#undefined

bolkar speaker
आधुनिक काल को गद्य काल क्यों कहा जाता है?Aadhunik Kaal Ko Gadya Kaal Kyun Kaha Jata Hai
डा. इन्दु प्रकाश सिंह  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए डा. जी का जवाब
शिक्षण-कार्य, कालेज शिक्षा में प्राचार्य हूँ
1:38
कपास ने आधुनिक काल को गद्य काल क्यों कहा जाता है देखिए आचार्य रामचंद्र शुक्ल ने अपने हिंदी साहित्य के इतिहास में आधुनिक काल को गद्य काल कहा है यह हिंदी साहित्य का इतिहास आधुनिक काल को गद्य काल किसे कहते हैं तो पहली बारिश का परिचय लेने 1929 में प्रकाशित हुआ हिंदी साहित्य का इतिहास आचार्य शुक्ल पक्ष को तीन भागों में बांटा विक्रमी संवत 1050 से 1375 अधिकार विक्रमी संवत 1375 400 तक मध्यकाल और उन्नीस सौ से 1984 तक विक्रमी संवत आधुनिक काल उसमें उन्होंने माना कि कहानी उपन्यास नाटक एकांकी और निबंध जैसी विधायक कहीं ज्यादा प्रभावी बनी काव्य की तुलना में इसलिए इस काल को गद्य काल कहना चाहिए और लोग जो आलोचक थे उन्होंने इसे स्वीकार किया आपको मालूम होगा कि यह प्रवृति मुल्क नामकरण में आता है इसे आदिकाल को उन्होंने वीरगाथा काल का जिस पर प्रश्न चिन्ह अंकित है मध्य काल के दो भाग के उत्तर मध्यकाल और पूर्व मध्यकालीन उल्टा के पूर्व मध्यकाल विक्रमी संवत 1375 से 17 साल तक भक्तिकाल जैसे पब्लिक स्वीकार किया और 17 से 19 सौ तक को उन्होंने रीतिकाल का जिसमें विवाद रहा लेकिन 19 सौ 1984 तक का झुकाव ठाकुर उन्होंने 1927 तक के हिंदी साहित्य की चर्चा की है तो उसे गधे कालकाजी से लोगों ने स्वीकार कर लिया है
Kapaas ne aadhunik kaal ko gady kaal kyon kaha jaata hai dekhie aachaary raamachandr shukl ne apane hindee saahity ke itihaas mein aadhunik kaal ko gady kaal kaha hai yah hindee saahity ka itihaas aadhunik kaal ko gady kaal kise kahate hain to pahalee baarish ka parichay lene 1929 mein prakaashit hua hindee saahity ka itihaas aachaary shukl paksh ko teen bhaagon mein baanta vikramee sanvat 1050 se 1375 adhikaar vikramee sanvat 1375 400 tak madhyakaal aur unnees sau se 1984 tak vikramee sanvat aadhunik kaal usamen unhonne maana ki kahaanee upanyaas naatak ekaankee aur nibandh jaisee vidhaayak kaheen jyaada prabhaavee banee kaavy kee tulana mein isalie is kaal ko gady kaal kahana chaahie aur log jo aalochak the unhonne ise sveekaar kiya aapako maaloom hoga ki yah pravrti mulk naamakaran mein aata hai ise aadikaal ko unhonne veeragaatha kaal ka jis par prashn chinh ankit hai madhy kaal ke do bhaag ke uttar madhyakaal aur poorv madhyakaaleen ulta ke poorv madhyakaal vikramee sanvat 1375 se 17 saal tak bhaktikaal jaise pablik sveekaar kiya aur 17 se 19 sau tak ko unhonne reetikaal ka jisamen vivaad raha lekin 19 sau 1984 tak ka jhukaav thaakur unhonne 1927 tak ke hindee saahity kee charcha kee hai to use gadhe kaalakaajee se logon ne sveekaar kar liya hai

