase bhee kya hota hai ki insaan jaise ki bola gaya hai ki jo insaan mein 25 se gaane sunata hai vah yas nahin hota hai use koee tanaav nahin hota achchha tareeka hai yaar koee aisa dost hai jo aapako bahut achchhe se samajhata hai use baaten kar lo yah saare kaam karoge to phir aapako tanaav aap aisee sichueshan kriet karo pahale se taiyaar hokar aapako tanaav heera lekin is taim laiph mein tanaav aa jaate hain to hamen kya karana chaahie pahale se taiyaar rahana chaahie kyonki yah hamaaree jo laiph hai usako ham nahin sambhaal lenge to phir koee nahin sambhaal lega paakistaan aapako pata hai ki bhaarat jo hai vah tanaav mein matalab dipreshan mein sabase nambar van hai hamaare indiya ke lie bahut dukh kee baat hai ki itane saare matalab log bahut jyaada dipreshan mein to kya karana chaahie bas insaan ko khud se agar na ho jae dipreshan hota hai to kya karana chaahie 2 minat shaant rahana chaahie aur apane aap se baaten baaten karo kyon tanaav mein hai kyon ho kaise ho aapako saare prashn ka uttar mil jaega aur aap bahut jyaada rilaiks pheel karo thaink yoo

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
दांतों में ठंडा गरम पानी लगने का घरेलू उपचार क्या है?Daanto Me Thanda Garam Paani Lagane Ka Gharelu Upchar Kya Hai
Nidhi Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Nidhi जी का जवाब
Unknown
2:52
नमस्कार जय श्री राम ने क्वेश्चन किया है कि दांतों में ठंडा गरम पानी लगने का घरेलू उपाय क्या है तो देखिए जो हमारा ड्यूटी हो गया इस टाइम हमारे शरीर को बहुत ज्यादा नुकसान करने लग रहा है ना छोटी छोटी लाइफ को चिंपल बनाने के लिए हम लोग बहुत कुछ आर्टिफिशियल सिंह को अपनाते हैं तुम लोग पहले देखा करते थे कि जो लोग हैं वह पहले डाल दूं क्या करते तो क्या होता था क्या उनका मुझे डांट है वह भी सही रहता था और उनका मसूड़ा भी सही रहता था और इस टाइम क्या हो गया कि लोग सारे लोग में लंबे हिसाब से 90% लोग ब्रश करते हैं दारू नहीं करते तो क्या होता है कि इससे हमारा क्या होता है कि बूढ़ा होता है ना वह कटने लगता है और लगता है तो फिर क्या होता है क्योंकि दिखने लगती है तो जब हम जैसे मसूड़ा कर जाता है तो थोड़ा जो जड़ होता है दांत का वह हमें दिखने लगता है या फिर रे जैसे कि हम पानी पीते हैं कुछ ठंडा या फिर कर्म तुम उसकी जड़ को हिट कर लूंगा जब तक वेट करता है तो ज्यादा ठंडा पड़ता है तो बोलना सिकुड़ जाती है फिर घर में जाना पड़ता है तो फिर खुल जाती है बहुत ज्यादा झनझनाहट होने लगता है तो हमें क्या करना चाहिए उसका मतलब अपने लाइफ में एक चीज अपनाना चाहिए और बाकी दे तो मतलब काम नहीं चलता तो माफ करना पड़ेगा लेकिन ब्रिज अगर कोई कर ले रहा है तो फिर जो मसूड़ा है उसको मसाज करना पड़े क्योंकि हमारा जो मत्सूरा है वह ब्रश करने की वजह से बुक करने लगता है तो ब्रश करने के बाद थोड़ा बहुत अपने मसूड़े को मसाज करना चाहिए और जैसे कि आपने पूछा है कि उसको मतलब तुरंत ठीक करने के लिए तुरंत ठीक करने के लिए मैं आपको बता दूं कि लहसुन होता है उसका दो जावा ले लूंगा और उसको उसका पेस्ट बना लो थोड़ा कम और पेस्ट बनाकर थोड़ा सा नमक डालकर और हमको मतलब झनझनाहट हो रही है जहां पर वहां पर वह पेस्ट लगा दो उसके बाद पेस्ट लगाने के बाद उसे मतलब वहां पर 10 मिनट तक छोड़ दो थोड़ा बहुत तो उसमें क्या होगा कि आपको तकलीफ होगी तो क्या करना है कि जाना तो पड़ेगा ही उसके बच्चा होगा कि उसके बाद उसको हटा देना और उसके बाद हटा के उसके बाद तुरंत पानी योजना करियो पानी ना यूज करना और उसके बाद 10 मिनट गुनगुना पानी लेकर हल्का सा पी लेना या फिर कुलकुला कर लेना उससे आपको क्या होगा तुरंत आराम मिल जाएगा और आप ऐसा करो कि आप कोई भी हो तो क्या करें कि अपने हफ्ते में एक बार एक लिस्ट बना दूं न्यूज़ करें और जब भी ब्रश कर ले तो अपने मसूड़े का मसाज करें अगर यह काम करेगा तो उसको जो 10 मिनट की प्रॉब्लम होती है तो कम हो जाएगी थैंक यू
Namaskaar jay shree raam ne kveshchan kiya hai ki daanton mein thanda garam paanee lagane ka ghareloo upaay kya hai to dekhie jo hamaara dyootee ho gaya is taim hamaare shareer ko bahut jyaada nukasaan karane lag raha hai na chhotee chhotee laiph ko chimpal banaane ke lie ham log bahut kuchh aartiphishiyal sinh ko apanaate hain tum log pahale dekha karate the ki jo log hain vah pahale daal doon kya karate to kya hota tha kya unaka mujhe daant hai vah bhee sahee rahata tha aur unaka masooda bhee sahee rahata tha aur is taim kya ho gaya ki log saare log mein lambe hisaab se 90% log brash karate hain daaroo nahin karate to kya hota hai ki isase hamaara kya hota hai ki boodha hota hai na vah katane lagata hai aur lagata hai to phir kya hota hai kyonki dikhane lagatee hai to jab ham jaise masooda kar jaata hai to thoda jo jad hota hai daant ka vah hamen dikhane lagata hai ya phir re jaise ki ham paanee peete hain kuchh thanda ya phir karm tum usakee jad ko hit kar loonga jab tak vet karata hai to jyaada thanda padata hai to bolana sikud jaatee hai phir ghar mein jaana padata hai to phir khul jaatee hai bahut jyaada jhanajhanaahat hone lagata hai to hamen kya karana chaahie usaka matalab apane laiph mein ek cheej apanaana chaahie aur baakee de to matalab kaam nahin chalata to maaph karana padega lekin brij agar koee kar le raha hai to phir jo masooda hai usako masaaj karana pade kyonki hamaara jo matsoora hai vah brash karane kee vajah se buk karane lagata hai to brash karane ke baad thoda bahut apane masoode ko masaaj karana chaahie aur jaise ki aapane poochha hai ki usako matalab turant theek karane ke lie turant theek karane ke lie main aapako bata doon ki lahasun hota hai usaka do jaava le loonga aur usako usaka pest bana lo thoda kam aur pest banaakar thoda sa namak daalakar aur hamako matalab jhanajhanaahat ho rahee hai jahaan par vahaan par vah pest laga do usake baad pest lagaane ke baad use matalab vahaan par 10 minat tak chhod do thoda bahut to usamen kya hoga ki aapako takaleeph hogee to kya karana hai ki jaana to padega hee usake bachcha hoga ki usake baad usako hata dena aur usake baad hata ke usake baad turant paanee yojana kariyo paanee na yooj karana aur usake baad 10 minat gunaguna paanee lekar halka sa pee lena ya phir kulakula kar lena usase aapako kya hoga turant aaraam mil jaega aur aap aisa karo ki aap koee bhee ho to kya karen ki apane haphte mein ek baar ek list bana doon nyooz karen aur jab bhee brash kar le to apane masoode ka masaaj karen agar yah kaam karega to usako jo 10 minat kee problam hotee hai to kam ho jaegee thaink yoo

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
जो लोग अकेले रहते हैं उनमें क्या खास होता है?jo log akele rahate hain unamen kya khaas hota hai
Nidhi Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Nidhi जी का जवाब
Unknown
2:15
कार जैसे कि आपने क्वेश्चन किया कि जो लोग अकेले रहते हैं उनमें क्या खास होता है तो देखिए को हर इंसान है दुनिया में जितने भी इंसान हैं उन्हें कुछ ना कुछ बहुत सारी अलग-अलग तरह की क्वालिटी आ पाई जाती है और जैसे कि आपने क्वेश्चन किया कि अकेले रहने वाले लोगों में क्या खास बात होती है तो मैं आपको बता दूंगा जैसे इंसान होते हैं वह इंडिपेंडेंट होते हैं क्योंकि वह दूसरों पर डिपेंड नहीं है कि दूसरों क्या सोच रहे हैं क्या नहीं सोच रहे हैं यह उनमें क्वालिटी आ पाए जाएंगे कि वह इंडिपेंडेंट होंगे और दूसरी का क्वालिटी मेरे हिसाब से वह बड़े होंगे क्योंकि वह अकेले रह रहे हैं अकेले जब इंसान क्योंकि दुनिया में बहुत ज्यादा डिफिकल्ट होता है अकेले रहना और जो इंसान अकेले रह जाए अपने में खुश रह रहा तू क्या तू करेजा भी आ ही जाता है तू मेरे साथ उसमें करेंगे पाया जाता होगा और अपने आपको बहुत अच्छे से समझ क्योंकि जब इंसान अकेले रहने लगता है टाइम स्पेंड करने लगता है अपने साथ तो क्या होता है कि वह अपने आप को बहुत बेटे समझने लगता है तो मेरे हिसाब से वह इंसान अपने आपको बहुत ज्यादा बेटर समझने लगता औरतों की बात वह दूसरों के फोन पर ही डिपेंड करता है या किसी की लाइफ मतलब कोई किसी ने बोल दिया कि या कुछ कर दिया जैसे कि लोग क्या होता है कि एक दूसरे के साथ तो कोई रिलेशनशिप में है या फिर किसी से कोई मतलब कोई ऐसा इंसान किसी ने कुछ बोल दिया तो फिर उस बात को लेकर बैठ जाता है वह कोई भी काम करता है तो फिर वह अच्छे से कर लेता है और फिर उसको मतलब डर नहीं रहता है उसके अंदर करेजा जाता है फिर वह अगर वह किसी से जुड़ता भी है ना तो उसमें एक अलग तरह की क्वालिटी पाई जाएगी जो दूसरों से अलग होगी क्योंकि बहुत ज्यादा वर्क किया होगा क्योंकि इस टाइम क्या हो गया फिर दूसरों को लोग बहुत ज्यादा टाइम दे रहा है अपने को नहीं था एथलीट मनावर तो अपने लिए निकालना चाहिए किसी भी इंसान को खुद के साथ टाइम स्पेंड करना चाहिए तो क्या हुआ कि इंसान की जो कैरेक्टर है या फिर उसकी जो पर्सनालिटी है वह कुछ अलग ही दिखेगी दोस्तों
Kaar jaise ki aapane kveshchan kiya ki jo log akele rahate hain unamen kya khaas hota hai to dekhie ko har insaan hai duniya mein jitane bhee insaan hain unhen kuchh na kuchh bahut saaree alag-alag tarah kee kvaalitee aa paee jaatee hai aur jaise ki aapane kveshchan kiya ki akele rahane vaale logon mein kya khaas baat hotee hai to main aapako bata doonga jaise insaan hote hain vah indipendent hote hain kyonki vah doosaron par dipend nahin hai ki doosaron kya soch rahe hain kya nahin soch rahe hain yah unamen kvaalitee aa pae jaenge ki vah indipendent honge aur doosaree ka kvaalitee mere hisaab se vah bade honge kyonki vah akele rah rahe hain akele jab insaan kyonki duniya mein bahut jyaada diphikalt hota hai akele rahana aur jo insaan akele rah jae apane mein khush rah raha too kya too kareja bhee aa hee jaata hai too mere saath usamen karenge paaya jaata hoga aur apane aapako bahut achchhe se samajh kyonki jab insaan akele rahane lagata hai taim spend karane lagata hai apane saath to kya hota hai ki vah apane aap ko bahut bete samajhane lagata hai to mere hisaab se vah insaan apane aapako bahut jyaada betar samajhane lagata auraton kee baat vah doosaron ke phon par hee dipend karata hai ya kisee kee laiph matalab koee kisee ne bol diya ki ya kuchh kar diya jaise ki log kya hota hai ki ek doosare ke saath to koee rileshanaship mein hai ya phir kisee se koee matalab koee aisa insaan kisee ne kuchh bol diya to phir us baat ko lekar baith jaata hai vah koee bhee kaam karata hai to phir vah achchhe se kar leta hai aur phir usako matalab dar nahin rahata hai usake andar kareja jaata hai phir vah agar vah kisee se judata bhee hai na to usamen ek alag tarah kee kvaalitee paee jaegee jo doosaron se alag hogee kyonki bahut jyaada vark kiya hoga kyonki is taim kya ho gaya phir doosaron ko log bahut jyaada taim de raha hai apane ko nahin tha ethaleet manaavar to apane lie nikaalana chaahie kisee bhee insaan ko khud ke saath taim spend karana chaahie to kya hua ki insaan kee jo kairektar hai ya phir usakee jo parsanaalitee hai vah kuchh alag hee dikhegee doston

