#undefined

bolkar speaker
क्या होगा अगर हम space (अंतरीछ) में gun चलाये तो?Kya Hoga Agar Ham Spachai (antareechh) Mein Gun Chalaaye To
[🌀HIMANSHU🔱GAUTAM🌀] Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए [🌀HIMANSHU🔱GAUTAM🌀] जी का जवाब
Unknown
1:06

#undefined

bolkar speaker
अगर पृथ्वी पर नाइट्रोजन गैस नहीं होती, तो क्या होता?Agar Pritihvi Par Nitrogen Gas Nahi Hoti To Kya Hota
 Nida Rajput       Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए जी का जवाब
Student Computer Science Education
0:56
देखिए आप का सवाल है कि अगर पृथ्वी पर नाइट्रोजन गैस नहीं होती तो क्या होता अगर पृथ्वी पर नाइट्रोजन गैस नहीं होती तो पृथ्वी पर रहना असंभव हो जाता है क्योंकि पेड़ पौधों को नाइट्रोजन गैस मिलती है तभी वह अपना भोजन करते हैं रिपोर्टों के लिए नाइट्रोजन गैस बहुत ज्यादा जरूरी होती है अगर पौधों को नाइट्रोजन गया कि नहीं मिलेगी तो हमें नहीं रहेंगे और हमें अब तक नहीं मिलेगी तो हम हम जिंदा रहना हमारा बड़ा मुश्किल हो जाएगा जो भी सांस लेते हैं उनके लिए जिंदा रहना बड़ा मुश्किल हो जाएगा अगर पौधों से माफी नहीं मिलेगी तो पौधों को नहीं मिलेगी बनाना बड़ा ही मुश्किल हो जाएगा सभी के लिए तो ऑक्सीजन और नाइट्रोजन दोनों ही बहुत जरूरी है जीवित रहने के लिए धन्यवाद
Dekhie aap ka savaal hai ki agar prthvee par naitrojan gais nahin hotee to kya hota agar prthvee par naitrojan gais nahin hotee to prthvee par rahana asambhav ho jaata hai kyonki ped paudhon ko naitrojan gais milatee hai tabhee vah apana bhojan karate hain riporton ke lie naitrojan gais bahut jyaada jarooree hotee hai agar paudhon ko naitrojan gaya ki nahin milegee to hamen nahin rahenge aur hamen ab tak nahin milegee to ham ham jinda rahana hamaara bada mushkil ho jaega jo bhee saans lete hain unake lie jinda rahana bada mushkil ho jaega agar paudhon se maaphee nahin milegee to paudhon ko nahin milegee banaana bada hee mushkil ho jaega sabhee ke lie to okseejan aur naitrojan donon hee bahut jarooree hai jeevit rahane ke lie dhanyavaad

