#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker
क्या यूपी में महिला कांस्टेबल सब इंस्पेक्टर की नौकरी निकली है 2021?Kya Yoopee Mein Mahila Kaanstebal Sab Inspektar Kee Naukaree Nikalee Hai 2021
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
1:52
क्या यूपी में महिला कांस्टेबल सब इंस्पेक्टर की नौकरी निकली है 2021 के लिए तो जी हां निकली है और महिला के लिए नहीं महिला ही नहीं इसमें मेल फीमेल दोनों के लिए नौकरी इसका अप्लाई करने का जो डेट स्टार्ट किया गया अब लिंक एक्टिवेट 14 2021 में कब 1 अप्रैल 2021 से ऑफिस का फॉर्म भर सकते हैं इसके लिए जो आपके लिए क्राइटेरिया है और 1 महीने के लिए फॉर्म की डेट रहेगी और 314 2021 तक इसका फॉर्म फिल अप हो जाएगा और कंप्लीट हो जाएगा लास्ट डेट हो रहेंगे इसके अलावा ओबीसी और जनरल के लिए जो फीस है कि 400 एससी एसटी के लिए 491 फीमेल की कोई भी कैटेगरी है तो सबके लिए देखा जाए तो ₹400 फीस और एलिजिबिलिटी है ग्रेजुएशन कि आपके डिग्री होनी चाहिए उसके अलावा आपको जो भी मानक दंड है मेल और फीमेल के लिए जो हाइड का है जनरल ओबीसी एससी के लिए 68 सेंटीमीटर है और वहीं पर अगर महिलाओं के लिए देखा जाए 152 स्ट्रीम इन जवा एसडीके जो मेल है 160 सेंटीमीटर होनी चाहिए वही फीमेल है या सिटी की 147 सेंटीमीटर होना चाहिए इसमें और रनिंग के लिए होता है 4.8 किलोमीटर में कब लगभग 5 किलोमीटर के आसपास रहता है 28 मिनट में दौड़ना होता है दोनों मिलके रहेगा वही फीमेल के लिए है तो 2.4 किलोमीटर है वह 16 मिनट में दौड़ना है चाहे मेल या फीमेल एससी एसटी के जो भी उनके लिए सबकी क्राइटेरिया है सर कि का फॉर्म आया हुआ है और इसमें जो टोटल सीट है टोटल पोस्ट है जो 9534 पोस्ट है और इसमें आप कब रिलीज बंद है कोई भी महिला और पुरुष तो आप फॉर्म फिल अप कर सकते हैं वह भी एक अप्रैल से धन्यवाद
Kya yoopee mein mahila kaanstebal sab inspektar kee naukaree nikalee hai 2021 ke lie to jee haan nikalee hai aur mahila ke lie nahin mahila hee nahin isamen mel pheemel donon ke lie naukaree isaka aplaee karane ka jo det staart kiya gaya ab link ektivet 14 2021 mein kab 1 aprail 2021 se ophis ka phorm bhar sakate hain isake lie jo aapake lie kraiteriya hai aur 1 maheene ke lie phorm kee det rahegee aur 314 2021 tak isaka phorm phil ap ho jaega aur kampleet ho jaega laast det ho rahenge isake alaava obeesee aur janaral ke lie jo phees hai ki 400 esasee esatee ke lie 491 pheemel kee koee bhee kaitegaree hai to sabake lie dekha jae to ₹400 phees aur elijibilitee hai grejueshan ki aapake digree honee chaahie usake alaava aapako jo bhee maanak dand hai mel aur pheemel ke lie jo haid ka hai janaral obeesee esasee ke lie 68 senteemeetar hai aur vaheen par agar mahilaon ke lie dekha jae 152 streem in java esadeeke jo mel hai 160 senteemeetar honee chaahie vahee pheemel hai ya sitee kee 147 senteemeetar hona chaahie isamen aur raning ke lie hota hai 4.8 kilomeetar mein kab lagabhag 5 kilomeetar ke aasapaas rahata hai 28 minat mein daudana hota hai donon milake rahega vahee pheemel ke lie hai to 2.4 kilomeetar hai vah 16 minat mein daudana hai chaahe mel ya pheemel esasee esatee ke jo bhee unake lie sabakee kraiteriya hai sar ki ka phorm aaya hua hai aur isamen jo total seet hai total post hai jo 9534 post hai aur isamen aap kab rileej band hai koee bhee mahila aur purush to aap phorm phil ap kar sakate hain vah bhee ek aprail se dhanyavaad

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
किसान आंदोलन से भाजपा को कितना नुकसान होगा?Kishan Aandolan Se Bhajpa Ko Kitna Nuksaan Hoga
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
1:33
किसान आंदोलन से भाजपा को कितना नुकसान होगा हमें लगता है कि किसान आंदोलन से भाजपा को कुछ भी नुकसान नहीं होगा क्योंकि अगर नुकसान होता तो किसान आंदोलन के पक्ष में अब तक भाटी हो चुकी होती और एक किसान आंदोलन खत्म हो गया होता क्योंकि अगर भाजपा को नुकसान नहीं दिखाया तभी एक किसान आंदोलन की तरफ कोई भी बातें नहीं हो रही है और किसान आंदोलन दिन-ब-दिन बढ़ता जा रहा है भाजपा सरकार को कुछ भी नुकसान नहीं है विश्वकप ने प्रश्न किया है किसान आंदोलन से भाजपा को क्या नुकसान होगा तो मुझे लगता है कि कुछ भी नहीं होगा अगर किसी भी यह सब नॉर्मल ही समझते हैं कि हम हम कहीं भी है और हमें कहीं नुकसान होने लायक रहता है तुम क्या कर लेते हैं उनसे वार्ता कर लेते हैं उन से संधि कर लेते हैं उनसे बातचीत कर लेते हैं कि हां भाई मुझसे गलती हो गई चाहे जो कुछ भी मैंने नियम बनाया या कहा तो इसके एवज में हम आपसे माफी मांगते हैं जैसे आप कंपनी जॉइन सारी एम्पलाई हैं उसके बाद मैनेजर क्या मालिक सताई का नियम नियम के विरुद्ध अगर सारे लोग आ जाते हैं तो क्या होता है कि मालिक को अपना नुकसान को बचाने के लिए कहा उसे क्या होता है कि उस नियम को वापस लेना पड़ता है तो ठीक उसी प्रकार अगर भाजपा को नुकसान होता तो जरूर कुछ न कुछ किसान जो नियम है उनको या किसान कृषि कानों में जो बिल पास उसे वापस रद्द कर दी थी लेकिन भाजपा को मुझे लगता है या भाजपा की तरफ से ऐसा लगता है कि कुछ भी नुकसान नहीं हो रहा है इसका जरूर फायदा दिखेगा
Kisaan aandolan se bhaajapa ko kitana nukasaan hoga hamen lagata hai ki kisaan aandolan se bhaajapa ko kuchh bhee nukasaan nahin hoga kyonki agar nukasaan hota to kisaan aandolan ke paksh mein ab tak bhaatee ho chukee hotee aur ek kisaan aandolan khatm ho gaya hota kyonki agar bhaajapa ko nukasaan nahin dikhaaya tabhee ek kisaan aandolan kee taraph koee bhee baaten nahin ho rahee hai aur kisaan aandolan din-ba-din badhata ja raha hai bhaajapa sarakaar ko kuchh bhee nukasaan nahin hai vishvakap ne prashn kiya hai kisaan aandolan se bhaajapa ko kya nukasaan hoga to mujhe lagata hai ki kuchh bhee nahin hoga agar kisee bhee yah sab normal hee samajhate hain ki ham ham kaheen bhee hai aur hamen kaheen nukasaan hone laayak rahata hai tum kya kar lete hain unase vaarta kar lete hain un se sandhi kar lete hain unase baatacheet kar lete hain ki haan bhaee mujhase galatee ho gaee chaahe jo kuchh bhee mainne niyam banaaya ya kaha to isake evaj mein ham aapase maaphee maangate hain jaise aap kampanee join saaree empalaee hain usake baad mainejar kya maalik sataee ka niyam niyam ke viruddh agar saare log aa jaate hain to kya hota hai ki maalik ko apana nukasaan ko bachaane ke lie kaha use kya hota hai ki us niyam ko vaapas lena padata hai to theek usee prakaar agar bhaajapa ko nukasaan hota to jaroor kuchh na kuchh kisaan jo niyam hai unako ya kisaan krshi kaanon mein jo bil paas use vaapas radd kar dee thee lekin bhaajapa ko mujhe lagata hai ya bhaajapa kee taraph se aisa lagata hai ki kuchh bhee nukasaan nahin ho raha hai isaka jaroor phaayada dikhega

#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker
इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है?Ijjat Dene Aur Ijjat Karane Mein Kya Antar Hai
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
1:30
एक की इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर होता है तू दिखे फ्रेंड इज्जत जो हम देते हैं तो इज्जत देने का मतलब होता है कि कोई स्वार्थ बस देता है कोई जबरदस्ती यह मन चाहे मन से हम ऐसा लगता है कि मन नहीं है फिर भी हम किसी के जोर जबरदस्ती की वजह से हमें किसी को इज्जत देते हैं अपने आप को प्रदर्शित करते हैं उनकी हर एक बाती को सुनते हैं बड़ा ही एक सहायता के साथ हम प्रस्तुत होते हैं इज्जत करने की बात आती है यह क्या होता है कि खुद ब खुद हमारे अंदर एक इज्जत जा हमारे पति एक सैनिक जाग जाती है कि हमें क्या होता है किसी की इज्जत करनी है कोई भी अगर हमारे घर पर आता है तो क्या होता है कि हम इज्जत क्या करते हैं खुद ब खुद हमारे अंदर उनके प्रति आस्था बन जाती है और उन्हें हम खुद फोन करके बुलाते हैं और उनको खुद ब खुद क्या होते हैं हमने क्या करते हैं की इज्जत देते हैं और ही होती है क्या करना है कि हम उनकी अच्छी तरीके से खातेदारी करती इज्जत करते हैं लेकिन जब कोई ऐसा कोई मेहमान होता है जिसे हम कुछ लोग जैसे अब आपस में आपको अपने घर में किसी से मतभेद हुआ वह उनकी कोई फ्रेंड आ गए आप दो भाई हैं दोनों भाई में से क्या हुआ किसी की फ्रेंड आ गए तो क्या होगा कि जबरदस्ती क्या होता है कि हम उनके फ्रेंड को इज्जत देते हैं जबरदस्ती उनकी बात सुनते हैं या मन नहीं है फिर भी हम अनचाहे मन से उन्हें सब कुछ इज्जत देने की कोशिश करते ही होता है अंतर दोनों में धन
Ek kee ijjat dene aur ijjat karane mein kya antar hota hai too dikhe phrend ijjat jo ham dete hain to ijjat dene ka matalab hota hai ki koee svaarth bas deta hai koee jabaradastee yah man chaahe man se ham aisa lagata hai ki man nahin hai phir bhee ham kisee ke jor jabaradastee kee vajah se hamen kisee ko ijjat dete hain apane aap ko pradarshit karate hain unakee har ek baatee ko sunate hain bada hee ek sahaayata ke saath ham prastut hote hain ijjat karane kee baat aatee hai yah kya hota hai ki khud ba khud hamaare andar ek ijjat ja hamaare pati ek sainik jaag jaatee hai ki hamen kya hota hai kisee kee ijjat karanee hai koee bhee agar hamaare ghar par aata hai to kya hota hai ki ham ijjat kya karate hain khud ba khud hamaare andar unake prati aastha ban jaatee hai aur unhen ham khud phon karake bulaate hain aur unako khud ba khud kya hote hain hamane kya karate hain kee ijjat dete hain aur hee hotee hai kya karana hai ki ham unakee achchhee tareeke se khaatedaaree karatee ijjat karate hain lekin jab koee aisa koee mehamaan hota hai jise ham kuchh log jaise ab aapas mein aapako apane ghar mein kisee se matabhed hua vah unakee koee phrend aa gae aap do bhaee hain donon bhaee mein se kya hua kisee kee phrend aa gae to kya hoga ki jabaradastee kya hota hai ki ham unake phrend ko ijjat dete hain jabaradastee unakee baat sunate hain ya man nahin hai phir bhee ham anachaahe man se unhen sab kuchh ijjat dene kee koshish karate hee hota hai antar donon mein dhan

#जीवन शैली

bolkar speaker
कम से कम कितने पैसे में कोई व्यवसाय किया जा सकता है?Kam Se Kam Kitne Paise Mein Koi Vyavsay Kiya Ja Sakta Hai
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
1:53
जय हिंद दोस्तों प्रश्न है कि कम से कम कितने पैसे में कोई व्यवसाय किया जा सकता है बहुत सारे ऐसे बिजनेस है कि जो हम ऑनलाइन या ऑफलाइन बिना पैसे की भी बिजनेस स्टार्ट करते हैं सकते हैं और पैसे देकर भी बिजनेस स्टार्ट कर सकते हैं लेकिन इसमें यह नहीं पूछा गया कि कौन सा बिजनेस है आपके ऊपर है कि आप किस प्रकार से बिजनेस करना चाहते हैं आपको किस फील्ड में आपको अच्छा ना ले जाए किस फील्ड में अच्छा नालेज नहीं है कौन सा प्रोडक्ट का बिजनेस कर सकते हैं आप अप्लाई कर सकते हैं तो बिजनेस तो कई तरीके के आफ प्रोडक्शन भी कर सकते हैं उसे सप्लाई भी कर सकते हैं उसे मार्केट में किस जाति करना है तो आपको कैसा नालेज है आप किस प्रकार का बिजनेस करना चाहते हैं यह आप पर डिपेंड है लेकिन फिर भी आपने पूछा है तो आप ऑनलाइन के माध्यम से करना चाहते हैं तो ऑनलाइन में आपको नेट के थ्रू आप क्या करेंगे किसी दूसरे का बिजनेस कोई प्रोडक्ट का उसे अपने हिसाब से आप भेजेंगे उसे लेकर तो कहीं ना कहीं से भी आप प्रॉफिट प्ले सकते उसे फायदा ले सकते हैं रेड होगा कि आप कितना उसे ज्यादा मार्जिन पर भेजते हैं वह कितना प्रॉफिट देता है उसके हिसाब से अपने बिजनेस को आगे बढ़ा सकते हैं दूसरा है कि आप ऑफलाइन भी वह काम कर सकते हैं कहीं स्माल उठाइए किसी दूसरे के क्रेडिट का आपके पास पैसा नहीं है तो भी आप क्या करें कृषि के क्रेडिट पर आप उठा लीजिए इस प्रोडक्ट को आप भेजिए आप अपने फ्रेंडों के साथ अपने दोस्तों के साथ या कोई अपने आदमी रख क्या विश्वास रखते हैं और उससे भी आपको प्रॉफिट हो सकता है बहुत अच्छा खासा और दो-चार लोगों को लगाए रहेंगे तो उन्हें भी कुछ ना कुछ आपसे फायदा होगा जो अब आपके साथ लगे रहेंगे उसके अलावा दूसरे ऐसे बिजनेस है जो आपकी जान से रिलेटेड जो भी रोज रोजमर्रा की चीजें हैं उसे उसका बिजनेस कर सकते हैं खुद प्रोडक्शन कर सकते हैं तो आप पर डिपेंड करता है कि आप मिनिमम से मिलने में कितना पैसा लगा सकते हैं और उसके हिसाब से ही आप कर पाएंगे
Jay hind doston prashn hai ki kam se kam kitane paise mein koee vyavasaay kiya ja sakata hai bahut saare aise bijanes hai ki jo ham onalain ya ophalain bina paise kee bhee bijanes staart karate hain sakate hain aur paise dekar bhee bijanes staart kar sakate hain lekin isamen yah nahin poochha gaya ki kaun sa bijanes hai aapake oopar hai ki aap kis prakaar se bijanes karana chaahate hain aapako kis pheeld mein aapako achchha na le jae kis pheeld mein achchha naalej nahin hai kaun sa prodakt ka bijanes kar sakate hain aap aplaee kar sakate hain to bijanes to kaee tareeke ke aaph prodakshan bhee kar sakate hain use saplaee bhee kar sakate hain use maarket mein kis jaati karana hai to aapako kaisa naalej hai aap kis prakaar ka bijanes karana chaahate hain yah aap par dipend hai lekin phir bhee aapane poochha hai to aap onalain ke maadhyam se karana chaahate hain to onalain mein aapako net ke throo aap kya karenge kisee doosare ka bijanes koee prodakt ka use apane hisaab se aap bhejenge use lekar to kaheen na kaheen se bhee aap prophit ple sakate use phaayada le sakate hain red hoga ki aap kitana use jyaada maarjin par bhejate hain vah kitana prophit deta hai usake hisaab se apane bijanes ko aage badha sakate hain doosara hai ki aap ophalain bhee vah kaam kar sakate hain kaheen smaal uthaie kisee doosare ke kredit ka aapake paas paisa nahin hai to bhee aap kya karen krshi ke kredit par aap utha leejie is prodakt ko aap bhejie aap apane phrendon ke saath apane doston ke saath ya koee apane aadamee rakh kya vishvaas rakhate hain aur usase bhee aapako prophit ho sakata hai bahut achchha khaasa aur do-chaar logon ko lagae rahenge to unhen bhee kuchh na kuchh aapase phaayada hoga jo ab aapake saath lage rahenge usake alaava doosare aise bijanes hai jo aapakee jaan se rileted jo bhee roj rojamarra kee cheejen hain use usaka bijanes kar sakate hain khud prodakshan kar sakate hain to aap par dipend karata hai ki aap minimam se milane mein kitana paisa laga sakate hain aur usake hisaab se hee aap kar paenge