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
धरती से गर्म पानी निकलने के क्या रहस्य है?Dharti Se Garm Paani Nikalne Ke Kya Rahasya Hai
Nidhi Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Nidhi जी का जवाब
Unknown
3:45
कार जैसे कि आपने क्वेश्चन पूछा है कि धरती से गर्म पानी निकलने का क्या रहस्य है देखिए पहले क्या होता था कि लोग जो है क्या करते थे कि भगवान के नाम पर या फिर कोई भी चीज को लेकर लोग क्या करते थे कि भाड़ में फैला देते थे और कहते थे कि यह भगवान कर रहा है उसके बाद जैसे कि चंद्रमा निकला तो फिर आधा हुआ फिर ऐसा कर कर के तो हाथ हो गया तो उसको लोग बनाते हैं भगवान कर रहा है बिजली चमक रहा है तो भगवान ने राज है या फिर कोई बुरी आत्मा जो है वह नजर मतलब धरती पर दे रहा है यह वह सब करते थे लेकिन जब लगाना शुरू कर दी जनजाति पिछड़ी जल जाए तो जरूर कोई साइड इफेक्ट रीजन मिलेगा तो सेंड ट्रेन पता करने के लिए तो ऐसे करके धीरे धीरे धीरे धीरे पहले लोग बेवकूफ बनाते थे नाम पर भी बहुत ज्यादा बेवकूफ बनाया जाता है इंसान को आज भी हमको हम लोग क्वेश्चन में करते हैं और हम लोगों को क्षण हर बात पर करना चाहिए ऐसा क्यों है ऐसा क्यों रीज़न इतना धर्म बनाया गया इतना मतलब रीति-रिवाज बनाया गया है तो इसमें क्यों हर इंसान को यह प्रश्न करना चाहिए तो इसके पीछे का लॉजिक दिन हो जाएगा तुझे से और जैसे कि इनलाइटनमेंट जैसे कि रेल क्या हुआ कि जैसे कि इंग्लैंड में ऐसे ही कर करके धीरे-धीरे लगाने लगे तो फिर क्या हुआ कि मां पर मतलब पूरे जागरण आ गया है या फिर वहां के लोग जागरुक होने लगे बहुत कुछ हुआ तुझे अपनी क्वेश्चन पूछा है आप की पोस्टिंग पर आते हैं कि धरती से गर्म पानी निकलने का रहस्य क्या है तो देखो मैं आपको बता दूं सॉलि़ड टो लिक्विड और प्लेट सर जैसे कि आपको पता है कि जो हमारे जो प्लेट है हमारे वह क्या हुआ है कि लिक्विड फॉर्म में है और लिक्विड फॉर्म में वह आम मेघमा मन की वो हमारी जमीन के अंदर धरती के अंदर बता रहा था और उसके बाद एकॉड्स लिया है बहुत सारे लिया था उसमें पानी भी तो क्या होता है कि जो पानी में घुमा के टच में आता है मतलब मैडम आपको पता कि बहुत ज्यादा गर्म होता है बहुत ज्यादा टेंपरेचर होता है उसका तो क्या होता है कि जब पानी है उसके मतलब कनेक्ट में आता है तो क्या होता है जो पानी होता है तो उसके गेट से वह गर्म होने लगता है और वह धीरे-धीरे पानी ऊपर आने लगता है और वह कई निकलने लगता है यह नदी के फोन में निकलने लगता है तो क्या होता है कि जो मुंह पानी निकलता है उसके थ्रो निकालता है गीजर के फॉर्म में निकलता है स्प्रिंग के फॉर्म में निकलता है तो वह घर में निकलता है यह कोई नदी निकल गई है उस स्थान से लेकर जहां से बेटमा से कनेक्टेड है अरुण पानी गर्म हो क्या रहा है तो जाहिर सी बात है कि वह पानी गर्म ही निकलेगा ठंडा नहीं निकलेगा क्योंकि जैसे क्या ग्यारस पर पानी गर्म करते हो तो नीचे से पानी गर्म होता है तुम वैसे ही जैसे हमारे धरती के नीचे तो क्या मेघमा है तुझे मेघमा है तो वह क्या होता है कि वह हमारे मतलब 8 में वह रोटेट करता रहता है घूमता रहता तो क्या होता है क्या जयपुर से पानी से थोड़ा कनेक्ट होता है तो क्या होता है कि वह गर्म होने लगता है और वह गर्म होने लगता है पानी तो फिर वह कैसे भी मतलब निकल गया किसी के थ्रू या फिर क्या होता है कि वह पानी निकलता है मोबाइल जो पानी होता है वह गर्म होता है तो आशा करती हूं आपका मैं उत्तर दे पाई होंगी थैंक यू
Kaar jaise ki aapane kveshchan poochha hai ki dharatee se garm paanee nikalane ka kya rahasy hai dekhie pahale kya hota tha ki log jo hai kya karate the ki bhagavaan ke naam par ya phir koee bhee cheej ko lekar log kya karate the ki bhaad mein phaila dete the aur kahate the ki yah bhagavaan kar raha hai usake baad jaise ki chandrama nikala to phir aadha hua phir aisa kar kar ke to haath ho gaya to usako log banaate hain bhagavaan kar raha hai bijalee chamak raha hai to bhagavaan ne raaj hai ya phir koee buree aatma jo hai vah najar matalab dharatee par de raha hai yah vah sab karate the lekin jab lagaana shuroo kar dee janajaati pichhadee jal jae to jaroor koee said iphekt reejan milega to send tren pata karane ke lie to aise karake dheere dheere dheere dheere pahale log bevakooph banaate the naam par bhee bahut jyaada bevakooph banaaya jaata hai insaan ko aaj bhee hamako ham log kveshchan mein karate hain aur ham logon ko kshan har baat par karana chaahie aisa kyon hai aisa kyon reezan itana dharm banaaya gaya itana matalab reeti-rivaaj banaaya gaya hai to isamen kyon har insaan ko yah prashn karana chaahie to isake peechhe ka lojik din ho jaega tujhe se aur jaise ki inalaitanament jaise ki rel kya hua ki jaise ki inglaind mein aise hee kar karake dheere-dheere lagaane lage to phir kya hua ki maan par matalab poore jaagaran aa gaya hai ya phir vahaan ke log jaagaruk hone lage bahut kuchh hua tujhe apanee kveshchan poochha hai aap kee posting par aate hain ki dharatee se garm paanee nikalane ka rahasy kya hai to dekho main aapako bata doon solida to likvid aur plet sar jaise ki aapako pata hai ki jo hamaare jo plet hai hamaare vah kya hua hai ki likvid phorm mein hai aur likvid phorm mein vah aam meghama man kee vo hamaaree jameen ke andar dharatee ke andar bata raha tha aur usake baad ekods liya hai bahut saare liya tha usamen paanee bhee to kya hota hai ki jo paanee mein ghuma ke tach mein aata hai matalab maidam aapako pata ki bahut jyaada garm hota hai bahut jyaada temparechar hota hai usaka to kya hota hai ki jab paanee hai usake matalab kanekt mein aata hai to kya hota hai jo paanee hota hai to usake get se vah garm hone lagata hai aur vah dheere-dheere paanee oopar aane lagata hai aur vah kaee nikalane lagata hai yah nadee ke phon mein nikalane lagata hai to kya hota hai ki jo munh paanee nikalata hai usake thro nikaalata hai geejar ke phorm mein nikalata hai spring ke phorm mein nikalata hai to vah ghar mein nikalata hai yah koee nadee nikal gaee hai us sthaan se lekar jahaan se betama se kanekted hai arun paanee garm ho kya raha hai to jaahir see baat hai ki vah paanee garm hee nikalega thanda nahin nikalega kyonki jaise kya gyaaras par paanee garm karate ho to neeche se paanee garm hota hai tum vaise hee jaise hamaare dharatee ke neeche to kya meghama hai tujhe meghama hai to vah kya hota hai ki vah hamaare matalab 8 mein vah rotet karata rahata hai ghoomata rahata to kya hota hai kya jayapur se paanee se thoda kanekt hota hai to kya hota hai ki vah garm hone lagata hai aur vah garm hone lagata hai paanee to phir vah kaise bhee matalab nikal gaya kisee ke throo ya phir kya hota hai ki vah paanee nikalata hai mobail jo paanee hota hai vah garm hota hai to aasha karatee hoon aapaka main uttar de paee hongee thaink yoo

#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker
बोलकर ऐप भविष्य में हमे कैसे फायदे देगा?Bolkar App Bhavishya Mein Hume Kaise Fayde Dega
Nidhi Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Nidhi जी का जवाब
Unknown
2:32
नमस्कार जैसे कि आपने क्वेश्चन किया कि बोलकर ऐप भविष्य में हमें कैसे फायदे देगा तो भविष्य की बात छोड़िए प्रजेंट में जीना सीख चाहिए क्योंकि अनुसार अगर भविष्य में ज्यादा फिक्र करने लगता है कि क्या करेगा तू प्रजेंट में हर मूवमेंट को इंजॉय करना चाहिए कि आपको मैं अभी प्रजेंट की बात बता दूं अगर हम बोलकर पर बोलते हैं तो इससे हमारा थॉट प्रोसेस भी मतलब होता है फिर हमें बोलने की हाइट आती है हमारे अंदर के जितने भी एजुकेशन होते हैं वह निकल जाते हैं या फिर हम बहुत सारी गलतियां करते हैं जिससे हम सीख सकते हैं दूसरों से दूसरों के थॉट्स को समझ सकते हैं क्या बहुत कुछ और भविष्य की बात करें जिससे जैसे कि इसमें दिया गया है बोलकर में कोई बोलता है और जो पर लाइक्स आते हैं संस्कार होते हैं यह तो क्या होता है कि आप उसका पैसा भी मिलता है और प्रताप का नॉलेज भी बढ़ता है और प्लस आपका काम ही नहीं हो कैसन स्किल वैसा ही होता है और आपको बोलने में हिचकिचाहट नहीं होती है तो इतने सारे बेनिफिट होते हैं तो प्रेजेंट में इतने हार बेनिफिट हो रहा है मतलब आपके अंदर की जितने भी हिचकिचाहट होती है या बहुत बार होता है कि जब हम बोलते हैं तो हिट होने लगता है हमारे अंदर कोई अगर हम बोलकर पर बोलते हैं तो हमें कोई देखता नहीं है मतलब देखता नहीं है और हम धीरे-धीरे हमारे में डिवेलप होने लगती है और हम कहीं पर भी बोलने जाए या फिर कहीं इंटरव्यू देने जा रहे हो तो यह धीरे-धीरे हाथ भिजवा हमारे बहुत काम आएगी तो यही मैं कहूंगी कि आप बोल कर एक भविष्य में आपको ऐसे फायदा दे सकता है किधर से आपका इस पीस लेते हो या फिर तो आप बहुत अच्छे से स्पीच दे दोगे और फिर आपको हिचकिचाहट नहीं होगी और दूसरी बात अगर कहीं आप इंटरव्यू देते हो तो फिर क्या होगा कि अगर आप बोलोगे तो अक्सर क्या होता कि जब हम पहली बार दूसरी बार कहीं पर बोलते हैं तो हमें बहुत ज्यादा हिचकिचाहट होती है मैं थॉट प्रोसेस में अच्छे से काम नहीं कर तुम ऐसे बोल रहे हैं तो हमारी यह आदत बन जाती और धीरे-धीरे हाथ हमारे जैसे कि हम पहली बार कोई काम करते हैं तो मैं बहुत मेहनत लगानी पड़ती है लेकिन अगर उसी काम को हम बार-बार करने लगते हैं तो फिर वह हमारे सबकॉन्शियस माइंड में बैठ जाता है और उसे हम काम को ही असली करने लगते हैं तो यही बात है कि बोल कर एक में अगर आपका ही भविष्य में इकाई पर अगर इंटरव्यू देने जाते हैं तो आपको अगर बोलकर ऐप पर आप बोलते हैं तो जाए से हंड्रेड परसेंट बातें किया बहुत अच्छा करोगे थैंक यू
Namaskaar jaise ki aapane kveshchan kiya ki bolakar aip bhavishy mein hamen kaise phaayade dega to bhavishy kee baat chhodie prajent mein jeena seekh chaahie kyonki anusaar agar bhavishy mein jyaada phikr karane lagata hai ki kya karega too prajent mein har moovament ko injoy karana chaahie ki aapako main abhee prajent kee baat bata doon agar ham bolakar par bolate hain to isase hamaara thot proses bhee matalab hota hai phir hamen bolane kee hait aatee hai hamaare andar ke jitane bhee ejukeshan hote hain vah nikal jaate hain ya phir ham bahut saaree galatiyaan karate hain jisase ham seekh sakate hain doosaron se doosaron ke thots ko samajh sakate hain kya bahut kuchh aur bhavishy kee baat karen jisase jaise ki isamen diya gaya hai bolakar mein koee bolata hai aur jo par laiks aate hain sanskaar hote hain yah to kya hota hai ki aap usaka paisa bhee milata hai aur prataap ka nolej bhee badhata hai aur plas aapaka kaam hee nahin ho kaisan skil vaisa hee hota hai aur aapako bolane mein hichakichaahat nahin hotee hai to itane saare beniphit hote hain to prejent mein itane haar beniphit ho raha hai matalab aapake andar kee jitane bhee hichakichaahat hotee hai ya bahut baar hota hai ki jab ham bolate hain to hit hone lagata hai hamaare andar koee agar ham bolakar par bolate hain to hamen koee dekhata nahin hai matalab dekhata nahin hai aur ham dheere-dheere hamaare mein divelap hone lagatee hai aur ham kaheen par bhee bolane jae ya phir kaheen intaravyoo dene ja rahe ho to yah dheere-dheere haath bhijava hamaare bahut kaam aaegee to yahee main kahoongee ki aap bol kar ek bhavishy mein aapako aise phaayada de sakata hai kidhar se aapaka is pees lete ho ya phir to aap bahut achchhe se speech de doge aur phir aapako hichakichaahat nahin hogee aur doosaree baat agar kaheen aap intaravyoo dete ho to phir kya hoga ki agar aap bologe to aksar kya hota ki jab ham pahalee baar doosaree baar kaheen par bolate hain to hamen bahut jyaada hichakichaahat hotee hai main thot proses mein achchhe se kaam nahin kar tum aise bol rahe hain to hamaaree yah aadat ban jaatee aur dheere-dheere haath hamaare jaise ki ham pahalee baar koee kaam karate hain to main bahut mehanat lagaanee padatee hai lekin agar usee kaam ko ham baar-baar karane lagate hain to phir vah hamaare sabakonshiyas maind mein baith jaata hai aur use ham kaam ko hee asalee karane lagate hain to yahee baat hai ki bol kar ek mein agar aapaka hee bhavishy mein ikaee par agar intaravyoo dene jaate hain to aapako agar bolakar aip par aap bolate hain to jae se handred parasent baaten kiya bahut achchha karoge thaink yoo

