#मनोरंजन

Ashok Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Ashok जी का जवाब
कृषक👳💦
0:54
की फिल्मों में अच्छाई और बुराई दोनों ही बातें बताई जाती है यदि राम है तो वहां पर रावण भी है तो समाज में दो ही तरह के लोग अच्छे भी और बुरे भी और फिल्मों में भी हमेशा सच्चाई की भेजें दिखाई जाती है तो हीरो की ही जीत होती है तो यह आज से नहीं सृष्टि के प्रारंभ से ही चलता रहा है अच्छा यह तो वह बुराई है लेकिन जीत हमेशा सच्चाई की होती है बुराई अच्छाई के ऊपर कभी हावी नहीं हो सकती तो इसी प्रकार हमें फिल्मों से सकारा तेलुगु पर गौर करना चाहिए और पाजी टीवी ग्रहण करना चाहिए और जाम बुरा है हमें छोड़ देना चाहिए जिस प्रकार से दूध और पानी मेरे सिर पर दूध दूध पी लेता है और पानी को छोड़ देता है धन्यवाद
Kee philmon mein achchhaee aur buraee donon hee baaten bataee jaatee hai yadi raam hai to vahaan par raavan bhee hai to samaaj mein do hee tarah ke log achchhe bhee aur bure bhee aur philmon mein bhee hamesha sachchaee kee bhejen dikhaee jaatee hai to heero kee hee jeet hotee hai to yah aaj se nahin srshti ke praarambh se hee chalata raha hai achchha yah to vah buraee hai lekin jeet hamesha sachchaee kee hotee hai buraee achchhaee ke oopar kabhee haavee nahin ho sakatee to isee prakaar hamen philmon se sakaara telugu par gaur karana chaahie aur paajee teevee grahan karana chaahie aur jaam bura hai hamen chhod dena chaahie jis prakaar se doodh aur paanee mere sir par doodh doodh pee leta hai aur paanee ko chhod deta hai dhanyavaad

#रिश्ते और संबंध

Ashok Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Ashok जी का जवाब
कृषक👳💦
1:32
पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट में मोहाली के प्रेमी मुस्लिम जोड़े ने याचिका दायर करते हुए कहा था कि परिवार की तरफ से हमें धमकियां मिल रही हैं इसलिए हमें सुरक्षा दी जाए इसकी वजह थी एक छत्तीसगढ़ के मुस्लिम लड़के और 17 वर्ष की एक मुस्लिम लड़की ने एक दूसरे से प्रेम हो गया था और इसी बार 21 जनवरी को दोनों ने मुस्लिम रीति-रिवाज से निकाह कर लिया यह दोनों की पहली शादी थी लेकिन उनके परिवार वाले इस रिश्ते से खुश नहीं थे और उनका तर्क था कि लड़की 17 वर्ष की नाबालिक है दोनों ही पक्ष से अदालत द्वारा यादगार की प्रेमी जोड़े की तरफ से तर्क दिया गया कि मुस्लिम पर्सनल बोर्ड के तहत 15 साल की मुस्लिम लड़की और लड़का दोनों ही विवाह करने योग्य इस मामले में अपना फैसला सुनाते हुए पंजाब और हरियाणा हाई कोर्ट ने साडी अजीमुल्ला की किताब प्रिंसिपल मोहम्मद अल्लाह का हवाला देते हुए कहा कि 15 वर्ष की मुस्लिम लड़की और 15 वर्ष का मुस्लिम लड़का दोनों ही अपनी पसंद से शादी करने के लिए स्वतंत्र हैं उन्हें किसी से अनुमति लेने की आवश्यकता नहीं है और यह मुस्लिम पर्सनल ला द्वारा ही तय किया गया है धन्यवाद

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
वर्तमान में अनेक लड़कों को वधू नहीं मिलने पर प्रमुख कारण क्या है?Vartmaan Mein Anek Ladkon Ko Vadhu Nahin Milne Par Pramukh Karan Kya Hai
Ashok Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Ashok जी का जवाब
कृषक👳💦
1:02
कुछ तो वर्तमान में अनेक लड़कों को मधु नहीं मिल रही इसका प्रमुख कारण है परिवार नियोजन क्योंकि किसी परिवार में यदि एक लड़का और एक लड़की पैदा होती है तो मैं परिवार परिवार नियोजन का विकल्प चुन लेता है इतना ही नहीं किसी परिवार में यदि 2 लड़के एक लड़का हो जाता है तब भी में परिवार नियोजन करा लेते हैं ऐसे में लड़कियों की संख्या दिन प्रतिदिन घट रही है इसका एक और कारण है कन्या भूर्ण हत्या कला की सरकार ने कन्या भ्रूण पर कड़े प्रतिबंध लगाए इसके बावजूद भी संपन्न और पढ़े-लिखे परिवारों के लोग तक गैर कानूनी तौर पर कन्या भूण हत्या करने और कराने पर नहीं चूकते इसकी वजह से भी समाज में लड़कियों की संख्या दिन-प्रतिदिन घटती जा रही है वह कुछ लड़कों को बाद में नहीं मिल पा रही है धन्यवाद

#भारत की राजनीति

Ashok Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Ashok जी का जवाब
कृषक👳💦
1:28
कि महंगाई कम होने के कोई भी चांस नहीं है दिन प्रतिदिन खाने पीने की वस्तुएं गैस सिलेंडर आप की सब्जी हैं तो सभी के रेट बढ़ रहा है भाई जब हम हमारे गेहूं की फसल किसान भेजता है तो वह ₹2000 कुंडल में जाता है और जब वह भी खरीदने जाता है उसको ₹6000 कुंडल में मिलता है तो इस प्रकार से व्यापारी लोग महंगाई को बढ़ा रहा है और सरकार भी उसको नहीं रोक सकती क्योंकि वे टैक्स भरते हैं और आगे चलकर तो और भी रेट बढ़ने वाले क्योंकि अब सरकार ने जो तीन कृषि कानून बनाएं उसमें आपके फल सब्जी या दाल सबको भंडारण करने की अनुमति दे दी गई है तो व्यापारी इसका स्टार्ट करेंगे और अपने मनमाने दामों में भेजेंगे बाड़मेर में भी अब जो किसान है तो जो व्यापारी उनको भेज देंगे खाद देंगे तो उसको भी खुद भी नहीं कर सकते ना बचा के रख सकते ना कहीं और भेज सकते हैं तो उसको दीदी कंपनी खरीदेगी और आपके सामने जिसने अपनी सारी जमीन का कॉन्ट्रैक्ट कर लिया है तो बेबी बाजार से अनाज खरीदेगा सवार अच्छी बात है महंगाई तो बढ़ना ही धन्यवाद
Ki mahangaee kam hone ke koee bhee chaans nahin hai din pratidin khaane peene kee vastuen gais silendar aap kee sabjee hain to sabhee ke ret badh raha hai bhaee jab ham hamaare gehoon kee phasal kisaan bhejata hai to vah ₹2000 kundal mein jaata hai aur jab vah bhee khareedane jaata hai usako ₹6000 kundal mein milata hai to is prakaar se vyaapaaree log mahangaee ko badha raha hai aur sarakaar bhee usako nahin rok sakatee kyonki ve taiks bharate hain aur aage chalakar to aur bhee ret badhane vaale kyonki ab sarakaar ne jo teen krshi kaanoon banaen usamen aapake phal sabjee ya daal sabako bhandaaran karane kee anumati de dee gaee hai to vyaapaaree isaka staart karenge aur apane manamaane daamon mein bhejenge baadamer mein bhee ab jo kisaan hai to jo vyaapaaree unako bhej denge khaad denge to usako bhee khud bhee nahin kar sakate na bacha ke rakh sakate na kaheen aur bhej sakate hain to usako deedee kampanee khareedegee aur aapake saamane jisane apanee saaree jameen ka kontraikt kar liya hai to bebee baajaar se anaaj khareedega savaar achchhee baat hai mahangaee to badhana hee dhanyavaad