#टेक्नोलॉजी

Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
2:49
प्रश्न पूछा जा रहा है कि लकड़ी के खिलौने बनाने का व्यवसाय किस प्रकार शुरू करें लकड़ी के जो नए-नए डिजाइन हैं और उस खिलौने में हम क्या क्या क्वालिटी वाला सकते हैं तो कहां से ढूंढ दिखे फ्रेंड्स एक यूट्यूब पर चैनल खबर लहरिया उस पर लकड़ी के आइटम और लकड़ी के जो खिलाने उसके बारे में बताया जाता है आप वहां से भी जानकारी ले सकते हैं उसके अलावा बहुत सारे ऐसे प्रदेश में जैसे आपका चित्रकूट हो गया आपका बनारस हो गया उदयपुर ओके बहुत सारे ऐसे जगह है जो लकड़ी के खिलौने के लिए मशहूर माने जाते हैं वहां से आप जानकारी ले सकते हैं और लकड़ी के खिलौने का व्यवसाय शुरू करना है आपको तो आपको बहुत अच्छी तरीके से लकड़ी के जो कटिंग है या और कहां जाकर लकड़ी के बहुत अच्छे मिस्त्री होने चाहिए और आपकी हर एक क्वालिटी के हिसाब से अपने आप को प्रस्तुत करना चाहिए क्योंकि इतनी पूर्ण कारीगर ही एक लकड़ी का खिलौना बना सकता है क्योंकि उसमें बहुत बारीकियां काम होते हैं और देखा जाए तो अगर व्यवसाई का बिजनेस करना चाहते हैं तो यह आपके लिए बहुत बड़ी बात होगी और आपकी तू कितने लोगों को रोजगार मिलेगा यह सबसे बड़ी बात है तो आप लकड़ी के घर रोजगार शुरू करना चाहते हैं खिलौने तो अनेकों प्रकार के हैं आपको घर के आइटम भी ऐसे कुछ है जो घरेलू आटा में रोज की जिंदगी में हम यूज करते हमसे क्या हो गया कि बेलन चकला रोटी रखने का तू इस तरीके से है कि फिर हमारे घर में घड़ी लगती है तो लकड़ी के पूरे आइटम होते हैं और उसमें बहुत सारी ऐसी चीज है जो हम प्रेम रखने के लिए अपने एक पेन रखने का बॉक्स होता है फिर इसके इन पेंसिल सारी ऐसी चीजें होती है जो लकड़ी के खिलौने से ही लकड़ी से ही बनती है और जो छोटे-छोटे बच्चे हैं उनको खेलने के लिए उनकी गाड़ी होती है उन्हें बहुत सारी ऐसी चीजें होती है जो वह लकड़ी के खिलौने के रूप में खेल सकते हैं और उसका यूज़ भी उन्हें रूप आंधी नहीं हो सकता है क्योंकि लकड़ी का होता है और प्लास्टिक का खिलौना तो उनके लिए खा जाए गेम काली खुश होता है लेकिन लकड़ी का जो खड़ा होता है ओन्ली नेचुरल तरीके से होता है नुकसान नहीं पहुंचाता है तू लकड़ी के खिलौने का व्यापार आप बहुत अच्छी तरीके से शुरू कर सकते हैं और आपको थोड़ा सा ही है कि आपको जानकारी बहुत अच्छी होनी चाहिए अपनी कुशल कारीगर है तो आप कर सकते हैं इसके अलावा नई डिजाइन की बात करें तो आप खबर लहरी पर आप जाकर वहां पर भी कुछ जानकारी ले सकते हैं और उन तरफ से जो भी डिजाइन और ले सकते हैं उसके अलावा आप क्या करिए कि आप गूगल करिए गूगल पर लकड़ी के जो खिलौने आइटम है वहां से आप नई नई डिजाइन को यूज करनी है उसके हिसाब से आप अपने बिजनेस को आगे बढ़ाया और डिजाइन अच्छे से अच्छे डिजाइन में अब खिलौने को प्रदर्शित करें
Prashn poochha ja raha hai ki lakadee ke khilaune banaane ka vyavasaay kis prakaar shuroo karen lakadee ke jo nae-nae dijain hain aur us khilaune mein ham kya kya kvaalitee vaala sakate hain to kahaan se dhoondh dikhe phrends ek yootyoob par chainal khabar lahariya us par lakadee ke aaitam aur lakadee ke jo khilaane usake baare mein bataaya jaata hai aap vahaan se bhee jaanakaaree le sakate hain usake alaava bahut saare aise pradesh mein jaise aapaka chitrakoot ho gaya aapaka banaaras ho gaya udayapur oke bahut saare aise jagah hai jo lakadee ke khilaune ke lie mashahoor maane jaate hain vahaan se aap jaanakaaree le sakate hain aur lakadee ke khilaune ka vyavasaay shuroo karana hai aapako to aapako bahut achchhee tareeke se lakadee ke jo kating hai ya aur kahaan jaakar lakadee ke bahut achchhe mistree hone chaahie aur aapakee har ek kvaalitee ke hisaab se apane aap ko prastut karana chaahie kyonki itanee poorn kaareegar hee ek lakadee ka khilauna bana sakata hai kyonki usamen bahut baareekiyaan kaam hote hain aur dekha jae to agar vyavasaee ka bijanes karana chaahate hain to yah aapake lie bahut badee baat hogee aur aapakee too kitane logon ko rojagaar milega yah sabase badee baat hai to aap lakadee ke ghar rojagaar shuroo karana chaahate hain khilaune to anekon prakaar ke hain aapako ghar ke aaitam bhee aise kuchh hai jo ghareloo aata mein roj kee jindagee mein ham yooj karate hamase kya ho gaya ki belan chakala rotee rakhane ka too is tareeke se hai ki phir hamaare ghar mein ghadee lagatee hai to lakadee ke poore aaitam hote hain aur usamen bahut saaree aisee cheej hai jo ham prem rakhane ke lie apane ek pen rakhane ka boks hota hai phir isake in pensil saaree aisee cheejen hotee hai jo lakadee ke khilaune se hee lakadee se hee banatee hai aur jo chhote-chhote bachche hain unako khelane ke lie unakee gaadee hotee hai unhen bahut saaree aisee cheejen hotee hai jo vah lakadee ke khilaune ke roop mein khel sakate hain aur usaka yooz bhee unhen roop aandhee nahin ho sakata hai kyonki lakadee ka hota hai aur plaastik ka khilauna to unake lie kha jae gem kaalee khush hota hai lekin lakadee ka jo khada hota hai onlee nechural tareeke se hota hai nukasaan nahin pahunchaata hai too lakadee ke khilaune ka vyaapaar aap bahut achchhee tareeke se shuroo kar sakate hain aur aapako thoda sa hee hai ki aapako jaanakaaree bahut achchhee honee chaahie apanee kushal kaareegar hai to aap kar sakate hain isake alaava naee dijain kee baat karen to aap khabar laharee par aap jaakar vahaan par bhee kuchh jaanakaaree le sakate hain aur un taraph se jo bhee dijain aur le sakate hain usake alaava aap kya karie ki aap googal karie googal par lakadee ke jo khilaune aaitam hai vahaan se aap naee naee dijain ko yooj karanee hai usake hisaab se aap apane bijanes ko aage badhaaya aur dijain achchhe se achchhe dijain mein ab khilaune ko pradarshit karen

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
ग्राहकों के मोल भाव करने पर व्यापारियों को क्या करना चाहिए?Grahako Ke Mol Bhaav Karne Par Vyapariyo Ko Kya Karna Chayia
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
2:51
नहीं कि ग्राहकों के मोलभाव करने पर व्यापारी को क्या करना चाहिए तो पहले तो जो मोलभाव वाले जो मार्केट हैं जानते हैं कि उसमें क्या स्थिति रहती है और कैसे लोग में पूछते हैं जो मूल भाव वाले जो बाजार है उसमे भीड़ तो सभी जानते हैं कि बहुत लगती है क्योंकि लोग यह सोचते हैं कि मुझे सस्ता सामान मिला है मुझे अच्छा भी मिला है जो वहां पर जो बिजनेस करने वाले रहते हैं वह भी कह दे कि मुझे भी मोलभाव करने की बात भी हमें प्रॉफिट हो जाता है इसलिए हमें आप ही उचित है और यहां पर हमारा माल बहुत ज्यादा बिकता है इससे उन्हें फायदा रहता है वही बहुत है कि जो भी मोलभाव करने वाले जो भी आदमी हैं उन्हें क्या उन ग्राहकों को पहले पहुंचना चाहिए और वहां पर अब तसल्ली से आप अच्छे सामान को देख सकते हैं और अपने सामान का अच्छा चुनाव कर सकते हैं उसके बाद इसका फायदा ऐसे भी आप ले सकते हैं कि दुकानदार अपने पहले ग्राहक को क्या करते हैं ना जो भी बिजनेस वाले होते हैं दुकानदार होते हो पहले ग्राहक को वापस नहीं जा अच्छी मूल भाव के हिसाब से कम बजट पर भी आप को क्या कहते हैं सामान दे देते हैं लेकिन वही बात की जा रही है व्यापारियों को क्या करना चाहिए तो एक अच्छे प्रोडक्ट के हिसाब से आपको क्या करना चाहिए कि जैसे आप मूल भाव वाले दुकान हैं उनको क्या करना चाहिए कि अलग-अलग एक क्राइटेरिया बनाना चाहिए कि यह सामान कितने रेट के हैं और इसके अंदर आपको मिल जाएगा और जूजू आप का प्रोडक्ट है उसके हिसाब से आप एक तो मार्चिंग करके आप लगा दीजिए कि मूल भाव करने के बाद भी आपको भी फायदा हो और जो लेने वाला हो उसे भी ऐसा 9 महसूस हो कि मुझे नुकसान हुआ है आपकी संभालना है तो मुझे बहुत ज्यादा नुकसान हुआ इसके अलावा पारदर्शिता रखे जो भी व्यापारी हूं एक पारदर्शिता रखे और उस पारदर्शिता पर ही विश्वास किया जा सकता है और लोगों को मतभेद नहीं होगा और दूसरी दुकान भी आपके आपके खिलाफ भी अब जैकसन नहीं होगा क्योंकि आप पारदर्शिता नहीं रखेंगे तो आपके लिए दिक्कत होगी तो बहुत सारे ऐसे चीजें हैं जो आपको करना पड़ेगा और व्यापार को खास ध्यान देना पड़ेगा कि ग्राहक कभी आपसे रूठ के ना जाए आपसे कभी खिन्न होकर ना जाए आपको इतना प्यार देना पड़ेगा उसके साथ-साथ आप हर एक ग्राहक के साथ-साथ उनकी आभाव को देखिए उसके फ्रेंड को पहचानिए उसकी क्या मानसिकता है उसे पहचानी है अगर आपको फायदा हो तो भी उनको चाहिए नहीं तो आप अगर नहीं फायदा हो रहा है तो आप उन्हें मना कर सकते हैं कि नहीं सर मैं ऐसा नहीं कर सकता जो आप चाहते हैं वह हम हरगिज नहीं कर पाएंगे लेकिन इतना है कि मैं आपको कोशिश करूंगा कि इसी से रेट है मुझे भी दो पैसा अगर नहीं बचेगा तो मेरा भी नुकसान होगा क्योंकि मेरा व्यापार है तू इसमें भी एक फायदा होता है और बड़े बड़े व्यापारी हैं वह छोटे व्यापारी जो दुकानदार है उनको देते हैं तो कहीं ना कहीं और मार्ग के हिसाब से ही देना चाहिए कि वह भी अपने ग्राहक को एक हाई रेट बिनोदे और एक नॉर्मल रेट पर दे सके
Nahin ki graahakon ke molabhaav karane par vyaapaaree ko kya karana chaahie to pahale to jo molabhaav vaale jo maarket hain jaanate hain ki usamen kya sthiti rahatee hai aur kaise log mein poochhate hain jo mool bhaav vaale jo baajaar hai usame bheed to sabhee jaanate hain ki bahut lagatee hai kyonki log yah sochate hain ki mujhe sasta saamaan mila hai mujhe achchha bhee mila hai jo vahaan par jo bijanes karane vaale rahate hain vah bhee kah de ki mujhe bhee molabhaav karane kee baat bhee hamen prophit ho jaata hai isalie hamen aap hee uchit hai aur yahaan par hamaara maal bahut jyaada bikata hai isase unhen phaayada rahata hai vahee bahut hai ki jo bhee molabhaav karane vaale jo bhee aadamee hain unhen kya un graahakon ko pahale pahunchana chaahie aur vahaan par ab tasallee se aap achchhe saamaan ko dekh sakate hain aur apane saamaan ka achchha chunaav kar sakate hain usake baad isaka phaayada aise bhee aap le sakate hain ki dukaanadaar apane pahale graahak ko kya karate hain na jo bhee bijanes vaale hote hain dukaanadaar hote ho pahale graahak ko vaapas nahin ja achchhee mool bhaav ke hisaab se kam bajat par bhee aap ko kya kahate hain saamaan de dete hain lekin vahee baat kee ja rahee hai vyaapaariyon ko kya karana chaahie to ek achchhe prodakt ke hisaab se aapako kya karana chaahie ki jaise aap mool bhaav vaale dukaan hain unako kya karana chaahie ki alag-alag ek kraiteriya banaana chaahie ki yah saamaan kitane ret ke hain aur isake andar aapako mil jaega aur joojoo aap ka prodakt hai usake hisaab se aap ek to maarching karake aap laga deejie ki mool bhaav karane ke baad bhee aapako bhee phaayada ho aur jo lene vaala ho use bhee aisa 9 mahasoos ho ki mujhe nukasaan hua hai aapakee sambhaalana hai to mujhe bahut jyaada nukasaan hua isake alaava paaradarshita rakhe jo bhee vyaapaaree hoon ek paaradarshita rakhe aur us paaradarshita par hee vishvaas kiya ja sakata hai aur logon ko matabhed nahin hoga aur doosaree dukaan bhee aapake aapake khilaaph bhee ab jaikasan nahin hoga kyonki aap paaradarshita nahin rakhenge to aapake lie dikkat hogee to bahut saare aise cheejen hain jo aapako karana padega aur vyaapaar ko khaas dhyaan dena padega ki graahak kabhee aapase rooth ke na jae aapase kabhee khinn hokar na jae aapako itana pyaar dena padega usake saath-saath aap har ek graahak ke saath-saath unakee aabhaav ko dekhie usake phrend ko pahachaanie usakee kya maanasikata hai use pahachaanee hai agar aapako phaayada ho to bhee unako chaahie nahin to aap agar nahin phaayada ho raha hai to aap unhen mana kar sakate hain ki nahin sar main aisa nahin kar sakata jo aap chaahate hain vah ham haragij nahin kar paenge lekin itana hai ki main aapako koshish karoonga ki isee se ret hai mujhe bhee do paisa agar nahin bachega to mera bhee nukasaan hoga kyonki mera vyaapaar hai too isamen bhee ek phaayada hota hai aur bade bade vyaapaaree hain vah chhote vyaapaaree jo dukaanadaar hai unako dete hain to kaheen na kaheen aur maarg ke hisaab se hee dena chaahie ki vah bhee apane graahak ko ek haee ret binode aur ek normal ret par de sake