#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker
जल्दबाजी का काम शैतान का होता है ऐसा क्यों बोलते हैं?Jaldbaji Ka Kam Shaitan Ka Hota Hai Aisa Kyun Bolte Hain
Nidhi Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Nidhi जी का जवाब
Unknown
2:27
नमस्कार जैसे कि आपने क्वेश्चन किया कि जल्दबाजी का काम शैतान का होता है ऐसा क्यों बोलते हैं देखिए एक छोटी सी कहानी सुनाती हूं मैं आपको जिससे आपको पता चल जाएगा कि मतलब जल्दी बाजी का काम क्यों होता है और इसका इफेक्ट क्या होता है देखिए एक बार एक स्टूडेंट रहा था और तो टीचर के पास जाता है तो बोलता है यह सर मेरे को यह काम करना है इसको मैं कितने दिन में कर दूंगा इस काम को 1 महीने में तो मैं कर ही दूंगा इस काम को तो वह बोलते हैं कि हां मतलब पूरा कॉन्फिडेंट होकर बोलता है कि मैं इस काम को 1 महीने में कर दूंगा तो वो टीचर बोलते हैं कि नहीं तुम इस काम को तो तुमको 2 महीने लग जाएंगे तो फिर बोलता है कि नहीं सर मैं इस काम को 2 महीने में कर दूंगा लेकिन बहुत जल्दी बाजी में रहता तो फिर टीचर ने बोला कि इस काम को तुम 2 महीने के जगह पर 4 महीने में करोगे तो फिर वह स्टूडेंट बोलता है कि सर बताइए मैं तो इतना मेहनत कर रहा हूं मैं हर काम को जल्दी करने की तो कह रहा हूं तो आप क्यों ऐसा ऐसा क्यों बोल रहा है कि आप इस काम को तुम इतना लेट करोगे तो वह बोलता है टीचर बहुत हैं कि देखो जब इंसान जल्दी में कोई काम करता है तो क्या होता है कि उसमें बहुत ज्यादा गलतियां करता है जो काम उसको 1 महीने में करना होता है उसको वह 2 महीने में कर देता है मतलब वही करता है अगर कोई काम धैर्य से करो मन से करो तुम अपने काम मतलब जो टाइपिंग है वह उस पर हो जाएगा लेकिन आप कोई भी काम इंसान अगर करता है वह मतलब बहुत ज्यादा जल्दी बाजी में करता है तो उसकी गलती होने के चांसेस बहुत ज्यादा होते हैं और वह बहुत ज्यादा मतलब गलतियां करता है तो यही सब कारक है जिससे जिससे बोला गया है कि जल्दबाजी का काम शैतान का होता है क्योंकि शैतान अक्सर जल्दी-जल्दी कोई भी काम करते हैं आई थी तो यह सब होगा तो मैं यह कहूं कि हां ध्यान रखना जरूरी है जैसे कि हम नोटिस करते हैं कि अगर हमारा मन बहुत ज्यादा खुश होता है यह बहुत ज्यादा नाराज होता है हम कोई भी काम करते हैं तो वह अक्सर गलत ही होता है लेकिन हम अगर बैलेंस चेक दम शांत हो तो हम जो भी काम करते हैं उसे कंसंट्रेट के साथ करते हैं और वह काम 90 परसेंट सही जाता है तो यही है क्योंकि हर इंसान को शांत जब रहेगा तो वह काम को सही करता है लेकिन अगर हम मन में हड़बड़ी रखें या फिर कोई भी काम जल्दी जल्दी करने की कोशिश करें तो उसमें बहुत ज्यादा चांस होते हैं कि उसमें बहुत ज्यादा गलतियां हो थैंक यू
Namaskaar jaise ki aapane kveshchan kiya ki jaldabaajee ka kaam shaitaan ka hota hai aisa kyon bolate hain dekhie ek chhotee see kahaanee sunaatee hoon main aapako jisase aapako pata chal jaega ki matalab jaldee baajee ka kaam kyon hota hai aur isaka iphekt kya hota hai dekhie ek baar ek stoodent raha tha aur to teechar ke paas jaata hai to bolata hai yah sar mere ko yah kaam karana hai isako main kitane din mein kar doonga is kaam ko 1 maheene mein to main kar hee doonga is kaam ko to vah bolate hain ki haan matalab poora konphident hokar bolata hai ki main is kaam ko 1 maheene mein kar doonga to vo teechar bolate hain ki nahin tum is kaam ko to tumako 2 maheene lag jaenge to phir bolata hai ki nahin sar main is kaam ko 2 maheene mein kar doonga lekin bahut jaldee baajee mein rahata to phir teechar ne bola ki is kaam ko tum 2 maheene ke jagah par 4 maheene mein karoge to phir vah stoodent bolata hai ki sar bataie main to itana mehanat kar raha hoon main har kaam ko jaldee karane kee to kah raha hoon to aap kyon aisa aisa kyon bol raha hai ki aap is kaam ko tum itana let karoge to vah bolata hai teechar bahut hain ki dekho jab insaan jaldee mein koee kaam karata hai to kya hota hai ki usamen bahut jyaada galatiyaan karata hai jo kaam usako 1 maheene mein karana hota hai usako vah 2 maheene mein kar deta hai matalab vahee karata hai agar koee kaam dhairy se karo man se karo tum apane kaam matalab jo taiping hai vah us par ho jaega lekin aap koee bhee kaam insaan agar karata hai vah matalab bahut jyaada jaldee baajee mein karata hai to usakee galatee hone ke chaanses bahut jyaada hote hain aur vah bahut jyaada matalab galatiyaan karata hai to yahee sab kaarak hai jisase jisase bola gaya hai ki jaldabaajee ka kaam shaitaan ka hota hai kyonki shaitaan aksar jaldee-jaldee koee bhee kaam karate hain aaee thee to yah sab hoga to main yah kahoon ki haan dhyaan rakhana jarooree hai jaise ki ham notis karate hain ki agar hamaara man bahut jyaada khush hota hai yah bahut jyaada naaraaj hota hai ham koee bhee kaam karate hain to vah aksar galat hee hota hai lekin ham agar bailens chek dam shaant ho to ham jo bhee kaam karate hain use kansantret ke saath karate hain aur vah kaam 90 parasent sahee jaata hai to yahee hai kyonki har insaan ko shaant jab rahega to vah kaam ko sahee karata hai lekin agar ham man mein hadabadee rakhen ya phir koee bhee kaam jaldee jaldee karane kee koshish karen to usamen bahut jyaada chaans hote hain ki usamen bahut jyaada galatiyaan ho thaink yoo

#जीवन शैली

bolkar speaker
हमारा मन फालतू की चीजों में ना भटके इसके लिए हमें क्या करना चाहिए?Hamara Man Faltu Ki Chijon Mein Na Bhatke Iske Lie Humein Kya Karna Chaiye
Nidhi Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Nidhi जी का जवाब
Unknown
2:40
नमस्कार जैसे कि आपने क्वेश्चन किया है कि हमारा मन फालतू की चीजों में ना भटके इसके लिए हमें क्या करना चाहिए तो मैं आपको यह सजेशन दूंगी कि जो इंसान का मन है वह चंचल होता है और उसको बस एक पॉइंट चाहिए भटकने के लिए तो किसी ने बहुत अच्छी लाइन कही है कि जो इंसान जो अपने मन को कौन कर कर सकता है वर्ल्ड में कुछ भी हासिल कर सकता है तो यह सही बात है क्योंकि इंसान अपने मन को काबू नहीं कर पाता है और जो हमारा मन बोलेगा कि यहां यह करना है तो मौसी को करते हैं और हमें उसी काम करते हैं जिसमें हमें मजा आता है हमें उस चीज को कैसे कंट्रोल करना है तो मैं आपको सजेशन दूंगी कि इसके लिए आपको थोड़ा बहुत डिस्प्ले मतलब बहुत अपने अंदर क्या करते हैं कि दृढ़ निश्चय होना चाहिए जैसे कि आप अपने अंदर अपने अपने साइड से टीचर की तरह आईबीएम करिए स्टूडेंट तो अपने आप हु इज द टीचर की तरह गायक करिए ऐसे आपका मान गलत कर रहा है या गलत साइड भटक रहा है तो क्या होगा आपको तुरंत कंट्रोल करना है बोलना नहीं ऐसा नहीं करना है बस आपको बस 1 हफ्ते तक ऐसा कंट्रोल करना है धीरे-धीरे आपकी आदत बन जाएगी क्योंकि हम उसी काम को करते हैं और वह हमारी डेली रूटीन में शामिल हो जाते थे तो तब से हम उसको खुद बिगड़ते अपने मन को तो हमें बस एक हफ्ते तक कंट्रोल करना है और धीरे-धीरे यह हमारी हालत में शामिल हो जाएगा तो मैं आपको यही सजेशन देना चाहूंगी कि थोड़ा बहुत मोबाइल का टाइमिंग फिक्स कर दीजिए कितने कितने तक मेरे को मोबाइल चलाना है क्योंकि अक्सर क्या होता है कि जब आप अपने मोबाइल लेते हैं बाद में तो फिर हम बहुत सारे समय को बर्बाद कर देते तो मैं यही समझूंगी कि हर चीज का टाइम टेबल बना लीजिए और उसे रिश्ते के लिए एकदम डिस्ट्रिक्ट होकर फॉलो करिए और खुद अपने को मतलब खुद जज करना है क्योंकि आपको आपसे बेटा कोई जज नहीं कर सकता क्योंकि आपको पता है क्या आप अपने को धोखा दे रहे हो कि क्या कर रहे हो आप पढ़ रहे हो कि नहीं पढ़ रहे हो या फिर जो भी काम कर रहे हो तो सबसे अच्छा तरीका अपने को एक तरह से तो मैं ही होगा क्योंकि योगा से तो कंसंट्रेशन लेबली बढ़ता है और अपने मन पर भी कंट्रोल होता है और फिर कुछ बात अपने को एक तरफ टीचर की तरह ट्रीट करना है और स्टूडेंट तो हम खुद तुमसे कोई गलत काम करा है तो उसे तुरंत रुकना है बोलने नहीं भटकना नहीं आया फिर मैंने टाइम टेबल बना है इतने से इतना तक होना चाहिए यह सब होना चाहिए और यह धीरे-धीरे फॉलो करने लगोगे तो यह धीरे-धीरे खुद कंट्रोल हो जाएगा थैंक यू
Namaskaar jaise ki aapane kveshchan kiya hai ki hamaara man phaalatoo kee cheejon mein na bhatake isake lie hamen kya karana chaahie to main aapako yah sajeshan doongee ki jo insaan ka man hai vah chanchal hota hai aur usako bas ek point chaahie bhatakane ke lie to kisee ne bahut achchhee lain kahee hai ki jo insaan jo apane man ko kaun kar kar sakata hai varld mein kuchh bhee haasil kar sakata hai to yah sahee baat hai kyonki insaan apane man ko kaaboo nahin kar paata hai aur jo hamaara man bolega ki yahaan yah karana hai to mausee ko karate hain aur hamen usee kaam karate hain jisamen hamen maja aata hai hamen us cheej ko kaise kantrol karana hai to main aapako sajeshan doongee ki isake lie aapako thoda bahut disple matalab bahut apane andar kya karate hain ki drdh nishchay hona chaahie jaise ki aap apane andar apane apane said se teechar kee tarah aaeebeeem karie stoodent to apane aap hu ij da teechar kee tarah gaayak karie aise aapaka maan galat kar raha hai ya galat said bhatak raha hai to kya hoga aapako turant kantrol karana hai bolana nahin aisa nahin karana hai bas aapako bas 1 haphte tak aisa kantrol karana hai dheere-dheere aapakee aadat ban jaegee kyonki ham usee kaam ko karate hain aur vah hamaaree delee rooteen mein shaamil ho jaate the to tab se ham usako khud bigadate apane man ko to hamen bas ek haphte tak kantrol karana hai aur dheere-dheere yah hamaaree haalat mein shaamil ho jaega to main aapako yahee sajeshan dena chaahoongee ki thoda bahut mobail ka taiming phiks kar deejie kitane kitane tak mere ko mobail chalaana hai kyonki aksar kya hota hai ki jab aap apane mobail lete hain baad mein to phir ham bahut saare samay ko barbaad kar dete to main yahee samajhoongee ki har cheej ka taim tebal bana leejie aur use rishte ke lie ekadam distrikt hokar pholo karie aur khud apane ko matalab khud jaj karana hai kyonki aapako aapase beta koee jaj nahin kar sakata kyonki aapako pata hai kya aap apane ko dhokha de rahe ho ki kya kar rahe ho aap padh rahe ho ki nahin padh rahe ho ya phir jo bhee kaam kar rahe ho to sabase achchha tareeka apane ko ek tarah se to main hee hoga kyonki yoga se to kansantreshan lebalee badhata hai aur apane man par bhee kantrol hota hai aur phir kuchh baat apane ko ek taraph teechar kee tarah treet karana hai aur stoodent to ham khud tumase koee galat kaam kara hai to use turant rukana hai bolane nahin bhatakana nahin aaya phir mainne taim tebal bana hai itane se itana tak hona chaahie yah sab hona chaahie aur yah dheere-dheere pholo karane lagoge to yah dheere-dheere khud kantrol ho jaega thaink yoo