#undefined

bolkar speaker
क्या भविष्य में कागज की जरूरत खत्म हो जाएगी?Kya Bhavishy Me Kagaj Ki Jarurat Khatm Ho Jaegi
G Dewasi Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए G जी का जवाब
Unknown
2:02
अगर देखी मैं अपने ओपिनियन के हिसाब से अगर आपको बताऊं तो मुझे लगता है कि आने वाले समय में जो पेपर है इसका यूज काफी हद तक खत्म हुआ सकता है अब यह मैं किस बेसिस पर बोल रहा हूं तो देखिए आज के समय ऐसी कुछ टेक्नोलॉजी डिवेलप हो रही है बल्कि काफी डेवलप्ड भी हो चुकी है जो कि आने वाले समय में पेपर को रिप्लेस कर सकती है अभी कौन-कौन सी टेक्नोलॉजी है तो देखिए सबसे पहले तो आपने देखा होगा आज कल सभी स्कूल कॉलेज इसके अंदर जो स्मार्ट क्लासेस होती है वह इंप्लीमेंट की जा रही है बच्चों को टेबलेट भी प्रोवाइड कराए जा रहे हैं तो उससे क्या हो रहा है इसे देखिए जो पेपर से बनी हुई बुक्स होती है जो होती है वह धीरे-धीरे रिप्लेस होते जा रहे हैं अब उनकी जगह बच्चे जो टेबलेट होता है उनके अंदर भी नोट बनाते हैं तो आने वाले समय में जो टेबलेट से इनका यूज काफी हो सकता है तो इसकी वजह से जो पेपर का यूज बॉक्स बनाने में किया जाता है वह काफी कम हो सकता है देखिए वर्चुअल रियलिटी के बारे में भी आपने सुना होगा इसमें क्या होता है कि कोई भी जो ऑब्जेक्ट होता है वह हमारे सामने जो हवा होती है जो एयर होती है उसके अंदर उसका 3D मॉडल बना दिया जाता है और हमें लगता ही नहीं है कि वह एक नकली ऑब्जेक्ट है अगर मैं आपको एग्जांपल के तौर पर समझाऊं तुझे कि बच्चे आजकल अगर अपने स्कूल में कोई बुक पढ़ते हैं जिनके अंदर हिस्ट्री के बारे में कोई युद्ध के बारे में एक्सप्लेन किया हुआ होता है तो बच्चे देखे उससे ढंग से कनेक्ट नहीं कर पाते अपने से यह क्योंकि आपको पता होगा बुक के अंदर सिर्फ रीड करके हम जो हमारा इतिहास है उसे ढंग से नहीं समझ सकते हैं अगर इसके लिए हमारे सामने जो पुराने युद्ध पहले हो चुके अगर वह एक बार वापस हमारे सामने हो जाए तो बच्चों के लिए देखिए काफी हो स्कूल हो सकता है बल्कि बच्चों को यह चीजें याद भी रहेगी तो इसके लिए जो वर्चुअल रियलिटी आईएस फ्यूचर में देखिए काफी हो स्कूल होने वाली है मतलब बच्चों को भूख से ना पढ़ा कर वर्चुअल रियलिटी की मदद से 3D मॉडल बनाकर बच्चों को एक्सप्लेन किया जाएगा ताकि बच्चे इसी से कभी भूल नहीं पाएंगे और देखिए मुझे लगता है कि आने वाले समय में पेपर काफी हद तक आप कह सकते हैं उसका कम यूज जाएगा धन्यवाद
Agar dekhee main apane opiniyan ke hisaab se agar aapako bataoon to mujhe lagata hai ki aane vaale samay mein jo pepar hai isaka yooj kaaphee had tak khatm hua sakata hai ab yah main kis besis par bol raha hoon to dekhie aaj ke samay aisee kuchh teknolojee divelap ho rahee hai balki kaaphee devalapd bhee ho chukee hai jo ki aane vaale samay mein pepar ko riples kar sakatee hai abhee kaun-kaun see teknolojee hai to dekhie sabase pahale to aapane dekha hoga aaj kal sabhee skool kolej isake andar jo smaart klaases hotee hai vah impleement kee ja rahee hai bachchon ko tebalet bhee provaid karae ja rahe hain to usase kya ho raha hai ise dekhie jo pepar se banee huee buks hotee hai jo hotee hai vah dheere-dheere riples hote ja rahe hain ab unakee jagah bachche jo tebalet hota hai unake andar bhee not banaate hain to aane vaale samay mein jo tebalet se inaka yooj kaaphee ho sakata hai to isakee vajah se jo pepar ka yooj boks banaane mein kiya jaata hai vah kaaphee kam ho sakata hai dekhie varchual riyalitee ke baare mein bhee aapane suna hoga isamen kya hota hai ki koee bhee jo objekt hota hai vah hamaare saamane jo hava hotee hai jo eyar hotee hai usake andar usaka 3d modal bana diya jaata hai aur hamen lagata hee nahin hai ki vah ek nakalee objekt hai agar main aapako egjaampal ke taur par samajhaoon tujhe ki bachche aajakal agar apane skool mein koee buk padhate hain jinake andar histree ke baare mein koee yuddh ke baare mein eksaplen kiya hua hota hai to bachche dekhe usase dhang se kanekt nahin kar paate apane se yah kyonki aapako pata hoga buk ke andar sirph reed karake ham jo hamaara itihaas hai use dhang se nahin samajh sakate hain agar isake lie hamaare saamane jo puraane yuddh pahale ho chuke agar vah ek baar vaapas hamaare saamane ho jae to bachchon ke lie dekhie kaaphee ho skool ho sakata hai balki bachchon ko yah cheejen yaad bhee rahegee to isake lie jo varchual riyalitee aaeees phyoochar mein dekhie kaaphee ho skool hone vaalee hai matalab bachchon ko bhookh se na padha kar varchual riyalitee kee madad se 3d modal banaakar bachchon ko eksaplen kiya jaega taaki bachche isee se kabhee bhool nahin paenge aur dekhie mujhe lagata hai ki aane vaale samay mein pepar kaaphee had tak aap kah sakate hain usaka kam yooj jaega dhanyavaad

