#भारत की राजनीति

bolkar speaker
अगर हाई वोल्टेज बिजली की तारों पर आसमानी बिजली गिर जाए तो क्या होगा?Agar Haee Voltej Bijalee Kee Taaron Par Aasamaanee Bijalee Gir Jae To Kya Hoga
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
1:06
अगर हाई वोल्टेज बिजली के तारों पर आसमानी बिजली गिर जाए तो क्या होगा कुछ विचित्र कुछ भी नहीं होगा क्योंकि उसमें प्रोटेक्शन दिया जाता है उस असामान्य जो हाई वोल्टेज की बिजली के तार होते हैं उस जखम में लगे होते हैं उसमें क्या होता है और थी उसे ग्राउंडिंग की जाती है एक ग्राउंडिंग इतनी ज्यादा मजबूत होती है कि आसमानी बिजली की कई हजार वोल्टेज भी अगर आ जाए तो इसे कुछ भी खास नहीं पता है और सीधे सीधे क्या होता है किलो रजिस्टेंस उसमें प्रोडक्शन नहीं होता है किलो रजिस्टेंस का ऐसा इंडिकेटर लगा दीजिए सारी बिजली क्या करती है वहां पर नगर की स्थिति इसकी डायरेक्शन में आकर जैसे गिरती है वहां से होते हुए एक पाठ बनता है और सीधे सीधे जाकर क्या होती है ग्राउंड हो जाती है इस वजह से क्या होता है कि उस पूरी तरह से सुरक्षित रहता है और किसी प्रकार की परेशानी नहीं होती है और इससे यह भी होता है बस आपकी जो भी बिजली गिरती है उस तार पर एक्टिव लोगों के वह दूसरे फोन में एक्टिव हो जाती है जिससे कि हाई वोल्टेज और वोल्टेज नहीं बढ़ पाता है

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
देश की सेवा कैसे करें?Desh Kee Seva Kaise Karen
Vaishnavi Pandey Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Vaishnavi जी का जवाब
Student / Artist
2:09
नमस्कार मेरा नाम है वैष्णवी और आप मुझे सुन रहे हैं भारत के नंबर एक सवाल और जवाब करने वाले ऐप बॉय करता है कि देश की सेवा कैसे करें देखिए देश की सेवा करना कोई बहुत बड़ा काम नहीं है आपको बस छोटी-छोटी चीजें करनी है आप जो है अगर 15 अगस्त झंडा नहीं सर आएंगे ना तो आपके अंदर देश प्रेम की कमी है ऐसा नहीं कहा जाएगा लेकिन अगर आप 16 अगस्त को किसी सड़क पर पड़ा हुआ झंडा उठा लेंगे तो आप जो है वह एक सच्चे देशभक्त कहे जाएंगे तो देश की सेवा जो है वह आप बहुत ही छोटी छोटी चीजें करके कर सकते हैं आप जो है अगर अपने रूम में बैठे हुए हैं और आप लाइट का यूज नहीं कर रहे हैं और लाइट को जाकर ऑफ कर देते आप क्या कर रहे हैं देश की सेवा आप कहीं जा रहे हैं आपको पानी जो है वह कहीं खुला हुआ दिख गया तो आप जाइए और नल को बंद कर दीजिए आप क्या कर रहे हैं देश की सेवा आप जो है उतना ही जितना आपको खाना खाने को बर्बाद बिल्कुल भी मत कीजिए आप क्या कर रहे हैं देश की सेवा आप जो है वह अपना परिवार जो है उसे छोटा रहकर देश की तरक्की करने में योगदान दे सकते हैं हम दो हमारे दो बारा नारा तो कोशिश करिए कि देश की जो जनसंख्या है वह ज्यादा ना बड़े और छोटे छोटे काम है आप कर सकते हैं देश की सेवा करने के लिए मुझे उम्मीद है आपको आपके प्रश्न का जवाब मिल गया होगा धन्यवाद