#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker
छोटे बच्चों को पढ़ाई का महत्व कैसे समझा सकते हैं?Chote Bachon Ko Padhayi Ka Mahatv Kaise Samjha Sakte Hain
Nidhi Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Nidhi जी का जवाब
Unknown
2:17
नमस्कार जैसे कि आपने क्वेश्चन किया है कि छोटे बच्चों को पढ़ाई का महत्व कैसे समझा सकते हैं तो मैं यह बता दूं कि बड़े लोगों को समझाने पर तो वह समझ ही नहीं पाते कि वह पढ़ाई का महत्व क्या है क्योंकि आप नोटिस की होंगे कि बड़े स्टूडेंट भी बहुत ज्यादा लंबा होते हैं क्योंकि उनके पास सोचने समझने की शक्ति होती है तभी भी वह पढ़ाई नहीं करते हैं उन्हें मस्ती पसंद है किसी भी इंसान को उसी काम को करने में मजा आता है जिसमें गारमेंट हो या फिर उसे कहा उसी काम को बोलो अच्छे से करते हैं तो मैं बच्चों के लिए यही कहूंगी कि उन्हें पढ़ाई का मतलब एक तरह का गेम गेम की तरह उन्हें समझाओ की वजह से क्या को गेम में मजा आता है बच्चों का ऐसा संगम के जैसे आपको गेम में मजा आता है उसे पढ़ाई मत करना चाहिए जैसे कि गेम गेम है वह लोग पढ़ाई करें होने लगेगी बातों पर भी उन्हें बहुत ज्यादा ऑनलाइन करना क्या भाव तुमने तो कर लिया मेरे को तो भरोसा ही नहीं था कि तुम कर पाओगी अरे इतनी बड़ी डिफिकल्टी थी तुमने कर लिया देखो बताओ आगे आगे यह वाला डांस खाइए करना है तो फिर जब बच्चों में प्रोत्साहन आएगा यह किसी भी इंसान को जब मोटिवेट किया जाता है तो फिर उसको उसे मजा आता है और फिर वह उस काम को करता है तो बच्चे को क्या करना चाहिए गाना नहीं चाहिए किसी भी छोटी-छोटी गलतियां भी करते हैं तो उसमें डांटना नहीं चाहिए और उसे मोटिवेट करना चाहिए और उसे पढ़ाई ऐसे करवानी चाहिए जैसे गेम हो उसमें उसको एकदम इंजॉय मतलब गेम खेलता है तो को एकदम एंजॉय होकर खेलता है वैसे भी पढ़ाई करे तो इंजॉय की तरह कर जब यह हालत हो जाएगी तो फिर वह धीरे-धीरे बड़ा होगा तो उसे हम कोई स्टोरी सुना सकते हैं क्योंकि कोई भी बच्चा के कटे की स्टोरी बहुत अच्छे से सुनता और समझता स्टोरी सुना सकते हैं धीरे धीरे धीरे धीरे धीरे उसमें मतलब स्टोरी किस ने ऐसा किया तो सोसाइटी को चेंज किया है ऐसे किया उसने वैसे किया तो फिर वह उसका दिमाग है वह धीरे-धीरे कैच करने लगेगा और फिर वह धीरे-धीरे पढ़ाई के प्रति मोटिवेट होने लगेगा और बड़ा होगा तो वह खुद पे खुद समझ जाएगा थैंक यू
Namaskaar jaise ki aapane kveshchan kiya hai ki chhote bachchon ko padhaee ka mahatv kaise samajha sakate hain to main yah bata doon ki bade logon ko samajhaane par to vah samajh hee nahin paate ki vah padhaee ka mahatv kya hai kyonki aap notis kee honge ki bade stoodent bhee bahut jyaada lamba hote hain kyonki unake paas sochane samajhane kee shakti hotee hai tabhee bhee vah padhaee nahin karate hain unhen mastee pasand hai kisee bhee insaan ko usee kaam ko karane mein maja aata hai jisamen gaarament ho ya phir use kaha usee kaam ko bolo achchhe se karate hain to main bachchon ke lie yahee kahoongee ki unhen padhaee ka matalab ek tarah ka gem gem kee tarah unhen samajhao kee vajah se kya ko gem mein maja aata hai bachchon ka aisa sangam ke jaise aapako gem mein maja aata hai use padhaee mat karana chaahie jaise ki gem gem hai vah log padhaee karen hone lagegee baaton par bhee unhen bahut jyaada onalain karana kya bhaav tumane to kar liya mere ko to bharosa hee nahin tha ki tum kar paogee are itanee badee diphikaltee thee tumane kar liya dekho batao aage aage yah vaala daans khaie karana hai to phir jab bachchon mein protsaahan aaega yah kisee bhee insaan ko jab motivet kiya jaata hai to phir usako use maja aata hai aur phir vah us kaam ko karata hai to bachche ko kya karana chaahie gaana nahin chaahie kisee bhee chhotee-chhotee galatiyaan bhee karate hain to usamen daantana nahin chaahie aur use motivet karana chaahie aur use padhaee aise karavaanee chaahie jaise gem ho usamen usako ekadam injoy matalab gem khelata hai to ko ekadam enjoy hokar khelata hai vaise bhee padhaee kare to injoy kee tarah kar jab yah haalat ho jaegee to phir vah dheere-dheere bada hoga to use ham koee storee suna sakate hain kyonki koee bhee bachcha ke kate kee storee bahut achchhe se sunata aur samajhata storee suna sakate hain dheere dheere dheere dheere dheere usamen matalab storee kis ne aisa kiya to sosaitee ko chenj kiya hai aise kiya usane vaise kiya to phir vah usaka dimaag hai vah dheere-dheere kaich karane lagega aur phir vah dheere-dheere padhaee ke prati motivet hone lagega aur bada hoga to vah khud pe khud samajh jaega thaink yoo

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
भूकंप आने पर हम क्या कर सकते हैं?Bhookamp Aane Par Hum Kya Kar Sakte Hain
Nidhi Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Nidhi जी का जवाब
Unknown
1:21
जैसे कि अपनी क्वेश्चन किया है कि भूकंप आने पर हम क्या कर सकते हैं तो अक्सर ऐसी सिचुएशन जब आती है तो आप से क्या होता है कि लोग घबरा जाते हैं और कुछ से कुछ लोग दौड़ के इधर-उधर अपना हाथ पैर तोड़ लेते हैं या ना या नुकसान कर लेते अपने आपको मैं आपको यह सजेशन देना चाहूंगी कि अगर आप घर से कहीं बाहर है और खुले स्थान पर है तो वहां पर आप बिलकुल सेफ है क्योंकि वहां पर कुछ कोई बिल्डिंग गिरने की संभावना नहीं है अगर ऐसा नहीं अगर आप घर में है और आपको मतलब बाहर जाने का टाइम नहीं है अब भूकंप आ गया है तो क्या करें आप किसी कोने में खड़े हो जाए घर के बिल्कुल अगर घर के कोने में खड़े हो जाएंगे तो भी आपसे फिर आएंगे अगर अगर किचन में गैस होना है तो पहले उसे बंद कर दीजिए क्योंकि उससे बहुत ज्यादा नुकसान हो सकता है और अगर नहीं यह नहीं कर सकते तो कोई टेबल है उसको उसके नीचे प्लीज अपना सर छुपा लीजिए सुंदर और बॉडी और उसका जो होना होता है उसका टेबल का प्यार होता है उसे कस के पकड़ लीजिए और जितना हो सके उतना आप मतलब भूकंप आए तो घर से बाहर ही रहना पेपर करिए ऐसे जगह चले जाइए जहां कोई बिल्डिंग ना हो गया खुला था ना तो आप बिल्कुल से पढ़ोगे
Jaise ki apanee kveshchan kiya hai ki bhookamp aane par ham kya kar sakate hain to aksar aisee sichueshan jab aatee hai to aap se kya hota hai ki log ghabara jaate hain aur kuchh se kuchh log daud ke idhar-udhar apana haath pair tod lete hain ya na ya nukasaan kar lete apane aapako main aapako yah sajeshan dena chaahoongee ki agar aap ghar se kaheen baahar hai aur khule sthaan par hai to vahaan par aap bilakul seph hai kyonki vahaan par kuchh koee bilding girane kee sambhaavana nahin hai agar aisa nahin agar aap ghar mein hai aur aapako matalab baahar jaane ka taim nahin hai ab bhookamp aa gaya hai to kya karen aap kisee kone mein khade ho jae ghar ke bilkul agar ghar ke kone mein khade ho jaenge to bhee aapase phir aaenge agar agar kichan mein gais hona hai to pahale use band kar deejie kyonki usase bahut jyaada nukasaan ho sakata hai aur agar nahin yah nahin kar sakate to koee tebal hai usako usake neeche pleej apana sar chhupa leejie sundar aur bodee aur usaka jo hona hota hai usaka tebal ka pyaar hota hai use kas ke pakad leejie aur jitana ho sake utana aap matalab bhookamp aae to ghar se baahar hee rahana pepar karie aise jagah chale jaie jahaan koee bilding na ho gaya khula tha na to aap bilkul se padhoge

#पढ़ाई लिखाई

Nidhi Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Nidhi जी का जवाब
Unknown
2:04
नमस्कार जैसे कि आपने क्वेश्चन किया है कि मैं बोल कर छोड़ना चाहती हूं क्योंकि मेरा ध्यान अब पढ़ाई से ज्यादा किसी पर लगता है और टाइम भी इसमें ज्यादा लगता है तो देख कर मैं आपको बता दूं कि हर चीज का एक टाइम टेबल बनाना चाहिए क्योंकि अक्सर क्या होता है कि जब हम मोबाइल लेते हैं तो क्या होता है कि हम अपना टाइम मैक्सिमो उसमें ज्यादा वेट कर देते हैं या फिर हमारी आदत होती है जैसे कि आप पढ़ाई कर रहे हैं फिर सोचते हैं कि 2 मिनट इंटरटेनमेंट कर ले तो क्या बताएं कि हम कुछ देखने लगते हैं यूट्यूब पर कोई कॉमेडी देखने लगता है तो फिर हमारा मनुष्य मर जाता है और दो-तीन घंटे में से बेस्ट कर देते हैं तो हर चीज को अपने मन को सबसे पहले कंट्रोल करना जरूरी है और जैसे कि आप बोलना चाहती कि मैं से छोड़ना चाहती हो तो मैं आपको यह बता दूं कि आप इसे क्या करोगी एक टाइमिंग दे दो कि इतने टाइम से इतने टाइमिंग तक ही मैं इसे खोलूंगी और इस पर जो सवाल होगा यह इसका रिप्लाई दूंगी या फिर जो भी कुछ करना होगा इतनी टाइमिंग तक और जब भी आप पढ़ाई करो तो फोन को अपने से दूर रख दो क्योंकि अगर आप पढ़ाई करते बहुत फोन को थोड़ा आपस में रख दे या या स्विच ऑफ करके रख दो या कुछ भी फ्लाइट मोड में डाल कर रख दूं तो क्या होगा कि आपका जो कंसंट्रेशन है वह पढ़ाई में रहेगा और पढ़ाई का टाइम टेबल बना लो आप सबसे पहले पढ़ाई के टाइम पढ़ाई और उसके बाद जब समय मिले क्योंकि हर टाइम तो कुछ रिप्लेसमेंट का भी टाइम होना चाहिए तब उसमें आप देखो क्योंकि हमारा जो आदत होता है क्या मैं नोटिफिकेशन चेक करने की आदत पड़ जाती है तो उसे पहले कंट्रोल करना है और आपको टाइम टेबल में बांध देना बस की आदतें आप एक हफ्ता तक अपने पर अप्लाई करो तो फिर यह जो है आपकी डेली रुटीन में शामिल हो जाएगा अगर नहीं हो पाता है तो मैं आपको यह बोल दूं कि आप इसे इंस्टॉल कर दो ठीक और एक हफ्ते में एक बार उसे डाल करो और उसके बाद जो रिप्लाई देना है उसे रिप्लाई दो या फिर उसे इंस्टाल कर दो अगर खुद पर कंट्रोल नहीं हो रहा तो मैं आपको यही सलाह दूंगी थैंक यू
Namaskaar jaise ki aapane kveshchan kiya hai ki main bol kar chhodana chaahatee hoon kyonki mera dhyaan ab padhaee se jyaada kisee par lagata hai aur taim bhee isamen jyaada lagata hai to dekh kar main aapako bata doon ki har cheej ka ek taim tebal banaana chaahie kyonki aksar kya hota hai ki jab ham mobail lete hain to kya hota hai ki ham apana taim maiksimo usamen jyaada vet kar dete hain ya phir hamaaree aadat hotee hai jaise ki aap padhaee kar rahe hain phir sochate hain ki 2 minat intaratenament kar le to kya bataen ki ham kuchh dekhane lagate hain yootyoob par koee komedee dekhane lagata hai to phir hamaara manushy mar jaata hai aur do-teen ghante mein se best kar dete hain to har cheej ko apane man ko sabase pahale kantrol karana jarooree hai aur jaise ki aap bolana chaahatee ki main se chhodana chaahatee ho to main aapako yah bata doon ki aap ise kya karogee ek taiming de do ki itane taim se itane taiming tak hee main ise kholoongee aur is par jo savaal hoga yah isaka riplaee doongee ya phir jo bhee kuchh karana hoga itanee taiming tak aur jab bhee aap padhaee karo to phon ko apane se door rakh do kyonki agar aap padhaee karate bahut phon ko thoda aapas mein rakh de ya ya svich oph karake rakh do ya kuchh bhee phlait mod mein daal kar rakh doon to kya hoga ki aapaka jo kansantreshan hai vah padhaee mein rahega aur padhaee ka taim tebal bana lo aap sabase pahale padhaee ke taim padhaee aur usake baad jab samay mile kyonki har taim to kuchh riplesament ka bhee taim hona chaahie tab usamen aap dekho kyonki hamaara jo aadat hota hai kya main notiphikeshan chek karane kee aadat pad jaatee hai to use pahale kantrol karana hai aur aapako taim tebal mein baandh dena bas kee aadaten aap ek haphta tak apane par aplaee karo to phir yah jo hai aapakee delee ruteen mein shaamil ho jaega agar nahin ho paata hai to main aapako yah bol doon ki aap ise instol kar do theek aur ek haphte mein ek baar use daal karo aur usake baad jo riplaee dena hai use riplaee do ya phir use instaal kar do agar khud par kantrol nahin ho raha to main aapako yahee salaah doongee thaink yoo

