#मनोरंजन

bolkar speaker
फिल्म gangubai kthiyavadi चर्चा में कही है कौन थी gangubai kthiyavadi?Philm Gangubai Kthiyavadi Charcha Mein Kahee Hai Kaun Thee Gangubai Kthiyavadi
Vaishnavi Pandey Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Vaishnavi जी का जवाब
Student / Artist
3:33
नमस्कार मेरा नाम है वैष्णवी और आप मुझे सुन रहे हैं भारत के नंबर एक सवाल और जवाब करने वाले आप बोलकर पर सवाल किया है फिल्म गंगूबाई काठियावाड़ी चर्चा में क्यों है और कौन सी गंगूबाई काठियावाड़ी फिल्म गंगूबाई काठियावाड़ी चर्चा में है क्योंकि इसका टीचर आ चुका है इस फिल्म को डायरेक्ट किया है संजय लीला भंसाली ने फिल्म में गंगूबाई के किरदार को निभाया है आलिया भट्ट ने गंगूबाई की कहानी शुरू होती है 1960 के दशक में फिल्म जो है वह माफिया क्वींस ऑफ मुंबई नाम की एक किताब पर आधारित है जिसे एफ हुसैन जैदी और ग्रीन बोर्ड का स्नेह लिखा है इनका असली नाम गंगा जीवनदास काठियावाड़ी था इनका जन्म गुजरात के काठियावाड़ में हुआ था किताब के मुताबिक गंगूबाई कोठा चलाती थी और उन्हें धोखे में लाया गया था रखती थी और उनके घर के सदस्य पेशे से वकील हुआ करते थे रमणीक लाल नाम के अकाउंट से प्यार हो गया पता चला कि उनका परिवार इस रिश्ते से नाखुश हैं और वह इस रिश्ते को लेकर आज ही नहीं होंगे इसलिए मैं मुंबई आ गई लेकिन वहां शख्स ने जिसके लिए वे सब कुछ छोड़ कर उसके साथ मुंबई आ गई थी उसने धोखा दिया और मुंबई का कमाठीपुरा सेक्स वर्कर काम करना शुरू किया गंगूबाई ने कमाठीपुरा में हुए चुनाव में नस्ल की और 1970 के दशक में गंगूबाई का कमाठीपुरा में काफी नाम रहा है बाकी सेक्स वर्कर्स के लिए एक माह की तरह थी उन्हें सोने का काफी शौक था सुनहरी की नानी वाली साड़ी के साथ सुनहरा ब्लाउज पहना करती थी उन्होंने कितनी लड़कियों की मदद से और जबरदस्त शक्ति करण और महिला अधिकारों को लेकर उनका भाषण जो है वह काफी चर्चा में रहा था गंगूबाई को अपनी बहन माना था जब गंगूबाई की मृत्यु हुई तो वैसे उनकी तस्वीर और उनकी मूर्ति भी लगवाई गई उन्होंने तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू से भी मुलाकात की थी मुंबई में ऐसो सेंट मैरी ने लिखा है कि इस मुलाकात में गंगूबाई की सजगता और स्पष्ट विचारों से नेहरू भी हैरान है कि नेहरू ने उनसे जवाब उनसे सवाल किया था कि वो इस धंधे में क्यों आए जब क्यों नहीं अच्छी नौकरी और अच्छा पति मिल सकता था तो उन्होंने नेहरू के जवाब में इस प्रश्न में जवाब देते हुए कहा अबे आप मुझे अपनी पत्नी के रूप में स्वीकार कर लेते हैं तो मैं यह धंधा हमेशा के लिए छोड़ दूंगी नेहरू ने इस प्रस्ताव को अस्वीकार कर दिया तो गंगूबाई ने कहा कि प्रधानमंत्री जी नाराज मत होइए मैं सिर्फ अपनी बात साबित करना चाहती थी सलाह देना आसान है लेकिन उसे खुद अपनाना बेहद मुश्किल नेहरू के पास इसका कोई जवाब नहीं गंगूबाई की हर संभव मदद की उम्मीद है कि अब आपको पता चल गया होगा कि गंगूबाई कौन थी धन्यवाद
Namaskaar mera naam hai vaishnavee aur aap mujhe sun rahe hain bhaarat ke nambar ek savaal aur javaab karane vaale aap bolakar par savaal kiya hai philm gangoobaee kaathiyaavaadee charcha mein kyon hai aur kaun see gangoobaee kaathiyaavaadee philm gangoobaee kaathiyaavaadee charcha mein hai kyonki isaka teechar aa chuka hai is philm ko daayarekt kiya hai sanjay leela bhansaalee ne philm mein gangoobaee ke kiradaar ko nibhaaya hai aaliya bhatt ne gangoobaee kee kahaanee shuroo hotee hai 1960 ke dashak mein philm jo hai vah maaphiya kveens oph mumbee naam kee ek kitaab par aadhaarit hai jise eph husain jaidee aur green bord ka sneh likha hai inaka asalee naam ganga jeevanadaas kaathiyaavaadee tha inaka janm gujaraat ke kaathiyaavaad mein hua tha kitaab ke mutaabik gangoobaee kotha chalaatee thee aur unhen dhokhe mein laaya gaya tha rakhatee thee aur unake ghar ke sadasy peshe se vakeel hua karate the ramaneek laal naam ke akaunt se pyaar ho gaya pata chala ki unaka parivaar is rishte se naakhush hain aur vah is rishte ko lekar aaj hee nahin honge isalie main mumbee aa gaee lekin vahaan shakhs ne jisake lie ve sab kuchh chhod kar usake saath mumbee aa gaee thee usane dhokha diya aur mumbee ka kamaatheepura seks varkar kaam karana shuroo kiya gangoobaee ne kamaatheepura mein hue chunaav mein nasl kee aur 1970 ke dashak mein gangoobaee ka kamaatheepura mein kaaphee naam raha hai baakee seks varkars ke lie ek maah kee tarah thee unhen sone ka kaaphee shauk tha sunaharee kee naanee vaalee sari ke saath sunahara blauj pahana karatee thee unhonne kitanee ladakiyon kee madad se aur jabaradast shakti karan aur mahila adhikaaron ko lekar unaka bhaashan jo hai vah kaaphee charcha mein raha tha gangoobaee ko apanee bahan maana tha jab gangoobaee kee mrtyu huee to vaise unakee tasveer aur unakee moorti bhee lagavaee gaee unhonne tatkaaleen pradhaanamantree javaaharalaal neharoo se bhee mulaakaat kee thee mumbee mein aiso sent mairee ne likha hai ki is mulaakaat mein gangoobaee kee sajagata aur spasht vichaaron se neharoo bhee hairaan hai ki neharoo ne unase javaab unase savaal kiya tha ki vo is dhandhe mein kyon aae jab kyon nahin achchhee naukaree aur achchha pati mil sakata tha to unhonne neharoo ke javaab mein is prashn mein javaab dete hue kaha abe aap mujhe apanee patnee ke roop mein sveekaar kar lete hain to main yah dhandha hamesha ke lie chhod doongee neharoo ne is prastaav ko asveekaar kar diya to gangoobaee ne kaha ki pradhaanamantree jee naaraaj mat hoie main sirph apanee baat saabit karana chaahatee thee salaah dena aasaan hai lekin use khud apanaana behad mushkil neharoo ke paas isaka koee javaab nahin gangoobaee kee har sambhav madad kee ummeed hai ki ab aapako pata chal gaya hoga ki gangoobaee kaun thee dhanyavaad