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
भारत में मोदी सरकार द्वारा लगाया गया सबसे बड़ा गलत अनुमान क्या है?Bhaarat Mein Modee Sarakaar Dvaara Lagaaya Gaya Sabase Bada Galat Anumaan Kya Hai
Rahul chaudhary Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
1:04
आपका सवाल है कि भारत में मोदी सरकार द्वारा लगाए गए सबसे बड़ा गलत अनुमान कटेगी वैसे अभी तक मैं देखूं तो सरकार की 12 नीतियों को छोड़कर जिसे धारा 370 को छोड़कर मुझे सारी यह माल गलत लगी सबसे पहले मैं बात करूं तो नोटबंदी दो जो 2016 में की गई थी 8 नवंबर को उस पर सबसे ज्यादा नुकसान गरीब और मजदूर लोगों को हुआ जबकि बीजेपी के नेताओं के साथियों में 33 हजार कर दो पर खर्च हो रहे थे जिस समय लोगों को ₹2000 मिलना भी मुश्किल हो रहा था दूसरा जो सरकार ने किस नहीं ला रखी हैं जिनके बारे में किसानों से कोई चर्चा नहीं की और तीसरा जो सरकार की नीति है कि हर चीज को भेज दो भी निवेश कर दो क्योंकि सरकार का काम है उद्योग चलाना वापिस पीएसी चलाना नहीं है जबकि है मेरी नजर में सरकार की बहुत गलत नीति है उसे जो भारतीय युवा हैं जिनको अभी सरकारी नौकरी बाट देख रही हूं उन्हें बहुत बड़ा धक्का लगेगा धन्यवाद

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
क्या इंदिरा गांधी जी मोदी जी से ज्यादा सख्त प्रधानमंत्री थी?Kya Indira Gandhi Ji Modi Ji Se Jyada Sakht Pradhanmantri Thi
pooja Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए pooja जी का जवाब
Student
0:35
भ्रष्ट है क्या इंदिरा गांधी जी मोदी जी से ज्यादा सख्त प्रधानमंत्री थी तो देखिए मैं तो जो है इंदिरा गांधी जी के समय में नहीं थी मतलब मुझे इतना नहीं पता है कि वह किस तरह की प्रधानमंत्री थी लेकिन आज जो मैंने सुना है उसके कोडिंग यह है कि वह काफी जरूरी है उनके बहुत स्ट्रिक्ट रहते थे और वह अपने रूल तो है वह हर बार जो है फॉलो किया करती थी और लोगों को भी यही कहा करती थी कि आप रूम पर है वह जरूर फॉलो किया करें और वह इमानदार जो है वह बहुत ज्यादा थी और काफी अच्छी बातें तो है सुनने को उनके बारे में भी मिलती है शुक्रिया