#जीवन शैली

bolkar speaker
जिंदगी में क्या होना बेहद जरूरी है?Zindagi Mein Kya Hona Behad Jaruri Hai
Nidhi Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Nidhi जी का जवाब
Unknown
1:57
नमस्कार जैसे जी क्वेश्चन किया गया है कि जिंदगी में क्या होना बेहद जरूरी है तो मैं आपको बता दूं कि जिंदगी में सबसे पहला अपने पर विश्वास होना जरूरी है या फिर अंदर थोड़ा बहुत डर होना भी जरूरी है या फिर करेज होना जरूरी है फिर इमोशनल इंटेलिजेंस होना जरूरी है या फिर मतलब यह सारी क्वालिटी अगर इंसान में है तो वह खुद पर खुद अच्छे कैरेक्टर में शामिल हो जाएगा अगर इंसान के अंदर डर रहता है तो क्या होता है कि वह गलत काम करने से डरता है अगर वह गलत काम करने से डरेगा तो फिर जाहिर सी बात है कि वह मतलब कोई गलत काम नहीं करेगा तो फिर बैलेंस नहीं करें क्रिएट करेगा जिससे हमारी सोसाइटी या फिर बैलेंस बहुत कम हो जाएंगे तो यह सारे इंसान में होनी जरूरी है या फिर करेज भी होना बहुत जरूरी है कि इंसान क्या होता है कि बड़े टैब उठाने में डर ने लगता है अगर किसी इंसान के पास करे जाए तो फिर वह कोई रिपोर्ट आता है तो फिर क्या करते हैं कि हर एक इंसान लाइफ में खेल खेले और होता है तो क्या होता है कि कॉलेज होना चाहिए करेज होगा तो फिर क्या होगा कि उठेगा गिरेगा फिर वह जो चाहे वह कर लेगा उसके बाद कभी ना हार मानने की इच्छा होनी चाहिए अगर कोई इंसान कभी नहीं हार मानता है तो 1 दिन ऐसा आएगा कि वह लाइफ में चीज है जो इंसान छोटी-छोटी बातों से हार मान जाता है तो फिर वह उसका कैरेक्टर के बन जाता है कि वह फिर एक फेयर कैटेगरी में शामिल हो जाता है और जो इंसान हार नहीं मानता है तभी उसके पर फैलियर का टैग नहीं लगता है तो यह सारी आदतें और एक आदत होती है इमोशनल इंटेलिजेंस या फिर दूसरों के दर्द को समझने की मतलब कोई किसी में ऐसा करैक्टर होता है कि वह दूसरों को दर्द को देखता है तो वह समझता तो यह सारी आदतें हैं जो जिंदगी में बेहद जरूरी है थैंक यू
Namaskaar jaise jee kveshchan kiya gaya hai ki jindagee mein kya hona behad jarooree hai to main aapako bata doon ki jindagee mein sabase pahala apane par vishvaas hona jarooree hai ya phir andar thoda bahut dar hona bhee jarooree hai ya phir karej hona jarooree hai phir imoshanal intelijens hona jarooree hai ya phir matalab yah saaree kvaalitee agar insaan mein hai to vah khud par khud achchhe kairektar mein shaamil ho jaega agar insaan ke andar dar rahata hai to kya hota hai ki vah galat kaam karane se darata hai agar vah galat kaam karane se darega to phir jaahir see baat hai ki vah matalab koee galat kaam nahin karega to phir bailens nahin karen kriet karega jisase hamaaree sosaitee ya phir bailens bahut kam ho jaenge to yah saare insaan mein honee jarooree hai ya phir karej bhee hona bahut jarooree hai ki insaan kya hota hai ki bade taib uthaane mein dar ne lagata hai agar kisee insaan ke paas kare jae to phir vah koee riport aata hai to phir kya karate hain ki har ek insaan laiph mein khel khele aur hota hai to kya hota hai ki kolej hona chaahie karej hoga to phir kya hoga ki uthega girega phir vah jo chaahe vah kar lega usake baad kabhee na haar maanane kee ichchha honee chaahie agar koee insaan kabhee nahin haar maanata hai to 1 din aisa aaega ki vah laiph mein cheej hai jo insaan chhotee-chhotee baaton se haar maan jaata hai to phir vah usaka kairektar ke ban jaata hai ki vah phir ek pheyar kaitegaree mein shaamil ho jaata hai aur jo insaan haar nahin maanata hai tabhee usake par phailiyar ka taig nahin lagata hai to yah saaree aadaten aur ek aadat hotee hai imoshanal intelijens ya phir doosaron ke dard ko samajhane kee matalab koee kisee mein aisa karaiktar hota hai ki vah doosaron ko dard ko dekhata hai to vah samajhata to yah saaree aadaten hain jo jindagee mein behad jarooree hai thaink yoo

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
आज स्मार्टफोन के कारण अपनो से ही दूरियां किस प्रकार बढ़ती जा रही है?Aaj Smartphone Ke Kaaran Apno Se Hee Dooriyan Kis Prakar Badhti Ja Rahi Hai
Nidhi Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Nidhi जी का जवाब
Unknown
2:48
नमस्कार जैसे किस में क्वेश्चन किया गया है कि आज स्मार्टफोन के कारण अपनों से ही दूरियां किस प्रकार बढ़ती जा रही हैं तो देखिए एक हमारे हमारी लाइफ है या फैमिली के साथ लाइफ है और एक हमारे सोशलाइट भैया सोशल मीडिया लाइक लोग क्या होता है किस में बहुत ज्यादा सोशल मीडिया वाले लाइफ में बहुत ज्यादा परेशान हो जाते हैं आपने अक्सर ऐसा देखा होगा कि कोई किसी से होली के दिन या दिवाली के दिन बदले नहीं जाता है या फिर कोई बस नहीं करता है लेकिन सोशल मीडिया पर देखो तो 1 दिन पहले से ही बहुत सारे विशेष आने लगते हैं या बहुत सारे गिफ्ट मिलते हैं रियल लाइफ में कोई किसी से जाकर मिलता नहीं है या लेकिन सोशल मीडिया के थ्रू बहुत सारे लोग इसी में परेशान रखें किसी को स्टेटस लगाना है तो किसी को अपना फोटो डालना है किसी को देखना है कि कितने लाइक्स आए तो किसी को देखना है कितने कॉमेंट्स आए हैं तो किसने क्या कहा है इन सब की वजह से क्या हो रहा है कि हम वह सब लाइफ में जो जो सच्ची नहीं है उसी में फंसे हुए हैं और जो रियल लाइफ में है रियल में कोई किसी का इज्जत नहीं करते कोई स्टेटस लगाता है कि मां का इज्जत करना चाहिए वह एनडीए सब लेकिन रियल लाइफ में अपने घर में कोई काम नहीं करता और बहुत ज्यादा मोटिवेशनल स्टेटस डालता है तो यह सब नहीं होना चाहिए देखिए हर चीज में बैलेंस होना जरूरी है सोशल मीडिया भी यूज़ करना चाहिए फिर हम भी लाइन लाइव न्यूज़ मतलब उसको भी इंजॉय करना चाहिए तो मैं यही कहना चाहूंगी कि हर चीज में बैलेंस होना जरूरी है अगर कोई भी चीज अनबैलेंस हो जाए तो फिर लाइफ में वह क्या कहते हैं डिफिकल्टीज आने लगती है स्मार्टफोन के कारण लोग क्या हो गया है कि जो अपने हैं क्योंकि जो हमारे पास रहता है उसकी तो वॉल्यूम करते नहीं है और जो हमारे पास नहीं रहता वह हमारे लिए बहुत ज्यादा वैल्युएबल होता है तो यही बात है तो जो हमारे पास नहीं लोग अलग-अलग रहते हैं उनसे हम सोशल मीडिया से जुड़े हुए हैं और ज्यादा करते हैं और जो हमारे पास हमारे फैमिली मेंबर हमारे पास पड़े रहते हैं तो क्या होता है कि हम उन्हें दूर कर दे कर यार इनसे तो हम कभी भी बात कर ले तो हमेशा हमारे पास अगल-बगल रहते हैं कभी भी बात कर लेंगे और जो मतलब थोड़ी दूर है तो उन्हीं से ज्यादा कनेक्ट होना चाहते हैं यह मतलब एक्यूमेन नीचे है कि जो चीज उसे आसानी से मतलब उसके पास होता उसका कोई रास्ता नहीं करता है और जो चीज नहीं रहता उसी के पीछे दौड़ता है तो यह सब सारी बातें हैं कि जो लोग इस स्मार्टफोन से ज्यादा जुड़े हैं और जो फैमिली लाइफ है उससे दूर होते गए हैं
Namaskaar jaise kis mein kveshchan kiya gaya hai ki aaj smaartaphon ke kaaran apanon se hee dooriyaan kis prakaar badhatee ja rahee hain to dekhie ek hamaare hamaaree laiph hai ya phaimilee ke saath laiph hai aur ek hamaare soshalait bhaiya soshal meediya laik log kya hota hai kis mein bahut jyaada soshal meediya vaale laiph mein bahut jyaada pareshaan ho jaate hain aapane aksar aisa dekha hoga ki koee kisee se holee ke din ya divaalee ke din badale nahin jaata hai ya phir koee bas nahin karata hai lekin soshal meediya par dekho to 1 din pahale se hee bahut saare vishesh aane lagate hain ya bahut saare gipht milate hain riyal laiph mein koee kisee se jaakar milata nahin hai ya lekin soshal meediya ke throo bahut saare log isee mein pareshaan rakhen kisee ko stetas lagaana hai to kisee ko apana photo daalana hai kisee ko dekhana hai ki kitane laiks aae to kisee ko dekhana hai kitane koments aae hain to kisane kya kaha hai in sab kee vajah se kya ho raha hai ki ham vah sab laiph mein jo jo sachchee nahin hai usee mein phanse hue hain aur jo riyal laiph mein hai riyal mein koee kisee ka ijjat nahin karate koee stetas lagaata hai ki maan ka ijjat karana chaahie vah enadeee sab lekin riyal laiph mein apane ghar mein koee kaam nahin karata aur bahut jyaada motiveshanal stetas daalata hai to yah sab nahin hona chaahie dekhie har cheej mein bailens hona jarooree hai soshal meediya bhee yooz karana chaahie phir ham bhee lain laiv nyooz matalab usako bhee injoy karana chaahie to main yahee kahana chaahoongee ki har cheej mein bailens hona jarooree hai agar koee bhee cheej anabailens ho jae to phir laiph mein vah kya kahate hain diphikalteej aane lagatee hai smaartaphon ke kaaran log kya ho gaya hai ki jo apane hain kyonki jo hamaare paas rahata hai usakee to volyoom karate nahin hai aur jo hamaare paas nahin rahata vah hamaare lie bahut jyaada vailyuebal hota hai to yahee baat hai to jo hamaare paas nahin log alag-alag rahate hain unase ham soshal meediya se jude hue hain aur jyaada karate hain aur jo hamaare paas hamaare phaimilee membar hamaare paas pade rahate hain to kya hota hai ki ham unhen door kar de kar yaar inase to ham kabhee bhee baat kar le to hamesha hamaare paas agal-bagal rahate hain kabhee bhee baat kar lenge aur jo matalab thodee door hai to unheen se jyaada kanekt hona chaahate hain yah matalab ekyoomen neeche hai ki jo cheej use aasaanee se matalab usake paas hota usaka koee raasta nahin karata hai aur jo cheej nahin rahata usee ke peechhe daudata hai to yah sab saaree baaten hain ki jo log is smaartaphon se jyaada jude hain aur jo phaimilee laiph hai usase door hote gae hain

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
ऐसा कितनी बार है कि 26 जनवरी गणतंत्र दिवस के मौके पर कोई मुख्य अतिथि शामिल नहीं हुआ?Aisa Kitni Baar Hai Ki 26 January Gantantra Divas Ke Mauke Par Koi Mukhya Atithi Shamil Nahi Hua
Nidhi Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Nidhi जी का जवाब
Unknown
0:57
नमस्कार जैसे कि आपने क्वेश्चन किया है कि ऐसा कितनी बार है कि 26 जनवरी के दिन मौके पर कोई मुख्य अतिथि शामिल नहीं हुआ नहीं हुआ तो मैं आपको बता दूं कि जब से हमारा अलग 26 26 जनवरी सेलिब्रेट हो रहा है तब से आज तक मतलब इस टाइम बस आज के मतलब 26 जनवरी को छोड़कर हर दिन मतलब हर 26 जनवरी को स्थिति आए हैं और इस टाइम भी आने वाले थे अतिथि इंग्लैंड के लेकिन वह कुछ कारणवश नहीं आ पाए उन्होंने उन्होंने बताया कि जो कोरोनावायरस इन लैंड में बहुत ज्यादा बढ़ रहा है तो इसको इसी को देखते हुए उन्होंने बोला कि नहीं मैं नहीं आ सकूंगा और यह ऐसा 26 जनवरी रहा है जहां इस दिन कोई मुख्य अतिथि नहीं आया थैंक यू
Namaskaar jaise ki aapane kveshchan kiya hai ki aisa kitanee baar hai ki 26 janavaree ke din mauke par koee mukhy atithi shaamil nahin hua nahin hua to main aapako bata doon ki jab se hamaara alag 26 26 janavaree selibret ho raha hai tab se aaj tak matalab is taim bas aaj ke matalab 26 janavaree ko chhodakar har din matalab har 26 janavaree ko sthiti aae hain aur is taim bhee aane vaale the atithi inglaind ke lekin vah kuchh kaaranavash nahin aa pae unhonne unhonne bataaya ki jo koronaavaayaras in laind mein bahut jyaada badh raha hai to isako isee ko dekhate hue unhonne bola ki nahin main nahin aa sakoonga aur yah aisa 26 janavaree raha hai jahaan is din koee mukhy atithi nahin aaya thaink yoo