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
राजा भरथरी कौन थे?Raja Bharthari Kaun The
Ashok Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Ashok जी का जवाब
कृषक👳💦
5:00
दोस्तों आज हम आपको बता रहे हैं मध्य प्रदेश में महाकाल की नगरी उज्जैन से जुड़े रहस्य इतिहास के बारे में एक घटना लोक मान्यताओं के आधार पर उज्जैन के राजा भरथरी के संबंध में एक दिलचस्प कथा मिलती है कुछ लोगों द्वारा कहा जाता है कि इस कथा के सही गलत होने की कुछ खास पुष्टि तो नहीं मिलती है परंतु सही जनमानस में राजा भरतरी से जुड़ी एक कथा काफी प्रचलित कथा के अनुसार राजा विक्रमादित्य के भाई भरथरी थे विक्रमादित्य के पहले भारत हरी राजा थे कहा जाता है कि उस समय महान योगी गोरखनाथ का शहर में आगमन हुआ और वे राजा के दरबार में पहुंचे तो राजा भरथरी ने उनका जोरदार स्वागत सत्कार किया जिससे प्रसन्न होकर गुरु गोरखनाथ ने भरथरी को एक फल दे दी और कहा इसे खाने से वह सदैव युवा एवं सुंदर बने रहेंगे और साथ ही हरदम जोश में रहेंगे यानी उन्हें कभी बुढ़ापा नहीं आएगा गुरु गोरखनाथ से यह वरदान पाकर राजा भरथरी ने पुनः उनका आदर सत्कार किया और उन्हें विदा किया परंतु उनके जाने के बाद राजा ने सोचा कि उन्हें जवानी और सुंदरता की क्या आवश्यकता अचानक से उनके मन में ख्याल आया कि क्यों नहीं है पल पिंगला को दे दिया जाए बता दें पिंगला राजा की तीसरे नंबर की अति सुंदर पत्नी थी उन्होंने सोचा कि यह फल पिंगला खा ले नहीं तो वैसा देव सुंदर और युवा बनी रहेगी अपनी तीसरी पत्नी पर राजा अत्यधिक मोहित आता उन्होंने यह सोचकर भोपाल अपनी तीसरे नंबर की अति सुंदर पत्नी पिंगला को दे दिया कहते हैं कि रानी पिंगला भरथरी पर नहीं बल्कि उसके राज के कोदवा पर मरती थी और उससे के संबंध भी थे जो बात राजा नहीं जानते थे जब राजा ने वह चमत्कारी फल रानी को दिया तो रानी ने सोचा कि क्यों न एप्पल कोतवाल को दे दिया जाए इससे वह लंबे समय तक उसकी इच्छाओं की पूर्ति करता रहेगा रानी ने यह सोचकर वह चमत्कारी पल कोतवाल को दे दिया लेकिन सबसे बड़े आश्चर्य की बात तो यह निकली कि कोतवाल एक वेश्या से प्रेम करता था और उसने उस चमत्कारी फल को उस बेस्या को यह सोच कर दे दिया कि मैं इसे खाकर सदा के लिए जवान और सुंदर बनी रहेगी जिसके चलते मेरी इच्छाओं की पूर्ति होती रहेगी परंतु वैश्या को जब से ताल मिला तो उसने सोचा कि अगर वह ऐसे खा लेगी तो वह सदा के लिए जवान और सुंदर बनी रहेगी तो उसे यह गंदा काम हमेशा के लिए करना ही पड़ेगा इस नक्श उसको कभी भी मुक्ति नहीं मिलेगी इसलिए वेश्या ने सोचा कि इस फल की सबसे ज्यादा जरूरत तो हमारे दयालु राजा को है क्योंकि अगर वह हमेशा के लिए जवान रहेंगे तो लंबे समय तक प्रजा को सुख सुविधाएं मिलती रहेंगी यही सोचकर वैसा ने वह चमत्कारी फल राजा भरथरी को जा कर दिया तो भरतरी हैरान इसी हैरानी भरे बाद में उन्होंने पूछा कि यह फल उसे कहां से प्राप्त हुआ व्यस्त था ने बताई है पर उसके प्रेमी कोतवाल ने दिया है भरथरी ने तुरंत कोतवाल को बुलवाया और पूछा कि तुम्हें यह पल किसने दिया तो उसने बहुत ही शक्ति करने के बाद बताइए एप्पल उसे रानी पिंगला ने दिया इस सच को सुनकर राजा दंग रह गए जैसे उनके पैरों तले से जमीन खिसक गई हो अब सारा माजरा समझ गए कि रानी पिंगला उन्हें धोखा दे रही है अपनी प्रिय पत्नी के धोखे से भरथरी के मन में बैराग उत्पन्न हो गया और भी अपना संपूर्ण राज्य विक्रमादित्य को सौंपकर उज्जैन की एक गुफा में तपस्या करने चले गए कहा जाता है कि भरथरी ने 12 वर्षों तक इस गुफा में तपस्या की कहते हैं कि असल में यह सारी गुरु गोरखनाथ की लीला तू बता दे राजा भरतरी ने कई ग्रंथ लेकर जिसमें वैराग शतक श्रृंगार शतक और नीति शतक काफी चर्चित है बता दे यह गुफा उज्जैन में भरथरी भरथरी की गुफा का एक शहर के बाहर सुनसान क्षेत्र में स्थित है जिसके पास ही शिप्रा नदी है यहां पर एक गुफाओ है जो की पहली गुफा से अधिक छोटी है कहते हैं कि यह गुफा राजा भरथरी के भतीजे गोपीचंद की है गुफा में राजा भरथरी की एक प्रतिमा स्थापित प्रतिमा के सामने यह धोनी भी है
Doston aaj ham aapako bata rahe hain madhy pradesh mein mahaakaal kee nagaree ujjain se jude rahasy itihaas ke baare mein ek ghatana lok maanyataon ke aadhaar par ujjain ke raaja bharatharee ke sambandh mein ek dilachasp katha milatee hai kuchh logon dvaara kaha jaata hai ki is katha ke sahee galat hone kee kuchh khaas pushti to nahin milatee hai parantu sahee janamaanas mein raaja bharataree se judee ek katha kaaphee prachalit katha ke anusaar raaja vikramaadity ke bhaee bharatharee the vikramaadity ke pahale bhaarat haree raaja the kaha jaata hai ki us samay mahaan yogee gorakhanaath ka shahar mein aagaman hua aur ve raaja ke darabaar mein pahunche to raaja bharatharee ne unaka joradaar svaagat satkaar kiya jisase prasann hokar guru gorakhanaath ne bharatharee ko ek phal de dee aur kaha ise khaane se vah sadaiv yuva evan sundar bane rahenge aur saath hee haradam josh mein rahenge yaanee unhen kabhee budhaapa nahin aaega guru gorakhanaath se yah varadaan paakar raaja bharatharee ne punah unaka aadar satkaar kiya aur unhen vida kiya parantu unake jaane ke baad raaja ne socha ki unhen javaanee aur sundarata kee kya aavashyakata achaanak se unake man mein khyaal aaya ki kyon nahin hai pal pingala ko de diya jae bata den pingala raaja kee teesare nambar kee ati sundar patnee thee unhonne socha ki yah phal pingala kha le nahin to vaisa dev sundar aur yuva banee rahegee apanee teesaree patnee par raaja atyadhik mohit aata unhonne yah sochakar bhopaal apanee teesare nambar kee ati sundar patnee pingala ko de diya kahate hain ki raanee pingala bharatharee par nahin balki usake raaj ke kodava par maratee thee aur usase ke sambandh bhee the jo baat raaja nahin jaanate the jab raaja ne vah chamatkaaree phal raanee ko diya to raanee ne socha ki kyon na eppal kotavaal ko de diya jae isase vah lambe samay tak usakee ichchhaon kee poorti karata rahega raanee ne yah sochakar vah chamatkaaree pal kotavaal ko de diya lekin sabase bade aashchary kee baat to yah nikalee ki kotavaal ek veshya se prem karata tha aur usane us chamatkaaree phal ko us besya ko yah soch kar de diya ki main ise khaakar sada ke lie javaan aur sundar banee rahegee jisake chalate meree ichchhaon kee poorti hotee rahegee parantu vaishya ko jab se taal mila to usane socha ki agar vah aise kha legee to vah sada ke lie javaan aur sundar banee rahegee to use yah ganda kaam hamesha ke lie karana hee padega is naksh usako kabhee bhee mukti nahin milegee isalie veshya ne socha ki is phal kee sabase jyaada jaroorat to hamaare dayaalu raaja ko hai kyonki agar vah hamesha ke lie javaan rahenge to lambe samay tak praja ko sukh suvidhaen milatee rahengee yahee sochakar vaisa ne vah chamatkaaree phal raaja bharatharee ko ja kar diya to bharataree hairaan isee hairaanee bhare baad mein unhonne poochha ki yah phal use kahaan se praapt hua vyast tha ne bataee hai par usake premee kotavaal ne diya hai bharatharee ne turant kotavaal ko bulavaaya aur poochha ki tumhen yah pal kisane diya to usane bahut hee shakti karane ke baad bataie eppal use raanee pingala ne diya is sach ko sunakar raaja dang rah gae jaise unake pairon tale se jameen khisak gaee ho ab saara maajara samajh gae ki raanee pingala unhen dhokha de rahee hai apanee priy patnee ke dhokhe se bharatharee ke man mein bairaag utpann ho gaya aur bhee apana sampoorn raajy vikramaadity ko saumpakar ujjain kee ek gupha mein tapasya karane chale gae kaha jaata hai ki bharatharee ne 12 varshon tak is gupha mein tapasya kee kahate hain ki asal mein yah saaree guru gorakhanaath kee leela too bata de raaja bharataree ne kaee granth lekar jisamen vairaag shatak shrrngaar shatak aur neeti shatak kaaphee charchit hai bata de yah gupha ujjain mein bharatharee bharatharee kee gupha ka ek shahar ke baahar sunasaan kshetr mein sthit hai jisake paas hee shipra nadee hai yahaan par ek guphao hai jo kee pahalee gupha se adhik chhotee hai kahate hain ki yah gupha raaja bharatharee ke bhateeje gopeechand kee hai gupha mein raaja bharatharee kee ek pratima sthaapit pratima ke saamane yah dhonee bhee hai

#भारत की राजनीति

Ashok Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Ashok जी का जवाब
कृषक👳💦
1:53
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने जब किसान सम्मान निधि योजना की घोषणा की थी कि सालाना ₹6000 गरीब किसानों को मिलेंगे तो तभी उन्होंने कहा था कि सन 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने का लक्ष्य रखा है तो स्वाभाविक सी बात है उसी समय तीनों कृषि कानूनों की रूपरेखा तैयार कर ली गई थी रिलायंस इंडस्ट्रीज और मोदी जी के बीच क्या कुछ करार हुआ है यह तो स्पष्ट तौर पर कुछ भी नहीं कहा जा सकता लेकिन जिस तरह से रिलायंस वाले जगह-जगह बड़े-बड़े गोदाम बना रहे हैं उन्हें देखकर लगता है कि कोई ना कोई करार हुआ है उन्हें देखते हुए मोदी जी ने किसानों का यह प्राइवेट करण किया है और मीडिया वाले यह मोदी जी की इसलिए बढ़ाएंगे करते हैं कि जनता में सकारात्मक भाव प्रचारित किए जा सके उनकी योजनाओं को बढ़ा चढ़ाकर और अच्छा बताया जाए क्योंकि जो गोदी मीडिया है यानी एक तरह से जिसके नाम से यह स्पष्ट है यानी सरकार का गोद लिया हुआ मीडिया जैसे अपना जी न्यूज़ हुआ आज तक हुआ अर्णब गोस्वामी का चैनल है और भी बाबा रामदेव के चैनल हैं अंबानी के चैनल हैं तो यह हमेशा सरकार की योजनाओं को बढ़ा चढ़ाकर बताते हैं क्योंकि सरकार के द्वारा उन्हें पैसा मिलता है दोस्तों आपको दैनिक भास्कर पढ़ना चाहिए मैं दैनिक भास्कर ऐप डाउनलोड किया है वह निष्पक्ष न्यूज़ बताता है और भी कई चैनल है जो निष्पक्ष खबरें पहुंचाते तो कुछ कांग्रेस की भी चैनल है तो हम उन चैनलों को देखते हैं उनके पेपर पढ़ते हैं तो वह सारे मोदी जी के जितने भी कार्य उनकी बुराई करते हैं तो हमको वह चैनल भी नहीं देखना चाहिए
Pradhaanamantree narendr modee jee ne jab kisaan sammaan nidhi yojana kee ghoshana kee thee ki saalaana ₹6000 gareeb kisaanon ko milenge to tabhee unhonne kaha tha ki san 2022 tak kisaanon kee aay dogunee karane ka lakshy rakha hai to svaabhaavik see baat hai usee samay teenon krshi kaanoonon kee rooparekha taiyaar kar lee gaee thee rilaayans indastreej aur modee jee ke beech kya kuchh karaar hua hai yah to spasht taur par kuchh bhee nahin kaha ja sakata lekin jis tarah se rilaayans vaale jagah-jagah bade-bade godaam bana rahe hain unhen dekhakar lagata hai ki koee na koee karaar hua hai unhen dekhate hue modee jee ne kisaanon ka yah praivet karan kiya hai aur meediya vaale yah modee jee kee isalie badhaenge karate hain ki janata mein sakaaraatmak bhaav prachaarit kie ja sake unakee yojanaon ko badha chadhaakar aur achchha bataaya jae kyonki jo godee meediya hai yaanee ek tarah se jisake naam se yah spasht hai yaanee sarakaar ka god liya hua meediya jaise apana jee nyooz hua aaj tak hua arnab gosvaamee ka chainal hai aur bhee baaba raamadev ke chainal hain ambaanee ke chainal hain to yah hamesha sarakaar kee yojanaon ko badha chadhaakar bataate hain kyonki sarakaar ke dvaara unhen paisa milata hai doston aapako dainik bhaaskar padhana chaahie main dainik bhaaskar aip daunalod kiya hai vah nishpaksh nyooz bataata hai aur bhee kaee chainal hai jo nishpaksh khabaren pahunchaate to kuchh kaangres kee bhee chainal hai to ham un chainalon ko dekhate hain unake pepar padhate hain to vah saare modee jee ke jitane bhee kaary unakee buraee karate hain to hamako vah chainal bhee nahin dekhana chaahie

#भारत की राजनीति

Ashok Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Ashok जी का जवाब
कृषक👳💦
1:10
एक साधारण परिवार के घर का जो मुखिया होता है तो वह भी अपने परिवार के सदस्यों के लिए हित के लिए ही कार्य करता है तो देश का मुखिया बनना तो बहुत बड़ी बात है और हमारे जो प्रधानमंत्री जी हैं तो हमारे देश के भले के लिए ही कार्य कर रहा है इसमें कोई दो राय नहीं हां जो आंदोलन हो रहा है इस समय जो किसान आंदोलन कर रहे हैं तो इसमें भी अब उन्होंने जो भी कानून बनाए तो उन्होंने व्यापारियों को और किसानों को जोड़ने का कार्य किया है और अब संशोधन करने के लिए तैयार भी है हालांकि कुछ बात है इस किसान नाराज है तो मुझे लगता है क्या सहमति बन जाएगी और बहुत जल्द आंदोलन खत्म भी हो जाएंगे धन्यवाद
Ek saadhaaran parivaar ke ghar ka jo mukhiya hota hai to vah bhee apane parivaar ke sadasyon ke lie hit ke lie hee kaary karata hai to desh ka mukhiya banana to bahut badee baat hai aur hamaare jo pradhaanamantree jee hain to hamaare desh ke bhale ke lie hee kaary kar raha hai isamen koee do raay nahin haan jo aandolan ho raha hai is samay jo kisaan aandolan kar rahe hain to isamen bhee ab unhonne jo bhee kaanoon banae to unhonne vyaapaariyon ko aur kisaanon ko jodane ka kaary kiya hai aur ab sanshodhan karane ke lie taiyaar bhee hai haalaanki kuchh baat hai is kisaan naaraaj hai to mujhe lagata hai kya sahamati ban jaegee aur bahut jald aandolan khatm bhee ho jaenge dhanyavaad