#undefined

bolkar speaker
लाला लाजपत राय के विषय में रोचक बातें क्या हैं?Lala Lajpat Rai Ke Vishay Mein Rochak Baatein Kya Hain
Saurabh Rai Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Saurabh जी का जवाब
Software Engineer
2:44
प्रश्न है कि लाला लाजपत राय के विषय में रोचक बातें क्या है तो देखिए लाला लाजपत राय के बारे में मैं कुछ ऐसा बताने वाला हूं जो हमने अभी तक ज्यादातर लोगों को नहीं पता है तो दी लाला लाजपत राय इन काजू जन्म है वह 28 जनवरी अट्ठारह सौ पैसठ को हुआ था और उनकी मृत्यु जो है 17 नवंबर 1928 को बड़े ही नाटकीय रूप से हुई थी तो यह भारत के हिंदू धर्म की कहीं न कहीं अग्रवंशी में जन्मे थे और एकजुट है भारत के प्रमुख सेनानी भी थे इन्हें पंजाब केसरी भी कहा जाता है इन्होंने पंजाब नेशनल बैंक और लक्ष्मी बीमा कंपनी है इसकी इसकी स्थापना भी की थी तो आज आप जो पंजाब नेशनल बैंक जो देख रहे हैं वह कहीं ना कहीं लाला लाजपत राय की ही देन थी और अब आते हैं उनकी मृत्यु के ऊपर जो कि बहुत ही नाटकीय रूप से हुई थी सन 1928 में इन्होंने साइमन कमीशन के विरुद्ध जो है एक प्रदर्शन में हिस्सा लिया जिसके दौरान लाठीचार्ज हुई और यह जो है बुरी तरीके से घायल हो गए और अंत में जो है 17 नवंबर सन 1928 को इनकी महान आत्मा को जो है पार्थिव देह जो है वह त्याग दिया जो कुछ समय कुछ नाटकीय रूप से मैं यह कहना चाह रहा हूं क्योंकि यह जब बुरी तरीके से घायल थे तो उस समय उन्होंने यह कहा था कि मेरे शरीर पर पड़ी एक-एक लाठी ब्रिटिश सरकार के ताबूत में एक-एक कील का काम करेगी और वही हुआ लालाजी के बलिदान के 20 साल के भीतर ही ब्रिटिश साम्राज्य का सूर्य अस्त हो गया 28 को इन्हीं चोटों की वजह से उनका देहांत हो गया और यह बात जब मैं रिकॉर्ड कर रहा हूं तो मेरे रोंगटे खड़े हो जा रहे हैं लालाजी की मौत का बदला की बात करें तो लाला जी की मृत्यु से सारे देश जो है उत्तेजित हो उठा और चंद्रशेखर आजाद भगत सिंह राजगुरु सुखदेव व अन्य क्रांतिकारियों ने लालाजी पर जानलेवा लाठीचार्ज का बदला लेने का निर्णय लिया भक्तों ने अपनी प्रिय नेता की हत्या की ठीक 1 महीने बाद अपनी प्रतिज्ञा पूरी कर ली और आपको बताना चाहूंगा 17 दिसंबर 1928 को ब्रिटिश पुलिस के अफ़सर सांडर्स को गोली से उड़ा दिया लालाजी की मौत के बदले सांडर्स की हत्या के मामले में ही राजगुरु सुखदेव और भगत सिंह को फांसी की सजा सजा जो है वह सुनाई गई इन सारे जो स्वतंत्र सेनानी है इनके बलिदान की बदौलत ही आज हमारा भारत आजाद है तो इस आजादी की हमें बहुत बड़ी कीमत चुकानी पड़ी है हम सबको यह पूर्णता रियल लाइन होना चाहिए कि कितना मुश्किल थी आजादी और कितने मुश्किल से हमें मिली क्योंकि अगर हम इसकी वैल्यू नहीं करेंगे तो कौन करेगा जय हिंद जय भारत
Prashn hai ki laala laajapat raay ke vishay mein rochak baaten kya hai to dekhie laala laajapat raay ke baare mein main kuchh aisa bataane vaala hoon jo hamane abhee tak jyaadaatar logon ko nahin pata hai to dee laala laajapat raay in kaajoo janm hai vah 28 janavaree atthaarah sau paisath ko hua tha aur unakee mrtyu jo hai 17 navambar 1928 ko bade hee naatakeey roop se huee thee to yah bhaarat ke hindoo dharm kee kaheen na kaheen agravanshee mein janme the aur ekajut hai bhaarat ke pramukh senaanee bhee the inhen panjaab kesaree bhee kaha jaata hai inhonne panjaab neshanal baink aur lakshmee beema kampanee hai isakee isakee sthaapana bhee kee thee to aaj aap jo panjaab neshanal baink jo dekh rahe hain vah kaheen na kaheen laala laajapat raay kee hee den thee aur ab aate hain unakee mrtyu ke oopar jo ki bahut hee naatakeey roop se huee thee san 1928 mein inhonne saiman kameeshan ke viruddh jo hai ek pradarshan mein hissa liya jisake dauraan laatheechaarj huee aur yah jo hai buree tareeke se ghaayal ho gae aur ant mein jo hai 17 navambar san 1928 ko inakee mahaan aatma ko jo hai paarthiv deh jo hai vah tyaag diya jo kuchh samay kuchh naatakeey roop se main yah kahana chaah raha hoon kyonki yah jab buree tareeke se ghaayal the to us samay unhonne yah kaha tha ki mere shareer par padee ek-ek laathee british sarakaar ke taaboot mein ek-ek keel ka kaam karegee aur vahee hua laalaajee ke balidaan ke 20 saal ke bheetar hee british saamraajy ka soory ast ho gaya 28 ko inheen choton kee vajah se unaka dehaant ho gaya aur yah baat jab main rikord kar raha hoon to mere rongate khade ho ja rahe hain laalaajee kee maut ka badala kee baat karen to laala jee kee mrtyu se saare desh jo hai uttejit ho utha aur chandrashekhar aajaad bhagat sinh raajaguru sukhadev va any kraantikaariyon ne laalaajee par jaanaleva laatheechaarj ka badala lene ka nirnay liya bhakton ne apanee priy neta kee hatya kee theek 1 maheene baad apanee pratigya pooree kar lee aur aapako bataana chaahoonga 17 disambar 1928 ko british pulis ke afasar saandars ko golee se uda diya laalaajee kee maut ke badale saandars kee hatya ke maamale mein hee raajaguru sukhadev aur bhagat sinh ko phaansee kee saja saja jo hai vah sunaee gaee in saare jo svatantr senaanee hai inake balidaan kee badaulat hee aaj hamaara bhaarat aajaad hai to is aajaadee kee hamen bahut badee keemat chukaanee padee hai ham sabako yah poornata riyal lain hona chaahie ki kitana mushkil thee aajaadee aur kitane mushkil se hamen milee kyonki agar ham isakee vailyoo nahin karenge to kaun karega jay hind jay bhaarat