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
सरकारी बैंक प्रबंधन ऐसा क्या उपाय करें कि वह निजीकरण से बच जाएं?Sarakaaree Baink Prabandhan Aisa Kya Upaay Karen Ki Vah Nijeekaran Se Bach Jaen
Nikhil kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Teaching
1:56
लिखे आपका प्रश्न काफी बेहद अच्छा प्रश्न है तो आपने पूछा है सरकारी बैंक के प्रबंधन में इसका क्या उपाय किया जाए जिससे निजी करण से बचा जा सके देश का सबसे अच्छा उत्तर यही हो सकता है कि जो व्यवस्था है उसे सुदृढ़ बनाने की जरूरत है देखिए सरकारी व्यवस्था जो है या कहीं ना कहीं चरमराई अवस्था में रहती है जिससे होता है यह कि उसमें काफी ज्यादा में करना होता है और उसे जो आउट कम होता है उसे जो रिजल्ट आता है बहुत खराब स्थिति में पाए जाते हैं आप देखोगे प्राइवेट बैंक में स्थान कितना मतलब कि एकदम से एक्टिव रहता है आप कस्टमर कोई भी चले जाए तो वहां पर क्या होता है कि वह सच सच बताइए क्या-क्या काम है सर बताइए आपका क्या काम है लोन चाहिए चाहिए यानी कि बहुत ज्यादा एक्टिव है उसे वहां पर काम होता है लेकिन सरकारी बैंक में लोन चाहिए कितना पीसी लगेगा कितना डोनेशन लगेगा इतना आपको देना होगा बोल देना हो तो इतना सारा जो है कि बात किया जाता है हालांकि प्राइवेट बैंक में भी उस तरह की शाम होती है लेकिन वहां माफी मत रखिए सुधरी है व्यवस्थाएं काफी जो है आसानी से सारा चीज हो जाता है तो यह सारी व्यवस्था अगर सरकारी बैंक में ठीक कर दिया जाए तो अर्थिंग कि इसको निजी करण से 50000 का लोन पर लोन भी थोड़ा ध्यान देना होगा कि किस तरह के व्यक्ति को लोन दिया जा रहा है उसकी बैक का मतलब कि जो है मतलब खाली पॉलीटिकल एजेंडा बना कर लो नहीं देना चाहिए जो है बीजेपी का है अभी जेपी अभी केंद्र में है तो इसको लोन देना चाहिए यह कांग्रेस का है अभी एक केंद्र में है तो उसको लोन देना चाहिए उसका बैकअप को देखना चाहिए उसके मतलब कि स्टेबिलिटी कोडरमा देव का बिजनेस कैसा है फ्यूचर में क्या ग्रोथ होगा इस आधार पर भी लोन देंगे तो आंखें आई थी कि वह कब हो पाएगा और यह सारी बात है निजी करण से बचेगा तो यह सारी बातों का ध्यान में रखा जाए तो आए दिन की बहुत ज्यादा जो है ब्रो हो जाएगा ठीक है
Likhe aapaka prashn kaaphee behad achchha prashn hai to aapane poochha hai sarakaaree baink ke prabandhan mein isaka kya upaay kiya jae jisase nijee karan se bacha ja sake desh ka sabase achchha uttar yahee ho sakata hai ki jo vyavastha hai use sudrdh banaane kee jaroorat hai dekhie sarakaaree vyavastha jo hai ya kaheen na kaheen charamaraee avastha mein rahatee hai jisase hota hai yah ki usamen kaaphee jyaada mein karana hota hai aur use jo aaut kam hota hai use jo rijalt aata hai bahut kharaab sthiti mein pae jaate hain aap dekhoge praivet baink mein sthaan kitana matalab ki ekadam se ektiv rahata hai aap kastamar koee bhee chale jae to vahaan par kya hota hai ki vah sach sach bataie kya-kya kaam hai sar bataie aapaka kya kaam hai lon chaahie chaahie yaanee ki bahut jyaada ektiv hai use vahaan par kaam hota hai lekin sarakaaree baink mein lon chaahie kitana peesee lagega kitana doneshan lagega itana aapako dena hoga bol dena ho to itana saara jo hai ki baat kiya jaata hai haalaanki praivet baink mein bhee us tarah kee shaam hotee hai lekin vahaan maaphee mat rakhie sudharee hai vyavasthaen kaaphee jo hai aasaanee se saara cheej ho jaata hai to yah saaree vyavastha agar sarakaaree baink mein theek kar diya jae to arthing ki isako nijee karan se 50000 ka lon par lon bhee thoda dhyaan dena hoga ki kis tarah ke vyakti ko lon diya ja raha hai usakee baik ka matalab ki jo hai matalab khaalee poleetikal ejenda bana kar lo nahin dena chaahie jo hai beejepee ka hai abhee jepee abhee kendr mein hai to isako lon dena chaahie yah kaangres ka hai abhee ek kendr mein hai to usako lon dena chaahie usaka baikap ko dekhana chaahie usake matalab ki stebilitee kodarama dev ka bijanes kaisa hai phyoochar mein kya groth hoga is aadhaar par bhee lon denge to aankhen aaee thee ki vah kab ho paega aur yah saaree baat hai nijee karan se bachega to yah saaree baaton ka dhyaan mein rakha jae to aae din kee bahut jyaada jo hai bro ho jaega theek hai