#जीवन शैली

bolkar speaker
गुस्से को कैसे काबू करें और कैसे सकारात्मक सोच से दूर करें?Gusse Ko Kaise Kabu Karein Aur Kaise Sakaratmak Soch Se Door Karen
Nidhi Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Nidhi जी का जवाब
Unknown
3:00
नमस्कार जैसे कि आपने क्वेश्चन किया है कि गुस्से को कैसे काबू करें और कैसे सकारात्मक सोच से दूर मतलब दूर करें उसे तो देखिए मैं बता दूं कि इंसान जो अपनी हैबिट गुस्सा हम आता नहीं है गुस्सा हम करते हैं पहले बात और यह हमारे धीरे-धीरे हार्दिक में शामिल हो जाता है जैसे क्या होता है कि जब हम को भी बात हमें मनवा ना होता है या फिर तुम गुस्सा करते हैं तो फिर इंसान समझ जाता है या फिर ऐसे एग्जांपल ए लोग छोटे बच्चों को प्यार से बात करो तो नहीं समझता है लेकिन गुस्सा करो तो वही तुरंत समझ जाएगा तो क्या होता है कि हमें छोटी-छोटी बातों पर गुस्सा करने की आदत हो जाती है क्योंकि हमारा सोसाइटी या फिर हमारे फैमिली में मन में ऐसा बना देते हैं क्योंकि अगर सीधी बात या कोई इंसान से गमना राम बात कर रहा है नरम होकर तो कोई सुनता नहीं है लेकिन वहीं अगर कोई गुस्सा करके बोलता है यह जैसे बात कर लो टीचर की तो कोई ऐसे टीचर प्यार से समझाता तो बच्चे नहीं समझते और भाई पर वह गुस्सा कर दिया तो सारे बच्चे शांत हो जाते हैं तो फिर क्या होता है इंसान का जो हैबिट है कि बनने लगता है और इंसान वह धीरे-धीरे गुस्सा उसके हार्दिक में शामिल हो जाता है और यह हम ना चाहते हुए भी हमारे डेली रूटीन में यह बन जाता है छोटी-छोटी बातों पर हम गुस्सा करने लगते हैं जिससे कि हमारा जो बात है या जल्दी से काम हो जाए हमारा इस काम के करने के लिए हम छोटी-छोटी बातों पर गुस्सा करने लगते हैं और यह हमारे धीरे-धीरे हां पेट में शामिल हो जाता है इससे हमारे बॉडी पर या मेंटल हेल्थ बहुत ज्यादा इफेक्ट पड़ता है तो हमें क्या ऐसे कैसे काबू करना चाहिए तो सबसे पहले तो हमें अपने पर ध्यान रखना चाहिए कि हम गुस्सा क्यों कर रहे हैं किस बात को लेकर गुस्सा करेगा कोई छोटी सी बात भी बोल देता तुम गुस्सा करते थे उस पर ध्यान रखना चाहिए और सबसे पहली बार जब आपको गुस्सा आप अपने पर ध्यान रखो कि हम गुस्सा कब कर रहे हैं जैसे किसी ने कोई बात आपको गुस्सा आ रहा है तो बस आप अपने को दो या 3 मिनट तक बस कंट्रोलर बस ब्लॉक बोली रिलैक्स रिलैक्स इज नॉट गुड फॉर हेल्थ जब यह बोलेंगे धीरे-धीरे आप रिलैक्स हो जाएंगे तो फिर यह आपके और आपको एक हफ्ते तक यह कंट्रोल करना पड़ेगा और धीरे-धीरे आपके डेली रूटीन में शामिल हो जाएगा क्योंकि गुस्सा करने से आपको ही नहीं बल्कि दूसरों को भी बहुत नुकसान होता है दूसरों को छोड़िए आप को सबसे ज्यादा नुकसान होता है आपका पूरा दिन खराब हो जाता है एक गुस्सा करोगे तो पूरा दिन खराब हो जाएगा और वही थॉट्स आपके दिमाग में चलता रहता है इससे बेटर यह है कि थोड़ा बहुत हम अपने को 2 मिनट 3 मिनट जब गुस्सा आ रहा है तो कंट्रोल कर ले जब उस टाइम हो अपने आप को कंट्रोल कर लेंगे तो यह गुस्सा है वह हमारा धीरे धीरे कम हो जाएगा और हमारे हाइट में शामिल हो जाएगा ना गुस्सा करने वाली आदत क्योंकि हम कोई भी हां बेटू से डेवलप करते हो और यह हमारे धीरे धीरे डेली रूटीन में शामिल हो जाते हो जाता है थैंक यू
Namaskaar jaise ki aapane kveshchan kiya hai ki gusse ko kaise kaaboo karen aur kaise sakaaraatmak soch se door matalab door karen use to dekhie main bata doon ki insaan jo apanee haibit gussa ham aata nahin hai gussa ham karate hain pahale baat aur yah hamaare dheere-dheere haardik mein shaamil ho jaata hai jaise kya hota hai ki jab ham ko bhee baat hamen manava na hota hai ya phir tum gussa karate hain to phir insaan samajh jaata hai ya phir aise egjaampal e log chhote bachchon ko pyaar se baat karo to nahin samajhata hai lekin gussa karo to vahee turant samajh jaega to kya hota hai ki hamen chhotee-chhotee baaton par gussa karane kee aadat ho jaatee hai kyonki hamaara sosaitee ya phir hamaare phaimilee mein man mein aisa bana dete hain kyonki agar seedhee baat ya koee insaan se gamana raam baat kar raha hai naram hokar to koee sunata nahin hai lekin vaheen agar koee gussa karake bolata hai yah jaise baat kar lo teechar kee to koee aise teechar pyaar se samajhaata to bachche nahin samajhate aur bhaee par vah gussa kar diya to saare bachche shaant ho jaate hain to phir kya hota hai insaan ka jo haibit hai ki banane lagata hai aur insaan vah dheere-dheere gussa usake haardik mein shaamil ho jaata hai aur yah ham na chaahate hue bhee hamaare delee rooteen mein yah ban jaata hai chhotee-chhotee baaton par ham gussa karane lagate hain jisase ki hamaara jo baat hai ya jaldee se kaam ho jae hamaara is kaam ke karane ke lie ham chhotee-chhotee baaton par gussa karane lagate hain aur yah hamaare dheere-dheere haan pet mein shaamil ho jaata hai isase hamaare bodee par ya mental helth bahut jyaada iphekt padata hai to hamen kya aise kaise kaaboo karana chaahie to sabase pahale to hamen apane par dhyaan rakhana chaahie ki ham gussa kyon kar rahe hain kis baat ko lekar gussa karega koee chhotee see baat bhee bol deta tum gussa karate the us par dhyaan rakhana chaahie aur sabase pahalee baar jab aapako gussa aap apane par dhyaan rakho ki ham gussa kab kar rahe hain jaise kisee ne koee baat aapako gussa aa raha hai to bas aap apane ko do ya 3 minat tak bas kantrolar bas blok bolee rilaiks rilaiks ij not gud phor helth jab yah bolenge dheere-dheere aap rilaiks ho jaenge to phir yah aapake aur aapako ek haphte tak yah kantrol karana padega aur dheere-dheere aapake delee rooteen mein shaamil ho jaega kyonki gussa karane se aapako hee nahin balki doosaron ko bhee bahut nukasaan hota hai doosaron ko chhodie aap ko sabase jyaada nukasaan hota hai aapaka poora din kharaab ho jaata hai ek gussa karoge to poora din kharaab ho jaega aur vahee thots aapake dimaag mein chalata rahata hai isase betar yah hai ki thoda bahut ham apane ko 2 minat 3 minat jab gussa aa raha hai to kantrol kar le jab us taim ho apane aap ko kantrol kar lenge to yah gussa hai vah hamaara dheere dheere kam ho jaega aur hamaare hait mein shaamil ho jaega na gussa karane vaalee aadat kyonki ham koee bhee haan betoo se devalap karate ho aur yah hamaare dheere dheere delee rooteen mein shaamil ho jaate ho jaata hai thaink yoo

#जीवन शैली

bolkar speaker
जब हम दुखी होते हैं तो हमारे मन में हमेशा गलत विचार ही क्यों आते है ?Jab Hum Dukhi Hote Hai To Humare Man Me Hamesha Galat Vichar Hi Kyo Aate Hai
Nidhi Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Nidhi जी का जवाब
Unknown
2:01
नमस्कार जैसा कि आपने क्वेश्चन किया है कि जब हम दुखी होते हैं तो हमारे मन में हमेशा गलत बिचारी क्यों आते हैं देखकर जो यह मैंने जरा हमको अगर हम दुखी भी नहीं होते हैं ना अगर हम कोई काम करने जा रहे हैं तो हमारे अंदर पहले नेगेटिव भावना ही आएंगे अगर नहीं भी आ रहे हैं तो हमारी सोसाइटी ऐसी है कि वह ला देगी तो आपको जैसे कि मैं आपको एग्जांपल दे दूं कि जो क्या कहते हैं कि खरपतवार होते हैं ऐसे ही बस जाते हैं और जो सीट होता है उसे हमें नर्चर करना पड़ता है पानी देना पड़ता है और जो अलग खरपतवार है घास है उसे अलग निकाल कर फेंकना पड़ता तो वैसे हमारे थॉट्स है जो नेगेटिव थॉट्स है वहां से खरपतवार है जो ऐसे ही आ जाते हैं ऊपर जाते हैं उसको क्या करना है कि उसे नेगेटिव है तो उसे निकालना है और जो अच्छे सीट है को नजर करना पड़ता है और नानी देना पड़ता है तो हमें क्या करना है कि अच्छे थॉट्स को अपने अंदर डालना है और उसमें पानी डालना है या नहीं पढ़ते अच्छे थॉट्स रखने हैं अपने अंदर अटपटे अच्छे थॉट्स रखोगे उसको धीरे-धीरे डिवेलप किया जा सकता है क्योंकि आपको आप नोटिस के होंगे कि जो खरपतवार होते यह घास होते हैं वह ऐसे ही जान जाते हैं उन्हें किसी चीज की जरूरत नहीं पड़ती उन्हें पानी की भी जरूरत नहीं पड़ती है दो यही हमारे नेगेटिव थॉट्स के साथ होता है क्या होता है क्यों नेगेटिव थॉट्स ऑटोमेटिक आ जाते हैं लेकिन अच्छे थॉट्स के लिए हमें ज्यादा मेहनत करनी पड़ती है तो यही करना है हमको जो खरपतवार है या घास है उसे निकाल कर फेंकना है यानी नेगेटिव थॉट्स है उसे निकाल कर फेंकना है और जो अच्छे स्वीट्स है उसे अच्छे थॉट्स को डेवलप करना है और अगर वह एक बार पेड़ बन गया ना तो फिर वह फिर उसे घास या खरपतवार नेगेटिव एनर्जी कुछ वक्त नहीं कर पाएगी तो बस अपने आप को कंट्रोल करना है और अच्छे थॉट्स क्रिकेट थैंक यू
Namaskaar jaisa ki aapane kveshchan kiya hai ki jab ham dukhee hote hain to hamaare man mein hamesha galat bichaaree kyon aate hain dekhakar jo yah mainne jara hamako agar ham dukhee bhee nahin hote hain na agar ham koee kaam karane ja rahe hain to hamaare andar pahale negetiv bhaavana hee aaenge agar nahin bhee aa rahe hain to hamaaree sosaitee aisee hai ki vah la degee to aapako jaise ki main aapako egjaampal de doon ki jo kya kahate hain ki kharapatavaar hote hain aise hee bas jaate hain aur jo seet hota hai use hamen narchar karana padata hai paanee dena padata hai aur jo alag kharapatavaar hai ghaas hai use alag nikaal kar phenkana padata to vaise hamaare thots hai jo negetiv thots hai vahaan se kharapatavaar hai jo aise hee aa jaate hain oopar jaate hain usako kya karana hai ki use negetiv hai to use nikaalana hai aur jo achchhe seet hai ko najar karana padata hai aur naanee dena padata hai to hamen kya karana hai ki achchhe thots ko apane andar daalana hai aur usamen paanee daalana hai ya nahin padhate achchhe thots rakhane hain apane andar atapate achchhe thots rakhoge usako dheere-dheere divelap kiya ja sakata hai kyonki aapako aap notis ke honge ki jo kharapatavaar hote yah ghaas hote hain vah aise hee jaan jaate hain unhen kisee cheej kee jaroorat nahin padatee unhen paanee kee bhee jaroorat nahin padatee hai do yahee hamaare negetiv thots ke saath hota hai kya hota hai kyon negetiv thots otometik aa jaate hain lekin achchhe thots ke lie hamen jyaada mehanat karanee padatee hai to yahee karana hai hamako jo kharapatavaar hai ya ghaas hai use nikaal kar phenkana hai yaanee negetiv thots hai use nikaal kar phenkana hai aur jo achchhe sveets hai use achchhe thots ko devalap karana hai aur agar vah ek baar ped ban gaya na to phir vah phir use ghaas ya kharapatavaar negetiv enarjee kuchh vakt nahin kar paegee to bas apane aap ko kantrol karana hai aur achchhe thots kriket thaink yoo

#जीवन शैली

bolkar speaker
क्या हाल ही में चीन के बनाए नकली सूरज से पृथ्वी पर गर्मी पड़ जाएगी?Kya Hal Hee Mein China Ke Banaye Nakli Suraj Se Prithvi Par Garmi Pad Jaegi
Nidhi Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Nidhi जी का जवाब
Unknown
1:16
नमस्कार जैसे कि आपने क्वेश्चन किया है कि क्या हाल ही में चीन के बनाए नकली सूरज से पृथ्वी पर गर्मी पड़ सकती है देखिए मैं आपको यह जहां से अपने न्यूज़ सुनाइए न्यूज़ पूरी सही है लेकिन इस पृथ्वी पर कुछ इफेक्ट नहीं बढ़ेगा वह सूर्य बनाया है वह अपने लिए बनाया अापने बेनिफिट के लिए बनाया और जैसे कि आपको पता है कि जो चाइना काम करता है वह अपने बेनिफिट के लिए ज्यादा करता है और दूसरे को नुकसान होता है तो वह उससे उससे कोई फर्क नहीं पड़ता है तो मैं आपको यह बता दूं कि वह जो नकली सूर्य बनाया है चाइना फॉर सोलर एनर्जी को मतलब इनक्रीस करने के लिए बनाने के लिए वह यह क्रिकेट किया है क्योंकि मॉर्निंग में तो सब निकलता है लेकिन रात को सर नहीं निकालता है तो वह क्या करेगा जो नकली सूर्य बना है उससे वह सोलर मतलब सोलर पैनल में वह लाइक क्रिकेट कर सके और उसे चार्ज कर सके इसीलिए उन उसने यह नकली सूरज और इस पृथ्वी पर कोई ज्यादा ही फर्क नहीं पड़ेगा क्योंकि हम कितनी भी बराबरी कर ले हम नेचुरल जो नेचर है उसे हम कभी नहीं हरा सकते और नेचर जो है हमसे वह 10 कदम आगे ही रहेगा भले इंसान कितना भी टपक पड़े थैंक यू
Namaskaar jaise ki aapane kveshchan kiya hai ki kya haal hee mein cheen ke banae nakalee sooraj se prthvee par garmee pad sakatee hai dekhie main aapako yah jahaan se apane nyooz sunaie nyooz pooree sahee hai lekin is prthvee par kuchh iphekt nahin badhega vah soory banaaya hai vah apane lie banaaya aaapane beniphit ke lie banaaya aur jaise ki aapako pata hai ki jo chaina kaam karata hai vah apane beniphit ke lie jyaada karata hai aur doosare ko nukasaan hota hai to vah usase usase koee phark nahin padata hai to main aapako yah bata doon ki vah jo nakalee soory banaaya hai chaina phor solar enarjee ko matalab inakrees karane ke lie banaane ke lie vah yah kriket kiya hai kyonki morning mein to sab nikalata hai lekin raat ko sar nahin nikaalata hai to vah kya karega jo nakalee soory bana hai usase vah solar matalab solar painal mein vah laik kriket kar sake aur use chaarj kar sake iseelie un usane yah nakalee sooraj aur is prthvee par koee jyaada hee phark nahin padega kyonki ham kitanee bhee baraabaree kar le ham nechural jo nechar hai use ham kabhee nahin hara sakate aur nechar jo hai hamase vah 10 kadam aage hee rahega bhale insaan kitana bhee tapak pade thaink yoo