#undefined

bolkar speaker
बाज की दृष्टि कितने मेगापिक्सल के समान है और क्यों?Baaj Ki Drishti Kitne Megapixal Ke Saman Hai Aur Kyun
TechVR ( Vikas RanA) Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए TechVR जी का जवाब
IT Professional
2:29
नमस्कार दोस्तों आयोजन पूछा बात की दृष्टि कितने मेगापिक्सल के समान है और क्यों लिखिए पूरे वर्ल्ड में अगर हम देखें सभी पक्षियों में इंसान ने जीवो में सबसे ज्यादा तेज नजर का एक ही जो है पुरानी है जिसे हम बोलते हैं जो बाल है क्योंकि आज का सबसे अगर खोपड़ी में जाकर उसका देखा जो सबसे ज्यादा भारी उसकी हत्या की और एक इंटरेस्टिंग फैक्ट यह भी है कि इंसान की आंखों की साइज और वासियों को शायद दोनों का समान है फर्क सिर्फ इतना है कि आंख हम जो 180 डिग्री तक देख सकते हैं और वह 340 डिग्री तक अपनी आंखों को चेक कर सकता है और दूसरी सबसे बड़ी बात की है उसकी जो आंखें थी वह 26 से लेकर 47 तो तक के मेगापिक्सल की होती है जो कि एक बहुत ज्यादा आंकड़ा है जिसमें वह अपने शिकार को तीन से 4 किलोमीटर दूर से भी आराम से देख सकता है 4 एग्जांपल लग रहा है मंजिला इमारत के हैं तू ग्राउंड पर एक चलती हुई चींटी को भी एक चक्कर सकता है कि वह अच्छे में चिड़िया खुशी इतनी उसकी फोटो स्टाइल से होते हैं तो और उसका इन्हीं वजह से होना को अलग बनाता है सभी जानवरों में तेज नजर में और इसलिए इसकी है क्योंकि वह दूर से ही अपने शिकार के पर नजर रखकर उसका शिकार कर लेता और उसकी आंखों में जैसे हम फोन में सांसद होते हैं उसी तरह उसकी आंखों में यूवी प्रोटेक्शन और अल्ट्रावायलेट रेस से बचने की भी कैपेसिटी होती है और वह तो पानी के अंदर चलती हुई मछली को भी देख सकता है और उसको भी शिकार कर सकता है शिकार को चलाकर से तो करने के लिए मूसली यही होता कि अपने देखो शायद वह घात लगाकर के शिकार को पता ना चले अचानक से हम लग रहे हो वही सेम रणनीति जो है बात करता है उसका रहता कि आसमान में काफी ऊंचाई पर उड़ता है ताकि उसके ऊपर कोई शक ना कर सके जो भी नीचे जानवर होता है और वहीं से पूछते नजर रखता है जब भी उसको लगता है कि यह जानवर अपने मोमेंट जो है ना कमेंट कर रहा है उसको नहीं पता तो वहीं से अचानक आकर उसे हमला करता है जिससे ना तो उसका शिकार भागवत और ना ही उस पर कोई हमला कर सकता है यही रीजन है कि बाज की दृष्टि जो है कितने मेगापिक्सल की होती है और यही रीजन है कि अपने शिकार से दूरी और अचानक से हमला करने के लिए उसकी आंखें उसकी न्यूज़ होती हैं आशा करता हूं आपको आपके सवाल का जवाब मिल गया को लाइक और शेयर करें धन्यवाद
Namaskaar doston aayojan poochha baat kee drshti kitane megaapiksal ke samaan hai aur kyon likhie poore varld mein agar ham dekhen sabhee pakshiyon mein insaan ne jeevo mein sabase jyaada tej najar ka ek hee jo hai puraanee hai jise ham bolate hain jo baal hai kyonki aaj ka sabase agar khopadee mein jaakar usaka dekha jo sabase jyaada bhaaree usakee hatya kee aur ek intaresting phaikt yah bhee hai ki insaan kee aankhon kee saij aur vaasiyon ko shaayad donon ka samaan hai phark sirph itana hai ki aankh ham jo 180 digree tak dekh sakate hain aur vah 340 digree tak apanee aankhon ko chek kar sakata hai aur doosaree sabase badee baat kee hai usakee jo aankhen thee vah 26 se lekar 47 to tak ke megaapiksal kee hotee hai jo ki ek bahut jyaada aankada hai jisamen vah apane shikaar ko teen se 4 kilomeetar door se bhee aaraam se dekh sakata hai 4 egjaampal lag raha hai manjila imaarat ke hain too graund par ek chalatee huee cheentee ko bhee ek chakkar sakata hai ki vah achchhe mein chidiya khushee itanee usakee photo stail se hote hain to aur usaka inheen vajah se hona ko alag banaata hai sabhee jaanavaron mein tej najar mein aur isalie isakee hai kyonki vah door se hee apane shikaar ke par najar rakhakar usaka shikaar kar leta aur usakee aankhon mein jaise ham phon mein saansad hote hain usee tarah usakee aankhon mein yoovee protekshan aur altraavaayalet res se bachane kee bhee kaipesitee hotee hai aur vah to paanee ke andar chalatee huee machhalee ko bhee dekh sakata hai aur usako bhee shikaar kar sakata hai shikaar ko chalaakar se to karane ke lie moosalee yahee hota ki apane dekho shaayad vah ghaat lagaakar ke shikaar ko pata na chale achaanak se ham lag rahe ho vahee sem rananeeti jo hai baat karata hai usaka rahata ki aasamaan mein kaaphee oonchaee par udata hai taaki usake oopar koee shak na kar sake jo bhee neeche jaanavar hota hai aur vaheen se poochhate najar rakhata hai jab bhee usako lagata hai ki yah jaanavar apane moment jo hai na kament kar raha hai usako nahin pata to vaheen se achaanak aakar use hamala karata hai jisase na to usaka shikaar bhaagavat aur na hee us par koee hamala kar sakata hai yahee reejan hai ki baaj kee drshti jo hai kitane megaapiksal kee hotee hai aur yahee reejan hai ki apane shikaar se dooree aur achaanak se hamala karane ke lie usakee aankhen usakee nyooz hotee hain aasha karata hoon aapako aapake savaal ka javaab mil gaya ko laik aur sheyar karen dhanyavaad