#मनोरंजन

bolkar speaker
सलमान खान के रहस्य क्या हैं?Salamaan Khaan Ke Rahasy Kya Hain
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
2:55

#मनोरंजन

bolkar speaker
दुनिया की 10 सबसे अच्छी विज्ञान साई फाई मूवी कौन सी है?Duniya Kee 10 Sabase Achchhee Vigyaan Saee Phaee Moovee Kaun See Hai
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
3:03

#मनोरंजन

Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
1:08

#मनोरंजन

bolkar speaker
दृश्यम 2 की जबरदस्त समीक्षा के बाद, क्या बॉलीवुड इसे रीमेक करने की योजना बना रहा है?Drshyam 2 Kee Jabaradast Sameeksha Ke Baad Kya Boleevud Ise Reemek Karane Kee Yojana Bana Raha Hai
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
0:50

#मनोरंजन

shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:13

#मनोरंजन

bolkar speaker
क्या फिल्म थिएटर वालों को फिल्म खरीदनी पड़ती है और कितने में?Kya Film Theater Valon Ko Film Kharidni Padti Hai Aur Kitne Mein
Bhavesh Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Bhavesh जी का जवाब
West Bengal India is Great
2:15

#मनोरंजन

bolkar speaker
सबसे ज्यादा मोटिवेशनल किताबे कौन सी है?Sabse Jyaada Motivational Kitaabe Kaun Si Hai
Manish Kumar  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Manish जी का जवाब
Unknown
1:54

#मनोरंजन

bolkar speaker
राहु और केतु की उत्पत्ति कैसे हुई थी वह अमर कैसे बने?Rahu Aur Ketu Ki Utpatti Kaise Hui Thi Wah Amar Kaise Bane
Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
2:59