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
क्या राकेश टिकैत को सजा होनी चाहिए?Kya Rakesh Tikait Ko Saja Honi Chaiye
Ashok Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Ashok जी का जवाब
कृषक👳💦
0:43
यह दोस्तों राकेश टिकैत किसान नेता है और वह किसानों के हक की लड़ाई लड़ रहे हैं लगातार दो महीने से शांतिपूर्ण है अपना आंदोलन कर रहा है और संविधान के अनुसार यह हमारा मौलिक अधिकार भी है कि हम हमारे ऊपर हो रहे अत्याचार का विरोध कर सकते हो यह तीनों कृषि कानून किसानों को लूटने के लिए बनाए गए तो लुटेरों का यानी विरोध तो करना ही चाहिए तो इसमें यह सवाल ही नहीं उठता कि राकेश टिकट कोई आने की सजा मिलना चाहिए आपका पहली निरर्थक लगता है आप अंधभक्ति से प्रेरित धन्यवाद
Yah doston raakesh tikait kisaan neta hai aur vah kisaanon ke hak kee ladaee lad rahe hain lagaataar do maheene se shaantipoorn hai apana aandolan kar raha hai aur sanvidhaan ke anusaar yah hamaara maulik adhikaar bhee hai ki ham hamaare oopar ho rahe atyaachaar ka virodh kar sakate ho yah teenon krshi kaanoon kisaanon ko lootane ke lie banae gae to luteron ka yaanee virodh to karana hee chaahie to isamen yah savaal hee nahin uthata ki raakesh tikat koee aane kee saja milana chaahie aapaka pahalee nirarthak lagata hai aap andhabhakti se prerit dhanyavaad

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
क्या सरकार किसानों के आंदोलन को कुचलने में कामयाब हो गए हैं?Kya Sarkar Kisanon Ke Andolan Ko Kuchlne Mein Kamyab Ho Gaye Hain
Ashok Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Ashok जी का जवाब
कृषक👳💦
1:12
देखिए जब भारत में अंग्रेजी सरकार थी तो वह भी मोदी सरकार की तरह तानाशाही किसानों पर अत्याचार करती थी लेकिन जब आजादी की क्रांति उठी तो अंग्रेजी हुकूमत को देश छोड़कर जाना ही पड़ा उसी तरीके से यह तानाशाही सरकार है जो कि किसान आंदोलन दबाने की कोशिश कर रही है और इस क्रांति का एक रूप आज 26 जनवरी को देख ही चुके किसान यूनियन का झंडा लाल किले पर लहरा दिया तो किसानों की एकता को सरकार ने देख लिया होगा और जब से सोशल मीडिया पर बताया जा रहा था कि जिम मुट्ठी भर के सामने फिर लाखों की संख्या में कैसे किसान हो गए और यदि लाखों की करोड़ों की संख्या में अगर आतंकवादी होते हैं तो सरकार के कर रही सरकार कोई व्यवस्था ही नहीं संभाल पाए अभी तो खालसा पंथ का झंडा और किसान यूनियन का झंडा लाल किले में लहराया है जब तुम्हारा प्रशासन फेल हो गया सिस्टम पूरा बेकाबू हो गया तो कोई पाकिस्तान का झंडा भी लहरा सकता है धन्यवाद
Dekhie jab bhaarat mein angrejee sarakaar thee to vah bhee modee sarakaar kee tarah taanaashaahee kisaanon par atyaachaar karatee thee lekin jab aajaadee kee kraanti uthee to angrejee hukoomat ko desh chhodakar jaana hee pada usee tareeke se yah taanaashaahee sarakaar hai jo ki kisaan aandolan dabaane kee koshish kar rahee hai aur is kraanti ka ek roop aaj 26 janavaree ko dekh hee chuke kisaan yooniyan ka jhanda laal kile par lahara diya to kisaanon kee ekata ko sarakaar ne dekh liya hoga aur jab se soshal meediya par bataaya ja raha tha ki jim mutthee bhar ke saamane phir laakhon kee sankhya mein kaise kisaan ho gae aur yadi laakhon kee karodon kee sankhya mein agar aatankavaadee hote hain to sarakaar ke kar rahee sarakaar koee vyavastha hee nahin sambhaal pae abhee to khaalasa panth ka jhanda aur kisaan yooniyan ka jhanda laal kile mein laharaaya hai jab tumhaara prashaasan phel ho gaya sistam poora bekaaboo ho gaya to koee paakistaan ka jhanda bhee lahara sakata hai dhanyavaad

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
लाल किले पर किसानों की बात न मान कर सरकार ने लोकतंत्र को आज जख्मी किया है क्या आप मुझ से सहमत है?Laal Kile Par Kisaanon Kee Baat Na Maan Kar Sarakaar Ne Lokatantr Ko Aaj Jakhmee Kiya Hai Kya Aap Mujh Se Sahamat Hai
Ashok Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Ashok जी का जवाब
कृषक👳💦
0:47
की बात सही है सरकार ने किसानों की कोई भी मांगे नहीं मानी और पुलिस ने किसानों को रोकने के लिए ऐसे कटीले तार लगाए जिन्हें किसान खेतों में जानवरों से बचाने के लिए भी नहीं लगाते जिनमें अगर कोई जानवर पास जाए ना तो उसकी मौत हो जाती है पुलिस किसानों पर आंसू गोले छोड़ रही है किसके सहारे पर अमित शाह के सारे पर तो यह एक तरह से लोकतंत्र की हत्या के सामान्य किसानों को आंदोलन करने से रोका जा रहा है उन पर लाठीचार्ज किया जा रहा है उन पर राजद्रोह का केस दर्ज किया जा रहा है जबकि उनका अधिकार बनता है धन्यवाद
Kee baat sahee hai sarakaar ne kisaanon kee koee bhee maange nahin maanee aur pulis ne kisaanon ko rokane ke lie aise kateele taar lagae jinhen kisaan kheton mein jaanavaron se bachaane ke lie bhee nahin lagaate jinamen agar koee jaanavar paas jae na to usakee maut ho jaatee hai pulis kisaanon par aansoo gole chhod rahee hai kisake sahaare par amit shaah ke saare par to yah ek tarah se lokatantr kee hatya ke saamaany kisaanon ko aandolan karane se roka ja raha hai un par laatheechaarj kiya ja raha hai un par raajadroh ka kes darj kiya ja raha hai jabaki unaka adhikaar banata hai dhanyavaad

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
क्या भारत में लोकतंत्र की जड़ें कमजोर हो रही है?Kya Bharat Mein Loktantr Ki Jadein Kamjor Ho Rahi Hai
Ashok Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Ashok जी का जवाब
कृषक👳💦
0:27
देखी जब से बीजेपी की सरकार आई है तब सेना ने लोकतंत्र को हिला कर रख दिया और षड्यंत्रकारी सरकार बन गई यह किसानों के खिलाफ खड़े अंतरराष्ट्रीय देश के स्वर्ण और दलितों के बीच दीवार खड़ी कर रहे हैं मुसलमान और हिंदुओं के बीच षड्यंत्र रच रहे तो यह बिल्कुल लोकतंत्र के लिए खतरा है और हमें इनका बहिष्कार करना चाहिए धन्यवाद
Dekhee jab se beejepee kee sarakaar aaee hai tab sena ne lokatantr ko hila kar rakh diya aur shadyantrakaaree sarakaar ban gaee yah kisaanon ke khilaaph khade antararaashtreey desh ke svarn aur daliton ke beech deevaar khadee kar rahe hain musalamaan aur hinduon ke beech shadyantr rach rahe to yah bilkul lokatantr ke lie khatara hai aur hamen inaka bahishkaar karana chaahie dhanyavaad

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
क्या देश को दंगों से बचाने के लिए कुछ न्यूज़ चैनलों को बंद करने की जरूरत है?Kya Desh Ko Dango Se Bachane Ke Lie Kuch News Channels Ko Band Karne Ki Jarurat Hai
Ashok Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Ashok जी का जवाब
कृषक👳💦
0:21
देश को यदि दंगों से बचाना है तो हमें एक गोदी मीडिया का बहिष्कार करना होगा यह ऐसे मीडिया हैं जो ब्राह्मण जानकारी फैलाकर और जनता को भड़का देते हैं और सर पर देशद्रोह का ही काम कर रहे हैं यह लोग कभी भी जनता को सही न्यूज़ नहीं दिखाते धन्यवाद
Desh ko yadi dangon se bachaana hai to hamen ek godee meediya ka bahishkaar karana hoga yah aise meediya hain jo braahman jaanakaaree phailaakar aur janata ko bhadaka dete hain aur sar par deshadroh ka hee kaam kar rahe hain yah log kabhee bhee janata ko sahee nyooz nahin dikhaate dhanyavaad

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
क्या किसान आंदोलन यहां से अपनी मांगे मनवाने में सफल होगा?Kya Kisan Andolan Yaha Se Apni Maange Manavane Me Safal Hoga
Ashok Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Ashok जी का जवाब
कृषक👳💦
0:22
किसान नेता अजित सिंह ने अब आंदोलन में एंट्री कर ली है इसे हम जाट पॉलिटिक्स भी कहते हैं और किसान यहां से अपनी मांगे बिल्कुल मनवा कर ही रहेंगे या फिर सरकारी गिर जाएगी अराजकता का माहौल पैदा हो जाएगा और अमित शाह और मोदी को इस्तीफा देना पड़ सकता है धन्यवाद
Kisaan neta ajit sinh ne ab aandolan mein entree kar lee hai ise ham jaat politiks bhee kahate hain aur kisaan yahaan se apanee maange bilkul manava kar hee rahenge ya phir sarakaaree gir jaegee araajakata ka maahaul paida ho jaega aur amit shaah aur modee ko isteepha dena pad sakata hai dhanyavaad