#भारत की राजनीति

 Neeraj Kumar  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए जी का जवाब
Unknown
1:06
तुम मैंने यह सवाल है भारत के लोग अपनी सरकार स्वयं बनाते हैं या कारवां किस प्रकार करते हैं और किस प्रकार उस सरकार बनने तक रख सकते हैं तो भारत में अलग-अलग संगठन हैं बाबू अलग-अलग पार्टियों को सपोर्ट करते हैं तो एकजुटता ही सरकार बनती है जैसे कई लोग किसानों की महापंचायत होती है संगठन होता है तो बोलो उसी को वोट देते हैं जो वह चाहते हैं तो इस तरह से उनकी सरकार बनती है तो तू नेता नेता होते हैं वह एक बार अगर हम अब हम आम लोग वोट देते थे तो वह कई तरह के बाद ही करते हैं लेकिन एक बार आ भी जाते हैं तो वह उन बातों को जरूरी नहीं समझते कि मैंने भाई जैसे अभी कुछ काम की बात करते थे चुनाव के टाइम लेकिन अब बिल्कुल भी रोजगार नहीं देते हैं और कम कम नौकरियां कम करते जा रहे हैं आप चाहे तो आम जनता पैसे सरकार बदल सकती है वह अपने वोट के द्वारा

#भारत की राजनीति

Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Pt. जी का जवाब
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
2:30
नमस्कार दोस्तों प्रश्न कि आगे बजाज ईएमआई कार्ड और एसडीवीएम आई कार्ड में से दोनों में से किसके बेनिफिट ज्यादा है मैं किस के प्रोडक्ट फाइनेंस किस से प्रोडक्ट फाइनेंस करानी चाहिए तो दोस्तों में बताना चाहता हूं बात है फाइनेंस की तो जैसे कि ज्यादातर जोक अंजू में और बूट्स हैं जो आपके टीवी हो गया प्लीज हो गया लैपटॉप हो गया कंप्यूटर सो गए मोबाइल सो गए तो जाकर इस पर 0% चार्ज होता है कोई ब्याज नहीं होता है लेकिन आरबीआई की गाइडलाइंस है कि अब जीरो परसेंट नहीं कर सकते तो आपसे कुछ चाय लेते हैं प्रोसेसिंग चार्ज के नाम पर कुछ फाइल चार्ज के नाम पर लेते हैं और कुछ रेट ऑफ इंटरेस्ट बहुत मामूली सा होता है या ना के बराबर ही होता है प्रश्न है कि दो ईएमआई कार्ड में से कौन सा ले तो दोस्तों आपको वैसे ही ईएमआई कार्ड की जरूरत नहीं होती है या माई कार्ड कंपनी वाले बनाकर आपको दे देते हैं वह आपको कोई फाइनेंस कराएंगे तो बजाज वाला जाएगा ईएमआई कार्ड बनवाना पड़ेगा आपको क्योंकि इसके टारगेट सोते हैं उन लोगों के अभिन्न आई एम आई कार्ड के लिए फाइनेंस करा सकते हैं कंपनी का ही रहता है यह फाइनेंस कार्ड देकर रखेंगे तो कभी ना कभी कस्टमर आसानी से इसे कुछ खरीदेगा मेन है प्रश्न है कि एक तो हर साल आपके चार्जेस लगेंगे जैसे आपके डेबिट कार्ड के जरिए लगते हैं वैसे इसके लगेंगे लगभग 100 से ₹200 के बीच में कंपनियां करती है अब बात है बेनिफिट की तो आपको ही तो देखना है कि ईयरली चार्जेस कितने हैं कार्ड बनाने के उजाला नहीं होंगे निश्चित रूप से दोनों में और दोनों का स्थिति में कौन-कौन सी आती रहती हैं जैसे सबसे ज्यादा जो फेमस है पहले सबसे ज्यादा ही है माई कार्ड जो लांच किए हैं वह बजाज ने की है तो निश्चित रूप से बजाज ईएमआई कार्ड का अनुभव ज्यादा होगा लोगों को और ज्यादा बेनिफिट देते होंगे दूसरे कार्ड का भी देख सकते हैं जो आपने यह दूसरा कार्ड बोला है यह तो सुना भी नहीं हुआ है अभी ज्यादा चला नहीं हुआ है नहीं बजाज ईएमआई कार्ड लोग ज्यादातर धारण करते हैं अगर आपको कभी कबार लोन लेना होता होगा तो आप कार्ड ना लेने कोई कार्ड की लगते रहेंगे आपको आगे आपको कई कंफर्टेबिलिटी रखनी है कि आपको कोई ना कोई चीज बीच में लेते रहना है या स्कीम्स का आए तो फायदा लेना है तो आप कार्ड बनवा सकते हैं जो महंगा सौदा नहीं लेकिन आपने बस ब्याज देखना है इसके अंदर ब्याज मैंने आपको पहले ही बताया कि 0% पर जाकर कंज्यूमर गुड्स होते हैं तो आप दोनों में से कोई कार्ड बनवा सकते हैं लेकिन प्रेफरेंस में दूंगा कि अब बजाज का बनवाए तो ज्यादा अच्छा रहेगा धन्यवाद