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
किसी से बात करते वक्त अगर हिचकिचाहट या घबराहट महसूस हो तो क्या करें?Kisi Se Bat Karte Vaqt Agar Hichkichahat Ya Ghabrahat Mehsus Ho Toh Kya Kare
Nidhi Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Nidhi जी का जवाब
Unknown
1:29
नमस्कार जैसे कि आपने क्वेश्चन किया है कि किसी से बात करते वक्त अगर हिचकिचाहट या घबराहट महसूस हो तो क्या करें देखिए अगर हम किसी भी काम को पहली बार करने जाते हैं तो हमें बहुत ज्यादा डर लगता है और हिचकिचाहट भी होने लगती है तो मैं यही सजेशन देना चाहूंगी कि जो भी काम को करने में आपको सबसे ज्यादा डर लगता है तो उस काम तो करना ही चाहिए क्योंकि जो आपके अंदर का डर है उसे निकालना बहुत ज्यादा जरूरी है क्योंकि जो आप का डर है वह आपके अंदर जो डेवलपमेंट है उसको वह रोक रहा है तो क्या करना है कि आपको हिचकिचाहट हो रही है तो भी बात करो क्योंकि वह क्यों मन नहीं है इंसान ही है तो फिर जब भी आदत अब धीरे-धीरे डिवेलप करोगे तो फिर यह आदत बन जाएगी और फिर क्या होगा कि आपको किसी से बात करने में डर नहीं लगेगा या फिर हिचकिचाहट नहीं होगी तो पहले अपने फैमिली से स्टार्ट करो फिर अपने से बात करो फिर दूसरों से बात करो या फिर बोल कर पर बोल कर देखो बोलकर पर बोल कर देखोगे तो फिर आप किसी से भी बात कर लोगे क्योंकि यहां पर आपको सजेशन देना रहता है और यहां पर अगर आप अच्छा सजेशन देते हो आप एक गुड स्पीकर बन जाओगे और आप इसलिए किसी से भी बात कर लोगे विदाउट घबराहट हिचकिचाहट कैसा भी नहीं होगा और बस यही माइंडसेट रखने से 11 ह्यूमन बिंग है और मैं किसी से बात करूंगा करूंगी तुमसे कुछ सीखने को मिलेगा बस यह माइंडसेट अपने अंदर डेवलप करना चाहिए थैंक यू
Namaskaar jaise ki aapane kveshchan kiya hai ki kisee se baat karate vakt agar hichakichaahat ya ghabaraahat mahasoos ho to kya karen dekhie agar ham kisee bhee kaam ko pahalee baar karane jaate hain to hamen bahut jyaada dar lagata hai aur hichakichaahat bhee hone lagatee hai to main yahee sajeshan dena chaahoongee ki jo bhee kaam ko karane mein aapako sabase jyaada dar lagata hai to us kaam to karana hee chaahie kyonki jo aapake andar ka dar hai use nikaalana bahut jyaada jarooree hai kyonki jo aap ka dar hai vah aapake andar jo devalapament hai usako vah rok raha hai to kya karana hai ki aapako hichakichaahat ho rahee hai to bhee baat karo kyonki vah kyon man nahin hai insaan hee hai to phir jab bhee aadat ab dheere-dheere divelap karoge to phir yah aadat ban jaegee aur phir kya hoga ki aapako kisee se baat karane mein dar nahin lagega ya phir hichakichaahat nahin hogee to pahale apane phaimilee se staart karo phir apane se baat karo phir doosaron se baat karo ya phir bol kar par bol kar dekho bolakar par bol kar dekhoge to phir aap kisee se bhee baat kar loge kyonki yahaan par aapako sajeshan dena rahata hai aur yahaan par agar aap achchha sajeshan dete ho aap ek gud speekar ban jaoge aur aap isalie kisee se bhee baat kar loge vidaut ghabaraahat hichakichaahat kaisa bhee nahin hoga aur bas yahee maindaset rakhane se 11 hyooman bing hai aur main kisee se baat karoonga karoongee tumase kuchh seekhane ko milega bas yah maindaset apane andar devalap karana chaahie thaink yoo

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
क्या हर समय नरम होना सही है?Kya Har Samay Naram Hona Sahi Hai
Nidhi Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Nidhi जी का जवाब
Unknown
3:34
जैसे कि आपने क्वेश्चन किया है कि क्या हर समय नरम हो ना सही है तो देखिए कहते हैं ना कि जैसे हम हावित मतलब आदत डालते हैं जैसी वह धीरे-धीरे हमारे हार्दिक में शामिल हो जाती है तो हम क्या करते हैं कि कोई बात हम आराम से बोलेंगे तो फिर उस पर कोई ध्यान नहीं देता है अगर वही बात हम गुस्से से बोल देते हैं तो उसे सब ध्यान दे देते हैं अक्सर यही होता है क्या होता है कि जो हमारा हैबिट होता है वह धीरे-धीरे चेंज होने लगता है और हम छोटी-छोटी बातों पर गुस्सा करने लगते हैं क्योंकि हमारा कोई बात माने और सुने कि आपने अक्सर नोटिस क्योंकि जब आप आराम से बात करोगे तो फिर कोई नोटिस नहीं करता लेकिन वह जब कोई डांट के बात करता है या फिर कोई गुस्से से बात करता है तो फिर वह नोटिस करने लगते हैं अंदर क्या होता कि जो हमारी हां बेटे होती है और आदत होती है वह धीरे-धीरे गुस्से टाइप में कन्वर्ट होने लगती है और हम ना चाहते हुए भी अगर क्रिकेट करते हैं छोटी-छोटी बातों पर क्योंकि हमारी बात को ही मान ले अंडर क्रिएट करते हैं इससे सबसे ज्यादा हमें नुकसान होता है जब हम एंगल क्रिएट करते हैं तो क्या होता है कि हमारे बॉडी पर बहुत ज्यादा इफेक्ट पड़ता है हमारा जो ब्लड प्रेशर हाई हो जाता है और इससे हमारे शरीर पर बहुत ज्यादा इफेक्ट पड़ता है हमारे माइंड तो बहुत ज्यादा ही फर्क पड़ता है और जो कहते हैं कि अगर कोई इंसान ज्यादा गुस्सा करता है तो उसका ब्लड होता है वह गाढ़ा होने लगता है और उसे हार्ट अटैक आने की संभावना ज्यादा होती है कंपेयर आदर्श पेपर तो मैं यही कहना चाहूंगी कि कम से कम दूसरों के लिए नहीं कम से कम अपने लिए तो नरम होना चाहिए क्योंकि आप सबसे ज्यादा गुस्सा करके आप किसी और का नहीं बल्कि खुद का नुकसान करोगे तो मैं यही कहूंगी कि जहां पर गुस्सा करना है वहीं पर करो बाकी टाइप आफ नरम रहो क्योंकि अगर नरम रहोगे तो आपका जो हैबिट है वह धीरे-धीरे यही बनता जगह कि आप नार में ही रहोगे आपको हर बात पर गुस्सा नहीं आएगा क्योंकि वह सबसे ज्यादा गांधी जी ने बोला था कि वह इंसान सबसे ज्यादा स्ट्रांग है जो गुस्सा नहीं करता है क्योंकि जो इंसान गुस्सा नहीं करता हूं बहुत ज्यादा स्ट्रांग है यही करना चाहिए कि अपने अंदर यह कैरेक्टर डेवलप करना है गुस्सा नहीं करना है कि और नरम रहना है हर टाइम क्यों किया अगर आप नाराज रहोगे तो आपकी हेल्प सही रहेगी अगर आपकी हेल्प साइड है कि जो आपकी मेंटल फिजिकल हर चीज सही रहेगा तो मैं यही सजेशन देना चाहूंगी कि आप अपने हार्दिक में गर्म होने की ज्यादा मतलब आदत डालो क्योंकि आप अगर आप नोटिस किए होंगे कि अगर आपसे कोई गुस्से में बात करता है तो फिर आपको कैसा लगता है और फिर आपको कोई वही बात अच्छे से समझ आता है तो फिर आपको कैसा लगता है तो आप खुद एक्सपीरियंस कर सकते हो कि अगर आपको ऐसा लगता है तो अगर आप वैसी है पर दूसरों के साथ करोगे तो उसे कैसा लगेगा माइंडसेट अपने अंदर रखने और अब अपने को हमेशा अलार्म रखना क्योंकि अगर आप गुस्सा करोगे तो फिर आप को सबसे ज्यादा नुकसान होगा और किसी का उससे कुछ और नहीं बस 2 मिनट के लिए तो आपकी कोई बात मान लेगा लेकिन फिर वह समझ जाएगा आपकी जो हैबिट है वह वैसी बनती जाएगी तो मैं यही सजेशन देना चाहूंगी कि आप दूसरों के लिए नहीं कम से कम अपने लिए अपने स्वास्थ्य के लिए मतलब शांत रहना बहुत अच्छा है और गुस्सा करना बहुत खराब है क्योंकि इसके बारे दिसंबर थैंक यू
Jaise ki aapane kveshchan kiya hai ki kya har samay naram ho na sahee hai to dekhie kahate hain na ki jaise ham haavit matalab aadat daalate hain jaisee vah dheere-dheere hamaare haardik mein shaamil ho jaatee hai to ham kya karate hain ki koee baat ham aaraam se bolenge to phir us par koee dhyaan nahin deta hai agar vahee baat ham gusse se bol dete hain to use sab dhyaan de dete hain aksar yahee hota hai kya hota hai ki jo hamaara haibit hota hai vah dheere-dheere chenj hone lagata hai aur ham chhotee-chhotee baaton par gussa karane lagate hain kyonki hamaara koee baat maane aur sune ki aapane aksar notis kyonki jab aap aaraam se baat karoge to phir koee notis nahin karata lekin vah jab koee daant ke baat karata hai ya phir koee gusse se baat karata hai to phir vah notis karane lagate hain andar kya hota ki jo hamaaree haan bete hotee hai aur aadat hotee hai vah dheere-dheere gusse taip mein kanvart hone lagatee hai aur ham na chaahate hue bhee agar kriket karate hain chhotee-chhotee baaton par kyonki hamaaree baat ko hee maan le andar kriet karate hain isase sabase jyaada hamen nukasaan hota hai jab ham engal kriet karate hain to kya hota hai ki hamaare bodee par bahut jyaada iphekt padata hai hamaara jo blad preshar haee ho jaata hai aur isase hamaare shareer par bahut jyaada iphekt padata hai hamaare maind to bahut jyaada hee phark padata hai aur jo kahate hain ki agar koee insaan jyaada gussa karata hai to usaka blad hota hai vah gaadha hone lagata hai aur use haart ataik aane kee sambhaavana jyaada hotee hai kampeyar aadarsh pepar to main yahee kahana chaahoongee ki kam se kam doosaron ke lie nahin kam se kam apane lie to naram hona chaahie kyonki aap sabase jyaada gussa karake aap kisee aur ka nahin balki khud ka nukasaan karoge to main yahee kahoongee ki jahaan par gussa karana hai vaheen par karo baakee taip aaph naram raho kyonki agar naram rahoge to aapaka jo haibit hai vah dheere-dheere yahee banata jagah ki aap naar mein hee rahoge aapako har baat par gussa nahin aaega kyonki vah sabase jyaada gaandhee jee ne bola tha ki vah insaan sabase jyaada straang hai jo gussa nahin karata hai kyonki jo insaan gussa nahin karata hoon bahut jyaada straang hai yahee karana chaahie ki apane andar yah kairektar devalap karana hai gussa nahin karana hai ki aur naram rahana hai har taim kyon kiya agar aap naaraaj rahoge to aapakee help sahee rahegee agar aapakee help said hai ki jo aapakee mental phijikal har cheej sahee rahega to main yahee sajeshan dena chaahoongee ki aap apane haardik mein garm hone kee jyaada matalab aadat daalo kyonki aap agar aap notis kie honge ki agar aapase koee gusse mein baat karata hai to phir aapako kaisa lagata hai aur phir aapako koee vahee baat achchhe se samajh aata hai to phir aapako kaisa lagata hai to aap khud eksapeeriyans kar sakate ho ki agar aapako aisa lagata hai to agar aap vaisee hai par doosaron ke saath karoge to use kaisa lagega maindaset apane andar rakhane aur ab apane ko hamesha alaarm rakhana kyonki agar aap gussa karoge to phir aap ko sabase jyaada nukasaan hoga aur kisee ka usase kuchh aur nahin bas 2 minat ke lie to aapakee koee baat maan lega lekin phir vah samajh jaega aapakee jo haibit hai vah vaisee banatee jaegee to main yahee sajeshan dena chaahoongee ki aap doosaron ke lie nahin kam se kam apane lie apane svaasthy ke lie matalab shaant rahana bahut achchha hai aur gussa karana bahut kharaab hai kyonki isake baare disambar thaink yoo

#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker
अबकी बार कौन सा गणतंत्र दिवस है?Abki Bar Kaun Sa Gantantra Divas Hai
Nidhi Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Nidhi जी का जवाब
Unknown
1:37
नमस्कार जैसे कि आपने क्वेश्चन किया कि अबकी बार कौन सा गणतंत्र दिवस है तो हैप्पी रिपब्लिक डे टो ऑल फ्रॉम माय साइड और जैसा कि आपने क्वेश्चन पूछा है कि कौन सा रिपब्लिक डे है तो 72 रिपब्लिक डे है इस टाइम और इसकी हिस्ट्री की बात करें तो जो हमारे फर्स्ट प्राइम मिनिस्टर थे जवाहरलाल नेहरू उन्होंने 1930 में बोला था कि पूर्ण स्वराज जब हमारा देश आजाद होगा तो इसी दिन अपना जो मतलब रिपब्लिक डे मनाएंगे किसी भी उन्होंने रावी नदी के किनारे प्रण लिया था तो फिर क्या हुआ कि जब हमारा देश आजाद हो गया और उसके बाद जब हमारा संविधान लिखा है तो हमारा संविधान लिखा उसमें उसका टाइमिंग हाउस उसमें टाइमिंग लगा 2 साल 11 महीने और 18 दिन में वह हमारा संविधान कंप्लीट हो गया और वह जिस तारीख को कंप्लीट हुआ वह 26 नवंबर नंबर एंड 9 9 4 9 को कंप्लीट हो गया और उसके बाद जब हमारे जैसे कि हम पंडित जवाहरलाल नेहरू ने वादा किया था कि हम किसी दिन सेलिब्रेट करेंगे तो उसके हिसाब से उसके बाद जो दिल आया 26 जनवरी 1950 उसके बाद से ये इस दिन को सेलिब्रेट किया गया है और तब से किया जा रहा है और इसी उसी दिन से लगातार यह हमारा गणतंत्र दिवस सेलिब्रेट हो रहा है और इस टाइम जो हमारा ग्रंथ रिपब्लिक डे सेलिब्रेट हो रहा है वह 72 में
Namaskaar jaise ki aapane kveshchan kiya ki abakee baar kaun sa ganatantr divas hai to haippee ripablik de to ol phrom maay said aur jaisa ki aapane kveshchan poochha hai ki kaun sa ripablik de hai to 72 ripablik de hai is taim aur isakee histree kee baat karen to jo hamaare pharst praim ministar the javaaharalaal neharoo unhonne 1930 mein bola tha ki poorn svaraaj jab hamaara desh aajaad hoga to isee din apana jo matalab ripablik de manaenge kisee bhee unhonne raavee nadee ke kinaare pran liya tha to phir kya hua ki jab hamaara desh aajaad ho gaya aur usake baad jab hamaara sanvidhaan likha hai to hamaara sanvidhaan likha usamen usaka taiming haus usamen taiming laga 2 saal 11 maheene aur 18 din mein vah hamaara sanvidhaan kampleet ho gaya aur vah jis taareekh ko kampleet hua vah 26 navambar nambar end 9 9 4 9 ko kampleet ho gaya aur usake baad jab hamaare jaise ki ham pandit javaaharalaal neharoo ne vaada kiya tha ki ham kisee din selibret karenge to usake hisaab se usake baad jo dil aaya 26 janavaree 1950 usake baad se ye is din ko selibret kiya gaya hai aur tab se kiya ja raha hai aur isee usee din se lagaataar yah hamaara ganatantr divas selibret ho raha hai aur is taim jo hamaara granth ripablik de selibret ho raha hai vah 72 mein