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
किसानों की कृषि कानूनों को सरकार से वापस लेने की जिद को आप कैसे समझते हैं?Kisaanon Kee Krshi Kaanoonon Ko Sarakaar Se Vaapas Lene Kee Jid Ko Aap Kaise Samajhate Hain
Ashok Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Ashok जी का जवाब
कृषक👳💦
2:34
विकी दोस्तों किसानों की दो प्रमुख मांगे हैं एक तो एमएसपी की गारंटी दी जाए और उस पर ऐसा कोई कानून बनाया जाए कि कोई भी एमएसपी से कम रेट में किसान का अनाज नहीं खरीद सके तो ऐसा करने से किसान का शोषण रुकेगा और दूसरी मां ने तीनों कानूनों को वापस लिया जाए तो देखिए सर सरकार ने किसानों का अनाज मंडी से बाहर करने की खुली छूट दी है कोई भी पैन कार्ड धारक किसान का मंडी से बाहर अनाज खरीद सकता है तो ऐसे में पैन कार्ड धारक से मतलब है जो भी कोई टैक्स देने वाला व्यक्ति तो फिर जो मंडी में व्यापारी है तो वह सरकार को टैक्स देते हैं तो फिर भी मंडी में क्यों किसान का नाच खरीदेंगे तो धीरे-धीरे माननीय खत्म हो जाए और आवश्यक वस्तु अधिनियम जो है तो तेरे हम फसलें हैं दलहनी फसलें हैं आलू प्याज जैसी सब्जियां हैं तो इनका भंडार करने की सरकार ने खुली छूट दे दी है तो देखिए किसानों का अनाज या जो सब्जी है तो फसल आने पर 10 या ₹12 किलो में बिकती हैं तो इससे क्या है कि जब बड़े बड़े व्यापारी इसका भंडारण करेंगे तो फिर भेज इसे अधिक से अधिक मूल्य पर भेजेंगे तो इससे किसान को कोई फायदा नहीं है और जनता को भी कोई फायदा नहीं है इस सिर्फ व्यापारियों को ही लाभ होने वाला है तो इस हिसाब से यह तीनों कानून व्यापारियों को ही लाभ पहुंचाते पूंजी पतियों को क्योंकि किसान तो भंडारण कर नहीं सकता तो इस हिसाब से सरकार को इन तीनों कानूनों को वापस ले लेना चाहिए अब सरकार कह रही है कि हम डेढ़ साल के लिए रोक लगा देते हैं तो देखिए दोस्तों जब कोई भी बीमारी है तो आप उसका इलाज नहीं कर रहा है उसे जड़ से खत्म नहीं कर रहा है उसको कुछ समय के लिए अटका रहा है तो बीमारी बढ़ती जाएगी तो ऐसे में किसान का यूनुस खान है और सरकार का भी मुस्कान है आने वाले चुनाव में कोई भी किसान बीजेपी को सपोर्ट नहीं करेगा
Vikee doston kisaanon kee do pramukh maange hain ek to emesapee kee gaarantee dee jae aur us par aisa koee kaanoon banaaya jae ki koee bhee emesapee se kam ret mein kisaan ka anaaj nahin khareed sake to aisa karane se kisaan ka shoshan rukega aur doosaree maan ne teenon kaanoonon ko vaapas liya jae to dekhie sar sarakaar ne kisaanon ka anaaj mandee se baahar karane kee khulee chhoot dee hai koee bhee pain kaard dhaarak kisaan ka mandee se baahar anaaj khareed sakata hai to aise mein pain kaard dhaarak se matalab hai jo bhee koee taiks dene vaala vyakti to phir jo mandee mein vyaapaaree hai to vah sarakaar ko taiks dete hain to phir bhee mandee mein kyon kisaan ka naach khareedenge to dheere-dheere maananeey khatm ho jae aur aavashyak vastu adhiniyam jo hai to tere ham phasalen hain dalahanee phasalen hain aaloo pyaaj jaisee sabjiyaan hain to inaka bhandaar karane kee sarakaar ne khulee chhoot de dee hai to dekhie kisaanon ka anaaj ya jo sabjee hai to phasal aane par 10 ya ₹12 kilo mein bikatee hain to isase kya hai ki jab bade bade vyaapaaree isaka bhandaaran karenge to phir bhej ise adhik se adhik mooly par bhejenge to isase kisaan ko koee phaayada nahin hai aur janata ko bhee koee phaayada nahin hai is sirph vyaapaariyon ko hee laabh hone vaala hai to is hisaab se yah teenon kaanoon vyaapaariyon ko hee laabh pahunchaate poonjee patiyon ko kyonki kisaan to bhandaaran kar nahin sakata to is hisaab se sarakaar ko in teenon kaanoonon ko vaapas le lena chaahie ab sarakaar kah rahee hai ki ham dedh saal ke lie rok laga dete hain to dekhie doston jab koee bhee beemaaree hai to aap usaka ilaaj nahin kar raha hai use jad se khatm nahin kar raha hai usako kuchh samay ke lie ataka raha hai to beemaaree badhatee jaegee to aise mein kisaan ka yoonus khaan hai aur sarakaar ka bhee muskaan hai aane vaale chunaav mein koee bhee kisaan beejepee ko saport nahin karega

#भारत की राजनीति

Ashok Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Ashok जी का जवाब
कृषक👳💦
1:18
कुछ तो बीजेपी का भी नहीं चाहती थी कि 26 जनवरी के दिन है किसानों की ट्रैक्टर रैली का प्रदर्शन हो और सरकार की शान क्रिकेट यो यो कि आज पूरा विश्व देख रहा है किसानों ने जिस प्रकार रैली में प्रदर्शन किया है और जब किसान लाखों की तादाद में ट्रैक्टर लेकर आ गए तो मजबूरन पुलिस कौन की बात मानना पर यदि पुलिस नहीं मानती तब भी किसानों की रैली निकलना बिल्कुल परेशान किसान पूरी तैयारी के साथ आए थे और उन्होंने जाकर लाल किले पर किसान यूनियन का और खालसा पंथ का झंडा बिगाड़ दिया है जिसमें किसानों के ऊपर आंसू गैस के गोले भी छोड़े गए एक किसान जो कहकर से कर्तव्य खा रहा था उसने गोली भी मार दी गई और लाठीचार्ज हुआ तो किसानों ने भी जवाब में लाठीचार्ज किया तो कुछ पुलिसवाले घायल हो गए इसलिए सरकार अब इस आंदोलन को दबाना चाहती है और सरकार ने किसानों के ऊपर देशद्रोह का केस दायर किया है धन्यवाद
Kuchh to beejepee ka bhee nahin chaahatee thee ki 26 janavaree ke din hai kisaanon kee traiktar railee ka pradarshan ho aur sarakaar kee shaan kriket yo yo ki aaj poora vishv dekh raha hai kisaanon ne jis prakaar railee mein pradarshan kiya hai aur jab kisaan laakhon kee taadaad mein traiktar lekar aa gae to majabooran pulis kaun kee baat maanana par yadi pulis nahin maanatee tab bhee kisaanon kee railee nikalana bilkul pareshaan kisaan pooree taiyaaree ke saath aae the aur unhonne jaakar laal kile par kisaan yooniyan ka aur khaalasa panth ka jhanda bigaad diya hai jisamen kisaanon ke oopar aansoo gais ke gole bhee chhode gae ek kisaan jo kahakar se kartavy kha raha tha usane golee bhee maar dee gaee aur laatheechaarj hua to kisaanon ne bhee javaab mein laatheechaarj kiya to kuchh pulisavaale ghaayal ho gae isalie sarakaar ab is aandolan ko dabaana chaahatee hai aur sarakaar ne kisaanon ke oopar deshadroh ka kes daayar kiya hai dhanyavaad

#कुछ अलग

bolkar speaker
इस बार गणतंत्र दिवस की परेड के इतिहास में पहली बार क्या-क्या हुआ?Is Baar Ganatantr Divas Kee Pared Ke Itihaas Mein Pahalee Baar Kya-kya Hua
Ashok Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Ashok जी का जवाब
कृषक👳💦
2:27
26 जनवरी 2021 को देश 72 वा रिपब्लिक डे मना रहा है कुछ ही देर में राजपथ पर रिपब्लिक डे की परेड भी शुरू हो जाएगी कोरोनावायरस बार परेड की सूरत बदली बदली नजर आएगी 55 साल में पहली बार ऐसा होगा जो रिपब्लिक डे परेड में कोई चीज गेट शामिल नहीं हो रहा है इससे पहले भारत में 1952 1953 और 1966 में भी गणतंत्र दिवस परेड में कोई चीफ गेस्ट शामिल नहीं हुआ था आज राजपथ पर परेड में शामिल होने वाली झांकियों की संख्या 70 से घटाकर 32 कर दी गई इसमें 17 झांकियां राज्य और केंद्र शासित राज्यों की होगी 9 झांकियां अलग-अलग मंत्रालयों की होगी और 6 झांकियां सुरक्षाबलों की होगी परेड में शामिल सभी लोग फेस मास्क पहने रहेंगे एंट्री गेट पर ही सभी की थर्मल स्क्रीनिंग हो गई और सभी के हैंड सैनिटाइजर कराए जाएंगे परेड मार्च पास्ट करने वाले सेंड कंटिजेंट में 144 की बजाय 96 लोग होंगे सवा लाख लोगों की वजह इस बार सिर्फ 25000 लोग ही राजपथ पर परेड देखेंगे 15 साल से छोटे बच्चों और बुजुर्गों को राजपथ पर आने की इजाजत नहीं होगी पहले परेड 8.2 किलोमीटर लंबी होती थी विजय चौक से लाल किले तक जाती थी इस बार 3.3 किलोमीटर लंबी होगी विजय चौक से नेशनल स्टेडियम तक ही जाएगी बिहार के दरभंगा जिले की रहने वाली भावना कांत गणतंत्र दिवस की परेड में शामिल होने वाली पहली महिला फाइटर पायलट होगी पहली बार राफेल नजर आएगा यह वर्टिकल चार्ली फार्मेशन में उड़ान भरेगा वीरता पुरस्कारों की परेड और बहादुरी पुरस्कार हासिल करने वाले बच्चे भी 72 बरगढ़ मातृ दिवस समारोह में नहीं होंगे स्कूल और कालेज के 100 मेधावी छात्रों को प्रधानमंत्री के बाद से गणतंत्र दिवस परेड देखने का मौका मिलेगा रिपब्लिक डे परेड में पहली बार सेंट्रल बायो टेक्नोलॉजी डिपार्टमेंट यानी कि डीबीटी की झांकी शामिल होने जा रही है इसमें डिपार्टमेंट की ओर से कोरोनावायरस इन के बारे में बताया जाएगा जय हिंद
26 janavaree 2021 ko desh 72 va ripablik de mana raha hai kuchh hee der mein raajapath par ripablik de kee pared bhee shuroo ho jaegee koronaavaayaras baar pared kee soorat badalee badalee najar aaegee 55 saal mein pahalee baar aisa hoga jo ripablik de pared mein koee cheej get shaamil nahin ho raha hai isase pahale bhaarat mein 1952 1953 aur 1966 mein bhee ganatantr divas pared mein koee cheeph gest shaamil nahin hua tha aaj raajapath par pared mein shaamil hone vaalee jhaankiyon kee sankhya 70 se ghataakar 32 kar dee gaee isamen 17 jhaankiyaan raajy aur kendr shaasit raajyon kee hogee 9 jhaankiyaan alag-alag mantraalayon kee hogee aur 6 jhaankiyaan surakshaabalon kee hogee pared mein shaamil sabhee log phes maask pahane rahenge entree get par hee sabhee kee tharmal skreening ho gaee aur sabhee ke haind sainitaijar karae jaenge pared maarch paast karane vaale send kantijent mein 144 kee bajaay 96 log honge sava laakh logon kee vajah is baar sirph 25000 log hee raajapath par pared dekhenge 15 saal se chhote bachchon aur bujurgon ko raajapath par aane kee ijaajat nahin hogee pahale pared 8.2 kilomeetar lambee hotee thee vijay chauk se laal kile tak jaatee thee is baar 3.3 kilomeetar lambee hogee vijay chauk se neshanal stediyam tak hee jaegee bihaar ke darabhanga jile kee rahane vaalee bhaavana kaant ganatantr divas kee pared mein shaamil hone vaalee pahalee mahila phaitar paayalat hogee pahalee baar raaphel najar aaega yah vartikal chaarlee phaarmeshan mein udaan bharega veerata puraskaaron kee pared aur bahaaduree puraskaar haasil karane vaale bachche bhee 72 baragadh maatr divas samaaroh mein nahin honge skool aur kaalej ke 100 medhaavee chhaatron ko pradhaanamantree ke baad se ganatantr divas pared dekhane ka mauka milega ripablik de pared mein pahalee baar sentral baayo teknolojee dipaartament yaanee ki deebeetee kee jhaankee shaamil hone ja rahee hai isamen dipaartament kee or se koronaavaayaras in ke baare mein bataaya jaega jay hind