#undefined

bolkar speaker
क्या अज्ञानता एक प्रमुख कारण है जो सबसे शक्तिशाली लोगों के पतन का कारण बना?Kya Agyanta Ek Pramukh Karan Hai Jo Sabse Shaktishali Logon Ke Patan Ka Karan Bana
डा. इन्दु प्रकाश सिंह  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए डा. जी का जवाब
शिक्षण-कार्य, कालेज शिक्षा में प्राचार्य हूँ
2:01
बेटा आपका प्रश्न क्या अज्ञानता एक प्रमुख कारण जो सबसे शक्तिशाली लोगों के पतन का कारण बना हां एक सीमा तक आप कह सकते हैं कि अज्ञानता समझना वैसे अज्ञानता का अर्थ आप क्या लेना चाह रहे हैं यह थोड़ा सा क्लियर करना जरूरी है अपने देश में रावण से बड़ा ज्ञानी कोई नहीं माना गया है कहा जाता है कि चार वेद छह शास्त्र का ज्ञाता था और भगवान राम ने सामान्य से बंदरों और बालों की मदद से उसका सर्वनाश किया समझे आपने तो इससे हम लोग कह सकते हैं कि वह इस दृश्य ज्ञानी था कि अपनी सामर्थ्य के आगे उसने भगवान की सामर्थ्य को समझने की कोशिश नहीं की और है इसीलिए कहा जाता है कि अनकार जो है हमारे ज्ञान को कुंठित कर देता है वह नष्ट कर देता है और हमारे सर्वनाश की भूमिका तैयार कर देता है रावण से बड़ा कोई उदाहरण नहीं और एक बात यह है कि हमेशा अहंकार जो है हमें अज्ञानता की तरफ ले जाता है कि वह सिर्फ हमें अपने जोश और होश को जागृत करके और दूसरे के बारे में जानने समझने का मौका नहीं देता है और यह भी अज्ञानता का ही एक रूप है समझे ना अनुभव जनता का एक रूप है गुरूर के दुष्प्रभाव का एक रूप है तो निश्चित रूप से अज्ञानता भी एक प्रमुख कारण है जो अनेक शक्तिशाली लोगों के पतन का कारण बनती है इंदिरा जी ने दिया यार जब लगाया था डिफेंस इंडिया रूल्स और उसके बाद जब चुनाव हुआ तो उस चुनाव में और चारों खाने चित गिरी थी प्रधानमंत्री होते हुए भी उनकी जमानत जप्त हुई थी पंजाब ना तो अज्ञानता यही रही तो वह समाज को भारतीय लोगों को भारतीय लोगों की मानसिकता को समझने में असफल रही जिसे प्रकार अज्ञानता हम कह सकते थे
Beta aapaka prashn kya agyaanata ek pramukh kaaran jo sabase shaktishaalee logon ke patan ka kaaran bana haan ek seema tak aap kah sakate hain ki agyaanata samajhana vaise agyaanata ka arth aap kya lena chaah rahe hain yah thoda sa kliyar karana jarooree hai apane desh mein raavan se bada gyaanee koee nahin maana gaya hai kaha jaata hai ki chaar ved chhah shaastr ka gyaata tha aur bhagavaan raam ne saamaany se bandaron aur baalon kee madad se usaka sarvanaash kiya samajhe aapane to isase ham log kah sakate hain ki vah is drshy gyaanee tha ki apanee saamarthy ke aage usane bhagavaan kee saamarthy ko samajhane kee koshish nahin kee aur hai iseelie kaha jaata hai ki anakaar jo hai hamaare gyaan ko kunthit kar deta hai vah nasht kar deta hai aur hamaare sarvanaash kee bhoomika taiyaar kar deta hai raavan se bada koee udaaharan nahin aur ek baat yah hai ki hamesha ahankaar jo hai hamen agyaanata kee taraph le jaata hai ki vah sirph hamen apane josh aur hosh ko jaagrt karake aur doosare ke baare mein jaanane samajhane ka mauka nahin deta hai aur yah bhee agyaanata ka hee ek roop hai samajhe na anubhav janata ka ek roop hai guroor ke dushprabhaav ka ek roop hai to nishchit roop se agyaanata bhee ek pramukh kaaran hai jo anek shaktishaalee logon ke patan ka kaaran banatee hai indira jee ne diya yaar jab lagaaya tha diphens indiya rools aur usake baad jab chunaav hua to us chunaav mein aur chaaron khaane chit giree thee pradhaanamantree hote hue bhee unakee jamaanat japt huee thee panjaab na to agyaanata yahee rahee to vah samaaj ko bhaarateey logon ko bhaarateey logon kee maanasikata ko samajhane mein asaphal rahee jise prakaar agyaanata ham kah sakate the