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
सिलिकॉन क्या है और इसका उपयोग कैसे किया जाता है?Silikon Kya Hai Aur Iska Upyog Kaise Kiya Jata Hai
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
1:11
सिलिकॉन क्या है और इसका उपयोग कैसे किया जाता है तो आप सभी को पता होगा कि जो सिलिकॉन जो है रसायनिक तत्व है इसकी खोज की थी 18 सो 24 ईस्वी में की गई थी और स्वीडन के रसायनिक शास्त्री झुमका बजे लिए ने किया था और इसका जैसे ही खोजा गया तो एक रासायनिक तत्व होने की वजह से ही दुनिया में माना गया कि दुनिया का सबसे ऐसा भी दूसरा पदार्थ है कि ऑक्सीजन के बाद सबसे अधिक पाया जाने वाला जो योगिक है उस सिलिकॉन है सिलिकॉन वैसे यूज किया जाता है इलेक्ट्रॉनिक चीजों में हम देखते हैं कि सबसे ज्यादा इसका जो यूज़ चीज में है क्योंकि इलेक्ट्रॉनिक सर्वे होने के साथ-साथ इस साबुन सी से अन्य कंप्यूटर की जो चीज होती है उसमें इस्तेमाल किया जाता है तो मतलब अगर उपयोग उपयोग की कैसे उपयोग किया जाता है किया जाता है तो आप का साबुन है शीशे है कंप्यूटर की चिप है और इलेक्ट्रॉनिक सर्वे के रूप में इसे हम उपयोग करते हैं
Silikon kya hai aur isaka upayog kaise kiya jaata hai to aap sabhee ko pata hoga ki jo silikon jo hai rasaayanik tatv hai isakee khoj kee thee 18 so 24 eesvee mein kee gaee thee aur sveedan ke rasaayanik shaastree jhumaka baje lie ne kiya tha aur isaka jaise hee khoja gaya to ek raasaayanik tatv hone kee vajah se hee duniya mein maana gaya ki duniya ka sabase aisa bhee doosara padaarth hai ki okseejan ke baad sabase adhik paaya jaane vaala jo yogik hai us silikon hai silikon vaise yooj kiya jaata hai ilektronik cheejon mein ham dekhate hain ki sabase jyaada isaka jo yooz cheej mein hai kyonki ilektronik sarve hone ke saath-saath is saabun see se any kampyootar kee jo cheej hotee hai usamen istemaal kiya jaata hai to matalab agar upayog upayog kee kaise upayog kiya jaata hai kiya jaata hai to aap ka saabun hai sheeshe hai kampyootar kee chip hai aur ilektronik sarve ke roop mein ise ham upayog karate hain

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
क्या आप बता सकते हैं सेहत के लिए नींबू वाली चाय बढ़िया है या फिर दूध वाली चाय?Kya Aap Bata Sakate Hai Sehat Ke Liye Nimb Wali Chai Badhiya Hai Ya Fir Dudh Wali Chai
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
1:04
क्या बता सकते हैं कि सेहत के लिए नींबू वाली चाय है या फिर दूध वाली दूध वाली चाय क्यों की हिंदी क्या होती है उस में इंफेक्शन को कम करने की क्षमता होती है उसकी संगीता की मात्रा में जो पुरुष तो होते उसको कम करने और क्या होता है कि इसके अलावा हमारे एचडी स्ट्रीम पिंपल्स त्वचा की खांसी दूर करने में विटामिन सी का वोट का महत्व होता है इस वजह से क्या होता है विनी पूह अरे चाय पीनी चाहिए
Kya bata sakate hain ki sehat ke lie neemboo vaalee chaay hai ya phir doodh vaalee doodh vaalee chaay kyon kee hindee kya hotee hai us mein imphekshan ko kam karane kee kshamata hotee hai usakee sangeeta kee maatra mein jo purush to hote usako kam karane aur kya hota hai ki isake alaava hamaare echadee streem pimpals tvacha kee khaansee door karane mein vitaamin see ka vot ka mahatv hota hai is vajah se kya hota hai vinee pooh are chaay peenee chaahie

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
क्या हम सिर्फ फल खाकर भी जिंदा रह सकते हैं?Kya Hum Sirf Phal Khakar Bhe Zinda Reh Sakte Hain
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
2:19
क्या हम सिर्फ फल खाकर भी जिंदा रह सकते हैं बिल्कुल जिंदा रह सकते हैं और आपको एक उदाहरण के साथ में बताऊंगा कि ऐसे लोग जिन्हें देखकर शाकाहारी भोजन खाते से क्या होगा की रोटी दाल सब्जी डेरी प्रोडक्ट उसकी भी मानता है कि आपको उसकी जरूरत होती है तो खाकर भी आ सकते हैं और आपकी कमजोरी को दूर कर सकते जिससे आपको बताने की लेडीस 27 साल से क्या कर रही है कुछ भी नहीं खाती और किसान की जो हो गई है 1 साल की होगी उनका नाम है आइसलैंड की रहने वाली है एनएसएपोर्न एक को पूर्ण रूप से महिला है और देखा जाए तो उनके दो बच्चे हैं और वह दो बच्चे की मां है कल की न्यूज़ जयपुर की थी तभी से उन्हें कुछ कारणों के कारण निम्मी ठंडे डेहरी प्रोडक्ट्स अरे थे छोड़ने पड़े शुद्ध शाकाहारी और से रिलेटेड चीजें खाती है जिसे केवल केवल अपने खाने में खाने के साथ लेती है इसे केला पपीता है आम है यूकेडी आती है ओन्ली पढ़ाई अच्छा लगता है कि अगर खाते हैं किसी प्रकार की परेशानी नहीं होती तो पीपल को खाती है से हफ्ते में वह पुलिस के आते हैं 14 किलो खाती है वह चार पाइनएप्पल आते वक्त एक हफ्ते का नियंत्रित है उनकी भी खा लेते हैं कोई परेशानी नहीं है और हमारी जो भी शरीर की मित्र को खुद को बनानी पड़ेगी
Kya ham sirph phal khaakar bhee jinda rah sakate hain bilkul jinda rah sakate hain aur aapako ek udaaharan ke saath mein bataoonga ki aise log jinhen dekhakar shaakaahaaree bhojan khaate se kya hoga kee rotee daal sabjee deree prodakt usakee bhee maanata hai ki aapako usakee jaroorat hotee hai to khaakar bhee aa sakate hain aur aapakee kamajoree ko door kar sakate jisase aapako bataane kee ledees 27 saal se kya kar rahee hai kuchh bhee nahin khaatee aur kisaan kee jo ho gaee hai 1 saal kee hogee unaka naam hai aaisalaind kee rahane vaalee hai eneseporn ek ko poorn roop se mahila hai aur dekha jae to unake do bachche hain aur vah do bachche kee maan hai kal kee nyooz jayapur kee thee tabhee se unhen kuchh kaaranon ke kaaran nimmee thande deharee prodakts are the chhodane pade shuddh shaakaahaaree aur se rileted cheejen khaatee hai jise keval keval apane khaane mein khaane ke saath letee hai ise kela papeeta hai aam hai yookedee aatee hai onlee padhaee achchha lagata hai ki agar khaate hain kisee prakaar kee pareshaanee nahin hotee to peepal ko khaatee hai se haphte mein vah pulis ke aate hain 14 kilo khaatee hai vah chaar paineppal aate vakt ek haphte ka niyantrit hai unakee bhee kha lete hain koee pareshaanee nahin hai aur hamaaree jo bhee shareer kee mitr ko khud ko banaanee padegee

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
आलू के पौधे में पाला के असर का वैज्ञानिक कारण क्या होता है?Aaloo Ke Paudhe Mein Pala Ke Asar Ka Vaigyanik Kaaran Kya Hota Hai
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
2:21
प्रश्न है कि आलू के पौधे में पाला के असर का वैज्ञानिक कारण क्या होता है तो दिखे फैंस क्या है कि किसानों को बहुत बड़ी चिंता होती है क्योंकि पाले की वजह से हमारा जो आलू होता है वह नहीं हो पाता है और हमारी तो पैदावार होती है एकदम हमारी लागत से भी कम होती है तो यह बहुत बड़ी चिंता होती है किसान के लिए तू कि वैज्ञानिकों का मानना है कि आलू को पाले से बचाने के लिए बचाना बहुत जरूरी है नहीं तो आप क्यों जो उत्पाद है वह प्रभावित होगा और इसी की एवज में वैज्ञानिक कई प्रयोग आपको बताते हैं कि इस वजह से आपको अपने आलू की फसल को बचा सकते हैं पाले से क्योंकि पहला चीज है बचाने के लिए आप क्या कर सकते हैं कि फसल में हल्का पानी दे खेत में नमी बनाए लगातार बनाए रखें क्योंकि नवी अगर बनी रहेगी ना तो पाला का असर नहीं पड़ता है इसलिए खेत में हल्का ही पानी देने की नमी बराबर होनी चाहिए पर सुख सु पूरी तरह से जो जमीन होती है वहां पर सुखी रहो उसके साथ तीसरा है ही साथ ही ज्यादा पानी 9 दे नहीं तो नुकसान हो सकता है उसमें ज्यादा पानी की जरूरत भी नहीं होती है चौथाई की फसल में कोई भी बीमारी आ रही है तू पैक यारी से संपर्क करें या अपने आसपास क्षेत्र कृषि अनुसंधान केंद्र हैं आपकी जो भी किसी से रिलेटेड दुकान है वहां पर आप संपर्क कर सकते हैं क्योंकि उससे आपको अच्छी सलाह मिल जाती है और उसने उस फसल की बीमारी को दूर करने के लिए दवा भी मिल जाती है इसके अलावा आज तो ऐप के माध्यम से आप वैज्ञानिक एवं के द्वारा डायरेक्ट संपर्क कर सकते हैं और अपने खेत को ऑनलाइन दिखा कर उसमें जो भी दवा की की जरूरत होती है वह डायरेक्ट आपको मिल जा रही है क्योंकि किसान सेवा बैंकों के द्वारा शुरू की गई है जिसमें से सरकार भी सहयोग कर रही है कि ऐप के माध्यम किसान और वैज्ञानिक को जोड़ने का काम कर रही है वैसे भी आप अपनी समस्या को हल कर सकते हैं उसके अलावा लास्ट है कि किसान सुबह के समय पूरे खेत को जरूर देखें क्योंकि देखने से ही पता चलेगा कि हां क्या कमी है क्या नहीं कमी है और हमें किस की जरूरत है जैसे कि हमारी खेत की जो फसल है वह अच्छी हो सके
Prashn hai ki aaloo ke paudhe mein paala ke asar ka vaigyaanik kaaran kya hota hai to dikhe phains kya hai ki kisaanon ko bahut badee chinta hotee hai kyonki paale kee vajah se hamaara jo aaloo hota hai vah nahin ho paata hai aur hamaaree to paidaavaar hotee hai ekadam hamaaree laagat se bhee kam hotee hai to yah bahut badee chinta hotee hai kisaan ke lie too ki vaigyaanikon ka maanana hai ki aaloo ko paale se bachaane ke lie bachaana bahut jarooree hai nahin to aap kyon jo utpaad hai vah prabhaavit hoga aur isee kee evaj mein vaigyaanik kaee prayog aapako bataate hain ki is vajah se aapako apane aaloo kee phasal ko bacha sakate hain paale se kyonki pahala cheej hai bachaane ke lie aap kya kar sakate hain ki phasal mein halka paanee de khet mein namee banae lagaataar banae rakhen kyonki navee agar banee rahegee na to paala ka asar nahin padata hai isalie khet mein halka hee paanee dene kee namee baraabar honee chaahie par sukh su pooree tarah se jo jameen hotee hai vahaan par sukhee raho usake saath teesara hai hee saath hee jyaada paanee 9 de nahin to nukasaan ho sakata hai usamen jyaada paanee kee jaroorat bhee nahin hotee hai chauthaee kee phasal mein koee bhee beemaaree aa rahee hai too paik yaaree se sampark karen ya apane aasapaas kshetr krshi anusandhaan kendr hain aapakee jo bhee kisee se rileted dukaan hai vahaan par aap sampark kar sakate hain kyonki usase aapako achchhee salaah mil jaatee hai aur usane us phasal kee beemaaree ko door karane ke lie dava bhee mil jaatee hai isake alaava aaj to aip ke maadhyam se aap vaigyaanik evan ke dvaara daayarekt sampark kar sakate hain aur apane khet ko onalain dikha kar usamen jo bhee dava kee kee jaroorat hotee hai vah daayarekt aapako mil ja rahee hai kyonki kisaan seva bainkon ke dvaara shuroo kee gaee hai jisamen se sarakaar bhee sahayog kar rahee hai ki aip ke maadhyam kisaan aur vaigyaanik ko jodane ka kaam kar rahee hai vaise bhee aap apanee samasya ko hal kar sakate hain usake alaava laast hai ki kisaan subah ke samay poore khet ko jaroor dekhen kyonki dekhane se hee pata chalega ki haan kya kamee hai kya nahin kamee hai aur hamen kis kee jaroorat hai jaise ki hamaaree khet kee jo phasal hai vah achchhee ho sake