#undefined

Deven  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deven जी का जवाब
Valuepreneur Adventurer Life Explorer Dreamer
2:49
ब्रह्मांड में जो कुछ भी है या तो अदृश्य है या तो अनिश्चिता कारी है जिसका स्पष्ट अभिप्राय है कि ब्रह्मांड में सब कुछ निर्विकार है और उसके बावजूद भी हम देवी देवता कर देते हैं तो यह सिद्धांत से गलत साबित होता है तो मैं इसके ऊपर एक स्पष्टीकरण देना चाहूंगा बहुत ही साइंटिफिक तरीके से देखें हमारे सेंड से सर्च ऑफ होते हैं वह चीज़ों को महसूस करते पांच इंद्रियां होती है पांचवी इंद्री महसूस करते आंखें देखती है कान सुनते हैं तो अच्छा हमारा चेंज करती है हवाएं गर्म चीजों को मेल आता है हमें या के साथी हम यह हो क्या महसूस करने का तरीका ह्यूमन माइंड का अगर कोई चीज है और आप महसूस नहीं कर पा रहे हो तो गवर्नमेंट को मालूम है यह नहीं है वह दिखता नहीं है तो यह इसी बनाने के लिए इसको इसी बनाने के लिए मुझे किसी ने किसी चीज को एक रिप्रेजेंटेशन देना पड़ता है यह रिप्रेजेंटेशन है अगर ए गॉड की तस्वीरें से तो यह रिप्रेजेंटेशन है अब क्या होता है कि उसे रिप्रेजेंटेशन के तरीके हमारी आंखें उसको इंटरप्रेट करते महसूस करती है और फिर हम लोग उससे पूछ इसीलिए कनेक्ट होते हैं वह कल्पना को संकल्पना जो जो भी गौर की संकल्पना सही बात देखी जाए तो कौन सी एक और कैसे दिखते हैं किसी को नहीं पता है अभी हम लोगों ने जो संत महापुरुष देखे हैं कोई अवलिया साधु है या कोई साईं बाबा है यह तो इंसान इस फॉर्म में थे उन्होंने अपनी इंसानी फॉर्म में लोगों की मदद की होगी स्वामी विवेकानंद है जो कि आज इनके इनके श्री अरबिंदो घोष है अगर इनकी पूजा-अर्चना होते इंसान इस फॉर्म में हमने देखे कि कैसे लोगों ने इनके अंदर की जो स्पिरिचुअलिटी उसका अनुभव किया और इनका रिस्पेक्ट और उनका आदर करना शुरू किया उनके पूजा करना चाहिए और धीरे-धीरे एक बिजली मिलना है वह एक्सपीरियंस बना है और उसको लोग फॉलो करते थे और इस तरीके से श्रद्धा से बोलोगे तो एक हर एक आम आदमी की क्षमता विकसित जब कर लेता है कि उसको किसी फल छायाचित्र की जरूरत नहीं है वह दुनिया को ऑपरेट कर सकता है जो लेने वाला ऑप्शन है या अपने आप में बहुत अद्भुत चीज है यह किस करते वह हम वृत्त करते हैं हम जिंदा है या फिर भी सुबह-सुबह निकलता है सूरज हम देखते हैं अभी सूरज आप कैसा महसूस करते आपसे गर्मी से थोड़ी महसूस करते हो सुबह गर्मी तो हो रही है लेकिन सूरज दिख भी तो है सुबह चांद देख भी तो रहा है सुबह तो यह दिखता है तो उसका प्रकाश देखते हम तो हमारी इंद्रिय चेंज करते हैं अब अगर किसी भगवान को मुझे डिप्रेशन करवाना है तो मुझे उसको इमेज देनी पड़ेगी तो उसने यह इमेज दी जाती अलग अलग से अलग अलग तरीके से अलग अलग भगवान को मानते हैं लेकिन कुल मिलाकर एक ही है जिस दिन समझ में आएगा