#undefined

bolkar speaker
प्रथम विश्व युद्ध का सर्वश्रेष्ठ जनरल कौन था?Pratham Vishv Yuddh Ka Sarvshreshth General Kaun Tha
 Nida Rajput       Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए जी का जवाब
Student Computer Science Education
0:31
प्रथम विश्व युद्ध का सर्वश्रेष्ठ जनरल कौन था प्रथम विश्वयुद्ध का जो सर्वश्रेष्ठ जनरल था वह विल्सन थी जिन्होंने इंग्लैंड प्रथम विश्व युद्ध में 8 अगस्त 1914 ईस्वी को बहुत विश्वयुद्ध में शामिल हुए थे प्रथम विश्व युद्ध के समय अमेरिका के राष्ट्रपति प्रथम विश्व युद्ध में शामिल थे जो सर्वश्रेष्ठ जनरल के नाम से जाने जाते हैं धन्यवाद
Pratham vishv yuddh ka sarvashreshth janaral kaun tha pratham vishvayuddh ka jo sarvashreshth janaral tha vah vilsan thee jinhonne inglaind pratham vishv yuddh mein 8 agast 1914 eesvee ko bahut vishvayuddh mein shaamil hue the pratham vishv yuddh ke samay amerika ke raashtrapati pratham vishv yuddh mein shaamil the jo sarvashreshth janaral ke naam se jaane jaate hain dhanyavaad