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
स्वयं को लंबे समय तक जवान और फिट रखने के लिए क्या करना चाहिए?Swayam Ko Lambe Samay Tak Jawaan Aur Fit Rakhne Ke Liye Kya Karna Chahiye
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
1:02
प्रश्न विश्व में कुल लंबे समय तक जवान और फिट रखने के लिए क्या करना चाहिए हमें पहले तो योगा पर ध्यान देना चाहिए योगा फैक्ट्री है हमारे शरीर में ताजगी भरने की उसके अंगों में मेडिटेशन जो ध्यान लगाना मगर ध्यान लगाते हैं तो इससे बीमारी क्या होगी जो भी मस्ती की समस्या होती है वह दूर होती हमारी शरीर को रिलैक्स प्रधानमंत्री होता है तभी हमारे शरीर का होती एक ताजगी बनी रहती है और हम जवान और और फिट दिख सकते हैं इसके अलावा खाने-पीने की चीजों पर भी ध्यान देना चाहिए जो हमारे को कमजोर बनाते हैं वह चीजें नहीं खानी चाहिए जैसे कि फास्ट फूड है तारीफ सुनी चीजें जो होती है बाहर की बहुत ऐसी चीजें होती है उसे हमें नहीं खानी चाहिए क्योंकि वह खाने से क्या होता है कि हमें भी हमें बहुत सारी बीमारियां होती है जिसकी वजह से कमजोर हो जाते हैं और हमें जवानों फिट रहने के लिए सबसे घातक साबित होते हैं इसके अलावा में नशा वाली जो चीजें होती हैं उसे नहीं करनी चाहिए यह भी हमारे शरीर को कमजोर बनाते हैं
Prashn vishv mein kul lambe samay tak javaan aur phit rakhane ke lie kya karana chaahie hamen pahale to yoga par dhyaan dena chaahie yoga phaiktree hai hamaare shareer mein taajagee bharane kee usake angon mein mediteshan jo dhyaan lagaana magar dhyaan lagaate hain to isase beemaaree kya hogee jo bhee mastee kee samasya hotee hai vah door hotee hamaaree shareer ko rilaiks pradhaanamantree hota hai tabhee hamaare shareer ka hotee ek taajagee banee rahatee hai aur ham javaan aur aur phit dikh sakate hain isake alaava khaane-peene kee cheejon par bhee dhyaan dena chaahie jo hamaare ko kamajor banaate hain vah cheejen nahin khaanee chaahie jaise ki phaast phood hai taareeph sunee cheejen jo hotee hai baahar kee bahut aisee cheejen hotee hai use hamen nahin khaanee chaahie kyonki vah khaane se kya hota hai ki hamen bhee hamen bahut saaree beemaariyaan hotee hai jisakee vajah se kamajor ho jaate hain aur hamen javaanon phit rahane ke lie sabase ghaatak saabit hote hain isake alaava mein nasha vaalee jo cheejen hotee hain use nahin karanee chaahie yah bhee hamaare shareer ko kamajor banaate hain

#टेक्नोलॉजी

Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
2:06
आपका जो प्रश्न पूछा जा रहा है बेशक सही है और इसका असर भी हो सकता है क्योंकि हम 1 लीटर जो पेट्रोल पर आते हैं हम 2 किलो दूध 2 लीटर दूध पी के क्या उन साइकिल चलाएंगे लेकिन हमारे पास जो मेन चीज है इस भागदौड़ की जिंदगी में जो हमारा मेन नाचे कि हम समय को बचाकर उस समय का यूज़ करें जिसे हमें अगर कोई दूरी तय करनी है तो हम साइकिल से 1 घंटे में दूरी तय करते हैं वही हम 10 से 15 मिनट में दूरी तय कर लेते हैं और अगर देखा जाए तो हमें 50 किलोमीटर का साइकिल से यात्रा करनी हो तो हमें बहुत सारे समय लग जाएंगे कई घंटों लग जाएंगे जिससे कि हम बहुत ज्यादा परेशान हो जाएंगे मगर बाइक का सहारा ने तो आप अगर 40 से 45 किलोमीटर पर आवर के हिसाब से भी चल रहे हैं तो आपको 4040 45 मिनट लगेंगे 50 मैक्सिमम मानकर चलें कि अपने फोन घंटा लगेगा आपको पहुंचने में वही चीज है कि आप थोड़ा सा स्पीड और बनाएंगे तो आप किस चलने के अनुसार है आप की क्या स्पीड है कोई 3035 चलते हैं कोई 4045 कोई 470 की एवरेज में चलते हैं पर हाउ आर के हिसाब से तो एक आपके अनुसार है कि आपकी शॉप से चलेंगे क्योंकि अब 50 किलोमीटर है तो आप अगर 50 किलोमीटर पर आवर के साथ में चलेंगे 1 घंटे में अब 50 किलोमीटर दूरी तय कर लेंगे तू क्या है कि बस हमें समय बताने के लिए हमारी इस तरह की जो हमारी सुविधाएं मिल रही हमें अलग अलग तरीके के साधन मिल रहा है जैसे हम डीजे बाइक हो गई बाइक के साथ में फोर व्हीलर हो गई उसके साथ हम हम अगर एक प्रदेश से दूसरे प्रदेश में जाना चाहते हैं बहुत अर्जेंट है आज ही पहुंचना है तो हम फ्लाइट का सहारा लेते हैं ट्रेन का सहारा लेते बहुत सारे ऐसे साधन है जो हम कर सकते हैं लेकिन आप अगर ऐसे करेंगे तो हां आप चलाना चाहते हैं तो कुछ दूरी ऐसे है कि आप 2 किलोमीटर 3 किलोमीटर या मैक्सिमम 5 किलोमीटर की दूरी है तो आप उसे साइकिल का ही चावल ले और एक समय निकालने कि मैं इस टाइम में एक काम करूंगा और अपनी साइकिल से ही इसकी यात्रा करूंगा तो आपके लिए बेस्ट होगा अगर आपके पास समय है तो आप कुछ भी कर सकते हैं बेस्ट है
Aapaka jo prashn poochha ja raha hai beshak sahee hai aur isaka asar bhee ho sakata hai kyonki ham 1 leetar jo petrol par aate hain ham 2 kilo doodh 2 leetar doodh pee ke kya un saikil chalaenge lekin hamaare paas jo men cheej hai is bhaagadaud kee jindagee mein jo hamaara men naache ki ham samay ko bachaakar us samay ka yooz karen jise hamen agar koee dooree tay karanee hai to ham saikil se 1 ghante mein dooree tay karate hain vahee ham 10 se 15 minat mein dooree tay kar lete hain aur agar dekha jae to hamen 50 kilomeetar ka saikil se yaatra karanee ho to hamen bahut saare samay lag jaenge kaee ghanton lag jaenge jisase ki ham bahut jyaada pareshaan ho jaenge magar baik ka sahaara ne to aap agar 40 se 45 kilomeetar par aavar ke hisaab se bhee chal rahe hain to aapako 4040 45 minat lagenge 50 maiksimam maanakar chalen ki apane phon ghanta lagega aapako pahunchane mein vahee cheej hai ki aap thoda sa speed aur banaenge to aap kis chalane ke anusaar hai aap kee kya speed hai koee 3035 chalate hain koee 4045 koee 470 kee evarej mein chalate hain par hau aar ke hisaab se to ek aapake anusaar hai ki aapakee shop se chalenge kyonki ab 50 kilomeetar hai to aap agar 50 kilomeetar par aavar ke saath mein chalenge 1 ghante mein ab 50 kilomeetar dooree tay kar lenge too kya hai ki bas hamen samay bataane ke lie hamaaree is tarah kee jo hamaaree suvidhaen mil rahee hamen alag alag tareeke ke saadhan mil raha hai jaise ham deeje baik ho gaee baik ke saath mein phor vheelar ho gaee usake saath ham ham agar ek pradesh se doosare pradesh mein jaana chaahate hain bahut arjent hai aaj hee pahunchana hai to ham phlait ka sahaara lete hain tren ka sahaara lete bahut saare aise saadhan hai jo ham kar sakate hain lekin aap agar aise karenge to haan aap chalaana chaahate hain to kuchh dooree aise hai ki aap 2 kilomeetar 3 kilomeetar ya maiksimam 5 kilomeetar kee dooree hai to aap use saikil ka hee chaaval le aur ek samay nikaalane ki main is taim mein ek kaam karoonga aur apanee saikil se hee isakee yaatra karoonga to aapake lie best hoga agar aapake paas samay hai to aap kuchh bhee kar sakate hain best hai

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
जरूरत से ज्यादा पौधों को पानी देने से क्या क्या नुकसान होते है?Jarurat Se Jyada Paudho Ko Paani Dene Se Kya Kya Nuksan Hote Hai
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
1:00
नहर की जरूरत से ज्यादा पौधों को पानी देने से क्या क्या नुकसान हो सकते हैं तो देखिए पौधे क्या होते हैं जड़ से खत्म हो जाते हैं जैसे क्या होता है पौधे को कट जाना घर जाने का मतलब है कि जब उनकी क्या होती है एकदम खराब हो जाती है और पेड़ सूख जाते हैं कभी-कभी ज्यादा पानी देने की वजह से क्या होती है पत्तियां अचानक झड़ने लगती है और अचानक उसने जो टहनियां होती है उस में सिकुड़न जैसी हो जाती है मैं तो पूरी तरह से क्या होता है ज्यादा पानी होने की वजह से वह अपने आप को इन्वायरमेंट में अपने हिसाब से नहीं बना पाते हैं और क्या होता है फिर धीरे-धीरे कुछ ऐसी टहनियां होते हैं ऐसे पेड़ कैसे होते हैं वह पूरी तरह से खराब हो जाते हैं और तू कभी कभी आपने देखा होगा कि एक पेड़ पेड़ है लेकिन उसकी आधी टेनिस सूख जाती है और आधी जो होती है वह हरी भरी रहती है तो इसी का एक कारण होता है पानी देने से कुछ पेट खराब भी हो सकते हैं और वह पूरी तरह से नष्ट हो सकते हैं
Nahar kee jaroorat se jyaada paudhon ko paanee dene se kya kya nukasaan ho sakate hain to dekhie paudhe kya hote hain jad se khatm ho jaate hain jaise kya hota hai paudhe ko kat jaana ghar jaane ka matalab hai ki jab unakee kya hotee hai ekadam kharaab ho jaatee hai aur ped sookh jaate hain kabhee-kabhee jyaada paanee dene kee vajah se kya hotee hai pattiyaan achaanak jhadane lagatee hai aur achaanak usane jo tahaniyaan hotee hai us mein sikudan jaisee ho jaatee hai main to pooree tarah se kya hota hai jyaada paanee hone kee vajah se vah apane aap ko invaayarament mein apane hisaab se nahin bana paate hain aur kya hota hai phir dheere-dheere kuchh aisee tahaniyaan hote hain aise ped kaise hote hain vah pooree tarah se kharaab ho jaate hain aur too kabhee kabhee aapane dekha hoga ki ek ped ped hai lekin usakee aadhee tenis sookh jaatee hai aur aadhee jo hotee hai vah haree bharee rahatee hai to isee ka ek kaaran hota hai paanee dene se kuchh pet kharaab bhee ho sakate hain aur vah pooree tarah se nasht ho sakate hain

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
क्या हर दिन अगर इंसान 10000 कदम पैदल चले तो 1 महीने में 5 किलो वजन कम कर सकता है?Kya Har Din Agar Insaan 10000 Kadam Paidal Chale To 1 Maheene Mein 5 Kilo Vajan Kam Kar Sakata Hai
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
0:40
पूछा जा रहा है क्या हर दिन अगर इंसान 10000 कदम पैदल चले तो 1 महीने में 5 किलो वजन कम कर सकता है तो आपकी एक्सरसाइज के रूप में हो गया लेकिन आपको अपने शरीर पर खान-पान का भी ध्यान देना चाहिए आपको वजन घटाने हैं तो आपकी आपके लिए डायटिंग बहुत ज्यादा मस्त है किस हिसाब से आप करना चाहते हैं वह आपके लिए बेहद होगा क्योंकि आप अपने शरीर को हिसाब से मेंटेन करना चाहते कितना कम हो जान खाना चाहता हूं उसी के हिसाब से आप एक्सरसाइज करिए आराम करिए उसके साथ-साथ क्या है कि आपको फिजिकल थेरेपी का इस्तेमाल कर सकते हैं जो आपको आपको जिम में मिल सकता है
Poochha ja raha hai kya har din agar insaan 10000 kadam paidal chale to 1 maheene mein 5 kilo vajan kam kar sakata hai to aapakee eksarasaij ke roop mein ho gaya lekin aapako apane shareer par khaan-paan ka bhee dhyaan dena chaahie aapako vajan ghataane hain to aapakee aapake lie daayating bahut jyaada mast hai kis hisaab se aap karana chaahate hain vah aapake lie behad hoga kyonki aap apane shareer ko hisaab se menten karana chaahate kitana kam ho jaan khaana chaahata hoon usee ke hisaab se aap eksarasaij karie aaraam karie usake saath-saath kya hai ki aapako phijikal therepee ka istemaal kar sakate hain jo aapako aapako jim mein mil sakata hai

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
बिना जेल लगाएं बालों को कैसे सेट करें?Bina Gel Lagaye Balo Ko Kaise Set Kare
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
0:57
नहीं कि बिना जेल लगाएं बालों को कैसे सेट करें तो दिखे फ्रेंड इस सिंपल सा है आयुर्वेदिक इलाज में बता दो कि आप नारियल का दूध ले लीजिए उसके बाद उसमें नींबू का रस मिलाकर उसको अच्छी तरह से मिश्रण कथित के मिश्रण को अब कुछ देर के लिए फ्रिज में रख दीजिए प्लीज में जब रख देंगे तो एक स्क्रीन की तरह हो जाएगा और इस पेस्ट को क्या करिए आप अपने बालों में अच्छी तरह से लगा दीजिए जिसमें करना चाहते हैं या खड़ा करना चाहते हैं या आप जिस तरह सेट करना चाहते हैं उसके हिसाब से क्या करें अपने बालों में लगाकर एक अच्छी तरह से मसाज कर लीजिए और उसे एक का हॉट टॉवल में आप लगा दीजिए या कुछ ऐसे ग्रोवर के द्वारा उसे जी शाम में सेट करना चाहते हैं या कंगी से आप सेट करना चाहते हैं तो अपने बालों को उसी हिसाब से कर लीजिए एकदम परफेक्ट आप जिससे अपनी करना चाहेंगे इसे हो जाएगा और एकदम पूरी तरह से एक कृतिम है और आप पूरी तरह से नेचुरल है आपको नुकसान नहीं होगा
Nahin ki bina jel lagaen baalon ko kaise set karen to dikhe phrend is simpal sa hai aayurvedik ilaaj mein bata do ki aap naariyal ka doodh le leejie usake baad usamen neemboo ka ras milaakar usako achchhee tarah se mishran kathit ke mishran ko ab kuchh der ke lie phrij mein rakh deejie pleej mein jab rakh denge to ek skreen kee tarah ho jaega aur is pest ko kya karie aap apane baalon mein achchhee tarah se laga deejie jisamen karana chaahate hain ya khada karana chaahate hain ya aap jis tarah set karana chaahate hain usake hisaab se kya karen apane baalon mein lagaakar ek achchhee tarah se masaaj kar leejie aur use ek ka hot toval mein aap laga deejie ya kuchh aise grovar ke dvaara use jee shaam mein set karana chaahate hain ya kangee se aap set karana chaahate hain to apane baalon ko usee hisaab se kar leejie ekadam paraphekt aap jisase apanee karana chaahenge ise ho jaega aur ekadam pooree tarah se ek krtim hai aur aap pooree tarah se nechural hai aapako nukasaan nahin hoga