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
सरकार किसानों की बात क्यों नही मानना चाहती ?Sarkaar Kyo Kisano Ki Baat Nahi Manna Chahti Hai
Ashok Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Ashok जी का जवाब
कृषक👳💦
0:42
दोस्तों इसके कई कारण हो सकते हैं एक तो सरकार जिस प्रकार से बीएसएनल हो चाहे बैंकिंग हो या रेलवे विभाग हर क्षेत्र में आने प्राइवेट ही करंट कर रही है तो इसी प्रकार किसानों का भी प्राइवेट ही कारण किया है जिसमें हो सकता है मुकेश अंबानी से कोई करार किया गया हो या पैर मुकेश अंबानी ने भारत से बाहर जाने की धमकी दी और मुकेश अंबानी यदि भारत से बाहर चले जाते तो हमारे देश की अर्थव्यवस्था और भी गिर जाए तो हो सकता है इसलिए सरकार किसानों की बात नहीं मान रही हो धन्यवाद
Doston isake kaee kaaran ho sakate hain ek to sarakaar jis prakaar se beeesenal ho chaahe bainking ho ya relave vibhaag har kshetr mein aane praivet hee karant kar rahee hai to isee prakaar kisaanon ka bhee praivet hee kaaran kiya hai jisamen ho sakata hai mukesh ambaanee se koee karaar kiya gaya ho ya pair mukesh ambaanee ne bhaarat se baahar jaane kee dhamakee dee aur mukesh ambaanee yadi bhaarat se baahar chale jaate to hamaare desh kee arthavyavastha aur bhee gir jae to ho sakata hai isalie sarakaar kisaanon kee baat nahin maan rahee ho dhanyavaad

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
मोदी सरकार कृषि कानून स्थगित करने के लिए क्यों तैयार हो गई?Modi Sarkar Krishi Kanun Sthagit Karne Ke Lie Kyun Taiyar Ho Gaye
Ashok Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Ashok जी का जवाब
कृषक👳💦
0:52
सरकार की और किसानों की 11011 बैठकर हो चुकी है जिनमें कोई बात नहीं बनी क्योंकि सरकार कड़ा रुख अपना रही है और जिस प्रकार से हर क्षेत्र में प्राइवेट करण कर रही है उसी प्रकार से कृषि कानून भी एक प्राइवेट करण का यह काम है तो सरकार चाहती है कि इस आंदोलन से किसी भी प्रकार से बचा जाए और 2024 में फिर से यानी कि अपनी सरकार बना कर और कानूनों को लागू कर दिया जाएगा तो इसलिए सरकार कानूनों को स्थगित करने के लिए और किसानों को भड़काना चाहती है और अपने पक्ष में कर लेना चाहती है जनता को बस इसका यही कारण है कि सरकार 2 साल के लिए कानूनों को स्थगित करना चाहती है धन्यवाद
Sarakaar kee aur kisaanon kee 11011 baithakar ho chukee hai jinamen koee baat nahin banee kyonki sarakaar kada rukh apana rahee hai aur jis prakaar se har kshetr mein praivet karan kar rahee hai usee prakaar se krshi kaanoon bhee ek praivet karan ka yah kaam hai to sarakaar chaahatee hai ki is aandolan se kisee bhee prakaar se bacha jae aur 2024 mein phir se yaanee ki apanee sarakaar bana kar aur kaanoonon ko laagoo kar diya jaega to isalie sarakaar kaanoonon ko sthagit karane ke lie aur kisaanon ko bhadakaana chaahatee hai aur apane paksh mein kar lena chaahatee hai janata ko bas isaka yahee kaaran hai ki sarakaar 2 saal ke lie kaanoonon ko sthagit karana chaahatee hai dhanyavaad

#भारत की राजनीति

Ashok Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Ashok जी का जवाब
कृषक👳💦
1:55
तो सरकार बीएसएनल हो या रेलवे विभाग हो या बैंकिंग का चित्र या एयर इंडिया हो या सरकारी विद्यालय स्कूल तो सबका प्राइवेट ही कारण कर रही है तो यह किसी कानून है यह भी एक प्रकार का निजीकरण करना ही है तो इन सब में देखिए गरीब इंसान तो रेलवे खरीद नहीं सकता एयर इंडिया खरीद नहीं सकता पूंजीपति लोग ही खरीदेंगे तो इसी प्रकार किसी कानून से भी पूंजी पतियों कोई लाभ होने वाला है किसानों को तो कल मिलना नहीं है और इसीलिए किसान आंदोलन कर रहे हैं अब सरकार के पास इस समय बहुमत है तो सरकार कड़ा रुख अपना रही है तो सरकार घमंड में तो इसलिए बात नहीं बन पा रही है और किसान चाहते हैं कि एमएसपी पर कानून बने और सरकार से 2 साल के लिए टाल देना शादी तो यह किसानों का कहना है कि ताकि किसी भी बीमारी है तो जैसे यह कानून एक कैंसर की तरह आप जितना इनको रोकोगे डालोगे 2 साल पा लोगे तो कैंसर का खतरा उतना ही अधिक बढ़ जाता है तो किसान चाहते हैं कि इस बीमारी को जड़ से खत्म किया जाए और रही कानूनों की बात तो इसमें जब तक यह सरकार कहती है कि हम सुधार कर देंगे सुधार कर देंगे तो यहां आने की बीमारी आने कानून गलत है तो इस से अच्छा है कि नहीं खत्म कर दिया जाना चाहिए और कानून फिर से भी बना सकती मगर सरकार अपनी रणनीति अपना रही है कि किसी भी प्रकार से आंदोलन को टाल दिया जाए और 2024 में हमारी फिर से सरकार बन जाए जबकि किसान अब जाग चुका है अब ऐसा होना मुमकिन नहीं है देखते हैं आगे क्या होता है धन्यवाद
To sarakaar beeesenal ho ya relave vibhaag ho ya bainking ka chitr ya eyar indiya ho ya sarakaaree vidyaalay skool to sabaka praivet hee kaaran kar rahee hai to yah kisee kaanoon hai yah bhee ek prakaar ka nijeekaran karana hee hai to in sab mein dekhie gareeb insaan to relave khareed nahin sakata eyar indiya khareed nahin sakata poonjeepati log hee khareedenge to isee prakaar kisee kaanoon se bhee poonjee patiyon koee laabh hone vaala hai kisaanon ko to kal milana nahin hai aur iseelie kisaan aandolan kar rahe hain ab sarakaar ke paas is samay bahumat hai to sarakaar kada rukh apana rahee hai to sarakaar ghamand mein to isalie baat nahin ban pa rahee hai aur kisaan chaahate hain ki emesapee par kaanoon bane aur sarakaar se 2 saal ke lie taal dena shaadee to yah kisaanon ka kahana hai ki taaki kisee bhee beemaaree hai to jaise yah kaanoon ek kainsar kee tarah aap jitana inako rokoge daaloge 2 saal pa loge to kainsar ka khatara utana hee adhik badh jaata hai to kisaan chaahate hain ki is beemaaree ko jad se khatm kiya jae aur rahee kaanoonon kee baat to isamen jab tak yah sarakaar kahatee hai ki ham sudhaar kar denge sudhaar kar denge to yahaan aane kee beemaaree aane kaanoon galat hai to is se achchha hai ki nahin khatm kar diya jaana chaahie aur kaanoon phir se bhee bana sakatee magar sarakaar apanee rananeeti apana rahee hai ki kisee bhee prakaar se aandolan ko taal diya jae aur 2024 mein hamaaree phir se sarakaar ban jae jabaki kisaan ab jaag chuka hai ab aisa hona mumakin nahin hai dekhate hain aage kya hota hai dhanyavaad

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
राजा राममोहन राय और नरेंद्र मोदी में कितनी समानताएं हैं?Raja Raammohan Ray Aur Narendra Modi Mein Kitni Samantaein Hain
Ashok Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Ashok जी का जवाब
कृषक👳💦
0:31
दोस्तों राजा राममोहन राय और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी में वास्तव में बस एक ही समानता है राजा राममोहन राय ने स्त्रियों पर हो रहे अत्याचार सती प्रथा का विरोध किया और उसे खत्म कर दिया था और प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने महिलाओं पर हो रहे अत्याचार तीन तलाक को खत्म कर दिया धन्यवाद
Doston raaja raamamohan raay aur pradhaanamantree narendr modee jee mein vaastav mein bas ek hee samaanata hai raaja raamamohan raay ne striyon par ho rahe atyaachaar satee pratha ka virodh kiya aur use khatm kar diya tha aur pradhaanamantree shree narendr modee jee ne mahilaon par ho rahe atyaachaar teen talaak ko khatm kar diya dhanyavaad

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
भारत में मरने के बाद तेरहवीं क्यों मनाते हैं?Bharat Mein Marne Ke Bad Terhveen Kyun Manate Hai
Ashok Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Ashok जी का जवाब
कृषक👳💦
1:21
किसी व्यक्ति की मृत्यु के बाद देर में करना एक प्रकार का शुद्धि यज्ञ माना जाता है 13 दिन घर में पूजा पाठ और हवन का आयोजन भी किया जाता है इसके पीछे मानता है कि इससे मृत व्यक्ति की आत्मा को शांति मिलती है भाई इसके पीछे वैज्ञानिक कारण भी हैं जिसके अनुसार घर में पूजा पाठ और हवन से हमारे घर का वातावरण ठीक हो जाता है साथ ही बंद हो जाता है जिससे हमारे घर में मौजूद सभी व्यक्ति रिया मर जाते हैं इसके साथी सूतक की समाप्ति हो जाती है एक अध्ययन के अनुसार मनुष्य के उदास रहने की अधिकतम सीमा 13 दिन होती है इसके बाद भी अगर उदासी कम नहीं होती है तो वह लोग मानसिक तौर पर बीमार भी पड़ सकते हैं उसे उदासी और अवसाद घेर लेते हैं यही वजह है कि मृत्यु के बाद फिर भी के दिन ब्राह्मण भोजन कराकर और पगड़ी रस में कराई जाती है और सभी सगे संबंधियों के बीच घर का नया मुख्य चुना जाता है जिससे रिश्तेदार अपने सार्वजनिक कार्यक्रमों में जैसे शादी है शादी की सालगिरह आदि में परिवार के नए मुखिया को आमंत्रित करने लगते हैं
Kisee vyakti kee mrtyu ke baad der mein karana ek prakaar ka shuddhi yagy maana jaata hai 13 din ghar mein pooja paath aur havan ka aayojan bhee kiya jaata hai isake peechhe maanata hai ki isase mrt vyakti kee aatma ko shaanti milatee hai bhaee isake peechhe vaigyaanik kaaran bhee hain jisake anusaar ghar mein pooja paath aur havan se hamaare ghar ka vaataavaran theek ho jaata hai saath hee band ho jaata hai jisase hamaare ghar mein maujood sabhee vyakti riya mar jaate hain isake saathee sootak kee samaapti ho jaatee hai ek adhyayan ke anusaar manushy ke udaas rahane kee adhikatam seema 13 din hotee hai isake baad bhee agar udaasee kam nahin hotee hai to vah log maanasik taur par beemaar bhee pad sakate hain use udaasee aur avasaad gher lete hain yahee vajah hai ki mrtyu ke baad phir bhee ke din braahman bhojan karaakar aur pagadee ras mein karaee jaatee hai aur sabhee sage sambandhiyon ke beech ghar ka naya mukhy chuna jaata hai jisase rishtedaar apane saarvajanik kaaryakramon mein jaise shaadee hai shaadee kee saalagirah aadi mein parivaar ke nae mukhiya ko aamantrit karane lagate hain