#undefined

bolkar speaker
सौरमंडल के बारे में बताइए?Saurmandal Ke Bare Mei Btaye
rahana khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए rahana जी का जवाब
Student
1:20
आपने पूछा कि सौरमंडल के बारे में बताइए तोरा मंडल सभी ग्रह उपग्रह खगोलीय पिंड उल्कापिंड सब मिलकर प्रमंडल का निर्माण करते हैं अंतर मंडल में कुल वर्तमान में 8 ग्रह है पहले नौ ग्रह थे 2008 में प्लॉट एग्रो का हटा दिया गया था क्योंकि वह हमारे बहुत दूर है और जिसकी वजह से बर्फ से ढक गया है इतने लॉट्रो का हटा दिया गया 2008 में अभी हमारे नवग्रह नवग्रह का नाम का पहला अबोध शुक्र मंगल पृथ्वी पृथ्वी से बृहस्पति अरुण वर्मा यूरेनस नेप्चून और सभी का उपग्रह है लेकिन शुक्रवार और बुध का शायद उपग्रह नहीं है नहीं तो सब सभी ग्रह का उपग्रह है पृथ्वी का उपग्रह चंद्रमा एक ही है और मंगल का 215 है बृहस्पति का शासक पगला है और बृहस्पति और शनि के बीच बहुत सारे उल्कापिंड पाए गए हैं थैंक यू मुझे बस इतना ही पता था थैंक यू
Aapane poochha ki sauramandal ke baare mein bataie tora mandal sabhee grah upagrah khagoleey pind ulkaapind sab milakar pramandal ka nirmaan karate hain antar mandal mein kul vartamaan mein 8 grah hai pahale nau grah the 2008 mein plot egro ka hata diya gaya tha kyonki vah hamaare bahut door hai aur jisakee vajah se barph se dhak gaya hai itane lotro ka hata diya gaya 2008 mein abhee hamaare navagrah navagrah ka naam ka pahala abodh shukr mangal prthvee prthvee se brhaspati arun varma yoorenas nepchoon aur sabhee ka upagrah hai lekin shukravaar aur budh ka shaayad upagrah nahin hai nahin to sab sabhee grah ka upagrah hai prthvee ka upagrah chandrama ek hee hai aur mangal ka 215 hai brhaspati ka shaasak pagala hai aur brhaspati aur shani ke beech bahut saare ulkaapind pae gae hain thaink yoo mujhe bas itana hee pata tha thaink yoo

#undefined

bolkar speaker
नोरा फतेही के बारे में आप क्या जानते हैं?Nora Fatehi Ke Bare Mei Ap Kya Jante Hai
Rakesh Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rakesh जी का जवाब
👨‍🏫 Teacher.
1:50
प्रार्थना है कि नोरा फतेही के बारे में आप क्या जानते हैं तो देखिए नोरा फतेही इस समय सोशल मीडिया पर सबसे ज्यादा पॉपुलर सेलिब्रिटीज में से एक हैं और पूरी दुनिया में इससे कनाडियन डांसर के लोग फैन है और नवरा के वीडियोस को काफी पसंद किया जाता है अपने बेहतरीन डांस के लिए फेमस नोरा फतेही ने बालीवुड फिल्मों में कई बेहतरीन परफॉर्मेंस देने के अलावा बहुत से म्यूजिक के वीडियोस में भी अपना जलवा दिखाया है काला का कहना है कि उन्होंने कभी डांस की ट्रेनिंग नहीं ली हाल ही में उन्हें बताया है कि वह एक ट्रेंड डांसर नहीं है उन्होंने खुद से प्रैक्टिस कर के डांस लिखा है उन्होंने बताया है कि वह काफी रिसर्च करते हैं और खुद को कभी एक डांस जॉन और म्यूजिक लैंग्वेज या कल्चर तक सीमित नहीं रखती है उन्होंने बताया है कि वह अलग-अलग तरह के डांस देखना चाहती है नवरा ने यह भी बताया है कि वह खुद को एक कमरे में बंद कर लिया करती थी और फिर आईने के सामने अलग-अलग डांस की प्रैक्टिस करती थी और उनकी यह प्रैक्टिस तब चल फिर आती है जब तक कि वह उसे डांस समूह को एकदम पर्फेक्ट तरीके से नहीं कर लेती माधुरी दीक्षित डांस रिहाना जेनिफर लोपेज जैसे इंटरनेशनल स्टार से काफी प्रभावित हैं और उन्होंने फॉलो करने की कोशिश करती हैं वर्कफ्रंट की बात करें तो नोरा फतेही पिछली बार रेमो डिसूजा के डायरेक्शन में बनी फिल्म स्ट्रीट डांसर 3D में दिखाई दी थी और इस फिल्म में वरुण धवन और श्रद्धा कपूर रियल लीड रोल में थे धन्यवाद
Praarthana hai ki nora phatehee ke baare mein aap kya jaanate hain to dekhie nora phatehee is samay soshal meediya par sabase jyaada popular selibriteej mein se ek hain aur pooree duniya mein isase kanaadiyan daansar ke log phain hai aur navara ke veediyos ko kaaphee pasand kiya jaata hai apane behatareen daans ke lie phemas nora phatehee ne baaleevud philmon mein kaee behatareen paraphormens dene ke alaava bahut se myoojik ke veediyos mein bhee apana jalava dikhaaya hai kaala ka kahana hai ki unhonne kabhee daans kee trening nahin lee haal hee mein unhen bataaya hai ki vah ek trend daansar nahin hai unhonne khud se praiktis kar ke daans likha hai unhonne bataaya hai ki vah kaaphee risarch karate hain aur khud ko kabhee ek daans jon aur myoojik laingvej ya kalchar tak seemit nahin rakhatee hai unhonne bataaya hai ki vah alag-alag tarah ke daans dekhana chaahatee hai navara ne yah bhee bataaya hai ki vah khud ko ek kamare mein band kar liya karatee thee aur phir aaeene ke saamane alag-alag daans kee praiktis karatee thee aur unakee yah praiktis tab chal phir aatee hai jab tak ki vah use daans samooh ko ekadam parphekt tareeke se nahin kar letee maadhuree deekshit daans rihaana jeniphar lopej jaise intaraneshanal staar se kaaphee prabhaavit hain aur unhonne pholo karane kee koshish karatee hain varkaphrant kee baat karen to nora phatehee pichhalee baar remo disooja ke daayarekshan mein banee philm street daansar 3d mein dikhaee dee thee aur is philm mein varun dhavan aur shraddha kapoor riyal leed rol mein the dhanyavaad