Brahmaand mein jo kuchh bhee hai ya to adrshy hai ya to anishchita kaaree hai jisaka spasht abhipraay hai ki brahmaand mein sab kuchh nirvikaar hai aur usake baavajood bhee ham devee devata kar dete hain to yah siddhaant se galat saabit hota hai to main isake oopar ek spashteekaran dena chaahoonga bahut hee saintiphik tareeke se dekhen hamaare send se sarch oph hote hain vah cheezon ko mahasoos karate paanch indriyaan hotee hai paanchavee indree mahasoos karate aankhen dekhatee hai kaan sunate hain to achchha hamaara chenj karatee hai havaen garm cheejon ko mel aata hai hamen ya ke saathee ham yah ho kya mahasoos karane ka tareeka hyooman maind ka agar koee cheej hai aur aap mahasoos nahin kar pa rahe ho to gavarnament ko maaloom hai yah nahin hai vah dikhata nahin hai to yah isee banaane ke lie isako isee banaane ke lie mujhe kisee ne kisee cheej ko ek riprejenteshan dena padata hai yah riprejenteshan hai agar e god kee tasveeren se to yah riprejenteshan hai ab kya hota hai ki use riprejenteshan ke tareeke hamaaree aankhen usako intarapret karate mahasoos karatee hai aur phir ham log usase poochh iseelie kanekt hote hain vah kalpana ko sankalpana jo jo bhee gaur kee sankalpana sahee baat dekhee jae to kaun see ek aur kaise dikhate hain kisee ko nahin pata hai abhee ham logon ne jo sant mahaapurush dekhe hain koee avaliya saadhu hai ya koee saeen baaba hai yah to insaan is phorm mein the unhonne apanee insaanee phorm mein logon kee madad kee hogee svaamee vivekaanand hai jo ki aaj inake inake shree arabindo ghosh hai agar inakee pooja-archana hote insaan is phorm mein hamane dekhe ki kaise logon ne inake andar kee jo spirichualitee usaka anubhav kiya aur inaka rispekt aur unaka aadar karana shuroo kiya unake pooja karana chaahie aur dheere-dheere ek bijalee milana hai vah eksapeeriyans bana hai aur usako log pholo karate the aur is tareeke se shraddha se bologe to ek har ek aam aadamee kee kshamata vikasit jab kar leta hai ki usako kisee phal chhaayaachitr kee jaroorat nahin hai vah duniya ko oparet kar sakata hai jo lene vaala opshan hai ya apane aap mein bahut adbhut cheej hai yah kis karate vah ham vrtt karate hain ham jinda hai ya phir bhee subah-subah nikalata hai sooraj ham dekhate hain abhee sooraj aap kaisa mahasoos karate aapase garmee se thodee mahasoos karate ho subah garmee to ho rahee hai lekin sooraj dikh bhee to hai subah chaand dekh bhee to raha hai subah to yah dikhata hai to usaka prakaash dekhate ham to hamaaree indriy chenj karate hain ab agar kisee bhagavaan ko mujhe dipreshan karavaana hai to mujhe usako imej denee padegee to usane yah imej dee jaatee alag alag se alag alag tareeke se alag alag bhagavaan ko maanate hain lekin kul milaakar ek hee hai jis din samajh mein aaega