#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker
गाय का निबंध बताओ ?Gay Ka Nibandh Batao
Ashok Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Ashok जी का जवाब
कृषक👳💦
1:23
डिग्गी दोस्तों आपने कभी ना कभी अपने और पास गाय को अवश्य देखा होगा तो हमें बस लिखना यही है यह कई प्रकार के रंगों में पाई जाती है जैसे सफेद काली चितकबरी भूरी इसके अलावा हमें यह देखना है कि गाय के दो सिंग होते हैं दो कान होते हैं दो आंखें होती हैं और एक होता है इसके अलावा गाय की पूंछ होती है चार पैर होते हैं चार यानी कि उसके दूध देने के थन होते हैं जिनमें से वह दूध देती है इसके अलावा इसको हम हरा चारा खिलाते हैं यह भूसा रोटी यह भी खाती है और यह शाकाहारी जानवर और गाय के गोबर से हमको भी ले बनाते खंड इसके अलावा गाय के गोबर का खाद भी बनता है गाय की जो बछड़ी है बड़े होकर होने बेल बनाए आ जाता है जो कि हर खींचने के काम में आते गाय के दूध से हम चाय बनाकर पीते इसका दूध बहुत स्वादिष्ट होता है जिससे हम कई तरह के पकवान बनाते हैं भाई बनाते हैं लस्सी बनाते हैं और इसके दही से भी भी निकलता है तो यह एक बहुत ही उपयोगी पशु धन्यवाद
Diggee doston aapane kabhee na kabhee apane aur paas gaay ko avashy dekha hoga to hamen bas likhana yahee hai yah kaee prakaar ke rangon mein paee jaatee hai jaise saphed kaalee chitakabaree bhooree isake alaava hamen yah dekhana hai ki gaay ke do sing hote hain do kaan hote hain do aankhen hotee hain aur ek hota hai isake alaava gaay kee poonchh hotee hai chaar pair hote hain chaar yaanee ki usake doodh dene ke than hote hain jinamen se vah doodh detee hai isake alaava isako ham hara chaara khilaate hain yah bhoosa rotee yah bhee khaatee hai aur yah shaakaahaaree jaanavar aur gaay ke gobar se hamako bhee le banaate khand isake alaava gaay ke gobar ka khaad bhee banata hai gaay kee jo bachhadee hai bade hokar hone bel banae aa jaata hai jo ki har kheenchane ke kaam mein aate gaay ke doodh se ham chaay banaakar peete isaka doodh bahut svaadisht hota hai jisase ham kaee tarah ke pakavaan banaate hain bhaee banaate hain lassee banaate hain aur isake dahee se bhee bhee nikalata hai to yah ek bahut hee upayogee pashu dhanyavaad

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
किसान आंदोलन अब तक चल रहा है या थम गया कोई जवाब देगा?Kisan Andolan Ab Tak Chal Raha Hai Ya Tham Gaya Koi Jawab Dega
Ashok Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Ashok जी का जवाब
कृषक👳💦
2:16
दोस्तों कृषि कानूनों के खिलाफ किसान आंदोलन का 55 वादे ने आज किसानों ने 23 और 24 जनवरी को किसान संसद का आयोजन करने का ऐलान किया यह आयोजन सिंधु बॉर्डर के पास गुरु तेग बहादुर मेमोरियल में किया जाएगा इसमें आंदोलन से जुड़े सभी मुद्दों के अलावा एमएसबी पर भी बात होगी सुप्रीम कोर्ट के कुछ रिटायर्ड जज कुछ पूर्व सांसद पत्रकार पी साईनाथ सामाजिक कार्यकर्ता मेधा पाटकर सीनियर एडवोकेट प्रशांत भूषण इसमें शामिल होंगे इसी बीच किसानों ने 26 जनवरी को ट्रैक्टर मार्च निकालने को लेकर मंगलवार को दिल्ली पुलिस के साथ मीटिंग भी की है और सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे ने 30 जनवरी से किसानों के समर्थन में रामलीला मैदान में अनशन शुरू करने का ऐलान किया है लेकिन केंद्र सरकार के निर्देश पर भाजपा की राज्य इकाई ने पूर्व कृषि मंत्री राधाकृष्ण विखे पाटील को अन्ना को मनाने का जिम्मा सौंपा है देखे पाटिल का प्रभाव क्षेत्र महाराष्ट्र के अहमदनगर का पहला का माना जाता है जहां अन्ना का गांव रालेगण सिद्धि सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को कहा था कि दिल्ली में किसानों को एंट्री दी जाएगी या नहीं यह पुलिस तय करेगी क्योंकि यह कानून व्यवस्था से जुड़ा मुद्दा है इस मामले में कल बुधवार को सुनवाई होगी इसके अलावा किसान और सरकार के बीच बातचीत का 11 वा दौर है लेकिन सरकार ने सोमवार रात बताया कि मीटिंग मंगलवार की बजाय बुधवार को की जाएगी इससे पहले 10 दौर की बैठकों में से 9 वर्ड बेनतीजा रही सुप्रीम कोर्ट द्वारा बनाई गई कमेटी 21 जनवरी को किसानों से बातचीत के लिए मिलेगी साथी वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए भी बातचीत की जाएगी
Doston krshi kaanoonon ke khilaaph kisaan aandolan ka 55 vaade ne aaj kisaanon ne 23 aur 24 janavaree ko kisaan sansad ka aayojan karane ka ailaan kiya yah aayojan sindhu bordar ke paas guru teg bahaadur memoriyal mein kiya jaega isamen aandolan se jude sabhee muddon ke alaava emesabee par bhee baat hogee supreem kort ke kuchh ritaayard jaj kuchh poorv saansad patrakaar pee saeenaath saamaajik kaaryakarta medha paatakar seeniyar edavoket prashaant bhooshan isamen shaamil honge isee beech kisaanon ne 26 janavaree ko traiktar maarch nikaalane ko lekar mangalavaar ko dillee pulis ke saath meeting bhee kee hai aur saamaajik kaaryakarta anna hajaare ne 30 janavaree se kisaanon ke samarthan mein raamaleela maidaan mein anashan shuroo karane ka ailaan kiya hai lekin kendr sarakaar ke nirdesh par bhaajapa kee raajy ikaee ne poorv krshi mantree raadhaakrshn vikhe paateel ko anna ko manaane ka jimma saumpa hai dekhe paatil ka prabhaav kshetr mahaaraashtr ke ahamadanagar ka pahala ka maana jaata hai jahaan anna ka gaanv raalegan siddhi supreem kort ne somavaar ko kaha tha ki dillee mein kisaanon ko entree dee jaegee ya nahin yah pulis tay karegee kyonki yah kaanoon vyavastha se juda mudda hai is maamale mein kal budhavaar ko sunavaee hogee isake alaava kisaan aur sarakaar ke beech baatacheet ka 11 va daur hai lekin sarakaar ne somavaar raat bataaya ki meeting mangalavaar kee bajaay budhavaar ko kee jaegee isase pahale 10 daur kee baithakon mein se 9 vard benateeja rahee supreem kort dvaara banaee gaee kametee 21 janavaree ko kisaanon se baatacheet ke lie milegee saathee veediyo kaamphrensing ke jarie bhee baatacheet kee jaegee

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
धरती में पीने का पानी कितना प्रतिशत है?Dharti Mein Peene Ka Paani Kitna Pratishat Hain
Ashok Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Ashok जी का जवाब
कृषक👳💦
1:20
दोस्तों आप यह तो जानते ही हैं कि पृथ्वी का 71% हिस्सा पानी से ढका हुआ है जिसमें से 1.6% पानी जमीन के नीचे है और 0.001% बॉस और बादलों के रूप में पृथ्वी की सतह पर जो पानी है उसमें से 97% साग्रो और महासागरों में है जो कि नमकीन है और पीने के काम में नहीं आ सकता केवल 3% पानी पीने योग्य जिसमें से 2.4% ग्लेशियरों और उत्तरी दक्षिणी दुर्ग में जमा हुआ है और केवल 0.6% पानी नदियों झीलों और तालाबों में है जिसे इस्तेमाल किया जा सकता है एक अनुमान के अनुसार पृथ्वी पर कुल 32 करोड़ 60 लाख खराब गैलन पानी है और एक रोचक बात यह भी है कि यह मात्रा घटती बढ़ती नहीं है सागर का पानी पास बनकर उड़ता है बादल बनकर बरसता है और फिर सागरों में जैसा माता है और यह चक्र चलता रहता है धन्यवाद
Doston aap yah to jaanate hee hain ki prthvee ka 71% hissa paanee se dhaka hua hai jisamen se 1.6% paanee jameen ke neeche hai aur 0.001% bos aur baadalon ke roop mein prthvee kee satah par jo paanee hai usamen se 97% saagro aur mahaasaagaron mein hai jo ki namakeen hai aur peene ke kaam mein nahin aa sakata keval 3% paanee peene yogy jisamen se 2.4% gleshiyaron aur uttaree dakshinee durg mein jama hua hai aur keval 0.6% paanee nadiyon jheelon aur taalaabon mein hai jise istemaal kiya ja sakata hai ek anumaan ke anusaar prthvee par kul 32 karod 60 laakh kharaab gailan paanee hai aur ek rochak baat yah bhee hai ki yah maatra ghatatee badhatee nahin hai saagar ka paanee paas banakar udata hai baadal banakar barasata hai aur phir saagaron mein jaisa maata hai aur yah chakr chalata rahata hai dhanyavaad

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
आईएमएफ ने भारत के कृषि कानूनों को अच्छा क्यों बताया है?Imf Ne Bharat Ke Krishi Kanunon Ko Acha Kyun Bataya Hai
Ashok Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Ashok जी का जवाब
कृषक👳💦
1:34
दोस्तों इंटरनेशनल मॉनेटरी फंड यानी कि अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष आईएमएफ का मानना है कि तीनों आलिया कानून भारत में कृषि सुधारों को आगे बढ़ाने की दिशा में उठाया गया महत्वपूर्ण कदम है कि आईएमएफ ने यह भी जोड़ा है कि नई व्यवस्था को अपनाने की प्रक्रिया के दौरान प्रतिकूल प्रभाव जलने वाले लोगों के बचाव के लिए सामाजिक सुरक्षा का प्रबंध जरूरी है आईएमएफ के एंकर संचालक निर्देशक गिरिराज ने वाशिंगटन में कहा है कि नए कानून बिचौलियों की भूमिका को कम करेंगे और दक्षता बढ़ाएंगे उन्होंने कहा हमारा मानना है कि इन तीनों कानूनों में भारत में कृषि सुधारों को आगे बढ़ाया जाने का प्रतिनिधित्व करने की क्षमता है प्राइस ने कहा है कि यह कानून किसानों को खरीदारों से प्रत्यक्ष संबंध बनाने का मौका देंगे इससे बिचौलियों की भूमिका कम होगी दक्षता बढ़ेगी जो किसानों को अपनी ऊंची फसल की बेहतर कीमत हासिल करने में मदद करेगा और अंधता ग्रामीण क्षेत्र की वृद्धि को बल देगा उन्होंने कहा है कि इस प्रक्रिया में जिन लोगों की नौकरियां जाएंगी जाने पर चोलिया उनके लिए कुछ ऐसी व्यवस्था की जानी चाहिए कि बेरोजगार बाजार में समायोजित
Doston intaraneshanal monetaree phand yaanee ki antararaashtreey mudra kosh aaeeemeph ka maanana hai ki teenon aaliya kaanoon bhaarat mein krshi sudhaaron ko aage badhaane kee disha mein uthaaya gaya mahatvapoorn kadam hai ki aaeeemeph ne yah bhee joda hai ki naee vyavastha ko apanaane kee prakriya ke dauraan pratikool prabhaav jalane vaale logon ke bachaav ke lie saamaajik suraksha ka prabandh jarooree hai aaeeemeph ke enkar sanchaalak nirdeshak giriraaj ne vaashingatan mein kaha hai ki nae kaanoon bichauliyon kee bhoomika ko kam karenge aur dakshata badhaenge unhonne kaha hamaara maanana hai ki in teenon kaanoonon mein bhaarat mein krshi sudhaaron ko aage badhaaya jaane ka pratinidhitv karane kee kshamata hai prais ne kaha hai ki yah kaanoon kisaanon ko khareedaaron se pratyaksh sambandh banaane ka mauka denge isase bichauliyon kee bhoomika kam hogee dakshata badhegee jo kisaanon ko apanee oonchee phasal kee behatar keemat haasil karane mein madad karega aur andhata graameen kshetr kee vrddhi ko bal dega unhonne kaha hai ki is prakriya mein jin logon kee naukariyaan jaengee jaane par choliya unake lie kuchh aisee vyavastha kee jaanee chaahie ki berojagaar baajaar mein samaayojit