#पढ़ाई लिखाई

Nidhi Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Nidhi जी का जवाब
Unknown
3:16
जैसे कि क्वेश्चन किया गया कि माननीय जिलाधीश जिला शिवहर लॉस्ट समथिंग इस्लाम इस्लाम एवरीथिंग इज द ग्रेट लाइन ऐसे किसने बोला गया कि अगर मैं मनी लॉस्ट हो गया तो कुछ लॉस्ट नहीं हुआ लेकिन अगर हमारा हेयर लॉस हो गया तो हम बहुत कुछ मतलब कुछ खो देंगे हमारा 11 क्लास हो गया तो हम कुछ खो देंगे लेकिन जब हमारा समय लॉस हो गया तो बहुत कुछ खो देंगे काफी अच्छा लाइन है तो देखिए मनी क्या कैसे हम कमाते हैं हम अपने नॉलेज से कम आते हैं मनी हम अपने इस दिल से कम आते हैं तो मनी हम कमा सकते हैं लेकिन अगर हमारा ही रहेगा तभी तो हम मनी कमाएंगे तो हमारा है उससे ज्यादा सुपर है मनी से ज्यादा क्योंकि हम अपने हेल्थ के लिए मनीष को ज्यादा इमेज करते हैं जैसे कि आपने अक्सर देखा गया है कि क्या होता है कि लोग हेल्थ के प्रति बहुत सारा पैसा खर्च कर देते हैं मनी से ज्यादा वैल्युएबल थिंग हेल्थ है और उसके बाद क्या आरक्षण कैरक्टर दूसरे पर कोई इंसान का मतलब क्या है पता ही नहीं है तो फिर क्या होता है कि उसका रिस्पेक्ट नहीं होता है सोसाइटी वाले मतलब कुछ कह दे लेकिन उसका खुद अपनी नजर में उसका टाइमिंग टाइमिंग टाइमिंग हर इंसान के पास सेव होना है लेकिन उसको यूटिलाइज कौन कैसे करता है वह डिपेंड करता है तो क्या करने की टाइमिंग क्योंकि अगर कोई इंसान है वह अपना टाइम वेस्ट कर रहा है तो वह टाइम फिर उसके लिए फिर से वापस नहीं आएगा उसी लिए अपने टाइम को अच्छे से यूटिलाइज करना चाहिए क्योंकि जो टाइम को अच्छा से यूटिलाइज कर लेगा वह ल कुछ भी अजीब कर सकता है क्योंकि एक बार जब टाइम चला गया तो फिर हम उसको चाह कर भी बात नहीं मतलब बात नहीं जा सकते उसी टाइम से मतलब टाइम का रिस्पेक्ट करना चाहिए क्योंकि हमारा टाइम अगर हमें टाइम को अरेस्ट कर दिया तो वह हमको भी व्यक्त कर देगा इसलिए टाइम का हमें महत्व को समझना चाहिए तो काफी अच्छी लाइन है कि अगर हो गया तो कोई बात नहीं लेकिन इस टाइम क्या हो गया कि लोग मनी के पीछे ज्यादा भाग रहा है उसने बोलते हैं लोग कि मरने तक की फुर्सत नहीं है अरे यार हेल्थ रहेगी तभी तो पैसा कमाओगे और कैरेक्टर उसका भी कोई फिक्र नहीं करता है पैसे के चक्कर में टाइमिंग हर चीज का अपने जगह पर महत्व है हेल्थ का भी महत्व है फैमिली का भी महत्व है कैरक्टर का भी महत्व टाइमिंग कभी मौत व हर चीज का महत्व लेकिन लोग टाइम से को ज्यादा महत्व देना है तो पैसा कुछ नहीं है बस एक गवर्नमेंट सर्टिफिकेट लगा दी है बस वह बोलिए कि वह लाडली एक तरह से जो गवर्नमेंट प्रॉमिस कर रही है हमें क्या मैं इतना रुपए देने की वादा कर रही है कि मतलब अगर हां तो फिर उसकी कोई वैल्यू नहीं रहा है जिसे हम अपना हाथ जोड़ने से सिटी है उसे हम कंप्लीट कर सकते हैं लेकिन कैरक्टर टाइमिंग हेल्थ वह हमारा है और इस पर हम खुद कंट्रोल कर सकते हैं और लाइफ में जो चाहे वह मैसेज कर सकते हैं थैंक यू
Jaise ki kveshchan kiya gaya ki maananeey jilaadheesh jila shivahar lost samathing islaam islaam evareething ij da gret lain aise kisane bola gaya ki agar main manee lost ho gaya to kuchh lost nahin hua lekin agar hamaara heyar los ho gaya to ham bahut kuchh matalab kuchh kho denge hamaara 11 klaas ho gaya to ham kuchh kho denge lekin jab hamaara samay los ho gaya to bahut kuchh kho denge kaaphee achchha lain hai to dekhie manee kya kaise ham kamaate hain ham apane nolej se kam aate hain manee ham apane is dil se kam aate hain to manee ham kama sakate hain lekin agar hamaara hee rahega tabhee to ham manee kamaenge to hamaara hai usase jyaada supar hai manee se jyaada kyonki ham apane helth ke lie maneesh ko jyaada imej karate hain jaise ki aapane aksar dekha gaya hai ki kya hota hai ki log helth ke prati bahut saara paisa kharch kar dete hain manee se jyaada vailyuebal thing helth hai aur usake baad kya aarakshan kairaktar doosare par koee insaan ka matalab kya hai pata hee nahin hai to phir kya hota hai ki usaka rispekt nahin hota hai sosaitee vaale matalab kuchh kah de lekin usaka khud apanee najar mein usaka taiming taiming taiming har insaan ke paas sev hona hai lekin usako yootilaij kaun kaise karata hai vah dipend karata hai to kya karane kee taiming kyonki agar koee insaan hai vah apana taim vest kar raha hai to vah taim phir usake lie phir se vaapas nahin aaega usee lie apane taim ko achchhe se yootilaij karana chaahie kyonki jo taim ko achchha se yootilaij kar lega vah la kuchh bhee ajeeb kar sakata hai kyonki ek baar jab taim chala gaya to phir ham usako chaah kar bhee baat nahin matalab baat nahin ja sakate usee taim se matalab taim ka rispekt karana chaahie kyonki hamaara taim agar hamen taim ko arest kar diya to vah hamako bhee vyakt kar dega isalie taim ka hamen mahatv ko samajhana chaahie to kaaphee achchhee lain hai ki agar ho gaya to koee baat nahin lekin is taim kya ho gaya ki log manee ke peechhe jyaada bhaag raha hai usane bolate hain log ki marane tak kee phursat nahin hai are yaar helth rahegee tabhee to paisa kamaoge aur kairektar usaka bhee koee phikr nahin karata hai paise ke chakkar mein taiming har cheej ka apane jagah par mahatv hai helth ka bhee mahatv hai phaimilee ka bhee mahatv hai kairaktar ka bhee mahatv taiming kabhee maut va har cheej ka mahatv lekin log taim se ko jyaada mahatv dena hai to paisa kuchh nahin hai bas ek gavarnament sartiphiket laga dee hai bas vah bolie ki vah laadalee ek tarah se jo gavarnament promis kar rahee hai hamen kya main itana rupe dene kee vaada kar rahee hai ki matalab agar haan to phir usakee koee vailyoo nahin raha hai jise ham apana haath jodane se sitee hai use ham kampleet kar sakate hain lekin kairaktar taiming helth vah hamaara hai aur is par ham khud kantrol kar sakate hain aur laiph mein jo chaahe vah maisej kar sakate hain thaink yoo

#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker
अंग्रेजी सीखने में कितना समय लगता है?Angrezi Sikhne Mein Kitna Samay Lagta Hain
Nidhi Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Nidhi जी का जवाब
Unknown
2:09
मन कहां जैसे कि आपने क्वेश्चन किया है कि अंग्रेजी सीखने में कितना समय लगता है तो मैं आपको बता दूं कि आप का मतलब जो सिचुएशन है वह कैसा है वह आप पर डिपेंड करता आपको कितना नॉलेज है इंग्लिश के बारे में इस पर डिपेंड करता है आपको टाइम्स का नॉलेज कितना है तो इस पर थोड़ा डिपेंड करता है सेंटेंस का नॉलेज कितना इस पर थोड़ा डिपेंड करता है और बाकी सब इन सबको छोड़ दो क्योंकि अक्सर देखा गया है कि जिन का टेंथ का विनालेस नहीं रहता तो भी वह कुछ अच्छा ही बोल देते तो देखिए कुछ हमारा जो रहन-सहन है उसका असर पड़ता है कुछ हमारी सोसाइटी का असर पड़ता है या फिर अगर आपको क्या करना है आपको करना है बस छोटा-छोटा जो सेंटेंस है उसको थोड़ा बहुत सीखना है और कहीं पर भी आपको कोई भी इंग्लिश वर्दी के उस पर सर्च करना है उसको याद करने की कोशिश करना है फिर क्या करना है आपको मगर मूवी भी देख रहे हो तो उसको मतलब इंग्लिश में करके मतलब नीचे अगर हिंदी आती का इंग्लिश आना चाहिए जिससे आपको थोड़ा-बहुत सेंटेंस का नॉलेज हो जाएगा कि कौन सी जगह पर क्या यूज हो रहा है क्या नहीं हो रहा है तो यह करना है और आपको क्या करना है पार्टी न्यूज़पेपर फॉलो करो बर्थडे न्यूज़पेपर फॉलो करोगे तो यह आपकी जो हैबिट है रीडिंग हैबिट वह डिवेलप हो जाएगा सेंटेंस ऑफ का डेवलप हो जाएगा और मतलब जो रीडिंग स्पीड है वह भी सही हो जाएगा धीरे-धीरे बहुत सही हो जाएगा और एक और सबसे बड़ी चीज में क्योंकि हमारा जो दिमाग है वह किसी भी चीज को जल्दी कैच करता है जैसे हम सोसाइटी में रहते हैं वह सारा चीज आंसर करता है तो ऐसे फ्रेंड बनाना चाहिए कि जो थोड़ा इंग्लिश में अच्छे हैं और वह थोड़ी आपकी हेल्प कर सके तो ऐसे दोस्तों को अपनी उनसे दोस्ती करनी चाहिए और आपको मतलब इन न्यूज़ भी देखना तो इंग्लिश में देखने की कोशिश करो पहली बार दूसरी बार नहीं समझ में आता लेकिन तीसरी चौथी बार आपको समझ में आने लगा और यह सारी हैबिटेट धीरे-धीरे आप जब तक ऑटोमेटिक जैसे कि आपने हिंदी सीखा इंग्लिश भी सीख जाओगे क्योंकि एक लाख में और कोई भी सीख सकता है थैंक यू
Man kahaan jaise ki aapane kveshchan kiya hai ki angrejee seekhane mein kitana samay lagata hai to main aapako bata doon ki aap ka matalab jo sichueshan hai vah kaisa hai vah aap par dipend karata aapako kitana nolej hai inglish ke baare mein is par dipend karata hai aapako taims ka nolej kitana hai to is par thoda dipend karata hai sentens ka nolej kitana is par thoda dipend karata hai aur baakee sab in sabako chhod do kyonki aksar dekha gaya hai ki jin ka tenth ka vinaales nahin rahata to bhee vah kuchh achchha hee bol dete to dekhie kuchh hamaara jo rahan-sahan hai usaka asar padata hai kuchh hamaaree sosaitee ka asar padata hai ya phir agar aapako kya karana hai aapako karana hai bas chhota-chhota jo sentens hai usako thoda bahut seekhana hai aur kaheen par bhee aapako koee bhee inglish vardee ke us par sarch karana hai usako yaad karane kee koshish karana hai phir kya karana hai aapako magar moovee bhee dekh rahe ho to usako matalab inglish mein karake matalab neeche agar hindee aatee ka inglish aana chaahie jisase aapako thoda-bahut sentens ka nolej ho jaega ki kaun see jagah par kya yooj ho raha hai kya nahin ho raha hai to yah karana hai aur aapako kya karana hai paartee nyoozapepar pholo karo barthade nyoozapepar pholo karoge to yah aapakee jo haibit hai reeding haibit vah divelap ho jaega sentens oph ka devalap ho jaega aur matalab jo reeding speed hai vah bhee sahee ho jaega dheere-dheere bahut sahee ho jaega aur ek aur sabase badee cheej mein kyonki hamaara jo dimaag hai vah kisee bhee cheej ko jaldee kaich karata hai jaise ham sosaitee mein rahate hain vah saara cheej aansar karata hai to aise phrend banaana chaahie ki jo thoda inglish mein achchhe hain aur vah thodee aapakee help kar sake to aise doston ko apanee unase dostee karanee chaahie aur aapako matalab in nyooz bhee dekhana to inglish mein dekhane kee koshish karo pahalee baar doosaree baar nahin samajh mein aata lekin teesaree chauthee baar aapako samajh mein aane laga aur yah saaree haibitet dheere-dheere aap jab tak otometik jaise ki aapane hindee seekha inglish bhee seekh jaoge kyonki ek laakh mein aur koee bhee seekh sakata hai thaink yoo
URL copied to clipboard