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
पानी पीते समय आपकी सही पोजीशन क्या होनी चाहिए?Paani Peete Samay Aapki Sahi Position Kya Honi Chahiye
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
0:46
आपका सवाल है कि पानी पीते समय आपकी सही पोजीशन क्या होनी चाहिए तो बिल्कुल सही जो पोजीशन होनी चाहिए वह बैठ कर बैठ कर हमें पानी पीना चाहिए खड़े होकर पानी तो पीना ही नहीं क्योंकि खड़े होकर पानी पीने से हमारे जो पानी होता है उसकी जी से क्या करता है हमारे शरीर के निचले हिस्से पेट के निचले हिस्से में चला जाता है और क्या होता कि जो पानी का पोषक तत्व होता है वह हमारे शरीर को पर्याप्त मात्रा में नहीं मिल पाता है इसकी वजह से क्या होता है आयुर्वेद के अनुसार अगर देखा जाए तो हमें पानी बैठकर पीना चाहिए और धीरे धीरे कर पानी हमारे शरीर में जाता है हमारे पेट के निचले हिस्से में जाता है तुझे खनिज पदार्थ होते हैं हमारे शरीर को सुचारू रूप से मिल जाता है इस वजह से क्या होता है हमें पानी पीने का जो सही तरीका है वह बैठकर ही करना चाहिए धन
Aapaka savaal hai ki paanee peete samay aapakee sahee pojeeshan kya honee chaahie to bilkul sahee jo pojeeshan honee chaahie vah baith kar baith kar hamen paanee peena chaahie khade hokar paanee to peena hee nahin kyonki khade hokar paanee peene se hamaare jo paanee hota hai usakee jee se kya karata hai hamaare shareer ke nichale hisse pet ke nichale hisse mein chala jaata hai aur kya hota ki jo paanee ka poshak tatv hota hai vah hamaare shareer ko paryaapt maatra mein nahin mil paata hai isakee vajah se kya hota hai aayurved ke anusaar agar dekha jae to hamen paanee baithakar peena chaahie aur dheere dheere kar paanee hamaare shareer mein jaata hai hamaare pet ke nichale hisse mein jaata hai tujhe khanij padaarth hote hain hamaare shareer ko suchaaroo roop se mil jaata hai is vajah se kya hota hai hamen paanee peene ka jo sahee tareeka hai vah baithakar hee karana chaahie dhan

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
फेफड़ों को साफ करने के लिए कौन से प्राणायाम फायदेमंद है?Fefdo Ko Saaf Karne Ke Liye Kya Pranayam Faydemand Hai
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
0:45
रजनी फेफड़ों को साफ करने के लिए क्या प्राणायाम फायदेमंद है जी बिल्कुल फायदेमंद है क्योंकि इससे जो होती है फेफड़े की जो ब्लॉकेज होती है वह खुलती है उसके साथी नर्वस सिस्टम वो पाचन क्रिया जो होती है वह दुरुस्त होती है यह फेफड़ों को मजबूती के लिए सबसे अच्छा साधन है संपूर्ण शरीर और मस्ती के शुद्धिकरण के लिए जो आप अनुलोम विलोम प्राणायाम है वह आपके लिए बहुत अच्छा ही फायदेमंद होगा तो इससे केवल फेफड़ों को ही नहीं आपके शरीर पूरे संपूर्ण शरीर और आपके मस्तिष्क का शुद्धीकरण करता है नर्वस सिस्टम पाचन क्रिया को बहुत अच्छी से दुरुस्त करता है तो यह आपके लिए सबसे बेस्ट होगा प्रणाम
Rajanee phephadon ko saaph karane ke lie kya praanaayaam phaayademand hai jee bilkul phaayademand hai kyonki isase jo hotee hai phephade kee jo blokej hotee hai vah khulatee hai usake saathee narvas sistam vo paachan kriya jo hotee hai vah durust hotee hai yah phephadon ko majabootee ke lie sabase achchha saadhan hai sampoorn shareer aur mastee ke shuddhikaran ke lie jo aap anulom vilom praanaayaam hai vah aapake lie bahut achchha hee phaayademand hoga to isase keval phephadon ko hee nahin aapake shareer poore sampoorn shareer aur aapake mastishk ka shuddheekaran karata hai narvas sistam paachan kriya ko bahut achchhee se durust karata hai to yah aapake lie sabase best hoga pranaam

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
क्या जूस पीकर बॉडी बन सकती है?Kya Juice Peekar Body Ban Sakti Hai
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
0:46
सवाल है क्या जो स्पीकर बॉडी बन सकती है तो बिल्कुल नहीं केवल जूस पीने से आपकी बॉडी नहीं बनेगी आपको उसके साथ अपनी मेहनत भी करनी चाहिए क्योंकि जो भी सर साइज है वह तो करनी पड़ेगी अपने को अपनी बॉडी कोठी बनाने के लिए आप जूस पीकर अपनी बॉडी को बहुत मोटा बना सकते हैं तो थोड़ा बना सकते हैं लेकिन एक परफेक्ट बॉडी बॉडी कहा जाए कि स्टील बॉडी होती आप उसे नहीं बना पाएंगे परफेक्ट बॉडी के लिए आपको खानपान की तो बहुत जरूरत होती है उसके साथ-साथ आपको अपने शरीर को जो भी बयान है जो भी इस साइज है ऊपर फैक्ट्री आपको करना पड़ेगा तभी आपकी शरीर एक अच्छी बॉडी दे पाएगी और जो एक कहा जाए कि सुडोल बॉडी मिल पाएगी और आप एक अच्छे परफेक्ट पर्सन के रूप में जाने जाएंगे
Savaal hai kya jo speekar bodee ban sakatee hai to bilkul nahin keval joos peene se aapakee bodee nahin banegee aapako usake saath apanee mehanat bhee karanee chaahie kyonki jo bhee sar saij hai vah to karanee padegee apane ko apanee bodee kothee banaane ke lie aap joos peekar apanee bodee ko bahut mota bana sakate hain to thoda bana sakate hain lekin ek paraphekt bodee bodee kaha jae ki steel bodee hotee aap use nahin bana paenge paraphekt bodee ke lie aapako khaanapaan kee to bahut jaroorat hotee hai usake saath-saath aapako apane shareer ko jo bhee bayaan hai jo bhee is saij hai oopar phaiktree aapako karana padega tabhee aapakee shareer ek achchhee bodee de paegee aur jo ek kaha jae ki sudol bodee mil paegee aur aap ek achchhe paraphekt parsan ke roop mein jaane jaenge

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
सर्दी में कम नमक का इस्तेमाल क्यों करना चाहिए?Sardi Mein Kam Namak Ka Istemal Kyun Karna Chaiye
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
0:36
प्रश्न है कि सर्दी में कम नमक का इस्तेमाल क्यों करना चाहिए इसलिए करना चाहिए क्योंकि हमारी सर्दी में ज्योति हमें पसीने नहीं होते हम कुछ ऐसे काम नहीं करते हैं जिसे हल्का-फुल्का काम भी करेंगे तो हमें उतनी ज्यादा पसीना नहीं आते हैं जैसे कि गर्मी में गर्मी में क्या होता है जितना हम नमक खाते हैं वह पसीने के माध्यम से हमारे शरीर से नमक निकल जाते हैं तो फायदा होता है और यही कारण है कि मैं सर्दी में नमक को क्या करना चाहिए कम इस्तेमाल करना चाहिए जिससे कि हमारा जो नमक है क्योंकि ज्यादा नमक खाएंगे तो मैं इस शरीर में एक्टिव रहेगा वह ज्यादा हमें दिक्कत होगी गलाने का हमारे शरीर को गिराने का काम करेगा
Prashn hai ki sardee mein kam namak ka istemaal kyon karana chaahie isalie karana chaahie kyonki hamaaree sardee mein jyoti hamen paseene nahin hote ham kuchh aise kaam nahin karate hain jise halka-phulka kaam bhee karenge to hamen utanee jyaada paseena nahin aate hain jaise ki garmee mein garmee mein kya hota hai jitana ham namak khaate hain vah paseene ke maadhyam se hamaare shareer se namak nikal jaate hain to phaayada hota hai aur yahee kaaran hai ki main sardee mein namak ko kya karana chaahie kam istemaal karana chaahie jisase ki hamaara jo namak hai kyonki jyaada namak khaenge to main is shareer mein ektiv rahega vah jyaada hamen dikkat hogee galaane ka hamaare shareer ko giraane ka kaam karega

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
क्या योगासन सिर्फ एक शारीरिक व्यायाम है?Kya Yogasan Sirf Ek Sharirik Vyayam Hai
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
2:50
नहीं क्या योगासन सिर्फ एक शारीरिक व्यायाम है तो देखें योगासन को एक सारिक व्यायाम की श्रेणी में डाल सकते हैं लेकिन क्या होता है दोनों का अलग-अलग होता है जो हम व्यायाम करते हैं तो क्या करती हमारे शरीर को क्या करता है कि मांस पेशियां होती है तो होती है होती है हमारे बहुत सारे अंग है जो ध्यान लगाने से क्या होता है काफी तेज हो जाते हैं और उन्हें सांसो को संतुलित करना सिखाया जाता है इसमें हम अपनी सांसो को किस आधार पर लेनी है किस आधार पर छोड़नी है हमारे शरीर को मेडिटेशन मतलब ध्यान लगाने से क्या होगी कि हमारी जो आत्मा होती है हमारा मन घबराता है इससे क्या होता हमें निजात मिलती है लेकिन दोनों का अलग-अलग रूप है लेकिन अगर आप कह सकते हैं कि दोनों एक ही सिक्के के पहलू हैं दोनों की हमें जरूरत होती है बिना हम दोनों के अपने आप सभी को संतुष्ट नहीं कर पाएंगे तुम ही व्यायाम योग आसन होते हमारे शरीर को लचीला बनाता है वही व्यायाम है मांसपेशियों को सख्त बनाता है हमारा व्यायाम करने से मारी तीव्रता और प्रबलता पर जोर होती है जिसे क्यों थे मांस पेशियों को नुकसान भी कई जगह कुछ ऐसे व्यायाम है जो पहुंच जाता है लेकिन हमें योग जो होती है धीमी गति से स्टार्ट होती है लेकिन सहन शक्ति बढ़ाता है हमारी जो भी कमजोर परी के समय शरीर काम करते हो उसको क्या होता है सुचारु रुप से एक्टिव करता है उसे प्रेरित करता है कि आप भी अपनी उनके शरीर में जाओ और अपने अंकुश सही तरीके से काम कराओ जिससे कि उन्हें और एक्टिविटी या करने में आसान होगा क्योंकि जब आप व्यायाम करते हैं तो आपकी पाचन शक्ति तेज हो जाती आपको भूख लगती है आपकी धीरे-धीरे आपकी आपके शरीर में बहुत ज्यादा एनर्जी मिलते हैं तो बहुत सारे सी चीज है जो हमें बयां हमसे मिलते हैं और योग से भी मिलते हैं लेकिन अगर देखा जाए तो योग जो है एक अध्यात्मिक प्रक्रिया है जिसमें हम शरीर मन और आत्मा को एक साथ लाने का काम करते हैं जो हम अपनी योगा से नहीं कर पाएंगे लेकिन हां योगा में कुछ ऐसी चीज है जो हम अपने शरीर को एक जगह फिट करके हमें यूं कह सकते हैं जो कि हमारी शरीर मन आत्मा को एक जगह स्थिर कर सकते हैं और उसी साथ एक साथ काम करने के लिए हम प्रेरित कर सकते हैं इससे क्या होती हमारी प्रक्रिया और धारणा होती है हमारी एक्टिव होती है उसके साथ साथ हम कई जगह देखे हैं कि अपने हिंदू धर्म और जैन धर्म और बौद्ध धर्म हो इसमें ध्यान प्रक्रिया से संबंधित है और इसी को हम कुछ लोग बयान के रूप में इस्तेमाल करते हैं कुछ लोग योगासन के रूप में इस्तेमाल करते हैं जैसे जैसे जिनको अपना समझ होती है अपने हिसाब से वह कर लेते लेकिन देखा जाए तो दोनों एक ही सिक्के के पहलू है व्यायाम और योग योग दोनों भी हमारे शरीर को सुचारू रूप से काम कराने के लिए एक्टिव करते हैं आई जरूरी है
Nahin kya yogaasan sirph ek shaareerik vyaayaam hai to dekhen yogaasan ko ek saarik vyaayaam kee shrenee mein daal sakate hain lekin kya hota hai donon ka alag-alag hota hai jo ham vyaayaam karate hain to kya karatee hamaare shareer ko kya karata hai ki maans peshiyaan hotee hai to hotee hai hotee hai hamaare bahut saare ang hai jo dhyaan lagaane se kya hota hai kaaphee tej ho jaate hain aur unhen saanso ko santulit karana sikhaaya jaata hai isamen ham apanee saanso ko kis aadhaar par lenee hai kis aadhaar par chhodanee hai hamaare shareer ko mediteshan matalab dhyaan lagaane se kya hogee ki hamaaree jo aatma hotee hai hamaara man ghabaraata hai isase kya hota hamen nijaat milatee hai lekin donon ka alag-alag roop hai lekin agar aap kah sakate hain ki donon ek hee sikke ke pahaloo hain donon kee hamen jaroorat hotee hai bina ham donon ke apane aap sabhee ko santusht nahin kar paenge tum hee vyaayaam yog aasan hote hamaare shareer ko lacheela banaata hai vahee vyaayaam hai maansapeshiyon ko sakht banaata hai hamaara vyaayaam karane se maaree teevrata aur prabalata par jor hotee hai jise kyon the maans peshiyon ko nukasaan bhee kaee jagah kuchh aise vyaayaam hai jo pahunch jaata hai lekin hamen yog jo hotee hai dheemee gati se staart hotee hai lekin sahan shakti badhaata hai hamaaree jo bhee kamajor paree ke samay shareer kaam karate ho usako kya hota hai suchaaru rup se ektiv karata hai use prerit karata hai ki aap bhee apanee unake shareer mein jao aur apane ankush sahee tareeke se kaam karao jisase ki unhen aur ektivitee ya karane mein aasaan hoga kyonki jab aap vyaayaam karate hain to aapakee paachan shakti tej ho jaatee aapako bhookh lagatee hai aapakee dheere-dheere aapakee aapake shareer mein bahut jyaada enarjee milate hain to bahut saare see cheej hai jo hamen bayaan hamase milate hain aur yog se bhee milate hain lekin agar dekha jae to yog jo hai ek adhyaatmik prakriya hai jisamen ham shareer man aur aatma ko ek saath laane ka kaam karate hain jo ham apanee yoga se nahin kar paenge lekin haan yoga mein kuchh aisee cheej hai jo ham apane shareer ko ek jagah phit karake hamen yoon kah sakate hain jo ki hamaaree shareer man aatma ko ek jagah sthir kar sakate hain aur usee saath ek saath kaam karane ke lie ham prerit kar sakate hain isase kya hotee hamaaree prakriya aur dhaarana hotee hai hamaaree ektiv hotee hai usake saath saath ham kaee jagah dekhe hain ki apane hindoo dharm aur jain dharm aur bauddh dharm ho isamen dhyaan prakriya se sambandhit hai aur isee ko ham kuchh log bayaan ke roop mein istemaal karate hain kuchh log yogaasan ke roop mein istemaal karate hain jaise jaise jinako apana samajh hotee hai apane hisaab se vah kar lete lekin dekha jae to donon ek hee sikke ke pahaloo hai vyaayaam aur yog yog donon bhee hamaare shareer ko suchaaroo roop se kaam karaane ke lie ektiv karate hain aaee jarooree hai