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
हमारे देश की कितनी जनता का व्यवसाय कृषि है?Kitni Janta Ka Vyavsaay Krshi Hai
Ashok Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Ashok जी का जवाब
कृषक👳💦
2:04
दोस्तों जैसा कि हम जानते हैं भारत एक कृषि प्रधान देश है और कृषि का अर्थ है फसल उत्पादन करने की प्रक्रिया फसल उत्पादन पशु पालन आदि की कला विज्ञान और तकनीकी को किसे कहते हैं भूमि के उपयोग द्वारा फसल उत्पादन करने की क्रिया और प्रक्रिया को कृषि कहते हैं कृषि एक प्राथमिक कार्य जिसका मुख्य उद्देश्य प्राकृतिक संसाधनों का उपयोग द्वारा मानवीय आवश्यकताओं की पूर्ति करना है कृषि के अंतर्गत भूमि उपयोग से जुड़े सभी मानवीय कार्य सम्मिलित होते हैं कृषि के अंतर्गत जीप को पाचन की प्रक्रिया में कृषि क्षेत्र का निर्माण फसल उत्पादन पशु पालन आदि की अवस्था से लेकर आज की विशिष्ट कीर्ति जो सुपर टेक्नोलॉजी से किया जाता है इसको भी सम्मिलित किया जाता है बीटीसी के अनुसार पादप एवं पशु मूल के उत्पादों की प्राप्ति के उद्देश्य से किए गए मानव प्रयास को कृषि कहते हैं इसके अंतर्गत फसल उत्पादन फलोत्पादन पशु पालन मधु पालन मछली पालन इत्यादि को भी सम्मिलित किया जाता है कृषक कर्म के द्वारा मानव के उपयोग के लिए खाद्य पदार्थ औद्योगिक उपयोग के लिए कच्चा माल का उत्पादन किया जाता है तो इसमें लगभग 55% ऐसे किसान है जो खेती किसानी करते हैं और 10% इसमें मजदूर लगते हैं और लगभग 10% ऐसे लोग हैं जो इसका व्यापार करते हैं इस प्रकार यदि देखा जाए तो भारत में लगभग 70 से 75% लोग खेती पर निर्भर हैं धन्यवाद
Doston jaisa ki ham jaanate hain bhaarat ek krshi pradhaan desh hai aur krshi ka arth hai phasal utpaadan karane kee prakriya phasal utpaadan pashu paalan aadi kee kala vigyaan aur takaneekee ko kise kahate hain bhoomi ke upayog dvaara phasal utpaadan karane kee kriya aur prakriya ko krshi kahate hain krshi ek praathamik kaary jisaka mukhy uddeshy praakrtik sansaadhanon ka upayog dvaara maanaveey aavashyakataon kee poorti karana hai krshi ke antargat bhoomi upayog se jude sabhee maanaveey kaary sammilit hote hain krshi ke antargat jeep ko paachan kee prakriya mein krshi kshetr ka nirmaan phasal utpaadan pashu paalan aadi kee avastha se lekar aaj kee vishisht keerti jo supar teknolojee se kiya jaata hai isako bhee sammilit kiya jaata hai beeteesee ke anusaar paadap evan pashu mool ke utpaadon kee praapti ke uddeshy se kie gae maanav prayaas ko krshi kahate hain isake antargat phasal utpaadan phalotpaadan pashu paalan madhu paalan machhalee paalan ityaadi ko bhee sammilit kiya jaata hai krshak karm ke dvaara maanav ke upayog ke lie khaady padaarth audyogik upayog ke lie kachcha maal ka utpaadan kiya jaata hai to isamen lagabhag 55% aise kisaan hai jo khetee kisaanee karate hain aur 10% isamen majadoor lagate hain aur lagabhag 10% aise log hain jo isaka vyaapaar karate hain is prakaar yadi dekha jae to bhaarat mein lagabhag 70 se 75% log khetee par nirbhar hain dhanyavaad

#भारत की राजनीति

Ashok Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Ashok जी का जवाब
कृषक👳💦
0:39
दोस्तों जब किसी भी पात्र में बर्फ जमाया गया हो और यदि पूरे बर्फ को पकड़कर यानी पानी बन जाए तो पानी की मात्रा पर क्या असर पड़ेगा कि दोस्तों जब बर्फ पिघल जाता है तब जल स्तर सामान्य रहता है और जब पानी होशिया गैस में बदलता है तो पानी का केवल भौतिक रूप बदलता है इसके अनु समान रहते पानी पर कोई असर नहीं पड़ेगा और यह ठीक उसी प्रकार है जो कि हम इसको पीने के लिए भी यूज़ कर सकते धन्यवाद
Doston jab kisee bhee paatr mein barph jamaaya gaya ho aur yadi poore barph ko pakadakar yaanee paanee ban jae to paanee kee maatra par kya asar padega ki doston jab barph pighal jaata hai tab jal star saamaany rahata hai aur jab paanee hoshiya gais mein badalata hai to paanee ka keval bhautik roop badalata hai isake anu samaan rahate paanee par koee asar nahin padega aur yah theek usee prakaar hai jo ki ham isako peene ke lie bhee yooz kar sakate dhanyavaad

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
प्राचीन काल में ऋषि मुनि तपस्या करते हुए हजारों साल कैसे जी जाते थे?Prachen Kaal Mein Rishi Muni Tapasya Karte Hue Hajaron Saal Kaise Jee Jate The
Ashok Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Ashok जी का जवाब
कृषक👳💦
3:20
बिजी दोस्तों प्राचीन समय में मनुष्य की आयु कलयुग की अपेक्षा ज्यादा हुआ करती थी जैसे कलयुग में मनुष्य की आयु लगभग 100 वर्ष है तो इससे पहले तो आप और में 1000 वर्ष तक मनुष्य जीवित रहते थे इसी प्रकार त्रेता में 10000 वर्ष और सतयुग में 100000 वर्ष तक कि मनुष्य की आयु यानी की दीर्घायु हुआ करती थी ऐसा विवरण पुराणों में मिलता है परंतु हम वर्तमान युग कलयुग की एक छोटी सी कहानी सुनाते महान संत ज्ञानेश्वर जी महाराज की जिन्होंने योग के बल पर सैकड़ों साल जीने वाले चांद देव जी महाराज का अभिमान भंग किया था संदीप जी महाराज सिद्धि के बल पर 1412 दिए थे उन्होंने मृत्यु को 42 बार वापस लौटा दिया था परंतु उन्हें प्रतिष्ठा का बड़ा मोहता चांद देव जी ने जब यह संत ज्ञानेश्वर जी की कीर्ति सुनी तो उन्हें सर्वत्र सम्मान मिल रहा था चांद देव जी से यह सब सहाना गया और वे मन ही मन ज्ञानेश्वर जी से ईर्ष्या करने लगे चांद देव जी को लगने लगा कि ज्ञानेश्वर जी को पत्र लिखो परंतु उन्हें समझ में नहीं आ रहा था कि पत्र का आरंभ कैसे करें क्योंकि ज्ञानेश्वर जी की आयु उस समय मात्र 16 वर्ष थी अदाओं ने पूज्य कैसे लिखा जाए चिरंजीवी कैसे लिखा जाए क्योंकि वे महात्मा है आखिर क्या लिखें उन्हें कुछ समझ में नहीं आ रहा था इसलिए को राही पत्र भेज दिया तो संतो की भाषा संत ही जानते उस समय उनकी शिष्या मुक्ताबाई ने पत्र का उत्तर दिया हाथ की अवस्था 14 अक्टूबर से फिर भी आप इस पत्र की भांति कोरे यह पत्र पढ़कर चांगदेव जी महाराज को लगा कि ऐसे ज्ञानी पुरुष से मिलना चाहिए हालांकि चांद चांद देव जी को सिद्धियों का गर्व था इसलिए बेबाक पर बैठकर उस बात पर सर की लगाम लगाकर ज्ञानेश्वर जी महाराज से मिलने के लिए निकले जब ज्ञानेश्वर जी को यह ज्ञात हुआ कि चांद देव जी महाराज उनसे मिलने आ रहे हैं तब उन्हें लगा कि आगे बढ़ कर उनका स्वागत सत्कार करना चाहिए उस समय संत ज्ञानेश्वर जिस चबूतरा पर बैठे थे उसी चबूतरे को भी चलने का आदेश दिया तो चबूतरा चलने लगा जब चांद देव जी महाराज ने चबूतरे को चलते हुए देखा जिस पर संत ज्ञानेश्वर जी महाराज विराजमान थे तब उन्हें विश्वास हो गया कि ज्ञानेश्वर जी मुझसे सर्वश्रेष्ठ हैं क्योंकि उनका वस्तुओं पर भी अधिकार है मेरा अधिकार तो केवल जीवित प्राणियों पर है उसी पल चांद देव जी संत ज्ञानेश्वर जी के शिष्य बन गए कहने का आशय है कि मनोज योग और तप के बल पर उम्र बढ़ाने की सिद्धियां भी प्राप्त कर सकता है धन्यवाद
Bijee doston praacheen samay mein manushy kee aayu kalayug kee apeksha jyaada hua karatee thee jaise kalayug mein manushy kee aayu lagabhag 100 varsh hai to isase pahale to aap aur mein 1000 varsh tak manushy jeevit rahate the isee prakaar treta mein 10000 varsh aur satayug mein 100000 varsh tak ki manushy kee aayu yaanee kee deerghaayu hua karatee thee aisa vivaran puraanon mein milata hai parantu ham vartamaan yug kalayug kee ek chhotee see kahaanee sunaate mahaan sant gyaaneshvar jee mahaaraaj kee jinhonne yog ke bal par saikadon saal jeene vaale chaand dev jee mahaaraaj ka abhimaan bhang kiya tha sandeep jee mahaaraaj siddhi ke bal par 1412 die the unhonne mrtyu ko 42 baar vaapas lauta diya tha parantu unhen pratishtha ka bada mohata chaand dev jee ne jab yah sant gyaaneshvar jee kee keerti sunee to unhen sarvatr sammaan mil raha tha chaand dev jee se yah sab sahaana gaya aur ve man hee man gyaaneshvar jee se eershya karane lage chaand dev jee ko lagane laga ki gyaaneshvar jee ko patr likho parantu unhen samajh mein nahin aa raha tha ki patr ka aarambh kaise karen kyonki gyaaneshvar jee kee aayu us samay maatr 16 varsh thee adaon ne poojy kaise likha jae chiranjeevee kaise likha jae kyonki ve mahaatma hai aakhir kya likhen unhen kuchh samajh mein nahin aa raha tha isalie ko raahee patr bhej diya to santo kee bhaasha sant hee jaanate us samay unakee shishya muktaabaee ne patr ka uttar diya haath kee avastha 14 aktoobar se phir bhee aap is patr kee bhaanti kore yah patr padhakar chaangadev jee mahaaraaj ko laga ki aise gyaanee purush se milana chaahie haalaanki chaand chaand dev jee ko siddhiyon ka garv tha isalie bebaak par baithakar us baat par sar kee lagaam lagaakar gyaaneshvar jee mahaaraaj se milane ke lie nikale jab gyaaneshvar jee ko yah gyaat hua ki chaand dev jee mahaaraaj unase milane aa rahe hain tab unhen laga ki aage badh kar unaka svaagat satkaar karana chaahie us samay sant gyaaneshvar jis chabootara par baithe the usee chabootare ko bhee chalane ka aadesh diya to chabootara chalane laga jab chaand dev jee mahaaraaj ne chabootare ko chalate hue dekha jis par sant gyaaneshvar jee mahaaraaj viraajamaan the tab unhen vishvaas ho gaya ki gyaaneshvar jee mujhase sarvashreshth hain kyonki unaka vastuon par bhee adhikaar hai mera adhikaar to keval jeevit praaniyon par hai usee pal chaand dev jee sant gyaaneshvar jee ke shishy ban gae kahane ka aashay hai ki manoj yog aur tap ke bal par umr badhaane kee siddhiyaan bhee praapt kar sakata hai dhanyavaad