#undefined

Meet Palan Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Meet जी का जवाब
Unknown
0:42
तू प्रश्न यह है कि क्या एक पहाड़ की चोटी के पास समुद्र के स्तर की सत्र की तुलना में ज्यादा कोई तो कारण होता है नहीं इसका जवाब है नहीं क्योंकि ग्रुपों का सोमवार भारत हर जगह वर्तमान नहीं करता है एक्सेप्ट अगर आप बाबूजी के उत्तरी और दक्षिणी ध्रुव पर जाएं नहीं तो उत्तरी और दक्षिणी ध्रुव पर थोड़ा पृथ्वी के सेंटर से कम गुरुत्वाकर्षण होता है जरा सेंटर में ही किसी पहाड़ और किसी समुद्र को कम कर कर रहे हैं तो वहां पर कुछ तो कसूर बा सामान ही होगा धन्यवाद
Too prashn yah hai ki kya ek pahaad kee chotee ke paas samudr ke star kee satr kee tulana mein jyaada koee to kaaran hota hai nahin isaka javaab hai nahin kyonki grupon ka somavaar bhaarat har jagah vartamaan nahin karata hai eksept agar aap baaboojee ke uttaree aur dakshinee dhruv par jaen nahin to uttaree aur dakshinee dhruv par thoda prthvee ke sentar se kam gurutvaakarshan hota hai jara sentar mein hee kisee pahaad aur kisee samudr ko kam kar kar rahe hain to vahaan par kuchh to kasoor ba saamaan hee hoga dhanyavaad

#undefined

bolkar speaker
जीन एडिटिंग तकनीक क्या है और इसके संबंध में किसे नोबेल पुरस्कार मिला है?Zene Editing Takneek Kya Hai Aur Iske Sambandh Mein Kise Nobel Puraskar Mila Hai
TechVR ( Vikas RanA) Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए TechVR जी का जवाब
IT Professional
0:53
कलर्स ने पूछा जीन एडिटिंग तकनीक क्या है इसके संबंध में किसे नोबेल पुरस्कार मिला है बताना चाहूंगा सेटिंग्स दिनों में इसके द्वारा वैज्ञानिक जीव जंतु के जो डीएनए में बदलाव कर सकते हैं कैंची की तरह काम करने वाली इस प्रतियोगिता को डीएनए को किसी खास स्थान से करती है विज्ञान फिर उसके बाद में देने का स्थान कटे इसके बदले में दूसरे दिन के साथ सेट कर देते हैं इससे और रोगों के उपचार में भी काफी मदद मिलती है और इसके जो नोबेल पुरस्कार जो उनको मिले थे मैन्युअल चारपेंटियर और जेनिफर डांटना इन दोनों को जो है 2020 में नोबेल पुरस्कार के लिए नॉमिनेट किया गया था और उनको मिला है आशा करता हूं आपको आपके सवाल के जवाब में यह जवाब मिल गया होगा लाइक और सब्सक्राइब करें
Kalars ne poochha jeen editing takaneek kya hai isake sambandh mein kise nobel puraskaar mila hai bataana chaahoonga setings dinon mein isake dvaara vaigyaanik jeev jantu ke jo deeene mein badalaav kar sakate hain kainchee kee tarah kaam karane vaalee is pratiyogita ko deeene ko kisee khaas sthaan se karatee hai vigyaan phir usake baad mein dene ka sthaan kate isake badale mein doosare din ke saath set kar dete hain isase aur rogon ke upachaar mein bhee kaaphee madad milatee hai aur isake jo nobel puraskaar jo unako mile the mainyual chaarapentiyar aur jeniphar daantana in donon ko jo hai 2020 mein nobel puraskaar ke lie nominet kiya gaya tha aur unako mila hai aasha karata hoon aapako aapake savaal ke javaab mein yah javaab mil gaya hoga laik aur sabsakraib karen