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
सांस क्यों फूलता है क्या कोई बीमारी है?Saas Kyu Fulta Hai Kya Koi Bimari Hai
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
2:22
कभी-कभी हमें ऐसा महसूस होता है कि हमें सांस की प्रॉब्लम हो रही है सांस लेने की दिक्कत हो रही है इस वजह होती है आप सीजन हमारे शरीर में ठीक से या सुचारू रूप से नहीं मिल पाता है जिसे क्या होता हमारा जो फेफड़ा होता है अनावश्यक दबाव पड़ता है जब अनावश्यक दबाव फेफड़े बनता है तो ऑक्सीजन को पाने के लिए शोषण की क्रिया की गति जो होता है वह बढ़ा देता है पति बना देता है तो हम सरल भाषा में करने कितने सांस फूलने की या सांस फूल रहा है हमें ऐसी बीमारी लग रही है यदि हम सांस की ऐसी प्रॉब्लम है तो हमारे अपनी फेफड़े या हमारी स्वास्थ्य की जांच करवानी चाहिए क्योंकि हमें ऑक्सीजन की कमी अगर महसूस हुई मतलब सांस फूलने की बीमारी हुई तो कहीं ना कहीं हमें ऑक्सीजन की कमी हो रही हमारे शरीर में उसकी घर कमी होगी तो हमारे बहुत सारे ऐसे अंग है वह धीरे धीरे काम करना बंद हो जाएंगे क्योंकि वहां पर आप सीजन की मात्रा नहीं पहुंच पाएगी और जो हमारा फेफड़ा है वह बहुत ज्यादा तेजी से घट बीमारी हो सकती है लेकिन आप अगर उससे पहले आपको ऐसी समस्या लगती है तो आप डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं अपने शरीर का चेकअप करा सकते हैं आपको अल्ट्रासाउंड करा सकते हैं बहुत सारी ऐसी चीजें हैं जो मेडिकल फील्ड में आप करवा सकते हैं रखना रक्तचाप करवास चेक करा सकते हैं कि आपका ब्लड सर्कुलेशन क्या है अपने ब्लड की जांच करवा सकते हैं आप अपने फेफड़े क्या होता है कि जब फेफड़ा कभी-कभी सर्दियों के मौसम में ऐसा हो जाता है कि आपको सर्दी जुकाम का लक्षण है और खुलकर नहीं हो रहा है तो क्या होता है जो होता है आपकी फेफड़े पी जमुना शुरू हो जाता है हमने की वजह से क्या होती क्लियर बन जाती है जिससे फेफड़ा क्या होता है काम करना धीरे धीरे बंद कर देता है अब क्या होता है उसे ऑक्सीजन सही सुचारू रूप से नहीं मिल पाती है तो क्या करता है बहुत तेजी से गति करने लगता है और वही गति क्या होती है आपकी सांस फूलने जैसा बीमारी हो सकती है या था कि पहली दफा आपको इंडिकेट करेगा कैसी प्रॉब्लम हो सकती है क्योंकि मेरी मम्मी को भी पिछले ही महीने ऐसा ऐसी प्रॉब्लम हुई थी और मैं बहुत ज्यादा घबरा गया था फिर उन्हें अच्छी तरह से चेकअप कराया उनका इलाज बहुत अच्छी तरीके से कराया तो आज और परफेक्ट मैं आपको यही सलाह दूंगा कि हां आप अगर ऐसी प्रॉब्लम है तो बीमारी हो सकती है आप सोने ना दीजिए मुझसे पहले ही आप अपना इलाज करा लीजिए बेशक अच्छे
Kabhee-kabhee hamen aisa mahasoos hota hai ki hamen saans kee problam ho rahee hai saans lene kee dikkat ho rahee hai is vajah hotee hai aap seejan hamaare shareer mein theek se ya suchaaroo roop se nahin mil paata hai jise kya hota hamaara jo phephada hota hai anaavashyak dabaav padata hai jab anaavashyak dabaav phephade banata hai to okseejan ko paane ke lie shoshan kee kriya kee gati jo hota hai vah badha deta hai pati bana deta hai to ham saral bhaasha mein karane kitane saans phoolane kee ya saans phool raha hai hamen aisee beemaaree lag rahee hai yadi ham saans kee aisee problam hai to hamaare apanee phephade ya hamaaree svaasthy kee jaanch karavaanee chaahie kyonki hamen okseejan kee kamee agar mahasoos huee matalab saans phoolane kee beemaaree huee to kaheen na kaheen hamen okseejan kee kamee ho rahee hamaare shareer mein usakee ghar kamee hogee to hamaare bahut saare aise ang hai vah dheere dheere kaam karana band ho jaenge kyonki vahaan par aap seejan kee maatra nahin pahunch paegee aur jo hamaara phephada hai vah bahut jyaada tejee se ghat beemaaree ho sakatee hai lekin aap agar usase pahale aapako aisee samasya lagatee hai to aap doktar kee salaah le sakate hain apane shareer ka chekap kara sakate hain aapako altraasaund kara sakate hain bahut saaree aisee cheejen hain jo medikal pheeld mein aap karava sakate hain rakhana raktachaap karavaas chek kara sakate hain ki aapaka blad sarkuleshan kya hai apane blad kee jaanch karava sakate hain aap apane phephade kya hota hai ki jab phephada kabhee-kabhee sardiyon ke mausam mein aisa ho jaata hai ki aapako sardee jukaam ka lakshan hai aur khulakar nahin ho raha hai to kya hota hai jo hota hai aapakee phephade pee jamuna shuroo ho jaata hai hamane kee vajah se kya hotee kliyar ban jaatee hai jisase phephada kya hota hai kaam karana dheere dheere band kar deta hai ab kya hota hai use okseejan sahee suchaaroo roop se nahin mil paatee hai to kya karata hai bahut tejee se gati karane lagata hai aur vahee gati kya hotee hai aapakee saans phoolane jaisa beemaaree ho sakatee hai ya tha ki pahalee dapha aapako indiket karega kaisee problam ho sakatee hai kyonki meree mammee ko bhee pichhale hee maheene aisa aisee problam huee thee aur main bahut jyaada ghabara gaya tha phir unhen achchhee tarah se chekap karaaya unaka ilaaj bahut achchhee tareeke se karaaya to aaj aur paraphekt main aapako yahee salaah doonga ki haan aap agar aisee problam hai to beemaaree ho sakatee hai aap sone na deejie mujhase pahale hee aap apana ilaaj kara leejie beshak achchhe

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
धरती से गर्म पानी निकलने के क्या रहस्य है?Dharti Se Garm Paani Nikalne Ke Kya Rahasya Hai
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
2:15
हंसने की धरती से गर्म पानी निकलने के रहस्य क्या है तू दिखे फ्रेंड इसमें क्या होता है ना कि कई जगह क्या होती है कि भौगोलिक गतिविधियों के कारण गर्म पानी के कुंड और झरने पाए जाते हैं जिन्हें हॉट स्प्रिंग कहा जाता है यहां जो पानी होता है वह हमेशा गर्म होता है लेकिन आप सभी जानते होंगे कि जो हमारी धरती है वह गर्म है पहले जो धरती थी आग की गोला की तरह रहती थी और इससे बहुत ज्यादा हाई टेंपरेचर थे लेकिन कई सालों वर्षों क्या हुआ की बारिश होती रही जिसकी वजह से क्या हमारी जो ऊपर ही सताए वह तो हमारे रहने लायक इन्वायरमेंट बनी इसके बाद क्या हुआ कि धीरे-धीरे और ठंडी होती रही और इसके साथ-साथ क्या हुआ कि जो नीचे की अभी भी जाती है वह घर में है तो बहुत सारे ऐसे गतिविधियां हो गोली गतिविधियां होती रहती है उसकी वजह से कुछ ऐसे स्थान है वहां पर गर्म पानी निकलता है जो हम नॉर्मल पानी पीने लायक पानी नॉर्मल ही 15 डिग्री टेंपरेचर पर हमेशा रहता है अगर ठंडी के दिन में देखें चाहे गर्मी की चाय बरसात के दिन में 15 डिग्री टेंपरेचर पर पानी जो रहता है गर्म रहता है यही कारण है कि हम ठंडी में अक्सर देखते हैं कि गर्म पानी जो हमारे नल नल पंप होते हैं उसे क्या होता है मेरे नाल से गर्म पानी निकलता है तो लोग कहते हैं कि गर्मी ठंडी के दिन में गर्म पानी चलता है वही गर्मी के दिन में करते हैं कि ठंडा पानी निकलता ठंडा पानी इसलिए निकलता है कि जब हमारा 15 डिग्री टेंपरेचर हमारा नॉर्मल रहता है उस पानी का लेकिन हमारा जो इन्वायरमेंट रहता है वह करीब 30 32 डिग्री या कभी-कभी 40 प्लस भी रहता है तो क्या होता है कि उसके एवज में 15 डिग्री टेंपरेचर क्या होता है हमें ठंड महसूस होता है अभी गर्मी के ठंडी के दिन में देखते हैं तो 15 डिग्री टेंपरेचर हमारे पांच छह सात डिग्री और 10 डिग्री टेंपरेचर हो जाता है उस समय क्या होता है कि हमें वह पानी गर्म लगता है तो यही कारण एक नॉर्मल 15 डिग्री पर नहीं पानी मिलता है और कुछ जगहों पर है जो हॉटस्प्रिंग के नाम से जाने जाते हैं वहां पर सर धरती के भौगोलिक गतिविधियों के कारण क्या होता है वहां पर गर्म पानी निकलता है
Hansane kee dharatee se garm paanee nikalane ke rahasy kya hai too dikhe phrend isamen kya hota hai na ki kaee jagah kya hotee hai ki bhaugolik gatividhiyon ke kaaran garm paanee ke kund aur jharane pae jaate hain jinhen hot spring kaha jaata hai yahaan jo paanee hota hai vah hamesha garm hota hai lekin aap sabhee jaanate honge ki jo hamaaree dharatee hai vah garm hai pahale jo dharatee thee aag kee gola kee tarah rahatee thee aur isase bahut jyaada haee temparechar the lekin kaee saalon varshon kya hua kee baarish hotee rahee jisakee vajah se kya hamaaree jo oopar hee satae vah to hamaare rahane laayak invaayarament banee isake baad kya hua ki dheere-dheere aur thandee hotee rahee aur isake saath-saath kya hua ki jo neeche kee abhee bhee jaatee hai vah ghar mein hai to bahut saare aise gatividhiyaan ho golee gatividhiyaan hotee rahatee hai usakee vajah se kuchh aise sthaan hai vahaan par garm paanee nikalata hai jo ham normal paanee peene laayak paanee normal hee 15 digree temparechar par hamesha rahata hai agar thandee ke din mein dekhen chaahe garmee kee chaay barasaat ke din mein 15 digree temparechar par paanee jo rahata hai garm rahata hai yahee kaaran hai ki ham thandee mein aksar dekhate hain ki garm paanee jo hamaare nal nal pamp hote hain use kya hota hai mere naal se garm paanee nikalata hai to log kahate hain ki garmee thandee ke din mein garm paanee chalata hai vahee garmee ke din mein karate hain ki thanda paanee nikalata thanda paanee isalie nikalata hai ki jab hamaara 15 digree temparechar hamaara normal rahata hai us paanee ka lekin hamaara jo invaayarament rahata hai vah kareeb 30 32 digree ya kabhee-kabhee 40 plas bhee rahata hai to kya hota hai ki usake evaj mein 15 digree temparechar kya hota hai hamen thand mahasoos hota hai abhee garmee ke thandee ke din mein dekhate hain to 15 digree temparechar hamaare paanch chhah saat digree aur 10 digree temparechar ho jaata hai us samay kya hota hai ki hamen vah paanee garm lagata hai to yahee kaaran ek normal 15 digree par nahin paanee milata hai aur kuchh jagahon par hai jo hotaspring ke naam se jaane jaate hain vahaan par sar dharatee ke bhaugolik gatividhiyon ke kaaran kya hota hai vahaan par garm paanee nikalata hai

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
किस गैस को ड्राई आइस कहते हैं और क्यों?Kis Gas Ko Dry Ice Kehte Hain Aur Kyun
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
2:00
नहीं किस गैस को ड्राई आइस कहते हैं और क्यों तू ड्राई आइस ज्योति हो कार्बन ऑक्साइड CO2 के रूप में होती है और इसे ही कहा जाता है ड्राई आइस प्राइस इसलिए कहा जाता है क्योंकि योगेश फोर्स होती है क्योंकि सॉलि़डीफाई होती है तो क्या होता है एक वर्क के रूप में दिखाई देती है मुख्य रूप से अगर देखा जाए तो पोलिंग एजेंट की तरह प्रयोग होती है और हमारी पृथ्वी के वायुमंडल पर एक सामान्य हिस्सा है इसका और शुष्क बार किया पर प्यार ड्राई आइस को पहली बार उन्हें 1835 में फ्रांसीसी आविष्कारक एंड्रियन जीन पियो पियो ली थी थी लोरिया के अनुसार अनुसरण किया गया था और हम इसका उपयोग किया करते हैं इस गैस को हम एक सांस लेने के दौरान निकालते हैं और यह प्रकाश संश्लेषण में क्या करती है कि उपयोग करते हैं जैसे फोटोसिंथेसिस प्रकाश संश्लेषण जोरदार फोटो चाहिए जिसमें हम उपयोग करते हैं इसके अलावा देखा जाए तो सोडा पानी बनाने के लिए या सामान्य हम पानी में में मिलाने का काम करते हैं और यह गैस क्या होती है कि अक्षय औद्योगिक प्रक्रियाओं में सूखी बर्फ बनाने बनाने के लिए पुनर्वि करण के दौरान हम इसका इस्तेमाल करते हैं तो हम रीसायकल के रूप में इसका इस्तेमाल करते हैं और एक तरह से हम प्रकाश जो संश्लेषण जो एक सांस के द्वारा हम छोड़ते हो गया गति प्रकार पौधों में होते क्या करते हैं उसको अपनी तरफ लेते हैं जिसे कार्बन डाइऑक्साइड को
Nahin kis gais ko draee aais kahate hain aur kyon too draee aais jyoti ho kaarban oksaid cho2 ke roop mein hotee hai aur ise hee kaha jaata hai draee aais prais isalie kaha jaata hai kyonki yogesh phors hotee hai kyonki solideephaee hotee hai to kya hota hai ek vark ke roop mein dikhaee detee hai mukhy roop se agar dekha jae to poling ejent kee tarah prayog hotee hai aur hamaaree prthvee ke vaayumandal par ek saamaany hissa hai isaka aur shushk baar kiya par pyaar draee aais ko pahalee baar unhen 1835 mein phraanseesee aavishkaarak endriyan jeen piyo piyo lee thee thee loriya ke anusaar anusaran kiya gaya tha aur ham isaka upayog kiya karate hain is gais ko ham ek saans lene ke dauraan nikaalate hain aur yah prakaash sanshleshan mein kya karatee hai ki upayog karate hain jaise photosinthesis prakaash sanshleshan joradaar photo chaahie jisamen ham upayog karate hain isake alaava dekha jae to soda paanee banaane ke lie ya saamaany ham paanee mein mein milaane ka kaam karate hain aur yah gais kya hotee hai ki akshay audyogik prakriyaon mein sookhee barph banaane banaane ke lie punarvi karan ke dauraan ham isaka istemaal karate hain to ham reesaayakal ke roop mein isaka istemaal karate hain aur ek tarah se ham prakaash jo sanshleshan jo ek saans ke dvaara ham chhodate ho gaya gati prakaar paudhon mein hote kya karate hain usako apanee taraph lete hain jise kaarban daioksaid ko