#भारत की राजनीति

Vaishnavi Pandey Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Vaishnavi जी का जवाब
Student / Artist
1:13
नमस्कार आपने पोस्ट किया है कि दिल्ली के अंदर आम आदमी पार्टी की जीत हुई है जीत होने के बाद राम भक्त बोल रहे हैं कि दिल्ली के लोगों को हराम का खाने की आदत है देखिए आम आदमी पार्टी की जीत दिल्ली में क्यों हुई है आम आदमी पार्टी की जीत दिल्ली में स्त्री हुई है क्योंकि वहां पर उनका काम जो है वह देख रहा है वह बोल रहा है इसलिए जनता ने जो है वह मनीषा के वोट दिया और वह काम करेंगे तो वही देंगे ना तो लोग क्या कह रहे हैं उससे कोई फर्क नहीं पड़ता है दूसरी चीज आपने लिखा है राम भक्त बोल रहे हैं कि दिल्ली के लोगों को हराम की खाने की आदत है तो दिखे राम भक्त मैं भी हूं पर मैं तो नहीं बोल रही ना आपको कि दिल्ली के लोगों को हराम का खाने की आदत है तो सबसे पहले तो यह बहुत जरूरी है कि आप राम भक्त बीजेपी भक्त और मोदी भक्तों में डिफरेंस विद डिफरेंट जो है वह क्रिएट करेंगे उसमें जमीन और आसमान का अंतर ऐसी चीजें जो है वह खुद समझने की कोशिश करें कि धर्म को हमेशा एक मुद्दा बनाकर पेश किया जाता है अपने देश में मुझे उम्मीद है आपको आपके प्रश्न का जवाब मिल गया होगा धन्यवाद
Namaskaar aapane post kiya hai ki dillee ke andar aam aadamee paartee kee jeet huee hai jeet hone ke baad raam bhakt bol rahe hain ki dillee ke logon ko haraam ka khaane kee aadat hai dekhie aam aadamee paartee kee jeet dillee mein kyon huee hai aam aadamee paartee kee jeet dillee mein stree huee hai kyonki vahaan par unaka kaam jo hai vah dekh raha hai vah bol raha hai isalie janata ne jo hai vah maneesha ke vot diya aur vah kaam karenge to vahee denge na to log kya kah rahe hain usase koee phark nahin padata hai doosaree cheej aapane likha hai raam bhakt bol rahe hain ki dillee ke logon ko haraam kee khaane kee aadat hai to dikhe raam bhakt main bhee hoon par main to nahin bol rahee na aapako ki dillee ke logon ko haraam ka khaane kee aadat hai to sabase pahale to yah bahut jarooree hai ki aap raam bhakt beejepee bhakt aur modee bhakton mein dipharens vid dipharent jo hai vah kriet karenge usamen jameen aur aasamaan ka antar aisee cheejen jo hai vah khud samajhane kee koshish karen ki dharm ko hamesha ek mudda banaakar pesh kiya jaata hai apane desh mein mujhe ummeed hai aapako aapake prashn ka javaab mil gaya hoga dhanyavaad