#मनोरंजन

bolkar speaker
तुझे देख कर मुझे ऐसा ही लगा वह होता है ना हर एक फिल्म में एक क्या हीरो नहीं विलन?Tujhe Dekh Kar Mujhe Aisa Hee Laga Vah Hota Hai Na Har Ek Philm Mein Ek Kya Heero Nahin Vilan
Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
3:08
आशिकी 2 पिक्चर इन पिक्चरों में आप हीरो और विलेन में कोई खास अंतर नहीं दे सकते हैं क्योंकि वह भी ब्लैक तो फिर वैसे ही वह होता है क्योंकि उसको बनाते ही रोली उसका असली होता है कि हीरो क्रोम को चमकाने के लिए लेकिन आज के हीरो जो है आज की जो पिक्चर आ रही है उनमें आप देख रहे हैं क्राइम को महिमामंडित किया जा रहा है जो कायम करने वाले लोग हैं उन लोगों को हीरो बना करके उन लोगों को हीरो बना करके जब प्रस्तुत की पिक्चरें बनाई जाती है तो उससे तो क्राइम ही पनपता है पिक्चरें पहले बना करती थीं जिनमें हीरो बातें ही अच्छा काम करते दुबले होते थे वह भी बहुत नाइस हुआ करते थे जैसे पुरानी पिक्चरों में यदि आप कांड के अभिनय को देखें तो कभी देखिएगा आपको उससे अच्छे हीरो वीर कतराते थे कि प्राण के साथ में काम करने से कपड़ा तिथि योग दर्शन प्राण साहब का जो अभिनय था वह अपने आप में बेमिसाल था उनके समान इस त्रुटि दृष्टि में कोई अभी तक नहीं हुआ है यद्यपि अमरीश पुरी में काम प्लेन का अच्छा किया है लेकिन अमरीश पुरी के काम में और प्राण साहब के काम में जमीन आसमान का अंतर था प्राण सामने करैक्टर हीरो का भी काम अच्छा किया है और ग्लेन का कार्य भी अच्छा किया है और रही हीरो के सवाल तो आज के जो हीरो है यह तो या तो एडवरटाइज ओं फेमस पैसा कमाने में रखते हैं विचार या फिर ऐसी पिक्चर बनाने में विश्वास रखती है इनको कर केवल उस करैक्टर को निभाने का पैसा मिलता है इनको इससे कोई लेना-देना नहीं कि जनता में क्या हमारा मैसेज जाता है यह समाज को क्या क्या हम दे पा रहे हैं या हम कुछ अच्छा ऐसा कार्य कर रहे हैं कि नहीं कर रहे हैं इनको तो सिर्फ पैसे से मतलब होता है जबकि पहले जो अभिनेता थे ऐसा कार्य करते थे जो समाज को शिक्षा पद कार्य होता था या समाज के लिए संदेश देते थे या युवा शक्ति के लिए रास्ता दिखाने वाले का कार्य किया करते थे हीरो तेजस्वी मनोज कुमार साहब जैसे आप कह सकते हैं जैसे आप देखे तो आप राजीव कुमार के रोल देखिए धर्मेंद्र साहब के रोल देखिए जितेन जी के रोल देखिए सभी रोल अपने आप में बेमिसाल थे राज कपूर साहब ने कितना अच्छा अब नहीं किया है वह भी यादगार पिक्चर में बना कर गए हैं और आज के युग में जहां तक कह सकते हो तो मैं सोता हूं शायद आज की हीरो में आपकी बल सनी देओल और अक्षय कुमार कोई मैं विशेष लेख अंकित करना चाहूंगा क्योंकि इन्होंने ही राष्ट्रभक्ति संबंधित पिक्चरें दी हैं और समाज के लिए एक संदेश देने वाली पिक्चरें बनाई है अच्छी पिक्चरें बनाई है मेरा मानना यह है कि फिल्म बॉस की होती है जो समाज के लिए एक अच्छा जैसा अपने देश करें या समाज की बुराइयों को का समाधान बताएं या युवा पीढ़ी के लिए गाइड का काम कर सके उन पिक्चरों कोई मैच की मानता हूं और देशभक्ति की पिक्चरें अवश्य करनी चाहिए देशभक्ति की समाज को और देश को एक संदेश दे सकती हैं देशभक्ति का जज्बा जगह सकती हैं