#undefined

bolkar speaker
Graphene क्या है और इसमें क्या खास बात है?Graphene Kya Hai Aur Isme Kya Khas Baat Hai
TechVR ( Vikas RanA) Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए TechVR जी का जवाब
IT Professional
1:32
पदस्थ आरक्षक वेतन क्या है और उसका इसमें क्या खास बात है देखिए ग्रेफिन कार्बन का ही एक रूप है जो ग्रेफाइट से बने ग्रेफीन के एक अणु की मोटाई जो है कार्बन की पतली परत है उसे कहा जाता है यह सब से बदलाव तरह जो जितने भी कारण के परमाणु परमाणु है जा प्रमाणों को एक प्रमाणित बराबर दिल्ली कितनी सीट बराबर होता है पतली क्या-क्या इसका यूज हमारे देश में यह काफी अच्छे से अधिक होने जा रहा है और हो रहा है क्योंकि ग्राफी का इस्तेमाल कंप्यूटर चिप्स के बनाने के रूप में हो सकता है ज्ञापन सामान्यता जो है दूसरे पदार्थों की तुलना में इलेक्ट्रॉन का संचार बहुत अच्छे ढंग से कर पाता है और विज्ञान को मैंने भी गर्लफ्रेंड का इस्तेमाल को लेकर काफी तेज रफ्तार से बनाने की चीजे में कामयाबी मिल चुकी है और यह कम्युनिकेशन के अलावा अलग-अलग और ट्रांजैक्शन की तरह काम करता है इस स्मार्टफोन की क्षमता बढ़ जाएगी इनकी विशेषता यह क्यों किसी केमिकल जंक्शन को इलेक्ट्रॉनिक सिग्नल में बदल देता है और जो ग्राफीन है सबसे मजबूत भी है प्लास्टिक की पन्नी जितनी मोटी की कार कार जितना वजन कम से कम 15 किलोग्राम तक उठा सकती है तो यह हमारे लिए काफी अच्छी स्थिति के बारे में खबर है बाकी हो सकता है आने वाली सबसे अच्छी चीज है जो है बने और हमारे देश को आगे बढ़ाएं आशा करता हूं आपके सवाल का जवाब मिल गया को लाइक और सब्सक्राइब करें धन्यवाद
Padasth aarakshak vetan kya hai aur usaka isamen kya khaas baat hai dekhie grephin kaarban ka hee ek roop hai jo grephait se bane grepheen ke ek anu kee motaee jo hai kaarban kee patalee parat hai use kaha jaata hai yah sab se badalaav tarah jo jitane bhee kaaran ke paramaanu paramaanu hai ja pramaanon ko ek pramaanit baraabar dillee kitanee seet baraabar hota hai patalee kya-kya isaka yooj hamaare desh mein yah kaaphee achchhe se adhik hone ja raha hai aur ho raha hai kyonki graaphee ka istemaal kampyootar chips ke banaane ke roop mein ho sakata hai gyaapan saamaanyata jo hai doosare padaarthon kee tulana mein ilektron ka sanchaar bahut achchhe dhang se kar paata hai aur vigyaan ko mainne bhee garlaphrend ka istemaal ko lekar kaaphee tej raphtaar se banaane kee cheeje mein kaamayaabee mil chukee hai aur yah kamyunikeshan ke alaava alag-alag aur traanjaikshan kee tarah kaam karata hai is smaartaphon kee kshamata badh jaegee inakee visheshata yah kyon kisee kemikal jankshan ko ilektronik signal mein badal deta hai aur jo graapheen hai sabase majaboot bhee hai plaastik kee pannee jitanee motee kee kaar kaar jitana vajan kam se kam 15 kilograam tak utha sakatee hai to yah hamaare lie kaaphee achchhee sthiti ke baare mein khabar hai baakee ho sakata hai aane vaalee sabase achchhee cheej hai jo hai bane aur hamaare desh ko aage badhaen aasha karata hoon aapake savaal ka javaab mil gaya ko laik aur sabsakraib karen dhanyavaad