#undefined

bolkar speaker
रजिया सुल्तान ने आमिर ए हजीब किसे नियुक्त किया था?Rajiya Sultan Ne Aamir E Hajeeb Kise Niyukt Kiya Tha
Suraj Kotarya  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Suraj जी का जवाब
UPSC priprestion student
1:28
जी नमस्कार आपका प्रश्न है रजिया सुल्तान ने अमीर यहां भी किसी ने प्रिया देखिए रजिया सुल्तान इल्तुतमिश की पुत्री थी शायद आपको पता होगा किंतु तो मिस को भारत में गुंबद निर्माण का पिता कहा जाता है और रजिया सुल्तान इनकी धोती पुत्री रजिया सुल्तान 1226 से 1236 से 1240 सीतापुर दिल्ली की प्रथम व अंतिम मुस्लिम शासिका थी इन्होंने अभी सीनिया के निवासी गुलाम मल्लिका जलालुद्दीन याद याद यादों को अमेरिका विप नियुक्त किया था देखिए रजिया सुल्तान एक लड़ाकू प्रवृत्ति की मुस्लिम शासिका थी और दिल्ली गति को प्राप्त करने के लिए इसके कई भाइयों ने प्रयास किया लेकिन इल्तुतमिश ने रजिया बेगम को उत्तराधिकार नियुक्त किया था लेकिन नहीं इनकी भाइयों ने इसे सिर्फ इसे स्वीकार नहीं किया इनके भाई बदाम शाह ने रजिया सुल्तान की हत्या कर दी मुझे खुद दिल्ली की गद्दी पर बैठा जी शुक्रिया
Jee namaskaar aapaka prashn hai rajiya sultaan ne ameer yahaan bhee kisee ne priya dekhie rajiya sultaan iltutamish kee putree thee shaayad aapako pata hoga kintu to mis ko bhaarat mein gumbad nirmaan ka pita kaha jaata hai aur rajiya sultaan inakee dhotee putree rajiya sultaan 1226 se 1236 se 1240 seetaapur dillee kee pratham va antim muslim shaasika thee inhonne abhee seeniya ke nivaasee gulaam mallika jalaaluddeen yaad yaad yaadon ko amerika vip niyukt kiya tha dekhie rajiya sultaan ek ladaakoo pravrtti kee muslim shaasika thee aur dillee gati ko praapt karane ke lie isake kaee bhaiyon ne prayaas kiya lekin iltutamish ne rajiya begam ko uttaraadhikaar niyukt kiya tha lekin nahin inakee bhaiyon ne ise sirph ise sveekaar nahin kiya inake bhaee badaam shaah ne rajiya sultaan kee hatya kar dee mujhe khud dillee kee gaddee par baitha jee shukriya