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker
मिर्गी का दौरा क्यों पड़ता है?Mirgi Ka Daura Kyun Padta Hai
Ashok Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Ashok जी का जवाब
कृषक👳💦
3:58
दोस्तों देश भर में हर साल 17 नवंबर को नेशनल एपिलेप्सी डे मनाया जाता है डॉक्टरी भाषा में मिर्गी को एपिलेप्सी नाम से पहचाना जाता है नेशनल एपिलेप्सी डेढ़ साल मिर्गी पीड़ित व्यक्तियों के साथ उनके परिवार को भी इसके प्रति जागरूक करने के लिए मनाया जाता है तो आइए जानते हैं आज इस खास मौके पर आखिर किन व्यक्तियों को होती है मिल गई और किस स्थिति में उन्हें अचानक पड़ने लगते हैं दौरे मिर्गी एक तरह का न्यूरोलॉजिकल डिसऑर्डर है जिसमें मरीज के दिमाग में असमान तरंग पैदा होने लगती मस्तिष्क में गड़बड़ी होने के कारण व्यक्ति को बार बार दौरे पड़ने लगते हैं जिसकी वजह से व्यक्ति का दिमागी संतुलन पूरी तरह से गड़बड़ा जाता है और उसका शरीर लड़खड़ा नहीं लगता है इसका प्रभाव शरीर के किसी एक हिस्से पर देखने को मिल सकता है जैसे चेहरे हाथ या पैर पर इन दोनों में तरह-तरह के लक्षण होते हैं जैसे कि बेहोशी आना गिर पड़ना हाथ पांव में झटके आना मिर्गी किसी एक बीमारी का नाम नहीं है अनेक बीमारियों में मिर्गी जैसे दौड़े आ सकते जींस में गड़बड़ी और ब्रेन की नर्स का ठीक से काम न करने पर व्यक्ति मिर्गी से पीड़ित हो सकता है और यदि जन्म के समय बच्चे को पीलिया हो गया हो या फिर उसके ब्रेन तक किसी इंफेक्शन की वजह से पूरी ऑक्सीजन नहीं पहुंच पाई हो तो भी व्यक्ति मिर्गी से पीड़ित हो सकता है सिर पर गंभीर चोट लग जाए या कोई हादसा किसी व्यक्ति को जिसमें कि सर पर चोट लग गई हो तब भी में मिर्गी का शिकार हो सकता है ब्रेन स्ट्रोक ट्यूमर की समस्या भी मिर्गी का कारण बन सकती है यदि मां के गर्भ में ही बच्चे को किसी तरह की चोट लग गई हो तो होने वाले बच्चे को मिर्गी की शिकायत हो सकती है यदि किसी व्यक्ति को दिमाग की टीबी हो गई हो तो भी उसे मिर्गी की शिकायत झेलनी पड़ सकती है यदि व्यक्ति बेहद तनाव में रहता हो तो उसे मिर्गी का दौरा पड़ सकता है यदि किसी मिर्गी पीड़ित व्यक्ति ने अपनी दवा मिस कर दिया तो भी उसे दौरा पड़ सकता है कम नींद लेने पर भी मिर्गी का दौरा पड़ सकता है हारमोंस में बदलाव आ रहे हो ज्यादा शराब पीने पर और ब्लड शुगर का गिरजाना ब्लड प्रेशर का काम हो जाना बेहद तेज रोशनी में आने पर भी मिल गई कि दौड़े पढ़ सकते तो दगी दोस्तों मिर्गी पीड़ित व्यक्तियों को पानी के पास नहीं जाना चाहिए यदि उस समय उन्हें दौरा पड़ जाता है और वह किसी कुआं या तालाब के पास खड़े हैं तो सीधे पानी में गिर जाएंगे और उनकी मौत हो सकती है इसके अलावा मिल गई पीड़ित व्यक्तियों को आपके पास भी नहीं जाने देना चाहिए क्योंकि उन्हें उस दौरान अगर मिर्गी का दौरा पड़ता है तो वे आग में गिर जाएंगे और जल जाएंगे तो उनकी मौत का कारण भी बन सकता है इसी तरह से लाइट के पास भी मिर्गी पीड़ित व्यक्तियों को नहीं जाने देना चाहिए उनको करंट का डर रहता है वह दौरान यदि उन्हें मिल गया जाती है तो करंट से मौत हो सकती है और ज्यादा ऊंचे स्थानों पर छत पर या पहाड़ों पर या वृक्षों पर नहीं चढ़ने देना चाहिए क्योंकि उस समय अगर उन्हें मिर्गी का दौरा आ जाता है तो वहां से गिरकर भी उनकी मौत हो सकती है इसलिए कुछ सावधान नहीं रखना चाहिए धन्यवाद
Doston desh bhar mein har saal 17 navambar ko neshanal epilepsee de manaaya jaata hai doktaree bhaasha mein mirgee ko epilepsee naam se pahachaana jaata hai neshanal epilepsee dedh saal mirgee peedit vyaktiyon ke saath unake parivaar ko bhee isake prati jaagarook karane ke lie manaaya jaata hai to aaie jaanate hain aaj is khaas mauke par aakhir kin vyaktiyon ko hotee hai mil gaee aur kis sthiti mein unhen achaanak padane lagate hain daure mirgee ek tarah ka nyoorolojikal disordar hai jisamen mareej ke dimaag mein asamaan tarang paida hone lagatee mastishk mein gadabadee hone ke kaaran vyakti ko baar baar daure padane lagate hain jisakee vajah se vyakti ka dimaagee santulan pooree tarah se gadabada jaata hai aur usaka shareer ladakhada nahin lagata hai isaka prabhaav shareer ke kisee ek hisse par dekhane ko mil sakata hai jaise chehare haath ya pair par in donon mein tarah-tarah ke lakshan hote hain jaise ki behoshee aana gir padana haath paanv mein jhatake aana mirgee kisee ek beemaaree ka naam nahin hai anek beemaariyon mein mirgee jaise daude aa sakate jeens mein gadabadee aur bren kee nars ka theek se kaam na karane par vyakti mirgee se peedit ho sakata hai aur yadi janm ke samay bachche ko peeliya ho gaya ho ya phir usake bren tak kisee imphekshan kee vajah se pooree okseejan nahin pahunch paee ho to bhee vyakti mirgee se peedit ho sakata hai sir par gambheer chot lag jae ya koee haadasa kisee vyakti ko jisamen ki sar par chot lag gaee ho tab bhee mein mirgee ka shikaar ho sakata hai bren strok tyoomar kee samasya bhee mirgee ka kaaran ban sakatee hai yadi maan ke garbh mein hee bachche ko kisee tarah kee chot lag gaee ho to hone vaale bachche ko mirgee kee shikaayat ho sakatee hai yadi kisee vyakti ko dimaag kee teebee ho gaee ho to bhee use mirgee kee shikaayat jhelanee pad sakatee hai yadi vyakti behad tanaav mein rahata ho to use mirgee ka daura pad sakata hai yadi kisee mirgee peedit vyakti ne apanee dava mis kar diya to bhee use daura pad sakata hai kam neend lene par bhee mirgee ka daura pad sakata hai haaramons mein badalaav aa rahe ho jyaada sharaab peene par aur blad shugar ka girajaana blad preshar ka kaam ho jaana behad tej roshanee mein aane par bhee mil gaee ki daude padh sakate to dagee doston mirgee peedit vyaktiyon ko paanee ke paas nahin jaana chaahie yadi us samay unhen daura pad jaata hai aur vah kisee kuaan ya taalaab ke paas khade hain to seedhe paanee mein gir jaenge aur unakee maut ho sakatee hai isake alaava mil gaee peedit vyaktiyon ko aapake paas bhee nahin jaane dena chaahie kyonki unhen us dauraan agar mirgee ka daura padata hai to ve aag mein gir jaenge aur jal jaenge to unakee maut ka kaaran bhee ban sakata hai isee tarah se lait ke paas bhee mirgee peedit vyaktiyon ko nahin jaane dena chaahie unako karant ka dar rahata hai vah dauraan yadi unhen mil gaya jaatee hai to karant se maut ho sakatee hai aur jyaada oonche sthaanon par chhat par ya pahaadon par ya vrkshon par nahin chadhane dena chaahie kyonki us samay agar unhen mirgee ka daura aa jaata hai to vahaan se girakar bhee unakee maut ho sakatee hai isalie kuchh saavadhaan nahin rakhana chaahie dhanyavaad

#भारत की राजनीति

Ashok Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Ashok जी का जवाब
कृषक👳💦
1:34
मनोज कुमार यादव जी ने प्रश्न का अनुरोध किया है कि किसान के लिए जो गेल सरकार ने पास किया है वह सुविधा किसानों तक पहुंच पाएगी जो की फसल बेचने वाले किसान हैं वे अपनी राय दें तो देखी मनोज जी जिस प्रकार सरकार ने रेलवे का प्राइवेट ही कर्म किया एयर इंडिया का प्राइवेट कारण किया स्कूलों का प्राइवेट करण कर रही है उसी प्रकार यह तीनों कृषक बेल हैं यह प्राइवेट ई करण का एक हिस्सा है एम एस टी से बचने के लिए क्योंकि एमएसपी जो कानून है मनमोहन सिंह जी ने बनाया था जो हमारे भूतपूर्व प्रधानमंत्री तो मोदी सरकार उसे खत्म कर देना चाहती है अब प्यार में ही आप देख लीजिए चावल 10 से ₹12 किलो में बिक रहे हैं और आप दूसरे राज्यों में नहीं भेज सकते तो इस कानून से उन किसानों को तो फायदा पड़ेगा क्योंकि आप यदि बिहार में चावल और गेहूं के रेट सही नहीं मिल रहा है तो आप मध्य प्रदेश की मंडियों में भेज सकते हैं इसी बात को लेकर किसान आंदोलन कर रहे हैं अब यदि सरकार इन बिलों में कोई सुधार करती है फिलहाल मामला कोर्ट के पास धन्यवाद
Manoj kumaar yaadav jee ne prashn ka anurodh kiya hai ki kisaan ke lie jo gel sarakaar ne paas kiya hai vah suvidha kisaanon tak pahunch paegee jo kee phasal bechane vaale kisaan hain ve apanee raay den to dekhee manoj jee jis prakaar sarakaar ne relave ka praivet hee karm kiya eyar indiya ka praivet kaaran kiya skoolon ka praivet karan kar rahee hai usee prakaar yah teenon krshak bel hain yah praivet ee karan ka ek hissa hai em es tee se bachane ke lie kyonki emesapee jo kaanoon hai manamohan sinh jee ne banaaya tha jo hamaare bhootapoorv pradhaanamantree to modee sarakaar use khatm kar dena chaahatee hai ab pyaar mein hee aap dekh leejie chaaval 10 se ₹12 kilo mein bik rahe hain aur aap doosare raajyon mein nahin bhej sakate to is kaanoon se un kisaanon ko to phaayada padega kyonki aap yadi bihaar mein chaaval aur gehoon ke ret sahee nahin mil raha hai to aap madhy pradesh kee mandiyon mein bhej sakate hain isee baat ko lekar kisaan aandolan kar rahe hain ab yadi sarakaar in bilon mein koee sudhaar karatee hai philahaal maamala kort ke paas dhanyavaad
URL copied to clipboard