#undefined

bolkar speaker
तिरंगा किसने बनाया था?Tiranga Kisne Banaya Tha
pushpanjali patel Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए pushpanjali जी का जवाब
Student with micro finance bank employee
0:39
निलेश कुमार यादव जी द्वारा अनुमोदित सामान्य तिरंगा को किसने बनाया था नमस्कार निलेश जी आपने मुझसे प्रश्न किया है तिरंगा की जो रूपरेखा है वह चिंगली द्वारा तैयार किया गया था और इनका जन्म 18 सो 70 ईस्वी में हुआ था जो इन्होंने रूपरेखा तैयार की गई थी वह बहुत पहले ही कर देती को मान्यता मिली थी 1947 में राष्ट्रीय ध्वज के रूप में स्वीकार किया गया था 1943 को उम्मीद करते हैं सवाल का जवाब पसंद आएगा आप लोग को चाहिए बच्चों को भी खुश रखे धन्यवाद
Nilesh kumaar yaadav jee dvaara anumodit saamaany tiranga ko kisane banaaya tha namaskaar nilesh jee aapane mujhase prashn kiya hai tiranga kee jo rooparekha hai vah chingalee dvaara taiyaar kiya gaya tha aur inaka janm 18 so 70 eesvee mein hua tha jo inhonne rooparekha taiyaar kee gaee thee vah bahut pahale hee kar detee ko maanyata milee thee 1947 mein raashtreey dhvaj ke roop mein sveekaar kiya gaya tha 1943 ko ummeed karate hain savaal ka javaab pasand aaega aap log ko chaahie bachchon ko bhee khush rakhe dhanyavaad

#undefined

bolkar speaker
हाथी के बारे में रोचक तथ्य क्या हैं?Haathi Ke Baare Mein Rochak Tathy Kya Hain
Priyal dawar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Priyal जी का जवाब
Future Doctor
1:20
वैष्णवी विश्वनाथ जी ने प्रश्न पूछा है कि हाथी के बारे में कुछ रोचक तत्व क्या है तो आइए जानते हैं देखिए हाथी बड़ा ही विचित्र प्राणी है और इसमें कहीं ऐसी क्वालिटीज है जो इसे बाकि जानवरों से अलग बनाती है जैसे कि यह लार्जेस्ट लैंड एनिमल है या नहीं यह जमीन पर रहने वाले जानवरों में सबसे बड़ा है और इसकी चमड़ी बहुत ही मोटी होती है और हम सब सोचते होंगे कि यह इतना बड़ा है तो कितना खाना खाता होगा तो मैं आपको बताना चाहती हूं कि यह हाथी हमेशा खाना खाता रहता है हमेशा वह कुछ ना कुछ खाता ही रहता है क्योंकि उसे 1 दिन में ढाई सौ किलो खाना खाने की जरूरत होती है और इसमें कई ऐसे तत्व है जो बड़े चौका देने वाले होते हैं जैसे कि हाथी का जो बच्चा जन्म लेता है जब जन्म लेता है उसके 20 मिनट के अंदर ही वह खड़ा हो जाता है और 1 घंटे के अंदर तो वह चलने भी लगता है और इसकी जो सूट होती है वह वह अति रोचक होती है यह एक बार में 8 लीटर पानी की शक्ति है और इतनी ही ताकतवर भी होती है हाथी अपनी सूंड से अखरोट तोड़ सकता है और खा सकता है तो इसी प्रकार इसमें कुछ ऐसे रोचक तत्व है जो हाथी को सभी जानवरों से अलग बनाते हैं
Vaishnavee vishvanaath jee ne prashn poochha hai ki haathee ke baare mein kuchh rochak tatv kya hai to aaie jaanate hain dekhie haathee bada hee vichitr praanee hai aur isamen kaheen aisee kvaaliteej hai jo ise baaki jaanavaron se alag banaatee hai jaise ki yah laarjest laind enimal hai ya nahin yah jameen par rahane vaale jaanavaron mein sabase bada hai aur isakee chamadee bahut hee motee hotee hai aur ham sab sochate honge ki yah itana bada hai to kitana khaana khaata hoga to main aapako bataana chaahatee hoon ki yah haathee hamesha khaana khaata rahata hai hamesha vah kuchh na kuchh khaata hee rahata hai kyonki use 1 din mein dhaee sau kilo khaana khaane kee jaroorat hotee hai aur isamen kaee aise tatv hai jo bade chauka dene vaale hote hain jaise ki haathee ka jo bachcha janm leta hai jab janm leta hai usake 20 minat ke andar hee vah khada ho jaata hai aur 1 ghante ke andar to vah chalane bhee lagata hai aur isakee jo soot hotee hai vah vah ati rochak hotee hai yah ek baar mein 8 leetar paanee kee shakti hai aur itanee hee taakatavar bhee hotee hai haathee apanee soond se akharot tod sakata hai aur kha sakata hai to isee prakaar isamen kuchh aise rochak tatv hai jo haathee ko sabhee jaanavaron se alag banaate hain
URL copied to clipboard