#undefined

RAJESH KUMAR PANDEY Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए RAJESH जी का जवाब
Director of Study Gateway+
25197141:29
प्रथम पे यही कि राजपूतों ने पिता चौहान के बाद कई बार दिल्ली को हराया लेकिन फिर वह दिल्ली पर सदस्यों ने किया उसके बाद वह दिल्ली को कुतुबुद्दीन ऐबक को देखकर वापस चला गया लगभग 5 वर्षों में भारत में हुए भारत में दूसरे जातियों का प्रवेश करना दूसरे बच्चों का प्रवेश करना सिर्फ भारत इसलिए दिलीप अपना राज अपने कृपया हमारे देश के वीर राजपूत दिलीप सत्ता स्थापित नहीं करता है क्योंकि वह एक दूसरे से अलग से एकजुटता नहीं थी एकता नहीं थी और जाएं एकता नहीं होती है दूसरे लोग भी इंटरफेयर करेंगे और उसका भरपूर तरीके से उपयोग करेंगे ऐसा क्या हुआ जब 320 साल तक गुलाम वंश राज किया उसके बाद फिर गुलाम वंश के बाद आपका मुगल साम्राज्य रहा अखबार का नाम से नाम के बाबा का नाम गांव का नाम सुना है राजा हेलो सर 600 साल तक दिल्ली पर एक तरफ से बाहरी लोगों का राज्य रावत अंग्रेज नोटिफिकेशन आने के बाद में अंग्रेज आ गया मेरे जो ने दिल्ली पर शासन किया था मुगलों में बाबर देखिए जब आपका यह दिल्ली सल्तनत में जब लोदी वंश खत्म हुआ लोधी में सबसे कौन थे जिस पर भावनात्मक एवं लोधी इब्राहिम लोदी जो एक से डेढ़ लाख सेना लेकर बाबर को बाबर ने चुनौती दी डिवाइन लोधी के चाचा ने बाबर बुलाया था और आसान गाने लोधी को दिल्ली की सत्ता से हटाने के लिए लेकिन वहां बाहर आया और एक आधुनिक युद्ध पद्धति के द्वारा रहे लोधी को हरा दिया मोदी को हराने के बाद बाबर राणा सांगा को बुलाया और दिल्ली में अपना सत्ता का भी हो गया निशा बाबा का पीर बाबा के पास हिमालय के बाद फिर से सॉरी थोड़ा सा दिलीप सकता हूं लेकिन फिर बाद में वह भी आने के बाद वापस ससुर के बाद औरंगजेब 1857 तक लगभग हमको मान सकते हैं कि दिल्ली पढ़कर से मुगल का शासन था 18 64 बाकी आप समझदार हो समझ जाओगे पेंशनभोगी थे और वाइट एस एस नाम के राजा रहे थे सब खत्म कर देंगे हमको रंगून भेजो यह कहानी है दिल्ली की एक तो लगभग 12 साल 1 अट्ठारह सौ 1947 तक दिल्ली पर दूसरी दूसरे देशों ने शासन किया और सोच लीजिए जिस देश पर 6 से 700 साल तक कोई दूसरा व्यक्ति या कुशासन करेगा उस देश का क्या हाल होगा हम लोग पूरी तरह टूट चुके थे फिर भी लड़कर हमें आजादी लेंगे अर्जुन बहुत तो भारत का शोषण किया बहुत ज्यादा किया और ना 247 में हमें हमारी सरकार को इतना व्यवस्था करना था कि सब के पास खाने की थाली पहुंचे बाद में टेक्नोलॉजी अमन फैशन देखी जाएगी तो पहले सरकार ने कांग्रेस की सरकार थी और पहुंचाई हमारे देश में बहुत से बांधे बनाएंगे किसानों को पानी दिया गया हर क्रांति क्रांति क्रांति क्रांति क्रांति आई और हम खाने के लिए देखिए सबसे पहले हमें खाना चाहिए ठीक है उसके बाद ही हम कोई काम कर सकते हैं खाने के मामले में आज देश में घर-घर तक आज देखने गेहूं चावल दूर पर 3 किलोमीटर है कि हमारी सरकार के अच्छे अच्छा प्रयास है यह सब हुआ है नहीं तो मैं खाना भी नसीब नहीं होता यह सब चीजें हैं बहुत ही जाएंगे मिट्टी में ऐसे पढ़ेंगे तो आप समझेंगे चीजों को
Pratham pe yahee ki raajapooton ne pita chauhaan ke baad kaee baar dillee ko haraaya lekin phir vah dillee par sadasyon ne kiya usake baad vah dillee ko kutubuddeen aibak ko dekhakar vaapas chala gaya lagabhag 5 varshon mein bhaarat mein hue bhaarat mein doosare jaatiyon ka pravesh karana doosare bachchon ka pravesh karana sirph bhaarat isalie dileep apana raaj apane krpaya hamaare desh ke veer raajapoot dileep satta sthaapit nahin karata hai kyonki vah ek doosare se alag se ekajutata nahin thee ekata nahin thee aur jaen ekata nahin hotee hai doosare log bhee intarapheyar karenge aur usaka bharapoor tareeke se upayog karenge aisa kya hua jab 320 saal tak gulaam vansh raaj kiya usake baad phir gulaam vansh ke baad aapaka mugal saamraajy raha akhabaar ka naam se naam ke baaba ka naam gaanv ka naam suna hai raaja helo sar 600 saal tak dillee par ek taraph se baaharee logon ka raajy raavat angrej notiphikeshan aane ke baad mein angrej aa gaya mere jo ne dillee par shaasan kiya tha mugalon mein baabar dekhie jab aapaka yah dillee saltanat mein jab lodee vansh khatm hua lodhee mein sabase kaun the jis par bhaavanaatmak evan lodhee ibraahim lodee jo ek se dedh laakh sena lekar baabar ko baabar ne chunautee dee divain lodhee ke chaacha ne baabar bulaaya tha aur aasaan gaane lodhee ko dillee kee satta se hataane ke lie lekin vahaan baahar aaya aur ek aadhunik yuddh paddhati ke dvaara rahe lodhee ko hara diya modee ko haraane ke baad baabar raana saanga ko bulaaya aur dillee mein apana satta ka bhee ho gaya nisha baaba ka peer baaba ke paas himaalay ke baad phir se soree thoda sa dileep sakata hoon lekin phir baad mein vah bhee aane ke baad vaapas sasur ke baad aurangajeb 1857 tak lagabhag hamako maan sakate hain ki dillee padhakar se mugal ka shaasan tha 18 64 baakee aap samajhadaar ho samajh jaoge penshanabhogee the aur vait es es naam ke raaja rahe the sab khatm kar denge hamako rangoon bhejo yah kahaanee hai dillee kee ek to lagabhag 12 saal 1 atthaarah sau 1947 tak dillee par doosaree doosare deshon ne shaasan kiya aur soch leejie jis desh par 6 se 700 saal tak koee doosara vyakti ya kushaasan karega us desh ka kya haal hoga ham log pooree tarah toot chuke the phir bhee ladakar hamen aajaadee lenge arjun bahut to bhaarat ka shoshan kiya bahut jyaada kiya aur na 247 mein hamen hamaaree sarakaar ko itana vyavastha karana tha ki sab ke paas khaane kee thaalee pahunche baad mein teknolojee aman phaishan dekhee jaegee to pahale sarakaar ne kaangres kee sarakaar thee aur pahunchaee hamaare desh mein bahut se baandhe banaenge kisaanon ko paanee diya gaya har kraanti kraanti kraanti kraanti kraanti aaee aur ham khaane ke lie dekhie sabase pahale hamen khaana chaahie theek hai usake baad hee ham koee kaam kar sakate hain khaane ke maamale mein aaj desh mein ghar-ghar tak aaj dekhane gehoon chaaval door par 3 kilomeetar hai ki hamaaree sarakaar ke achchhe achchha prayaas hai yah sab hua hai nahin to main khaana bhee naseeb nahin hota yah sab cheejen hain bahut hee jaenge mittee mein aise padhenge to aap samajhenge cheejon ko