#पढ़ाई लिखाई

Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
1:32
स्नेक पौधे दिन में सूर्य के प्रकाश में प्रकाश संश्लेषण करते हैं लेकिन रात में कृत्रिम प्रकाश में और जो पौधे होते हैं प्रकाशन सेना क्यों नहीं कर सकते हैं इसमें कारण होता है जो हमें सूर्य के प्रकाश से ऊर्जा मिलती है वही किसी प्रकार से नहीं मिलती है सिंपल सा लिखी अधिकांश होता है कृतिम प्रकाश प्रकाश जोधा है स्पेक्ट्रम के लाल और नीले क्षेत्र में इतनी ऊर्जा नहीं उत्सर्जित करवा कर पाते हैं जितनी कि सूर्य सूर्य का प्रकाश ज्योति सूर्य की रोशनी होती है उत्सर्जित करता है क्योंकि प्रकाश जो होता है वह बल्ब को बिजली के प्रधानों में परिवर्तित करता है वही अगर देखा जाए तो जो हमारा प्रकाश संश्लेषण की क्रिया है वह प्रभावित करने के लिए मुख्य कारक है क्योंकि प्रकाश ऊर्जा रासायनिक ऊर्जा में अतीत करता है और रासायनिक ऊर्जा क्या है कि पौधों और पौधों पौधों के जो भाग होते हैं उसमें क्लोरोफिल नहीं दे पाता है जब हरि मियां क्लोरोफिल नहीं मिलेगा पौधों की पत्ती होता तो क्या होता है कि प्रकाश संश्लेषण की क्रिया करने में असमर्थ होंगे वही क्या होता है कि जो हमारा कृतिम प्रकाश नहीं कर पाता है और इसी वजह से क्या होता है कि उसमें प्रकाश पौधे जो होते हैं प्रशासन सक्रिय नहीं कर पाते
Snek paudhe din mein soory ke prakaash mein prakaash sanshleshan karate hain lekin raat mein krtrim prakaash mein aur jo paudhe hote hain prakaashan sena kyon nahin kar sakate hain isamen kaaran hota hai jo hamen soory ke prakaash se oorja milatee hai vahee kisee prakaar se nahin milatee hai simpal sa likhee adhikaansh hota hai krtim prakaash prakaash jodha hai spektram ke laal aur neele kshetr mein itanee oorja nahin utsarjit karava kar paate hain jitanee ki soory soory ka prakaash jyoti soory kee roshanee hotee hai utsarjit karata hai kyonki prakaash jo hota hai vah balb ko bijalee ke pradhaanon mein parivartit karata hai vahee agar dekha jae to jo hamaara prakaash sanshleshan kee kriya hai vah prabhaavit karane ke lie mukhy kaarak hai kyonki prakaash oorja raasaayanik oorja mein ateet karata hai aur raasaayanik oorja kya hai ki paudhon aur paudhon paudhon ke jo bhaag hote hain usamen klorophil nahin de paata hai jab hari miyaan klorophil nahin milega paudhon kee pattee hota to kya hota hai ki prakaash sanshleshan kee kriya karane mein asamarth honge vahee kya hota hai ki jo hamaara krtim prakaash nahin kar paata hai aur isee vajah se kya hota hai ki usamen prakaash paudhe jo hote hain prashaasan sakriy nahin kar paate

#खेल कूद

bolkar speaker
क्रिकेट में गेंद की गति को कैसे मापा जाता है?Cricket Mein Gend Ki Gati Ko Kaise Mapa Jaata Hai
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
3:44
प्रश्न एक क्रिकेट में गेंद की गति को कैसे मापा जाता है तो दिखे फ्रेंडशिप तकनीकी होती है उस तकनीकी के हिसाब से ही मापा जाता है क्योंकि हम रडार गाने आप स्पीड गर्ल के द्वारा हम जीत की गति को मापते हैं जैसे एक चलती कार की गति हम मापने में क्या होता है किस सामान इकाई के रूप में मानते हैं इसी इसी तरह से हम इसको भी गीत को भी जैसे हमें हाथ से छूटती है तो हम उसके हिसाब से ही हमसे माप लेते हैं सही तरीके इसकी खोज 1947 में जाकर ने किया था और इस फील्ड गन डॉप्लर प्रभाव के सिद्धांत पर कार्य करता है जो डॉक्टर का प्रभाव था कि हम जैसे ही कोई चीज हमारे यहां से छूटती है कितनी गति में हवा में है और कितनी गति में आप जमीन तक जाती है तो उसको क्या होता है कि उसने प्रभावित कर लेता है इसी तरह क्या होता है कि इसके जो और रडार होते हैं वो क्या कहते हैं कि एक ऊंचे खंभे पर लगाया जाता है और जहां से स्पीड गण बीच की दिशा में एक सूक्ष्म तरंग भेजता है और यह जो तरंग होती है कि वस्तु की गतिविधि की सूचना को प्राप्त करता है और उसी से हम क्या करते हैं कि गेट की कितनी स्पीड है हम उसे पता कर लेते हैं लेकिन इसकी एक मुख्य तकनीकी इसके लाभ क्या है रडार गन के दौरान आर्गन के माध्यम से हम गेट की सटीक जानकारी मिलती है गीत कितनी घूम रही है गति से उस एवं बिना त्रुटि के प्राप्त कर लेते हैं इसके अलावा क्या होती है कि जूही गीत रडार के सामने से गुजरती है वह पछड़ क्या करती है कि उसकी गति को रडार कैप्चर कर लेता है और उसके हिसाब से गेट की गति को बता देता है लेकिन इसके अलावा देखा जाए तो एक दूसरी तकनीकी आ गई है हां भाई हां कई की खोज 2001 में किया किया गया था और इसके जन्मदाता है डॉक्टर पाल हाकिंग के द्वारा किया गया जो एक ब्रिटिश नागरिक से क्या होता इस प्रणाली से हम क्या करते टेनिस क्रिकेट फुटबॉल पर ने विभिन्न खेलों को आधिकारिक तौर पर इस्तेमाल करते हैं और इसमें भी सटीक जानकारी हम लेते हैं इसमें क्या होता है कि 6 कैमरों के माध्यम से आंकड़े प्राप्त कर लिए जाते हैं इस तकनीकी के माध्यम से हाथ से गीत निकलते ही डेट बाल होने तक के आंकड़ों को एकदम सटीक देता है और इसमें क्या होता है कि 3D छवि के रूप में गीत की गति होती सा प्रस्तुत करता है इसके आप क्या है तू हाई आग तकनीकी के न्यू 2001 में विकसित हुआ उसके लाभ है कि ईमान इसके माध्यम से हम क्या कहते हैं कि गेट की सटीक आकलन करते हैं भाई और तकनीकी द्वारा क्या करते हैं कि गीत की स्पष्ट रूप दिखाई देता है इसके अलावा इस तकनीकी के माध्यम से हम क्या करते हैं कि गीत की दिशा और सिंह को एक साथ माप लेते हैं 30 तीसरा है कि हम इसके माध्यम से प्रमाणित के साथ यह कहा जा सकता है कि गीत स्टॉप पर लगी है या नहीं लगी है इसके अलावा इस तकनीकी से वैधानिक को सूरत सूचित किया जाता है कि गीत कितनी सही है कितनी गलत है इस तरीके से हम क्या करते हैं कि गीत को दो तरीकों से आज के समय में मापा जाता है और भाई आप जो है वह हाय आई बेस्ट है
Prashn ek kriket mein gend kee gati ko kaise maapa jaata hai to dikhe phrendaship takaneekee hotee hai us takaneekee ke hisaab se hee maapa jaata hai kyonki ham radaar gaane aap speed garl ke dvaara ham jeet kee gati ko maapate hain jaise ek chalatee kaar kee gati ham maapane mein kya hota hai kis saamaan ikaee ke roop mein maanate hain isee isee tarah se ham isako bhee geet ko bhee jaise hamen haath se chhootatee hai to ham usake hisaab se hee hamase maap lete hain sahee tareeke isakee khoj 1947 mein jaakar ne kiya tha aur is pheeld gan doplar prabhaav ke siddhaant par kaary karata hai jo doktar ka prabhaav tha ki ham jaise hee koee cheej hamaare yahaan se chhootatee hai kitanee gati mein hava mein hai aur kitanee gati mein aap jameen tak jaatee hai to usako kya hota hai ki usane prabhaavit kar leta hai isee tarah kya hota hai ki isake jo aur radaar hote hain vo kya kahate hain ki ek oonche khambhe par lagaaya jaata hai aur jahaan se speed gan beech kee disha mein ek sookshm tarang bhejata hai aur yah jo tarang hotee hai ki vastu kee gatividhi kee soochana ko praapt karata hai aur usee se ham kya karate hain ki get kee kitanee speed hai ham use pata kar lete hain lekin isakee ek mukhy takaneekee isake laabh kya hai radaar gan ke dauraan aargan ke maadhyam se ham get kee sateek jaanakaaree milatee hai geet kitanee ghoom rahee hai gati se us evan bina truti ke praapt kar lete hain isake alaava kya hotee hai ki joohee geet radaar ke saamane se gujaratee hai vah pachhad kya karatee hai ki usakee gati ko radaar kaipchar kar leta hai aur usake hisaab se get kee gati ko bata deta hai lekin isake alaava dekha jae to ek doosaree takaneekee aa gaee hai haan bhaee haan kaee kee khoj 2001 mein kiya kiya gaya tha aur isake janmadaata hai doktar paal haaking ke dvaara kiya gaya jo ek british naagarik se kya hota is pranaalee se ham kya karate tenis kriket phutabol par ne vibhinn khelon ko aadhikaarik taur par istemaal karate hain aur isamen bhee sateek jaanakaaree ham lete hain isamen kya hota hai ki 6 kaimaron ke maadhyam se aankade praapt kar lie jaate hain is takaneekee ke maadhyam se haath se geet nikalate hee det baal hone tak ke aankadon ko ekadam sateek deta hai aur isamen kya hota hai ki 3d chhavi ke roop mein geet kee gati hotee sa prastut karata hai isake aap kya hai too haee aag takaneekee ke nyoo 2001 mein vikasit hua usake laabh hai ki eemaan isake maadhyam se ham kya kahate hain ki get kee sateek aakalan karate hain bhaee aur takaneekee dvaara kya karate hain ki geet kee spasht roop dikhaee deta hai isake alaava is takaneekee ke maadhyam se ham kya karate hain ki geet kee disha aur sinh ko ek saath maap lete hain 30 teesara hai ki ham isake maadhyam se pramaanit ke saath yah kaha ja sakata hai ki geet stop par lagee hai ya nahin lagee hai isake alaava is takaneekee se vaidhaanik ko soorat soochit kiya jaata hai ki geet kitanee sahee hai kitanee galat hai is tareeke se ham kya karate hain ki geet ko do tareekon se aaj ke samay mein maapa jaata hai aur bhaee aap jo hai vah haay aaee best hai

#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker
किसी भी संख्या को 0 से भाग देने पर वह अपरिभाषित क्यों हो जाता है?Kisi Bhe Sankhya Ko 0 Se Bhaag Dene Par Vah Aparibhashit Kyun Ho Jata Hai
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
1:54
आपका प्रश्न है कि किसी भी संख्या को 0 से भाग देने पर वह अपरिभाषित क्यों हो जाता है सिंपल सा है कि जब हम जैसे हम गुणाकर गुडा में क्या होता है 2 * 42 को चार बार जोड़ेंगे ट्यूशन के आ जाएगी जिसे 4 गुना के आठ होता है लेकिन वही हम दो-चार बार जोड़ते हैं तो 2 प्लस 2 प्लस 2 प्लस 2 बराबर क्या होता है आठ होता जिसे हम अगली संख्या की 15 गुर्दे 515 को 5 बार जोड़ेंगे तो हमें क्या मिलता है कि 15 प्लस 15 प्लस 15 प्लस 15 प्लस 15 हमारा क्या हो जाता है कि 75 मिलता है 15 से 75 सिम उसी तरह होता है कि जब हम किसी भी संख्या को 0 से विभाजित करते हैं तो क्या होती है कि अपरिभाषित इसलिए होती है कि अब देखिए जैसे एक बटा जीरो जीरो को आई एम जोड़ते हैं 0 प्लस 0 प्लस 0 0 करते हैं लेकिन फिर भी हमें कभी भी नहीं एक मिलता है क्योंकि हम जब जीरो को जोड़ते हैं जितनी बार जोड़ते हैं हमें क्या मिलता है हमेशा ही जीरो ही वैल्यू मिलती है एक कारण होता है कि अनंत मिलता है मतलब हम कितना हूं अनंत बाहर जाएं और मिलने का कारण क्या है कि हमें जीरो ही मिलता है हमें एक नहीं मिलता है अजब एक नहीं मिलेगा तो हम उसको डिवाइड नहीं कर पाएंगे उसे बराबर नहीं कर पाएंगे इसी वजह से क्या होता है कि अनडिफाइंड आए होता है इसलिए हम क्या करते हैं कि एक कभी हम पहुंच नहीं पाएंगे और एक को हम जीरो से विभाजित नहीं कर पाएंगे इसीलिए क्या होता है वह एकदम हमारा अनंत मिलता है और यही कारण है कि वह अपरिभाषित हो जाता है
Aapaka prashn hai ki kisee bhee sankhya ko 0 se bhaag dene par vah aparibhaashit kyon ho jaata hai simpal sa hai ki jab ham jaise ham gunaakar guda mein kya hota hai 2 * 42 ko chaar baar jodenge tyooshan ke aa jaegee jise 4 guna ke aath hota hai lekin vahee ham do-chaar baar jodate hain to 2 plas 2 plas 2 plas 2 baraabar kya hota hai aath hota jise ham agalee sankhya kee 15 gurde 515 ko 5 baar jodenge to hamen kya milata hai ki 15 plas 15 plas 15 plas 15 plas 15 hamaara kya ho jaata hai ki 75 milata hai 15 se 75 sim usee tarah hota hai ki jab ham kisee bhee sankhya ko 0 se vibhaajit karate hain to kya hotee hai ki aparibhaashit isalie hotee hai ki ab dekhie jaise ek bata jeero jeero ko aaee em jodate hain 0 plas 0 plas 0 0 karate hain lekin phir bhee hamen kabhee bhee nahin ek milata hai kyonki ham jab jeero ko jodate hain jitanee baar jodate hain hamen kya milata hai hamesha hee jeero hee vailyoo milatee hai ek kaaran hota hai ki anant milata hai matalab ham kitana hoon anant baahar jaen aur milane ka kaaran kya hai ki hamen jeero hee milata hai hamen ek nahin milata hai ajab ek nahin milega to ham usako divaid nahin kar paenge use baraabar nahin kar paenge isee vajah se kya hota hai ki anadiphaind aae hota hai isalie ham kya karate hain ki ek kabhee ham pahunch nahin paenge aur ek ko ham jeero se vibhaajit nahin kar paenge iseelie kya hota hai vah ekadam hamaara anant milata hai aur yahee kaaran hai ki vah aparibhaashit ho jaata hai