Aashikee 2 pikchar in pikcharon mein aap heero aur vilen mein koee khaas antar nahin de sakate hain kyonki vah bhee blaik to phir vaise hee vah hota hai kyonki usako banaate hee rolee usaka asalee hota hai ki heero krom ko chamakaane ke lie lekin aaj ke heero jo hai aaj kee jo pikchar aa rahee hai unamen aap dekh rahe hain kraim ko mahimaamandit kiya ja raha hai jo kaayam karane vaale log hain un logon ko heero bana karake un logon ko heero bana karake jab prastut kee pikcharen banaee jaatee hai to usase to kraim hee panapata hai pikcharen pahale bana karatee theen jinamen heero baaten hee achchha kaam karate dubale hote the vah bhee bahut nais hua karate the jaise puraanee pikcharon mein yadi aap kaand ke abhinay ko dekhen to kabhee dekhiega aapako usase achchhe heero veer kataraate the ki praan ke saath mein kaam karane se kapada tithi yog darshan praan saahab ka jo abhinay tha vah apane aap mein bemisaal tha unake samaan is truti drshti mein koee abhee tak nahin hua hai yadyapi amareesh puree mein kaam plen ka achchha kiya hai lekin amareesh puree ke kaam mein aur praan saahab ke kaam mein jameen aasamaan ka antar tha praan saamane karaiktar heero ka bhee kaam achchha kiya hai aur glen ka kaary bhee achchha kiya hai aur rahee heero ke savaal to aaj ke jo heero hai yah to ya to edavarataij on phemas paisa kamaane mein rakhate hain vichaar ya phir aisee pikchar banaane mein vishvaas rakhatee hai inako kar keval us karaiktar ko nibhaane ka paisa milata hai inako isase koee lena-dena nahin ki janata mein kya hamaara maisej jaata hai yah samaaj ko kya kya ham de pa rahe hain ya ham kuchh achchha aisa kaary kar rahe hain ki nahin kar rahe hain inako to sirph paise se matalab hota hai jabaki pahale jo abhineta the aisa kaary karate the jo samaaj ko shiksha pad kaary hota tha ya samaaj ke lie sandesh dete the ya yuva shakti ke lie raasta dikhaane vaale ka kaary kiya karate the heero tejasvee manoj kumaar saahab jaise aap kah sakate hain jaise aap dekhe to aap raajeev kumaar ke rol dekhie dharmendr saahab ke rol dekhie jiten jee ke rol dekhie sabhee rol apane aap mein bemisaal the raaj kapoor saahab ne kitana achchha ab nahin kiya hai vah bhee yaadagaar pikchar mein bana kar gae hain aur aaj ke yug mein jahaan tak kah sakate ho to main sota hoon shaayad aaj kee heero mein aapakee bal sanee deol aur akshay kumaar koee main vishesh lekh ankit karana chaahoonga kyonki inhonne hee raashtrabhakti sambandhit pikcharen dee hain aur samaaj ke lie ek sandesh dene vaalee pikcharen banaee hai achchhee pikcharen banaee hai mera maanana yah hai ki philm bos kee hotee hai jo samaaj ke lie ek achchha jaisa apane desh karen ya samaaj kee buraiyon ko ka samaadhaan bataen ya yuva peedhee ke lie gaid ka kaam kar sake un pikcharon koee maich kee maanata hoon aur deshabhakti kee pikcharen avashy karanee chaahie deshabhakti kee samaaj ko aur desh ko ek sandesh de sakatee hain deshabhakti ka jajba jagah sakatee hain
URL copied to clipboard