#undefined

bolkar speaker
अल्फ्रेड नोबेल के पिताजी कौन थे?Alfred Nobel Ke Pitaji Kaun The
srinu Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए srinu जी का जवाब
Unknown
0:33
अल्फ्रेड नोबेल के पिता जी कौन थे हिंदी के उनका नाम था मिनियन नोबेल वह एक स्वीडिश इंजीनियर थे आर्किटेक्चर थे एडवेंचर इंडस्ट्रियल एस्टेट उनका जन्म 24 मार्च 18 से 1 में हुआ था और उनकी मृत्यु 3 सितंबर 1872 में हुई थी स्वीडन में उनकी शादी हुई थी एंड रीड द नोबल से उनके चार बच्चे थे एक का नाम था फ्रेंड ओपन धन्यवाद
Alphred nobel ke pita jee kaun the hindee ke unaka naam tha miniyan nobel vah ek sveedish injeeniyar the aarkitekchar the edavenchar indastriyal estet unaka janm 24 maarch 18 se 1 mein hua tha aur unakee mrtyu 3 sitambar 1872 mein huee thee sveedan mein unakee shaadee huee thee end reed da nobal se unake chaar bachche the ek ka naam tha phrend opan dhanyavaad

#undefined

bolkar speaker
विश्व के सबसे अमीर व्यक्ति कौन हैं?Vishv Ke Sabse Ameer Vyakti Kaun Hain
srikant pal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए srikant जी का जवाब
Student
0:41
URL copied to clipboard