#धर्म और ज्योतिषी

Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
1:34
नहीं कि क्या मुसलमानों के पतन का कारण दूसरों की स्त्रियां और पत्नी जमीन पर गीत की नजर जैसे कि कारण हुआ था तो जाहिर सी बात है कि जब हम एक राजशाही जिंदगी बिताना चाहते हैं तो हमारा ही सोच होती है कि हमारे चारों तरफ हमारा यह अधिकार हो और किसी का वर्चस्व ना हो दूसरी बात है कि हम इसका भी कारण हो सकता है कि जब वह किसी राजा को देखते हैं तो उसकी जो सानू सबको तो उसकी जो प्रतिभा साल साल शादी होता है जो उसके पास क्वालिटी होती है कहीं ना कहीं लोग जानते हैं कि उसकी स्त्री की वजह से अपनी प्रतिभा उनको मिली है तो क्या करते हैं उन्हें मार कर उन स्त्रियों को अपने बस में अपने गुलाम करना या उनको अपनी पत्नी बना कर रखना किसी की जो शक्तियां उनको मिलती थी शायद उन्हें भी शक्तियां वही मिल जाए लेकिन ऐसा नहीं हो सकता सोच सकता है क्योंकि जिसके साथ दिल और मन मिल जाता है उसी के साथ ऐसी घटनाएं होती हैं और सबसे बड़ा कारण था कि वह लोग जो राजशाही जिंदगी बिताना चाहते थे और सभी पर अधिकार करना चाहते थे तो इस सबसे बड़ा कारण था कि दूसरों की स्त्रियां और जमीन जमीन तो यही होती ना होती है कि जब हम हम एक राजा रहते हैं तो क्या होता है चारों तरफ हमारा अधिकार होना चाहिए हमारे खिलाफ कोई नहीं आना चाहिए इस सब की जमीनों का अधिकार करना और यह सोचना कि मैं एक गांव से दूसरे गांव में या किसी दूसरे प्रांत को अपने बस में करना है अपने अधिकार में करना एक तो मुसलमानों का पतन का कारण जरूर हो सकता है
Nahin ki kya musalamaanon ke patan ka kaaran doosaron kee striyaan aur patnee jameen par geet kee najar jaise ki kaaran hua tha to jaahir see baat hai ki jab ham ek raajashaahee jindagee bitaana chaahate hain to hamaara hee soch hotee hai ki hamaare chaaron taraph hamaara yah adhikaar ho aur kisee ka varchasv na ho doosaree baat hai ki ham isaka bhee kaaran ho sakata hai ki jab vah kisee raaja ko dekhate hain to usakee jo saanoo sabako to usakee jo pratibha saal saal shaadee hota hai jo usake paas kvaalitee hotee hai kaheen na kaheen log jaanate hain ki usakee stree kee vajah se apanee pratibha unako milee hai to kya karate hain unhen maar kar un striyon ko apane bas mein apane gulaam karana ya unako apanee patnee bana kar rakhana kisee kee jo shaktiyaan unako milatee thee shaayad unhen bhee shaktiyaan vahee mil jae lekin aisa nahin ho sakata soch sakata hai kyonki jisake saath dil aur man mil jaata hai usee ke saath aisee ghatanaen hotee hain aur sabase bada kaaran tha ki vah log jo raajashaahee jindagee bitaana chaahate the aur sabhee par adhikaar karana chaahate the to is sabase bada kaaran tha ki doosaron kee striyaan aur jameen jameen to yahee hotee na hotee hai ki jab ham ham ek raaja rahate hain to kya hota hai chaaron taraph hamaara adhikaar hona chaahie hamaare khilaaph koee nahin aana chaahie is sab kee jameenon ka adhikaar karana aur yah sochana ki main ek gaanv se doosare gaanv mein ya kisee doosare praant ko apane bas mein karana hai apane adhikaar mein karana ek to musalamaanon ka patan ka kaaran jaroor ho sakata hai

#धर्म और ज्योतिषी

Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
1:10
किले को कार्बाइड से पकाया गया हो या नेचुरल से रूप से पकाया गया हो यह कैसे पता कर सकते हैं इसमें सिंपल सा होता है कि जो केमिकल से पका हुआ केला केला होता है उसकी जो डंठल होती है जिसमें अकेला जुड़ा हुआ था एक दूसरे से वह क्या होता है हरी होती है वह पूरी तरह से पीली नहीं हो पाती है और हरी होती है और क्या होता है कि वह केला नींबू की तरफ पीला होता है मैं तो एक अलग ही कलर में होता है और पीला टाइप का दिखता है लेकिन अगर नेचुरल तरीके से जो अकेला पक्का होता है उसकी जो डंठल होती है काली हो जाती है काली हो जाती है और जो उसके किले पर जो रंग होता है वह हल्का भूरे रंग का धब्बा दिखाई दे देता है और इसे हम पहचान सकते हैं यह नेचुरल तरीके से और दूसरा पहचानी से भी आपको पता चल जाएगा कि टेस्ट में बहुत थोड़ा सा अंतर होता है जो कार्बाइड से पका हुआ केला होता है उसमें थोड़ा सा अजीब सा एक वादा था लेकिन नेचुरल से पका हुआ केला है उसमें एक अलग सी फीलिंग आती है जो खाने से बहुत आनंद मिलता है और आपको अच्छा लगता है जैसे लगता है कि मुझे सुकून मिल गया हो
Kile ko kaarbaid se pakaaya gaya ho ya nechural se roop se pakaaya gaya ho yah kaise pata kar sakate hain isamen simpal sa hota hai ki jo kemikal se paka hua kela kela hota hai usakee jo danthal hotee hai jisamen akela juda hua tha ek doosare se vah kya hota hai haree hotee hai vah pooree tarah se peelee nahin ho paatee hai aur haree hotee hai aur kya hota hai ki vah kela neemboo kee taraph peela hota hai main to ek alag hee kalar mein hota hai aur peela taip ka dikhata hai lekin agar nechural tareeke se jo akela pakka hota hai usakee jo danthal hotee hai kaalee ho jaatee hai kaalee ho jaatee hai aur jo usake kile par jo rang hota hai vah halka bhoore rang ka dhabba dikhaee de deta hai aur ise ham pahachaan sakate hain yah nechural tareeke se aur doosara pahachaanee se bhee aapako pata chal jaega ki test mein bahut thoda sa antar hota hai jo kaarbaid se paka hua kela hota hai usamen thoda sa ajeeb sa ek vaada tha lekin nechural se paka hua kela hai usamen ek alag see pheeling aatee hai jo khaane se bahut aanand milata hai aur aapako achchha lagata hai jaise lagata hai ki mujhe sukoon mil gaya ho

#टेक्नोलॉजी

Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
1:51
नहीं बोलकर पर जो गुमनाम होकर सवाल पूछते हैं क्या उनका किसी तरह से पता लगाया जा सकता है तू यह भी संभव है बट हर एक इंसान ऐसा नहीं कर सकता है जो बोलकर पर आज बोलकर का परिवार बना हुआ है वह चाहे कि मैं सभी प्रश्न जो पूछे जा रहे हैं उनके नाम और किसके द्वारा पूछा जा रहा है तो पता कर सकती संभव नहीं है बट यह भी हो सकता है कि हमारे बीच जो लोग हैं वह भी पूछ सकते हैं बोलकर टीम के द्वारा कुछ जो प्रश्न है वह भी पूछे जाते हैं डाले जाते हैं या कहीं न कहीं से ढूंढ के लाए जाते हैं बोलकर बोलकर पर हम सभी के लिए यह प्रश्न डाले जाते हैं और हमारी जिंदगी से रिलेटेड होते हैं कहीं ना कहीं एक आदमी के लिए उस प्रश्न सही हर एक प्रश्न से जुड़ी चीजें होती है जो हमारे जीवन में घटती हैं या हमारे जीवन में सीख मिलती है तो इस परिवार पर हम यह बस यही कहना चाहे जरूरी नहीं है कि हमें जिसके द्वारा एक प्रश्न पूछा जाए उसी के बारे में जानकारियों में उस प्रश्न से बहुत सारे ऐसे ही मिलनी चाहिए हमें उससे लाभ जो मिला है उसे हमें अब जॉब करना चाहिए अपनी जिंदगी में क्योंकि वही हमारी जिंदगी में काम आएगा ना कि पूछे जगह जिनके द्वारा पूछा गया है उस पर उस आदमी से या उस ट्रेन से या उस उस जो भी जिसके द्वारा पूछा गया उससे हमें नहीं मतलब होगा हमें हमें तो मतलब होगा आपने जिंदगी में कितनी हम उसको अपनी जिंदगी में उतार पाते अपनी जिंदगी में रख पाते हैं कितना मैं अपनी जिंदगी को आगे बढ़ा सकते हैं यह सबसे जरूरी है और किसी न किसी मकसद के साथ आपने पूछा होगा कि मैं गुमनाम लोगों का पता जान सकूं तो शायद यह तो आपको बोलकर टीम से ही संपर्क करना पड़ेगा उसके अलावा और कोई ऑप्शन नहीं है
Nahin bolakar par jo gumanaam hokar savaal poochhate hain kya unaka kisee tarah se pata lagaaya ja sakata hai too yah bhee sambhav hai bat har ek insaan aisa nahin kar sakata hai jo bolakar par aaj bolakar ka parivaar bana hua hai vah chaahe ki main sabhee prashn jo poochhe ja rahe hain unake naam aur kisake dvaara poochha ja raha hai to pata kar sakatee sambhav nahin hai bat yah bhee ho sakata hai ki hamaare beech jo log hain vah bhee poochh sakate hain bolakar teem ke dvaara kuchh jo prashn hai vah bhee poochhe jaate hain daale jaate hain ya kaheen na kaheen se dhoondh ke lae jaate hain bolakar bolakar par ham sabhee ke lie yah prashn daale jaate hain aur hamaaree jindagee se rileted hote hain kaheen na kaheen ek aadamee ke lie us prashn sahee har ek prashn se judee cheejen hotee hai jo hamaare jeevan mein ghatatee hain ya hamaare jeevan mein seekh milatee hai to is parivaar par ham yah bas yahee kahana chaahe jarooree nahin hai ki hamen jisake dvaara ek prashn poochha jae usee ke baare mein jaanakaariyon mein us prashn se bahut saare aise hee milanee chaahie hamen usase laabh jo mila hai use hamen ab job karana chaahie apanee jindagee mein kyonki vahee hamaaree jindagee mein kaam aaega na ki poochhe jagah jinake dvaara poochha gaya hai us par us aadamee se ya us tren se ya us us jo bhee jisake dvaara poochha gaya usase hamen nahin matalab hoga hamen hamen to matalab hoga aapane jindagee mein kitanee ham usako apanee jindagee mein utaar paate apanee jindagee mein rakh paate hain kitana main apanee jindagee ko aage badha sakate hain yah sabase jarooree hai aur kisee na kisee makasad ke saath aapane poochha hoga ki main gumanaam logon ka pata jaan sakoon to shaayad yah to aapako bolakar teem se hee sampark karana padega usake alaava aur koee opshan nahin hai

#भारत की राजनीति

Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
1:46
सुनील कुमार चौधरी जी के द्वारा अनुसूचित प्रश्न है कि 14 फरवरी को पुलवामा हमले में हमारे देश के 40 जवान शहीद हुए थे तो क्या हम उनके लिए 1 मिनट या 2 मिनट या 5 मिनट जो भी आपके पास समय हो कि का मौन रख कर हम उन्हें याद कर सकते हैं क्योंकि वैलेंटाइन डे पर जो हम एक प्यार के लिए अपने आप को समय दे लेते हैं क्या हम उन जवानों के प्रति समय दे पाएंगे बिल्कुल देना चाहिए और हमें उस शहादत को नहीं बोलना चाहिए क्योंकि 40 जवानों ने जो शिकार हुए थे उस हमले का आज भी सीने में धड़कता है कि उस जवानों के साथ जो हुआ वो एक बहुत बड़ा गलत हुआ कहीं ना कहीं हमारा जो सुरक्षा है उसकी भी जिम्मेदारी थी जो उसने नहीं निभाया तो इसमें हम सभी लोगों के लिए दो शब्द कहना चाहिए और इन शहीद जवानों के लिए मौन अखिया जैसे भी आप उन्हें याद कर सकते हैं या कैंडल जलाकर आप उनकी याद याद कर सकते हैं एक शब्द कहना चाहूंगा कि दौलत ना अता करना मौला शोहरत ना अता करना मौला बस इतना अता करना चाहे जन्नत ना अत करना मौला समय वतन की लौ पर जब कुर्बान पतंगा हो होठों पर गंगा हो हाथों में तिरंगा हो होठों पर गंगा हो हाथों में तिरंगा हो जय हिंद जय भारत
Suneel kumaar chaudharee jee ke dvaara anusoochit prashn hai ki 14 pharavaree ko pulavaama hamale mein hamaare desh ke 40 javaan shaheed hue the to kya ham unake lie 1 minat ya 2 minat ya 5 minat jo bhee aapake paas samay ho ki ka maun rakh kar ham unhen yaad kar sakate hain kyonki vailentain de par jo ham ek pyaar ke lie apane aap ko samay de lete hain kya ham un javaanon ke prati samay de paenge bilkul dena chaahie aur hamen us shahaadat ko nahin bolana chaahie kyonki 40 javaanon ne jo shikaar hue the us hamale ka aaj bhee seene mein dhadakata hai ki us javaanon ke saath jo hua vo ek bahut bada galat hua kaheen na kaheen hamaara jo suraksha hai usakee bhee jimmedaaree thee jo usane nahin nibhaaya to isamen ham sabhee logon ke lie do shabd kahana chaahie aur in shaheed javaanon ke lie maun akhiya jaise bhee aap unhen yaad kar sakate hain ya kaindal jalaakar aap unakee yaad yaad kar sakate hain ek shabd kahana chaahoonga ki daulat na ata karana maula shoharat na ata karana maula bas itana ata karana chaahe jannat na at karana maula samay vatan kee lau par jab kurbaan patanga ho hothon par ganga ho haathon mein tiranga ho hothon par ganga ho haathon mein tiranga ho jay hind jay bhaarat
URL copied to clipboard