#भारत की राजनीति

Nikhil kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Teaching
1:17
मैं आपको बता सकता हूं बताना चाहता हूं कि अर्थव्यवस्था तीन तरह के होते हैं मिस्त्री समाजवादी और पूंजीवादी तो आपको पता है कि भारतीय अर्थव्यवस्था मिश्रित है यानी यहां पूंजीवादी और समाजवादी दोनों का मिश्रण है तो यहां तक कहा जा सकता है कि वित्तीय व्यवस्था को अपनाने की बात है तो आप जो है कि किसी व्यवस्था बनाकर के आगे बढ़ सकते हो क्योंकि आप जान लोग पूंजीवादी व्यवस्था में क्या होता है कि अगर आपका कंट्री ज्यादा डेवलप्ड है यानी कि लोग चाहते वह मतलब कि अगर है यानी बहुत ज्यादा रनिंग करते हैं बहुत ज्यादा व्यवस्थाएं पर डिपेंड है यानी बिजनेस तेरी बहन है तो वहां पर इसकी पूंजीवादी अर्थव्यवस्था अच्छी होगी लेकिन जहां गरीबी चरम सीमा पर है बहुत ज्यादा गरीब है तुम समाजवादी अर्थव्यवस्था काफी कारगर होती है क्योंकि सारे लोगों को साथ लेकर चलने की व्यवस्था होती है समाजवादी में और मिश्रित कह सकते हो आपकी मिश्रित में दोनों का कंबीनेशन होता है तो कहने का मतलब हमारा देश आप देख रहे हो किस स्थितियों से होकर गुजर रहा है तो उस सारी स्थितियों का एक अचूक और कह सकते हो रामबाण है मिश्रित और वित्तीय व्यवस्था तो इससे आगे बढ़ा जा सकता है क्योंकि आपको समझ में आ चुका हूं ठीक है थैंक यू

#भारत की राजनीति

bolkar speaker
बीजेपी से राजनीति करने के लिए परिवारवाद और पैसा कितना महत्वपूर्ण है?Beejepee Se Raajaneeti Karane Ke Lie Parivaaravaad Aur Paisa Kitana Mahatvapoorn Hai
मनीष कुमार Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए मनीष जी का जवाब
किसान
1:48
मैं आपको बताना चाहता हूं आपसे पूछा है कि बीजेपी से राजनीति करने के लिए परिवार और पैसा कितना महत्वपूर्ण है सर एक परसेंट आपने सही बोला या गलत है बिल्कुल बीजेपी में राजनीति करने के लिए परिवाद की जरूरत नहीं होती है कभी जरूरत नहीं होती है अगर इंसान अच्छा हो तो वह पार्टी ज्वाइन कर सकता है और अपने काम कर सकता है बताइए जो मोदी जी है ना वह चाय बेचने वाले थे और आज वह देश के बनाने के लिए कौन से पैसे वाली थी कौन से राजनीतिक परिवार से थे ना मेरे को कांग्रेस सरकार है कांग्रेस इंग्लिश में तो पूरा पैसे से और परिवारवाद भरा हुआ है ना गांधी परिवार पूरा वह बैठा है कांग्रेस को लेकर बैठे अध्यक्ष मूषक पूछो कि वे भाजपा के अंदर ऐसा कौन सा राजनीति करने के लिए कौन सा परिवार वाले मेरे को बताइए ना आप से सिरसा कितना नहीं ऐसा कुछ नहीं है धारणा है हमारी और भाजपा के अंदर भाजपा के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष से वह कौन से परिवार को दी है पूर्व सरपंच हां ठीक है राजनीति में आने के बाद में उनके पास पैसे हो जाते हैं यह बात अलग है लेकिन यह जरूरी नहीं कि वह पैसे वाले होंगे उनका परिवार बैकग्राउंड जुहापुरा गीता राजनीतिक परिवार से हो पैसे वाले मिलकर ऐसा कुछ नहीं एक गरीब आदमी भी राजनेता बनता है मेरी रानी है और मैंने गांव के अंदर फोटो छोटी से लोड करने का है नॉर्मल लोग अच्छी राजनीति कर लेते हैं और अपना नाम कमाते हैं
URL copied to clipboard